पुरोधा संपादकों की कहानीः हरिवंश की जुबानी

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा में ‘पुरोधा संपादकों की कहानी: हरिवंश की जुबानी’...

Last Modified:
Friday, 05 April, 2019
Wardha

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा में ‘पुरोधा संपादकों की कहानी: हरिवंश की जुबानी’ कार्यक्रम 27 से 29 मार्च 2019 तक आयोजित किया गया। हरिवंश ने हिंदी विश्वविद्यालय के जनसंचार विभाग द्वारा आयोजित इस कार्यक्रम के पहले दिन 27 मार्च 2019 की शाम गणेश मंत्री के कृतित्व व व्यक्तित्व पर प्रकाश डाला। दूसरे दिन 28 मार्च 2019 को हरिवंश ने नारायण दत्त और धर्मवीर भारती पर और तीसरे दिन 29 मार्च 2019 की सुबह प्रभाष जोशी के व्यक्तित्व पर व्याख्यान दिया।

पहले दिन का कार्यक्रम हिंदी विश्वविद्यालय के गालिब सभागार तथा दूसरे व तीसरे दिन का कार्यक्रम जनसंचार विभाग के माधव राव सप्रे सभा कक्ष में आयोजित हुआ। पुरोधा संपादकों का पुण्य स्मरण करते हुए हरिवंश ने कहा कि आज की पत्रकारिता में विचार, मूल्य और चरित्र की कमी है। उन्होंने कहा कि आज की पत्रकारिता पूंजी प्रधान है, इसलिए वह उन मुद्दों पर ध्यान नहीं दे पा रही है, जो मानवता के भविष्य के लिए जरूरी हैं।

हरिवंश ने कहा कि आज के पत्रकार तथ्यों की जांच किए बिना खबरें करते हैं। वे देश की आर्थिक स्थिति के बारे में सही बात लिखने से बचते हैं। वे यह भी नहीं बताते कि हमारा देश गंभीर आर्थिक परेशानियों में है और जिस आर्थिक नीति पर चल रहे हैं, उसका भविष्य खतरनाक है। ऐसे मौके पर उन संपादकों का स्मरण जरूरी है, जो विचार और साहस की पत्रकारिता के आखिरी युग की कड़ी थे। उन्होंने कहा कि दुनिया के कई अर्थशास्त्रियों ने चेतावनी दी है कि विकास का मौजूदा रास्ता खतरनाक है। इसलिए सभ्यता को कोई और मार्ग चुनना होगा। ऐसे समय में महात्मा गांधी सबसे ज्यादा प्रासंगिक हैं। उन्होंने महात्मा गांधी के महत्त्वपूर्ण कथन पागल दौड़ का जिक्र करते हुए कहा कि भौतिक सुविधाओं को जमा करने के लालच में हमारी सभ्यता की नैतिक ऊंचाई एक इंच भी नहीं बढ़ी है। हरिवंश ने कहा कि गणेश मंत्री, नारायण दत्त, धर्मवीर भारती और प्रभाष जोशी पर गांधी युग का प्रभाव था और वे देश, समाज, भाषा और संस्कृति निर्माण के लिए पत्रकारिता कर रहे थे। उनका उद्देश्य व्यावसायिक नहीं था। इसीलिए वे अपने समय में बहुत सारी बातों को स्पष्ट तौर पर कह सके। गणेश मंत्री के जीवन और कृतित्व का जिक्र करते हुए हरिवंश ने कहा कि वे समाजवादी विचारों से प्रभावित थे। वे डॉ. राम मनोहर लोहिया के अंधभक्त थे। इसके बावजूद वे मार्क्स, गांधी और डॉ. आंबेडकर के गहन अध्येता थे और उन्होंने उनके विचारों को ‘धर्मयुग’ जैसे व्यापक प्रसार वाली पत्रिका में जगह दी। उन्होंने कहा कि गणेश मंत्री का पत्रकारीय जीवन उनके विद्यार्थी जीवन का ही विस्तार है,क्योंकि अध्ययनशीलता उनमें अंत तक बनी रही।

हरिवंश ने कहा कि धर्मवीर भारती जैसे दिग्गज संपादक के होते हुए भी गणेश मंत्री छह लाख प्रसार वाली ‘धर्मयुग’ जैसी पत्रिका में न सिर्फ रचनात्मक साहित्य के लिए स्थान निकालते थे, बल्कि राजनीतिक विचारों के लिए भी जगह बना लेते थे। हरिवंश ने बताया कि उन्होंने आपातकाल के दिनों में ‘टाइम्स आफ इंडिया’ समूह में पत्रकारिता शुरू की और उस समय गणेश मंत्री ने उन्हें हतोत्साहित किया था। लेकिन जब उन्हें लगा कि वे पत्रकारिता ही करेंगे तो अपने छोटे भाई के रूप में स्नेह और सहयोग दिया और उनके लेखन व विचारों को गढ़ा। गणेश मंत्री के प्रभाव का वर्णन करते हुए उन्होंने बताया कि जेल से छूटने के बाद जार्ज फर्नांडीज जैसे नेता ने सबसे पहले गणेश मंत्री को ही इंटरव्यू दिया। हरिवंश ने कहा कि गणेश मंत्री के पिता राजस्थान सरकार में मंत्री थे पर उनकी सरकारी गाड़ी का उपयोग करने से मना करके गणेश मंत्री ने दर्शा दिया था कि पत्रकार के लिए नैतिकता और चरित्र का कितना महत्त्व होता है। गणेश मंत्री ने एक बार देश के सबसे बड़े उद्योगपति के बेटे की शादी का कार्ड और उसके साथ आया उपहार भी लेने से मना कर दिया था, क्योंकि उनका मानना था कि वे उद्योगपति उनके किसी कार्यक्रम में क्या आएंगे और क्या वे उन्हें इतना महंगा उपहार दे पाएंगे। 

कार्यक्रम के दूसरे दिन पूर्वाह्न में नारायण दत्त के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए हरिवंश ने कहा कि नारायण दत्त मूलतः तेलुगूभाषी थे। उनका परिवार कर्नाटक में बसा, जहां उन्होंने कन्नड़ सीखी। फिर नारायण दत्त बंबई (अब मुंबई) आए, जहां उन्होंने मराठी, तमिल सीखी। वे हिंदी के गंभीर अध्येता थे ही और भाषा के मामले में बहुत संवेदनशील थे। नारायण दत्त किसी भी प्रकार की भाषा त्रुटि को बर्दाश्त नहीं करते थे। यह उनके ‘नवनीत’ और ‘पीटीआई’ की हिंदी फीचर सेवा के संपादन के दौरान कई बार साबित हुआ। हरिवंश ने कहा कि नारायण दत्त शोध कर्ता भी थे और कांग्रेस के सौ वर्ष पूरे होने पर उन्होंने पीटीआई फीचर से कांग्रेस के इतिहास और उसके अध्यक्षों पर जो शृंखला चलाई, वह सबसे प्रामाणिक दस्तावेज है। रिटायर होने के बाद नारायण दत्त बेहद लोकप्रिय कैलेंडर ‘काल निर्णय’ का संपादन करते थे और वह त्रुटिहीन होता था। हरिवंश ने कहा कि नारायण दत्त के बड़े भाई एचवाई शारदा प्रसाद इंदिराजी के प्रेस सलाहकार थे। वे भी सादगी की प्रतिमूर्ति थे। एक बार वे ‘धर्मयुग’ के दफ्तर आए और टाइम्स के अधिकारियों से पूछा-हरिवंश से मिलना है। वे मेरी कुर्सी के सामने आकर बैठ गए और इस बात के लिए धन्यवाद दिया कि बीमारी के दौरान मैंने नारायण दत्त की सेवा-सुश्रुषा की।

कार्यक्रम के दूसरे दिन अपराह्न धर्मवीर भारती के व्यक्तित्व व कृतित्व पर प्रकाश डालते हुए हरिवंश ने कहा कि धर्मवीर भारती ने कठोर श्रम से ‘धर्मयुग’ को लोकप्रियता के शिखर पर पहुंचाया। उन्होंने ‘धर्मयुग’ को सात लाख की प्रसार संख्या तक पहुंचाया और उसे पाठकों की संख्या में परिवर्तित किया जाय तो वह संख्या एक करोड़ तक जाती है। इतना बड़ा पाठक वर्ग धर्मवीर भारती के कठोर श्रम से निर्मित हुआ। वे ठीक सुबह साढ़े नौ बजे दफ्तर आ जाते थे। उनके मन-मस्तिष्क और कार्यालय की आलमारियों में ‘धर्मयुग’ की योजना चलती रहती थी। वे निरंतर अपने उप संपादकों को बुलाकर हर पेज की तात्कालिक और अग्रिम सामग्री और तस्वीर के बारे में तय करते थे। उन्होंने स्वयं 1971 के बांग्लादेश मुक्ति संग्राम की रिपोर्टिंग की। बड़े-बड़े नेता और अभिनेता उनसे मिलने के लिए ‘धर्मयुग’ आते थे, किंतु वे काम में इतने मग्न रहते थे कि उनसे नहीं मिल पाते थे। इस वजह से कुछ लोगों द्वारा उन्हें तानाशाह और घमंडी कहकर लांछित किया गया, जबकि उन्होंने मुनादी शीर्षक से कविता लिखकर इंदिराजी की तानाशाही को चुनौती दी थी। वे इतने भावुक और संवेदनशील थे कि जयप्रकाश नारायण पर 4 नवंबर 1974 को पटना में पुलिस लाठी चार्ज की तस्वीर देखकर विचलित हो गए। वह तस्वीर रघुराय ने खींची थी, जिसमें पुलिस जेपी पर लाठी ताने हुई थी। उस तस्वीर को देखकर धर्मवीर भारती चार-पांच दिनों तक भयंकर बेचैन रहे और नौ नवंबर की रात दस बजे मुनादी कविता के रूप में उनका आक्रोश उबल पड़ा। धर्मवीर भारती ने ‘धर्मयुग’ को बनाने के लिए अपने साहित्यकार की बलि चढ़ा दी। यही वजह है कि गुनाहों का देवता, सूरज का सातवां घोड़ा, अंधा युग और कनुप्रिया जैसी श्रेष्ठ रचनाएं धर्मयुग का संपादक बनने से पहले लिखी गईं। हरिवंश ने बताया कि किस तरह उनसे भारतीजी ने ‘धर्मयुग’ की कई आमुख कथाएं लिखवाईं।

कार्यक्रम के चौथे सत्र में 29 मार्च 2019 को पूर्वाह्न हरिवंश ने प्रभाष जोशी के रचनात्मक अवदान पर वक्तव्य दिया। उन्होंने कहा कि प्रभाष जोशी प्रामाणिक पत्रकारिता के जीवंत उदाहरण थे। समझ, दृष्टि, भाषा संस्कार, संचार कौशल जैसे विशिष्ट गुणों में प्रभाष जोशी एक आदर्श थे, उनके जैसा अब तक कोई दूसरा नहीं हुआ है। आज बहुत कम लोग हैं जो सही को सही कहने का साहस रखते हैं, प्रभाष जोशी वैसी ही विलक्षण प्रतिभा के धनी थे। वे जहां भी होते थे सिर्फ उनकी मौजूदगी ही प्रभावपूर्ण होती थी। हरिवंश जी ने कहा कि मुल्क के बुनियादी सवालों पर देशज ज्ञान से किसी समस्या का हल निकालने वाले प्रभाष जी जैसा दूसरा कोई पत्रकार अभी तक नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रभाष जी जमीनी हकीकत की लोक समझ रखते थे। वे हिंदी के अकेले ऐसे संपादक थे, जिन्होंने अंग्रेजी अखबार ‘इंडियन एक्सप्रेस’ के तीन संस्करणों का संपादन करने के बाद हिंदी पत्रकारिता की और ‘जनसत्ता’ के संस्थापक संपादक बने थे। रामनाथ गोयनका के साथ लगभग 20 वर्षों तक काम करने वाले प्रभाष जोशी अकेले संपादक थे। इतने वर्षों तक कोई संपादक गोयनका के साथ काम नहीं कर पाता था।

हरिवंश ने बताया कि बिल गेट्स और स्टीव जॉब्स ने अपने-अपने क्षेत्रों में जो उल्लेखनीय कार्य किया है वैसा ही कार्य प्रभाष जोशी ने हिंदी पत्रकारिता में किया है। प्रभाष जी ने उच्च स्तर का ‘जनसत्ता’ अखबार निकाला, जिसकी पंच लाइन ‘सबकी खबर ले, सबको खबर दे’ वर्तमान में भी प्रासंगिक बनी हुई है। इस अखबार में उनके द्वारा लिखा जाने वाला कॉलम ‘कागद कारे’ बहुत लोकप्रिय हुआ। एक बार धर्मवीर भारती ने जनसत्ता अखबार को देखकर कहा था, ‘यह अद्वितीय अखबार है।‘ हर व्याख्यान के बाद हरिवंश ने श्रोताओं के प्रश्नों के जवाब भी दिए। हरिवंश के विभिन्न व्याख्यान कार्यक्रमों की अध्यक्षता कुलपति प्रो. गिरीश्वर मिश्र और सप्रे संग्रहालय, भोपाल के संस्थापक विजय दत्त श्रीधर ने की। सप्रे संग्रहालय, भोपाल की निदेशक डा. मंगला अनुजा और आवासीय लेखिका डा. पुष्पिता अवस्थी ने भी पुरोधा संपादकों पर अपने विचार रखे। विभिन्न सत्रों का संचालन राजेश लेहकपुरे, धरवेश कठेरिया, अशोक मिश्र और रेणु सिंह ने किया। स्वागत भाषण और धन्यवाद ज्ञापन प्रो. कृष्णकुमार सिंह, प्रो. मनोज कुमार, अरुण कुमार त्रिपाठी, संदीप कुमार वर्मा और वैभव उपाध्याय ने किया। विषय प्रवर्तन जनसंचार विभाग के अध्यक्ष प्रो. कृपाशंकर चौबे ने किया। कार्यक्रम की शुरुआत पुरोधा संपादकों के छायाचित्रों पर पुष्पांजलि अर्पण से हुई। जनसंचार विभाग के विद्यार्थियों ने कुलगीत और स्वागत लोकगीत भी प्रस्तुत किए। इस अवसर पर जनसंचार विभाग के विद्यार्थियों ने प्रतिदिन अपना प्रायोगिक अखबार ‘मीडिया समय’ निकाला। विद्यार्थियों के प्रायोगिक रेडियो बुलेटिन ‘वर्धा वाणी’ एवं प्रायोगिक टेलिविजन बुलेटिन ‘वर्धा दर्शन’ का प्रतिदिन प्रसारण किया गया।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इंडिया न्यूज कम्युनिकेशंस से जुड़े रोहित कुमार, मिली बड़ी जिम्मेदारी

रोहित कुमार पूर्व में जी मीडिया, आजतक और न्यूज वर्ल्ड इंडिया जैसे प्रमुख मीडिया संस्थानों में निभा चुके हैं अहम भूमिका

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 17 February, 2020
Last Modified:
Monday, 17 February, 2020
Rohit Kumar

इमेज मैनेजमेंट और कॉरपोरेट कम्युनिकेशन कंसल्टेंसी कंपनी ‘इंडिया न्यूज कम्युनिकेशंस लिमिटेड’ (India News Communications Limited) में रोहित कुमार ने बतौर सीओओ जॉइन किया है। संस्थान की संपूर्ण ग्रोथ की जिम्मेदारी उन्हीं के कंधों पर होगी।

रोहित कुमार पूर्व में ‘पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री’ (PHD Chamber of Commerce and Industry) के साथ बतौर डायरेक्टर (Media, Special Projects/Mega Programs, Bidding/Tendering, States and Young Business Leadership Forum) काम कर चुके हैं।

रोहित कुमार को मार्केटिंग के क्षेत्र में काम करने का 18 साल से ज्यादा का अनुभव है।  पूर्व में वह प्रमुख मीडिया संस्थानों जैसे-‘जी मीडिया’, ‘आजतक’ और ‘न्यूज वर्ल्ड इंडिया’ में बतौर मार्केटिंग हेड अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

राष्ट्रवाद और मीडिया के संबंधों को बखूबी दर्शाती है ये किताब

भोपाल स्थित गांधी भवन में आयोजित कार्यक्रम में डॉ. सौरभ मालवीय और लोकेंद्र सिंह की इस किताब का किया गया विमोचन

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 12 February, 2020
Last Modified:
Wednesday, 12 February, 2020
Book Launching

मीडिया विमर्श की ओर से आयोजित पं. बृजलाल द्विवेदी अखिल भारतीय साहित्यिक सम्मान समारोह में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद पर पीएचडी करने वाले डॉ. सौरभ मालवीय और लोकेन्द्र सिंह की किताब ‘राष्ट्रवाद और मीडिया’ का विमोचन किया गया। भोपाल स्थित गांधी भवन में आयोजित कार्यक्रम में समाजवादी विचारक एवं लेखक रघु ठाकुर ने कहा, ‘एक सच्चा राष्ट्रवाद वही होगा जो सच्चा विश्ववादी होगा। अगर सभी देश अपनी सीमाओं को छोड़ने के लिए तैयार हो जाएं, तभी असली राष्ट्रवाद की नींव रखी जा सकती है।’ उन्होंने कहा कि मीडिया और राष्ट्रवाद के बीच किसी भी तरह के संघर्ष की स्थिति नहीं होनी चाहिए।

प्रख्यात साहित्यकार एवं व्यंग्यकार गिरीश पंकज का कहना था, ‘आज के दौर में जब सभी तरफ राष्ट्रवाद की चर्चा है और कुछ मीडिया घरानों पर भी राष्ट्रवादी होने के ठप्पे लगाये जा रहे हैं, तब इस पुस्तक का आना काफी प्रासंगिक हो जाता है। मध्यप्रदेश साहित्य अकादमी के पूर्व निदेशक एवं वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. उमेश कुमार सिंह का कहना था कि कोई एक वाद इस राष्ट्र का पर्याय नहीं हो सकता है। उन्होंने कहा कि लेखकों ने पुस्तक में भारतीय राष्ट्रवाद को सही अर्थों में परिभाषित करने का प्रयास किया है। उन्होंने राष्ट्रवाद की जगह ‘राष्ट्रत्व’ या ‘राष्ट्रीय विचार’ शब्द का उपयोग करने पर जोर दिया।

यश प्रकाशन, नई दिल्ली की ओर से प्रकाशित इस किताब में वर्तमान परिप्रेक्ष्य में राष्ट्रवाद, राष्ट्रवाद एवं मीडिया के संबंध, मीडिया की भूमिका जैसे विषयों पर मीडिया विशेषज्ञ एवं वरिष्ठ स्तम्भकारों के महत्वपूर्ण आलेख शामिल किये गए हैं। इस किताब में प्रो. संजय द्विवेदी, संतोष कुमार पाण्डेय, डॉ. मयंक चतुर्वेदी, डॉ. शशि प्रकाश राय, डॉ.साधना श्रीवास्तव, डॉ. मंजरी शुक्ला, डॉ. मनोज कुमार तिवारी, डॉ. मीता उज्जैन, डॉ. सीमा वर्मा, उमेश चतुर्वेदी, अमरेंद्र आर्य, अनिल पांडेय आदि के लेख शामिल हैं।

किताब विमोचन के लिए मंच पर प्रख्यात समाजवादी चिन्तक रघु ठाकुर, वरिष्ठ संपादक प्रो. कमल दीक्षित, सप्रे संग्रहालय के संस्थापक विजयदत्त श्रीधर, मध्यप्रदेश साहित्य अकादमी के पूर्व निदेशक डॉ. उमेश कुमार सिंह, व्यंग्यकार गिरीश पंकज, संपादक कमलनयन पाण्डेय, मीडिया आचार्य प्रो. संजय द्विवेदी, डॉ. बीके रीना और साहित्यकार पूनम माटिया आदि उपस्थित रहे।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानें, दिल्ली के बारे में क्या कहता है ABP News-CVoter का एग्जिट पोल

दिल्ली में आठ फरवरी को डाले गए हैं वोट, 11 फरवरी को मतों की गिनती का काम होगा

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 10 February, 2020
Last Modified:
Monday, 10 February, 2020
ABP News

दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आठ फरवरी को हुई वोटिंग के बाद अब सभी की नजरें 11 फरवरी को होने वाली मतगणना पर टिकी हैं। सभी इस बात को लेकर काफी उत्सुक हैं कि आखिर दिल्ली में किसकी सरकार बनेगी। तमाम मीडिया संस्थान भी एग्जिट पोल के जरिये अनुमान लगा रहे हैं कि दिल्ली का ताज किसके सिर सजने वाला है।

इन सबके बीच एग्जिट पोल के हवाले से ‘एबीपी न्यूज’ (ABP News) ने खबर दी है कि दिल्ली में एक बार फिर अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व में आम आदमी पार्टी (आप) की सरकार बन सकती है। एबीपी न्यूज-सी वोटर (ABP News-Centre for Voting Opinion & Trends in Election Research) के एग्जिट पोल के मुताबिक, आप को 50.4 प्रतिशत, बीजेपी को 36 प्रतिशत, कांग्रेस को नौ प्रतिशत और अन्य पॉलिटिकल पार्टियों को 4.7 वोट प्रतिशत मिलने की संभावना है।

इस एग्जिट पोल के अनुसार, दिल्ली में आम आदमी पार्टी को 49 से 63 सीट मिल सकती हैं। बीजेपी को पांच से 19 सीटों पर जीत मिल सकती है और यह दूसरे स्थान पर रह सकती है, वहीं कांग्रेस को शून्य से चार सीट मिलने की संभावना जताई गई है।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे जाने-माने क्रिकेट पत्रकार राजू भारतान

साप्ताहिक मैगजीन ‘the Illustrated Weekly of India’ से करीब 42 साल तक जुड़े रहे थे राजू भारतान

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 07 February, 2020
Last Modified:
Friday, 07 February, 2020
Raju Bharatan

जाने-माने फिल्म इतिहासकार और क्रिकेट पत्रकार राजू भारतान (Raju Bharatan) का लंबी बीमारी के बाद शुक्रवार को निधन हो गया। वह 86 साल के थे। राजू भारतान साप्ताहिक मैगजीन ‘the Illustrated Weekly of India’ से करीब 42 साल तक जुड़े रहे थे। खुशवंत सिंह, एमवी कामत, प्रीतिश नंदी और अनिल धारकर जैसे दिग्गज पत्रकारों के साथ काम कर चुके राजू भारतान असिस्टेंट एडिटर के पद से सेवानिवृत्त हुए थे।

इस मैगजीन में अपनी काफी लंबी पारी के दौरान उन्होंने दो क्रिकेट स्पेशल इश्यू भी निकाले थे, जिन्होंने 4.05 लाख और 3.8 लाख सर्कुलेशन का आंकड़ा भी छुआ था। इसके अलावा वह क्रिकेट पर कॉलम भी लिखते थे। उन्होंने वर्ष 1974 में क्रिकेट पर बनी डॉक्यूमेंट्री ‘The Victory Story’ का निर्देशन भी किया था।

‘पीटीआई’ के पहले जनरल मैनेजर ए.एस भारतान के बेटे राजू भारतान ने ‘Rivals in the Sun’(1952) और ‘Indian Cricket-The Vital Phase’ (1977) समेत छह किताबें भी लिखी थीं।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार रवि सुबैय्या ने दुनिया को कहा अलविदा

पोलियो से ग्रस्त रवि सुबैय्या कर्मठता व जीवटता की साक्षात मिसाल थे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 06 February, 2020
Last Modified:
Thursday, 06 February, 2020
Ravi Subbaiah

स्वतंत्र पत्रकार रवि सुबैय्या का निधन हो गया है। नवी मुंबई के रहने वाले 51 वर्षीय सुबैय्या ने यहां वाशी इलाके में स्थित अपने आवास पर रविवार को अंतिम सांस ली।

पोलियो से ग्रस्त होने के बावजूद रवि ने अपनी ग्रेजुएशन पूरी की और ‘एनएमटीवी’ (NMTV) नाम से केबल टीवी इंफॉर्मेशन सर्विस शुरू की। वह कई एनजीओ से जुड़े हुए थे और प्रेरणादायक भाषण देने के लिए जाने जाते थे। रवि के परिवार में पत्नी और दो बेटियां हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार ने कुछ यूं पेश की ईमानदारी की मिसाल  

वे लोग जो कहते हैं कि अब दुनिया में बेईमानों का राज है। हर तरफ धोखेबाज हैं, लुटेरे बैठें हैं। तो बता दें कि ऐसे लोगों की सोच को बदल देने वाला काम आगरा के रहने वाले पत्रकार समीर क़ुरैशी ने किया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 05 February, 2020
Last Modified:
Wednesday, 05 February, 2020
agra

वे लोग जो कहते हैं कि अब दुनिया में बेईमानों का राज है। हर तरफ धोखेबाज हैं, लुटेरे बैठें हैं। तो बता दें कि ऐसे लोगों की सोच को बदल देने वाला काम आगरा के रहने वाले पत्रकार समीर क़ुरैशी ने किया है। इस पत्रकार ने ईमानदारी की वो मिसाल पेश की है, जिसे सुनकर हर कोई उसकी प्रशंसा कर रहा है। उल्लेखनीय है कि मंगलवार को थाना न्यू आगरा के अंतर्गत बल्केश्वर कालोनी निवासी धर्मेंद्र कुमार पुत्र देवकी नंदन जूते बनाने का कारखाना चलाते हैं। मंगलवार की दोपहर को धर्मेंद्र कारखाने के लिए दस हजार रुपए का सामान लेने सदर भट्टी गए थे। तभी उन पैसों में से 2500 रुपए रास्ते मे गिर गए, जिसकी वजह से युवक काफी परेशान था।

उसी दौरान रास्ते से गुजर रहे पत्रकार समीर क़ुरैशी की नजर सड़क पर पड़े हुए 2500 रुपयों पर पड़ी, तो वह रुपयों को लेकर थाना मंटोला की डिवीजन चौकी पर पहुंच गए। चौकी में मौजूद प्रभारी वीर सिंह को वह पैसे दे दिए। वहीं कुछ देर बाद युवक भी पैसे गिरने की जानकारी देने के लिए पुलिस चौकी पहुंचा। जहां मौजूद पत्रकार समीर क़ुरैशी और चौकी प्रभारी वीर सिंह ने वह पैसे युवक के सुपुर्द कर दिए।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वीजा नियमों के उल्लंघन में फंसा पत्रकार, अधिकारियों ने यूं दी बड़ी राहत

बता दें कि आव्रजन कानूनों के उल्लंघन के आरोप में पत्रकार को पांच साल की कैद के साथ ही 36,500 डॉलर जुर्माने का भुगतान करना पड़ सकता था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 03 February, 2020
Last Modified:
Monday, 03 February, 2020
Philip Jacobson

छह हफ्ते तक हिरासत में रखने के बाद एक अमेरिकी पत्रकार को इंडोनेशियाई अधिकारियों ने वापस उसके देश भेज दिया है। इस बात की जानकारी देते हुए पत्रकार के वकील ने कहा कि बोर्नियो द्वीप पर देश के अधिकार कार्यकर्ताओं से मिलने के बाद उन्हें रिहा किया गया है। दरअसल, पत्रकार फिलिप माइरर जैकबसन के पास वीजा नही था, जिसके चलते उन पर आव्रजन कानूनों के उल्लंघन का आरोप लगा था।

उनके वकील अर्यो नुग्रोहो ने बताया कि आव्रजन कार्यालय की तरफ से आरोपों को वापस ले लेने के बाद पत्रकार जैकबसन को जकार्ता अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे से वापस अमेरिका भेज दिया गया।

बता दें कि आव्रजन कानूनों के उल्लंघन के आरोप में उन्हें पांच साल की कैद के साथ ही 36,500 डॉलर जुर्माने का भुगतान करना पड़ सकता था।

कैलिफोर्निया के फिलिप माइरर जैकबसन को 21 जनवरी को पलंगकराया शहर में हिरासत में लिया गया था। जैकबसन पर्यावरणीय विज्ञान समाचार वेबसाइट मोंगाबेय के संपादक हैं। यह वेबसाइट उष्णकटिबंधीय वर्षा वनों की सूचना उपलब्ध कराती है।

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नए जमाने की नई विसंगतियों का आईना है वरिष्ठ पत्रकार पीयूष पांडे का ये व्यंग्य संग्रह

पिछले पांच-एक साल में एक नई बात हुई है। अपन लोग बात-बात पर आहत होने लगे हैं। आहत हैं इसलिए आक्रामक भी हो गए हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 03 February, 2020
Last Modified:
Monday, 03 February, 2020
PIYUSH PANDEY

प्रभात रंजन, वरिष्ठ लेखक।।

पिछले पांच-एक साल में एक नई बात हुई है। अपन लोग बात-बात पर आहत होने लगे हैं। आहत हैं इसलिए आक्रामक भी हो गए हैं। इस चक्कर में दूसरों को आहत करना अपना शगल हो गया है। लेकिन जब आहत होने और आहत करने का अहम काम सामान्य लोग करने लगे हैं तो व्यंग्य लेखक क्या करेगा? जवाब इतना आसान नहीं है, फिर भी कुछ और करे या ना करे अपनी ऐसी-तैसी करने का हक तो उसे है। ये अलग बात है कि किसी समझदार और संवेदनशील आदमी (जो लेखक भी है) की दुर्गति कराते हुए लेखक, पाठक और समाज को वहां लाकर खड़ा कर देता है, जहां से वह अपना पतन साफ-साफ देख सके।

इस हिसाब से ‘कबीरा बैठा डिबेट में’ हमारी मौजूदा सामूहिक सोच का आख्यान है। लगे हाथ, इस सोच का व्याकरण समझने की कोशिश है। ये इत्तेफाक भर है कि पीयूष पांडे ने अपने समाज की मानसिक हालत समझने-समझाने के लिए टीवी की पृष्ठभूमि चुनी है। हालांकि ये सच है कि जो कुछ टीवी की बहस में घटित हो रहा है, कमोबेश वहीं सड़क, संसद और घर के ड्राइंग रूम में भी हो रहा है। हां, ये जरूर है कि पीयूष पांडे ने कई वर्षों तक टेलिविजन में काम करते हुए उसकी कार्य पद्धति और ज्ञान तंत्र को करीब से देखा है। इसलिए जब वो टीवी और उसकी बहस की असंगति को सामने लाते हैं तो सब कुछ प्रमाणिक लगता है।

किताब के पहले ही व्यंग्य ‘कबीरा बैठा डिबेट में’ एक जगह वह लिखते हैं, “‘समझदार’ पैनलिस्ट खोजना गूंगे की आवाज खोजने जैसा मुश्किल है। अव्वल तो न्यूज चैनल पर भद्द पिटवाने समझदार आते नहीं। यदा-कदा घेर घारकर उन्हें स्टूडियो लाया भी जाए तो दस मिनट बाद वो समझदार नहीं रहते। सर्वज्ञानी एंकर उन्हें मूर्ख साबित कर दूसरे समझदार के शिकार के लिए बढ़ जाता है।”

हालांकि, लेखक का उद्देश्य ये बताना नहीं है कि सच दिखाने का दावा करने वाले टीवी चैनलों में सचमुच कितना मानसिक दिवालियापन व्याप्त है। उसका मकसद तो अपनी या अपने जैसे हर संवेदनशील और समझदार आदमी की मौजूदा समाज में हैसियत बताना है। इसलिए वो हिंदी भाषा के सबसे बड़े व्यंग्यकार कबीर को टीवी की बहस में ठेल देते हैं। कबीर के साथ टीवी की बहस शुरू होती है, और इससे गुजरता हुआ पाठक लोटपोट हो जाता है।

टीवी के महाज्ञानी एंकर के सामने कबीर की एक नहीं चलती। अनुभव और ज्ञान का कवच काम नहीं आता। अगर कोई कसर बाकी है तो गेस्ट के तौर पर आए पंडित और मुल्ला पूरी कर देते हैं। डिबेट शो में बैठे दर्शक भी कबीर पर हमला करने के लिए तैयार हो जाते हैं। कबीर से आहत लोगों को बड़े संजोग से मौका मिला और सबने अपनी भड़ास निकाल ली। कबीर का जो होना था सो हुआ। साथ में दो बातें और हुईं। पहला ये कि शो जम गया। साबित हुआ कि मूर्खता का अपना अर्थशास्त्र है, इसलिए इस दौर में उसकी जबरदस्त मांग है। दूसरी ये कि मूर्खता के आगे समझदारी आज कमजोर और बेबस है।

कबीर की दुर्गति पर हंसते-हंसते ये सवाल जरूर दिमाग में आता है कि हम कहां से चले थे और कहां आ गए हैं। इस निष्कर्ष पर लाकर लेखक एक दुख के साथ पाठक को छोड़ देता है। हालांकि बात कबीर से आगे भी जाती है और हमारे नए किस्म के समाज की नई असंगतियों तक जाती है। ये समाज न सिर्फ आहत है, बल्कि इस पर एक अलग तरह की बदहवासी छाई हुई है। दिलचस्प बात ये है कि इस बदहवासी को न्यू नॉर्मल साबित करने की कोशिश हो रही है।

पीयूष पांडे की नजर स्कूल के पीटीएम में गए मां-बाप पर भी है और थोड़ी तोंद निकलने से परेशान हो रहे आदमी पर भी। सभी के पास अपनी महत्वकांक्षाएं हैं और अजब-गजब तर्क। लेखक बारीकी से उस समाज को देख रहा है, जिसके पास ज्ञान का असीम भंडार जमा हो गया है, लेकिन उसने बुनियादी सोच-समझ से तौबा कर लिया है। इसके बाद तुर्रा ये कि वो बात-बात पर आहत हो जाता है। फिर, मरने-मारने पर उतारू हो जाता है। यकीनन लेखक जिस समाज का चित्र खींचता है वहां एक दुर्घटना हो रही है, लेकिन पीयूष पांडे के व्यंग्य की खूबसूरती ये है कि वहां सब कुछ सामान्य तरीके से सामने आता है। किताब पढ़ते हुए पहले हंसी आती है फिर कोफ्त होती है। आखिर में एक टीस रह जाती है।

पीयूष के पास विषयों की कमी नहीं है और कहने का अपना अंदाज है। जंगलश्री के इंतजार में नाम से लिखे व्यंग्य में एक जगह वो लिखते हैं-‘शेर को यूं चुनाव-वुनाव की जरूरत नहीं है। शेर शेर होता है। वो जहां खड़ा हो जाए, वहीं से जंगलराज शुरू होता है। लेकिन, बीते दिनों डेमोक्रेसी के हल्ले में शेर ने जंगल में भी डेमोक्रेसी की स्थापना कर दी थी। शेर यूं तो झपट्टा मारकर सब छीन सकता है, लेकिन जंगल में अब डेमोक्रेसी थी तो शेर नहीं चाहता था कि ऐसा कोई भी काम किया जाए, जो डेमोक्रेसी के खिलाफ हो।’

मिलावट का स्वर्ण काल व्यंग्य की शुरुआत ही दिलचस्प सच्चाई के साथ होती है। वो लिखते हैं, ‘ये मिलावट का स्वर्णकाल है। जित देखिए तित मिलावट। लोग आधुनिकता और विकास का नारा लगाते हुए मिलावट के स्वर्णकाल को एंजॉय कर रहे हैं। मिलावट ही सत्य है। कभी सौभाग्य से शुद्ध माल के दर्शन हो जाएं तो लोग उलझन में पड़ जाते हैं कि फैशन के इस युग में 100 फीसदी टंच माल कहां से आ गया? हाल यह है कि दिल्ली के ज्यादातर लोगों को अगर पूरी तरह शुद्ध हवा मिल जाए तो उनकी तबीयत खराब हो सकती है।’ आदत ही नहीं है।

व्यंग्य लेखन की दुनिया में इन दिनों जो सन्नाटा पसरा है, उसे देखते हुए ‘कबीरा बैठा डिबेट में’ एक उपलब्धि की तरह है। पहले की अपनी दो किताबों ‘छिछोरेबाजी का रिजोल्यूशन’ और ‘धंधे मातरम्’ से जो प्रतिमान उन्होंने बनाया है, अब उससे आगे निकल गए हैं। इस मुश्किल समय में व्यंग्य लिखने के लिए भी पीयूष पांडे अलग से बधाई के पात्र हैं।

‘कबीरा बैठा डिबेट में’

लेखक: पीयूष पांडे

प्रकाशक: प्रभात प्रकाशन

मूल्य: 250/

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दुनिया को अलविदा कह गए लाइव इंडिया के पूर्व CEO राजेश शर्मा

‘लाइव इंडिया’ (Live India) चैनल के पूर्व सीईओ राजेश शर्मा के बारे में एक दुखद खबर सामने आई है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 30 January, 2020
Last Modified:
Thursday, 30 January, 2020
rajesh sharma

‘लाइव इंडिया’ (Live India) चैनल के पूर्व सीईओ राजेश शर्मा के बारे में एक दुखद खबर सामने आई है। खबर ये है कि मल्टीपल ऑर्गन्स फैल्योर की वजह से गुरुवार को उनका निधन हो गया है। वे देहरादून के एक अस्पताल में भर्ती थे, जहां उन्होंने आखिरी सांस ली। राजेश शर्मा के परिवार में पत्नी, बेटा और बेटी हैं। उनकी पत्नी देहरादून में जबकि बेटा-बेटी विदेश में रहते हैं।

मूल रूप से इलाहाबाद के रहने वाले राजेश शर्मा परिवार के साथ देहरादून में शिफ्ट हो गए थे। बताया जाता है कि करीब साठ साल के राजेश शर्मा का इसी महीने की आठ तारीख को दिल्ली के मैक्स अस्पताल में दिल का ऑपरेशन हुआ था। हार्ट में ब्लॉकेज की वजह से उन्हें स्टेंट डाले गए थे। इसके बाद वे देहरादून चले गए थे। यहां उन्हें इंफेक्शन के चलते निमोनिया हो गया था, जिसको लेकर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां करीब दस दिनों से वे डायलिसिस पर थे।

इस बारे में ‘सहारा समय’ के डिजिटल सिनर्जी मैनेजर डॉ. प्रवीण तिवारी ने बताया कि राजेश शर्मा करीब छह महीने तक ‘लाइव इंडिया’ के सीईओ रहे थे। चैनल के बंद होने के बाद वे डिजिटल मीडिया पर काम कर रहे थे। तमाम चुनौतियों के बीच वे वेबसाइट शुरू करना चाह रहे थे, लेकिन आर्थिक अड़चनों के चलते इस दिशा में ज्यादा काम नहीं हो पाया।

‘लाइव इंडिया’ चैनल में बतौर सीईओ अपनी जिम्मेदारी संभालने से पहले वह तमाम बड़ी कंपनियों में बतौर कंसल्टेंट अपनी भूमिका निभा चुके थे। वह ‘भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण’ (NHAI) में भी बतौर कंसल्टेंट काम कर चुके थे।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

HT मीडिया से जुड़े शरद सक्सेना के बारे में आई ये बुरी खबर

HT मीडिया के साथ शरद सक्सेना करीब 15 साल से जुड़े हुए थे और ह्यूमन रिसोर्सेज, प्रॉडक्शन की जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 28 January, 2020
Last Modified:
Tuesday, 28 January, 2020
Sharad Saxena

‘एचटी मीडिया’ (HT Media) के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर (एचआर और ऑपरेशंस) शरद सक्सेना का सोमवार को निधन हो गया है। बताया जाता है कि वह कैंसर से जूझ रहे थे। एचटी मीडिया के साथ शरद सक्सेना करीब 15 साल से जुड़े हुए थे और ह्यूमन रिसोर्सेज, प्रॉडक्शन और सप्लाई चेन मैनेजमेंट की जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

एचटी मीडिया को जॉइन करने से पूर्व सक्सेना ‘ऑयशर’ (Eicher), ‘पेप्सिको’ (Pepsico) और ‘परफेटी’ (Perfetti) जैसी कंपनियों में बड़ी जिम्मेदारी संभाल चुके थे। उन्होंने बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, मेसरा से मैकेनिकल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की थी।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए