बीते दिनों बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना भारत आईं थीं। चैनलों में से कितने ऐसे थे, जिन्होंने समझौतों के अलावा परदे के पीछे की सियासत का विश्लेषण किया?

राजेश बादल 1 week ago


वे सरकार के उस फ़रमान को नही मानते, जिसमें कहा गया था कि सरकार की अनुमति के बिना कोई समाचारपत्र नहीं निकाल सकता। साथ ही एक शब्द भी बिना अनुमति के नहीं छप सकता...

राजेश बादल 2 weeks ago


पत्रकारिता के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वालों को सम्मानित करने के लिए हर वर्ष दिया जाता है यह पुरस्कार

समाचार4मीडिया ब्यूरो 4 weeks ago


कुछ पेशे तो ऐसे हैं, जो गुरुओं के आशीर्वाद से ही चलते हैं। मसलन, राजनीति और पत्रकारिता

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


इस फेलोशिप के लिए आवेदक को भारत, बांग्लादेश, पाकिस्तान अथवा मालदीव का नागरिक होना चाहिए

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


डिजिटल मीडिया की रफ्तार का अंदाजा मुझे खुद कुछ समय पहले हुआ, जब मैंने ‘न्यूज नशा’ नाम से डिजिटल प्लेटफॉर्म शुरू किया।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


इन अवॉर्ड्स के तहत प्रत्येक विजेता को एक लाख रुपए, प्रमाण पत्र और स्मृति चिह्न दिया जाएगा

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


वाशिंद्र मिश्र को मीडिया के क्षेत्र में काम करने का 30 साल से ज्यादा का अनुभव है, तीन साल के लिए मिली है नई जिम्मेदारी

समाचार4मीडिया ब्यूरो 1 month ago


वरिष्ठ पत्रकार विनोद कापड़ी ने एक विडियो शेयर करते हुए ऐसा लिखा है। ये विडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो 2 months ago


वरिष्ठ पत्रकार संतोष भारतीय ने उठाया बड़ा सवाल, क्या हमने कश्मीर के पत्रकारों को भी देश विरोधी और पाकिस्तान समर्थक मान लिया है?

संतोष भारतीय 2 months ago


पहले जो संपादक होते थे, वे एक अच्छे शिक्षक भी होते थे। वे अपने संवाददाताओं को और डेस्क के लोगों को सिखाते रहते थे

संतोष भारतीय 2 months ago


इन सुझावों को कई पत्रकारों और शिक्षाविदों से सलाह के बाद तैयार किया गया है। इनमें से अधिकांश सुझाव नोएडा के प्रेरणा संस्थान में 28 जुलाई को हुए राउंड टेबल डिस्कशन में सामने आए हैं

पंकज शर्मा 2 months ago


इस कोर्स में प्रवेश पाने के लिए आवेदक के पास स्नातक की डिग्री होना जरूरी है

पंकज शर्मा 3 months ago


युवा पत्रकार स्वप्निल श्रीवास्तव अपने साथियों के साथ करने जा रहे हैं शुरुआत

पंकज शर्मा 3 months ago


आईआईएमसी के पूर्व डीजी केजी सुरेश के नेतृत्व में श्रम मंत्री से मिला था प्रतिनिधिमंडल

पंकज शर्मा 3 months ago


पटना में डाक बंगला चौराहे के एक होटल में प्रसिद्ध साहित्यकार और ‘दिनमान’ के संपादक रहे अज्ञेय जी और ‘रविवार’ के संपादक सुरेंद्र प्रताप सिंह के बीच लंबी संवादनुमा बहस हुई

संतोष भारतीय 3 months ago



अक्सर हम जिंदगी में रिश्तों का गणित नहीं समझ पाते, उमर भर पेट के भूगोल में उलझे रहते हैं

राजेश बादल 3 months ago


भोपाल के राष्ट्रीय सप्रे संग्रहालय ने अपना 36वां स्थापना दिवस मनाया

समाचार4मीडिया ब्यूरो 3 months ago


विभिन्न संस्थानों में वरिष्ठ पदों पर काम कर चुके हैं केजी सुरेश

समाचार4मीडिया ब्यूरो 4 months ago