अब इस चैनल की कश्ती पर सवार हुए पत्रकार आयुष कुमार जायसवाल

मूल रूप से वाराणसी के रहने वाले आयुष कुमार ने वहीं की महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ से पढ़ाई की है

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Tuesday, 13 August, 2019
Last Modified:
Tuesday, 13 August, 2019
Ayush Kumar

पत्रकार आयुष कुमार जायसवाल ने ‘जी हिन्दुस्तान’ में अपनी पारी को विराम दे दिया है। यहां करीब एक साल तक वे प्रॉडक्शन एग्जिक्यूटिव के पद पर कार्यरत थे। उन्होंने अपना नया सफर अब ‘एबीपी गंगा’ चैनल से किया है। यहां उन्हें असिस्टेंट प्रड्यूसर पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है। मूल रूप से उत्तर प्रदेश में वाराणसी के रहने वाले आयुष कुमार जायसवाल ने वहीं महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ से पढ़ाई की है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

बंद हो सकता है ये टीवी चैनल, लगा गंभीर आरोप

चैनल का कर्ताधर्ता अपने भड़काऊ भाषणों के चलते पहले से भारत सरकार के निशाने पर है और यहां से बचकर मलेशिया में रह रहा है

Last Modified:
Friday, 23 August, 2019
TV Channel

होमोसेक्सुअल्स को गाली देने पर टीवी चैनल पीस टीवी (Peace TV) का लाइसेंस कैंसल हो सकता है। दरअसल, इस चैनल में होमोसेक्सुअल्स पर 11 मार्च 2018 को Strengthening Your Family-The Valley of the Homosexuals टाइटल से एक शो दिखाया गया था। ये शो 24 मिनट का था और शो के होस्ट का नाम था कासिम खान। आरोप है कि कासिम ने शो में होमोसेक्सुअल्स को सुअरों से भी बुरा बता दिया, जिसके चलते दुनिया भर में विरोध हो रहा है।

चैनल का कर्ताधर्ता जाकिर नाइक, अपने भड़काऊ भाषणों के चलते पहले से भारत सरकार के निशाने पर है और यहां से बचकर मलेशिया में रह रहा है। अब ब्रिटेन की सरकार इस घटना के बाद इस चैनल का लाइसेंस रद्द करने की सोच रही है।

इस शो में होस्ट कासिम खान ने कहा था,  ‘You never see two male pigs trying to have sex together. That’s insanity. Worse than animals. Human beings can be worse At least an animal does have the dignity of confining their passion, their sexual passion, to the opposite gender.’। पीस टीवी का एक और शो भी ब्रिटेन की सरकार के निशाने पर है। इस शो में 22 नवम्बर 2017 को एक वक्ता शेख अशफाक सलाफी ने बयान दिया था कि इस्लाम में जादू दिखाने वाले मैजीशियन की सजा केवल फांसी है।

बता दें कि पीस टीवी उर्दू का प्रसारण दुबई से होता है। भारत, बांग्लादेश के अलावा श्रीलंका भी इस चैनल को बैन कर चुका है। ब्रिटेन की सरकार की एक कमेटी तमाम आरोपों और पीस टीवी की सफाई का अध्ययन कर रही है और माना जा रहा कि वो संतुष्ट नहीं है, ऐसे में जाकिर नाइक का ये चैनल ब्रिटेन में बंद हो सकता है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Zee Media के COO के बारे में आई बड़ी खबर

पूर्व में इंडिया टुडे समूह में ग्रुप सीईओ की जिम्मेदारी संभाल रहे थे, जहां से पिछले साल दिसंबर में इस्तीफा दे दिया था

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Friday, 23 August, 2019
Last Modified:
Friday, 23 August, 2019
Zee Media

‘जी’ (Zee) समूह से एक बड़ी खबर निकलकर सामने आ रही है। इस खबर के अनुसार, ‘जी मीडिया’ (Zee Media) में संक्षिप्त पारी खेलने के बाद सीओओ विवेक खन्ना ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। इस बारे में जी मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ जवाहर गोयल ने न तो इस तरह की खबर की पुष्टि की है और न ही इससे इनकार किया है। बता दें कि विवेक खन्ना पूर्व में इंडिया टुडे समूह में ग्रुप सीईओ की जिम्मेदारी संभाल रहे थे, जहां से उन्होंने पिछले साल दिसंबर में इस्तीफा दे दिया था।

जहां तक अनुभव की बात है तो ‘आईआईएम’ (IIM) अहमदाबाद के छात्र रहे विवेक खन्ना को स्‍ट्रेटजी, सेल्‍स और मार्केटिंग के क्षेत्र में काम करने का करीब 27 वर्षों का अनुभव है। विवेक खन्ना ने अपने करियर की शुरुआत ‘हिन्‍दुस्‍तान यूनिलीवर’ (Hindustan Unilever) से की थी, जहां उन्होंने एक लंबी पारी खेली थी। फिर वे ‘अवीवा’ (Aviva) से जुड़ गए और यहां उन पर कंपनी के प्रॉडक्ट और मार्केटिंग स्ट्रैटजी की जिम्मेदारी थी। इसके बाद वे वर्ष 2008 में ‘हिन्‍दुस्‍तान मीडिया वेंचर्स लिमिटेड’ (Hindustan Media Ventures Limited) में आ गए और फिर साल 2013 में वे यहां चीफ एग्जिक्‍यूटिव ऑफिसर बने। 2017 तक वे इस पद पर अपना योगदान देते रहे। इसके बाद उन्होंने नवंबर 2017 में ‘इंडिया टुडे ग्रुप’ से अपनी पारी को आगे बढ़ाया और तकरीबन एक साल बाद ही यहां से अलविदा कह दिया था।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

NDTV को झटके पर झटका, अब अंतरिम CEO सुपर्णा सिंह ने उठाया बड़ा कदम

बुधवार को ही सीबीआई ने प्रत्यक्ष विदेश निवेश के नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में एनडीटीवी के प्रमोटर्स डॉ. प्रणॉय रॉय और राधिका रॉय समेत कुछ अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Friday, 23 August, 2019
Last Modified:
Friday, 23 August, 2019
Suparna Singh

तमाम वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों में घिरे एनडीटीवी (NDTV) समूह  की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। अब अंतरिम सीईओ सुपर्णा सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। एनडीटीवी की ओर से बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) को इस बारे में जानकारी दी गई है। माना जा रहा है कि उन्होंने सिर्फ अंतरिम सीईओ के पद से इस्तीफा दिया है और वह एनडीटीवी में बतौर पत्रकार कार्य करती रहेंगी।

एनडीटीवी का कहना है, ‘सुपर्णा सिंह ने कंपनी को बताया है कि वह तुरंत प्रभाव से अंतरिम सीईओ के पद से इस्तीफा दे रही है।’ एनडीटीवी का यह भी कहना है कि कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने चार दिसंबर 2017 को एक प्रस्ताव में सुपर्णा सिंह को सीईओ नियुक्त किया था। इस पर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की मंजूरी की जरूरत थी।

कंपनी ने मंत्रालय के समक्ष मंजूरी के लिए 12 दिसंबर 2017 को आवेदन किया था, लेकिन मंत्रालय की ओर से इस बारे में अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है। इसके बाद कंपनी और सुपर्णा सिंह ने एक नियुक्ति समझौता किया था, जिसके तहत सुपर्णा सिंह की सीईओ पद पर नियुक्ति इस मंजूरी पर निर्भर थी।  

बता दें अमेरिका की सायरेकस यूनिवर्सिटी (Syracuse University) से टीवी, रेडियो और फिल्म में पोस्ट ग्रेजुएट सुपर्णा सिंह वर्ष 1994 से एनडीटीवी से जुड़ी हुई हैं और इस दौरान तमाम पदों पर अपनी जिम्मेदारी निभा चुकी हैं। वर्ष 2016 में विक्रम चंद्रा ने कंपनी के सीईओ के पद से इस्तीफा दे दिया था, इसके बाद सुपर्णा सिंह को यह पद दिया गया था। मंत्रालय से मंजूरी न मिलने के कारण इस दौरान सुपर्णा सिंह अंतरिम सीईओ के रूप में काम कर रहीं थी।   

गौरतलब है कि लंबे समय से वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों में घिरे एनडीटीवी पर सरकारी एजेसिंयों का शिकंजा कसता जा रहा है। बुधवार को ही सीबीआई ने प्रत्यक्ष विदेश निवेश (FDI) के नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में एनडीटीवी के प्रमोटर्स डॉ. प्रणॉय रॉय और राधिका रॉय समेत कुछ अन्य लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया था। इससे पहले नौ अगस्त को डॉ. प्रणॉय रॉय और राधिका रॉय को देश छोड़ने पर रोक लगा दी गई थी। उन्हें मुंबई एयरपोर्ट पर ही रोक लिया गया था।

एनडीटीवी द्वारा सुपर्णा सिंह के बारे में बीएसई और एनएसई को लिखे गए पत्र की कॉपी आप यहां देख सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

'सनसनी' के एंकर की बड़ी उपलब्धि, बनाया ये वर्ल्ड रिकॉर्ड

श्रीवर्धन त्रिवेदी एक पत्रकार ही नहीं, बल्कि एक्टर भी हैं, जो एक-दो मूवीज में काम भी कर चुके हैं

Last Modified:
Friday, 23 August, 2019
Shrivardhan Trivedi

‘सन्नाटे को चीरती हुई सनसनी सन्न कर देती है इंसान को’ ये टैगलाइन देश के बच्चे-बच्चे की जुबान पर आज भी है और आज भी ये शो एबीपी न्यूज पर रोजाना आता है। 2004 में स्टार न्यूज पर शुरू हुए इस शो को कभी बीएजी फिल्म्स बनाता था। आज स्टार न्यूज का नाम बदलकर एबीपी न्यूज हो चुका है। बीएजी की जगह एबीपी न्यूज खुद ये शो बना रहा है। शो के कई प्रड्यूसर्स बदल चुके हैं, लेकिन पिछले 15 सालों से कोई नहीं बदला तो वो है शो का चेहरा यानी श्रीवर्धन त्रिवेदी। अब उसी चेहरे को इसी वजह से वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में जगह मिली है।

श्रीवर्धन त्रिवेदी एक पत्रकार ही नहीं, बल्कि एक्टर भी हैं, जो एक-दो मूवीज में काम भी कर चुके हैं, लेकिन सनसनी के ऑडिशन के बाद उस वक्त स्टार न्यूज के हेड उदय शंकर और बीएजी फिल्म्स के एडिटोरियल हेड अजीत अंजुम को यह चेहरा इतना पसंद आया कि अपने शो का एंकर बना लिया। उन दिनों ये अपने आप में अनोखा शो था। एडिटोरियल टीम की जबरदस्त मेहनत और श्रीवर्धन त्रिवेदी का स्टाइल की बदौलत इस शो की टीआरपी आज तक इस मोड़ पर नहीं पहुंची है कि उसे बंद करने के बारे में सोचा जाए।

अब सनसनी को 15 साल हो गए हैं और वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स ने शो के होस्ट श्रीवर्धन त्रिवेदी को एक प्रशस्ति पत्र दिया है, जिसे सनसनी के ट्विटर एकाउंट से शेयर किया गया है।

समाचार4 मीडिया की तरफ से श्रीवर्धन त्रिवेदी को, सनसनी की पूरी टीम को, एबीपी न्यूज को और उससे कभी न कभी जुड़े रहे हर पत्रकार या प्रोडक्शन यूनिट के सदस्यों को इस उपलब्धि पर ढेरों बधाइयां।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

युवा टीवी पत्रकार जास्मिन शर्मा ने अब इस मीडिया ग्रुप से की नई शुरुआत

मूल रूप से हिमाचल प्रदेश की रहने वालीं जास्मिन शर्मा मीडिया में आने से पहले थियेटर भी कर चुकी हैं

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Wednesday, 21 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 21 August, 2019
Jasmine Sharma

युवा टीवी पत्रकार जास्मिन शर्मा ने अपने नए सफर की शुरुआत की है। उन्होंने ‘जी मीडिया’ (Zee Media) को रीजनल चैनल 'जी राजस्थान' में बतौर असिस्टेंट प्रड्यूसर जॉइन किया है। जी मीडिया के साथ अपनी नई पारी शुरू करने से पूर्व वह न्यूज18 में काम कर रही थीं।  

मूल रूप से हिमाचल प्रदेश की रहने वालीं जास्मिन शर्मा ने शिमला से स्कूली पढ़ाई करने के बाद पुणे के फर्ग्युसन कॉलेज (Fergusson college) से बीएससी की है। इसके बाद उन्होंने हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी से मास कम्युनिकेशन और जर्नलिज्म में पोस्ट ग्रेजुएशन (MA) किया है। पढ़ाई के दौरान ही उन्होंने ‘आजतक’, मुंबई से सबसे पहले इंटर्नशिप की। इसके बाद उन्हें ‘बिग सिनर्जी मीडिया लिमिटेड’ के साथ दो महीने इंटर्नशिप करने का मौका मिला। इसी दौरान उन्होंने  ‘आकाशवाणी’ शिमला में भी काम किया और तमाम रिकॉर्डिंग्स/प्रोग्राम्स किये।

पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद उन्होंने करीब तीन महीने पब्लिक रिलेशंस के क्षेत्र में भी काम किया, लेकिन वहां मन नहीं लगा तो फिर मीडिया के क्षेत्र में वापसी करते हुए ‘इंडिया टीवी’ न्यूज चैनल के साथ इंटर्नशिप से शुरुआत की। करीब एक साल ‘इंडिया टीवी’ में काम करने के बाद उन्होंने यहां से अलविदा कहकर ‘न्यूज18’ को जॉइन कर लिया। यहीं उन्होंने न्यूज एंकरिंग सीखीं और इन दिनों न्यूज18 मध्य प्रदेश/छत्तीसगढ़ में बतौर न्यूज एंकर अपनी जिम्मेदारी संभाल रही थीं। अब वे ‘जी मीडिया’ पहुंची हैं।

बता दें कि जास्मिन शर्मा के पिता सुरेश शर्मा दिल्ली में राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (एनएसडी) के निदेशक हैं और  मम्मी भी कलाकार हैं। घर में बचपन से थियेटर का माहौल होने के कारण वह मीडिया में आने से पहले खुद भी थियेटर कर चुकी हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नेटवर्क18 को मिला ग्रुप एडिटर (टेक ऐंड स्टार्टअप्स)

नए ग्रुप एडिटर को ग्रुप में न्यू इकनॉमी, टेक्नोलॉजी और स्टार्टअप्स की सौंपी गई है जिम्मेदारी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 21 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 21 August, 2019
Network18

नेटवर्क18 (Network18) ने पंकज मिश्रा को वहां न्यू इकनॉमी, टेक्नोलॉजी और स्टार्टअप्स का काम देखने के लिए ग्रुप एडिटर के तौर पर नियुक्त किया है। पंकज मिश्रा इससे पहले न्यू ऐज मीडिया स्टार्टअप ‘फैक्टर डेली’ (Factor Daily) को संभाल रहे थे, जिसे उन्होंने करीब तीन साल पहले शुरू किया था। अपनी नई भूमिका के बारे में पंकज मिश्रा ने अपने लिंक्डइन पेज पर लिखा है, ‘मैं फैक्टर डेली में एंटरप्रिन्योर के रूप में अपने सफर के बाद अब नेटवर्क18 समूह के साथ काम करने जा रहा हूं।’ बताया जाता है कि वह यहां विभिन्न प्लेटफॉर्म्स पर काम करेंगे।

बता दें कि पूर्व में ‘द इकनॉमिक टाइम्स’ (The Economic Times) और ‘मिंट’ (Mint) में अपनी पारी के दौरान मिश्रा टेक्नोलॉजी और स्टार्ट टीमों को शुरू करने के साथ ही उनकी कमान संभाल चुके हैं। वह ‘टेकक्रंच’ (TechCrunch) के एडिटर (इंडिया) भी रह चुके हैं। 

पिछले करीब दो साल से मिश्रा ‘आउटलियर्स’ (Outliers) के नाम से वीकली पॉडकास्ट का निर्माण भी कर रहे हैं। पिछले महीने ही एआर रहमान के साथ उन्होंने 100वां एपिसोड रिकॉर्ड किया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

एनडीटीवी प्रमोटर्स प्रणॉय रॉय और राधिका रॉय के खिलाफ CBI ने लिया ये एक्शन

इससे पहले नौ अगस्त को डॉ. प्रणॉय रॉय और राधिका रॉय को देश छोड़ने पर रोक लगा दी गई थी

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Wednesday, 21 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 21 August, 2019
Radhika-Prannoy

एनडीटीवी (NDTV) समूह से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आई है। खबर ये है कि सीबीआई ने एनडीटीवी के प्रमोटर्स डॉ. प्रणॉय रॉय और राधिका रॉय समेत कुछ अन्य लोगों के खिलाफ बुधवार को मामला दर्ज किया है। प्रत्यक्ष विदेश निवेश (FDI) के नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में सीबीआई की ओर से यह मामला दर्ज किया गया है।

इसके साथ ही सीबीआई ने आपराधिक षड्यंत्र, धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार के आरोपों में कंपनी के पूर्व सीईओ विक्रमादित्य चंद्रा के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है। आरोप है कि एनडीटीवी ने विदेशी फंड हासिल करने के लिए नियमों का जमकर उल्लंघन किया। गौरतलब है कि इससे पहले नौ अगस्त को डॉ. प्रणॉय रॉय और राधिका रॉय को देश छोड़ने पर रोक लगा दी गई थी। उन्हें मुंबई एयरपोर्ट पर ही रोक लिया गया था।

बता दें कि मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में सीबीआई ने जून 2017 में भी डॉ. प्रणॉय रॉय और राधिका रॉय के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी। इसके अलावा उनके घर पर भी छापा मारा गया था। सीबीआई की ओर से अब दर्ज कराई गई एफआईआर की कॉपी आप यहां देख सकते हैं

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ABP न्यूज को मिला नया एग्जिक्यूटिव एडिटर

पूर्व में दो बार निभा चुके हैं इस चैनल में जिम्मेदारी, ​​​​​​​टीवी न्यूज इंडस्ट्री में पर्दे के पीछे काम करने वालों में काफी काबिल पत्रकार के तौर पर है पहचान

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 21 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 21 August, 2019
ABP News

टीवी न्यूज इंडस्ट्री में पर्दे के पीछे काम करने वालों में निखिल कुमार दुबे ऐसा चेहरा हैं, जिन्हें काफी काबिल माना जाता है। बताया जा रहा है कि उन्होंने आज से अपनी नई पारी का आगाज कर दिया है। वे एक बार फिर एबीपी न्यूज चैनल का हिस्सा बन गए हैं। उनकी यहां यह तीसरी पारी है। इस बार उन्होंने बतौर एग्जिक्यूटिव एडिटर जॉइन किया है। गौरतलब है कि मई में न्यूज नेशन से इस्तीफा देने के बाद निखिल किसी अच्छे ऑप्शन की तलाश में थे। एबीपी न्यूज के साथ उनकी नई पारी एक तरह से उनकी ‘घर वापसी’ ही है।

गौरतलब है कि क्वॉलिटेटिव काम करने में माहिर निखिल दुबे की पिछली दो पारियां बहुत ही छोटी रही हैं। न्यूज नेशन के साथ जहां वे तीन महीने ही काम कर पाए, वहीं इससे पहले ‘इंडिया न्यूज’ के साथ वे ढाई महीने की पारी ही खेल पाए थे। उन्होंने 2019 फरवरी में न्यूज नेशन जॉइन किया था और मई में उसे अलविदा कह दिया था। वहीं इंडिया न्यूज में वे नवंबर 2018 से जनवरी 2019 तक कार्यरत रहे।

‘इंडिया न्यूज’ से पहले निखिल दुबे ‘एबीपी न्यूज’ में डिप्टी एग्जिक्यूटिव प्रड्यूसर के पद पर कार्यरत थे। उन्होंने वहां 9 जुलाई  2016 को पदभार संभाला था। पर जब वहां के मैनेजिंग एडिटर मिलिंद खांडेकर ने पिछले साल अचानक चैनल से इस्तीफा दिया था तो निखिल ने भी सितंबर में अपना इस्तीफा दे दिया था। ‘एबीपी न्यूज’ (ABP News) में ये इनकी दूसरी पारी थी। इससे पहले वे अप्रैल 2006 से अक्टूबर 2009 में एसोसिएट एग्जिक्यूटिव प्रड्यूसर के तौर पर भी इस चैनल के साथ काम कर चुके हैं। तब इस चैनल का नाम ‘एबीपी न्यूज’ की जगह ‘स्टार न्यूज’ था।

निखिल कुमार ने 1995 में इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से एलएलबी करने के बाद 2002 में दिल्ली यूनिवर्सिटी से मॉसकॉम किया और इसके बाद पत्रकारिता की दुनिया में कदम रखा। मई 2003 में उन्होंने ‘सहारा समय’ से अपने करियर की शुरुआत की और नवंबर 2005 तक वे यहां रहे। ‘सहारा समय’ में अपने सफर के अंतिम दिनों में वे विशेष संवाददाता की भूमिका में थे। इसके बाद उन्होंने अप्रैल  2006 में ‘स्टार न्यूज’ के साथ अपने सफर को आगे बढ़ाया। वहां 3 साल 7 महीने रहने के बाद उनके सफर का अगला पड़ाव ‘आजतक’ बना। नवंबर 2010 से नवंबर  2012 तक वे सीनियर प्रड्यूसर के तौर पर ‘आजतक’  को अपना योगदान देते रहे। इसके बाद उन्होंने कुछ समय तक फ्रीलांस के तौर पर काम किया।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इस न्यूज चैनल से जुड़े युवा पत्रकार वैभव सिंह

वैभव सिंह ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के नोएडा कैंपस से पत्रकारिता में मास्टर्स की डिग्री ली है

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Tuesday, 20 August, 2019
Last Modified:
Tuesday, 20 August, 2019
Vaibhaw Singh

पत्रकार वैभव सिंह ने सूर्या समाचार, नोएडा के साथ अपने पत्रकारिता करियर की नई पारी शुरू की है। उन्होंने यहां पर बतौर असिस्टेंट प्रड्यूसर जॉइन किया है। सूर्या समाचार के साथ नई पारी शुरू करने से पूर्व वैभव सिंह जनतंत्र टीवी, नोएडा में असिस्टेंट प्रड्यूसर की जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

मूल रूप से गढ़वा (झारखंड) के रहने वाले वैभव सिंह ने माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के नोएडा कैंपस से पत्रकारिता में मास्टर्स की डिग्री ली है। उन्होंने पत्रकारिता में अपने करियर की शुरुआत रांची में ‘राष्ट्रीय खबर’ अखबार से बतौर उपसंपादक की थी।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ टीवी पत्रकार वाशिंद्र मिश्र का बढ़ा कद, राज्यपाल ने किया नॉमिनेट

वाशिंद्र मिश्र को मीडिया के क्षेत्र में काम करने का 30 साल से ज्यादा का अनुभव है, तीन साल के लिए मिली है नई जिम्मेदारी

Last Modified:
Tuesday, 20 August, 2019
Vashindra Mishra

वरिष्ठ टीवी पत्रकार वाशिंद्र मिश्र को एक बड़ी जिम्मेदारी मिली है। उन्हें जयपुर की हरिदेव जोशी यूनिवर्सिटी ऑफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन (Haridev Joshi University Of Journalism and Mass Communication) के बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट में राज्यपाल और यूनिवर्सिटी के चांसलर के नॉमिनी के रूप में नॉमिनेट किया गया है। वाशिंद्र मिश्र को तीन साल के लिए यह जिम्मेदारी सौंपी गई है।

बता दें कि वाशिंद्र मिश्र पत्रकारिता की दुनिया में जाना-माना नाम हैं। कुछ माह पूर्व ही उनके नेतृत्व में ‘जनत्रंत’ टीवी को रिलॉन्च किया गया था। इससे पूर्व करीब एक साल तक ‘नेटवर्क 18’ में अपना योगदान देने के बाद वाशिंद्र मिश्र ने मई 2018 में इस्तीफा दे दिया था। वे कंसल्टिंग एडिटर के तौर पर इस समूह के साथ जुड़े हुए थे। 

जून  2017 में नेटवर्क18 समूह का हिस्सा बने वाशिंद्र मिश्र ‘जी मीडिया’ से इस्तीफा देकर यहां पहुंचे थे। तब ‘जी मीडिया’ में वे रीजनल चैनल्स के पॉलिटिकल एडिटर थे। उन्हें अप्रैल  2017 में इस पद की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। इसके पहले तक वे समूह के रीजनल चैनल ‘इंडिया 24X7’ (India 24x7) के एडिटर की कमान संभाले हुए थे। वे ‘जी न्यूज यूपी/उत्तराखंड’ में भी एडिटर की भूमिका निभा चुके हैं। 

वाशिंद्र मिश्र लगभग 30 वर्षों से पत्रिकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं। उन्हें टेलिविजन इंडस्ट्री में 19 वर्षों और प्रिंट इंडस्ट्री में 11 सालों का अनुभव है। मूल रूप से लखनऊ के रहने वाले वाशिंद मिश्र ने लखनऊ क्रिश्चियन कॉलेज से ग्रेजुएशन करने के बाद लखनऊ यूनिवर्सिटी से बेस्टर्न हिस्ट्री में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। वाशिंद्र मिश्र ने अपने करियर की शुरुआत रांची के एक अंग्रेजी अखबार से की थी। वर्ष 1988 में वे प्रभात खबर और यहां करीब एक साल तक काम करने के बाद 1989 में अमर उजाला के साथ जुड़ गए। 

इसके बाद उन्होंने वर्ष 1995 में टाइम्स ऑफ इंडिया, लखनऊ का रुख कर लिया। इस अखबार में करीब दो साल तक अपनी जिम्मेदारी निभाने के बाद उन्होंने 1997 में लखनऊ में ही हिन्दुस्तान टाइम्स के साथ अपनी नई पारी शुरू की। यहां भी वह करीब दो साल तक ही रहे। इसके बाद उन्होंने इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में जाने के प्रयास शुरू कर दिए। उस दौरान उन्हें पता चला कि जी न्यूज को लखनऊ में रिपोर्टिंग सपोर्ट की जरूरत है। इसके बाद उन्होंने मई 1999 से अगस्त 2000 तक ‘जी न्यूज’ के लिए कई स्टोरी कीं। 

वर्ष 2008 में ‘जी मीडिया’ के साथ जुड़ने से पहले उन्होंने रिलायंस इंडस्ट्री में लगभग तीन वर्षों तक काम किया है, जहां वे अगस्त  2000 से अप्रैल  2003 तक न्यूज व करेंट अफेयर्स के कंटेंट हेड रहे हैं। पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए वाशिंद्र मिश्र को काशी विद्वत परिषद (Kashi Vidwat Parisha) की ओर से भी सम्मानित किया जा चुका है। 

अब हरिदेव जोशी यूनिवर्सिटी ऑफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन के बोर्ड ऑफ मैनेजमेंट में राज्यपाल के नॉमिनी के रूप में वाशिंद्र मिश्र को नॉमिनेट किए जाने के बारे में राज्यपाल सचिवालय की ओर से एक पत्र भी जारी किया है। इस पत्र को आप यहां देख सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए