देश में वसुधैव कुटुम्बकम है, क्योंकि यह हिंदू बहुल है: अमिश देवगन

‘न्यूज18इंडिया’ पर अपने डिबेट शो ‘ये देश है हमारा’ में मेहमानों से चर्चा कर रहे थे अमिश देवगन

Last Modified:
Monday, 07 October, 2019
Amish Devgan

हिंदी न्यूज चैनल ‘न्यूज18इंडिया’ के डिबेट शो में पहुंचे कांग्रेस नेता का एक विडियो सोशल मीडिया पर इन दिनों वायरल हो रहा है। इस विडियो में वह कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह का बचाव करते हुए नजर आ रहे हैं। यही नहीं, उन्होंने हाथ जोड़कर शो को होस्ट कर रहे एंकर से यह तक कह दिया कि आप न तो दिग्विजय सिंह के पीछे पड़िए और न कांग्रेस के।

दरअसल, नेटवर्क18 (Network18) के वरिष्ठ पत्रकार और चर्चित एंकर्स में शुमार अमिश देवगन ‘न्यूज18इंडिया’ पर अपने डिबेट शो ‘ये देश है हमारा’ में आरएसएस की देशभक्ति पर विपक्ष के सवालों को लेकर मेहमानों से चर्चा कर रहे थे। इस दौरान महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के मौके पर दिग्विजय सिंह द्वारा इस्तेमाल किए गए रेडिकल हिंदू शब्द का मामला भी उठा।

दिग्विजय के इस बयान पर सवाल करते हुए अमिश देवगन का कहना था कि हिंदू रेडिकल हो गया, कब से? इस पर आचार्य प्रमोद कृष्णम का कहना था, ‘अमिश देवगन जी आप हमेशा शो शुरू करते हैं सवालों से और जवाब हम देते हैं। मैं आज भी आपका जवाब दूंगा, लेकिन एक सवाल मैं आज पहली बार आपसे करना चाहता हूं कि क्या किसी भी व्यक्ति के लिए, राज्य के लिए, राष्ट्र के लिए, धर्म के लिए कट्टरता ठीक है, सगठनिज्म ठीक है? ये आप जवाब दे दें।’

अमिश देवगन के यह कहने पर कि इसे कोई ठीक नहीं कह सकता है, आचार्य प्रमोद कृष्णम ने यह भी कहा, ‘ ये देश बसुधैव कुटुम्बकम में यकीन करता है। अगर किसी भी वजह से भारत को दुनिया में कट्टरपंथी भारत कहा जाएगा तो क्या यह उचित होगा? नहीं होगा। इसलिए जहां तक दिग्विजय सिंह की बात है, उन्होंने ऐसा कतई नहीं कहा है। उन्होंने साफ कहा है कि किसी भी तरह की कट्टरता देश के लिए और धर्म के लिए खतरनाक है।‘

उन्होंने कहा, ‘हमारे सनातन धर्म की बुनियाद ही सत्य, अहिंसा, प्रेम, करुणा और सद्भावना है। इसलिए मैं ये कहना चाहता हूं कि आप बेमतलब न तो दिग्विजय सिंह जी के पीछे पड़िए और न कांग्रेस के पीछे पड़िए। जनता को जब मौका मिलेगा, वो अपना फैसला कर देगी।‘

इसके बाद अमिश देवगन ने कहा, ‘जनता के पीछे मैं पड़ नहीं सकता। मैं तो सरकार से भी सवाल करूंगा और विपक्ष से भी सवाल करूंगा। जैसा कि आपने कहा कि ये देश वसुधैव कुटुम्बकम में यकीन करता है तो वो इसलिए कि यह हिंदू बहुल है और ये इसका सबसे बड़ा कारण है।’

इसके बाद अमिश देवगन ने चर्चा को आगे बढ़ाते हुए बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया से कहा, ‘आप दिग्विजय सिंह के हाथ धोकर पीछे पड़ जाते हैं। कट्टरपंथिता तो किसी भी धर्म में अच्छी नहीं है। आचार्य जी का ये बहुत अच्छा पॉइंट है। आप भी इससे सहमत होंगे।’

इस पर गौरव भाटिया का कहना था, ‘हम लोग अपने हाथ कभी मैले नहीं करेंगे। इसलिए दिग्विजय सिंह को छूने का तो सवाल ही नहीं उठता। देश की जनता ने भोपाल के चुनाव में ऐसे व्यक्ति को जो हिंदू को आतंकवादी कहता है, उसे ऐसा कर दिया कि न वह घर का रहा और न घाट का। मैं एक बात डंके की चोट पर कहता हूं कि न हिंदू आतंकवादी था, न है और न होगा, क्योंकि देश का हिंदू देशप्रेमी है। उसी का इतना बड़ा दिल है कि वह सारे धर्मों का सम्मान करता है। इसलिए भारत में ईद में खीर खाते हैं हिंदू और दिवाली मनाते हैं हमारे मुसलमान भाई। यह हमारी संस्कृति है।’

न्यूज18 इंडिया के पत्रकार मोहित वर्मा ने इस डिबेट शो को अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया है, जिसे आप यहां देख सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कवरेज के दौरान हुआ कुछ ऐसा कि रो पड़ा ‘आजतक’ का क्राइम रिपोर्टर

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है रिपोर्टर का फोटो, लोग कह रहे हैं सच्ची पत्रकारिता

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Tuesday, 10 December, 2019
Last Modified:
Tuesday, 10 December, 2019
Aajtak

हिंदी न्यूज चैनल ‘आजतक’ की क्राइम टीम में जाने-पहचाने चेहरे हैं। शम्स ताहिर खान की अगुवाई में इस टीम में तमाम ऐसे नए चेहरे भी जुड़े हैं, जो पिछले कई साल से ‘आजतक’ को टॉप पर बनाए हुए हैं। ऐसे में क्राइम की खबरों पर तो वो आगे रहते ही हैं, किसी बड़ी दुर्घटना के वक्त भी उन्हीं को मोर्चे पर भेजा जाता है। लेकिन ऐसी दुर्घटनाओं को कवर करते वक्त जब लाशों पर लाशें निकल रही हों, तो किसी का भी कलेजा मुंह को आ सकता है। ‘आजतक’ के क्राइम रिपोर्टर पुनीत शर्मा के साथ भी ऐसा ही हुआ, जब वो दिल्ली की अनाज मंडी की उस आग को कवर कर रहे थे, जिसके चलते 43 लोगों की जानें चली गई थीं।

आप तस्वीर में देख सकते हैं कि पुनीत शर्मा की क्या हालत हो गई थी उस वक्त। ऑन एयर बोलते-बोलते वो रो पड़े थे क्योंकि हर लाश के साथ ही उसके परिवार और साथियों की चीखें उनके कानों में भी पड़ रही थीं। लेकिन ‘आजतक’ की स्क्रीन से लिया गया उनका ये भावुक फोटो अब सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

उन्हीं के एक सीनियर साथी ‘एनडीटीवी’ के सीनियर स्पेशल कॉरस्पोंडेंट मुकेश सेंगर ने भी पुनीत के इस फोटो को शेयर किया है। अपने ट्वीट में उन्होंने कहा है, 'दिल्ली में आग लगने के हादसे ने हर किसी को हिला दिया, रुला दिया! ‘आजतक’ में संवाददाता छोटा भाई पुनीत शर्मा भी अपने आंसू नहीं रोक सका,पत्रकारिता का एक पहलू ये भी है।'

वहीं कमलदीप अरोड़ा लिखते हैं, 'आज दिल्ली में हुए हादसे में हुई 43 मौत पर इमोशनल होने पर लाइव रिपोर्टिंग में आंख में आंसू आये आजतक के क्राइम रिपोर्टर छोटे भाई पुनीत शर्मा के। ये भी एक पहलू हैं, सच्ची पत्रकारिता का।'

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अरनब गोस्वामी बोले- BJP सरकार कांग्रेस से भी बड़ी गलती कर रही है

उन्होंने अपने हालिया शो के जरिए ये साबित किया है कि वह किसी पार्टी को नहीं, बल्कि मुद्दे को तवज्जो देते हैं, फिर भले ही उसका जुड़ाव किसी भी दल से क्यों न हो

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Monday, 09 December, 2019
Last Modified:
Monday, 09 December, 2019
Arnab Goswami

वरिष्ठ पत्रकार अरनब गोस्वामी को अक्सर भाजपा समर्थक पत्रकार के रूप में देखा जाता है,लेकिन उन्होंने अपने हालिया शो के जरिए ये साबित किया है कि वह किसी पार्टी को नहीं, बल्कि मुद्दे को तवज्जो देते हैं, फिर भले ही उसका जुड़ाव किसी भी दल से क्यों न हो।

अरनब गोस्वामी ने अपने शो ‘द डिबेट’ में नागरिकता संशोधन बिल को लेकर मोदी सरकार की कार्यप्रणाली पर जमकर प्रहार किया। शो की शुरुआत अरनब ने इस अंदाज में की, मानो वह अपने विरोधियों को बता रहे हों कि उनके लिए क्या ज्यादा मायने रखता है।

उन्होंने कहा, ‘अमूमन लोग मुझसे पूछते हैं कि जब आप किसी मुद्दे को उठाते हैं तो उसका आधार क्या होता है? क्या भाजपा या कांग्रेस के आधार पर उठाते हैं? मेरा जवाब होता है ‘नहीं’। मेरे दिमाग में बस ब्लैक एवं व्हाइट, सही और गलत होता है और मैं अपनी पत्रकारिता को कभी कठिन नहीं बनाता। मेरे लिए जो सही है, वो सही है और जो गलत, वो गलत।’  इसके बाद अरनब ने भाजपा को भी सही-गलत का पाठ पढ़ाया। उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि भाजपा को भी समझना चाहिए कि क्या सही है और क्या गलत। नागरिकता संशोधन बिल के मामले में भाजपा बड़ी गलती कर रही है।’

अरनब ने यह भी साफ किया कि बिल पर आपत्ति जताकर वह कांग्रेस के एजेंडे का समर्थन नहीं कर रहे हैं, बल्कि उनकी नजर में असम में बांग्लादेशियों की घुसपैठ के लिए कांग्रेस ही सबसे बड़ी जिम्मेदार है। उन्होंने कहा, ‘मैं असम से हूं लेकिन मैं आज देश के नागरिक के रूप में अपनी बात रखना चाहूंगा। मैं असम के हाल के लिए कांग्रेस को कुसूरवार ठहराता रहा हूं, मगर भाजपा सरकार उससे भी बड़ी गलती कर रही है।’

उन्होंने बिल के उस प्रावधान पर एतराज जताया है, जिसके मुताबिक,अफगानिस्तान,पाकिस्तान,बांग्लादेश से आए हिंदू, जैन, बौद्ध, ईसाई, सिख शरणार्थियों को भारत की नागरिकता मिलने में आसानी होगी। इसके अलावा अब भारत की नागरिकता पाने के लिए 11 साल नहीं, बल्कि 6 साल तक इस देश में रहना अनिवार्य होगा। वैसे, बिल को यदि धर्म का चश्मा उतारकर देखा जाये तो सवाल उठता है कि क्या इससे अवैध रूप से भारत में घुसने वालों पर लगाम लगाई जा सकेगी? मुस्लिमों को छोड़कर दूसरे देशों में रहने वालों को भारत का नागरिक बनाने से क्या समस्या हल हो पायेगी? यही सवाल अरनब गोस्वामी ने भी सरकार से पूछा है।

‘रिपब्लिक टीवी’ के एडिटर-इन-चीफ अरनब ने आगे कहा, ‘मुद्दा हमेशा से अवैध प्रवासियों का रहा है, न कि उनके धर्म का। भाजपा बस संघ परिवार को खुश करने में लगी है। पाकिस्तान या बांग्लादेश में रहने वाले कहीं भी जाएं, मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता, लेकिन भारत ही क्यों? क्या हमारा देश धर्मशाला है? हम सभी को इस मुद्दे पर भाजपा से सवाल करना चाहिए।’

उन्होंने भाजपा सरकार की कवायद को सियासी नफे-नुकसान के तहत लिया गया फैसला भी बताया, साथ ही सरकार को इसके दूरगामी परिणाम भुगतने की चेतावनी भी दी। दरअसल, नागरिकता संशोधन बिल को लेकर अधिकांश मीडिया में सरकार जैसी ही राय है, यानी सबकुछ अच्छा है। मगर अरनब गोस्वामी ने इन बिंदुओं को उठाकर यह बताने का प्रयास किया है कि मीडिया का काम केवल अच्छे पर ही फोकस करना नहीं होता। अरनब के इस ‘डिबेट’ को भले ही किसी भी रूप में देखा जाये, लेकिन जो सवाल उन्होंने उठाये हैं, उनका जवाब तो भाजपा से मांगा ही जाना चाहिए। साथ ही यह भी उम्मीद की जानी चाहिए कि अरनब को लेकर गलतफहमी पालने वालों की गलतफहमी अब काफी हद तक दूर हो जाएगी।       

पूरी डिबेट आप यहां देख सकते हैं:

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फीमेल सिंगर की इस बात पर कैसे शर्म से लाल हुए राजदीप सरदेसाई, देखें विडियो

इंडिया टुडे कॉन्क्लेव ईस्ट 2019 के मौके पर राजदीप सरदेसाई समेत विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ीं देश की जानी-मानी हस्तियां मौजूद थीं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Saturday, 07 December, 2019
Last Modified:
Saturday, 07 December, 2019
Rajdeep Sardesai

मौका था इंडिया टुडे कॉन्क्लेव ईस्ट 2019 का और मंच पर थीं बंगाली गायकी की उभरती हुई स्टार लग्नजिता चक्रवर्ती। सामने राजदीप सरदेसाई समेत विभिन्न क्षेत्रों से जुड़ीं देश की जानी-मानी हस्तियां मौजूद थीं। लग्नजिता ने ऐसे में मंच से कहा कि मेरा सबसे पहला क्रश राजदीप सरदेसाई थे। यह सुनकर राजदीप सरदेसाई का चेहरा शर्म से लाल या यूं कहे कि ब्लश (Blush) करने लगा और वह मुस्कुराने लगे।

लग्नजिता कहती चलीं गईं, ‘मुझे यकीन ही नहीं हो रहा कि राजदीप आज मेरे सामने बैठे हैं और मैं पिछले 15 मिनट से खुद को कंट्रोल करने की कोशिश कर रही हूं।‘ वह बताने लगीं कि पांचवी-छठी क्लास में जब वह पढ़ती थीं, तभी से राजदीप उनका पहला क्रश थे और कैसे उनके घर वाले भी इस बात को लेकर उनका मजाक बनाते थे। यही नहीं, उन्होंने मंच से ही बोल दिया, 'राजदीप आई लव यू'। वे यहां ही नहीं रुकी उन्होंने ये भी कहा कि वे अपने बिस्तर पर राजदीप के लिए जगह भी बनाकर रखती थी।

अब बारी थी राजदीप सरदेसाई की। लगभग हर कोई उन पर दबाव बनाने लगा कि उसका जवाब दें। राजदीप को कुछ समझ में नहीं आ रहा था क्या बोलें। फिर उन्होंने एक सेफलाइन ली, क्योंकि उनकी पत्नी सागरिका घोष भी बंगाली हैं तो उन्होंने कहना शुरू किया, ‘मैं शुरू से ही बंगाली महिलाओं के संपर्क में रहा हूं, उनके साथ जिंदगी बिताई है, उनसे काफी कुछ सीखा है।‘

वह यह कहकर बचने की कोशिश करने लगे कि तुम काफी अच्छा गाती हो। लेकिन मंच से फिर लग्नजिता ने बोल दिया कि इस देश में जितने जर्नलिस्ट हुए हैं, उनमें प्रणॉय रॉय के बाद दूसरे सबसे हैंडसम पत्रकार आप हो।

इसके बाद राजदीप का चेहरा वाकई में देखने लायक हो गया। अब वह कोशिश करने लगे कि टॉपिक चेंज हो। कॉन्क्लेव की बात करने लगे और गाने की फरमाइश करने लगे। लेकिन यह घटना मीडिया हलकों में चर्चा का विषय बन गई है। आप पूरे वाकये को इस विडियो क्लिप में देख सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अंजना ओम कश्यप ने संभाला मोर्चा, यूं किया अलका लाम्बा पर पलटवार

हैदराबाद में दुष्कर्म के बाद वेटनरी डॉक्टर की हत्या के मुद्दे पर ‘हल्ला बोल’ में हो रही थी चर्चा, शो के दौरान अलका लाम्बा ने कर दिया था वॉकआउट

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 04 December, 2019
Last Modified:
Wednesday, 04 December, 2019
Anjana Om Kashyap Alka Lamba

हैदराबाद रेप केस को लेकर ‘आजतक’ की मशहूर एंकर अंजना ओम कश्यप के शो ‘हल्ला बोल’ में कांग्रेस नेता अलका लाम्बा भड़क गईं। शो के दौरान दोनों के बीच तकरार इतनी बढ़ गई कि अलका लाम्बा शो से वॉकआउट कर गईं। इस बीच उन्होंने अंजना ओम कश्यप और ‘आजतक’ पर अपने खिलाफ एजेंडा चलाने के आरोप भी लगाए। लडाई यहीं खत्म नहीं हुई। इसके बाद अलका लाम्बा के समर्थक इस शो की क्लिप सोशल मीडिया पर चलाने लगे और 'आजतक' व अंजना को ट्रोल करने लगे। यहां तक कि लालू यादव की पार्टी आरजेडी के ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से इसे शेयर करके 'आजतक' और अंजना पर सवाल उठाए गए। जब अलका भी इस मुहिम में शामिल हुईं, तो अंजना को भी मैदान में उतरना पड़ा।

दरअसल, 'हल्ला बोल' में हैदराबाद की वेटनरी डॉक्टर के रेप केस पर चर्चा हो रही थी। अन्य गेस्ट्स के अलावा निर्भया की मां और अलका लाम्बा भी इस शो में मौजूद थीं। अंजना ने अलका को कहा कि रेप विक्टिम का नाम मत लीजिए, सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस हैं। इस पर अलका भड़क गईं और कहने लगीं कि आप मेरे खिलाफ एजेंडा चला रही हो। तब अंजना ने उन्हें शो की वह क्लिप दिखाईं, जहां 2 बार वो रेप विक्टिम डॉक्टर का नाम ले चुकी थीं। लेकिन पहले से ही भरी बैठीं अलका कहने लगीं कि निर्भया की मां को कोई दिक्कत नहीं थी, मुझे भी तो नाम मीडिया से ही पता चला था। मेरे बोलने पर ही क्यों आपत्ति है। फिर वो गुस्से में शेम ऑन यू अंजना, शेम ऑन आजतक कहकर शो से वॉकआउट कर गईं।

अलका शायद दूध की जली थीं, बिना बात के हंगामा किया। लेकिन उसके बाद अलका लाम्बा की टीम काम में लग गई। अलका लाम्बा ने एक विडियो क्लिप शेयर की, जिस पर लिखा था, अलका लाम्बा ने अंजना कश्यप की बैंड बजा दी। क्लिप देखकर नहीं लगा कि अंजना कुछ गलत कह रही हैं। उसके बाद आरजेडी ने शेयर कर दिया। अलका के पक्ष में तमाम लोग शेयर करने लगे। अलका की टीम ने तब तक अंजना कश्यप की वो ट्वीट ढूंढ निकाली, जिसमें 4 दिन पहले अंजना खुद रेप विक्टिम का नाम ले रही थीं। अलका ने उसे शेयर करते हुए लिखा, ‘’@anjanaomkashyap आप कल @aajtak के लाइव शो में मुझे कह रहीं थीं कि "हम सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन का सम्मान करते हैं".. रेप पीड़िता का नाम मैंने लिया है... कुछ तो शर्म करो... बेहतर होगा पत्रकारिता छोड़ कर कहीं कोई दूसरा रोज़गार खोज लो... अंजना ओम मोदी... Sorry अंजना ओम कश्यप’’।

अब अंजना को जवाब देने आना ही था, अंजना ने लिखा, ’जिस दिन का मेरा ये ट्वीट है उस दिन तक सभी नाम ले रहे थे। जब हैदराबाद की लड़की के परिवार की तरफ से लोकल प्रशासन ने ये गाइडलाइन जारी की कि आप नाम नहीं लें और बदला हुआ नाम ‘दिशा’ इस्तेमाल करें तो हमने उसका सम्मान किया। शो में जो हुआ उसका सच ये है।' अंजना ने इसके साथ ही हल्ला बोल शो का एक विडियो भी शेयर किया, जिससे कहानी थोड़ी स्पष्ट हुई।

अंजना इस विडियो में अलका लाम्बा को समझाती हैं कि रेप विक्टिम का नाम न लें, लेकिन अलका इसे पर्सनल अटैक की तरह लेती हैं और भड़क जाती हैं। अंजना अलका से माफी मांगती हैं, लेकिन उन्हें वो क्लिप भी दिखाती हैं, जिसमें दो बार अलका रेप विक्टिम का नाम ले रही थीं। इससे अलका और भड़क जाती हैं और गुस्से में शो से वॉकआउट कर जाती हैं। ये लड़ाई अभी भी सोशल मीडिया पर जारी है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कैसे पूरे मुल्क की आवाज बन गया अरनब गोस्वामी का ये शो, देखें विडियो

बुद्धिजीवी और विशेषज्ञ तो शामिल हुए ही, आम जनता को भी अपनी बात रखने का मौका मिला, महज 35 मिनट में मिले 1.35 लाख से ज्यादा मैसेज

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 04 December, 2019
Last Modified:
Wednesday, 04 December, 2019
Arnab Goswami

हैदराबाद कांड को लेकर पूरे देश में गुस्सा है। यह गुस्सा सड़क से संसद होते हुए न्यूज चैनल्स के स्टूडियो तक जा पहुंचा है। हर चैनल सभ्य समाज के सपने को तार-तार करने वाली इस वारदात पर बात कर रहा है, लेकिन जिस अंदाज में वरिष्ठ टीवी पत्रकार अरनब गोस्वामी ने इस मुद्दे को उठाया है वो काबिल-ए-तारीफ है। ‘रिपब्लिक टीवी’ के शो ‘डिबेट’ में अरनब ने हैदराबाद कांड पर चर्चा की। इस चर्चा में बुद्धिजीवी और विशेषज्ञ तो शामिल हुए ही, आम जनता को भी अपनी बात रखने का मौका दिया गया।

अरनब ने इस प्रयोग के माध्यम से यह दर्शाने का प्रयास किया है कि देश की जनता आखिरकार क्या चाहती है, उसे अपने सांसदों से क्या अपेक्षा है? अरनब की इस ‘डिबेट’ में अपनी बात रखने के लिए बड़ी संख्या में लोग आगे आए। महज 35 मिनट में चैनल को 1.35 लाख से ज्यादा संदेश मिले और बहस शुरू होते ही यह संख्या लगातार बढ़ती चली गई। पूरे शो के दौरान अरनब गोस्वामी को लोगों के संदेश पढ़ने के लिए मशक्कत करनी पड़ी, क्योंकि वॉट्सऐप पर मैसेज इतनी तेजी से आ रहे थे कि पढ़ना मुश्किल हो गया था।

आमतौर पर डिबेट शो में केवल कुछ लोगों को स्टूडियो में बैठाकर मुद्दे पर चर्चा हो जाती है और अंत में एंकर उसका सार अपने विचारों के साथ प्रस्तुत कर देता है। लेकिन अरनब ने इस सोच को विस्तार देते हुए उन लोगों को भी बहस का हिस्सा बनाया, जिन्हें सबसे ज्यादा प्रभावित होना पड़ता है यानी आम जनता। दिल्ली से लेकर दुबई तक ‘रिपब्लिक टीवी’ के दर्शकों ने अपनी सोच को शब्दों के रूप में अरनब तक पहुंचाया। कुछ दर्शकों को बतौर पैनलिस्ट भी शो में शामिल किया गया और गौर करने वाली बात यह है कि लगभग सभी ने एक सुर में बलात्कारियों को मौत की सजा देने की वकालत की।

‘रिपब्लिक टीवी’ और अरनब गोस्वामी सोशल मीडिया पर #justicefordisha और #deathforrapist नाम से कैंपेन भी चलाये हुए हैं और वहां भी उन्हें लोगों का साथ मिल रहा है। इसके अलावा, सरकार के नाम सात सूत्रीय मांगों का एक चार्टर भी तैयार किया है। मसलन, सभी बलात्कारियों को फांसी पर लटकाया जाए, उनका सामाजिक बहिष्कार किया जाए, उनके चेहरे न ढके जाएं, उनके नाम उजागर किये जाएं, सरकार की तरफ से बलात्कार के आरोपितों को कोई कानूनी सहायता उपलब्ध न कराई जाए, बलात्कार के सभी मामलों का जल्द से जल्द निपटारा किया जाए और दोषियों को जनता के पैसों पर जिंदा रखना बंद हो।

हैदराबाद कांड को लेकर लोग यह सवाल कर रहे थे कि आखिर मीडिया इस मामले को प्रमुखता से क्यों नहीं उठा रहा है, लेकिन अरनब की ‘डिबेट’ देखकर शायद वह अब ये सवाल न करें। अरनब और उनके चैनल ने इस मामले को अभियान की शक्ल दे दी है। एक ऐसा अभियान, जिसमें आम जनता की भागीदारी लगातार बढ़ती जा रही है।

महज 35 मिनट में 1.35 लाख से ज्यादा वॉट्सऐप मैसेज मिलना इसका सबूत है कि लोग अरनब की बात न केवल सुन रहे हैं, बल्कि उस पर अमल भी कर रहे हैं। लिहाजा, यह कहना गलत नहीं होगा कि हैदराबाद की वेटनरी डॉक्टर को न्याय दिलाने की लड़ाई को ‘रिपब्लिक टीवी’ के ‘डिबेट’ ने नई ऊंचाई पर पहुंचा दिया है, जहां से उम्मीद की जा सकती है कि सरकार लोगों की भावनाओं को समझेगी और उसके अनुरूप कानून में बदलाव करेगी।

‘रिपब्लिक टीवी’ पर पूरी बहस आप यहां देख सकते हैं-

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इन तीन पत्रकारों ने लूट ली इस हफ्ते पूरे देश की मीडिया की ‘महफिल’

इस हफ्ते हैदराबाद रेप केस के अलावा दो बड़ी राजनीतिक खबरें रहीं, जिनको लेकर पूरे देश में राजनीतिक घमासान मचा रहा

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 04 December, 2019
Last Modified:
Wednesday, 04 December, 2019
Journalist

इस हफ्ते हैदराबाद रेप केस के अलावा दो बड़ी राजनीतिक खबरें रहीं, जिनको लेकर पूरे देश में राजनीतिक घमासान मचा रहा। ये दो खबरें थीं शरद पवार का मोदी के बारे में बयान और राहुल बजाज का अमित शाह के सामने सरकार को घेरना, खासतौर पर साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के मुद्दे को लेकर। ऐसे में उन तीन पत्रकारों का जिक्र होना बेहद जरूरी है, जो इन दोनों खबरों से जुड़े हुए हैं। जिनके सवालों की वजह से यह खबरें इतनी बड़ी बनीं, यहां तक कि उनके विरोधी चैनल्स और अखबारों ने भी इन्हें ब्रेकिंग के साथ चलाया।

यह तीनों पत्रकार है ‘एबीपी न्यूज’ के राजनीतिक संपादक पंकज झा, ‘एबीपी मांझा’ के मैनेजिंग एडिटर ‘राजीव खांडेकर’ और ‘न्यूज24’ के ब्यूरो चीफ अमित कुमार। शरद पवार ने यह खुलासा किया था कि पीएम मोदी ने किसानों के मुद्दे पर उनके साथ मीटिंग करने के बाद उन्हें अपने साथ हाथ मिलाने का ऑफर दिया था और सुप्रिया सुले को केंद्रीय मंत्री पद तक का ऑफर दिया था, लेकिन शरद पवार ने विनम्रता के साथ इनकार कर दिया। जाहिर है कि इतनी बड़ी खबर को बाकी चैनल्स, अखबार और मीडिया वेबसाइट्स चलाए बिना रह न सके और वह भी बाकायदा ‘एबीपी न्यूज’ को क्रेडिट देने के साथ। शरद पवार का इंटरव्यू ‘एबीपी मांझा’ के राजीव खांडेकर और ‘एबीपी न्यूज’ के पंकज झा ने किया था, ऐसे में दोनों को इस बड़े ‘राजनीतिक तूफान’ का क्रेडिट मिलना चाहिए।

इसी तरह उद्योगपति राहुल बजाज ने जब एक कार्यक्रम में गृहमंत्री अमित शाह के सामने देश में बढ़ती असहिष्णुता को लेकर सवाल उठाया, साथ ही साध्वी प्रज्ञा को लेकर भी सरकार को घेरा और कहा एक तरफ तो वो नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताती हैं और पीएम कहते हैं कि उसे कभी मन से माफ नहीं करेंगे और दूसरी तरफ आप उसे रक्षा मामलों की समिति में सदस्य चुन लेते हैं। ऐसे में अमित शाह ने बताया कि प्रज्ञा ठाकुर को उस समिति से हटा दिया गया है और बीजेपी संसदीय पार्टी की मीटिंग में शामिल होने पर रोक लगा दी गई है।

ऐसे में तमाम पत्रकारों ने राहुल बजाज के सवाल के लिए ‘न्यूज24’ के ब्यूरो चीफ अमित कुमार को क्रेडिट दिया। दरअसल, अमित कुमार ने 2019 के चुनाव प्रचार के दौरान पीएम मोदी से इंटरव्यू के दौरान साध्वी प्रज्ञा को लेकर सवाल पूछा था कि वह गोडसे को देशभक्त बताती हैं। मोदी ने इसी इंटरव्यू में कहा था कि वे साध्वी को मन से कभी माफ नहीं कर पाएंगे और ये वो इकलौता बयान है जो मोदी ने साध्वी प्रज्ञा को लेकर दिया है। बार-बार मीडिया अमित कुमार के उसी इंटरव्यू में दिए गए मोदी के बयान को दोहराती है। विपक्ष भी इसी आरोप को उनके इंटरव्यू से उठाता है। राहुल बजाज ने भी इंटरव्यू की उसी लाइन को उठाया और सवाल पूछा। पंकज झा और राजीव खांडेकर के साथ-साथ अमित कुमार को इस हफ्ते की दो बड़ी राजनीतिक खबरों से जुड़े रहने के लिए समाचार4मीडिया की तरफ से ढेरों बधाइयां।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

लॉन्च होंगे 2 नए न्यूज चैनल्स, 10 चैनल्स को मिली सरकार से मंजूरी

मंत्रालय द्वारा देशभर में टीवी चैनल्स को दिए गए लाइसेंसों की संख्या अब कुल मिलाकर 919 हो गई है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Tuesday, 03 December, 2019
Last Modified:
Tuesday, 03 December, 2019
Channel

‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) द्वारा नवंबर में 10 नए टीवी चैनल्स के लाइसेंस को मंजूरी दी गई है। इसके अलावा तीन चैनल्स के लाइसेंस कैंसल भी किए गए हैं। इसके बाद ‘एमआईबी’ द्वारा देशभर में टीवी चैनल्स को दिए गए लाइसेंसों की संख्या कुल मिलाकर अब 919 हो गई है, वहीं कैंसल किए गए लाइसेंसों की संख्या 290 है।  

जिन चैनल्स को लाइसेंस दिए गए हैं, उनमें ‘खुशबू मल्टीमीडिया’ (Khusboo Multimedia), ‘हरिभूमि कम्युनिकेशंस’ (Hari Bhoomi Communications), ‘कस्तूरी मीडियास’(Kasthuri Medias ) और ‘गणेश डिजिटल नेटवर्क्स’ (Ganesh Digital Networks) के दो-दो चैनल्स शामिल हैं। इनके अलावा ‘श्रद्धा एमएच वन टीवी’ (Shraddha M.H One TV) और ‘लाइव इंडिया टुडे एंटरटेनमेंट’ (Live India Today Entertainment) के एक-एक चैनल के लाइसेंस को मंजूरी दी गई है। इनमें से आठ चैनल्स नॉन न्यूज कैटेगरी और दो न्यूज कैटेगरी के हैं।

मंत्रालय द्वारा जिन तीन टीवी चैनल्स के लाइसेंस कैंसल किए गए हैं, उनमें ‘मातृभूमि प्रिंटिगं एंड पब्लिशिंग प्राइवेट लिमिटेड’ (Mathrubhumi Printing and Publishing Pvt Ltd ) के दो और ‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) का एक चैनल शामिल है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस खबर पर महिला न्यूज एंकर के निकले आंसू, उठाया बड़ा सवाल

कहा, मैं माफी चाहती हूं कि मुझे ये सब नहीं करना चाहिए। मुझे संतुलित होकर अपनी बात आप तक पहुंचानी चाहिए

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Monday, 02 December, 2019
Last Modified:
Monday, 02 December, 2019
Channel

हैदराबाद में सामूहिक दुष्कर्म के बाद महिला डॉक्टर की हत्या को लेकर देशभर के लोगों में गुस्सा व रोष है। इस घटना के विरोध में देशभर में लोग विरोध-प्रदर्शन कर रहे हैं। मीडिया में कई दिनों से यह मामला सुर्खियों में बना हुआ है। महिला डॉक्टर के साथ हैवानों द्वारा की गई ज्यादती के बारे में एक शो के दौरान चर्चा करते समय ‘एबीपी न्यूज’ की सीनियर न्यूज एंकर रूबिका लियाकत काफी भावुक हो गईं। इस दौरान न सिर्फ उनका गला भर आया, बल्कि आंसू भी निकल पड़े।      

दरअसल, रूबिका लियाकत चैनल पर पैनलिस्ट से चर्चा कर रही थीं। इसी दौरान वे अपने आंसू नहीं रोक सकीं और रो पड़ीं। उनका कहना था, ‘यहां पर बैठकर मैं कब तक आपके सामने ये सवाल उठाती रहूंगी कि हिंदुस्तान की बच्चियां आजादी से क्यों नहीं घूम पातीं?’

रूबिका का यह भी कहना था, ‘इस मुल्क में जब वो जाती हैं तो क्यों उन्हें डर लगता है कि आंखें नोंच लेंगी। कब तक ये सवाल हम उठाते रहेंगे और आप लोग प्रज्ञा ठाकुर पर लड़ेंगे। मंदिर और मस्जिद पर लड़ेंगे। महिलाओं के लिए कितने दिनों तक आप इस तरीके से प्रदर्शन करते नजर आएंगे। निर्भया हुआ तो लगा था कि बस अब खत्म हुआ। मैं माफी चाहती हूं कि मुझे ये सब नहीं करना चाहिए। मुझे संतुलित होकर अपनी बात आप तक पहुंचानी चाहिए। मैं माफी चाहती हूं कि मैं एक औरत हूं और मैं आज अपने आप को रोक नहीं पा रही हूं।’

बता दें कि हैदराबाद में बुधवार की रात काम से लौटते समय 27 साल की महिला डॉक्टर की स्कूटी पंचर हो गई थी। इस दौरान रास्ते में कुछ लोगों ने महिला डॉक्टर की सामूहिक दुष्कर्म के बाद हत्या कर दी। अगले दिन महिला डॉक्टर का अधजला शव बरामद हुआ था। इस घटना को लेकर देशभर में लोगों में उबाल है। पुलिस ने इस मामले में चार आरोपितों मोहम्मद आरिफ (26), नवीन (20), चिंताकुंता केशावुलु (20) और शिवा (20)  को गिरफ्तार कर लिया है।  

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नया न्यूज चैनल लाए वरिष्ठ पत्रकार उमेश कुमार, जल्द देगा घरों में दस्तक

फुल एचडी होगा यह नया चैनल, उमेश कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर शेयर की चैनल से संबंधित जानकारी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Monday, 02 December, 2019
Last Modified:
Monday, 02 December, 2019
Umesh Kumar

‘समाचार प्लस’ न्यूज चैनल के सीईओ व एडिटर-इन-चीफ रहे वरिष्ठ पत्रकार उमेश कुमार ने गैर हिंदी प्रदेश में अपने कदम बढ़ाते हुए पश्चिम बंगाल के पहले फुल एचडी न्यूज चैनल ‘बांग्ला भारत’ (Bangla Bharat) की लॉन्चिंग की तिथि घोषित कर दी है। इस नए चैनल का प्रसारण छह दिसंबर से शुरू कर दिया जाएगा। उमेश कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर यह जानकारी शेयर की है।

चैनल के लिए एक बड़े निवेशक ने नई कंपनी का निर्माण किया है। इस कंपनी के शेयर का बड़ा हिस्सा उमेश कुमार के पास है। 'समाचार प्लस' चैनल बंद होने के बाद कुछ समय पूर्व ही उमेश कुमार ने घोषणा की थी कि वह गैर हिंदी भाषी राज्य में फुल एचडी न्यूज चैनल लॉन्च करने जा रहे हैं।

इसके साथ ही उन्होंने उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान जैसे राज्यों में अपने चार मीडिया प्लेटफॉर्म्स-यूपी न्यूज, पहाड़ न्यूज, एनएनआई और मोजो न्यूज शुरू कर दिए हैं। नई माइक आईडी और लोगो डिजाइन हो चुके हैं और जल्दी ही इन आईडी वाले पत्रकार खबरों के साथ दिखाई देने लगेंगे।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रकम पर बड़ा मुनाफा कमाने से पहले जरूर देखें ‘जी बिजनेस’ का ये स्टिंग

एक बार पैसा जमा करने के बाद लोग इनके जाल में फंस जाते हैं, क्योंकि पैसा मिलते ही इस तरह की कंपनियां गायब हो जाती हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 29 November, 2019
Last Modified:
Friday, 29 November, 2019
Zee Business Sting

स्टॉक मार्केट में पैसा लगाने वाले कई लोगों को फर्जी एडवाइजरी कंपनियां चपत लगा रही हैं। भोले-भाले लोग इन कंपनियों के झांसे में आकर अपनी गाढ़ी कमाई गंवा रहे हैं। ऐसे में इस तरह की फर्जी कंपनियों के खिलाफ हाल ही में ‘जी मीडिया’ (Zee Media) के बिजनेस न्यूज चैनल ‘जी बिजनेस’ (Zee Business) ने एक स्टिंग ऑपरेशन चलाया। इस स्टिंग ऑपरेशन के आधार पर ‘जी बिजनेस’ के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी ने अपने शो ‘मार्केट माफिया’ के जरिये बताया कि शेयर मार्केट में सक्रिय धोखेबाज किस तरह से छोटे और मंझोले निवेशकों को लालच देकर उनकी मेहनत की कमाई को लूट लेते हैं। हालांकि, सिंघवी ने इस शो में पहले ही स्पष्ट कर दिया कि यह शो सही और वास्तविक स्टॉक मार्केट एडवाइजरी कंपनियों के खिलाफ नहीं है और इसमें सिर्फ फर्जी और धोखा देने वाली कंपनियों को ही निशाना बनाया गया।

बताया जाता है कि यह पहली बार है जब किसी बिजनेस चैनल ने स्टॉक मार्केट की फर्जी एडवाइजरी कंपनियों के खिलाफ इस तरह का स्टिंग ऑपरेशन किया है। तीन पार्ट्स की सीरीज में इस शो का प्रसारण ‘जी बिजनेस’ चैनल पर 26 नवंबर की सुबह 9.56 बजे और 27 व 28 नवंबर की सुबह 10.26 बजे किया गया।

चैनल ने ‘मार्केट माफिया’ में इंदौर की एक एडवाइजरी कंपनी का खुलासा किया। ‘जी बिजनेस’ की टीम ने अपने शो में दिखाया कि कैसे इस कंपनी ने निवेशकों से वादा किया कि यदि वे 20000 रुपए निवेश करेंगे तो उन्हें एक हफ्ते में चार लाख रुपए तक मिल सकते हैं। कैसे मात्र 20000 रुपयों से एक हफ्ते में चार लाख रुपए कमाए जा सकते हैं, इस बारे में बताने के लिए कंपनी ने निवेशकों से 25000 रुपए मासिक सलाह शुल्क देने के लिए कहा था। ऐसा करना बाजार नियामक ‘भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड’ (SEBI) के नियमों के खिलाफ है। यही नहीं, विभिन्न कारणों से निवेशकों से ज्यादा से ज्यादा धन मांगा जाता है। लेकिन फायदा होने के स्थान पर निवेशकों को 30 से 50 लाख रुपए का नुकसान उठाना पड़ा।

इसके अलावा यह भी खुलासा किया गया कि इस तरह की एडवाइजरी कंपनियां अच्छी तरह जानती हैं कि वे क्या कर रही हैं और वे खुलेआम दावा कर रही हैं कि ‘सेबी’ इस मामले में उनके खिलाफ कुछ नहीं कर सकता है। इन कंपनियों के अनुसार, ‘यदि कोई सेबी के पास जाता भी है तो इस धोखाधड़ी को साबित करने के लिए कोई सबूत ही नहीं है।’ इस तरह की कंपनियां निवेशकों से मेंबर बनने के साथ ही उनके खाते में पैसा जमा करने के लिए कहती हैं। एक बार पैसा जमा करने के बाद लोग इनके जाल में फंस जाते हैं, क्योंकि पैसा मिलते ही इस तरह की कंपनियां गायब हो जाती हैं।

‘मार्केट माफिया’ कार्यक्रम के जरिये ‘जी बिजनेस’ ने स्टॉक मार्केट में निवेश करने वालों को इस तरह के जालसाजों से दूर रहने की सलाह देने के साथ-साथ टेलिफोन पर रिकॉर्ड की गई बातचीत को भी प्रसारित किया, ताकि लोगों को इस तरह की कंपनियों की कार्यप्रणाली के बारे में पता चल सके। इस तरह का उद्देश्य यह था कि यदि लोगों को किसी एडवाइजरी फर्म से इस तरह का ऑफर मिलता है तो वे आसानी से इस तरह की फर्जी एडवाइजरी कंपनियों को पहचान सकें। ‘जी बिजनेस’ ने फर्जी और धोखाधड़ी में लिप्त स्टॉक मार्केट एडवाइजरी कंपनियों के नाम भी इस शो में प्रसारित किए, जिससे निवेशकों को इस तरह के ऑनलाइन फ्रॉड से बचने में काफी मदद मिलेगी।

‘जी बिजनेस’ के स्टिंग ऑपरेशन ‘मार्केट माफिया’ के बाद इंदौर पुलिस ने कार्रवाई कर 40 ऐसे धोखेबाजों को गिरफ्तार भी किया है। इसके अलावा ‘जी बिजनेस’ ने यह भी सुनिश्चित किया कि निवेशकों की आवाज ‘सेबी’ तक जरूर पहुंचे। यह ‘जी बिजनेस’ की पहल का ही असर है कि सेबी के चेयरमैन अजय त्यागी ने इस तरह के धोखेबाजों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया है।  

'जी बिजनेस' द्वारा किए गए 'मार्केट माफिया' शो को आप यहां भी देख सकते हैं। 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए