भारत एक्सप्रेस न्यूज नेटवर्क ने प्रयागराज में किया ब्यूरो ऑफिस का उद्घाटन

‘भारत एक्सप्रेस’ न्यूज नेटवर्क ने उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में शनिवार को अपने ब्यूरो ऑफिस का उद्घाटन किया।

Last Modified:
Saturday, 20 May, 2023
BharatExpress544

‘भारत एक्सप्रेस’ न्यूज नेटवर्क ने उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में शनिवार को अपने ब्यूरो ऑफिस का उद्घाटन किया। इस ब्यूरो ऑफिस का उद्घाटन नेटवर्क के चेयरमैन, एमडी और एडिटर-इन-चीफ उपेंद्र राय की मौजूदगी में हुआ। इस दौरान इलाहाबाद हाई कोर्ट के न्यायाधीश विवेक कुमार सिंह ने फीता काट कर व दीप प्रज्जवलित कर ऑफिस का उद्घाटन किया।  इस कार्यक्रम में जस्टिस सौरभ श्रीवास्तव, न्यायाधीश गौतम चौधरी, न्यायामूर्ति क्षितिज शैलेंद्र और जस्टिस नीजर तिवारी भी मौजूद रहे।

इस दौरान भारत एक्सप्रेस के चेयरमैन उपेंद्र राय ने कहा कि आज का जो विषय है, इस समाज में पत्रकारिता का महत्व ‘सत्य, साहस और समर्पण’ जो हमारे चैनल की टैग लाइन है, वो कितना प्रासंगिक है, कितना महत्वपूर्ण है। उपेंद्र राय ने कहा, 'जब मैं 12वीं में था तो हिंदी साहित्य में सरदार पूर्ण सिंह एक ऐसे लेखक हुए जिन्होंने अपने जीवन में मात्र चार निबंध लिखे और हिंदी साहित्य में वो अमर हो गए। उनका एक निबंध है ‘आचरण की सभ्याता’। इस निबंध की जो कहानी है वो ‘सत्य, साहस और समर्पण’ इन तीनों शब्दों को एक साथ परिभाषित करती है। या यूं कहूं कि ‘सत्य, साहस, समर्पण’ टैग लाइन रखने का जो ध्यान आया, वो ‘आचरण की सभ्याता’ की कहानी को याद करके आया।'

उन्होंने कहा, 'कहानी ये है कि उफनती हुई नदी में एक बहुत ही रईस परिवार नांव पर सफर कर रहा होता है। उस परिवार की एक औरत पानी में गिर जाती है और उस परिवार में सभी लोग चीख पुकार तो मचाते ही हैं, लेकिन उस औरत को बचाने के लिए नदी में छलांग कोई नहीं लगाता। छलांग लगाता कौन है? एक नांव चलाने वाला वो मछुवारा जो अपने भाई का सहयोग करने के लिए उस नांव पर मौजूद होता है। उसका औरत से कोई संबंध नहीं है, वह उसको जानता भी नहीं, पहचानता भी नहीं, लेकिन वो छलांग लगाता है और उस औरत को बचाकर नदी के बाहर ले आता है।'

उन्होंने आगे कहा कि इस छोटी सी साहसी घटना की अगर व्याख्या की जाए तो मैं कहता हूं कि सत्य किसी घटना, दुर्घटना किसी बात को मान करके किसी को सिखाया जाए. किसी को इसकी चिंता करने के लिए कहा जाए तो वो सत्य बनाया हुआ होता है. लेकिन वो सत्य जिसमें आदमी अपने जीवन की परवाह नहीं करता, अपने प्राणों की आहुति देने के लिए सहज ही तैयार हो जाता है और उसको ये भी नहीं पता होता है कि इसका परिणाम क्या होगा। पूरी तरह से अपने को समर्पित कर देता है और साहस ऐसा कि दूसरों को हैरत में डाल देता है।

इस दौरान भारत एक्सप्रेस के चेयरमैन, एमडी और एडिटर-इन-चीफ ने मुंशी प्रेम चंद की मशहूर कहानी मंत्र का भी जिक्र किया। उन्होंने बताया कि कैसे डॉक्टर चड्ढा तैयार होकर बैडमिंटन खेलने जा रहे होते हैं और एक गरीब आदमी अपने बच्चे को हाथ में लिए उनके पास पहुंचता है। बचाने की गुहार लगाता है। लेकिन, डॉक्टर चड्ढा इलाज करने से मना कर देते हैं और बैडमिंटन खेलने को ज्यादा प्राथमिकता देते हैं। लेकिन, एक वक्त ऐसा आता है जब डॉक्टर चड्ढा के बेटे को सांप काट लेता है और चड्ढा बच्चे को लेकर बिलखते हैं। लेकिन, तब वही गरीब आदमी आता है और बच्चे को मंत्र के जरिए बचाता है। इस दौरान वह बच्चे के होश में आते ही निकल पड़ता है। जब डॉक्टर चड्ढा को पता चलता है कि यह वही आदमी है, जिसका बेटे का उन्होंने इलाज नहीं किया था और वह मर गया था। तब चड्ढा ग्लानी से भर जाते हैं। उपेंद्र राय ने इस कहानी के माध्यम से बताया कि जो गांव का सहज और सरल आदमी होता है वो वाकई बहुत साहसी होता है।

वरिष्ठ पत्रकार उपेंद्र राय ने कहा कि मंत्र कहानी के जरिए मुंशी प्रेमचंद ने शहरी और संभ्रांत लोगों के मिजाज को दर्शाया है। मेरे चैनल का भाव ‘सत्य साहस और समर्पण’ के लिए ऐसी ही कहानियां मुझे प्रेरणा देती रही हैं।

ऑफिस के उद्घाटन के बाद अब भारत एक्सप्रेस पर प्रयागराज और आस-पास के जिलों की हर छोटी-बड़ी खबर देखने को मिलेगी. भारत एक्सप्रेस के चेयरमैन, एमडी और एडिटर-इन-चीफ उपेंद्र राय की कोशिश है कि उन खबरों को प्रमुखता से दिखाया, जिन्हें दूसरे खबरिया चैनल नहीं दिखाते हैं।

इस मौके पर ग्रुप एडिटर सुदेश तिवारी, प्रयागराज ब्यूरोचीफ मुमताज अहमद, प्रयागराज संवाददाता अभिषेक पाण्डेय समेत शहर के अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे। 

यहां देखें वीडियो-

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

बिजनेस न्यूज चैनल ‘NDTV Profit’ को लेकर आई ये बड़ी खबर, पढ़ें यहां

बता दें कि एक जून 2017 को इस चैनल का परिचालन बंद कर दिया गया था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 28 November, 2023
Last Modified:
Tuesday, 28 November, 2023
NDTV PROFIT

‘नई दिल्ली टेलिविजन लिमिटेड’ (New Delhi Television Ltd) के बिजनेस न्यूज चैनल ‘एनडीटीवी प्रॉफिट’ (NDTV Profit) को लेकर एक बड़ी खबर सामने आई है। इस खबर के मुताबिक, छह साल के अंतराल के बाद अगले महीने से इस चैनल का परिचालन फिर से शुरू होने जा रहा है।

बताया जाता है कि आठ दिसंबर, 2023 को यह चैनल पहले की तरह लाइव हो जाएगा। बता दें कि एक जून 2017 को इस चैनल का प्रसारण बंद कर दिया गया था।

कंपनी ने इस बारे में स्टॉक एक्सचेंज को सूचित कर दिया है। स्टॉक एक्सचेंज को दी गई जानकारी में कंपनी का कहना है कि बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने एनडीटीवी प्रॉफिट चैनल के रेगुलर ऑपरेशंस को अपनी मंजूरी प्रदान कर दी है।   

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो इस खबर के सामने आने के बाद एनडीटीवी के शेयरों में काफी तेजी दर्ज की गई है। विश्लेषकों और निवेशकों ने चैनल की वापसी के निर्णय को स्वागत योग्य कदम बताया है।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

'आप की अदालत' में बोले हरदीप सिंह पुरी, कनाडा सरकार की बुद्धि पर तरस आता है

पन्नू ने इसी साल जून में कनाडा में भारतीय राजनयिकों की तस्वीरों और उनके नाम के साथ पोस्टर लगवाये और उन्हें मार डालने की धमकी दी।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 28 November, 2023
Last Modified:
Tuesday, 28 November, 2023
rajatsharma

केन्द्रीय पेट्रोलियम मंत्री हरदीप सिंह पुरी इस बार 'आप की अदालत' में रजत शर्मा के मेहमान थे। हरदीप पुरी 39 साल तक भारतीय विदेश सेवा में रहे। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिध रहे। अब नरेन्द्र मोदी की सरकार में मंत्री हैं। पुरी ने 'आप की अदालत' में कहा कि गुरपतवंत सिंह पन्नू पाकिस्तान का पिट्ठू है, ISI के इशारे पर काम करता है, इस्लामाबाद से उसे पैसा मिलता है, उसका एक पाकिस्तानी बिजनेस पार्टनर मुहम्मद सलमान युनुस है, और दोनों मिल कर आईएसआई के इशारे पर काम करते हैं। पन्नू भारत के मोस्ट वांटेड आतंकवादियों की लिस्ट में है। पन्नू अमृतसर के पास एक गांव खानकोट का रहने वाला है।

1990 के दशक में वो वकालत करने अमेरिका गया था लेकिन वहां जाकर भारत विरोधी गतिविधियों में लिप्त हो गया। पन्नू ने सिख फॉर जस्टिस के नाम से एक संगठन बनाया। ISI से उसे पैसा मिलता है और ISI के इशारे पर कभी कनाडा में सिखों की छोटी मोटी रैलियां निकालता है, तो कभी अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया में पैसा बांटकर भारत के खिलाफ प्रदर्शन करवाता है। जैसा हरदीप पुरी कह रहे थे कि वो कनाडा में सड़क पर खड़े होकर भारत के ख़िलाफ पर्चियां बांटता है। 2020 में पन्नू को वैंकूवर में खालिस्तान पर जनमतसंग्रह के नाम पर लोगों को पर्चियां बांटते देखा गया था।

'आप की अदालत' में हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि उन्हें तो कनाडा सरकार की बुद्धि पर तरस आता है, ट्रूडो की मति मारी गई है। हरदीप पुरी ने कहा कि ट्रुडो जिस तरह से आंतकवादियों को पनाह दे रहे हैं, उनका समर्थन करते हैं, उससे तो लगता है कि खालिस्तान अगर कभी बने, तो कनाडा में ही बनना चाहिए। हरदीप पुरी ने अपने 39 साल लंबे डिप्लोमैटिक करियर के बहुत सारे अनुभव शेयर किए, कई राज़ खोले।

हरदीप पुरी ने बताया कि जब उनकी पोस्टिंग कोलंबो में थी, तो कैसे वो उत्तरी श्रीलंका के जाफना के जंगलों में जाकर LTTE के चीफ प्रभाकरण से मिले, रात के अंधेरे में लैंडमाइन के बीच उन्हें जाना पड़ा। कैसे प्रभाकरण को शांति समझौते  के लिए तैयार कराया, फिर जान पर खेलकर प्रभाकरण को हेलीकॉप्टर में बैठाकर भारत लाए, राजीव गांधी से उनकी मुलाकात करवाई।

'आप की अदालत' में हरदीप पुरी की पत्नी लक्ष्मी पुरी भी मौजूद थीं। लक्ष्मी उस समय कोलंबो में भारतीय उच्चायोग में प्रेस सचिव थीं। उन्होंने बताया कि जब हरदीप जाफना के जंगलों में गए तो उन्हें डर तो लगा पर उन्हें भगवान पर भरोसा था। हरदीप पुरी ने बताया कि उन्होंने गुरु गोविंद सिंह को याद किया। गुरु की वाणी से उन्हें हिम्मत मिली।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टीवी पत्रकार सौरभ शुक्ला ने ‘NDTV’ को कहा ‘अलविदा’

‘एक्सचेंज4मीडिया’ द्वारा दिए जाने वाले ‘इनबा’ अवॉर्ड्स के तहत उन्हें यंग प्रोफेशनल ऑफ द ईयर का खिताब मिल चुका है। वह ‘समाचार4मीडिया पत्रकारिता 40अंडर40’ अवॉर्ड के दो बार विजेता भी रह चुके हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 24 November, 2023
Last Modified:
Friday, 24 November, 2023
Saurabh Shukla

टीवी पत्रकार सौरभ शुक्ला ने ‘एऩडीटीवी’ (NDTV) को अलविदा दिया है। वह यहां करीब 13 साल से कार्यरत थे और इन दिनों सीनियर स्पेशल करेसपॉन्डेंट/एंकर के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे। सौरभ शुक्ला ने इस्तीफा क्यों दिया और उनका अगला कदम क्या होगा, फिलहाल इस बारे में पता नहीं चल सका है।

मूल रूप से कानपुर के रहने वाले सौरभ शुक्ला ने ‘छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय (पूर्व में कानपुर विश्वविद्यालय) से पढ़ाई की है। महज 20 साल की उम्र में वह पत्रकारिता में आ गए थे। उन्होंने ‘एनडीटीवी’ के साथ ही मीडिया में अपने करियर की शुरुआत की थी।

कोविड, दिल्ली दंगों और किसान आंदोलन में सौरभ शुक्ला के काम को बहुत सराहा गया था। यही नहीं, एनडीटीवी में रहते हुए उन्होंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का परचम लहराते हुए ‘इंटरनेशनल प्रेस इंस्टीट्यूट’ (IPI) अवॉर्ड 2022 अपने नाम किया था।

इसके अलावा ‘एक्सचेंज4मीडिया’ द्वारा दिए जाने वाले प्रतिष्ठित ‘इनबा’ (enba) अवॉर्ड्स के तहत उन्हें वर्ष 2018 में यंग प्रोफेशनल ऑफ द ईयर का खिताब मिल चुका है। वर्ष 2020 और 2021 रेड इंक (Red Ink) अवॉर्ड जीतने के साथ-साथ वह ‘समाचार4मीडिया पत्रकारिता 40अंडर40’ अवॉर्ड के दो बार विजेता भी रह चुके हैं।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

भारत-ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट वर्ल्ड कप फाइनल को 30 करोड़ लोगों ने टीवी पर देखा: डिज्नी स्टार

 डिज्नी स्टार ने यह जानकारी देते हुए कहा कि इसके साथ ही यह अब तक का सबसे ज्यादा देखा जाने वाला मैच बन गया।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 24 November, 2023
Last Modified:
Friday, 24 November, 2023
ICC World Cup

19 नवंबर को भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए क्रिकेट वर्ल्ड कप फाइनल मैच के लाइव प्रसारण को टेलीविजन पर 30 करोड़ से अधिक दर्शकों ने देखा। डिज्नी स्टार ने यह जानकारी देते हुए कहा कि इसके साथ ही यह अब तक का सबसे ज्यादा देखा जाने वाला मैच बन गया।

आईसीसी पुरुष क्रिकेट वर्ल्ड कप के आधिकारिक प्रसारणकर्ता डिज्नी स्टार ने बार्क के आंकड़ों का हवाला देते हुए एक बयान में कहा कि टूर्नामेंट ने पहली बार 50 करोड़ से अधिक दर्शकों की संख्या को पार किया। वर्ल्ड कप का लाइव प्रसारण 51.8 करोड़ टीवी दर्शकों ने देखा।

बयान में कहा गया कि टूर्नामेंट के लाइव टीवी प्रसारण को कुल 422 अरब मिनट तक देखा गया, जिससे यह सबसे ज्यादा देखा जाने वाला आईसीसी वर्ल्ड कप बन गया।

कंपनी ने कहा कि 30 करोड़ से अधिक प्रशंसकों ने भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच फाइनल मैच का टीवी पर सीधा प्रसारण देखा, जिससे यह अब तक का सबसे ज्यादा देखा जाने वाला मैच बन गया। 

किसी एक वक्त में सबसे अधिक दर्शक संख्या के लिहाज से फाइनल मैच ने 13 करोड़ आंकड़ा छुआ, जबकि भारत बनाम पाकिस्तान मैच में यह संख्या 7.5 करोड़ थी। फाइनल मैच में भारत ऑस्ट्रेलिया से छह विकेट से हार गया।

इसके अलावा कंपनी ने कहा कि उसकी स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म डिज्नी+हॉटस्टार ने पूरे टूर्नामेंट में अपना ही रिकॉर्ड पांच बार तोड़ा और फाइनल मैच में एक वक्त में अधिकतम 5.9 करोड़ दर्शकों का आंकड़ा हासिल किया।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

आज 8 बजे, ‘भारत एक्सप्रेस’ दिखाएगा सहाराश्री के जीवन के अनछुए पहलुओं पर खास फिल्म

'सहाराश्री' की याद में ‘भारत एक्सप्रेस’ न्यूज चैनल पर 23 नवंबर की रात 8 बजे उनके जीवन पर आधारित एक फिल्म दिखाई जाएगी और उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि दी जाएगी।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 23 November, 2023
Last Modified:
Thursday, 23 November, 2023
Saharashree875412

सहारा समूह के संस्थापक सुब्रत रॉय ने 75 साल की उम्र में बीते 14 नवंबर को इस दुनिया को अलविदा कह दिया। 14 नवंबर की रात सुब्रत रॉय के निधन की खबर जैसे ही आई, उद्योग जगत में शोक की लहर दौड़ गई। 'सहाराश्री' के रूप में अपने चाहने वालों के बीच लोकप्रिय सुब्रत रॉय ने गोरखपुर से अपने कारोबार की शुरूआत की और ‘सहारा इंडिया परिवार’ की नींव रखी। 'सहाराश्री' की याद में ‘भारत एक्सप्रेस’ न्यूज चैनल पर 23 नवंबर की रात 8 बजे उनके जीवन पर आधारित एक फिल्म दिखाई जाएगी और उन्हें विनम्र श्रद्धांजलि दी जाएगी।

‘भारत एक्सप्रेस’ के चेयरमैन उपेन्द्र राय, 'सहाराश्री' के बेहद करीब रहे हैं। 'सहाराश्री' के निधन की खबर सुनते ही उपेन्द्र राय बेहद भावुक हो गए थे। 'सहाराश्री' को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए ‘भारत एक्सप्रेस’ के चेयरमैन उपेन्द्र राय ने कहा, ‘सहाराश्री के असमय महाप्रयाण से ऐसा लगा, जैसे जीवन में बनी लय टूट सी गई है। सहाराश्री के जीवन के कुछ पहलू समाज ने देखे, जिसके आलोचक और प्रशंसक दोनों रहे, लेकिन चंदन से सुब्रत रॉय, सुब्रत रॉय से सुब्रत रॉय सहारा और सुब्रत रॉय सहारा से सहाराश्री बनने का उनका सफर बेहद मार्मिक रहा है। इसलिए आज मैं यह तथ्य दुनिया के सामने लाना जरूरी समझता हूं कि जीवन में चमक दमक और शहंशाह सी जिंदगी जीने वाले सहाराश्री के व्यक्तित्व के पीछे एक श्वेत वस्त्रधारी फकीर सदैव खड़ा था। यह बात मैं इसलिए कह रहा हूं कि उनके निधन से करीब 120 घंटे पहले मेरी उनसे विधिवत बात हुई। उस वक्त मुझे एहसास हुआ कि ये जानते हुए भी कि उनके पास जीवन के मात्र कुछ पल बचे हैं, उनमें मृत्यु का किंचित भय नहीं था। इस तरह अपने जीवन के अंत का सामना करते हुए मैंने किसी और को नहीं देखा। भारत एक्सप्रेस पर प्रसारित की जा रही, उनके व्यक्तित्व के अनदेखे पहलुओं को पर्दे पर उकेरती यह फिल्म सहाराश्री को मेरी और भारत एक्सप्रेस न्यूज नेटवर्क की ओर से विनम्र श्रद्धांजलि है।’

सुब्रत रॉय ने ‘सहारा इंडिया परिवार’ की नींव रखने के बाद उसे बुलंदियों तक पहुंचाया> यही नहीं, सहारा इंडिया के जरिए ये कंपनी देश के घर-घर में पहुंची और सहाराश्री का साम्राज्य देश के बाहर लंदन तक फैला। 'सहाराश्री' का रुतबा ऐसा था कि राजनीति से लेकर बॉलीवुड और खेल जगत से जुड़े कई दिग्गजों का उनके यहां आना-जाना लगा रहता था। इनमें से कई दिग्गजों से उनकी अच्छी दोस्ती थी। एक समय में सहारा ग्रुप की नौकरी को सरकारी नौकरी की तरह देखा जाता था। लोग इस कंपनी के साथ जुड़ने के सपने देखा करते थे।

अब सहाराश्री नहीं रहे, लेकिन जब तक वे इस दुनिया में रहे,  हमेशा अपने चाहने वालों के बेहद करीब रहे। बिहार से लेकर बंगाल और गोरखपुर से होकर लखनऊ और लंदन तक... सहाराश्री का सफर निरतंर चलता रहा और वे नित नए कीर्तिमान स्थापित करते रहे। 'सहाराश्री' की बेमिसाल उपलब्धियों के लिए उन्हें कई पुरस्कारों और सम्मानों से नवाजा गया।

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार प्रसून शुक्ला ने ‘भारत24’ में इस बड़े पद से दिया इस्तीफा

समाचार4मीडिया से बातचीत में प्रसून शुक्ला ने अपने इस्तीफे की पुष्टि की है। उन्होंने संकेत दिए कि वह जल्द ही एक न्यूज चैनल के साथ अपनी नई पारी शुरू करेंगे और फिर उसके नाम का खुलासा करेंगे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 23 November, 2023
Last Modified:
Thursday, 23 November, 2023
Prasoon Shukla

वरिष्ठ पत्रकार प्रसून शुक्ला ने हिंदी न्यूज चैनल ‘भारत24’ (Bharat24) में अपनी पारी को विराम दे दिया है। वह पिछले साल 15 अगस्त को हुई इस चैनल की लॉन्चिंग के समय से ही इसके साथ जुड़े हुए थे और रोमिंग एडिटर के तौर पर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे। यहां वह कंटेंट की क्वालिटी पर काम कर रहे थे। 

समाचार4मीडिया से बातचीत में प्रसून शुक्ला ने अपने इस्तीफे की पुष्टि की है। उन्होंने संकेत दिए कि वह जल्द ही एक न्यूज चैनल के साथ अपनी नई पारी शुरू करेंगे और फिर उसके नाम का खुलासा करेंगे।

मूल रूप से बस्ती (उत्तर प्रदेश) के रहने वाले प्रसून शुक्ला को मीडिया में काम करने का करीब दो दशक का अनुभव है। मीडिया में अपने करियर की शुरुआत उन्होंने वर्ष 2003 में ‘जी न्यूज’ से की थी। इसके बाद वह करीब आठ साल ‘सहारा’ में रहे। फिर उन्होंने यहां से बाय बोल दिया और ‘मैजिक टीवी’ (अब यह ‘के न्यूज’ हो गया है) से जुड़ गए। यहां चैनल हेड के तौर पर उन्हेंने करीब डेढ़ साल की पारी खेली और फिर ‘न्यूज एक्सप्रेस’ में चैनल हेड के तौर पर नई जिम्मेदारी संभाल ली।

इसके बाद प्रसून शुक्ला कंसल्टिंग एडिटर के तौर पर ‘ईटीवी’ में शामिल हो गए। बाद में वह यहां से इस्तीफा देकर ग्रुप एडिटर के पद पर फिर ‘सहारा’ में आ गए और फिर पिछले साल वहां से इस्तीफा देकर उन्होंने ‘भारत24’ जॉइन कर लिया था। 

राजनीति के फील्ड पर प्रसून शुक्ला की अच्छी पकड़ है और अब तक वह तमाम प्रमुख राजनेताओं के इंटरव्यू कर चुके हैं। पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो प्रसून शुक्ला ने लखनऊ यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन करने के बाद आगे की पढ़ाई दिल्ली से की है। उन्होंने जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी से हिस्ट्री से एमए करने के बाद मास कम्युनिकेशन और फिर ह्यूमन राइट्स इन पीजी डिप्लोमा करने के साथ स्पैनिश भाषा का सर्टिफिकेट कोर्स भी किया है।

प्रसून शुक्ला दिल्ली सरकार की ओर से करीब तीन साल तक दिल्ली यूनिवर्सिटी के ‘कमला नेहरू कॉलेज’ और ‘राजधानी कॉलेज’ की गवर्निंग बॉडी के मेंबर रहे। वर्ष 2014 से वह ग्रेटर नोएडा की ’गलगोटिया यूनिवर्सिटी’ में बोर्ड ऑफ स्टडीज के मेंबर भी हैं।

इसके साथ ही वह गंगा और उसकी सहायक नदियों के संरक्षण और संवर्धन के काम में जुटी ‘गंगा संरक्षण समिति’ के मेंबर भी हैं। समाचार4मीडिया की ओर से प्रसून शुक्ला को उनके आगामी सफर के लिए अग्रिम बधाई और शुभकामनाएं।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दुनिया जानती है कि कौन अपनी पार्टी के लिए 'पनौती' है: डॉ. सुधांशु त्रिवेदी

हिंदी न्यूज चैनल 'एबीपी न्यूज' की डिबेट में बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद सुधांशु त्रिवेदी ने राहुल गांधी पर तीखा प्रहार किया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 23 November, 2023
Last Modified:
Thursday, 23 November, 2023
Dr Sudhanshu Trivedi

देश में पांच राज्यों के विधानसभा के चुनाव अब अपने अंतिम चरण में हैं। लेकिन सियासत में बोले जाने वाले शब्दों की मर्यादा भी इस दौरान खूब तार-तार हुई। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक रैली के दौरान पीएम मोदी के लिए 'पनौती' शब्द का इस्तेमाल कर दिया जिसको लेकर उनकी खूब आलोचना हो रही है और सोशल मीडिया पर भी इसको लेकर बवाल मचा हुआ है।

इसी बीच हिंदी न्यूज चैनल 'एबीपी न्यूज' की डिबेट में बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद सुधांशु त्रिवेदी ने राहुल गांधी पर तीखा प्रहार किया है। उन्होंने कहा, 'विराट पर्वत पर जैसे पानी की बूँद कोई असर नहीं डालती वैसे ही पीएम नरेंद्र मोदी जी का व्यक्तित्व विराट है। ऐसे अनर्गल शब्दावलियों से उन पर कोई असर नहीं पड़ता।

रामचरितमानस में कहा गया है “बूँद अघात सहैं गिरि ऐसे, खल के वचन संत सम जैसे।” अर्थात जो खराब विचार वाले व्यक्ति विराट व्यक्तित्व के लिए खराब शब्दों का प्रयोग करता है वह उन पर कोई असर नहीं करता। पनौती जैसे आपत्तिजनक शब्द के संदर्भ में कहना चाहूंगा कि कांग्रेस का नेतृत्व 138 साल के इतिहास में कभी नायक का रहा कभी खलनायक रहा मगर उपहास का पात्र कब बना यह देश जानता है। अपार बहुमत वाली कांग्रेस किसके नेतृत्व में 44 व 52 सीट पर आई। देश की विवेकपूर्ण जनता अच्छी तरह से जानती है कि कौन अपनी पार्टी के लिए पनौती साबित हुआ !'

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूज का व्युअरशिप डेटा जारी करने के मामले में ‘MIB’ ने लिया अब ये फैसला

‘ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्स काउंसिल’ (BARC) द्वारा मंजूरी मांगे जाने के बाद सरकार ने पिछले हफ्ते व्युअरशिप डेटा जारी करने की अनुमति दी थी।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 22 November, 2023
Last Modified:
Wednesday, 22 November, 2023
Viewership

न्यूज और खास जॉनर के लिए व्युअरशिप डेटा जारी करने की अनुमति देने के एक सप्ताह बाद ‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) ने अब इस अनुमोदन (Approval) पर रोक लगा दी है।

हमारी सहयोगी वेबसाइट ‘एक्सचेंज4मीडिया’ (e4m) को उच्च पदस्थ सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, ‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ ने सोमवार को ‘ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्स काउंसिल’ (BARC) को एक लेटर भेजा है, जिसमें रेटिंग एजेंसी से अगली चर्चा तक इस कदम को रोकने के लिए कहा गया है। सूत्रों का कहना है कि मंत्रालय ने इस मामले पर अगली चर्चा के लिए बार्क को अभी तक कोई तारीख नहीं दी है।   

गौरतलब है कि ‘ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्स काउंसिल’ द्वारा मंजूरी मांगे जाने के बाद सरकार ने पिछले हफ्ते व्युअरशिप डेटा जारी करने की अनुमति दी थी। ब्रॉडकास्टर्स के एक समूह द्वारा कथित तौर पर डेटा जारी करने की मांग के बाद रेटिंग एजेंसी ने इसकी अनुमति के लिए एमआईबी से संपर्क किया था।

डेटा को जारी करने की अनुमति देने के लिए एमआईबी की मंजूरी बार्क को ब्रॉडकास्टर्स के साथ प्रतिवादी स्तर के डेटा को शेयर करने की अनुमति देने के महीनों बाद मिली थी। यदि एमआईबी ने बार्क को डेटा जारी करने की अनुमति दी, तो न्यूज ब्रॉडकास्टर्स साप्ताहिक स्तर पर रॉ लेवल के डेटा प्राप्त कर सकेंगे। इससे पहले चार सप्ताह का रोलिंग एवरेज तब पेश किया गया था, जब टीआरपी घोटाले के कारण 17 महीने की रोक के बाद न्यूज जॉनर की रेटिंग दोबारा शुरू की गई थी।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सरकार ने जारी की एडवाइजरी, सिलक्यारा मामले में सनसनीखेज रिपोर्टिंग से बचें TV चैनल्स

12 नवंबर को उत्तराखंड में यमुनोत्री नेशनल हाईवे पर बन रही एक सुरंग धंस जाने से उसमें काम कर रहे 41 मजदूर फंस गए हैं। यह सुरंग उत्तरकाशी जिले में सिल्कयारा और डांडलगांव को जोड़ने के लिए बनाई जा रही है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 21 November, 2023
Last Modified:
Tuesday, 21 November, 2023
Media Coverage

‘सूचना और प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) ने मंगलवार को टेलीविजन चैनल्स को एडवाइजरी जारी कर उत्तराखंड के सिलक्यारा में चल रहे राहत व बचाव अभियान को सनसनीखेज न बनाने के लिए कहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सुरंग स्थल के नजदीक से किसी भी तरह की लाइव पोस्ट या वीडियो करने से बचने की सलाह भी दी गई है।

इसके साथ ही मंत्रालय ने टीवी चैनल्स को यह सुनिश्चित करने की सलाह दी है कि ऑपरेशन स्थल के पास या आसपास कैमरामैन, पत्रकारों या उपकरणों की उपस्थिति से विभिन्न एजेंसियों द्वारा मानव जीवन बचाने की गतिविधियां किसी भी तरह से बाधित न हों।

मंत्रालय ने कहा है कि सरकार लगातार संपर्क बनाए हुए है और दो किलोमीटर लंबी सुरंग वाले हिस्से में फंसे श्रमिकों का मनोबल बनाए रखने के लिए सभी संभव प्रयास कर रही है।

अपनी एडवाइजरी में मंत्रालय का कहना है, ‘विभिन्न सरकारी एजेंसियां ​​41 श्रमिकों की सुरक्षित निकासी के लिए अथक प्रयास कर रही हैं। सुरंग के आसपास चल रहा ऑपरेशन बेहद संवेदनशील प्रकृति का है, जिसमें कई लोगों की जान बचाना शामिल है। टीवी चैनल्स द्वारा ऑपरेशन से संबंधित वीडियो फुटेज और अन्य तस्वीरों के प्रसारण, विशेष रूप से बचाव अभियान स्थल के करीब कैमरे और अन्य उपकरण लगाने से यहां चल रहे बचाव व राहत अभियानों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की आशंका है।’

मंत्रालय ने टीवी चैनल्स को सलाह दी है कि वे इस मामले पर रिपोर्टिंग करते समय सतर्क और संवेदनशील रहें, खासकर हेडलाइन, वीडियो और तस्वीरें डालते समय ऑपरेशन की संवेदनशील प्रकृति, परिवार के सदस्यों की मनोवैज्ञानिक स्थिति का भी ध्यान रखें।

बता दें कि उत्तराखंड में यमुनोत्री नेशनल हाईवे पर बन रही एक सुरंग के धंस जाने से उसमें काम कर रहे 41 मजदूर फंस गए हैं। यह सुरंग उत्तरकाशी जिले में सिल्कयारा और डांडलगांव को जोड़ने के लिए बनाई जा रही है। 12 नवंबर की सुबह से मजदूर टनल में फंसे हुए हैं। मजदूरों को बचाने का काम जारी है, लेकिन रेस्क्यू ऑपरेशन में तमाम रुकावटें आ रही हैं।

सिलक्यारा सुरंग में फंसे मजदूरों को बचाने के लिए चल रहे अभियान में नौ दिन बाद सोमवार को अच्छी खबर आई। दरअसल, बचाव दल ने छह इंच की पाइप लाइन सफलतापूर्वक तैयार कर ली है, इससे श्रमिकों तक भोजना पहुंचाना आसान हो जाएगा।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TV एंकर्स के बायकॉट के फैसले से समाजवादी पार्टी ने अपना समर्थन लिया वापस: रिपोर्ट

समाजवादी पार्टी ने विपक्षी गठबंधन I.N.D.I.A. द्वारा हाल ही में घोषित 14 टेलीविजन न्यूज एंकर्स के बायकॉट करने के फैसले से अपना समर्थन वापस ले लिया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 18 November, 2023
Last Modified:
Saturday, 18 November, 2023
akhileshyadav546

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए प्रचार अभियान भले ही समाप्त हो गया हो, लेकिन समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच मतभेद अभी खत्म नहीं हुए हैं। इस बीच टाइम्स ऑफ इंडिया की एक खबर के मुताबिक, समाजवादी पार्टी ने विपक्षी गठबंधन I.N.D.I.A. द्वारा हाल ही में घोषित 14 टेलीविजन न्यूज एंकर्स के बायकॉट करने के फैसले से अपना समर्थन वापस ले लिया है।

मध्य प्रदेश में सीट बंटवारे पर सहमति न बन पाने के बाद कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने 50 से अधिक सीटों पर अपने प्रत्याशी खड़े किए, इसके बाद से दोनों पार्टियों के बीच विवाद शुरू हो गया। इसी को देखते हुए समाजवादी पार्टी ने अपना रास्ता अलग कर लिया है।

समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए कहा कि बायकॉट का पहला फैसला कांग्रेस की ओर से लिया गया था।

टीवी के चुनिंदा एंकर्स के बायकॉट को समाप्त करने का समाजवादी पार्टी का निर्णय निश्चित रूप से I.N.D.I.A. के अन्य सदस्यों को झटका है। वहीं, राजनीतिक हलकों में इस कदम को सपा और कांग्रेस के बीच ताजा खींचतान के तौर पर देखा जा रहा है।

पार्टी के एक वरिष्ठ सपा नेता ने कहा कि हमारे पार्टी नेतृत्व ने सभी प्रवक्ताओं और टेलीविजन डिबेट पैनलिस्ट्स को सूचित कर दिया है कि अब चुनिंदा टेलीविजन एंकर्स का कोई बायकॉट नहीं किया जाएगा। पार्टी के नेता टेलीविजन डिबेट्स में पैनलिस्ट के तौर पर शामिल होने के लिए स्वतंत्र हैं।

रिपोर्ट में बताया गया है कि सपा के उच्च पदस्थ सूत्रों ने कहा कि यह निर्णय हाल ही में उन इंटरव्यू को ध्यान में रखते हुए लिया गया है जो मध्य प्रदेश में कांग्रेस के सीएम उम्मीदवार कमलनाथ ने उन दो न्यूज एंकर्स को दिए थे, जो गठबंधन द्वारा जारी बायकॉट वाली सूची का हिस्सा थे।

सपा नेता का कहना है कि यह निर्णय सितंबर में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार के आवास पर I.N.D.I.A. समन्वय समिति की पहली बैठक में लिया गया था। कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने औपचारिक रूप से प्रस्ताव दिया था कि गठबंधन के सभी सहयोगियों को इन 14 एंकर्स के शो से दूर रहना चाहिए। लेकिन एमपी चुनावों के दौरान, कमलनाथ ने इनमें से दो एंकर्स को न केवल इंटरव्यू दिया, बल्कि हेलिकॉप्टर की सवारी की पेशकश भी की। तो फिर अब बहिष्कार कहां है? 

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए