टाइम्स ग्रुप में इस बड़े पद से संदीप दहिया ने दिया इस्तीफा

आठ साल से ज्यादा समय से इस समूह के साथ जुड़े हुए थे संदीप दहिया, सुचारु परिवर्तन के लिए वह नवंबर के मध्य तक समूह के साथ बने रहेंगे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 27 September, 2021
Last Modified:
Monday, 27 September, 2021
Sandeep Dahiya

‘टाइम्स समूह’ के वेंचर ‘टाइम्स लाइफस्टाइल एंटरप्राइज’ (Times Lifestyle Enterprise) के सीईओ और ‘बेनेट कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड’ के डायरेक्टर (ब्रैंड एक्सटेंशंस) संदीप दहिया ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। वह सुचारु परिवर्तन के लिए नवंबर के मध्य तक समूह के साथ बने रहेंगे। दहिया इस समूह के साथ आठ साल से ज्यादा समय से जुड़े हुए थे और अपनी इस पारी के दौरान उन्होंने टाइम्स के पुराने ब्रैंड्स को नई उपभोक्ता श्रेणियों में लॉन्च करने का नेतृत्व किया।

उनके नेतृत्व में पिछले पांच वर्षों में ‘फेमिना’ (Femina) ब्रैंड्स 25 से अधिक शहरों में शॉपर्स स्टॉप के भीतर सबसे अधिक बिकने वाले महिलाओं के फैशन ब्रैंड्स में शुमार हो गया। दहिया के नेतृत्व में ही ‘टाइम्स लाइफस्टाइल एंटरप्राइज’ ने ‘फेमिना फ्लॉन्ट’ (Femina Flaunt) को ब्यूटी सैलून सेगमेंट में लॉन्च किया। पिछले 18 महीनों में, फेमिना फ्लॉन्ट स्टूडियो सैलून का तेजी से विस्तार हुआ, जिसमें 25 से अधिक फ्रैंचाइज़ी सैलून के करार हुए और पांच फ्रैंचाइज़ी आउटलेट लॉन्च किए गए।

इस बारे में दहिया का कहना है, ‘इस समूह के साथ पिछले आठ वर्षों का मेरा सफर काफी शानदार रहा। विनीत जैन के साथ नजदीक से काम करना मेरे लिए सौभाग्य की बात है और मुझे यहां काफी कुछ सीखने को मिला, जिसके लिए मैं उन्हें धन्यवाद देता हूं। फैशन और ब्यूटी स्पेस में काफी कुछ हो रहा है और मेरे लिए नए चुनौतीपूर्ण रास्ते तलाशने का वक्त आ गया है।’ बता दें कि दहिया को 25 साल से ज्यादा का अनुभव है। ‘टाइम्स ग्रुप’ में आने से पहले वह ‘वायकॉम18’ में अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

'IMPACT Person of the Year' अवॉर्ड ने फिर दी दस्तक, देखें नॉमिनीज की लिस्ट

एक्सचेंज4मीडिया ग्रुप द्वारा हर साल दिए जाने वाले ‘इंपैक्ट पर्सन ऑफ द ईयर’ (IMPACT Person of the Year) अवॉर्ड ने एक बार फिर दस्तक दी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 22 January, 2022
Last Modified:
Saturday, 22 January, 2022
IPOY 2021

एक्‍सचेंज4मीडिया (exchange4media) ग्रुप द्वारा मीडिया, मार्केटिंग और एडवर्टाइजिंग के क्षेत्र में बेहतरीन योगदान देने और ऊंचाइयों को छूने वालों को हर साल दिए जाने वाले ‘इंपैक्‍ट पर्सन ऑफ द ईयर’ (IMPACT Person of the Year) अवॉर्ड ने एक बार फिर दस्तक दी है। ‘इंपैक्ट पर्सन ऑफ द ईयर अवॉर्ड’ वर्ष 2005 में शुरू हुआ था और अब यह इसका 17वां एडिशन होगा। जल्द ही इस कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। 

इस साल इस अवॉर्ड के लिए नॉमिनीज की लिस्ट में ‘रिलायंस रिटेल वेंचर्स’ की डायरेक्टर ईशा अंबानी और ‘रिलायंस जियो‘ के डायरेक्टर आकाश अंबानी, ‘द गुड ग्लैम ग्रुप’ के ग्रुप फाउंडर और सीईओ दर्पण संघवी, ‘मीशो’ के फाउंडर और सीईओ विदित आत्रे, ‘ड्रीम11‘ के को-फाउंडर्स हर्ष जैन और भावित सेठ, ‘शेयरचैट‘ के को-फाउंडर्स अंकुश सचदेवा, भानु प्रताप सिंह और फरीद अहसान, ‘एको‘ के फाउंडर वरुण दुआ, ‘ब्लिंकिट’ के को-फाउंडर्स अलबिंदर ढींढसा और सौरभ कुमार, ‘जेरोधा’ के को-फाउंडर्स निखिल कामत और नितिन कामत, ‘मामाअर्थ’ के को-फाउंडर्स गजल अलघ और वरुण अलघ, ‘मोबीक्विक’ के को-फाउंडर्स उपासना टाकू और बिपिन प्रीत सिंह, ‘मॉम्स कंपनी’ की फाउंडर और सीईओ मल्लिका दत्त सादानी व ‘गपशप’ के को-फाउंडर और सीईओ बीरुद शेठ शामिल हैं। 

बता दें कि इससे पहले यह अवॉर्ड ‘ आईटीसी लिमिटेड’ (ITC Limited) के चेयरमैन और एमडी संजीव पुरी, ‘Byju’s’ के फाउंडर और सीईओ बायजू रवींद्रन, ‘Google India’ के पूर्व एमडी राजन आनंदन, ‘Patanjali Ayurved‘ के बाबा रामदेव, ‘Paytm‘ के फाउंडर और सीईओ विजय शेखर शर्मा, ‘Times Now और ET Now’ के पूर्व प्रेजिडेंट और एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी, ‘Zee Entertainment Enterprises Ltd‘ के एमडी और सीईओ पुनीत गोयनका, ‘Times Group‘ के एमडी विनीत जैन, पूर्व सूचना-प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी, ‘Taproot India‘ के फाउंडर एजनेलो डायस, ‘Network18 और Viacom18‘ के पूर्व ग्रुप सीईओ हरीश चावला, ‘Star India‘ के पूर्व सीईओ उदय शंकर, ‘Network18’ के फाउंडर राघव बहल और ‘CNN-IBN‘ के पूर्व एडिटर-इन-चीफ राजदीप सरदेसाई को मिल चुका है।

‘इंपैक्‍ट पर्सन ऑफ द ईयर अवॉर्ड 2021 के लिए नॉमिनीज की पूरी लिस्ट आप यहां देख सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

लाइव रिपोर्टिंग के दौरान महिला रिपोर्टर का हुआ एक्सीडेंट, वीडियो हुआ वायरल

लाइव रिपोर्टिंग के दौरान कई बार टीवी पर रिपोर्टर के साथ होने वाली अजीबोगरीब घटनाएं देखने को मिल जाती हैं।

Last Modified:
Friday, 21 January, 2022
Reporter45453

लाइव रिपोर्टिंग के दौरान कई बार टीवी पर रिपोर्टर के साथ होने वाली अजीबोगरीब घटनाएं देखने को मिल जाती हैं। कुछ ऐसा ही अजीबोगरीब वाक्या वेस्ट वर्जीनिया के डनबर में एक टीवी रिपोर्टर (TV reporter) के साथ देखने को मिला। दरअसल, लाइव प्रसारण के दौरान महिला रिपोर्टर को एक कार ने टक्कर मार दी, लेकिन इसके बावजूद भी वह रिपोर्टिंग करना जारी रखती है। रिपोर्टर के यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है, और कोई उनके काम की तरीफ कर रहा है।

रिपोर्टर का नाम तोरी योर्गी है और वह वेस्ट वर्जीनिया के डब्लूएसएजेड-टीवी चैनल से जुड़ी हैं। योर्गी को एक कार ने तब टक्कर मार दी, जब वह स्टूडियो में एंकर टिम इर के साथ लाइव रिपोर्टिंग कर रही थीं। टक्कर इतनी तेज थी कि वह जमीन पर गिर गईं, लेकिन इस दौरान उन्होंने बोलना बंद नहीं किया। वह फिर से उठकर कैमरे के सामने आ गईं, लेकिन तब तक उन्होंने बोलना जारी रखा।

टक्कर मारे जाने के कुछ सेकंड बाद योर्गी को यह कहते हुए सुना जा सकता है, ‘मुझे अभी एक कार ने टक्कर मार दी है, लेकिन मैं ठीक हूं, टिम’ इस घटना के दौरान उस महिला ड्राइवर ने भी योर्गी से उसका हाल पूछा, जिसने योर्गी को टक्कर मारी थी।

महिला ड्राइवर ने योर्गी से पूछा कि क्या आप ठीक हो? तो योर्गी ने जवाब दिया कि हां मैं बिल्कुल ठीक हूं। एंकर ने भी टोरी से पूछा कि क्या तुम ठीक हो? योर्गी ने घटना के बाद फिर से कैमरे के सामने आते हुए कहा, मैं अभी एक कार से टकरा गई हूं, लेकिन खुशनसीब हूं कि मैं पूरी तरह से ठीक हूं।

इस वीडियो को टिमोथी बर्क नाम के एक यूजर द्वारा ट्विटर पर शेयर किया गया था। इस क्लिप को 36 लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है और इसे 28,000 बार लाइक किया जा चुका है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कश्मीर प्रेस क्लब के मामले में मिलकर आगे आए दस पत्रकार संगठन, रखी ये मांग

जम्मू कश्मीर में 'कश्मीर प्रेस क्लब' (केपीसी) को बंद किए जाने के मामले में इसे दोबारा शुरू किए जाने की मांग को लेकर 10 प्रमुख पत्रकार संगठनों ने आपस में हाथ मिलाया है।

Last Modified:
Friday, 21 January, 2022
Kashmir Press Club

जम्मू कश्मीर में ‘कश्मीर प्रेस क्लब’ (केपीसी) को बंद किए जाने के मामले में इसे दोबारा शुरू किए जाने की मांग को लेकर 10 प्रमुख पत्रकार संगठनों ने आपस में हाथ मिलाया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस मीडिया गठबंधन ‘Kashmir Media Coalition’ ने प्रशासन से स्पष्टीकरण की मांग की है कि प्रेस क्लब के पुन: पंजीकरण को क्यों रोक दिया गया है।

अल्ताफ हुसैन, नजीर मसूदी और मुफ्ती इस्लाह सहित कश्मीर के पत्रकारों की एक बैठक में गठबंधन ने इस ‘अधिग्रहण’ और क्लब के अंत में बंद होने की निंदा की है। उन्होंने इस मामले में समर्थन के लिए एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया, प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया, इंडियन यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स, फॉरेन करेसपॉन्डेंट क्लब, चेन्नई प्रेस क्लब, कोलकाता प्रेस क्लब, प्रेस क्लब ऑफ इंडिया, मुंबई प्रेस क्लब, दिल्ली यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स और रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स आदि मीडिया संगठनों का आभार जताया है।

बता दें कि कश्मीर प्रेस क्लब में मैनेजमेंट को लेकर दो गुटों में जारी लड़ाई के बीच जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सोमवार को कश्मीर प्रेस क्लब के लिए आवंटित परिसर को ही वापस ले लिया है। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करके कहा था, ‘पत्रकारों के विभिन्न समूहों के बीच असहमति और अप्रिय घटनाओं के बीच यह फैसला किया गया है कि श्रीनगर के पोलो व्यू स्थित कश्मीर प्रेस क्लब को आवंटित परिसर का आवंटन रद्द करके परिसर की भूमि और इस पर निर्मित भवन को एस्टेट विभाग को वापस कर दिया जाए।’

प्रशासन के इस फैसले को लेकर ‘एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया‘ समेत तमाम पत्रकार संगठनों ने नाराजगी व्यक्त की है। ‘एडिटर्स गिल्ड‘ ने मंगलवार को एक बयान जारी कर कहा कि वह जम्मू कश्मीर में कश्मीर प्रेस क्लब (केपीसी) के बंद होने से बहुत दु:खी है। कश्मीर प्रेस क्लब की बहाली की मांग करते हुए इस मीडिया गठबंधन ने पंजीकरण प्राधिकरण से स्पष्टीकरण मांगा है कि क्लब के पुन: पंजीकरण को क्यों रोक दिया गया और इसे मनमाने ढंग से बंद क्यों किया गया।

गठबंधन की ओर से जारी पत्र पर हस्ताक्षर करने वालों में अंजुमन उर्दू सहाफत, जम्मू एंड कश्मीर एडिटर्स एसोसिएशन, जम्मू एंड कश्मीर जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन, जम्मू एंड कश्मीर प्रेस एसोसिएशन, जर्नलिस्ट फेडरेशन कश्मीर, कश्मीर जर्नलिस्ट एसोसिएशन, कश्मीर प्रेस फोटोग्राफर्स एसोसिएशन, कश्मीर यूनियन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट्स, कश्मीर वीडियो जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन और कश्मीर वर्किंग जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन शामिल हैं। इस मामले में अब इनकी बैठक 27 जनवरी को होगी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

तरुण तेजपाल की याचिका पर सुनवाई से अलग हुए जस्टिस एल नागेश्वर, बताई ये वजह

तरुण तेजपाल की याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस एल नागेश्वर राव (L Nageswara Rao) ने खुद को अलग कर लिया है।

Last Modified:
Friday, 21 January, 2022
tarun-tejpal986

महिला साथी के साथ कथित यौन शोषण के मामले में घिरे तहलका पत्रिका के पूर्व एडिटर-इन-चीफ तरुण तेजपाल की याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस एल नागेश्वर राव (L Nageswara Rao) ने खुद को अलग कर लिया है। मामले की सुनवाई अब अगले हफ्ते दूसरी बेंच करेगी।

दरअसल,  शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने पत्रकार तरुण तेजपाल की उस याचिका पर सुनवाई करने की मंजूरी दे दी थी, जिसमें उन्होंने बंबई उच्च न्यायालय के एक आदेश को चुनौती दी है। तेजपाल ने 2013 के एक बलात्कार मामले में उन्हे बरी किए जाने को चुनौती देने वाली याचिका की सुनवाई बंद कमरे में करने का अनुरोध किया था, जिसे बंबई उच्च न्यायालय ने ठुकरा दिया था। 

मामला शुक्रवार को जस्टिस एल नागेश्वर राव और जस्टिस बीआर गवई की खंडपीठ के समक्ष रखा गया था। इसके बाद जस्टिस राव ने मामले से हटने का फैसला किया था। दरअसल, राव 2015 में इस मामले में गोवा सरकार की तरफ से पेश हुए थे। तब वह वरिष्ठ वकील थे। उन्होंने कहा कि मैं राज्य की तरफ से इस मामले में 2015 में पेश हुआ था। इसलिए इसे किसी अन्य बेंच के पास ले जाना चाहिए।

तरुण तेजपाल ने कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न अधिनियम के मामलों में बॉम्बे हाई कोर्ट के जस्टिस गौतम पटेल के हालिया आदेश का हवाला देते हुए मामले की बंद कमरे में सुनवाई की मांग की है। तेजपाल की दलील थी कि हर पार्टी को अपना पक्ष उचित तरीके से रखने का अधिकार है। याचिका में कहा गया है कि यह सही नहीं होगा कि वकीलों को इस इस वजह से अपनी दलीलों को कम करना पड़े कि कुछ प्रकाशन बिना मर्जी कुछ भी छाप देंगे। तेजपाल ने कहा कि सीआरपीसी की धारा 327 अब केवल एक वैधानिक दायित्व नहीं है, बल्कि एक मौलिक अधिकार बन गया है।

दरअसल पिछले साल नवंबर में तरुण तेजपाल ने बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसमें ये मांग की गई थी कि 2013 के दुष्कर्म मामले में उन्हें बरी करने को चुनौती देने वाली गोवा सरकार की याचिका की कार्यवाही बंद कमरे में की जाए, जिसे तब हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया था।

बता दें कि पिछले साल 21 मई को एक निचली अदालत ने ‘तहलका’ पत्रिका के पूर्व प्रधान संपादक तेजपाल को दुष्कर्म के मामले में बरी कर दिया था, जिसके बाद गोवा सरकार ने इसके खिलाफ हाई कोर्ट की गोवा पीठ में अपील दाखिल की थी।  अपील में कहा गया था कि इस फैसले के बाद पीड़िता को लगने वाले आघात, उसके चरित्र पर पर उठाए गए सवालों पर कोर्ट ने ध्यान नहीं दिया। कोर्ट में पीड़िता के सबूतों को नजरअंदाज किया गया। सरकार ने यह भी कहा कि अदालत ने बचाव पक्ष के सभी सबूतों को सच माना, जबकि पीड़िता के सबसे अहम सबूत, माफी वाले ई-मेल को नजरअंदाज कर दिया। इसके बाद तेजपाल ने इन-कैमरा हियरिंग के लिए हाई कोर्ट में याचिका लगाई। हालांकि, हाई कोर्ट ने यह याचिका खारिज कर दी थी।

58 साल के पूर्व पत्रकार पर 2013 में एक फाइव स्टार होटल की लिफ्ट में तहलिका मैगजीन के ही एक इवेंट के दौरान सहकर्मी के साथ रेप करने का आरोप लगाया गया था। शिकायतकर्ता के अनुसार, तेजपाल ने 7 नवंबर 2013 को होटल की लिफ्ट में महिला के साथ दुष्कर्म किया और अगले दिन फिर से उसका शोषण करने की कोशिश की। तेजपाल ने अदालत में इन आरोपों का खंडन किया और बाद में उन्हें बरी कर दिया गया। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Disney Star में इस बड़े पद से जुड़े मणि रंगराजन

उन्होंने संजय जैन की जगह ली है, जिन्होंने 16 साल से अधिक समय के बाद कंपनी को अलविदा कह दिया था।

Last Modified:
Friday, 21 January, 2022
Mani Rangarajan

‘डिज्नी स्टार’ (Disney Star) ने मणि रंगराजन को फाइनेंस और स्ट्रैटेजी हेड के पद पर नियुक्त किया है। उन्होंने संजय जैन की जगह ली है, जिन्होंने 16 साल से अधिक समय के बाद कंपनी को अलविदा कह दिया था। जैन ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी’ (The Walt Disney Company) इंडिया के फाइनेंस और बिजनेस ऑपरेशंस हेड के पद पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

‘स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के प्रेजिडेंट और कंट्री मैनेजर के. माधवन (K Madhavan) ने एक इंटरनल मेल में रंगराजन की नियुक्ति की घोषणा की है। स्टार इंडिया के एम्प्लॉयीज को लिखे इस ऑफिशियल ईमेल में उन्होंने लिखा है, ‘मणि रंगराजन को कंपनी में फाइनेंस और स्ट्रैटेजी हेड के रूप में शामिल करने की घोषणा करते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है।’

बता दें कि रंगराजन को इंटरनेट और फाइनेंसियल सर्विस सेक्टर में काम करने का व्यापक वैश्विक अनुभव है। रंगराजन ने अपने करियर की शुरुआत ‘सिटीग्रुप’ (Citigroup) के साथ की थी। वह करीब छह साल तक ‘याहू’ (Yahoo) के साथ काम कर चुके हैं।  

पिछले पांच वर्षों के दौरान रंगराजन तमाम प्रमुख स्टार्ट-अप्स जैसे- Search /SEM (Kosmix, Media Boost, Efficient Frontier), payments, and payment processing (Evergent, Boku, Mobibucks, Rewards Pay), local (Virtual Paper), e-commerce (Climate Corporation, Swoopo), big data (Asterdata, Cloudera), mobile (Roamware) और social media (Ole Ole, Roto Experts) में चीफ फाइनेंसियल ऑफिसर और एग्जिक्यूटिव के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

रंगराजन ने ‘ग्रेजुएट स्कूल ऑफ बिजनेस’ (Graduate School of Business) स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी और भारतीय प्रबंधन संस्थान (Indian Institute of Management) कोलकाता से मैनेजमेंट की डिग्री ली है। वह एक सर्टिफाइड कॉस्ट एंड मैनेजमेंट अकाउंटेंट भी हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Zee Entertainment में इस बड़े पद से जुड़े सिटी नेटवर्क्स के पूर्व CEO अनिल मल्होत्रा

‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) ने मल्टीसिस्टम ऑपरेटर ‘सिटी नेटवर्क्स’ के पूर्व चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) अनिल मल्होत्रा को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 20 January, 2022
Last Modified:
Thursday, 20 January, 2022
Anil Malhotra

‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) ने मल्टीसिस्टम ऑपरेटर ‘सिटी नेटवर्क्स’ (पूर्व में सिटी केबल नेटवर्क्स) के पूर्व चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) अनिल मल्होत्रा को हेड (Public and Regulatory Affairs) के पद पर नियुक्त किया है। इस भूमिका में वह कंपनी की ओर से ‘सूचना-प्रसारण मंत्रालय‘ (MIB) और ‘भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण‘ (TRAI) के साथ तालमेल (liaison) बनाएंगे।

बता दें कि मल्होत्रा ​​‘डिजिटल एड्रेसेबल सिस्टम’ (DAS) रेगुलेशंस के कार्यान्वयन के लिए गठित एमआईबी टास्क फोर्स और ‘ऑल इंडिया डिजिटल केबल फेडरेशन’ सहित विभिन्न सरकारी और उद्योग निकायों के सक्रिय सदस्य रहे हैं।

उन्होंने पेशेवर दायित्वों और प्रतिबद्धताओं का हवाला देते हुए 31 दिसंबर 2021 को सिटी नेटवर्क्स में सीईओ के पद से इस्तीफा दे दिया था। उनकी जगह अब योगेश शर्मा को कंपनी का नया सीईओ नियुक्त किया गया है।

मल्होत्रा ​​​​को सितंबर 2019 में नए टैरिफ ऑर्डर (NTO) के सफल कार्यान्वयन के बाद बिजनेस का नेतृत्व करने के लिए सीईओ के रूप में नियुक्त किया गया था। मल्होत्रा को केबल टेलिविजन इंडस्ट्री में काम करने का 34 साल से ज्यादा का अनुभव है। उन्होंने सिटी नेटवर्क्स में न्यू टैरिफ ऑर्डर फ्रेमवर्क के सफल कार्यान्वयन में और सिटी नेटवर्क्स को एनालॉग प्लेयर से डिजिटल मल्टीसिस्टम ऑपरेटर में बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

उन्होंने वर्ष 2011 में बतौर ‘चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर’ (COO) सिटी नेटवर्क्स को जॉइन किया था और ‘एस्सेल‘ (Essel) समूह में विभिन्न लीडरशिप भूमिकाओं में काम किया। ‘सिटी नेटवर्क्स‘ से पहले मल्होत्रा ‘हिंदुजा ग्रुप‘ के डिस्ट्रीब्यूशन वर्टिकल ‘इनकेबल‘ (InCable) में बतौर प्रेजिडेंट (North India) समेत तमाम एंटरप्रिन्योर पारी खेल चुके हैं। उन्होंने देहरादून से फिजिक्स (Physics) में मास्टर्स की डिग्री ली है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

iTV नेटवर्क में आर.के. अरोड़ा की हुई वापसी, मिला बड़ा पद

पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट रहे आर.के. अरोड़ा को न्यूज ब्रॉडकास्टिंग के क्षेत्र में काम करने का करीब 25 वर्षों से भी ज्यादा का अनुभव है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 20 January, 2022
Last Modified:
Thursday, 20 January, 2022
RK Arora

आईटीवी नेटवर्क (iTV Network) से एक बड़ी खबर है। दरअसल नेटवर्क ने आर.के. अरोड़ा को यहां ग्रुप सीएफओ नियुक्त किया है। पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट रहे अरोड़ा को न्यूज ब्रॉडकास्टिंग के क्षेत्र में काम करने का करीब 25 वर्षों से भी ज्यादा का अनुभव है। इससे पहले भी वह इस नेटवर्क के साथ काम कर चुके हैं।

‘जी मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड’ (ZMCL), ‘न्यूज नेशन’, ‘इंडिया न्यूज’, ‘न्यूज24’ और ‘इंडिया टीवी’ जैसे प्रतिष्ठानों में वरिष्ठ पदों पर काम कर चुके हैं। में एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर और सीईओ के पद पर काम कर रहे थे। पूर्व में वह आईटीवी नेटवर्क में अपनी नई भूमिका में वह सीधे नेटवर्क के बोर्ड को रिपोर्ट करेंगे।

अरोड़ा पेशे से एक चार्टर्ड एकाउंटेंट हैं और उन्हें फाइनेंस, डिस्ट्रीब्यूशन, समग्र संचालन और संगठन के लिए रणनीति तैयार करने का जबरदस्त अनुभव है। आईटीवी नेटवर्क में अपनी नई भूमिका में वह सीधे नेटवर्क के बोर्ड को रिपोर्ट करेंगे।

अपनी नई भूमिका के बारे में आरके अरोड़ा का कहना है, ’आईटीवी नेटवर्क में दोबारा वापसी करना काफी अच्छा मौका है, जब न्यूज इंडस्ट्री में इतने बदलाव हो चुके हैं। यह नई चीजों पर काम करने और ग्रोथ पर ध्यान देने का अच्छा समय है। मैं नेटवर्क के साथ दोबारा जुड़कर काफी उत्साहित हूं।’

वहीं, इस बारे में आईटीवी नेटवर्क के फाउंडर कार्तिकेय शर्मा का कहना है कि न्यूज इंडस्ट्री में आरके अरोड़ा के अनुभवों का नेटवर्क को काफी फायदा मिलेगा।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TV शो के खिलाफ इस तरह की शिकायत पर सूचना प्रसारण मंत्रालय ने ZEE को भेजा नोटिस

ZEEL के मैनेजिंग डायरेक्टर के नाम भेजे गए इस नोटिस में मंत्रालय ने दर्ज शिकायत पर सात दिनों के भीतर जवाब देने के लिए कहा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 19 January, 2022
Last Modified:
Wednesday, 19 January, 2022
MIB

‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) ने ‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड‘ (ZEEL) को एक नोटिस जारी किया है। मंत्रालय ने ZEEL को यह नोटिस उसके तमिल जनरल एंटरटेनमेंट चैनल ‘जी तमिल’ (Zee Tamil) के खिलाफ एक रियलिटी शो ‘जूनियर सुपर स्टार सीजन 4’ (Junior Super Star Season 4) के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ की गई कथित आपत्तिजनक टिप्पणियों के लिए दायर एक शिकायत के आधार पर जारी किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, आरोप है कि इस शो में दो बच्चों ने कथित तौर पर नोटबंदी पर व्यंग्य करते हुए प्रधानमंत्री मोदी और उनके कपड़ों का मजाक उड़ाया था। ZEEL के मैनेजिंग डायरेक्टर के नाम भेजे गए इस नोटिस में मंत्रालय ने शो के खिलाफ दर्ज शिकायत पर सात दिनों के भीतर जवाब देने के लिए कहा है। इस नोटिस में मंत्रालय का कहना है कि सात दिनों के भीतर जवाब न मिलने पर अग्रिम कार्यवाही की जाएगी। इस मामले में तमिलनाडु बीजेपी के आईटी और सोशल मीडिया सेल के प्रदेश अध्यक्ष सीटीआर निर्मल कुमार ने शिकायत दर्ज कराई थी।

अपनी शिकायत में कुमार का आरोप है कि 15 जनवरी को प्रसारित एक शो में दो बाल कलाकारों ने पीएम मोदी पर अप्रत्यक्ष रूप से कटाक्ष किया था। कुमार ने शो के खिलाफ शिकायत करने के लिए ZEEL के चीफ क्लस्टर ऑफिसर (Linear & OTT) सिजू प्रभाकरण (Siju Prabhakaran) को भी एक लेटर लिखा था। इस लेटर में कुमार ने आरोप लगाया कि लगभग 10 साल की उम्र के बच्चों को जानबूझकर पीएम के खिलाफ टिप्पणी करने के लिए कहा गया।

इस लेटर में कुमार का कहना था, ‘शो में नोटबंदी, विभिन्न देशों की उनकी राजनयिक यात्रा, पीएम की पोशाक और विनिवेश के बारे में तीखी टिप्पणी की गई। दस साल से कम उम्र के बच्चे के लिए यह समझना भी नामुमकिन होता कि इनका असल में क्या मतलब होता है। लेकिन, कॉमेडी के नाम पर इन विषयों को बच्चों में जबरदस्ती थोप दिया गया।’

कुमार का यह भी कहना था, ‘यह स्पष्ट है कि चैनल ने इस गलत सूचना को रोकने के लिए कोई प्रयास नहीं किया। अपने साथी प्रतिभागियों को पछाड़ने के प्रयास में ये बच्चे वही करते हैं जो उन्हें बताया जाता है। जो कहा जा रहा था, वह उनकी समझ से परे है और इन नाबालिगों के अभिभावकों और चैनल को इस कृत्य के लिए कानूनी और नैतिक रूप से जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए।’

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही सूचना व प्रसारण मंत्रालय की ओर से दिए गए नोटिस की कॉपी आप यहां देख सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कश्मीर प्रेस क्लब बंद करने पर एडिटर्स गिल्ड ने जताई नाराजगी, कही ये बात

एडिटर्स गिल्ड ने मंगलवार को एक बयान जारी कर कहा कि वह जम्मू कश्मीर में कश्मीर प्रेस क्लब (केपीसी) के बंद होने से बहुत दु:खी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 19 January, 2022
Last Modified:
Wednesday, 19 January, 2022
EGI45487

कश्मीर प्रेस क्लब में मैनेजमेंट को लेकर दो गुटों में जारी लड़ाई के बीच जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सोमवार को कश्मीर प्रेस क्लब के लिए आवंटित परिसर को ही वापस ले लिया। प्रशासन के इस फैसले को लेकर एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने नाराजगी व्यक्त की है। एडिटर्स गिल्ड ने मंगलवार को एक बयान जारी कर कहा कि वह जम्मू कश्मीर में कश्मीर प्रेस क्लब (केपीसी) के बंद होने से बहुत दु:खी है।

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सोमवार को कहा था कि कश्मीर प्रेस क्लब (केपीसी) का अस्तित्व अब खत्म हो गया है और घाटी में पत्रकारों के सबसे बड़े निकाय को आवंटित परिसरों के द्वारा वापस ले लिया गया है।

गिल्ड ने इस मुद्दे पर तीन दिन के भीतर अपने दूसरे बयान में इस कदम को ‘परेशान करने वाली घटनाओं की कड़ी में ताजा घटनाक्रम’ बताया।

गिल्ड ने कहा कि प्रशासन के कदम से पहले संस्था के नियमों का उल्लंघन किया गया जब कुछ लोगों के समूह ने राज्य पुलिस तथा सीआरपीएफ के सक्रिय सहयोग से गत शनिवार को क्लब के कार्यालय और प्रबंधन पर कब्जा कर लिया।

गिल्ड ने आगे कहा, ‘वह 17 जनवरी, 2022 को जम्मू कश्मीर सरकार द्वारा कश्मीर प्रेस क्लब को बंद किये जाने से अत्यंत दु:खी है।’

गिल्ड ने कहा कि केपीसी के बंद होने के साथ क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण पत्रकारीय संस्था को प्रभावी तरीके से समाप्त कर दिया गया है। यह ऐसे क्षेत्र में हुआ है जिसने किसी स्वतंत्र मीडिया के खिलाफ सरकार की भारी सख्ती देखी है।

कश्मीर प्रेस क्लब की स्थापना 2018 में की गयी थी और इसके 300 सदस्य हैं। यह क्षेत्र की सबसे बड़ी पत्रकार संस्था है।

गिल्ड के बयान के अनुसार, ‘क्षेत्र में मीडिया और सक्रिय सिविल सोसाइटी के लिए जगह धीरे-धीरे कम हो रही है। पत्रकारों को अक्सर आतंकवादी समूहों और सरकार से भी धमकियों का सामना करना पड़ता है।’

उसने कहा, ‘उन पर भारी दंडनीय कानूनों के तहत मामले दर्ज किये जाते हैं और रिपोर्टिंग या संपादकीय लेखों के लिए सुरक्षा बल जब-तब उन्हें हिरासत में ले लेते हैं।’

पत्रकार शुजात बुखारी की नृशंस हत्या से लेकर पत्रकार पीरजादा आशिक, मसरत जहरा, फहाद शाह और हाल ही में गिरफ्तार किए गए पत्रकार सजद गुल और अन्य घटनाओं का जिक्र करते हुए गिल्ड ने जारी किये गए बयान में कहा कि इस क्षेत्र में मीडिया की स्वतंत्रता और एक्टिव सिविल सोसायटी के लिए जगह का लगातार खात्मा हो रहा है।

गिल्ड ने अपने बयान में प्रेस क्लब की उपलब्धियां बताते हुए कहा कि मीडिया के खिलाफ इस तरह की ज्यादतियों से ग्रस्त राज्य में कश्मीर प्रेस क्लब पत्रकारों की सुरक्षा और अधिकारों के लिए लड़ने के लिए एक महत्वपूर्ण संस्था थी। यह लॉकडाउन के दौरान भी खुला रहा, जिससे पत्रकारों को अपना काम दर्ज करने के लिए इंटरनेट जैसी महत्वपूर्ण सुविधाओं के साथ-साथ युवा पत्रकारों के ट्रेनिंग के लिए वर्कशॉप तक हुई। इसलिए क्लब का बंद होना मीडिया की स्वतंत्रता के लिए एक खतरनाक मिसाल कायम करता है।

गिल्ड ने कहा कि गिल्ड अपनी पिछली मांग को दोहराता है कि क्लब के कामकाज के संबंध में रजिस्ट्रार ऑफ सोसाइटीज के 14 जनवरी के आदेश से पहले यथास्थिति बहाल की जाए और यह कि राज्य एक स्वतंत्र प्रेस के लिए जगह बनाने और उसकी रक्षा करने की दिशा में काम करे।

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सोमवार को कश्मीर प्रेस क्लब को आवंटित परिसर वापस ले लिया था। घाटी स्थित पत्रकारों की सबसे बड़ी संस्था में पिछले हफ्ते की गुटबाजी के मद्देनजर प्रशासन ने यह कदम उठाया था।

जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करके कहा था, ‘पत्रकारों के विभिन्न समूहों के बीच असहमति और अप्रिय घटनाओं के बीच यह फैसला किया गया है कि श्रीनगर के पोलो व्यू स्थित कश्मीर प्रेस क्लब को आवंटित परिसर का आवंटन रद्द करके परिसर की भूमि और इस पर निर्मित भवन को एस्टेट विभाग को वापस कर दिया जाए।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

शेयरचैट में इस डिपार्टमेंट की कमान संभालेंगी श्रेया शर्मा

शेयरचैट में शामिल होने से पहले, श्रेया ‘ड्रीम11’ और ‘ड्रीम स्पोर्ट्स’ में 3 सालों से भी अधिक समय तक कॉर्पोरेट कम्युनिकेशंस और पीआर की हेड के तौर पर अपना योगदान दिया था।  

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 18 January, 2022
Last Modified:
Tuesday, 18 January, 2022
ShreyaSharma54565

‘शेयरचैट’ (ShareChat) से खबर है कि श्रेया शर्मा ने यहां कम्युनिकेशंस हेड के तौर पर जॉइन किया है।

शेयरचैट में शामिल होने से पहले, श्रेया ‘ड्रीम11’ (Dream11) और ‘ड्रीम स्पोर्ट्स’ (Dream Sports) में 3 सालों से भी अधिक समय तक कॉर्पोरेट कम्युनिकेशंस और पीआर की हेड के तौर पर अपना योगदान दिया था।  

लिंक्डइन पर इसकी घोषणा करते हुए उन्होंने कहा कि अपने करियर का एक नया अध्याय शुरू करते हुए मुझे यह साझा करने पर बेहद खुशी हो रही है कि मैंने ‘शेयरचैट’ कम्युनिकेशंस हेड के तौर पर जॉइन किया है। यह अच्छा समय है भारत में एक कंटेंट कंपनी का हिस्सा बनना।  मैं अंकुश सचदेवा, फरीद एहसान, बर्जेस वाई. मालू और यहां की प्रतिभाशाली टीम के साथ काम करने के लिए उत्सुक हूं।

अतीत में श्रेया ने EY, Genesis Burson Marsteller, The Savera Group, Starwood Hotels & Resorts Worldwide, Inc. और Jumeirah जैसे ऑर्गनाइजेशंस के साथ काम किया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए