सबकी किस्मत एक जैसी नहीं होती। चाहा हुआ कभी पूरा होता है क्या? हां, यह जरूर हर इंसान को लगता है कि उसकी जिंदगी में ही सबसे ज्यादा गम हैं।

राजेश बादल 2 days ago


पाक अधिकृत कश्मीर में तो कश्मीरी कल्चर बचा ही नहीं। गुजिश्ता सत्तर-बहत्तर बरस में पाकिस्तान ने इस खूबसूरत वादी में समस्याओं के ढेर सारे पहाड़ उगा दिए हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 6 days ago


देश के सबसे अधिक संस्करणों वाले समाचारपत्र ‘दैनिक भास्कर’ और लखनऊ के प्रादेशिक टीवी चैनल ‘भारत समाचार’ पर आयकर विभाग के छापे सुर्खियों में हैं।

राजेश बादल 1 week ago


दो बरस पहले नवंबर महीने में पेगासस के जरिये भारत में जासूसी पर चिंताएं प्रकट की गई थीं। यानी ठीक उन्हीं दिनों हमें पता लग गया था, जब यह असंवैधानिक और आपराधिक कृत्य किया जा रहा था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 week ago


चंद रोज पहले मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना ने ‘कानून का राज’ विषय पर एक कार्यक्रम को संबोधित किया। उन्होंने इस दौरान एक बात बड़े मार्के की कही।

राजेश बादल 3 weeks ago


भारतीय विदेश नीति एक बार फिर चक्रव्यूह में उलझी है। पड़ोसी राष्ट्रों, यूरोप तथा पश्चिमी देशों के साथ संबंधों में जिस तरह के विरोधाभासी हालात बन रहे हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो 3 weeks ago


हिन्दुस्तान के पड़ोस से आ रहीं मीडिया से जुड़ी खबरें डराने वाली हैं। खास तौर पर पाकिस्तान और चीन में निष्पक्ष पत्रकारिता करना खतरे से खाली नहीं है।

राजेश बादल 1 month ago


हिंदुस्तानी लोकतंत्र में प्रादेशिक पार्टियों को ग्रहण सा लग गया है। स्थापना के दशकों बाद भी जम्हूरियत से उनका जमीनी फासला बढ़ता जा रहा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


मूर्धन्य संपादक और हिंदी के सेवक माधव राव सप्रे की याद में किया गया कार्यक्रम का आयोजन

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


भारत में अजीब दुविधा है। लोकतंत्र सबको अभिव्यक्ति का अधिकार देता है, लेकिन शायद नागरिक अभी उसके लिए तैयार नहीं हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


कमाल है। ऐसे पत्रकार तो कभी नहीं थे। हर सूचना को सच मान लेना और उसके आधार पर निष्कर्ष भी निकाल लेना कौन सा पेशेवर धर्म है?

राजेश बादल 1 month ago


केंद्र सरकार और सूचना-सामग्री विस्तार करने वाली परदेसी कंपनियों के बीच तनातनी अब निर्णायक मोड़ पर है। इस चरण में भारतीय बुद्धिजीवी समाज का दखल अब जरूरी दिखाई देने लगा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


सरकार के लिए सबक है। बड़ा सबक। वह सीखे या न सीखे। विनोद दुआ के खिलाफ राजद्रोह का मामला आखिरकार देश की सर्वोच्च अदालत ने समाप्त कर दिया।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


रुचिर खन्ना इससे पहले टाइम्स इंटरनेट में बतौर हेड (प्रॉडक्ट एंड ग्रोथ) अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


दुनियाभर में कोरोना महामारी एक भयावह त्रासदी की शक्ल में सामने है। डॉक्टरों, वैज्ञानिकों, राजनेताओं, प्रशासकों और कारोबारियों से लेकर आम आदमी तक मौत के इस विकराल हरकारे से थर्रा उठे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


बड़े घरानों के हितों-स्वार्थों का संरक्षण करना आज के दौर की पत्रकारिता का विद्रूप चेहरा है। पत्रकारिता परदे के पीछे है और तमाम मीडिया घरानों के धंधे सामने हैं।

राजेश बादल 2 months ago


कोरोना के इस ख़ौफनाक सिलसिले के दरम्यान पीड़ित मानवता की सेवा करने वाली इलाज पद्धतियों के बारे में इन दिनों नए सिरे से बहस चल पड़ी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 2 months ago


हाल ही में इंदौर का एक परिवार उजड़ गया। एक चर्म रोग विशेषज्ञ ने इंदौर विश्वविद्यालय की एक प्रोफेसर, उसके पति और बेटे का कोरोना का इलाज शुरू कर दिया।

राजेश बादल 2 months ago


देशभर में कोरोना महामारी के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने पत्रकारों के लिए अदालती कार्यवाही को कवर करने के लिए एक मोबाइल ऐप लॉन्च किया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो 2 months ago


सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश का यह कथन स्वागत योग्य है कि पत्रकारों को अदालती कार्रवाई कवर करने के लिए अदालत परिसर तक आने की ज़रूरत नहीं है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 2 months ago