दुखद: चली गई युवा पत्रकार की जान

अखबार में कार्यरत 30 वर्षीय पत्रकार घटना के दौरान बाइक से जा रहे थे

पंकज शर्मा by
Published - Monday, 01 July, 2019
Last Modified:
Monday, 01 July, 2019
Death

सड़क हादसे में बाइक सवार युवा पत्रकार की मौत हो गई। मामला हैदराबाद का है। हादसे में जान गंवाने वाले पत्रकार की पहचान मोहम्मद ताजुद्दीन के रूप में हुई है। करीब 30 वर्षीय ताजुद्दीन एक अखबार में काम करते थे और करीमनगर में रहते थे।

शनिवार की रात यह हादसा उस समय हुआ, जब ताजुद्दीन नागार्जुन सर्किल से बेगमपेट की तरफ जा रहे थे। इसी दौरान पंजागुट्टा फ्लाईओवर पर सामने से आ रही तेज रफ्तार कार अनियंत्रित होकर उनकी बाइक से भिड़ गई। बताया जाता है कि यह भिड़ंत इतनी भीषण थी कि ताजुद्दीन हवा में उछलकर फ्लाईओवर से नीचे सर्विस रोड पर जा गिरे। हादसे के बाद कार चालक मौके पर ही अपना वाहन छोड़कर फरार हो गया।

हादसे के बाद फ्लाईओवर पर ट्रैफिक बाधित हो गया। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और ताजुद्दीन को उस्मानिया जनरल हॉस्पिटल में भिजवाया, जहां डॉक्टरों ने ताजुद्दीन को मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

आतंकवाद के खात्मे में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है भाषायी पत्रकारिता: विवेक अग्रवाल

जाने-माने क्राइम रिपोर्टर विवेक अग्रवाल ने कहा कि भाषायी पत्रकारिता आतंकवाद के खात्मे में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है

Last Modified:
Thursday, 04 June, 2020
journalism

जाने-माने क्राइम रिपोर्टर व वरिष्ठ पत्रकार विवेक अग्रवाल ने कहा कि भाषायी पत्रकारिता आतंकवाद के खात्मे में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय द्वारा ‘वैश्विक आतंकवाद और मीडिया’ विषय पर आयोजित फेसबुक लाइव के दौरान विवेक अग्रवाल ने कहा कि आतंकवाद की समस्या विश्व के हर कोने में है। केवल धरती ही नहीं, अब आतंकवाद जल क्षेत्रों में भी समुद्री लुटेरों के रूप में पहुंच कर आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे रहा है। पूरे विश्व में उदार लोकतंत्र से लेकर कठोर साम्यवादी राष्ट्र जैसे चीन और रूस में भी आतंकवाद एक बड़ी समस्या है। खासतौर पर अमेरिका में हुई आतंकवादी हमले की घटना के बाद विश्व में आतंकवाद को गंभीर समस्या के रूप में स्वीकार कर लिया गया है।

अग्रवाल ने कहा इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की तुलना में प्रिंट मीडिया आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में ज्यादा प्रभावी और जवाबदारी से अपनी भूमिका निभाता नजर आ रहा है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया आतंकवाद को फैलाने का एक बड़ा हथियार बन गया है। इसलिए सोशल मीडिया पर उपलब्ध आतंकी साहित्य और उनकी गतिविधियों को तलाश कर उनके प्लेटफार्म को भी समाप्त किये जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि भारत में सायबर आतंकवाद को खत्म करने के लिए तकनीकी रूप से और अधिक संसाधन जुटाए जाना जरूरी है इसके अलावा राज्य पुलिस को भी साइबर तकनीक में पारंगत करने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया शिक्षित वर्ग को आतंकवाद से प्रभावित करने का सबसे बड़ा प्लेटफार्म बनता जा रहा है। मीडिया को इस बारे में भी सोचने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि आतंकवाद से जुड़ी खबरों को प्रस्तुत करने में मीडिया कई बार आतंकवादियों के हाथों अनजाने में इस्तेमाल भी हो जाता हैं। इसके लिए जरूरी है कि मीडिया और संपादक और अधिक जिम्मेदारी से तय करें कि क्या दिखाया जाना है क्या नहीं।

मीडिया छात्रों के सवालों का जवाब देते हुए उन्होंने बताया कि केवल अनपढ़ और गरीब ही नहीं आतंकवाद में शिक्षित युवाओं को भी शामिल कराया जा रहा है। नशीले पदार्थ, सोने की तस्करी, नकली नोट का कारोबार, अपहरण, हफ्ता वसूली जैसे अपराधिक गतिविधियों से ही आतंकवाद के लिए पैसा जुटाया जाता।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोरोना को मात देकर लौटे पत्रकार ने उठाया ये सराहनीय कदम

कोरोनावायरस (कोविड-19) के खिलाफ ‘जंग’ में उतरे कई मीडियाकर्मी भी अब तक इसकी चपेट में आकर संक्रमित हो चुके हैं।

Last Modified:
Wednesday, 03 June, 2020
Corona

कोरोनावायरस (कोविड-19) के खिलाफ ‘जंग’ में उतरे कई मीडियाकर्मी भी अब तक इसकी चपेट में आकर संक्रमित हो चुके हैं। मध्य प्रदेश के इंदौर के एक अखबार में संवाददाता के रूप में काम करने वाले देव कुंडल (50) भी इसकी चपेट में आ गए थे, हालांकि वह अब इस महामारी को मात देकर घर लौट आए हैं। यही नहीं, अब उन्होंने एक सराहनीय पहल करते हुए इस महामारी से जूझ रहे मरीजों की जान बचाने के लिये मंगलवार को शहर के महाराजा यशवंतराव चिकित्सालय (एमवायएच) में अपना प्लाज्मा दान किया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, प्लाज्मा दान देने के बाद कुंडल ने कहा, ‘अगर मेरा प्लाज्मा चढ़ाए जाने से कोविड-19 के किसी गंभीर मरीज की जान बच सकती है तो मानवता के नाते मैं खुद को धन्य समझूंगा।’

गौरतलब है कि एमवायएच, देश के उन चुनिंदा संस्थानों में शामिल है, जिन्हें ‘भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद’ (आईसीएमआर) ने कोविड-19 मरीजों पर प्लाज्मा थेरेपी के चिकित्सकीय प्रयोग की अनुमति दी है। बता दें कि कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद देव कुंडल को 14 अप्रैल को शहर के निजी अस्पताल में भर्ती किया गया था। इलाज के बाद ठीक होने पर वह दो मई को घर लौट आए हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

महिला एंकर ने दी जान, वीडियो बनाकर बताई थी वजह

बेंगलुरु से 29 साल की एक महिला एंकर के सुसाइड की खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि एंकर ने जहर पीकर अपनी जान दी है

Last Modified:
Tuesday, 02 June, 2020
Anchor454

बेंगलुरु से 29 साल की एक महिला एंकर के सुसाइड की खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि एंकर ने जहर पीकर अपनी जान दी है।

पुलिस जांच में पता चला कि चंदना वीके नाम की महिला एंकर ने मरने से पहले एक विडियो बनाया था, जिसमें उसने अपनी मौत के लिए अपने ब्वॉयफ्रैंड दिनेश को जिम्मेदार ठहराया था। एंकर का आरोप था कि उसके ब्वॉयफ्रैंड ने शादी के लिए मना कर दिया, जिसके बाद उसे यह कदम उठाना पड़ा।

साउथ बेंगलुरु (Suddaguntepalya) की पुलिस ने दिनेश व उसके परिवार के खिलाफ फिलहाल आत्महत्या के लिए उसकाने का मामला दर्ज कर लिया है। आरोपित के परिवार में उनके पिता लोकप्पा गौड़ा, मां गायत्री, बहन शायला और चाचा स्वामी उर्फ ​​दयानंद हैं। फिलहाल ये सभी फरार हैं, जिन्हें पकड़ने के लिए पुलिस ने एक टीम बनाई है।  

चंदना ने रियल एस्टेट के कुछ विज्ञापनों में काम किया था। वह हसन जिले के बेलूर की रहने वाली थीं।

शुरुआती जांच में पता चला कि एक वीडियो क्लिप बनाने के बाद चंदना ने जहर खा लिया था। इस वीडियो क्लिप में वह दिनेश से कहती हुई दिखाई देती हैं, ‘आपने कहा था कि अगर मैं मर जाउं, तो यह आपके लिए अच्छा है। इसलिए, मैं अपनी जिंदगी खत्म कर रही हूं और इसकी वजह आप हैं, दिनेश।’ जिसके बाद 28 मई, दोपहर करीब 2.30 बजे एंकर ने दिनेश, उसके माता-पिता, अपने माता-पिता और दोस्तों को क्लिप भेजी थी।

वीडियो को देखते हुए, चंदना के माता-पिता ने एंकर के पड़ोसियों को तुरंत इसकी जानकारी दी और उन्हें उसके पास जाने को कहा, जिसके बाद पड़ोसी उन्हें एक निजी अस्पताल में ले गए, जहां 30 मई को लगभग 12.30 बजे इलाज के दौरान एंकर की मौत हो गई।

अपनी पुलिस शिकायत में चंदना के पिता ने कहा कि उनकी बेटी और दिनेश पिछले पांच वर्षों से रिश्ते में थे। दिनेश ने उससे शादी करने का वादा किया था और दोनों परिवार रिश्ते के बारे में जानते थे।

चंदना से दिनेश ने 5 लाख रुपए उधार लिए थे, लेकिन पिछले कुछ महीनों से वह उससे बचने लगा और उसने उससे शादी करने से भी इनकार कर दिया। शिकायत में कहा गया है कि दिनेश के परिवार के सदस्यों ने चंदना से कहा कि वे उसकी शादी किसी और से कर देंगे।

पुलिस ने महिला एंकर के परिजनों को फिलहाल भरोसा दिलाया कि दिनेश व उनके परिवार के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

आज कम ही ऐसे पत्रकार उभर रहे हैं, जिनमें संघर्ष करने का साहस दिखता हो: राज्यपाल लालजी टंडन

भारत में ऐसे भी पत्रकार हुए हैं, जिन्होंने सामाजिक सौहार्द के लिए अपने प्राणों की आहूति दे दी। ये लोग आज भी पत्रकारिता व पत्रकारों को प्रेरणा देते हैं।

Last Modified:
Tuesday, 02 June, 2020
laljitondon

आज हमें उन पत्रकारों को याद करना चाहिए, जिन्होंने अपनी लेखनी से समाज जागरण का कार्य किया, जिन्होंने समाज की समस्याओं के समाधान दिए हैं। भारत के यशस्वी पत्रकारों ने अपनी कलम से स्वतंत्रता आंदोलन को धारदार बना दिया था। अनेक पत्रकारों ने छोटे-छोटे समाचार पत्र निकालकर स्वतंत्रता की अलख जगाई। भारत में ऐसे भी पत्रकार हुए हैं, जिन्होंने सामाजिक सौहार्द के लिए अपने प्राणों की आहूति दे दी। ये लोग आज भी पत्रकारिता व पत्रकारों को प्रेरणा देते हैं। यह विचार मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने हिंदी पत्रकारिता दिवस पर आयोजित ऑनलाइन व्याख्यान में व्यक्त किए।

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय की ओर से हिंदी पत्रकारिता दिवस के अवसर पर आयोजित ऑनलाइन कार्यक्रम में मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन ने ‘शिक्षा, पत्रकारिता एवं जीवन मूल्य’ विषय पर अपने संबोधन में कहा कि हमें पूर्वजों से जो इतिहास धरोहर के रूप में मिला है, उसे देखना जरूरी है। महापुरुषों के संघर्ष और उनकी वैचारिक प्रतिबद्धता को देखकर, उससे प्रेरित होकर रास्ता निकालने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि जिस समय पत्रकारिता मिशन थी, तब पत्रकारिता का उद्देश्य शोहरत नहीं था। उस समय पत्रकारिता विदेशी गुलामी के प्रति जो जनाक्रोश था, उसकी अभिव्यक्ति थी। उस समय समाज की विकृतियों को दूर करने और उसके जागरण के लिए पत्रकारिता का उपयोग किया जाता था। किंतु, धीरे-धीरे यह प्रतिबद्धता कम होने लगी। इसी कारण आज जो स्थिति है, उसमें बहुत कम ऐसे लोग उभर रहे हैं, जिनमें बौद्धिक क्षमता, आत्मबल, प्रतिबद्धता और सामाजिक उद्देश्य के लिए संघर्ष करने का साहस दिखता हो।

राज्यपाल ने कहा कि सामाजिक समस्याओं के प्रति पत्रकारों की निश्चित अवधारणा एवं विचार जब लेखनीबद्ध होते हैं, तो वे ज्वाला बन जाते हैं। आपातकाल के दौर की साहसिक पत्रकारिता का भी उल्लेख माननीय राज्यपाल ने किया। सोशल मीडिया के दुरुपयोग के प्रति भी उन्होंने चेताया और उसे रोकने के लिए आगे आने की बात कही।

इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. संजय द्विवेदी ने कहा कि हिंदी के विस्तार में हिंदी पत्रकारिता का महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने बताया कि बांग्लाभाषी कोलकाता से हिंदी पत्रकारिता की शुरुआत हुई। कोलकाता भारतीय भाषायी पत्रकारिता का सबसे बड़ा केंद्र रहा है। पंडित जुगलकिशोर शुक्ल ने 30 मई, 1826 को उदंत्त मार्तंड का प्रकाशन कर हिंदी पत्रकारिता की नींव रखी। उन्होंने बताया कि आगामी सात दिन तक ‘हिंदी पत्रकारिता सप्ताह’ के अंतर्गत विश्वविद्यालय विभिन्न महत्वपूर्ण विषयों पर भी ऑनलाइन व्याख्यान आयोजित कराने जा रहा है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

निजी चैनल के वाहन पर हमला, दो एम्प्लॉयीज की गई जान, 6 घायल

एक निजी टीवी चैनल के वाहन पर विस्फोट से हमला किया गया, जिसमें चैनल के दो कर्मचारियों की मौत हो गई। इनमें एक पत्रकार और एक ड्राइवर बताया जा रहा है

Last Modified:
Monday, 01 June, 2020
bus

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में एक निजी टीवी चैनल के वाहन पर विस्फोट से हमला किया गया, जिसमें चैनल के दो कर्मचारियों की मौत हो गई। इनमें एक पत्रकार और एक ड्राइवर बताया जा रहा है। आंतरिक मंत्रालय के एक अधिकारी ने इस बात की पुष्टि की है।  

बता दें कि अफगानिस्तान के इस टेलिविजन चैनल का नाम ‘खुर्शीद टीवी’ है, जिसके वाहन पर निशाना साधते हुए शनिवार को आइइडी ब्लास्ट किया गया। इस विस्फोट में एक पत्रकार और ड्राइवर की मौत हो गई। खुर्शीद टीवी के संपादक सिद्दकी के मुताबिक, इस विस्फोट में चैनल के 6 स्टाफ विस्फोट में जख्मी है और दो की हालत गंभीर है।

अफगानिस्तान के पूर्व चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर अब्दुल्ला ने ट्वीट में कहा कि खुर्शीद टीवी के स्टाफ पर हमले से वे काफी दुखी हैं और मामले में जांच के लिए उन्होंने कानून प्रवर्तन प्राधिकारियों को निर्देश दिया है। अफगानिस्तान राष्ट्रपति के प्रवक्ता सिदिक सिद्दकी ने भी हमले की निंदा की है।

फिलहाल इस हमले की जिम्मेदारी इस्लामिक स्टेट ग्रुप ने ली है।   

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस कार्यक्रम के जरिये याद किए गए वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ

हिंदी पत्रकारिता दिवस पर नेशनल मीडिया क्लब की ओर से पंकज कुलश्रेष्ठ की पत्नी को सौंपा गया एक लाख रुपए का चेक

Last Modified:
Sunday, 31 May, 2020
Journalism Day

हिंदी पत्रकारिता दिवस के मौके पर शनिवार को नेशनल मीडिया क्लब (एनएमसी) की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में दैनिक जागरण के वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ को श्रद्धांजलि दी गई। पंकज कुलश्रेठ की श्रद्धाजंलि सभा में ऑनलाइन रूप से (जूम एप के माध्यम से) शिरकत करते हुए विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायण दीक्षित ने कहा कि  पत्रकारिता दिवस के मौके पर नेशनल मीडिया क्लब के द्वारा जो कार्य किया गया है, वह सराहनीय है।

उन्होंने कहा कि नेशनल मीडिया क्लब पत्रकारों की रक्षा को लेकर समय-समय पर जो कार्य करता है, वह काबिले तारीफ हैं। इस क्लब के माध्यम से पत्रकारों को नया मुकाम मिला है। उन्होंने कहा कि पंकज कुलश्रेठ की मृत्यु पत्रकार जगत की लिए बहुत बड़ी क्षति है।

कर्यक्रम के दौरान नेशनल मीडिया क्लब के अध्यक्ष सचिन अवस्थी ने पंकज कुलश्रेष्ठ की पत्नी को एक लाख रुपए का चेक प्रदान किया। श्रद्धांजलि सभा में ऑनलाइन माध्यम से शामिल हुए विधानसभा अध्यक्ष ह्रदय नारायन दीक्षित व नेशनल मीडिया क्लब के संस्थापक रमेश अवस्थी समेत तमाम पत्रकारों ने पंकज कुलश्रेष्ठ को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इसके साथ ही वक्ताओं ने हिंदी पत्रकारिता दिवस की शुभकामनाएं भी दीं।

इस दौरान नेशनल मीडिया क्लब के संस्थापक रमेश अवस्थी ने आश्वासन दिया कि प्रदेश सरकार से बात कर जल्द ही पंकज कुलश्रेष्ठ के परिवार के एक सदस्य की सरकारी नौकरी और आर्थिक सहायता कराई जाएगी। उन्होंने कहा कि इस महामारी के खत्म होने के बाद नेशनल मीडिया क्लब के द्वारा एक बड़ा आयोजन किया जाएगा, जिसमें कोरोना वॉरियर्स पत्रकारों के साथ ही उन सभी पत्रकारों का सम्मान किया जाएगा, जिन्होंने इस समय में अपने कार्य को लगातार अंजाम दिया। वहीं, सचिन अवस्थी ने कहा कि नेशनल मीडिया क्लब पंकज कुलश्रेठ के परिवार के सदस्यों के साथ हमेशा खड़ा है। सरकार से बात करके जल्द परिवार को आर्थिक सहायता भी प्रदान की जाएगी। इस दौरान शहर के वरिष्ठ पत्रकार बृजेंद्र पटेल, समीर कुरेशी, अनिल शर्मा, पंकज राठोर, अनिल राणा, कमिर कुरेशी आदि मौजूद रहे।

गौरतलब है कि दैनिक जागरण, आगरा के वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ का पिछले दिनों निधन हो गया था। कोरोनावायरस (कोविड-19) पॉजिटिव होने के बाद उन्हें आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया था, जहां उन्होंने आखिरी सांस ली थी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दुनिया को अलविदा कह गए वरिष्ठ पत्रकार केके शर्मा

पंजाब केसरी के वरिष्ठ पत्रकार केके शर्मा का निधन हो गया है। वह कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे।

Last Modified:
Saturday, 30 May, 2020
KK Sharma

पंजाब केसरी के वरिष्ठ पत्रकार केके शर्मा का निधन हो गया है। वह कुछ दिनों से बीमार चल रहे थे। राजधानी दिल्ली के संजय गांधी अस्पताल में शुक्रवार सुबह करीब 11 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। शनिवार को उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

बता दें कि केके शर्मा के पुत्र अश्विनी कुमार भी पत्रकार हैं और इन दिनों समाचार एजेंसी ‘हिन्दुस्थान’ में कार्यरत हैं। केके शर्मा के निधन पर ‘नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट’ (इंडिया) से संबद्ध ‘दिल्ली पत्रकार संघ’ (DELHI JOURNALISTS ASSOCIATION) और तमाम पत्रकारों समेत दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शोक जताते हुए अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की है।

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस बीमारी ने छीन ली वरिष्ठ पत्रकार पीयूष कांति दास की जिंदगी

असम के वरिष्ठ पत्रकार पीयूष कांति दास का बुधवार की देर रात निधन हो गया। वे 55 वर्ष के थे।

Last Modified:
Friday, 29 May, 2020
piy0000ush4

असम के वरिष्ठ पत्रकार पीयूष कांति दास का बुधवार की देर रात निधन हो गया। वे 55 वर्ष के थे और किडनी की बीमारी से ग्रसित थे। तबीयत ज्यादा खराब होने चलते उन्हें गुवाहाटी के एक निजी नर्सिंग होम में भर्ती कराया गया, जहां बीते बुधवार रात करीब 11 बजे अंतिम सांस ली।

पत्रकार की फैमिली में उनकी पत्नी और एक बेटी शिंजिनी सौहार्दियो हैं। पत्रकार के निधन पर विभिन्न दल एवं संगठनों के अलावा सरकार की ओर से भी गहरा शोक व्यक्त किया गया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोरोना की चपेट में आए दूरदर्शन के कैमरामैन की मौत

देश में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसकी चपेट में आकर अब तक कई लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, वहीं बड़ी संख्या में लोगों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है।

Last Modified:
Friday, 29 May, 2020
Corona

देश में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसकी चपेट में आकर अब तक कई लोग अपनी जान गंवा चुके हैं, वहीं बड़ी संख्या में लोगों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। बुधवार को कोरोना की चपेट में आकर पब्लिक ब्रॉडकास्टर दूरदर्शन (डीडी) के कैमरामैन योगेश कुमार (53) की मौत हो गई। कोरोना से अपने एक एम्प्लॉयी की मौत के बाद दूरदर्शन ने अपने कुछ एम्प्लॉयीज को आइसोलेशन में जाने के लिए कहा है। वहीं, बिल्डिंग में सैनिटाइजेशन का काम किया जा रहा है।    

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, योगेश कुमार की मौत बुधवार को हुई हालांकि उनकी कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट गुरुवार को आई। अभी यह स्पष्ट नहीं हुआ है कि वह कैसे संक्रमित हुए थे। एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, ‘योगेश ने बेचैनी की शिकायत की थी, जिसके बाद उन्हें शालीमार बाग एरिया में अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वहां से हमें पता चला कि कार्डियक अरेस्ट के कारण उनकी मौत हुई है, हालांकि, गुरुवार को उनकी कोविड-19 की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई। हम दूरदर्शन के ऑपरेशन के परिचालन को दूसरी बिल्डिंग में शिफ्ट कर रहे हैं और सभी जरूरी प्रोटकॉल का पालन किया जाएगा।’

बताया यह भी जाता है कि योगेश कुमार ने पिछले दिनों कम से कम दो वरिष्ठ अधिकारियों के इंटरव्यू में अपनी सहभागिता निभाई थी। इनमें एक रेलवे के और दूसरा केंद्रीय मंत्रालय के अधिकारी थे। यही नहीं, करीब 12 दिन पहले वह ‘एम्स’ (AIIMS) एरिया में भी गए थे। इस घटना के बाद प्रसार भारती ने डीडी न्यूज के ट्रांसमिशन का कार्य कुछ दिन तक खेलगांव स्थित ऑफिस में शिफ्ट कर दिया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे मातृभूमि ग्रुप के प्रबंध निदेशक एमपी वीरेंद्र कुमार

समाचार एजेंसी ‘प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया’(PTI) के तीन बार चेयरमैन रह चुके थे वीरेंद्र कुमार, वह पीटीआई के निदेशक मंडल में भी शामिल थे

Last Modified:
Friday, 29 May, 2020
Veerendra Kumar

मलयालम लेखक-पत्रकार और केरल से राज्यसभा सदस्य एमपी वीरेंद्र कुमार का गुरुवार को कोझिकोड में निधन हो गया। वह 84 साल के थे। वीरेंद्र कुमार मलयालम दैनिक समाचार पत्र मातृभूमि समूह के प्रबंध निदेशक थे। वीरेंद्र कुमार समाचार एजेंसी ‘प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया’(PTI) के  तीन बार चेयरमैन रह चुके थे। वह समाचार एजेंसी के निदेशक मंडल में भी शामिल थे। वीरेंद्र कुमार का अंतिम संस्कार आज वायनाड में किया जाएगा।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, वीरेंद्र कुमार को गुरुवार रात करीब 8.30 बजे कार्डियक अरेस्ट के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्होंने देर रात करीब साढ़े 11 बजे कोझिकोड के निजी अस्पताल में अंतिम सांस ली।

वीरेंद्र कुमार का जन्म 22 जुलाई को केरल के वायनाड में एम के पाथमप्रभा के घर हुआ था। वीरेंद्र कुमार कई किताब लिख चुके हैं। वह वर्ष 1987 में केरल विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए थे। वह दो बार लोकसभा के लिए भी चुने गए। मार्च 2018 में वह केरल से राज्यसभा के लिए निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में निर्वाचित हुए थे।

उनके परिवार में पत्नी, तीन पुत्रियां और एक पुत्र हैं। वर्ष 2016 में हिमालय पर यात्रा वृत्तांत (हैमवाता भूमिइल) के लिए उन्हें मूर्तिदेवी पुरस्कार दिया गया था। एमपी वीरेंद्र कुमार के निधन पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने उन्हें श्रद्धांजलि दी है।

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए