IMPACT Digital Power 100 के लिए शॉर्टलिस्ट हुए नाम, जूरी में शामिल रहे ये दिग्गज

‘इम्पैक्ट’ की ‘डिजिटल पावर100’ (Digital Power 100) लिस्ट के लिए मंगलवार को आयोजित जूरी मीट में नॉमिनीज को शॉर्टलिस्ट किया गया।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 October, 2020
Last Modified:
Wednesday, 21 October, 2020
IMPACT

एक्सचेंज4मीडिया (exchange4media) समूह की मीडिया, मार्केटिंग और एडवर्टाइजिंग क्षेत्र की जानी-मानी साप्ताहिक पत्रिका ‘इम्पैक्ट’ की ‘डिजिटल पावर100’ (Digital Power 100) लिस्ट के लिए मंगलवार को आयोजित जूरी मीट में नॉमिनीज को शॉर्टलिस्ट किया गया।

वर्चुअल रूप से हुई इस जूरी में ऐडवर्टाइजिंग, मार्केटिंग और मीडिया की जानी-मानी हस्तियां मौजूद रहीं। इस दौरान सम्मानित जूरी के समक्ष 200 नामों की लिस्ट रखी गई, जिसमें से 100 नामों को शॉर्टलिस्ट कर उन्हें विभिन्न मापदंडों के आधार पर रैंकिंग दी गई।  

‘IMPACT Digital Power 100’ का उद्देश्य डिजिटल दुनिया के ऐसे दिग्गजों की लिस्ट तैयार कर उन्हें सम्मानित करना है, जिन्होंने अपनी मेहनत के बल पर नई ऊंचाइयों को छुआ है और एक खास मुकाम हासिल किया है।

जूरी की अध्यक्षता ‘नैसकॉम’ (NASSCOM)  के पूर्व प्रेजिडेंट किरण कार्णिक ने की। जूरी में ‘Aditya Birla group’ के ग्रुप एग्जिक्यूटिव प्रेजिडेंट शिव शिवकुमार, ‘IVCA’ के प्रेजिडेंट रजत टंडन, ‘Cisco India’ के प्रेजिडेंट (India and SAARC) समीर गार्डे, ‘TiE India Angels’ के चेयरमैन (TiE Global) महावीर प्रताप शर्मा, ‘Nishith Desai Associates’ की पार्टनर गोवरी गोखले, ‘exchange4media & Business World’ के चेयरमैन और एडिटर-इन-चीफ डॉ. अनुराग बत्रा, ‘exchange4media’ के को-फाउंडर और डायरेक्टर नवल आहूजा और ‘exchange4media’ के प्रेजिडेंट सुनील कुमार बतौर सदस्य शामिल रहे।   

जूरी द्वारा 200 में से 100 लोगों को उनके द्वारा किए गए काम और डिजिटल मीडिया पर डाले गए उनके प्रभाव के आधार पर शॉर्टलिस्ट किया गया। इन नामों को शॉर्टलिस्ट करते समय जूरी ने इनके नेतृत्व में चले कैंपेन, नई लॉन्चिंग और एडवर्टाइजिंग को भी ध्यान में रखा।

इन चार प्रमुख मापदंडों के आधार पर शॉर्टलिस्ट किए गए नामः

-- Influence: The ability to personally influence the development of Digital Media in India, or to influence others in positions of authority

-- Leadership: Skills and experience to be viewed as a leader in the development of Digital Media

-- Potential: To create a significant impact on Digital media over the next 12 months

-- Achievements: Projects/Award-Winning Campaigns/Accomplishments that stand out

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

युवा पत्रकार प्रथम द्विवेदी को India Today समूह में मिली अब ये जिम्मेदारी

प्रथम द्विवेदी ने ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन’ (IIMC) दिल्ली से अंग्रेजी पत्रकारिता में पीजी डिप्लोमा किया है।

Last Modified:
Friday, 05 March, 2021
Pratham Dwivedi

युवा पत्रकार प्रथम द्विवेदी को ‘इंडिया टुडे’ (India Today) समूह में अब नई जिम्मेदारी मिली है। दरअसल, उन्हें अब समूह के सभी ‘तक चैनल्स’ (Tak Channel) का हेड (सोशल मीडिया) बनाया गया है।प्रथम द्विवेदी चार साल से इस समूह के साथ जुड़े हुए हैं। नई जिम्मेदारी मिलने से पहले वह ‘इंडिया टुडे’ और ‘आजतक’ में कॉपी एडिटर के तौर पर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

मूल रूप से उत्तर प्रदेश के फतेहपुर जिले के रहने वाले प्रथम द्विवेदी को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब नौ साल का अनुभव है। शुरुआती पढ़ाई-लिखाई फतेहपुर से करने के बाद प्रथम ने कानपुर विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन किया है। इसके अलावा उन्होंने ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन’ (IIMC) दिल्ली से अंग्रेजी पत्रकारिता में पीजी डिप्लोमा किया है। 

पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत प्रथम ने दिल्ली में ‘संडे इंडियन’ (Sunday Indian) मैगजीन के साथ बतौर रिपोर्टर की थी। इसके बाद ‘डीडी न्यूज’ (DD News) में विभिन्न पदों पर अपनी जिम्मेदारी निभाने के बाद चार साल पहले उन्होंने ‘इंडिया टुडे’ समूह के साथ अपनी ऩई पारी की शुरुआत की थी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

2020 में दुनिया के कई देशों में बंद हुआ इंटरनेट, भारत पहले स्थान पर

साल 2020 में 29 देशों में जानबूझकर कम से कम 155 बार या तो इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया या फिर उसकी स्पीड को कम किया गया।

Last Modified:
Friday, 05 March, 2021
Internet

कोरोना वायरस महामारी के कारण दुनियाभर के कई लोग बीते साल इंटरनेट पर सबसे अधिक निर्भर थे, ताकि वह लॉकडाउन के दौरान अपने परिवार और दोस्तों के संपर्क में रह सकें, ऑनलाइन पढ़ाई कर सकें, महामारी को लेकर जानकारी ले सकें और घर से दफ्तर का काम कर सकें, लेकिन फिर भी साल 2020 में 29 देशों में जानबूझकर कम से कम 155 बार या तो इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया या फिर उसकी स्पीड को कम किया गया। इस बात की जानकारी गैर लाभकारी डिजिटल राइट ग्रुप एक्सिस नाउ ने अपनी एक रिपोर्ट में दी है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि दुनिया में पिछले सबसे ज्यादा बार इंटरनेट भारत में बंद हुआ। दुनियाभर में 155 में से 109 बार भारत ने इंटरनेट बंद होने की जानकारी दी। यह लगातार तीसरा साल है जब भारत इस लिस्ट में टॉप स्थान पर रहा है। भारत में इंटरनेट बंद होने की वजह से लाखों लोग प्रभावित हुए। इसकी वजह ये है कि पिछले साल देश में कई जगह हिंसक प्रदर्शन हुए, जिसके चलते सरकार को इंटरनेट पर रोक लगानी लगी। रिपोर्ट में बताया गया कि भारत में सबसे ज्यादा कश्मीर में इंटरनेट बंद हुआ। 

रिपोर्ट में बताया गया कि वर्ष 2020 में भारत में लगे इंटरनेट शटडाउन के कारण कई और भी थे। पश्चिम बंगाल में, पश्चिम बंगाल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन और राज्य सरकार के गृह विभाग ने 10वीं तक की परीक्षा के दौरान इंटरनेट के इस्तेमाल पर कर्फ्यू लगा दिया था। यहां सरकार ने इंटरनेट ब्लैकआउट की शुरुआत की थी। इस दौरान कुछ घंटों के लिए इंटरनेट सेवा को बाधित किया जाता था।

एक्सिस नाउ के सीनियर इंटरनेशनल काउंसिल और एशिया पैसिफिट पॉलिसी डायरेक्टर रमनजीत सिंह चीमा ने कहा, ‘हम बेहद चिंतित हैं कि कैसे सरकारी अधिकारी लोकतांत्रिक अभिव्यक्ति को दबाने के लिए इंटरनेट टूल के रूप में इंटरनेट शटडाउन का इस्तेमाल कर रहे हैं।’

भारत के बाद यमन में कम से कम छह शटडाउन हुए। इथियोपिया में चार और जॉर्डन में तीन बार इंटरनेट सर्विस बंद की गई। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत, यमन और इथियोपिया में इंटरनेट सेवा सबसे खराब अवरोधकों में से एक थे।

वहीं म्यांमार, पाकिस्तान, बांग्लादेश, किर्गिजस्तान और वियतनाम में भी इंटरनेट बंद हुआ था। सबसे अधिक समय तक म्यांमार में इंटरनेट बंद हुआ, ऐसा 2019 से जारी रहा और 2020 तक होता रहा। यहां जब सैन्य तख्तापलट के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू हुए, तब भी इंटरनेट सेवा बंद की गई। बांग्लादेश में रोहिंग्या शरणार्थियों के कैंप में 415 दिन तक इंटरनेट सेवा बंद रही।

रिपोर्ट के अनुसार, 2020 में कम से कम 155 बार इंटरनेट बंद होने से 29 देशों के लोग प्रभावित हुए। इनमें से 28 बार ऐसा हुआ जब पूरी तरह से इंटरनेट ब्लैकआउट हो गया। इस वजह से कुछ शहरों में लोग 'डिजिटल अंधेरे' में डूब गए।  

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नए डिजिटल मीडिया नियमों को लेकर DM की कार्यवाही को केंद्र ने बताया गलत, लिखा ये लेटर

डिजिटल मीडिया के लिए जारी नए दिशा निर्देशों के तहत राज्य सरकारों, पुलिस आयुक्तों और जिला मजिस्ट्रेटों को मीडिया संस्थानों और प्लेटफॉर्म्स को नोटिस जारी करने का अधिकार नहीं है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 03 March, 2021
Last Modified:
Wednesday, 03 March, 2021
MIB

डिजिटल मीडिया के लिए जारी नए दिशा निर्देशों के तहत राज्य सरकारों, पुलिस आयुक्तों और जिला मजिस्ट्रेटों को मीडिया संस्थानों और प्लेटफॉर्म्स को नोटिस जारी करने का अधिकार नहीं है। ये अधिकार सिर्फ ‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) के पास है।

सूचना-प्रसारण मंत्रालय में सचिव अमित खरे ने इंफाल (पश्चिम) के जिला मजिस्ट्रेट द्वारा केंद्र के नए मीडिया नियमों के तहत टॉक शो ‘‘खानसी नीनासी’ (Khanasi Neinasi) को नोटिस जारी करने के बाद मणिपुर सरकार को नियमों से अवगत कराते हुए यह जानकारी दी है।

दरअसल, सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और ओटीटी प्लेटफॉर्म को लेकर केंद्र सरकार ने हाल ही में कुछ गाइडलाइंस जारी की हैं। इन्हीं नियमों के तहत इस शो को लेकर इंफाल (पश्चिम) के जिला मजिस्ट्रेट ने यह नोटिस भेजा था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मजिस्ट्रेट ने पब्लिशर को निर्देश दिया था कि वह सूचना प्रौद्योगिकी नियमों, 2021 के प्रावधानों का अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए सभी संबंधित दस्तावेजों को प्रस्तुत करे। इस नोटिस में यह भी कहा गया था कि दस्तावेजों के साथ उपलब्ध नहीं होने पर कार्रवाई की जाएगी।

इसके बाद मणिपुर सरकार के चीफ सेक्रेट्री को लिखे एक लेटर में खरे ने कहा है कि नए नियमों के तहत सिर्फ सूचना प्रसारण मंत्रालय को इस तरह का अधिकार है। बताया जाता है कि खरे का लेटर मिलने के बाद जिला मजिस्ट्रेट ने अपने नोटिस को वापस ले लिया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म्स के लिए सरकार जल्द अनिवार्य करेगी ये नियम

मंत्रालय के पास अभी तक देश में चल रहे ऑनलाइन न्यूज प्लेटफॉर्म्स का पूरा ब्योरा नहीं है, इसलिए इस तरह की योजना पर काम चल रहा है।

Last Modified:
Monday, 01 March, 2021
MIB

‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) जल्द ही डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म्स के लिए अपने संस्थान के बारे में संपूर्ण विवरण देना अनिवार्य करने जा रहा है। दरअसल, मंत्रालय के पास अभी तक देश में चल रहे ऑनलाइन न्यूज मीडिया के बारे में पूरा ब्योरा नहीं है, इसलिए इस तरह की योजना पर काम चल रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मंत्रालय एक ऐसा फॉर्म लाने की योजना बना रहा है, जिसे सभी डिजिटल न्यूज संस्थानों को एक महीने के भीतर भरकर जमा कराना होगा। इस फॉर्म में डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म्स को उनके एडिटोरियल हेड, स्वामित्व, पता और शिकायत निवारण अधिकारी समेत तमाम ब्योरा भरना होगा।

‘इंडियन एक्सप्रेस’ (Indian Express) के साथ बातचीत में सूचना प्रसारण मंत्रालय के सचिव अमित खरे का कहना है, ‘वर्तमान में सरकार के पास इस बात की पूरी जानकारी नहीं है कि इस सेक्टर में कितने और कौन-कौन से प्लेयर्स हैं। इन वेबसाइट्स पर जाने पर आपको ये भी नहीं पता चलेगा कि इनका ऑफिस कहां पर है और इनका एडिटर-इन-चीफ कौन है?’

सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का भी कहना है कि उनके मंत्रालय को भी नहीं पता कि देश में कितने न्यूज ऑर्गनाइजेशंस चल रहे हैं। उनका कहना है कि जब तक मंत्रालय को पता ही नहीं होगा कि देश में कितने डिजिटल न्यूज पोर्टल्स हैं, तब तक उनसे किसी भी महत्वपूर्ण विषय पर सलाह-मशविरा कैसे किया जा सकता है।

गौरतलब है कि हाल ही में केंद्र सरकार ने सोशल मीडिया और ओवर-द-टॉप (OTT) प्‍लेटफॉर्म्‍स के लिए गुरुवार को गाइडलाइंस जारी कर दी हैं। सरकार का कहना है कि इससे एक लेवल-प्‍लेइंग फील्‍ड मिलेगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

HT Media में सुमंत रे ने अपनी पारी को दिया विराम, लाए नया वेंचर

नेशनल कंटेंट और क्रिएटिव हेड के तौर पर फीवर एफएम, रेडियो नशा और रेडियो वन की कमान संभाल रहे थे सुमंत रे

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 23 February, 2021
Last Modified:
Tuesday, 23 February, 2021
Sumant Ray

‘एचटी मीडिया’ (HT Media) के वाइस प्रेजिडेंट (क्रिएटिव और कंटेंट) सुमंत रे (Sumant Ray) ने यहां करीब 14 साल पुरानी अपनी पारी को विराम दे दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सुमंत रे ने अब डिजिटल कंटेंट के क्षेत्र में कदम बढ़ाते हुए अपना डिजिटल मार्केटिंग वेंचर ‘मीडियाजादे एंटरटेनमेंट एलएलपी’ (Mediazaadey Entertainment LLP) शुरू किया है। यह वेंचर ब्रैंडिंग, कंटेंट क्रिएशन, डिजिटल मार्केटिंग और सोशल मीडिया मार्केटिंग पर फोकस करेगा।

सुमंत रे को कंटेंट, मार्केटिंग और ब्रैंडिंग के क्षेत्र में काम करने का 20 साल से ज्यादा का अनुभव है। ‘एचटी मीडिया’ में वह बतौर नेशनल कंटेंट एंड क्रिएटिव हेड फीवर एफएम, रेडियो नशा और रेडियो वन की कमान संभाल रहे थे। उन्होंने फीवर एफएम पर ऑडियो मेगा सीरीज ‘Fever Prastuti Mahabharat’ को क्रिएट और डायरेक्ट किया था।

अपनी हिंदी ऑडियो सीरीज के लिए न्यूयॉर्क फेस्टिवल अवॉर्ड जीतने वाले वह पहले भारतीय हैं। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस-2016 के लिए आयुष मंत्रालय द्वारा 2016 को जारी योग गीत को तैयार करने वालों में भी सुमंत रे शामिल हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नए सफर पर निकले वरिष्ठ पत्रकार शिव ओम गुप्ता

मूल रूप से अयोध्या के रहने वाले शिव ओम गुप्ता को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 15 साल का अनुभव है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 18 February, 2021
Last Modified:
Thursday, 18 February, 2021
Shiv Om Gupta

वरिष्ठ पत्रकार शिव ओम गुप्ता ने ‘राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ’ (आरएसएस) के अखबार ‘पांचजन्य’ (Panchjanya) की डिजिटल विंग के साथ अपनी नई पारी की शुरुआत की है। उन्होंने दिल्ली में बतौर चीफ न्यूज को-ऑर्डिनेटर जॉइन किया है। यहां पर वह डिजिटल कंटेंट ऑपरेशंस की कमान संभालेंगे।

मूल रूप से अयोध्या के रहने वाले शिव ओम गुप्ता को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 15 साल का अनुभव है। ‘पांचजन्य’ में जॉइन करने से पूर्व वह ‘वनइंडिया’(Oneindia) पोर्टल में चीफ कंटेंट स्पेशलिस्ट के तौर पर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे। वह ‘बीबीसी मीडिया एक्शन’ (BBC Media Action) इंडिया में रिसर्च कंसल्टेंट के अलावा ‘नेटवर्क18’ (Network18) समूह में कंटेंट एडिटर और ‘हिंदी खबर’ (Hindi Khabar) की डिजिटल टीम के हेड भी रह चुके हैं। वह बेंगलुरु में एक स्पेशल प्रोजेक्ट के लिए ‘वनइंडिया’ हिंदी से जुड़े थे। वहीं,‘नेटवर्क 18’ में वह ‘न्यूज18 हिंदी’ के क्राइम वर्टिकल की री-लॉन्चिंग के हेड थे।

इसके अलावा वह ‘एचटी मीडिया प्राइवेट लिमिटेड’, ‘अमर उजाला’, ‘द वॉल स्ट्रीट जर्नल’ और ‘यूनाइटेड न्यूज ऑफ इंडिया’ के साथ भी काम कर चुके हैं। वर्ष 2011 में ‘अमर उजाला’ के स्पेशल पेज के इंचार्ज रहने के दौरान अन्ना हजारे आंदोलन पर विशेष कवरेज के लिए शिव ओम को भारत के अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार केसी कुलिस अवॉर्ड (राजस्थान पत्रिका) के लिए नॉमिनेट किया गया था।

पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो शिव ओम गुप्ता ने डॉ. राम मनोहर लोहिया अवध यूनिवर्सिटी, अयोध्या से पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। उन्होंने ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन’ (IIMC) से हिंदी पत्रकारिता की पढ़ाई की है। समाचार4मीडिया की ओर से शिव ओम गुप्ता को उनकी नई पारी के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

IANS को अलविदा कहने के बाद युवा पत्रकार मीना सिंह ने किया नई पारी का आगाज

न्यूज एजेंसी ‘आईएएनएस’ की हिंदी शाखा में काम करने से पहले ‘दैनिक जागरण’ नोएडा में करीब दो साल तक अपनी जिम्मेदारी निभा चुकी हैं मीना सिंह

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 17 February, 2021
Last Modified:
Wednesday, 17 February, 2021
Meena Singh

युवा पत्रकार मीना सिंह ने न्यूज ऐप ‘इनशॉर्ट्स’ (Inshorts) के साथ अपनी नई पारी की शुरुआत की है। उन्होंने यहां पर बतौर कंटेंट स्पेशलिस्ट जॉइन किया है। मीना सिंह इससे पहले न्यूज एजेंसी ‘आईएएनएस’ की हिंदी शाखा के साथ सब एडिटर के तौर पर जुड़ी हुई थीं। ‘दैनिक जागरण’, नोएडा में करीब दो साल तक अपनी जिम्मेदारी निभाने के बाद मीना सिंह ने अप्रैल 2019 में ‘आईएएनएस’ जॉइन किया था।

पश्चिम बंगाल की विद्यासागर यूनिवर्सिटी से हिंदी ऑनर्स में ग्रेजुएट मीना सिंह ने ‘गलगोटिया विश्वविद्यालय’, ग्रेटर नोएडा से वर्ष 2015-17 में मास कॉम करने के बाद ‘जागरण इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड मास कम्युनिकेशन’ से प्रिंट में डिप्लोमा किया। इंस्टीट्यूट द्वारा प्रकाशित समाचार पत्र में उन्होंने करीब छह महीने काम भी किया। इसके बाद उन्होंने दैनिक जागरण, नोएडा में वर्ष 2017 में प्रशिक्षु के तौर पर जॉइन किया था। कुछ समय बाद उन्हें प्रमोशन देकर जूनियर सब एडिटर बना दिया गया।

‘दैनिक जागरण’ में अपनी पारी के दौरान उन्होंने खबरों के अलावा इनपुट प्लानिंग डेस्क पर भी अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी अंजाम दिया। मुख्य तौर पर उन्हें यहां ‘रविवार विशेष’ पेज की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। इसी दौरान वे एक न्यूज वेब पोर्टल के साथ करीब पांच महीने तक फ्रीलांसर के तौर पर भी जुड़ी रहीं।

इसके बाद ‘आईएएनएस’ होते हुए उन्होंने अब ‘इनशॉर्ट्स’ के साथ अपनी नई पारी शुरू की है। समाचार4मीडिया की ओर से मीना सिंह को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इंडियन एक्सप्रेस’ ग्रुप में अपनी पारी को विराम देकर नए सफर पर निकलीं रीतिका सिंह

पत्रकार रीतिका सिंह ने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ (Indian Express) ग्रुप में अपनी पारी को विराम दे दिया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 13 February, 2021
Last Modified:
Saturday, 13 February, 2021
Ritika Singh.

पत्रकार रीतिका सिंह ने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ (Indian Express) ग्रुप में अपनी पारी को विराम दे दिया है। वह बिजनेस से जुड़ी खबरों की जानकारी देने वाली इस ग्रुप की वेबसाइट ‘फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी’ (https://www.financialexpress.com/hindi/) में करीब ढाई साल से अपनी जिम्मेदारी निभा रही थीं। रीतिका सिंह ने अब अपना नया सफर ‘नवभारत टाइम्स’ (Navbharat Times) की डिजिटल विंग के साथ शुरू किया है। यहां पर वह डिजिटल कंटेंट प्रोड्यूसर की जिम्मेदारी संभालेंगी।

बिजनेस की समझ रखने वाली चंद महिला पत्रकारों में रीतिका का नाम भी शामिल है। ‘फाइनेंशियल एक्सप्रेस हिंदी’ को जॉइन करने से पूर्व वह ‘दैनिक भास्कर’ ग्रुप के बिजनेस सेक्शन ‘मनी भास्कर’ में करीब एक साल तक बतौर सब एडिटर कार्यरत रहीं। यहां रीतिका ने देश के अलग-अलग हिस्सों में स्थापित फेमस बिजनेस जैसे- चंदेरी साड़ी, पाटन पटोला आर्ट, जयपुरी रजाई, कोटा साड़ी, पश्मीना शॉल, दार्जिलिंग टी, पर्ल प्रोसेसिंग बिजनेस, गुजराती चनिया चोली आदि पर स्पेशल स्टोरी कीं, जिन्हें काफी सराहा गया। इसके अलावा रीतिका बैंकिंग, टैक्सेशन समेत पर्सनल फाइनेंस सेगमेंट की स्टोरीज पर भी अच्छी पकड़ रखती हैं।

रीतिका सिंह को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब पांच साल का अनुभव है। उन्होंने पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत ‘अमर उजाला’ से की थी। ’अमर उजाला’ में भी रीतिका बिजनेस पेज पर थीं। ’अमर उजाला’ में उन्होंने करीब डेढ़ साल तक काम किया। 

मूल रूप से उत्तर प्रदेश के शिकोहाबाद की रहने वाली रीतिका सिंह ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया, नई दिल्ली से जर्नलिज्म की पढ़ाई की है। समाचार4मीडिया की ओर से रीतिका सिंह को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

हैकर्स ने नहीं होने दिया एडिटर्स गिल्ड का वेबिनार, स्क्रीन पर डाला अश्लील कंटेंट

‘एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया’ ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी दी कि 12 फरवरी को हुए उसके वर्चुअल वेबिनार को हैकर्स द्वारा उसे बाधित किया गया था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 13 February, 2021
Last Modified:
Saturday, 13 February, 2021
Hackers4

संपादकों की शीर्ष संस्था ‘एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया’ (EGI) ने शुक्रवार को इस बात की जानकारी दी कि 12 फरवरी को हुए उसके वर्चुअल वेबिनार (जूम मीटिंग) को हैकर्स द्वारा उसे बाधित किया गया था।

EGI ने ट्वीट कर बताया कि हैकर्स के अटैक के चलते वेबिनार को 10 मिनट के भीतर बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ा। एडिटर्स गिल्ड ने इस घटना की साइबर क्राइम सेल से जांच की मांग की है।

बता दें कि ये वेबिनार नक्सल प्रभावित इलाकों में रिपोर्टिंग की चुनौतियों पर आयोजित किया गया था, जिसमें ऐसे पत्रकारों से बातचीत होनी थी, जिन्होंने या तो देश के नक्सल प्रभावित इलाकों में काम किया या फिर लगातार उन इलाकों का दौरा किया। चर्चा का उद्देश्य इन इलाकों की समस्याओं और खासकर वहां काम कर रहे पत्रकारों की चुनौतियों को सामने लाना था।

इस चर्चा में देश के जाने माने पत्रकार शामिल थे, जिन्हें नक्सल प्रभावित इलाक़ों की कवरेज का लंबा अनुभव है। वरिष्ठ पत्रकार मालिनी सुब्रमण्यम और पूर्णिमा त्रिपाठी के अलावा झारखंड से फैसल अनुराग, छत्तीसगढ़ के बस्तर से तामेश्वर सिन्हा, महाराष्ट्र से मिलिंद उमरे और तेलंगाना से पीवी कोंडल राव को शामिल होना था। इन्होंने पिछले कुछ दशकों में मानवाधिकारों के हनन विषय पर काम किया है। बातचीत जूम के जरिए ऑनलाइन हो रही थी। इस मीटिंग में वक्ता नक्सल इलाकों में रिपोर्टिंग का अनुभव बताने वाले थे।

EGI ने बताया कि वेबिनार शुरू होने के कुछ ही मिनटों के भीतर हैकर्स ने पोर्नोग्राफिक समेत कई आपत्तिजनक कंटेंट वाली स्क्रीन शेयर कर दी। वेबिनार में भद्दे गानों वाली पोस्ट करना शुरू कर दिया। मीटिंग होस्ट ने गेस्ट की विंडो बंद करने की कोशिश की, लेकिन ऐसे कंटेंट और पोस्ट की संख्या बढ़ती रही।

ग्रुप चैट के साथ-साथ अश्लील कंटेंट और अपमानजनक भाषा को भी स्क्रीन पर दिखाया गया। आखिरकार, मीटिंग में वक्ताओं को बोलने का मौका नहीं मिला। EGI ने कहा कि जूम मीटिंग में 5 मिनट के भीतर, हैकर्स ने अश्लील गाने और वीडियो पोस्ट करना शुरू कर दिया, जिसके चलते वेबिनार को बंद करना पड़ा।

EGI ने कहा कि 'गिल्ड इस साइबर अटैक से हैरान और परेशान है। वे स्पष्ट रूप से नहीं चाहते थे कि वक्ताओं की आवाज सुनी जाए। गिल्ड ने इसे बोलने की स्वतंत्रता पर एक हमले के रूप में देखा और मांग की कि साइबर क्राइम सेल इसकी जांच करे और दोषियों को सजा दे।' बयान में यह भी कहा गया है कि इस वेबिनार के रद्द होने तक की पूरी रिकॉर्डिंग मौजूद है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘न्यूज18’ को बाय बोल अंकित फ्रांसिस ने थामा TV9 का दामन, निभाएंगे अहम भूमिका

हिंदी न्यूज पोर्टल ‘न्यूज18 इंडिया’ की डिजिटल टीम में 4 साल तक काम करने के बाद अंकित फ्रांसिस ने अब यहां अपनी पारी पर विराम लगा दिया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 12 February, 2021
Last Modified:
Friday, 12 February, 2021
AnkitFransis

हिंदी न्यूज पोर्टल ‘न्यूज18 इंडिया’ की डिजिटल टीम में 4 साल तक काम करने के बाद अंकित फ्रांसिस ने अब यहां अपनी पारी पर विराम लगा दिया है और नई पारी का आगाज 'TV9 भारतवर्ष' के डिजिटल से किया है। 'TV9 भारतवर्ष' में अंकित ने बतौर न्यूज एडिटर जॉइन किया है और उन्हें स्टेट टीम यानी रीजनल डेस्क की जिम्म्मेदारी दी गई है। वे यहां सभी राज्यों से आने वाली खबरों पर काम करेंगे।

बता दें कि चार साल पहले अंकित ने ‘न्यूज18 इंडिया’ बतौर चीफ कॉपी एडिटर जॉइन किया था और बाद में प्रमोट कर उन्हें डिप्टी न्यूज एडिटर बनाया गया था।

आईआईएमसी दिल्ली और जामिया मिल्लिया इस्लामिया के पास आउट अंकित देश और दुनिया की तमाम हलचलों पर बारीकी से नजर रखते हैं। उन्होंने ‘न्यूज18 इंडिया’ में होम पेज, सोशल टीम की जिम्मेदारी संभाली और फिर करीब एक साल तक फील्ड-रिपोर्टिंग करने के बाद इंटरनेशनल पेज के इंचार्ज बनाए गए थे। रिपोर्टिंग के दौरान कोटा में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने वाले छात्रों में बढ़ती आत्महत्याओं से संबंधित उनकी स्टोरी को बहुत सराहा गया, बाद में इसके लिए उन्हें डिजिपब अवॉर्ड भी मिला।

‘न्यूज18 इंडिया’ से पहले अंकित ‘हिन्दुस्तान’ डिजिटल, ‘टाइम्स नाउ’ और ‘इंडिया न्यूज’ के लिए भी काम कर चुके हैं। सोशल मीडिया की अच्छी समझ रखने वाले अंकित पिछले 6 सालों से डिजिटल जर्नलिज्म से जुड़े हुए हैं। पत्रकारिता के साथ-साथ उन्हें कला, साहित्य और यात्राओं में गहरी रुचि है। मेरठ के रहने वाले अंकित छात्रजीवन में रंगमंच से भी जुड़े रहे हैं।

अंकित को उनकी नई पारी के लिए समाचार4मीडिया की ओर से ढेर सारी शुभकामनाएं...

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए