पढ़िए, मोदी की इस बड़ी मुहिम में कैसे जुड़े एंटरटेनमेंट चैनल्स

जनरल एंटरटेनमेंट चैनल (GECs) हमेशा से उसी ट्रैक पर चलते हैं जो इस समय बाजार में ट्रेंड कर रहा होता है। मार्केट में चल रहे इसी ट्रेंड को वह अपने शो में दिखाने का प्रयास करते हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Monday, 28 November, 2016
Last Modified:
Monday, 28 November, 2016
gecs-show

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

जनरल एंटरटेनमेंट चैनल (GECs) हमेशा से उसी ट्रैक पर चलते हैं जो इस समय बाजार में ट्रेंड कर रहा होता है। मार्केट में चल रहे इसी ट्रेंड को वह अपने शो में दिखाने का प्रयास करते हैं। आजकल मार्केट में नोटबंदी (demonetisation) का मामला छाया हुआ है ऐसे में सभी चैनल अपने शो में इसी मसले को उठा रहे हैं। प्रमुख चैनल जैसे ‘ZEE’ और ‘Colors’ आदि भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा काला धन बाहर निकालने की इस मुहिम में उनके साथ खड़े हुए हैं।

’ &TV’s’ पर आने वाला शो ‘भाभीजी घर पर हैं’ (Bhabiji Ghar Par Hain) और ‘ZEE TV’ पर आने वाला शो ‘जिंदगी की महक’ (Zindagi Ki Mahek) एवं ‘जमाई राजा’(Jamai Raja) अथवा ‘Sab TV’ पर आने वाला शो ‘तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा’ (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah) व ‘चिडि़याघर’ (Chidiya Ghar) आदि शो में सभी नोटबंदी के मुद्दे को ही दिखा रहे हैं। यही हाल प्रादेशिक चैनलों (regional general channels) का है। वहां पर भी यही मुद्दा छाया हुआ है।

यदि इन शो को देखें तो इनमें भी वही बात दिखाई जा रही हैं कि लोगों के अंदर नोटबंदी को लेकर किस तरह की बेचैनी और बेकार का डर है। इन शो के माध्‍यम से चैनल लोगों को यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि लोग इस बात से घबराएं नहीं। शुरुआत में थोड़ी परेशानी जरूर हो रही है लेकिन आने वाले समय में इसके काफी फायदे होंगे।

66823_1

66823_2

उदाहरण के लिए, ‘तारक मेहता का उल्‍टा चश्‍मा’ सीरियल में मुख्‍य किरदार जेठालाल अपने लाखों रुपयों को लेकर घबरा जाता है और उसे समझ में नहीं आता कि इन पैसों का क्‍या करे, वहीं ‘देवांशी’ सीरियल में छोटी बच्‍ची पांच सौ रुपये का पुराना नोट लेकर अपनी मां के लिए गिफ्ट खरीदने जाती है, लेकिन बाजार में उसे पता चलता है कि अब पांच सौ रुपये का पुराना नोट नहीं चलेगा। यहां पर दुकानदार उसे बताता है कि प्रधानमंत्री ने यह कदम इसलिए उठाया है ताकि कालाधन निकलकर बाहर आ सके।

इन दिनों विभिन्‍न सीरियल्‍स में नोटबंदी का मुद्दा उठाए जाने के कारणों के बारे में ‘Onspon.com’ के संस्‍थापक और सीईओ हितेश गोसाईं (Hitesh Gossain) का कहना है, ‘यह बिल्‍कुल उसी तरह है, जिस तरह आप क्रिकेट का कोई बड़ा मैच देखना चाहते हैं। आप अपने शो में वही कंटेंट रखना चाहते हैं जो मार्केट में चल रहा है ताकि ज्‍यादा से ज्‍यादा दर्शक उससे जुड़ सकें। जैसा कि सुना जा रहा है कि अधिकांश लोग नोटबंदी के समर्थन में हैं तो टीआरपी (TRP) बढ़ाने का यह सबसे अच्‍छा मौका है। हालां‍कि इस तरह की कवायद का फायदा आने वाले समय में ज्‍यादा नहीं मिलेगा क्‍योंकि यह मुद्दा पुराना हो जाएगा।’

‘Contiloe’ के सीईओ अभिमन्‍यु सिंह का भी कुछ यही मानना है। अभिमन्‍यु का कहना है, ‘समाज में जो ट्रेंड कर रहा होता है, उस पर शो दिखाने से टीआरपी में बढ़ोतरी होती है। चैनल अपने शो के माध्‍यम से समाज में वर्तमान में चल रही चीजों को लेकर दर्शकों का मनोरंजन तो करते ही हैं, साथ ही उन्‍हें उस मुद्दे के प्रति जागरूक भी करते हैं।’

इस बारे में ‘MediaCom’ के नेशनल डायरेक्‍टर (Buying) के श्रीनिवास राव का कहना है, ‘अधिकांश जनरल एंटरटेनमेंट चैनल्‍स अपने शो में वहीं मुद्दा उठाते हैं जो उन दिनों समाज में चल रहा होता है। ऐसा करके वे लोगों को अपने शो से जोड़़े रखना चाहते हैं। एक तरफ तो वे नई रिलीज होने वाली मूवी का प्रचार करते हैं और दूसरी तरफ वे लोगों को मार्केट में ट्रेंड कर रही चीजों के बारे में बताते हैं। इस तरह दोतरफा फायदा होता है। दर्शक इस कंटेंट को अपनी दिनचर्या से जोड़कर देखने लगते हैं और चैनलों को अपनी बात उन तक पहुंचाने में मदद मिल जाती है। इसके साथ ही चैनल को किसी ब्रैंड को स्‍थापित करने में भी काफी मदद मिलती है जिस तरह से आज के हालात में ‘Paytm’ और ‘credit cards’ को बढ़ावा दिया जा रहा है।’

हालांकि इस तरह का ट्रेंड सिर्फ एंटरटेनमेंट चैनलों पर ही नहीं छाया हुआ है बल्कि मूवी चैनल भी इसी का फॉलो कर रहे हैं। उदाहरण के लिए, ‘Zee Cinema’ ने एक नया कैंपेन ‘Share the Change, be the change’ शुरू किया है। ताकि लोग आगे बढ़कर ऐसे लोगों की मदद कर सकें जिन्‍हें तुरंत कैश की जरूरत है। कई बॉलिवुड मूवी और फिल्‍मी सितारे भी लोगों को इस मुहिम से जुडने के लिए प्रेरित कर रहे हैं।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

BARC Ratings: ये बना सबसे अधिक देखा जाने वाला एंटरटेनमेंट शो

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।। टीवी दर्शकों की संख्या मापने वाली संस्था ‘बार्क इंडिया’ (BARC India) ने साल 2017 के 10वें हफ्ते (4–10 मार्च) के जरनल एंटरटेनमेंट चैनलों के कार्यक्रमों की रेटिंग जारी कर दी है।

Last Modified:
Friday, 17 March, 2017
tv-channels

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

टीवी दर्शकों की संख्या मापने वाली संस्था ‘बार्क इंडिया’ (BARC India) ने साल 2017 के 10वें हफ्ते (4–10 मार्च) के जरनल एंटरटेनमेंट चैनलों के कार्यक्रमों की रेटिंग जारी कर दी है। इस रेटिंग में ‘जी टीवी’ पर प्रसारित हो रहे शो ‘कुमकुम भाग्य’ (Kumkum Bhagya) ने 11.9 मिलियन इम्प्रेशंस की रेटिंग प्राप्त की और इसी वजह से यह टॉप-10 की सूची में पहले नंबर के शो ‘नागिन’ (Naagin) को पीछे छोड़ने में कामयाब रहा और अब सबसे अधिक देखा जाने वाला शो बन गया।

वहीं यदि शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए जारी की गई अलग-अलग रेटिंग की बात करें तो, ‘कुमकुम भाग्य’ (Kumkum Bhagya) इन दोनों ही जगहों पर क्रमश: 6.8 और 5.1 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ नंबर-2 और नंबर-4 के स्थान पर रहा।

कलर्स चैनल पर प्रसारित हो रहे ‘नागिन’ (Naagin) के दूसरे सीजन ने 7.1 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ शहरी क्षेत्र में अपनी बादशाहत तो बरकरार रखी, लेकिन जब शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में इसके प्रदर्शन को मिलाकर देखा गया तो यह शो 11.5 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ दूसरे स्थान पर पहुंच गया।

वहीं ग्रामीण क्षेत्र में टॉप-10 शोज की बात करें तो ‘नागिन’ (Naagin)  शो ने ‘कलर्स’ चैनल के साथ इस सूची में जगह नहीं बनाई, लेकिन अपने ही सहयोगी चैनल के सहारे यह इस सूची में शामिल हो गया है, क्योंकि यह शो ‘रिश्ते’ चैनल पर भी प्रसारित होता है और ‘रिश्ते’ चैनल के साथ यह शो 4.6 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ 9वें नंबर पर रहा।

वहीं ‘स्टार प्लस’ का ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ (Yeh Rishta Kya Kehlata Hai) शो, दोनों ही क्षेत्रों को मिलाकर जारी की गई टॉप-10 सूची में 10.4 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ तीसरे नंबर पर आया है, जबकि सिर्फ शहरी क्षेत्र में 6.7 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ यह शो चौथे नंबर पर रहा है।

‘सब टीवी’ पर प्रसारित होने वाला शो ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah) दोनों क्षेत्रों की कुल रेटिंग सूची में 9.9 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ चौथे नंबर पर रहा, जबकि सिर्फ शहरी क्षेत्र में यह शो 6.8 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ तीसरे नंबर पर रहा।

यहां बता दें कि ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ (Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah) ‘सोनी पल’ पर भी प्रसारित होता है, और इस चैनल के साथ ही यह शो ग्रामीण क्षेत्रों की टॉप-10 शोज की सूची में जगह बनाने में कामयाब रहा है। इस सूची में यह शो पांचवें नंबर पर रहा और इसकी रेटिंग 5 मिलियन इम्प्रेशंस दर्ज की गई।

दोनों क्षेत्रों की कुल रेटिंग सूची में ‘स्टार प्लस’ का लोकप्रिय शो ‘साथ निभाना साथिया’ (Saath Nibhaana Saathiya) 9.4 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ 5वें नंबर पर रहा, जबकि सिर्फ शहरी क्षेत्र में यह 9.4 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ 8वें नंबर पर रहा। ‘स्टार उत्सव’ पर भी प्रसारित होने वाला यह शो 5.6 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ ग्रामीण क्षेत्रों की टॉप-10 शोज की सूची में दूसरे स्थान पर रहा।

वहीं ‘जी टीवी’ का ‘अमूल सा रे गा मा लिटिल चैम्प्स’ (Amul Sa Re Ga Ma Pa Little Champs) दोनों ही क्षेत्रों की कुल रेटिंग सूची में 9.1 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ छठे नंबर पर रहा।

‘कलर्स’ पर प्रसारित होने वाला शो ‘शक्ति- अस्तित्व एक एहसास की’ (Shakti - Astitva Ke Ehsaas Ki) दोनों क्षेत्रों की कुल रेटिंग में 8.5 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ 7वें नंबर और शहरी क्षेत्र में यह 6.2 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ पाचवें नंबर पर रहा।

इसी तरह से ‘सोनी टीवी’ का ‘कपिल शर्मा शो’ दोनों क्षेत्रों की कुल रेटिंग में 8.4 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ 8वें नंबर पर फिसल गया, तो वहीं शहरी क्षेत्र में यह शो 5.9 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ 7वें नंबर पर पहुंच गया।

‘स्टार प्लस’ का ‘नामकरण’ (Naamkarann) दोनों ही क्षेत्रों की कुल रेटिंग सूची में 8.3 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ 9वें नंबर पर रहा।

दोनों क्षेत्रों की कुल रेटिंग सूची में ‘कलर्स’ का शो ‘शनि’ (Shani) 8.2 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ 10वें नंबर फिसल गया, जबकि यह शो शहरी क्षेत्र में 6.1 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ छठे नंबर पर रहा।

इसी तरह से ‘कलर्स’ का एक अन्य शो ‘उड़ान’ (Udaan) 5.5 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ शहरी क्षेत्र में 9वें नंबर पर रहा, जब ‘रिश्ते’ पर भी प्रसारित होने वाला यह शो 4.6 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ ग्रामीण क्षेत्र में 7वें नंबर पर रहा।

वहीं ‘कलर्स’ पर प्रसारित होने वाला शो ‘एक श्रृंगार स्वाभिमान’ (Ek Shringaar Swabhimaan) 5.5 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ शहरी क्षेत्र के टॉप-10 शोज की सूची में 10वें स्थान पर रहा।

‘सोनी पल’ का ‘बालवीर’ (Baalveer) 5.9 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ ग्रामीण क्षेत्रों की टॉप-10 सूची में शीर्ष पर रहा। वहीं ‘जी अनमोल’ का शो ‘अफसर बिटिया’ (Afsar Bitiya) भी 5.2 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ तीसरे नंबर पर पहुंच गया है।

‘जी अनमोल’ का दूसरा शो ‘जमाई राजा’ (Jamai Raja) भी 4.7 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ छठे नंबर पर रहा, जबकि इसी चैनल पर प्रसारित होने वाला ‘नागकन्या’ (Naagkanya) शो 4.6 मिलियन इम्प्रेशंस के साथ 8वें नंबर पर रहा।

4.5 मिलियन इन्प्रेशंस के साथ ‘रिश्ते’ चैनल पर प्रसारित होने वाला शो ‘कसम’ (Kasam) ग्रामीण क्षेत्रों की रेटिंग सूची में 10वें नंबर पर रहा।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानिए, आखिर 21 साल बाद क्‍यों बदल गया सोनी टीवी...  

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।। सोनी एंटरटेनमेंट टेलिविजन (SET) ने अपने ब्रैंड को चमकाने के लिए 21 साल में पहली बार नया लोगो तैयार किया है और अपनी कंटेंट लाइन अप में भी बदलाव किया है। नए लोगो में बैंग

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 02 December, 2016
Last Modified:
Friday, 02 December, 2016
sonytv

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

सोनी एंटरटेनमेंट टेलिविजन (SET) ने अपने ब्रैंड को चमकाने के लिए 21 साल में पहली बार नया लोगो तैयार किया है और अपनी कंटेंट लाइन अप में भी बदलाव किया है।

नए लोगो में बैंगनी, गोल्‍ड और ऑरेंज कलर का इस्‍तेमाल किया गया है और अपने लोक्रिपय कॉमेडी शो ‘The Kapil Sharma Show’ से चैनल ने इसका शुभारंभ किया। इसकी पै‍केजिंग अर्जेंटीना की कंपनी ‘MediaLuna’ द्वारा तैयार की गई थी।

इस नए बदलाव के बारे में सोनी एंटरटेनमेंट टेलिविजन के एग्जिक्‍यूटिव वाइस प्रेजिडेंट और बिजनेस हेड दानिश खान बताया, ‘पिछले सात महीनों में हमने वीकएंड पर हमारी स्थिति काफी मजबूत की है और वीकएंड पर हम नंबर वन जनरल एंटरटेनमेंट चैनल (GEC) बने हुए हैं। इसके साथ ही हमने नए लोगो और एयर पैकेजिंग (air packaging) को भी रिफ्रेश किया है। अब हमारा पूरा फोकस सप्‍ताह के अन्‍य दिनों (weekdays) में भी अपनी पकड़ को और मजबूत करना है। इसके लिए शो की संख्या बढ़ाने के साथ ही उनमें वैरायटी भी लाई जाएगी और इसमें करीब छह महीने लगेंगे। लोगों की आदत बदलने में थोड़ा समय लगता है। हम सोनी को देश में सबसे ज्‍यादा पसंद किया जाने वाला एंटरटेनमेंट चैनल बनाना चाहते हैं और इस दिशा में लगातार प्रयास कर रहे हैं। ’

जैसा कि सबको पता है कि अपने शो के खराब प्रदर्शन के कारण वर्ष 2015 से रेटिंग चार्ट में चैनल लगातार पिछड़ रहा था। एक स्थिति यह आ गई थी कि इस पर ज्‍यादातर समय ‘सीआईडी’ और ‘क्राइम पेट्रोल’ ही दिखाए जा रहे थे। लेकिन जब से इस पर ‘The Kapil Sharma Show’ शो शुरू हुआ, चीजें बदलनी शुरू हो गईं और इसके बाद तो ‘Super Dancer’ और ‘Mahabali Hanuman’ से चैनल की रेटिंग में जबर्दस्‍त इजाफा हो गया।

आज स्थिति यह है कि बार्क (BARC) की हिन्‍दी जनरल एंटरटेनमेंट चैनल (GEC) की लिस्‍ट में यह तीसरे पायदान पर पहुंच गया है। अब चैनल अपने विज्ञापन रेट (ad rates) को भी संशोधित (revise) करेगा।

सोनी एंटरटेनमेंट टेलिविजन के सीनियर क्रिएटिव डायरेक्‍टर आशीष ने बताया, ‘पहले इस चैनल की रेटिंग गिर रही थी लेकिन जब से ‘The Kapil Sharma Show’, ‘Kuch Rang Pyar Ke Aise Bhi’ और ‘Ek Duje Ke Vaaste’ के वास्‍ते शुरू हुए, चीजें एकदम से बदलने लगीं। हमारे लिए यह समय काफी महत्‍वपूर्ण रहा है। हालांकि ब्रैंड रिफ्रेश के लिए मार्च में ही विचार बना लिया था लेकिन हमने मई से इस पर काम करना शुरू किया था।

उन्‍होंने कहा, ‘इस रिफ्रेश के द्वारा हम दो चीजों पर ध्‍यान रखना चाहते थे। पहला तो यह कि पैकेजिंग में भारतीयता का पुट दिखना चाहिए और दूसरा लोगों को काफी तरोताजा और नया लगना चाहिए था। इसके अलावा इसके प्रोग्रामिंग समय पर भी फोकस किया गया है।’

आशीष ने बताया, ‘दो महीने में हम तीन नए शो शुरू कर रहे हैं और 24 दिसंबर से ‘Indian Idol’ से इसकी शुरुआत हो रही है। इसके बाद ‘Peshwa Bajirao’ और ‘Yeh Moh Moh ke Dhaage’ अगले साल शुरू किए जाएंगे। प्रोग्रामिंग समय (programming hours) के बारे में हमें अन्‍य दो चैनल ‘Colors’ और ‘Star’ से मैच करने की जरूरत है। ऐसे में हम अपने प्रोग्रामिंग समय को और बढ़ाने की सोच रहे हैं। शाम को सात से आठ बजे का समय हमारे लिए काफी महत्‍वपूर्ण होगा।’ उन्‍होंने कहा कि यह अभी शुरुआत है। दिसंबर से जून के बीच सोनी एंटरटेनमेंट टेलिविजन में और भी कई बदलाव दिखाई देंगे।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

...अब इस मोबाइल ऐप के जरिए ले सकेंगे तुरंत लोन

लोन के लिए अब आपको बैंक के चक्कर नहीं काटने होंगे। यानी अब सिर्फ एक मोबाइल ऐप और लोन हाजिर। बेंगलुरु स्थित एक स्टार्टअप कंपनी मनीटैप ने ऐप आधारित क्रेडिट सेवा शुरू की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 19 October, 2016
Last Modified:
Wednesday, 19 October, 2016
money-tap

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

लोन के लिए अब आपको बैंक के चक्कर नहीं काटने होंगे। यानी अब सिर्फ एक मोबाइल ऐप और लोन हाजिर। बेंगलुरु स्थित एक स्टार्टअप कंपनी मनीटैप ने ऐप आधारित क्रेडिट सेवा शुरू की है। इस सुविधा के जरिए ग्राहक 3,000 रुपए से लेकर 5 लाख रुपए तक का कर्ज ले सकेंगे। मनीटैप ने इसके लिए बैंकों से गठजोड़ किया है।

अभी तक क्रेडिट सेवा केवल व्यापारियों के लिए ही उपलब्ध थी, अब वह ग्राहकों के लिए भी खोल दी गई है। ‘क्रेडिट लाइन’ का मतलब है कि बैंक बिना किसी अतिरिक्त शुल्क लिए 5 लाख रुपए तक के ऋण प्राप्त करने की लिमिट प्रदान करता है।

इस लोन को प्राप्त करने के लिए आपको अपने ‘मनीटैप ऐप’ पर दिए बटन की सहायता से 3000 रुपए से लेकर 5 लाख रुपए तक का लोन प्राप्त कर सकते हैं और इसके भुगतान के लिए 2 महीने की आसान किश्तों से लेकर 3 साल तक का समय चुन सकते हैं। लिए गए लोन पर 1.25 प्रतिशत की न्यूनतम मासिक ब्याज दर लगेगी। लिए गए लोन की समस्त किश्तों का भुगतान हो जाने पर क्रेडिट लिमिट एक फिर शुरू हो जाएगी।

आपको ऐप डाउनलोड करने के बाद अपना पैन, इनकम जैसी डिटेल देनी होती है और एक दो दिन में आपको मिल जाएगी आपकी क्रेडिट लिमिट। यह ऐप सुरक्षात्मक तरीके से बैंक के साथ मिलकर कार्य करती है।

इसके साथ ही आपको ऐप्लिकेशन सेट-अप के लिए 499 पल्स टैक्स फीस बैंक को देना होगा। ईएमआई लौटाने के बाद आपका क्रेडिट लिमिट वापस उतना ही हो जाता है।

कोई भी सैलरी प्राप्त करने वाला कर्मचारी दिए गए दिशा निर्देशों का पालन कर और अपने बैंक की जानकारी प्रदान कर कुछ ही मिनटों में इस फ्री एन्ड्रॉयड ऐप को डाउनलोड कर सकता है।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

...इस मोबाइल ऐप के जरिए देख या डाउनलोड कर सकेंगे फिल्में

कॉपीराइट वाली एचडी फिल्मों की मुफ्त पेशकश करने वाला विडियो प्लेटफॉर्म ‘वीमेट’ भारत में लॉन्च हो गया है। वीमेट  ने 31 अगस्त को बॉलिवुड अभिनेता इरफान की नवीनतम फिल्म मदारी (2016) की ..

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 02 September, 2016
Last Modified:
Friday, 02 September, 2016
v

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

कॉपीराइट वाली एचडी फिल्मों की मुफ्त पेशकश करने वाला विडियो प्लेटफॉर्म ‘वीमेट’ भारत में लॉन्च हो गया है। वीमेट  ने 31 अगस्त को बॉलिवुड अभिनेता इरफान की नवीनतम फिल्म मदारी (2016) की एक्सक्लूसिव लॉन्चिंग के साथ अपनी यात्रा शुरुआत की।

वीमेट से आप 1080 पिक्सल से 144 पिक्सल तक की विभिन्न क्वॉलिटी में ऑनलाइन फिल्में देख सकते हैं या फिर उसे डाउनलोड कर सकते हैं। यही नहीं इस पर नई फिल्मों के ट्रेलर भी दिखाए जाएंगे।

यही नहीं यूजर्स शेयरइट ऐप, जेंडर ऐप, ब्लूटूथ आदि के जरिए इन फिल्मों को ऑफलाइन साझा भी कर सकते हैं।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इस मोबाइल ऐप के जरिए बच्चे पढ़ सकेंगे कहानियां...

विश्व स्तर पर बच्चों की शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए काम कर रही की संस्था वर्ल्डरीडर (Worldreader) ने बुधवार को एक मोबाइल ऐप लॉन्च किया है। ‘रीडर टू किड्स’ (Read to Kids) नाम से यह ऐप दिल्ली ..

Last Modified:
Thursday, 21 July, 2016
ap

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

विश्व स्तर पर बच्चों की शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए काम कर रही की संस्था वर्ल्डरीडर (Worldreader) ने बुधवार को एक मोबाइल ऐप लॉन्च किया है। ‘रीडर टू किड्स’ (Read to Kids) नाम से यह ऐप दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान लॉन्च किया गया।

शैक्षणिक जागरूकता के तहत लॉन्च किया गया यह मोबाइल ऐप 0-6 साल के बच्चों के लिए उपलब्ध है, जिसमें कथा-कहानियों की किताबें सरल भाषा में उपलब्ध होंगी। यह ऐप हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में है।

अविभावक और टीचर्स इस ऐप को www.readtokids.com या Google Play Store से फ्री में भी डाउनलोड कर सकते हैं। यह ऐप 2जी इंटरनेट सुविधा से लेस मोबाइल फोन पर भी आसानी से उपयोग किया जा सकता है।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वीयूक्लिप मोबाइल फोन पर दिखाएगा टीवी शोज.....

विश्व की सबसे बड़ी मोबाइल वीडियो डेस्टिनेशन कंपनी वीयू क्लिप अब भारतीय दर्शकों के लिए भी मोबाइल पर टेलीविजन शोज लेकर आ रही है। यूटीवी अपने नेटवर्क पर चार हजार से ज्यादा टेलिविजन शोज के क्लिपिंग रखेगा

Last Modified:
Friday, 08 June, 2012
s4m

विश्व की सबसे बड़ी मोबाइल वीडियो डेस्टिनेशन कंपनी वीयू क्लिप अब भारतीय दर्शकों के लिए भी मोबाइल पर टेलीविजन शोज लेकर आ रही है। यूटीवी अपने नेटवर्क पर चार हजार से ज्यादा टेलिविजन शोज के क्लिपिंग रखेगा जिसे दर्शक अपनी पसंद की कैटिगरी में जाकर देख सकते हैं। ये शोज हिंदी, अंग्रेजी, तेलुगू भाषाओं में होंगे और इन वीडियोज को रोज अपलोड किया जाएगा। वीयूक्लिप से जुड़े अधिकारियों ने बताया कि हमारी सेवा की खूबी यह है कि इस महंगे स्मार्टफोन से लेकर सस्ते फोन पर भी देखा जा सकता है जिसमें वीडियो प्लेयर और इंटरनेट की फैसिलिटी हो। गौरतलब है कि हाल ही में एक सर्वे आया था जिसमें कहा गया था ति कुछ समय पहले तक, मोबाइल स्क्रीन पर टीवी देखना एक दूर के सपने जैसा था। लेकिन अब चीजें बदल गई हैं। अब तो प्राइम टाईम का स्लाट भी तय हो गया है सुबह 11 बजे से दोपहर 2 बजे तक। सर्वे के मुताबिक मोबाइल पर टीवी देखने वालों में 80 फीसदी पुरुष हैं, एक स्थापित धारणा कि पुरुषों को टीवी सीरियल देखना पसंद नहीं है इसके विपरीत यह अपने मोबाइल पर सीरियल्स और फिल्में देखना पसंद करते हैं। आंकड़ों के मुताबिक 90 फीसदी दर्शक 2जी नेटवर्क पर मोबाइल टीवी देखते हैं, सात फीसदी इसे वाईफाई और बाकी इसे 3जी नेटवर्क पर देखना पसंद करते हैं। समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

2013 तक भारत में मोबाइल विज्ञापन 250 करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा....

द मोबाइल मार्केटिंग एसोसिएशन और एक्सचेंज4मीडिया समूह ने एक साझा मोबाइल एडवरटाइजिंग रिपोर्ट जारी करते हुए कहा है कि भारत में मोबाइल विज्ञापन पर वर्तमान में 180 करोड़ रुपये ..

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Saturday, 22 September, 2012
Last Modified:
Saturday, 22 September, 2012
s4m

द मोबाइल मार्केटिंग एसोसिएशन और एक्सचेंज4मीडिया समूह ने एक साझा मोबाइल एडवरटाइजिंग रिपोर्ट जारी करते हुए कहा है कि भारत में मोबाइल विज्ञापन पर वर्तमान में 180 करोड़ रुपये (33 मिलियन अमेरिकी डॉलर) हो रहा है जो अगले एक साल में 40 प्रतिशत बढ़कर 250 करोड़ रुपये हो जायेंगे। रिपोर्ट को द लीला केंपिन्सकी, गुड़गांव में मोबाइल मार्केटिंग एसोसिएशन फोरम (एमएमएएफ) इंडिया 2012 के उद्घाटन समारोह में किया गया। रिपोर्ट के अनुसार, इंडस्ट्री के लीडर्स का मानना है कि ब्रांड्स और एजेंसी के संकेत के अनुसार, भारत में, संपूर्ण डिजिटल एडवरटाइजिंग का 10 प्रतिशत मोबाइल एडवरटाइजिंग पर खर्च होता है। एमएमए का मानना है कि भारत में 12 करोड़ से ज्यादा उपभोक्ता मोबाइल इंटरनेट का उपयोग करते हैं। भारत में, बहुत से, एडवरटाइजर्स अभी तक इस माध्यम को अपना नहीं सके हैं, जो इंडस्ट्री के एक अनुमान के अनुसार, 27 हजार से लेकर 28 हजार करोड़ रुपये (5बिलियन अमेरिकी डॉलर से लेकर 5.1 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक) तक है। अभी तक मात्र 5 से 7 प्रतिशत एडवरटाइजर्स ही इस माध्यम का उपयोग करते हैं। एक्सचेंज4मीडिया समूह के द्वारा यह रिपोर्ट ब्रांड्स, एजेंसीज और मोबाइल इकोसिस्टम के सितबंर 2012 में गहन अध्ययन के बाद जारी किया है। इस अवसर पर, एमएमए, एशिया-पैसिफिक के मैनेजिंग डायरेक्टर, रोहित धारिवाल ने कहा, मोबाइल का काफी तेजी से विकास हो रहा है, लेकिन एड के क्षेत्र में अभी इसका हिस्सा बहुत कम है। मोबाइल एडवरटाइजिंग का विकास इतनी तेजी से हो रहा है कि यह अन्य चैनलों के लिए जल्द ही एक चुनौती के तौर पर उभरेगा। भारत में रिसर्च के दौरान हमें पता चला कि विज्ञापन पर बढ़ता खर्च और मोबाइल का निरंतर विकास, पारंपरिक मीडिया पर एडवरटाइजिंग में खर्चे को जोड़ने का काम कर रहा है। हम लोग पहले से ही डिजिटल पर खर्चे को ऑस्ट्रेलिया जैसे देश में पारंपरिक मीडिया पर खर्चे से आगे निकल चुके हैं। और यह मार्केट के विकास को दिखाता है। इस रिपोर्ट पर टिप्पणी करते हुए, एक्सचेंज4मीडिया समूह के चेयरमैन एंड एडिटर-इन-चीफ, अनुराग बत्रा ने कहा, इस तरह का रिपोर्ट, भारत में मोबाइल एडवरटाइजिंग की तेज गति को बताता है। हम महसूस करते हैं कि मार्केटिंग माध्य में, मोबाइल को एक चुनौती का सामना करना पड़ रहा है और इस पर सोचने की जरूरत है। इस क्षेत्र में जिन लोगों ने निवेश किया है और पैसा बनाया है वे इसे समझ सकते हैं। मोबाइल एडवरटाइजिंग जल्द ही भारत में मोबाइल मार्केटिंग का एक हिस्सा बन जाएगा। रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि कई बड़े एडवरटाइजर्स भारत में अपने कुल विज्ञापन बजट का 10 से लेकर 25 प्रतिशत तक खर्च करते हैं। समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मोबाइल एडवरटाइजिंग में अगले तीन सालों में तेजी से बढ़ोतरी दर्ज होगी: डी.शिवकुमार..

नोकिया के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट, (इंडिया, मध्य-पूर्व और अफ्रीका) डी शिवकुमार ने मोबाइल उपभोक्ताओं की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी और मार्केट द्वारा इसके डाटा के उपयोग पर कहा,

Last Modified:
Friday, 05 October, 2012
s4m

नोकिया के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट, (इंडिया, मध्य-पूर्व और अफ्रीका) डी शिवकुमार ने मोबाइल उपभोक्ताओं की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी और मार्केट द्वारा इसके डाटा के उपयोग पर कहा, आपको इस बिजनेस के बारे में फिर से नए सिरे से सोचना होगा, क्योंकि तकनीक में तेजी से बदलाव आ रहे हैं और नए-नए क्षेत्रों में इसका विस्तार हो रहा है। शिवकुमार एक्सचेंज4मीडिया समूह और मोबाइल मार्केटिंग एसोसिएशन के द्वारा जारी किए गए साझा एड खर्च रिपोर्ट पर बोल रहे थे। रिपोर्ट के अनुसार, भारत में मोबाइल एड एडवरटाइजिंग पर वर्तमान में 180 करोड़ रुपये खर्च हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि 180 करोड़ रुपये ज्यादा नहीं है और अगले तीन सालों में इसमें तेजी से बढ़ोतरी दर्ज की जाएगी। उन्होंने कहा, पारंपरिक तौर से, बड़े विज्ञापनदाताओं को न्यू मीडिया को अपनाने में समय लगेगा। निरमा, विक्को और विक्स जैसे ब्रांड टेलीविजन पर पहले आए और बड़े ब्राडों को टेलीविजन पर आने में पांच से लेकर छह साल तक का समय लगा और इससे पहले आने वाले ब्रांडों को फायदा पहुंचा। मोबाइल में भी यही होगा। वर्तमान में, मोबाइल एडवरटाइजिंग मार्केट डिसप्ले, सर्च और एसएमएस के द्वारा चल रहा है लेकिन भविष्य में, मोबाइल एडवरटाइजिंग मार्केट लोकेशन बेस्ड सर्विस पर आधारित होगा। इसमें से कुछ, जैसे नक्शा भारतीय मार्केट में एक चुनौती की तरह है लेकिन लोकेशन बेस्ड तकनीक से सभी में परिवर्तन आ जाएगा। शिवकुमार के अनुसार, स्मार्ट फोन और फीचर फोन के बीच विभाजन रेखा में प्रत्येक दिन स्क्रीन, टच एंड क्षमता को लेकर समानता आती जा रही है। स्मार्ट फोन में मैलिक तौर पर बदलाव होता है। एक अच्छा स्मार्ट फोन जिंदगी के भंडारण की तरह है। जापान जैसे मार्केट में, एक अच्छे स्मार्टफोन में टॉप 10 फिल्म और किताबें होती हैं और लीडर्स ऑनलाइन शॉपिंग को तरजीह देते हैं। भारत में हम जापान के मॉडल को फॉलो करते हैं। एमएमए के एड रिपोर्ट पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि भारत में 12 करोड़ से अधिक लोग इंटरनेट का उपयोग कर रहे हैं और विश्व में यह ना सिर्फ तीसरा सबसे बड़ा मार्केट है बल्कि 18 से लेकर 24 साल तक के 60 प्रतिशत उपभोक्ता हैं। हमारे सामने चुनौती यह है कि कैसे इन्हें हम अपना उपभोक्ता बनायें। शिवकुमार, बंगलोर में आयोजित एडटेक में अपने विचारों को व्यक्त कर रहे थे। समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब आप मोबाइल पर इंटरनेट के बिना फ्री में देख सकेंगे टीवी, कोई मासिक शुल्क नहीं लगेगा

अब बिना इंटरनेट के आप अपने मोबाइल पर टीवी का मजा ले सकेंगे और वह बिलकुल मुफ्त में। दरअसल दूरदर्शन 2 अक्टूबर से मोबाइल पर बिना इंटरनेट टीवी प्रसारण सेवा शुरू करने योजना बना रहा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 24 September, 2015
Last Modified:
Thursday, 24 September, 2015
tv

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।। अब बिना इंटरनेट के आप अपने मोबाइल पर टीवी का मजा ले सकेंगे और वह बिलकुल मुफ्त में। दरअसल दूरदर्शन 2 अक्टूबर से मोबाइल पर बिना इंटरनेट टीवी प्रसारण सेवा शुरू करने योजना बना रहा है। बता दें कि दूरदर्शन पहले यह सुविधा फिलहाल 16 शहरों से शुरू कर रहा है और इसके तहत 20 चैनल देखे जा सकेंगे। इनमें पांच दूरदर्शन के होंगे जबकि शेष 15 चैनलों की नीलामी होगी। इस सुविधा का लाभ फिलहाल एंड्रॉयड और आईफोन प्रयोग करने वाले यूजर्स उठा सकेंगे। बता दें कि इसके लिए 'डीजी दर्शन' नाम के डोंगल को खरीद कर मोबाइल में लगाना होगा। फिलहाल इसकी ऑनलाइन कीमत 2500-3000 रुपए के बीच है। एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, दूरदर्शन की इस सेवा के लिए कस्टमर को कोई भी मासिक शुल्क नहीं देना होगा। प्रसारण के लिए डीवीबीटी-2 (डिजिटल वीडियो ब्रांडकास्टिंग थ्रू टेरेस्ट्रियल-2) तकनीक का प्रयोग किया जाएगा। तीन माह से दूरदर्शन इस सुविधा का परीक्षण विभिन्न शहरों में कर रहा है। दिल्ली में पीतमपुरा स्थित दूरदर्शन केंद्र से इनका प्रसारण होगा। लाइव चैनलों के अलावा ग्राहकों को 10 रेडियो चैनल भी उपलब्ध कराए जाएंगे। अधिकारी ने बताया, टेरेस्ट्रियल सिग्नलों का प्रयोग आपात स्थिति में भी किया जा सकता है। किसी आपदा के समय लोगों को राहत कार्यों की सूचना फोन पर मौजूद रेडियो के जरिए दी जा सकती है। 180 किलोमीटर की गति पर भी मोबाइल पर लाइव टीवी की सुविधा मिलेगी। प्रसारण की गुणवत्ता पर भी कोई असर नहीं पड़ेगा। इसे ध्यान में रखते हुए भविष्य में ट्रेनों में भी इसका प्रयोग किया जा सकता है। जल्द ही बाजार में मोबाइल कंपनियां अपने उत्पाद उतारने जा रही हैं जिनमें दूरदर्शन के चैनल सिर्फ गूगल प्ले से 'टीवी ऑन गो दूरदर्शन' एप डाउनलोड कर देखे जा सकेंगे। समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए