निर्भया केस के आरोपित ने अजीत अंजुम के खुलासे को यूं बनाया ‘ढाल’

अपने वकील के माध्यम से अदालत में दायर की है याचिका, कोर्ट ने 20 दिसंबर दी है अगली तारीख

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 14 December, 2019
Last Modified:
Saturday, 14 December, 2019
Ajit Anjum

आपको याद होगा कि ‘न्यूज 24’ और ‘इंडिया टीवी’ के पूर्व मैनेजिंग एडिटर अजीत अंजुम ने पिछले महीने अपने ट्विटर अकाउंट पर कई ट्वीट्स के जरिए एक खुलासा किया था। इस खुलासे में उन्होंने बताया था कि कैसे निर्भया का दोस्त अवनींद्र टीवी चैनल पर आने के लिए पैसे लेता था। पैसे लेते हुए उसका स्टिंग ‘न्यूज 24’ ने किया, लेकिन इसलिए नहीं दिखाया क्योंकि इससे केस पर फर्क पड़ता। उनके इसी खुलासे को अब निर्भया गैंगरेप केस के एक आरोपित पवन गुप्ता के पिता ने ढाल बनाने की कोशिश की है।

पवन गुप्ता के पिता ने वकील एपी सिंह के जरिए दिल्ली की एक कोर्ट में याचिका दाखिल की है कि निर्भया गैंगरेप के वक्त बस में मौजूद अवनींद्र के बारे में यह खुलासा हुआ है कि उसने पैसे लेकर इंटरव्यू दिए हैं। ऐसे में अवनींद्र की गवाही पर भरोसा नहीं किया जा सकता, उसकी गवाही को तो खारिज किया ही जाए, उसके खिलाफ एफआइआर भी दर्ज की जाए।

ऐसे में ये मामला पेचीदा हो जाता है क्योंकि इस पूरे केस का इकलौता गवाह निर्भया का दोस्त अवनींद्र ही है। कहा जा रहा है कि इस स्टिंग ऑपरेशन के बाद वह न्यूज चैनल्स से गायब ही हो गया है और अभी तक सामने आया नहीं है।

यह भी पढ़ें: निर्भया के बॉयफ्रेंड के बारे में अजीत अंजुम ने किया ये बड़ा खुलासा

वकील एपी सिंह की याचिका पर 13 दिसंबर को दिल्ली की कोर्ट में सुनवाई शुरू हुई। जज ने वकील एपी सिंह से पूछा कि ये अपराध संज्ञेय अपराध की श्रेणी में आता है या नहीं? वकील एपी सिंह को लगा कि इस मामले में उन्हें अभी और होमवर्क की जरूरत है। उन्होंने फौरन कोर्ट से इसकी तैयारी के लिए और समय मांग लिया। कोर्ट ने उन्हें 20 दिसंबर की अगली तारीख दी है। इधर सुप्रीम कोर्ट में केस की अगली तारीख 17 दिसंबर है और दूसरी तरफ तिहाड़ जेल में आरोपितों की फांसी की तैयारियां चल रही हैं।

जैसे ही राष्ट्रपति दया याचिका खारिज करेंगे, तिहाड जेल को डेथ वारंट मिलेगा और प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। ऐसे में अगर वकील एपी सिंह की याचिका पर दिल्ली का कोर्ट कोई बड़ा फैसला लेता है तो न केवल फांसी कुछ दिनों के लिए टल सकती है, बल्कि निर्भया के दोस्त के लिए भी परेशानी खड़ी हो सकती है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

बजट की कवरेज को लेकर न्यूज चैनल्स का क्या है ‘मेगा प्लान’, जानें यहां

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को वित्त वर्ष 2020-21 का केंद्रीय बजट पेश करने की तैयारियों में जुटी हुई हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 29 January, 2020
Last Modified:
Wednesday, 29 January, 2020
Channel

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को वित्त वर्ष 2020-21 का केंद्रीय बजट पेश करने की तैयारियों में जुटी हुई हैं। तमाम मोर्चों पर चुनौतियों का सामना कर रही देश की अर्थव्यवस्था को इस बजट से बहुत उम्मीदें हैं, वहीं न्यूज चैनल्स ने भी ज्यादा से ज्यादा व्युअरशिप के लिए अपनी तैयारियों को अंतिम रूप देना शुरू कर दिया है।

हालांकि, बजट मुख्यत: बिजनेस न्यूज चैनल्स के लिए बड़ा मामला है, लेकिन जनरल न्यूज चैनल्स भी एक फरवरी को पेश होने वाले बजट की कवरेज को लेकर कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं।

पिछले साल के बजट वाले दिन की बात करें तो ‘BARC TG 22+ AB Male Market’ के आकंड़ों के अनुसार, व्युअरशिप के मामले में ‘सीएनबीसी-टीवी18’ (CNBC-TV18) और ‘सीएनबीसी आवाज’ (CNBC Awaaz) का मार्केट शेयर क्रमश: 59.6 और 68.1 प्रतिशत था, वहीं ‘ईटी नाउ’ (ET NOW) का मार्केट शेयर देशभर में (in cities with population of over 1 million, 22+ AB, 24 hours) 55 प्रतिशत दर्ज किया गया था।

व्युअरशिप में सबसे आगे बने रहने के लिए न्यूज चैनल्स ने न सिर्फ बजट के दिन की व्यापक रिपोर्टिंग, बल्कि बजट सप्ताह को लेकर खास प्रोग्रामिंग के लिए कमर कस ली है। बजट 2020 से लोगों को क्या उम्मीदें हैं, इसे लेकर ‘सीएनबीसी-टीवी18’ ने प्री-बजट स्पेशल सीरीज शुरू भी कर दी है। बजट वाले दिन लाइव प्रसारण से लेकर चैनल्स बजट से जुड़े प्रमुख बिंदुओं के बारे में इंडस्ट्री से जुड़े विशेषज्ञों की राय को भी प्रसारित करेंगे। न्यूज चैनल्स का कहना है कि उन्होंने इस दिन को ‘भुनाने’ के लिए अपने एजेंडे में और भी काफी कुछ शामिल किया है।

देश की अर्थव्यवस्था का भविष्य कैसा होगा, मार्केट का रुख कैसा होगा और देश को बजट से क्या उम्मीदें हैं, इसे लेकर भी चैनल प्रमुख उद्योगपतियों की राय से अवगत कराएगा। इसके अलावा भी कई अन्य शो के माध्यम से बजट से जुड़ी ज्यादा से ज्यादा जानकारी से दर्शकों को रूबरू कराया जाएगा।

‘नेटवर्क18’ के सीईओ (अंग्रेजी और बिजनेस न्यूज क्लस्टर) बसंत धवन का कहना है, ‘बजट से उम्मीदें बहुत ज्यादा हैं। ऐसी कई आर्थिक चुनौतियां हैं, जिनके बारे में बजट से उम्मीदें हैं। ऐसे में प्रमुख मुद्दों पर खास फोकस करते हुए ग्रुप ने ऐसी स्पेशल प्रोग्रामिंग तैयार की है, जिससे व्युअर्स को बजट के बारे में समग्र जानकारी मिल सकेगी, जिसमें विश्लेषण से लेकर यह भी शामिल होगा कि विभिन्न सेक्टर्स पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा। बजट की प्रोग्रामिंग की कमान चैनल के एग्जिक्यूटिव एडिटर भूपेंद्र चौबे, एग्जिक्यूटिव एडिटर (आउटपुट) और एग्जिक्यूटिव एडिटर आनंद नरसिम्हन जैसे दिग्गजों के हाथों में होगी। इसके अलावा Moneycontrol.com के इकनॉमी एडिटर और दिल्ली ब्यूरो चीफ गौरव चौधरी, इन्वेस्टमेंट बैंकर साकेत मिश्रा, बिजनेस टेलिविजन इंडिया के पूर्व एग्जिक्यूटिव एडिटर सिद्धार्थ जराबी और अर्थशास्त्री व नीति आयोग के पूर्व हेड (अर्थशास्त्र, फाइनेंस और कॉमर्स) धीरज नैयर भी उनका साथ देंगे।’

वहीं, ‘ईटी नाउ’ (ET NOW) ने भी बजट की स्पेशल रिपोर्ट्स के तहत 23 जनवरी से कार्यक्रम दिखाना शुरू कर दिया है, जो बजट के दिन यानी एक फरवरी तक चलेंगे। इस समय चैनल की ओर से ‘Get Set Grow with Millennials’, ‘The Money Show (TMS) Budget Hotline’, ‘Bahi Khata 2’ और ‘ Your Budget’ जैसे शो चलाए जा रहे हैं।

अब यदि हिंदी न्यूज चैनल्स की बात करें तो ‘आजतक’ बजट को लेकर स्पेशल शो की सीरीज ‘थोड़ी सी तो लिफ्ट करा दे’ (Thori Si Toh Lift Karade) चला रहा है, जिसमें देश की अर्थव्यवस्था की स्थिति और इससे किस तरह निपटा जा सकता है, इस बारे में बताया जा रहा है। 31 जनवरी को प्री-बजट कर्टेन रेजर शो के बाद बजट डे कवरेज की जाएगी। इसमें ‘बजट बाजार’, ‘सस्ता महंगा’, ‘गुड न्यूज’ और ‘बजट राउंडटेबल’ जैसे खास शो शामिल हैं।      

‘इंडिया टुडे’ (India Today) समूह के हिंदी व अंग्रेजी न्यूज चैनल- ‘आजतक’ और ‘इंडिया टुडे टीवी’ की पिछले साल बजट वाले दिन रिकॉर्ड व्युअरशिप रही थी। बार्क डाटा के अनुसार बड़े शहरों में पांच जुलाई को सुबह 11 बजे से दोपहर दो बजे तक ‘आजतक’ के कुल इंप्रेशंस की संख्या 3698000 रही थी।   

वहीं, ‘जी बिजनेस’ (Zee Business) के मैनेजिंग एडिटर अनिल सिंघवी एक फरवरी को बजट वाले दिन व्युअर्स के लिए 40 मार्केट गेस्ट्स, 20 बड़े कॉरपोरेटेस, 15 मिनिस्टर्स और ब्यरोक्रेट्स के साथ बजट का विश्लेषण करेंगे। वे टैक्सेसन, पर्सनल फाइनेंस, रियल एस्टेट आदि की स्पेशल कवरेज पर फोकस करेंगे। इसके अलावा ‘जी बिजनेस’ एक खास पहल भी शुरू करने जा रहा है। इसके तहत एक फरवरी को सुबह आठ बजे से व्युअर्स को हर घंटे बजट बोनांजा में बंपर प्राइज जीतने का मौका भी मिलेगा। ऐसे में यह देखना काफी रोचक होगा कि बजट वाले दिन न्यूज चैनल्स किस तरह व्युअरशिप हासिल करेंगे।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फिर धूम मचाने आया एक्सचेंज4मीडिया का ये खास कार्यक्रम

‘टीवी फर्स्ट कॉन्फ्रेंस’ के बाद शाम को 'प्राइम टाइम अवॉर्ड्स' के छठे एडिशन का आयोजन भी किया जाएगा।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 28 January, 2020
Last Modified:
Tuesday, 28 January, 2020
TV FIRST

बहुप्रतिष्ठित ‘एक्सचेंज4मीडिया’ (exchange4media) ग्रुप के ‘टीवी फर्स्ट 2020’ (e4m TV First 2020) कार्यक्रम का आयोजन 31 जनवरी 2020 को मुंबई के होटल ताज सांताक्रूज में किया जाएगा। ग्रुप के इस फ्लैगशिप आयोजन का यह दूसरा साल है और इसकी थीम ‘टेलिविजन बिल्ड्स ब्रैंड्स’ (Television Builds Brands) रखी गई है। इस कार्यक्रम के जरिये क्रिएटिव, मीडिया और डिजिटल एजेंसियों से जुड़े ब्रैंड प्रोफेशनल्स और नीति निर्माताओं को अपनी बात रखने और एक-दूसरे के विचारों को जानने समझने का एक बेहतर प्लेटफॉर्म मिलेगा।

पूरे दिन चलने वाली इस कॉन्फ्रेंस के तहत विभिन्न सेशंस के दौरान ‘मैडिसन’ (Madison) के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर सैम बलसारा,‘गोदरेज कंज्यूमर प्रॉडक्ट्स लिमिटेड’ की वाइस प्रेजिडेंट और मीडिया हेड सुभा श्रीनिवासन और ‘आईपीजी मीडिया ब्रैंड्स’ (IPG Mediabrands) के सीईओ शशि सिन्हा समेत कई दिग्गजों के विचारों को जानने का मौका मिलेगा। ‘टीवी फर्स्ट कॉन्फ्रेंस’ के बाद शाम को ‘ई4एम प्राइम टाइम अवॉर्ड्स’ (e4m Prime Time Awards) के छठे एडिशन का आयोजन किया जाएगा।    

विज्ञापनों पर खर्च के मामले में टीवी की क्या भूमिका रहेगी  और यह विज्ञापन परिदृश्य को किस तरह आगे बढ़ाएगा? इस बारे में ‘मैडिसन’ (Madison) के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्टर सैम बलसारा का कहना है कि देश में विज्ञापन खर्च के मामले में लंबे समय तक टीवी काफी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता रहेगा, क्योंकि यह जिस तरह से ब्रैंड्स तैयार करता है और उन्हें आगे बढ़ाता है, कोई और मीडियम नहीं कर सकता।   

‘पिडिलाइट’ (Pidilite) के कैटेगरी हेड (Children's Art & Craft) कार्तिक सुब्रमण्यन का कहना है, ‘टीवी की पहुंच बहुत ज्यादा है। अपने देश की बात करें तो यहां लगभग हर घर में टीवी देखा जाता है और मास मीडिया के उपभोग के लिए यह नंबर वन माध्यम बना हुआ है।’

टीवी हमेशा से किस तरह एडवर्टाइजर्स के लिए खास रहा है और उनकी पहली पसंद बना हुआ है, इस बारे में ‘ओयो’ (OYO) के सीओओ (इंडिया और साउथ एशिया) गौरव अजमेरा का कहना है, ‘अपने देश में टीवी विज्ञापन ने हमेशा काफी अच्छा प्रदर्शन किया है। यहां तक कि डिजिटल पर विज्ञापन की शुरुआत के बावजूद टीवी अभी भी कंज्यूमर्स से जुड़ने का बेहतरीन माध्यम बना हुआ है।’

इसके अलावा कार्यक्रम में ‘Leo Burnett’ के नेशनल क्रिएटिव डायरेक्टर विक्रम पांडे ‘Think outside the (idiot) box’ टॉपिक पर अपने विचार रखेंगे। इस सेशन में बताया जाएगा कि लंबे समय से टेलिविजन एडवर्टाइजिंग कैसे एक ही फॉर्मेट पर काम कर रहा है। इस सेशन के दौरान पांडे यह भी बताएंगे कि कैसे कोई 30 सेकेंड का कॉमर्शियल तैयार कर सकता है और इस माध्यम का आकर्षक व बेहतर तरीके से उपयोग कर सकता है।

बता दें कि टीवी की दुनिया में किए जाने वाले बेस्ट क्रिएटिव और ब्रॉडकास्टिंग के काम को सम्मानित करने के लिए इस तरह का आयोजन किया जाता है। पिछले साल 'टीवी फर्स्ट' (TV First) कार्यक्रम ने जबर्दस्त धूम मचाई थी और अब यह इसका दूसरा एडिशन है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

प्रदर्शनकारियों के निशाने पर फिर आए ‘न्यूज नेशन’ के पत्रकार, किया हमला

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कुछ उपद्रवियों ने एक बार फिर न्यूज नेशन के पत्रकार को निशाना बनाया है।

Last Modified:
Monday, 27 January, 2020
NEWSNATION

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे कुछ उपद्रवियों ने एक बार फिर न्यूज नेशन के पत्रकार को निशाना बनाया है। चैनल के पत्रकार के साथ मारपीट की यह घटना मुंबई में CAA के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान सामने आई है।

पत्रकार मुंबई के नागपड़ा इलाके में सोमवार सुबह 4.15 बजे विरोध प्रदर्शन को कवर करने पहुंचे थे। तभी प्रदर्शन के दौरान कुछ उपद्रवियों ने वीडियो जर्नलिस्ट के साथ मारपीट की, साथ ही उनका कैमरा तक तोड़ दिया। पत्रकार के साथ मारपीट करने के बाद उपद्रवी मौके से फरार हो गए।

मुंबई के नागपड़ा थाने में न्यूज नेशन की टीम ने शिकायत दर्ज करवाई, जिसके बाद पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

गौरतलब है कि बीते शुक्रवार को दिल्ली के शाहीन बाग इलाके में करीब एक महीने से प्रदर्शन कर रहे प्रदर्शनकारी भी हिंसा पर उतर आए थे और वहां चल रहे विरोध प्रदर्शन की कवरेज करने गए वरिष्ठ पत्रकार और न्यूज नेशन के कंसल्टिंग एडिटर दीपक चौरसिया के साथ बदसलूकी की थी। यही नहीं तब भी उपद्रवियों ने न्यूज नेशन के कैमरामैन का कैमरा भी तोड़ दिया था। हालांकि इसके बाद दीपक चौरसिया से मारपीट और कैमरा छीनने के मामले में कुछ अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दिल्ली के 'दंगल' से कुछ यूं दर्शकों को रूबरू कराएगा टीवी9 भारतवर्ष

दिल्ली का चुनावी दंगल शुरू हो चुका है। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आठ फरवरी 2020 को वोट डाले जाएंगे और 11 फरवरी को नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 25 January, 2020
Last Modified:
Saturday, 25 January, 2020
TV9 Bharatvarsh

दिल्ली का चुनावी दंगल शुरू हो चुका है। चुनाव आयोग द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार, दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आठ फरवरी 2020 को वोट डाले जाएंगे और 11 फरवरी को नतीजे घोषित कर दिए जाएंगे।

ऐसे में विभिन्न राजीतिक दलों ने प्रचार-प्रसार शुरू कर दिया है। सभी पार्टियों ने अपनी पूरी ताकत झोंक रखी है और वे अपनी बात लोगों तक पहुंचाने का कोई मौका नहीं चूकना चाहते हैं। चुनाव के दौरान न्यूज चैनल्स की व्युअरशिप भी बढ़ जाती है। ऐसे में विभिन्न न्यूज चैनल्स भी इस मौके को भुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते हैं और उन्होंने विभिन्न शो के जरिये चुनावी कवरेज की तैयारी भी शुरू कर दी है।

इन्हीं तैयारियों के तहत हिन्दी न्यूज चैनल ‘टीवी9 भारतवर्ष’ (TV9 Bharatvarsh) शाम चार बजे एक नई सीरीज ‘नेताजी घर पर हैं’ लेकर आया है। ‘टीवी9 भारतवर्ष’ में सीनियर एग्जिक्यूटिव एडिटर और जाने-माने एंकर निशांत चतुर्वेदी इस सीरीज के जरिये विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं के घर जाकर उनसे बातचीत करेंगे और उनकी दिनचर्या, चुनाव को लेकर स्ट्रैटेजी समेत विभिन्न मुद्दों पर बात कर दर्शकों को इससे अवगत कराएंगे।

इसी सीरीज के तहत‘टीवी9 भारतवर्ष’ की टीम बीजेपी के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी के घर पहुंची और विभिन्न मुद्दों पर उनकी राय से लोगों को अवगत कराया। मनोज तिवारी से निशांत चतुर्वेदी की बातचीत का विडियो आप यहां देख सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TRAI के फैसले के खिलाफ खुलकर ‘मैदान’ में उतरा ये मीडिया समूह

मीडिया हाउस की ओर से दायर केस पर मद्रास हाई कोर्ट में चार फरवरी को होगी सुनवाई

Last Modified:
Friday, 24 January, 2020
TRAI

‘टेलिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया’ (ट्राई) द्वारा टैरिफ ऑर्डर में पिछले दिनों किए गए संशोधन के खिलाफ ‘सन टीवी’ (Sun TV) नेटवर्क खुलकर मैदान में आ गया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, ‘सन टीवी’ ने ट्राई के नए टैरिफ ऑर्डर-2.0 (NTO 2.0) को चुनौती देते हुए मद्रास हाई कोर्ट में एक केस दायर किया है। नेटवर्क का कहना है कि ट्राई ने ब्रॉडकास्टर्स से सलाह मशविरा किए बिना टैरिफ ऑर्डर में संशोधन किया है।

यह भी पढ़ें: TRAI के खिलाफ TV ब्रॉडकास्टर्स की याचिका पर HC से मिली अब ये तारीख

बताया जाता है कि ट्राई के वकील ने मद्रास हाई कोर्ट से इस मामले को स्थगित करने के लिए कहा है, जब तक कि बॉम्बे हाई कोर्ट में  30 जनवरी को मामले की सुनवाई नहीं हो जाती। इस पर मद्रास हाई कोर्ट ने अब इस मामले में सुनवाई के लिए चार फरवरी की तारीख निश्चित की है।

‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन’ ने 13 जनवरी को बॉम्बे हाई कोर्ट में ट्राई के खिलाफ एक याचिका दायर कर नए टैरिफ ऑर्डर-2.0 के क्रियान्वयन पर रोक लगाने की मांग की है। हाई कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई के लिए 30 जनवरी की तारीख तय की है और दोनों पक्षों को तलब किया है। वहीं, ब्रॉडकास्टर्स की याचिकाओं के जवाब में ट्राई ने हाई कोर्ट में एक एफिडेविट दायर किया है।

बता दें कि ट्राई ने एक जनवरी को नई टैरिफ पॉलिसी जारी की थी, जिसके तहत ब्रॉडकास्टर्स को 15 जनवरी से चैनल्स के लिए नई मूल्य सूची अपनाने का निर्देश दिया गया था। ट्राई के इस नए टैरिफ ऑर्डर-2.0 (NTO 2.0) का पिछले दिनों टीवी ब्रॉडकास्टर्स ने विरोध किया था और संयुक्त रूप से इस मुद्दे पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की थी।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फिर इस मीडिया हाउस से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार अरुण पांडेय

करीब तीस साल के अपने पत्रकारिता करियर में कई मीडिया संस्थानों में निभा चुके हैं अहम भूमिका

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 23 January, 2020
Last Modified:
Thursday, 23 January, 2020
Arun Pandey

वरिष्ठ पत्रकार अरुण पांडेय ने एक बार फिर ‘सहारा समूह’ में वापसी की है। खबर है कि वह हिंदी में 'सहारा रिसर्च फाउंडेशन' के हेड के रूप में काम करेंगे। उत्तर प्रदेश में बलिया जिले के मूल निवासी अरुण पांडेय को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 30 साल का अनुभव है। इस दौरान वह कई मीडिया संस्थानों में अहम जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

इलाहाबाद विश्वविद्यालय से लॉ ग्रेजुएट अरुण पांडेय ने अपने पत्रकारिता सफर की शुरुआत वर्ष 1991 में ‘सहारा मीडिया’ के अखबार ‘हस्तक्षेप’ से की थी। यहां उन्होंने लंबी पारी खेली। वर्ष 2003 में उन्होंने सहारा के टीवी चैनल का रुख कर लिया और करीब चार साल यहां रहे।

वर्ष 2007 में अरुण पांडेय ने ‘सहारा’ को अलविदा कह दिया और ‘न्यूज 24’ के साथ अपनी नई पारी की शुरुआत कर दी। यहां एग्जिक्यूटिव प्रड्यूसर और असाइमेंट हेड के तौर पर लंबे समय तक अपनी जिम्मेदारी निभाने के बाद वर्ष 2015 में बतौर एग्जिक्यूटिव प्रड्यूसर (असाइनमेंट) वह ‘इंडिया टीवी’ के साथ जुड़ गए। अब उन्होंने एक बार फिर ‘सहारा’ में बड़ी जिम्मेदारी के साथ वापसी की है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ZEE समूह में पुनीत गोयनका की भूमिका को लेकर लिया गया ये फैसला

तीसरी तिमाही में कमजोर वित्तीय नतीजे आने के बाद कंपनी प्रबंधन को लेकर निवेशकों की चिंताओं के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 23 January, 2020
Last Modified:
Thursday, 23 January, 2020
Punit Goenka

'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) के एमडी और सीईओ पुनीत गोयनका अपने पद पर बने रहेंगे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 31 दिसंबर को खत्म हुई वित्तीय वर्ष की तीसरी तिमाही में कमजोर नतीजे आने के बाद कंपनी प्रबंधन को लेकर निवेशकों की चिंताओं के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है। इस तिमाही में कंपनी के प्रमोटर्स का स्वामित्व घटकर पांच प्रतिशत पर आने के बाद बोर्ड गोयनका के पारिश्रमिक की समीक्षा कर रहा है।

वहीं, 'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ के फाउंडर और पूर्व चेयरमैन सुभाष चंद्रा कंपनी बोर्ड में गैर कार्यकारी निदेशक (नॉन एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर) बने रहेंगे। बता दें कि सुभाष चंद्रा ने पिछले साल नवंबर में जी एंटरटेनमेंट बोर्ड के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TRAI के खिलाफ TV ब्रॉडकास्टर्स की याचिका पर HC से मिली अब ये तारीख

‘टेलिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया’ के नए टैरिफ ऑर्डर-2.0 के खिलाफ ‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन’ ने मुंबई हाई कोर्ट में दायर की है याचिका

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 22 January, 2020
Last Modified:
Wednesday, 22 January, 2020
TRAI IBF

‘टेलिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया’ (ट्राई) के नए टैरिफ ऑर्डर-2.0 (NTO 2.0) के खिलाफ ‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन’ (Indian Broadcasting Foundation) द्वारा दायर याचिका पर बॉम्बे हाई कोर्ट अब 30 जनवरी को सुनवाई करेगा।

यह भी पढ़ें: TRAI की नई पॉलिसी के खिलाफ टीवी ब्रॉडकास्टर्स का ‘हल्ला बोल’

बता दें कि ‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन’ ने 13 जनवरी को कोर्ट में ट्राई के खिलाफ एक याचिका दायर कर नए टैरिफ ऑर्डर-2.0 के क्रियान्वयन पर रोक लगाने की मांग की थी। हाई कोर्ट ने इस मामले में सुनवाई के लिए 22 जनवरी की तारीख तय की थी और दोनों पक्षों को तलब किया था। वहीं, ब्रॉडकास्टर्स की याचिकाओं के जवाब में कोर्ट में एक एफिडेविट दायर किया था।  

बता दें कि ट्राई ने एक जनवरी को नई टैरिफ पॉलिसी जारी की थी, जिसके तहत ब्रॉडकास्टर्स को 15 जनवरी से चैनल्स के लिए नई मूल्य सूची अपनाने का निर्देश दिया गया था। ट्राई के इस नए टैरिफ ऑर्डर-2.0 (NTO 2.0) का टीवी ब्रॉडकास्टर्स ने विरोध किया था और संयुक्त रूप से इस मुद्दे पर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की थी।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सुमित अवस्थी के सवाल पर भड़के केंद्रीय मंत्री, कैमरे के सामने कर दी 'गंदी बात'

सोशल मीडिया पर डिबेट शो का यह विडियो तेजी से वायरल हो रहा है, कई पत्रकारों ने मंत्री महोदय पर निशाना साधा है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 21 January, 2020
Last Modified:
Tuesday, 21 January, 2020
Sumit Awasthi

अपने विवादित बयानों के लिए विख्यात केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह नए विवाद में घिर गए हैं। उन पर ऑन-कैमरा पत्रकार को गाली देने का आरोप है। सोशल मीडिया पर मंत्री महोदय का यह विडियो तेजी से वायरल हो रहा है। दरअसल, जनसंख्या नियंत्रण के मुद्दे पर एबीपी न्यूज के पत्रकार सुमित अवस्थी ने गिरिराज सिंह से कुछ सवाल किए थे, जिस पर वह इस कदर उखड़ गए कि कैमरे के सामने ही गाली दे डाली। हालांकि, उन्होंने बेहद धीरे से अपशब्द कहे, ताकि किसी को सुनाई न दें, लेकिन कैमरे ने उनकी इस हरकत को रिकॉर्ड कर लिया। अब सोशल मीडिया पर अपनी इस बदजुबानी के लिए उन्हें निशाना बनाया जा रहा है।

वरिष्ठ पत्रकार विनोद कापड़ी ने अपने ट्वीट में लिखा है, ‘पहली बार किसी केंद्रीयमंत्री को राष्ट्रीय चैनल पर बहन की गाली देते हुए सुना। ये अच्छी बात नहीं है सुमित अवस्थी, तुमने उन्हें ये धत कर्म करने के लिए मजबूर कर दिया।’

इसी तरह मिलिंद खांडेकर ने लिखा है, ‘राष्ट्रवादी भाजपा कार्यकर्ता, केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह से पूछा गया कि दक्षिण भारत में जन्म दर यूपी, बिहार के मुकाबले कम है, यहां भाजपा सरकारें क्या कर रही हैं? जवाब में इंटरव्यू छोड़ दिया, माइक निकालते हुए.....गाली भी दे गए।’ कई अन्य पत्रकारों ने भी गिरिराज सिंह पर तंज कसते हुए उन्हें माफी मांगने की सलाह दी है।

गौरतलब है कि जनसंख्या नियंत्रण के मुद्दे पर संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कड़ा कानून बनाने की वकालत की थी। इसी पर बात को आगे बढ़ाते हुए सुमित अवस्थी ने गिरिराज सिंह का इंटरव्यू किया, जिसमें उन्होंने सवाल किया कि जब उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार है और बिहार में वह सरकार का हिस्सा है तो वहां इस तरह का कानून क्यों नहीं बनाया गया, जबकि इन दोनों राज्यों में जन्म दर दक्षिण भारतीय राज्यों के मुकाबले काफी ज्यादा है? इस सीधे से सवाल का मंत्री महोदय घुमा-फिराकर जवाब देने लगे। जब सुमित अवस्थी ने पुन: सवाल दोहराया, तो वह एकदम से भड़क उठे। उनके चेहरे के भाव उनके अंदर धधक रही गुस्से की ज्वाला को बखूबी दर्शा रहे थे। उन्होंने पहले अवस्थी पर विपक्षी जुबान में बात करने का आरोप लगाया, फिर अपनी बात न सुने जाने की दुहाई देने लगे।

इस पर सुमित अवस्थी ने खामोश होते हुए उन्हें अपनी बात रखने के लिए कहा। लेकिन मंत्री महोदय बात को एक अलग ही दिशा में ले गए। उन्होंने झल्लाते हुए कहा, ‘आप एंकर हैं, इसका मतलब क्या है? अगर नहीं सुनना है मेरी बात तो एंकर हैं हटाइए। बिहार पर, बंगाल पर...मतलब जो आप चाहें वही बोलूं, जो मैं चाहूं वो न बोलूं? हटाइए कोई मतलब नहीं।’ इसके बाद गिरिराज सिंह ने माइक हटाया और इसी बीच धीरे से गाली भी दे डाली।     

किसी केंद्रीय मंत्री का इस तरह कैमरे पर गाली देना वाकई चौंकाने वाला है, साथ ही यह नेताओं की कम होती सहनशीलता को भी दर्शाता है। अब देखने वाली बात यह है कि भाजपा और खुद गिरिराज सिंह इस पर क्या सफाई देते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

enba2019: इन दिग्गजों की जूरी फाइनल करेगी अवॉर्ड्स विजेताओं के नाम

दिल्ली में 15 फरवरी को होगी जूरी मीट, 22 फरवरी को नोएडा के रेडिसन ब्लू होटल में आयोजित एक कार्यक्रम में दिए जाएंगे अवॉर्ड्स

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 21 January, 2020
Last Modified:
Tuesday, 21 January, 2020
enba awards.

बहुप्रतिष्ठित ‘एक्‍सचेंज4मीडिया न्‍यूज ब्रॉडकास्टिंग अवॉर्ड्स’ (enba) का आयोजन इस बार 22 फरवरी को नोएडा के रेडिसन ब्लू होटल में किया जाएगा। बता दें कि वर्ष 2008 में अपनी शुरुआत के बाद से ही यह अवॉर्ड मीडिया में कार्यरत उन शख्सियतों को दिया जाता है, जिन्‍होंने देश में टेलिविजन न्‍यूज इंडस्‍ट्री को एक नई दिशा दी है और इस इंडस्‍ट्री को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाया है।

इनबा के 12वें एडिशन के तहत अवॉर्ड्स पाने वालों के नाम तय किए जाने के लिए 15 फरवरी को दिल्ली के ताज पैलेस होटल में जूरी मीट का आयोजन किया जाएगा। इस जूरी में राज्य सभा के डिप्टी चेयरमैन हरिवंश नारायण सिंह चेयरपर्सन की भूमिका निभाएंगे।

जूरी के अन्य सम्मानित सदस्यों में ‘बिजनेस वर्ल्ड’ और ‘एक्सचेंज4मीडिया’ ग्रुप के चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ डॉ. अनुराग बत्रा,  असम की कलियाबोर सीट से चुने गए सांसद गौरव गोगोई, पूर्व सांसद और बीजेपी के राष्ट्रीय सचिव महेश गिरी, लोकसभा सांसद और कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ इंडस्ट्र‍ियल टेक्नोलॉजी (KIIT) व कलिंगा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज (KISS) के फाउंडर प्रोफेसर अच्युत सामंत, राज्यसभा सदस्य जीवीएल नरसिम्हा राव, पूर्व सूचना प्रसारण मंत्री और कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी, सांसद अपराजिता सारंगी, पंजाब राज्य मानव अधिकार आयोग के चेयरपर्सन जस्टिस इकबाल अहमद अंसारी, ‘इंडियन होटल्स कंपनी लिमिटेड’ (IHCL) के मैनेजिंग डायरेक्टर और चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर पुनीत छटवाल, ‘डेंट्सू एजिस नेटवर्क’ के सीईओ (एशिया पैसिफिक) और चेयरमैन (इंडिया) आशीष भसीन, ‘ब्लू स्टार’ के मैनेजिंग डायरेक्टर बी. थियागराजन, ‘डब्‍ल्‍यूपीपी’ (WPP) इंडिया के कंट्री मैनेजर सीवीएल श्रीनिवास का नाम शामिल है।

इनके अलावा जूरी के अन्य सम्मानित सदस्यों में डालमिया ग्रुप के चेयरमैन गौरव डालमिया,  ‘पब्लिसिस ग्रुप साउथ एशिया’ (Publicis Groupe South Asia) की सीईओ अनुप्रिया आचार्य, ‘एडफैक्टर्स पीआर’ (Adfactors PR) के को-फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर मदन बहल, बीजेपी के प्रवक्ता सैयद जफर इस्लाम, बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा, शिव सेना की डिप्टी लीडर प्रियंका चतुर्वेदी, कांग्रेस प्रवक्ता और ‘Dale Carnegie Training India’ के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर संजय झा, बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया, आम आदमी पार्टी की पॉलिटिकल अफेयर्स कमेटी की मेंबर आतिशी मार्लेना, आम आदमी पार्टी के कोषाध्यक्ष और राष्ट्रीय प्रवक्ता राघव चड्ढा, ‘एमडीआई’ (MDI) गुरुग्राम के डायरेक्टर डॉ. पवन कुमार सिंह, एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के पूर्व प्रेजिडेंट पद्मश्री आलोक मेहता, डावर ग्रुप के चेयरमैन पूरन डावर, ‘हाउस ऑफ चीयर’ (House Of Cheer) के फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर राज नायक शामिल हैं। 

वहीं, ‘स्कोप इंडिया प्राइवेट लिमिटेड’ (Scope India Pvt Ltd) के एमडी राकेश कुमार शुक्ला, ‘हवास ग्रुप’ (Havas Group) इंडिया के सीईओ राना बरुआ, ‘मेडिकाबाजार’ (Medikabazaar) के फाउंडर और सीईओ विवेक तिवारी,  ‘RightFOLIO’ के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ. परकला प्रभाकर, ‘वोल्टास’ के पूर्व सीओओ और ‘सिंपा नेटवर्क्स’ के डायरेक्टर सलिल कपूर, ‘EMMAY Entertainment’ की एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर मोनिषा अड्वानी (MONISHA ADVANI), ‘इंडियन डॉक्यूमेंट्री फाउंडेशन’ की फाउंडर और सीईओ सोफी विश्वरमन (SOPHY VSIVARAMAN) और ‘GoZoop’ के सीईओ और को-फाउंडर अहमद आफताब नकवी, ‘ट्रस्ट लीगल’ (Trust Legal) के सीनियर एडवोकेट जॉय बसु और ‘नेट वैल्यू मीडिया’ (Net Value Media) के फाउंडर और मैनेजिंग डायरेक्टर जनार्दन पांडे को भी जूरी मेंबर्स में शामिल किया गया है।

 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए