न्यूज चैनल ने पूर्व गेंदबाज शोएब अख्तर को भेजा नोटिस, मांगा 10 करोड़ का हर्जाना

पाकिस्तान टीम के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर और पाकिस्तानी चैनल ‘पीटीवी’ (PTV) के होस्ट के बीच हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 08 November, 2021
Last Modified:
Monday, 08 November, 2021
shoaibakhtar5454

पाकिस्तान टीम के पूर्व तेज गेंदबाज शोएब अख्तर और पाकिस्तानी चैनल ‘पीटीवी’ (PTV) के होस्ट के बीच हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब इस विवाद ने नया मोड़ ले लिया है। दरअसल अब चैनल ने अख्तर से 100 मिलियन डॉलर यानी 10 करोड़ पाकिस्तानी रुपए का हर्जाना मांगा है।

बता दें कि इस बात की जानकारी खुद शोएब अख्तर ने एक ट्वीट के जरिए दी है और इस पर निराशा व्यक्त करते हुए कहा कि वह इस मामले में कानूनी कार्यवाही करेंगे।

उन्होंने इस मुद्दे पर ट्वीट कर लिखा, ‘बिल्कुल निराशाजनक। जब मैं पीटीवी के साथ काम कर रहा था तब मेरे सम्मान और ख्याती की रक्षा करने में फेल होने हुए। अब वे मुझे रिकवरी नोटिस भेज रहे हैं। मैं एक फाइटर हूं और हार नहीं मानूंगा और इस कानूनी लड़ाई को लड़ूंगा। मेरे वकील सलमान खान नियाजी कानून के मुताबिक इसका जवाब देंगे।’

दरअसल, यह मामला टी20 वर्ल्डकप (T20 World Cup 2021) में पाकिस्तान ( Pakistan) बनाम न्यूजीलैंड मैच को लेकर हुआ था। अख्तर इस टी20 वर्ल्ड कप में बतौर एक्सपर्ट इस चैनल के साथ जुड़े थे। लेकिन बीते 26 अक्टूबर को जब पाकिस्तान ने न्यूजीलैंड पर जीत दर्ज की थी, तब पीटीवी का क्रिकेट शो ‘गेम ऑन है’ का टेलीकास्ट हो रहा था। इस दौरान शो के एंकर नौमान नियाज के साथ अख्तर का विवाद हो गया और उन्होंने यह शो छोड़ दिया। बाद में उन्होंने इस चैनल के साथ अपना करार खत्म कर दिया और इस संबंध में अपना इस्तीफा भी भेज दिया।

अख्तर इस टीवी चैनल पर कई अन्य इंटरनेशनल क्रिकेटर्स के साथ पैनलिस्ट में शामिल थे। इस शो में वेस्टइंडीज के सर विवियन रिचर्ड्स, इंग्लैंड के डेविड गोवर और पाकिस्तान के पूर्व कप्तान राशिद लतीफ भी हिस्सा थे। लेकिन जब नौमान के साथ अख्तर का विवाद गहरा गया तो उसके बाद उन्होंने इससे इस्तीफा दे दिया। 

अब पीटीवी स्पोर्ट्स ने अख्तर को नोटिस भेजा है कि उनके ऐसा करने से चैनल को वित्तीय नुकसान हुआ है। उनका इस्तीफा चैनल के साथ किए करार की शर्तों का उल्लंघन है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, क्लॉज 22 के मुताबिक दोनों ही पक्षों में कोई भी पक्ष 3 महीने के नोटिस पीरियड में काम करने के बाद इस करार को खत्म कर सकते हैं, लेकिन अख्तर ने 26 अक्टूबर को ही इस्तीफा दे दिया, जिससे पीटीवी को वित्तीय घाटा हुआ है।

इस नोटिस में पीटीवी ने इस बात पर भी भड़का हुआ है कि वह पीटीवी को बिना बताए पाकिस्तान छोड़कर दुबई चले गए और वह उन्होने भारतीय क्रिकेटर हरभजन सिंह के साथ एक भारतीय चैनल के शो में हिस्सा ले लिया।

बता दें कि शो में झगड़े के बाद पीटीवी ने अख्तर और एंकर नोमान को ऑफ एयर कर दिया था। जिस पर पाकिस्तानी गेंदबाज ने कहा था कि ये मजाक है। मैंने 220 मिलियन पाकिस्तानी और विश्व के करोड़ो लोगों के सामने इस्तीफा दिया था। क्या पी टीवी पागल है? वह मुझे ऑफ एयर करने वाले कौन होते हैं।

वहीं दूसरी तरफ, टीवी एंकर नौमान नियाज ने अख्तर से बिना शर्त माफी मांग ली। हालांकि माफी मांगने के साथ-साथ उन्होंने ये भी बताया कि आखिर क्यों वो शोएब अख्तर पर भड़क गए थे। नौमान नियाज ने कहा कि पूर्व पाकिस्तानी तेज गेंदबाज पीटीवी के साथ प्रतिबद्धता को हल्के में ले रहे थे जिसके कारण भी यह घटना हुई।  

नियाज ने गुरुवार की रात यूट्यूब चैनल पर एक इंटरव्यू में कहा कि उन्होंने बहुत बड़ी गलती की और उनका व्यवहार अनुचित, अक्षम्य था। नियाज ने कहा, ‘मैं माफी मांगता हूं और अपने व्यवहार के लिये लाखों बार माफी मांगूंगा। यह नहीं होना चाहिए था क्योंकि शोएब एक स्टार हैं।' 

साथ ही नियाज ने कहा कि उनकी प्रतिक्रिया भी जायज थी, उन्होंने कहा, ‘मुझे कोई अधिकार नहीं था। गलती इंसान से होती है जिसके लिये मैं माफी मांगता हूं। एक बार नहीं बल्कि लाखों बार। शोएब एक ‘रॉक स्टार’ हैं। जो भी कैमरे पर हुआ, वह अशोभनीय था।

उन्होंने बताया, ‘शोएब हमारे साथ सालाना आधार पर अनुबंधित थे और हम उन्हें एक्सक्लूसिव होने के आधार पर काफी अच्छा भुगतान करते हैं। टी20 वर्ल्ड कप से पहले शोएब मेरे पास आये और मुझसे सैलरी बढ़ाने की मांग की, जो बाद में चैनल के प्रबंध निदेशक के साथ बैठक के बाद सुलझा लिया गया।'  उन्होंने कहा, ‘बाद में 17 अक्टूबर को शोएब को ट्रांसमिशन (टीवी कार्यक्रम) में हिस्सा लेना था, लेकिन वह दुबई चले गये और वहां हरभजन सिंह के साथ एक शो में हिस्सा लिया। इसके बाद उन्होंने पीटीवी ट्रांसमिशन के लिये दो दिन के बाद आने का वादा किया, लेकिन वह नहीं आये।' बस इसी बात से नाराज नियाज ने शोएब अख्तर को ऑन एयर शो में पहले बेइज्जत किया और उन्हें साथ ही शो छोड़ने के लिए कह दिया। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

HC ने 6 अक्टूबर तक स्थगित किया ‘स्टार इंडिया’ बनाम CCI का ये मामला

केरल हाई कोर्ट ने ‘स्टार इंडिया’ बनाम भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) के मामले को 6 अक्टूबर तक के लिए स्थगित कर दिया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 29 September, 2022
Last Modified:
Thursday, 29 September, 2022
KeralHC545548

केरल हाई कोर्ट ने ‘स्टार इंडिया’ बनाम भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) के मामले को 6 अक्टूबर तक के लिए स्थगित कर दिया है। कोर्ट अब 6 अक्टूबर, 2022 को ब्रॉडकास्टर और उसके सहयोगियों द्वारा उठाए गए अंतरिम मुद्दों पर फैसला सुनाएगी।

कोर्ट ने कहा कि सीसीआई ‘स्टार इंडिया’ के खिलाफ कोई दंडात्मक कार्रवाई नहीं करेगा। दरअसल, सीसीआई ने इससे पहले हाई कोर्ट को अंडरटेकिंग दी थी कि वह 23 सितंबर तक ब्रॉडकास्टर के खिलाफ सख्त कदम नहीं उठाएगी।

बता दें कि स्टार इंडिया ने 19 सितंबर को केरल हाई कोर्ट का रुख किया था, जिसमें सीसीआई द्वारा शुरू की गई जांच और मामले में जारी समन को चुनौती दी है।

दरअसल, ट्राई के नए टैरिफ फ्रेमवर्क के उल्लंघन को लेकर ही सीसीआई ने जांच शुरू की थी। सीसीआई के समक्ष केरल स्थित मल्टी-सिस्टम ऑपरेटर (MSO) एशियानेट डिजिटल नेटवर्क (एडीएनपीएल) ने शिकायत दर्ज की थी। एमएसओ ने अपने बाजार में कथित तौर पर मजबूत स्थिति का फायदा उठाने के लिए डिज्नी स्टार नेटवर्क के खिलाफ सीसीआई में शिकायत दर्ज कराई थी, जिसमें कहा गया था कि उसकी प्रतिस्पर्धी इकाइयों को स्टार इंडिया कम कीमतों पर कई चैनल प्रदान कर रहा था, जो अनुचित या भेदभावपूर्ण गतिविधियां हैं।

वहीं स्टार इंडिया ने तर्क दिया कि मामला सीसीआई के अधिकार क्षेत्र में नहीं आता, क्योंकि ट्राई का नया टैरिफ फ्रेमवर्क और टीवी चैनलों के भेदभावपूर्ण मूल्य निर्धारण का मुद्दा ट्राई के दायरे में आता है।

शुरुआत में, बॉम्बे हाई कोर्ट ने 6 अप्रैल को दिए अपने आदेश में स्टार इंडिया को को अंतरिम संरक्षण प्रदान किया था। हालांकि, इसके बाद बॉम्बे हाई कोर्ट ने 16 सितंबर को ब्रॉडकास्टर को क्षेत्रीय अधिकार क्षेत्र रखने वाले उपयुक्त मंच से संपर्क करने की स्वतंत्रता प्रदान की थी।

एशियानेट डिजिटल नेटवर्क ने आरोप लगाया हुआ है कि डिज्नी स्टार अपने प्रतिद्वंद्वी ‘केरल कम्युनिकेटर्स केबल्स लिमिटेड’ (केसीसीएल) को अतिरिक्त छूट देकर ट्राई के नए फ्रेमवर्क को दरकिनार कर रहा है। साथ ही यह भी आरोप लगाया कि डिज्नी स्टार ने केसीसीएल के साथ मार्केटिंग डील की है, जिससे बाद में विज्ञापन के लिए भुगतान किया जाता है।

डिज्नी स्टार ने इस दावे को यह कहकर खारिज कर दिया कि सब्सक्रिप्शन एग्रीमेंट और मार्केटिंग एग्रीमेंट दो स्वतंत्र लेनदेन हैं। साथ ही यह भी तर्क दिया कि एशियानेट डिजिटल नेटवर्क दो अलग-अलग लेनदेनों को दुर्भावनापूर्ण इरादों से जोड़ने का प्रयास कर रहा है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

डिबेट में एंकर सुशांत सिन्हा ने कह दिया कुछ ऐसा, शो छोड़कर चले गए राजनीतिक विश्लेषक

टीवी डिबेट के दौरान ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ के सीनियर एंकर सुशांत सिन्हा ने कुछ ऐसा कह दिया कि डिबेट में मौजूद एक राजनीतिक विश्लेषक शो छोड़कर चले गए

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 28 September, 2022
Last Modified:
Wednesday, 28 September, 2022
Sushant45421

कट्टरपंथी इस्लामी संगठन ‘पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया’ (पीएफआई) की आतंकी फंडिंग व अन्य गतिविधियों के चलते भारत में पांच साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया है। गृह मंत्रालय की ओर से इसके लिए अधिसूचना (नोटिफिकेशन) भी जारी कर दी गई है। यूएपीए एक्ट के तहत इस संगठन पर प्रतिबंध लगाया गया है। पीएफआई के साथ आठ और अन्य संगठनों पर कार्रवाई की गई है। इन्हीं विषयों पर हो रही टीवी डिबेट के दौरान ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ के सीनियर एंकर सुशांत सिन्हा ने कुछ ऐसा कह दिया कि डिबेट में मौजूद एक राजनीतिक विश्लेषक इस कदर नाराज हो गए कि शो ही छोड़कर चले गए।

दरअसल, हुआ यूं कि ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ चैनल के कार्यक्रम ‘राष्ट्रवाद’ में हो रही चर्चा के दौरान सीनियर एंकर सुशांत सिन्हा ने खिलजी का जिक्र आने पर उन्हें ‘आतंकवादी’ कह दिया, जिसको लेकर डिबेट में मौजूद राजनीतिक विश्लेषक माजिद हैदरी आपा खो बैठे और एंकर पर भड़कते हुए कहा, ‘आपने हमारे मुस्लिम सम्राटों का अपमान किया है, मुझसे ऐसा अपमान बर्दाश्त नहीं होता है।’ वहीं इस पर एंकर ने तंज कसते हुए कहा कि अब खिलजी इनके लिए सम्राट बन गया है।

इसके बाद माजिद हैदरी ने कहा कि वह अपने सम्राट का अपमान नहीं कर सकते हैं इसलिए डिबेट छोड़कर जा रहे हैं। एंकर ने कहा कि, ‘आप जाने से पहले मेरी एक बात सुन लीजिए। मैं खिलजी को दसियों बार बेइज्जत करता हूं, वह इस देश का आतंकवादी था और रहेगा। अब आप यहां से चले जाइए।’ एंकर ने आगे कहा कि मैं फिर से कह रहा हूं कि खिलजी आतंकवादी ही था। जिसे शो छोड़कर जाना है, वह चला जाए।

इसके बाद, एंकर सुशांत सिन्हा ने स्वतंत्रता सेनानी अशफाक उल्ला खान का जिक्र करते हुए कहा कि हम उन्हें मानते हैं, वह हमारे स्वतंत्रता सेनानी थे और इस देश के लिए समर्पित थे।’ इस देश के अंदर खिलजी को इज्जत नहीं मिलेगी, अशफाक उल्ला खान जैसे स्वतंत्रता सेनानियों को देश पूरे के सम्मान के साथ याद करेगा।

देखें वीडियो:

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस न्यूज चैनल से जुड़े युवा पत्रकार मुनीष कुमार

इससे पहले मुनीष कुमार करीब छह साल से ऑनलाइन न्यूज पोर्टल ’BoxDop Entertainment’ में एंटरटेनमेंट सेक्शन की जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 28 September, 2022
Last Modified:
Wednesday, 28 September, 2022
Munish Kumar

युवा पत्रकार मुनीष कुमार ने ‘नेटवर्क18’ (Network18) के साथ मीडिया में अपने नए सफर की शुरुआत की है। उन्होंने ‘न्यूज18’ (हिंदी) में बतौर सीनियर सब एडिटर जॉइन किया है। यहां वह एंटरटेनमेंट सेक्शन में अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे।  

‘नेटवर्क18’ में नियुक्ति से पहले वह करीब छह साल से ऑनलाइन न्यूज पोर्टल ’BoxDop Entertainment’ में एंटरटेनमेंट सेक्शन की जिम्मेदारी संभाल रहे थे। मुनीष ने पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने सफर की शुरुआत दैनिक ‘हरिभूमि’ से की थी।

पूर्व में वह ‘A2z’ न्यूज चैनल  और ‘wefornews’ के साथ भी काम कर चुके हैं। इसके अलावा वह बतौर फ्रीलॉन्सर वह दैनिक ‘हिन्दुस्तान’ और ‘नवोदय टाइम्स’ के साथ भी जुड़े रहे हैं।

मूल रूप से दिल्ली के रहने वाले मुनीष कुमार को मीडिया में काम करने का करीब नौ साल का अनुभव है। मुनीष ने ‘दिल्ली यूनिवर्सिटी‘ से ग्रेजुएशन किया है। इसके अलावा उन्होंने ‘जामिया मिलिया इस्लामिया‘ से पत्रकारिता की पढ़ाई की है।  

समाचार4मीडिया की ओर से मुनीष कुमार को उनकी नई पारी के लिए ढेरों बधाई और शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘आजतक’ से जुड़े वरिष्ठ टीवी पत्रकार पीयूष पांडे, निभाएंगे ये भूमिका

वरिष्ठ टीवी पत्रकार पीयूष पांडे ने ‘आजतक’ में अपनी नई पारी का आगाज कर दिया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 28 September, 2022
Last Modified:
Wednesday, 28 September, 2022
Piyush Pandey

वरिष्ठ टीवी पत्रकार पीयूष पांडे ने ‘आजतक’ में अपनी नई पारी का आगाज कर दिया है। वे यहां एग्जिक्यूटिव एडिटर (आउटपुट) का पदभार संभालेंगे। ‘आजतक’ के साथ ये इनकी तीसरी पारी है।

बता दें कि उन्होंने ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ में कुछ समय पहले ही इस्तीफा दे दिया था। करीब डेढ़ साल पहले शुरू हुए ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ की लॉन्चिंग टीम का वे अहम सदस्य थे और बतौर सीनियर एडिटर प्राइम टाइम शो ‘ओपिनियन इंडिया का’ के अलावा हाल तक डिजिटल का प्रभार देख रहे थे।

पीयूष पांडे ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ से पहले ‘सूर्या टीवी’ के साथ थे, जहां वे एग्जिक्यूटिव एडिटर (आउटपुट) के पद पर कार्यरत थे और इसके पहले वे ‘एबीपी न्यूज’ और उससे पहले ‘आजतक’ में थे। ‘आजतक’ में वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी के चर्चित शो ‘दस्तक’  के प्रड्यूसर थे।

पत्रकारिता में करीब ढाई दशक का अनुभव रखने वाले पीयूष देश के उन चुनिंदा पत्रकारों में हैं, जिन्हें प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, वेब मीडिया के साथ फिल्मी दुनिया में काम करने का खासा अनुभव है और उनकी पहचान उनका वर्सेटाइल होना ही है। इतना ही नहीं, पीयूष की एक पहचान व्यंग्यकार की भी है। उनके तीन व्यंग्य संग्रह 'छिछोरेबाजी का रिजोल्यूशन' 2012 में राजकमल प्रकाशन से और 'धंधे मातरम' 2017 में और फिर कबीरा बैठा डिबेट में 2020 में प्रभात प्रकाशन से प्रकाशित हो चुका है। फेसबुक पर उनके वन लाइनर खासे चर्चित हैं। इसके बाद, इस साल उनकी चौथी किताब ‘कुछ पाने की जिद- मनोज वाजपेयी’ ने मार्केट में दस्तक दी, जो मनोज बाजपेयी की बायोग्राफी है।

पीयूष ने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1998 में ‘अमर उजाला’ अखबार से की थी। 2001 में ‘नवभारत टाइम्स’ ऑनलाइन की लॉन्चिंग टीम में रहे और फिर करीब तीन साल उसे संभाला भी। ‘आजतक’ में टीवी पत्रकारिता का लंबा अनुभव लेने के बाद उन्होंने 2007 में ‘सहारा समय’ में आउटपुट हेड की जिम्मेदारी संभाली। ‘जी न्यूज’ में बतौर एग्जिक्यूटिव प्रड्यूसर काम किया, तो आईबीएन-7 (न्यूज18 इंडिया) में उन्होंने बतौर सोशल मीडिया एडिटर काम किया। हालांकि, आईबीएन-7 की उनकी पारी खासी छोटी रही। इसके बाद ‘आजतक’, ‘एबीपी न्यूज’, ‘सूर्या टीवी’ होते हुए वे ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ में आए थे।

पीयूष की एक पहचान सोशल मीडिया एक्सपर्ट की भी है। ‘दैनिक भास्कर’, ‘दैनिक जागरण’, ‘प्रभात खबर’, ‘कादम्बिनी’ समेत कई पत्र पत्रिकाओं में इंटरनेट और सोशल मीडिया पर उनके कॉलम प्रकाशित होते रहे हैं। ‘जी न्यूज’ में सोशल मीडिया से जुड़ा देश का पहला दैनिक शो ‘ट्रेंडिंग न्यूज’ शुरू कराने का श्रेय इन्हीं को जाता है। पीयूष ने 'ब्लू माउंटेंस' फिल्म में बतौर एसोसिएट डायरेक्टर काम किया और स्टार प्लस पर प्रसारित सीरियल ‘महाराज की जय हो’ के संवाद उन्होंने लिखे। उनकी फिल्मों की जानकारी व दिलचस्पी अकसर फेसबुक पोस्ट में दिखायी देती रहती है। फेसबुक के जरिए ही पता चलता है कि हाल में उन्होंने एक शॉर्ट फिल्म ‘पार्ट टाइम जॉब’ निर्देशित की है, जिसमें बॉलीवुड अभिनेत्री श्रेया नारायण मुख्य भूमिका में हैं।

मूल रूप से आगरा के रहने वाले पीयूष पांडे ने पत्रकारिता और सूचना तकनीक में मास्टर्स डिग्री ली है। आगरा यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता के कोर्स के दौरान गोल्ड मेडलिस्ट रहे पीयूष पांडे को सीएसडीएस समेत कई अहम संस्थानों की फेलोशिप भी मिल चुकी है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘टाइम्स नाउ नवभारत’ की टीम को और मजबूत बनाने के लिए मैनेजमेंट ने लिया ये फैसला

‘टाइम्स नाउ नवभारत’ में टीम और मैनेजमेंट के बीच समन्वय स्थापित करने और चैनल को और अधिक मजबूती प्रदान करने के इरादे से एक बड़ा कदम उठाया गया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 28 September, 2022
Last Modified:
Wednesday, 28 September, 2022
Times Now Navbharat

‘टाइम्स नेटवर्क’ (Times Network) के हिंदी न्यूज चैनल ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ (Times Now Navbharat) में टीम और मैनेजमेंट के बीच समन्वय स्थापित करने और चैनल को और अधिक मजबूती प्रदान करने के इरादे से एक बड़ा कदम उठाया गया है। दरअसल, ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ की एडिटर-इन-चीफ नाविका कुमार की ओर से एक इंटरनल मेल जारी किया गया है, जिसमें कहा गया है कि यहां इनपुट डेस्क, आउटपुट डेस्क, रिपोर्टर्स, एंकर्स, न्यूज रिसर्च टीम, सोशल मीडिया टीम व गेस्ट टीम के हेड (प्रफुल्ल) अब सीनियर एग्जिक्यूटिव एडिटर व वरिष्ठ टीवी पत्रकार रंजीत कुमार को रिपोर्ट करेंगे। इसके अतिरिक्त अब एम्प्लॉयीज को छुट्टी के लिए भी इन्हीं से मंजूरी लेनी होगी।   

वहीं चीफ एग्जिक्यूटिव प्रड्यूसर के पद पर काम कर रहे अनुपम श्रीवास्तव रंजीत कुमार के साथ मिलकर काम करेंगे, जो बड़े इवेंट्स को देखेंगे, प्रॉडक्शन स्टाफ व आउटपुट के वीकेंड स्टाफ की जरूरतों को समझेंगे और रंजीत कुमार को रिपोर्ट करेंगे।

इस इंटरनल मेल के अनुसार, ये बदलाव तत्काल प्रभाव से लागू कर दिए गए हैं।

बता दें कि वरिष्ठ टीवी पत्रकार रंजीत कुमार को इस महीने की शुरुआत में ही सीनियर एग्जिक्यूटिव एडिटर के पद पर नियुक्त किया गया है। अपनी इस भूमिका में वह चैनल की एडिटोरियल लीडरशिप टीम के साथ मिलकर काम कर रहे हैं और आउटपुट डेस्क, असाइनमेंट, न्यूज रिसर्च, गेस्ट को-ऑर्डिनेशन, सोशल मीडिया व प्रॉडक्शन सहित समग्र परिचालनों का नेतृत्व कर रहे हैं।

रंजीत कुमार चैनल के नोएडा ऑफिस से अपना कामकाज संभाल रहे हैं और उनकी रिपोर्ट ‘टाइम्स नेटवर्क’ की ग्रुप एडिटर व ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ की एडिटर-इन-चीफ नाविका कुमार को है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ZEE BUSINESS को अलविदा कह एंकर प्रशान्त पाण्डेय ने इस चैनल से शुरू की नई पारी

‘जी बिजनेस’ (Zee Business) के सीनियर एंकर प्रशान्त पाण्डेय ने यहां से अलविदा कह दिया है। प्रशान्त इस संस्थान से साढ़े तीन वर्ष से ज्यादा समय से जुड़े थे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 28 September, 2022
Last Modified:
Wednesday, 28 September, 2022
Prashant-Pandey

‘जी बिजनेस’ (Zee Business) के सीनियर एंकर प्रशान्त पाण्डेय ने यहां से अलविदा कह दिया है। प्रशान्त इस संस्थान से साढ़े तीन वर्ष से ज्यादा समय से जुड़े थे। उन्होंने ‘जी मीडिया‘ में वर्ष 2019 में अपनी पारी की शुरुआत की थी।

प्रशान्त ने अपनी नई पारी ‘टाइम्स ग्रुप‘ के बिजनेस चैनल ‘ET NOW स्वदेश‘ से शुरू की है। यहां वह डिप्टी न्यूज एडिटर के पद पर अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे।

प्रशान्त को ब्रॉडकास्ट मीडिया में 14 वर्षों से ज्यादा का अनुभव है। इस दौरान वह ‘ईटीवी भारत‘,‘नेटवर्क18‘ और ‘स्टार स्पोर्ट्स‘ जैसे तमाम प्रतिष्ठित संस्थानों में अहम भूमिका निभा चुके हैं। प्रशान्त की बॉलीवुड में काफी अच्छी पकड़ है। मीडिया की दुनिया में उन्हें सौम्य, सुलझा हुआ और एक्सपेरिमेंट करने वाला पत्रकार माना जाता है।

मूलरूप से गोरखपुर( यूपी) के रहने वाले प्रशान्त ने वर्ष 2008 में ‘ईटीवी‘ से अपने करियर की शुरुआत की थी। इसके बाद वह ‘स्टार स्पोर्ट्स‘ और फिर ‘न्यूज18‘ से जुड़े।

समाचार4मीडिया की ओर से प्रशान्त पाण्डेय को उनकी नई पारी के लिए ढेरों बधाई और शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

हैप्पी बर्थडे हेमंत शर्मा: हिंदी पत्रकारिता का पर्याय हैं आप

‘टीवी9 भारतवर्ष’ के न्यूज डायरेक्टर व वरिष्ठ पत्रकार हेमंत शर्मा का आज जन्मदिन है। हेमंत शर्मा का जन्म बनारस में हुआ है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 27 September, 2022
Last Modified:
Tuesday, 27 September, 2022
Hemantsharma45212

‘टीवी9 भारतवर्ष’ के न्यूज डायरेक्टर व वरिष्ठ पत्रकार हेमंत शर्मा का आज जन्मदिन है। आज वे अपना 61वां जन्मदिन मना रहे हैं। हेमंत शर्मा का जन्म बनारस में हुआ है।

पिछले 35 वर्षों से भी अधिक समय से हिंदी पत्रकारिता में सक्रिय हेमंत शर्मा ने अपने करियर की शुरुआत प्रतिष्ठित एक्सप्रेस ग्रुप के ‘जनसत्ता’ अखबार से की थी। उन्हें पत्रकारिता और साहित्य विरासत में मिली है। पंद्रह साल तक ‘जनसत्ता’ के राज्य संवाददाता रहने के बाद, दो साल ‘हिन्दुस्तान’, लखनऊ में संपादकी की। इसके बाद से वे लंबे अर्से से टीवी पत्रकारिता से जुड़े हुए हैं।

उन्होंने 1983 में बहुत कम उम्र में पत्रकारिता शुरू कर दी थी। स्नातक से डॉक्टरेट तक की उनकी शैक्षिक यात्रा वाराणसी के बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से हुई। औपचारिक शिक्षा के साथ ही यहीं से उन्होंने समाज, प्रकृति, उत्सव, संस्कृति के ज्ञान का अध्ययन करने के अपने प्रयासों को भी जारी रखा और उनके शब्द, तात्पर्य और धारणाओं की समझ भी यहीं बनी। उन्होंने यहां से पीएचडी की।

बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय से शोध करने वाले वरिष्ठ पत्रकार हेमंत शर्मा के करियर का सफर देश के प्रमुख मीडिया घरानों जैसे- ‘एक्सप्रेस ग्रुप’, ‘हिन्दुस्तान टाइम्स’, ‘इंडिया टीवी’ से होता हुआ, अब प्रतिष्ठित ‘टीवी9 ग्रुप’ तक जा पहुंचा, जिसके साथ वह अब वर्तमान में जुड़े हुए हैं और यहां वे साल 2019 की शुरुआत से हैं।

हेमंत शर्मा अपने राजनीतिक व्यंग्य और अपने उग्र लेखन के लिए जाने जाते हैं। उन्हें उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा 'यश भारती' से सम्मानित किया जा चुका है।

बनारस हिंदू विश्‍वविद्यालय से शोध करने वाले हेमंत शर्मा की चार पुस्‍तकों के अलावा ‘अयोध्‍या का चश्‍मदीद’ और ‘युद्ध में अयोध्‍या’ खासी चर्चित किताबें रही हैं। व्यापक रूप से प्रशंसित 'युद्ध में अयोध्या' आंदोलन की सभी अनकही कहानियों का एक जीवंत लेखन है, जिसने भारतीय राजनीति की कहानी को हमेशा के लिए बदल दिया।

प्रिंट मीडिया के पत्रकार रह चुके हेमंत शर्मा ने कैलास मानसरोवार पर भी एक किताब 'द्वितीयोनास्ति' लिखी है, जिसमें कैलास मानसरोवर की आश्चर्यजनक सुंदरता को वर्णित किया गया है और यह भी काफी चर्चित किताब रही। उनकी अन्य रचनाओं में शामिल ‘तमाशा मेरे आगे’ जीवन और समाज पर लेखों का एक संग्रह है। इसके अलावा उन्होंने ‘एकदा भारतवर्षे’ किताब भी लिखी है।

हेमंत शर्मा को चैनल के उन अधिकारियों में गिना जाता है, जो चैनल के संचालन की कमान को बेहतरीन ढंग से संभालते हैं।

हेमंत शर्मा ने अयोध्या आंदोलन को काफी करीब से देखा है। ताला खुलने से लेकर ध्वंस तक की हर घटना की रिपोर्टिंग के लिए अयोध्या में मौजूद वे इकलौते पत्रकार हैं। बाबरी ध्वंस के वक्त विवादित इमारत से वे कोई सौ गज की दूरी पर थे और वे कारसेवा, शिलान्यास, विवादित ढांचा खुलने के भी चश्मदीद रहे हैं।

उनका राजनीति, समाज, परंपरा को समझने और पढ़ने का क्रम अब भी अनवरत जारी है।

हेमंत शर्मा ‘इंडिया टीवी’ के चेयरमैन रजत शर्मा के पुराने सहयोगी हैं और वे गृह मंत्री अमित शाह के भी काफी करीब माने जाते हैं। हेमंत शर्मा को हिंदी पत्रकारिता का पर्यायवाची कहना अतिश्योक्ति नहीं होगी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सुप्रीम कोर्ट ने नाविका कुमार को दी ये बड़ी राहत

टीवी डिबेट के दौरान पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी किए जाने के मामले में एंकर नाविका कुमार को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत दी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 23 September, 2022
Last Modified:
Friday, 23 September, 2022
Navika Kumar

टीवी डिबेट के दौरान पैगंबर मोहम्मद पर टिप्पणी किए जाने के मामले में एंकर नाविका कुमार को सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी राहत दी है। शीर्ष अदालत ने नाविका कुमार के खिलाफ 8 सप्ताह तक किसी ऐक्शन पर रोक लगा दी है। इसके अलावा उनके खिलाफ देश के अलग-अलग हिस्सों में दर्ज केसों को भी दिल्ली ट्रांसफर करने का आदेश दिया है। अब नाविका कुमार पर दर्ज सभी मामलों की जांच अब दिल्ली पुलिस की ‘इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रैटेजिक ऑपरेशंस' (आईएफएसओ) इकाई ही करेगी। 

इसके पहले आठ अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने नाविका कुमार के खिलाफ देश के तमाम हिस्सों में दर्ज एफआईआर को लेकर उनकी गिरफ्तारी पर अंतरिम रूप से रोक लगा दी थी। साथ ही जस्टिस कृष्णा मुरारी और हेमा कोहली की बेंच ने नाविका कुमार की उस याचिका पर केंद्र और पश्चिम बंगाल सरकार को नोटिस भी जारी किया था, जिसमें उन्होंने अपने खिलाफ दर्ज मामलों को रद्द करने की मांग की है।

गौरतलब है कि भाजपा प्रवक्ता (अब निलंबित) नुपुर शर्मा द्वारा कुछ माह पूर्व पैगंबर मोहम्मद पर कथित रूप से आपत्तिजनक टिप्पणी के मामले में देश-विदेश में आग भड़क उठी थी। भारत और विदेशों में मुस्लिम समुदाय में भारी आक्रोश को देखते हुए बीजेपी ने नूपुर शर्मा को पार्टी से निलंबित कर दिया था। इस आग की चिंगारी नाविका कुमार तक भी पहुंच गई थी और उनके खिलाफ देश के विभिन्न हिस्सों में एफआईआर कराई गई थीं। इन एफआईआर में नाविका कुमार पर जानबूझकर धार्मिक भावनाओं को भड़काने की कोशिश करने का आरोप लगाया गया था।

इन एफआईआर में आरोप लगाया गया कि 25 मई की रात नौ बजे जब नाविका कुमार अपने प्राइम टाइम शो ‘द न्यूज ऑवर’ को होस्ट कर रही थीं, तब नुपुर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ अपशब्द कहे थे, जिससे उनकी धार्मिक भावनाएं आहत हुईं। हालांकि, ‘टाइम्स नाउ’ ने नुपुर की टिप्पणी से खुद को दूर करने की कोशिश करते हुए दावा किया था कि यह उनका समर्थन नहीं करता है।

चैनल द्वारा एक बयान में कहा गया था, ‘हम अपनी बहस के प्रतिभागियों से संयम बनाए रखने और साथी पैनलिस्टों के खिलाफ असंसदीय भाषा में शामिल नहीं होने का आग्रह करते हैं।’

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सीनियर न्यूज एंकर निधि वासंदानी ने Republic Bharat को कहा अलविदा

वह इस चैनल की शुरुआत से ही इसके साथ जुड़ी हुई थीं और इन दिनों बतौर डिप्टी न्यूज एडिटर/सीनियर एंकर अपनी जिम्मेदारी संभाल रही थीं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 23 September, 2022
Last Modified:
Friday, 23 September, 2022
Nidhi Vasandani

टीवी जर्नलिस्ट और सीनियर न्यूज एंकर निधि वासंदानी ने हिंदी न्यूज चैनल ‘रिपब्लिक भारत’ (Republic Bharat) में अपनी करीब साढ़े तीन साल पुरानी पारी को विराम दे दिया है। वह इस चैनल की शुरुआत से ही इसके साथ जुड़ी हुई थीं और इन दिनों बतौर डिप्टी न्यूज एडिटर/सीनियर एंकर अपनी जिम्मेदारी संभाल रही थीं।  

समाचार4मीडिया से बातचीत में निधि वासंदानी ने बताया कि 24 सितंबर इस संस्थान में उनका आखिरी कार्यदिवस होगा। निधि ने बताया कि वह जल्द ही अपनी नई पारी शुरू करेंगी। ‘रिपब्लिक भारत’ को जॉइन करने से पहले निधि वासंदानी ‘इंडिया न्यूज’ में बतौर एग्जिक्यूटिव प्रड्यूसर और न्यूज एंकर की जिम्मेदारी निभा रही थीं। हालांकि, यहां उनका सफर महज आठ महीने ही रहा था।

निधि वासंदानी को मीडिया में काम करने का करीब डेढ़ दशक का अनुभव है। ‘इंडिया न्यूज’ से पहले वह ’एबीपी न्यूज’ का चिर-परिचित चेहरा रही हैं। उन्होंने इस न्यूज चैनल के साथ करीब चार साल की पारी खेली। निधि वर्ष 2014 में ’एबीपी न्यूज’ के साथ जुड़ी थीं। वह 2014 के फीफा वर्ल्ड कप से लेकर ’एबीपी न्यूज’ के लोकप्रिय शो ‘कौन बनेगा मुख्यमंत्री’ तक कवर कर चुकी हैं। इसके साथ ही वह महाराष्ट्र और आस पास के राज्यों की खबरों वाला शो ‘मुंबई लाइव’ कवर कर चुकी हैं। निधि ये शो खुद ही बनाती थीं और इसकी एंकरिंग भी खुद ही करती थीं। नोटबंदी के दौरान निधि के काम को कई बार सराहा गया, क्योंकि उन्होंने कई ऐसे रिपोर्ट्स तैयार की थीं, जिसमें कैशलैस इंडिया की तस्वीर को उजागर किया गया था।

’एबीपी न्यूज’ से पहले निधि ’जी बिजनेस’ में कार्यरत थीं। यहां अप्रैल 2009 से मार्च  2014 तक अपनी पारी के दौरान उन्होंने प्रड्यूसर के साथ-साथ एंकरिंग की भी जिम्मेदारी संभाली। वह ‘जी मीडिया’ के अन्य न्यूज चैनलों में भी दे अपना योगदान दे चुकी हैं, जिनमें ‘जी’ यूपी/उत्तराखंड व ‘जी संगम’ शामिल है। इसके पहले वह मई 2007 से अप्रैल  2009 तक ‘सहारा समय’ में रही हैं। उन्होंने कुछ समय तक भोपाल में ‘राज न्यूज‘ और ‘भास्कर टीवी‘ के साथ भी काम किया है।  

निधि ने इकनॉमिक्स (ऑनर्स) में ग्रेजुएशन किया है और वह डबल पोस्ट ग्रेजुएट  (मास कम्युनिकेशन और पॉलिटिकल साइंस) हैं। निधि एक ट्रेंड क्लासिकल डांसर भी हैं, जिन्होंने कथक में ग्रेजुएशन किया है। वह कई स्टेज शो भी कर चुकी हैं। वह बच्चों को डांस भी सिखाती हैं। चूंकि उनका नाता भोपाल से हैं, लिहाजा वह भोपाल के दूरदर्शन में कई बार परफॉर्मेंस भी दे चुकी हैं। भोपाल की सर्वश्रेष्ठ क्लासिकल डांसर के तौर पर निधि को शिवराज सिंह चौहान सम्मानित भी कर चुके हैं।इसके अलावा निधि को वर्ष 2004 में सिंधि प्रतिभा के लिए नेशनल अवॉर्ड समेत कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है।

समाचार4मीडिया की ओर से निधि वासंदानी को उनके नए सफर के लिए अग्रिम शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

संकेत उपाध्याय ने बताया, कौन हैं मीडिया में नफरत के 'असली कारोबारी' और कैसे लगेगी लगाम

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस केएम जोसेफ ने कहा कि 'हेट स्पीच पूरी तरह से जहर बोने का काम करती है। इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 22 September, 2022
Last Modified:
Thursday, 22 September, 2022
Sanket Upadhyay

सुप्रीम कोर्ट ने मीडिया और टीवी एंकरों को लेकर केंद्र सरकार पर बड़े सवाल खड़े किए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने सीधे शब्दों में इसकी निंदा करते हुए कहा है कि हेट स्पीच यानी कि अभद्र भाषा का जब टीवी डिबेट्स में इस्तेमाल होता है तो सरकार 'मूकदर्शक' क्यों बनी हुई है ?

कोर्ट ने कहा कि टीवी एंकर की भूमिका बहुत महत्वपूर्ण होती है। जैसे ही कोई गलत या विवादित बयान देता है तो यह काम एंकर का होता है कि उन्हें तुरंत टोका जाए या आगे बोलने से रोका जाए।

सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस केएम जोसेफ ने कहा कि 'हेट स्पीच पूरी तरह से जहर बोने का काम करती है। इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती है। हमारे पास जब तक एक उचित कानूनी ढांचा नहीं होगा तब तक लोग ऐसा करना जारी रखेंगे। '

इस पूरे वाकये पर एनडीटीवी के वरिष्ठ पत्रकार संकेत उपाध्याय ने सुप्रीम कोर्ट का समर्थन किया है। संकेत उपाध्याय ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'सुप्रीम कोर्ट ने नफ़रती TV एंकरों पर अच्छी टिप्पणी की। लेकिन पीछे बैठे आकाओं को भी नहीं बख्शना चाहिए। मीडिया में नफ़रत के असली कारोबारी तो पर्दे के पीछे बैठे लोग हैं। वहाँ से टूँटी बंद होगी तो अपने आप स्क्रीन पर नफ़रत का प्रवाह बंद हो जाएगा।'

 

 

इस मामले को लेकर एंकर संकेत उपाध्याय ने अपने शो में  देश के पहले टीवी न्यूज़ एंकर शम्मी नारंग से भी बात की है। इस मसले पर बोलते हुए शम्मी नारंग ने कहा कि गाज सिर्फ एंकर पर ही क्यों गिरनी चाहिए ? वर्तमान में चैनलों की आपसी होड़ ने भी नफरत को बढ़ावा देने का काम किया है। उन्होंने कहा कि दर्शकों को नकारात्मकता परोसी जा रही है लेकिन ये दौर मंथन का भी है, एक समय ऐसा भी आएगा जब ज़हर और अमृत दोनों अलग अलग हो जाएंगे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए