कोरोना के खिलाफ जंग में रेडियो इंडस्ट्री हुई एकजुट, शुरू की ये पहल

महामारी के खिलाफ लड़ाई में विभिन्न रेडियो ब्रैंड्स ने अपनी जिम्मेदारी समझते हुए बिजनेस प्रतिद्वंद्विता, रेवेन्यू और तमाम अन्य बातों को भूलकर आपस में हाथ मिलाया है।

Last Modified:
Thursday, 16 April, 2020
Radio

एक तरफ जहां पूरी दुनिया कोरोनावायरस (कोविड-19) के खिलाफ जंग लड़ रही है, वहीं संकट के इस दौर में विभिन्न रेडियो ब्रैंड्स ने भी अपनी जिम्मेदारी समझते हुए बिजनेस प्रतिद्वंद्विता, रेवेन्यू और तमाम अन्य बातों को भूलकर आपस में हाथ मिलाया है।

दरअसल, इस महामारी के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए शुरू किए गए लॉकडाउन के बीच कोरोनावायरस (कोविड-19) से जुड़ी खबरों को अपने श्रोताओं तक पहुंचाने के लिए विभिन्न रेडियो ब्रैंड्स ने आपस में मिलकर एक नई पहल #RADIOFORINDIA शुरू की है।

इस पहल के तहत Fever FM, Nasha, Radio One, Radio Mirchi, Ishq FM, Radio City और Big FM जैसे बड़े रेडियो ब्रैंड्स इस वायरस के प्रकोप के बारे में जागरूकता पैदा करने और श्रोताओं के जीवन में अधिक मुस्कुराहट और सकारात्मकता लाने के लिए मिलकर आगे आए हैं।

बता दें कि मार्केटिंग कंसल्टिंग फर्म ‘AZ Research Partners Pvt. Ltd’द्वारा हाल में कराए गए सर्वे के अनुसार देश के लाखों लोगों के बीच रेडियो सूचना के सबसे विश्वसनीय स्रोत के रूप में उभरा है। देश भर में 18 साल से अधिक आयु वर्ग के लोगों के बीच मुंबई, दिल्ली, बेंगलुरु, कोलकाता, पुणे और हैदराबाद में किए गए सर्वेक्षण के अनुसार, महानगरों में करीब 82 प्रतिशत लोग देशव्यापी लॉकडाउन के बीच रेडियो से जुड़े हुए हैं।

इस रिसर्च में यह भी बताया गया है कि रेडियो के घरेलू श्रोताओं की संख्या में 22 प्रतिशत का इजाफा हुआ है और यह 64 प्रतिशत से बढ़कर 86 प्रतिशत हो गई है। लोगों द्वारा रेडियो सुनने में बिताने वाले समय में भी इजाफा हुआ है। यह लॉकडाउन के दौरान पूर्व में रेडियो सुनने में बिताए जाने वाले समय से 23 प्रतिशत बढ़ गई है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानिए, इस बार मैट्रो सिटीज में आपके पसंदीदा FM चैनल का हाल

22वें हफ्ते से 25वें हफ्ते की रैम रेटिंग्स पर नजर डालें तो ‘फीवर एफएम’ (Fever FM) मुंबई और दिल्ली में अपनी बढ़त बनाए हुए है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 06 August, 2020
Last Modified:
Thursday, 06 August, 2020
Radio

22वें हफ्ते से 25वें हफ्ते की रैम रेटिंग्स पर नजर डालें तो ‘फीवर एफएम’ (Fever FM) मुंबई और दिल्ली में अपनी बढ़त बनाए हुए है, जबकि बैंगलुरु में ‘रेडियो सिटी’ (Radio City) सबसे ऊपर है और कोलकाता में ‘रेडियो मिर्ची’ (Radio Mirchi)।

मुंबई में 12.2 मिलियन श्रोताओं में से 15.4% लोग ‘फीवर एफएम’ (Fever FM) सुनते हैं, जबकि अन्य श्रोताओं की हिस्सेदारी में ‘रेडियो सिटी’ (Radio City) 14.3% शेयर के साथ दूसरे स्थान पर रहा। हालांकि इससे पहले हफ्ते के मुकाबले यह हिस्सेदारी 0.9% तक बढ़ी है। ‘बिग एफएम’  (BIG FM) में श्रोताओं की हिस्सेदारी 0.1% की बढ़त के साथ 13.9 %  रही और यह तीसरे नंबर पर रहा। बता दें कि सुबह 11:00 से दोपहर 12:00 बजे तक श्रोताओं की संख्या सबसे ज्यादा दर्ज की गई है। हाल के 4 हफ्तों में 84.5% लोगों तक एफएम की पहुंच रही।  

इसी तरह दिल्ली में, 16.5 मिलियन में से 21.5% श्रोताओं का एक समूह ‘फीवर एफएम’ (Fever FM) सुनता है, जोकि 1% तक बढ़ा है। फिलहाल दिल्ली में यह शीर्ष पर है। वहीं ‘रेडियो मिर्ची’ (Radio Mirchi) को सुनने वालों की हिस्सेदारी 14.4% रही, जिसकी वजह से यह दूसरे स्थान पर रहा। ‘रेड एफएम’ (Red FM) 12.1% शेयर के साथ तीसरे स्थान पर रहा। यहां श्रोताओं की संख्या सबसे ज्यादा सुबह 9:00 बजे से 10:00 बजे के बीच थी। हाल के 4 हफ्तों में 93.7% लोगों तक एफएम की पहुंच रही।

वहीं बेंगलुरु की बात करें तो 5.3 मिलियन श्रोताओं में सबसे ज्यादा यानी 29.9% लोगों ने ‘रेडियो सिटी’ (Radio City) को सुना। जबकि, ‘बिग एफएम’ (Big FM) 24% के साथ दूसरे स्थान पर और ‘फीवर एफएम’ (Fever FM) 13.3% के साथ तीसरे स्थान पर रहा। यहां सुबह 8 से 9 बजे के बीच श्रोताओं की तादाद चरम पर थी। हाल के 4 हफ्तों में एफएम की पहुंच 90.4% श्रोताओं तक रही है।

कोलकाता में एफएम सुनने वाले 9.1 मिलियन श्रोतागण हैं, जिनमें से 28.7%  श्रोताओं ने ‘रेडियो मिर्ची’ (Radio Mirchi) सुना, जोकि सबसे ज्यादा सुना गया। इसके बाद ‘बिग एफएम’ (Big FM) 26.7% के साथ दूसरे स्थान पर और ‘रेड एफएम’ (Red FM) 14.3% शेयर के साथ तीसरे स्थान पर रहा। सुबह 9:00 बजे से 10:00 बजे के बीच श्रोताओं की संख्या चरम पर थी। वहीं हाल के 4 हफ्तों में एफएम की पहुंच 71.8% लोगों तक रही।

इस हफ्ते दिल्ली और कोलकाता में श्रोताओं की संख्या सबसे ज्यादा देखी गई है। वहीं इस बार रेडियो सुनने वालों की संख्या सभी मार्केट्स में से घर से बाहर ज्यादा रही है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस कैंपेन के जरिये राष्ट्र निर्माण में अपना सहयोग देगा Fever Network

देश के प्रमुख रेडियो नेटवर्क्स में शुमार और ‘फीवर एफएम’, ‘रेडियो नशा’ और ‘रेडियो वन’ जैसे लोकप्रिय रेडियो स्टेशनों वाले रेडियो नेटवर्क ‘फीवर नेटवर्क’ ने अपना नया कैंपेन लॉन्च किया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 05 August, 2020
Last Modified:
Wednesday, 05 August, 2020
Fever Network

देश के प्रमुख रेडियो नेटवर्क्स में शुमार और ‘फीवर एफएम’, ‘रेडियो नशा’ और ‘रेडियो वन’ जैसे लोकप्रिय रेडियो स्टेशनों वाले रेडियो नेटवर्क ‘फीवर नेटवर्क’ (Fever Network) ने अपना नया कैंपेन ‘Bounce Back Bharat - Radio’s First Digital Conclave’ लॉन्च किया है। इस पहल का उद्देश्य कोविड-19 के बाद प्रेरणादायक स्टोरीज के द्वारा राष्ट्र निर्माण में सहयोग देना और सकारात्मकता फैलाना है।

इस कैंपेन में भारतीय कॉरपोरेट जगत के लोगों के साथ ई-कॉन्क्लेव की एक सीरीज होगी। इसमें बॉलिवुड जगत से अभिनेत्री विद्या बालन, दीया मिर्जा, तापसी पन्नू, मनोज बाजपेयी, सोनू सूद और स्पोर्ट्स जगत से क्रिकेटर गौतम गंभीर व युवराज सिंह जैसी हस्तियां सक्रिय रूप से भागीदारी निभाएंगी। कॉरपोरेट जगत की बड़ी कंपनियां जैसे- Mahindra First Choice Wheels Ltd, Pizza Hut, Wildcraft India, Malabar Gold & Diamonds, Acer, St Angelo’s VNCT Ventures, Deccan Multispecialty Hardikar Hospital और CKC भी इस कैंपेन के लिए आगे आई हैं।

इस पहल का पहला अध्याय आठ अगस्त को लाइव होगा, जिसमें ‘Mahindra First Choice Wheels Ltd’ के एमडी व सीईओ आशुतोष पांडे, ‘Pizza Hut’ की डायरेक्टर (मार्केटिंग) नेहा डीके और ‘Wildcraft India’ के को-फाउंडर गौरव डबलीश, गौतम गंभीर के साथ एक परिचर्चा में शामिल होंगे। इस दौरान वे इस विपरीत परिस्थिति में बिजनेस में होने वाले बदलाव और सामान्य स्थिति की ओर लौटने की दिशा में उनके संस्थान द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में प्रकाश डालेंगे। इस पहल का उद्देश्य ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच बनाकर उनके अंदर आत्मविश्वास को बढ़ाना है ताकि अर्थव्यवस्था को पटरी पर वापस लाने में सहयोग दिया जा सके।

इस पहल के बारे में HT Media Ltd. और Next Mediaworks Ltd के सीईओ (Radio and Entertainment) हर्षद जैन का कहना है, ‘अर्थव्यवस्था और लोगों के जीवन पर पड़े कोविड-19 के प्रभाव के बारे में सभी को पता है। इस महामारी के कारण बिजनेस पर काफी विपरीत प्रभाव पड़ा है। एक जिम्मेदार ब्रैंड होने के नाते इस पहल के द्वारा हमारा उद्देश्य ऐसा प्लेटफॉर्म तैयार करना है, जहां पर इंडस्ट्री लीडर्स अपने अनुभव और स्ट्रैटेजी को शेयर कर सकें, ताकि दूसरे लोग इसका फायदा उठा सकें।’ बताया जाता है कि यह कैंपेन ‘फीवर एफएम’, ‘रेडियो नशा’ और ‘रेडियो वन’ के सोशल मीडिया हैंडल्स पर लाइव होगा और श्रोता इसे रेडियो स्टेशनों पर भी सुन सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानिए, मैट्रो सिटीज में किस FM चैनल ने मारी बाजी

21 से 24वें हफ्ते की रैम रेटिंग की बात करें तो मुंबई और दिल्ली में ‘फीवर एफएम’ (Fever FM) टॉप पोजिशन पर बरकरार है

Last Modified:
Thursday, 30 July, 2020
fm

21 से 24वें हफ्ते की रैम रेटिंग की बात करें तो मुंबई और दिल्ली में ‘फीवर एफएम’ (Fever FM) टॉप पोजिशन पर बरकरार है, जबकि बेंगलुरु में ‘रेडियो सिटी’ (Radio City) और कोलकाता में ‘रेडियो मिर्ची’ (Radio Mirchi) शीर्ष स्थान पर हैं।

मुंबई में 12.2 मिलियन श्रोताओं में से 15.3% लोग ‘फीवर एफएम’ (Fever FM) सुनते हैं, जबकि श्रोताओं की हिस्सेदारी में रेडियो सिटी 14.1% शेयर के साथ दूसरे स्थान पर रहा। हालांकि इससे पहले हफ्ते के मुकाबले यह हिस्सेदारी 0.7% तक बढ़ी है। ‘बिग एफएम’  (BIG FM) में श्रोताओं की हिस्सेदारी 0.4% की बढ़त के साथ 13.9 %  रही और इस वजह से यह तीसरे नंबर पर पहुंच गया है। बता दें कि सुबह 11:00 से दोपहर 12:00 बजे तक श्रोताओं की संख्या ज्यादा होती है। हाल के 4 हफ्तों में 83.6% लोगों तक एफएम की पहुंच रही।  

दिल्ली में, 16.5 मिलियन में से 21.9% श्रोताओं का एक समूह ‘फीवर एफएम’ (Fever FM) सुनता है, जोकि 21.1% तक बढ़ा है और इसकी वजह से यह शीर्ष पर पहुंच गया है। वहीं ‘रेडियो मिर्ची’ (Radio Mirchi) को सुनने वालों की हिस्सेदारी 14.4% रही और इस वजह से यह दूसरे स्थान पर रहा। ‘रेड एफएम’ (Red FM) 12.2% शेयर के साथ तीसरे स्थान पर रहा। यहां श्रोताओं की संख्या सबसे ज्यादा सुबह 9:00 बजे से 10:00 बजे के बीच थी। हाल के 4 हफ्तों में 93.7% लोगों तक एफएम की पहुंच रही।

वहीं बेंगलुरु की बात करें तो 5.3 मिलियन श्रोताओं में 29.6% लोगों ने ‘रेडियो सिटी’ (Radio City) को सुना। जबकि, ‘बिग एफएम’ (Big FM) 23.8% के साथ दूसरे स्थान पर और ‘फीवर एफएम’ (Fever FM) 13.5% के साथ तीसरे स्थान पर रहा। यहां सुबह 8 से 9 बजे के बीच श्रोताओं की तादाद चरम पर थी। हाल के 4 हफ्तों में एफएम की पहुंच 89.7% श्रोताओं तक रही है।

कोलकाता में एफएम सुनने वाले 9.1 मिलियन श्रोतागण हैं, जिनमें से 29.3%  श्रोताओं ने ‘रेडियो मिर्ची’ (Radio Mirchi) सुना, जोकि सबसे अव्वल रहा। वहीं ‘बिग एफएम’ (Big FM) 27.2% के साथ दूसरे स्थान पर और ‘रेड एफएम’ (Red FM) 14.8% शेयर के साथ तीसरे स्थान पर रहा। पिछले हफ्ते के मुकाबले 0.3% इसे सुनने वालों की संख्या बढ़ी है। सुबह 9:00 बजे से 10:00 बजे के बीच श्रोताओं की संख्या चरम पर थी। वहीं हाल के 4 हफ्तों में एफएम की पहुंच 75.4% लोगों तक रही।

इस हफ्ते केवल बेंगलुरु में श्रोताओं की संख्या सबसे ज्यादा देखी गई है। दिल्ली और कोलकाता में घरों में रेडियो सुनने वालों की संख्या बढ़ी है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

RAM Ratings: जानिए, किस शहर में रहा कौन से रेडियो FM का जलवा

देश के चार बड़े शहरों दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और बेंगलुरु के लिए 19 से 22वें हफ्ते (तीन मई से 30 मई) के बीच की ‘रेडियो ऑडियंस मीजरमेंट’ (RAM) रेटिंग्सा जारी हो गई हैं।

Last Modified:
Friday, 24 July, 2020
Radio

देश के चार बड़े शहरों दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और बेंगलुरु के लिए 19 से 22वें हफ्ते (तीन मई से 30 मई) के बीच की ‘रेडियो ऑडियंस मीजरमेंट’ (RAM)  रेटिंग्‍स जारी हो गई हैं। इन रेटिंग्स के अनुसार, मुंबई और दिल्ली के मार्केट में ‘फीवर एफएम’ का वर्चस्व रहा है, जबकि बेंगलुरु और कोलकता में क्रमश: ‘रेडियो सिटी’ और ‘रेडियो मिर्ची’ टॉप पर रहे हैं।

इन रेटिंग्स के अनुसार, मुंबई में पिछले चार हफ्तों के मुकाबले ‘फीवर एफएम 104’ की रेटिंग घटी है। पहले जहां यहां 17 प्रतिशत थी, वहीं अब यह 1.8 प्रतिशत घटकर 15.2 प्रतिशत पर आ गई। हालांकि, इस मार्केट में अब भी यह टॉप पर बना हुआ है। 14 प्रतिशत शेयर के साथ ‘रेडियो मिर्ची’ इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर है। पिछले चार हफ्तों में इसकी रेटिंग्स का शेयर 13.6 प्रतिशत था। यानी इसमें 0.4 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। ‘रेडियो सिटी’ की रेटिंग में मामूली 0.1 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है और पिछले चार हफ्तों के मुकाबले 13.6 प्रतिशत से बढ़कर यह 13.7 प्रतिशत हो गई है। मुंबई के लोगों ने 11 से 12 बजे के स्लॉट में सबसे ज्यादा रेडियो सुना है।

दिल्ली में 21.1 प्रतिशत के शेयर के साथ ‘फीवर एफएम’ ने टॉप पर जगह बनाई है, जबकि पहले यह 17.9 प्रतिशत था। इसके बाद दूसरे नंबर पर 14.7 प्रतिशत के साथ ‘रेडियो मिर्ची’ है। इसकी लिसनरशिप में भी 0.1 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर 13.6 प्रतिशत के साथ ‘रेडियो सिटी’ है, जिसकी लिसनरशिप में इस बार 1.2 प्रतिशत की गिरावट आई है। दिल्ली में नौ से दस बजे और उसके बाद 11 से 12 बजे के स्लॉट में सबसे ज्यादा रेडियो सुना गया है।

श्रोताओं के मामले में बेंगलुरु में 29.7 मार्केट शेयर के साथ ‘रेडियो सिटी’ टॉप पर रहा। पिछले चार हफ्तों के मुकाबले इसकी रेटिंग्स में 1.2 प्रतिशत का इजाफा हुआ। इस लिस्ट में 23.8 प्रतिशत के साथ ‘बिग एफएम 92.7’ ने दूसरे नंबर पर अपनी मौजूदगी दर्ज कराई है। पिछले चार हफ्तों के मुकाबले इसमें 0.1 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। वहीं, 14 प्रतिशत रेटिंग्स के साथ ‘फीवर 104’ इस लिस्ट में तीसरे नंबर पर है। पिछले चार हफ्तों के मुकाबले इसमें 0.8 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है। बेंगलुरु में रेडियो श्रोताओं की सबसे ज्यादा संख्या आठ से नौ बजे वाले स्लॉट में सबसे ज्यादा रही है। इसके बाद दूसरे नंबर पर 10 से 11 बजे वाला स्लॉट है।

कोलकाता की बात करें तो रेटिंग्स को लेकर 29.5 प्रतिशत मार्केट शेयर के साथ यह सबसे आगे बना हुआ है। इसके बाद 27.9 प्रतिशत के साथ ‘बिग एफएम’ दूसरे नंबर पर, जबकि 14.6 प्रतिशत के साथ ‘रेड एफएम’ तीसरे नंबर पर रहा। नौ बजे से 10 बजे के स्लॉट में श्रोताओं की संख्या (Listenership) सबसे ज्यादा रही।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

तमाम एंप्लॉयीज ने भेजा प्रसार भारती को कानूनी नोटिस, ये है पूरा मामला

पब्लिक ब्रॉडकास्टर ‘ऑल इंडिया रेडियो’ (AIR) में कैजुअल आधार पर काम कर रहे तकरीबन 80 रेडियो जॉकी (RJs) ने प्रसार भारती को कानूनी नोटिस भेजा है।

Last Modified:
Saturday, 11 July, 2020
RJ

पब्लिक ब्रॉडकास्टर ‘ऑल इंडिया रेडियो’ (AIR) के तकरीबन 80 रेडियो जॉकी (RJs) ने प्रसार भारती को कानूनी नोटिस भेजा है। ऑल इंडिया रेडियो (आकाशवाणी) के फ्लैगशिप चैनल 100.1 FM Gold में काम करने वाले आरजे ने इस नोटिस में उन्हें काम पर वापस लिए जाने, बकाया सैलरी का भुगतान करने और रेडियो कार्यक्रमों को उनके ऑरिजनल फॉर्मेट में वापस लाने की मांग की है।

बताया जाता है कि ये एम्प्लॉयीज प्रसार भारती में कैजुअल (casual) आधार पर काम कर रहे थे, लेकिन ऑल इंडिया रेडियो ने 22 मार्च से उन्हें काम पर बुलाना बंद कर दिया था, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनावायरस (कोविड-19) के खौफ को देखते हुए ‘जनता कर्फ्यू’ की घोषणा की थी और उसके बाद 25 मार्च से देश में लॉकडाउन लागू कर दिया गया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा वित्त मंत्रालय से एम्प्लॉयीज को नौकरी से न निकाले जाने और उनकी सैलरी में कटौती न किए जाने की बात कहने के बावजूद इन एंप्लॉयीज को तब से भुगतान नहीं किया गया है। बताया जाता है कि इनमें से अधिकांश को 10 हजार से 11 हजार प्रतिमाह का भुगतान किया जा रहा था। अब इन आरजे ने प्रसार भारती और ऑल इंडिया रेडियो के डायरेक्टर को कानूनी नोटिस भेजकर उन्हें नौकरी की सुरक्षा और काम की बेहतर कंडीशन उपलब्ध कराए जाने की मांग की है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नेपाल में कुछ FM रेडियो चैनल्स भारत के खिलाफ उगल रहे हैंं जहर

नेपाल में कुछ एफएम रेडियो चैनल्स ने भारत के खिलाफ जहर उगलना शुरू कर दिया है

Last Modified:
Monday, 22 June, 2020
fm-radio

नेपाल में कुछ एफएम रेडियो चैनल्स ने भारत के खिलाफ जहर उगलना शुरू कर दिया है। ये एफएम रेडियो चैनल्स अब कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा को अपना बताकर मौसम की भविष्यवाणी कर रहे हैं।

नेपाली एफएम में अभी तक गीत, संगीत के साथ ही दूसरे मनोरंजक प्रोग्राम ही चलते थे। इन रेडियो कार्यक्रमों को भारतीय सीमावर्ती क्षेत्रों में भी इसे सुना जाता था। कई कार्यक्रम इतने चर्चित हुए कि लोगों की जुबां पर उनके नाम तक चढ़ गए। अब इन्हीं एफएम चैनल पर कालापानी हम्रो हो (कालापानी हमारा है) कहा जाने लगा। इतना ही नहीं एफएम पर कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधुरा के मौसम को भी भविष्यवाणी भी की जाने लगी है।

बता दें कि इनमें से एक नेपाली एफएम का हेडक्वार्टर जिला मुख्यालय दार्चुला के चरबगड़ के पास है। इसकी क्षमता तीन किमी दूर तक सुनने की है। इससे भारतीय क्षेत्र धारचूला, कालिका, बलुवाकोट, ढुंगातोली, जौलजीवी तक सुना जाता है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रेडियो के क्षेत्र में है करियर की अपार संभावनाएं

फेसबुक लाइव के दौरान ‘बदलती दुनिया में रेडियो’ विषय पर शेफाली चतुर्वेदी ने कहा कि जब हम बदलते युग में रेडियो की बात करते हैं तो हमें रेडियो से बदलाव की बात भी करनी चाहिए।

Last Modified:
Friday, 05 June, 2020
community-radio

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के ‘हिंदी पत्रकारिता सप्ताह’ व्याख्यान श्रृंखला के अंतर्गत बीबीसी मीडिया एक्शन की पत्रकार शेफाली चतुर्वेदी ने पत्रकारिता विद्यार्थियों से कहा कि यदि आप रेडियो की फील्ड में आना चाहते हैं तो यहां अनेक अवसर हैं। हम सिर्फ यह न सोचें कि यहां सिर्फ रेडियो जॉकी ही बनते हैं। आप रेडियो में साउंड इंजीनियर, प्रोग्राम प्रॉड्यूसर, संगीत प्रबंधक, ऑडियंस मैनेजर सहित अन्य भूमिकाओं में काम कर सकते हैं। इस क्षेत्र में आने के लिए हमें विभिन्न रेडियो एवं उनके विभिन्न कार्यक्रम सुनने चाहिए। इससे हमें रेडियो में नया करने की दिशा मिलेगी। रेडियो के क्षेत्र में करियर बनाने की अपार संभावनाएं हैं। 

फेसबुक लाइव के दौरान ‘बदलती दुनिया में रेडियो’ विषय पर शेफाली चतुर्वेदी ने कहा कि जब हम बदलते युग में रेडियो की बात करते हैं तो हमें रेडियो से बदलाव की बात भी करनी चाहिए। आज देश में लगभग 261 कम्युनिटी रेडियो संचालित हो रहे हैं, जो लोकतांत्रिक ढंग से काम कर रहे हैं। सामुदायिक रेडियो के कार्यक्रमों में मिट्टी की खुशबू आती है। सामुदायिक रेडियो की ताकत है कि आप इसकी मदद से अंतिम व्यक्ति तक पहुंच सकते हैं। सामुदायिक रेडियो लोगों के मददगार बन गए हैं। बाढ़, भूकंप और तूफान जैसी प्राकृतिक आपदाओं के समय सामुदायिक रेडियो ने जिस तरह लोगों की सहायता की है, उसे उन्होंने उदाहरण सहित बताया। उन्होंने कहा कि आपदाओं में रेडियो आपकी लाइफलाइन भी बन जाता है।

शेफाली चतुर्वेदी ने कहा कि कश्मीरी पंडितों को उनकी संस्कृति से जोड़े रखने में इंटरनेट रेडियो और सामुदायिक रेडियो महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। उन्होंने बताया कि भविष्य में रेडियो के कार्यक्रमों में बहुत बदलाव आना है। आप रेडियो पर हॉरर और साइंस फिक्शन भी सुन पाएंगे। भविष्य में रेडियो आपका अच्छा दोस्त बनेगा। मनोरंजन का यह साधन जल्द ही पढ़ाई का साधन भी बन सकता है। इस दिशा में कुछ प्रयास भी हुए हैं। उन्होंने कहा कि मोबाइल फोन के कारण से अब रेडियो की पहुंच भी बढ़ गई है। आज की स्थिति में तो ऑल इंडियो रेडियो के अलावा इंटरनेट रेडियो, पॉडकास्ट रेडियो, एफएम और सामुदायिक रेडियो के रूप में रेडियो के विभिन्न रूप हमारे सामने उपलब्ध हैं।

शेफाली चतुर्वेदी ने कहा कि रेडिया सुंदरता से श्रोता के दिमाग में शब्द चित्र निर्मित करता है। ऑडियो माध्यम की अपनी खूबसूरती है। यह माध्यम आपकी पसंद का दृश्य आपके दिमाग में गढऩे की स्वतंत्रता देता है।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कम्युनिटी रेडियो की 'ताकत' का अब कुछ यूं इस्तेमाल करेगी सरकार

सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर शुक्रवार को देश के करीब 300 सामुदायिक रेडियो स्टेशनों पर एक साथ श्रोताओं को संबोधित करेंगे और कोरोना महामारी की रोकथाम के उपायों पर चर्चा करेंगे

Last Modified:
Thursday, 21 May, 2020
Community Radio

कोरोनावायरस (कोविड-19) का प्रकोप रुकने का नाम नहीं ले रहा है। इस महामारी और इससे बचाव के बारे में लोगों को जागरूक करने के लिए सूचना प्रसारण मंत्रालय सामुदायिक रेडियो स्टेशनों का सहारा लेगा। इसी क्रम में सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर शुक्रवार शाम को देश के करीब 300 सामुदायिक रेडियो स्टेशनों पर श्रोताओं को संबोधित करेंगे और इस महामारी की रोकथाम के उपायों पर चर्चा करेंगे। वह हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में संवाद करेंगे और कोविड-19 से जुड़े हर पहलू को उठाएंगे। अपने संबोधन के बाद वह श्रोताओं के कुछ सवालों का जवाब भी देंगे।

बताया जाता है कि यह पहली अनूठी पहल होगी, जिसमें इस तरह का कार्यक्रम आयोजित किया जा रहा है और सभी सामुदायिक रेडियो पर एक साथ श्रोताओं को संबोधित किया जाएगा। अपने संबोधन में जावड़ेकर सामुदायिक रेडियो के प्रचार प्रसार पर भी बल देंगे और इस रेडियो को किस तरह लाभदायक बनाया जाए, उसके बारे में भी चर्चा करेंगे।

जावड़ेकर कम्युनिकेशन स्ट्रैटेजी को और बेहतर बनाने के लिए गठित पैनल का नेतृत्व भी कर रहे हैं। इसमें केन्द्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, हरदीप सिंह पुरी, किरन रिजिजू और बाबुल सुप्रियो आदि शामिल हैं, जो महामारी के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए पैनल का हिस्सा होंगे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

निजी FM रेडियो इंडस्ट्री से फिर उठी ये मांग, सूचना प्रसारण मंत्री को लिखा लेटर

AROI की ओर से लिखे गए पत्र में कहा गया है कि सरकारी सहायता न मिलने पर रेडियो इंडस्ट्री को इस साल सितंबर तक 600 करोड़ रुपए का नुकसान हो सकता है

Last Modified:
Wednesday, 20 May, 2020
Radio Industry

तमाम आर्थिक कठिनाइयों से जूझ रही प्राइवेट एफएम रेडियो इंडस्ट्री ने सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखकर तत्काल 300 करोड़ रुपए के राहत पैकेज की मांग की है। एफएम रेडियो ऑपरेटर्स के संगठन ‘एसोसिएशन ऑफ रेडियो ऑपरेशंस फॉर इंडिया’ (AROI)  की ओर से लिखे गए पत्र में कहा गया है कि सरकार की सहायता के बिना रेडियो इंडस्ट्री को इस साल सितंबर तक 600 करोड़ रुपए का नुकसान हो सकता है।  

 इस पत्र में AROI की प्रेजिडेंट अनुराधा प्रसाद का कहना है कि आने वाले महीनों में इंडस्ट्री को ‘जीवित’ रखने के लिए आर्थिक पैकेज काफी महत्वपूर्ण है। अनुराधा प्रसाद ने पिछले दिनों वित्त मंत्रालय द्वारा घोषित आर्थिक पैकेज पर भी निराशा जताई और कहा कि निजी एफएम रेडियो इंडस्ट्री  के लिए इसमें कुछ भी नहीं है।

गौरतलब है कि यह तीसरा मौका है, जब रेडियो इंडस्ट्री ने सरकार को पत्र लिखकर राहत पैकेज (bailout packages) की मांग की है। 24 अप्रैल को प्रधानमंत्री को लिखे अपने पत्र में AROI का कहना था कि सरकार द्वारा विज्ञापन बंद किए जाने के बाद से ही निजी एफएम इंडस्ट्री पिछले एक साल से आर्थिक संकट का सामना कर रही है। इसके अलावा लंबे समय से बकाया राशि को मंजूरी भी नहीं मिली है। ऐसे में इंडस्ट्री को तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इससे पहले मार्च में, AROI ने सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को पत्र लिखकर कोरोना वायरस के प्रकोप से और बदहाल होती इंडस्ट्री की मदद के लिए बेलआउट पैकेज की मांग की थी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रेडिया चैनल के स्टाफ को धमकाने वाला निकला RJ, फिर हुआ ये अंजाम

अनुराग यादव नाम का एक युवक कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर चैनल के स्टाफ के लिए अपशब्दों और अभद्र कमेंट पोस्ट कर रहा था।

Last Modified:
Saturday, 16 May, 2020
RJ

लखनऊ के हजरतगंज स्थित एक रेडियो चैनल के स्टाफ को धमकी देने और सोशल मीडिया पर अभद्रता करने वाले को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी पर चैनल की महिलाकर्मियों को अश्लील मैसेज भेजने का भी आरोप है। रिपोर्ट दर्ज करने के बाद तलाश में जुटी साइबर क्राइम सेल ने शुक्रवार को सर्विलांस सेल की मदद से आरोपित को धर दबोचा। आरोपित के पिता सेवानिवृत्त पीसीएस अधिकारी बताए जा रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि हजरतगंज के लालबाग इलाके में एक रेडियो चैनल है। इस रेडियो चैनल में प्रतीक मेहरा बतौर प्रोग्रामिंग हेड काम करते हैं। प्रतीक के मुताबिक, अनुराग यादव नाम का एक युवक कुछ दिनों से सोशल मीडिया पर चैनल के स्टाफ के लिए अपशब्दों और अभद्र कमेंट पोस्ट कर रहा था। 13 मई को उसने प्रोग्रामिंग हेड के इंस्टाग्राम पर अपना मोबाइल नंबर शेयर किया। उन्होंने जब अनुराग को फोन मिलाया तो उसने गाली-गलौज करते हुए धमकी दी, जिसके बाद उसके खिलाफ हजरतगंज कोतवाली में मुकदमा दर्ज कराया गया।

हजरतगंज पुलिस और साइबर क्राइम सेल ने सर्विलांस की मदद से शुक्रवार को इंदिरानगर निवासी अनुराग यादव को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के बाद पता चला कि आरोपी कुछ समय पहले तक दिल्ली-एनसीआर में बतौर आरजे काम करता था। किसी कारण नौकरी से निकाले जाने के बाद कुंठित होकर वह दिल्ली, नोएडा, मुंबई, लखनऊ और अन्य शहरों के कई जगह के रेडियो जॉकी और अन्य कर्मचारियों को परेशान करने लगा।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए