दैनिक जागरण: हटाए गए इन तीन जिलों के प्रभारी, हुईं नई नियुक्तियां

इन जिलों में अब डेस्क से भेजे गए पत्रकार निभाएंगे प्रभारी की भूमिका

पंकज शर्मा by
Published - Friday, 26 July, 2019
Last Modified:
Friday, 26 July, 2019
Dainik Jagran

दैनिक जागरण, गोरखपुर से बड़ी खबर है। खबर ये है कि गोरखपुर मुख्यालय पर कार्यरत तीन जिलों के प्रभारी बदल दिए गए हैं। जिन जिलों के प्रभारी बदले गए हैं, उन्हें मुख्यालय पर बुलाया गया है, वहीं इन जिलों में डेस्क से तीन पत्रकारों को भेजा गया है।  

संपादकीय प्रभारी जितेंद्र त्रिपाठी की ओर से इस बारे में आदेश जारी किए गए हैं। जिन जिलों के प्रभारियों को बदला गया है, उनमें कुशीनगर के जिला प्रभारी अजय शुक्‍ल, देवरिया के प्रभारी प्रभात पाठक और संतकबीर नगर के जिला प्रभारी वेद गुप्‍ता शामिल हैं।

वहीं, इनकी जगह गोरखपुर मुख्‍यालय में सिटी डेस्‍क पर कार्यरत आशीष श्रीवास्‍तव को कुशीनगर, प्रादेशिक डेस्‍क पर कार्यरत महेंद्र त्रिपाठी को देवरिया और जनरल डेस्‍क पर कार्यरत राजनारायण मिश्र को संतकबीर नगर के जिला प्रभारी की जिम्मेदारी सौंपी गई है। तीन जिला प्रभारियों के एक साथ बदले जाने को लेकर दैनिक जागरण में तमाम चर्चाएं हैं। सूत्रों के अनुसार, ये प्रभारी लंबे समय से एक ही स्थान पर काम कर रहे थे, इसलिए ये बदलाव किए गए हैं।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फेस्टिव सीजन में प्रिंट मीडिया ने कुछ यूं पकड़ी ‘रफ्तार’

टैम एडेक्स के नवीनतम डाटा के अनुसार, इस साल अप्रैल के मुकाबले अगस्त में प्रतिदिन औसत रूप से विज्ञापन में 5.7 गुना तक की बढ़ोतरी देखी गई है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 31 October, 2020
Last Modified:
Saturday, 31 October, 2020
Print Media

टीवी न्यूज को लेकर चल रही तमाम तरह की बहस और फेस्टिव सीजन के बीच प्रिंट मीडिया इस सीजन में एडवर्टाइजर्स की पहली पसंद बनता जा रहा है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अगस्त से कुछ प्रमुख मीडिया संस्थानों द्वारा 50 पेज से ज्यादा के एडिशंस निकाले गए हैं। इसका मतलब साफ है कि प्रिंट की वापसी हो चुकी है। सितंबर से विज्ञापन रेवेन्यू बढ़ने के साथ ही सर्कुलेशन और बेहतर हुआ है। रिपोर्ट्स के अनुसार, पिछले साल इसी अवधि के मुकाबले अखबारों ने अब अपना 75 प्रतिशत बिजनेस वॉल्यूम हासिल कर लिया है।   

सर्कुलेशन और विज्ञापन

टैम एडेक्स (TAM AdEx) के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, इस साल अप्रैल के मुकाबले अगस्त में प्रतिदिन औसत रूप से विज्ञापन में 5.7 गुना तक की बढ़ोतरी देखी गई है। जुलाई से सितंबर के बीच प्रिंट पर विज्ञापन दे रहीं पांच प्रमुख कैटेगरीज में कार, मल्टीपल कोर्सेज, टू-व्हीलर, रियल एस्टेट और ओटीसी प्रॉडक्ट्स की विस्तृत श्रंखला शामिल रही। अप्रैल से जून के बीच टॉप-5 कैटेगरीज में विज्ञापन वॉल्यूम 21 प्रतिशत के मुकाबले जुलाई और सितंबर के बीच यह 33 प्रतिशत रहा।

इस बारे में मैल्कम राफेल (Malcolm Raphael), SVP and Head, Creative Strategy and Planning, Times Response (BCCL), the creative & media planning unit of BCCL का कहना है, ‘लंबे समय तक लॉकडाउन के बावजूद हम आशावादी हैं और यही कारण है कि ऐड वॉल्यूम और रेवेन्यू महीना दर महीना बढ़ रहा है। फेस्टिव सीजन न सिर्फ मीडिया के लिए बल्कि तमाम अन्य कैटेगरीज के लिए महत्वपूर्ण समय होता है। इस दौरान कंज्यूमर्स सबसे ज्यादा खर्च करते हैं और यह ब्रैंड्स के लिए त्योहारी भावनाओं को भुनाने का महत्वपूर्ण समय होता है। पिछले 40 दिन की बढ़त से यही प्रतिबिंबित हो रहा है। तमाम चुनौतियों के बावजूद ब्रैंड्स सकारात्मक रूप से आगे बढ़ रहे हैं।’

अखबारों का सर्कुलेशन वापस ट्रैक पर आ रहा है और बड़े प्लेयर्स ने सकारात्मक ट्रेंड देखना शुरू कर दिया है। पिछले हफ्ते ‘डीबी कॉर्प लिमिटेड’ (DB Corp Limited) ने अपने तिमाही नतीजों की घोषणा की थी। इसमें बताया था कि जुलाई से सर्कुलेशन बढ़ा है।

इस बारे में ‘डीबी कॉर्प लिमिटेड’ के मैनेजिंग डायरेक्टर सुधीर अग्रवाल का कहना है, ‘हालांकि पहली तिमाही में हमारे परिणाम में जरूर कुछ व्यवधान देखने को मिला है, लेकिन यह बताना महत्वपूर्ण है कि लगभग सभी मापदंडों में चाहे वह परिचालन हो, एडवर्टाइजिंग रेवेन्यू हो अथवा सर्कुलेशन, जुलाई के बाद से हमने इनमें सुधार देखा है और यह लगातार आगे बढ़ रहा है। हमें यह बताते हुए खुशी है कि हमारा प्रदर्शन अब कोविड-19 के पहले के स्तर के नजदीक आ रहा है।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अपने 100 साल के इतिहास में TIME मैगजीन ने उठाया ये कदम

दुनियाभर में मशहूर अमेरिका की राजनीतिक पत्रिका 'टाइम' (TIME) ने अपने 100 साल के इतिहास में पहली बार एक ऐसा कदम उठाया है, जिसकी वजह से यह मैगजीन चर्चाओं में है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 27 October, 2020
Last Modified:
Tuesday, 27 October, 2020
TimeMagazine

दुनियाभर में मशहूर अमेरिका की राजनीतिक पत्रिका 'टाइम' (TIME) ने अपने 100 साल के इतिहास में पहली बार एक ऐसा कदम उठाया है, जिसकी वजह से यह मैगजीन चर्चाओं में है। दरअसल, टाइम मैगजीन ने अपने कवर पेज का लोगो बदला है। टाइम ने नवंबर के डबल इश्यू का लोगो VOTE कर दिया है। मैगजीन ने अमेरिका नागरिकों से राष्ट्रपति चुनाव में वोट करने की अपील की है।

मैगजीन का कवर डिजाइन शेपर्ड फेयरी ने तैयार किया है। शेपर्ड ने ही 2008 के चुनावों में मशहूर HOPE पोस्टर तैयार किया था और इसमें बराक ओबामा को राष्ट्रपति के तौर पर उम्मीद बताया गया था। नया एडिशन 3 नवंबर को होने वाले चुनावों से पहले बाजार में आएगा। मैगजीन के कवर पर महिला मास्क पहने नजर आ रही है। मास्क पर बैलेट बॉक्स है और इस पर भी वोट प्रिंट किया गया है। कवर के बारे में फेलसेंथल ने कहा कि इसमें जो महिला है, वह जानती है कि महामारी के समय लोकतंत्र के सामने ज्यादा परेशानियां हैं, फिर भी वह अपनी आवाज उठाने और इसे वोटिंग के जरिए ताकत देने के लिए संकल्पित है।

वहीं टाइम मैगजीन के एडिटर-इन-चीफ और सीईओ फेलसेंथल ने लोगों से आधुनिक इतिहास के सबसे विभाजित करने वाले और अहम राष्ट्रपति चुनावों में अमेरिकी नागरिकों से वोट की अपील की। एक नोट में फेलसेंथल ने रीडर्स के लिए लिखा, ‘एक साल की पीड़ा, कठिनाई और उथल-पुथल के बाद अब हमारे पास पीढ़ियों में एक बार आने वाला मौका है, ताकि हम अपनी लय को बदल सकें। फेलसेंथल ने कवर का लोगो बदलने के बारे में भी बताया कि ऐतिहासिक तौर पर हम ऐसा निर्णय लेने जा रहे हैं, जो शायद ही कभी किसी ने बैलेट बॉक्स के जरिए लिया होगा। हमने करीब 100 साल के अपने इतिहास में पहली बार अपना यूएस एडिशन का लोगो बदला है, वो भी इस बेहद जरूरी संदेश के साथ कि लोग अपने वोट देने के अधिकार का इस्तेमाल करें।

बता दें कि अमेरिका में चुनाव इस साल 3 नवंबर को होने जा रहे हैं। इस बार कई बड़ी चुनौतियों के बीच चुनाव हो रहा है। कोरोना के चलते 2.20 लाख से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। वहीं बेरोजगारी का दर भी काफी बढ़ गया है।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस पहल के साथ एक मंच पर आए तमाम बड़े अखबार

न्यूज चैनल्स की रेटिंग और उग्र सामग्री को लेकर पिछले कुछ दिनों से तमाम चर्चाएं और बहस छिड़ी हुई हैं।

Last Modified:
Friday, 23 October, 2020
Print Media

न्यूज चैनल्स की रेटिंग और उग्र सामग्री को लेकर पिछले कुछ दिनों से तमाम चर्चाएं और बहस छिड़ी हुई हैं। इन सबके बीच टीवी न्यूज पर चुटकी लेते हुए प्रिंट मीडिया के बड़े नाम जैसे-‘टाइम्स ऑफ इंडिया’, ‘हिन्दुस्तान टाइम्स’ और ‘दैनिक भास्कर’ ने हाल ही में संयुक्त रूप से एक कैंपेन ‘प्रिंट इज प्रूफ’ (Print is Proof) चलाया। ‘News to inform not to entertain’ शीर्षक से चलाए गए इस कैंपेन में इन अखबारों ने एक मजबूत मैसेज दिया।

कैंपेन के साथ दिए नोट में इन अखबारों ने लिखा, ‘जागरूक और सुशिक्षित समाज को तैयार करने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं। इसमें सत्यापित तथ्यों, अच्छी तरह से शोध किए गए आंकड़ों और निष्पक्ष दृष्टिकोणों को प्रस्तुत करना शामिल है। हमें लगता है कि ये उन स्टोरीज पर आपका ध्यान आकर्षित करने के लिए पर्याप्त हैं जो वास्तव में मायने रखती हैं। इनमें सनसनीखेज स्टोरी नहीं है और कोई नाटकीय एंकरिंग नहीं है, क्योंकि हम इस बात को भलीभांति जानते हैं कि आप अपने न्यूज सोर्स (इंटेग्रिटी) से क्या उम्मीद रखते हैं।’

इस कैंपेन के बारे में ‘दैनिक भास्‍कर’ ग्रुप की चीफ कॉरपोरेट मार्केटिंग ऑफिसर काकून सेठी का कहना है, ‘प्रिंट इज प्रूफ दैनिक भास्कर की पहल है। दैनिक भास्कर ग्रुप की देश के सभी प्रमुख पब्लिशर्स के साथ हमेशा से भागीदारी रही है। इस बार भी यह पहल टाइम्स ऑफ इंडिया, हिन्दुस्तान टाइम्स और दैनिक भास्कर ग्रुप के साथ देशभर में चल रही है। ‘दैनिक जागरण’ ने भी अब हमारे साथ सहभागिता की है। अधिकांश पब्लिशर्स के जॉइन करने के साथ यह पहल जारी है।’

उन्होंने कहा, ‘आज के परिवेश में किसी भी माध्यम के लिए रिटर्न ऑफ इन्वेस्टमेंट (ROI) के प्रदर्शन के साथ विश्वास और विश्वसनीयता ज्यादा महत्वपूर्ण है। हमारा मिशन एक जागरूक समाज बनाना है, इसलिए हम ईमानदारी को बहुत गंभीरता से लेते हैं।’

सेठी के विचारों से सहमति जताते हुए ‘बेनेट कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड’ के डायरेक्टर (TOI & TIMS Brands) संजीव भार्गव का कहना है, ‘सोशल मीडिया पर फेक न्यूज के प्रसार के अलावा टीआरपी को लेकर हुआ यह विवाद और सनसनी फैलाने वाली पत्रकारिता लोकतंत्र के चौथे स्तंभ की विश्वसनीयता के लिए गंभीर चुनौती है। न्यूज मीडिया को अपनी अखंडता बनाए रखते हुए एक जागरूक व सुशिक्षित समाज बनाने के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए। अखबार भी रोजाना यही करते हैं। हम शोध पर आधारित आंकड़े, सत्यापित तथ्य और निष्पक्ष दृष्टिकोण प्रस्तुत करते हैं, जैसा कि हमारे रीडर्स हमसे उम्मीद रखते हैं। एक इंडस्ट्री के रूप में ‘प्रिंट इज प्रूफ’ कैंपेन रीडर्स के लिए हमारी प्रतिबद्धता की पुष्टि करता है।’

कैंपेन के अंतिम चरण में अखबारों ने मुद्रित शब्द (Printed Word) के महत्व पर प्रकाश डालते हुए डिजिटल मीडिया पर भी निशाना साधा है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस अखबार का दफ्तर किया गया सील, संपादक ने सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

अखबार मालिकों का कहना है कि इस संबंध में पहले कोई नोटिस नहीं दिया गया और न किसी तरह से कानूनी प्रक्रिया का पालन किया गया

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 October, 2020
Last Modified:
Wednesday, 21 October, 2020
Newspaper

जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में संपदा विभाग के अधिकारियों ने अंग्रेजी दैनिक ‘कश्मीर टाइम्स’ के दफ्तर को सोमवार को सील कर दिया। इस अखबार का कार्यालय प्रेस एन्क्लेव की एक सरकारी बिल्डिंग में आवंटित किया गया था। अखबार मालिकों का कहना है कि इस संबंध में पहले कोई नोटिस नहीं दिया गया और न किसी तरह से कानूनी प्रक्रिया का पालन किया गया।

‘कश्मीर टाइम्स’ की संपादक अनुराधा भसीन ने कहा, ‘श्रीनगर में हमारे दफ्तर पर कानूनी प्रक्रिया का पालन किए बिना ताला डाल दिया गया है। (आवंटन) रद्द करने या खाली करने का कोई नोटिस हमें नहीं दिया गया था।’

उन्होंने कहा, ‘हम संपदा विभाग गए और उनसे (कार्यालय खाली करने) इस संबंध में आदेश देने को कहा, लेकिन उन्होंने आदेश जारी नहीं किया। इसके बाद हमने अदालत का रुख किया लेकिन वहां से भी कोई आदेश नहीं आया।’

भसीन ने इस कदम को अपने खिलाफ  ‘प्रतिशोध’ बताया, क्योंकि वह सरकार के खिलाफ बोलीं थी और उन्होंने पिछले साल अनुच्छेद 370 हटाने के बाद जम्मू-कश्मीर में मीडिया पर लगाई गईं पाबंदियों के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का रुख किया था।

उन्होंने कहा, ‘पिछले साल जिस दिन मैं न्यायालय गई थी, उसी दिन कश्मीर टाइम्स को मिलने वाले राज्य सरकार के विज्ञापनों को रोक दिया गया था।’

‘कश्मीर टाइम्स’ का दफ्तर सील किए जाने के बाद जम्मू-कश्मीर के नेताओं ने मंगलवार को इस कदम की निंदा की। वहीं, लगभग एक दर्जन पत्रकारों के समूह ने अखबार के प्रति एकजुटता व्यक्त करते हुए अपनी ओर से नि:शुल्क सेवा देने की पेशकश की।

पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा, ‘इससे पता चलता है कि क्यों हमारे कुछ ‘प्रतिष्ठित’ प्रकाशन सरकार के मुखपत्र बन गए हैं और केवल सरकार की प्रेस विज्ञप्तियां छाप रहे हैं। स्वतंत्र रिपोर्टिंग की कीमत तय प्रक्रिया का पालन किए बिना बेदखली है।’ 

माकपा नेता मोहम्मद यूसुफ तारिगामी ने आरोप लगाया कि प्रशासन का यह बदले की राजनीति से उठाया गया कदम है और यह क्षेत्र में असंतोष की आवाज को दबाने का प्रयास है।

संपादक अनुराधा भसीन के प्रति एकजुटता व्यक्त करते हुए पत्रकारों के एक समूह ने आरोप लगाया कि अखबार को दबाने के लिए नए सिरे से प्रयास किए जा रहे हैं जो खासकर पांच अगस्त के बाद से कश्मीर में स्वतंत्र प्रेस पर सरकार के प्रतिबंधों के खिलाफ आवाज उठाने में अग्रणी रहा है। समूह ने बयान में कहा कि उनमें से कुछ अखबार की संपादकीय टीम को नि:शुल्क सेवा देने को तैयार हैं।

बता दें कि इस अंग्रेजी अखबार का मुख्यालय जम्मू में है और यह केंद्र शासित प्रदेश के दोनों क्षेत्रों से प्रकाशित होता है।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानें, किस तरह दैनिक भास्कर ने तोड़ा अपना ही रिकॉर्ड

राजस्थान के मारवाड़ के ऐतिहासिक प्राचीन शहर बीकानेर, जो अपने अंतरराष्ट्रीय ब्रैंड बीकानेरी भुजिया के लिए प्रसिद्ध है

Last Modified:
Monday, 19 October, 2020
dainik-bhaskar

राजस्थान के मारवाड़ के ऐतिहासिक प्राचीन शहर बीकानेर, जो अपने अंतरराष्ट्रीय ब्रैंड बीकानेरी भुजिया के लिए प्रसिद्ध है, ने एक ऐसा रिकॉर्ड बनाया है, जिसे तोड़ने में कई साल लग सकते हैं।

अपनी 23वीं वर्षगांठ पर दैनिक भास्कर ने 130 पेजों का अखबार प्रकाशित किया है। इससे पहले इंदौर में दैनिक भास्कर ने 128 पेजों का एडिशन निकालकर मील का पत्थर स्थापित किया था, जिसमें भोपाल में 72 पेज, अहमदाबाद और रायपुर में 80 पेज, होशंगाबाद में 60 पेज और बिलासपुर में 54 पेज शामिल थे।  

आईएएनएस-सी वोटर मीडिया (IANS– C voter Media) के हालिया शोध के अनुसार, समाचार पत्रों के लिए सबसे भरोसेमंद माध्यम के रूप में 66.5% लोग अखबारों पर भरोसा करते हैं। लिहाजा 130 पेज के मेगा एडिशन के लिए एडवर्टाइजर्स की इतनी बड़ी भागीदारी यह सिद्ध भी करती है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सूचना प्रसारण मंत्री ने अखबारों की डोर-टू-डोर डिलीवरी को लेकर कही ये बात

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कहना है कि आरडल्ब्यूए द्वारा लोगों के घरों में अखबारों की डोर-टू-डोर डिलीवरी रोकना सही नहीं है।

Last Modified:
Monday, 12 October, 2020
Prakash Javadekar

केंद्रीय सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कहना है कि ‘रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन’ (आरडल्ब्यूए) समेत किसी भी निकाय द्वारा लोगों के घरों में अखबारों की डोर-टू-डोर डिलीवरी रोकना सही नहीं है।

‘टाइम्स नाउ’ (Times Now) को दिए एक इंटरव्यू में जावड़ेकर का कहना है कि वह रोजाना करीब 20 अखबार पढ़ते हैं और उन्हें इसमें कोई विशेष समस्या देखने को नहीं मिली है। जावड़ेकर का कहना है, ‘इसलिए कुछ आरडब्ल्यूए अथवा अन्य कुछ निकायों द्वारा अखबारों की डोर-टू-डोर डिलीवरी को रोका जाना सही नहीं है। उन्हें यह लोगों की पसंद पर छोड़ देना चाहिए कि वह अखबार पढ़ें या नहीं पढ़ें अथवा क्या पढ़ें।’  

हाउसिंग सोसाइटियों के शीर्ष निकाय भी इस ओर इशारा करते रहे हैं कि लोगों के घरों में अखबारों की डोर-टू-डोर डिलीवरी रोकना गैरकानूनी है। इस मामले में हाल ही में ‘महाराष्ट्र सोसाइटीज वेलफेयर एसोसिएशन’ (MahaSeWa), ‘द महाराष्ट्र हाउसिंग फेडरेशन’ और ‘द यूनाइटेड आरडब्ल्यूज जॉइंट एक्शन’ (URJA) बयान भी जारी कर चुके हैं। इन सभी निकायों का कहना है कि लोगों के घरों में अखबारों की डिलीवरी एक आवश्यक सेवा है और इस रोका नहीं जा सकता है।

उन्होंने आरडब्ल्यूए पदाधिकारियों को इस सेवा में हस्तक्षेप न करने या सक्षम अधिकारियों के आदेशों का उल्लंघन न करने के लिए कहा है। रिपोर्ट्स के अनुसार, दिल्ली में भी आरडब्ल्यूए के शीर्ष निकाय ने सभी आरडब्ल्यूए व हाउसिंग सोसाइटीज से लोगों के घरों में अखबारों की डोर-टू-डोर डिलीवरी न रोकने के लिए कहा है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टाइम्स ऑफ इंडिया ने जयपुर में बनाया ये 'रिकॉर्ड'

बता दें कि अगस्त 2020 में ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ ने स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में मुंबई में 60 पेजों का इश्यू निकाला था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 03 October, 2020
Last Modified:
Saturday, 03 October, 2020
TOI

अंग्रेजी अखबार ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ (Times of India) ने जयपुर में शुक्रवार को 88 पेज का अखबार पब्लिश किया। ग्रुप का कहना है कि यह जयपुर में अब तक का सबसे ज्यादा पेजों का एडिशन है। बता दें कि अगस्त 2020 में ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ ने स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में मुंबई में 60 पेजों का इश्यू निकाला था। उस दिन गुरुग्राम में 72 पेज, दिल्ली में 58 पेज, हैदराबाद में 78 पेज, बेंगलुरु में 52 पेज और चेन्नई में 46 पेजों का बंपर इश्यू निकाला था।

इस बारे में ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ समूह का पिछले महीने कहना था कि पब्लिकेशन ने कुछ मार्केट्स में लगभग 90 प्रतिशत और अधिकांश मार्केट्स में 70 प्रतिशत से ज्यादा सर्कुलेशन वापस प्राप्त कर लिया है। समूह की ओर से जारी आधिकारिक बयान में कहा गया, ‘अखबारों का डिस्ट्रीब्यूशन लॉकडाउन के पहले वाली स्थिति में तेजी से वापस आ रहा है। इस कारण भी एडवर्टाइजर्स अपना मार्केट शेयर दोबारा बढ़ाने के लिए प्रिंट की ओर लौट रहे हैं।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

INS के नए प्रेजिडेंट बने एल अदिमूलम, कार्यकारिणी में शामिल हुए ये नाम

‘इंडियन न्यूजपेपर सोसायटी’ की 81वीं वार्षिक आम सभा में यह घोषणा की गई। वह ‘मिड-डे’ (Mid-Day) के शैलेष गुप्ता की जगह यह पदभार संभालेंगे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 26 September, 2020
Last Modified:
Saturday, 26 September, 2020
INS

एल अदिमूलम (L Adimoolam) को ‘इंडियन न्यूजपेपर सोसायटी’ (INS) का नया प्रेजिडेंट चुना गया है। वह ‘मिड-डे’ (Mid-Day) के शैलेष गुप्ता की जगह यह पदभार संभालेंगे। बेंगलुरु में हुई ‘इंडियन न्यूजपेपर सोसायटी’ की 81वीं वार्षिक आम सभा में यह घोषणा की गई।

इसके अलावा संस्था की नई कार्यकारिणी भी घोषित कर दी गई है। इसमें ‘आनंद बाजार पत्रिका’ (Anandabazar Patrika) के डीडी पुरकायस्थ को डिप्टी प्रेजिडेंट चुना गया है। ‘द इकनॉमिक टाइम्स’ (The Economic Times) के मोहित जैन को वाइस प्रेजिडेंट की जिम्मेदारी सौंपी गई है। ‘आज समाज’ (Aaj Samaj) के राकेश शर्मा को मानद कोषाध्यक्ष चुना गया है। मैरी पॉल को सोसायटी के सेक्रेट्री जनरल पद की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

एग्जिक्यूटिव कमेटी में शामिल अन्य सदस्यों की सूची आप यहां देख सकते हैं। 

  1. Mr. S. Balasubramaniam Adityan (Daily Thanthi)

  2. Mr. Girish Agarwal (Dainik Bhaskar, Bhopal)

  3. Mr. Samahit Bal (Pragativadi)

  4. Mr. Gaurav Chopra (Filmi Duniya)

  5. Mr. Vijay Kumar Chopra (Punjabi Kesari, Jalandhar)

  6. Mr. Karan Rajendra Darda (Lokmat, Aurangabad)

  7. Mr. Vijay Jawaharlal Darda (Lokmat, Nagpur)

  8. Mr. Jagjit Singh Dardi (Charhdikala Daily)

  9. Mr. Viveck Goenka (The Indian Express, Mumbai)

  10. Mr. Mahendra Mohan Gupta (Dainik Jagran)

  11. Mr. Pradeep Gupta (Dataquest)

  12. Mr. Sanjay Gupta (Dainik Jagran, Varanasi)

  13. Mr. Shivendra Gupta (Business Standard)

  14. Ms. Sarvinder Kaur (Ajit)

  15. Mr. M. V. Shreyams Kumar (Mathrubhumi Arogya Masika)

  16. Dr. R. Lakshmipathy (Dinamalar)

  17. Mr. Tanmay Maheshwari (Amar Ujala, Delhi)

  18. Mr. Vilas A. Marathe (Dainik Hindusthan, Amravati)

  19. Mr. Harsha Mathew (Vanitha)

  20. Mr. Dinesh Mittal (Hindustan Times, Patna)

  21. Mr. Naresh Mohan (Sunday Statesman)

  22. Mr. Anant Nath (Grihshobhika, Marathi)

  23. Mr. Pratap G. Pawar (Sakal)

  24. Mr. Rahul Rajkhewa (The Sentinel)

  25. Mr. R.M. R. Ramesh (Dinakaran)

  26. Mr. K. Raja Prasad Reddy (Sakshi, Vishakhapatnam)

  27. Mr. Atideb Sarkar (The Telegraph)

  28. Mr. Praveen Someshwar (The Hindustan Times)

  29. Mr. Kiran D. Thakur (Tarun Bharat, Belgaum)

  30. Mr. Biju Varghese (Mangalam Weekly)

  31. Mr. I. Venkat (Annadata)

  32. Mr. Vinay Verma (The Tribune)

  33. Mr. Hormusji N. Cama (Bombay Samachar Weekly)

  34. Mr. Kundan R. Vyas (Vyapar, Mumbai)

  35. Mr. K. N. Tilak Kumar (Deccan Herald & Prajavani)

  36. Mr. Ravindra Kumar (The Statesman)

  37. Mr. Kiran B. Vadodaria (Sambhaav Metro)

  38. Mr. P. V. Chandran (Grehalaksmi)

  39. Mr. Somesh Sharma (Rashtradoot Saptahik)

  40. Mr. Jayant Mammen Mathew (Malayala Manorama)

  41. Mr. Shailesh Gupta (Mid-Day)

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मंत्रीजी ने तोड़ी सरकारी गाइडलाइन, दैनिक भास्कर ने यूं जताया विरोध

इन दिनों देश-दुनिया में ‘कोरोनावायरस’ (कोविड-19) कहर बरपा रहा है। इस वायरस के संक्रमण की चपेट में आकर तमाम लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं कई लोग विभिन्न अस्पतालों में उपचार करा रहे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 24 September, 2020
Last Modified:
Thursday, 24 September, 2020
Dainik Bhaskar

इन दिनों देश-दुनिया में ‘कोरोनावायरस’ (कोविड-19) कहर बरपा रहा है। इस वायरस के संक्रमण की चपेट में आकर तमाम लोगों की मौत हो चुकी है, वहीं कई लोग विभिन्न अस्पतालों में उपचार करा रहे हैं। कोरोनावायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के लिए सरकार ने गाइडलाइंस भी जारी की हैं। इन गाइडलाइंस में सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करना, बार-बार और नियमित अंतराल पर साबुन से हाथ धोना, सैनिटाइजर्स का इस्तेमाल करना और घर से बाहर निकलते समय मुंह पर मास्क लगाना समेत कई ऐहतियात शामिल हैं।

लेकिन, मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम दास ने कोरोना के खतरे के बावजूद पिछले दिनों इंदौर के रविंद्र नाट्यगृह में एक कार्यकम को बिना मास्क पहने संबोधित किया। दरअसल, मुख्यमंत्री जनकल्याण संबल योजना के अंतर्गत बुधवार को रविंद्र नाट्यगृह में हुए कार्यक्रम में 35 लोगों को अनुग्रह राशि के प्रमाण पत्र दिए गए थे। इसी कार्यक्रम में मंत्रीजी शामिल हुए थे।

कार्यक्रम के दौरान वे कुर्सी पर भी बिना मास्क पहने बैठे रहे, जबकि उनके साथ बैठे अन्य लोगों ने मास्क लगा रखा था। यही नहीं, एक अन्य कार्यक्रम में भी वे बिना मास्क लगाए शामिल हुए। मंत्रीजी द्वारा बिना मास्क के कार्यक्रम को संबोधित किए जाने पर दैनिक भास्कर अखबार ने विरोध का अनूठा तरीका अपनाया और कार्यक्रम के संबोधन के दौरान मंत्रीजी की फोटो को इस्तेमाल करते समय उनका चेहरा ही हटा दिया।

इसके साथ ही अखबार ने यह भी लिखा, ‘प्रिय मंत्रीजी, इंदौर में 21248 लोग कोरोना पॉजिटिव हैं, 424 लोगों को हम खो चुके हैं। सैकड़ों डॉक्टर और मेडिकल स्टाफ दिन-रात पूरे समर्पण से इलाज में जुटे हैं। मास्क ही सबसे बड़ा बचाव है। ऐसे में हमारे शहर में आकर आपने यह गलत उदाहरण पेश किया है। दैनिक भास्कर इसके विरोध में आपका चेहरा हटा रहा है। उम्मीद है, अगली बार आप मास्क में नजर आएंगे।’ दैनिक भास्कर का यह कदम चर्चा का विषय बना हुआ है।

बताया जाता है कि मंत्रीजी ने कहा है कि वह अब से मास्क का इस्तेमाल करेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मंत्रीजी ने मास्क न लगाने की वजह भी बताई है। उन्होंने बताया कि दरअसल उन्हें दस साल पहले से पॉलीपस नाम की बीमारी है, जिसका एक छोटा ऑपरेशन भी हो चुका है। इसके चलते उन्हें अब भी कई बार सांस लेने में घुटन महसूस होती है। विशेषकर जब मास्क लगा लेते हैं तब उनको बहुत ज्यादा दिक्कत का सामना करना पड़ता है। इसीलिए वह कोरोना काल में कोशिश करते हैं कि यथासंभव मास्क लगाएं लेकिन बेहद असहज स्थिति होने पर कई बार मास्क हटाना भी पड़ता है। इस बारे में डॉक्टरों का भी मानना है कि सामान्य व्यक्ति के लिए भी मास्क सांस लेने में अवरोध का काम करता है, लेकिन कोरोना से बचाव के लिये जरूरी है कि हम मास्क लगाएं। फिर भी मेडिकल प्रॉब्लम के कारण अगर किसी व्यक्ति ने मास्क नहीं लगाया है तो प्रॉपर डिस्टेंस का पालन करना जरूरी है, ऐसी स्थिति में और कम से कम 6 फीट की दूरी बनाए रखने की सलाह दी जाती है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार गौरव शशि नारायण ने इस अखबार के साथ किया नए सफर का आगाज

मूल रूप से बांदा के रहने वाले गौरव शशि नारायण को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 14 साल का अनुभव है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 24 September, 2020
Last Modified:
Thursday, 24 September, 2020
Gaurav Shashi Narain

पत्रकार गौरव शशि नारायण ने गाजियाबाद से पब्लिश होने वाले हिंदी दैनिक ‘करंट क्राइम’ के साथ अपने करियर की नई पारी शुरू की है। समाचार4मीडिया से बातचीत में गौरव शशि नारायण ने बताया कि उन्होंने यहां पर बतौर सिटी रिपोर्टर जॉइन किया है। यहां वह कॉलम लिखने के साथ-साथ अखबार के वेब पोर्टल के लिए भी काम करेंगे।

मूल रूप से बांदा के रहने वाले गौरव शशि नारायण को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 14 साल का अनुभव है। वह दैनिक जागरण में बतौर रिपोर्टर करीब नौ साल तक विभिन्न बीट संभाल चुके हैं।

गौरव ने हरियाणा के हिसार स्थित गुरु जम्भेश्वर यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता में ग्रेजुएशन करने के बाद ‘जागरण इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन’, नोएडा से पत्रकारिता में पीजी डिप्लोमा किया है। गौरव इससे पहले गाजियाबाद से पब्लिश होने वाले हिंदी दैनिक ‘हिंट’ और ‘राष्ट्रीय आईना’ में भी अपनी जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। यही नहीं, कुछ समय तक वह ‘आईबीएन7’ चैनल की टीम का हिस्सा भी रहे हैं।

वहीं, अखबार के न्यूज एडिटर दीपक भाटी का कहना है कि गौरव के आने से अखबार की टीम को और मजबूती मिलेगी। नई पारी के लिए गौरव शशि नारायण को समाचार4मीडिया की ओर से ढेरों शुभकामनाएं।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए