इन बड़े एंकर्स ने अपनी पसंद का खोला ‘राज’, कई एंकर्स के पढ़े कसीदे

‘एक्सचेंज4मीडिया’ समूह की ओर से 22 फरवरी को नोएडा के होटल रेडिसन ब्लू में ‘एक्सचेंज4मीडिया न्यूज ब्रॉडकास्टिंग अवॉर्ड्स’ (enba) 2019 दिए गए

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 29 February, 2020
Last Modified:
Saturday, 29 February, 2020
enba conference

न्यूज चैनल पर दिखने वाले मेल या फीमेल एंकर्स में से किसी न किसी को तो हर कोई फॉलो करता है। सोशल मीडिया के जरिए भी न्यूज चैनल के मेल या फीमेल एंकर की फैन फॉलोइंग का पता चल ही जाता है, लेकिन शायद ही कोई जानता हो कि इन एंकर्स की पसंद क्या है, वे किस एंकर को फॉलो करते हैं, इतना ही नहीं वे किस चैनल को पसंद करते हैं। इस बात का खुलासा ‘एक्सचेंज4मीडिया’ (exchange4media) समूह की न्यूजनेक्सट कॉन्फ्रेंस क दौरान हुआ, जब एक पैनल डिस्कशन के दौरान ‘Differentiating editorial content from propaganda’ विषय पर चर्चा हो रही थी।

इस पैनल डिस्कशन को बतौर सेशन चेयर फिल्म मेकर, इंटरनेशनल एंटरप्रिन्योर, मोटिवेशनल स्पीकर और लेखक डॉ. भुवन लाल मॉडरेट कर रहे थे। पैनल डिस्कशन में ‘एबीपी न्यूज’ के वाइस प्रेजिडेंट (प्लानिंग और स्पेशल कवरेज) सुमित अवस्थी, ‘आजतक’ के एग्जिक्यूटिव एडिटर (स्पेशल प्रोजेक्ट्स) रोहित सरदाना, ‘जी बिजनेस’ के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी, ‘राज्यसभा टीवी’ के एडिटर-इन-चीफ राहुल महाजन, ‘सीएनएन न्यूज18’ के एग्जिक्यूटिव एडिटर भूपेंद्र चौबे और ‘विऑन’ की एग्जिक्यूटिव एडिटर पलकी शर्मा उपाध्याय शामिल थे।

यह पैनल डिस्कशन अपने अंतिम पड़ाव पर था कि तभी एक्सचेंज4मीडिया के चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ डॉ. अनुराग बत्रा ने पैनल में मौजूद सभी सदस्यों से उनके पसंदीदा एंकर और न्यूज चैनल को लेकर सवाल पूछ लिया। हालांकि सवाल सुनकर पैनल में मौजूद सभी सदस्य थोड़ा सा असहज हो गए, क्योंकि इतने बड़े मंच से अपने कॉम्पटीटर चैनल्स के एंकर का नाम लेकर अपनी पसंद जाहिर करना उनके लिए मुश्किल तो था। लिहाजा, ‘विऑन’ की एग्जिक्यूटिव एडिटर पलकी शर्मा इस सवाल से बचती दिखीं, उन्होंने तुरंत ही अपने चैनल का नाम लिया, लेकिन डॉ. बत्रा ने उनका जवाब सुनकर तुरंत ही अपने सवाल को फिर दोहराया कि अपने चैनल के एंकर को छोड़कर आप किसी भी अन्य चैनल की बात कर सकती हैं।       

यह सुनते ही सबसे पहले इसका जवाब देने के लिए ‘सीएनएन न्यूज18’ के एग्जिक्यूटिव एडिटर भूपेंद्र चौबे ने हाथ खड़ा कर दिया और निसंकोच उन्होंने बताया कि वे रोहित सरदाना को बतौर एंकर काफी पसंद करते हैं। उन्होंने कहा कि मेरी मुलाकात रोहितजी से इतनी नहीं है, लेकिन मैं उनके प्रोग्राम्स को देखना पसंद करता हूं। कॉम्लीमेंट के तौर पर मैं कहना चाहूंगा कि ऐसा इसलिए है क्योंकि वे कभी अपनी मर्यादा को क्रॉस नहीं करते हैं। हां, इनके सवाल जरूर तल्ख हो सकते हैं। विचारधारा को लेकर भले ही आप इनकी आलोचना कर सकते हैं कि वे इस तरफ हैं या उस तरफ हैं, लेकिन मेरे लिए वे आपके पूछे सवाल में पूरी तरह से फिट बैठते हैं। मैंने कभी उन्हें उस तरह से चिल्लाते नहीं देखा है, जैसा कि अन्य कई चैनलों पर होता है। उन्होंने कहा कि तल्ख आपके सवाल में होना चाहिए, आपके व्यवहार में नहीं।

इसके बाद फिर अगला नंबर पलकी शर्मा का आया तो उन्होंने इस बार सवाल को यह कहते हुए आगे पास कर दिया कि वे सबसे आखिर में इसका जवाब देंगी। यह सुनकर ‘राज्यसभा टीवी’ के एडिटर-इन-चीफ राहुल महाजन ने कहा कि यह बहुत ही कठिन सवाल है कि कोई एक एंकर दूसरे एंकर की नाम लेकर प्रशंसा करे।

लिहाजा सभी को बीच में रोकते हुए इस सवाल का जवाब देने की कमान ‘जी बिजनेस’ के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी ने अपने हाथों में ले ली और कहा कि मैं एक से ज्यादा एंकर को पसंद करता हूं। लेकिन पहला नाम यहां भूपेंद्र चौबे का लेना चाहूंगा। उन्होंने कहा कि मैं इन्हें ‘सीएनबीसी’ के दिनों से ही पसंद करता हूं, क्योंकि जब हम पॉलिटिकल डिस्कशन करते थे, तो पॉलिटिकल ओपिनियन के लिए हमारी पहली पसंद भूपेंद्र चौबे ही होते थे, जबकि ‘नेटवर्क18’ में और भी पत्रकार थे। लेकिन ऐसा इसलिए था, क्योंकि उनकी ओपिनियन मुझे बिल्कुल क्लियर, अनबॉयस्ड लगती थी। उन्होंने कहा कि यहां, दूसरे एंकर का मैं नाम नहीं लूंगा, लेकिन मैं एक ऑर्गनाइजेशन के तौर पर ‘आजतक’ को पसंद करता हूं। मैं इस चैनल की बहुत रिस्पेक्ट करता हूं। उन्होंने कहा कि ये बिजनेस मीडिया का हिन्दुस्तान यूनिलीवर है। लेकिन अपनी बात को खत्म करते-करते उन्होंने एक और एंकर का जिक्र कर ही दिया वे रोहित सरदाना को भी बतौर एंकर पसंद करते हैं।

इसके बाद, ‘आजतक’ के एग्जिक्यूटिव एडिटर (स्पेशल प्रोजेक्ट्स) रोहित सरदाना ने इस सवाल का जवाब देते हुए कहा कि टीवी पर बहुत सारे एंकर्स हैं, जिन्हें हम सभी एप्रिसिएट करते हैं। बातों के दौरान उन्होंने सुमित अवस्थी की ओर इशारा करते हुए अपनी पसंद जगजाहिर की और कहा कि मैं ऐसा इसलिए नहीं कह रहा हूं कि सुमित मेरे बगल में बैठे हैं या फिर मैंने इनके साथ काम किया है, बल्कि जब मैंने इनके साथ कभी काम नहीं किया था, कभी किसी इवेंट मुलाकात होती थी, तब भी मैं हमेशा इन्हीं का नाम लेता था। फिर हमें बाद में ‘जी न्यूज’ में कुछ दिन एक साथ काम करने का मौका मिला। उन्होंने कहा कि एक अच्छी चीज कहना चाहूंगा कि ‘ताल ठोक के’ शो जो मैंने जी न्यूज पर किया था कि उसका नाम सुमित ने ही दिया था और मैं उसका एंकर था, लेकिन बहुत सारे लोग मुझे सुमित कहकर संबोधित कर देते थे। यहां तक कुछ लोग शो में भी मुझे सुमित ही कह देते थे, क्योंकि अगला शो सुमित का ही होता था और कई लोग इनके शो में भी शामिल होते थे। लिहाजा उनके दिमाग में सुमित ही चलता रहता होगा, क्योंकि मेरी शक्ल कुछ-कुछ सुमित से मिलती है, मेरी भी मूछें हैं, मैं भी चश्मा पहनता हूं और इत्तेफाकन कपड़े भी एक जैसे ही पहनता हूं। कद-काठी में भी ज्यादा अंतर नहीं है, बस इन्होंने जिम जाकर अपने आपको मेंटेन किया हुआ है। इसलिए शायद ये लोग मुझे सुमित कहकर बुला देते होंगे और मैं इस बात का बुरा भी नहीं मानता हूं।

इसके बाद रोहित सरदाना ने श्वेता सिंह का नाम लिया और कहा कि मैं अपने चैनल में श्वेता सिंह को देखता हूं। उन्हें हमेशा से देखता आया हूं और मैं उनकी प्रशंसा करता हूं कि उन्होंने कई सालों से अपने आपको मेंटेन किया हुआ है। उन्होंने आगे कहा कि ऐसे ही आप मीमांसा मलिक को देखिए, जबसे देख रहा हूं उन्होंने अपने आपको बहुत मेंटेन किया हुआ है। सारे दौर गुजर गए लेकिन मीमांसा मलिक ने अपना एक ऑरा मेंटेन किया हुआ है और वो आज भी वे वैसे की वैसी ही दिखती हैं। टेलिविजन चैनल के बाहर यदि बात करें तो मैं बीबीसी नाउ में मिलिंद खांडेकर को देखता हूं, जबकि मैंने इनके साथ कभी काम नहीं किया है। ट्विटर पर यदि मैं इन्हें ऐसी वैसी कोई बात लिख भी देता हूं तो मैंने कभी नहीं देखा कि वे नाराज हो गए हो, बल्कि वे इसका जवाब भी देते हैं और मेरी कही बात को रीट्वीट भी कर लेते हैं। यही तो एक अच्छे आदमी की पहचान है।   

इसके बाद अब बारी थी सुमित अवस्थी की, तो उन्होंने इस सवाल के जवाब में कहा कि मैं यहां एक नहीं दो नाम लेना चाहूंगा, किसी चेहरे को देखते हुए नहीं, बल्कि प्रोफेशनली। उन्होंने कहा कि हर जर्नलिज्म के स्टूडेंट को हमेशा डॉ. रजत शर्मा से सीखना चाहिए कि आप कैसे विनम्रता और सरलता से अपने मेहमानों से अच्छी चीजें निकलवा सकते हैं, न्यूज पॉइंट्स निकलवा सकते हैं, हेडलाइंस निकलवा सकते हैं। इसके अलावा डॉ. प्रणॉय रॉय से सीखना चाहिए। आइडियोलॉजिकली ये दोनों आदमी अपनी-अपनी दो धुरी के दो स्ट्रीम हो सकते हैं, लेकिन इनसे सीखने के लिए बहुत कुछ है। दोनों ही बहुत मेहनती हैं। दोनों ही अपने-अपने दम पर बने और खड़े हुए हैं। उन्होने कहा कि मैंने उनसे काफी कुछ सीखा है, लेकिन मैं एक असफल छात्र रहा हूं और यह जानता हूं कि मैं उनके एग्जाम में फेल हो जाउंगा। इसलिए उनसे सीखना चाहिए।   

इसके बाद ‘राज्यसभा टीवी’ के एडिटर-इन-चीफ राहुल महाजन ने सुमित अवस्थी की बातों पर सहमति जताते हुए कहा कि मैं डॉ. प्रणॉय रॉय को शुरू से ही बहुत ज्यादा फॉलो करता हूं। इसके अलावा मैं कहूं तो नविका कुमार को बहुत ही ज्यादा फॉलो करता हूं। उनकी एंकरिंग स्किल्स के लिए नहीं, बल्कि उनकी डेप्थ ऑफ नॉलेज के लिए मैं उन्हें फॉलो करता हूं। हालांकि इन लोगों के जवाब सुनने के बाद, डॉ. बत्रा ने एक बार फिर भूपेंद्र चौबे का रुख किया और कहा कि जो एंकर पैनल में शामिल नहीं हैं और जिन्हें आप पसंद करते हैं, ऐसे एंकर का नाम आप बताइए। इसका जवाब देते हुए

उन्होंने कहा कि मैंने जीवन में दो कंपनियों में काम किया है। डॉ.प्रणॉय रॉय और रजत शर्मा चार्मर है, लेकिन उनके साथ ही एक और व्यक्ति हैं राघव बहल, जिन्हें मैं काफी पसंद करता हूं। हालांकि वो कोई रेगुलर एंकर नहीं है। लेकिन मैं यहां सभी गुजारिश करूंगा कि सभी लोग उनका वित्त मंत्री के साथ किया इंटरव्यू जरूर देखें, कि कैसे उन्होंने बड़ी ही सहजता और विनम्रता पूर्वक उनसे सवाल किए हैं और वो भी पूरे डेटा के साथ। इसलिए मैं कहना चाहूंगा कि मेरी नजर में वही ऐसे एक एंकर हैं, जो बड़ी ही मेहनत और पूरे डेटा के साथ इंटरव्यू करते हैं।

और अंत में एक बार फिर यह सवाल ‘विऑन’ की एग्जिक्यूटिव एडिटर पलकी शर्मा के सामने आ गया, और इस बार में उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि सबको सुनने के बाद मैं कहना चाहूंगी कि यहां किसी ने भी उनका नाम नहीं लिया है, जिसका नाम लेना चाहिए था। पुरुष प्रधान वाले इस देश में जैसा कि पैनल में भी देखने को मिल रहा है, वह बहुत ही जाना माना नाम है, जिन्होंने पत्रकारिता के क्षेत्र में काफी उल्लेखनीय काम किया है, जिनमें शीरीन भान और सुहासिनी जैसे लोगों का नाम लिया जा सकता है, जिनके साथ मैंने काम किया है। लेकिन कुछ ऐसे भी नाम हैं, जिनके साथ मैंने काम नहीं किया है, जैसे नविका कुमार और सोनिया सिंह हैं, जो इस समय शीर्ष पर हैं और न्यूजरूम में बहुत ही बैलेंस करके काम कर रही हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पूर्व मुख्यमंत्री के बचाव में उतरीं पाकिस्तानी पत्रकार, ISI से संबंधों को लेकर कही ये बात

पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद से ही कैप्टन अमरिंदर सिंह पाकिस्तानी पत्रकार अरूसा आलम (Aroosa Alam) को लेकर चर्चा में बने हुए हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 27 October, 2021
Last Modified:
Wednesday, 27 October, 2021
CaptAmrinderSingh

पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद से ही कैप्टन अमरिंदर सिंह पाकिस्तानी पत्रकार अरूसा आलम (Aroosa Alam) को लेकर चर्चा में बने हुए हैं। अरूसा आलम पर ISI एजेंट होने के आरोप लगाए जा रहे हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह बनाम पंजाब कांग्रेस की लड़ाई में अरूसा आलम को लेकर वार-पलटवार का सिलसिला चल रहा है। इस तनातनी के बीच फंसी पाकिस्तान पत्रकार अरूसा आलम ने मामले में अब अपनी प्रतिक्रिया दी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, आलम ने कहा कि उसका ISI से कोई संबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र एक महिला का अपमान कर रहा है। मुझे दुख होता है कि मेरी फोटो बार-बार शेयर की जा रही है। मेरा भी एक परिवार, बच्चे और दोस्त हैं। मैं दोहराती हूं कि मैं निर्दोष हूं। आलम ने कहा कि उन्हें गर्व है कि उन्होंने दुनिया के सामने उनकी दोस्ती को स्वीकार किया था।

पंजाब के उपमुख्यमंत्री और गृह विभाग का प्रभार संभाल रहे सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने पिछले सप्ताह कहा था कि आलम का पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी के साथ कोई संबंध है या नहीं इसकी जांच की जाएगी। वहीं, अरूसा आलम ने मंगलवार को कहा कि वह इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस (आईएसआई) के साथ अपने कथित संबंधों को लेकर भारतीय एजेंसियों की जांच में सहयोग करने के लिए तैयार हैं। साथ ही आलम ने इन आरोपों को अपमानजनक और बेहद निराशाजनक बताया। 

उन्होंने कहा था कि भारत मेरे खिलाफ आधारहीन प्रोपगैंडा की जांच करने के लिए किसी तीसरे देश के जांचकर्ताओं की भी मदद ले सकता है।

67 वर्षीय महिला पत्रकार ने कहा, ‘16 साल पहले जब किन्हीं कारणों से मुझे भारतीय वीजा देने से मना कर दिया गया था, उस वक्त भारत सरकार ने ऐसी जांच की थी और बाद में वीजा जारी किया गया था और तबस लेकर हर साल मुझे एक साल का वीजा ड्यू क्लीयरेंस के बाद मिलता था। पत्रकार ने कहा कि वह अंतिम बार नवंबर में भारत यात्रा पर गयी थीं। उन्होंने कहा कि पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह अभी भी उनके अच्छे मित्र हैं।

उन्होंने कहा, ‘इस विवाद के बावजूद कैप्टन साहिब अभी भी मेरे अच्छे मित्र हैं।’ उन्होंने कटाक्ष किया कि उनके माध्यम से आईएसआई ने आखिर क्या ‘राज’ हासिल कर लिया होगा। उन्होंने गुस्से में कहा, ‘ये आरोप अपमानजनक और बेहद निराशाजनक हैं।’

वहीं, ‘इंडियन एक्सप्रेस’ से फोन पर बात करते हुए अरूसा आलम ने कहा कि मुझे विश्वास नहीं हो रहा है कि वे इतना नीचे गिर सकते हैं। सुखजिंदर रंधावा, पीपीसीसी प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी पत्नी (नवजोत कौर सिद्धू) बहुत बड़े घाघ हैं। वे कैप्टन को शर्मिंदा करने के लिए मेरा इस्तेमाल करने की कोशिश कर रहे हैं। मैं उनसे पूछना चाहती हूं कि क्या वे इतने बदहवास हो गए हैं कि उन्हें अपने राजनीतिक मंसूबों के लिए मेरे नाम का इस्‍तेमाल करना पड़ रहा है।

अरूसा ने आगे कहा कि मेरे पास उनके लिए एक मैसेज है। कृपया बड़े हो जाओ और अपने घर को व्यवस्थित करो। पंजाब में कांग्रेस अपनी अंदरुनी साजिश के चलते जमीन खो चुकी है। उन्होंने विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री पद से हटाने का जिक्र करते हुए सवाल किया कि युद्ध के बीच में अपने सेनापति को कौन बदलता है?

उन्होंने कहा कि अब कृपया अपनी लड़ाई अपने दम पर लड़ें, आप मुझे इस पंजाब कांग्रेस और सरकार के झमेले में क्यों घसीट रहे हैं?

इसके अलावा अरूसा आलम ने कहा कि वह पंजाब कांग्रेस के नेताओं से बेहद निराश हैं और वापस कभी भारत नहीं आएंगी, क्योंकि वह पूरे घटनाक्रम से आहत हैं और उनका दिल टूट गया है।

बता दें कि अरूसा आलम पाकिस्तानी पत्रकार हैं, जो रक्षा संबंधी मामलों को कवर करती हैं। अरूसा आलम कैप्टन अमरिंदर सिंह की करीबी दोस्त रही हैं। कैप्टन के मुख्यमंत्री रहते हुए अरूसा आलम कई सालों तक पंजाब में रही हैं।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘दूरदर्शन’ से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार रजनीश त्रिपाठी, मिली यह जिम्मेदारी

पूर्व में वह ‘जी’, ‘महुआ चैनल’ और ‘सीएनबीसी आवाज’ समेत कई बड़े मीडिया संस्थानों में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 27 October, 2021
Last Modified:
Wednesday, 27 October, 2021
Rajneesh Tripathi

वरिष्ठ पत्रकार रजनीश त्रिपाठी ने ‘दूरदर्शन’ के साथ अपने नए सफर की शुरुआत की है। उन्होंने ‘डीडी न्यूज’ (DD News) में बतौर सीनियर करेसपॉन्डेंट जॉइन किया है। इससे पहले रजनीश त्रिपाठी न्यूज एजेंसी ‘एएनआई’ (ANI) में करेंसपॉन्डेंट के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।  

बता दें कि रजनीश त्रिपाठी की  सरकार, भाजपा और आरएसएस पर गहरी पकड़ है। उन्होंने अब तक तमाम बड़ी खबरें ब्रेक की हैं। इसके अलावा, नक्सली इलाकों, जम्मू-कश्मीर के हिंसाग्रस्त इलाकों से भी उन्होंने रिपोर्टिंग की है। पुलवामा अटैक के बाद उन्होंने वहां जाकर ग्राउंड रिपोर्टिंग की थी।

मूल रूप से अमेठी (उत्तर प्रदेश) के रहने वाले रजनीश त्रिपाठी को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 15 साल का अनुभव है। पूर्व में वह ‘जी’, ‘महुआ चैनल’ और ‘सीएनबीसी आवाज’ समेत कई बड़े मीडिया संस्थानों में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो रजनीश त्रिपाठी ने इलाहाबाद विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन करने के साथ ही मास कम्युनिकेशन में पीजी डिप्लोमा किया है। समाचार4मीडिया की ओर से रजनीश त्रिपाठी को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार शोभित चतुर्वेदी ने इस न्यूज चैनल के साथ शुरू किया नया सफर

उन्होंने आगरा में बतौर प्रिंसिपल करेसपॉन्डेंट जॉइन किया है। पूर्व में वह करीब नौ साल तक ‘ईटीवी’ (न्यूज18) और लगभग चार साल तक ‘जी मीडिया’ में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 27 October, 2021
Last Modified:
Wednesday, 27 October, 2021
Shobhit Chaturvedi

पत्रकार शोभित चतुर्वेदी ने ‘भारत समाचार’ (Bharat Samachar) न्यूज चैनल के साथ अपनी नई पारी की शुरुआत की है। उन्होंने आगरा में बतौर प्रिंसिपल करेसपॉन्डेंट जॉइन किया है। शोभित चतुर्वेदी को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का काफी अनुभव है। ‘भारत समाचार’ से पहले वह करीब नौ साल तक ‘ईटीवी’ (न्यूज18) में सीनियर रिपोर्टर और करीब चार साल तक ‘जी मीडिया’ में सीनियर रिपोर्टर के पद पर अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

‘ईटीवी’ में उन्होंने प्रयागराज महाकुंभ कवर किया, जिसमें उन्हें बेस्ट रिपोर्टिंग के लिए मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित भी किया गया। केदारनाथ में आई प्राकृतिक आपदा में कठिन परिस्थितियों में भी शोभित ने धारदार रिपोर्टिंग की, जिसके लिए भी इन्हें सम्मानित किया गया।

सरकार द्वारा मान्यता प्राप्त पत्रकार शोभित चतुर्वेदी ने जहां तत्कालीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का ‘वन टू वन’ साक्षात्कार किया, वहीं उत्तराखंड के तत्कालीन मुख्यमंत्री रमेश पोखरियाल निशंक और विजय बहुगुणा का भी साक्षात्कार किया। इसके अलावा ‘जी’ में रहते हुए शोभित ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का भी इंटरव्यू किया। समाचार4मीडिया की ओर से शोभित चतुर्वेदी को उनकी नई पारी के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ZEEL से जुड़े इस मामले में HC के फैसले से इनवेस्को को लगा तगड़ा झटका

बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) से जी एंटरटेनमेंट (ZEEL) की सबसे बड़ी शेयरहोल्डर इनवेस्को को तगड़ा झटका लगा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 26 October, 2021
Last Modified:
Tuesday, 26 October, 2021
Zee Entertainment

बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) से जी एंटरटेनमेंट (ZEEL) की सबसे बड़ी शेयरहोल्डर इनवेस्को को तगड़ा झटका लगा है। हाई कोर्ट ने जी के शेयर होल्डर्स की एक्स्ट्राआर्डिनरी जनरल मीटिंग (EGM) बुलाने पर रोक लगा दी है।

बता दें कि कंपनी के शेयरहोल्डर इनवेस्को डेवलपिंग मार्केट फंड्स और OFI ग्लोबल चाइना फंड ने ईजीएम मीटिंग बुलाने की मांग रखी थी, जिसके बाद से ही दोनों के बीच इस मुद्दे को लेकर विवाद चल रहा है। जी एंटरटेनमेंट ने EGM बुलाने की मांग को चुनौती देते हुए इसे गैरकानूनी और अवैध बताया था।

इससे पहले बॉम्बे हाई कोर्ट ने Zee बोर्ड को एक्सट्रा ऑर्डिनरी मीटिंग बुलाने की सलाह दी थी। बॉम्बे हाई कोर्ट ने 21 अक्टूबर को इस मामले पर सुनवाई की थी।

बॉम्बे हाई कोर्ट ने EGM में पारित प्रस्ताव को तब तक सुरक्षित रखने का निर्देश भी दिया था, जब तक ईजीएम बुलाने की मांग वैध है या नहीं, इस पर फैसला नहीं हो जाता। अब कोर्ट ने EGM बुलाने की अर्जी को खारिज कर दिया है।

गौरतलब है कि जी एंटरटेनमेंट के एमडी व सीईओ पुनीत गोयनका के अलावा डायरेक्टर अशोक कुरियन और मनीष चोखानी को हटाने के लिए इनवेस्को ने ईजीएम बुलाने की मांग की थी। कुरियन और चोखानी पहले ही अपने पद से इस्तीफा दे चुके हैं। इनवेस्को ने 6 नए निदेशकों की नियुक्ति करने की भी मांग की थी।

 

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TV Today Network ने इस न्यूज पोर्टल पर लगाए गंभीर आरोप, मांगा दो करोड़ का हर्जाना

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, दिल्ली हाई कोर्ट में दर्ज कराए गए इस मामले में 28 अक्टूबर को सुनवाई हो सकती है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 26 October, 2021
Last Modified:
Tuesday, 26 October, 2021
TV Today Network.

‘इंडिया टुडे’ (India Today) और  ‘आजतक’ (Aajtak) न्यूज चैनल्स के स्वामित्व वाले ‘टीवी टुडे नेटवर्क’ (TV Today Network) ने ‘न्यूजलांड्री’ (News Laundry) न्यूज पोर्टल, इसके प्रबंधन और वरिष्ठ संपादकीय सहयोगियों के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज कराया है। इसके साथ ही  ‘टीवी टुडे नेटवर्क’ ने अपने न्यूज एंकर्स, मैनेजमेंट और एंप्लॉयीज को ‘बदनाम’ करने के लिए क्षतिपूर्ति के रूप में दो करोड़ रुपये से ज्यादा का हर्जाना मांगा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, दिल्ली हाई कोर्ट में दर्ज कराए गए इस मामले में 28 अक्टूबर को सुनवाई हो सकती है। दर्ज मुकदमे में ‘टीवी टुडे नेटवर्क’ ने आरोप लगाया है कि न्यूजलॉन्ड्री ने अपनी वेबसाइट और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर विभिन्न वीडियो अपलोड किए हैं, जिनमें उसने ‘टीवी टुडे’ नेटवर्क’ के कॉपीराइट का उल्लंघन किया है। इसके साथ ही दुर्भावनापूर्ण रूप से मीडिया ग्रुप के मैनेजमेंट और इसके द्वारा संचालित चैनल्स की न्यूज, रिपोर्टिंग और न्यूज एंकर्स के बारे में असत्य, अनुचित और अपमानजनक टिप्पणी की है।

यह भी आरोप है कि न्यूजलॉन्ड्री ने उसके (टीवी टुडे नेटवर्क के) द्वारा तैयार अथवा प्रसारित तमाम मूल कार्यक्रमों के अधिकांश हिस्सों को दोबारा से तैयार अथवा पब्लिश किया है, जो कॉपीराइट का उल्लंघन है। ‘टीवी टुडे’ नेटवर्क’ द्वारा दर्ज कराए गए केस में न्यूजलॉन्ड्री मीडिया प्राइवेट लिमिटेड के अलावा, इसके सह-संस्थापक अभिनंदन सेखरी, निदेशक प्रशांत सरीन, निदेशक रूपक कपूर, कार्यकारी संपादक मनीषा पांडे, संवाददाता आयुष तिवारी, स्तंभकार हृदयेश जोशी और कार्यकारी संपादक अतुल चौरसिया व रमन कृपाल को प्रतिवादी बनाया गया है।

वहीं, न्यूजलॉन्ड्री के सह-संस्थापक और मामले में प्रतिवादियों में से एक, सेखरी ने कहा कि किसी के बारे में रिपोर्ट करना मानहानिकारक नहीं है। उनका कहना है कि यदि कोई न्यूज वेबसाइट न्यूज की आलोचना करने, उस पर टिप्पणी करने या उसका विश्लेषण करने के लिए किसी अन्य मीडिया संस्थान की फुटेज का उपयोग करती है, तो यह कॉपीराइट उल्लंघन का मामला नहीं है। इस तरह की शिकायतों के पीछे की मंशा उन्हें काम करने से रोकना है।

इसके साथ ही सेखरी ने कहा है कि इंडिया टुडे के बार-बार कॉपीराइट उल्लंघन के आरोपों के बाद उनके यूट्यूब चैनल को फ्रीज कर दिया गया है। इस बारे में पोर्टल की ओर से यूट्यूब को जवाब भेज दिया गया है। सेखरी के अनुसार, ‘शुक्रवार को उनकी इस मामले पर यूट्यूब से बातचीत हुई थी, जिसमें यूट्यूब ने कहा कि उन्होंने अन्य पक्ष को जवाब भेज दिया है और इसके बाद ही चैनल को रिस्टोर करने में लगभग दस दिन का समय लग सकता है।’ बता दें कि ‘टीवी टुडे नेटवर्क’ से पहले ‘न्यूजलॉन्ड्री’ पर ‘बेनेट कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड’ (BCCL) यानी ‘टाइम्स ग्रुप’ द्वारा भी 100 करोड़ रुपये का मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया जा चुका है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूज18 से जुड़े युवा पत्रकार कामिर कुरैशी, मिली यह जिम्मेदारी

इससे पहले कामिर करीब चार साल से ‘सहारा समय‘ न्यूज चैनल के आगरा ब्यूरो में बतौर रिपोर्टर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 26 October, 2021
Last Modified:
Tuesday, 26 October, 2021
Kamir Quaraishi

आगरा के युवा पत्रकार कामिर कुरैशी ने ‘न्यूज18’ (News18) के साथ अपनी नई पारी की शुरुआत की है। कामिर ने आगरा में बतौर रिपोर्टर जॉइन कर लिया है। बता दें कि इससे पहले कामिर करीब चार साल से ‘सहारा समय‘ न्यूज चैनल के आगरा ब्यूरो में बतौर रिपोर्टर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

कामिर कुरैशी को इलेक्ट्रॉनिक के साथ ही प्रिंट और डिजिटल का भी अच्छा अनुभव है। कामिर ‘हिंदुस्तान‘ अखबार के डिजिटल प्लेटफार्म ‘लाइव हिंदुस्तान‘, ‘इंडिया टुडे‘ व ‘जीएनबीसी 24×7‘ समेत कई मीडिया संस्थानों में प्रमुख भूमिका निभा चुके हैं।

कामिर के पिता सिराज कुरैशी व बड़े भाई समीर कुरैशी की गिनती देश के जाने-माने पत्रकारों में होती है। सिराज कुरैशी इस समय ‘इंडिया टुडे‘ के लिए लिखते हैं व समीर कुरैशी ‘राष्ट्रीय सहारा‘ अखबार में बतौर ब्यूरो प्रमुख अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं।

समाचार4मीडिया की ओर से कामिर कुरैशी को उनकी नई पारी के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ खेल पत्रकार बोरिया मजूमदार ने India Today में इस बड़े पद को छोड़ने का लिया फैसला

मजूमदार करीब नौ साल से इंडिया टुडे से जुड़े थे। उन्होंने सोशल मीडिया पर भी यह जानकारी शेयर की है।

Last Modified:
Monday, 25 October, 2021
boria majumdar

जाने-माने खेल पत्रकार, लेखक और शिक्षाविद बोरिया मजूमदार ने ‘इंडिया टुडे’ (India Today) समूह में अपनी पारी को विराम देने का फैसला किया है। मजूमदार करीब नौ साल से ’इंडिया टुडे’ से जुड़े थे और बतौर कंसल्टिग एडिटर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

मजूमदार ने हमारी सहयोगी वेबसाइट ’एक्सचेंज4मीडिया’ (exchange4media) से खुद इसकी पुष्टि की है। उन्होंने कहा है, ‘यह नई संभावनाओं और अवसरों का पता लगाने का समय है।’ इसके साथ ही मजूमदार ने ट्विटर पर भी यह जानकारी शेयर की है।

एक ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ‘इंडिया टुडे के साथ मेरे शानदार सफर को आज नौ साल पूरे हो गए हैं। यह मेरा बहुत अच्छा समय रहा। वे अपने खेल को गंभीरता से लेते हैं और यह सबसे अच्छी बात है। मैं कुछ नई संभावनाएं तलाशने की कोशिश कर रहा हूं और यहां अपनी बहुत सारी यादों को छोड़ जा रहा हूं और कुछ जीवन भर की दोस्ती।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पाकिस्तानी टीम से हार के बाद पत्रकार के इस सवाल पर ‘भड़के’ विराट कोहली, दिया ये जवाब

दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में रविवार को खेले गए आईसीसी टी-20 विश्व कप मैच में पाकिस्तान ने भारतीय टीम को दस विकेट से हरा दिया।

Last Modified:
Monday, 25 October, 2021
Virat Kohli

दुबई इंटरनेशनल स्टेडियम में रविवार को खेले गए आईसीसी टी-20 विश्व कप मैच में पाकिस्तान ने भारतीय टीम को दस विकेट से हरा दिया। हालांकि, भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली ने इस पारी में अर्धशतक जमाया, लेकिन उनकी ये शानदार पारी टीम के काम नहीं आई और भारत को हार का सामना करना पड़ा।

यह पहला मौका है, जब पाकिस्तान ने आईसीसी विश्व कप मैच में भारत को हराया है। इस मैच के बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेंस में भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली एक पत्रकार के सवाल पर नाराज हो गए। हालांकि बाद में वह अपना मुंह दूसरी तरफ करके हंसने लगे।

दरअसल, हुआ यूं कि इस प्रेस वार्ता के दौरान इस पत्रकार ने विराट कोहली से पूछ लिया कि क्या हार के बाद वह टीम के चयन में किसी तरह की खामी देखते हैं? क्या उनको लगता है कि आईपीएल के अंत में और फिर अभ्यास मैचों में लय में दिखाने वाले ईशान किशन को रोहित शर्मा की जगह खिलाया जा सकता था?  

बस, सुनना था कि कोहली नाराज हो गए। उन्होंने कहा, ‘ये तो बहुत बहादुरी वाला सवाल है। आप क्या सोचते हैं सर? मैं तो उस टीम के साथ उतरा जो मुझे लगता था कि सर्वश्रेष्ठ थी, आपकी क्या राय है? क्या आप रोहित शर्मा को टी20 अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में टीम से बाहर रख सकते हैं? आपको याद होगा कि पिछली बार मैच में उन्होंने कैसा खेला था, अविश्वसनीय।‘ इसके बाद वह हंसने लगे और हंसते-हंसते अपना सिर पकड़कर बोले कि अगर आपको कोई विवाद चाहिए तो पहले से बता दीजिए।

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

बदले की भावना से काम कर रहा है इनवेस्को, कंपनी बोर्ड पर करना चाहता है कब्जा: पुनीत गोयनका

NCLT को दिए हलफनामे में गोयनका ने आरोप लगाया कि ZEEL के SPNI के साथ विलय को रोकने के लिए कंपनी बोर्ड पर नियंत्रण चाहता है इनवेस्को

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 23 October, 2021
Last Modified:
Saturday, 23 October, 2021
Punit Goenka

'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ पुनीत गोयनका ने आरोप लगाया है कि अपना प्रस्ताव ठुकरा दिए जाने के कारण निवेशक 'इनवेस्को' (Invesco) उन्हें कंपनी के बोर्ड से बाहर करना चाहता है।

बता दें कि स्टॉक एक्सचेंज को दी गई सूचना में 'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ ने कहा था कि ‘इनवेस्को डेवलपिंग मार्केट फंड्स’ ने पहले उन्हें एक बड़े भारतीय समूह के साथ कंपनी का विलय करने की पेशकश की थी। लेकिन ‘जी‘ के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी पुनीत गोयनका ने इस प्रस्ताव को ठुकरा दिया था। उन्होंने दावा किया कि ऐसा शेयरधारकों के मूल्यों की रक्षा के लिए किया गया था।

एक प्रमुख अंग्रेजी अखबार के मुताबिक, गोयनका ने नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) को दिए एक हलफनामे में आरोप लगाया कि ZEEL के SPNI के साथ विलय को रोकने के लिए इनवेस्को कंपनी बोर्ड पर अपना नियंत्रण चाहता है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि कंपनी के बोर्ड में बड़े परिवर्तन की इनवेस्को की मांग उन्हें अपने प्रस्ताव को ठुकराने के कारण सबक सिखाने के लिए थी।

गोयनका का कहना है, ‘वे स्पष्ट रूप से मुझ पर दबाव डालना चाहते थे कि उनके द्वारा प्रस्तुत डील को पूरा करने के लिए ZEE का समर्थन प्राप्त किया जाए, जबकि ZEE या उसके प्रबंधन की इस बातचीत में कोई भूमिका नहीं थी। यह आरोप कि सौदा इस आधार पर आगे नहीं बढ़ा कि मेरे या प्रमोटर समूह द्वारा वारंट की मांग की गई थी, निराधार है।’

पुनीत गोयनका ने दावा किया कि इनवेस्को कंपनी के बोर्ड पर नियंत्रण की मांग कर रहा है और ‘सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया’ (SPNI) के साथ प्रस्तावित विलय को तोड़ने की कोशिश कर रहा है। इनवेस्को द्वारा उन्हें बोर्ड से हटाने की मांग के लिए नोटिस जारी करना दुर्भावना और बदले की कार्रवाई से प्रेरित प्रतीत होता है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि इनवेस्को ZEE और सार्वजनिक शेयरधारकों के हित में काम नहीं कर रहा है।

इस हलफनाम में यह भी कहा गया है, ‘इनवेस्को किसी तीसरे पक्ष के इशारे पर ZEE के प्रबंधन में हस्तक्षेप करने और उसे बदलने के अपने वास्तविक उद्देश्यों को छिपा रहा है। अपने कार्यों को कॉरपोरेट गवर्नेंस'  का मामला बताकर वह अपने निहित हित साधने का प्रयास कर रहा है।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इंडियन ब्रॉडकास्टिंग एंड डिजिटल फाउंडेशन में फिर इस बड़े पद पर चुने गए के. माधवन

देश में टेलिविजन ब्रॉडकास्टर्स और डिजिटल स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म्स के प्रतिनिधित्व वाले प्रमुख संगठन ‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग एंड डिजिटल फाउंडेशन‘ की 22वीं वार्षिक आम बैठक में यह निर्णय लिया गया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 23 October, 2021
Last Modified:
Saturday, 23 October, 2021
IBDF

देश में टेलिविजन ब्रॉडकास्टर्स और डिजिटल स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म्स के प्रतिनिधित्व वाले प्रमुख संगठन ‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग एंड डिजिटल फाउंडेशन‘ (Indian Broadcasting and Digital Foundation) ने ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी इंडिया’ (The Walt Disney India) और ‘स्टार इंडिया’ (Star India) के कंट्री मैनेजर व प्रेजिडेंट के. माधवन (K Madhavan) को दोबारा से अपना प्रेजिडेंट चुना है। दूसरी बार इस संगठन के प्रेजिडेंट के लिए चुना गया है। संगठन की 22वीं वार्षिक आम बैठक में के. माधवन को दूसरे कार्यकाल के लिए इसके प्रेजिडेंट के रूप में चुना गया है।

इस बारे में के. माधवन का कहना है, ‘दूसरे कार्यकाल का नेतृत्व करने के लिए आईडीबीएफ के सदस्यों ने मुझ पर जो भरोसा और विश्वास जताया है, उसके लिए मैं काफी अभिभूत हूं। हम एक ऐसे मोड़ पर हैं जहां, कंज्यूमर, रेगुलेटरी और टेक्नोलॉजी ट्रेंड्स का संयोजन मीडिया परिदृश्य और पारिस्थितिकी तंत्र को फिर से तैयार कर रहा है। मैं देश में ब्रॉडकास्ट और डिजिटल मीडिया सेक्टर के विकास में तेजी लाने के लिए सरकार, इंडस्ट्री और अन्य हितधारकों (stakeholders) के साथ काम करना जारी रखने की उम्मीद करता हूं।’

बता दें कि वार्षिक आम बैठक में फाउंडेशन के सदस्यों ने निम्नलिखित सदस्यों को ‘आईबीडीएफ‘ के बोर्ड में फिर से चुना है:

1:- अरुण पुरी, चेयरमैन, टीवी टुडे नेटवर्क

2:-  शशि शेखर वेम्पती, सीईओ, प्रसार भारती

3:-  राहुल जोशी, मैनेजिंग डायरेक्टर, वायकॉम18

4:- केविन वज, प्रेजिडेंट और हेड-नेटवर्क एंटरटेनमेंट चैनल्स, स्टार और डिज्नी इंडिया (Representing Asianet Star Communications)

‘सन नेटवर्क’ (Sun Network) के एमडी आर. महेश कुमार की आकस्मिक रिक्ति (Casual Vacancy) के तहत बोर्ड में निदेशक के रूप में नियुक्ति को भी फाउंडेशन के सदस्यों द्वारा अनुमोदित किया गया है।

बाद में हुई बोर्ड बैठक में निम्नलिखित पदाधिकारियों का चुनाव किया गया है।

1:- वाइस प्रेजिडेंट-आईबीडीएफ (न्यूज और करेंट अफेयर्स)- रजत शर्मा, चेयरमैन, इंडिया टीवी

2:- वाइस प्रेजिडेंट-आईबीडीएफ (गवर्नमेंट एंड रेगुलेटरी अफेयर्स)- राहुल जोशी, मैनेजिंग डायरेक्टर, वायकॉम18

3:- वाइस प्रेजिडेंट-आईबीडीएफ (सेक्टरल ग्रोथ)- शशि शेखर वेम्पती, सीईओ, प्रसार भारती

4:- कोषाध्यक्ष-आईबीडीएफ- पुनीत मिश्रा-प्रेजिडेंट (कंटेंट एंड इंटरनेशनल बिजनेस), जी एंटरटेनमेंट

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए