PIB ने Corona से जुड़ी इन दो खबरों को बताया गलत

कोरोनावायरस (Coronavirus) के संक्रमण को लेकर जितना डर फैला हुआ है, उससे कहीं ज्यादा इससे जुड़ी निरधार खबरें।

Last Modified:
Monday, 30 March, 2020
fake

कोरोनावायरस (Coronavirus) के संक्रमण को लेकर जितना डर फैला हुआ है, उससे कहीं ज्यादा इससे जुड़ी निरधार खबरें। कोरोनावायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने देश में 21 दिन का लॉकडाउन किया है। सोमवार को लॉकडाउन का छठा दिन है। वहीं कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में ये दावा किया जा रहा है कि लॉकडाउन की समयसीमा बढ़ सकती है।

तो यहां बता दें कि यह खबर पूरी तरह से गलत है, क्योंकि 21 दिनों के लॉकडाउन को आगे बढ़ाने वाली खबरों का केंद्र सरकार ने खंडन करते हुए इसे अफवाह करार दिया है। सरकार का कहना है कि इन खबरों को कोई आधार नहीं है।

पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर ये जानकारी दी है। पीआईबी ने अपने पहले ट्वीट में कहा कि अफवाह पर ध्यान न दें। अफवाहें और मीडिया रिपोर्ट के माध्यम से यह दावा किया जा रहा है कि सरकार #Lockdown21 की अवधि समाप्त होने के बाद इसे बढ़ा देगी। कैबिनेट सचिव ने इन रिपोर्टों का खंडन किया है और कहा है कि वे निराधार हैं।

पीआईबी ने एक अन्य ट्वीट में कैबिनेट सचिव ने क्या कहा, इसकी जानकारी दी। ट्वीट में लिखा, ‘राजीव गौबा ने इन खबरों खंडन किया है और कहा है इस तरह की खबरें आधारहीन हैं। उन्होंने कहा कि अफवाहों और मीडिया में चल रही खबरों में यह दावा किया जा रहा है कि सरकार लॉकडाउन की अवधि समाप्त होने के बाद इसे बढ़ा देगी। कैबिनेट सचिव ने इन रिपोर्टों का खंडन किया है और कहा है कि वे निराधार हैं।’

वहीं सोशल मीडिया पर फैलायी जा रही एक अन्य खबर को भी पत्र सूचना कार्यालय (पीआईबी) ने गलत बताया है। दरअसल, इस खबर में यह झूठ फैलाया जा रहा है कि गृह मंत्रालय के प्रमुख सचिव रवि नायक के कहा कि केंद्र सरकार द्वारा कोरोना वायरस से सम्बंधित कोई भी पोस्ट को दंडनीय अपराध घोषित कर दिया गया है। गलत पोस्ट या मैसेज करने पर ग्रुप एडमिन सहित पूरे ग्रुप के सदस्यों पर आईटी एक्ट के अन्तर्गत मुकदमा पंजीकृत कर कार्यवाही की जाएगी, इसलिए ध्यान रखें, सतर्क रहें, सुरक्षित रहे।

इस खबर को लेकर पीआईबी ने ट्वीट कर कहा कि गृह मंत्रालय द्वारा ऐसा कोई भी निर्देश सोशल मीडिया को लेकर नहीं जारी किया गया है।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस रफ्तार से बढ़ेगी 2021-22 तक भारत में मीडिया व एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री

वित्त वर्ष 2021-22 में भारतीय मीडिया व एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री 1,86,600 करोड़ रुपए की आय हासिल कर लेगी, ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 01 October, 2020
Last Modified:
Thursday, 01 October, 2020
Media

वित्त वर्ष 2021-22 में भारतीय मीडिया व एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री 1,86,600 करोड़ रुपए की आय हासिल कर लेगी, ऐसा अनुमान लगाया जा रहा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, यूजर्स द्वारा डिजिटल को अपनाए जाने की वजह से इंडस्ट्री एक बार फिर तेजी की राह पर लौटेगी।

गौरतलब है कि भारतीय मीडिया व एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री कोरोना वायरस महामारी से बुरी तरह प्रभावित हुई है। केपीएमजी के भारत में पार्टनर और प्रमुख (मीडिया व मनोरंजन) गिरीश मेनन ने कहा कि यह क्षेत्र वित्त वर्ष 2020-21 में 20 प्रतिशत संकुचन के बाद 2021-22 में 33 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज करेगा।

उन्होंने कहा कि केपीएमजी की मीडिया व एंटरटेनमेंट (M&E) रिपोर्ट- ‘ए ईयर ऑफ स्क्रिप्ट: टाइम फॉर रिसिलिएशन’ का हवाला दिया। यह रिपोर्ट चुनौतीपूर्ण समय में M&E सेक्टर के प्रदर्शन का मूल्यांकन करता है। उन्होंने कहा कि भारत और पूरी दुनिया में डिजिटल को अपनाने की गति बढ़ी है, और यह उत्साहजनक बात है।

मेनन ने कहा, ‘हमारे संशोधित अनुमानों के मुताबिक भारत में 2028 तक एक अरब डिजिटल यूजर्स हो सकते हैं, जबकि पहले इतनी ही संख्या 2030 तक होने का अनुमान था।’

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के कारण डिजिटल व्यवहार में कई संरचनात्मक बदलाव हुए हैं, जिसके चलते यूजर्स में एक नई समानता आई है। रिपोर्ट के अनुसार, 2019-20 के दौरान इस क्षेत्र की कुल आय 1,75,100 करोड़ रुपए थी, जिससे 2020-21 में घटकर 1,40,200 करोड़ रुपए रह जाने का अनुमान है। हालांकि, रिपोर्ट के मुताबिक, 2021-22 में इसमें सुधार होने की उम्मीद है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Discovery ने शॉन नानजप्पा चेंदिरा को प्रमोट कर सौंपी ये जिम्मेदारी

डिस्कवरी ने साउथ एशिया के एडवर्टाइजिंग सेल्स के हेड के तौर पर शॉन नानजप्पा चेंदिरा (Shaun Nanjappa Chendira) को प्रमोट किया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 01 October, 2020
Last Modified:
Thursday, 01 October, 2020
Shaun Nanjappa Chendira,

डिस्कवरी (Discovery) ने साउथ एशिया के एडवर्टाइजिंग सेल्स के हेड के तौर पर शॉन नानजप्पा चेंदिरा (Shaun Nanjappa Chendira) को प्रमोट किया है। इससे पहले, चेन्दिरा डिस्कवरी इंडिया में किड्स एंड वर्नाक्युलर की रेवन्यू हेड थे।

चेंदिरा को मीडिया इंडस्ट्री में दो दशकों का अनुभव है। इस दौरान उनकी ज्यादातर भूमिका लीडरशिपर की रही है। डिस्कवरी से पहले, वे ‘दा विंची मीडिया इंडिया प्राइवेट लिमिटेड’ (Da Vinci Media India Pvt Ltd) में भारत के जनरल मैनेजर थे। चेंदिरा इसके पहले ‘वार्नर मीडिया’ (Warner Media) के इंग्लिश एंटरटेनमेंट वर्टिकल (HBO, HBO HD & Warner Brothers) में सीनियर डायरेक्टर और किड्स वर्टिकल (Cartoon Network & cartoonentworkindia.com) में भारत के डायरेक्टर के तौर पर काम किया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TRAI-ब्रॉडकास्टर्स मामले में HC ने सुनवाई के लिए अब दी ये तारीख

न्यू टैरिफ ऑर्डर-2.0 (NTO 2.0) को लेकर ‘भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण’ (TRAI) और ब्रॉडकास्टर्स के बीच चल रहे मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट अब

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 01 October, 2020
Last Modified:
Thursday, 01 October, 2020
Samachar4media

न्यू टैरिफ ऑर्डर-2.0 (NTO 2.0) को लेकर ‘भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण’ (TRAI) और ब्रॉडकास्टर्स के बीच चल रहे मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट अब 8 अक्टूबर को सुनवाई करेगा।

सूत्रों का कहना है कि 30 सितंबर को हुई पिछली सुनवाई में बॉम्बे हाई कोर्ट के जस्टिस ए.ए. सैयद और जस्टिस अनुजा प्रभुदेसाई की डिवीजन बेंच ने ट्राई से कई सवाल पूछे थे।

सूत्रों ने एक्सचेंज4मीडिया को बताया कि ट्राई के वकील ने सुनवाई की अगली तारीख पर जवाब देने का समय मांगा है। सुनवाई की अगली तारीख 8 अक्टूबर तय की गई है जब यूनियन ऑफ इंडिया और ट्राई के लिए वकील अपनी दलीलें पूरी करेंगे। याचिकाकर्ताओं (ब्रॉडकास्टर्स) द्वारा किए जाने वाले जवाब को ध्‍यान में रखते हुए, कोर्ट ने शुक्रवार का पहला हॉफ सुनवाई के लिए आरक्षित कर दिया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

विज्ञापन बढ़ाने के लिए न्यूज चैनल्स को इस दिशा में उठाना होगा कदम

एपीएसी (APAC) के सीईओ व इंडिया डेंट्सू एजिस नेटवर्क के चेयरमैन आशीष भसीन ने कहा कि भारत एक न्यूज-हंग्री देश है, जहां बहुत से लोग खबरें देखते हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 01 October, 2020
Last Modified:
Thursday, 01 October, 2020
AshishBhasin454

एपीएसी (APAC) के सीईओ व इंडिया डेंट्सू एजिस नेटवर्क के चेयरमैन आशीष भसीन ने कहा कि भारत एक न्यूज-हंग्री देश है, जहां बहुत से लोग खबरें देखते हैं, खासकर छोटे शहरों में तो बहुत ही ज्यादा। लिहाजा इस इंडस्ट्री को अपनी विशाल क्षमताओं का भुनाने और उसका लाभ उठाने की जरूरत है।

भसीन ने यह बात पब्लिक पॉलिसी व गवर्नेंस प्लेटफॉर्म द्वारा आयोजित ‘विजनरी टॉक सीरीज’ के 16वें एपिसोड के दौरान ‘गवर्नेंस नाउ’ के एमडी  कैलाशनाथ अधिकारी के साथ एक लाइव वेबिनार में कही।

भसीन ने कहा कि वैसे तो कई न्यूज चैनल हैं, जो इस तरह का कंटेंट तैयार कर रहे हैं, जिससे दर्शक यह पता लगाने में असमर्थ होते हैं कि वे एक जनरल एंटरटेनमेंट चैनल देख रहे हैं या फिर न्यूज चैनल। उन्होंने कहा कि न्यूज चैनल्स को इस बात का लाभ उठाना चाहिए कि दर्शक क्या देखना चाहते हैं और वे उसे ही दिखाएं।

न्यूज चैनल्स में कंटेंट क्वॉलिटी और विज्ञापन बढ़ाने पर जोर देते हुए, भसीन ने कहा, ‘विज्ञापनदाता चाहेंगे कि उनका ब्रैंड सुरक्षित, विश्वसनीय और भरोसेमंद वातावरण में हो और वे अपने विज्ञापनों को नकारात्मकता के क्षेत्र में नहीं डालना चाहेंगे। न्यूज चैनल्स को इस पर ध्यान देना चाहिए। विज्ञापन व्युअरशिप पर निर्भर होते हैं यदि खबरें दर्शकों को लगातार अपनी ओर बनाए रखने में सक्षम होती हैं, तो विज्ञापन आएंगे अन्यथा नहीं। मुझे लगता है कि उनकी गलती ये है कि वे सिर्फ व्युरअशिप के लिए लड़ रहे हैं, न कि क्वॉलिटी कंटेंट के लिए, जो व्युअर्स देखना चाहते हैं। उन्हें इसी संतुलन को ठीक करने की जरूरत है। अगर वे इसे सही कर पाते हैं, तो देश के अंदर न्यूज चैनल्स में विज्ञापनों की संख्या आसानी से दोगुनी हो सकती है और अपने मौजूदा स्तर से वह 100 प्रतिशत की जम्प लगा सकते हैं।

भसीन ने यह भी कहा कि न्यूज चैनल्स को खबरें देने के लिए एक विकल्प के रूप में खुद को प्रमोट करते हुए एक साथ आना चाहिए और एक-दूसरे से लड़ने-इगड़ने से बचना चाहिए। उन्होंने इस बात की ओर इशारा किया कि वीकली BARC डेटा में नंबर-1 की स्थिति का दावा करने वाले 20 न्यूज चैनल्स को देखना अब शर्मनाक हो गया है।     

उन्होंने कहा कि जब जरूरी हो, तभी न्यूज चैनल्स को कड़ी प्रतिस्पर्धा करनी चाहिए, लेकिन पूरे जॉनर को ऊपर उठाने के लिए साथ मिलकर काम करना और सहयोग करना चाहिए। यदि न्यूज चैनल्स एक साथ आएं और कहें कि खबरों को स्वतंत्र और सामूहिक रूप से समाधान खोजने के लिए काम करना चाहिए, तभी यह जॉनर और अधिक अच्छा कर पाएगी। माध्यम बनाने के बजाय न्यूज चैनल्स एक-दूसरे को बदनाम कर रहे हैं, जो अंततः सभी को प्रभावित करेगी क्योंकि वे एक ही इकोसिस्टम का हिस्सा हैं।

उन्होंने कहा, एक-दूसरे में तालमेल और बाउंड्रीज होना अच्छा है। कभी-कभी बिना नाम लिए एक-दूसरे पर आरोप लगा देने से आपको मार्केट शेयर तो मिल जाता है, लेकिन समय के बाद दर्शक इसे नापसंद करने लग जाते हैं और उनकी नजरों में पूरा का पूरा जॉनर ही गलत हो जाता है।

कुल मिलाकर मैं इस बात को नहीं मानता हूं कि न्यूज चैनल्स को प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से नियंत्रित करने की कोशिश करना विज्ञापनदाता की समस्या है, जबकि इसके लिए पर्याप्त सरकारी व नियामक निकाय हैं। एक बार यदि सरकार को हटा भी दिया जाए, तो चैनल्स खुद ही सेल्फ रेगुलेशन के इस कदम को फॉलो नहीं करेंगे। और न ही कोई ऐसा करना चाहते है। बल्कि वे बाउंड्रीज को इतना आगे ले जा सकते हैं, यह कर सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

चीन के लिए जासूसी करने वाले पत्रकार की जमानत अर्जी खारिज, कोर्ट ने कही ये बात

चीन के लिए जासूसी करने के आरोपी स्वतंत्र पत्रकार राजीव शर्मा की जमानत अर्जी को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने खारिज कर दी है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 30 September, 2020
Last Modified:
Wednesday, 30 September, 2020
rajiv-sharma

चीन के लिए जासूसी करने के आरोपी स्वतंत्र पत्रकार राजीव शर्मा की जमानत अर्जी को दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने खारिज कर दी है। शर्मा को हाल ही में दिल्ली पुलिस ने ऑफिसियल सीक्रेट एक्ट के तहत गिरफ्तार किया था। कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि जांच के इस मोड़ पर इतने संवेदनशील मामले में आरोपी को जमानत नहीं दी जा सकती है। अगर आरोपी को इस समय जमानत पर रिहा किया जाता है, तो वह जांच में बाधा डालने का प्रयास कर सकता है।

मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट पवन सिंह राजावत की अदालत ने सोमवार को अभियोजन पक्ष और राजीव शर्मा के वकीलों के बीच जमानत याचिका को लेकर चली लंबी बहस के बाद अपना आदेश सुरक्षित रख लिया था।

राजीव शर्मा की ओर से पेश हुए वकील अमिश अग्रवाल और आदिश सी. अग्रवाल ने कहा था कि पत्रकार को झूठे मामले में फंसाया जा रहा है। उन्होंने कोई अपराध नहीं किया है। शर्मा के वकील ने यह भी कहा कि उनके मुवक्किल एक 61 वर्षीय व्यक्ति हैं, जो कई बीमारियों से पीड़ित हैं और COVID-19 महामारी के दौरान उन्हें हिरासत में रखने का एक बड़ा जोखिम है। वकील ने कहा कि उनके न्याय से भागने, गवाहों को प्रभावित करने या सबूतों से छेड़छाड़ करने की कोई संभावना नहीं है।

दिल्ली पुलिस ने भी राजीव शर्मा की जमानत अर्जी का कोर्ट में पुरजोर विरोध किया था। सोमवार को ही पटियाला हाउस कोर्ट ने पुलिस कस्टडी खत्म होने का बाद आरोपी राजीव शर्मा, किंग शी और सह आरोपी शेर सिंह को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में 11 अक्टूबर तक के लिए भेज दिया था।

स्पेशल सेल द्वारा आरोपियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पेश करने के दौरान कोर्ट को बताया गया कि मनी ट्रेल मामले पर ईडी को जांच के लिए कहा गया है। साथ ही जांच के दौरान मिले संदिग्ध दस्तावेज की जांच अभी भी चल रही है। पता लगाया जा रहा है कि इतने संदिग्ध और गोपनीय दस्तावेज कैसे इनका पास आए?

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

MRUCI में प्रताप पवार-शशि सिन्हा को फिर मिली ये बड़ी जिम्मेदारी

मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल इंडिया (MRUCI) ने मंगलवार, 29 सितंबर, 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपनी 26वीं वार्षिक आम बैठक (AGM) आयोजित की

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 29 September, 2020
Last Modified:
Tuesday, 29 September, 2020
mruci

मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल इंडिया (MRUCI) ने मंगलवार, 29 सितंबर, 2020 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपनी 26वीं वार्षिक आम बैठक (AGM) आयोजित की, जो वर्तमान में फैली महामारी के चलते सभी लोगों की सुरक्षा व स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए आयोजित की गई थी।

इस बैठक में घोषणा की गई कि मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल इंडिया (MRUCI) के चेयरमैन साकाल मीडिया के चेयरमैन प्रताप पवार और आईपीजी वाइस चेयरमैन मीडियाब्रैंड्स इंडिया के सीईओ शशि सिन्हा अपनी-अपनी भूमिकाओं में बने रहेंगे। MRUCI की 26वीं वार्षिक आम बैठक के तुरंत बाद आयोजित की गई बोर्ड मीटिंग में सर्वसम्मति से इन दोनों को फिर से चुना गया।

दो नए सदस्यों को भी बोर्ड ऑफ गवर्नर्स में नियुक्त किया गया है:

1. बेनेट, कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड (BCCL) की एग्जिक्यूटिव कमेटी के चेयरमैन शिवकुमार सुंदरम

2. पब्लिसिज मीडिया एक्सचेंज (पीएमएक्स-मेनलाइन) के मैनेजिंग पार्टनर व हेड सेजल शाह

इस मौके पर प्रताप पवार ने कहा, ‘सबसे पहले, मैं अपने नए नियुक्त किए गए बोर्ड मेंबर्स का अभिनंदन और स्वागत करता हूं। विशेष रूप से इन विषम परिस्थितियों में हमें उनके बहुमूल्य विचारों और सुझावों का इंतजार रहेगा।’  

इस मौके पर पवार ने बीते वर्षों में रिटायर हुए सभी सदस्यों को उनके मूल्यवान मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद दिया और परिषद में उनका सहयोग लगातार बना रहे, ऐसी इच्छा जाहिर की।

वहीं शशि सिन्हा ने कहा, ‘मीडिया और मार्केटिंग इंडस्ट्री धीरे-धीरे ही सही, लेकिन लगातार पटरी पर लौट रही है। हमारा ध्यान जमीनी वास्तविकताओं को ध्यान में रखते हुए जल्द से जल्द आईआरएस स्टडी को फिर से शुरू करना और सामान्य होती दुनिया में इसे आगे ले जाने पर काम करना होगा।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

बदमाशों ने मॉर्निंग वॉक पर निकले पत्रकार को मारी गोली, हालत गंभीर

बिहार के गोपालगंज जिले से एक बड़ी खबर सामने आई है। यहां बेखौफ अपराधियों ने एक दैनिक अखबार के पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता राजन पांडेय को दिनदहाड़े गोली मार दी है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 29 September, 2020
Last Modified:
Tuesday, 29 September, 2020
Rajan Pandey

बिहार के गोपालगंज जिले से एक बड़ी खबर सामने आई है। यहां बेखौफ अपराधियों ने एक दैनिक अखबार के पत्रकार और सामाजिक कार्यकर्ता राजन पांडेय को दिनदहाड़े गोली मार दी है। बता दें कि पत्रकार राजन पांडेय सुबह अपने घर से मॉर्निंग वॉक के लिए निकले थे। इसी दौरान बुलेट पर आए तीन अपराधियों ने उन्हें गोली मार दी और मौके से फरार हो गए। 

यह घटना मंगलवार को मांझागढ़ थाना क्षेत्र के पुरानी बाजार में घटित हुई। राजन पांडेय जैसे ही मांझागढ़ पुरानी बाजार पहुंचे तभी उन्हें सरेआम गोली मार दी गई। गोली लगने के बाद पत्रकार वहीं पर गिर गए जिन्हें स्थानीय लोगों की मदद से गोपालगंज सदर अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में भर्ती कराया गया। अस्पताल के डॉक्टरों ने प्राथमिक इलाज करने के बाद गंभीर हालत में उन्हें गोरखपुर मेडिकल कॉलेज के लिए रेफर कर दिया। इस बीच पत्रकार राजन पांडेय को गंभीर हालत में गोरखपुर मेडिकल कॉलेज ने भी लखनऊ रेफर कर दिया। लीवर में गोली फंसने की वजह से उनकी स्थिति नाजुक बनी हुई है।

एसपी मनोज कुमार तिवारी ने बताया कि गोली मारने वाले अपराधियों की पहचान कर ली गई है और एक पुलिस टीम को अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए लगा दिया गया है। उन्होंने कहा कि संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है और अपराधियों की गिरफ्तारी या पत्रकार के बयान के बाद ही पता चल सकेगा की गोली मारने की असल वजह क्या है।

बता दें कि वारदात के बाद जब पत्रकार राजन को गोरखपुर ले जाया जा रहा था, तभी रास्ते में उन्होंने हमलावरों के नाम बताए हैं। राजन के मुताबिक वो बच्चों को पढ़ाते भी हैं और इसी सिलसिले में मंगलवार की सुबह वो कोचिंग क्लास देने जा रहे थे। तभी रास्ते में राजेंद्र यादव (अदमापुर निवासी) , राजकुमार सिंह (कोइनी निवासी) और नन्हे सिंह ने इनका पीछा किया और इन्हें गोली मार दी।

पत्रकार राजन पांडेय समाजिक कार्यों में भी बढ़ चढ़कर भाग लेते रहे हैं। कोरोना काल और गोपालगंज में आई बाढ़ के दौरान भी राजन पांडेय ने जरूरतमंदों के बीच राहत सामग्री पहुंचाई थी। इस वारदात के बाद पूरे इलाके में खौफ का माहौल बन गया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TRAI के नए चेयरमैन की हुई नियुक्ति, एक अक्टूबर को संभालेंगे कार्यभार

ट्राई के वर्तमान चेयरमैन आरएस शर्मा इस साल 30 सितंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 28 September, 2020
Last Modified:
Monday, 28 September, 2020
TRAI

डॉ. पीडी वाघेला को ‘टेलिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया’ (TRAI) का नया चेयरमैन नियुक्त किया गया है। कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने इस पद पर डॉ. पीडी वाघेला के नाम पर मुहर लगा दी है। इस पद पर वाघेला का कार्यकाल तीन वर्ष के लिए होगा। डॉ. वाघेला की इस पद पर नियुक्ति संबंधी आदेश में कहा गया है, ‘कैबिनेट की नियुक्ति समिति (ACC) ने ट्राई चेयरमैन के रूप में गुजरात कैडर के 1986 बैच के आईएएस अधिकारी डॉ. पीडी वाघेला की नियुक्ति को अपनी अनुमति दे दी है। उनका कार्यकाल तीन वर्ष के लिए अथवा 65 वर्ष की आयु तक अथवा अगले आदेश तक (जो भी पहले हो) प्रभावी होगा।’

वाघेला की गिनती उन चुनिंदा अधिकारियों में होती है, जिन्होंने जीएसटी को लागू कराने में अहम भूमिका निभाई। गुजरात कैडर के आईएएस अधिकारी वाघेला वर्तमान में फार्मास्यूटिकल्स विभाग में सेक्रेट्री के पद पर कार्यरत हैं। वह एक अक्टूबर को ट्राई चेयरमैन के रूप में अपना पदभार ग्रहण करेंगे।  

बता दें कि वाघेला, आरएस शर्मा की जगह लेंगे जो 30 सितंबर को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। 1978 बैच के आईएएस अधिकारी आरएस शर्मा को अगस्त 2015 में इस पद पर नियुक्त किया गया था। वह एकमात्र ऐसे चेयरपर्सन हैं, जिनका कार्यकाल अगस्त 2018 में दो साल के लिए बढ़ाया गया था।

ट्राई के नए चेयरमैन के रूप में डॉ. पीडी वाघेला को नियुक्त किए जाने संबंधी सरकारी आदेश की कॉपी आप यहां देख सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस पद पर Netflix से जुड़ीं करुणा गुलयानी

करुणा इससे पहले ‘उबर’ (Uber) के साथ जुड़ी हुई थीं और बतौर कॉरपोरेट एंड पॉलिसी कम्युनिकेशंस हेड (भारत और दक्षिण एशिया) की जिम्मेदारी संभाल रही थीं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 28 September, 2020
Last Modified:
Monday, 28 September, 2020
Netflix

करुणा गुलयानी (Karuna Gulyani) ने ‘नेटफ्लिक्स’ (Netflix) के साथ अपनी नई पारी शुरू की है। उन्होंने यहां पर बतौर कॉरपोरेट एंड पॉलिसी कम्युनिकेशंस लीड जॉइन किया है। इस बात की जानकारी उन्होंने लिंक्डइन पोस्ट के जरिये दी है।

करुणा इससे पहले ‘उबर’ (Uber) के साथ जुड़ी हुई थीं और बतौर कॉरपोरेट एंड पॉलिसी कम्युनिकेशंस हेड (भारत और दक्षिण एशिया) की जिम्मेदारी संभाल रही थीं। गुलयानी को कम्युनिकेशन इंडस्ट्री में काम करने का 15 साल से ज्यादा का अनुभव है।

गुलयानी ने अपने करियर की शुरुआत ‘Text 100 Pvt. Ltd’के साथ बतौर अकाउंट मैनेजर की थी। इसके बाद उन्होंने ‘Turner Broadcasting’, ‘Discovery Networks Asia Pacific’ और ‘Facio Communication Pvt. Ltd’ जैसे बड़े ब्रैंड्स के साथ काम किया। वह अब तक कई मार्केटिंग व कम्युनिकेशन कैंपेन का नेतृत्व कर चुकी हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

The Quint में अब नई भूमिका निभाएंगी देविका दयाल

डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म ‘द क्विंट’ (The Quint) ने नेशनल रेवेन्यू हेड देविका दयाल को प्रमोट कर नई जिम्मेदारी सौंपी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 25 September, 2020
Last Modified:
Friday, 25 September, 2020
Devika Dayal

डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म ‘द क्विंट’ (The Quint) ने नेशनल रेवेन्यू हेड देविका दयाल को चीफ रेवेन्यू ऑफिसर के पद पर प्रमोट किया है। देविका दयाल को ऐड सेल्स के क्षेत्र में काम करने का करीब दो दशक का अनुभव है। नई भूमिका में ‘The Quint’ के रेवेन्यू से जुड़े सभी प्रकार के कार्यों की जिम्मेदारी उन्हीं के ऊपर होगी।

इस बारे में ‘द क्विंट’ की सीईओ और को-फाउंडर रितु कपूर का कहना है, ‘मैंने पूर्व में नेटवर्क18 और अब द क्विंट में देविका का काम देखा है। बढ़ते मार्केट और कंटेंट की गतिशीलता के साथ प्रयोग करना उनकी खासियत है और यह उन्हें आगे रखती है। डिजिटल न्यूज पब्लिशिंग ईकोसिस्टम तेजी से बदल रहा है और देविका ने नए रेवेन्यू ब्लूप्रिंट तैयार करने के लिए टेक्नोलॉजी और सेल्स स्ट्रैटेजी दोनों का सहारा लिया है। मुझे पूरा विश्वास है कि चीफ रेवेन्यू ऑफिसर के रूप में देविका रेवेन्यू जुटाने में काफी बेहतर प्रदर्शन करेंगी।’

बता दें कि ‘द क्विंट’ को जॉइन करने से पूर्व देविका ‘आईटीवी नेटवर्क’ (ITV Network) से जुड़ी हुई थीं और  ‘न्यूजएक्स’(NewsX) में बतौर सीओओ अपनी जिम्मेदारी संभाल रही थीं। इसके अलावा ‘नेटवर्क18’में करीब 10 साल तक उन्होंने विभिन्न पदों पर अपनी भूमिका निभाई है। वह वर्ष 2011 में देश में ‘हिस्ट्रीटीवी18’ (History TV18) को लॉन्च कराने वाली लीडरशिप टीम का हिस्सा भी रही हैं। पूर्व में वह ‘डिस्कवरी कम्युनिकेशंस इंडिया’ (Discovery Communications India) और ‘जी नेटवर्क’ (Zee Network) में भी अपनी जिम्मेदारी निभा चुकी हैं।

वहीं, अपनी नई भूमिका के बारे में देविका दयाल का कहना है, ‘द क्विंट में पिछले तीन साल का सफर काफी अच्छा रहा है। द क्विंट में चीफ रेवेन्यू ऑफिसर के रूप में नई जिम्मेदारी मिलने को लेकर मैं काफी उत्साहित हूं।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए