सूचना:
मीडिया जगत से जुड़े साथी हमें अपनी खबरें भेज सकते हैं। हम उनकी खबरों को उचित स्थान देंगे। आप हमें mail2s4m@gmail.com पर खबरें भेज सकते हैं।

अब जाने-माने पब्लिकेशन ग्रुप ‘पुण्य नगरी’ से जुड़े पंकज बेलवारियार

पूर्व में वह बतौर नेशनल मार्केटिंग हेड ‘प्रभात खबर’ में भी शामिल रहे हैं। इसके अलावा वह  ‘राजस्थान पत्रिका’ के मार्केटिंग हेड (नॉर्थ) भी रह चुके हैं।

Last Modified:
Tuesday, 26 July, 2022
PANKAJ BELWARIAR

तमाम मीडिया संस्थानों में प्रमुख पदों पर अपनी जिम्मेदारी निभा चुके सीनियर मीडिया प्रोफेशनल पंकज बेलवारियार (Pankaj Belwariar) ने अब नई दिशा में कदम बढ़ाए हैं। उन्होंने ‘पुण्य नगरी ग्रुप’ (श्री अंबिका प्रिंटर्स एंड पब्लिकेशंस) में बतौर कॉरपोरेट मार्केटिंग हेड (नेशनल) जॉइन किया है। इससे पहले पंकज बेलवारियार कुछ महीनों से ‘Supank Consultancy’ में बतौर कंसल्टेंट अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

पंकज बेलवारियार को इस क्षेत्र में काम करने का करीब तीन दशक का अनुभव है। पूर्व में वह बतौर नेशनल मार्केटिंग हेड ‘प्रभात खबर’ में भी शामिल रहे हैं। इसके अलावा वह  ‘राजस्थान पत्रिका’ के मार्केटिंग हेड (नॉर्थ) भी रह चुके हैं।

‘राजस्थान पत्रिका’ से पूर्व बेलवारियार ‘साकाल मीडिया ग्रुप’ में वाइस प्रेजिडेंट (सेल्स) के पद पर भी अपनी भूमिका निभा चुके हैं। इससे पहले वह ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ (पटना), ‘अमर उजाला’ और ‘मलयाला मनोरमा’ के साथ भी काम कर चुके हैं। फरवरी 2003 से 2009 तक वह यहां रीजनल जनरल मैनेजर के पद पर और फिर इसके बाद मार्च 2015 तक यहां सीनियर रीजनल जनरल मैनेजर के पद पर कार्यरत रहे थे।

वह अप्रैल 1998 से 2003 तक रीजनल मैनेजर के तौर पर ‘अमर उजाला’ से भी जुड़े रहे हैं। जून 1995 से अप्रैल 1998 के बीच उन्होंने मार्केटिंग मैनेजर के तौर पर अपना कार्यभार संभाला था। ‘अमर उजाला’ में शामिल होने से पहले बेलवारियार ने अगस्त 1991 से जून 1995 तक ‘टाइम्स टाइम्स ऑफ इंडिया’ के पटना/लखनऊ एडिशन के साथ काम किया। शुरुआती दौर में वह लखनऊ में सीनियर ऑफिसर के पद पर कार्यरत रहे, लेकिन सितंबर, 1992 में प्रमोशन मिलने के बाद उन्होंने जून 1995 तक पटना में असिस्टेंट मैनेजर के रूप में अपनी जिम्मेदारी संभाली।

बता दें कि ‘पुण्य नगरी’ समूह महाराष्ट्र का जाना-माना पब्लिकेशन है। करीब 22 साल पहले मुरलीधर सिंगोट (अब दिवंगत) द्वारा ‘पुण्य नगरी’ नाम से इसकी स्थापना की गई थी। अब इस समूह के तहत महाराष्ट्र में विभिन्न पांच भाषाओं में पांच अखबारों का प्रकाशन किया जाता है, जिनकी रीडरशिप दस मिलियन से भी ज्यादा है।

मराठी भाषा में यह समूह ‘पुण्यनगरी’ (PUNYANAGARI), ‘मुंबई चौफेर’ (Mumbai Choufer) और ‘आपला वार्ताहार’ (Aapla Vartahar) नाम से अखबार पब्लिश करता है। इस समूह के तहत कन्नड़ भाषा में  ‘कर्नाटक मल्ला’ (Karnatak Malla) नाम से भी अखबार का प्रकाशन किया जाता है। वहीं हिंदी में यह समूह ‘यशोभूमि’ (YASHOBHUMI) नाम से अखबार निकालता है, जिसे मुंबई में ‘यूपी का दूत‘ के नाम से भी जाना जाता है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस बड़े पद पर ‘Financial Times’ से जुड़ीं निकित्सा चोपड़ा

चोपड़ा रीजनल और नेशनल दोनों मार्केट्स में काम कर चुकी हैं। उन्हें प्रिंट, टीवी, रेडियो और डिजिटल मीडिया इंडस्ट्री की गहरी समझ है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 23 November, 2022
Last Modified:
Wednesday, 23 November, 2022
Nikitsha Chopra

‘फाइनेंसियल टाइम्स’ (Financial Times) ने निकित्सा चोपड़ा (Nikitsha Chopra) को वाइस प्रेजिडेंट-इंडिया(B2B) के पद पर नियुक्त किया है। इससे पहले वह ‘रेडियो मिर्ची’ (Radio Mirchi) में बतौर हेड (Content Licensing & Film Partnerships) अपनी जिम्मेदारी निभा रही थीं।

चोपड़ा रीजनल और नेशनल दोनों मार्केट्स में काम कर चुकी हैं। उन्हें प्रिंट, टीवी, रेडियो और डिजिटल मीडिया इंडस्ट्री की गहरी समझ है। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 2005 में ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ (Times Of India) समूह के साथ की थी। बाद में वह ‘नेटवर्क18’ (Network 18), ‘ब्लूमबर्ग टीवी इंडिया’ (Bloomberg TV India) और  ‘पिंग नेटवर्क’ (PING Network) में प्रमुख पदों पर कार्यरत रहीं।    

कॉर्पोरेट्स और मीडिया एजेंसियों में वरिष्ठ हितधारकों के साथ संबंधों के मजबूत नेटवर्क के द्वारा मीडिया सेल्स, ब्रैंड सॉल्यूशंस, टीम मैनेजमेंट और बिजनेस डेवलपमेंट में विशेषज्ञता के लिए उन्हें कई बार सराहा गया है।

चोपड़ा ने ‘नेटवर्क 18 रीजनल’, ‘पिंग नेटवर्क’ और ‘मिर्ची’ में रेवेन्यू टीमों को सफलतापूर्वक तैयार किया है और उन्हें आगे बढ़ाया है, जो पार्टनर की जरूरतों के अनुरूप उत्पाद विकास में समानांतर रूप से योगदान दे रही हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अमर उजाला के पत्रकार को अगवा करने का प्रयास, लूटपाट कर भागे बदमाश

जम्मू से खबर है कि यहां शनिवार रात अमर उजाला के पत्रकार से कार सवार बदमाशों ने न केवल मारपीट कर लूटपाट की, बल्कि अपहरण करने का भी प्रयास किया।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 21 November, 2022
Last Modified:
Monday, 21 November, 2022
robbery548

जम्मू से खबर है कि यहां शनिवार रात अमर उजाला के पत्रकार से कार सवार बदमाशों ने न केवल मारपीट कर लूटपाट की, बल्कि अपहरण करने का भी प्रयास किया।

घटना गंग्याल थाना क्षेत्र में दमकल विभाग कार्यालय के निकट शनिवार को आधी रात के बाद घटी, जब वेयर हाउस स्थित अमर उजाला के पत्रकार इरफान अहमद शनिवार रात करीब दो बजे कार्यालय से बाड़ी ब्राह्मणा स्थित घर बाइक से जा रहे थे, कि तभी दमकल विभाग कार्यालय गंग्याल से कुंजवानी की तरफ 100 मीटर की दूरी पर पीछे से आई एक कार बाइक के आगे आकर रुक गई। कार में चार बदमाश थे, जिनमें से तीन ने लूटपाट शुरू कर दी। बदमाशों ने गले की चेन, घड़ी, अंगूठी, मोबाइल, पर्स आदि लूटने का प्रयास किया। शोर मचाने पर बदमाश कार में बैठकर फरार हो गए। इस छीना-झपटी में बाइक गिर गई। बाद में बाइक को स्टार्ट कर ही रहे थे कि बदमाश फिर से आ गए और दोबारा मारपीट व लूटपाट शुरू कर दी। इस बार बदमाशों ने पत्रकार को अगवा करने का भी प्रयास किया। पीड़ित के फिर शोर मचाने और पास में एक कंपाउंड में चले जाने पर बदमाश बाइक में लटके बैग को लेकर फरार हो गए।

बदमाश महज आधे घंटे में दो बार मारपीट कर व बैग छीनकर भाग गए। गंग्याल पुलिस में इस घटना को लेकर शिकायत दर्ज की गई है। पीड़ित पत्रकार के अनुसार, बदमाशों के चले जाने के बाद रात 2:34 बजे 100 नंबर पर फोन किया गया, लेकिन किसी ने उनका फोन नहीं उठाया। बाद में उन्होंने कुंजवानी पर हाईवे पेट्रोलिंग पुलिस को आपबीती की सूचना दी। हाईवे पुलिस के सुरेश शर्मा ने उन्हें गाड़ी में बिठाकर बदमाशों की तलाश की, लेकिन उनका पता नहीं चल पाया।

फिलहाल पत्रकार की तरफ से दी गई शिकायत के आधार पर पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। जिस जगह वारदात हुई है, उसके आसपास कई शोरूम व बैंक हैं, जिनके सीसीटीवी की फुटेज की जांच की गई, लेकिन अभी तक बदमाशों का पता नहीं चल पाया है।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘दैनिक जागरण’ को बाय बोलकर फिर इस अखबार से जुड़े पत्रकार गौरव त्रिपाठी

पत्रकार गौरव त्रिपाठी ने ‘दैनिक जागरण’ (Dainik Jagran) में अपनी पारी को विराम दे दिया है। वह इस अखबार की हिसार यूनिट में करीब चार साल से कार्यरत थे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 18 November, 2022
Last Modified:
Friday, 18 November, 2022
Gaurav Tripathi

पत्रकार गौरव त्रिपाठी ने ‘दैनिक जागरण’ (Dainik Jagran) में अपनी पारी को विराम दे दिया है। वह इस अखबार की हिसार यूनिट में करीब चार साल से कार्यरत थे और इन दिनों बतौर इनपुट हेड (हिसार/पानीपत) अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।  

गौरव त्रिपाठी ने अब अपनी नई पारी की शुरुआत ‘अमर उजाला’ (Amar Ujala) के साथ की है। उन्होंने चंडीगढ़ में बतौर डिप्टी न्यूज एडिटर जॉइन किया है। बता दें कि इस अखबार के साथ उनकी यह दूसरी पारी है। मीडिया में अपने करियर की शुरुआत उन्होंने ‘अमर उजाला’ पंचकूला से की थी।

मूल रूप से कानपुर (उत्तर प्रदेश) के रहने वाले गौरव त्रिपाठी को मीडिया में काम करने का डेढ़ दशक से ज्यादा का अनुभव है। पूर्व में वह करीब एक दशक तक दैनिक ‘हिन्दुस्तान’ (Hindustan) आगरा में भी अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो कानपुर से कॉमर्स में ग्रेजुएट गौरव त्रिपाठी ने ‘भारतीय विद्या भवन’ की कानपुर ब्रांच से जर्नलिज्म में पीजी डिप्लोमा किया है। समाचार4मीडिया की ओर से गौरव त्रिपाठी को उनकी नई पारी के लिए ढेरों बधाई और शुभकामनाएं।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फर्जी खबर फैलाने वालों के खिलाफ 'अमर उजाला' उठाएगा ये सख्त कदम

अमर उजाला के नाम से फर्जी ओपिनियन पोल वायरल किया जा रहा है। कुछ शरारती तत्वों ने अमर उजाला के फॉन्ट और लोगो का इस्तेमाल कर आंकड़े बदल दिए हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 12 November, 2022
Last Modified:
Saturday, 12 November, 2022
AmarUjala4545

सोशल मीडिया पर फर्जी खबरों का अंबार लगा हुआ है। ये फर्जी खबरें न केवल पाठकों को भ्रमित करती हैं, बल्कि कई बार ब्रैंड्स की साख को भी नुकसान पहुंचाती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी हाल ही में फर्जी खबरों के खिलाफ जागरूकता पैदा करने की आवश्यकताओं पर जोर दिया था और कहा था कि सोशल मीडिया को कम करके नहीं आंका जा सकता है और एक छोटी सी फर्जी खबर देश में बड़ा बवाल मचा सकती है। लिहाजा इस बीच, अमर उजाला के नाम से फर्जी ओपिनियन पोल वायरल किया जा रहा है। कुछ शरारती तत्वों ने अमर उजाला के फॉन्ट और लोगो का इस्तेमाल कर आंकड़े बदल दिए हैं और इसे अमर उजाला 2022 के ओपिनियन पोल के नाम से वायरल किया जा रहा है।

जबकि अमर उजाला का कहना है कि उसका संस्थान इस तरह के पोल करता ही नहीं है। अमर उजाला ने अब ऐसे फर्जी खबर फैलाने वालों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई करने का मन बना लिया है, जो उसके नाम और लोगो का इस्तेमाल कर लोगों को भ्रमित कर रहे हैं।

अमर उजाला ने अपने पाठकों को बताया कि उसने ऐसा कोई सर्वे नहीं किया है। अमर उजाला की ओर से कहा गया कि अमर उजाला अपनी साख, विश्वनीयता और पाठकों तक निष्पक्ष खबरें पहुंचाने के लिए जाना जाता है। अमर उजाला के नाम और लोगो का इस्तेमाल कर इस तरह की फेक न्यूज फैलाने वालों के खिलाफ हम सख्त कानूनी कार्रवाई करने जा रहे हैं। अगर आपके पास अमर उजाला के नाम से कोई भी सर्वे आता है तो उस पर यकीन नहीं करें, न ही उसे फॉरवर्ड करें।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘अमर भारती’ मीडिया समूह में फिर यह बड़ी जिम्मेदारी संभालेंगे वरिष्ठ पत्रकार विनोद भारद्वाज

मूल रूप से आगरा के रहने वाले विनोद भारद्वाज को मीडिया में काम करने का करीब साढ़े चार दशक का अनुभव है। वह ‘ताज प्रेस क्लब’ आगरा के प्रेजिडेंट भी रह चुके हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 02 November, 2022
Last Modified:
Wednesday, 02 November, 2022
Vinod Bhardwaj

वरिष्ठ पत्रकार विनोद भारद्वाज ‘अमर भारती’ मीडिया समूह के साथ फिर अपना सफर शुरू करने जा रहे हैं। इस समूह के राष्ट्रीय हिंदी दैनिक ‘अमर भारती’ के आगरा एडिशन में बतौर मैनेजिंग एडिटर वह 14 नवंबर को अपना पदभार ग्रहण करेंगे।

विनोद भारद्वाज पूर्व में भी ‘अमर भारती’ मीडिया समूह के साथ जुड़े रहे हैं, लेकिन स्वास्थ्य संबंधी कारणों की वजह से लंबे समय से फिलहाल इससे दूर थे। अब स्वास्थ्य लाभ के बाद वह पुन: इस मीडिया समूह में जिम्मेदारी संभालने जा रहे हैं।

बता दें कि ‘अमर भारती’ मीडिया समूह वर्तमान में दिल्ली, लखनऊ,आगरा,मुरादाबाद,गुरुग्राम व मुंबई संस्करणों संग हिंदी दैनिक ‘अमर भारती‘ व वेब न्यूज चैनल ‘एक्सपोज इंडिया‘ (Expose India) का संचालन करता है।

‘अमर भारती’ मीडिया समूह के संपादक शैलेंद्र कुमार जैन के अनुसार, ‘विनोद भारद्वाज वरिष्ठ होने के साथ-साथ आगरा के प्रतिष्ठित पत्रकारों में शुमार हैं। वह हमारे संस्थान के मार्गदर्शक व प्रमुख स्तंभ रहे हैं। उनके नेतृत्व में आगरा संस्करण नई ऊंचाइयों तक पहुंचेगा। संस्थान के सभी सदस्य विनोद भारद्ज के नेतृत्व में अमर भारती को संपूर्ण आगरा परिक्षेत्र में प्रभावी एवं सम्मानजनक समाचार पत्र के रूप में स्थापित करने के पुनीत संकल्प के लिए पूरे मनोयोग से जुटकर सार्थक सहयोग करेंगे।’

इस बारे में विनोद भारद्वाज ने एक फेसबुक पोस्ट भी की है। इस पोस्ट में उन्होंने लिखा है, ‘अपनी प्रिंटिंग प्रेस व अन्य नवीन व्यवस्थाओं संग अमर भारती हिंदी दैनिक जल्दी ही आपके मध्य उपस्थित होगा। यह आपका अपना अखबार है और पूर्व की भांति आप सभी का साथ व सहयोग मुझे मिलता रहेगा, ऐसा मेरा विश्वास है। मिलते हैं जल्दी ही आपके अपने मंच के साथ...।’

मूल रूप से आगरा के रहने वाले विनोद भारद्वाज को मीडिया में काम करने का करीब साढ़े चार दशक का अनुभव है। वह ‘ताज प्रेस क्लब’ आगरा के प्रेजिडेंट भी रह चुके हैं। इसके अलावा पूर्व में वह ‘कल्पतरु एक्सप्रेस’ में मैनेजिंग एडिटर और ‘दैनिक जागरण’ में एडिटोरियल हेड के तौर पर भी अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

समाचार4मीडिया की ओर से विनोद भारद्वाज को उनकी इस पारी के लिए ढेरों बधाई और शुभकामनाएं।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूजप्रिंट की कीमतों में सुधार को लेकर डीबी कॉर्प के गिरीश अग्रवाल ने कही ये बात

‘डीबी कॉर्प लिमिटेड’ के नॉन एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर गिरीश अग्रवाल का कहना है भारत में आर्थिक सुधार जारी है और त्योहारी सीजन की मदद से यह तिमाही असाधारण रूप से अच्छी रही है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 01 November, 2022
Last Modified:
Tuesday, 01 November, 2022
GirishAgrawal54875

‘डीबी कॉर्प लिमिटेड’ (D. B. Corp Ltd) के नॉन एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर गिरीश अग्रवाल का कहना है भारत में आर्थिक सुधार जारी है और त्योहारी सीजन की मदद से यह तिमाही असाधारण रूप से अच्छी रही है। वित्तीय वर्ष 2023 की दूसरी तिमाही की अर्निंग कॉन्फ्रेंस कॉल (earnings conference call) के दौरान गिरीश अग्रवाल ने यह बात कही।

उन्होंने कहा कि ‘हम सभी सेगमेंट में तिमाही-दर-तिमाही के साथ-साथ साल-दर-साल बहुत मजबूत परिणाम देने में सक्षम हैं। हमें उम्मीद है कि इंडस्ट्री की रफ्तार फिर से वहीं से शुरू होगी, जब साल 2020 में कोविड से पहले यह धीमी पड़ गई थी।’

इस दौरान, उन्होंने न्यूजप्रिंट (अखबारी कागज) की कीमतों को कम किए जानें पर भी जोर दिया। उन्होंने कहा, ‘वर्तमान में घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार को देखते हुए और न्यूजप्रिंट सप्लायर्स से संपर्क के आधार पर हम यह कह सकते हैं कि अखबार की कीमतों में देश और देश के बाहर दोनों जगह लगभग 12 से 15% तक सुधार होना चाहिए और इसका प्रभाव ही वित्तीय वर्ष 2023 की चौथी तिमाही के हमारे नंबरों पर दिखाई देना चाहिए और हम उम्मीद करते हैं कि ऐसा ही होगा।’

समूह के वित्तीय प्रदर्शन और लागत अनुकूलन पर बोलते हुए अग्रवाल ने कहा कि उनका पूरा फोकस यह सुनिश्चित करने पर है कि विभिन्न चीजों में की गई कॉस्ट-कटिंग लंबे समय तक बरकरार रहे। एक तरफ, जब हम अपने राजस्व आधार को बढ़ाने की दिशा में काम कर रहे हैं, तो वहीं दूसरी तरफ हम वित्तीय वर्ष 2020 की दूसरी तिमाही की तुलना में ऑपरेटिंग कॉस्ट में लगभग 10% बचाने में भी कामयाब रहे, जिसका परिणाम यह रहा कि वित्तीय वर्ष की दूसरी तिमाही का प्रिंट बिजनेस का EBITDA मार्जिन न्यूजप्रिंट की उच्च कीमतों के बावजूद 21% की  मजबूत स्थिति पर बना रहा।

पिछली चार तिमाही में न्यूजप्रिंट की कीमतों के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा कि वित्तीय वर्ष 2021-22 की तीसरी तिमाही में, न्यूजप्रिंट के लिए खरीद लागत लगभग 47,000 रुपए प्रति टन थी, जोकि चौथी तिमाही में बढ़कर सीधे 53,000 प्रति टन तक चली गयी। इसके बाद वित्तीय वर्ष 2022-23 की पहली तिमाही में यह नंबर सीधे 66,000  रुपए तक चला गया और फिर दूसरी तिमाही में यह 65,500 रुपए पर आ गया। लेकिन अब ऐसा लगता है कि चौथी तिमाही से कीमतें लगभग 10 से 15% तक कम हो जाएंगी। इसलिए हम उम्मीद कर रहे हैं कि 65,000 - 66,000 रुपए से कीमतें घटकर 60,000 तक पहुंच जाएंगी और चौथी तिमाही के बाद यह और ज्यादा घट जाएंगी।

ऐडवर्टाइजिंग (विज्ञापनों) को लेकर विश्लेषकों से बात करते हुए अग्रवाल ने सभी कैटेगरीज में अपने परिप्रेक्ष्य को साझा किया। शिक्षा क्षेत्र के संदर्भ में उन्होंने कहा कि यदि मैं दूसरी तिमाही की तुलना कोरोना आने के पहले के समय से करूं, तो इसमें हमनें ग्रोथ देखी है और यह ग्रोथ मजबूत दोहरे अंकों पर है। सरकारी विज्ञापनों के संदर्भ में हमनें गिरावट दर्ज की है। रियल एस्टेट में फिर से दोहरे अंकों की वृद्धि हुई है। ऑटोमोबाइल एक ऐसा क्षेत्र है जहां हम कोरोना आने से पहले की तुलना में लगभग 50% नीचे हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि ऑटोमोबाइल कंपनियां पिछले दो वर्षों से सप्लाई के मुद्दें से जूझ रही हैं और इसलिए वह ज्यादा नई गाड़ियां लॉन्च नहीं कर पा रही हैं।

उन्होंने आगे कहा, ‘एफएमसीजी में भी लगभग 15 -18% की गिरावट आई है, लेकिन कोरोना से पहले की तुलना में ज्वैलरी ने अच्छी मजबूती दिखायी है, जोकि लगभग 100% देखा गया है। हॉस्पिटल, क्लीनिक और हेल्थ सर्विस सभी बढ़ रहे हैं। एक और कैटेगरी है लाइफस्टाइल, जिसमें कोविड आने से पहले की तुलना में अब 24 फीसदी की गिरावट आई है। एक बार जब ऑटोमोबाइल सेक्टर की सप्लाई संबंधी मुद्दें सुलझ जाएंगे, तो यह गिरावट ग्रोथ में बदल जाएगी। यह हमारे लिए भी बड़ा उलटफेर होगा।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस दीपावली 'प्रजातंत्र' ने किया अनूठा प्रयोग, हो रही चर्चा

कभी इनोवेशन से, कभी ले-आउट से तो कभी अपनी बेहद जुदा हेडलाइन से अपनी पहचान बना चुका दैनिक अखबार ‘प्रजातंत्र’ ने एक बार अनूठा प्रयोग कर सबको आश्चर्यचकित कर दिया

Last Modified:
Friday, 28 October, 2022
Prajatantra78466

कभी इनोवेशन से, कभी ले-आउट से तो कभी अपनी बेहद जुदा हेडलाइन से अपनी पहचान बना चुका हिंदी दैनिक अखबार ‘प्रजातंत्र’ ने एक बार अनूठा प्रयोग कर सबको आश्चर्यचकित कर दिया है।

दरअसल, दीपावली पर अकसर पाठकों की यह शिकायत होती है कि उनके लिए अखबार में सिवाय विज्ञापनों के कुछ नहीं होता। इसी समस्या को देखते हुए दीपावली पर ‘प्रजातंत्र’ की टीम ने सोचा कि विज्ञापनों की भरमार के बीच पाठकों को कुछ तो ऐसा मिले जो नया, उपयोगी और इनोवेटिव हो। लिहाजा इस टीम ने कुछ ऐसा प्रयोग किया, जिसे इससे पहले किसी अखबार ने नहीं किया।

इसी कवायद के तहत दीपावली पर प्रजातंत्र की टीम ने अखबार के साथ एक ऐसा दीया (दीपक) अपने पाठकों को भेजा, जिसमें पानी की सिर्फ दो बूंद डालकर 24 घंटे तक जलाया जा सकता था और यदि दीये से पानी सूखा दिया जाता, तो दीया रोशनी देना बंद कर देता।

दीपक बुड़ाना के नेतृत्व में टीम प्रजातंत्र ने इसे अपने पाठकों तक पहुंचाया। फिलहाल यह प्रयोग सिर्फ इंदौर शहर तक सीमित रखा गया था और इस इनोवेशन को पाठकों तक पहुंचाने में गोधा एस्टेट ने अपना सहयोग दिया था।

वैसे यह इस साल का दूसरा बड़ा इनोवेशन था, जो प्रजातंत्र द्वारा किया गया था। इससे पहले 15 अगस्त को भी एक ऐसा ही इनोवेशन किया गया। तब प्रजातंत्र टीम ने पाठकों तक अपने अखबार को तिरंगे के ही आकार में तैयार कर, डिजाइन कर और काटकर पाठकों तक पहुंचाया था।   

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दिल्ली HC ने बिजनेस मैगजीन को दिया निर्देश, OYO के खिलाफ हटाए 'अपमानजनक' लेख

दिल्ली हाई कोर्ट ने बिजनेस मैगजीन ‘इनवेंटिवा’ को निर्देश दिया है कि वह ओयो (OYO) के खिलाफ प्रकाशित छह 'अपमानजनक' लेखों को तत्काल प्रभाव से हटाए

Last Modified:
Friday, 28 October, 2022
Delhi HC

दिल्ली हाई कोर्ट ने बिजनेस मैगजीन ‘इनवेंटिवा’ को निर्देश दिया है कि वह ओयो (OYO) के खिलाफ प्रकाशित छह 'अपमानजनक' लेखों को तत्काल प्रभाव से हटाए।

‘लाइव लॉ’ की एक रिपोर्ट के मुताबिक, जस्टिस मिनी पुष्कर्ण ने नाइन नेटवर्क के स्वामित्व वाली इस वेबसाइट को ओयो के खिलाफ किसी भी तरह के झूठे, अपमानजनक, और गलत जानकारी देने या लेख प्रकाशित और प्रसारित करने से रोक दिया है।

आपको बता दें कि इस साल और 2019 में ओयो के खिलाफ करीब छह लेख प्रकाशित किए गए थे, जिनमें कंपनी पर मनी लॉन्ड्रिंग और बाकी घोटालों में लिप्त होने का आरोप लगाया गया था।

ओयो रूम्स के रूप में अपना बिजनेस चलाने वाली कंपनी ऑरवेल स्टेयस लिमिटेड (ओएसएल) द्वारा नाइन नेटवर्क प्राइवेट लिमिटेड कंपनी व अन्य के खिलाफ मुकदमा दायर किया गया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि बिजनेस मैगजीन इनवेंटिवा ओयो के खिलाफ दुर्भावनापूर्ण प्रचार किया जा रहा है। साथ ही यह भी आरोप लगाया कि कंपनी व उसके संस्थापक की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने के इरादे से झूठे, अपमानजनक, मानहानि बयान व गलत आर्टिकल प्रकाशित किए जा रहे हैं, जोकि प्रतिवादियों की वेबसाइट पर आसानी से मिल जाएंगे।

आर्टिकल में लगाए गए आरोपों का खंडन करते हुए, ओयो ने कोर्ट को बताया कि कंपनी व उनके संस्थापक के खिलाफ कोई भी मनी लॉन्ड्रिंग या टैक्स चोरी का  मामला लंबित नहीं है। कोर्ट को यह भी बताया गया कि वादी कंपनी के खिलाफ कोई दिवाला कार्यवाही लंबित नहीं है।

ओयो ने आरोप लगाते हुए यह तर्क दिया कि वेबसाइट ने ऐसे तीखें शब्दों और विवादस्पद लेखों का इस्तेमाल इसलिए किया है ताकि अपने दर्शकों की संख्या को बढ़ा सके और इससे उसे फायदा हो।

इस पूरे मामले में दोनों पक्षों की दलील सुनने के बाद कोर्ट ने कहा कि न्यायालय आरोप लगाने वाली कंपनी के कर्मचारियों, एजेंटों, प्रतिनिधियों और बाकी सभी लोगों को ओयो के खिलाफ किसी भी तरह की अपमानजनक, झूठे और गलत जानकारी के लेखों को प्रकाशित करने से रोकता है।

इसके साथ ही कोर्ट ने आरोप लगाने वाली कंपनियों के खिलाफ नोटिस जारी कर चार सप्ताह में जवाब देने को कहा है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दैनिक जागरण के पत्रकार पर ताबड़तोड़ फायरिंग, हमलवार फरार

अपराधियों ने एक पत्रकार पर जानलेवा हमला कर दिया। पत्रकार को निशाना बनाकर उस पर ताबड़तोड़ फायरिंग करने की बात सामने आयी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 11 October, 2022
Last Modified:
Tuesday, 11 October, 2022
attack4578

बिहार में अपराधियों के हौसले इस कदर बुलंद हैं कि आए दिन वारदात को अंजाम दे रहे हैं। ऐसा ही ताजा माला बिहटा थाना क्षेत्र का है, जहां अपराधियों ने एक पत्रकार पर जानलेवा हमला कर दिया। पत्रकार को निशाना बनाकर उस पर ताबड़तोड़ फायरिंग करने की बात सामने आयी है। फायरिंग के दौरान पत्रकार को दो गोलियां लगी, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गए।

बता दें कि जिस पत्रकार को निशाना बनाया गया, उनका नाम रवि शंकर सिंह है और वह दैनिक जागरण से जुड़े हुए हैं। इस वारदात को हैंबिहटा थाना क्षेत्र के अम्हारा गांव में आईआईटी के पास सोमवार की देर रात तब अंजाम दिया गया, जब रवि शंकर एक बर्थ डे पार्टी से घर लौट रहे थे।  इसी दौरान बाइक सवार दो हमलावरों ने वारदात को अंजाम दिया। अपराधियों ने ताबड़तोड़ 5 से 6 राउंड फायरिंग की और वहां से फरार हो गए। इस हमले में पत्रकार रवि गंभीर रूप से घायल हो गए और उन्हें जांघ में एक गोली लगी है और एक गोली शरीर को छूते हुए निकल गई।

इसके बाद स्थानीय लोगों के सहयोग से लहूलुहान हालत में पत्रकार को नेताजी सुभाष चंद्र मेडिकल कालेज एंड हास्पिटल में एडमिट किया गया है, जहां डॉक्टर उनका इलाज कर रहें है।

घायल पत्रकार रवि अमहरा के रहने वाले हैं। उनके मुताबिक, दो की संख्या में बाइक सवार अपराधी थे जो पहले से घात लगाए बैठे थे। अचानक सामने से आकर दोनों ने उन पर एक के बाद एक 5 से 6 राउंड गोली चलायी। बाइक सवार अपराधियों को रवि नहीं पहचान सके, क्योंकि एक ने हेलमेट से चेहरा छिपाया था।

घटना का कारण अब तक स्पष्ट नहीं है। पुलिस हमलावरों के भागने की दिशा में लगे सीसीटीवी के फुटेज एकत्र कर रही है। इस घटना के बाद इलाके के लोग पुलिस की कार्यशैली के खिलाफ खासे आक्रोशित हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ऑडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन का यह कदम कई प्रकाशकों को नहीं आया रास

ऑडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन के द्वारा अखबारों के वितरण की गणना के तौर पर फ्री व कॉम्प्लीमेंट्री कॉपीज को शामिल करने का फैसला कुछ प्रकाशकों को रास नहीं आ रहा।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 26 September, 2022
Last Modified:
Monday, 26 September, 2022
Newspaper Industry

ऑडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन (एबीसी) के द्वारा अखबारों के वितरण की गणना (सर्कुलेशन ऑडिट) के तौर पर फ्री व कॉम्प्लीमेंट्री कॉपीज (नि:शुल्क व रियायत दरों पर दी गईं प्रतियां) को शामिल करने का फैसला कुछ प्रकाशकों (पब्लिशर्स) को रास नहीं आ रहा। जनवरी से जून 2022 तक के लिए सर्कुलेशन के आंकड़ों में पेड/सब्सक्राइब किए गए अखबारों के अलावा फ्री व कॉम्प्लीमेंट्री कॉपीज को भी शामिल किया जाएगा।

सूत्रों के मुताबिक, ‘डेली थांथी’ व एबीसी का संस्थापक सदस्य ‘द हिंदू’ व कुछ ऐसे ही प्रकाशकों ने जनवरी से जून सर्कुलेशन ऑडिट से खुद को अलग करने का फैसला किया है, क्योंकि वे चाहते हैं कि एबीसी पुरानी पद्धति का ही पालन करे, यानी अखबारों की वितरित की गई उन्हीं कुल प्रतियों को अपनी गणना में शामिल करे, जिनका भुगतान किया गया हो।

सूत्रों का यह भी कहना है कि दो प्रमुख अंग्रेजी दैनिकों ने भी अपने कुछ संस्करणों को एबीसी की रिपोर्टिंग से बाहर करने का विकल्प चुना है, जो कार्यप्रणाली (methodology) से संबंधित नहीं हैं।

तमिल अखबार ‘दीनामलर’ के प्रकाशक एल. आदिमूलम ने कहा, ‘एबीसी दो साल के अंतराल के बाद फिर सामने आया है। कई तथाकथित प्रमुख अंग्रेजी दैनिक समाचार पत्रों को शामिल नहीं किया गया है। तमिलनाडु के अंग्रेजी दैनिक इस ऑडिट में शामिल नहीं हुए हैं। तमिलनाडु में केवल दो प्रमुख भाषाई दैनिक अखबारों के जनवरी से जून 2022 के सर्कुलेशन के आंकड़ों को ही प्रमाणित किया गया है।’

एबीसी के इस कदम के बारे में बात करते हुए एक प्रमुख अखबार के शीर्ष अधिकारी ने कहा, ‘अब तक, एबीसी केवल उन प्रतियों की ही गणना कर रहा था, जिनकी पूरी कीमत दी गई थी। केवल पूरा भुगतान वाले ही अखबारों के नंबर प्रकाशित किए जाते थे।’

उन्होंने कहा कि फ्री व कॉम्प्लीमेंट्री प्रतियों की गणना को शामिल कर लेने से अखबारों के सर्कुलेशन की पूरी ऑडिटिंग प्रक्रिया विफल हो जाएगी। अधिकारी ने कहा, ‘बहुत से प्रकाशकों ने एबीसी से ठीक ही कहा है कि उन्हें ऐसा नहीं करना चाहिए।’

इस कदम के बारे में बताते हुए अधिकारी ने कहा कि नेट पेड सर्कुलेशन के आंकड़े ही एक अखबार की ताकत को दर्शाते हैं। रीडरशिप सर्वे में तो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि किसी को अखबार मुफ्त में मिला है या रियायती मूल्य पर क्योंकि वे केवल पाठकों की संख्या गिन रहे होते हैं। वैसे एबीसी को कहा जा रहा है कि वह बिकी हुई प्रतियों की गणना करें, न कि फ्री या रियायत में दी हुई प्रतियों की। उन्होंने यह कहते हुए तर्क दिया कि इस कदम से उन प्रकाशनों को नुकसान होगा, जिनके पास रियायत में या मुफ्त में देने वाली प्रतियां हैं।

वहीं, इंडस्ट्री से जुड़े एक सीनियर व्यक्ति ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि वे मुफ्त प्रतियों को शामिल कर रहे हैं। लेकिन 'रद्दी दर' से नीचे बेची गई प्रतियों को शायद इसमें शामिल किया है। इसका मतलब यह है कि उन्होंने इस बार एबीसी डेटा में मार्केटिंग गतिविधियों को शामिल किया है, जैसे बहुत ही कम दर पर छह महीने की सदस्यता देना। हालांकि, मेरा मानना ​​है कि जिनके पास छिपाने के लिए कुछ है, वही इससे दूर भाग रहे हैं।’

इस बीच, सूत्रों का कहना है कि एबीसी नाराज प्रकाशकों को शांत करने का प्रयास कर रहा है और उनसे ऑडिट से पीछे नहीं हटने का अनुरोध कर रहा है। उन्होंने कहा कि दोनों पक्ष समाधान निकालने की कोशिश कर रहे हैं, जिसमें अगली ऑडिट अवधि (जुलाई से सितंबर के बीच) के लिए मुफ्त/ रियायत में दी हुई  प्रतियों पर विचार नहीं करना शामिल है।

आईपीजी मीडियाब्रैंड्स इंडिया के सीईओ शशि सिन्हा, जो एबीसी की प्रबंधन परिषद का हिस्सा हैं, ने इस बात से इनकार किया कि किसी अखबार के प्रकाशक ने ऑडिट प्रक्रिया से हाथ खींच लिया है।

एबीसी व सकाल मीडिया समूह के चेयरमैन प्रताप पवार  ने भी कहा कि उन्हें ऑडिट से किसी प्रकाशन के हटने की जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि कुछ हितधारकों के पास कुछ मुद्दे हो सकते हैं, जिन्हें हल करने के लिए एबीसी प्रतिबद्ध है।

पवार ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि यह जानकारी (ऑडिट से हटने वाले अखबार) सच है, यह सिर्फ और सिर्फ एक अफवाह है। इस तरह की परिस्थिति को लेकर कुछ मुद्दे हो सकते हैं और कुछ लोगों को दिक्कतें भी हो सकती हैं। एक संगठन के तौर पर एबीसी का काम है इसका समाधान करना। कोई भी पॉलिसी एक व्यक्ति तय नहीं करता, बल्कि इसके पीछ एक पूरी टीम होती है।’

उन्होंने इस तथ्य से भी इनकार किया कि ऑडिट पद्धति में कोई बदलाव किया गया है। उन्होंने कहा, ‘जब तक समिति इसे मंजूरी नहीं देती, तब तक बदलाव नहीं किया जा सकता है। मैं डिसिजन मेकर नहीं हूं। यहां तक ​​​​कि अगर कोई ऐसा मुद्दा है, जिसे मैं अभी तक नहीं जानता, तो हम उस पर चर्चा करेंगे।’

नवंबर 2021 में, एबीसी ने अपने प्रकाशक सदस्यों को जनवरी से जून 2022 की अवधि के लिए सर्कुलेशन के ऑडिट को फिर से शुरू करने के बारे में जानकारी देते हुए एक अधिसूचना जारी की थी। एबीसी ने सभी प्रकाशक सदस्यों से 'ए गाइड टू एबीसी ऑडिट' (A Guide to ABC Audit) में निर्धारित ब्यूरो के ऑडिट दिशानिर्देशों का पालन करने का अनुरोध किया था।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए