सूचना:
मीडिया जगत से जुड़े साथी हमें अपनी खबरें भेज सकते हैं। हम उनकी खबरों को उचित स्थान देंगे। आप हमें mail2s4m@gmail.com पर खबरें भेज सकते हैं।

जानें, कौन सा मतदान चरण रहा सोशल मीडिया पर हिट

विभिन्न पॉलिटिकल पार्टिंयों ने इस प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करने में किसी तरह की कसर नहीं रखी

Last Modified:
Monday, 20 May, 2019
Twitter

लोकसभा चुनाव की इस बार सोशल मीडिया पर भी खूब चर्चा रही। विभिन्न पॉलिटिकल पार्टिंयों ने भी इस प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करने में किसी भी तरह की कसर नहीं रखी और काफी विज्ञापन भी दिए। इसके अलावा यूजर्स ने भी चुनाव को लेकर अपने-अपने तरीके से इस प्लेटफॉर्म का काफी इस्तेमाल किया। हालांकि रविवार को आठ राज्यों में सातवें चरण का चुनाव आते-आते सोशल मीडिया पर वह तेजी नहीं दिखाई दी। यहां तक कि रविवार को इस मतदान प्रक्रिया को लेकर ट्विटर पर काफी कम चर्चा रही।

इस अंतिम चरण में 59 संसदीय क्षेत्रों से 918 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे, लेकिन इस दौरान किए गए ट्वीट की संख्या चुनाव में अब तक हुए ट्वीट के मुकाबले सबसे कम थी। सातवें चरण में जहां पर सबसे कम 179369 ट्वीट किए गए, वहीं दूसरे चरण में इनकी संख्या सबसे ज्यादा 2,80,256 थी। पूरे चुनाव के दौरान करीब 1.6 करोड़ ट्वीट किए गए। सातवें और अंतिम चरण में रिट्वीट की संख्या भी काफी कम रही। दूसरे चरण के दौरान सबसे ज्यादा 2,28,588 रिट्वीट किए गए थे, जबकि सातवें चरण में  महज 12,440 रिट्वीट किए गए।

यदि एग्जिट पोल के नतीजों की बात करें तो ट्विटर पर जो ट्रेंड चल रहा था, उसमें बीजेपी के पक्ष में रुझान दिखाई दे रहे थे। शुरुआत के कुछ चरणों में जरूर राहुल गांधी और कांग्रेस ट्विटर पर टॉप फाइव मेंशन में शामिल थे, लेकिन आखिरी चरण में इनमें से कोई भी मेंशन में नहीं था। चुनाव के सातवें चरण में @narendramodi, @BJP4India, @ECISVEEP, @ZeeNewsHindi और @aajtak टॉप फाइव मेंशन में शामिल थे।

‘इंद्रप्रस्थ इंस्टीट्यूट ऑफ इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी’, दिल्ली द्वारा उपलब्ध कराए गए डाटा के अनुसार इस दौरान सबसे ज्यादा हैशटैग तैयार किए गए। सिर्फ सातवें चरण में ही 125 हैशटैग तैयार किए गए, जिनमें से # Loksabhaelections2019, #Votinground7, # Exitpoll2019, #Phase7 और  #Jeetegatomodihi टॉप फाइव में शामिल रहे। इस डाटा से यह भी पता चलता है कि सातवें चरण में 71377 यूनिक यूजर्स थे, हालांकि, यह संख्या काफी कम रही, लेकिन यह पूरे सीजन में सबसे कम नहीं रही। इस दौरान टॉप फाइव ट्वीट में किए गए मेंशन में राहुल गांधी और कांग्रेस को कहीं जगह नहीं मिली।

इस दिन के टॉप फाइव ट्वीट में एक आर्किटेक्ट द्वारा किया गया ट्वीट भी शामिल था, जिसके करीब 30.000 फॉलेअर्स हैं और उसने अपने नाम के आगे चौकीदार शब्द का इस्तेमाल किया। उनके इस ट्वीट में यूपी के किसी स्थान की विडियो क्लिप थी, जिसमें कई लोगों ने ज्यादा से ज्यादा जगह वोट डालने के लिए अपने हाथ पर लगी वोटिंग स्याही को मिटा दिया था। इसके बाद इस लिस्ट में किसी अनवेरीफाइड अकाउंट से किया गया ट्वीट शामिल था, जिसके 100 फॉलोअर्स भी नहीं हैं। तीसरे नंबर पर बीजेपी का ऑफिशियल पेज था, जिसमें लोगों से वोट डालने की अपील की गई थी। इस ट्वीट में #JeetegaToModiHi का इस्तेमाल किया गया।

आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो करने के लिए यहां क्लिक कीजिए

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रामचरितमानस के विवाद पर रुबिका लियाकत का कुछ यूंं फूटा गुस्सा

लखनऊ से कुछ तस्वीरें सामने आई हैं जिसमें कुछ लोग रामचरितमानस की प्रतियों को जलाते हुए दिखाई दे रहे है। उन्होंने रोड़ पर ही रामचरितमानस की प्रतियां भी जलाई हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 31 January, 2023
Last Modified:
Tuesday, 31 January, 2023
Rubika5124512

इन दिनों रामचरितमानस पर विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। पहले बिहार के शिक्षा मंत्री ने मानस को लेकर विवादित बयान दिया और उसके बाद समाजवादी पार्टी के एमएलसी स्वामी प्रसाद मौर्य ने भी मानस को लेकर गलत बयानबाजी की और कहा कि सरकार को इसे बैन कर देना चाहिए।

इस बीच लखनऊ से कुछ तस्वीरें सामने आईं, जिसमें कुछ लोग सड़क पर रामचरितमानस की प्रतियों को जलाते हुए दिखाई दिए। वहीं, लखनऊ में अखिल भारतीय ओबीसी महासभा अब सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के समर्थन में उतर आया और महासभा के लोगों ने लखनऊ स्थित वृंदावन योजना में ग्रंथ की प्रतियां जलाईं।

इस वीडियो के सामने आने के बाद 'एबीपी न्यूज' की वरिष्ठ पत्रकार और एंकर 'रुबिका लियाकत' का गुस्सा फूट पड़ा और उन्होंने ट्विटर पर एक ट्वीट कर अपनी संवेदना को प्रकट किया।

उन्होंने लिखा, ' बहुत से जाहिल सनातन की सहिष्णुता और देश के लोकतंत्र का नाजायज़ फ़ायदा उठाते हैं। स्वामी प्रसाद मौर्य के इन चमचों से कोई पूछे,ऐसा किसी और धार्मिक ग्रंथ के साथ करने की सोच भी सकेंगे। भारत की सहिष्णुता देखो लकडथक्कों! 80% हिंदुओं वाले देश में ये मुस्कुराकर उनकी आस्था को जला रहे हैं'।

'एबीपी न्यूज' की वरिष्ठ पत्रकार और एंकर 'रुबिका लियाकत' के द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं- 

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को लेकर वरिष्ठ पत्रकार अभिषेक उपाध्याय ने कही ये बड़ी बात

दरअसल, बागेश्वर धाम में 121 गरीब कन्याओं का सामूहिक विवाह कराया जा रहा है। सामूहिक विवाह का यह चौथा साल है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 31 January, 2023
Last Modified:
Tuesday, 31 January, 2023
dhirendra-krishna-shastri16749

बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री पिछले कई दिनों से चर्चाओं में बने हुए हैं। मात्र 26 वर्ष की आयु में लोगों के मन की बात पढ़कर उनका समाधान बता देना चर्चा का विषय बना हुआ है। वैसे बता दें कि बागेश्वर धाम में 121 गरीब कन्याओं का सामूहिक विवाह कराया जा रहा है। सामूहिक विवाह का यह चौथा साल है।इसी बीच उन्होंने खुद को लेकर भी एक नया ऐलान किया है। 26 साल के बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर धीरेंद्र शास्त्री ने कहा, वह जल्द ही गृहस्थ जीवन में बंधने वाले हैं।

बागेश्वर धाम के पीठाधीश्वर ने कहा कि वह भी अब जल्द शादी करने वाले हैं। ऐसे में सोशल मीडिया पर धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री ट्रेंड कर रहे हैं और लोग उनसे जुड़ी खबरों के लिए उन्हें सर्च कर रहे हैं। उनकी लोकप्रियता को लेकर 'एबीपी न्यूज' के वरिष्ठ पत्रकार 'अभिषेक उपाध्याय' ने एक ट्वीट किया है-

उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि क्या आचार्य धीरेंद्र शास्त्री की लोकप्रियता से आधुनिक शंकराचार्यों और अखाड़ों के महामंडलेश्वरो की लोकप्रियता को भी खतरा हो गया है? क्या इतनी जल्दी इतना लोकप्रियता हासिल करने वाले वे पहले संत हैं? उनके इस ट्वीट पर लोग जमकर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे और यह ट्वीट चर्चा का विषय बना हुआ है।  

'एबीपी न्यूज' के वरिष्ठ पत्रकार 'अभिषेक उपाध्याय के इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं-

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस विवाद पर बोले विनोद अग्निहोत्री, जातीय और धार्मिक ध्रुवीकरण की हो रही है राजनीति

लखनऊ से कुछ तस्वीरें सामने आई हैं जिसमें कुछ लोग रामचरितमानस की प्रतियों को जलाते हुए दिखाई दे रहे है।

Last Modified:
Monday, 30 January, 2023
राम

इन दिनों रामचरितमानस पर विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। पहले बिहार के शिक्षा मंत्री ने मानस को लेकर विवादित बयान दिया और उसके बाद  समाजवादी पार्टी के एमएलसी स्वामी प्रसाद मौर्य ने भी मानस को लेकर गलत बयानबाजी की और कहा कि सरकार को इसे बैन कर देना चाहिए।

इस बीच लखनऊ से कुछ तस्वीरें सामने आई हैं जिसमें कुछ लोग रामचरितमानस की प्रतियों को जलाते हुए दिखाई दे रहे है।  उन्होंने रोड़ पर ही रामचरितमानस की प्रतियां भी जलाई हैं. इसका एक वीडियो सामने आया है. लखनऊ में अखिल भारतीय ओबीसी महासभा सपा नेता स्वामी प्रसाद मौर्य के समर्थन में उतर आया. महासभा के लोगों ने लखनऊ स्थित वृंदावन योजना में ग्रंथ की प्रतियां जलाई हैं.

इस पूरे मामले पर वरिष्ठ पत्रकार और ‘अमर उजाला’ ग्रुप के सलाहकार संपादक विनोद अग्निहोत्री ने भी ट्वीट कर अपनी राय व्यक्त की।

उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि विडंबना है कि जिस मुग़ल राज को पानी पी पी कर कोसा जाता है उस काल में रामचरितमानस की रचना हुई। हिंदी काव्य का भक्ति काल फला फूला। आज जब देश प्रदेश में हिंदुत्ववादी शासन है तब मानस के पन्ने फाड़े जा रहे हैं प्रतियाँ जलाई जा रही हैं। जातीय और धार्मिक ध्रुवीकरण की राजनीति हो रही है ।

वरिष्ठ पत्रकार विनोद अग्निहोत्री के द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं। 

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सोशल मीडिया से जुड़ी शिकायतों का 30 दिन में होगा निपटान, बनीं ये तीन समितियां

केंद्र सरकार ने फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसी सोशल मीडिया कंपनियों की मनमानी पर नकेल कसने की तैयारी शुरू कर दी है।

Last Modified:
Monday, 30 January, 2023
Socialmedia854844

केंद्र सरकार ने फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम जैसी सोशल मीडिया कंपनियों की मनमानी पर नकेल कसने की तैयारी शुरू कर दी है। इसके लिए सरकार ने तीन शिकायत अपीलीय समितियां (GAC) गठित कर दी हैं, जो कि 1 मार्च 2023 से काम करना शुरू कर देंगी। इन समितियों पर जिम्मेदारी होगी कि वे यूजर्स की शिकायतों को 30 दिनों में निपटान करें। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं आईटी मंत्रालय ने शनिवार को यह जानकारी दी।

बता दें कि सरकार द्वारा इस तरह के GACs की स्थापना के लिए आईटी नियमों में बदलाव किए जाने के तीन महीने बाद यह अधिसूचना आई है। सरकार ने अक्टूबर में किए गए सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) नियम 2021 में संशोधन किया था, जिसके तहत शुक्रवार को तीन शिकायत अपीलीय समितियों को अधिसूचित किया है।

सोशल मीडिया शिकायत के निपटारे के लिए बनायी जाने वाली तीन समितियों में एक फुल टाइम चेयरपर्सन, दो फुल टाइम मेंबर्स होंगे। वही दूसरी समिति को जॉइंट सेक्रेटी लेवल इन्फॉर्मेशन एंड ब्रॉडकॉस्टिंग मिनिस्ट्री ऑफिसर शामिल होंगे। जबकि तीसरे पैनल में आईटी मिनिस्ट्री के ऑफिशियल चेयपर्सन के तौर पर शामिल होंगे।

पहली समिति-

पहली समिति की अध्यक्षता गृह मंत्रालय के तहत भारतीय साइबर अपराध समन्वय केंद्र के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) राजेश कुमार करेंगे। सेवानिवृत्त आईपीएस अधिकारी आशुतोष शुक्ला और पंजाब नेशनल बैंक के पूर्व मुख्य महाप्रबंधक सुनील सोनी को समिति के पूर्णकालिक सदस्य के रूप में नियुक्त किया गया है।

दूसरी समिति-

वहीं, दूसरी समिति की अध्यक्षता सूचना-प्रसारण मंत्रालय में नीति एवं प्रशासन प्रभाग के प्रभारी संयुक्त सचिव (जॉइंट सेक्रेट्री इंचार्ज) विक्रम सहाय करेंगे। भारतीय नौसेना के पूर्व डायरेक्टर (कार्मिक सेवाएं) कमोडोर सुनील कुमार गुप्ता (रिटायर्ड) और L&T इंफोटेक के पूर्व वाइस-प्रेजिडेंट कवींद्र शर्मा करेंगे।

तीसरी समिति-

जबकि तीसरी समिति की अध्यक्षता इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय की वरिष्ठ वैज्ञानिक कविता भाटिया करेंगी। इंडियन रेलवे ट्रैफिक सर्विस (IRTS) के रिटायर्ड ऑफिसर संजय गोयल और IDBI इंटेक के पूर्व मैनेजिंग डायरेक्टर और CEO कृष्णागिरी रागोथमाराव मुरली मोहन करेंगे।

तीनों कमेटी के अध्यक्ष पद पर जिन अधिकारियों की नियुक्ति की गई है, वे पहले से सरकारी पद पर रहते हुए काम कर रहे हैं, जिसका मतलब है कि ICCC, I&B मिनिस्ट्री और Meity में काम करने वाले अधिकारी संबंधित कमेटी को लीड करेंगे। इनके अलावा जो दूसरे सदस्य हैं उनकी नियुक्ति तीन साल की अवधि के लिए की गई है।

इलेक्ट्रॉनिक एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY) ने कहा कि संक्रमण काल और बिचौलियों की अन्य तकनीकी आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए, ऑनलाइन प्लेटफॉर्म जहां यूजर्स अपनी शिकायतें दर्ज कर सकते हैं। यानी GACs एक आभासी डिजिटल मंच होगा, जो केवल ऑनलाइन और डिजिटल रूप से संचालित होगा। सरकार ने https://www.gac.gov.in पर एक पोर्टल बनाया है जहां यूजर्स अपनी अपील दायर कर सकेंगे। इसमें अपील दायर करने से लेकर निर्णय लेने तक की पूरी प्रक्रिया डिजिटल होगी। यूजर्स ऑनलाइन ट्रैक कर पाएंगे कि आखिर उनकी शिकायत पर क्या कार्रवाई हुई है।

मंत्रालय का कहना है कि यूजर्स की शिकायतों पर तत्काल प्रभाव से काम किया जाना चाहिए। ऐसे में सोशल मीडिया कंपनियां यूजर्स की शिकायतों को नजरअंदाज नहीं कर पाएंगी। यूजर्स के पास इस नए अपीलीय निकाय के सामने सोशल मीडिया मध्यस्थों और अन्य ऑनलाइन मध्यस्थों के शिकायत अधिकारी के फैसले के खिलाफ अपील करने का विकल्प होगा। समिति यूजर्स की अपील का 30 दिनों में समाधान करने का प्रयास करेगी।

इसके अलावा शिकायत के खिलाफ अपील करने का भी ऑप्शन होगा। शिकायत के बाद अगर कोई दोषी पाया जाता है, तो उस पर तत्काल प्रभाव से कार्रवाई की जाएगी। मतलब शिकयती पोस्ट को हटाया जाएगा। या फिर उस अकाउंट पर कार्रवाई की जाएगी।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

बोले अभिषेक उपाध्याय-ये चैप्टर जितना चर्चा में आएगा, BJP के लिए उतना मुफीद होगा

बीबीसी डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग को लेकर 4 छात्र हिरासत में लिए गए हैं। जामिया यूनिवर्सिटी के चीफ प्रॉक्टर के कहने पर बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग से पहले ये कार्रवाई की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 25 January, 2023
Last Modified:
Wednesday, 25 January, 2023
BBC

पीएम मोदी पर बनी बीबीसी डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग को लेकर देश में बवाल खड़ा हो गया है। बीबीसी डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग को लेकर जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में भी हंगामा हुआ।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के कुछ छात्रों ने मंगलवार रात 9 बजे इस डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग का ऐलान किया था। छात्रों ने विरोध प्रदर्शन किया और दावा किया कि जब वे अपने मोबाइल फोन पर डॉक्यूमेंट्री देख रहे थे, तब उन पर हमला किया गया। 

वहीं, इसके बाद अब जामिया यूनिवर्सिटी में बीबीसी डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग को लेकर 4 छात्र हिरासत में लिए गए हैं।

जामिया यूनिवर्सिटी के चीफ प्रॉक्टर के कहने पर बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री की स्क्रीनिंग से पहले ये कार्रवाई की है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, जामिया की सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है।

इस पूरे मसले पर 'एबीपी न्यूज़' के वरिष्ठ पत्रकार 'अभिषेक उपाध्याय' ने एक ट्वीट कर अपनी राय सामने रखी है। उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि बीजेपी को मालूम था कि अगर PM मोदी पर बनाई BBC की डॉक्यूमेंट्री बैन होगी तो सबसे पहले वामपंथी चीखेंगे। वे इसे दिखाने पर अड़ जायेंगे। डॉक्यूमेंट्री में गुजरात दंगे का चैप्टर है। ये चैप्टर जितना चर्चा में आएगा, BJP के लिए उतना मुफीद होगा। ये एक "ट्रैप" था जिसमे वामपंथी फंस चुके हैं। 

'एबीपी न्यूज़' के वरिष्ठ पत्रकार 'अभिषेक उपाध्याय' के द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं। 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ब्रजेश मिश्रा की खरी-खरी- यह ‘बिल्डर, अथॉरिटी और पुलिस का ‘यमराज गठजोड़’ है

इस घटना के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ही एसडीआरएफ व एनडीआरएफ की टीमों को मौके पर जाकर राहत कार्य संचालित करने के निर्देश दिए हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 25 January, 2023
Last Modified:
Wednesday, 25 January, 2023
brajeshmishra

लखनऊ के हजरतगंज क्षेत्र के वजीर हसन रोड पर स्थित एक इमारत के गिरने से बड़ा हादसा हो गया है। इमारत का नाम अलाया अपार्टमेंट है। दरअसल, यह एक पुरानी इमारत थी। हाल ही में आए भूकंप के बाद इमारत में दरारें आ गई थीं। लेकिन किसी ने इस पर गौर नहीं किया। बताया जा रहा है कि करीब 30 से 40 के करीब लोग नीचे मलबे में दब गए।

इस घटना के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इमारत गिरने की दुर्घटना का संज्ञान लेते हुए जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ ही एसडीआरएफ व एनडीआरएफ की टीमों को मौके पर जाकर राहत कार्य संचालित करने के निर्देश दिए हैं। आपको बता दें कि आलिया अपार्टमेंट याजदान बिल्डर ने बनाया था।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक इमारत में कोई रिपेयर वर्क चल रहा था। ड्रिलिंग की आवाज आ रही थी। तभी बिल्डिंग गिरी। इस पूरी घटना पर 'भारत समाचार' के एडिटर-इन-चीफ और वरिष्ठ पत्रकार 'ब्रजेश मिश्रा' ने भी ट्वीट कर अपना रोष प्रकट किया है। उन्होंने ट्विटर पर अपनी राय व्यक्त की है।

उन्होंने लिखा, ऊंची इमारत। कमजोर बुनियाद। न नक्शा पास और न कोई मंजूरी। लखनऊ के हजरतगंज में एक ऐसी ही मल्टीस्टोरी बिल्डिंग ताश के पत्ते माफिक ढह गई। न जाने कितनी जिंदगियां मलबे में है। कुछ खुशकिस्मत बाहर निकल आए। बाकियों के लिए मलबा ही कब्र बन गया है। बिल्डर,अथॉरिटी और पुलिस का "यमराज गठजोड़" है।

वरिष्ठ पत्रकार 'ब्रजेश मिश्रा' द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं। 

 

 


 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

INS ने की सोशल मीडिया पर खबरों को परखने वाले प्रस्तावित संशोधन को वापस लेने की मांग

INS ने सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार से संबंधित खबरों को तथ्यात्मक कसौटी पर रखने के लिए प्रस्तावित सूचना प्रौद्योगिकी नियम-2021 संशोधन प्रारूप पर चिंता व्यक्त की

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 24 January, 2023
Last Modified:
Tuesday, 24 January, 2023
INS874512

इंडियन न्यूजपेपर सोसायटी (आईएनएस) ने सोशल मीडिया पर केंद्र सरकार से संबंधित खबरों को तथ्यात्मक कसौटी पर रखने के लिए प्रस्तावित सूचना प्रौद्योगिकी नियम-2021 संशोधन प्रारूप पर चिंता व्यक्त की और इसे वापस लेने की मांग की है।

आईएनएस ने केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिकी एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय से   प्रस्तावित नियम वापस लेने के साथ ही खबरों को परखने के वास्ते एक तंत्र बनाने के लिए सभी संबंधित पक्षों से परामर्श करने की मांग की है।

आईएनएस ने केंद्रीय सूचना मंत्रालय के प्रेस सूचना ब्यूरो या केंद्र सरकार द्वारा अधिकृत संस्था के माध्यम से खबरों की तथ्यात्मक परख करने का प्रावधान करने वाले प्रस्तावित नियम की धारा 3 (1) (बी)(5)पर विशेष रूप से चिंता व्यक्त की। सोसायटी का मानना है कि यह नियम भारत में प्रेस के कामकाज को गंभीर रूप से प्रभावित करेगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जयराम रमेश ने दिया रिपोर्टर को धक्का: सुमित अवस्थी ने दी ये सलाह

दिग्विजय सिंह ने सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर कहा कि सरकार ने इसका कोई प्रमाण नहीं दिया है और सरकार झूठ के पुलिंदे पर चल रही है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 24 January, 2023
Last Modified:
Tuesday, 24 January, 2023
SumitAwasthi

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने मंगलवार को सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाते हुए केंद्र सरकार को झूठा करार दिया, जिसके बाद उनके बयान पर सियासी बवाल मचा हुआ है। 

दिग्विजय सिंह ने सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर कहा था कि सरकार ने इसका कोई प्रमाण नहीं दिया है और सरकार झूठ के पुलिंदे पर चल रही है। इसी बीच सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक रिपोर्टर कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह से सवाल पूछ रहे है लेकिन पीछे से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश आकर उस रिपोर्टर को रोकने का प्रयास करते है और उसे पीछे धकेल देते हैं। ऐसे में उनके इस रवैये की बड़ी आलोचना हो रही है।

इस वीडियो के सामने आने के बाद वरिष्ठ पत्रकार 'सुमित अवस्थी' ने भी एक ट्वीट कर उन्हें एक नसीहत दी है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'जयराम रमेश साहब को मीडिया के माइक पर हाथ मारने और आजतक रिपोर्टर को झटकने की बजाये अपने साथी दिग्विजय सिंह जी को वैसे ही झटकना चाहिए था! क्या वो ऐसा करते किसी को दिखे? अपने घर और घरवालों पर ध्यान देंगे तो बेहतर होता। 

हालांकि राहुल गांधी ने दिग्विजय सिंह के द्वारा दिए गए बयान पर आपत्ति जताई है और उसे पार्टी का बयान नहीं मानने की बात कहीं। उन्होंने कहा कि वो सेना का पूरा सम्मान करते है। इस पर सुमित अवस्थी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि इसे तो राहुल गांधी की दिग्विजय सिंह पर सर्जिकल स्ट्राइक ही कहा जायेगा! वर्ना सरेआम अपनी पार्टी के दिग्गी राजा जैसे बड़े नेता के बयान को ‘हास्यास्पद’ कहकर क्यों उनका माखौल उड़ाते। 

पत्रकार सुमित अवस्थी के द्वारा किए गए ट्वीट को आप यहां देख सकते है-

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दिग्विजय सिंह के इस बयान पर आया राणा यशवंत को गुस्सा! कह दी ये बड़ी बात

दिग्विजय सिंह ने सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर कहा कि सरकार ने इसका कोई प्रमाण नहीं दिया है और सरकार झूठ के पुलिंदे पर ही चल रही है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 24 January, 2023
Last Modified:
Tuesday, 24 January, 2023
ranayashwant

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाकर नए विवाद को जन्म दे दिया है। दिग्विजय सिंह ने सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर कहा कि सरकार ने इसका कोई प्रमाण नहीं दिया है और सरकार झूठ के पुलिंदे पर ही चल रही है।

उन्होंने कहा, 'सर्जिकल स्ट्राइक की बात करते हैं और उन्होंने इतने लोगों को मारा है, लेकिन इसका कोई सबूत नहीं है। 'दिग्विजय सिंह के इस बयान पर अब सियासत तेज हो गई है और बीजेपी भी उनके ऊपर हमलावर है। इसी बीच 'इंडिया न्यूज' के मैनेजिंग एडिटर और वरिष्ठ पत्रकार 'राणा यशवंत' ने ट्वीट कर उनके इस बयान पर हैरानी जताई है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि, दिग्विजय सिंह बयान नहीं देते,रायता फैलाते हैं। आज इनको याद आया कि बालाकोट हमले का सबूत मोदी सरकार ने नहीं दिया। 2019 में ही 14 अगस्त यानी पाकिस्तान के स्वतंत्रता दिवस पर तब के पीएम इमरान खान ने कहा था कि सूचना है कि भारत बालाकोट से भी बड़ा हमला कर सकता है, ये सबूत नहीं है?

उन्होंने अपने अगले ट्वीट में लिखा कि जहां तक 2016 की सर्जिकल स्ट्राइक का सवाल है तो उस अभियान पर गए कमांडोज ने मीडिया से बात की थी। पीएम ने उस पर इंटरव्यू दिया था। क्या ये सब सबूत नहीं है? उन्होंने अपने आखिरी ट्वीट में कांग्रेस नेता से पूछा कि क्या आपको सेना पर यकीन नहीं है? 

राणा यशवंत द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

राजनीति के नाम पर विपक्ष को ऐसे ‘आत्मघाती हमलों’ से बचना चाहिए: विनीता यादव

स्वामी प्रसाद मौर्या ने कहा कि कई करोड़ लोग रामचरित मानस को नहीं पढ़ते, सब बकवास है,यह तुलसीदास ने अपनी खुशी के लिए लिखा है।

Last Modified:
Monday, 23 January, 2023
Vinita

गोस्वामी तुलसीदास विरचित 'रामचरितमानस' इस समय विवादों में है। दरअसल बिहार के शिक्षा मंत्री का रामचरितमानस को लेकर बयान का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ था कि समाजवादी पार्टी के नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने रामचरितमानस पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। उन्होंने कहा,  इसके कुछ हिस्से पर मुझे आपत्ति है।

स्वामी प्रसाद मौर्या ने कहा कि कई करोड़ लोग रामचरित मानस को नहीं पढ़ते, सब बकवास है. यह तुलसीदास ने अपनी खुशी के लिए लिखा है। स्वामी प्रसाद मौर्य यहीं नहीं रुके, उन्होंने कहा कि कि सरकार को इसका संज्ञान लेते हुए रामचरित मानस से जो आपत्तिजनक अंश है, उसे बाहर करना चाहिए या इस पूरी पुस्तक को ही बैन कर देना चाहिए।

इसके अलावा उन्होंने ब्राह्मणों को लेकर भी अनुचित बयानबाजी की। उनके इस बयान के बाद वरिष्ठ पत्रकार और डिजिटल न्यूज़ पोर्टल 'न्यूज़ नशा' की संपादक विनीता यादव ने ट्वीट कर उनकी कड़ी आलोचना की है।

उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि विपक्ष को ऐसे आत्मघाती हमलों से बचना चाहिए ,एक तरफ़ अखिलेश जाति समीकरण को मज़बूत करना चाहते हैं दूसरी तरफ़ धर्म पर जाकर ये बीजेपी के लिए काम रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने अपने ट्वीट में यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव को टैग भी किया है।

विनीता यादव के द्वारा किए गए इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं।

 

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए