धड़ाधड़ रीजनल चैनल खुलने के पीछे ये है ‘असली वजह’: वासिंद्र मिश्र

बहुप्रतिष्ठित ‘एक्सचेंज4मीडिया न्यूज ब्रॉडकास्टिंग अवॉर्ड्स’ (enba) 16 फरवरी को नोएडा के...

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 26 February, 2019
Last Modified:
Tuesday, 26 February, 2019
Vasindra Mishra

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

बहुप्रतिष्ठित ‘एक्‍सचेंज4मीडिया न्‍यूज ब्रॉडकास्टिंग अवॉर्ड्स’ (enba) 16 फरवरी को दिए गए। इनबा के 11वां एडिशन के तहत नोएडा के होटल रेडिसन ब्लू में एक समारोह में ये अवॉर्ड्स दिए गए। कार्यक्रम से पहले आयोजित NewsNextConference के अंतगर्त कई पैनल डिस्कशन भी हुए, जिसके द्वारा लोगों को मीडिया के दिग्गजों के विचारों को सुनने का मौका मिला।

ऐसे ही एक पैनल का विषय ‘रीजनल मीडिया: खतरा, खबरें और कमाई’ रखा गया था, जिसमें मीडिया के दिग्गजों ने अपने विचार व्यक्त किए। समाचार4मीडिया डॉट कॉम के एग्जिक्यूटिव एडिटर अभिषेक मेहरोत्रा ने बतौर सेशन चेयर इसे मॉडरेट किया। इस पैनल डिस्कशन में ‘नेटवर्क18’ (हिंदी नेटवर्क) के एग्जिक्यूटिव एडिटर अमिताभ अग्निहोत्री, सहारा इंडिया टीवी नेटवर्क’ के ग्रुप एडिटर मनोज मनु, ‘जनतंत्र टीवी’ के एडिटर-इन-चीफ वासिंद्र मिश्र, इंडिया न्यूज’ के चीफ एडिटर (मल्टीमीडिया) अजय शुक्ल, ‘पीटीसी नेटवर्क’ के मैनेजिंग डायरेक्टर-प्रेजिडेंट रबिंद्र नारायण और ‘बीबीसी गुजराती’ के एडिटर अंकुर जैन शामिल रहे।

पैनल डिस्कशन के दौरान अभिषेक मेहरोत्रा द्वारा रीजनल मीडिया पर खतरे के बारे में पूछे जाने पर वासिंद्र मिश्र का कहना था, ‘मुझे लगता है कि यदि आप खबर तक सीमित हैं, खबर को निष्पक्षता से दिखा रहे हैं और उसके पीछे आपका कोई स्वार्थ अथवा एजेंडा नहीं है तो किसी भी तरह का कोई खतरा नहीं है। खतरे की शुरुआत तभी होती है, जब आप खबर में अपना पर्सनल एजेंडा डालने की कोशिश करते हैं या किसी के कहने पर किसी के एजेंडा को अपने माध्यम से आगे बढ़ाने की कोशिश करते हैं, तभी खतरा होता है। सबसे बड़ा खतरा पॉलिटिक्स की ओर है अथवा जो सरकारें बन रही हैं और बिगड़ रही हैं, उनसे है। आज सरकारी स्तर पर जीरो टॉलरेंस की स्थिति हो गई है।’

वासिंद्र मिश्र का कहना था, ‘जब हमने अपने करियर की शुरुआत की थी, तो उस समय विचारधारा की पत्रकारिता होती थी और वैचारिक प्रतिबद्धता की बात कही जाती थी, लेकिन उस समय टॉलरेंस भी था। यानी जो लोग आपकी विचारधारा को फॉलो नहीं करते थे, उनको भी नौकरी अथवा अपना कारोबार करने का पूरा अधिकार होता था। उस समय सत्ता में बैठी हुई पार्टी अपनी विचारधारा के विरोधी लोगों को भी बिजनेस करने अथवा अपना काम करने की छूट देती थी। धीरे-धीरे कुछ वर्षों से यह देखने को मिल रहा है कि अगर आप एक विचारधारा विशेष को फॉलो कर रहे हैं, तब तो आपको बिजनेस करने का अधिकार है, नौकरी करने का भी अधिकार है अपना एजेंडा भी आगे बढ़ाने का अधिकार है। आपको संस्थान से भी सपोर्ट मिलेगा और राजनीतिक संगठनों का भी सपोर्ट मिलेगा। अगर आप थोड़ा भी क्रिटिकल होने की कोशिश करेंगे या थोड़ा आब्जेक्टिव होने की कोशिश करेंगे, तो आपके खिलाफ इतनी तरह की कार्रवाई शुरू कर दी जाएंगी कि जो स्थानीय गुंडे हैं, वो तो बाद में आएंगे, जो ‘सरकारी गुंडे’ हैं, वही आकर जीना हराम कर देते हैं और आप एक छोटा बिजनेस भी नहीं कर पाते हैं, मीडिया बिजनेस चलाना तो बहुत बड़ी बात है।’

वासिंद्र मिश्र का यह भी कहना था, ‘हैरेसमेंट का तरीका यह नहीं है कि कोई सड़क पर जाते समय आपकी गाड़ी रोक दे अथवा आपकी पिटाई करवा दे। बल्कि हैरेसमेंट का तरीका ये है कि जब आप लाइसेंस के लिए अप्लाई करते हैं तो आपको लाइसेंस नहीं मिलेगा। अगर लाइसेंस मिल भी गया तो आपको न्यूजप्रिंट का कोटा अलॉट नहीं होगा। यदि न्यूजप्रिंट का कोटा अलॉट हो गया तो आपके अखबार/चैनल का इम्पैनलमेंट नहीं होगा। इम्पैनलमेंट के बिना आपको किसी भी तरह का सरकारी अथवा कॉरपोरेट विज्ञापन नहीं मिलेगा। तो जब आपको किसी भी तरह की सरकारी मदद अथवा सरकारी सुविधा नहीं मिलेगी और आपको एक लीगल तरीके से बिजनेस करने की इजाजत नहीं मिलेगी, तो आप सबसे बड़े पीड़ित हो जाते हैं।’

यह पूछे जाने पर कि आज के समय में नेशनल मीडिया अपने आप को रीजनल मीडिया के रूप में विस्तार दे रहा है। जितने बड़े मीडिया ग्रुप हैं, सब अपने रीजनल चैनल लेकर आ रहे हैं। एक तरफ तो सब कह रहे हैं कि इसमें कमाई नहीं है, इसके बावजूद रीजनल मीडिया का इतनी तेजी से विस्तार क्यों हो रहा है? आखिर जब कमाई नहीं है और खतरा भी ज्यादा है तो ऐसा क्या है कि सब रीजनल मीडिया की ओर भाग रहे हैं?

इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं इससे पहले दो मल्टीचैनल ऑर्गनाइजेशन में काम कर चुका हूं, जिनके 16 चैनल और 20 चैनल हुआ करते थे। उस समय जब हम रेवेन्यू का मंथली अथवा क्वार्टरली रिव्यू किया करते थे, तो वो चैनल घाटे में चलते दिखाई देते थे, लेकिन यदि हम कुल रेवेन्यू यानी EBIDTA (earnings before interest, tax, depreciation and amortization) देखते थे तो वो कई क्षेत्रीय भाषा के चैनल फायदे में चलते दिखाई देते थे।। ऐसे में मैंने अपने सेल्स हेड से जब पूछा कि यहां मंथली तो घाटा दिखाते हो, जबकि क्वार्टरली दिखाते हो कि इतने का प्रॉफिट है, जबकि हिंदी रीजनल चैनल सभी घाटे में दिखाई देते हैं, आखिर इसका क्या कारण है? इस पर उनका कहना था कि हमें कनाडा से रेवेन्यू आता है। इसलिए इस तरह के चैनल वहां की सरकार कि चिंता नहीं करते हैं, क्योंकि इनको बाहर से बहुत रेवेन्यू आता है। लेकिन, यही अगर हिंदी रीजनल चैनल में बिजनेस करेंगे तो इन्हें स्थानीय नेताओं की ‘चमचागिरी’ करनी होगी। इसके लिए इन चैनलों को वहां के लोकल केबल आपरेटर, जिसका वहां पर एकछत्र राज्य है, उसकी भी हां में हां मिलानी होगी, नहीं तो वो उनका चैनल नहीं लगने देगा।’

वासिंद्र मिश्र ने कहा, ‘एक नेशनल चैनल पंजाब में अपना पंजाबी चैनल लॉन्च करना चाहता था। वह बहुत बड़ा मीडिया हाउस है। उन्होंने सबकुछ सेटअप लगा लिया। यानी स्टूडियो बना लिया और नियुक्ति प्रक्रिया भी पूरी हो गई, लेकिन वहां का केबल ऑपरेटर तैयार नहीं हुआ, क्योंकि वहां की सरकार उस नेशनल चैनल से नाराज थी और वह केबल ऑपरेटर उस समय के सत्तारूढ़ दल के साथ जुड़ा हुआ था। ऐसे में वह नेशनल चैनल वहां पर अपना रीजनल चैनल लॉन्च नहीं कर पाया। उसे अपना स्टूडियो बंद कर वापस दिल्ली लौटकर आना पड़ा। तो रीजनल चैनलों की ये हालत है। चाहे पंजाब हो, तमिलनाडु हो, कर्नाटक हो या हैदराबाद हो, चैनलों को वहां की सरकार की ‘दया’ पर निर्भर रहना पड़ता है। इसमें पंजाबी चैनल अपवाद हैं, क्योंकि पंजाबी का रेवेन्यू मॉडल अलग है।’ वासिंद्र मिश्र  ने कहा, ‘जो लोग मल्टीलैंग्वेज चैनल चलाते रहे हैं, उनको शायद पता होगा कि यदि आप पंजाबी चैनल चला रहे हैं तो आपको अपने देश अथवा राज्य से जितना रेवेन्यू मिलता है, उससे सौ गुना ज्यादा ओवरसीज बिजनेस से मिलता है। इस तरह के ट्रेंड को पंजाबी चैनल तो अफोर्ड कर सकते हैं, लेकिन अन्य नहीं।’

मीडिया में सोर्स ऑफ रेवेन्यू के बारे में वासिंद्र मिश्र का कहना था, ‘पहले इसमें पारंपरिक रूप से चार तरीके थे। जिनमें रिटेल एडवर्टाइजमेंट, कॉरपोरेट एडवर्टाइजमेंट, गवर्नमेंट एडवर्टाइजमेंट और चौथा इवेंट शामिल होता था। इसके अलावा पांचवां रेवेन्यू का सबसे बड़ा जरिया रियल एस्टेट था। ‘नोटबंदी’ और ‘जीएसटी’ जैसी नई व्यवस्था आने के बाद कॉरपोरेट विज्ञापन काफी प्रभावित हुए। इससे कॉरपोरेट विज्ञापनों का 50 प्रतिशत रेवेन्यू कम हो गया। ऐसे में रेवेन्यू के मामले में रियल एस्टेट बेकार हो गया। बिल्डर जब अपना पैसा नहीं निकाल पा रहा है तो ऐसे में वह बिजनेस क्या देगा। अब रिटेल ऐड और सरकारी ऐड की बात करें तो जीएसटी की वजह से रिटेल ऐड भी बंद हो गया तो ऐसे में कुल दारोमदार सरकारी बिजनेस पर है। सरकारों को भी ये बात पता है और वे यही चाहती भी थीं कि मीडिया उनके सामने घुटने टेककर रहे। उनके हिसाब से खबरे छापे। अगर खबर नहीं छपेगी तो वे विज्ञापन रोक देते हैं। यह आज से नहीं, बल्कि बहुत पुराना फंडा है। कुछ सरकारें सीधे ऐसा करती हैं, तो कुछ घुमा-फिराकर ऐसा करती हैं।’

वासिंद्र मिश्र के अनुसार, ‘आज की तारीख में चाहे नेशनल चैनल हो अथवा रीजनल चैनल हो, सभी की निर्भरता सरकारी बिजनेस पर है। फिर चाहे वो प्रिंट हो अथवा टेलिविजन। रही बात नेशनल चैनलों के रीजनल मीडिया की तरफ जाने की तो इस तरह उन्हें सरकारों के साथ ट्यूनिंग में आसानी होती है। इसके अलावा उन्हें डबल स्टैंडर्ड मेंटेन करने में भी सुविधा होती है। वो पीआर की जितनी भी स्टोरी होती हैं, उन्हें रीजनल में चलवा लेते हैं और नेशनल में चार लोग बैठकर स्टूडियो से दिन भर पाकिस्तान के खिलाफ ‘बम’ फेंकते रहते हैं। हालांकि ऐसे कई पत्रकारों ने कभी बॉर्डर भी नहीं देखा होगा, लेकिन स्टूडियो में बैठकर वो पूरे पाकिस्तान को ‘नेस्तनाबूद’ कर देते हैं और कहते हैं कि वे पेड न्यूज नहीं चलाते हैं। मेरा कहना है कि उन्हें पेड न्यूज चलाने की जरूरत क्या है। उनका रीजनल प्लेटफॉर्म है, जिस पर दिनभर वे यही चलाते हैं। इसलिए उनके लिए जरूरी है कि एक ऐसा प्लेटफॉर्म चाहिए, जहां पर वे सरकार और राजनीतिक दलों को खुश करके पैसे भी लें और नेशनल लेवल पर ऐसा प्लेटफॉर्म चाहिए, जिससे वे अपना एजेंडा बैलेंस करते रहें।’

आप ये पूरी चर्चा नीचे विडियो पर क्लिक कर भी देख सकते हैं-

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘PTI’ से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार प्रत्यूष रंजन, संभालेंगे यह बड़ी जिम्मेदारी

प्रत्यूष रंजन ने कुछ दिनों पहले ही जागरण समूह की डिजिटल कंपनी 'जागरण न्यू मीडिया' (Jagran New Media) में मैनेजिंग एडिटर के पद से इस्तीफा दे दिया था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 13 August, 2022
Last Modified:
Saturday, 13 August, 2022
Pratyush Ranjan

वरिष्ठ पत्रकार प्रत्यूष रंजन ने देश की जानी-मानी न्यूज एजेंसी ‘प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया’ (PTI) के साथ अपने नए सफर की शुरुआत की है। समाचार4मीडिया से बातचीत में प्रत्यूष रंजन ने बताया कि उन्होंने यहां पर फैक्ट चेकिंग और डिजिटल सर्विसेज के हेड के पद पर जॉइन किया है।

बता दें कि प्रत्यूष रंजन ने कुछ दिनों पहले ही जागरण समूह की डिजिटल कंपनी 'जागरण न्यू मीडिया' (Jagran New Media) में मैनेजिंग एडिटर के पद से इस्तीफा दे दिया था। वह इस संस्थान से करीब साढ़े तीन साल से जुड़े हुए थे। प्रत्यूष रंजन ने 'जागरण न्यू मीडिया' जनवरी 2019 में बतौर सीनियर एडिटर जॉइन किया था। बाद में उन्हें प्रमोट कर पहले एग्जिक्यूटिव एडिटर और फिर मैनेजिंग एडिटर की जिम्मेदारी सौंपी गई थी।

यहां वह 'जागरण डॉट कॉम' (jagran.com) हिंदी में realtime verticals का नेतृत्व कर रहे थे। इसके अलावा वह इसी समूह की वेबसाइट 'विश्वासन्यूज़ डॉट कॉम ' (vishvasnews.com) से भी जुड़े हुए थे। बता दें कि प्रत्यूष ‘जीएनआई इंडिया ट्रेनिंग नेटवर्क’ (GNI India Training Network) के फैक्ट चेकर भी हैं।

मूल रूप से सिवान (बिहार) के रहने वाली प्रत्यूष रंजन को मीडिया में काम करने का करीब 18 साल का अनुभव है। इस दौरान वह लंबे समय तक डिजिटल मीडिया में ही रहे हैं। हालांकि, उन्होंने शुरू में प्रिंट और टीवी में भी काम किया है, लेकिन उनकी वह पारी काफी संक्षिप्त रही है। प्रत्यूष रंजन की हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं पर अच्छी पकड़ है और उन्होंने दोनों भाषाओं में ही विभिन्न मीडिया संस्थानों में अपनी भूमिका निभाई है।

'जागरण न्यू मीडिया' में अपनी पारी शुरू करने से पहले प्रत्यूष ‘इंडिया टीवी’ के डिजिटल प्लेटफॉर्म में बतौर एडिटर (न्यूज) अपनी भूमिका निभा चुके हैं। इसके अलावा वह हिंदी न्यूज चैनल ‘न्यूज नेशन’ की डिजिटल विंग के एडिटर भी रह चुके हैं।

’न्यूज नेशन’ से जुड़ने से पहले प्रत्यूष ‘हिन्दुस्तान टाइम्स’ डिजिटल (hindustantimes.com) में न्यूज एडिटर के तौर पर कार्यरत थे। उन्होंने यहां लगभग पांच वर्षों तक (2011 से 2016 तक) अपना योगदान दिया। वह वर्ष 2011 में इसके डिप्टी न्यूज एडिटर बने थे। प्रत्यूष इसके अतिरिक्त ‘भास्कर ग्रुप‘ की ऑनलाइन विंग, ‘इंस्टाब्लॉग्स नेटवर्क‘ और ‘ईटीवी न्यूज‘ में काम कर चुके हैं।

पत्रकारिता में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (AI) के इस्तेमाल को लेकर प्रत्यूष रंजन ‘लंदन स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स एंड पॉलिटिकल साइंस’ के साथ एक प्रोजेक्ट पर भी काम कर चुके हैं। करीब छह महीने चले इस प्रोजेक्ट के लिए भारत से चुने जाने वाले वह एकमात्र पत्रकार थे। इसके अलावा वह पिछले दिनों यूनाइटेड स्टेट्स के हवाई में ईस्ट वेस्ट सेंटर द्वारा आयोजित इंटरनेशनल मीडिया कॉन्फ्रेंस में पीस जर्नलिज्म और मिसइंफॉर्मेशन के डिस्कशन में पैनलिस्ट स्पीकर के तौर पर शामिल हो चुके हैं।

पढ़ाई लिखाई की बात करें तो बिहार से अपनी स्कूलिंग पूरी करने के बाद उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के हिंदू कॉलेज से ग्रेजुएशन और यहीं से पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। इसके अलावा उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के साउथ कैंपस से मास्टर्स इन मास कम्युनिकेशन की पढ़ाई की है। समाचार4मीडिया की ओर से प्रत्यूष रंजन को उनकी नई पारी के लिए ढेरों बधाई और शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘न्यूज नेशन नेटवर्क’ ने अपनी सेल्स लीडरशिप टीम को कुछ यूं दी मजबूती

‘न्यूज नेशन नेटवर्क’ एक हिंदी न्यूज चैनल ‘न्यूज नेशन‘ के अलावा तीन रीजनल चैनल न्यूज स्टेट यूके/यूपी, न्यूज स्टेट एमपी/सीजी और न्यूज स्टेट बिहार/झारखंड का प्रसारण करता है।

Last Modified:
Friday, 12 August, 2022
News Nation

‘न्यूज नेशन नेटवर्क’ (News Nation Network) ने अपनी सेल्स लीडरशिप टीम को मजबूती देने के लिए कुछ नियुक्तियां की हैं। इसके तहत विवेक मक्कड़ को एग्जिक्यूटिव वाइस प्रेजिडेंट और नेटवर्क के नेशनल सेल्स हेड के तौर पर नियुक्त किया गया है, वहीं हर्ष वर्धन द्विवेदी को वाइस प्रेजिडेंट (सेल्स) के पद पर नियुक्ति दी गई है। वह नेटवर्क के रीजनल बिजनेस की जिम्मेदारी संभालेंगे।

बता दें कि विवेक मक्कड़ इससे पहले ‘एनडीटीवी इंडिया’ (NDTV India) में नेशनल हेड के पद पर काम कर रहे थे। उन्हें जाने-माने तमाम संस्थानों में काम करने का दो दशक से ज्यादा का अनुभव है। इस दौरान वह ‘एचटी मीडिया’ (HT media), ‘स्टार टीवी’ (Star TV) और  ‘टाइम्स ओओएच’ (Times OOH) के साथ भी काम कर चुके हैं। अपनी नियुक्ति के बारे में विवेक मक्कड़ का कहना है, ‘सबसे तेजी से विस्तार करने वाले मीडिया समूहों में से एक  न्यूज नेशन का हिस्सा बनकर मैं काफी उत्साहित हूं और खुश महसूस कर रहा हूं।’

वहीं, द्विवेदी को भी 20 साल से ज्यादा का अनुभव है। पूर्व में वह  ‘सहारा टीवी नेटवर्क’(Sahara TV Network), ‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (Zee Entertainment Enterprises Ltd), ‘जी मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड’ (Zee Media Corporation Ltd), ‘महुआ मीडिया नेटवर्क’ (Mahuaa Media Network), ‘ईटीवी न्यूज नेटवर्क’ (ETV News Network) और ‘नेटवर्क’ (Network 18) के साथ काम कर चुके हैं। वह जी-बिहार/झारखंड की लॉन्चिंग टीम का हिस्सा भी रहे हैं। इसके अलावा Zee Sangam और India 24*7 आदि की री-लॉन्चिंग में भी शामिल रहे हैं।

अपनी नियुक्ति के बारे में द्विवेदी का कहना है, ‘न्यूज नेशन नेटवर्क की उत्साही टीम में शामिल होकर मुझे बहुत खुशी हो रही है। यह ब्रैंड पहले से ही अच्छी तरह से स्थापित है और मैं दीर्घकालिक लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सभी हितधारकों के साथ सहयोग करने के लिए पूरी तरह तैयार हूं।’

इस बारे में ‘न्यूज नेशन नेटवर्क’ के चीफ बिजनेस ऑफिसर भुवन भट्ट का कहना है, ‘विवेक और हर्ष के शामिल होने से टीम को और मजबूती मिलेगी। हमें पूरी उम्मीद है कि विवेक और हर्ष अपने नेतृत्व और पारस्परिक कौशल के साथ नेटवर्क को और आगे ले जाएंगे।’

गौरतलब है कि ‘न्यूज नेशन नेटवर्क’ एक हिंदी न्यूज चैनल ‘न्यूज नेशन‘ के अलावा तीन रीजनल चैनल न्यूज स्टेट यूके/यूपी, न्यूज स्टेट एमपी/सीजी और न्यूज स्टेट बिहार/झारखंड का प्रसारण करता है। इसके अलावा डिजिटल में भी इसकी मजबूत मौजूदगी है। नेटवर्क रीजनल न्यूज की अपनी पेशकश के द्वारा विभिन्न राज्यों में प्रवेश करने की तैयारी कर रहा है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

'रॉयटर्स' से जुड़ीं इरा दुग्गल, संभालेंगी यह बड़ी जिम्मेदारी

इससे पहले करीब छह साल से ‘BQ Prime’ से जुड़ी हुई थीं इरा दुगल, अपनी नियुक्ति के बारे में उन्होंने खुद सोशल मीडिया पर जानकारी शेयर की है।

Last Modified:
Friday, 12 August, 2022
Ira Dugal

फाइनेंसियल न्यूज प्लेटफॉर्म ‘BQ Prime’ की पूर्व एग्जिक्यूटिव एडिटर इरा दुग्गल (Ira Dugal) ने अब ‘रॉयटर्स‘ (Reuters) के साथ अपनी नई शुरुआत की है। उन्होंने यहां पर बतौर एडिटर (India Financial News) जॉइन किया है।

इरा दुग्गल ने सोशल मीडिया पर अपनी नियुक्ति के बारे में जानकारी शेयर की है। बता दें कि वह करीब छह साल से ‘BQ Prime’ से जुड़ी हुई थीं। इससे पहले वह ‘ब्लूमबर्ग क्विंट’ (Bloomberg Quint) के साथ जुड़ी हुई थीं और बैंकिंग, फाइनेंस और इकनॉमी की जिम्मेदारी संभाल रही थीं।

पूर्व में इरा दुग्गल ‘एचटी मिंट’ (HT Mint), ‘फाइनेंसियल एक्सप्रेस’ (Financial Express) और ‘एनडीटीवी प्रॉफिट’ (NDTV Profit) के साथ भी काम कर चुकी हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब ‘इंडियन एक्सप्रेस’ समूह से जुड़े पल्लव कुमार

इससे पहले पल्लव कुमार करीब एक साल से ‘आउटलुक’ (Outlook) समूह में अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 10 August, 2022
Last Modified:
Wednesday, 10 August, 2022
Pallaw Kumar

‘आउटलुक’ (Outlook) में अपनी करीब एक साल पुरानी पारी को विराम देने के बाद पल्लव कुमार ने अब ‘इंडियन एक्सप्रेस’ (Indian Express) समूह के साथ अपने नए सफर की शुरुआत की है। यहां वह ’इंडियन एक्सप्रेस’ समूह की ऑनलाइन डिवीजन में ब्रैंड सॉल्यूशंस, और स्पेशल प्रोजेक्ट्स के साथ-साथ स्ट्रैटेजिक पार्टनरशिप से जुड़ी जिम्मेदारियां संभालेंगे।

बता दें कि 'आउटलुक' मीडिया समूह में पल्लव कुमार असिस्टेंट वाइस प्रेजिडेंट (ब्रैंड एंड मार्केटिंग) की भूमिका निभा रहे थे। उनके कार्यकाल के दौरान राष्ट्रीय कैंपेन 'आउटलुक पोषण 2.0' और 'आउटलुक स्पीकऑउट' विशेष रूप से सराहनीय रहे।

स्ट्रैटेजिक कैंपेनिंग में महारत रखने वाले पल्लव कुमार अपनी डिटेल्ड एनालिसिस और परफेक्ट प्लानिंग के लिए जाने जाते हैं। पूर्व में वह 'जी न्यूज', 'अमर उजाला', 'आउटलुक' और 'यूनिसेफ' जैसे ब्रैंड्स के लिए 360° कैंपेन और कंटेंट स्ट्रैटेजी पर काम कर चुके हैं।

जी न्यूज में उनके कार्यकाल के दौरान ब्रैंड कैंपेन 'आज आपने जी न्यूज देखा क्या?' सुर्खियों में रहा। अन्य सफल ब्रैंड कैंपेन में से ' जी न्यूज अब देश के कोने-कोने तक' और 'यस टू इंडिया' विशेष रूप से उल्लेखनीय हैं। भारत और पाकिस्तान में एक साथ आयोजित 'एबी अवार्ड' से सम्मानित कैंपेन 'द मिसअंडरस्टुड स्कोरबोर्ड' ने आउटडोर इनोवेशन में नए मानक स्थापित किए। ‘जी न्यूज’ में अपने सफर के दौरान वह ‘जी मीडिया’ समूह के कई राष्ट्रीय और क्षेत्रीय चैनल्स की लॉन्चिंग में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा चुके हैं।

मूल रूप से वाराणसी के रहने वाले पल्लव कुमार अंतरराष्ट्रीय व्यापार और मार्केटिंग प्रबंधन में परास्नातक हैं। उन्हें इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के साथ-साथ प्रिंट मीडिया के ब्रैंड प्रबंधन का भी अनुभव है। मार्केटिंग और ब्रैंड प्रबंधन में लगभग 11 साल का अनुभव रखने वाले पल्लव 'अमर उजाला' में अपने कार्यकाल के दौरान 'एबी अवार्ड' और ढेरों सुर्खियां बटोरने वाली ब्रैंड कैंपेन 'बेटी ही बचाएगी' का भी हिस्सा रहे।

समाचार4मीडिया की ओर से पल्लव कुमार को उनके नए सफर के लिए ढेरों बधाई और शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ABP न्यूज में इंद्रजीत राय को मिली अब ये बड़ी जिम्मेदारी

इस बारे में ‘एबीपी नेटवर्क’ की ओर से एक स्टेटमेंट भी जारी किया गया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 10 August, 2022
Last Modified:
Wednesday, 10 August, 2022
Indrajeet

‘एबीपी नेटवर्क’ (ABP Network) से एक बड़ी खबर निकलकर सामने आई है। इस खबर के अनुसार, ‘एबीपी न्यूज’ (ABP News) ने एडिटर (क्राइम और एसआईटी) इंद्रजीत राय को Newsgathering टीम की कमान सौंपी है।

इस बारे में ‘एबीपी नेटवर्क’  की ओर से एक स्टेटमेंट भी जारी किया गया है। इस स्टेटमेंट के अनुसार, ‘हमने Newsgathering की जिम्मेदारी इंद्रजीत राय को सौंपी है। वह तत्काल प्रभाव से Newsgathering टीम का नेतृत्व करेंगे।’

स्टेटमेंट में यह भी कहा गया है, ‘Newsgathering टीम के सभी संबंधित प्रमुख अब इंद्रजीत राय को रिपोर्ट करेंगे। वहीं, असाइनमेंट, नेशनल और रीजनल की टीमें पहले की तरह काम करती रहेंगी और रीजनल एडिटर्स पहले की तरह चैनल एडिटर संत प्रसाद को रिपोर्टिंग करते रहेंगे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अजय तोमर लखनऊ से पहुंचे दिल्ली, अब इस मंत्रालय में निभाएंगे नई जिम्मेदारी

अजय तोमर ने इस साल की शुरुआत में ही ‘जी मीडिया’ को अलविदा कहकर सरकारी वेबसाइट ‘माईगव इंडिया‘ (MyGovIndia) से नई शुरुआत की थी।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 10 August, 2022
Last Modified:
Wednesday, 10 August, 2022
Ajay Tomar

इस साल जनवरी मैं ‘जी मीडिया’ को अलविदा कहकर सरकारी वेबसाइट ‘माईगव इंडिया‘ (MyGovIndia) से नया सफर शुरू करने वाले अजय तोमर अब लखनऊ से दिल्ली आ गए हैं। लखनऊ में वह उत्तर प्रदेश सरकार के संस्कृति विभाग (culture department) में सीनियर वीडियो एडिटर के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

अब वहां से उन्हें केंद्र सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय (Ministry of Women and Child Development) के सोशल मीडिया विभाग में दिल्ली ट्रांसफर किया गया है।

बता दें कि अजय तोमर का जन्म यूपी के मुजफ्फरनगर गाव तितावी में हुआ। हालांकि, उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा उत्तराखंड के ऋषिकेश में की, लेकिन पिता के पुलिस विभाग में होने के चलते परिवार को गाजियाबाद में आना पड़ा।

पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो अजय ने चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी, मेरठ से ग्रेजुएशन की है। इसके साथ ही उन्होंने दिल्ली से मल्टीमीडिया का कोर्स भी किया है। 

अजय तोमर को मीडिया के क्षेत्र में काम करने का करीब दस साल का अनुभव है। उन्होंने वर्ष 2017 में ‘जी हिन्दुस्तान‘ आने से पहले अपने करियर की शुरुआत 2011 में ‘साधना‘ चैनल से की थी। वह पूर्व में ‘समाचार प्लस‘,‘इंडिया न्यूज‘, ‘इंडिया वॉइस‘ और ‘इंडिया क्राइम‘ जैसे चैनल्स में अपनी सेवाएं दे चुके हैं। समाचार4मीडिया की ओर से अजय तोमर को बधाई और ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रोहित गुप्ता ने Sony Pictures Networks में इस बड़े पद से अलग होने का लिया फैसला

गुप्ता इस कंपनी के साथ वर्ष 2002 से जुड़े हुए थे और इंडस्ट्री से जुड़े तमाम मुद्दों पर कंपनी के सीईओ के साथ मिलकर काम कर रहे थे।

Last Modified:
Tuesday, 09 August, 2022
Rohit Gupta

‘सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स’ (Sony Pictures Networks) से एक बड़ी खबर निकलकर सामने आई है। उच्च पदस्थ सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, कंपनी में सलाहकार की भूमिका निभा रहे रोहित गुप्ता ने यहां से अलग होने का फैसला कर लिया है।

गुप्ता इस कंपनी के साथ वर्ष 2002 से जुड़े हुए थे और पिछले साल जुलाई से सलाहकार की भूमिका निभा रहे थे। अपनी इस भूमिका में वह इंडस्ट्री से जुड़े तमाम मुद्दों पर कंपनी के सीईओ के साथ मिलकर काम कर रहे थे।

इस भूमिका से पहले वह सेल्स और इंटरनेशनल बिजनेस से ‘सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स’ के रेवेन्यू की जिम्मेदारी संभाल रहे थे। इसके अलावा पूर्व में रोहित गुप्ता ‘Xeror’ में प्रमुख भूमिका निभा चुके हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सुप्रीम कोर्ट ने नाविका कुमार के खिलाफ इस तरह की कार्रवाई पर लगाई अंतरिम रोक

सुप्रीम कोर्ट ने नाविका कुमार की उस याचिका पर केंद्र और पश्चिम बंगाल सरकार को नोटिस भी जारी किया है, जिसमें उन्होंने अपने खिलाफ दर्ज मामलों को रद्द करने की मांग की है।

Last Modified:
Monday, 08 August, 2022
Navika Kumar

पैगंबर मोहम्मद से जुड़े मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मशहूर टीवी एंकर और ‘टाइम्स नेटवर्क’ की ग्रुप एडिटर व ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ की एडिटर-इन-चीफ नाविका कुमार को बड़ी राहत दी है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने नाविका कुमार के खिलाफ देश के तमाम हिस्सों में दर्ज एफआईआर को लेकर उनकी गिरफ्तारी पर अंतरिम रूप से रोक लगा दी है।

इसके साथ ही जस्टिस कृष्णा मुरारी और हेमा कोहली की बेंच ने नाविका कुमार की उस याचिका पर केंद्र और पश्चिम बंगाल सरकार को नोटिस भी जारी किया है, जिसमें उन्होंने अपने खिलाफ दर्ज मामलों को रद्द करने की मांग की है।

गौरतलब है कि भाजपा प्रवक्ता (अब निलंबित) नुपुर शर्मा द्वारा कुछ माह पूर्व पैगंबर मोहम्मद पर कथित रूप से आपत्तिजनक टिप्पणी के मामले में देश-विदेश में आग भड़क उठी थी। भारत और विदेशों में मुस्लिम समुदाय में भारी आक्रोश को देखते हुए बीजेपी ने नूपुर शर्मा को पार्टी से निलंबित कर दिया था। इस आग की चिंगारी नाविका कुमार तक भी पहुंच गई थी और उनके खिलाफ देश के विभिन्न हिस्सों में एफआईआर कराई गई थीं। इन एफआईआर में नाविका कुमार पर जानबूझकर धार्मिक भावनाओं को भड़काने की कोशिश करने का आरोप लगाया गया था।

इन एफआईआर में आरोप लगाया गया कि 25 मई की रात नौ बजे जब नाविका कुमार अपने प्राइम टाइम शो ‘द न्यूज ऑवर’ को होस्ट कर रही थीं, तब नुपुर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ अपशब्द कहे थे, जिससे उनकी धार्मिक भावनाएं आहत हुईं। हालांकि, ‘टाइम्स नाउ’ ने नुपुर की टिप्पणी से खुद को दूर करने की कोशिश करते हुए दावा किया था कि यह उनका समर्थन नहीं करता है।

चैनल द्वारा एक बयान में कहा गया था, ‘हम अपनी बहस के प्रतिभागियों से संयम बनाए रखने और साथी पैनलिस्टों के खिलाफ असंसदीय भाषा में शामिल नहीं होने का आग्रह करते हैं।‘

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अफगानिस्तान में लापता रहा WION का पत्रकार स्वदेश लौटा, 24 घंटे की गई क्रूरता

अफगानिस्तान से देश के अंतरराष्ट्रीय न्यूज चैनल ‘विऑन’ (WION) के रिपोर्टर को मार-पीटकर अगवा करने की खबर सामने आयी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 06 August, 2022
Last Modified:
Saturday, 06 August, 2022
AnasMallick4542

अफगानिस्तान में रिपोर्टिंग करना इन दिनों बेहद ही चुनौतीपूर्ण कार्य है। दरअसल, आए दिन यहां से पत्रकारों के अगवा करने की, उन्हें मारने-पीटने की, या फिर उन्हें जान से मार देने की खबरें सामने आती रहती हैं। इस बीच अफगानिस्तान से देश के अंतरराष्ट्रीय न्यूज चैनल ‘विऑन’ (WION) के रिपोर्टर को मार-पीटकर अगवा करने की खबर सामने आयी है।

बताया जा रहा है कि अफगानिस्तान के काबुल में WION के रिपोर्टर अनस मलिक और उनकी टीम पर हमला हुआ है। उन्हें और उनकी टीम को कार से बाहर घसीटा गया, फिर उन्हें पीटा गया और उसके बाद उनका अपहरण कर लिया गया। अनस मलिक अफगानिस्तान में तालिबान की सरकार का एक साल पूरा होने पर कवरेज कर रहे थे।

बताया जा रहा है कि जब घंटों तक उनकी कोई खोज खबर नहीं मिली, तब न्यूज चैनल ने संबंधित अधिकारियों से संपर्क साधकर उनकी रिहाई के प्रयास किए।

अनस बुधवार शाम को काबुल पहुंचे थे, जिसके एक दिन बाद वह तालिबान के एक साल के शासन की कवरेज कर रह थे। जानकारी के अनुसार, अनस अल कायदा लीडर अल जवाहिरी की किलिंग को लेकर भी लगातार अपडेट कर रहे थे। अनस के अफगानिस्तान पहुंचने के ठीक एक दिन बाद यानी गुरुवार की रात से उनके लापता होने की बातें सामने आने लगीं। अनस  के लापता होने की खबर उनकी एक साथी पत्रकार ने गुरुवार रात को ट्वीट कर दी। उन्होंने बताया था, ‘अनस का फोन अवेलेबल नहीं है और उनके बारे में कोई जानकारी काबुल में पाकिस्तान दूतावास के पास नहीं है।’

हालांकि उनके इस ट्वीट के बाद तालिबान सरकार के साथ इस बारे में पूछताछ शुरू की गई। अफगानिस्तान में पाकिस्तान के राजदूत मंसूर अहमद खान ने शुक्रवार को बताया कि अनस काबुल में हैं और पूरी तरह से सेफ हैं। वहीं, पाकिस्तान के विदेश मंत्री बिलावल भुट्टो ने भी ट्वीट कर इसकी जानकारी दी थी। अनस ने भी ट्विटर पर जानकारी देते हुए बताया कि ‘मैं वापस आ गया हूं।’

अनस ने आपबीती बताते हुए कहा, ‘हमें कवरेज की हर तरह से मान्यता प्राप्त थी। हमारे पास सभी प्रेस क्रेडेंशियल थे और सामान्य दृश्यों को कवर कर रहे थे। इसके बाद भी हमें पकड़ा गया, कार से बाहर निकाला गया और फिर घसीटा गया। हमारे फोन ले लिए गए थे। उसके बाद हमारे साथ मारपीट की गई। हमारी टीम पर भी हमला किया गया।

अनस ने बताया, ‘कुछ समय बाद हमें उस स्थान से स्थानांतरित कर दिया गया, जहां से हमें पता चला कि वह अफगानि‍स्‍तान में तालिबान की खुफिया यूनिट है। हमें हथकड़ी पहनाई गई, आंखों पर पट्टी बांधी गई और बेतहाशा आरोपों की बौछार कर दी। हमारी पत्रकारिता की साख पर भी पूरी तरह से पूछताछ की गई। कई पर्सनल सवाल भी हमसे किए गए।

आपको बता दें हाल ही में अमेरिका ने अफगानिस्तान में  ड्रोन स्ट्राइक की थी, जिसमें अकलायदा चीफ अल जवाहिरी के मारे जाने की खबर सामने आई थी, जिसके बाद गुरुवार को तालिबान ने कहा था कि उन्हें अफगानिस्तान में जवाहिरी की मौजूदगी के बारे में पता नहीं है, साथ ही कहा कि यह फैक्ट है कि अमेरिका ने हमारे क्षेत्र पर आक्रमण किया और सभी अंतरराष्ट्रीय सिद्धांतों का उल्लंघन किया। तालिबान ने कहा था कि अगर फिर ऐसा होता है तो इसके खिलाफ सख्त कदम उठाया जाएगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘हर घर तिरंगा’ कैंपेन के तहत आजादी का अमृत महोत्सव कुछ यूं सेलिब्रेट कर रहा iTV नेटवर्क

केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह के मुख्य आतिथ्य में समापन समारोह का आयोजन 15 अगस्त को नई दिल्ली में किया जाएगा।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 06 August, 2022
Last Modified:
Saturday, 06 August, 2022
iTV Network

देश में आजादी की 75वीं सालगिरह मनाने की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं। आजादी के अमृत महोत्सव के तहत देश में तमाम आयोजन किए जा रहे हैं। इसी कड़ी में ‘आईटीवी नेटवर्क’ (iTV Network) और ’आईटीवी फाउंडेशन’ (iTV Foundation) की ओर से वर्ष 2016 में आयोजित ग्रेट इंडिया रन के पहले अध्याय की सफलता के बाद अब इस तरह का आयोजन किया जा रहा है।

इसके तहत श्रीनगर के ऐतिहासिक लाल चौक से पांच अगस्त को ‘द ग्रेट इंडिया रन’ का शुभारंभ किया गया है। ‘हर घर तिरंगा’ अभियान के तहत श्रीनगर के लाल चौक से दिल्ली के लिए 829 किलोमीटर लंबी ‘द ग्रेट इंडिया रन’ को रवाना किया गया है। जम्मू-कश्मीर के उप-राज्यपाल मनोज सिन्हा और ‘आईटीवी नेटवर्क’ के फाउंडर व नवनिर्वाचित राज्यसभा सदस्य कार्तिकेय शर्मा ने इस रिले रन (Relay Run) को हरी झंडी दिखाई। इस रिले रन के तहत धावक हाथ में तिरंगा लेकर दौड़ लगाते हुए दिल्ली पहुंचेंगे। चार राज्यों से होती हुई यह रिले रन 15 अगस्त को दिल्ली में पहुंचेगी। केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह के मुख्य आतिथ्य में समापन समारोह का आयोजन 15 अगस्त को नई दिल्ली में किया जाएगा।

‘द ग्रेट इंडिया रन’ को रवाना किए जाने के मौके पर राज्यसभा सदस्य कार्तिकेय शर्मा ने इसमें शामिल सभी लोगों को शुभकामनाएं दीं। इस रिले रन में देशभर से और सभी क्षेत्रों से जुड़े लोग भाग ले रहे हैं। इस रन का नेतृत्व अल्ट्रा-मैराथन रनर अरुण भारद्वाज द्वारा किया जा रहा है। बता दें कि इस रिले रन में जानी-मानी धावक और सांसद पीटी ऊषा समेत खेल जगत की तमाम हस्तियां भी शामिल होंगी।

इस मौके पर कार्तिकेय शर्मा ने देश भर के लोगों को इस रन में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित करते हुए कहा, ‘ग्रेट इंडिया रन की शुरुआत के लिए एलजी मनोज सिन्हा जी के साथ लाल चौक पर यहां आकर मैं काफी रोमांचित हूं। यह रन हमारे 'आजादी के अमृत महोत्सव' के तहत 'हर घर तिरंगा' अभियान को समर्पित है। मेरी शुभकामनाएं उन सभी सैकड़ों धावकों के साथ हैं, जो देश के लिए दौड़ेंगे और सभी साथी भारतीयों को इस रन में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करेंगे। एक देश, एक संविधान, एक झंडा और हर घर तिरंगा समय की मांग है। देशभक्ति से बड़ा कोई धर्म नहीं है। हम सभी को मिलकर देश की सेवा के लिए कार्य करने होंगे।‘

इसके साथ ही शहीदों को श्रद्धांजलि देते हुए कार्तिक शर्मा ने कहा, ‘सेना, पुलिस और सुरक्षा बलों के बलिदान के बूते ही हम आजादी का लुत्फ उठा रहे हैं। मैं धावकों को पूरे देश में भारतीय ध्वज को ले जाते हुए और 'हर घर तिरंगा' अभियान को सफल बनाने में अपनी भूमिका निभाते हुए देखने के लिए उत्सुक हूं।’

कार्यक्रम का प्रसारण ‘न्यूजएक्स’ और ‘इंडिया न्यूज’ चैनल पर किया जाएगा और इसे प्रमुख ओटीटी प्लेटफॉर्म- डेलीहंट, जी5, एमएक्स प्लेयर, शेमारूमी, वाचो, मजालो, जियो टीवी, टाटा प्ले और पेटीएम पर भी लाइव स्ट्रीम किया जाएगा बता दें कि आजादी की 75वीं सालगिरह के इस मौके पर कार्यक्रम स्थल को 75 तिरंगों से सजाया गया था।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए