रकम पर बड़ा मुनाफा कमाने से पहले जरूर देखें ‘जी बिजनेस’ का ये स्टिंग

एक बार पैसा जमा करने के बाद लोग इनके जाल में फंस जाते हैं, क्योंकि पैसा मिलते ही इस तरह की कंपनियां गायब हो जाती हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 29 November, 2019
Last Modified:
Friday, 29 November, 2019
Zee Business Sting

स्टॉक मार्केट में पैसा लगाने वाले कई लोगों को फर्जी एडवाइजरी कंपनियां चपत लगा रही हैं। भोले-भाले लोग इन कंपनियों के झांसे में आकर अपनी गाढ़ी कमाई गंवा रहे हैं। ऐसे में इस तरह की फर्जी कंपनियों के खिलाफ हाल ही में ‘जी मीडिया’ (Zee Media) के बिजनेस न्यूज चैनल ‘जी बिजनेस’ (Zee Business) ने एक स्टिंग ऑपरेशन चलाया। इस स्टिंग ऑपरेशन के आधार पर ‘जी बिजनेस’ के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी ने अपने शो ‘मार्केट माफिया’ के जरिये बताया कि शेयर मार्केट में सक्रिय धोखेबाज किस तरह से छोटे और मंझोले निवेशकों को लालच देकर उनकी मेहनत की कमाई को लूट लेते हैं। हालांकि, सिंघवी ने इस शो में पहले ही स्पष्ट कर दिया कि यह शो सही और वास्तविक स्टॉक मार्केट एडवाइजरी कंपनियों के खिलाफ नहीं है और इसमें सिर्फ फर्जी और धोखा देने वाली कंपनियों को ही निशाना बनाया गया।

बताया जाता है कि यह पहली बार है जब किसी बिजनेस चैनल ने स्टॉक मार्केट की फर्जी एडवाइजरी कंपनियों के खिलाफ इस तरह का स्टिंग ऑपरेशन किया है। तीन पार्ट्स की सीरीज में इस शो का प्रसारण ‘जी बिजनेस’ चैनल पर 26 नवंबर की सुबह 9.56 बजे और 27 व 28 नवंबर की सुबह 10.26 बजे किया गया।

चैनल ने ‘मार्केट माफिया’ में इंदौर की एक एडवाइजरी कंपनी का खुलासा किया। ‘जी बिजनेस’ की टीम ने अपने शो में दिखाया कि कैसे इस कंपनी ने निवेशकों से वादा किया कि यदि वे 20000 रुपए निवेश करेंगे तो उन्हें एक हफ्ते में चार लाख रुपए तक मिल सकते हैं। कैसे मात्र 20000 रुपयों से एक हफ्ते में चार लाख रुपए कमाए जा सकते हैं, इस बारे में बताने के लिए कंपनी ने निवेशकों से 25000 रुपए मासिक सलाह शुल्क देने के लिए कहा था। ऐसा करना बाजार नियामक ‘भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड’ (SEBI) के नियमों के खिलाफ है। यही नहीं, विभिन्न कारणों से निवेशकों से ज्यादा से ज्यादा धन मांगा जाता है। लेकिन फायदा होने के स्थान पर निवेशकों को 30 से 50 लाख रुपए का नुकसान उठाना पड़ा।

इसके अलावा यह भी खुलासा किया गया कि इस तरह की एडवाइजरी कंपनियां अच्छी तरह जानती हैं कि वे क्या कर रही हैं और वे खुलेआम दावा कर रही हैं कि ‘सेबी’ इस मामले में उनके खिलाफ कुछ नहीं कर सकता है। इन कंपनियों के अनुसार, ‘यदि कोई सेबी के पास जाता भी है तो इस धोखाधड़ी को साबित करने के लिए कोई सबूत ही नहीं है।’ इस तरह की कंपनियां निवेशकों से मेंबर बनने के साथ ही उनके खाते में पैसा जमा करने के लिए कहती हैं। एक बार पैसा जमा करने के बाद लोग इनके जाल में फंस जाते हैं, क्योंकि पैसा मिलते ही इस तरह की कंपनियां गायब हो जाती हैं।

‘मार्केट माफिया’ कार्यक्रम के जरिये ‘जी बिजनेस’ ने स्टॉक मार्केट में निवेश करने वालों को इस तरह के जालसाजों से दूर रहने की सलाह देने के साथ-साथ टेलिफोन पर रिकॉर्ड की गई बातचीत को भी प्रसारित किया, ताकि लोगों को इस तरह की कंपनियों की कार्यप्रणाली के बारे में पता चल सके। इस तरह का उद्देश्य यह था कि यदि लोगों को किसी एडवाइजरी फर्म से इस तरह का ऑफर मिलता है तो वे आसानी से इस तरह की फर्जी एडवाइजरी कंपनियों को पहचान सकें। ‘जी बिजनेस’ ने फर्जी और धोखाधड़ी में लिप्त स्टॉक मार्केट एडवाइजरी कंपनियों के नाम भी इस शो में प्रसारित किए, जिससे निवेशकों को इस तरह के ऑनलाइन फ्रॉड से बचने में काफी मदद मिलेगी।

‘जी बिजनेस’ के स्टिंग ऑपरेशन ‘मार्केट माफिया’ के बाद इंदौर पुलिस ने कार्रवाई कर 40 ऐसे धोखेबाजों को गिरफ्तार भी किया है। इसके अलावा ‘जी बिजनेस’ ने यह भी सुनिश्चित किया कि निवेशकों की आवाज ‘सेबी’ तक जरूर पहुंचे। यह ‘जी बिजनेस’ की पहल का ही असर है कि सेबी के चेयरमैन अजय त्यागी ने इस तरह के धोखेबाजों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का आश्वासन दिया है।  

'जी बिजनेस' द्वारा किए गए 'मार्केट माफिया' शो को आप यहां भी देख सकते हैं। 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नेशनल वॉयस चैनल से जुड़ीं ये न्यूज एंकर, शुरू हुए वॉक इन इंटरव्यू

रीजनल न्यूज चैनल ‘नेशनल वॉयस’ (NATIONAL VOICE) की रीलॉन्चिंग की तैयारियां जोरों पर हैं। चैनल कई बड़े नामों को अपने साथ जोड़ने की तैयारी में है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 18 February, 2020
Last Modified:
Tuesday, 18 February, 2020
National Voce

रीजनल न्यूज चैनल ‘नेशनल वॉयस’ (NATIONAL VOICE) की रीलॉन्चिंग की तैयारियां जोरों पर हैं। चैनल कई बड़े नामों को अपने साथ जोड़ने की तैयारी में है। खबर है कि ‘आजतक’ समूह की तेजतर्रार एंकर स्वाति चौरसिया अब ‘नेशनल वॉयस’ चैनल का हिस्सा बन चुकी हैं।

चैनल से जुड़े सूत्रों के मुताबिक अभी बड़े पैमाने पर नियुक्ति प्रक्रिया चल रही है। चैनल को विडियो एडिटर्स, आउटपुट डेस्क और कई अन्य डिपार्टमेंट के लिए योग्य लोगों की जरूरत है। ऐसे उम्मीदवार वॉक इन इंटरव्यू के लिए चैनल के नोएडा सेक्टर 65 स्थित दफ्तर B-128 में एचआर से संपर्क कर सकते हैं।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मीडिया कारोबार को लेकर रिलायंस इंडस्ट्रीज ने की ये बड़ी घोषणा

रिलायंस इंडस्ट्रीज अब अपने मीडिया कारोबार को रीस्ट्रक्चर करेगा। कंपनी ने इसके तहत मीडिया और डिस्ट्रिब्यूशन बिजनेस को ‘नेटवर्क18’ (Network 18) में मिलाने का फैसला किया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 18 February, 2020
Last Modified:
Tuesday, 18 February, 2020
reliance

रिलायंस इंडस्ट्रीज अब अपने मीडिया कारोबार को रीस्ट्रक्चर करेगा। कंपनी ने इसके तहत मीडिया और डिस्ट्रीब्यूशन बिजनेस को ‘नेटवर्क18’ (Network 18) में मिलाने का फैसला किया है। इससे ‘नेटवर्क18’ मीडिया और एंटरटेनमेंट क्षेत्र में देश की अग्रणी कंपनी बन जाएगी। रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अधिकारिक तौर पर इसकी घोषणा कर दी है।  

रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुताबिक, इसके बाद ‘नेटवर्क18’ का सालाना रेवेन्यू 8,000 करोड़ हो जाएगा। ‘टीवी18 ब्रॉडकास्ट’ (TV18 Broadcast), ‘हैथवे केबल’ (Hathway Cable), ‘डेन नेटवर्क’ (Den Networks) और ‘नेटवर्क18’ (Network 18) मीडिया और इन्वेस्टमेंट्स कंपनियों के बोर्ड की सोमवार को बैठक हुई और इसमें विलय को मंजूरी दी गई।  

इसके बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज ने एक बयान जारी कर बताया कि समाचार से लेकर मनोरंजन (लीनियर और डिजिटल) के सभी कंटेंट और देश के सबसे बड़े केबल डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क को एक इकाई बनाने के बाद कंपनी की दक्षता और सिनर्जी बढ़ाने में मदद मिलेगी और सभी स्टेकहोल्डर्स के लिए ये फायदेमंद होगा।

बता दें कि रीस्ट्रक्चरिंग के बाद नेटवर्क 18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट न्यूज और एंटरटेनमेंट के साथ-साथ इंटरनेट, आईएसपी और केबल बिजनेस के क्षेत्र में भी अपनी बेहतर पहुंच बना पाएगी।

वहीं, कंपनी के इस फैसले के बाद ‘टीवी18 ब्रॉडकास्ट’ के 100 शेयरों के बदले ‘नेटवर्क18’ के 92 शेयर मिलेंगे। ‘हैथवे केबल’ के 100 शेयरों के बदले ‘नेटवर्क18’ के 78 शेयर मिलेंगे। विलय के बाद ‘डेन नेटवर्क’ के 100 शेयरों के बदले ‘नेटवर्क18’ के 191 शेयर मिलेंगे।

कंपनी ने बताया कि एक फरवरी 2020 के बाद से ही रिलायंस इंडस्ट्रीज की सभी मीडिया और एंटरटेनमेंट की सारी कंपनियां ‘नेटवर्क18’ की सहायक कंपनियां होंगी। 

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने कहा, इंटीग्रेटेड मीडिया नेटवर्क के जरिए कंपनी को बड़े स्तर पर ग्रुप की कंपनियों के ग्राहकों से जुड़ने का मौका मिलेगा। इसके अलावा इससे ग्राहकों द्वारा इस्तेमाल होने वाले कंटेंट के अधिकतर हिस्से तक पहुंच बन सकेगी।

ब्रॉडकास्ट बिजनेस अब नेटवर्क 18 और केबल एंड इंटरनेट ब्रॉडबैंक बिजनेस के अंतर्गत होगा। नेटवर्क 18 समेकित रूप से नेट डेट फ्री कंपनी होगी। इन सभी कंपनियों का नेटवर्क 18 में विलय होने के बाद रिलायंस ग्रुप की होल्डिंग 75 % से घटकर 64 % हो जाएगी। 

गौरतलब है कि नेटवर्क 18 ग्रुप के पास चैनल की लंबी लिस्ट है। इस ग्रुप के पास 55 डोमेस्टिक और 16 इंटरनैशनल चैनल्स की लिस्ट है।  

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

enba 2019: इन दिग्गजों की जूरी कल करेगी विजेताओं का चुनाव

दिल्ली में 15 फरवरी को जूरी मीट में किया जाएगा विजेताओं का चयन, 22 फरवरी को नोएडा में दिए जाएंगे अवॉर्ड्स

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 14 February, 2020
Last Modified:
Friday, 14 February, 2020
enba

देश में टेलिविजन न्‍यूज इंडस्‍ट्री को नई दिशा देने और इंडस्‍ट्री को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाने में अहम योगदान देने वालों को बहुप्रतिष्ठित ‘एक्‍सचेंज4मीडिया न्‍यूज ब्रॉडकास्टिंग अवॉर्ड्स’ (enba) से सम्मानित किया जाएगा। ‘एक्‍सचेंज4मीडिया न्‍यूज ब्रॉडकास्टिंग अवॉर्ड्स’ के 12वें एडिशन के तहत इस बार 22 फरवरी को नोएडा के रेडिसन ब्लू होटल में समारोह का आयोजन किया जाएगा। समारोह में केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान मुख्य अतिथि होंगे। अवॉर्ड्स पाने वालों के नाम तय किए जाने के लिए 15 फरवरी को दिल्ली के ताज पैलेस होटल में जूरी मीट का आयोजन किया जाएगा। इस जूरी में राज्यसभा के डिप्टी चेयरमैन हरिवंश नारायण सिंह चेयरपर्सन की भूमिका निभाएंगे।

राज्यसभा के डिप्टी चेयरमैन हरिवंश नारायण सिंह के नेतृत्व में दिल्ली में 15 फरवरी को होने वाली जूरी मीट में मीडिया, कॉरपोरेट और राजनीति के क्षेत्र से 38 अन्य प्रतिष्ठित व्यक्तित्वों को जूरी सदस्य के रूप में शामिल किया जाएगा। जूरी के अन्य सम्मानित सदस्यों में ‘बिजनेस वर्ल्ड’ और ‘एक्सचेंज4मीडिया’ ग्रुप के चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ डॉ. अनुराग बत्रा, असम की कलियाबोर सीट से चुने गए सांसद गौरव गोगोई, पूर्व सांसद और बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव महेश गिरी, लोकसभा सांसद और कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्र‍ियल टेक्नोलॉजी (KIIT) व कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (KISS) के फाउंडर प्रोफेसर अच्युत सामंत, राज्यसभा सदस्य जीवीएल नरसिम्हा राव, पूर्व सूचना प्रसारण मंत्री और कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी, लोकसभा सांसद अपराजिता सारंगी, पंजाब राज्य मानव अधिकार आयोग के चेयरपर्सन जस्टिस इकबाल अहमद अंसारी, ‘इंडियन होटल्स कंपनी लिमिटेड’ (IHCL) के मैनेजिंग डायरेक्टर और चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर पुनीत छटवाल, ‘ब्लू स्टार’ के मैनेजिंग डायरेक्टर बी. थियागराजन, ‘डब्‍ल्‍यूपीपी’ (WPP) इंडिया के कंट्री मैनेजर सीवीएल श्रीनिवास का नाम शामिल है।

इनके अलावा जूरी के अन्य सम्मानित सदस्यों में डालमिया ग्रुप के चेयरमैन गौरव डालमिया,  ‘पब्लिसिस ग्रुप साउथ एशिया’ (Publicis Groupe South Asia) की सीईओ अनुप्रिया आचार्य, ‘एडफैक्टर्स पीआर’ (Adfactors PR) के को-फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर मदन बहल, बीजेपी के प्रवक्ता सैयद जफर इस्लाम, बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा, कांग्रेस प्रवक्ता और ‘Dale Carnegie Training India’ के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर संजय झा, बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया, सुप्रीम कोर्ट के सीनियर एडवोकेट जॉय बसु, आम आदमी पार्टी के कोषाध्यक्ष और राष्ट्रीय प्रवक्ता राघव चड्ढा, ‘एमडीआई’ (MDI) गुरुग्राम के डायरेक्टर डॉ. पवन कुमार सिंह, एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के पूर्व प्रेजिडेंट पद्मश्री आलोक मेहता का नाम शामिल हैं।

वहीं, ‘स्कोप इंडिया प्राइवेट लिमिटेड’ (Scope India Pvt Ltd) के एमडी राकेश कुमार शुक्ला, ‘हवास ग्रुप’ (Havas Group) इंडिया के सीईओ राना बरुआ, ‘मेडिकाबाजार’ (Medikabazaar) के फाउंडर और सीईओ विवेक तिवारी,  ‘RightFOLIO’ के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. परकला प्रभाकर, ‘वोल्टास’ के पूर्व सीओओ और ‘सिंपा नेटवर्क्स’ के डायरेक्टर सलिल कपूर, ‘EMMAY Entertainment’ की एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर मोनिषा अड्वानी (MONISHA ADVANI), ‘इंडियन डॉक्यूमेंट्री फाउंडेशन’ की फाउंडर और सीईओ सोफी विश्वरमन (SOPHY VSIVARAMAN) और ‘GoZoop’ के सीईओ और को-फाउंडर अहमद आफताब नकवी और ‘नेट वैल्यू मीडिया’ (Net Value Media) के फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर जनार्दन पांडे को भी जूरी मेंबर्स में शामिल किया गया है। वहीं, खंडप्पा विधानसभा क्षेत्र के एमएलए और ‘ईस्टर्न मीडिया लिमिटेड’ (Eastern Media Limited) के चेयरमैन सौम्य आर पटनायक, राज्यसभा सदस्य डॉ. सुधांशु त्रिवेदी, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के सदस्य डॉ. धनेश्वर मनोहर मुले (Dnyaneshwar Manohar Mulay), जामिया मिलिया इस्लामिया की वाइस चांसलर प्रो. नज्मा अख्तर, ‘राधा टीएमटी’ (Radha TMT) के मैनेजिंग डायरेक्टर सुमन सराफ और ‘मंजीरा ग्रुप’ (Manjeera Group) के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर जी योगानंद को भी जूरी में शामिल किया गया है।

इस प्रतिष्ठित अवॉर्ड्स के पैनल में जो स्पीकर्स हैं, उनमें ‘गोन्यूज’ (Gonews) के फाउंडर व एडिटर-इन-चीफ पंकज पचौरी, ‘सहारा न्यूज नेटवर्क’ (Sahara News Network) के सीईओ व एडिटर उपेंद्र राय, ‘न्यूज18’ (News18) के मैनेजिंग एडिटर किशोर अजवाणी, ‘एबीपी न्यूज’ (ABP News) के वाइस प्रेजिडेंट (प्लानिंग और स्पेशल कवरेज) सुमित अवस्थी, ‘जी बिजनेस’ (Zee Business) के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी, ‘बीबीसी इंडिया’ (BBC India) के डिजिटल एडिटर मिलिंद खांडेकर, हैवलेट पैकर्ड (HP) के पूर्व मार्केटिंग हेड (एशिया-पैसिफिक) लॉयड मैथियास, ‘जी मध्य प्रदेश/ छत्तीसगढ़’, ‘जी यूपी/यूके’, ‘जी पंजाब/ हरियाणा/ हिमाचाल’ और  ‘जी सलाम’ (ZEE MPCG/ ZEE UP UK/ ZEE PHH/ ZEE Salaam) के सीईओ दिलीप तिवारी, शिवसेना की उपनेता प्रियंका चतुर्वेदी, दिल्ली महिला कांग्रेस की अध्यक्ष शर्मिष्ठा मुखर्जी, ‘सहारा समय न्यूज नेटवर्क’ (Sahara Samay News Network) के ग्रुप एडिटर मनोज मनु, ‘साम टीवी’ (Saam TV) के चैनल हेड व एडिटर नीलेश खरे, Suvarnanews.com/ एशिया कन्नड़ डिजिटल के चीफ एडिटर एसके शाम सुंदर, ‘इंडिया टीवी’ (India TV) की न्यूज एंकर अर्चना सिंह, ‘हाफिंगटन पोस्ट’ (Huffington Post) की स्वतंत्र पत्रकार स्मिता शर्मा और ‘सहारा समय’ राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली एनसीआर (Sahara Samay NHR) की चैनल हेड व सीनियर एंकर गरिमा शर्मा शामिल हैं।

बता दें कि वर्ष 2008 में अपनी शुरुआत के बाद से ही यह अवॉर्ड मीडिया में कार्यरत उन शख्सियतों को दिया जाता है, जिन्‍होंने देश में टेलिविजन न्‍यूज इंडस्‍ट्री को एक नई दिशा दी है और इस इंडस्‍ट्री को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानिए, रूबिका लियाकत से क्यों बोले मनोज तिवारी ‘मेरी लड़ाई करवाओगी’?

दिल्ली की लड़ाई में भाजपा की करारी शिकस्त के बाद हर कोई यह जानना चाहता है कि आखिर पार्टी की नजर में हार की वजह क्या रही? क्या नेताओं के बड़बोलेपन ने उसे नुकसान पहुंचाया या

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 14 February, 2020
Last Modified:
Friday, 14 February, 2020
manoj

दिल्ली की लड़ाई में भाजपा की करारी शिकस्त के बाद हर कोई यह जानना चाहता है कि आखिर पार्टी की नजर में हार की वजह क्या रही? क्या नेताओं के बड़बोलेपन ने उसे नुकसान पहुंचाया या शाहीन बाग को पाकिस्तान करार देने की रणनीति गलत साबित हुई। ‘एबीपी न्यूज़’ ने मनोज तिवारी के एक्सक्लूसिव इंटरव्यू से लोगों की इस जिज्ञासा को शांत करने का प्रयास किया है। चुनाव परिणामों के बाद पहली बार तिवारी किसी चैनल पर सवालों का जवाब देते नजर आए हैं। उनसे सवाल पूछने की जिम्मेदारी रूबिका लियाकत को सौंपी गई थी, जिसे उन्होंने बखूबी निभाया।

रूबिका ने हर वह सवाल दागा, जिसका जवाब लोग जानना चाहते हैं। फिर चाहे वह तिवारी को बतौर सीएम प्रोजेक्ट न करना हो या प्रवेश वर्मा जैसे नेताओं पर आलाकमान की सोच। आमतौर पर जब हार के बाद कोई नेता कैमरे का सामना करता है तो वह बेहद गंभीर हो जाता है और सवाल पूछने वाला पत्रकार भी गंभीरता से मुद्दों को उठाता है। सीधे शब्दों में कहें तो शिकस्त का गम कुछ और देर तक लाइव टीवी पर नजर आता है। लेकिन ‘एबीपी’ का यह इंटरव्यू बिलकुल अलग रहा। रूबिका ने अपने अंदाज से माहौल को इतना हल्का कर दिया कि कुछ देर के लिए तिवारी भी शायद हार का दुःख भूल गए होंगे।

हालांकि, इसका ये मतलब नहीं कि उन्होंने तीखे सवालों की चुभन से भाजपा नेता को बेचैन नहीं किया। उन्होंने चुभने वाले सवाल भी पूछे। मसलन, पिछले छह बार भाजपा चेहरे के साथ मैदान में उतरी थी, मगर इस बार नहीं, क्यों? क्या पार्टी को आप पर कॉन्फिडेंस था? इसके जवाब में पहले तो तिवारी सामूहिक निर्णय का हवाला देकर ज्यादा कुछ कहने से बचते रहे, लेकिन अंत में उन्होंने मान ही लिया कि चेहरे के साथ उतरना चाहिए था।

रूबिका ने भाजपा के बयानवीरों पर भी सवाल किया, लेकिन प्रवेश वर्मा और कपिल मिश्रा की बात करते-करते हुए उन्होंने एक ऐसे शख्स का नाम भी ले डाला, जिससे तिवारी कुछ असहज हो गए। उन्होंने पहले पूछा, ‘क्या आपकी पार्टी के नेताओं के बड़बोलेपन ने आपको नुकसान पहुंचाया’? जिसका मनोज तिवारी ने चालाकी से जवाब दिया। उन्होंने प्रवेश कुमार या कपिल मिश्रा का जिक्र न करते हुए कहा कि आलाकमान की सोच ऐसी नहीं है। बस यहीं वो रूबिका को दमदार सवाल दागने का मौका दे बैठे और उन्होंने तपाक से पूछ लिया ‘आपके अमित शाह भी तो शाहीन बाग में करंट लगवा रहे थे, लेकिन करंट आपको और आपकी पार्टी को लग गया? इसका भी तिवारी कोई सीधा जवाब नहीं दे सके।

पूरे इंटरव्यू के दौरान रूबिका ने ऐसे-ऐसे सवाल भी पूछे जिनके जवाब में भाजपा नेता केवल हंसकर रह गए। हालांकि, जब उन्होंने भाजपा की आठ सीटों का हवाला दिया, तो मनोज तिवारी ‘एबीपी न्यूज’ के एग्जिट पोल का हवाला देकर गंभीर सवालों की चुभन से बचने का प्रयास करने लगे। उन्होंने कहा, आप लोग तो पहले ही दिखा चुके थे कि ‘आप’ को 63 और ‘भाजपा’ को 7 सीटें मिलेंगी। आगे से आप ही लोगों से पूछ लेंगे हम’।

चुनाव में आम आदमी पार्टी की जीत के बाद से ही सोशल मीडिया पर दिल्ली की जनता को मुफ्तखोर करार दिया जाने लगा है। यहां तक कि भाजपा सांसद प्रवेश वर्मा भी कुछ ऐसी ही सोच रखते हैं। लिहाजा भाजपा प्रदेश अध्यक्ष से इस पर सवाल तो बनता था और रूबिका ने यह मुद्दा उठाया भी। उन्होंने कहा, ‘फोन लगाइए न अपने भाई प्रवेश वर्मा को और पूछिए दिल्ली की जनता क्या मुफ्तखोर है?’

इस पर तिवारी ने जवाब दिया, ‘नहीं, दिल्ली की जनता समझदार है और हम उसके जनादेश को स्वीकार करते हैं।’ प्रवेश कुमार को भाई कहने वाला वाकया इस सवाल से कुछ पहले हुआ। दरअसल, जब रूबिका लियाकत ने तिवारी से कहा कि आपने अपने क्षेत्र में तीन स्कूल बनवाये हैं तो उस पर ही चुनाव लड़ते न, वो (आप) स्कूल पर ही तो जीते हैं। तो भाजपा नेता ने कहा ‘हम उसी पर तो लड़े, तभी तो हमारे यहां जीते।’ इस जवाब पर एक और सवाल दागते हुए रूबिका ने कहा ‘मतलब प्रवेश वर्मा को आपसे सीख लेनी चाहिए’? इतना सुनकर मनोज तिवारी पहले हंसे फिर बोले ‘ऐसे झगड़ा मत लगवाओ, मेरा भाई है। इंटरव्यू में बुलाकर और मेरे चार ठो खोल दो।’     

मनोज तिवारी का पूरा इंटरव्यू आप यहां देख सकते हैं:

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Tata Sky पर दिखाई देंगे अब ये तीन नए न्यूज चैनल

डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर टाटा स्‍काई (Tata Sky) ने अपने प्लेटफॉर्म पर तीन नए न्यूज चैनल्स को शामिल किया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 14 February, 2020
Last Modified:
Friday, 14 February, 2020
TATA SKY

डीटीएच सर्विस प्रोवाइडर टाटा स्‍काई (Tata Sky) ने अपने प्लेटफॉर्म पर तीन नए न्यूज चैनल्स को शामिल किया है। ये तीनों न्यूज चैनल फ्री-टू-एयर (FTA) कॉम्पलिमेंट्री पैक में लॉन्च किए गए हैं।

बता दें कि टाटा स्काई ने जिन तीन नए चैनल्स को अपने पैक में शामिल किया है, उनमें ‘आर9 टीवी’ (R9 TV), ‘सहारा समय’ (Sahara Samay) और ‘नंदीघोष टीवी’ (Nandighosa TV) हैं। पहला चैनल R9 TV टाटा स्काई पर चैनल नंबर 586 पर उपलब्ध है, जोकि हिंदी न्यूज चैनल है। दूसरा चैनल Sahara Samay है। सहारा समय दूसरा हिंदी न्यूज चैनल है जो राजनीति, क्षेत्रीय, विश्व, खेल और दूसरे न्यूज ब्रॉडकास्ट करता है। सहारा समय चैनल टाटा स्काई पर 1157 नंबर पर उपलब्ध है। तीसरा चैनल Nandighosa TV है यह ओडिया न्यूज चैनल है। यह चैनल टाटा स्काई पर 1776 नंबर पर मौजूद है।

गौरतलब है कि टाटा स्काई ने हाल में ही अपने टैरिफ प्लान और सेट-टॉप बॉक्स की कीमतों में कई तरह के बदलाव किए हैं। ऐसे में नए चैनल्स को जोड़ना कंपनी के लिए अच्छा माना जा रहा है।    

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नए अवतार में फिर दस्तक देने को तैयार ये न्यूज चैनल

यह चैनल अब नोएडा के सेक्टर 65 से संचालित होगा और इससे जुड़े पत्रकार यहीं से देश-दुनिया की खबरों और उसकी बारीकियों को दर्शकों तक पहुंचाएंगे

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 12 February, 2020
Last Modified:
Wednesday, 12 February, 2020
Channel

रीजनल न्यूज चैनल ‘नेशनल वॉयस’ नए तेवर और कलेवर के साथ एक बार फिर उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड मार्केट में दस्तक दे रहा है। यह चैनल अब नोएडा के सेक्टर 65 से संचालित होगा और इससे जुड़े पत्रकार यहीं से देश-दुनिया की खबरों और उसकी बारीकियों को दर्शकों तक पहुंचाएंगे।

चैनल के कार्यालय में मंगलवार को भूमि पूजन भी किया गया। चैनल की मानें तो उसका मुख्य उद्देश्य जनता की दबी हुई आवाज को सामने लाना, जनता के मुद्दों को असरदार तरीके से सरकार तक पहुंचाना और सरकार की वे नीतियां जिनके बारे में आम जनता को पता नहीं है, उसे लोगों के बीच लेकर जाना है। इसके लिए वह जल्द ही सभी डीटीएच प्लेटफार्म और केबल टीवी पर भी नजर आएगा।

‘नेशनल वॉयस’ की जिम्मेदारी फिलहाल प्रवीण पाठक, दीपक शर्मा, राहुल एंडलॉ और वकास वारसी के कंधों पर है। नेशनल वॉयस के निदेशक प्रवीण पाठक ‘आर9 टीवी’ (R9 TV) में ग्रुप एडिटर की भूमिका निभा चुके हैं। इसके पहले वे ‘साधना प्राइम न्यूज’ में एग्जिक्यूटिव एडिटर और ‘एफएम न्यूज’ में उत्तराखंड के ब्यूरो हेड रह चुके हैं। साथ ही वे ‘दैनिक जागरण’ और ‘आजतक’ जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों के साथ भी काम कर चुके हैं। फिलहाल वे यहां अब अपनी पूरी ताकत के साथ नेशनल वॉयस के नए प्रयोग को कामयाब बनाने में जुट गए हैं।

वहीं, नेशनल वॉयस के युवा निदेशकों में शुमार दीपक शर्मा ने बेहद कम उम्र में कामयाबी हासिल की है। उनका मानना है कि नेशनल वॉयस रीजनल चैनलों की दुनिया में नेशनल आउटलुक वाला पहला चैनल होगा, जिसका फोकस खासतौर से यूपी और उत्तराखंड पर होगा।

चैनल की रीलॉन्चिंग को लेकर निदेशक राहुल एंडलॉ का कहना है कि नेशनल वॉयस प्रयोगों से नहीं घबराएगा, हम हर वो जोखिम उठाने को तैयार हैं जिससे दर्शकों को फायदा हो।

नेशनल वॉयस के निदेशक वकास वासिक वारसी टीवी की दुनिया के साथ ही उत्तर प्रदेश की राजनीति में अच्छी पकड़ रखते हैं। उनका कहना है कि वह चुनौती स्वीकार करने में यकीन रखते हैं और नेशनल वॉयस को पहचान की जरूरत नही है, लेकिन चैनल का नया अवतार ऐसा बहुत कुछ समेटे होगा जो न्यूज टीवी की दुनिया में जल्द अपनी अलग पहचान बनाएगा।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इस न्यूज चैनल पर नजर आएंगे युवा पत्रकार सूर्या त्रिपाठी

उत्तर प्रदेश में महोबा के रहने वाले सूर्या त्रिपाठी ने माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बीएससी की पढ़ाई की है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 12 February, 2020
Last Modified:
Wednesday, 12 February, 2020
Surya Tripathi

युवा पत्रकार सूर्या त्रिपाठी ने ‘सहारा समय’ (मप्र/छत्तीसगढ़) के साथ अपनी नई पारी की शुरुआत की है। उन्होंने यहां बतौर एंकर कम प्रड्यूसर जॉइन किया है।  

उत्तर प्रदेश में महोबा के रहने वाले सूर्या त्रिपाठी ने माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में बीएससी की पढ़ाई की है। ‘सहारा समय’ को जॉइन करने से पहले वह ‘हिंदी खबर’ (यूपी/उत्तराखंड) में अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे। यहां रहते हुए उन्होंने ‘हिंदी खबर’ (मप्र/छत्तीसगढ़) की लॉन्चिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

इसके अलावा वह गुरुग्राम के एक मीडिया हाउस में कंटेंट क्रिएटर के साथ ही ‘स्वराज एक्सप्रेस’(मप्र/छत्तीसगढ़) में बुलेटिन प्रड्यूसर के तौर पर भी अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं। यही नहीं, भोपाल में ‘बंसल न्यूज’ के साथ ही वह ‘न्यूज एक्सप्रेस’ (मप्र/छत्तीसगढ़) में प्रोडक्शन एग्जिक्यूटिव (अउटपुट) के रूप में भी काम कर चुके हैं।

राज्य स्तर पर कई वाद-विवाद प्रतियोगिताओं में शामिल होने के साथ ही सूर्या त्रिपाठी शॉर्ट फिल्म ‘स्वच्छ भारत अभियान’ (swachh bharat abhiyan) भी कर चुके हैं। इस समय वह ‘बुंदेली रत्न’ (bundeli ratn) के नाम से बुंदेलखंड पर एक किताब भी लिख रहे हैं।

समाचार4मीडिया की ओर से सूर्या त्रिपाठी को उनकी नई पारी के लिए शुभकामनाएं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दिल्ली चुनाव परिणाम के बाद उलझे TV पत्रकार, राजदीप सरदेसाई को बनाया निशाना

‘इंडिया टुडे’ के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई को अपनी ही बिरादरी वालों के हमले झेलने पड़ रहे हैं। हालांकि, ये बात अलग है कि राजदीप हर हमले का मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 12 February, 2020
Last Modified:
Wednesday, 12 February, 2020
journalist

दिल्ली विधानसभा चुनाव के परिणामों को लेकर न केवल नेता, समर्थक एक-दूसरे को निशाना बना रहे हैं, बल्कि पत्रकार भी आपस में उलझ पड़े हैं। विचारों की यह भिन्नता सोशल मीडिया पर अलग-अलग रूप में सामने आ रही है।

पहले ‘जी न्यूज’ के एडिटर-इन-चीफ सुधीर चौधरी को उनके शो DNA में दिल्लीवालों पर तंज कसने के लिए ट्रोल किया गया और अब ‘इंडिया टुडे’ के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई को अपनी ही 'बिरादरी वालों' यानी पत्रकारों के हमले झेलने पड़ रहे हैं। हालांकि, ये बात अलग है कि राजदीप हर हमले का मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं। इन हमलों की शुरुआत सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे राजदीप सरदेसाई के उस विडियो से हुई, जिसमें उन्हें डांस करते दिखाया गया है।

दरअसल, दिल्ली चुनाव में आम आदमी पार्टी की प्रचंड जीत सुनिश्चित होते ही स्टूडियो में लाइव कैमरे पर सरदेसाई और ‘एक्सिस माय इंडिया’ के मैनेजिंग डायरेक्टर प्रशांत गुप्ता ने डांस शुरू कर दिया। ये डांस किसी पार्टी की जीत या हार के लिए नहीं बल्कि सबसे सटीक एग्जिट पोल की खुशी को बयां करने के लिए था। आमतौर पर ऐसा ही होता है जब हम सबको पछाड़ते हुए कुछ हासिल कर लेते हैं। ‘इंडिया टुडे’ ने अपने एग्जिट पोल में सीटों के जिस गुणाभाग का अनुमान लगाया था, वो परिणामों के काफी करीब रहा। इसलिए जब आम आदमी पार्टी ने वह आंकड़ा छुआ, तो सरदेसाई अपनी खुशी नहीं रोक सके।

उनके इस लाइव डांस को कुछ लोगों ने अपने मोबाइल में रिकॉर्ड करके सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया, तो कुछ ने ‘इंडिया टुडे’ के ट्वीट को आगे बढ़ाया। हालांकि, डांस के पीछे की भावना को नाम दिया गया ‘आम आदमी’ समर्थक का। इस दौड़ में कुछ पत्रकार भी शामिल हुए, जिसमें पहला नाम है ‘न्यूज18 हिंदी’ के सीनियर एंकर अमिश देवगन का। उन्होंने राजदीप सरदेसाई का नाम लिए बिना उन पर हमला बोला। देवगन ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘स्टूडियो डांस का आयोजन सेक्युलर/न्यूट्रल पत्रकार द्वारा किया जाता है और वह पत्रकारिता पर बोलने की हिम्मत भी रखते हैं। उनकी 30 सालों की मानसिकता आज उजागर हो गई है’। अग्रेजी में बयां किये गए अपने इस गुस्से में अमिश देवगन वर्तनी संबंधी त्रुटि कर बैठे, उन्होंने their को there लिख डाला। जाहिर है, इसके लिए उनकी खिंचाई होनी थी और हुई भी। ‘आजतक’ की एंकर में नेहा बाथम ने राजदीप पर कमेंट और अंग्रेजी की गलती दोनों के लिए अमिश देवगन को निशाने पर लिया।

नेहा ने अमिश के ट्वीट के जवाब में लिखा, ‘कम से कम आप तो पत्रकारिता की बात न करें, आपके करियर की शुरुआत कमोडिटीज शो में दालों के भाव बताते-बताते हुई और यहां तक पार्टी कैंप की चापलूसी करते हुए पहुंचे। लिहाजा किसी को बदनाम करना बंद करें, आपका अनुभव उनसे आधा भी नहीं है’।

वहीं, राजदीप खुद भी अपने हमलावरों को करारा जवाब देने से पीछे नहीं हटे। उन्होंने फिल्म निर्माता विवेक अग्निहोत्री को जमकर फटकार लगाई। अग्निहोत्री ने राजदीप का डांस वाला विडियो शेयर करते हुए ट्वीट किया था ‘पहले कोठी, फिर कोठा, देखो कैसे मीडिया ने पत्रकारिता को ठोका’। जिसके जवाब में ‘इंडिया टुडे’ के कंसल्टिंग एडिटर ने लिखा ‘तुम लोग शर्मिंदगी की सारी सीमाएं पार कर चुके हो। कोठे पर काम करने वालों में भी आपसे ज्यादा आत्मसम्मान होता है। लगे रहो’।

इसके अलावा, एक अन्य ट्रोल को जवाब देते हुए उन्होंने कहा ‘बेवकूफ न बनें! जब लोकसभा चुनाव में हमारे एग्जिट पोल सही साबित हुए थे तब भी हमने ऐसे ही खुशी बयां की थी। प्रशांत गुप्ता तो भावुक भी हो गए थे। हम अपने एग्जिट पोल के सबसे सटीक साबित होने की खुशी मना रहे हैं, क्या हमने कुछ गलत किया’?       

 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दिल्ली विधानसभा चुनाव में इंडिया टुडे ग्रुप ने कुछ यूं लगाया सटीक निशाना

‘इंडिया टुडे’ (India Today) समूह की वाइस चेयरपर्सन कली पुरी (Kalli Purie) का कहना है कि चुनाव को लेकर हर बार हमारे पोल और सटीक होते जा रहे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 12 February, 2020
Last Modified:
Wednesday, 12 February, 2020
indiatoday

2019 के आम चुनावों के साथ ही महाराष्ट्र, हरियाणा व झारखंड में हुए विधानसभा चुनावों में सटीक विश्लेषण के बाद अब इंडिया टुडे ग्रुप द्वारा दिल्ली विधानसभा चुनाव के बारे में किए गए एग्जिट पोल भी सही साबित हुए हैं और इसने चुनाव परिणाम के दिन अन्य पोल्स को पछाड़ दिया है।

‘इंडिया टुडे ग्रुप’ और ‘एक्सिस-माय-इंडिया’ (Axis-My-India) 2016 से एग्जिट पोल के लिए पार्टनरशिप कर रहे हैं और 35 में से 33 पोल सही पाए गए हैं। यह आंकड़ा 95% से भी ज्यादा सटीक है।

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में वर्ष 2019 में हुए आम चुनाव में ‘इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया’ द्वारा कराए गए एग्जिट पोल में बीजेपी के नेतृत्व वाली एनडीए को 339 से 365 सीटें मिलने की भविष्यवाणी की गई थी। देश में 17वीं लोकसभा गठन के लिए हुए इन चुनावों में यूपीए के खाते में 77-108 सीटें आने की भविष्यवाणी भी की गई थी। 

जब परिणाम आया तो आंकड़े भी इस भविष्यवाणी से मिलते-जुलते आए। यानी एनडीए को 352 और यूपीए को 92 सीटें मिलीं। इसी तरह दिल्ली चुनाव में भी ‘इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया’ द्वारा एग्जिट पोल में की गई भविष्यवाणी सही साबित हुई।

दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर जारी किए गए एग्जिट पोल के बारे में ‘एक्सिस-माय-इंडिया’ (Axis-My-India) के सीएमडी प्रदीप गुप्ता का कहना है, ‘क्षेत्रीयता के साथ ही सामाजिक और सांस्कृतिक रूप से भारत विविधताओं वाला देश है और ऐसे में यहां के परिदृश्य को समझना काफी महत्वपूर्ण हो जाता है। हम लोग आंकड़े जुटाने के लिए जमीनी स्तर पर काम करते हैं, ताकि वास्तविक तस्वीर सामने आ सके।’

प्रदीप गुप्ता के अनुसार, ‘किसी भी चुनाव के बारे में हमारे सैम्पल्स में ज्यादा से ज्यादा लोगों और राजनेताओं का प्रतिनिधित्व शामिल होता है। हमारे पोल में आमजन से जुड़े मुद्दों और उनके सामने आ रही परेशानियों के साथ ही यह जानने का प्रयास किया जाता है कि लोगों को क्या लगता है कि कौन इन मुद्दों को उठा सकता है और उनकी परेशानी दूर कर सकता है। इसके बाद हम उसी के अनुसार डाटा तैयार करते हैं और निष्पक्षता के साथ रिजल्ट के बारे में संभावना जताते हैं।’

‘इंडिया टुडे’ (India Today) समूह की वाइस चेयरपर्सन कली पुरी (Kalli Purie) का कहना है कि चुनाव को लेकर हर बार हमारे पोल और सटीक होते जा रहे हैं। यह पांचवा पोल था। हमारे व्युअर्स हम पर बहुत भरोसा करते हैं और उनके इस भरोसे पर खरा उतरना हमारी जिम्मेदारी है। यही कारण है कि हम इतनी कड़ी मेहनत करते हैं और कई बार रात-रात भर जागकर भी व्युअर्स को सटीक आंकड़े देने का प्रयास करते हैं।  

कली पुरी का कहना है, ‘कई बार लोग मुझसे पूछते हैं कि आपकी ऐसी कौन सी सीक्रेट स्ट्रैटेजी है कि आपके प्रतिद्वंद्वी भी आपके पोल को फॉलो करते हैं और उसकी नकल करते हैं। इसका साधारण सा जवाब है कि हम निष्पक्ष होकर आंकड़े देते हैं और इसे किसी तरह के ‘राजनीतिक चश्मे’ से नहीं देखते हैं। डाटा हमेशा न्यूट्रल होते हैं और हम अपने व्युअर्स को वही देते हैं।’

कली पुरी के अनुसार, ‘डाटा इनपुट के लिए Axis के साथ की गई पार्टनरशिप और हमारी टीम द्वारा प्रत्येक चुनाव से पहले की गई ग्राउंड रिपोर्टिंग की बदौलत यह उपलब्धि संभव हो सकी है। इसके अलावा ब्रॉडकास्ट, डिजिटल और सोशल प्लेटफॉर्म पर मजबूत पकड़ से भी इसमें मदद मिलती है।’

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस दूरदर्शन केंद्र की बदलेगी सूरत, सरकार ने मंजूर किए एक करोड़ रुपए

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि ऑल इंडिया रेडियो और दूरदर्शन का आधुनिकीकरण एक सतत प्रक्रिया है और इस संबंध में समय-समय पर निर्णय लिए जाते हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 11 February, 2020
Last Modified:
Tuesday, 11 February, 2020
Doordarshan

आंध्रप्रदेश के विजयवाड़ा स्थित दूरदर्शन केंद्र का कायाकल्प किया जाएगा। केंद्र सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने इसके आधुनिकीकरण के लिए 1.06 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं। संसद में इस बारे में जानकारी देते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि ऑल इंडिया रेडियो और दूरदर्शन का आधुनिकीकरण एक सतत प्रक्रिया है और इस संबंध में समय-समय पर निर्णय लिए जाते हैं। इनमें मौजूदा या नए स्थानों पर FM ट्रांसमीटर/स्टेशन की स्थापना, ट्रांसमीटर को बदलना या उसका आधुनिकीकरण करना, क्षेत्रीय समाचार इकाइयों, स्टूडियो को डिजिटल बनाना, हाई डेफिनेशन वाली तकनीकों को अपनाना और DTH एवं हाई डेफिनेशन टीवी का विस्तार शामिल है।

पिछले पांच सालों में सोशल मीडिया पर सरकारी योजनाओं के प्रचार व्यय से जुड़े सवाल का जवाब देते हुए जावड़ेकर ने बताया कि सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय अपनी मीडिया यूनिट्स प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो, दूरदर्शन और ऑल इंडिया रेडियो के साथ केंद्र सरकार की योजनाओं और नीतियों का फेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम सहित मीडिया के विभिन्न माध्यमों पर प्रचार करता है और इसका खर्च संबंधित मीडिया इकाइयों के लिए निर्धारित कोष से किया जाता है। इसके साथ ही केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालय/विभाग भी अपनी नीतियों और योजनाओं का सोशल मीडिया पर प्रचार करते हैं, लेकिन इस पर होने वाले खर्चे का ब्यौरा केंद्रीय रूप से नहीं रखा जाता।

सरकार से स्वामित्व वाले मंचों, एप्लीकेशन और वेबसाइट से नागरिकों के डाटा लीक होने से जुड़े सवाल पर जावड़ेकर ने कहा कि हम पहले ही यह सूचित कर चुके हैं कि उपयोगकर्ताओं द्वारा सरकारी योजनाओं से संबंधित ऐप में लॉग इन करने के लिए आवश्यक जानकारी एप्लिकेशन के हिसाब से भिन्न होती है। जहां तक बात डाटा सुरक्षा की है, तो डाटा प्रोटेक्शन बिल, 2019 पिछले साल दिसंबर में लोकसभा में पेश हो चुका है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए