ABP गंगा को अलविदा कह रोहित सावल ने संभाली अब बड़ी जिम्मेदारी

एबीपी समूह के नए रीजनल चैनल एबीपी गंगा के प्राइम टाइम शो के चेहरे रोहित सावल ने संस्थान को अलविदा कह दिया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Tuesday, 10 September, 2019
Last Modified:
Tuesday, 10 September, 2019
Rohit Saval

एबीपी समूह के नए रीजनल चैनल एबीपी गंगा के प्राइम टाइम शो के चेहरे रोहित सावल ने संस्थान को अलविदा कह दिया है। उल्लेखनीय है कि एबीपी समूह के इस यूपी चैनल में रोहित ने बतौर डेप्युटी एडिटर जॉइन किया था। वे चैनल के रात 9 बजे के शो ‘प्रहार’ के एंकर भी थे। 

गौरतलब है कि एबीपी गंगा जॉइन करने से पहले रोहित कुछ समय के लिए मेनस्ट्रीम मीडिया से दूर पॉलिटिकल सर्कल का हिस्सा बन गए थे। मार्च 2018 में वे हिमाचल प्रदेश के सीएम जयराम ठाकुर के मीडिया एडवाइजर नियुक्त किए गए थे। पर करीब एक साल बाद ही मीडिया में वापसी करते हुए हिमाचल उन्होंने मार्च 2019 में एबीपी न्यूज के यूपी-यूके रीजनल चैनल के साथ नई पारी की शुरुआत की थी।

एबीपी समूह के साथ करीब डेढ़ साल काम करने के बाद रोहित एक बार फिर आईटीवी नेटवर्क लौट आए हैं। ये आईटीवी के साथ उनकी दूसरी पारी है। इस पारी में उन्होंने इंडिया न्यूज (हरियाणा) को बतौर एग्जिक्यूटिव एडिटर जॉइन किया है। बताया गया है कि वे जल्दी ही अपने एक शो के जरिए टीवी स्क्रीन पर भी नजर आएंगे। साथ ही चैनल के पूरे आउटपुट की कमान उनके हाथों ही रहेंगी।  2004 में ईटीवी समूह के साथ अपने पत्रकारिता का करियर शुरू करने वाले रोहित ने 2009 में आईटीवी नेटवर्क जॉइन किया था। ईटीवी के साथ वे हैदराबाद में डेस्क और एंकरिंग दोनों ही जिम्मेदारी संभालते थे। आईटीवी नेटवर्क के नेशनल चैनल इंडिया न्यूज पर भी वे एंकरिंग करते थे। समूह के हरियाणा और यूपी-यूटी चैनल की लॉन्चिंग में उनकी अहम भूमिका रही है।  

मूल तौर पर रोहित चच्योट क्षेत्र के मौवीसेरी गांव के निवासी हैं। रोहित ने शुरुआती शिक्षा मौवीसेरी गाव के सरकारी स्कूल से 8वीं तक शिक्षा ग्रहण करने के बाद आगे की पढ़ाई के लिए मंडी को चुना। वल्लभ कॉलेज मंडी से कॉमर्स मं  स्नातक की डिग्री ली। कॉलेज के दिनों में ही वह एबीवीपी के साथ जुड़ गए थे। वर्ष 2000 में उन्होंने मंडी कॉलेज में एससीए चुनाव जीता। हिमाचल प्रदेश में छात्रसंघ चुनाव की बहाली के लिए हुए विद्यार्थी परिषद के आदोलन में रोहित सावल ने सक्रिय भूमिका निभाई। मंडी महाविद्यालय में वामपंथियों के सियासी दुर्ग को ढहाने का रिकार्ड भी रोहित सावल के नाम दर्ज है। साल 2000 में रोहित सावल ने विद्यार्थी परिषद पैनल पर महासचिव का चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की। ये पहला मौका था जब मंडी महाविद्यालय में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने छात्रसंघ चुनाव में पैनल के किसी पद पर जीत दर्ज की थी। उन्होंने हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में छात्रसंघ अध्यक्ष का चुनाव भी लड़ा

वाणिज्य विषय में स्नातक उत्तीर्ण करने के बाद प्रबंधन एमबीए की पढ़ाई के लिए रोहित सावल ने हिमांचल प्रदेश की राजधानी शिमला में विख्यात हिमांचल प्रदेश यूनीवर्सिटी में दाखिला लिया। हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से एमबीए करने के बाद उन्होंने पत्रकारिता (बीजेएमसी) की पढ़ाई पूरी की। 
 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सैलरी का इंतजार कर रहे हैं न्यूज चैनल के पत्रकार, नहीं मिल रहा कोई जवाब

एम्प्लॉइज का कहना है कि अचानक चैनल बंद करने के मैनेजमेंट के फैसले पर वे कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते, पर मैनेजमेंट को प्रफेशनल तरीके से संवाद तो करना चाहिए था

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Monday, 16 September, 2019
Last Modified:
Monday, 16 September, 2019
Channel

पिछले महीने की आखिरी रात वाकई बिजनेस न्यूज चैनल ‘बीटीवीआई’ (BTVI) में कार्यरत 200 एम्पलॉइज के लिए काली रात थी। जिस तरह अनिल अंबानी की कंपनी से सम्बन्धित इस न्यूज चैनल को बंद किया गया, वो काफी चौंकाने वाला था। एम्पलॉइज को शनिवार रात को एक मेल किया गया कि चैनल बंद हो रहा है और फिर अभी तक उनसे कोई ठोस संवाद नहीं हुआ।

वहां कार्यरत कई पत्रकारों ने बताया कि अगले दिन रविवार था और फिर अगले दिन मुंबई के हेड ऑफिस में गणेश चतुर्थी का अवकाश, जिस कारण अचानक आए इस मेल पर आधिकारिक तौर पर संवाद ही नहीं हो पाया। मंगलवार को एचआर ने लैपटॉप और आई कार्ड वापस मांगते हुए कहा कि जल्दी ही सबका फुल एंड फाइनल सेटलमेंट कर दिया जाएगा।

आज 16 दिन हो गए हैं, पर कहीं से कुछ जवाब नहीं मिल रहा है। कब मिलेगी अगस्त की सैलरी और क्या होगा 3 महीने के कंपनशेसन का? ये सवाल 200 एम्पलॉइज के मन में हर पल घूम रहा है। मंदी के इस माहौल में अभी नई नौकरी जल्दी मिलना मुश्किल है और ऐसे में बकाया पेमेंट न मिलने से एम्पलॉइज अचानक से आर्थिक तंगी में आ गए हैं।

एम्प्लॉइज का कहना है कि अचानक चैनल बंद करने के मैनेजमेंट के फैसले पर वे कोई टिप्पणी नहीं करना चाहते, पर मैनेजमेंट को प्रफेशनल तरीके से कम से कम संवाद तो करना चाहिए था और साथ ही एम्प्लॉइज का फुल एंड फाइनल सेटलमेंट करके एक उदाहरण प्रस्तुत करना चाहिए।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दूरदर्शन ने मनाया अपना हैप्पी बर्थडे, कुछ इस तरह मिली बधाई

अपने इस सफर में लोक प्रसारक होने के नाते दूरदर्शन ने सूचना, संदेश व मनोरंजन के साथ साथ राष्ट्र को एक सूत्र में जोड़ने का काम भी किया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Monday, 16 September, 2019
Last Modified:
Monday, 16 September, 2019
Doordarshan

‘दूरदर्शन’ (Doordarshan) ने अपनी स्थापना के 60 साल पूरे कर लिए हैं। वर्ष 1959 को 15 सितंबर के दिन इसकी शुरुआत हुई थी। अपने 60 साल के स्वर्णिम सफर में लोक प्रसारक होने के नाते दूरदर्शन ने सूचना, संदेश व मनोरंजन के साथ साथ राष्ट्र को एक सूत्र में जोड़ने का काम भी किया है। दूरदर्शन का पहला प्रसारण प्रयोगात्मक आधार पर आधे घंटे के लिए शैक्षिक और विकास कार्यक्रमों के रूप में शुरू किया गया था।

प्रसार भारती के मुख्य कार्यकारी अधिकारी शशि शेखर वेम्पती ने दूरदर्शन के 60 साल पूरे होने पर ट्वीट कर बधाई दी।

इसके साथ ही दूरदर्शन की महानिदेशक सुप्रिया साहू ने भी ट्वीट कर बधाई दी है।

दूरदर्शन के साथ लोगों की कितनी यादें जुड़ी हुई हैं और कैसे दूरदर्शन ने उनकी जिंदगी पर प्रभाव डाला है, इसे लेकर भी ट्विटर पर लोगों ने अपनी फीलिंग्स शेयर की हैं। आईएएस ऑफिसर प्रियंका शुक्ला ने भी अपने ट्विटर हैंडल पर दूरदर्शन से जुड़ी यादों को कुछ यूं साझा किया  है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इस चैनल पर नजर आएंगे पत्रकार घनश्याम उपाध्याय

पत्रकारिता के क्षेत्र में लगभग 15 साल के अपने करियर में कई प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में निभा चुके हैं जिम्मेदारी

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Monday, 16 September, 2019
Last Modified:
Monday, 16 September, 2019
Ghanshyam Upadhyay

पत्रकार घनश्याम उपाध्याय अब राज्य सभा टीवी (RSTV) से बतौर ‘सीनियर एंकर’ नई शुरुआत करने जा रहे हैं। इससे पहले वह ‘स्वराज एक्सप्रेस’ में एसोसिएट एडिटर और ‘न्यूज 1इंडिया’ में डिप्टी एडिटर की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। वह ‘न्यूज नेशन’ चैनल में भी बतौर एंकर काम कर चुके हैं।

घनश्याम उपाध्याय ‘समाचार प्लस’ में बतौर प्राइम टाइम सीनियर एंकर/सीनियर प्रड्यूसर भी कार्यरत थे। यहां वह प्राइम शो ‘बिग बुलेटिन’  को होस्ट करते थे। ‘समाचार प्लस’ से पहले वे ‘सहारा समय’ में वर्ष 2008 से 2016 तक अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

घनश्याम उपाध्याय को टीवी, रेडियो और अखबार में काम करने का लगभग 15 साल का अनुभव है। घनश्याम तिवारी ने हरियाणा के हिसार में स्थित गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी से मास्टर ऑफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन की पढ़ाई की है।

उन्होंने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1999 में ‘ऑल इंडिया रेडियो’ के युववाणी स्टेशन से बतौर कैजुअल उद्घोषक के तौर पर की। पूर्व में घनश्याम उपाध्याय ‘सीएनईबी’ और ‘वॉयस ऑफ इंडिया’ न्यूज चैनलों में भी काम कर चुके हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

आजतक की एंकर नवजोत ने लिया ‘ब्रेक’

देश के नंबर 1 चैनल ‘आज तक’ से खबर है कि वहां कार्यरत न्यूज एंकर नवजोत रंधावा ने चैनल को फिलहाल के लिए अलविदा कह दिया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 13 September, 2019
Last Modified:
Friday, 13 September, 2019
Navjyot

देश के नंबर 1 चैनल ‘आज तक’ से खबर है कि वहां कार्यरत न्यूज एंकर नवजोत रंधावा ने चैनल को फिलहाल के लिए अलविदा कह दिया है। मिली जानकारी के मुताबिक कुछ पारिवारिक जिम्मेदारियों के चलते उन्होंने ये बड़ा फैसला लिया है।

गौरतलब है कि साल की शुरुआत में ही उन्होंने ‘आज तक’ के साथ अपनी दूसरी पारी शुरू की थी।

अपने 17 सालों के पत्रकारिता करियर में नवजोत कौर ने कई नामी संस्थानों में सेवाएं दी हैं, जिसमें ‘ज़ी न्यूज़’, ‘सहारा समय’ ‘आजतक’ और नेटवर्क 18 मीडिया समूह शामिल हैं।

हिंदी, अंग्रेजी और पंजाबी भाषा पर पकड़ रखने वालीं नवजोत उन न्यूज एंकर्स की श्रेणी में शामिल हैं, जो सतही ज्ञान तक सीमित नहीं रहते। नवजोत को राजनीति से लेकर लगभग सभी विषयों की अच्छी समझ है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ये 4 एंटरप्रिन्योर्स लेकर आए हैं नया न्यूज चैनल R9 TV

मीडिया इंडस्ट्री पर अर्थव्यवस्था की सुस्त रफ्तार का प्रभाव पड़ने के बावजूद अस्तित्व में आ रहे हैं नए चैनल भी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 13 September, 2019
Last Modified:
Friday, 13 September, 2019
R9TV

अर्थव्यवस्था की सुस्त रफ्तार के बीच एक ओर जहां कई चैनल्स अपना कारोबार समेट रहे हैं और कुछ ने तो ताला भी लगा दिया है, वहीं इन सबके बीच कुछ नए चैनल शुरू भी हो रहे हैं। चार एंटरप्रिन्योर्स ने मिलकर ‘R9 TV’ के नाम से नया हिंदी न्यूज चैनल शुरू किया है। यह चैनल ‘एयरटेल टीवी’ पर पहले से ही मौजूद है और जल्द ही ‘टाटा स्काई’ व अन्य प्लेटफॉर्म्स पर दिखाई देने लगेगा।

चैनल के चारों फाउंडर्स सुनील त्रिपाठी, अविनाश कुमार, विनोद सिंह और करण मोहन का डिजिटल के क्षेत्र में काफी मजबूत बैकग्राउंड है। इन चारों का कहना है कि उनका चैनल ‘राष्ट्रधर्म सर्वप्रथम’ के सिद्धांत पर आधारित है और यह देश में न्यूज मीडिया के क्षेत्र में एक ताजी हवा के झोंके की तरह अपनी मौजूदगी दर्ज कराएगा।

हालांकि चारों फाउंडर्स ने चैनल शुरू करने में हुए निवेश के बारे में नहीं बताया, लेकिन यह जरूर कहा कि कंपनी के पास पहले से ही 100 से ज्यादा लोगों का स्टाफ है। यही नहीं, ‘R9TV’ के प्रमोटर्स डीडी फ्रीडिश के लिए भी बोली लगा रहे हैं, ताकि हिंदी और रीजनल न्यूज जॉनर में ज्यादा से ज्यादा पहुंच बनाई जा सके।

इस बारे में चैनल के मैनेजिंग डायरेक्टर अविनाश कुमार का कहना है, ‘हम समझते हैं कि मीडिया इंडस्ट्री इस समय काफी कठिन दौर से गुजर रही है। हम बिजनेस की बारीकियों को भी समझते हैं। हमारा मुकाबला ‘आजतक’ और ‘रिपब्लिक भारत’ जैसे चैनल्स से है। चैनल्स की भीड़ में हमारा चैनल काफी अलग होगा।’

उन्होंने कहा, ‘जनसरोकारों के लिए काम करने के अपने मिशन के तहत चैनल अपने ऑडियंस को निष्पक्ष और हाई क्वालिटी का आउटपुट देगा, जो न सिर्फ सूचना देने का काम करेगा बल्कि एजुकेट करने का काम भी करेगा। ट्रेडिशनल न्यूज और साहित्यिक कहानियों से अलग हटकर यह कुछ खास अंदाज में काम करेगा। कहने का मतलब है कि चैनल की न्यूज कवरेज निष्पक्ष और इंडिपेंडेंट होगी और इसकी प्रेजेंटेशन भी काफी यूनिक होगी।’

कुमार ने कहा, ‘फिलहाल बिहार, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, पंजाब और राजस्थान में हमारे ऑडियंस हैं और हम जल्द ही अन्य हिंदी भाषी राज्यों में केबल, डीटीएच और अन्य डिजिटल प्लेटफॉर्म्स पर अपनी पहुंच बढ़ाएंगे।’ उन्होंने बताया कि चैनल की डिजिटल मंच पर भी अपनी दमदार मौजूदगी दर्ज कराने की योजना है। आने वाले छह महीनों में इसके पास मराठी, पंजाबी समेत कई भाषाओं में कम से कम आठ रीजनल प्लेटफॉर्म्स होंगे। इसके अलावा तीन-चार रीजनल चैनल्स भी होंगे।

बताया जाता है कि राष्ट्र की आवाज बनने के अपने मिशन के तहत चैनल ने एक खास पहल भी शुरू की है। इसके तहत न्यू इंडिया के विजन को शेयर करने के लिए विकास समेत कई मुद्दों पर बातचीत का ब्लूप्रिंट तैयार किया गया है।

 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Times Network के COO ने लिया ये 'बड़ा' फैसला

नेटवर्क का प्रदर्शन बेहतर रहने पर करीब दो महीने पहले सीनियर मैनेजमेंट टीम को दी गई थी प्रमोशंस की सौगात

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 12 September, 2019
Last Modified:
Thursday, 12 September, 2019
Times Network

‘टाइम्स नेटवर्क’ (Times Network) के बारे में मिल रहीं खबरों के मुताबिक नेटवर्क के सीओओ और प्रेजिडेंट निखिल गांधी ने यहां से अलविदा कह दिया है। हालांकि, टाइम्स ग्रुप की ओर से इस बारे में अभी कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। टाइम्स में अपनी जिम्मेदारी संभालने से पहले निखिल गांधी नौ साल से ज्यादा समय तक ‘वॉल्ट डिज्नी’ (Walt Disney) में बतौर वाइस प्रेजिडेंट अपनी जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। टाइम्स ग्रुप के साथ निखिल गांधी की यह दूसरी पारी थी। जनवरी 2005 से मई 2007 के बीच इस ग्रुप में वह रीजन हेड की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं।   

बता दें कि इंडस्ट्री में आर्थिक मंदी के बावजूद वित्तीय वर्ष 2019 (FY19) में ‘टाइम्स नेटवर्क’ (Times Network) का प्रदर्शन काफी बेहतर रहने पर इस साल जुलाई में टाइम्स नेटवर्क ने अपनी सीनियर मैनेजमेंट टीम को प्रमोशन की सौगात दी थी। इसमें निखिल गांधी को चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर और प्रेजिडेंट पद पर प्रमोट किया गया था।

उस समय नई भूमिका के तहत उन्हें नेटवर्क के चैनल्स की बिजनेस ग्रोथ के साथ ही टाइम्स इंफ्लुएंस (Times Influence), इंटरनेशनल बिजनेस (International Business) व जूम (Zoom) की स्ट्रैटेजिक ग्रोथ और प्रॉफिटिबिलिटी की जिम्मेदारी दी गई थी।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब iTV Network में ग्रुप एडिटर की भूमिका निभाएंगी ये महिला पत्रकार

पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने तीन दशक से ज्यादा के करियर में कई मीडिया संस्थानों में निभा चुकी हैं बड़ी जिम्मेदारी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 12 September, 2019
Last Modified:
Thursday, 12 September, 2019
iTV Network

न्यूज ब्रॉडकास्टर ‘आईटीवी नेटवर्क’ (iTV Network) ने वरिष्ठ पत्रकार उमा प्रभु को ग्रुप एडिटर पद पर नियुक्त किया है। आईटीवी नेटवर्क को जॉइन करने से पहले उमा प्रभु ‘जी मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड’ (ZMCL) में ग्रुप एडिटर की जिम्मेदारी संभाल रही थीं। उमा प्रभु को न्यूज ब्रॉडकास्टिंग के क्षेत्र में काम करने का तीन दशक से ज्यादा का अनुभव है। पूर्व में वह ‘स्टारडस्ट’, ‘द टाइम्स ऑफ इंडिया’, ‘पॉपुलर प्रकाशन’ ‘द डेली’ आदि में अहम जिम्मेदारी निभा चुकी हैं।

आईटीवी नेटवर्क में अपनी नई भूमिका में वह ग्रुप के अंग्रेजी अखबार द संडे गार्डियन’ (The Sunday Guardian) के लिए आर्टिकल लिखने के साथ ही कंटेंट तैयार करेंगी और नेटवर्क के चैनल्स और डिजिटल प्लेटफॉर्म्स पर फोकस करेंगी।

उल्लेखनीय है कि उमा प्रभु पूर्व कैबिनेट मंत्री सुरेश प्रभु की पत्नी है।

अपनी नई जिम्मेदारी के बारे में उमा प्रभु ने कहा, ‘मेरे लिए यह काफी सम्मान की बात है कि मुझे इस पद की जिम्मेदारी दी गई है। आईटीवी नेटवर्क बेहतरीन मीडिया संस्थानों में शुमार है, जहां पर काफी प्रतिभाशाली स्टाफ है।’ वहीं, आईटीवी नेटवर्क के फाउंडर और प्रमोटर कार्तिकेय शर्मा ने कहा, ‘आईटीवी नेटवर्क में उमा प्रभु का स्वागत है। उमा प्रभु को काफी अनुभव है, जिसका लाभ नेटवर्क को मिलेगा।’

मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएट उमा प्रभु ने पुणे यूनिवर्सिटी से पत्रकारिता की पढ़ाई की है। इसके साथ ही उन्होंने दिल्ली के इंडिया सोसायटी ऑफ ट्रेनिंग एंड डेवलपमेंट से ट्रेनिंग एंड डेवलपमेंट में डिप्लोमा भी लिया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टीवी पत्रकार कुणाल सिंह ने अब इस चैनल संग शुरू किया नया सफर

मीडिया के क्षेत्र में करीब 12 साल के करियर के दौरान कई मीडिया संस्थानों में जिम्मेदारी निभा चुके हैं कुणाल सिंह

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 12 September, 2019
Last Modified:
Thursday, 12 September, 2019
Kunal

टीवी पत्रकार कुणाल सिंह ने अंग्रेजी न्यूज चैनल ‘India Ahead’ में अपनी पारी को विराम दे दिया है। वह यहां करीब डेढ़ साल से बतौर इनपुट एडिटर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे। कुणाल सिंह ने अपना नया सफर अब राज्य सभा टीवी (RSTV) के साथ शुरू किया है। यहां पर उन्हें सीनियर प्रड्यूसर (असाइनमेंट डेस्क) की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

कुणाल सिंह को मीडिया के क्षेत्र में काम करने का करीब 12 साल का अनुभव है और इस दौरान वह न्यूजएक्स, भास्कर न्यूज और आईबीएन7 (अब न्यूज18इंडिया) जैसे संस्थानों में अपनी भूमिका निभा चुके हैं। कुणाल सिंह ने पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत ‘डीडी न्यूज’ में बतौर ट्रेनी रिपोर्टर की और इस दौरान दिल्ली-एनसीआर में कई पॉलिटिकल-सोशल स्टोरी कवर कीं। इसके बाद जून 2007 में उन्होंने ‘आईबीएन7’ का दामन थाम लिया और छह साल से अधिक समय तक (अगस्त 2013 तक) यहां बतौर प्रड्यूसर अपनी भूमिका संभाली।

बाद में यहां से बाय बोलकर उन्होंने ‘भास्कर न्यूज’ (असाइनमेंट डेस्क) जॉइन कर लिया। कुछ समय बाद कुणाल सिंह ने यहां से भी अलविदा बोल दिया और ‘A1TV’, जयपुर में प्राइम टाइम शिफ्ट इंचार्ज के रूप में नई पारी शुरू कर दी। कुछ समय बाद यहां से बाय बोलकर उन्होंने ‘न्यूजएक्स’ में असाइमेंट डेस्क पर बतौर सीनियर एसोसिएट प्रड्यूसर अपने नए सफर की शुरुआत की और यहां एक साल से ज्यादा समय तक अपनी सेवाएं देने के बाद फिर ‘India Ahead’  में इनपुट एडिटर के पद पर होते हुए अब राज्य सभा टीवी पहुंचे हैं।

कुणाल सिंह ने सत्यवती कॉलेज (दिल्ली विश्वविद्यालय) से ग्रेजुएशन करने के बाद भारतीय विद्या भवन, दिल्ली से रेडियो एंड टीवी जर्नलिज्म में पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा किया और फिर हरियाणा के हिसार में स्थित गुरु जंभेश्वर यूनिवर्सिटी से रेडियो और टीवी जर्नलिज्म में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टीवी चैनल्स को हफ्ते में एक बार करना होगा ये काम

दिव्यांगों की सहूलियत के लिए सूचना प्रसारण मंत्रालय ने लिया बड़ा फैसला, जारी की गईं गाइडलाइंस

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 11 September, 2019
Last Modified:
Wednesday, 11 September, 2019
Channels

दिव्यांगों की परेशानी को देखते हुए मोदी सरकार ने एक और बड़ा फैसला किया है। इसके तहत सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि दिव्यांगों के लिए सभी प्राइवेट चैनल्स से हफ्ते में एक बार सांकेतिक भाषा (sign language) में न्यूज बुलेटिन होस्ट करने को कहा गया है।

बताया जाता है कि सभी प्राइवेट चैनल्स ने सरकार की इस बात से सहमति जताई है। इस बारे में सरकार की ओर से गाइडलाइंस भी जारी कर दी गई हैं। न्यूज एजेंसी ‘एएनआई’ ने अपने ट्विटर अकाउंट पर एक ट्वीट के जरिये इस बारे में जानकारी दी है। इस ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं।  

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

बॉलिवुड फिल्ममेकर ने रवीश कुमार को बताया हाफिज सईद, की गिरफ्तारी की मांग

एनडीटीवी’ के वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार को फिलीपींस की राजधानी मनीला में नौ सितंबर को प्रतिष्ठित रैमन मैगसायसाय अवॉर्ड दिया गया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 11 September, 2019
Last Modified:
Wednesday, 11 September, 2019
Ravish Kumar

‘एनडीटीवी’ के वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार को फिलीपींस की राजधानी मनीला में नौ सितंबर को प्रतिष्ठित रैमन मैगसायसाय अवॉर्ड (Ramon Magsaysay Awards) दिया गया। इस मौके पर उन्होंने मंच से संबोधित भी किया। रवीश कुमार का कहना था कि भारतीय मीडिया इस समय संकट के दौर से गुजर रहा है, लेकिन ये संकट अचानक नहीं आया है, बल्कि सिस्टैमैटिक है।

उनका कहना था कि जो पत्रकार सिस्टम के आगे घुटने नहीं टेकते और अपने उसूलों से समझौता नहीं करते, उन्हें बाहर का रास्त दिखाया जाता है, लेकिन ऐसे न्यूज संस्थानों से कोई जवाब तलब नहीं होता है। जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट सेवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया, ऐसे में भी कई बड़े न्यूज चैनल्स सरकार के साथ दिखे।

लेकिन, रवीश कुमार का संबोधन कुछ लोगों के गले नहीं उतरा। ऐसे में कुछ लोगों ने उनकी तुलना मुंबई हमले के मास्‍टरमाइंड और मोस्‍ट वांटेड आतंकवादी हाफिज सईद से करनी शुरू कर दी है। ऐसे ही एक ट्विटर यूजर और बॉलिवुड फिल्ममेकर अशोक पंडित ने अपने ट्विटर अकाउंट पर रवीश के बारे में कहा है, ‘वह भारतीय मीडिया के हाफिज सईद हैं जो पाकिस्तान के एजेंट हैं। विदेश धरती पर देश विरोधी बातें करने के लिए उन्हें गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

अशोक पांडे का ये ट्वीट आप यहां देख सकते हैं। 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए