ZEEL-SONY के मर्जर को मंजूरी मिलने के बाद एनपी सिंह ने एम्प्लॉयीज का यूं जताया आभार

सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (SPNI) और जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड (ZEEL) ने SPNI के साथ ZEEL के मर्जर को लेकर एग्रीमेंट पर साइन कर दिए हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 22 December, 2021
Last Modified:
Wednesday, 22 December, 2021
NPSingh5454

सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (SPNI) और जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड (ZEEL) ने SPNI के साथ ZEEL के मर्जर को लेकर एग्रीमेंट पर साइन कर दिए हैं। अब इस डील से दोनों कंपनी के टीवी कारोबार, डिजिटल एसेट्स, प्रोडक्शन ऑपरेशंस और प्रोग्राम लाइब्रेरी का भी मर्जर होगा।

निश्चित समझौतों की शर्तों के तहत, एसपीएनआई के पास समापन पर 1.5 बिलियन डॉलर का नकद शेष होगा, जिसमें एसपीएनआई के मौजूदा शेयरधारकों और जीईएल के प्रमोटरों (संस्थापकों) द्वारा सम्मिलित किया जाएगा, ताकि संयुक्त कंपनी को प्लेटफॉर्म पर तेज कंटेंट क्रिएशन को चलाने में सक्षम बनाया जा सके।

इस विलय की शर्तों में ये भी शामिल है कि सोनी पिक्चर्स नेटवर्क इंडिया ZEEL के प्रवर्तकों को एक गैर प्रतिद्वंद्विता फीस (non-compete fee) का भुगतान करेगी, जिसका इस्तेमाल जी कंपनी सोनी के शेयर खरीदने में करेगी। ये शेयर संयुक्त कंपनी के करीब 2.11 फीसदी होंगे और विलय की सारी औपचारिकताएं पूरी होने के बाद सोनी पिक्चर्स एंटरटेनमेंट की नई कंपनी में निर्णायक भागीदारी 50.86 फीसदी की होगी। जी के संस्थापक प्रवर्तकों के पास 3.99 फीसदी और जी के दूसरे शेयरधारकों के पास नई कंपनी की 45.15 फीसदी हिस्सेदारी रहेगी। ZEEL के संस्थापक प्रवर्तक नई कंपनी में अपनी हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए स्वतंत्र होंगे। लेकिन, ये हिस्सेदारी किसी भी सूरत में 20 फीसदी से अधिक नहीं हो पाएगी और इसके लिए उन्हें दूसरे शेयरधारकों से शेयरों की खरीद बाजार के नियमों के अनुसार और पूरी पारदर्शिता के साथ करनी होगी।

‘SPNI’ के एमडी और सीईओ एनपी सिंह ने अपने एम्प्लॉयीज को भेजे एक आंतरिक ई-मेल में उन्होंने भारत में SPE के लिए ग्रोथ के नए अवसरों को देखकर और विलय की गई इकाई के बोर्ड में शामिल होने पर खुशी जतायी है। उन्होंने कहा कि रवि पहले ही आपको अपने एक ई-मेल में, SPE के डिवीजन, ‘सोनी पिक्चर्स इंडिया’ के चेयरमैन के तौर पर मेरी आगामी भूमिका के बारे में बात कर चुके हैं। मुझे मर्ज की गई कंपनी के बोर्ड में शामिल होने की खुशी है, जो अपने विजन को पाने के लिए ऑपरेटिंग टीम को रणनीतिक मार्गदर्शन और समर्थन प्रदान करता है। इसके अतिरिक्त, मैं भारत में SPE द्वारा किए गए सभी निवेशों की जिम्मेदारी संभालूंगा, साथ ही भारत में सोनी को और आगे ले जाने के लिए विकास के नए अवसरों की तलाश भी करूंगा।’

उन्होंने यह भी कहा कि SPNI एक प्रॉफिटेबल कंपनी (profitable company) है, जो ZEEL के साथ विलय के बाद बड़ी और मजबूत होगी। 31 मार्च 2021 को समाप्त वित्तीय वर्ष के लिए, SPNI ने 582.2 करोड़ रुपए के शुद्ध लाभ के साथ 5721.6 करोड़ रुपए के कंसोलाइडेटेड रेवेन्यू की जानकारी दी थी’

उन्होंने आगे कहा, ‘आपके समर्पण और मेहनत की वजह से ही SPNI एक बहुत ही प्रॉफिटेबल बिजनेस है और एक बार मर्ज होने के बाद यह एक नया आयाम लेगी और बहुत बड़ी कंपनी हो जाएगी, साथ ही आपके लिए कई अवसर भी खोलेगी। आपका योगदान, आपकी निरंतर प्रतिबद्धता और सहयोग ही एक ऐसा मंत्र है जिसके जरिए हम इसे और आगे जा सकेंगे। मैं आपके निरंतर समर्थन पर ही भरोसा कर रहा हूं।’    

सिंह ने अपने ई-मेल में यह भी कहा कि मर्जर की डील होने तक SPNI में काम यथास्थिति पूरे जोर-शोर से जारी रहेगा। उन्होंने कहा, ‘नई यात्रा के दौरान जैसे ही हम मील के पत्थर को छुएंगे, तो यह जानकारी आपके साथ साझा करने में मुझे बेहद खुशी होगी। अंत में कहना चाहूंगा कि यदि आपका कोई सवाल है, तो कृपया सीधे मुझसे संपर्क करें।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

DD FreeDish के नाम जुड़ी ये खास उपलब्धि

प्रसार भारती की डीटीएच सेवा डीडी फ्रीडिश एकमात्र फ्री-टू-एयर डायरेक्ट-टू-होम सर्विस है, जहां दर्शक को कोई मासिक सदस्यता शुल्क नहीं देना पड़ता है।

Last Modified:
Friday, 01 April, 2022
DD Freedish

सरकारी प्रसारक प्रसार भारती की डायरेक्ट-टू-होम (DTH) डीडी फ्रीडिश (DD FreeDish) के ग्राहकों की संख्या 43 मिलियन को पार कर गई है। इसके साथ ही यह सबसे बड़ा डीटीएच प्लेटफॉर्म बन गया है।

दूरदर्शन की इस मुफ्त डीटीएच सेवा ने 100 प्रतिशत की शानदार वृद्धि की है, जिससे इसके ग्राहकों की संख्या 2017 के 22 मिलियन से बढ़कर 2022 में 43 मिलियन हो गई है।

बता दें कि प्रसार भारती की डीटीएच सेवा डीडी फ्रीडिश एकमात्र फ्री-टू-एयर डायरेक्ट-टू-होम सर्विस है, जहां दर्शक को कोई मासिक सदस्यता शुल्क नहीं देना पड़ता है। इसे दूरदर्शन फ्रीडिश सेट-टॉप बॉक्स खरीदने के लिए केवल 2,000 रुपए के एकमुश्त खर्च करने पड़ते हैं।

सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि बेहतर नीलामी प्रक्रियाओं के कारण 2017 और 2022 के बीच विभिन्न शैलियों में चैनलों की बेहतर गुणवत्ता और मात्रा में वृद्धि हुई है, दूरदर्शन की फ्री डीटीएच सेवा ने 22 से लगभग 100 प्रतिशत की शानदार वृद्धि दर्ज की है। 2017 में मिलियन से 2022 में बढ़कर 43 मिलियन हो गया है।

डीडी फ्रीडिश कुल 167 टीवी चैनलों और 48 रेडियो चैनलों की मेजबानी करता है, जिसमें 91 दूरदर्शन चैनल शामिल हैं। इसमें में 51 को-ब्रांडेड एजुकेशनल चैनल और 76 प्राइवेट टीवी चैनल शामिल हैं।

एक बयान में कहा गया है कि एक अप्रैल, 2022 से डीडी फ्रीडिश निजी टीवी चैनलों के बुके में आठ हिंदी जनरल एंटरटेनमेंट चैनल्स, 15 हिंदी मूवी चैनल्स, छह म्यूजिक चैनल्स, 22 न्यूज चैनल्स, नौ भोजपुरी चैनल्स, चार भक्ति और दो विदेशी चैनल्स शामिल होंगे।

मंत्रालय ने कहा कि नए चैनल लाइन-अप ने डीडी फ्रीडिश बुके को पहले से कहीं अधिक आकर्षक बना दिया है। डीडी फ्रीडिश का मुख्य उद्देश्य लोगों को बिना किसी शुल्क के गुणवत्ता वाले मनोरंजन और सूचना का एक वैकल्पिक एवं सस्ता प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराना है।

डीडी फ्रीडिश पर पहली बार फूड के लिए समर्पित चैनल जोड़ा गया है, जोकि मशहूर शेफ संजीव कपूर का चैनल 'फूड फूड' है। वहीं, ‘डीडी स्पोर्ट्स’ (DD Sports) के अलावा फ्रीडिश पर एक और स्पोर्ट्स चैनल 'माईकैम' (MyCam) होगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मोबाइल ऐप 'चिंगारी' ने 'फैशन टीवी' के साथ इस वजह से किया करार

शॉर्ट वीडियो मोबाइल ऐप ‘चिंगारी’ ने फैशन एंड लाइफ स्टाइल ब्रॉडकास्टिंग टेलीविजन चैनल ‘फैशन टीवी’ के साथ एक्सक्लूसिव पार्टनरशिप की है।

Last Modified:
Friday, 25 March, 2022
Chingari

शॉर्ट वीडियो मोबाइल ऐप ‘चिंगारी’ ने  फैशन एंड लाइफ स्टाइल ब्रॉडकास्टिंग टेलीविजन चैनल ‘फैशन टीवी’ के साथ एक्सक्लूसिव पार्टनरशिप की है। इस पार्टनरशिप के तहत शॉर्ट वीडियो एंटरटेनमेंट प्लेटफॉर्म ‘चिंगारी’ के यूजर्स फैशन टीवी के कंटेट को अपने फोन में इस ऐप पर देख पाएंगे।

यह पहली बार है जब ‘फैशन टीवी’ ने किसी शॉर्ट वीडियो एंटरटेनमेंट मोबाइल ऐप के साथ करार किया है। एक्सक्लूसिव कंटेट के लिए चिंगारी का स्वदेशी क्रिप्टोकरेंसी गारी टोकन इसमें मदद करेगा।
बताया जा रहा है कि इस करार के तहत चिंगारी ऐप फैशन टीवी के लिए 100 नॉन फंजिबल टोकन (एनएफटी) को भी लॉन्च करेगा। चिंगारी ने देश का पहला ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी आधारित स्वदेशी क्रिप्टोकरेंसी ‘गारी टोकन’ लॉन्च किया था।

फैशन टीवी के लिए एनएफटी को गारी की मदद से लॉन्च किया जाएगा। एक्सट्रीमडी ऑफ मदीहा अबैदा की तरफ से डिजाइन की गई 75-पीस फैशन शो में एक्सक्लूसिव गारी पांडा एनएफटी और फैशन टीवी एनएफटी को प्रदर्शित किया गया।

चिंगारी के अपने मेटावर्स ‘चिंगारी-वर्स’ में क्यूट पांडा को एनएफटी के रूप में शामिल किया गया है जिससे पांडा होल्डर्स को कई फायदे मिलेंगे। जिन यूजर्स के पास ये पांडा एनएफटी होंगे उन्हें एक्सक्लूसिव फायदे मिलेंगे। इन यूजर्स को ‘इनवाइट ओनली’ में स्पेशल एक्सेस मिलेगा। इन यूजर्स को फैशन टीवी और फैशन मेटावर्स की तरफ से आयोजित एक्सक्लूसिव इवेंट में भी स्पेशल एक्सेस मिलेगा, जिसमें वे बॉलीवुड के ए-लिस्टेड एक्टर्स से मिल पाएंगे और उनसे बातचीत कर पाएंगे। चिंगारी वर्स में इन यूजर्स को एक्सक्लूसिव पांडा एनएफटी कम्युनिटी का दर्जा मिलेगा।

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी आधारित नॉन फंजिबल टोकन के अलावा चिंगारी की बड़ी योजना मेटावर्स को लेकर भी है। फैशन टीवी के साथ मिलकर चिंगारी ने फैशन मेटावर्स में एंट्री का ऐलान किया है। फैशन मेटावर्स की दुनिया में फैशन शो का आयोजन किया जाएगा। एनएफटी होल्डर्स को इस फैशन शो में शामिल होने का स्पेशल मौका मिलेगा।

फैशन टीवी के साथ पार्टनरशिप को लेकर चिंगारी ऐप के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर और को-फाउंडर सुमित घोष ने कहा कि गारी द्वारा संचालित चिंगारी ऐप और फैशन टीवी के बीच हुए करार को लेकर हम काफी खुश हैं। इस पार्टनरशिप से हम दोनों का फायदा होगा। इस पार्टनरशिप के तहत चिंगारी के यूजर्स को इस प्लेटफॉर्म पर फैशन टीवी का एक्सक्लूसिव कंटेट देखने का मौका मिलेगा। इसके अलावा 100 गारी पांडा एनएफटी, फैशन टीवी एनएफटी को भी लॉन्च किया जाएगा। दुनियाभर के आर्टिस्ट और सेलिब्रिटी के लिए यह सुनहरा मौका है।

फैशन टीवी के प्रेसिडेंट माइकल एडम लिस्वोस्की ने कहा कि इस पार्टनरशिप की मदद से फैशन टीवी का प्रीमियम कंटेट फैशन इंडस्ट्री के सक्सेसफुल डिजाइनर्स, मॉडल्स, फोटोग्राफर्स तक पहुंचाने का हमारा सपना साकार होगा. फैशन टीवी और गारी पांडा एनएफटी एक रोमांचक पेशकश है जिसका बहुत फायदा होगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘द कश्मीर फाइल्स’ की व्युअरशिप बढ़ाने में कुछ यूं अपनी भूमिका निभा रही Buffering

कंपनी ने ऐसे दर्शकों की पहचान करने के लिए डेटा स्क्रबिंग तकनीकों का इस्तेमाल किया है, जो फिल्म को पसंद करेंगे।

Last Modified:
Monday, 14 March, 2022
Kashmir Files

जम्मू-कश्मीर में राज्य, जाति, धर्म और नीतियों के प्रति संवेदनशील मुद्दों पर आधारित बॉलीवुड फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ (The Kashmir Files) 11 मार्च 2022 को दुनिया भर में रिलीज हो चुकी है। कई राज्यों में इस फिल्म को टैक्स फ्री कर दिया गया है। कश्मीरी पंड‍ितों पर बनी यह फिल्म पहले ही दिन से बॉक्स ऑफ‍िस पर लोगों को बहुत पसंद आ रही है। 

लोग इस पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। इस फिल्म को लेकर सकारात्मक व नकारात्मक तमाम तरह की चर्चाएं हो रही हैं, इसके बावजूद दर्शक फिल्म देखने के लिए सिनेमाघरों में उमड़ रहे हैं। अमित बी वाधवानी की मीडिया टेक्नोलॉजी कंपनी ‘बफरिंग’ (Buffering) ने ऐसे दर्शकों की पहचान करने के लिए डेटा स्क्रबिंग तकनीकों का इस्तेमाल किया है, जो फिल्म को पसंद करेंगे।

इस बारे में वाधवानी का कहना है, ‘जब मैंने फिल्म देखी तो मैंने महसूस किया कि यह एक क्लासिक फिल्म है और इसे ज्यादा से ज्यादा दर्शकों तक पहुंचने की जरूरत है। हमने दर्शकों की पहचान करने के लिए अपनी डेटा स्क्रबिंग तकनीकों का इस्तेमाल किया, जो फिल्म को पसंद करेंगे। इस पहुंच को बढ़ाने के लिए हमने बड़े पैमाने पर आउटडोर भी इस्तेमाल किया।’

वहीं, ‘बफरिंग’ की को-फाउंडर दर्शनी खत्री का कहना है, ‘प्रतिरोध के बावजूद हमने सुनिश्चित किया कि इस फिल्म को ज्यादा से ज्यादा लोगों द्वारा देखा जाए।  2021 और 2022 में सभी ब्लॉकबस्टर्स ने दर्शकों को सिनेमाघरों में वापस लाने के लिए हमारी तकनीक का उपयोग किया है और ‘कश्मीर फाइल्स’ हमारे सबसे चुनौतीपूर्ण प्रोजेक्ट्स में से एक है, जिसे हमने कई कारणों से शुरू किया है। मैं अभी इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहती।’

इस फिल्म के निर्माता विवेक अग्निहोत्री का कहना है, ‘कश्मीर फाइल्स को बनाने में वर्षों का शोध और विवरण काम आया है। बफरिंग टेक्नोलॉजी ने हमें उनके डेटा, प्रौद्योगिकी और एटीएल तकनीकों के साथ बड़े पैमाने पर लोगों तक पहुंचने में मदद की। अमित और बफरिंग ने मेरी फिल्म को बिना शर्त सपोर्ट किया, मैं उन्हें तहे दिल से धन्यवाद देता हूं। हमें सच्ची कहानियों और मुद्दों को दर्शकों तक पहुंचाने में मदद करने के लिए बफरिंग के फाउंडर्स कृषिव केएल, दर्शनी और अमित जैसे देशभक्त उद्यमियों की जरूरत है।’

इस बीच, ‘कश्मीर फाइल्स’ की ऑनलाइन रेटिंग 10/10 बनी हुई है और दर्शक इसे काफी पसंद कर रहे हैं और बॉक्स ऑफिस पर हर दिन इसके रेवेन्यू में बढ़ोतरी हो रही है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘रोटरी इंडिया लिट्रेसी मिशन’ और 'First In Class' ने मिलकर इस दिशा में बढ़ाए कदम

‘रोटरी इंडिया लिट्रेसी मिशन’ (Rotary India Literacy Mission) और एजुटेक प्लेटफॉर्म ‘फर्स्ट इन क्लास’ (First In Class) के बीच एक करार (एमओयू) हुआ है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 21 February, 2022
Last Modified:
Monday, 21 February, 2022
MOU Sign

‘रोटरी इंडिया लिट्रेसी मिशन’ (Rotary India Literacy Mission) और एजुटेक प्लेटफॉर्म ‘फर्स्ट इन क्लास’ (First In Class) के बीच एक करार (एमओयू) हुआ है। इसके तहत शहीद हुए सैनिकों और पुलिसकर्मियों के बच्चों को एक लाख टैबलेट (PC) मुफ्त दिए जाएंगे। शिक्षा और डिजिटल इंडिया की दिशा में यह देश का सबसे बड़ा अभियान बताया जा रहा है। ये सभी टैबलेट पूरी तरह से डिजिटल लर्निंग को ध्यान में रखकर तैयार किए गए हैं। भारत की आजादी के 75वें वर्ष ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ को ध्यान में रखकर यह काम किया जा रहा है।

बताया जाता है कि First In Class अपनी ओर से कक्षा 12 तक के सीबीएसई के पाठ्यक्रम को इस डिजिटल तकनीक के माध्यम से बच्चों तक पहुंचा रहा है। यह कोर्स-हिंदी इंग्लिश सहित 10 से अधिक भाषाओं में तैयार किया गया है। इसके अलावा 10 हजार घंटे की ऑडियो-वीडियो सामग्री भी इस प्लेटफार्म पर उपलब्ध होगी। इस कोर्स की लाइब्रेरी में ऑडियो-वीडियो के अलावा ग्राफिक के माध्यम भी कोर्स को समझाया जाएगा। इस दौरान बच्चों को न केवल अपने टीचर के साथ लाइव पढ़ने का मौका मिलेगा, बल्कि अभिभावक भी अपने बच्चों की प्रगति पर निगरानी कर पाएंगे। इस कार्य्रकम के तहत सिर्फ किताबें ही नहीं, बल्कि अपनी संस्कृति, कला और अध्यात्म की जानकारी भी बच्चों को दी जाएगी। इसके अलावा कानून, अभियांत्रिकी और सरकारी नौकरी की तैयारी करने वालों के लिए भी अलग से एक कोर्स डिज़ाइन किया गया है।

‘रोटरी इंडिया लिट्रेसी मिशन’ के चैयरमैन कमल सांघवी और ‘आईटीवी’ नेटवर्क के फाउंडर कार्तिकेय शर्मा के बीच वर्चुअल तौर से यह MOU साइन किया गया है। इस मौके पर कमल सांघवी ने कहा, ‘सरकार भी डिजिटल शिक्षा को बढ़ावा दे रही है और उसी के मद्देनजर रखते हुए हमने आज ये एमओयू साइन किया है। हमारी कोशिश रहेगी कि इस ई-लर्निंग के कार्यक्रम को उच्च शिक्षा से जोड़ पाएं।‘ वहीं, कार्तिकेय शर्मा ने सभी कंटेंट क्रिएटर्स का धन्यवाद करते हुए कहा, ‘सीबीएसई और एनसीईआरटी के इस पूरे पाठ्यक्रम को ई-लर्निंग के माध्यम से बच्चों तक पहुंचाने के लिए देश की सर्वश्रेष्ठ टीम काम कर रही है। ख़ुशी है कि सालों की रिसर्च और मेहनत के बाद हम इस कार्यक्रम को लॉन्च कर पाए हैं और इससे बच्चों को काफी फायदा मिलने वाला है।‘

‘First In Class‘ की फाउंडर ऐश्वर्या शर्मा का कहना था, ‘हम यह मानते हैं कि हर बच्चा अपने आप में कुछ विशेषता लिए हुए होता है और उसे पढ़ाई का समान अवसर मिलना चाहिए। हमारी टीम ने पूरी कोशिश की है कि बच्चों को उच्च गुणवत्ता का कंटेंट मिले। देश के नागरिक होने के नाते हमारी शहीदों के परिवारों के प्रति जिम्मेदारी है, जिसे निभाने की एक छोटी सी कोशिश हम कर रहे हैं।‘ इस मौके पर रोटरी इंटरनेशनल प्रेजिडेंट शेखर मेहता, वरिष्ठ रोटेरियन ए.एस वेंकटेश, विवेक तन्खा और डॉ. महेश कोटबागी भी मौजूद रहे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कंसाई नेरोलैक पेंट्स लिमिटेड में अनुज जैन को मिली अब ये बड़ी जिम्मेदारी

कंपनी बोर्ड ने उनकी नियुक्ति की है। इस पद पर अनुज जैन की नियुक्ति एक अप्रैल 2022 से प्रभावी होगी।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 19 February, 2022
Last Modified:
Saturday, 19 February, 2022
Anuj Jain

‘कंसाई नेरोलैक पेंट्स लिमिटेड’ (KNPL) में अनुज जैन को मैनेजिंग डायरेक्टर नियुक्त किया गया है। कंपनी बोर्ड ने उनकी नियुक्ति की है। इस पद पर अनुज जैन की नियुक्ति एक अप्रैल 2022 से प्रभावी होगी।

वह ‘कंसाई नेरोलैक पेंट्स लिमिटेड’ के वाइस चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर एचएम भरुखा (HM Bharuka) की जगह लेंगे, जो 31 मार्च 2022 को सेवानिवृत्त होंगे। भरुखा ने वर्ष 1985 में ‘कंसाई नेरोलैक पेंट्स लिमिटेड’ में जॉइन किया था। वर्ष 2001 में उन्हें मैनेजिंग डायरेक्टर बनाया गया था।

वहीं, अनुज जैन ने वर्ष 1990 में ‘कंसाई नेरोलैक पेंट्स लिमिटेड’ में बतौर ट्रेनी मैनेजमेंट जॉइन किया था। यहां 30 वर्षों से अधिक के कार्यकाल में उन्होंने विभिन्न भूमिकाएं निभाईं।

अपनी नियुक्ति के बारे में जैन का कहना है, ‘ बोर्ड और कंसाई पेंट्स का बहुत आभारी हूं कि उन्होंने मुझे न केवल इसका हिस्सा बनने, बल्कि इस सम्मानित संगठन का नेतृत्व करने का अवसर दिया। मैं इस कंपनी के समृद्ध इतिहास को जारी रखने और कंपनी को और अधिक ऊंचाइयों तक ले जाने के लिए तत्पर हूं।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टी-सीरीज का बड़ा ऐलान, OTT की दुनिया में यूं रखेगा कदम

भूषण कुमार (Bhusan Kumar) की टी-सीरीज अब ओटीटी  पर वेब-सीरीज प्रड्यूस करने की दुनिया में कदम रख रहा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 03 February, 2022
Last Modified:
Thursday, 03 February, 2022
Tseries45454

भूषण कुमार (Bhusan Kumar) की टी-सीरीज अब ओटीटी पर वेब-सीरीज प्रड्यूस करने की दुनिया में कदम रख रहा है। टी-सीरीज का फोकस जबरदस्त कॉन्टेंट क्रिएट करना है, जो सभी सेक्टर्स के दर्शकों को अपील करेगा और साथ ही ये शानदार जॉनर वाले शो सभी के लिए आसानी से उपलब्ध होंगे।

इस घोषणा पर खुशी जताते हुए टी-सीरीज के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर भूषण कुमार कहते हैं, ‘टी-सीरीज हमेशा से दमदार कहानियों पर विश्वास करता आया है, चाहे वह संगीत के माध्यम से हो या फिल्म के माध्यम से। अपनी इसी विचारधारा को आगे बढ़ाते हुए, हम पॉवरहाउस कॉन्टेंट निर्माता आनंद एल राय, अनुभव सिन्हा, निखिल आडवाणी, हंसल मेहता, संजय गुप्ता, बिजॉय नांबियार, सुपर्ण एस वर्मा (द फैमिली मैन) मिखिल मुसाले (मेड इन चाइना), सौमेंद्र पाधी (जामतारा) जैसे कई और दिग्गजों के साथ वेब-शो का निर्माण करने के लिए बेहद उत्साहित हैं। हमारा अहम लक्ष्य यह है कि इस माध्यम से हम दर्शकों को फ्रेश, ओरिजनल और विशिष्ट स्टोरी पेश करें।’

वे आगे कहते हैं, ‘इस विस्तार के साथ, हमारा ऐसा कॉन्टेंट बनाने का लक्ष्य है, जो दर्शकों उससे जोड़े रखे। इसके अंतर्गत हम नए मार्केट्स को टैप करेंगे। हम म्यूजिक, फिल्म्स और वेब शो के निर्माण के साथ विविधता लाकर एक रचनात्मक केंद्र बनने के लिए बेहद उत्साहित हैं। हालही में अपने वित्त मंत्री ने बजट की घोषणा की, जिसमें 5g स्पेक्ट्रम के एक्सपांशन में बढ़िया सुधार देखने को मिल रहा है। यह अनुमान लगाया जा रहा है कि ग्रामीण भारत को वर्ष 2025 तक ऑप्टिक फाइबर के माध्यम से जोड़ा जाएगा। इसका अनिवार्य रूप से मतलब है कि इंटरनेट आसानी से और लागत प्रभावी रूप से उपलब्ध होगा, जो निश्चित रूप से ओटीटी और कंटेंट क्रिएटर्स की दुनिया के लिए एक बड़ा बढ़ावा होगा।

भूषण कुमार की टी-सीरीज ने पिछले एक दशक में थिएटरों और ओटीटी प्लेटफॉर्म्स पर निर्मित फिल्मों की विविध शैली और उनके यू-ट्यूब चैनल पर जारी किए गए चार्टबस्टर ट्रैक के कारण मुनाफा देखा है। टी-सीरीज 2022 में एक बार फिर डिजिटल जगत में एक्शन थ्रिलर, बायोपिक्स, मर्डर मिस्ट्री और जेलब्रेक ड्रामा जैसी विभिन्न जॉनर में फैली फिल्मों और वेब सीरीज की बड़ी रेंज के साथ डिजिटल जगत दुनिया को आकर्षित करेगी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

देश में रिटेल कारोबार को कुछ यूं बढ़ावा देने में जुटी BLUMART

बिजनेस सर्विस प्रोवाइडर ‘ब्लूमार्ट’ (BLUMART) ने रिटेल उद्योग को अपनी सेवाएं देना शुरू कर दिया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 05 January, 2022
Last Modified:
Wednesday, 05 January, 2022
Blumart

बिजनेस सर्विस प्रोवाइडर ‘ब्लूमार्ट’ (BLUMART) ने रिटेल उद्योग को अपनी सेवाएं देना शुरू कर दिया है। कंपनी अपने मोटो– स्‍मार्ट ट्रेड, स्‍मार्ट वेज (Smart Trade Smart ways) के साथ भारत के रिटेल कारोबार को बढ़ावा दे रही है।

कंपनी की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया है कि अब तक पारंपरिक तरीके से बिजनेस किया जाता था। स्थानीय तौर पर डायरेक्टरी के माध्यम से कारोबारी साझेदारों तक संभावित पहुंच बनाई जाती थी। अपने प्रॉडक्ट्स को बेचने और खरीदने के लिए बहुत ज्यादा सेल्समैन पर निर्भर रहना पड़ता था। अब यह बिजनेस एक लेवल ऊपर जाने के लिए तैयार है।

हालांकि पारंपरिक बिजनेस का यह मॉडल काम कर रहा है, लेकिन हर काम मानवीय ढंग से अपने आप करने की प्रक्रिया बेहद बोझिल और थकाने वाली होती है। इसमें काफी समय भी लगता है। यूजर्स तक प्रॉडक्ट आसानी से पहुंचाने, ईज ऑफ बिजनेस का माहौल बनाने, व्‍यक्ति को कारोबार चलाने एवं उसका विस्‍तार करने के लिए आधुनिक तरीकों से लैस करने और कम्युनिटी के रूप में साथ मिलकर आगे बढ़ने के लक्ष्‍य के साथ, बिजनेस सर्विस प्रोवाइडर ब्लूमार्ट रिटेलर्स और डिस्ट्रिब्यूटर्स को आपस में जोड़ता है। इसका लक्ष्य इस चैनल को मजबूत बनाने के लिए दोनों के बीच मजबूत कारोबारी संबंध बनाना है।

कंपनी रिटेलर्स की खरीदारी और डिस्ट्रिब्यूटर्स की बिक्री प्रक्रिया को आसान बनाने का प्रयास कर रही है। ब्लूमार्ट एप्लिकेशन से कारोबार को बढ़ावा देने में पूर्ण सहयोग किया जाता है। इस सुविधा का प्रयोग करते हुए कारोबारी फील्ड बिजनेस असोसिएट्स और कस्मटर सर्विस सेंटर केवल एक क्लिक दूर रहता है। ब्लूमार्ट खुदरा विक्रेताओं को सिंगल विंडो के साथ अलग-अलग ब्रैंड्स के प्रॉडक्ट्स खरीदने में मदद करता है। यह सिंगल विंडो रिटेलर्स को उनके कई विश्वासपात्र कई डिस्ट्रिब्यूटर्स से तरह-तरह के प्रॉडक्ट्स खरीदने का ऑफर भी देती है। स्टॉक की स्मार्ट ढंग से प्लानिंग करने में मदद मिलती है।

उनका उद्देश्य टेक्‍नोलॉजी और सर्विसेज का इस्तेमाल कर खुदरा व्यापार में जुटे कारोबारियों को मजबूत बनाना है। उन्हें कारोबार के समान संचालन की सुविधा देना है और उन्हें ज्यादा से ज्यादा मौके प्रदान करना है। तीन पीढ़ियों तक मैनेजमेंट कारोबारी समुदाय का हिस्सा रहा है, अब ब्लूमार्ट रिटेलर्स और डिस्ट्रिब्यूटर्स को आसानी से कारोबार की सुविधा देने की दिशा में काम कर रहा है, जिससे उन्हें ज्यादा से ज्यादा लाभ हो। इससे मौजूदा कारोबारी तरीके में किसी तरह की रुकावट न पड़े, इसका भी काफी ध्यान रखा जा रहा है।

रिटेलर्स के लिए पेशकश की व्‍यापक श्रृंखला के साथ मुंबई, नवी मुंबई और ठाणे की चुनिंदा जगहों पर इस मॉडल का संचालन पूरी तरह से हो रहा है। इसमें रिटेलर्स का बड़ा समुदाय शामिल है, जिसने अपने आर्डर्स को बार-बार ब्लूमार्ट से शेयर करने की आदत बना ली है। इसके संस्थापक सन्नी पांडे सनी ग्रुप में मैनेजमेंट की तीसरी पीढ़ी का प्रतिनिधित्व करते हैं। ब्लूमार्ट पिछले 50 से ज्यादा सालों से होमकेयर प्रॉडक्ट्स के सबसे प्रमुख निर्माताओं में से एक है। ब्लूमार्ट का विजन समूचे ट्रेड चैनल में शामिल सभी कारोबारियों के लिए एक बेहतरीन मार्केट बनाने का है। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Gozoop में अहमद आफताब नकवी का कद बढ़ा, अब मिली यह जिम्मेदारी

नकवी इससे पहले कंपनी में सीईओ (इंडिया) के पद पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 04 January, 2022
Last Modified:
Tuesday, 04 January, 2022
Ahmed Aftab Naqvi

डिजिटल स्टार्टअप ‘गोजूप’ (Gozoop) ने को-फाउंडर अहमद आफताब नकवी को ग्रुप के ग्लोबल सीईओ के पद पर प्रमोट करने की घोषणा की है। नकवी इससे पहले कंपनी में सीईओ (इंडिया) के पद पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

अपनी नई भूमिका में नकवी अब भारत के बिजनेस की देखरेख करते हुए मध्य पूर्व क्षेत्र (Middle East region) में ऑपरेशंस की कमान संभालेंगे। इसके साथ ही वह गोजूप की सेवाओं की पेशकश में विविधता लाने, स्ट्रैटेजिक अधिग्रहण को सक्षम बनाने और समूह के अंतर्राष्ट्रीय विस्तार को आगे बढ़ाने के लिए नए मार्केट की पहचान करना जारी रखेंगे।

बता दें कि गोजूप इंडिया वर्तमान में Dell, Bisleri, Taj Hotels, Saint Gobain, Tata Steel और GNC जैसे ब्रैंड्स के साथ काम करती है, जबकि मिडिल ईस्ट में Mashreq UAE, Mashreq Egypt, Emirates Cricket, Oman Cricket और PureGold समेत इसके क्लाइंट्स की बड़ी श्रंखला है। यह पूर्व में Tim Hortons Coffee, Swarovski, Ajmal Perfumes, OYO Middle East, Fairmont Hotels & Resorts, VOX Cinemas, SOUQ.com और Khaleej Times among आदि ब्रैंड्स के साथ काम कर चुकी है।

अहमद को बधाई देते हुए ‘गोजूप’ ग्रुप के चेयरमैन रोहन भंसाली का कहना है, ‘हमारे ग्लोबल सीईओ के रूप में अहमद का प्रमोशन बिलकुल सही है। रचनात्मक सभी चीजों के लिए उनका प्यार, उनके विविध ज्ञान का विस्तार और उनकी विकास-उन्मुख मानसिकता ने मुझे गोजूप के उज्ज्वल भविष्य के बारे में हमेशा आश्वस्त किया है। हमने गोजूप में प्रतिभाशाली लोगों की एक टीम बनाई है, जो अहमद के नेतृत्व में और चमकेगी।’

‘गोजूप’ के को-फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर (Middle East) दुष्यंत भाटिया का कहना है, ‘हम एक बहुत ही रोमांचक चरण के दौर में हैं और वैश्विक विज्ञापन और मार्केटिंग परिदृश्य के बारे में अहमद की समझ उल्लेखनीय है, जिससे वह हमारे विकास की अगली लहर का नेतृत्व करने के लिए एकदम उपयुक्त हैं। गोजूप मध्य पूर्व भारत के बाहर समूह की सफलता के लिए महत्वपूर्ण रहा है और आगे चलकर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। अहमद का नेतृत्व दृष्टिकोण, रचनात्मक मानसिकता और योजनाएं समूह को और अधिक ऊंचाइयों तक ले जाने में मदद करेंगी।’

वहीं, अपने प्रमोशन के बारे में अहमद का कहना है, ‘वैश्विक ब्रैंड्स को बढ़ाने से लेकर स्टार्टअप को आगे करने तक, जो आज एक बड़ी पहचान बन गए हैं, गोजूप 2008 से नए जमाने की मार्केटिंग में सबसे आगे रहा है। एक स्ट्रैटेजिक रोडमैप के साथ मैं भारत और मिडिल ईस्ट दोनों में नेतृत्व टीमों के साथ काम करने के लिए तत्पर हूं, क्योंकि हम विकास के अपने अगले चरण की शुरुआत कर रहे हैं।’

कंपनी की ओर से कहा गया है, ‘गोज़ूप और बड़े पैमाने पर इंडस्ट्री के विकास में अहमद का योगदान महत्वपूर्ण रहा है। उनके नेतृत्व में गोजूप ने डेल, ताज होटल, बिसलेरी, टाटा स्टील, सेंट गोबेन, एशियन पेंट्स, कोलकाता नाइट राइडर्स, महिंद्रा, जीएनसी, फिनोलेक्स और वायकॉम 18 जैसे प्रतिष्ठित ब्रैंड्स के लिए बेहतरीन काम किया है।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ZEEL-SONY के मर्जर की प्रक्रिया 8-10 महीने में होगी पूरी: पुनीत गोयनका

‘मर्जर की प्रक्रिया को पूरा होने में कम से कम 8 से 10 महीने लग जाएंगे।’ यह बात ‘जी एंटरटेनेमंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) एमडी और सीईओ पुनीत गोयनका ने कही।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 23 December, 2021
Last Modified:
Thursday, 23 December, 2021
Punit5454

‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेस लिमिटेड’ (ZEEL) और ‘सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया’ (SPNI) के बीच मर्जर का फार्मूला तय हो गया है। दोनों कंपनियों ने एक-दूसरे के खातों के तीन महीने के ऑडिट के बाद विलय समझौते पर हस्ताक्षर कर दिए हैं। ‘मर्जर की प्रक्रिया को पूरा होने में कम से कम 8 से 10 महीने लग जाएंगे।’ यह बात ‘जी एंटरटेनेमंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) एमडी और सीईओ पुनीत गोयनका ने कही। उन्होंने कहा कि तब तक इस बीच, दोनों कंपनियां स्टैंडअलोन इकाइयों (standalone entities) के रूप में काम करती रहेंगी।

उन्होंने यह भी कहा कि ZEEL स्वतंत्र रूप से और बाद में मर्जर वाली संयुक्त कंपनी के साथ में आक्रामक तरीके से स्पोर्ट्स कैटेगरी में विस्तार करेंगे। कंपनी ने हाल ही में अमीरात क्रिकेट बोर्ड (ECB) से यूएई टी20 लीग (UAE T20 League) के प्रसारण अधिकार 10 साल के लिए हासिल किए हैं। लिहाजा ZEEL यूएई टी20 लीग के प्रसारण अधिकार के लिए 15 मिलियन डॉलर का वार्षिक भुगतान 10 साल तक करेगा। इस तरह ब्रॉडकास्टर 10 साल की अवधि में 150 मिलियन डॉलर का भुगतान करेगा।

गोयनका ने एक कॉन्फ्रेंस कॉल के दौरान कहा कि विलय की प्रक्रिया पूरी होने तक ‘सोनी’ और ‘जी’ के बीच कोई समझौता नहीं हो सकता है। उन्होंने का कहा, ‘जब तक विलय की प्रक्रिया पूरी नहीं हो जाती, तब तक हम साथ नहीं आ सकते और इसलिए, हम विभिन्न स्पोर्ट्स टूर्नामेंट के प्रसारण अधिकार के लिए बोली लगाने पर विचार करेंगे। फिर चाहे वह IPL हो या कोई और दूसरा स्पोर्ट्स इवेंट, क्योंकि हमने खेलों में प्रवेश करने के लिए काफी सोच समझकर फैसला लिया है।’

मर्जर वाली संयुक्त कंपनी पर होने वाले 1.57 बिलियन अमेरिकी डॉलर निवेश को लेकर गोयनका ने कहा, इस पूंजी का इस्तेमाल मर्जर के बाद बनने वाली कंपनी के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म का तेजी से विस्तार करने और खेलों के प्रसारण अधिकार हासिल करने सहित विभिन्न प्रीमियम कंटेंट के लिए किया जाएगा।

मर्जर के बाद, ZEE को सोनी के 10 स्पोर्ट्स चैनल्स का एक्सेस मिल जाएगा जिसमें हाल ही में लॉन्च किया गया क्षेत्रीय चैनल 'टेन 4' भी शामिल है। अन्य स्पोर्ट्स चैनल्स में ‘सोनी सिक्स’, ‘सोनी टेन 1’, ‘सोनी टेन 2’ और ‘सोनी 3’ के साथ इन सभी चैनलों के HD वर्जन शामिल हैं।

गोयनका ने कहा, ‘मर्जर के बाद मुख्य रूप से रेवेन्यू का ध्यान रखा जाएगा और हमारे बीच कॉस्ट व रेवेन्यू के लिए 6-8 फीसदी तालमेल होना चाहिए, जिसका एक बड़ा हिस्सा रेवेन्यू से आएगा और कुछ हिस्सा कॉस्ट से आएगा। लिहाजा हमारा फोकस रेवेन्यू पर ज्यादा होगा, क्योंकि कॉस्ट सिनर्जी समय के साथ होगी।’

पुनीत गोयनका ने कहा कि संयुक्त कंपनी को अस्तित्व में आने के लिए अभी कई प्रक्रिया बाकी है। इस दिशा में अगला कदम सभी जरूरी रेगुलेटर्स और शेयरहोल्डरों से मंजूरी हासिल करना शामिल हैं। गोयनका ने कहा कि विलय के साथ ZEE ब्रैंड नई संयुक्त कंपनी का हिस्सा बन जाएगा और यह नई संयुक्त कंपनी तय करेगी कि वह कौन से ब्रैंड को और कितने समय तक रखना चाहती है। उन्होंने कहा कि इस साझेदारी से हम अपने ग्राहकों को बेहतर कंटेंट सर्विस अलग-अलग प्लेटफॉर्म प्रदान करेंगे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मीडिया इंडस्ट्री में 2021 की बड़ी डील: कुछ हुईं सफल, कुछ नहीं चढ़ सकीं परवान

साल 2021 अपने सफर के अंतिम पड़ाव पर है। पूरी दुनिया नए साल का बेसब्री से इंतजार कर रही है, क्योंकि साल 2020 और 2021 ने न सिर्फ लोगों के जहन पर, बल्कि तमाम इंडस्ट्री पर भी गहरा प्रभाव डाला है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 31 December, 2021
Last Modified:
Friday, 31 December, 2021
yearender2021

साल 2021 अपने सफर के अंतिम पड़ाव पर है। पूरी दुनिया नए साल का बेसब्री से इंतजार कर रही है, क्योंकि साल 2020 और 2021 ने न सिर्फ लोगों के जहन पर, बल्कि तमाम इंडस्ट्री पर भी गहरा प्रभाव डाला है। साल 2021 की शुरुआत में कोरोना का कहर धीरे-धीरे थमने लगा था, जिसके चलते लोगों को उम्मीद थी कि यह साल बीते साल (2020) के मुकाबले कम तबाही लाएगा, लेकिन हुआ इसका उल्टा। तबाही का मंजर देख लोग सहम गए, हर तरफ ऑक्सीजन की मांग को लेकर चीख-पुकार थी, तो कहीं था अपनों को खोने का गम। देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो रही थी, रोजगार छिन रहा था, लेकिन फिर भी इन सबके बीच कुछ ऐसा हो रहा था जो अर्थव्यवस्था के लिहाज से अच्छा था। दरअसल कुछ ऐसी कंपनियां थीं, जो अपनी स्ट्रैटेजी के चलते न केवल कई कंपनियों के लिए प्रेरणा बनीं, बल्कि कोरोना काल के बीच ऐसी डील भी कीं, जिससे उनके बिजनेस को नए पंख लग सके। वहीं कुछ ऐसी कंपनियां भी रहीं, जो अपना अस्तित्व बचाने के लिए दूसरी कंपनी में मर्ज हो गई, तो वहीं कुछ की डील टूटी भी। आइए एक नजर डालते हैं ऐसी ही मीडिया और सोशल मीडिया कंपनियों के बीच की डील पर-

Twitter- Breaker डील-

महीना था जनवरी, कंपनियों के बीच डील की शुरुआत हो चुकी थी, जब खबर आयी कि माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ‘ट्विटर’ (Twitter) ने  पॉडकास्ट ऐप  ‘ब्रेकर’ (Breaker) का अधिग्रहण कर लिया है। हालांकि, इस सौदे की वित्तीय शर्तों का खुलासा नहीं किया गया। ब्रेकर की ओर से कहा गया कि इस अधिग्रहण के बाद वह अपने ऐप और वेबसाइट को 15 जनवरी 2021 को बंद कर देगा और उसकी टीम ट्विटर को जॉइन कर लेगी।

ब्रेकर के सीईओ एरिक बर्लिन (Erik Berlin) ने अपने ब्लॉग में लिखा था, ‘हम इस बात को लेकर काफी उत्साहित हैं कि ब्रेकर की टीम ट्विटर को जॉइन कर रही है। हम वास्तव में ऑडियो कम्युनिकेशन को लेकर काफी उत्साहित हैं और ट्विटर दुनिया भर के लोगों के लिए जिस तरह से सार्वजनिक बातचीत की सुविधा प्रदान कर रहा है, उससे हम काफी प्रेरित हैं।’ 

फेसबुक व न्यूज कॉर्प डील-

लंबी लड़ाई के बाद इस साल मार्च में ऑस्ट्रेलिया में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक और मीडिया कंपनी ‘न्यूज कॉर्प’ के बीच सहमति बनी और इसके तहत फेसबुक ने अब खबरों के भुगतान की बात कही। सहमति बनने के करीब तीन हफ्ते पहले ऑस्ट्रेलिया की संसद ने एक कानून पारित किया था, जिसके तहत डिजिटल कंपनियों को खबरें दिखाने के लिए भुगतान करना जरूरी कर दिया गया था।

न्यूयॉर्क स्थित ‘न्यूज कॉर्प’ विशेष तौर पर अमेरिका, ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया में समाचार देता है। इस मौके पर ‘न्यूज कॉर्प’ का कहना था कि उसने फेसबुक के साथ कई साल का एक समझौता किया है। यह समझौता गूगल के साथ पिछले महीने किए गए समझौते से मिलता-जुलता है।

न्यूज कॉर्प ने एक बयान में बताया था कि ‘स्काई न्यूज ऑस्ट्रेलिया’, न्यूज कॉर्प ऑस्ट्रेलिया की सहायक कंपनी है और उसने भी एक नया समझौता किया है, जो मौजूदा फेसबुक समझौते पर आधारित है। इससे पहले, फेसबुक ने तीन स्वतंत्र समाचार संस्थानों ‘प्राइवेट मीडिया’, ‘स्वाट्ज मीडिया’ और ‘सोलस्टिक मीडिया’ के साथ आशय पत्रों पर हस्ताक्षर किए थे।

म्यूजिक ब्रॉडकास्ट लिमिटेड - रिलायंस ब्रॉडकास्ट नेटवर्क लिमिटेड डील-

अप्रैल में एक डील थी, जो परवान नहीं चढ़ सकी। दरअसल, ‘जागरण प्रकाशन’ (jagran Prakashan) के स्वामित्व वाली कंपनी 'म्यूजिक ब्रॉडकास्ट लिमिटेड', जो ‘रेडियो सिटी’ (Radio City) की मालिक है और इसका संचालन करती है, ने ‘बिग एफएम’ (Big FM) के अधिग्रहण के लिए ‘रिलायंस ब्रॉडकास्ट नेटवर्क लिमिटेड’ (RBNL) के साथ अपने 1050 करोड़ रुपए के अधिग्रहण सौदे को समाप्त कर दिया। उस समय ऐसी खबरें आयीं कि दोनों पक्षों को सूचना-प्रसारण मंत्रालय की ओर से मंजूरी नहीं मिली, जिसके चलते ही यह अधिग्रहण सौदा रद्द किया गया और समझौते की शर्तों के साथ यह समय सीमा समाप्त हो गयी।

News Broadcasters Federation व ARTBI डील-

इस साल जून में न्यूज इंडस्ट्री से जुड़े मुद्दे सुलझाने और न्यूज ब्रॉडकास्टर्स के हितों की रक्षा के लिए गठित ‘न्यूज ब्रॉडकास्टर्स फेडरेशन’ (News Broadcasters Federation) में ‘एसोसिएशन ऑफ रीजनल टीवी ब्रॉडकास्टर्स ऑफ इंडिया’ (ARTBI) का विलय हो गया।

तब फेडरेशन की ओर से एक बयान जारी किया गया था, जिसमें कहा गया था, ‘एनबीएफ के गवर्निंग बोर्ड की बैठक में इस निर्णय की पुष्टि की गई है, जोकि बहुत ही महत्वपूर्ण निर्णय है। इससे क्षेत्रीय समाचार चैनल्स और उनके डिजिटल प्लेटफॉर्म्स को नियामकीय जरूरतों (regulatory requirements) को समझने और उनका पालन करने में मदद मिलेगी।’

‘एनबीएफ’ का कहना था कि इस कदम का उद्देश्य बड़े पैमाने पर लोकहित में फेडरेशन को 'अधिक लोकतांत्रिक, विविध और भावनात्मक रूप से एकजुट' कर न्यूज ब्रॉडकास्टिंग इंडस्ट्री को और मजबूत करना है।

iTV Network - The Real Kashmir News डील-

जुलाई में देश के बड़े न्यूज ब्रॉडकास्टर्स में शुमार ‘आईटीवी नेटवर्क’ (iTV Network) से खबर आयी कि इस मीडिया नेटवर्क ने ‘द रियल कश्मीर न्यूज’ (The Real Kashmir News) में बड़ी हिस्सेदारी हासिल की। इसके साथ ही ‘आईटीवी नेटवर्क‘ ने कश्मीर घाटी में अपनी उपस्थिति और भी मजबूत कर ली। इस डील को लेकर तब ‘आईटीवी नेटवर्क’ के फाउंडर कार्तिकेय शर्मा ने कहा था, ‘हमें ‘द रियल कश्मीर न्यूज‘ के साथ इस हिस्सेदारी की घोषणा करते हुए बहुत खुशी है। यह जम्मू-कश्मीर में ‘इंडिया न्यूज‘ की मौजूदगी को विस्तार देने के लिए हमारे रणनीतिक विस्तार का हिस्सा है।’

उन्होंने कहा था कि इस हिस्सेदारी के साथ हम जम्मू-कश्मीर के विभिन्न हिस्सों से राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय दर्शकों के लिए न्यूज साझा करेंगे। इसके अलावा ‘आईटीवी नेटवर्क’ इंडिया न्यूज जम्मू-कश्मीर लॉन्च करेगा। इसके साथ ही उनका कहना था कि घाटी से सकारात्मक खबरों को बढ़ावा देने और जम्मू-कश्मीर से ग्राउंड रिपोर्टिंग को कवर करने के लिए ‘द रियल कश्मीर न्यूज’ लगातार जुटा हुआ है।

एनडीटीवी-अडानी ग्रुप डील-

सितबंर में मार्केट में यह अफवाह तेजी से फैल रही थी कि अडानी ग्रुप एनडीटीवी का अधिग्रहण कर सकता है, जिसके बाद एनडीटीवी के शेयर की कीमतों में तेजी से उतार-चढ़ाव देखा जाने लगा। इसके बाद बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) ने दखल दिया और एनडीटीवी और अडानी ग्रुप से इस मामले में स्पष्टीकरण मांगा, जिसके जवाब में एनडीटीवी ने इसे अफवाह बताया और इस प्रकार की किसी भी बातचीत से इनकार किया था।

अपने स्पष्टीकरण में कंपनी ने कहा था कि नई दिल्ली टेलीविजन लिमिटेड के संस्थापक-प्रवर्तक और पत्रकार राधिका व प्रणय रॉय ने एनडीटीवी के स्वामित्व में बदलाव या हिस्सेदारी बेचे जाने के संदर्भ में किसी भी संस्था के साथ बातचीत न तो अभी कर रहे हैं और न की है। दोनों व्यक्तिगत रूप से और अपनी कंपनी आरआरपीआर होल्डिंग्स प्राइवेट लि. के जरिये एनडीटीवी में कुल चुकता शेयर पूंजी का 61.45 फीसदी हिस्सेदारी रखे हुए हैं।

एनडीटीवी ने सूचना में यह भी कहा था कि उसे इस बात की कोई जानकारी नहीं कि शेयर में अचानक से उछाल क्यों आया। उसने कहा, एनडीटीवी आधारहीन अफवाह पर लगाम नहीं लगा सकती और न ही इस प्रकार की आधाहीन अटकलों में शामिल होती है।

वहीं, अडानी ग्रुप ने भी मार्केट में चल रही खबरों और अटकलों का खंडन किया था। अडानी ग्रुप ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) को स्पष्ट किया था कि मीडिया हाउस में चल रहीं अधिग्रहण की खबरें 'तथ्यात्मक रूप से गलत हैं। ग्रुप ने यह भी कहा था कि मीडिया हाउस के शेयर की कीमत में जो भी उतार-चढ़ाव देखा जा रहा है कि वह पूरी तरह से बाजार संचालित है।

Share Chat - HPF Films डील

इस साल सितंबर में भारतीय सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म शेयरचैट (Share Chat) ने वीडियो उत्पादन करने वाली कंपनी ‘एचपीएफ फिल्म्स’ (HPF Films) का अधिग्रहण किया। ‘एचपीएफ फिल्म्स’ को डिजिटल कंटेंट में विशेषज्ञता हासिल है। डील फाइनल होने के बाद, कंपनी ने एक बयान में कहा था कि अधिग्रहण से शेयरचैट और इसके लघु वीडियो प्लेटफॉर्म मौज (Moj) को बेहतर कंटेंट इकोसिस्टम बनाने की दिशा में मदद मिलेगी और ब्रैंड के लिए उसके विज्ञापन समाधानों में वृद्धि होगी। वैसे कंपनी ने इस सौदे की राशि की जानकारी नहीं दी।

कंपनी के मुताबिक, 2018 में शुरू हुई एचपीएफ फिल्म्स ने वेब-सीरीज, डिजिटल ऐड, शॉर्ट फिल्म्स और विभिन्न प्रकार के 20 से अधिक ब्रैंड्स के लिए डॉक्यूमेंट्रीज बनायी। बता दें कि इस अधिग्रहण के बाद ‘एचपीएफ फिल्म्स’ की 15 सदस्यों की टीम शेयरचैट के साथ जुड़ गयी। एचपीएफ फिल्म्स ने 12 भाषाओं में अपने वीडियो का उत्पादन और कंटेंट को विकसित किया।

NDTV-Taboola डील-

दिसंबर की शुरुआत में 'एनडीटीवी' (NDTV) ग्रुप से एक बड़ी खबर निकलकर सामने आयी थी। दरअसल, ग्रुप की डिजिटल शाखा एनडीटीवी कंवर्जेंस (NDTV Convergence) ने दुनिया के सबसे बड़े कंटेंट डिस्कवरी प्लेटफॉर्म 'तबूला' (Taboola) के साथ दस साल के लिए डील की है। माना जा रहा है दोनों के बीच करीब 750 करोड़ की यह डील न सिर्फ डिजिटल कंटेंट, बल्कि पूरे मीडिया में हुईं सबसे बड़ी डील में से एक है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, दशक भर की यह डील ट्रैफिक में बढ़ोत्तरी सहित पारस्परिक रूप से निर्धारित अनुमानों पर आधारित है। 10 साल की अवधि के विभिन्न चरणों के लिए निर्धारित लक्ष्यों को पूरा करने पर ‘एनडीटीवी कंवर्जेंस‘ को तबूला की ओर से 750 करोड़ रुपए या 100 मिलियन डॉलर का राजस्व हासिल हो सकता है।

यह डील ‘एनडीटीवी कंवर्जेंस‘ को पर्सनलाइज्‍ड कंटेंट रिकमेंडेशंस, एडिटोरियल प्‍लानिंग, मॉनिटाइजेशन और ग्रोथ स्‍ट्रैटेजी के लिए ‘तबूला‘ के पूरे पोर्टफोलियो तक तत्काल पहुंच उपलब्‍ध कराती है।

ZEEL-SPNI डील-

दिसंबर में ‘सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड’ (SPNI) और ‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड‘ (ZEEL) के बोर्ड की ओर से विलय को मंजूरी मिल गयी। दोनों कंपनियों ने इस डील से जुड़े करार पर हस्ताक्षर कर दिए। इसके तहत ‘जी एंटरटेंमेंट' का सोनी पिक्चर्स में विलय किया जाएगा।

इन दोनों कंपनियों की ओर से जारी बयान में कहा गया कि इस करार के तहत दोनों कंपनियां आपस में अपने नेटवर्क के साथ ही डिजिटल एसेट्स, प्रॉडक्शन परिचालन और प्रोग्राम लाइब्रेरी (digital assets, production operations and program libraries) का विलय करेंगी। नई संयुक्त कंपनी को भारत में सार्वजनिक रूप से सूचीबद्ध किया जाएगा। बोर्ड ने कहा कि इस मर्जर से शेयरहोल्डर और हिस्सेदारों के हितों का कोई नुकसान नहीं होगा।

बयान में कहा गया है कि इसके तहत 'सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स' के पास 1.5 बिलियन डॉलर की नकदी होगी जिसमें सोनी पिक्चर्स के वर्तमान प्रवर्तकों और जी के संस्थापक प्रवर्तकों द्वारा किये जाने वाला निवेश भी शामिल है। विलय के बाद बनने वाली कंपनी में नियंत्रक हिस्सेदारी सोनी पिक्चर्स की मूल कंपनी सोनी पिक्चर्स एंटरटेंमेंट इंक की होगी। इस कंपनी की हिस्सेदारी 50.86 प्रतिशत होगी, जबकि ‘जी’ के प्रवर्तकों की हिस्सेदारी 3.99 प्रतिशत होगी। शेष 45.15 प्रतिशत हिस्सेदारी जी के शेयरधारकों की होगी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए