इंडिया न्यूज डिजिटल के संपादक रीतेश वर्मा की नई पारी जल्द

बीस साल लंबे पत्रकारिता करियर में अखबार के साथ ही टीवी और डिजिटल में भी कर चुके हैं काम

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 06 November, 2019
Last Modified:
Wednesday, 06 November, 2019
Ritesh Verma

'आईटीवी' (ITV) नेटवर्क के हिंदी न्यूज चैनल ‘इंडिया न्यूज’ की वेबसाइट ‘इनखबर’ (Inkhabar) के संपादक रीतेश वर्मा ने इस्तीफा दे दिया है। वे जल्द ही हिन्दुस्तान टाइम्स  डिजिटल स्ट्रीम्स के साथ अपनी नई पारी शुरू करेंगे। यहां वे बतौर एडिटर (न्यू इनिशिएटिव) अपनी जिम्मेदारी संभालेंगे। रीतेश वर्मा को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब दो दशक का अनुभव है। इस दौरान उन्होंने अखबार के साथ ही टीवी और डिजिटल में भी काम किया है

'आईटीवी' (डिजिटल) के सीईओ संदीप अमर ने कंपनी के ग्रुप में रीतेश वर्मा के इस्तीफे की खबर साझा करते हुए लिखा है- Dear All, It is important to have direct communication, to avoid any rumours. I just wanted to share that Ritesh Verma, our inkhabar editor, has decided to move on to take up a new challenge in Life. We all know that he is superstar and a phenomenal person, he has taken inkhabar from almost zero to 16 million users in GA and 14.7 million users in comScore. Obviously we will have a farewell party for him, he will leave in a few days, thanks

बिहार में बेगूसराय के मूल निवासी रीतेश वर्मा ने इंटरमीडिएट की पढ़ाई के दौरान ही स्थानीय अखबार ‘बेगूसराय टाइम्स’ के साथ फ्रीलॉन्सर के तौर पर काम शुरू कर दिया था। वर्ष 1999 में बिहार में दैनिक जागरण की लॉन्चिंग के बाद वह इस अखबार से जुड़ गए। यहां करीब छह साल काम करने के बाद वर्ष 2005 में वह पढ़ाई के लिए दिल्ली आ गए और ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन’ (आईआईएमसी) में दाखिला ले लिया।   

'आईआईएमसी' से पढ़ाई पूरी करने के बाद रीतेश करीब एक महीने के लिए ‘विराट वैभव’ अखबार से जुड़े और फिर वहां से छोड़कर ‘दैनिक भास्कर’ जॉइन कर लिया। इसके बाद ‘आज समाज’,‘बीबीसी हिंदी’,‘स्टार न्यूज’,‘सहारा समय’ होते हुए वर्ष 2013 में उन्होंने ‘इंडिया न्यूज’ के साथ अपनी नई पारी शुरू की। ‘इंडिया न्यूज’ में डिजिटल की शुरुआत हुई तो इसकी वेबसाइट ‘इनखबर’ (inkhabar.com) के संपादक के तौर पर उन्हें नई जिम्मेदारी दी गई।  

रीतेश वर्मा पत्रकारिता के अलावा 'आईआईएमसी' की एलुमनी एसोसिएशन (आईआईएमसीएए) से भी सक्रिय रूप से जुड़े हैं और उसके संस्थापक सदस्यों में एक हैं। 2012 में शुरू हुई 'आईआईएमसीएए' की सफलता और वैश्विक विस्तार में केंद्रीय संगठन सचिव के तौर पर रीतेश का योगदान अहम माना जाता है। 'आईआईएमसीएए अवॉर्ड्स','आईआईएमसीएए मेडिकल असिस्टेंट फंड' और 'आईआईएमसीएए स्कॉलरशिप' जैसी पहल के पीछे जो कोर टीम है, उसमें रीतेश भी शामिल हैं। पत्रकारिता के बाहर रीतेश को जबर्दस्त फंडरेजर और शानदार इवेंट मैनेजर के तौर पर भी जाना जाता है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार हेमराज चौहान ने इस वेब पोर्टल संग अपनी पारी को दिया विराम

इस साल की शुरुआत में ही इस पोर्टल के साथ शुरू किया था अपना सफर, पूर्व में कई मीडिया संस्थानों में निभा चुके हैं जिम्मेदारी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Saturday, 16 November, 2019
Last Modified:
Saturday, 16 November, 2019
Hemraj Chauhan

पत्रकार हेमराज सिंह ने न्यूज पोर्टल ‘वन इंडिया’ (Oneindia) से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने इस साल की शुरुआत में ही यहां जॉइन किया था। यहां वह बतौर सीनियर सब एडिटर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे। हेमराज सिंह का अगला कदम क्या होगा, इस बारे में फिलहाल पता नहीं चल सका है।  

हेमराज ने माखनलाल चतुर्वेदी विश्वविद्यालय से वर्ष 2009 में मास कम्युनिकेशन में ग्रेजुएशन किया है। उन्होंने वर्ष 2013 में ‘इंडिया टीवी’ जॉइन किया और बतौर असिस्टेंट प्रड्यूसर वहां करीब सवा तीन साल काम किया। इसके बाद वे ‘न्यूज़ 24’ से एसोसिएट प्रड्यूसर के तौर पर जुड़ गए।

दो साल पहले टीवी छोड़कर उन्होंने डिजिटल मीडिया में कदम रखा और ‘नेशनल दस्तक’ वेब पोर्टल में बतौर सीनियर रिपोर्टर काम किया। अप्रैल 2017 में उन्होंने ‘राजस्थान पत्रिका’ के डिजिटल सेगमेंट ‘कैच हिंदी’ में सब एडिटर के तौर पर नई पारी शुरू की। यहां के बाद उन्होंने ‘वनइंडिया’ का दामन थाम लिया था।

दिल्ली के प्रतिष्ठित संस्थान जामिया मिलिया इस्लामिया में टीवी जर्नलिज्म में वर्ष 2012 में गोल्ड मेडल हासिल करने वाले हेमराज चौहान सोशल मीडिया में काफी एक्टिव हैं। हेमराज ने ‘इंडिया टीवी’ से पहले न्यूज एजेंसी ‘साउथ एशिया इंटरनेशनल’ के साथ भी काम किया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

OTT प्लेटफॉर्म्स के रेगुलेशन पर सरकार ने बताई 'मन की बात'

इस मुद्दे पर बातचीत को आगे बढ़ाने के लिए दिल्ली में जल्द ही तीसरी बैठक होगी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 15 November, 2019
Last Modified:
Friday, 15 November, 2019
OTT

‘ओवर द टॉप’ (ओटीटी) प्लेटफॉर्म्स के रेगुलेशन का मुद्दा इन दिनों जोर-शोर से उठ रहा है। समाज के कई वर्गों से इसके कंटेंट को लेकर चिंता जताई जा रही है। रेगुलेशंस के बारे में सरकार के अगले कदम को लेकर ओटीटी इंडस्ट्री में भी चिंता के बादल छाये हुए हैं। इस बीच ‘सूचना-प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) ने कहा है कि किसी भी तरह की ‘संवैधानिक इकाई’ (statutory body) गठित करने के बजाय वह ‘आत्म नियमन’ यानी सेल्फ रेगुलेशन के पक्ष में है।

इस बारे में सूचना-प्रसारण मंत्रालय के सचिव अमित खरे का कहना है, ‘हम एक ऐसे पड़ाव पर आने की कोशिश कर रहे हैं, जहां पर सभी ओटीटी प्लेयर्स बिना सरकारी हस्तक्षेप के एक सेल्फ रेगुलेटरी मॉडल तैयार कर सकते हैं।’ दिल्ली में गुरुवार को ‘सीआईआई बिग पिक्चर समिट’ (CII Big Picture Summit) में अमित खरे ने दिल्ली और मुंबई में ओटीटी प्लेयर्स और अन्य शेयरधारकों के साथ हुई बैठकों की सफलता के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि सेल्फ रेगुलेशन मॉडल पर काम हो रहा है। इस मुद्दे पर बातचीत को आगे बढ़ाने के लिए दिल्ली में जल्द ही तीसरी बैठक होगी।

यह भी  पढ़ें: OTT प्लेटफॉर्म्स को लेकर फिर उठा ये बड़ा मुद्दा

सूचना-प्रसारण मंत्रालय में संयुक्त सचिव विक्रम सहाय का कहना था,‘सरकार रेगुलेशन के स्थान पर ऐसी आचार संहिता (Code of Conduct) के बारे में प्रयासरत है, जिसका ओटीटी इंडस्ट्री पालन कर सके।’ इसके साथ ही उनका यह भी कहना था, ‘इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया (IAMAI) इस क्षेत्र से जुड़े प्लेयर्स के लिए बेहतर नियम-कायदों के बारे में पहले से ही काम कर रही है और अधिकांश प्लेयर्स के बीच इन्हें लेकर सहमति बनने की उम्मीद है।’   

बता दें कि ‘IAMAI’ ने इस साल की शुरुआत में आचार संहिता को लेकर एक मसौदा तैयार किया था, जिसमें ऑनलाइन कंटेंट प्रोवाइडर्स के लिए गाइडलाइंस शामिल की गई थीं। इन गाइडलाइंस को पहले से उपलब्ध कानूनी सलाहों के साथ ही भविष्य को लेकर शेयरधारकों की चिंताओं को भी शामिल करते हुए तैयार किया गया था।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TOP STORY ने बताया, CM के लिए इस नाम पर राजी होगी शिवसेना!

महाराष्ट्र में चुनाव परिणाम घोषित होने के 13 दिन बाद भी सरकार का गठन नहीं हो पाया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 06 November, 2019
Last Modified:
Wednesday, 06 November, 2019
Shivsena Election

महाराष्ट्र में सियासी घमासान मचा हुआ है। एक ओर शिवसेना अपना सीएम बनाने और 50-50 फॉर्मूले (कार्यकाल का आधा-आधा बंटवारा) की मांग पर अड़ी है, वहीं भाजपा इसके लिए तैयार नहीं है। ऐसे में न्यूज वेबसाइट ‘टॉप स्टोरी’ (TOP STORY) ने एक स्टोरी में बताया है कि शिवसेना सीएम पद के लिए किस राजनेता के नाम पर राजी हो सकती है।  

TOP STORY के संपादक प्रवीण आत्रे ने अपनी इस स्टोरी में सूत्रों के हवाले से बताया है कि भाजपा के वरिष्ठ नेता और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को सीएम बनाने पर शिवसेना भी नरम रुख अपनाने को तैयार हो सकती है।

बता दें कि महाराष्ट्र में पिछले दिनों हुए विधानसभा चुनाव का परिणाम 24 अक्टूबर को आया था। 288 सीटों में भाजपा को सबसे अधिक 105 सीटें मिली थी, लेकिन, वह बहुमत से काफी पीछे रह गई थी। एनडीए की सहयोगी शिवसेना को 56 सीटें मिली थीं और यह राज्य में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनी थी। दोनों पार्टियों के बीच चुनाव से पहले ही गठबंधन हो गया था, ऐसे में सरकार के गठन में तब कोई बाधा नजर नहीं आ रही थी। लेकिन मुख्यमंत्री किस पार्टी का होगा, इसे लेकर दोनों ही पार्टियों के बीच ठनी हुई है और चुनाव परिणाम घोषित होने के 13 दिन बाद भी सरकार गठित नहीं हो पाई है।

ऐसे में प्रवीण आत्रे ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि भाजपा और संघ के बीच भी सीएम पद के लिए गडकरी के नाम पर गंभीर चर्चा हो रही है। गडकरी महाराष्ट्र के ऐसे नेता हैं, जिनकी सभी राजनीतिक दलों में अच्छी पैठ है। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री पद के लिए गडकरी के नाम पर शिवसेना को भी कोई एतराज नहीं है। ऐसे में नितिन गडकरी को मुख्यमंत्री बनाकर सरकार के गठन का रास्ता निकल सकता है।

‘TOP STORY’ में छपी इस पूरी स्टोरी को पढ़ने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस सर्वे में हुआ खुलासा, दिल्ली छोड़ना चाहते हैं आधे से ज्यादा लोग

ऑनलाइन सर्वे में दिल्ली के निवासियों ने ही हिस्सा लिया था, पूछा गया था एक सवाल, कुछ लोगों ने शुरू कर दी है विकल्प की तलाश

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 06 November, 2019
Last Modified:
Wednesday, 06 November, 2019
Survey

प्रदूषण का खराब स्तर देखते हुए दिल्ली को लोग अब रहने के लिए अलग स्थान का विकल्प तलाश रहे हैं। इस बात का खुलासा यूसी ब्राउजर के सर्वेक्षण में हुआ है। दरअसल, यूसी ब्राउजर ने अपने यूजर्स से इस संदर्भ में एक सवाल पूछा था, जिसमें 67 प्रतिशत लोगों ने कहा है कि वे प्रदूषण से परेशान होकर यह शहर छोड़ना चाहते हैं। सर्वे के अनुसार, 33 प्रतिशत लोग अभी भी दिल्ली छोड़कर जाने को तैयार नहीं हैं। यूसी ब्राउजर के ऑनलाइन सर्वे में दिल्ली के निवासियों ने ही हिस्सा लिया था। इस सर्वे में कुल 16 हजार 416 लोगों ने वोट दिया, जिसमें से 11 हजार एक ने दिल्ली छोड़ने की मंशा की बात स्वीकारी।

इस सर्वे में सिर्फ यूसी ब्राउजर के यूजर्स ने हिस्सा लिया था। ज्यादातर यूजर्स का कहना था कि उन्होंने विकल्प तलाशना शुरू कर दिया है और शायद ही अगले साल वे फिर से इस त्रासदी को देखने के लिए दिल्ली में मौजूद होंगे। कुछ लोगों का कहना था कि उन्होंने ट्रांसफर के लिए अर्जी भी डाल दी है।

इसके साथ ही 5 हजार 415 लोगों का कहना था कि वे दिल्ली छोड़कर नहीं जाना चाहते हैं। जो लोग छोड़कर नहीं जाना चाहते, उन्होंने कमेंट भी किए हैं। उनका कहना है कि रोजी-रोटी के चलते वे दिल्ली छोड़ नहीं सकते।

एक यूजर ने कहा कि वह अपने गांव से शहर में पैसे कमाने के लिए आया था और वापस जाकर वह बेरोजगार ही हो जाएगा। अगर कहीं अच्छे रोजगार का अवसर मिले तो वह जरूर सोच सकता है कि प्रदूषण से दूर निकला जाए। गौरतलब है कि दिल्ली-एनसीआर के लोग प्रदूषण की मार सह रहे हैं। बढ़ते प्रदूषण के कारण कुछ दिनों पूर्व यहां के स्कूलों में छुट्टी भी कर दी गई थी।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इस वेबसाइट से जुड़े वेब पत्रकार दिगपाल सिंह, मिली बड़ी जिम्मेदारी

पूर्व में दैनिक जागरण, एनडीटीवी, हिन्दुस्तान जैसे कई बड़े मीडिया संस्थानों में अपनी प्रतिभा दिखा चुके हैं दिगपाल सिंह

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Monday, 04 November, 2019
Last Modified:
Monday, 04 November, 2019
Digpal Singh

वरिष्ठ पत्रकार दिगपाल सिंह ने दैनिक जागरण को बाय बोल दिया है। करीब तीन साल से दैनिक जागरण की वेबसाइट jagran.com में डिप्टी न्यूज एडिटर के पद पर कार्यरत दिगपाल सिंह ने अब स्वास्थ्य' क्षेत्र की प्रमुख वेबसाइट myupchar.com के साथ बतौर टीम लीडर अपनी नई पारी शुरू की है। करीब एक दशक से डिजिटल जर्नलिज्म में सक्रिया दिगपाल देश के उन चुनिंदा पत्रकारों में है, जिन्हें ऑनलाइन मीडिया में महारत हासिल है।

दिगपाल सिंह पूर्व में कई मीडिया संस्थानों के साथ काम कर चुके हैं। जून 2008 में उन्होंने अपने करियर की शुरुआत हिन्दुस्तान मीडिया वेंचर्स लिमिटेड (HMVL) की वेबसाइट livehindustan.com से बतौर सब एडिटर की थी। यहां उन्होंने करीब सवा तीन साल तक अपनी सेवाएं दीं। अक्टूबर 2011 में यहां से बाय बोलकर दिगपाल सिंह ने इंडिया टुडे ग्रुप का दामन थाम लिया। इस समूह की वेबसाइट aajtak.in में उन्होंने बतौर सीनियर सब एडिटर जॉइन किया और यहां करीब साढ़े तीन साल तक अपनी जिम्मेदारी निभाई।

मार्च 2015 में यहां से अलविदा कहकर दिगपाल सिंह ने एनडीटीवी का रुख किया और khabar.ndtv.com में बतौर सीनियर सब एडिटर नई पारी शुरू की। हालांकि यहां उनका सफर ज्यादा नहीं चला और नवंबर 2016 में यहां से अपनी पारी को विराम देकर उन्होंने बतौर डिप्टी न्यूज एडिटर दैनिक जागरण की वेबसाइट jagran.com जॉइन कर ली। तब से वह यहीं पर कार्यरत थे।

दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट दिगपाल सिंह ने भोपाल की माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी से संबद्ध हिंदी एकेडमी (दिल्ली) से पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन मीडिया किया है। इसके अलावा उन्होंने उत्तर प्रदेश राजर्षि टंडन मुक्त विश्वविद्यालय इलाहाबाद से मास्टर्स इन जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन की पढ़ाई की है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

'जी मीडिया' को बाय बोल पत्रकार कौशलेंद्र बिक्रम सिंह ने की नई शुरुआत

मूल रूप से लखनऊ के रहने वाले कौशलेंद्र बिक्रम सिंह अब तक कई मीडिया प्रतिष्ठानों में जिम्मेदारी निभा चुके हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 31 October, 2019
Last Modified:
Thursday, 31 October, 2019
Kaushlendra Bikram Singh

पत्रकार कौशलेंद्र बिक्रम सिंह ने ‘जी मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड’ (ZMCL) में अपनी पारी को विराम दे दिया है। उन्होंने अपनी नई पारी की शुरुआत ‘आजतक’ की डिजिटल विंग के साथ की है। उन्होंने यहां बतौर चीफ कापी एडिटर जॉइन किया है। कौशलेंद्र को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब नौ साल का अनुभव है। पूर्व में वह दैनिक भास्कर ग्रुप, राजस्थान पत्रिका ग्रुप, इंडिया टुडे ग्रुप और जी मीडिया ग्रुप में अपनी प्रतिभा दिखा चुके हैं।   

मूल रूप से लखनऊ के रहने वाले कौशलेंद्र ने लखनऊ विश्वविद्यालय से बीजेएमसी करने के बाद भोपाल की माखनलाल चतुर्वेदी यूनिवर्सिटी से ब्रॉडकास्ट जर्नलिज्म में एमए की पढ़ाई की। इसके बाद उन्होंने इसी यूनिवर्सिटी से ही मीडिया स्टडीज में एमफिल पूरी की और दूरदर्शन केंद्र, लखनऊ से इंटर्नशिप की।

कौशलेंद्र ने नवंबर 2010 में दैनिक भास्कर ग्रुप की डिजिटल विंग में बतौर सब एडिटर अपनी जिम्मेदारी संभाली। यहां उन्होंने मार्च 2013 तक अपनी सेवाएं दीं। इसके बाद अप्रैल 2013 में उन्होंने राजस्थान पत्रिका ग्रुप का दामन थाम लिया और ग्रुप की डिजिटल विंग में स्टेट को-ऑर्डिनेटर के तौर पर दिसंबर 2016 तक अपनी सेवाएं दी।

इसके बाद कौशलेंद्र ने राजस्थान पत्रिका ग्रुप को अलविदा कहकर इंडिया टुडे ग्रुप की डिजिटल विंग के साथ अपनी नई पारी शुरू की। जनवरी 2017 में यहां उन्होंने सीनियर सब एडिटर के तौर पर जॉइन किया था, लेकिन इस संस्थान के साथ उनका यह सफर करीब एक साल ही चल सका। दिसंबर 2017 में उन्होंने इंडिया टुडे ग्रुप को बाय बोल दिया और ‘जी मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड’ के साथ जुड़ गए। आजतक को जॉइन करने से पहले वह ‘जी मीडिया’ में बतौर सीनियर कॉपी एडिटर इंटीग्रेटिड मल्टीमीडिया न्यूजरूम में अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

 आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सरकार ने अब इन न्यूज वेबसाइट्स पर लगाया प्रतिबंध

चीन द्वारा मुख्य रूप से अंग्रेजी में काम करने वाले 31 फीसद मीडिया संस्थानों पर रोक लगाई गई है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 24 October, 2019
Last Modified:
Thursday, 24 October, 2019
Website

चीन ने अपने यहां कई विदेशी मीडिया संस्थानों की वेबसाइट्स पर प्रतिबंध लगा दिया है। इन प्रतिबंधों के बाद अब चीन के लोग इन मीडिया संस्थानों की वेबसाइटों की खबरें पढ़ और देख नहीं सकेंगे। जिन वेबसाइट्स पर प्रतिबंध लगाया गया है, उनमें बीबीसी, ब्लूमबर्ग, द गार्डियन, द न्यूयॉर्क टाइम्स, द वॉल स्ट्रीट जर्नल, वॉशिंगटन पोस्ट और योमीयूरी सिम्बन आदि शामिल हैं।

प्रेस पर निगरानी रखने वाली संस्था ‘फॉरेन करेसपॉन्डेंट क्लब ऑफ चाइना’ (एफसीसीसी) ने इस बारे में एक बयान जारी किया है। इस बयान में कहा गया है, ‘चीन के नागरिक अब 215 अंतरराष्ट्रीय मीडिया संस्थानों में से 23 फीसद का उपयोग नहीं कर सकेंगे। इन मीडिया संस्थानों के पत्रकार चीन में काम करते हैं। एफसीसीसी ने बताया कि मुख्य रूप से अंग्रेजी में काम करने वाले 31 फीसद मीडिया संस्थानों पर रोक लगाई गई है।

गौरतलब है कि चीन में फेसबुक, गूगल और यूट्यूब जैसी साइट्स पर पहले से ही प्रतिबंध लगा हुआ है। चीन के लोग ट्विटर का इस्तेमाल भी नहीं कर सकते हैं। सर्च इंजन के लिए लोग वहां पर बायडू और सोशल मीडिया साइट्स के तौर पर वीबो का इस्तेमाल करते हैं। माना जा रहा है कि ताइवान और हांगकांग के मसलों पर दुनिया भर में मीडिया में हो रही चर्चा के चलते उसने ऐसा किया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूज एंकर नीलू व्यास ने अब नई दिशा में बढ़ाए कदम

मूल रूप से इलाहाबाद की रहने वालीं नीलू व्यास को टीवी इंडस्ट्री में काम करने का करीब 20 साल का अनुभव है

Last Modified:
Sunday, 13 October, 2019
Neelu Vyas

टेलिविजन की दुनिया में बतौर न्यूज एंकर/रिपोर्टर राष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बना चुकीं पत्रकार नीलू व्यास ने वेब मीडिया की दुनिया में कदम बढ़ाते हुए अपनी नई पारी की शुरुआत वेब पोर्टल 'सत्य हिंदी डॉट कॉम' (Satyahindi.com) से की है। यहां उन्होंने बतौर एडिटर (करेंट अफेयर्स) के पद पर जॉइन किया है। इन दिनों वह यहां पर सोमवार से शनिवार तक एक शो 'सुनिए सच' होस्ट कर रही हैं।

'सुनिए सच' कार्यक्रम में उस दिन की पांच उन बड़ी खबरों का विश्लेषण किया जाता है, जिन्हें ट्विटर, फेसबुक और अन्य डिजिटल प्लेटफॉर्म्स पर लाखों हिट मिल रहे हों। नीलू व्यास 'सुनिए सच' के अलावा समसामयिक और सामाजिक विषयों पर आधारित और भी कई 'साप्ताहिक शो' होस्ट करती हैं।

नीलू व्यास को टीवी इंडस्ट्री में काम करने का करीब 20 साल का अनुभव है, इससे पहले वह लंबे समय तक राज्यसभा टीवी ( RSTV) के संपादकीय विभाग में वरिष्ठ पद पर काम कर रही थीं, जहां वह फील्ड रिपोर्टिंग और एंकरिग के साथ साथ 'द पल्स' और 'टू द पॉइंट' शो का संचालन भी करती थीं।

राज्यसभा टीवी से पहले नीलू व्यास CNN-IBN, आजतक और जी न्यूज में भी बतौर एंकर/रिपोर्टर काम कर चुकी है । मूलरूप से इलाहाबाद की रहने वाली नीलू व्यास ने इलाहाबाद विश्वविधालय से अंग्रेजी में एमए. और सिम्बॉयसिस इंस्टीटयूट से मास कम्युनिकेशन की पढ़ई की है।
आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Maddies अवॉर्ड्स में इस साल दिखा इन कंपनियों का जलवा

मोबाइल मार्केटिंग के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए मुंबई में 11 अक्टूबर को आयोजित एक कार्यक्रम में दिए गए ये अवॉर्ड्स

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Saturday, 12 October, 2019
Last Modified:
Saturday, 12 October, 2019
The Maddies

मोबाइल मार्केटिंग के क्षेत्र में किए गए बेहतरीन कार्यों को प्रोत्‍सा‍हन देने व उन्‍हें सम्‍मानित करने के लिए एक्सचेंज4मीडिया (exchange4media) ग्रुप के मोबाइल मार्केटिंग अवॉर्ड्स ‘द मैडीज 2019’ (The Maddies 2019) मुंबई में दिए गए। मुंबई के आईटीसी होटल में 11 अक्टूबर की शाम को हुए एक समारोह में विभिन्न कैटेगरी में ये अवॉर्ड्स दिए गए।

इसके तहत ‘हॉल ऑफ फेम’ (Hall of Fame) कैटेगरी में ‘माइंडशेयर इंडिया’ (Mindshare India) ने एजेंसी ऑफ द ईयर अवॉर्ड अपने नाम किया, जबकि ‘गोदरेज कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स’ (Godrej Consumer Products) को मोबाइल मार्केटर ऑफ द ईयर घोषित किया गया।   

अन्य श्रेणियों की बात करें तो ‘Engagement in a Media Dark Market: 81% Delivered!’, ‘Chug Chug in Chuk Chuk’, ‘With Great Pranks Come Great Responsibility’, ‘Saving Lives with Platelet Donation’ और ‘Blow Maadi! (Please Blow!)’ जैसे कैंपेन के लिए माइंडशेयर को आठ गोल्ड मिले। वहीं, ‘When Colors Won Its Fans Back During IPL 2019’, ‘Phone Se Loan in 3 Mins’ और ‘Jigar Pe Trigger’ जैसे कैंपेन की बदौलत ‘मैडिसन मीडिया’ (Madison Media) ने तीन गोल्ड मेडल अपने नाम किए। इस एजेंसी को ‘Abhi Toh Aur Chalega’, ‘The #Missing’, और ‘Phone Se Loan in 3 Mins’ कैंपेन के लिए तीन अन्य मेडल्स भी मिले।

इनके अलावा, ‘नेस्ले इंडिया’ (Nestlé India) के कैंपेन ‘Ask Nestle’ के लिए ‘डिजिटास इंडिया’ (Digitas India) ने एक गोल्ड जीता। ‘Tata Ace Gold’ के लॉन्चिंग कैंपेन के लिए ‘हवास मीडिया इंडिया प्राइवेट लिमिटेड’ (Havas Media India Pvt Ltd) को एक गोल्ड मिला और ‘पब्लिशिज मीडिया-परफॉर्मिंक्स इंडिया’ (Publicis Media-Performics India) ने ‘Reckitt Benckiser’ के ‘Overcoming #OrgasmInequality with Durex Mutual Climax’ कैंपेन के लिए एक गोल्ड जीता।

इससे पूर्व इन अवॉर्ड्स विजेताओं का चयन करने के लिए ‘फ्यूचर जनरल इंडिया इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड’ के मैनेजिंग डायरेक्टर और सीईओ अनूप राव (Anup Rau) की अध्यक्षता में मुंबई में 26 सितंबर 2019 को जूरी मीट हुई थी। जूरी द्वारा एंट्रीज को इनोवेशन, एग्जिक्यूशन और रिजल्ट की कसौटी पर परखने के बाद विजेताओं का चयन किया गया था।

जूरी में शामिल अन्य दिग्गजों में ‘Edelweiss Tokio Life Insurance’ के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर अभिषेक गुप्ता, ‘RP-Sanjiv Goenka Group FMCG’ के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर अनुपम बोके, ‘आदित्य बिड़ला हेल्थ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड’ के मार्केटिंग हेड दर्शन शाह, ‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज’ की चीफ मार्केटिंग ऑफिसर प्रत्यूषा अग्रवाल, ‘कॉक्स एंड किंग्स’ के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर संजीव धीमान, ‘एबीपी न्यूज’ की वाइस प्रेजिडेंट (एएनएन मार्केटिंग एंड मार्केटिंग सर्विसेज), ‘वूट एडवर्टाइजिंग विडियो प्लेटफॉर्म वायकॉम 18’ के बिजनेस हेड आकाश बनर्जी, ‘सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया’ के मार्केटिंग हेड (अंग्रेजी क्लस्टर) रोहन जैन, ‘रिलायंस हेल्थ इंश्योरेंस’ के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर शामिक बनर्जी, ‘मोमैजिक’ के सीईओ और फाउंडर अरुण गुप्ता, ‘मलयाला मनोरमा’ के वाइस प्रेजिडेंट (मार्केटिंग, एडवर्टाइजिंग सेल्स) वर्गीस चांडी, ‘जिरका डिजिटल सॉल्यूशंस’ के मैनेजिंग डायरेक्टर करण कुमार गुप्ता, ‘डिस्कवरी कम्युनिकेशंस इंडिया’  के एडवर्टाइजिंग सेल्स हेड और रीजनल क्लस्टर (साउथ एशिया) के बिजनेस हेड विक्रम तन्ना, ‘लक्ष्य’ के हेड (स्ट्रैटेजिक एलांयसेज और कॉरपोरेट कम्युनिकेशंस) सत्यब्रत दास, ‘गोदरेज कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स लिमिटेड’ के वाइस प्रेजिडेंट और हेड (Digital Marketing & Transformation) पंकज सिंह परिहार, ‘पैसाबाजार डॉट कॉम’ के चीफ मार्केटिंग ऑफिसर साईं नारायण, ‘वाइब्रैंट रिलायंस जियो’ के वाइस प्रेजिडेंट (मीडिया प्लानिंग एंड स्ट्रैटेजी) कार्तिक लक्ष्मीनारायण और ‘टाटा केमिकल्स’ के हेड (मार्केटिंग, कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स बिजनेस) और बिजनेस हेड (Spices) सागर बोके शामिल थे।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

OTT प्लेटफॉर्म्स को लेकर फिर उठा ये बड़ा मुद्दा

मुंबई में आयोजित एक सेमिनार में सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और सचिव अमित खरे ने जताई चिंता

Last Modified:
Friday, 11 October, 2019
OTT CONTENT

सूचना-प्रसारण मंत्रालय में सचिव अमित खरे का कहना है कि ‘ओवर द टॉप’ (ओटीटी) प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट किए जाने की जरूरत है, क्योंकि समाज के कई वर्गों से इसके कंटेंट को लेकर चिंता जताई जा रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मुंबई में दस अक्टूबर को फिल्म सर्टिफिकेशन और ऑनलाइन कंटेंट के रेगुलेशन को लेकर हुए सेमिनार में उन्होंने यह भी कहा कि मंत्रालय के पास फिलहाल इस पर किसी तरह का रेगुलेशन लगाने की कोई योजना नहीं है।

सेमिनार में अमित खरे का कहना था कि सभी राष्ट्रमंडल देशों में फिल्म्स, न्यूजपेपर्स और टीवी को रेगुलेट करने के लिए संस्थाएं हैं, लेकिन ओटीटी कंटेंट को रेगुलेट करने के लिए इस तरह की कोई व्यवस्था नहीं है।  

सेमिनार में विडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये शामिल हुए सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कहना था, ‘ओटीटी प्लेटफॉर्म्स आईटी एक्ट के दायरे में आते हैं, लेकिन न तो सरकार की ओर से और न ही इनके द्वारा खुद की ओर से रेगुलेट किए जाने की कोई व्यवस्था है। ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर सभी तरह का कंटेंट मौजूद है, जिसमें गलत और आपत्तिजनक कंटेंट भी शामिल है, लेकिन इसके लिए सेंसर बोर्ड नहीं है। इस कारण अच्छा-बुरा सभी तरह का कंटेंट इस पर परोसा जा रहा है।’

गौरतलब है कि कुछ दिनों पूर्व पीटीआई मुख्यालय में पत्रकारों के साथ एक बातचीत के दौरान भी सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ओटीटी प्लेटफॉर्म्स के रेगुलेशन का मुद्दा उठाया था।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए