रैमन मैगसायसाय वेबसाइट ने रवीश कुमार की 'शख्सियत' को यूं समझाया

रवीश कुमार को रैमन मैगसायसाय पुरस्कार देने के साथ संस्था द्वारा दिया गया Citation का हिंदी अनुवाद मयंक सक्सेना ने किया है, ताकि हिंदी पाठक उसे भी समझ सकें..

Last Modified:
Friday, 02 August, 2019
Ravish Kumar

रवीश कुमार को रैमन मैगसायसाय पुरस्कार देने के साथ संस्था द्वारा दिया गया Citation का हिंदी अनुवाद मयंक सक्सेना ने किया है, ताकि हिंदी पाठक उसे भी समझ सकें...

पिछले कुछ सालों में दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में आज़ाद और ज़िम्मेदार पत्रकारिता के स्पेस को सिकुड़ते देखा है। इसके पीछे कई सारे कारण हैं: नई सूचना प्रोद्योगिकी के कारण बदलता मीडिया का स्वरूप, ख़बर और रायशुमारी का बाज़ारीकरण, सरकार का बढ़ता नियंत्रण और सबसे चिंताजनक है लोकप्रिय अधिनायकवाद और धार्मिक-जातीय-राष्ट्रवादी कट्टरपंथियों का अपने सतत विभाजनकारी, असहिष्णु और हिंसक तरीके से उभार।

इन बढ़ते ख़तरों के विरोध में भारत में एक अहम आवाज़ हैं टीवी पत्रकार रवीश कुमार। हिंदीभाषी राज्य बिहार के जितवापुर गांव में पैदा हुए और पले-बढ़े रवीश ने अपने शुरुआती रुझान के मुताबिक अपनी परास्नातक डिग्री दिल्ली विश्वविद्यालय से इतिहास और पब्लिक अफेयर्स में ली। 1996 में उन्होंने एनडीटीवी ज्वाइन किया और एक फील्ड रिपोर्टर के तौर पर शुरुआत की। आज एनडीटीवी के सीनियर एग्जिक्यूटिव एडिटर के तौर पर रवीश कुमार, देश के सबसे प्रभावशाली टीवी पत्रकारों में से एक हैं। 

हालांकि उनकी सबसे बड़ी विशेषता वो पत्रकारिता है, जिसका वो प्रतिनिधित्व करते हैं। एक ऐसे मीडिया के माहौल में, जो एक दखलअंदाज़ सत्ता से डरा हुआ है, जो कट्टर राष्ट्रवादी ताकतों और ट्रोल्स से ज़हरीला हो गया है और फ़ेक न्यूज़ से भरता जा रहा है और जहां बाज़ार की रेटिंग्स ने सारा दांव 'मीडिया शख्सियतों', 'पीत पत्रकारिता' और दर्शकों को लुभाने वाली सनसनी पर लगा रखा है, रवीश पत्रकारिता की सभ्य, संतुलित और तथ्य आधारित रिपोर्टिंग शैली को ही पेशेवर पत्रकारिता बनाए रखने पर अड़े हुए हैं। एनडीटीवी पर उनका कार्यक्रम 'प्राइम टाइम' ताज़ातरीन सामाजिक मुद्दों को उठाता है, गंभीर बैकग्राउंड रिसर्च करता है और मुद्दे को एक या उससे भी अधिक एपिसोड्स में एक बहुआयामी चर्चा के साथ सामने रखता है। इस कार्यक्रम में मुद्दे असल ज़िंदगी में आम लोगों की अनकही दिक्कतों की बात करते हैं - जो सीवर में नंगे हाथ-पैर उतरने वालों और रिक्शाचालकों से लेकर सरकारी कर्मचारियों और किसानों की तक़लीफ़ से अर्थाभाव से जूझते सरकारी स्कूलों और अकर्मण्य रेलवे तंत्र तक हो सकते हैं। रवीश सरलता से गरीब जनता से संवाद करते हैं, खूब यात्राएं करते हैं और अपने दर्शकों से संपर्क में रहने के लिए सोशल मीडिया का खूब इस्तेमाल करते हैं और इसके ज़रिए भी अपने कार्यक्रम के लिए स्टोरीज़ तैयार करते हैं। जन-आधारित पत्रकारिता की लगातार कोशिश करते हुए, वो अपने न्यूज़रूम को जनता का न्यूज़रूम कहते हैं।

रवीश भी कई बार कुछ नाटकीयता का सहारा लेते हैं क्योंकि उनका मानना है कि ये प्रभावी तरीका है। उन्होंने 2016 में एक अनोखे ढंग के शोर में नाटकीय ढंग से बताया था कि कैसे टीवी न्यूज़ शोज़ में बहस का स्तर कितना गिर चुका है। शो की शुरुआत में स्क्रीन पर आते हुए रवीश बताते हैं कि कैसे टीवी न्यूज़ शोज़ गुस्सैल और कानफो़ड़ू आवाज़ों के अंधेरे जगत में बदल गए हैं। उसके बाद स्क्रीन काली हो जाती है और अगले एक घंटे तक स्क्रीन काली रहती है और पीछे से असल टीवी शोज़ के कर्कश ऑडियो, ज़हरीली धमंकियां, बौखलाहट भरी रट, साउंडबाइट्स और दुश्मन का खून बहाने को तत्पर भीड़ का शोर सुनाई देते रहते हैं। रवीश के मुताबिक उनके लिए हमेशा संदेश अहम है, जिसे दिया जाना ही चाहिए। 

एक एंकर के तौर पर रवीश हमेशा भद्र हैं, संतुलित हैं और सूचना से सुसज्जित रहते हैं। वो अपने अतिथि पर हावी नहीं होते बल्कि उनको अपनी बात कहने का मौका देते हैं। वो चिल्लाते नहीं, लेकिन सबसे ऊंचे शक्ति की ज़िम्मेदारी भी गिनाते हैं और देश में सार्वजनिक-विमर्श में भूमिका के लिए मीडिया की भी निंदा कर डालते हैं: इस वजह से उनको लगातार अलग-अलग तरह की कट्टर शक्तियों की धमकिय़ों और ख़तरों का सामना करना पड़ता रहा है। इन सारी मुश्किलों और बाधाओं के बावजूद भी रवीश एक समीक्षात्मक, सामाजिक तौर पर जवाबदेह मीडिया के स्पेस को बढ़ाते रहने के अपने प्रयासों में लगे रहे हैं। एक ऐसी पत्रकारिता में भरोसा रखते हुए, जिसके केंद्र में आम लोग हैं, रवीश पत्रकार के तौर पर अपनी भूमिका को मूलभूत रूप से परिभाषित करते हैं, "अगर आप लोगों की आवाज़ बन सकते हैं, तो ही आप पत्रकार हैं।" 

2019 के रैमन मैगसायसाय पुरस्कार के लिए रवीश कुमार का चुनाव करते हुए, बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज़ उनके उच्चतम कोटि के तिक पत्रकारिता के प्रति अडिग समर्पण को ध्यान में रखता है: उनका नैतिक साहस जिसके दम पर वो सच के लिए खड़े होते हैं, उनकी ईमानदारी, आज़ादी और उनके उस सैद्धांतिक विश्वास को सम्मानित करता है, जिसके मुताबिक पत्रकारिता लोकतंत्र की उन्नति में अपना सबसे आदर्श लक्ष्य तब हासिल करती है, जब वो सच को साहस से बोलती है, बेआवाज़ों की आवाज़ को सत्ता के सामने ताकत देती है, लेकिन अपनी भद्रता नहीं खोती...

मूल साइटेशन - रेमन मैगसेसे पुरस्कार की वेबसाइट से 
अनुवाद - मयंक सक्सेना

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ टीवी पत्रकार अजय आजाद की न्यूज24 में हुई वापसी, मिली ये जिम्मेदारी

वरिष्ठ टीवी पत्रकार अजय आजाद ने हिंदी न्यूज चैनल ‘इंडिया न्यूज’ (India News) को अलविदा कह दिया है।

Last Modified:
Friday, 14 August, 2020
Ajay Azad

वरिष्ठ टीवी पत्रकार अजय आजाद ने हिंदी न्यूज चैनल ‘इंडिया न्यूज’ (India News) को अलविदा कह दिया है। वह यहां पिछले कुछ महीनों से आउटपुट हेड के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे। खबर है कि उन्होंने ‘न्यूज24’ में अपनी वापसी की है। यहां उन्हें आउटपुट हेड की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

अजय आजाद पूर्व में भी ‘न्यूज24’ का हिस्सा रहे हैं और इस पारी में भी आउटपुट हेड की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। अजय आजाद को टीवी मीडिया के क्षेत्र में काम करने का लंबा अनुभव है। पूर्व में वह ‘न्यूज24’ के अलावा ‘टीवी9 भारतवर्ष’, ‘इंडिया टीवी’, ‘ईटीवी’, ‘महुआ’, ‘जी न्यूज’ व ‘इंडिया न्यूज’ में महत्वपूर्ण पदों पर काम कर चुके हैं।

मूल रूप से सिवान (बिहार) के रहने वाले अजय आजाद लंबे समय तक राणा यशवंत की ‘महुआ’ और ‘इंडिया न्यूज’ टीम का हिस्सा रहे हैं, लेकिन काफी पहले उन्होंने ‘इंडिया न्यूज’ से विदाई लेकर ‘न्यूज 24’ जॉइन कर लिया था। इसके बाद ‘टीवी9 भारतवर्ष’ और ‘इंडिया न्यूज’ से होते हुए ‘न्यूज24’ में उनकी फिर वापसी हुई है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सीनियर न्यूज एंकर साक्षी जोशी ने न्यूज24 को कहा बाय, अब करेंगी ये काम

मशहूर टीवी एंकर व हिंदी न्यूज चैनल ‘न्यूज24’ (News24) की एसोसिएट एडिटर साक्षी जोशी के बारे में एक बड़ी खबर है।

Last Modified:
Friday, 14 August, 2020
Sakshi Joshi

मशहूर टीवी एंकर व हिंदी न्यूज चैनल ‘न्यूज24’ (News24) की एसोसिएट एडिटर साक्षी जोशी के बारे में एक बड़ी खबर है। खबर ये है कि उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। साक्षी जोशी इस संस्थान में करीब साढ़े चार साल से अपनी जिम्मेदारी संभाल रही थीं।

समाचार4मीडिया के साथ बातचीत में साक्षी जोशी ने बताया कि उन्होंने अपना इस्तीफा पिछले महीने ही संस्थान को सौंप दिया था और फिलहाल नोटिस पीरियड पर काम कर रही थीं। अब यह नोटिस पीरियड भी पूरा हो गया है। साक्षी जोशी का यह भी कहना है कि वह मीडिया के वर्तमान हालात से खुश नहीं हैं और फिलहाल किसी भी न्यूज चैनल में जॉइन नहीं करेंगी।

हालांकि, अगले कदम के बारे में साक्षी का कहना था कि वह अब अपने यूट्यूब चैनल पर ध्यान केंद्रित करेंगी और इसकी ग्रोथ की दिशा में काम करेंगी।

बता दें कि करीब साढ़े चार साल पूर्व न्यूज24 जॉइन करने से पहले भी वह करीब चार साल तक पत्रकारिता से दूरी बना चुकी हैं। 2005 में ग्रेजुएशन के दूसरे वर्ष में ही साक्षी ने ‘टोटल टीवी’ में बतौर एंकर काम करना शुरू कर दिया था। यहां करीब 3 साल काम करने के बाद साक्षी ने 2008 में ‘इंडिया टीवी’ के साथ अपनी पारी को आगे बढ़ाया। बतौर एंकर दो साल तक ‘इंडिया टीवी’ में काम करने के बाद साक्षी का अगला पड़ाव बना प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान ‘बीबीसी वर्ल्ड सर्विस’।

2010 में इसके दिल्ली ऑफिस में साउथ एशिया ब्यूरो के रेडियो और ऑनलाइन सेक्शन में बतौर प्रड्यूसर साक्षी ने पत्रकारिता की इस विधा में भी हाथ आजमाया, लेकिन कुछ महीनों बाद ही वे टीवी न्यूज की दुनिया में वापस चली गईं। 2010 के आखिर में साक्षी ने ‘आईबीएन7’ को जॉइन किया और यहां दो साल की पारी के दौरान कई बार उनकी एंकरिंग चर्चा में रही। साक्षी जोशी द्वारा अपने ट्विटर हैंडल पर भी ये जानकारी साझा की गई है, जिसे आप यहां देख सकते हैं।  

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

निजी टीवी चैनल्स को लेकर प्रसार भारती के CEO ने कही ये बात

‘गवर्नेंस नाउ’ (Governance Now) के एमडी कैलाशनाथ अधिकारी के साथ विशेष बातचीत में प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर वेम्पती ने तमाम पहलुओं पर अपने विचार रखे

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 13 August, 2020
Last Modified:
Thursday, 13 August, 2020
Prasar Bharati

नेशनल पब्लिक ब्रॉडकास्टर ‘प्रसार भारती’ (Prasar Bharati) का कहना है कि अयोध्या में राम मंदिर के लिए पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा किए गए भूमि पूजन कार्यक्रम की दूरदर्शन द्वारा लाइव कवरेज को करीब 200 टीवी चैनलों ने प्रसारित किया, लेकिन अधिकांश ने डीडी को उसकी फुटेज का श्रेय (credit) नहीं दिया। पांच अगस्त की सुबह 10.45 बजे से दोपहर 2 बजे के बीच हुए इस कार्यक्रम को करीब 160 मिलियन लोगों ने लाइव देखा।

इस बारे में ‘गवर्नेंस नाउ’ (Governance Now) के एमडी कैलाशनाथ अधिकारी के साथ एक बातचीत में ‘प्रसार भारती’ (Prasar Bharti) के सीईओ शशि शेखर वेम्पती ने कहा, ‘जब मैंने अपनी टीम से यह जांच करने के लिए कहा कि कितने चैनल्स ने इस प्रसारण के लिए दूरदर्शन को क्रेडिट दिया तो ऐसे चैनल्स की संख्या काफी कम थी। बाकी चैनल्स ने काफी चतुराई से इससे किनारा कर लिया।’

पब्लिक पॉलिसी प्लेटफॉर्म पर ‘विजिनरी टॉक सीरीज’ (Visionary Talk series) के तहत होने वाली इस बातचीत के दौरान वेम्पती का यह भी कहना था, ‘एक पब्लिक ब्रॉडकास्टर होने के नाते हम इसे अपनी जिम्मेदारी समझते हैं और अपने कंटेंट को बिना किसी तरह की अपेक्षाओं के दूसरों से शेयर करते हैं। इसलिए मुद्रीकरण (monetization) सिर्फ एक सीमा तक होता है, उससे आगे नहीं।’

इस बातचीत के दौरान वेम्पती ने प्रसार भारती द्वारा शुरू की गईं तमाम पहलों (initiatives) के बारे में जानकारी दी। उन्होंने यह भी बताया कि ‘दूरदर्शन’ पर फिर शुरू किए गए लोकप्रिय सीरियल्स ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ को किस तरह दर्शकों का प्यार मिला।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानिए, NDTV लिमिटेड के लिए कैसी रही यह तिमाही

‘एनडीटीवी’ लिमिटेड के टेलिविजन बिजनेस ने 30 जून, 2020 को समाप्त तिमाही के लिए 4.42 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ घोषित किया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 12 August, 2020
Last Modified:
Wednesday, 12 August, 2020
NDTV

मीडिया कंपनी ‘एनडीटीवी’ (NDTV) लिमिटेड के टेलिविजन बिजनेस ने 30 जून, 2020 को समाप्त तिमाही के लिए 4.42 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ घोषित किया है जबकि टैक्स के बाद समेकित लाभ (consolidated profit after tax) 7.55 करोड़ रुपये है।

इस तिमाही में 47.88 करोड़ रुपये का रेवेन्यू दर्ज किया गया है, जबकि पिछली तिमाही में यह 57.77 करोड़ रुपये था। कंपनी द्वारा एक अगस्त 2020 से एम्प्लॉयीज की सैलरी में भी कटौती की गई है। लॉकडाउन के शुरुआती महीनों में तमाम अन्य मीडिया कंपनियों की तरह इस कंपनी ने भी एम्प्लॉयीज की सैलरी में कटौती की थी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूज एंकर सुशांत सिन्हा ने India TV को कहा अलविदा

न्यूज एंकर सुशांत सिन्हा ने ‘इंडिया टीवी’ (India TV) में अपनी करीब डेढ़ साल पुरानी पारी को विराम दे दिया है।

Last Modified:
Monday, 10 August, 2020
Suahant Sinha

न्यूज एंकर सुशांत सिन्हा ने ‘इंडिया टीवी’ (India TV) में अपनी करीब डेढ़ साल पुरानी पारी को विराम दे दिया है। वह यहां एग्जिक्यूटिव एडिटर के तौर पर कार्यरत थे। फिलहाल, उनके अगले कदम के बारे में पता नहीं चला है। हालांकि खबर है कि वह जल्द ही किसी चैनल के साथ अपनी नई पारी शुरू करेंगे।  

बता दें कि सुशांत सिन्हा ने पिछले साल मार्च में ‘इंडिया टीवी’ के साथ अपना सफर शुरू किया था। मूल रूप से पटना के रहने वाले सुशांत सिन्हा पत्रकारिता में अपने 18 साल से ज्यादा के करियर के दौरान तमाम न्यूज चैनल्स में जिम्मेदारी निभा चुके हैं। ‘इंडिया टीवी’ से पहले वह करीब ढाई साल तक ‘इंडिया न्यूज’ में डिप्टी एडिटर व सीनियर एंकर के तौर पर काम कर रहे थे।

सुशांत पूर्व में ‘एनडीटीवी इंडिया’ का हिस्सा भी रहे हैं। वहां उन्होंने करीब पांच साल की लंबी पारी खेली थी।। नवंबर 2011 में सुशांत एनडीटीवी के साथ जुड़े थे। इससे पहले अप्रैल 2011 से नवंबर 2011 तक वह ‘न्यूज24’ के साथ बतौर असोसिएट एग्जिक्यूटिव प्रड्यूसर रहे और इसके अतिरिक्त एंकरिंग की भी जिम्मेदारी संभालते थे।

सुशांत ने इंफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी में ग्रेजुएशन किया है। वह ‘लाइव इंडिया’ के साथ भी लगभग छह वर्षों तक काम कर चुके हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सैम बलसारा ने बताई वजह, क्यों कम हो रही न्यूज चैनल्स की व्युअरशिप

‘गवर्नेंस नाउ’ (Governance Now) के एमडी कैलाशनाथ अधिकारी के साथ विशेष बातचीत में एडवर्टाइजिंग जगत की जानी-मानी हस्ती सैम बलसारा ने तमाम न्यूज चैनल्स की आलोचना की

Last Modified:
Friday, 07 August, 2020
Sam Balsara

‘मैडिसन वर्ल्ड’ (Madison World) और ‘मैडिसन कम्युनिकेशंस’ (Madison Communications)  के फाउंडर, चेयरमैन और एमडी सैम बलसारा ने तमाम भारतीय न्यूज चैनल्स की आलोचना की है। एडवर्टाइजिंग जगत की जानी-मानी हस्ती सैम बलसारा का कहना है कि वर्तमान परिप्रेक्ष्य में न्यूज चैनल्स लगातार एक ही कंटेंट को दोहरा रहे हैं।

बलसारा ‘गवर्नेंस नाउ’ (Governance Now) के एमडी कैलाशनाथ अधिकारी के साथ ‘Impact of Covid-19 on media and entertainment industry and the role of governance in the media sector’ टॉपिक पर विशेष बातचीत कर रहे थे।

‘विजिनरी टॉक सीरीज’ (Visionary Talk series) के तहत होने वाली इस बातचीत के दौरान बलसारा का कहना था, ‘न्यूज चैनल्स के पास नई पहल करने और ज्यादा मानवीय होने के तमाम अवसर हैं, लेकिन न्यूज कंटेंट के लगातार दोहराव की वजह से व्युअरशिप नीचे आ रही है। लॉकडाउन के पहले हफ्ते में न्यूज चैनल्स की व्युअरशिप जहां 300 प्रतिशत तक बढ़ गई थी, वहीं वर्तमान में इसमें भारी कमी आई है।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

DD के फ्रीडिश स्लॉट की नीलामी में इन चैनल्स को मिली सफलता

नेशनल पब्लिक ब्रॉडकास्टर ‘प्रसार भारती’ ने ‘दूरदर्शन’ के डायरेक्ट टू होम (DTH) प्लेटफॉर्म ‘फ्रीडिश’ पर दो नए चैनल्स द्वारा स्लॉट हासिल किए जाने की घोषणा की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 06 August, 2020
Last Modified:
Thursday, 06 August, 2020
Free Dish

नेशनल पब्लिक ब्रॉडकास्टर ‘प्रसार भारती’ ने ‘दूरदर्शन’ के डायरेक्ट टू होम (DTH) प्लेटफॉर्म ‘फ्रीडिश’ पर दो नए चैनल्स द्वारा स्लॉट हासिल किए जाने की घोषणा की है। जिन चैनल्स ने इन स्लॉट्स को हासिल करने में सफलता हासिल की है, उनके नाम ‘ABZY Movies’ और ‘News State’ (UP/Uttarakhand) हैं। ये स्लाट छह अगस्त 2020 से 31 मार्च 2021 तक के लिए वैध होंगे। यानी अब डीडी फ्रीडिश के दर्शकों को 31 मार्च 2021 तक इस प्लेटफॉर्म पर ये दो चैनल्स और देखने को मिलेंगे।

‘ABZY Movies’ एक फ्री टू एयर (FTA) हिंदी मूवीज चैनल है और यह विभिन्न डीटीएच प्लेटफॉर्म्स व केबल टीवी पर उपलब्ध है। वहीं, ‘News State’ (UP/UK) एक हिंदी न्यूज चैनल है जो उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड की खबरों पर ज्यादा फोकस करता है।

बता दें कि प्रसार भारती ने 20 जुलाई को डीडी फ्रीडिश प्लेटफॉर्म पर खाली पड़े स्लॉट्स भरने के लिए टीवी चैनल्स से आवेदन आमंत्रित किए थे। प्रसार भारती की ओर से 20 जुलाई को जारी इस नोटिस में कहा गया था कि आवश्यकता पड़ने पर  28 जुलाई को 47वीं ई-नीलामी की प्रक्रिया आयोजित की जाएगी।

गौरतलब है कि ‘News State’ (UP/UK) डीडी फ्रीडिश प्लेटफॉर्म पर पहले से मौजूद है, क्योंकि इसने जून में हुई 46वीं ई-नीलामी में स्लॉट जीता था। 47वीं ई-नीलामी जहां खाली पड़े MPEG-2 स्लॉट्स को भरा गया है, वहीं 46वीं ई-नीलामी खाली पड़े MPEG-4 स्लॉट के लिए थी। जून के आखिर में प्रसार भारती ने घोषणा की थी कि 46वीं ई-नीलामी में 15 चैनल्स ने स्लॉट्स हासिल किए हैं, जिनमें से चार धार्मिक और 11 न्यूज चैनल्स हैं।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ABP माझा के इस कार्यक्रम में जुटीं हस्तियां, तमाम मुद्दों पर हुई चर्चा

‘एबीपी माझा’ ने राजनीतिक घटनाक्रमों, जनता से जुड़े प्रमुख मुद्दों और सरकार के विभिन्न विचारों पर प्रकाश डालने के लिए 31 जुलाई को अपने फ्लैगशिप शो ‘माझा महाराष्ट्र माझा विजन’ का आयोजन किया।

Last Modified:
Monday, 03 August, 2020
ABP Majha

देश के अग्रणी मराठी न्यूज चैनल ‘एबीपी माझा’ (ABP Majha) ने राजनीतिक घटनाक्रमों, जनता से जुड़े प्रमुख मुद्दों और सरकार के विभिन्न विचारों पर प्रकाश डालने के लिए 31 जुलाई को अपने फ्लैगशिप शो ‘माझा महाराष्ट्र माझा विजन’ (Majha Maharashtra Majha Vision) का आयोजन किया।

कार्यक्रम में विभिन्न दलों के राजनेताओं समेत तमाम पत्रकारों ने भाग लिया और राज्य के वर्तमान हालातों पर चर्चा की। कार्यक्रम में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने राज्य में कोविड-19 की स्थिति के बारे में बताते हुए कहा, ‘मुंबई लोकल अभी भी चल रही है। आवश्यक सेवाओं से जुड़े लोगों के लिए लोकल ट्रेन की सुविधा उपलब्ध है। मुंबई में स्थानीय परिवहन सेवा शुरू होगी या नहीं, यह तय करना राज्य सरकार के पास नहीं है। राज्य में आवश्यक सेवा से जुड़े कर्मचारियों के लिए परिवहन सेवा शुरू करने को लेकर हमें कई बार केंद्र सरकार से अनुरोध करना पड़ा।’  

वहीं, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने इस बात पर जोर दिया कि लॉकडाउन समस्या का समाधान नहीं है। उन्होंने कहा, ‘यदि लॉकडाउन को और बढ़ाया जाता है तो उससे आर्थिक संकट पैदा हो जाएगा। इंडस्ट्री को सोशल डिस्टेंसिंग पर फोकस करना होगा। इसके साथ ही हाथ धोने और मास्क का इस्तेमाल करने की आदत को बढ़ावा देना होगा।’

इस कार्यक्रम को एबीपी माझा के एंकर राजीव खांडेकर, अभिजीत करंडे (Abhijit Karande), प्रसन्ना जोशी, ज्ञानदा चव्हाण और नम्रता वागले ने मॉडरेट किया। बता दें कि माझा विजन एक प्लेटफॉर्म है, जहां राज्य के प्रमुख मामलों पर विचार-विमर्श करने के लिए मंत्री आमने-सामने आते हैं और ज्वलंत मुद्दों पर अपनी राय साझा करते हैं। उन्हें अपनी राज्य के प्रति अपने लक्ष्यों और किए गए कामों की प्रगति को लेकर अपने रिपोर्ट कार्ड को साझा करने का मंच मिलता है।

इस समिट के बारे में ‘एबीपी नेटवर्क’ (ABP Network) के सीईओ अविनाश पांडे ने कहा, ‘माझा विजन एक ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां पर राजनेता एक साथ आते हैं और राज्य व राष्ट्र से जुड़े प्रमुख मुद्दों पर अपनी बात रखते हैं। महाराष्ट्र में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे समय में लोग जानना चाहते हैं कि इस बीमारी से निपटने के बारे में उनके राजनेताओं का क्या विजन है। माझा विजन उन्हें ऐसा प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराता है, जहां पर वे आपस में विभिन्न मुद्दों पर चर्चा कर सकते हैं। एबीपी माझा के रूप में हमारा एकमात्र उद्देश्य दर्शकों को उनसे जुड़े सभी मुद्दों से अवगत कराना है।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TV पत्रकार विनोद लांबा ने अब इस मीडिया समूह के साथ शुरू किया नया सफर

विनोद लांबा को विभिन्न मीडिया संस्थानों में काम करने का 14 साल से ज्यादा का अनुभव है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 01 August, 2020
Last Modified:
Saturday, 01 August, 2020
Vinod Lamba

टीवी पत्रकार विनोद लांबा ने ‘टोटल टीवी’ (Total TV) में अपनी पारी को विराम देकर नए सफर की शुरुआत की है। ‘टोटल टीवी’ में विनोद लांबा करीब दो साल से कार्यरत थे और दिल्ली के ब्यूरो चीफ के तौर पर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे। विनोद लांबा ने अपने नए सफर की शुरुआत अब ‘जी मीडिया’ (Zee Media) के साथ की है। यहां बतौर मुख्य संवाददाता उन्हें दिल्ली-हरियाणा और हिमाचल की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

मूल रूप से फरीदाबाद के रहने वाले विनोद लांबा को मीडिया के क्षेत्र में काम करने का 14 साल से ज्यादा का अनुभव है। उन्होंने पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत वर्ष 2006 में ‘डीडी न्यूज’ से की थी। इसके बाद ‘डीडी स्पोर्ट्स’, ‘सीएनईबी’, ‘लाइव इंडिया’, ‘न्यूज24’, ‘इंडिया न्यूज’, ‘टोटल टीवी’ होते हुए अब वह ‘जी मीडिया’ में पहुंचे हैं।

विनोद लांबा ने दिल्ली विश्वविद्यालय से जर्नलिज्म इन कॉरपोरेट कम्युनिकेशंस में पीजी डिप्लोमा किया है। इसके अलावा उन्होंने हरियाणा के हिसार स्थित गुरु जंभेश्वर विश्वविद्यालय से मास कम्युनिकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। समाचार4मीडिया की ओर से विनोद लांबा को उनकी नई पारी के लिए शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

व्युअर्स के बीच अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए ABP न्यूज ने बनाई खास स्ट्रैटेजी

कोविड-19 के कारण टीवी व्युअरशिप के बदलते पैटर्न को देखते हुए सुबह दस से शाम तक लगातार शोज प्रसारित किए जा रहे हैं

Last Modified:
Tuesday, 28 July, 2020
ABP News

कोविड-19 ने विभिन्न जॉनर्स में टीवी शोज के व्युअरशिप पैटर्न को प्रभावित किया है। ऐसे में अपने कंटेंट में तमाम नए बदलाव करने की दिशा में कदम बढ़ाते हुए हिंदी न्यूज चैनल ‘एबीपी न्यूज’ (ABP News) ने अपने कई शोज को नए सिरे से लाइन अप (line up) किया है। देखा जाए तो अपने देश में टीवी पर न्यूज जॉनर में पारंपरिक रूप से प्राइम टाइम का समय शाम को सात से रात 11 बजे के बीच होता है। अधिकांश चैनल्स को इस समय अवधि (time-band) में ही सबसे ज्यादा व्युअरशिप हासिल की है।

हालांकि, कोरोनावायरस (कोविड-19) के दौर में अधिकांश दर्शकों के घरों पर रहने की वजह से टीवी व्युअरशिप के पैटर्न में बदलाव आ रहा है। घरों पर मौजूद टीवी व्युअर्स कोविड से पहले की तुलना में अब दिन के समय यानी सुबह दस बजे से दोपहर ढाई बजे (10:00 am to 2:30 pm) के बीच ज्यादा न्यूज देख रहे हैं।   

नए दौर में अपने व्युअर्स के बीच ज्यादा से ज्यादा पहुंच बनाने और उन्हें अपने साथ जोड़े रखने के लिए ‘एबीपी न्यूज’ सुबह दस से शाम छह बजे तक दिलचस्प शोज के जरिये दिन के समय के कंटेंट में काफी बदलाव कर रहा है।

अपने इस नए पोर्टफोलियो के तहत ‘एबीपी न्यूज’ हफ्ते (weekdays) में  कुछ नए शोज समेत छह खास शोज प्रसारित कर रहा है। इनमें एबीपी रिपोर्टर (ABP Reporter), ‘न्यूजग्राम’ (Newsgram), ‘पंचनामा’ (Panchnama), ’मातृभूमि’ (Matrubhoomi) और ‘रियलिटी रिपोर्ट’ (Reality Report) आदि शामिल हैं। इन सभी शो को विशेष रूप से भारतीय दर्शकों विविध रुचियों को देखते हुए तैयार किया गया है। इन पेशकशों के अलावा, स्टार प्लस के विशेष सहयोग से ‘एबीपी न्यूज’ अपने लोकप्रिय शो ‘सास बहू और साजिश’ (Saas Bahu Aur Saazish) में तमाम नई वैल्यूज शामिल कर रहा है। इस गठबंधन के द्वारा ‘एबीपी न्यूज’ अपने व्युअर्स को न्यूज और एंटरटेनमेंट का एक्सक्लूसिव कंटेंट उपलब्ध कराएगा।  

इस नई पेशकश के बारे में ‘एबीपी नेटवर्क’ (ABP Network) के सीईओ अविनाश पांडे का कहना है, ‘कोविड-19 के दौर ने भारतीयों के न्यूज के उपभोग (consume news) के तरीके को काफी बदल दिया है। इस दौरान हमारी व्युअरशिप में भी काफी ग्रोथ देखी गई है। हमारे व्युअर्स एबीपी न्यूज से लगातार जुड़े हुए हैं और हम उन्हें श्रेष्ठ, नया और काफी अच्छा कंटेंट उपलब्ध करा रहे हैं। हम अपने शोज की नई लाइन अप को लेकर काफी उत्साहित हैं, जिन्हें दर्शकों की जरूरतों और हितों को ध्यान में रखते हुए सेट किया गया है। हमें पूरा विश्वास है कि देश के लोग हमारे ऊपर अपना भरोसा बनाए रखेंगे।’

एबीपी न्यूज द्वारा शोज की नई लाइन अप को आप यहां देख सकते हैं।

ABP Reporter – 10:00 am to 12:00 pm

Saas Bahu Aur Saazish – 2:30 pm to 3:30 pm

Reality Report – 3:30 pm to 4:00 pm

Newsgram – 4:00 pm to 5:00 pm (Daily)

Panchnama – 5:00 pm to 6:00 pm

Matrubhoomi - 6:00 pm to 7:00 pm

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए