ट्रेंड सेटर भूपेंद्र चौबे का ‘ViewPoint’ क्यों है खास?

‘आउट ऑफ़ द बॉक्स’ सोचने वाले चौबे अपने शो ViewPoint (व्यूपॉइंट) के माध्यम से उन लोगों के बीच पहुंच रहे हैं, जिन्हें अक्सर अनसुना कर दिया जाता है

Last Modified:
Monday, 21 October, 2019
Bhupendra Chaubey

मीडिया, खासकर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर यह आरोप लगता है कि उसने खुद को स्टूडियो तक सीमित करके रख लिया है। सीधे शब्दों में कहें तो स्टूडियो में होने वाली डिबेट को ही एंकर आवाम की राय मान लेते हैं और उसी पल जज बनकर फैसला भी सुना देते हैं। इस आरोप को भले ही स्वीकार न किया जाए, लेकिन इससे इंकार भी नहीं किया जा सकता। 

हालांकि, वरिष्ठ पत्रकार और CNN News18 (सीएनएन न्यूज) 18 के एग्जीक्यूटिव एडिटर भूपेंद्र चौबे इस सीमित दायरे को तोड़ने का प्रयास कर रहे हैं और उसमें काफी हद तक सफल भी हुए हैं। ‘आउट ऑफ़ द बॉक्स’ सोचने वाले चौबे अपने शो ViewPoint (व्यूपॉइंट) के माध्यम से उन लोगों के बीच पहुंच रहे हैं, जिन्हें अक्सर अनसुना कर दिया जाता है। उदाहरण के लिए ‘अयोध्या विवाद’ पर जहां अधिकांश खबरिया चैनल दोनों पक्षों के नेताओं को बुलाकर बांसी खिचड़ी पकाते रहे, वहीं चौबे ने उनकी राय जानी, जो अयोध्या पर कोर्ट के फैसले से सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले हैं यानी आम जनता। 

‘व्यूपॉइंट’ हर रोज शाम 5:57 बजे प्रसारित होता है, शो में चौबे कोई ज्वलंत मुद्दा उठाते हैं और उसे लेकर सीधे जनता के बीच पहुंच जाते हैं। आमतौर पर न्यूज चैनलों के लिए 9 बजे का स्लॉट प्राइम टाइम स्लॉट होता है, ज़्यादातर प्रमुख शो इसी समय आते हैं। लेकिन चौबे के ‘व्यूपॉइंट’ ने प्राइम टाइम की परिभाषा ही बदल दी है।

चौबे और उनके ‘व्यूपॉइंट’ की ख़ास बात यह है कि वो केवल सीमित मुद्दों तक ही सीमित नहीं रहते, बल्कि उन समस्याओं को भी मुद्दा बनाकर सामने लाते हैं, जिन्हें नजरअंदाज करना आदत बनती जा रही है। महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव की आज वोटिंग हैं। दोनों ही राज्यों में मतदाताओं का मिजाज भांपने के लिए लगभग सभी मीडिया हाउस ने विशेष कार्यक्रम तैयार किये, लेकिन चौबे ने सबसे जुदा तस्वीर पेश की। उन्होंने सियासी आंकड़ेबाजी से इतर यह सवाल किया कि बदहाल सड़कें, ध्वस्त होतीं इमारतें, कटते पेड़ और पीएमसी बैंक पीड़ितों का दर्द राजनीतिक दलों के लिए मुद्दा क्यों नहीं है, क्यों कोई इस पर बात नहीं करता? उन्होंने लोगों से भाजपा के वादों पर भी बात की, और नेताओं के हाल भी जानें। यानी एक तरह से उन्होंने ‘व्यूपॉइंट’ के रूप में एक ऐसा चुनावी पैकेज पेश किया, जिसमें नेताओं का ही नहीं आम आदमी का भी जिक्र था।

‘व्यूपॉइंट’ अंग्रेजी मीडिया में अपनी तरह का एकमात्र ऐसा प्रोग्राम है, जहां आम जनता के बीच जाकर बात की जाती है। इसके समय का निर्धारण भी एक खास रणनीति के तहत किया गया है। दरअसल, भूपेंद्र चौबे ‘व्यूपॉइंट’ को सामान्य शो से हटकर जनता से जुड़ाव वाले शो में तब्दील करना चाहते थे, इसके लिए लोगों से संवाद जरूरी है। इसी को ध्यान में रखते हुए 6 बजे का स्लॉट तय किया गया, ताकि जब चौबे सड़कों पर निकलें वह लोगों से भरी नजर आएं। 

समाचार4 मीडिया से बात करते हुए चौबे ने कहा ‘आजकल अधिकांश शो स्टूडियो आधारित हो गए हैं, जनता वहां से गायब है। हमारी कोशिश है कि लोगों के दृष्टिकोण को ज्यादा तवज्जो दी जाए। जनता को दोबारा से जोड़ा जाए। लिहाजा, जहां कहानी होती है, हम वहीं पहुंच जाते हैं। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मैं चार दिन मुंबई में रहा, लोकल से लेकर ऑटो तक में सफर किया, लोगों की राय जानी। कई बाज़ारों में घूमा, ताकि यह पता लगाया जा सके कि वादों को पूरा करने में सरकार कितनी सफल हुई है।’

‘व्यूपॉइंट’ में भले ही ज्वलंत मुद्दों को उठाया जाता है, लेकिन जैसा कि शो की थीम है ‘पीपुल्स फर्स्ट’, लोगों की इच्छा को भी प्राथमिकता मिलती है और उनकी इच्छा जानने के लिए चौबे एक अनोखा प्रयोग कर रहे हैं। वह जब मॉर्निंग वॉक पर निकलते हैं, तो केवल वॉक ही नहीं करते बल्कि टॉक भी करते हैं। यानी सैर के साथ ही अपने दर्शकों का दिल भी टटोल लेते हैं। डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म जैसे फेसबुक लाइव के माध्यम से चौबे अपने दर्शकों से कनेक्ट होते हैं और उनसे पूछते हैं कि आखिरी वह ‘व्यूपॉइंट’ में क्या देखना चाहते हैं। इतना ही नहीं, टहलते-टहलते कई मुद्दों पर सार्थक चर्चा भी होती है। लोगों को जोड़ने का चौबे यह प्रयोग काफी कारगर साबित हो रहा है, और इसका फायदा सीधे तौर पर ‘व्यूपॉइंट’ और चैनल को मिलना तय है।  

 गौरतलब है कि चौबे के पास पत्रकारिता का लंबा अनुभव है। ‘नेटवर्क18’ समूह का हिस्सा बनने से पहले वो ‘एनडीटीवी’ में थे। वहां पांच साल की पारी खेलने के बाद उन्होंने वर्ष 2005 में सीएनएन-न्यूज़ 18 (CNN-IBN) में कदम रखा और तब से अब तक यहीं अपनी काबिलियत का लोहा मनवा रहे हैं। बीस वर्षों से ज्यादा समय से पत्रकारिता में सक्रिय चौबे की न सिर्फ अंग्रेजी बल्कि हिंदी भाषा पर भी काफी अच्छी पकड़ है। 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पीएम की पत्नी से जुड़े इस मामले में न्यूज चैनल ने मांगी माफी

न्यूज चैनल ‘दुनिया टीवी’ के खिलाफ मानहानि का केस जीतीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की पूर्व पत्नी रेहम खान

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 13 November, 2019
Last Modified:
Wednesday, 13 November, 2019
News Channel

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की पूर्व पत्नी रेहम खान ने पाकिस्तानी न्यूज चैनल ‘दुनिया टीवी’ (Dunya TV) के खिलाफ मानहानि का केस जीत लिया है। इस चैनल पर रेहम की निजी जिंदगी के बारे में कुछ दावे किए थे, जो झूठे साबित हुए। न्यूज चैनल ने रेहम से सार्वजनिक रूप से माफी भी मांगी है। लंदन के हाई कोर्ट में सोमवार को इस मामले की सुनवाई हुई थी। इस दौरान जस्टिस मैथ्यू निकलिन को माफी और दोनों पक्षों के बीच बनी सहमति के बारे में सूचित किया गया।

बता दें कि इस टीवी चैनल पर जून 2018 में प्रसारित एक शो में मौजूदा सरकार के रेल मंत्री शेख राशिद द्वारा रेहम पर अपमानजनक आरोप लगाए गए थे। रेहम पर पूर्व पति के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों और पाकिस्तान मुस्लिम लीग के साथ मिलीभगत के आरोप भी लगाए गए थे। रेहम का कहना था कि राशिद के आरोप अत्यंत गंभीर और पूरी तरह से झूठे थे। रेहम ने इस शो के प्रसारण को लेकर चैनल के खिलाफ मामला दायर किया था, जिसमें अब उन्हें जीत मिल गई है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

आजतक के शो में बीजेपी प्रवक्ता ने दिया ये वचन, अब 'ढूंढ' रही पब्लिक

इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है शो की यह विडियो क्लिप

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Tuesday, 12 November, 2019
Last Modified:
Tuesday, 12 November, 2019
TV SHOW

महाराष्ट्र चुनावों के दौरान ‘आजतक’ के एक शो में बीजेपी के एक प्रवक्ता ने महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना की सरकार आने का दावा किया। उन्होंने यहां तक कह डाला कि अगर यह सरकार नहीं आई तो मैं अपने बाल कटवा डालूंगा। इन प्रवक्ता का नाम है गौरव भाटिया और शो है ‘राजतिलक’, जिसकी एंकर थीं अंजना ओम कश्यप। अब जबकि बीजेपी और शिवसेना की सरकार बनने के सपने धूल में मिल चुके हैं, सोशल मीडिया पर लोग गौरव भाटिया का यह विडियो शेयर करके पूछ रहे हैं कि कब मुंडवाओगे?

हर चुनाव में ‘आजतक’ अलग-अलग शहरों में जाकर इस शो को आयोजित करता है। अंजना ओम कश्यप इस शो की होस्ट के तौर पर महाराष्ट्र के नागपुर शहर में पहुंची थीं। बीजेपी की तरफ से उस दिन इस शो में मशहूर वकील और प्रवक्ता गौरव भाटिया मौजूद थे। गौरव भाटिया इससे पहले समाजवादी पार्टी के प्रवक्ता रहे हैं। उस दिन के शो में गौरव भाटिया इमोशनली कुछ रौ में बह गए और दावा कर डाला कि अगर बीजेपी और शिवसेना की सरकार दोबारा पूर्ण बहुमत से महाराष्ट्र में नहीं आई तो वह अपने बाल कटवा डालेंगे।

गौरव भाटिया का कहना था, ‘पूरे दमखम से कहता हूं कि महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना की सरकार पहले से भी ज्यादा सीटों से बनेगी और न बने तो मुझे मेरे बालों से बहुत प्यार है, अंजना जी और आपके शो में मैं यह वचन देता हूं कि  सरकार नहीं बनी तो मैं अपने बाल कटवा दूंगा।‘

अब उनकी यह क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। एक यूजर ने तो जावेद हबीब को ट्विटर पर टैग करके उन्हें गौरव भाटिया का सिर मुंडवाने का ऑफर तक दे दिया है। हालांकि, महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने के आसार हैं। ऐसे में गौरव भाटिया के लिए शायद राहत भरी खबर हो सकती है कि बीजेपी की सरकार नहीं बनी तो किसी की नहीं बनी।

गौरव भाटिया द्वारा शो में किए गए वादे की विडियो क्लिप आप यहां देख सकते हैं-

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

लोगों को भाया कवरेज के दौरान न्यूज एंकर का ये अंदाज, हो रही तारीफ

अयोध्या फैसले को लेकर कन्नड़ के न्यूज चैनल द्वारा की गई कवरेज बनी है चर्चा का विषय

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Monday, 11 November, 2019
Last Modified:
Monday, 11 November, 2019
News Anchor

अयोध्या मामले में कन्नड़ के एक न्यूज चैनल द्वारा की गई कवरेज इन दिनों चर्चा का विषय बनी हुई है। दरअसल, यहां के न्यूज चैनल ‘पब्लिक टीवी’ ने न सिर्फ इस पूरे मामले को कवर किया, बल्कि एंकरिंग के दौरान चैनल के प्रमुख श्री रंगनाथ ने स्टूडियो में फुटवियर का इस्तेमाल भी नहीं किया।

एंकर के इस अंदाज की लोग काफी सराहना कर रहे हैं। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बीएल संतोष ने ट्विटर पर श्री रंगनाथ की फोटो शेयर की है। अपने ट्वीट में संतोष का कहना था, ‘देश के लोगों की भावनाएं प्रभु श्रीरामचंद्र से जुड़ी हुई हैं।’

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Republic Summit में इस बार क्या होगा खास, देखें यहां

नई दिल्ली के ताज पैलेस होटल में 26 और 27 नवंबर को किया जाएगा आयोजन

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Monday, 11 November, 2019
Last Modified:
Monday, 11 November, 2019
Republic TV

‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ (Republic Media Network) की ओर से नई दिल्ली के ताज पैलेस होटल में 26 और 27 नवंबर को ‘रिपब्लिक समिट’ (Republic Summit) के दूसरे एडिशन का आयोजन किया जा रहा है। इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किया जाएगा। इस साल समिट की थीम ‘India’s Moment’ रखी गई है। इस समिट में देश के मजबूत लोकतंत्र, यहां के लोगों और देश के बारे में उनके विजन के साथ ही दुनियाभर में इसके बढ़ते दबदबे के बारे में चर्चा की जाएगी।  

बताया जाता है कि ‘रिपब्लिक समिट’ के दूसरे एडिशन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ही केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, नितिन गडकरी, स्मृति ईरानी, निर्मला सीतारमण, एस. जयशंकर, प्रकाश जावड़ेकर, सीपीआई (एम) के महासचिव सीताराम येचुरी, जनरल बिपिन रावत और श्रीश्री रविशंकर समेत कई हस्तियां मौजूद रहेंगी। इस समिट का प्रसारण सिर्फ भारत ही नहीं, बल्कि कनाडा, मिडिल ईस्ट और नॉर्थ अफ्रीका (MENA) रीजन और न्यूजीलैंड के दर्शकों के लिए भी किया जाएगा।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

RSTV-LSTV को लेकर सरकार ने किया ये बड़ा फैसला!

पीएमओ के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, सरकार ने इसके लिए पांच सदस्यों की एक कमेटी बनाई है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 07 November, 2019
Last Modified:
Thursday, 07 November, 2019
RSTV LSTV

मोदी सरकार बड़े फैसले लेने के लिए विख्यात है। सरकार ने कई ऐसे मुद्दों पर बड़े फैसले लिए हैं, जिन पर चर्चा तो बरसों से चलती थी, पर फैसला नहीं हो पाता था। अब ऐसे ही एक मामल दो चैनलों ‘राज्यसभा टीवी’ और ‘लोकसभा टीवी’ का है। बताया जा रहा है कि बीते कई सालों से चर्चा चल रही थी कि इन दोनों चैनलों को एक कर दिया जाए पर इसके मर्जर का फैसला अब इस हफ्ते होने की संभावना है।

सरकार का मानना है कि दोनों चैनलों के संचालन में एक बहुत बड़ी रकम खर्च हो रही है। ऐसे में कॉस्ट कटिंग के तौर पर दोनों का मर्जर जरूरी है। ऐसे में दोनों चैनलों को एक ही बिल्डिंग से संचालित करने का भी प्लान है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, सरकार ने मन बना लिया है कि अब दो चैनलों के बजाय एक चैनल ही पर्याप्त है। वैसे मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पिछले महीने सर्बिया के बेलग्रेड में आयोजित हुई इंटर पार्लियामेंट्री यूनियन (IPU) में राज्सभा के सेकेट्री-जनरल देश दीपक वर्मा भी इस तरह का संकेत दे चुके हैं।

अभी राज्यसभा टीवी में फ्रीलांसर, एडहॉक और पे रोल पर करीब 300 एम्पलॉइज हैं, वहीं लोकसभा टीवी में करीब 100 कर्मी तैनात हैं। माना जा रहा है कि विलय के बाद ये आंकड़ा करीब 200 का रह जाएगा। ऐसे में करीब 200 एम्पलॉइज को बाहर का रास्ता दिखाया जा सकता है। पीएमओ के सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक सरकार ने इसके लिए पांच सदस्यों की एक कमेटी बनाई है, जिसमें प्रसार भारती के चेयरमैन ए. सूर्यप्रकाश और ए.ए.रॉव भी शामिल हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पति की हत्या के बाद अब कुछ यूं छलका महिला टीवी एंकर का दर्द

गोली मारकर कर दी गई थी न्यूज एंकर की हत्या, एंकर की पत्नी ने हत्यारोपित पर लगाए कई गंभीर आरोप

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 07 November, 2019
Last Modified:
Thursday, 07 November, 2019
TV Anchor

अपने पति के लिए इंसाफ की लड़ाई लड़ रहीं पाकिस्तानी पत्रकार और टीवी एंकर जारा अब्बास खैर का आरोप है कि मामले से जुड़े पत्रकारों को डराया-धमकाया जा रहा है, ताकि वे अदालती कार्यवाही से दूर रहें। जारा के पति मुरीद अब्बास की नौ जुलाई को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस संबंध में पुलिस ने मुख्य आरोपित आतिफ जमां को गिरफ्तार भी किया था, लेकिन उसने खुदकुशी का प्रयास किया, जिसके बाद उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया।

मुरीद ‘बोल न्यूज’ चैनल में बतौर एंकर काम करते थे। जारा ने बुधवार को जारी अपने विडियो संदेश में कहा है कि मुख्य आरोपित आतिफ जमां और उसके परिवार द्वारा हत्याकांड की सुनवाई को कवर कर रहे पत्रकारों को धमकाया जा रहा है। जारा का यह भी कहना है कि आरोपित को वीआईपी ट्रीटमेंट दिया जा रहा है। जारा के अनुसार, ‘अदालत में सुनवाई के लिए उपस्थित होने पर जमां के चेहरे पर अजीब से मुस्कान होती है, वो खुलेआम सिगरेट पीता है, उसके पास लाइटर है। उसे मिनरल वॉटर भी उपलब्ध कराया जाता है।’

यह भी पढ़ें: ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर न्यूज एंकर की हत्या, दोस्त की भी गई जान

जारा का कहना है कि उनके पति ने आरोपित के टायर के व्यवसाय में निवेश किया था और अब अपने पैसे वापस मांग रहे थे। इसी विवाद में उनकी हत्या कर दी गई। जारा ने बताया कि दो नवंबर को सत्र न्यायालय में चल रही हत्याकांड की सुनवाई को कवर करने आये एक पत्रकार पर हमला किया गया था। हमलावरों ने पत्रकार का मोबाइल छीनकर उसके द्वारा बनाए गए विडियो जबरन डिलीट कर दिए थे। जारा का आरोप है कि उन्हें भी अप्रत्यक्ष रूप से धमकी दी जा रही है।

गौरतलब है कि कराची के खयाबन-ए-बुखारी इलाके में नौ जुलाई की रात व्यक्तिगत झगड़े में मुरीद अब्बास की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना में अब्बास के दोस्त खिजर हयात को भी दो गोलियां लगीं थीं, जिन्होंने इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया था।

जारा ने इस बारे में ट्विटर पर एक विडियो भी शेयर किया है, जिसे आप यहां देख सकते हैं-

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रजत शर्मा के खाते में जुड़ी एक और उपलब्धि, मिला ये सम्मान

‘इंडिया टीवी’ के चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ और ‘दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ’ के प्रेजिडेंट रजत शर्मा को दुबई में आयोजित एक समारोह में प्रदान किया गया प्रतिष्ठित अवॉर्ड

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 07 November, 2019
Last Modified:
Thursday, 07 November, 2019
Rajat Sharma

‘इंडिया टीवी’ के चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ और ‘दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ’ (डीडीसीए) के प्रेजिडेंट रजत शर्मा के खाते में एक और उपलब्धि जुड़ गई है। उन्हें बुधवार को दुबई में प्रतिष्ठित ‘द ट्रेल ब्लेजर अवॉर्ड’ (The Trailblazer Award)  से सम्मानित किया गया है।

यह भी पढ़ें: अरनब गोस्वामी के बाद अब आया रजत शर्मा का नंबर, सरकार ने यूं दी अहमियत

दुबई में ‘एशियन बिजनेस लीडरशिप फोरम’ (ABLF) में उन्हें यह अवॉर्ड प्रदान किया गया। इस बारे में रजत शर्मा ने अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर यह जानकारी दी है। इसके साथ ही उन्होने इस सम्मान के लिए यूएई के संस्कृति, युवा और सामाजिक विकास मंत्री शेख नाहयान बिन मुबारक अल नाहयान और ‘एशियन बिजनेस लीडरशिप फोरम’ की जूरी को धन्यवाद भी अदा किया है। बता दें कि यह अवॉर्ड हर साल एशिया के उन लोगों को दिया जाता है, जिन्होंने सामाजिक जिम्मेदारियों को निभाते हुए बिजनेस की दुनिया में अपनी एक अलग पहचान बनाई है।

रजत शर्मा का यह ट्वीट आप यहां पढ़ सकते हैं।

बता दें कि रजत शर्मा को पिछले दिनों ही निजी टेलिविजन न्यूज चैनल्स का प्रतिनिधित्व करने वाले समूह 'न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन' (एनबीए) का दोबारा प्रेजिडेंट चुना गया है। हाल ही में वह ‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन’ (Indian Broadcasting Foundation)  के बोर्ड में बतौर वाइस प्रेजिडेंट भी चुने गए हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

समाचार प्लस’ वाले उमेश कुमार ने तय की नए चैनल की लॉन्चिंग डेट

इस चैनल के बंद होने के बाद उन्होंने अब गैर हिंदी प्रदेश में काम करना शुरू कर दिया है, चार डिजिटल प्लेटफॉर्म किए शुरू

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 06 November, 2019
Last Modified:
Wednesday, 06 November, 2019
Umesh Kumar

एक समय उत्तर प्रदेश में अपनी धमक रखने वाले न्यूज चैनल ‘समाचार प्लस’ के कर्ताधर्ता उमेश कुमार अब एक नए चैनल का प्लान कर रहे हैं। ‘समाचार प्लस’ के बंद होने के बाद उन्होंने अब गैर हिंदी प्रदेश में काम करना शुरू कर दिया है

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, इस महीने की 20 तारीख को वे एक नया चैनल लॉन्च करने जा रहे हैं। प्रोमो शूट चल रहा है। बताया जा रहा है कि ‘डिस्कवरी’, ‘हिस्ट्री’ जैसे प्रतिष्ठित चैनलों के साथ काम कर चुकी अत्याधुनिक टीम को इसके लिए हायर किया गया है। चैनल की प्रॉडक्शन क्वॉलिटी पर विशेष फोकस रखा जा रहा है। ये पूर्ण एचडी चैनल होगा।

दूसरी ओर, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, राजस्थान जैसे राज्यों में उन्होंने अपने चार मीडिया प्लेटफॉर्म्स- यूपी न्यूज, पहाड़ न्यूज, एनएनआई और मोजो न्यूज शुरू कर दिए हैं। नई माइक आईडी और लोगो डिजाइन हो चुके हैं और जल्दी ही आपको इन आईडी वाले पत्रकार खबरों के साथ दिखाए देने लगेंगे। 

इन चारों मीडिया प्लेटफॉर्म्स के लोगो आप यहां देख सकते हैं-

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार ने PM को बताया कार्टून, एंकर को आया गुस्सा, सिक्यूरिटी बुलाने की मांग

डिबेट शो में शामिल दर्शकों ने भी जताया विरोध, गेस्ट को शो से बाहर निकालने के लिए सिक्योरिटी बुलाने तक की मांग उठी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 06 November, 2019
Last Modified:
Wednesday, 06 November, 2019
Narendra Modi

वाकई में यह दिलचस्प मामला है, जो हिंदी न्यूज चैनल ‘न्यूज18इंडिया’ के एक डिबेट शो के दौरान हुआ। इस चैनल पर वरिष्ठ पत्रकार और चर्चित एंकर्स में शुमार अमिश देवगन इस शो को होस्ट करते हैं, जिसका नाम है 'आर पार'। शो में वॉट्सऐप जासूसी कांड और उसके चलते बढ़ती असहिष्णुता को लेकर बहस हो रही थी।

इस शो में मोदी सरकार और संघ के विरोधी पूर्व पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक निशांत वर्मा ने पीएम मोदी को कार्टून तक कह डाला। इतना सुनते ही शो के होस्ट अमिश देवगन हत्थे से उखड़ गए। शो के पैनल में मौजूद बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने तो इस गेस्ट को शो से बाहर निकालने के लिए सिक्यूरिटी बुलाने तक की मांग कर डाली।

इन दिनों कांग्रेस अपने प्रवक्ताओं को कई सारी डिबेट्स में जाने से रोक रही है। अगर कोई कांग्रेस समर्थक पूर्व पत्रकार या पॉलिटिकल विश्लेषक जाता भी है और उसके सामने अगर संबित पात्रा होते हैं तो वह पूरी तैयारी के साथ जाता है। ऐसे में इन दिनों संबित पात्रा खासी बड़ी मुसीबत से गुजर रहे हैं। अब संबित के विरोधी उन्हीं की तरह दूसरे पर हावी होनी की कला का डिबेट्स शो के दौरान खूब प्रयोग करने लगे हैं। निशांत वर्मा ने भी बिल्कुल ऐसा ही किया।

शो के दौरान मुद्दा चल रहा था कि इंदिरा गांधी को खलनायक क्यों बोला गया। बोलने के लिए जब संबित पात्रा का नंबर आया तो निशांत वर्मा जो अपनी बात पहले ही खत्म कर चुके थे, अपनी डायस छोड़कर संबित पात्रा के सामने जाकर खड़े हो गए। उन्होंने एक कागज निकाला और उसे दोनों हाथों से पकड़कर दर्शकों और कैमरों के सामने दिखाकर बार-बार बोलने लगे कि बीजेपी ने इंदिरा के बारे में यह क्यों बोला? संबित पात्रा ने उन्हें समझाया, रोकने की कोशिश की, सामने से हटाने की कोशिश की लेकिन निशांत वर्मा बिना रुके लगातार बोलते रहे और वहीं खड़े रहे।

ऐसे में अमिश देवगन को दर्शकों के बीच से उठकर मंच पर आना पड़ा और निशांत वर्मा को उनकी जगह भेजना पड़ा। यहां तक तो सब ठीक था लेकिन अचानक निशांत वर्मा ने जाते-जाते यह बोल डाला कि किस कार्टून को पीएम की कुर्सी पर बैठा दिया है। इस पर संबित पात्रा ने एतराज किया, लेकिन अमिश ने तो इसे बात को तान दिया। पहले कई बार खुद मना किया, फिर दर्शकों के मुंह पर माइक लगा कर उनसे पूछने लगे कि क्या पीएम के बारे में कार्टून जैसा शब्द इस्तेमाल करना ठीक है?

दर्शक भी विरोध करने लगे। इधर निशांत वर्मा फिर एक्टिव हो गए और मंच पर संबित पात्रा के सामने जाकर खड़े हो गए। इस पर संबित पात्रा ने फौरन चिल्लाकर कहा कि सिक्योरिटी को बुलाइए और इनको यहां से बाहर करिए। ये विडियो क्लिप सोशल मीडिया पर बड़ी तेजी से वायरल हो रही है। अगर आपने नहीं देखी हो तो आप इस क्लिप को यहां देख सकते हैं-

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इंडिया टुडे समूह की महिला पत्रकार के मामले में बार काउंसिल ने लिया ये फैसला

कहा- हिंसा से जुड़ी किसी भी घटना को सहन नहीं किया जाएगा। इसके साथ ही वकीलों से हड़ताल खत्म करने के लिए भी कहा गया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Tuesday, 05 November, 2019
Last Modified:
Tuesday, 05 November, 2019
India Today

इंडिया टुडे समूह की पत्रकार पूनम शर्मा के साथ सोमवार को दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में कुछ वकीलों द्वारा दुर्व्यवहार के मामले में बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने संज्ञान लिया है। इस बारे में बार काउंसिल ने एक पत्र जारी किया है। पत्र में बार काउंसिल ने को-आर्डिनेशन कमेटी व बार एसोसिएशन से उन वकीलों की पहचान करने के लिए कहा है, जिन्होंने पत्रकार के साथ अभद्र व्यवहार किया।

बार काउंसिल का कहना है कि पत्रकार से बदसलूकी करने वाले वकीलों पर बार काउंसिल की ओर से कार्रवाई की जाएगी। बार काउंसिल के अनुसार हिंसा से जुड़ी किसी भी घटना को सहन नहीं किया जाएगा। इसके साथ ही बार काउंसिल ने वकीलों से हड़ताल खत्म करने के लिए भी कहा है।

बार काउंसिल की ओर से जारी पत्र की कॉपी आप यहां पढ़ सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए