भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा चलाने पर चैनल के ऊपर लगा भारी जुर्माना

भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा चलाकर आतंकवाद को बढ़ावा देने के मामले में एक ब्रिटिश टीवी चैनल पर कड़ी कार्रवाई की गई है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 15 February, 2021
Last Modified:
Monday, 15 February, 2021
TV Channel

भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा चलाकर आतंकवाद को बढ़ावा देने के मामले में एक ब्रिटिश टीवी चैनल पर कड़ी कार्रवाई की गई है। ब्रिटेन में मीडिया पर नजर रखने वाली संस्था ने  खालसा टेलीविजन (KTV) पर कुल 50,000 पाउंड यानी 50 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। इस चैनल पर यह कार्रवाई देश के सिख समुदाय को हिंसा और आतंकवाद के लिए परोक्ष तौर पर उकसाने के मामले में की गई है। इसके अलावा खालसा टीवी (KTV) पर भारत में हिंसक घटनाओं की वकालत करने और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की तस्वीर दिखाकर लोगों को भड़काने को लेकर भी कार्रवाई की गई है।

ब्रिटिश सरकार द्वारा स्वीकृत मीडिया नियामक प्राधिकरण ‘संचार कार्यालय’ (Ofcom) ने शुक्रवार को इस मामले में एक आदेश जारी किया है। यह आदेश फरवरी और नवंबर 2019 की जांच के परिणाम पर आधारित है।

अपने आदेश में संचार कार्यालय ने कहा कि KTV उसकी जांच को लेकर कार्यालय का बयान प्रसारित करे और इस तरह के संगीत वीडियो या परिचर्चा कार्यक्रम का प्रसारण फिर कभी न करे।

जांच में ये बात सामने आई है कि 2018 में चार, सात और नौ जुलाई को खालसा टीवी ने 'बग्गा एंड शेरा' गाने के लिए एक म्यूजिक वीडियो प्रसारित किया था। इस म्यूजिक वीडियो में देखा और सुना जा सकता है कि ब्रिटेन में रहने वाले सिखों से हत्या समेत हिंसा करने के लिए परोक्ष रूप से आह्वान किया जा रहा है। जांच में ये भी पाया गया कि KTV पर जो कंटेंट दिखाया गया था, उससे दर्शकों को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही थी। ऐसा करना प्रसारण नियमों का उल्लंघन है।

संचार कार्यालय ने आदेश में कहा, खालसा टेलीविजन लिमिटेड हमारे नियमों का पालन करने में विफल रहा है, जिसके चलते चैनल पर 20,000 पाउंड और 30,000 पाउंड का अर्थ दंड लगाया गया है। KTV पर 20,000 पाउंड का जुर्माना संगीत वीडियो से संबंधित है और 30,000 पाउंड का अर्थ दंड परिचर्चा कार्यक्रम को लेकर है।

बता दें कि KTV ब्रिटेन में सिख समुदाय का बड़ा टेलीविजन चैनल है। 30 मार्च 2019 को परिचर्चा कार्यक्रम 'पंथक मसले' का प्रसारण किया गया था। इस कार्यक्रम में कई मेहमानों ने आतंकवाद को बढ़ावा देने और उकसावे वाले विचार रखे। कार्यक्रम में प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन बब्बर खालसा का भी संदर्भ था, जिसके बाद संचार कार्यालय को संगीत वीडियो और परिचर्चा कार्यक्रम को लेकर कई शिकायतें मिली थीं। तमाम शिकायतों के बाद उसने जांच शुरू की थी।

जांच में ये भी बात सामने आई कि इस संगीत वीडियो में भारत की पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की तस्वीर थी। जांच टीम ने इस बात को रेखांकित किया कि वीडियो में भारतीय राज्य के खिलाफ हिंसक कृत्य की वकालत करने पर जोर दिया गया था। परिचर्चा कार्यक्रम पंजाबी में प्रसारित किया गया और संचार कार्यालय को उसका अंग्रेजी में अनुवाद कराना पड़ा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इस चैनल से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार आदित्य द्विवेदी, मिली बड़ी जिम्मेदारी

हिंदी न्यूज चैनल ‘आर9’ (R9) से इस्तीफा देने के बाद वरिष्ठ पत्रकार आदित्य द्विवेदी ने अब अपनी नई पारी की शुरुआत की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 24 February, 2021
Last Modified:
Wednesday, 24 February, 2021
Aditya Dwivedi

हिंदी न्यूज चैनल ‘आर9’ (R9) से कुछ महीनों पूर्व इस्तीफा देने के बाद वरिष्ठ पत्रकार आदित्य द्विवेदी ने अब अपनी नई पारी की शुरुआत की है। उन्होंने ‘न्यूज1इंडिया’, लखनऊ में बतौर संपादकीय प्रभारी जॉइन कर लिया है। फेसबुक पोस्ट के जरिये उन्होंने यह जानकारी दी है।

मूल रूप से कानपुर के रहने वाले आदित्य द्विवेदी को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 20 साल का अनुभव है और वह प्रिंट, टीवी व डिजिटल तीनों में काम कर चुके हैं। आदित्य ने वर्ष 2000 में कानपुर में ‘जनसत्ता’ के साथ अपने पत्रकारिता करियर की शुरुआत की थी। करीब चार साल यहां काम करने के बाद वह वर्ष 2004 में बतौर कानपुर हेड ऑनलाइन चैनल ‘ABC’ के साथ जुड़ गए। करीब तीन साल बाद उन्होंने यहां से बाय बोलकर वर्ष 2007 में ‘सहारा अखबार’ जॉइन कर लिया। वर्ष 2010 में उन्होंने अखबार से टीवी का रुख किया और ‘सहारा टीवी’ में बतौर ब्यूरो चीफ अपनी जिम्मेदारी संभाली।

करीब सात साल तक ‘सहारा टीवी’ में अपनी भूमिका निभाने के बाद उन्होंने वेब पोर्टल ‘समाजा’ के साथ नई शुरुआत की और बतौर हेड (हिंदी और अंग्रेजी) यहां जॉइन कर लिया। इसके बाद जनवरी 2020 में वे वरिष्ठ पत्रकार अमिताभ अग्निहोत्री के नेतृत्व में लॉन्च हुए न्यूज चैनल ‘R9’ से जुड़ गए थे, जहां से उन्होंने पिछले साल सितंबर में अपना इस्तीफा दे दिया था। ‘R9’ में स्पेशल करेसपॉन्डेंट के पद पर वह लखनऊ में अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे और कई महत्वपूर्ण विभागों की बीट उनके पास थी।

समाचार4मीडिया से बातचीत में ‘न्यूज1इंडिया’ के एडिटर-इन-चीफ अनुराग चड्ढा का कहना है, ‘आदित्य द्विवेदी काफी ऊर्जावान पत्रकार हैं। उन्हें इस इंडस्ट्री में काम करने का काफी अनुभव है। चैनल को आदित्य द्विवेदी के अनुभव का काफी लाभ मिलेगा।’

समाचार4मीडिया की ओर से आदित्य द्विवेदी को उनकी नई पारी के लिए ढेरों शुभकामनाएं। आदित्य द्विवेदी द्वारा अपनी नई पारी के बारे में की गई फेसबुक पोस्ट को आप यहां देख सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूज चैनल्स की रेटिंग को लेकर सूचना प्रसारण मंत्रालय ने BARC को लिखा लेटर, कही ये बात

कुछ दिनों पूर्व ही न्यूज ब्रॉडकास्टर्स फेडरेशन ने सूचना प्रसारण मंत्री को पत्र लिखकर इस मामले में हस्तक्षेप की गुजारिश की थी।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 24 February, 2021
Last Modified:
Wednesday, 24 February, 2021
News Channel

न्यूज चैनल्स की रेटिंग रोके जाने को लेकर चल रहे विवाद के बीच ‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) ने ‘ब्रॉडकास्टर्स ऑडियंस रिसर्च काउंसिल’ (BARC)  को एक पत्र लिखा है। इस पत्र में कहा गया है कि मंत्रालय जब तक मामले की जांच के लिए गठित समिति की रिपोर्ट का पूरी तरह अध्ययन न कर ले, तब तक यथास्थिति बनाए रखी जाए।

सूचना प्रसारण मंत्रालय ने इस संबंध में BARC को एक लेटर लिखा है। इस बारे में एमआईबी के अंडर सेक्रेट्री पी नागराजन की ओर से कहा गया है, ‘जैसा कि आप सभी को पता है कि मंत्रालय द्वारा चार नवंबर 2020 को प्रसार भारती (Prasar Bharati) के सीईओ शशि शेखर वेम्पती की अध्यक्षता में एक कमेटी गठित की गई थी। रेटिंग के कथित रूप से हेरफेर को लेकर हंगामे के बाद इसे देश में टीआरपी सिस्टम को मजबूत करने के लिए नियुक्त किया गया था। इस समिति में तीन अन्य विशेषज्ञों को शामिल किया गया था। समिति ने पिछले सप्ताह सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को अपनी रिपोर्ट सौंप दी है। अभी इस रिपोर्ट का अध्ययन किया जा रहा है। ऐसे में बार्क को कहा गया है कि मामले में यथास्थिति बनाए रखी जाए।’

बता दें कि ‘न्यूज ब्रॉडकास्टर्स फेडरेशन’ (News Broadcasters Federation) ने पिछले दिनों BARC से न्यूज चैनल्स की रेटिंग तुरंत प्रभाव से जारी करने की मांग की थी। वरिष्ठ टीवी पत्रकार अरनब गोस्वामी के नेतृत्व वाले ‘न्यूज ब्रॉडकास्टर्स फेडरेशन’ ने इस बारे में सूचना प्रसारण मंत्रालय से हस्तक्षेप करने की मांग की थी। सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को लिखे इस पत्र में ‘एनबीएफ’ का कहना था कि वे BARC के किसी भी बदलाव के लिए तैयार हैं, लेकिन पूरी तरह से रेटिंग्स की गैरमौजूदगी ने न्यूज चैनल्स की अर्थव्यवस्था को बुरी तरह प्रभावित किया है।   

एनबीएफ की ओर से एमआईबी को लिखे लेटर में कहा गया था, ‘हम BARC में स्टेकहोल्डर्स हैं। डाटा मीजरमेंट हमारी ब्रॉडकास्ट इंडस्ट्री की लाइफलाइन है। पूर्व में भी डाटा में हेरफेर की घटनाएं हुई हैं, लेकिन डाटा जारी करना बंद कर देना इसका समाधान नहीं है। इसमें सुधार तभी हो सकता है, जब डाटा का प्रवाह लगातार हो। यह सुधार की एक सतत प्रक्रिया है। हम विनम्रतापूर्वक आपसे इस मामले में तत्काल हस्तक्षेप करने का अनुरोध कर रहे हैं।’

दूसरी ओर, निजी टेलिविजन न्यूज चैनल्स का प्रतिनिधित्व करने वाले समूह ‘न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन’ (NBA) ने अभी तक रेटिंग्स जारी करने की कोई मांग नहीं उठाई है। हालांकि एनबीए ने ‘ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल’ (BARC) इंडिया से डाटा को सुरक्षित बनाए रखने के बारे में पिछले महीनों में उठाए गए ठोस कदमों की जानकारी मांगी है। एनबीए बोर्ड के अनुसार, महीना दर महीना जारी किए गए गलत डाटा ने न केवल इसकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाया है, बल्कि न्यूज ब्रॉडकास्टर्स को भारी वित्तीय नुकसान भी पहुंचाया है, जिसके लिए BARC को अपना स्पष्टीकरण देना चाहिए कि उसने तीन महीनें में डाटा की सुरक्षा के लिए क्या कदम उठाए हैं। फिलहाल इस बारे में BARC की ओर से कोई आधिकारिक प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई है।

बता दें कि टीआरपी से छेड़छाड़ (TRP manipulation) के मामले को लेकर मचे घमासान के बीच ‘ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल’ (BARC) ने 15 अक्टूबर 2020 को 12 हफ्ते के लिए न्यूज चैनल्स की रेटिंग्‍स न जारी करने का फैसला लिया था, जिसकी समय सीमा 15 जनवरी को समाप्त हो चुकी है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इन TV चैनल्स को मिली DD के फ्रीडिश स्लॉट की नीलामी में सफलता

22 फरवरी से शुरू हुई पांच दिवसीय ई-नीलामी विभिन्न राउंड्स में आयोजित की जाएगी।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 24 February, 2021
Last Modified:
Wednesday, 24 February, 2021
Free Dish

नेशनल पब्लिक ब्रॉडकास्टर ‘प्रसार भारती’ द्वारा ‘दूरदर्शन’ के डायरेक्ट टू होम (DTH) प्लेटफॉर्म ‘फ्रीडिश’ पर MPEG-2 स्लॉट्स के आवंटन के लिए 52वीं ई-नीलामी सोमवार से शुरू हो गई है। इस प्रक्रिया में कुछ चैनल्स ने पहले ही स्लॉट्स जीत लिए हैं। अनुमानित 54 स्लॉट की नीलामी की जा रही है।

सूत्रों के अनुसार, इस ई-नीलामी की A+ कैटेगरी में ‘क्यू इंडिया’ (Q India), ‘स्टार उत्सव’ (Star Utsav), ‘रिश्ते’ (Rishtey), ‘आजाद’ (Azaad) और ‘जी अनमोल’ (Zee Anmol) ने स्लॉट जीत लिए हैं। इस प्लेटफॉर्म पर नई एंट्री ‘क्यू इंडिया’ ने 16.5 करोड़ रुपये की बोली लगाकर स्लॉट जीता। ‘स्टार उत्सव’ ने 15.75 करोड़ रुपये की बोली लगाई जबकि अन्य सभी की बोली 15.55 करोड़ रुपये से 15.70 करोड़ रुपये के बीच रही।  

शुक्रवार तक चलने वाली पांच दिवसीय यह ई-नीलामी कई राउंड्स में आयोजित की जाएगी। बता दें कि इससे पहले जनवरी में प्रसार भारती ने ‘दूरदर्शन’ के डायरेक्ट टू होम (DTH) प्लेटफॉर्म ‘डीडी फ्रीडिश’ पर एक अप्रैल 2021 से 31 मार्च 2022 तक की अवधि के लिए खाली पड़े MPEG-2 स्लॉट के आवंटन के लिए तीसरी वार्षिक (52वीं ई-नीलामी) नीलामी के तहत आवेदन तक आमंत्रित किए थे। यह प्रक्रिया 22 फरवरी 2021 से शुरू हुई।  

केवल वे सैटेलाइट टीवी चैनल्स जिन्हें भारत में डाउनलिंकिंग के लिए सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा लाइसेंस प्राप्त है, उन्हें डीडी फ्रीडिश पर स्लॉट आवंटित किए जाएंगे। अंतरराष्ट्रीय टीवी चैनल्स भी इस 52वीं ई-नीलामी में भाग ले सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

युवा पत्रकार प्रदीप रावत ने अब इस चैनल के साथ शुरू किया नया सफर

आगरा के युवा व तेजतर्रार पत्रकारों में शामिल प्रदीप रावत ने अपनी नई पारी की शुरुआत की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 22 February, 2021
Last Modified:
Monday, 22 February, 2021
Pradeep Rawat

आगरा के युवा व तेजतर्रार पत्रकारों में शामिल प्रदीप रावत ने अपनी नई पारी की शुरुआत की है। उन्होंने ‘हरिभूमि मीडिया हाउस’ के सैटेलाइट चैनल ‘जनता टीवी’ (Janta TV) में बतौर संवाददाता (आगरा) जॉइन किया है। प्रदीप रावत इससे पहले करीब दो साल से दैनिक ‘स्वतंत्र हित’ में आगरा ब्यूरो की कमान संभाल रहे थे।

मूल रूप से आगरा के रहने वाले प्रदीप रावत को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 20 साल का अनुभव है। उन्होंने पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत दैनिक जागरण, ग्वालियर से की थी। इसके बाद राष्ट्रीय सहारा, मूनटीवी, पंजाब केसरी, राज एक्सप्रेस, देशबंधु व नवलोक टाइम्स में विभिन्न पदों पर अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन किया। इसके अलावा वह विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में लिखते रहते हैं।

पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो प्रदीप रावत ने 12वीं तक की शिक्षा केंद्रीय विद्यालय से ग्रहण की है। उन्होंने ग्वालियर से बैचलर ऑफ फिजिकुल एजुशेकन की पढ़ाई की है। इसके अलावा उन्होंने आगरा यूनिवर्सिटी से मास्टर ऑफ जर्नलिज्म की पढ़ाई की है। समाचार4मीडिया की ओर से प्रदीप रावत को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दो टीवी चैनलों के दफ्तरों में जमकर तोड़फोड़, हमलावरों ने स्टाफ को भी पीटा

पाकिस्तान (Pakistan) में दो टीवी चैनलों पर कुछ उपद्रवियों ने हमला कर दिया और दफ्तरों में जमकर तोड़फोड़ की।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 22 February, 2021
Last Modified:
Monday, 22 February, 2021
Channel454

पाकिस्तान (Pakistan) में दो टीवी चैनलों पर कुछ उपद्रवियों ने हमला कर दिया और दफ्तरों में जमकर तोड़फोड़ की। बताया जा रहा है कि ये हमला कॉमेडी शो में किए गए मजाक को लेकर किया गया है। टीवी शो पर आरोप लगाए जा रहे हैं कि इसके जरिए सिंध प्रांत और सिंधी भाषी लोगों का मजाक बनाया जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक, गुस्साए लोग रविवार को ‘जियो न्यूज’ और ‘जंग न्यूज’ के ऑफिस में घुस आए। उन्हें रोकने का काफी प्रयास भी किया गया, लेकिन वे नहीं माने और ऑफिस के अंदर घुस आए। उन्होंने जमकर तोड़फोड़ मचाई और स्टाफ के साथ मारपीट भी की।

स्थानीय मीडिया द्वारा जारी की गई टीवी फुटेज के मुताबिक, जगह-जगह बिखरा सामान, टूटे शीशे साफ देखे जा सकते हैं।

वहीं, टीवी चैनल के शो ‘खबरनाक’ के होस्ट इरशाद भट्टी ने बयान देकर कहा है कि उनका मकसद किसी का अपमान करना नहीं था। दरअसल, अपने इसी शो में सिंधी लोगों पर की गई पत्रकार इरशाद भट्टी की टिप्पणियों से ही लोगों में नाराजगी है।  इस महीने के शुरुआत में इरशाद भट्टी ने सिंधी समुदाय के लोगों को अपने कार्यक्रम में 'भूखा-नंगा' (भूखा और नंगा) कहा, तो लोगों का धैर्य टूट गया और विरोध प्रदर्शन करने लगे।

पत्रकार इरशाद भट्टी ने कार्यक्रम की शुरुआत में भिखारी-नंगे लोगों के करोड़पति नेता के तौर पर पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी को इंट्रोड्यूस किया। फिर कहा था कि सिंध में बहुत से भीख मांगने वाले लोग हैं। उन्होंने यह भी कहा कि बहुत से भोले-भाले लोग जरदारी की रैलियों में शामिल होने आते हैं, जिन्हें इसके लिए भुगतान भी नहीं किया जाता है। इरशाद ने कहा कि भूखे-नंगे लोगों को पैसे का वादा करके पीपीपी रैलियों में लाया जाता है, लेकिन बाद में उन्हें भुगतान भी नहीं किया जाता है।

वहीं इस हमले को लेकर, पत्रकार जेबुनिसा बुरकी ने कहा कि पुलिस की आंखों के सामने यह सब हुआ। जब पुलिस को सूचना दी गई, तब तक भी हमलावर वहीं थे।

जियो न्यूज के प्रबंध निदेशक अजहर अब्बास ने ट्वीट कर इस हमले की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा, ‘जियो और जंग के ऑफिस पर हुए हमले की कड़ी निंदा करते हैं। उन्होंने रिसेप्शन एरिया में तोड़फोड़ की और हमारे कैमरामैन के साथ मारपीट भी की। आखिर सरकार कहा है?’

 

जियो न्यूज कराची के पत्रकार फहीम सिद्दिकी ने कहा कि भट्टी ने स्पष्टीकरण देने के बाद माफी भी मांगी थी। ऐसे में यह नहीं होना चाहिए था। इस विरोध प्रदर्शन के बारे में पहले से पता था, फिर भी पुलिस ने कुछ नहीं किया। कोई सुरक्षा न्यूज चैनल को मुहैया नहीं कराई गई। हम इस घटना के पीछे लोगों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग करते हैं।

वहीं, सिंध के सूचना मंत्री नासिर हुसैन शाह ने घटना की निंदा करते हुए कहा कि हम मामले की जांच कर रहे हैं। सिंध के मुख्यमंत्री मुराद अली ने भी कहा कि उन्होंने इस घटना की जांच के आदेश दे दिए हैं और जियो न्यूज के प्रबंध निदेशक से इस बारे में बात भी की है। हालांकि विपक्षी दल इस घटना के बाद इमरान सरकार पर सवाल उठा रहा है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

युवा TV पत्रकार सुकन्या सिंह ने अब इस मीडिया ग्रुप के साथ किया नए सफर का आगाज

युवा महिला पत्रकार सुकन्या सिंह ने ‘टीवी18’ (TV 18) ग्रुप में करीब साढ़े छह साल लंबी अपनी पारी को विराम दे दिया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 20 February, 2021
Last Modified:
Saturday, 20 February, 2021
Sukanya Singh

युवा महिला पत्रकार सुकन्या सिंह ने ‘टीवी18’ (TV 18) ग्रुप में करीब साढ़े छह साल लंबी अपनी पारी को विराम दे दिया है। वह ‘न्यूज18’ (बिहार/झारखंड) में बतौर न्यूज एंकर अपनी जिम्मेदारी संभाल रही थीं। बिहार में टीवी न्यूज का बड़ा चेहरा रहीं सुकन्या सिंह चैनल के मेन डिबेट शो ‘बहस बिहार की’ को होस्ट करती थीं। 

सुकन्या सिंह ने अब अपना नया सफर ‘टीवी टुडे’ (TV Today) नेटवर्क के साथ शुरू किया है। उन्होंने समूह के चैनल ‘बिहारतक’ (BihatTak) में बतौर प्रड्यूसर कम एंकर जॉइन किया है। वह फिल्मसिटी, नोएडा से अपना कामकाम देखेंगी।

मूल रूप से दरभंगा, बिहार की रहने वाली सुकन्या सिंह को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 10 साल का अनुभव है। सुकन्या सिंह ने पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत ‘आईबीएन7’ (IBN7) के साथ की थी। अपने अब तक के करियर में वह ‘महुआ टीवी’ (MahuaaTV), ‘इंडिया न्यूज’ (India News) समेत कई चैनल्स में कई जिम्मेदारी निभा चुकी हैं।

सुकन्या सिंह सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहती हैं और उनकी फैन फॉलोइंग भी काफी है। सोशल मीडिया पर करीब 50 हजार लोग उन्हें फॉलो करते हैं। सुकन्या सिंह ने कोरोनावायरस महामारी में लगातार 14 दिनों तक 12 घंटे की शिफ्ट में काम किया था, जिस पर टीवी18 ग्रुप के शीर्ष प्रबंधन ने उनके हौसले व जज्बे की काफी प्रशंसा की थी।

दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएट सुकन्या सिंह ने ‘सेंटर फॉर रिसर्च इन आर्ट ऑफ फिल्म एंड टेलिविजन’ (CRAFT), दिल्ली से जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन में पीजी डिप्लोमा किया है। नौकरी के साथ-साथ वह मास्टर ऑफ आर्ट्स इन जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन (MAJMC) की पढ़ाई भी कर रही हैं। वहीं, उनके पति सेना में मेजर के पद पर तैनात रहकर देश की सेवा में जुटे हुए हैं।

समाचार4मीडिया की ओर से सुकन्या सिंह को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

युवा पत्रकार यतेंद्र शर्मा ने इस चैनल के साथ शुरू किया नया सफर

‘इंडिया न्यूज’ में लंबी पारी खेलने के बाद यतेंद्र शर्मा ने कुछ दिन पूर्व वहां से इस्तीफा दे दिया था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 20 February, 2021
Last Modified:
Saturday, 20 February, 2021
Yatendra Sharma

पॉलिटिकल खबरों में बीजेपी और सरकार की बड़ी खबरें ब्रेक करने के लिए पहचाने जाने वाले टीवी पत्रकार यतेंद्र शर्मा ने ‘टीवी18’ (TV 18) ग्रुप जॉइन कर लिया है। उन्होंने इस ग्रुप के हिंदी न्यूज़ चैनल ‘न्यूज18 इंडिया’ के साथ अपनी नई पारी शुरू की है। यतेंद्र ने अपने फेसबुक और ट्विटर अकाउंट पर यह जानकारी शेयर की है।

इससे पहले यतेंद्र शर्मा ने ‘इंडिया न्यूज’ में अपनी लंबी पारी खेली थी। जहां कई बड़ी खबरें उन्होंने ब्रेक की थी। हालांकि इंडिया न्यूज प्रबंधन यतेंद्र का इस्तीफ़ा स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं था। एंकरिंग के साथ साथ पॉलिटिकल बीट पर बीजेपी व RSS के साथ साथ-साथ कई मंत्रालयों पर अच्छी पकड़ के लिये यतेंद्र शर्मा को जाना जाता है। इसके साथ ही यतेंद्र शर्मा के कई चुनावी शो यूपी और हरियाणा में ‘चौपाल और किस्सा कुर्सी का’ काफ़ी लोकप्रिय रहे थे।

आडवाणी का नेता विपक्ष से इस्तीफ़ा किस तारीख को होगा या उमा भारती की बीजेपी में वापसी की डेट तक यतेंद्र शर्मा ने सबसे पहले ब्रेक की थी। जहां सभी चैनल नितिन गडकरी के दूसर कार्यकाल की घोषणा कर रहे थे, वहीं यतेंद्र ने राजनाथ सिंह को फिर से राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने की खबर ब्रेक करके सभी को चौंका दिया था। राजनाथ सिंह गाजियाबाद लोकसभा से नहीं, बल्कि लखनऊ से चुनाव लड़ेंगे, यह यतेंद्र शर्मा ने महीनों पहले बता दिया था। इसके अलावा योगी बनेंगे यूपी के मुख्यमंत्री, त्रिवेन्द्र सिंह रावत उत्तराखंड के सीएम, जयराम ठाकुर हिमाचल के, विजय रूपानी फिर से गुजरात के सीएम बनेंगे, ये सभी बड़ी खबरें यतेंद्र ने सबसे पहले ब्रेक की थीं।

इसके अलावा आम आदमी से जुड़ी कई जमीनी स्टोरीज भी यतेंद्र ने की। इनमें गोरखपुर के वनटंगिया क्षेत्र में रहने वाले लोगों की दुर्दशा की कहानी या फिर मोदी के लोकसभा क्षेत्र में रह रहे मुसहर समुदाय की गरीबी और लाचारी, माणिक सरकार में त्रिपुरा की राजधानी से महज कुछ ही दूरी पर रह रहे लोग किस तरह गंदे नाले का पानी पीने को मजबूर हैं, आदि शामिल हैं।

समाचार4मीडिया की ओर से यतेंद्र शर्मा को उनकी नई पारी के लिए ढेरों शुभकामनाएं। यतेंद्र शर्मा की ओर से फेसबुक पर की गई अपनी नई पारी की घोषणा संबंधी पोस्ट का स्क्रीन शॉट आप यहां देख सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अविनाश पांडेय ने बताया, क्यों न्यूज चैनल्स का फोकस अब गंभीर पत्रकारिता की ओर हो गया है

‘पिच मैडिसन एडवर्टाइजिंग रिपोर्ट’ (PMAR) 2021 जारी होने के दौरान ‘एबीपी नेटवर्क’ के सीईओ अविनाश पाण्डेय ने रखी अपनी बात

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 19 February, 2021
Last Modified:
Friday, 19 February, 2021
Avinash Pandey

‘एबीपी नेटवर्क’ (ABP Network) के सीईओ अविनाश पाण्डेय का कहना है कि देश में संपूर्ण रेटिंग प्रणाली को टीवी सीरियल्स को मापने के लिए डिजाइन किया गया है न कि न्यूज के लिए। ‘पिच मैडिसन एडवर्टाइजिंग रिपोर्ट’ (PMAR) 2021 जारी होने के मौके पर अविनाश पांडेय ने बताया कि रेटिंग पॉइन्ट्स की अनुपस्थिति में न्यूज चैनल्स का फोकस शोरशराबा मचाने से हटकर किस तरह गंभीर पत्रकारिता की ओर हो गया है।

अविनाश पांडेय के अनुसार, ‘सेलिब्रिटीज अथवा आम आदमी की मौतों पर किसी तरह की फिक्शन स्टोरीज नहीं लिखी जा रही है। तैयार किया गया कंटेंट न्यूज चैनल्स से लगभग गायब हो गया है और चैनल्स प्रासंगिक मुद्दों जैसे- किसानों की रैलियां, प्रधानमंत्री के भाषणों को कवर कर रहे हैं और नीतिगत मुद्दों पर चर्चा कर रहे हैं’   

पटना में पिछले दिनों घर के पास हुए इंडिगो मैनेजर की हत्या के मामले का उदाहरण देते हुए अविनाश पांडेय ने कहा कि इस तरह की घटनाओं में रेटिंग पूरी स्टोरी को महिला, राजनीति और ड्रामा जैसे तमाम अनावश्यक एंगल्स में उलझा देगी, क्योंकि इस तरह की चीजों को लोग ज्यादा देखेंगे और चैनल की रेटिंग बढ़ेगी। देश में पूरे रेटिंग सिस्टम को सिर्फ टीवी सीरियल्स को मापने के लिए डिजाइन किया गया है न कि न्यूज के लिए।

अविनाश पांडेय का यह भी कहना था कि BARC के डाटा को मापते समय बदलती सरकारी नीतियों पर विचार नहीं किया गया है। यूजर्स और सर्विस प्रोवाइडर्स पुरानी नीतियों पर ही चल रहे हैं। ऐसे में व्युअरशिप पैटर्न में हुए बदलाव BARC की ओर से उपलब्ध कराए गए डाटा में परिलक्षित नहीं हो रहे हैं।  

मौजूदा प्रणाली की खामियों की ओर इशारा करते हुए अविनाश पांडेय ने सुझाव दिया कि इंडस्ट्री के पास मजबूत RPD (Return Path Data) डाटा होना चाहिए। अभी 44000 घरों में मीटर लगे हुए हैं, लेकिन मेरा मानना है कि सैंपल जुटाने के लिए मीटर लगे घरों की संख्या पांच लाख से कम नहीं होनी चाहिए और घरों का चयन मैनुअली करने के स्थान पर इसके लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करना चाहिए। इससे तमाम समस्याएं दूर हो जाएंगी, जिनका आज हम सामना कर रहे हैं। डाटा को शेयर बाजार की तरह रिपोर्ट नहीं करना चाहिए।   

अविनाश पांडेय के अनुसार, ‘BARC के कामकाज को पेशेवर मार्केटर्स और डाटा वैज्ञानिकों पर छोड़ दिया जाना चाहिए और इसके लिए हमें BARC के भीतर गंभीर कॉरपोरेट प्रशासन में सुधार की आवश्यकता है।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रजत शर्मा ने अपने जन्मदिन को कुछ यूं बनाया खास, बाबा रामदेव ने भी की तारीफ

हिंदी न्यूज चैनल 'इंडिया टीवी' (India Tv) के चेयरमैन और एडिटर-इन-चीफ रजत शर्मा आज अपना 64वां जन्मदिन मना रहे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 18 February, 2021
Last Modified:
Thursday, 18 February, 2021
Birthday54454

हिंदी न्यूज चैनल 'इंडिया टीवी' (India Tv) के चेयरमैन और एडिटर-इन-चीफ रजत शर्मा आज अपना 64वां जन्मदिन मना रहे हैं। इस खास मौके पर उन्होंने उत्तराखंड के चमोली आपदा पीड़ितों की मदद कर राष्ट्र प्रेम की मिसाल कायम की है। उन्होंने अपने बर्थडे पर पीड़ित मजदूरों के लिए 64 लाख रुपए का योगदान दिया है।

रजत शर्मा ने अपने जन्मदिन पर ट्वीट किया, ‘कई लोगों ने पूछा कि इस बार जन्मदिन कैसे मनाओगे। शास्त्रों में कहा गया है, ‘अपने लिए तो सब जीते हैं, लेकिन जो परोपकार के लिए जिए, जीना उसी को कहते हैं ‘आज सबसे ज्यादा जरूरत उत्तराखंड के पीड़ित मजदूरों की है। 64वें जन्मदिन पर मैं उनके लिए  64 लाख रुपए का विनम्र योगदान दे रहा हूं।’

बता दें कि रजत शर्मा के इस ट्वीट के बाद ट्विटर पर #ReliefWithRajatSharma ट्रेंड हो रहा है। फिल्मी हस्तियों ने उन्हें सोशल मीडिया के जरिए जन्मदिन की शुभकामनाएं दी हैं। वहीं उनके इस सराहनीय कदम की भी हर कोई तारीफ कर रहा है, जिसमें बाबा रामदेव भी शामिल हैं।  

योगगुरु स्वामी रामदेव ने ट्वीट किया,‘राष्ट्रधर्म-सेवाधर्म एवं पत्रकारिताधर्म के पुरोधा रजत शर्मा जी ने चमोली आपदा पीड़ितों की मदद कर राष्ट्रप्रेम की सराहनीय मिसाल कायम की है। #ReliefWithRajatSharma मुहिम से जुड़कर त्रासदी पीड़ितों की मदद का बीड़ा हर देशभक्त को उठाना चाहिये। रजत भाई जन्मदिन शुभ हो।’

वहीं, मशहूर सिंगर दलेर मेहंदी ने ट्वीट किया, ‘आपकी सहजता और सादगी के मुरीद तो पहले से हैं, चमोली पीड़ितों के लिये आपका सहारा बनना, दिल को छू गया। #ReliefWithRajatSharma की जितनी सराहना की जाये कम है। उम्मीद है, मेरी तरह, आपको चाहने वाले, ज़्यादा ये ज़्यादा लोग आपकी इस मुहीम से जुड़ेंगे।’

बता दें कि रजत शर्मा ‘न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन’ (NBA) के प्रेजिडेंट हैं और इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन के वाइस प्रेजिडेंट भी हैं। इसके अलावा वे ‘दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ’ (डीडीसीए) के पूर्व प्रेजिडेंट रह चुके हैं। रजत शर्मा को लोकप्रिय शो ‘आप की अदालत’ के लिए ज्यादा जाना जाता है। यह शो पिछले करीब 30 वर्षों से लगातार दर्शकों को अपनी ओर आकर्षित करने में कामयाब रहा है। इस शो के कारण, उन्हें कई बार बेस्ट एंकर अवॉर्ड से नवाजा गया है। इसके अलावा इंडियन टेलिविजन एकेडमी लाइफटाइम एचीवमेंट अवॉर्ड की उपलब्धि भी उन्हें हासिल है। उन्हें साल 2016 में पद्म भूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है। 

टेलिविजन में आने से पहले रजत शर्मा 10 वर्षों तक प्रिंट मीडिया में रहे और कई राष्ट्रीय प्रकाशनों में संपादक की भूमिका निभाई। 1995 में उन्होंने भारत के पहले प्राइवेट टेलिविजन न्यूज बुलेटिन की शुरुआत की और यह भारतीय मीडिया के इतिहास में एक मील का पत्थर साबित हुआ।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क ने जारी की अपने बंगाली चैनल की टैगलाइन

‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ बंगाली भाषा में अपना चैनल लाने की तैयारी में जोर-शोर से जुटा हुआ है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 17 February, 2021
Last Modified:
Wednesday, 17 February, 2021
Republic Bangla

‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ (Republic Media Network) ने जल्द ही लॉन्च होने वाले अपने बंगाली न्यूज चैनल ‘रिपब्लिक बांग्ला’ (Republic Bangla) ने अपनी टैगलाइन ‘Kotha hobey chokhe chokh rekhe’ की घोषणा कर दी है। यह टैगलाइन पश्चिम बंगाल में पत्रकारिता के एक नए युग की शुरुआत का संकेत देती है जो निर्भीक, एजेंडारहित और सत्य पर अडिग होगी। दरअसल, इस टैगलाइन का सीधा मतलब है कि अब सीधे आमने-सामने बात होगी।  

यह भी पढ़ें: वेस्ट बंगाल में पैर पसारने की तैयारी में रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क

बता दें कि ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ बंगाली भाषा में अपना चैनल लाने की तैयारी में जोर-शोर से जुटा हुआ है। इस चैनल की लॉन्चिंग के बारे में ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी ने पिछले साल 11 दिसंबर को घोषणा की थी। नेटवर्क की ओर से इस चैनल के लिए बड़े पैमाने पर भर्ती की गई थी। 20000 से ज्यादा आवेदकों में से 200 से ज्यादा लोगों की भर्ती की गई है और अब रिपब्लिक बांग्ला की टीम चैनल की लॉन्चिंग करने वाली है। दावा किया जा रहा है कि यह चैनल बंगाली न्यूज मार्केट में खोजी पत्रकारिता को बढ़ावा देगा और न्यूज फॉर्मेट में एक नया अध्याय लिखेगा।

बता दें कि इस विस्तार के बाद अंग्रेजी में ‘रिपब्लिक टीवी’ और हिंदी में ‘रिपब्लिक भारत’ के बाद बांग्ला में यह इस नेटवर्क का स्थानीय भाषा में पहला चैनल होगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए