अरनब गोस्वामी ने बताया रिपब्लिक की सफलता का राज

बिजनेसवर्ल्ड’ (BW Businessworld) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में अपने धमाकेदार भाषण से सबका दिल जीता

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 24 October, 2019
Last Modified:
Thursday, 24 October, 2019
Arnab Goswami

रिपब्लिक मीडिया समूह के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी ने बिजनेसवर्ल्ड’ (BW Businessworld) द्वारा आयोजित 'BW Disrupt 40 Under 40' कार्यक्रम में अपने धमाकेदार भाषण से सबका दिल जीत लिया। उन्होंने अपने विचारों को लोगों तक पहुंचाने के लिए हमेशा की तरह भारी-भरकम शब्द इस्तेमाल किये, लेकिन इस अंदाज में कि हर कोई उनका कायल हो गया। कार्यक्रम के तीसरे संस्करण में बोलने के लिए मंच पर पहुंचे अरनब ने सबसे पहले ‘बिजनेस वर्ल्ड’ और ‘एक्सचेंज4मीडिया’ के चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ अनुराग बत्रा की जमकर तारीफ की।

हालांकि, इससे पहले वो यह भी साफ करना नहीं भूले कि उन्हें असीमित समय देकर आयोजकों ने भूल की है। माइक थामते हुए चेहरे पर मुस्कान के साथ अरनब ने कहा, ‘एक बात मैं कहना चाहता हूं कि मुझे कभी भी असीमित समय और दो माइक मत दीजिये। यदि आप ऐसा करते हैं तो ये बहुत खतरनाक हो जायेगा। क्योंकि मुझमें लगातार दो घंटे बोलने की क्षमता है। जब मैं ‘टाइम्स नाउ’ में था, तब मेरा एक प्रोग्राम था ‘न्यूज ऑवर’, ये एक घंटे का प्रोग्राम था, लेकिन ये एकमात्र ऐसा प्रोग्राम बन गया था जो कभी-कभी दो घंटे 9 से 11 तक चल जाता था। यदि अब आप मुझे रिपब्लिक पर देखें तो 9 से 1 बजे तक लगातार डिबेट करता हूं। इसलिए मुझे असीमित समय देना खतरनाक है।’

अनुराग बत्रा की तारीफ करते हुए अरनब ने कहा, ‘आपके साथ यह मंच साझा करना मेरे लिए सम्मान की बात है। अनुराग जब भी मुझे अपने किसी प्रोग्राम में बुलाते हैं तो उन्हें पता होता है कि मैं उन्हें ‘न’ नहीं कह पाऊंगा और ऐसा इसलिए कि मैं अनुराग को काफी लंबे समय से देख रहा हूं। मैं जानता हूं कि इस मीडिया इंडस्ट्री में बोलने वाले कई लोग हैं, लेकिन करने वाले बेहद कम और अनुराग उन्हीं में से एक हैं जिन्होंने अपनी मेहनत से इंडस्ट्री में अपना एक अलग मुकाम बनाय है। वो एंटरप्रिन्योर हैं। मैं कहना चाहूंगा कि अनुराग इस मीडिया इंडस्ट्री में सबसे पहले एंटरप्रिन्योर हैं। जीवन में आप जो कुछ करते हैं उसमें अनुरूपता बनाये रखना जरूरी है और अनुराग बत्रा दो दशक से ज्यादा से ऐसा करते आ रहे हैं। वो कई संस्थानों में रहे और बेहतरीन काम किया। उन्होंने 25 वर्ष की उम्र में शुरुआत की, लेकिन (हंसते हुए) अभी उनकी उम्र क्या है मैं नहीं बताऊंगा। अनुराग आपके साथ मंच साझा करना मेरे लिए सम्मान की बात है।’

’मुख्य मुद्दे पर आते हुए अरनब थोड़े गंभीर हुए और कहा, ‘आज मैं एंटरप्रिन्योरशिप पर बोल रहा हूं, जैसा कि मैंने महसूस किया है, ये 40 साल से कम वालों के लिए है और मैं जो कहने जा रहा हूं वो उनके काम आएगा। मेरा पहला अनुभव है कि डिस्रप्शन (Disruption) और एंटरप्रिन्योरशिप को एक्सेल शीट पर नहीं किया जा सकता। आप कभी भी अपने व्यवसाय की योजना नहीं बना सकते। जो व्यवसाय चला रहा है उसे ये कुछ अजीब लग सकता है। यदि व्यवसाय में सबकुछ कैलकुलेशन के द्वारा किया जा सकता, यदि पेपर प्रोजेक्शन द्वारा किया जा सकता, यदि लागतों या खर्चों को संगठनात्मक संस्कृति या टीम फिलॉसफी के आधार पर प्रबंधित नहीं किया जाता, बल्कि ऑडिट टूल के आधार पर किया जाता, यदि चार्टर्ड अकाउंटेंट आपको यह बता सकते कि आपको अपना व्यवसाय कैसे चलाना है, तो हर कोई कॉस्ट सेंटर में माहिर हो सकता है। यदि व्यवसाय को एक्सेल शीट पर चलाया जा सकता है, तो हमारा देश अरबों यूनिकॉर्न का देश होता। जब मैं व्यवसाय कहता हूं, तो आप इसे एक संप्रदाय, ऑफरिंग, उत्पाद, कुटुम्ब कह सकते हैं।’

अरनब का कहना था, ‘मैंने बेस्ट अकाउंटेंट, बेस्ट ऑडिटर को संघर्ष करते देखा है। मैंने ऐसे लोगों को भी देखा है, जिन्हें नंबर की भले ही समझ न हो, लेकिन वो व्यवसाय को ज्यादा बेहतर तरह से संभालते हैं। तो मेरा पहला पॉइंट ये है कि आप एक्सेल शीट के आधार पर व्यवसाय का निर्माण नहीं कर सकते। यदि मैं अपने शुरुआती वर्षों के बारे में बात करूं तो उस समय उस समाचार चैनल को किसने सफल बनाया? क्या यह एक एक्सेल शीट थी, जिसे कोई भी बना सकता है? आप में से कई लोग मुझसे बेहतर एक्सेल शीट बना सकते हैं। वास्तव में, मुझे नहीं पता कि इसका उपयोग कैसे करना है।’

अपनी उद्यमशीलता की यात्रा के बारे में अरनब ने कहा, ‘मैंने इस देश में दो बड़े मीडिया व्यवसायों को लॉन्च किया, स्थापित किया, प्रबंधित किया और चलाया है। पहला नेटवर्क जिसकी मैंने स्थापना की थी वो था टाइम्स नेटवर्क। मुझे नहीं पता कि आप ये जानते हैं या नहीं कि हमें टाइम्स के मालिकों से इसके लिए बहुत कम पैसा मिला था। टाइम्स ऑफ इंडिया ने भी शुरुआत में टाइम्स के व्यवसाय में निवेश नहीं किया था। हमने पैसा इकठ्ठा किया। हम न्यूयॉर्क गए, रॉयटर्स के पास गए, जो दुनिया की सबसे बड़ी मल्टीमीडिया न्यूज एजेंसी है और रॉयटर्स ने हमारे व्यवसाय में निवेश किया। रॉयटर्स के ऑफिस के बाहर उन कंपनियों की लाइन लगती है,  जो चाहती हैं कि रॉयटर्स उनके यहां निवेश करे, लेकिन ये मौका हमें मिला।’

इसके साथ ही अरनब का यह भी कहना था, ‘मैं रॉयटर्स के ऑफिस में क्रिस ईहान (अध्यक्ष) के साथ बैठा था, बैंकर्स भी थे। रॉयटर्स के लोगों द्वारा पूछे गए कई वित्तीय सवालों के जवाब मुझे नहीं पता थे। तब मुझे लगा कि मैं क्या कर रहा हूं। मैं ऐसे लोगों के बीच क्यों हूं, जो बस पैसे की बात करते हैं। मैं पत्रकार हूं, मुझे पैसे की भाषा नहीं आती, मुझे लगा कि मैं कभी रॉयटर्स या कहीं और से पैसा नहीं जुटा पाऊंगा और आप विश्वास करें कि भारतीय मीडिया का हर शख्स आश्चर्यचकित था, अनुराग आप भी, जब यह घोषणा हुई कि रॉयटर्स, टाइम्स नेटवर्क में निवेश करने जा रही है और वो भी बहुत बड़ी मात्रा में। ये वर्ष 2005 की बात है, जब रॉयटर्स ने 100 करोड़ रुपए निवेश किये थे।’

अरनब ने कहा, ‘रॉयटर्स ने पैसा क्यों लगाया? ये केवल पैसे की बात नहीं थी। मुझे उस बड़ी पार्टी में बुलाया गया जो उन्होंने निवेश के मौके पर लंदन में आयोजित की थी और दो ही सालों में हमने टाइम्स नाउ को नंबर1 चैनल बना दिया। फिर रॉयटर्स का शेयर होल्डिंग स्ट्रक्चर बदल गया। मुझे नहीं पता कि आप यह जानते हैं कि नहीं, लेकिन टाइम्स ने फिर रॉयटर्स के शेयर खरीद लिए। मैं एक बार फिर लंदन में एक पार्टी में शामिल होने गया। तब मैंने रॉयटर्स के लोगों से पूछा कि अब जब आप कंपनी में भागीदारी छोड़ रहे हैं तो फिर पार्टी किसलिए, तो उस समय रॉयटर्स के प्रबंध निदेशक टॉम ग्लोसा ने कहा ये हमारा सबसे कम निवेश था, लेकिन हमें काफी कुछ मिला। इस निवेश की हमारे लिए काफी रणनीतिक वैल्यू थी। टाइम्स न्यूजरूम में हमने अलग देशों के लोगों को प्रशिक्षित किया। उद्यमशीलता की खूबसूरत संस्कृति का गवाह बने।’

अपने मौजूदा वेंचर के बारे में अरनब ने कहा, ‘व्यवसाय मेरी नजर में, इसे अन्यथा न लें, आप इसे उत्पाद कह सकते हैं। आप इसे ऑफरिंग, कंपनी भी कह सकते हैं, आप कुछ भी कह सकते हैं, क्योंकि मेरी नजर में कंपनी एक रूखा शब्द है। यदि आप मुझसे पूछेंगे कि रिपब्लिक क्या है तो मैं इसे संप्रदाय कहूंगा। हम एक जैसी सोच वाले लोगों का समुदाय हैं। हम खबर में विश्वास रखते हैं, हमें विश्वास है कि हम खबरों के योद्धा हैं। हमें विश्वास है कि हम लुटियंस मीडिया को हरा देंगे। मैं ये भी मानता हूं कि व्यवसाय दिमाग में भी नहीं बनते। यदि ऐसा होता तो सबसे बुद्धिमान लोग सबसे सफल कंपनियों का नेतृत्व कर रहे होते। खुद से पूछें कि क्या आईआईएम अहमदाबाद के स्टूडेंट सफल एंटरप्रिन्योर हैं। व्यवसायों को न तो एक्सेल शीट पर और न ही दिमाग में बनाया या जीता जा सकता है।’

इसके साथ ही अरनब गोस्वामी का यह भी कहना था, ‘जहां तक मीडिया व्यवसाय का सवाल है तो मैं कहना चाहता हूं कि मैं 14 सालों से मीडिया एंटरप्रिन्योर हूं। मुझे लगता है कि इस मामले में केवल एक ही फार्मूला काम करता है, वो जो सीधे आपके दिल को प्रभावित करे, दिमाग को नहीं। बड़े उत्पाद दिल से जुड़ाव से तैयार होते हैं, दिमाग से नहीं। दिल यहां क्या है, मैं बताता हूं।  मैंने ये कहना बंद कर दिया है कि हम नंबर 1 चैनल थे, हम सबसे तेज थे। क्योंकि उत्पाद की परिभाषा उपभोक्ता के लिए मायने नहीं रखती। हम मानते हैं कि उत्पाद की विशेषता नहीं बल्कि फिलॉसफी लोगों को एकसाथ लाती है। तो हमारी फिलॉसफी क्या है, हमारी फिलॉसफी क्या थी? मैं अपनी फिलॉसफी बताता हूं। मेरी फिलॉसफी अंग्रेजी में नेशन फर्स्ट चलाना है, यह बताना जरूरी है कि रिपब्लिक नेशन फर्स्ट, न कि रिपब्लिक, भारत का सबसे तेज न्यूज चैनल है। जब मैं कहता हूं कि ‘रिपब्लिक नेशन फर्स्ट, कोई समझौता नहीं’, तो मैं आपसे देश के प्रति अपने प्यार को सामने लाने की अपील करता हूं।’

उन्होंने कहा, ‘मैं आपसे यह अपील करता हूं कि ‘राष्ट्र सर्वोपरि’ पर ध्यान दें। पिछले हफ्ते हमने अपने चैनल पर चार प्रोमो कट किये। पहला प्रोमो चंद्रयान का था। मैं एडिटिंग रूम में गया और संपादक से कहा कि मुझे चंद्रयान के इतने शॉट नहीं चाहिए। मुझे बस एक शॉट चाहिए, रॉ शॉट चाहिए। एडिटर ने कहा कि हम एक शॉट में प्रोमो नहीं बना सकते तो मेरा कहना था कि क्यों नहीं बना सकते। मैंने कहा कि जब मैं चंद्रयान के बारे में सोचता हूं तो मैं एक शॉट के बारे में सोचता हूं। संपादक ने कहा म्यूजिक का क्या? मैंने कहा कि उसे छोड़ दो, आवाज़ ऐसी होनी चाहिए जो हम वास्तव में फीड पर सुनते हैं जैसे 10, 9,. 8. और कुछ नहीं बस इतना ही। मैं आपको ये सब इसलिए बता रहा हूं क्योंकि जब आप ये प्रोमो देखते हैं तो ये आपके दिल को छूता है, क्योंकि हम भारतीय हैं।’ इस मौके पर अरनब गोस्वामी ने अपनी भविष्य की योजनाओं पर भी प्रकाश डाला। इसके बाद अनुराग बत्रा ने उनसे कुछ सवाल भी पूछे, जिसका उन्होंने खूबसूरती के साथ जवाब दिया।

अरनब की पूरी स्पीच आप यहां देख सकते हैं:

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रूस ने मास्को में कनाडाई न्यूज चैनल को किया बंद

रूस ने बुधवार को कनाडाई न्यूज चैनल CBC के मास्को ब्यूरो पर ताला लगा दिया है।

Last Modified:
Thursday, 19 May, 2022
CBC451

रूस ने बुधवार को कनाडाई न्यूज चैनल CBC के मास्को ब्यूरो पर ताला लगा दिया है। साथ ही सीबीसी के पत्रकारों से वीजा और मान्यता भी वापस ले ली है। रूस के विदेश मंत्रालय ने बुधवार को बड़ी घोषणा की।

कनाडा द्वारा रूसी टीवी स्टेशन ‘रूस टुडे’ पर प्रतिबंध लगाने के बाद यह कदम उठाया गया है।

रूस के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया जखारोवा ने कहा, ‘हमने इस बारे में बार-बार चेतावनी दी है। हमने कहा है कि एकतरफा प्रतिबंध नहीं हो सकते हैं। ये अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का उल्लंघन है। रूसी मीडिया के सामान्य संचालन को बाधित किया जाएगा, तो उसका उत्तर हम जरूर देंगे।

इससे पहले, मार्च में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने क्रेमलिन के प्रवक्ता दिमित्री पेसकोव और व्यवसायी ओलेग डेरिपस्का सहित रूसी नेतृत्व के करीबी दस लोगों के खिलाफ प्रतिबंध लगाए थे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस बड़े पद पर अब NDTV पहुंचे वरिष्ठ TV पत्रकार रोहित विश्वकर्मा

इससे पहले रोहित विश्वकर्मा ‘आर्टिफिशयल इंटेलिजेंस’ (AI)  पर आधारित ऑनलाइन वीडियो न्यूज प्लेटफॉर्म ‘एडिटरजी’ (Editorji) में बतौर कंटेंट हेड अपनी भूमिका निभा रहे थे।

Last Modified:
Wednesday, 18 May, 2022
Rohit Vishwakarma

वरिष्ठ टीवी पत्रकार रोहित विश्वकर्मा ने ‘एनडीटीवी’ (NDTV) समूह के साथ पत्रकारिता में अपने नए सफर की शुरुआत की है। उन्होंने समूह के अंग्रेजी चैनल NDTV 24X7 में बतौर रेजिडेंट एडिटर जॉइन किया है। यहां पर वह आउटपुट की जिम्मेदारी संभालेंगे। बता दें कि इससे पहले रोहित विश्वकर्मा ‘आर्टिफिशयल इंटेलिजेंस’ (AI)  पर आधारित ऑनलाइन वीडियो न्यूज प्लेटफॉर्म ‘एडिटरजी’ (Editorji) में बतौर कंटेंट हेड अपनी भूमिका निभा रहे थे।

इससे पहले रोहित विश्वकर्मा ‘एबीपी नेटवर्क’ (ABP Network) में एडिटोरियल कंसल्टेंट के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं। हालांकि, इस पद पर उनका सफर संक्षिप्त रहा था और पिछले साल फरवरी में कॉन्ट्रैक्ट समाप्त होने पर उन्होंने यहां से इस्तीफा दे दिया था।

रोहित आउटपुट संभालने में काफी दक्ष माने जाते हैं। इससे पहले रोहित विश्वकर्मा ‘इंडिया न्यूज’ (India News) के साथ डिप्टी मैनेजिंग एडिटर के तौर पर जुड़े हुए थे। इस चैनल में करीब आठ महीने की पारी के बाद उन्होंने यहां से अलविदा कहकर ‘एबीपी नेटवर्क’ जॉइन कर लिया था।

‘इंडिया न्यूज’  से पहले वह मीडिया समूह ‘टीवी9’ के स्वामित्व वाली कंपनी ‘असोसिएट ब्रॉडकास्टिंग कंपनी’ (The Associated Broadcasting Company Pvt Ltd) में कसंल्टिंग मैनेजिंग एडिटर के तौर पर कार्य कर चुके हैं।

साल 2004 में देश के प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान ‘आईआईएमसी’ के छात्र रह चुके रोहित ने अपने करियर की शुरुआत ‘स्टार न्यूज’ (अब एबीपी न्यूज) के साथ की थी। उन्होंने वर्ष 2004 से 2008 तक विभिन्न पदों पर रहते हुए प्रड्यूसर तक की जिम्मेदारी संभाली। यहां उन्हें एंकरिंग करने का भी मौका मिला। उन्होंने ज्योतिष पर आधारित कार्यक्रम ‘तीन देवियां’ की भी शुरुआत की थी। इसके अतिरिक्त उन्हें स्पोर्ट्स, बिजनेस और कई अन्य सोशल मुद्दों पर रिपोर्टिंग करने का मौका भी मिला।

रोहित विश्वकर्मा वर्ष 2008 से 2013 तक ‘इंडिया टीवी’ (India Tv) में अपनी जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। 2013 में यहां सीनियर एग्जिक्यूटिव एडिटर के पद से अलग होकर उन्होंने ‘आजतक’ (AajTak) जॉइन कर लिया था। यहां वर्ष 2019 तक उन्होंने एडिटर के तौर पर अपनी जिम्मेदारी संभाली। इसके बाद इंडिया न्यूज, एबीपी नेटवर्क और फिर एडिटरजी होते हुए अब वह यहां पहुंचे हैं।

तेलुगु, मराठी और हिंदी भाषा में अपनी प्रतिभा दिखाने के बाद अब वह अंग्रेजी में आए हैं। रोहित विश्वकर्मा तेलुगु में मोजो टीवी चैनल भी लॉन्च करा चुके हैं। समाचार4मीडिया की ओर से रोहित विश्वकर्मा को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

DTH कंपनियों ने MIB को लिखा पत्र, की ये मांग

दूरसंचार विभाग ब्रॉडबैंड सेवा कंपनियों का लाइसेंस शुल्क माफ करने के प्रस्ताव पर विचार कर रहा है, ऐसे में अब डीटीएच कंपनियों ने भी सूचना-प्रसारण मंत्रालय के समक्ष इस तरह की मांग रखी है।

Last Modified:
Tuesday, 17 May, 2022
DTH478578

दूरसंचार विभाग अभी ब्रॉडबैंड सेवा कंपनियों का लाइसेंस शुल्क माफ करने के प्रस्ताव पर विचार कर रहा है, ऐसे में अब डीटीएच (DTH) कंपनियों ने भी सूचना-प्रसारण मंत्रालय के समक्ष इस तरह की मांग रखी है। उद्योग निकाय डीटीएच एसोसिएशन का कहना है कि डायरेक्ट-टू-होम (डीटीएच) कंपनियों के मार्केट में प्रतिस्पर्धी बने रहने के लिए आठ प्रतिशत का लाइसेंस शुल्क माफ किया जाना चाहिए।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सूचना-प्रसारण मंत्रालय को 11 मई को भेजे एक पत्र में उद्योग निकाय ने कहा कि डीटीएच नेटवर्क की संख्या में तिमाही आधार पर गिरावट आ रही है।

डीटीएच एसोसिएशन ने कहा कि इस क्षेत्र में अब तक हजारों करोड़ रुपए का निवेश हो चुका है और एक लाख से अधिक प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष लोगों का रोजगार खतरे में है। डीटीएच निकाय ने यह पत्र दूरसंचार विभाग को भी लिखा है।

डीटीएच एसोसिएशन ने उपभोक्ताओं की मदद के लिए लाइसेंस शुल्क हटाने के प्रस्ताव का स्वागत करने के साथ ब्रॉडबैंड कंपनियों की तरह उनके लिए भी यही नीति लागू करने का आग्रह किया है।

गौरतलब है कि भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) ने दूरसंचार विभाग को पांच साल के लिए ब्रॉडबैंड सेवाओं पर लाइसेंस शुल्क माफ करने की सिफारिश की है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इस चैनल पर नजर आएंगी न्यूज एंकर ज्योति मिश्रा

हिंदी न्यूज चैनल ‘इंडिया टीवी’ (India TV) की एंकर ज्योति मिश्रा ने यहां अपनी पारी को विराम दे दिया है।

Last Modified:
Sunday, 15 May, 2022
Jyoti

हिंदी न्यूज चैनल ‘इंडिया टीवी’ (India TV) की एंकर ज्योति मिश्रा ने यहां अपनी पारी को विराम दे दिया है। ‘रिपोर्टर बाइक वाली’ के नाम से मशहूर ज्योति मिश्रा इस चैनल के साथ बतौर एंकर/करेसपॉन्डेंट वर्ष 2017 से जुड़ी हुई थीं। फिलहाल वे चैनल में नोटिस पीरियड पर चल रही थीं और 15 मई इस चैनल में उनका आखिरी दिन था।

बता दें कि चैनल के इलेक्शन स्पेशल शो ‘रिपोर्टर बाइक वाली’ से ज्योति को अलग पहचान मिली थी। लोकसभा चुनाव, यूपी विधानसभा चुनाव, बिहार विधानसभा चुनाव कवरेज के दौरान ज्योति मिश्रा का ये शो काफी हिट रहा।

‘इंडिया टीवी’ से अलग होने के बाद ज्योति मिश्रा अब ‘टाइम्स नेटवर्क’ के हिंदी न्यूज चैनल ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ पर नजर आएंगी। यहां पर वह बतौर स्पेशल एंकर/स्पेशल करेसपॉन्डेंट नई पारी शुरू करने जा रही हैं।  

मूल रूप से हैदराबाद की रहने वाली ज्योति मिश्रा को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 14 साल का अनुभव है। पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत उन्होंने ‘ईटीवी’, हैदराबाद से की थी। ज्योति करीब नौ साल तक ईटीवी, हैदराबाद (जिसमें करीब पांच साल न्यूज18 इंडिया) का हिस्सा रहीं।

पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो ज्योति मिश्रा ने हैदराबाद की Loyola academy से ग्रेजुएशन किया है। इसके अलावा उन्होंने चेन्नई की मदुरै कामराज यूनिवर्सिटी से मास्टर्स की पढ़ाई की है। समाचार4मीडिया की ओर से ज्योति मिश्रा को उनके नए सफर के लिए ढेरों बधाई और शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

News India को अलविदा कह युवा पत्रकार लखवीर सिंह शेखावत ने पकड़ी नई राह

मूल रूप से जयपुर (राजस्थान) के रहने वाले लखवीर सिंह को पत्रकारिता में काम करने का करीब तीन साल का अनुभव है।

Last Modified:
Saturday, 14 May, 2022
Lakhveer Singh Shekhawat.

युवा पत्रकार लखवीर सिंह शेखावत ने ‘नेटवर्क18’ (Network18) के साथ पत्रकारिता में अपने नए सफर की शुरुआत की है। उन्होंने ‘न्यूज18’ (News18) में बतौर सीनियर करेसपॉन्डेंट जॉइन किया है।

मूल रूप से जयपुर (राजस्थान) के रहने वाले लखवीर सिंह को पत्रकारिता में काम करने का करीब तीन साल का अनुभव है। उन्होंने पत्रकारिता में अपने करियर की शुरुआत हरियाणा के न्यूज चैनल ‘सिटीजंस वॉइस’ (Citizen’s Voice) से की थी।

वह इस चैनल के जयपुर ब्यूरो में अपनी जिम्मेदारी संभालते थे। यहां करीब एक साल काम करने के बाद उन्होंने यहां से बाय बोल दिया था और करीब दो साल से ‘न्यूज इंडिया’ (News India) में अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे। इसके बाद अब वह ‘न्यूज18’ पहुंचे हैं।

पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो लखवीर सिंह ने ‘जयपुर नेशनल यूनिवर्सिटी’ से पत्रकारिता में ग्रेजुएशन (BJMC) किया है। इसके अलावा उन्होंने ‘राजस्थान यूनिवर्सिटी’ से मास्टर्स (MJMC) की डिग्री ली है।समाचार4मीडिया की ओर से लखवीर सिंह शेखावत को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

'टाइम्स नाउ नवभारत' ने अपनी रेटिंग के पहले सप्ताह में की आशाजनक शुरुआत

बार्क के हिंदी न्यूज चैनल्स  की रैंकिंग में ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ (Times Now Navbharat) ने अपनी रेटिंग जारी होने के पहले सप्ताह में एक आशाजनक शुरुआत की है

Last Modified:
Thursday, 12 May, 2022
TimesNowNavbharat452548

बार्क (BARC) के हिंदी न्यूज चैनल्स  की रैंकिंग (Hindi News Channels rankings) में ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ (Times Now Navbharat) ने अपनी रेटिंग जारी होने के पहले सप्ताह में एक आशाजनक शुरुआत की है। 22 मिनट के वीकली टीएसवी (TSV) और 49 मिलियन रीच (पहुंच) के साथ, चैनल पहले से ही शीर्ष चैनल में शामिल हो गया।

2022 के 18वें सप्ताह की जारी बार्क हिंदी न्यूज चैनल्स की रैंकिंग रिपोर्ट के मुताबिक, नेटवर्क का दैनिक टीएसवी (TSV) 13.4 मिनट है। नेटवर्क ने 15+ हिंदी स्पीकिंग मार्केट में दर्शकों की संख्या में 5.9% हिस्सेदारी हासिल की है।

टाइम्स नाउ नवभारत का यह पहला रेटिंग वीक है।

मार्च में रेटिंग फिर से शुरू होने के बाद से, शीर्ष 3 चैनलों के बीच हुई उथल-पुथल से शीर्ष पायदान को लेकर हलचल मच गई। ऐसे मौके पर ‘टाइम्स नाउ नवभारत’ की डेब्यू एंट्री इतने शानदार तरीके से हुई कि सभी खिलाड़ियों के बीच गर्मी और बढ़नी स्वाभिक है, लिहाजा अगले कुछ महीनें में एक और रोमांच देखने को मिलेगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

यूजर्स तक न्यूज को अब कुछ इस तरह भी पहुंचाएगा ‘आजतक’

नेटवर्क के अनुसार, ऑडियंस तक पहुंच बनाने के लिए यह सर्विस एडवर्टाइजर्स को एक खास प्लेटफॉर्म भी उपलबध कराएगी।

Last Modified:
Thursday, 12 May, 2022
AajTak

‘माय टाइम प्राइम टाइम’ (My Time Prime Time) के कॉन्सेप्ट को ध्यान में रखते हुए हिंदी न्यूज चैनल ‘आजतक‘ (AajTak) ने कनेक्टेड डिवाइसेज स्ट्रीम ‘आजतक लाइव न्यूज स्ट्रीम’ (AajTak Live News Stream) लॉन्च की है।

प्रमुख इंडिपेंडेंट एडवाइजरी फर्म ’आरबीएसए’ (RBSA Advisors) की एक रिपोर्ट के अनुसार, बेहतर नेटवर्क, डिजिटल कनेक्टिविटी और स्मार्टफोन्स की बढ़ती संख्या की बदौलत देश का वीडियो ओटीटी मार्केट वर्ष 2021 में 1.5 बिलियन अमेरिकी डॉलर से बढ़कर वर्ष 2025 में चार बिलियन अमेरिकी डॉलर और वर्ष 2030 तक 12.5 बिलियन डॉलर  पहुंचने की उम्मीद है। इन प्लेटफॉर्म्स पर खबरों की कमी को इस नए क्यूरेटेड लाइव स्ट्रीम से पूरा किया जाएगा।

इसके साथ ही ‘EY’ (Ernst & Young) का अनुमान है कि वर्ष 2023 तक देश में कनेक्टेड टेलिविजन सेट की संख्या बढ़कर 14 मिलियन और 2025 तक 40 मिलियन हो जाएगी। यह सब कम लागत वाले स्मार्ट टेलिविजन सेटों के प्रसार के साथ-साथ वायरलेस और वायर्ड ब्रॉडबैंड कनेक्शन में वृद्धि के कारण होगा। इन आंकड़ों के आधार पर ‘आजतक’ का कहना है कि वह इस नए क्यूरेटेड स्ट्रीम के साथ कनेक्टेड टीवी पर कंटेंट उपभोग (consumption) का नेतृत्व करेगा।

‘आजतक’ के अनुसार, ‘चाहे एलेक्सा हो, फायरस्टिक हो या आपका स्मार्ट टीवी, अब आप आजतक को स्ट्रीम कर सकते हैं और ‘सबसे तेज न्यूज’ से खुद को अपडेट रखने के लिए सभी कनेक्टेड डिवाइस पर न्यूज हासिल कर सकते हैं। इसके साथ ही ऑडियंस तक पहुंच बनाने के लिए यह सर्विस एडवर्टाइजर्स को एक खास प्लेटफॉर्म भी उपलब्ध कराएगी।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Republic TV को अलविदा कह नए सफर पर निकलीं टीवी पत्रकार शिवानी शर्मा

पत्रकार शिवानी शर्मा ने ‘रिपब्लिक टीवी’ (Republic TV) में अपनी पारी को विराम दे दिया है। यहां वह करीब पौने दो साल से जुड़ी हुई थीं और बतौर स्पेशल करेसपॉन्डेंट डिफेंस बीट कवर कर रही थीं।

Last Modified:
Thursday, 12 May, 2022
Shivani Sharma

पत्रकार शिवानी शर्मा ने ‘रिपब्लिक टीवी’ (Republic TV) में अपनी पारी को विराम दे दिया है। यहां वह करीब पौने दो साल से जुड़ी हुई थीं और बतौर स्पेशल करेसपॉन्डेंट डिफेंस बीट कवर कर रही थीं।शिवानी शर्मा ने अपनी नई पारी अब ‘टाइम्स नाउ’ (Times Now) के साथ शुरू की है। यहां पर उन्होंने बतौर डिप्टी न्यूज एडिटर जॉइन किया है और यहां भी वह डिफेंस को कवर करेंगी।

मूल रूप से लखनऊ (उत्तर प्रदेश) की रहने वाली शिवानी शर्मा को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 19 साल का अनुभव है। पत्रकारिता के क्षेत्र में उन्होंने अपना करियर वर्ष 2003 में ‘ईटीवी’ उत्तर प्रदेश (अब न्यूज18) के साथ शुरू किया था। यहां पर उन्होंने तमाम प्रमुख बीट पर काम करने के साथ ‘कुछ तो है’ शो की एंकरिंग भी की। इसके बाद वर्ष 2020 में वह दिल्ली आ गईं और ‘रिपब्लिक’ जॉइन कर लिया। इसके बाद अब वह ‘टाइम्स नाउ’ पहुंची हैं।

पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो शिवानी ने लखनऊ यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया है। इसके अलावा उन्होंने लखनऊ में ही ‘जयपुरिया इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट’ से मास कम्युनिकेशन की पढ़ाई की है। समाचार4मीडिया की ओर से शिवानी शर्मा को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब स्थानीय मुद्दों को नए नजरिये के साथ पेश करेगा Mirror Now: निकुंज गर्ग

गोवाफेस्ट’ 2022 के मौके पर आयोजित एक मीडिया सम्मेलन में ‘मिरर नाउ’ के एडिटर ने चैनल की बदली हुई विजुअल आइडेंटिटी और नए कंटेंट लाइन-अप को लेकर रखे अपने विचार

Last Modified:
Tuesday, 10 May, 2022
Nikunj Garg

‘टाइम्स नेटवर्क’ (Times Network) के अंग्रेजी न्यूज चैनल ‘मिरर नाउ’ (Mirror Now) के एडिटर निकुंज गर्ग का कहना है कि चैनल की पहचान हाइपरलोकल के साथ-साथ अब विशुद्ध रूप से लोकल नहीं रहेगी। ‘गोवाफेस्ट’ (Goafest) 2022 के मौके पर आयोजित एक मीडिया गोलमेज सम्मेलन में निकुंज गर्ग का कहना था, ‘हालांकि चैनल स्थानीय मुद्दों (local issues) को उठाएगा, लेकिन उन्हें अब राष्ट्रीय परिप्रेक्ष्य में उठाया जाएगा। यानी अब उन्हें देखने का नजरिया लोकल नहीं बल्कि राष्ट्रीय होगा।’ इसके साथ ही उन्होंने चैनल के नई लुक और कंटेंट फॉर्मेट को लेकर भी बताया।

निकुंज गर्ग के अनुसार, ‘कोई भी समस्या लोकल नहीं होती। हालांकि कुछ समय के लिए कोई समस्या लोकल हो सकती है लेकिन यह किसी राज्य अथवा शहर तक सीमित नहीं होनी चाहिए। हम ऐसे मुद्दों को उठाएंगे और उन्हें राष्ट्रीय दृष्टिकोण से देखेंगे।’

बता दें कि चैनल ने हाल ही में अपनी विजुअल आइडेंटिटी को बदला है और नया कंटेंट लाइन-अप भी लॉन्च किया है। अपने नए अवतार में मिरर नाउ व्युअर्स को न्यूज देखने का नया अनुभव प्रदान करता है। चैनल ने अपने ऑन एयर लुक को बदलने के साथ ही कलर पैलेट को भी अपग्रेड किया है।

इसने अपने युवा और समकालीन दृष्टिकोण को प्रतिबिंबित करने के लिए अपने विजुअल डिजाइन में एक नया रंग ‘टील’ (teal) शामिल किया है। इसके अलावा काले, सफेद और लाल रंगों को बनाए रखा है जो महत्व (importance), तात्कालिकता (urgency) और वर्तमान न्यूज (current news) को दर्शाते हैं।  

‘टाइम्स नेटवर्क’ में हेड (Input and News Gathering) की कमान भी संभाल रहे गर्ग का कहना था, ‘चैनल अब राष्ट्रीय स्पेक्ट्रम को कवर करेगा। इससे पहले हम खुद को सीमित कर रहे थे। अब ये बैरियर टूट जाएंगे।’ इस दौरान यह पूछे जाने पर कि यह चैनल ‘टाइम्स नाउ’ (Times Now) से किस प्रकार अलग होगा? निकुंज गर्ग ने कहा, ‘टाइम्स नाउ राष्ट्रवादी है और राष्ट्रवादी नजरिये से बात करता है। मैं राष्ट्रीय मुद्दों पर लोगों के नजरिये से बात करूंगा।’

मिरर नाउ ने पांच नए प्राइमटाइम शो की लाइन-अप के साथ अपनी कंटेंट की पेशकश को रिफ्रेश किया है। इनमें Mirror Metro, The Big Focus, The Urban Debate, The Nation Tonight और Beyond The Headline शामिल हैं। नए कंटेंट लाइन-अप के बारे में गर्ग ने कहा, ‘मेरा मानना है कि डिबेट और चर्चा सीमित कंटेंट में होनी चाहिए। न्यूज और इंफॉर्मेशन को व्यूज के स्थान पर प्रमुख स्थान लेना चाहिए। मैं लोगों को और अधिक सूचित करना चाहता हूं, और केवल प्रासंगिक मुद्दों पर चर्चा करना चाहता हूं। मिरर नाउ टेलीविजन पर  विचारशील भारतीयों का पसंदीदा स्थान बनने जा रहा है। अगर लोग टेलिविजन न्यूज देखना चाहते हैं तो वे मिरर नाउ पर आएंगे।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानें, समय के साथ कैसे नंबर-1 न्यूज चैनल बना ‘डीडी इंडिया’

प्रसार भारती के अंग्रेजी न्यूज चैनल ‘डीडी इंडिया’ (DD India) ने हाल ही में टीवी और डिजिटल दोनों पर अभूतपूर्व वृद्धि दर्ज की है

Last Modified:
Tuesday, 10 May, 2022
DDIndia45589

प्रसार भारती के अंग्रेजी न्यूज चैनल ‘डीडी इंडिया’ (DD India) ने हाल ही में टीवी और डिजिटल दोनों पर अभूतपूर्व वृद्धि दर्ज की है। हाल ही में यू-ट्यूब पर चैनल के सब्सक्राइबर्स की संख्या 2 लाख के पार हो गई है। वहीं, टीवी पहुंच के मामले में ‘डीडी इंडिया’ देश का नंबर अंग्रेजी न्यूज चैनल बन गया है।

बार्क इंडिया के आंकड़ों के मुताबिक, डीडी इंडिया ने 8 मिलियन से अधिक दर्शकों तक पहुंच बना ली है, जो अंग्रेजी न्यूज जॉनर में सबसे अधिक हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इसका निकटतम प्रतिद्वंदी डीडी इंडिया की आधी दूरी तक ही पहुंच सका है।

डीडी इंडिया के दर्शकों की संख्या में भी लगातार साप्ताहिक वृद्धि दर्ज की गई है, जिसके चलते चैनल के दर्शकों की संख्या पिछले आठ हफ्तों में लगभग 150 फीसदी बढ़ी है।

जानें, समय के साथ कैसे नंबर-1 अंग्रेजी न्यूज चैनल बना ‘डीडी इंडिया’:

प्रसार भारती बोर्ड से मंजूरी के बाद जनवरी, 2019 में ‘डीडी इंडिया’ को अंग्रेजी न्यूज चैनल के रूप में लॉन्च करने की प्रक्रिया शुरू हुई। फरवरी, 2019 में डीडी न्यूज को हिंदी न्यूज चैनल और डीडी इंडिया को इंग्लिश न्यूज चैनल के रूप में अलग-अलग करने की प्रक्रिया शुरू हुई। इसके बाद सितंबर, 2019 में ‘डीडी इंडिया’ को दक्षिण कोरियाई सार्वजनिक प्रसारक के ओटीटी प्लेटफॉर्म पर पेश किया गया। इसी माह बांग्लादेश में निजी केबल ऑपरेटरों ने अपने प्लेटफॉर्म के माध्यम से ‘डीडी इंडिया’ का प्रसारण शुरू किया। फरवरी, 2020 में ‘डीडी इंडिया’ ने तत्कालीन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे की कवरेज की, जिसका प्रसारण कई विदेशी टीवी चैनलों ने भी किया।

‘डीडी इंडिया’ को पूर्ण अंग्रेजी न्यूज चैनल के रूप में मार्च, 2020 को लॉन्च किया गया। इस तरह ‘डीडी न्यूज’ ने हिंदी के रूप में और ‘डीडी इंडिया’ ने अंग्रेजी न्यूज चैनल के रूप में कार्य करना शुरू किया। ‘डीडी इंडिया’ का प्रॉडक्शन और शो ‘डीडी न्यूज’ पर उससे पूरी तरह अलग है।

जनवरी, 2021 में ‘डीडी इंडिया’ को यूएस, यूके और कनाडा में हॉटस्टार पर लॉन्च किया गया। इसी माह ‘डीडी इंडिया’ को अमेरिका के 23 राज्यों में प्रसारण के लिए आईटीवी पर लॉन्च किया गया। जनवरी, 2022 में स्लोवेनिया के तत्कालीन प्रधानमंत्री के ‘डीडी इंडिया’ साक्षात्कार को अंतरराष्ट्रीय मीडिया (Media) ने व्यापक रूप से उद्धृत किया। रूस-यूक्रेन के बीच संघर्ष के दौरान इसी साल फरवरी से मार्च में वहां फंसे भारतीयों को निकालने के लिए भारत के ‘ऑपरेशन गंगा’ की कवरेज के लिए डीडी इंडिया के संवाददाता यूक्रेन में तैनात थे। मार्च, 2022 में 130 से अधिक देशों में वितरण के लिए ‘डीडी इंडिया’ को ‘युप्प टीवी’ पर लॉन्च किया गया। इसी का नतीजा रहा कि अप्रैल, 2022 में ‘डीडी इंडिया’ रीच के मामले में देश का नंबर-1 अंग्रेजी न्यूज चैनल बन गया।

अपने कार्यादेश पर खरा उतरते हुए, ‘डीडी इंडिया’ अब सैटेलाइट, ओटीटी प्लेटफॉर्म और न्यूज ऑनएयर ऐप के माध्यम से 190 से अधिक देशों तक पहुंच गया है और इसके साथ ही यह दुनिया के लिए भारत के बारे में जानकारी प्राप्त करने का एक आसान व सुलभ माध्यम बन गया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए