सूचना:
मीडिया जगत से जुड़े साथी हमें अपनी खबरें भेज सकते हैं। हम उनकी खबरों को उचित स्थान देंगे। आप हमें mail2s4m@gmail.com पर खबरें भेज सकते हैं।

चुनाव आयोग के इस कदम को वरिष्ठ पत्रकार अमिताभ अग्निहोत्री ने कहा- 'खतरे की घंटी'

पिछले साल अक्टूबर में उपचुनावों से पहले चुनाव आयोग ने उद्धव ठाकरे और शिंदे गुट को नया नाम सौंपा था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 20 February, 2023
Last Modified:
Monday, 20 February, 2023
EknathShinde

निर्वाचन आयोग ने महाराष्ट्र के पूर्व सीएम उद्धव ठाकरे को बड़ा झटका दिया है। दरअसल, वर्तमान में राज्य के सीएम एकनाथ शिंदे के गुट को ही असली शिवसेना की मान्यता दी गई है।

बता दें कि पिछले साल अक्टूबर में उपचुनावों से पहले चुनाव आयोग ने उद्धव ठाकरे और शिंदे गुट को नया नाम सौंपा था। आयोग ने उद्धव गुट को नाम के रूप में 'शिवसेना- उद्धव बालासाहेब ठाकरे' आवंटित किया और निशान के तौर पर उद्धव को 'जलती मशाल' मिला था।

वहीं आयोग ने एकनाथ शिंदे गुट के लिए पार्टी के नाम के रूप में 'बालासाहेबंची शिवसेना' आवंटित किया था। चुनाव चिन्ह के तौर पर शिंदे को तलवार-ढाल मिला था। 

महाराष्ट्र में 27 फरवरी से बजट सत्र की शुरुआत हो रही है। चुनाव आयोग का यह फैसला ऐसे समय में आया है जब उच्चतम न्यायालय में शिवसेना के दोनों धड़ों के बीच कानूनी लड़ाई चल रही है। इस पूरे मसले पर वरिष्ठ पत्रकार अमिताभ अग्निहोत्री ने भी ट्वीट कर अपनी राय व्यक्त की है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, शिवसेना का पूरी तरह उद्धव ठाकरे के हाथ से निकल कर एकनाथ शिंदे के हाथ में चले जाना परिवार आधारित रीजनल पार्टियों के लिए एक खतरे की घंटी भी हो सकती है। बसपा, टीएमसी, टीआरएस, सपा, डीएमके जैसे दलों को अब ज्यादा सतर्क रहना पड़ेगा। 

वरिष्ठ पत्रकार अमिताभ अग्निहोत्री के द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं-

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सरकार-विपक्ष के बीच टकराव पर राजदीप सरदेसाई ने सांसदों को यूं याद दिलाई 'जिम्मेदारी'

भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों ने राहुल गांधी से उनके बयान लिए माफी मांग करते हुए नारेबाजी की तो विपक्षी सदस्यों ने जेपीसी की मांग को लेकर नारे लगाए।

Last Modified:
Monday, 20 March, 2023
Rajdeep Sardesai

राहुल गांधी के लंदन में दिए गए भाषण के बाद से ही लोकसभा में हंगामा जारी है। पिछले कुछ दिनों से जारी गतिरोध के बीच आज उम्मीद जताई जा रही थी कि संसद सुचारू रूप से चलेगी, लेकिन आज एक बार फिर दोनों पक्षों की ओर से हंगामा और गतिरोध शुरू हो गया, जिसके चलते एक बार फिर दोपहर 2 बजे तक संसद स्थगित हो गई।

दरअसल, प्रश्नकाल आरंभ होने के साथ ही सत्तापक्ष और विपक्ष, दोनों तरफ से नारेबाजी शुरू हो गई। भारतीय जनता पार्टी के सदस्यों ने राहुल गांधी से उनके बयान लिए माफी मांग करते हुए नारेबाजी की तो विपक्षी सदस्यों ने जेपीसी की मांग को लेकर नारे लगाए। 

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सदस्यों से शोर-शराबा बंद करने और सदन चलने देने की अपील की। गत सोमवार से शुरू हुए संसद के बजट सत्र के दूसरे चरण में विपक्ष और सत्ता पक्ष के हंगामे के कारण लगातार पांच दिनों तक लोकसभा में प्रश्नकाल और शून्यकाल की कार्यवाही बाधित रही और अन्य कामकाज नहीं हो सके।

इस मसले पर वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट कर सांसदों से बड़ा सवाल पूछा है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि, एक बार फिर प्रश्न काल के बिना ही संसद ठप हो गई है। एक तरफ बीजेपी राहुल गांधी से माफी चाहती है वहीं विपक्ष अडानी के मुद्दे पर जेपीसी की मांग पर अड़ा है। आगे उन्होंने लिखा कि अगर हम हमारे स्कूल, कॉलेज या ऑफिस से अगर सिर्फ 5 मिनट के बाद ही निकल आए और दिन भर कोई काम नहीं करें तो क्या होगा?

जाहिर सी बात है कि इस ट्वीट के ज़रिए उन्होंने इस देश के सांसदों और सरकार को उनकी जिम्मेदारी याद दिलाने का काम किया है। उनके द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं-

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर हमला, पद्मश्री आलोक मेहता ने जताई ये बड़ी आशंका

घटना के समय भारतीय उच्चायोग के बाहर सुरक्षा व्यवस्था नगण्य थी, जिसके कारण हमलावर घटना को आसानी से अंजाम दे सके।

Last Modified:
Monday, 20 March, 2023
Alok Mehta

भारत में 'वारिस पंजाब दे' के प्रमुख अमृतपाल सिंह के खिलाफ जबरदस्त एक्शन लिया जा रहा है। पंजाब पुलिस की तलाशी का अभियान पड़ोसी राज्यों में भी जारी है, वहीं अमृतपाल सिंह के कई सहयोगियों को गिरफ्तार भी किया गया है।

इसी बीच  ब्रिटेन में भारतीय उच्चायोग पर हमला हुआ है। जानकारी के मुताबिक, लंदन स्थित उच्चायोग को खालिस्तान समर्थकों ने निशाना बनाया है। इस दौरान तिरंगे का अपमान किया गया और परिसर में तोड़फोड़ भी की गई।

घटना के समय भारतीय उच्चायोग के बाहर सुरक्षा व्यवस्था नगण्य थी, जिसके कारण हमलावर घटना को आसानी से अंजाम दे सके। घटना से नाराज भारत ने ब्रिटिश उच्चायुक्त को तलब किया, हालांकि उच्चायुक्त एलेक्स एलिस के दिल्ली से बाहर होने के कारण उच्चायोग के उप प्रमुख विदेश मंत्रालय पहुंचे।

लंदन में भारतीय उच्चायोग के खिलाफ अलगाववादी और चरमपंथी तत्वों की ओर से की गई कार्रवाई पर भारत ने कड़ा रुख अपनाया है। भारत ने इसका विरोध दर्ज कराने के लिए ब्रिटेन के वरिष्ठतम राजनयिक को तलब किया। इस पूरे मसले पर पद्मश्री से सम्मानित वरिष्ठ पत्रकार आलोक मेहता ने बड़ी आशंका जताई है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि लंदन में भारतीय उच्चायोग पर तिरंगा ध्वज उतारकर खलिस्तानी झंडा फहराने वाले आतंकवादी गुट आरोपी पाकिस्तानी एजेंट अमृत पाल के नारे लगा रहे थे। इसी अमृतपाल के अगुवा ने किसान आंदोलन के नाम पर लाल क़िले पर तिरंगा लहराया था। मतलब किसान आंदोलन में भारत विरोधी आतंकवादी भी घुसे थे। उनके इस ट्वीट पर लोग जमकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं और यह वायरल हो रहा है।

वरिष्ठ पत्रकार आलोक मेहता द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

विपक्षी एकता की राहें हुई मुश्किल, अमिताभ अग्निहोत्री ने पूछा दर्शकों से ये बड़ा सवाल!

इससे पहले, तृणमूल सांसद और लोकसभा में पार्टी के नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने कहा था कि राहुल गांधी के विपक्ष का चेहरा होने से भाजपा को फायदा होता है।

Last Modified:
Monday, 20 March, 2023
Amitabh Agnihotri

बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने अभी तक इस बात को स्वीकार नहीं किया है कि विपक्षी एकता के लिए कांग्रेस को ही सबसे आगे रहना चाहिए। सिर्फ इतना ही नहीं, ममता दीदी खुलकर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साध रही हैं।

पार्टी की एक आंतरिक बैठक में ममता दीदी ने कहा कि अगर राहुल गांधी विपक्ष का चेहरा बनते हैं, तो कोई भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाना नहीं बना पाएगा।

उन्होंने कहा कि अगर राहुल गांधी को आगे रखकर चुनाव लड़ने जाएंगे, तो इससे बीजेपी को ही फायदा होगा। दरअसल हाल ही में संपन्न हुए उपचुनाव में टीएमसी को कांग्रेस के हाथों अल्पसंख्यक बहुल सीट पर हार का सामना करना पड़ा था।

इससे पहले, तृणमूल सांसद और लोकसभा में पार्टी के नेता सुदीप बंदोपाध्याय ने कहा था कि राहुल गांधी के विपक्ष का चेहरा होने से भाजपा को फायदा होता है। इस पूरे मामले पर वरिष्ठ पत्रकार अमिताभ अग्निहोत्री ने ट्वीट कर दर्शकों से राय मांगी और बड़ा सवाल पूछा है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, कांग्रेस मानती है कि राहुल गांधी की ही अगुवाई में मोदी से लड़ा जा सकता है ,इसलिए पार्टी राहुल की बार-बार तुलना मोदी से करती है लेकिन ममता बनर्जी कह रही हैं कि अगर राहुल गांधी विपक्ष का चेहरा बने तो मोदी को कोई हरा नहीं सकता। आप की क्या राय है ? वरिष्ठ पत्रकार अमिताभ अग्निहोत्री के द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं-

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब 10,000 एम्प्लॉयीज की छंटनी करेगी Meta

फेसबुक की पैरेंट कंपनी मेटा (Meta) ने एक बार फिर छंटनी की तैयारी कर ली है।

Last Modified:
Thursday, 16 March, 2023
Meta

फेसबुक की पैरेंट कंपनी मेटा (Meta) ने एक बार फिर छंटनी की तैयारी कर ली है। इस बार कंपनी 10,000 एम्प्लॉयीज की छंटनी करेगी। कंपनी ने खुद इसकी घोषणा की है। कंपनी ने मंगलवार को बताया कि वह अपने वर्कफोर्स टीम की साइज को घटाएगी और अपने टेक्नोलॉजी ग्रुप में अप्रैल के अंत में और 10,000 लोगों को नौकरी से निकालेगी। साथ ही वह करीब 5,000 अतिरिक्त ओपन भर्तियों को भी बंद करेगी। 

बता दें कि नवंबर में इस कंपनी ने 13 फीसदी यानी करीब 11 हजार छंटनी एम्प्लॉयीज की छंटनी की थी। कंपनी ने छंटनी का फैसला ग्लोबल स्तर पर मंदी की आशंका और कंपनी के रेवेन्यू में कटौती को देखते हुए लिया था। मेटा ने सबसे बड़ी छंटनी 11 हजार एम्प्लॉयीज को निकालकर की थी। बताया जा रहा है कि इसके बाद मई के अंत में बिजनेस ग्रुप से लोगों को नौकरी से निकाले जाने की बात कही गई है। 

मेटा के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने एम्प्लॉयीज को भेजे ई-मेल में कहा कि हमारे लिए यह मुश्किल रहेगा, लेकिन और कोई रास्ता नहीं है। उन्होंने कहा कि इसका मतलब हमारी सफलता का हिस्सा रहे प्रतिभाशाली और जुनूनी सहयोगियों को अलविदा कहना होगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फिल्म RRR के सॉन्ग 'नाटू-नाटू' ने जीता ऑस्कर अवॉर्ड, सुमित अवस्थी ने इस अंदाज में दी बधाई

बता दें कि आरआरआर (RRR) फिल्म ऐसा कारनामा करने वाली पहली भारतीय फिल्म है। नाटू-नाटू गीत को विदेशी भाषा में बेस्ट गीत का अवॉर्ड मिला है।

Last Modified:
Monday, 13 March, 2023
sforem123

95 अकादमी अवॉर्ड समारोह में ओरिजनली तेलुगू में बनी फिल्म 'आरआरआर' (RRR) के गाने 'नाटू नाटू...' ने 'ओरिजनल सॉन्ग' कैटगरी में ऑस्कर अवॉर्ड  अपने नाम कर लिया है।

ऑस्कर अवॉर्ड 2023 में भारत की ओर से RRR फिल्म का गाना नाटू-नाटू बेस्ट सॉन्ग कैटेगरी के लिए नॉमिनेटेड था। खास बात यह है कि फिल्म के इस गाने को इससे पहले गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस उपलब्धि को असाधारण बताया। उन्होंने आरआरआर के गाने की तारीफ की और कहा कि इस गीत को कई वर्षों तक याद किया जाएगा। बता दें कि आरआरआर फिल्म ऐसा कारनामा करने वाली पहली भारतीय फिल्म है।

नाटू-नाटू गीत को विदेशी भाषा में बेस्ट गीत का अवॉर्ड मिला है। आरआरआर फिल्म का यह गाना 'नाटू नाटू' एम एम कीरवानी द्वारा कंपोज किया गया है। इस अवॉर्ड को मिलने के बाद उन्होंने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा था कि वह इस अवॉर्ड को जीतने वाले हैं।

इस मौके पर वरिष्ठ पत्रकार सुमित अवस्थी ने भी ट्वीट कर RRR फिल्म की टीम को बधाई दी है। उन्होंने एम एम कीरवानी की स्पीच को शेयर करते हुए लिखा, आपने बहुत अच्छा बोला है। आपको बधाई। हर भारतीय को इस खुशी का सालों से इंतजार था। इतिहास बनाने और इतिहास में अपना नाम दर्ज कराने के लिये बहुत बधाई आप सभी को। उन्होंने अपने इस ट्वीट में गीतकार चंद्रबोस को भी टैग किया और बधाई दी है।

वरिष्ठ पत्रकार सुमित अवस्थी के द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं-

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

स्वाति मालीवाल ने अपने ही पिता पर लगाए गंभीर आरोप! प्रखर श्रीवास्तव ने पूछा ये बड़ा सवाल

स्वाति मालीवाल ने शनिवार को आरोप लगाया था कि उनके पिता ने बचपन में उनका यौन उत्पीड़न किया था।

Last Modified:
Monday, 13 March, 2023
swatimalival

दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) की प्रमुख स्वाति मालीवाल के एक बयान ने सोशल मीडिया पर बहस छेड़ दी है। दरअसल, स्वाति मालीवाल ने शनिवार को आरोप लगाया था कि उनके पिता ने बचपन में उनका यौन उत्पीड़न किया था।

उनके पिता उन्हें मारते थे। इससे बचने के लिए वह पलंग (बेड) के नीचे छिप जाती थीं। मालीवाल ने कहा कि वह स्कूल की चौथी कक्षा तक अपने पिता के साथ रहीं और तब ऐसा कई बार हुआ। लेकिन अब उनके इस बयान पर विवाद खड़ा हो गया है। उनके पूर्व पति ने इन बयानों को खारिज किया है। उन्होंने कहा कि स्वाति को खुद पहल करते हुए अपना लाई डिटेक्टर टेस्ट कराना चाहिए, ताकि सच सामने आ सके।

इस पूरे मामले पर वरिष्ठ पत्रकार और लेखक प्रखर श्रीवास्तव ने भी ट्वीट कर मालीवाल पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उन्होंने स्वाति मालीवाल के ही एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट अटैच किया, जिसमे साफ लिखा है कि वह अपने पिता पर गर्व करती हैं।

प्रखर ने ट्वीट में लिखा, ' फिर ये कौन से पिता थे जिन पर आप 2016 तक गर्व कर रही थीं? मुझे ये विश्वास है कि कोई भी बेटी पिता के बारे में झूठ नहीं बोलती। फिर वो झूठ कौन सा है? आज वाला या 2016 वाला? जबाव देना होगा, क्योंकि आपने दुनिया के सबसे पवित्र रिश्ते को कठघरे में खड़ा किया है।' उनके इस ट्वीट पर लोग जमकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं और यह ट्वीट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

वरिष्ठ पत्रकार और लेखक प्रखर श्रीवास्तव के द्वारा किये गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं-

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ईरान और सऊदी अरब की हुई दोस्ती पर ब्रजेश मिश्रा ने चीन को लेकर कही बड़ी बात

दोनों देशों के बीच चीन की राजधानी बीजिंग में बातचीत हुई थी, जिसके बाद ये समझौता हुआ। दरअसल चीन की मदद से ही दोनों देशों के बीच संबंध ठीक हो रहे हैं।

Last Modified:
Saturday, 11 March, 2023
Brajesh Mishra

ईरान और सऊदी अरब ने बरसों पुरानी दुश्मनी को भूलकर एक दूसरे का दोस्त बनाने का निर्णय लिया है। दोनों मुल्कों ने राजनयिक संबंध बहाल करने और दूतावासों को फिर से खोलने की बात कही है। दोनों देशों ने चीन की राजधानी बीजिंग में बैठकर शांति वार्ता की थी, जिसके बाद ये समझौता हुआ है।

दरअसल चीन की मदद से ही दोनों देशों के बीच संबंध ठीक हो रहे हैं। ईरानी मीडिया ने बैठक के कुछ वीडियो और फोटो शेयर किए हैं। इसमें सऊदी राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मुसाद बिन मोहम्मद अल-ऐबन और चीन के सबसे वरिष्ठ राजनयिक वांग यी के साथ ईरान की सर्वोच्च राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद के सचिव अली शामखानी को देखा जा सकता है।

आपको बता दें कि दोनों इस्लाम के अलग-अलग पंथ को मानते हैं।  ईरान में ज्यादातर शिया मुसलमान हैं, वहीं सऊदी अरब खुद को एक सुन्नी मुस्लिम शक्ति की तरह देखता है। इस पूरे मामले पर वरिष्ठ पत्रकार ब्रजेश मिश्रा ने ट्वीट कर अपनी राय व्यक्त की है।

उन्होंने लिखा, दुनिया बदल रही है। ईरान और सऊदी अरब ने हाथ मिला लिया। दशकों की दुश्मनी आज दोस्ती में बदल गई। हतप्रभ करने वाली बात ये है की दोनो कट्टर दुश्मन मुल्कों की दोस्ती करवाई चीन ने। मिडिल ईस्ट में एक दूसरे के दुश्मन अब दोस्त बन रहे हैं। तुर्की से लेकर ईरान तक। सऊदी से कतर तक एक हो रहे हैं। उनके इस ट्वीट पर लोग जमकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे है और यह वायरल हो रहा है।

वरिष्ठ पत्रकार ब्रजेश मिश्रा के द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं-

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मनीष सिसोदिया के लिखे खत पर वरिष्ठ पत्रकार हर्ष वर्धन त्रिपाठी ने कसा तंज, कही ये बात

दिल्ली के पूर्व डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने दिल्ली शराब घोटाला मामले में न्यायिक हिरासत में हैं। उन्हें तिहाड़ जेल में रखा गया है, जहां से उन्होंने देश के नाम एक पत्र लिखा है।

Last Modified:
Friday, 10 March, 2023
HarshvardhanTripathi4554

दिल्ली के पूर्व डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने दिल्ली शराब घोटाला मामले में न्यायिक हिरासत में हैं। उन्हें तिहाड़ जेल में रखा गया है, जहां से उन्होंने देश के नाम एक पत्र लिखा है। इस पत्र को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्विटर पर शेयर किया है।

मनीष सिसोदिया ने अपनी चिट्ठी का शीर्षक लिखा है- 'शिक्षा, राजनीति और जेल'। उन्होंने कहा कि दिल्ली के शिक्षा मंत्री के रूप में काम करते हुए बहुत बार ये सवाल मन में उठता है कि देश और राज्य की सत्ता तक पहुंचे नेताओं ने देश के हरेक बच्चे के लिए शानदार स्कूल और कॉलेज का इंतजाम क्यूं नहीं किया? एक बार यदि पूरे देश में, पूरी राजनीति और तन-मन-धन से शिक्षा के काम में जुट गई होती, तो आज हमारे देश के हर बच्चे के लिए विकसित देशों की तरह अच्छे से अच्छे स्कूल होते। फिर क्यूं शिक्षा को सफल राजनीति ने हमेशा हाशिए पर रखा? आज जब कुछ दिनों से जेल में हूं तो इन सवालों के जवाब खुद मिल रहे हैं। देख पा रहा हूं कि जब राजनीति में सफलता जेल चलाने से मिल जा रही है तो स्कूल चलाने से राजनीति की जरूरत भला कोई क्यूं महसूस करेगा।

सिसोदिया ने तीन पन्नों की चिट्ठी में आगे लिखा है कि आज जरूर जेल की राजनीति सफल होती दिख रही है, लेकिन भारत का भविष्य स्कूल की राजनीति में है, शिक्षा की राजनीति में है। भारत विश्वगुरू बनेगा तो इसलिए नहीं कि यहां की जेलों में इतनी ताकत है, बल्कि इसके दम पर ही यहां की शिक्षा में कितनी ताकत है। भारत की आज की राजनीति में जेल की राजनीति का पलड़ा भारी जरूर है लेकिन आने वाला कल शिक्षा की राजनीति का होगा।

इसी चिट्ठी को लेकर वरिष्ठ पत्रकार हर्ष वर्धन त्रिपाठी ने तंज कसा और कहा कि मनीष सिसोदिया ने जेल से चिट्ठी लिखी है कि, जेल की राजनीति पर शिक्षा की राजनीति भारी पड़ेगी और समाचार प्राप्त हुआ कि दिल्ली में 16000 से अधिक शिक्षकों के पद खाली हैं। दिल्ली सरकार के अधीन आने वाले 12 कॉलेजों में हमेशा तनख्वाह 3 महीने की देरी से आती है, यह तो अब लोग भूल भी गए हैं।

वरिष्ठ पत्रकार हर्ष वर्धन त्रिपाठी का ये ट्वीट आप यहां देख सकते हैं-

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फिर छंटनी की तैयारी कर रही है फेसबुक की पैरेंट कंपनी Meta

फेसबुक की पैरेंट कंपनी मेटा प्लेटफॉर्म इंक एक बार फिर छंटनी की तैयारी कर रही है

Last Modified:
Tuesday, 07 March, 2023
Meta

फेसबुक की पैरेंट कंपनी मेटा प्लेटफॉर्म एक बार फिर छंटनी की तैयारी कर रही है। मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो ये नए राउंड की छंटनी इसी सप्ताह की जा सकती है, जिसमें हजारों एम्प्लॉयीज को बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है।

बता दें कि नवंबर में इस कंपनी ने 13 फीसदी एम्प्लॉयीज की छंटनी की थी। कंपनी ने छंटनी का फैसला ग्लोबल स्तर पर मंदी की आशंका और कंपनी के रेवेन्यू में कटौती को देखते हुए लिया था। मेटा ने सबसे बड़ी छंटनी 11 हजार एम्प्लॉयीज को निकालकर की थी।

कंपनी अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को मजबूत बनाने के लिए कई बड़े कदम उठा रही है, लिहाजा इसी क्रम में कंपनी अब एक हजार से ज्यादा एम्प्लॉयीज को पिंक स्लिप थमा सकती है।

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि ये छंटनी इसी सप्ताह के दौरान हो सकती है और जल्द से जल्द इसे अंतिम रूप दिया जा सकता है। इसके लिए शीर्ष अधिकारी ने एम्प्लॉयीज की छंटनी करने के लिए लिस्ट तैयार करने को कहा है।   

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि जिन एम्प्लॉयीज की छंटनी की जानी है, उनके लिए बोनस भी जारी किया जाएगा। साथ ही कंपनी कुछ महीने की सैलरी भी दे सकती है। बता दें कि ग्लोबल आशंका के चलते कई बड़ी-बड़ी कंपनियां छंटनी की तैयारी में जुटी हुई है। हर दिन हजारों की संख्या में लोगों की नौकरी जा रही है। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जेल में बंद मनीष सिसोदिया के लिए बच्चों से बनवाए गए कार्ड! सुशांत सिन्हा का फूटा गुस्सा

बीजेपी का दावा है कि हर स्कूल में 'आई लव मनीष सिसोदिया' डेस्क बनाने को कहा गया है।

Last Modified:
Saturday, 04 March, 2023
SUSHANT SINHA

शराब घोटाले में गिरफ्तार मनीष सिसोदिया को लेकर आम आदमी पार्टी (आप) लगातार केंद्र सरकार के खिलाफ हमलावर है। वहीं दूसरी ओर बीजेपी का आरोप है कि एक घोटालेबाज को बचाने के लिए आम आदमी पार्टी स्कूल के बच्चों तक को नहीं छोड़ रही है।

दरअसल आम आदमी पार्टी के ट्विटर अकाउंट से कुछ तस्वीरें पोस्ट की गई। बच्चों के हाथ में कार्ड्स हैं और ट्वीट करते हुए लिखा गया है कि BJP वालों! दिल्ली के इन मासूम बच्चों को भले ही तुम्हारी घटिया राजनीति का अंदाजा ना हो, पर वो जिंदगी भर याद रखेंगे। जिस मनीष चाचा ने उनके स्कूल सुधारे थे, उन्हें तुमने उस सेवा के लिए जेल में डाला था। प्रमाण है उनकी अभिव्यक्ति। देश नहीं भूलेगा।

इस ट्वीट के सामने आने के बाद बीजेपी का दावा है कि हर स्कूल में 'आई लव मनीष सिसोदिया' डेस्क बनाने को कहा गया है। बच्चों को सिसोदिया के बचाव में संदेश लिखकर लाने और पोस्टर-बैनर बनाने को कहा गया है।

बीजेपी प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग से इसकी शिकायत करते हुए कहा है कि आम आदमी पार्टी सरकारी स्कूलों के बच्चों पर दबाव डाल मनीष सिसोदिया के पक्ष मे अभियान चला रही है।

आम आदमी पार्टी के इस ट्वीट के सामने आने के बाद सीनियर एंकर और पत्रकार सुशांत सिन्हा का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, मनीष सिसोदिया शराब घोटाले के आरोप में अंदर हैं। एक पर एक बोतल फ्री दिलवाने वाला,ड्राई डे को 21 से घटाकर 3 दिन करनेवाला, पीने की उम्र घटा देनेवाला व्यक्ति तो शराबियों का मसीहा हुआ तो फिर 2nd, 3rd क्लास के बच्चों से मनीष चाचा के लिए कार्ड क्यों बनवाना..दिल्ली का हर शराबी बनाए कार्ड। उनके इस ट्वीट पर लोग जमकर प्रतिक्रिया दे रहे हैं और यह वायरल हो रहा है।

पत्रकार सुशांत सिन्हा के द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं-

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए