आज अखबारों ने इन खबरों को दी फ्रंट पेज पर जगह

हिन्दुस्तान में फ्रंट पेज पर एक बड़ा विज्ञापन है। अमर उजाला ने तीसरे पेज को फ्रंट पेज बनाया है, जबकि दैनिक जागरण में आज दो फ्रंट पेज हैं

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Tuesday, 20 August, 2019
Last Modified:
Tuesday, 20 August, 2019
Newspapers

दिल्ली से प्रकाशित होने वाले प्रमुख हिंदी अखबारों में आज भी कश्मीर ही सबसे बड़ी खबर है, लेकिन सभी ने अलग-अलग तरीके से इसे उठाया है। आज सबसे पहले हिन्दुस्तान पर नजर डालें तो फ्रंट पेज पर एक बड़ा विज्ञापन है। लीड मोदी और ट्रम्प की मुलाकात है, जिसकी प्रस्तुति आज उतनी आकर्षक नहीं है। दिल्ली में यमुना के लाल निशान पार करने को फोटो के साथ दर्शाया गया है। रविदास मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी को प्रमुखता मिली है और इसके पास ही सिंगल में संगीतकार खय्याम के निधन का समाचार है। हिन्दुस्तान ने एयर इंडिया के विमान में आग की खबर को अहमियत के अनुसार जगह दी है। यहां यह न्यूज तीन कॉलम में है, जबकि नवभारत टाइम्स ने इसे संक्षिप्त में रखा है। इसके अलावा पेज पर केंद्रीय सुरक्षा बलों की रिटायरमेंट आयु, चिदम्बरम को नोटिस, यूपी में पेट्रोल-डीजल महंगा होने का समाचार भी है। एंकर में चंद्रयान 2 से जुड़ी खबर है, जो आज चांद की कक्षा में पहुंचेगा।

आज अमर उजाला की बात की जाए तो पहले पेज पर फुल विज्ञापन होने के कारण तीसरे पेज को फ्रंट पेज बनाया गया है। अखबार में इस फ्रंट पेज पर भी दो बड़े विज्ञापन हैं। लीड मोदी-ट्रम्प मुलाकात है, जिसमें जम्मू-कश्मीर के हाल को भी शामिल किया गया है। इसके पास तीन कॉलम में यमुना का बढ़ता जलस्तर है और उसके नीचे केंद्रीय सुरक्षा बलों की रिटायरमेंट आयु संबंधी फैसले से जुड़ी खबर है। इस समाचार को आकर्षक अंदाज में संपूर्ण जानकारी के साथ पेश किया गया है। विमान में आग की खबर को भी प्रमुखता दी गई है। इसके अलावा पेज पर रविदास मंदिर पर कोर्ट की टिप्पणी और आम आदमी पार्टी के विधायक को सात दिन की जेल से संबंधित न्यूज है। हालांकि, अमर उजाला ने संगीतकार खय्याम के निधन के समाचार को फ्रंट पेज पर नहीं रखा है।

इसके अलावा, नवोदय टाइम्स ने सबसे अलग पूरे आठ कॉलम में एक बड़ी जगह उफनती यमुना को दी है। इस खबर को बड़े फोटो के साथ लगाया गया है। साथ ही इसमें अन्य राज्यों की स्थिति का भी जिक्र है। लीड कश्मीर है, लेकिन मोदी-ट्रम्प मुलाकात के बजाय घाटी के हालात को प्रमुखता मिली है, जबकि मुलाकात को बॉक्स में रखा गया है। राज ठाकरे को ईडी के नोटिस से जुड़ी खबर को दो कॉलम में लगाया गया है, लेकिन केंद्रीय सुरक्षा बलों की रिटायरमेंट आयु संबंधी महत्वपूर्ण खबर पेज पर नहीं है। साथ ही विमान में आग की खबर को भी जगह नहीं मिली है। हालांकि, आरक्षण पर मोहन भागवत के बयान से छिड़ी महाभारत, अरुण जेटली की बिगड़ती सेहत और संगीतकार खय्याम के निधन का समाचार पेज पर है. वहीं, एंकर में सामाजिक पहल से जुड़ी एक अच्छी खबर है।  

आज नवभारत टाइम्स का फ्रंट पेज देखें तो यह बेहद आकर्षक लग रहा है। आफत की बारिश को जिस खूबसूरत तरीके से पेश किया गया है, वह काबिल-ए-तारीफ है। ‘कश्मीर में शांति का अमिट प्लान’ शीर्षक के साथ लीड लगाई गई है। अपनी इस स्टोरी में वीरेंद्र कुमार ने बताया है कि गृहमंत्री अमित शाह ने कश्मीर को पटरी पर लाने के लिए कई अहम फैसले लिए हैं। लीड में ही मोदी-ट्रम्प की बातचीत और घाटी में सामान्य होते हालातों का भी जिक्र है। नवभारत टाइम्स के फ्रंट पेज पर आज भी काफी विज्ञापन है, लेकिन इसके बावजूद हर महत्वपूर्ण खबर को पेज पर रखने का प्रयास किया गया है। इनकम टैक्स की दरों में बड़े बदलाव की सिफारिश को दो कॉलम जगह मिली है, और इसके पास ही चार अहम समाचारों को छोटा-छोटा करके लगाया गया है। मसलन, विमान खरीद पर चिदम्बरम को नोटिस, केंद्रीय सुरक्षा बलों में 60 की उम्र पर रिटायरमेंट सहित अन्य दो खबरें हैं। इसके अलावा स्थानीय अपराध समाचार और रविदास मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी को भी सिंगल में लगाया गया है। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ एवं संगीतकार खय्याम की खबर ‘फास्ट न्यूज’ में है।

वहीं, दैनिक जागरण ने आज दो फ्रंट पेज बनाये हैं। पहले पेज पर आर्थिक मंदी की आहट पर आरबीआई गवर्नर के बयान को लीड बनाया गया है और दूसरी खबर चिदम्बरम को नोटिस है। दूसरे फ्रंट पेज की बात करें तो मोदी-ट्रम्प मुलाकात सबसे बड़ी खबर है, जबकि बालाकोट के बाद भारतीय सेना की तैयारी को दूसरी प्रमुख न्यूज का दर्जा दिया गया है। उफनती यमुना दो कॉलम में है और एंकर मिशन कश्मीर को समर्पित है। अपनी स्टोरी में नवीन नवाज ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल द्वारा तैयार किये गए 4M एक्शन प्लान के बारे में बताया है। इसके अलावा खय्याम, चंद्रयान सहित दो अन्य समाचार संक्षिप्त में हैं। दो फ्रंट पेज होने के बावजूद जागरण ने केंद्रीय सुरक्षा बलों की रिटायरमेंट आयु और विमान में आग की खबर को जगह नहीं दी है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

आज कुछ ऐसा रहा अखबारों के फ्रंट पेज का हाल

दैनिक जागरण के पाठकों को आज दो फ्रंट पेज पढ़ने को मिले हैं, वहीं अमर उजाला और राजस्थान पत्रिका के फ्रंट पेज पर आज कोई विज्ञापन नहीं है

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Monday, 09 December, 2019
Last Modified:
Monday, 09 December, 2019
Newspapers

गुजरता साल कई परिवारों को काफी गहरे जख्म दे गया। दिल्ली में 43 मजदूरों को लाचार व्यवस्था की बलि चढ़ना पड़ा। राजधानी से प्रकाशित होने वाले आज के अखबारों में यही सबसे बड़ी खबर है। सबसे पहले बात करते हैं नवभारत टाइम्स की। अखबार में लगभग आधा पेज तक दिल्ली की आग को बतौर लीड लगाया गया है। दूसरी बड़ी खबर उन्नाव की बेटी की विदाई है। प्रशासन ने पीड़ित परिवार को सरकारी नौकरी और हथियार के लाइसेंस का भरोसा दिलाया है।

पीएमओ पर आरबीआई के गवर्नर रहे रघुराम राजन के हमले को भी प्रमुखता से स्थान मिला है। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने गृहमंत्री अमित शाह को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने नेताओं की वीवीआईपी सुरक्षा हटाने की बात कही है। इस खबर के साथ ही अमेरिका में कश्मीर पर प्रस्ताव को डेढ़-डेढ़ कॉलम में रखा गया है। एंकर में मोहन भागवत हैं, जिनका कहना है कि गाय की सेवा से जेल के कैदियों में सुधार नजर आ रहा है।

आज अमर उजाला के फ्रंट पेज पर कोई विज्ञापन नहीं है, इसलिए कई खबरों को जगह देने का प्रयास किया गया है। लीड मौत की फैक्ट्री है, जिसमें 43 जिंदगियां स्वाहा हो गईं। वहीं, चीफ जस्टिस के बयान ‘आप जल्दबाजी में न्याय नहीं दे सकते’ पर उपराष्ट्रपति वेकैंया नायडू ने प्रतिक्रिया दी है। नायडू का कहना है कि त्वरित न्याय नहीं दे सकते तो देरी भी नहीं कर सकते। इस समाचार को प्रमुखता के साथ पेज पर रखा गया है।

इसके अलावा, 250 रुपए के आंकड़े पर पहुंची प्याज, उन्नाव कांड में सात पुलिसकर्मी निलंबित और मोदी की शौरी से मुलाकात भी पेज पर है। पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी का पुणे के अस्पताल में इलाज चल रहा है, पीएम मोदी ने अस्पताल जाकर शौरी के हालचाल जाने। एंकर में मौसम का बदला मिजाज है। उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड शुरू हो गई है। इसके पास ही दिल्ली की जहरीली हवा से जुड़ी खबर दो कॉलम में है।

अब राजस्थान पत्रिका की बात करें तो अखबार के फ्रंट पेज पर कोई विज्ञापन नहीं है। टॉप बॉक्स में देश और सियासी दलों की आर्थिक स्थिति के अंतर को दर्शाया गया है। जहां देश आर्थिक सुस्ती से गुजर रहा है, वहीं पार्टियों की आय 251% बढ़ी है। इसके पास ही दो कॉलम में कोरबा कांड में हुई मौत का समाचार है। महिला को जमानत पर छूटे आरोपित ने हंसिये से वार कर घायल कर दिया था। लीड दिल्ली की आग है, लेकिन इसे केवल दिल्ली पर केंद्रित नहीं रखा गया है। कुछ अन्य शहरों में फायर ब्रिगेड के हाल से भी पाठकों को रूबरू कराया गया है। प्रयास अच्छा है, लेकिन आज यदि मुख्य खबर को विस्तार से लगाया जाता और दूसरे दिन ‘हाल’ बयां किया जाता तो शायद ज्यादा बेहतर होता। क्योंकि इस प्रयास में मुख्य खबर कमजोर पड़ गई है।

फिल्म ‘पानीपत’ पर राजस्थान में बवाल और आर्थिक सुस्ती के लिए रघुराम राजन द्वारा पीएमओ को निशाना बनाये जाने को भी प्रमुखता से स्थान दिया गया है। राजन ने अपने लेख में लिखा है कि पीएमओ में सारी शक्तियां होना मंदी का कारण है। एंकर में 2020 ओलंपिक को लेकर बढ़ी चिंताएं हैं। दरअसल, ओलंपिक स्थल के पास परमाणु विकिरण के हॉट स्पॉट मिले हैं। इसके पास तीन कॉलम में जलवायु परिवर्तन के खतरे दर्शाती खबर है। खबर के अनुसार महज 11 महीनों में ही विक्टोरिया फॉल सूख गया। ‘राजस्थान पत्रिका’ ने प्याज की चढ़ती कीमतों को स्थान नहीं दिया है।

वहीं, दैनिक भास्कर ने दिल्ली की आग को सबसे ज्यादा जगह दी है। ‘अमर उजाला’ की तरह ‘दैनिक भास्कर’ ने भी मास्टहेड से लीड की शुरुआत की है। लीड के अलावा पेज पर केवल चार खबरें हैं। मसलन, पीएमओ पर रघुराम राजन का निशाना, महिला सुरक्षा पर पीएम की पुलिस को नसीहत, उत्तर भारत में कड़ाके की ठंड और निर्भया के दोषी को तिहाड़ किया गया शिफ्ट। मंडोली जेल में फांसी की व्यवस्था नहीं होने के चलते ऐसा किया गया है।

दैनिक जागरण ने आज दो फ्रंट पेज बनाये हैं। पहला पेज दिल्ली की आग के नाम है, जिसमें विनीत त्रिपाठी ने अपनी बाईलाइन स्टोरी में सरकारी लापरवाही को उजागर किया है। दूसरे पेज की लीड पीएम मोदी का पुलिस महानिदेशकों और महानिरीक्षकों के सम्मेलन में दिया भाषण है। मोदी ने महिला सुरक्षा के लिए प्रभावी पुलिसिंग पर जोर दिया है। दूसरी और आखिरी बड़ी खबर नागरिकता संशोधन बिल को पास कराने को लेकर सरकारी की तैयारी है। इसके अलावा संक्षिप्त में कुछ समाचार हैं, लेकिन प्याज की कीमतों को जगह नहीं मिली है।

सबसे आखिर में आज हिन्दुस्तान का रुख करते हैं। अखबार ने आधा पेज से ज्यादा जगह दिल्ली की आग को दी है। दूसरी बड़ी खबर उन्नाव कांड में सात पुलिसकर्मियों का निलंबन है। पेज पर अरविन्द सिंह की बाईलाइन स्टोरी भी है, जिसमें उन्होंने बताया है कि केंद्र सरकार नेशनल हाईवे पर घायलों को मौके पर ही इमरजेंसी इलाज की सुविधा देने जा रही है। एंकर में भी अग्निकांड से जुड़ा समाचार है, जो दर्शाता है कि मौत की दहलीज पर खड़े मजदूरों के जहन में क्या चल रहा होगा।

आज का ‘किंग’ कौन?

1: लेआउट और खबरों की प्रस्तुति के मामले में आज ‘दैनिक जागरण’ और ‘राजस्थान पत्रिका’ को छोड़कर बाकी अखबार बेहतर नजर आ रहे हैं। खासकर ‘दैनिक भास्कर’ ने लीड की प्रस्तुति में काफी मेहनत की है।

2: बेहतर शीर्षक की बात करें तो ‘अमर उजाला’ और ‘नवभारत टाइम्स’ ने ‘अग्निकांड’ का शीर्षक लगभग एक जैसा लगाया है, लेकिन ‘दैनिक भास्कर’ का शीर्षक ‘अव्यवस्था ने दम घोंटा’ आज भी सब पर भारी है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

समीक्षा: जनभावना से जुड़ी है दैनिक भास्कर की हेडलाइन

जैकेट विज्ञापन के कारण नवभारत टाइम्स में दो फ्रंट पेज बनाए गए हैं, वहीं दैनिक जागरण में भी आज दो फ्रंट पेज हैं

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Saturday, 07 December, 2019
Last Modified:
Saturday, 07 December, 2019
Newspapers

हैदराबाद की लेडी डॉक्टर से दरिंदगी के चारों आरोपितों की पुलिस मुठभेड़ में मौत आज के अखबारों की सबसे बड़ी खबर है। शुरुआत करते हैं अमर उजाला से। अखबार ने ‘पुलिस का इंसाफ’ शीर्षक के साथ पूरे आठ कॉलम में लीड लगाई है। इसी में उन्नाव पीड़िता की मौत, निर्भया के दोषी की याचिक खारिज और राष्ट्रपति द्वारा कानून पर उठाये गए सवाल को भी जगह मिली है। अयोध्या पर दायर पुनर्विचार याचिकाओं को भी प्रमुखता से पेज पर रखा गया है, जबकि एंकर में जजों पर सीबीआई के छापे हैं।

राजस्थान पत्रिका ने हैदराबाद पुलिस की कार्रवाई को ‘खुशी’ और ‘सवाल’ दोनों दर्शाने वाले शीर्षक से उठाया है। आधा पेज लगाई गई लीड को पक्ष-विपक्ष की तरह दो भागों में विभाजित किया गया है। हालांकि उन्नाव पीड़िता की मौत और निर्भया के दोषी की याचिका खारिज होने से जुड़े समाचार को फ्रंट पेज पर नहीं रखा गया है। शिवसेना-कांग्रेस-राकांपा के राज में अजित पवार को सिंचाई घोटाले से जुड़े 17 मामलों में क्लीन चिट मिल गई है। इस खबर को दो कॉलम जगह मिली है। इसके अलावा पेज पर चार अन्य समाचार भी हैं। एंकर में स्मार्टफोन के असर को समझाया गया है। ब्रिटेन की एक शोध एजेंसी ने खुलासा किया है कि चुनावों के दौरान लोग फोन पर आईं खबरों को देखते ही अपने वोट तय कर लेते हैं।   

अब दैनिक भास्कर पर नजर डालें तो आधा पेज जगह हैदराबाद पुलिस की कार्रवाई को दी गई है। जनभावना के अनुरूप शीर्षक ‘दुष्कर्मियों...! देख लो अंजाम’ के साथ लगी इस खबर को काफी विस्तार से पाठकों के समक्ष रखा गया है। निर्भया के दोषी की याचिका खारिज होने और उन्नाव पीड़िता की मौत की खबर भी लीड के हिस्से के रूप में मौजूद है। हालांकि, आज भी संख्या को लेकर अखबारों में गफलत का माहौल देखने को मिला है। ‘नवभारत टाइम्स’, ‘हिन्दुस्तान’ और ‘दैनिक जागरण’ जहां अयोध्या विवाद पर शुक्रवार को दाखिल पुनर्विचार याचिकाओं की संख्या 6 बता रहे हैं, वहीं ‘दैनिक भास्कर’ में 5 का जिक्र है, जबकि ‘अमर उजाला’ के मुताबिक यह संख्या 8 है। पेज पर मुकेश कौशिक और पवन कुमार की बाईलाइन खबर भी है। इस खबर के अनुसार, संसद में तंज कसने के लिए ‘पप्पू’ जैसे शब्दों के इस्तेमाल पर पाबंदी लगाई गई है। इसके अलावा, मंगलम बिड़ला का कंपनी बंद करने संबंधी बयान और मारुति द्वारा कारें वापस बुलाने संबंधी खबरें भी सिंगल में हैं।

आज दैनिक जागरण में दो फ्रंट पेज बनाये गए हैं। पहला पेज हैदराबाद पुलिस की कार्रवाई के नाम समर्पित है। इसकी हेडलाइन है, ‘जहां हुई थी दरिंदगी, वहीं आरोपित ढेर’। जबकि दूसरे पेज पर दया याचिका कानून को लेकर राष्ट्रपति के बयान को सबसे बड़ी खबर का दर्जा मिला है। राष्ट्रपति का कहना है कि पॉस्को एक्ट के दोषियों को दया याचिका का अधिकार नहीं मिलना चाहिए। स्थानीय अपराध समाचार और जजों पर सीबीआई छापे को भी अखबार ने प्रमुखता से उठाया है। दिल्ली के रोहिणी इलाके में एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी और बहू को मौत के घाट उतार दिया। हत्याकांड की वजह थी अवैध संबंधों का शक। वहीं, सीबीआई ने मेडिकल कॉलेज को लाभ पहुंचाने के मामले में छापेमारी की है। इसके अलावा, उन्नाव पीड़िता की मौत, निर्भया के दोषी की याचिक खारिज सहित कुछ अन्य समाचार भी पेज पर हैं।

वहीं, हिन्दुस्तान की बात करें तो टॉप बॉक्स में ‘हिन्दुस्तान लीडर समिट’ के उद्घाटन के मौके पर पीएम मोदी का भाषण है। मोदी का कहना है कि सरकार पर बेहतर प्रदर्शन का दबाव होना चाहिए। गैंगरेप के आरोपितों का एनकाउंटर अखबार की लीड है, जिसे ‘हैदराबाद के हैवान हलाक’ शीर्षक तले आरोपितों के फोटो सहित लगाया गया है। साथ ही इसमें उन्नाव पीड़िता की मौत का भी जिक्र है। वहीं टेलीकॉम सेक्टर की मंदी पर आदित्य बिड़ला ग्रुप के चेयरमैन मंगलम बिड़ला का बयान और अयोध्या विवाद पर दायर 6 याचिकाओं को दो-दो कॉलम जगह मिली है। बिड़ला का कहना है कि यदि सरकार से मदद नहीं मिली तो वोडाफोन-आइडिया कंपनी को बंद करना होगा। हाईकोर्ट के मौजूदा और पूर्व जजों पर सीबीआई छापे के साथ ही रेलवे द्वारा अपने 32 अधिकारियों को जबरन सेवानिवृत्त करने को अखबार ने प्रमुखता से लगाया है। इसके अलावा पेज पर तीन सिंगल खबरें हैं, जिनमें भगोड़े नित्यानंद का पासपोर्ट रद्द करने की खबर भी शामिल है।

सबसे आखिर में आज रुख करते हैं नवभारत टाइम्स का। जैकेट विज्ञापन के चलते आज दो फ्रंट पेज बनाये गए हैं। पहले पेज पर हैदराबाद की घटना को न रखते हुए दो खबरों को लगाया गया है। टॉप बॉक्स में निर्भया के दोषी की दया याचिका खारिज होने, राष्ट्रपति द्वारा दया याचिका संबंधी कानून पर सवाल उठाने और उन्नाव पीड़िता की नाजुक हालात को रखा गया है। हालांकि, उन्नाव का लास्ट अपडेट देने में अखबार चूक गया है। उन्नाव पीड़िता की मौत हो गई है और कई अखबारों ने इसे पब्लिश भी किया है।

लीड स्थानीय अपराध समाचार है। 64 वर्षीय एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी और बहू को मौत के घाट उतार दिया। दूसरा पेज हैदराबाद पुलिस की कार्रवाई को समर्पित है। ‘एनकाउंटर पर जश्न और सवाल’ इस शीर्षक के साथ लगाई गई लीड को फोटो, ग्राफिक्स के साथ विस्तार से समझाया गया है। साथ ही पक्ष और विपक्ष की प्रतिक्रियाओं को भी इसमें जगह मिली है। इसके अलावा पेज पर तीन छोटी-छोटी खबरें हैं। मसलन, अयोध्या विवाद में 6 पुनर्विचार याचिकाएं दाखिल, दिल्ली में प्रदूषण रिटर्न और मारुति ने वापस मंगवाई 63 हजार कारें। अखबार के पहले फ्रंट पेज पर आधा पेज विज्ञापन होने के कारण खबरों वाला भाग ही शो हो रहा है, इसलिए यहां पर खबरों वाले भाग को ही लगाया गया है जबकि दूसरा फ्रंट पेज पूरा शो हो रहा है। 

आज का किंग कौन?

1: लेआउट पर बात करने के लिए आज ज्यादा कुछ नहीं है, क्योंकि अधिकांश अखबारों में विज्ञापनों की भरमार है।

2: खबरों की प्रस्तुति, खासकर लीड के हिसाब से देखें तो आज ‘दैनिक जागरण’ और ‘हिन्दुस्तान’ को छोड़कर सभी अखबारों ने काफी मेहनत की है। ‘दैनिक जागरण’ ने जहां सीधी-सपाट लीड लगाई है, वहीं ‘हिन्दुस्तान’ ने इतने बड़े मामले को अपेक्षाकृत कम जगह दी है और शायद यही वजह है कि घटना से जुड़े फोटो भी नहीं लगाये गए हैं। 

3: कलात्मक शीर्षक की बात करें तो आज हर अखबार ने कुछ न कुछ अलग किया है, लेकिन ताज ‘दैनिक भास्कर’ के सिर ही सजेगा। ‘दैनिक भास्कर’ने लोगों की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए लीड की हेडलाइन ‘दुष्कर्मियों...! देख लो अंजाम’ तैयार की है और इसलिए इसका प्रभाव ज्यादा रहेगा।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अखबारी समीक्षा: चिदंबरम की खबर पर दिखा अखबारों का अलग-अलग 'गणित'

नवभारत टाइम्स में आज दो फ्रंट पेज बनाए गए हैं, जबकि अमर उजाला और दैनिक जागरण के फ्रंट पेज पर दो बड़े विज्ञापन हैं

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Thursday, 05 December, 2019
Last Modified:
Thursday, 05 December, 2019
Newspapers

‘एनआरसी’ पर हंगामा मचाने वाले विपक्ष को एक और मौका मिल गया है। केंद्रीय कैबिनेट ने पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आये गैर-मुस्लिमों को भारत की नागरिकता देने वाले विधेयक पर मुहर लगा दी है। यह बिल जल्द ही संसद में पेश किया जाएगा। इस खबर के साथ ही जेल की सलाखों से बाहर निकले चिदंबरम से जुड़ी खबर को आज सभी अखबारों ने प्रमुखता से लगाया है। सबसे पहले बात करते हैं ‘दैनिक भास्कर’ की। लीड नागरिकता विधेयक है, जिसे खूबसूरत शीर्षक ‘गैर मुस्लिम हैं...तो स्वागत!’ शीर्षक के साथ विस्तार से लगाया गया है।

कैबिनेट ने डेटा संरक्षण विधेयक को भी मंजूरी दे दी है। इसके तहत डेटा चोरी अपराध की श्रेणी में आएगा। इस खबर को भी लीड के हिस्से के रूप में रखा गया है। वहीं, 106 दिनों के बाद तिहाड़ से बाहर निकले पूर्व केंद्रीय मंत्री चिदंबरम को फोटो के साथ पेज पर जगह मिली है। दिल्ली में 65 साल के डॉक्टर ने अपनी 51 वर्षीय प्रेमिका के साथ खुदकुशी कर ली, इस समाचार को अखबार ने प्रमुखता से लगाया है। एंकर में सऊदी अरब की तेल पर निर्भरता खत्म करने की तैयारी है। सऊदी अरब 37 लाख करोड़ रुपए से दुनिया की पहली स्पोर्ट्स सिटी बना रहा है। इसके अलावा, पेज पर तीन सिंगल खबरों सहित कुछ संक्षिप्त समाचार हैं।

आज हिन्दुस्तान ने ‘नागरिकता बिल कैबिनेट से पास’ शीर्षक तले लीड को पांच कॉलम में रखा है और शेष तीन कॉलम में चिदंबरम को जगह मिली है। अखबार के हिसाब से चिदंबरम ने 105 दिन जेल में गुजारे, जबकि ‘दैनिक भास्कर’ में यह संख्या 106 है।

वहीं, चुनावी मौसम में केजरीवाल सरकार ने एक और सौगात दिल्लीवासियों को दी है। अब राजधानी में रहने वाले 16 दिसंबर से मुफ्त वाईफाई इस्तेमाल कर पाएंगे। इसके लिए 11 हजार हॉटस्पॉट लगाने पर काम चल रहा है। इस खबर को अखबार ने प्रमुखता से पेज पर रखा है।इस मामले में ‘दैनिक भास्कर’ से चूक हो गई है। अखबार ने इसे संक्षिप्त में जगह दी है, जबकि इसे बड़ा स्थान मिलना चाहिए था। सूडान में 18 भारतीयों की मौत के साथ ही आईटीबीपी जवान की गोलीबारी भी पेज पर है। जवान छुट्टी न मिलने से इतना नाराज हो गया कि उसने अपने पांच साथियों को गोलियों से भून डाला। एंकर में जलवायु परिवर्तन को रेखांकित करती मदन जैड़ा की स्टोरी है। इस स्टोरी के अनुसार बाढ़-तूफान के सबसे खतरे वाले देशों में भारत पांचवें स्थान पर है।

अब दैनिक जागरण की बात करें तो अखबार के फ्रंट पेज पर दो बड़े विज्ञापन हैं। अखबार ने नागरिकता विधेयक को लीड रखा है, हालांकि इसकी प्रस्तुति बेहद सामान्य है। दूसरी बड़ी खबर के रूप में आईटीबीपी जवान की गोलीबारी है। ‘दैनिक जागरण’ की खबर बताती है कि चिदंबरम 106 दिन बाद जेल से बाहर निकले, जबकि ‘हिन्दुस्तान’ इसे 105 बता रहा है। केजरीवाल सरकार की मुफ्त वाईफाई सौगात को भी पेज पर प्रमुखता से लगाया गया है। इसके अलावा पेज पर कुछ संक्षिप्त समाचार हैं। हालांकि, डॉक्टर की आत्महत्या को किसी भी रूप में जगह नहीं मिली है।

वहीं, अमर उजाला के फ्रंट पेज पर 'दैनिक जागरण' की तरह दो बड़े विज्ञापन हैं। लीड नागरिकता विधेयक है, जिसे काफी विस्तार में पाठकों के समक्ष परोसा गया है। चिदंबरम को ऊपर तीन कॉलम में जगह मिली है और इसके ठीक नीचे दिल्लीवासियों को मिली वाईफाई की सौगात है। ‘अमर उजाला’ भी चिदंबरम के जेल में काटे दिनों की संख्या 106 बता रहा है। सूडान में 18 भारतीयों की मौत के साथ ही पेज पर 18 भारतीयों के अपहरण के समाचार को भी रखा गया है। समुद्री डाकुओं ने नाइजीरिया के तट से हांगकांग के जिस जहाज का अपहरण किया, उसमें 18 भारतीय भी सवार थे। यह खबर दूसरे अखबारों में नहीं है।

नवभारत टाइम्स की बात करें तो आज पाठकों को दो फ्रंट पेज मिले हैं। पहले पेज की लीड दिल्लीवासियों को मुफ्त वाईफाई की सौगात है। दूसरी बड़ी खबर के रूप में चिदंबरम की रिहाई को रखा गया है। इस अखबार के हिसाब से भी चिदंबरम 106 दिन जेल में गुजारकर बाहर आये हैं। महिलाओं की सुरक्षा को लेकर धरने पर बैठीं स्वाति मालीवाल आज भी फोटो के रूप में पेज पर हैं। एंकर में प्रेमिका सहित डॉक्टर की आत्महत्या को जगह मिली है। अखबार ने इस खबर को काफी विस्तार से बताया है।

दूसरे पेज की लीड नागरिकता विधेयक है। आईटीबीपी जवान की गोलीबारी को भी प्रमुखता से साथ रखा गया है। इसके अलावा पेज पर दो सिंगल खबरें भी हैं। पहली राजनाथ सिंह का बयान है, जो कह रहे हैं कि हमारे सैनिक भी सीमा लांघते हैं और दूसरी एलओसी के पास आये बर्फीले तूफान से जुड़ी है, जिसमें 4 जवान शहीद हो गए। नवभारत टाइम्स के पहले फ्रंट पेज पर आधा पेज विज्ञापन होने के कारण खबरों वाला भाग ही शो हो रहा है, इसलिए यहां पर खबरों वाले भाग को ही लगाया गया है जबकि दूसरा फ्रंट पेज पूरा शो हो रहा है। 

सबसे आखिरी में आज ‘राजस्थान पत्रिका’ पर नजर डालते हैं। लीड नागरिकता विधेयक है, जिसे काफी विस्तार से रखा गया है। दूसरी बड़ी खबर सबसे अलग सुंदर पिचाई से जुड़ी है, जिन्हें गूगल की मूल कंपनी अल्फाबेट का भी सीईओ बनाया गया है। चिदंबरम की रिहाई को ज्यादा तवज्जो न देते हुए पेज के सेकंड हाफ में जगह दी गई है, जबकि आईटीबीपी के जवान की गोलीबारी ऊपर चार कॉलम में है। इसरो ने ‘विक्रम’ की खोज पर नासा के दावे को खारिज कर दिया है। उसका कहना है कि तीन दिन बाद ही विक्रम को खोज लिया गया था। इस खबर को पेज पर प्रमुखता के साथ रखा गया है। एलओसी पर बर्फीले तूफान सहित कुछ अन्य समाचार भी पेज पर हैं, जबकि एंकर में शिक्षा खर्च से जुड़ा समाचार है।

आज का ‘किंग’ कौन?

1: लेआउट के लिहाज से आज ‘दैनिक जागरण’ और ‘राजस्थान पत्रिका’ को छोड़कर सभी अखबार अच्छे नजर आ रहे हैं।

2: खबरों की प्रस्तुति में केवल ‘दैनिक जागरण’ का पक्ष कमजोर है, जबकि अन्य अखबारों ने अपने फ्रंट पेज पर खबरों के प्रेजेंटेशन में काफी मेहनत की है।     

3: कलात्मक शीर्षक की बात करें तो आज की बाजी ‘दैनिक भास्कर’ के नाम है। लीड के शीर्षक में केवल ‘दैनिक भास्कर’ ने प्रयोग किया है, जबकि बाकियों ने सीधी-सपाट हेडिंग दी है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फ्रंट पेज पर इन खबरों को मिली आज के अखबारों में जगह

हिन्दुस्तान और दैनिक जागरण में आज दो फ्रंट पेज बनाए गए हैं

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Wednesday, 04 December, 2019
Last Modified:
Wednesday, 04 December, 2019
Newspapers

दिल्ली से प्रकाशित होने वाले अखबारों ने अपने फ्रंट पेज पर आज अलग-अलग खबरों को बतौर लीड सजाया है। शुरुआत हिन्दुस्तान से करते हैं। इस अखबार में आज दो फ्रंट पेज बनाए गए हैं। पहले फ्रंट पेज पर लीड एसपीजी बिल पर मुहर को बनाया गया है। गाजियाबाद की दुखद घटना दूसरी बड़ी खबर के रूप में पेज पर है। अयोध्या पर मुस्लिम पक्ष ने वकील बदला, जीएसटी के दायरे में आएंगे ज्यादा सामान और एक जून से एक राष्ट्र, एक राशनकार्ड को भी पेज पर जगह मिली है। एंकर में अखबार ने जलवायु परिवर्तन पर जारी रिपोर्ट को सजाया है।

दूसरे फ्रंट पेज की बात करें तो टॉप बाक्स में देश भर में महिला हेल्पलाइन की स्थिति को बयां करती खबर लगाई गई है। इसका शीर्षक ‘पड़ताल: फोन ही नहीं उठता तो शिकायत कहां करें’ अपने आप में पूरी बात कह देता है। इसके बगल में दो कॉलम में केंद्र सरकार की समूह बी और सी की नौकरियों के लिए एक ही परीक्षा के प्रस्ताव से जुड़ी खबर है। इस पेज पर लीड में यूपी कैबिनेट के फैसलों को रखा गया है। इन फैसलों के तहत बिल्डर-घर खरीदारों को बड़ी छूट देने के साथ ही नोएडा से ग्रेनो वेस्ट तक मेट्रो को मंजूरी दी गई है। भारतीय की मदद से चंद्रयान-2 के खोये ‘विक्रम’ को खोजने की खबर सिंगल कॉलम में रखने के साथ ही इसके पास ही क्रेडिट कार्ड के बिल से जुड़ी खबर है। इस खबर में बताया गया है कि क्रेडिट कार्ड का बिल नहीं भरने पर जेल हो सकती है। नौसेना के बजट को लेकर नौसेना प्रमुख की चिंता को दो कॉलम में लगाने के साथ ही पेज पर कई सिंगल कॉलम खबरों को जगह दी गई है।     

राजस्थान पत्रिका के फ्रंट पेज पर कल की तरह आज भी कोई विज्ञापन नहीं है। टॉप बॉक्स में लापता ‘विक्रम’ को खोजने वाले चेन्नई के इंजीनियर को जगह मिली है। लीड आयकर विभाग द्वारा कांग्रेस से मांगा गया स्पष्टीकरण है। विभाग ने हैदराबाद की एक कंपनी से कथित रूप से 170 करोड़ लेने के मामले में कांग्रेस को नोटिस देकर जवाब मांगा है। एसपीजी बिल पर लगी मुहर को भी लीड में जगह मिली है। चीनी जहाज को खदेड़े जाने का समाचार दो कॉलम में है। मुस्लिम पक्ष द्वारा अयोध्या मामले के वकील को बदलने के साथ ही महाराष्ट्र की सियासत से जुड़ी खबर और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री के हत्यारे पर गृहमंत्री के बयान को भी पेज पर रखा गया है। एंकर में अमेरिकी डॉक्टरों का कारनामा है, जिन्होंने मृत दिल को भी जीवित कर दिया। 

अब रुख करते हैं अमर उजाला का। नौसेना द्वारा चीनी विमान को खदेड़े जाने की खबर टॉप बॉक्स में है और उसके पास से डीप तीन कॉलम में गाजियाबाद की दुखद घटना को रखा गया है। लीड एसपीजी बिल पर मुहर है। अखबार ने पाकिस्तानी गोलाबारी में दो की मौत को लापता ‘विक्रम’ की खोज पर तवज्जो दी है। यह खबर दो कॉलम में है और ‘विक्रम’ संक्षिप्त में, जबकि आज इस खबर को सबसे ज्यादा पढ़ा जाएगा। कहा जा सकता है कि इस मामले में अखबार से चूक हुई है। पृथ्वी-2 मिसाइल का सफल परीक्षण और नंबर पोर्टेबिलिटी नियमों में बदलाव सिंगल-सिंगल कॉलम में हैं। अब मोबाइल धारक महज तीन दिनों में अपना ऑपरेटर बदल सकेंगे। एंकर में अयोध्या विवाद है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर करने वाले मुस्लिम पक्ष ने अपना वकील बदल दिया है।       

आज नवभारत टाइम्स में स्थानीय खबर को सबसे बड़ी खबर का दर्जा मिला है। आर्थिक तंगी से जूझ रहे एक व्यक्ति ने परिवार सहित अपनी जान दे दी। अखबार ने रिवर्स हेडलाइन के साथ इस दुखद समाचार को लगाया है। वहीं फ्लैट खरीदारों के लिए राहत भरी खबर को भी प्रमुखता मिली है। यूपी सरकार ने नोएडा, ग्रेटर नोएडा में लटके हाउसिंग प्रोजेक्ट को गंभीरता से लेते हुए कुछ महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। चंद्रयान-2 के खोये ‘विक्रम’ से जुड़ा समाचार भी फ्रंट पेज पर है। चेन्नई के एक इंजीनियर ने तस्वीरें खंगालकर विक्रम को खोज निकाला है। हालांकि इस खोज पर इसरो की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

विपक्ष के हंगामे के बावजूद एसपीजी बिल राज्यसभा में पास हो गया है। इस बिल में एसपीजी सुरक्षा को लेकर बदलाव किये गए हैं। जैसे-एसपीजी सुरक्षा केवल पीएम और उनके परिवार को ही मिलेगी। कांग्रेस इसे गांधी परिवार से दुश्मनी करार दे रही है। यह खबर सिंगल बॉक्स में है, जबकि बलात्कारियों को कड़ी सजा दिलाने के लिए दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष के धरने को फोटो के रूप में पेज पर रखा गया है। इसके बाद पेज पर चार प्रमुख खबरें हैं। मसलन, जमीयत ने अयोध्या मामले में वकील बदला, एक जून से लागू होगा एक देश-एक राशनकार्ड, भारतीय सीमा में घुसा चीन का जहाज, नौसेना ने खदेड़ा और दिल्ली में खुलेगी स्किल यूनिवर्सिटी।

वहीं, दैनिक भास्कर के फ्रंट पेज पर आज कोई विज्ञापन नहीं है। टॉप बॉक्स में खोये ‘विक्रम’ के मिलने की कहानी है। चेन्नई के इंजीनियर की इस सफलता को विस्तार से पाठकों के समक्ष प्रस्तुत किया गया है। लीड हैदराबाद कांड के बाद सामने आई विकृत मानसिकता है। खबर बताती है कि 80 लाख लोगों ने पोर्न साइट पर पीड़िता के नाम से रेप विडियो सर्च किया। गाजियाबाद के दुखद हादसे को भी अखबार ने प्रमुखता से लगाया है, जहां आर्थिक तंगी से परेशान परिवार ने अपनी जान दे दी।

इसके अलावा, अयोध्या विवाद पर मुस्लिम पक्ष के वकील बदलने की खबर के साथ ही भगौड़े नित्यानंद से जुड़ा समाचार भी पेज पर है। दुष्कर्म के आरोपों में घिरे नित्यानंद ने दक्षिणी अमेरिका के एक द्वीप को अपना ठिकाना बना लिया है। एंकर में विश्व मौसम संगठन की सालाना रिपोर्ट है। जो बताती है कि 2010-19 सबसे गर्म दशक रहा है।

सबसे आखिर में आज दैनिक जागरण की बात करते हैं। अखबार में आज दो फ्रंट पेज हैं। पहले पेज की शुरुआत लापता ‘विक्रम’ की खोज से हुई है, जबकि लीड नौसेना द्वारा चीनी जहाज को खदेड़ने की खबर है। घुसपैठ की यह घटना अंडमान के समुद्र में सितंबर में हुई थी, नौसेना ने अब इसका खुलासा किया है। दूसरे फ्रंट पेज की सबसे बड़ी खबर गाजियाबाद की दुखद घटना है। इसके अलावा, फ्लैट धारकों को राहत देती खबर को दो कॉलम जगह मिली है। साथ ही एसपीजी बिल पर मुहर सहित चार अन्य खबरें सिंगल में लगाई गई हैं।

आज का ‘किंग’ कौन?

1: लेआउट के मामले में आज ‘नवभारत टाइम्स’ और ‘अमर उजाला’ बेहतर नजर आ रहे हैं। दोनों अखबारों का फ्रंट पेज काफी खुला-खुला है।

2: खबरों की प्रस्तुति में ‘दैनिक भास्कर’ को सबसे आगे कहा जा सकता है। लापता ‘विक्रम’, परिवार की खुदकुशी और लीड खबर को अखबार ने काफी अच्छी तरह से पाठकों के समक्ष परोसा है। वैसे ‘नवभारत टाइम्स’ ने भी अच्छा प्रयास किया है। 

3: कलात्मक शीर्षक आज भी किसी अखबार में नजर नहीं आ रहा है।

4: खबरों के लिहाज से देखें तो ‘हिन्दुस्तान’ और ‘अमर उजाला’ सबसे पीछे कहे जा सकते हैं। क्योंकि दोनों से ही लापता विक्रम से जुड़ी खबर के मामले में चूक हुई है। ‘अमर उजाला’ ने इसे अंडरप्ले करते हुए संक्षिप्त में लगाया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

हिंदी अखबारों का कैसा रहा आज का फ्रंट पेज, पढ़ें यहां

दैनिक जागरण में आज दो फ्रंट पेज बनाए गए हैं, जबकि दैनिक भास्कर, हिन्दुस्तान और अमर उजाला में फ्रंट पेज पर आज काफी विज्ञापन है

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Tuesday, 03 December, 2019
Last Modified:
Tuesday, 03 December, 2019
Newspapers

हैदराबाद कांड को लेकर संसद से सड़क तक गुस्सा है। इस खबर को आज दिल्ली से प्रकाशित होने वाले अखबारों ने प्रमुखता से उठाया है। शुरुआत आज राजस्थान पत्रिका से करते हैं। अखबार के फ्रंट पेज पर कोई विज्ञापन नहीं है, लिहाजा पाठकों के पढ़ने के लिए काफी खबरें हैं। पेज की शुरुआत महिलाओं के गौरव को दर्शाती खबर से हुई है। शिवांगी सिंह नौसेना की पहली महिला पायलट बन गई हैं। लीड हैदराबाद कांड को लेकर सांसदों के गुस्से को रखा गया है।

दूसरी बड़ी खबर के रूप में अयोध्या विवाद का फिर से सुप्रीम कोर्ट पहुंचना है। क्रीमी लेयर के मुद्दे पर सरकार की कोर्ट से गुहार को भी पेज पर जगह मिली है। महाराष्ट्र के सियासी नाटक पर पर्दा गिरने के बाद भाजपा सांसद के बयान ने नया विवाद खड़ा कर दिया है। अनंत हेगड़े का कहना है कि बहुमत नहीं होने के बावजूद फडणवीस को मुख्यमंत्री बनाने के पीछे केंद्र के 40 हजार करोड़ लौटाना वजह थी। अखबार ने इस खबर को दो कॉलम जगह दी है। इसके अलावा, प्रियंका गांधी की सुरक्षा में चूक, ग्रेटर दिल्ली बनाने की मांग, शिवसेना सांसद की कार से हिरण की मौत से जुड़ा समाचार भी फ्रंट पेज पर है। वहीं एंकर में सुप्रीम कोर्ट का पर्यावरण मंत्रालय को दिया निर्देश है। इसमें कीटनाशकों का हवाई यात्रियों पर असर देखने के लिए समिति बनाने को कहा गया है।

आज अमर उजाला के फ्रंट पेज पर विज्ञापन के चलते ज्यादा जगह नहीं है। टॉप बॉक्स में अयोध्या विवाद की वापसी है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर होने से यह साफ हो गया है कि मामला अभी और लंबा खिंचेगा। लीड हैदराबाद कांड पर संसद से सड़क तक फैला गुस्सा है। आयकर विभाग की कार्रवाई और प्रियंका गांधी की सुरक्षा में चूक सहित क्रीमी लेयर पर केंद्र की गुहार को भी पेज पर जगह मिली है।

एंकर में महाराष्ट्र को लेकर शरद पवार का खुलासा है। पवार का कहना है कि मोदी मिलकर काम करना चाहते थे, लेकिन मैंने प्रस्ताव ठुकरा दिया। वहीं नौसेना की पहली महिला पायलट शिवांगी सहित क्रिकेटर अंजली की उपलब्धि को ‘आसमां छू रहीं बेटियां’ शीर्षक वाले बॉक्स में रखा गया है।

अब नवभारत टाइम्स की बात करें तो लीड हैदराबाद कांड पर गुस्सा है। ‘अब और निर्भया नहीं, बनेगा सख्त कानून’ यह हेडलाइन इस मुद्दे पर सांसदों की गंभीरता को बयां करती है। दूसरी बड़ी खबर अयोध्या पर फैसले को चुनौती है, जबकि नौसेना की पहली महिला पायलट शिवांगी की उपलब्धि को फोटो के साथ पेज पर रखा गया है। वहीं, प्रियंका गांधी की सुरक्षा में चूक और महाराष्ट्र में भाजपा की सरकार बनाने की जल्दबाजी पर पार्टी सांसद के खुलासे को सिंगल-सिंगल कॉलम जगह मिली है।

स्वीडन के राजा-रानी की सादगी भी फोटो के रूप में पाठकों के समक्ष रखी गई है। भारत दौरे पर पहुंचे किंग कार्ल और क्वीन सिल्विया हवाई अड्डे से बाहर अपना बैग खुद उठाकर आये। एंकर में दिल्लीवासियों के बिजली के बिल को जगह मिली है। 26 लाख से ज्यादा उपभोक्ताओं का बिल जीरो आया है। अखबार ने 0 रन देकर 6 विकेट लेने वालीं नेपाल की अंजली चंद की उपलब्धि को संक्षिप्त में रखा है। 

दैनिक जागरण पर नजर डालें तो आज अखबार में दो फ्रंट पेज हैं। पहले फ्रंट पेज की लीड हैदराबाद कांड पर संसद में उबाल है। इसके अलावा पेज पर दिल्ली में खेल विश्वविद्यालय खोलने पर विधानसभा की मुहर से जुड़ा समाचार है। ‘नवभारत टाइम्स’ ने भी इसे फ्रंट पेज पर रखा है। वहीं, दूसरे पेज पर क्रीमी लेयर पर केंद्र की कोर्ट से गुहार को लीड का दर्जा मिला है। सरकार एससी/एसटी आरक्षण में क्रीमी लेयर की व्यवस्था के पक्ष में नहीं है।

अयोध्या पर पुनर्विचार याचिका, प्रियंका गांधी की सुरक्षा में चूक और आयकर विभाग की कार्रवाई को भी प्रमुखता के साथ पेज पर रखा गया है। सबसे नीचे दो कॉलम में कश्मीर के हालात बयां करती खबर है। घाटी में तैनात सुरक्षा बलों की संख्या में कमी की जा रही है, जो इसका संकेत है कि स्थिति सामान्य हो रही है। अखबार ने नौसेना की पहली महिला पायलट बनने का गौरव प्राप्त करने वालीं शिवांगी को दोनों में से किसी भी फ्रंट पेज पर जगह नहीं दी है, जबकि 0 रन देकर 6 विकेट लेने वालीं नेपाल की अंजली की उपलब्धि को सिंगल कॉलम में लगाया है।

अब दैनिक भास्कर को देखें तो अखबार के फ्रंट पेज पर ज्यादा जगह नहीं है, लेकिन फिर भी ज्यादा से ज्यादा खबरें लगाने का प्रयास किया गया है। लीड हैदराबाद कांड पर गुस्सा है। आम जनता के साथ-साथ सांसद भी कठोर नियम की बात कर रहे हैं। नरेंद्र मोदी को लेकर शरद पवार के खुलासे और प्रियंका गांधी की सुरक्षा में चूक भी पेज पर है।

पारंपरिक एंकर के बजाय आज अखबार ने तीन खबरों को लगाया है। पहली खबर क्रीमी लेयर पर केंद्र सरकार की कोर्ट से गुहार है, दूसरी निर्भया के दोषी की दया याचिका से जुड़ी है और तीसरी अयोध्या फैसले के खिलाफ दायर पुनर्विचार याचिका है। नौसेना की पहली महिला पायलट शिवांगी को ‘न्यूज ब्रीफ’ में जगह मिली है।

सबसे आखिर में आज हिन्दुस्तान का रुख करते हैं। फ्रंट पेज पर दो बड़े विज्ञापन हैं और ‘दुष्कर्म पर संसद से सड़क तब उबाल’ शीर्षक के साथ लीड को छह कॉलम में रखा गया है। पेज पर दूसरी बड़ी खबर एनसीआर में हुई आयकर विभाग की कार्रवाई है। इस कार्रवाई में 3000 करोड़ की बेनामी संपत्ति का खुलासा हुआ है। अयोध्या विवाद एक बार फिर से सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। एक मुस्लिम पक्षकार ने फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर की है। वहीं क्रीमी लेयर को आरक्षण के दायरे में लाने के लिए मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

इन दोनों खबरों को प्रमुखता के साथ पेज पर जगह मिली है। इसके अलावा, पेज पर तीन सिंगल खबरें हैं। इनमें सबसे महत्वपूर्ण है कैग की वो सिफारिश, जिसे यदि मान लिया गया तो रेल यात्रियों को बड़ा झटका लगेगा। कैग का कहना है कि रेलवे को सीनियर सिटीजन को मिलने वाले रियायत बंद करनी चाहिए।

आज का ‘किंग’ कौन?

1: लेआउट के लिहाज से आज ‘नवभारत टाइम्स’ का फ्रंट पेज काफी आकर्षक नजर आ रहा है।

2: खबरों की प्रस्तुति के मामले में भी ‘नवभारत टाइम्स’ बेहतर है। वहीं, लीड के नजरिये से देखें तो ‘हिन्दुस्तान’ ने भी अच्छा प्रयास किया है।

3: कलात्मक शीर्षक पर आज फिर किसी अखबार ने जोर नहीं दिया है। ‘नवभारत टाइम्स’ ने जरूर लीड के शीर्षक को अलग तरह से प्रस्तुत करने की कोशिश की है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अखबारों में फ्रंट पेज पर आज इन खबरों को मिली प्रमुखता

अमर उजाला के फ्रंट पेज पर एक बड़ा विज्ञापन है, जबकि हिन्दुस्तान और दैनिक जागरण के फ्रंट पेज पर आज लगभग आधा पेज विज्ञापन है

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Monday, 02 December, 2019
Last Modified:
Monday, 02 December, 2019
Newspapers

महंगाई के दौर में फोन पर बात करना भी महंगा हो गया है। कई कंपनियों ने कॉल दरें बढ़ा दी हैं। दिल्ली से प्रकाशित होने वाले कई अखबारों ने इस खबर को आज प्रमुखता से उठाया है। शुरुआत अमर उजाला से करते हैं। लीड महंगा मोबाइल बिल है और इसी में गैस सिलेंडर के चढ़ते दामों को रखा गया है। महंगाई के अलावा चार दिन बाद नींद से ‘जागे’ तेलंगाना के मुख्यमंत्री भी पेज पर हैं। जहां एक तरफ हैदराबाद में हुए वीभत्स कांड को लेकर पूरा देश गुस्से में उबल रहा है, वहीं मुख्यमंत्री शादी समारोह में व्यस्त रहे। जब मीडिया में बात उछली, तब कहीं जाकर मामले की जांच के आदेश दिए।

उधर, केजरीवाल सरकार ने निर्भया के एक दोषी की दया याचिका खारिज करने की सिफारिश की है, इसे भी पेज पर रखा गया है। दिल्ली में हुए सड़क हादसे की खबर तीन कॉलम में है। स्कूटी से जा रहे तीन नाबालिगों की पोल से टकराकर मौत हो गई। एंकर में कोहरे में फंसे विमान की खबर है, जिसका शीर्षक ‘दिल्ली में धुंध से पायलट ने खड़े किये हाथ, तो एक यात्री ने उड़ाया विमान’ पाठकों को समाचार पढ़ने के लिए आकर्षित करता है। इसके अलावा पेज पर डेढ़ कॉलम की दो खबरों सहित कुछ संक्षिप्त समाचार हैं।

अब नवभारत टाइम्स की बात करें तो लीड सड़क हादसा है। महंगी मोबाइल दरों को सबसे नीचे सिंगल कॉलम में जगह दी गई है। दिल्ली के लिहाज से सड़क हादसे को लीड रखा जा सकता है, लेकिन मोबाइल दरों में वृद्धि भी आम आदमी से जुड़ी खबर है, लिहाजा इसे भी बड़ी जगह मिलनी चाहिए थी। इस समाचार के महत्व को समझने में अखबार से चूक हुई है। निर्भया के दोषी की दया याचिका खारिज करने संबंधी केजरीवाल सरकार की सिफारिश को दूसरी बड़ी खबर का दर्जा मिला है। हैदराबाद की हैवानियत को वैल्यू एडिशन के तौर पर इसी खबर में रखा गया है।

अयोध्या में शुरू हुई राम रसोई, महाराष्ट्र में स्पीकर पद पर कांग्रेस का कब्जा और अपने पदाधिकारियों का कार्यकाल बढ़ाए जाने के लिए बीसीसीआई जाएगा सुप्रीम कोर्ट, इन समाचारों को भी प्रमुखता के साथ लगाया गया है। वैसे, स्पीकर और बीसीसीआई से जुड़ी खबरें बाकी अखबारों के फ्रंट पेज पर भी हैं। एंकर में 21वीं सदी में भी जात-पात, ऊंच-नीच को दर्शाती खबर है। फरीदाबाद के नजदीक दबंगों ने दलित के घर जा रही बारात को रास्ता नहीं दिया।

आज दैनिक जागरण का फ्रंट पेज सबसे अटपटा है। लीड वायु प्रदूषण पर केंद्रित अरविन्द पाण्डेय की बाईलाइन है। दूसरी बड़ी खबर छत्तीसगढ़ के चर्चित सारकेगुडा कांड की लीक हुई जांच रिपोर्ट है। इसके अनुसार सुरक्षाबालों की फायरिंग में नक्सली नहीं, बल्कि 17 ग्रामीणों की मौत हुई थी। महंगी मोबाइल दर से जुड़ी खबर तीन कॉलम में जरूर है, लेकिन इसकी प्रस्तुति बेहद सामान्य है।

राजधानी के सड़क हादसे और हैदराबाद कांड को महज सिंगल कॉलम में रखा गया है। उद्धव ठाकरे की हिंदुत्व पर वापसी को अखबार ने प्रमुखता से पेज पर लगाया है। मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठते ही ठाकरे ने साफ कर दिया है कि वो हिंदुत्व को कभी नहीं छोड़ेंगे।

वहीं, दैनिक भास्कर का फ्रंट पेज आज अपनी ‘मंडे पॉजिटिव’ थीम पर आधारित है। टॉप बॉक्स में अमित कुमार निरंजन की बाईलाइन स्टोरी है, जिसमें उन्होंने उन युवाओं के बारे में बताया है जो विदेश की नौकरी छोड़कर बच्चों को पढ़ाने-किसानों की मदद करने में जुटे हैं। लीड महंगी मोबाइल दरें हैं, हालांकि पॉइंट साइज और फॉन्ट की गफलत आज भी है। यानी यह समझना मुश्किल है कि कौन सी खबर लीड है और  कौन सी नहीं।

हैदराबाद की हैवानियत के फॉलोअप के रूप में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सरकारों की लापरवाही को दर्शाती खबर भी फ्रंट पेज पर है। खबर के अनुसार, 10 राज्यों ने अभी तक इमरजेंसी नंबर 112 शुरू ही नहीं किया है। राजधानी का सड़क हादसा सिंगल कॉलम में है, जबकि बीसीसीआई से जुड़े समाचार को अपेक्षाकृत बड़ी जगह दी गई है। एंकर में अनिरुद्ध सिंह परमार की बाईलाइन है, जिन्होंने संयुक्त परिवार के टूटने को लेकर एक सर्वे प्रस्तुत किया है।

हिन्दुस्तान के फ्रंट पेज पर लगभग आधा पेज विज्ञापन है, लेकिन खबरों को जगह देने में कोई कंजूसी नहीं दिखाई गई है। लीड महंगी मोबाइल दरें हैं, जिसे विस्तार से पाठकों के समक्ष प्रस्तुत किया गया है। पास ही एक ही नेचर की दो खबरों को दो-दो कॉलम में लगाया गया है। पहली हैदरबाद से जुड़ी है जहां नींद से जागे मुख्यमंत्री ने गैंगरेप मामले की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में करने के आदेश दिए हैं। दूसरी दिल्ली की निर्भया कांड से संबंधित है, जहां सरकार ने एक दोषी की दया याचिका खारिज करने की सिफारिश की है। राजधानी के सड़क हादसे के साथ ही रमेश त्रिपाठी की स्टोरी को भी पेज पर जगह मिली है। त्रिपाठी ने बताया है कि ठग किस तरह बैंकों को चूना लगा रहे हैं। इसके अलावा, पेज पर कुछ सिंगल खबरें भी हैं।

सबसे आखिरी में रुख करते हैं ‘राजस्थान पत्रिका’ का। पेज की शुरुआत महंगी मोबाइल दरों के समाचार से हुई है, जिसे सिंगल में रखा गया है। टॉप बॉक्स में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराध को लेकर देश का गुस्सा है। इसमें हैदराबाद और निर्भया कांड से जुड़े समाचारों को जगह मिली है। लीड सारकेगुडा कांड की लीक जांच रिपोर्ट है, जिसे विस्तार से प्रस्तुत किया गया है। उद्योगपति राहुल बजाज द्वारा मोदी सरकार पर किये गए हमले को भी बड़ी जगह मिली है। एंकर में दुर्लभ चिकित्सीय मामले को बयां करती खबर है। अमेरिका में 2 बच्चों को चिकनपॉक्स के टीके से दिमागी बुखार हो गया। इसके अलावा पेज पर नौसेना दिवस की तैयारी से जुड़ी फोटो सहित कुछ अन्य समाचार हैं।         

आज का ‘किंग’ कौन?

1: लेआउट के लिहाज से आज ‘राजस्थान पत्रिका’, ‘दैनिक भास्कर’ और ‘अमर उजाला’ बेहतर नज़र आ रहे हैं।

2: खबरों की प्रस्तुति खासकर महंगी मोबाइल दरों की बात करें, तो ‘हिन्दुस्तान’, ‘अमर उजाला’ ने काफी अच्छी तरह से खबर को पाठकों के समक्ष पेश किया है।     

3: आज लगभग सभी अखबारों में कलात्मक शीर्षक का टोटा है। हालांकि, ‘अमर उजाला’ ने एंकर की हेडलाइन में अच्छा प्रयोग ज़रूर किया है। इसी तरह ‘नवभारत टाइम्स’ ने भी सड़क हादसे की खबर का एकदम अलग शीर्षक दिया है, लेकिन फिर भी कलात्मक शीर्षक के मामले में सभी के हाथ खाली हैं। 

4: खबरों की बात करें तो ‘दैनिक जागरण’, ‘राजस्थान पत्रिका’ और ‘नवभारत टाइम्स’ ने मोबाइल दरों में वृद्धि से जुड़ी के साथ अच्छा ट्रीटमेंट नहीं किया है। जबकि आम आदमी से सीधे तौर पर जुड़ाव रखने वाले इस समाचार को तवज्जो मिलनी चाहिए थी।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अमर उजाला का नया कदम, 130 करोड़ में इस कंपनी में खरीदी बड़ी हिस्सेदारी

आंतरिक स्रोतों से मिली पूंजी से किया सौदा, नई इकाई में ‘अमर उजाला’ के पास प्रबंधन पर नियंत्रण के साथ ही बड़ी हिस्सेदारी होगी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 29 November, 2019
Last Modified:
Friday, 29 November, 2019
Amar Ujala

देश के बड़े मीडिया समूहों में शुमार ‘अमर उजाला लिमिटेड’ ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में बड़ा निवेश किया है। दरअसल, ‘अमर उजाला लिमिटेड’ ने आधुनिक अस्पतालों की श्रृंखला का संचालन करने वाली कंपनी साइग्नस मेडिकेयर में 130 करोड़ रुपए में बड़ी हिस्सेदारी खरीद ली है। बताया जाता है कि साइग्नस मेडिकेयर फिलहाल दिल्ली और हरियाणा में 1000 से अधिक बेड वाले 10 सुपर स्पेशिलिटी अस्पतालों का परिचालन कर रही है।

इस बारे में ‘अमर उजाला लिमिटेड’ के निदेशक प्रोबल घोषाल का कहना है, ‘हमने साइग्नस मेडिकेयर के साथ उसके 10 अस्पतालों के लिए करीब 130 करोड़ रुपए में एक सौदा किया है। इस पोर्टफोलियो में हमने पहले से परिचालित अपने दो अस्पताल भी जोड़े हैं। स्वास्थ्य एवं चिकित्सा क्षेत्र में विस्तार की योजना के तहत यह कदम उठाया गया है। कंपनी की योजना तीन साल में अस्पतालों की संख्या बढ़ाकर 20 करने की है। आंतरिक स्रोतों से मिली पूंजी से यह सौदा किया गया है।’

बताया जाता है कि इस सौदे के बाद बनने वाली नई इकाई में ‘अमर उजाला’ के पास प्रबंधन पर नियंत्रण के साथ ही बड़ी हिस्सेदारी होगी। बाकी हिस्सेदारी एट रोड वेंचर्स, सोमरसेट इंडस, इवॉल्वेंस इंडिया व पूर्व प्रवर्तकों डॉ. दिनेश बत्रा और डॉ. शुचिन बजाज के पास होगी। घोषाल के अनुसार, ‘इस सौदे के तहत बत्रा और बजाज नई इकाई के निदेशक मंडल में शामिल रहेंगे। इसके साथ ही वे पहले के पदों पर बने रहेंगे।‘ घोषाल ने बताया कि वह नई इकाई के चेयरमैन होंगे। उन्होंने कहा कि कंपनी उत्तर प्रदेश, हरियाणा,  हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड  और जम्मू कश्मीर में स्वास्थ्य सेवाओं के विकास के लिए प्रतिबद्ध है।’

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अखबारों ने फ्रंट पेज पर आज इन खबरों को दी जगह

नवभारत टाइम्स में आज दो फ्रंट पेज बनाए गए हैं। दैनिक जागरण, हिन्दुस्तान और अमर उजाला में आज तीसरा पेज फ्रंट पेज है।

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Friday, 29 November, 2019
Last Modified:
Friday, 29 November, 2019
Newspapers

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे का सपना आखिरकार पूरा हो गया है। उन्होंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली है। वहीं, साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को रक्षा कमेटी से हटा दिया गया है। यही दोनों खबरें आज के अखबारों की सुर्खियां हैं। आज सबसे पहले नवभारत टाइम्स की बात करते हैं। अखबार में आज दो फ्रंट पेज बनाये गए हैं। पहले पेज पर लीड गोडसे प्रेम की शिकार प्रज्ञा ठाकुर हैं। भाजपा ने अब प्रज्ञा का बचाव करने के बजाय उन पर कार्रवाई की है, जिसे अखबार ने अपनी हेडलाइन ‘प्रज्ञा का डिफेंस अब और नहीं, बीजेपी ने रक्षा कमिटी से हटाया’ से बखूबी दर्शाया है।

दूसरे पेज की बात करें तो लीड यहां उद्धव की ताजपोशी है। हालांकि, अंबानी की रिलायंस को भी लीड जैसी ही प्रस्तुति मिली है। इस खबर का शीर्षक ‘153 देशों की जीडीपी से ज्यादा बड़ी है अंबानी की रिलायंस’ कंपनी की उपलब्धि को बयां करने के लिए काफी है। वैसे, इस समाचार को काफी बड़ी जगह दी गई है, अगर इसे थोड़ा छोटा किया जाता तो कुछ और महत्वपूर्ण खबरों को पेज पर जगह मिल सकती थी। पेज पर तीसरी और आखिरी खबर के रूप में दिल्ली की कच्ची कॉलोनियों से जुड़ा बिल है, जिस पर संसद ने मुहर लगा दी है।‘नवभारत टाइम्स’ के पहले फ्रंट पेज पर आधा पेज विज्ञापन होने के कारण खबरों वाला भाग ही शो हो रहा है, इसलिए यहां पर खबरों वाले भाग को ही लगाया गया है जबकि दूसरा फ्रंट पेज पूरा शो हो रहा है।

दैनिक जागरण में विज्ञापनों के चलते आज तीसरा पेज फ्रंट पेज बनाया गया है। टॉप बॉक्स में कारोबारी सफलता के मामले में रिलायंस की छलांग है। अंबानी की रिलायंस 10 लाख करोड़ वाली देश की पहली कंपनी बन गई है। लीड उद्धव ठाकरे की ताजपोशी है। इस खबर को ओमप्रकाश तिवारी ने लिखा है। उन्होंने यह भी बताया है कि उद्धव राज में किसानों के कर्ज माफ होंगे। प्रज्ञा पर कार्रवाई तीसरी प्रमुख खबर है, जबकि एंकर में वित्तीय मोर्चे पर सरकार की तैयारी को दर्शाती खबर है। सरकार दो दर्जन बड़ी गैर वित्तीय कंपनियों को राहत देने की तैयारी कर रही है।

आज दैनिक भास्कर के फ्रंट पेज पर कोई विज्ञापन नहीं है। नतीजतन, पाठकों के पढ़ने के लिए काफी खबरें हैं। लीड उद्धव की ताजपोशी है, जिसकी हेडिंग ‘सेकुलर उद्धव का राजतिलक’ रखी गई है। प्रज्ञा ठाकुर दूसरी बड़ी खबर के रूप में पेज पर हैं। साथ ही चिदंबरम की मुश्किलों को भी जगह मिली है। अंबानी की रिलायंस को अखबार ने खास तवज्जो न देते हुए सबसे नीचे महज दो कॉलम में रखा है। पेज पर अखिलेश कुमार की बाईलाइन स्टोरी भी है, जो बता रहे हैं कि डीजे या लाउडस्पीकर में साउंड लिमिटर नहीं लगा होने पर अब राजधानी में कार्यक्रमों की अनुमति नहीं मिलेगी। एंकर में ‘बिगबी’ के मन में चल रही उथलपुथल है, जो अब रिटायर होने के बारे में सोच रहे हैं।

अब हिन्दुस्तान पर नजर डालते हैं। यहां भी तीसरा पेज फ्रंट पेज है। लीड उद्धव की ताजपोशी है, जिसे ‘महाराष्ट्र में अघाड़ी राज का आगाज’ शीर्षक के साथ लगाया गया है। प्रज्ञा ठाकुर पर कार्रवाई दूसरी बड़ी खबर है। कच्ची कॉलोनियों संबंधी बिल और उपचुनाव में ममता बनर्जी की पार्टी को मिली जीत की खबर को दो-दो कॉलम जगह मिली है। अंबानी की रिलायंस को अखबार ने सबसे नीचे लगाया है। दिल्ली में पारा लुढ़कने की खबर को फर्स्ट हाफ में रखा गया है। इसके अलावा चिदंबरम की मुश्किलों सहित चार सिंगल खबरें भी पेज पर हैं।

सबसे आखिर में आज अमर उजाला का रुख करते हैं। अखबार में तीसरे पेज को फ्रंट पेज बनाया गया है। पेज की शुरुआत डेढ़ कॉलम पट्टी से हुई है, जिसमें तीन खबरों को रखा गया है। पहली, चिदंबरम की मुश्किलों से जुड़ी है, दूसरी मुकेश अंबानी की रिलायंस की छलांग और तीसरी का संबंध फेसबुक-इंस्टाग्राम से है। ईडी का कहना है कि चिदंबरम की विदेशों में 12 बेनामी संपत्ति हैं। वहीं रिलायंस का कारोबार दो साल में छह लाख करोड़ से बढ़कर 10 लाख करोड़ हो गया है, जबकि कल भारत सहित कई देशों के लोग फेसबुक और इंस्टा नहीं चलने के चलते परेशान रहे।

टॉप बॉक्स में उद्धव ठाकरे की ताजपोशी है, जिन्होंने 6 मंत्रियों संग शपथ ली। लीड प्रज्ञा पर एक्शन को रखा गया है। भाजपा ने साध्वी प्रज्ञा को रक्षा मामलों की समिति से तो हटाया है, साथ ही पूरे सत्र के लिए संसदीय दल की बैठक में उनके भाग लेने पर भी रोक लगा दी है। दिल्ली में प्रदूषण से जुड़ी खबर दो कॉलम में है और उसके ऊपर घाटी में बर्फबारी का फोटो। अपनी मांगों को लेकर हड़ताल की राह पकड़ने वाले कर्मचारियों के लिए एक बुरी खबर भी फ्रंट पेज पर है। सरकार ने ऐसा बिल संसद में पेश किया है, जिसके पारित होने के बाद हड़ताल करना मुश्किल हो जाएगा और बर्खास्तगी आसान। एंकर में स्पेन से जुड़ी खबर है। यहां पनडुब्बी से 644 करोड़ रुपए की कोकीन पकड़ी गई है।

आज का ‘किंग’ कौन?

1: लेआउट के मामले में सभी अखबार आज ठीक हैं। फिर भी ‘हिन्दुस्तान’ दूसरों से बेहतर नजर आ रहा है।

2: खबरों की प्रस्तुति में ‘दैनिक भास्कर’ और ‘हिन्दुस्तान’ अव्वल हैं, लेकिन ‘नवभारत टाइम्स’ ने रिलायंस की छलांग को सबसे आकर्षक अंदाज में प्रस्तुत किया है।

3: कलात्मक शीर्षक का ताज आज ‘नवभारत टाइम्स’ और ‘दैनिक भास्कर’ के नाम है। ‘नवभारत टाइम्स’ ने जहां प्रज्ञा ठाकुर से जुड़ी खबर के शीर्षक को कलात्मक बनाया है। वहीं, ‘दैनिक भास्कर’ में उद्धव की ताजपोशी के समाचार का शीर्षक शानदार है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

हिंदी अखबारों के फ्रंट पेज पर आज इन खबरों को मिली तवज्जो

दैनिक जागरण में आज दो फ्रंट पेज बनाए गए हैं। हिन्दुस्तान, अमर उजाला और नवभारत टाइम्स में आज फ्रंट पेज पर दो बड़े विज्ञापन हैं

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Thursday, 28 November, 2019
Last Modified:
Thursday, 28 November, 2019
Newspapers

महाराष्ट्र के सियासी घटनाक्रम से भले ही नेताओं का बीपी घटता-बढ़ता रहा हो, लेकिन पत्रकारों के लिहाज से सब ठीक रहा, क्योंकि उन्हें फ्रंट पेज की लीड के लिए ज्यादा मशक्कत नहीं करनी पड़ी। आज भी अखबारों में महाराष्ट्र ही लीड है। आज सबसे पहले दैनिक जागरण की बात करें तो अखबार में दो फ्रंट पेज बनाये गए हैं। पहले पेज पर मात्र दो बड़ी खबरें हैं। पहली लीड, जिसे ‘महाराष्ट्र में आज से ठाकरे राज’ शीर्षक तले लगाया गया है और दूसरी नई शिक्षा नीति लागू करने का फैसला टला। सरकार अब अगले साल यह कवायद करेगी। दूसरे फ्रंट पेज पर कोई बड़ा विज्ञापन नहीं है, इस वजह से काफी खबरों को स्थान मिला है।

टॉप बॉक्स में अंतरिक्ष में हमारी छलांग को जगह मिली है, जबकि लीड अयोध्या विवाद के फिर से उत्पन्न होने से जुड़ी है। ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर करने का फैसला लिया है। एसपीजी सुरक्षा पर गृहमंत्री अमित शाह की सफाई को भी बड़ी जगह मिली है। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर से जुड़ी खबर को अखबार ने सबसे नीचे दो कॉलम में रखा है। वहीं, पंजाब के चर्चित 144 करोड़ के घोटाले में मुख्यमंत्री सहित सभी के बरी होने के समाचार को चार कॉलम जगह दी गई है। इसके अलावा, पेज पर स्थानीय अपराध की खबर के साथ ही एंकर में सुधा मूर्ति की कहानी को बताया गया है। मूर्ति केबीसी के फिनाले एपिसोड में नजर आएंगी।

अब दैनिक भास्कर के फ्रंट पेज पर नजर डालें तो पेज की शुरुआत अंतरिक्ष में हमारी छलांग से हुई है। लीड महाराष्ट्र है, जिसमें सुप्रिया सुले और अजित पवार की ‘ऑल इज वेल’ दर्शाती तस्वीर को लगाया गया है। ये तस्वीर सियासी समीकरणों की अहम कहानी बयां करती है, इसलिए इसे तवज्जो मिलनी ही चाहिए थी। साध्वी प्रज्ञा को भी तीन कॉलम में रखा गया है। इसके नीचे डेढ़-डेढ़ कॉलम में तीन खबरें हैं और एंकर में इंडोनेशिया से जुड़ी एक रोचक स्टोरी है। इंडोनेशिया की सरकार ने शादी से पहले जोड़ों के लिए 3 महीने का कोर्स अनिवार्य किया है। अब कोर्स क्या है और इसकी जरूरत क्यों पड़ी, इसके लिए आपको खबर पढ़नी होगी।

आज हिन्दुस्तान के फ्रंट पेज पर दो बड़े विज्ञापन हैं। लीड महाराष्ट्र है। दिल्ली में बारिश को प्रमुखता के साथ टॉप में रखा गया है। प्याज की बढ़ती कीमतों को भी अखबार ने प्रमुखता दी है। एसपीजी सुरक्षा पर अमित शाह की सफाई और अयोध्या पर मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का निर्णय भी फ्रंट पेज पर है। बोर्ड सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ पुनर्विचार याचिका दायर करेगा।

वहीं, अमर उजाला ने फ्रंट पेज की शुरुआत टॉप बॉक्स से की है, जिसमें अंतरिक्ष में हमारी मजबूत हुई निगरानी को सजाया गया है। लीड महाराष्ट्र है और प्रज्ञा ठाकुर को तीसरी प्रमुख खबर के रूप में पेश किया गया है। हल्की बारिश से दिल्ली को मिली राहत भी पेज पर है। इसके अलावा दलाईलामा और अमित शाह को भी पर्याप्त जगह मिली है। दलाईलामा ने चीन का प्रस्ताव नकारते हुए अपना उत्तराधिकारी खुद चुनने का फैसला लिया है। वहीं अमित शाह ने गांधी परिवार की एसपीजी सुरक्षा के संबंध में संसद में सफाई दी।

सबसे आखिर में आज रुख करते हैं नवभारत टाइम्स का। ‘उद्धव सेना के सिपहसालार कौन, चेहरों पर है सस्पेंस’ शीर्षक के साथ लीड लगाई गई है। इसमें अजित के साथ पर अमित शाह की सफाई और सुप्रिया-अजित की फोटो भी है। साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने संसद में फिर बापू के हत्यारे गोडसे की शान में कसीदे पढ़े हैं। इस खबर को फ्रंट पेज पर तीन कॉलम में रखा गया है।

दिल्ली में कल का दिन विरोध-प्रदर्शनों के नाम रहा। जेएनयू के छात्रों ने जहां कनाट प्लेस पर प्रदर्शन किया, वहीं दिव्यांगों ने अपनी मांगों को लेकर मंदी हाउस पर धरना दिया। नतीजतन लोगों को जाम से दो-चार होना पड़ा। इस खबर को भी अखबार ने प्रमुखता से पेज पर जगह दी है। इसके अलावा पेज पर तीन सिंगल खबरें, मसलन-‘हल्की बारिश से दिल्ली को मिली साफ हवा, अशोक खेमका का 53वीं बार तबादला, सेना में अवैध तरह से भर्ती कराने वाले गैंग का भंडाफोड़’  रखी गई हैं। संक्षिप्त में भी कुछ समाचारों को रखा गया है।

आज का किंग कौन?

1: लेआउट के लिहाज से आज ‘दैनिक भास्कर’ अव्वल है, जबकि ‘अमर उजाला’ और ‘हिन्दुस्तान’ के फ्रंट पेज भी आकर्षक नजर आ रहे हैं।

2: खबरों की प्रस्तुति में ‘दैनिक भास्कर’ और ‘नवभारत टाइम्स’ सबसे आगे हैं। दोनों ने लीड में सियासी समीकरणों को बयां करने वाली सुप्रिया सुले और अजित पवार की तस्वीर को जगह दी है।     

3: कलात्मक शीर्षक पर वैसे तो किसी अखबार ने ज्यादा जोर नहीं दिया है, फिर भी ‘अमर उजाला’ और ‘दैनिक जागरण’ को अव्वल कहा जा सकता है। दोनों ने लीड की हेडलाइन लगभग एक जैसी लगाई है, ‘महाराष्ट्र में आज से ठाकरे राज’।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

हेडलाइन के मामले में आज बाजी मार गया 'दैनिक भास्कर'

दैनिक जागरण और नवभारत टाइम्स में आज दो फ्रंट पेज हैं, जबकि हिन्दुस्तान में तीसरे पेज को फ्रंट पेज बनाया गया है

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Wednesday, 27 November, 2019
Last Modified:
Wednesday, 27 November, 2019
Newspapers

दिल्ली से प्रकाशित अखबारों में आज महाराष्ट्र की नई संभावित सरकार को लीड लगाया गया है। शुरुआत आज सबसे पहले दैनिक भास्कर से करते हैं। लीड महाराष्ट्र का सियासी संग्राम है, जिसे ‘अबकी बार खो दी सरकार’ शीर्षक के साथ पूरे आठ कॉलम में सजाया गया है। लीड में हर उस बात को रखा गया है, जिससे पाठकों का परिचित होना जरूरी है। पेज पर दूसरी बड़ी खबर अयोध्या पर सुन्नी वक्फ बोर्ड का फैसला है।

वहीं, कच्ची कॉलोनियों को पक्का करने संबंधी बिल के लोकसभा में पेश होने के साथ ही 5जी की आस लगाये लोगों के लिए एक बुरी खबर भी इस पेज पर है। 5जी के लिए अभी कम से कम पांच साल और इंतजार करना होगा। एंकर में विभोर शर्मा और अमित मिश्रा की बाईलाइन स्टोरी है। उन्होंने ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की रिपोर्ट के आधार पर भारत में भ्रष्टाचार की स्थिति को बयां किया है।   

आज हिन्दुस्तान में जैकेट विज्ञापन के चलते तीसरे पेज को फ्रंट पेज बनाया गया है। लीड पूरे सात कॉलम में महाराष्ट्र का सियासी संग्राम है। अखबार ने देवेंद्र फडणवीस की दो फोटो लगाई हैं। पहली फोटो उस वक्त की है, जब फडणवीस मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद राज्यपाल से हंसकर बधाई स्वीकार कर रहे हैं और दूसरी राज्यपाल को इस्तीफा सौंपते हुए। पेज पर दूसरी बड़ी खबर के रूप में अयोध्या पर सुन्नी वक्फ बोर्ड का फैसला है।

अभिनव उपाध्याय और सौरभ शुक्ल की बाईलाइन को भी पेज पर जगह मिली है। अभिनव ने जहां बताया है कि नए सत्र में डीयू में 15 फीसदी सीटें ज्यादा होंगी, वहीं सौरभ के अनुसार केंद्र सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों की सेवानिवृत्ति उम्र बढ़ाने से इनकार कर दिया है। एंकर में हेमवती नंदन राजौरा की बाईलाइन स्टोरी है, जिन्होंने गर्भपात को लेकर हुए शोध पर प्रकाश डाला है। 21 आयकर अधिकारियों के जबरन रिटायरमेंट की खबर को अखबार ने संक्षिप्त में रखा है।

अब अमर उजाला की बात करें तो लीड महाराष्ट्र है, जिसमें उद्धव ठाकरे की तिलक कराते हुए फोटो है। सुन्नी वक्फ बोर्ड के फैसले को प्रमुखता के साथ लीड के पास रखा गया है। वहीं, मोदी सरकार की भ्रष्ट अफसरों पर कार्रवाई की खबर को भी फ्रंट पेज पर जगह मिली है। आयकर विभाग के 21 अफसरों को जबरन रिटायर किया गया है। इस खबर के साथ ही पेज पर भ्रष्टाचार में आई कमी से जुड़ा समाचार भी है। इसके मुताबिक, एक साल में रिश्वतखोरी 10% घटी है।

वहीं, महाराष्ट्र के राज्यपाल कोश्यारी का तबादला करके उनकी जगह कलराज मिश्र को राज्यपाल बनाया जा सकता है। अखबार ने इस खबर को सिंगल में रखा है, जबकि 140 करोड़ की जीएसटी धोखाधड़ी तीन कॉलम में है। एंकर में दिल्ली पुलिस को हाई कोर्ट से मिला निर्देश है। कोर्ट ने पुलिस से कहा है कि उर्दू-फारसी के बजाय साधारण शब्दों में एफआईआर दर्ज करें।

नवभारत टाइम्स को देखें तो आज इस अखबार में दो फ्रंट पेज हैं। पहले पेज पर दसवीं-बारहवीं की परीक्षा को लेकर सीबीएसई की तैयारी लीड है। दरअसल, सीबीएसई परीक्षा पैटर्न में बदलाव करने वाला है, इसका उद्देश्य छात्रों में रचनात्मकता बढ़ाना और विश्लेषण के नजरिये से सोचने की क्षमता विकसित करना है। जेएनयू विवाद पहले कॉलम में फोटो के साथ है। यूनिवर्सिटी प्रशासन ने फीस में कटौती कर दी है, लेकिन छात्र यूनियन इससे संतुष्ट नहीं है। आज भी छात्रों का विरोध-प्रदर्शन जारी रहेगा। कच्ची कॉलोनियों को पक्का करने संबंधी बिल संसद में पेश किया गया है, इस खबर को भी अखबार ने प्रमुखता से पेज पर रखा है। इसके अलावा, दो सिंगल ‘सबरीमाला जा रही महिला पर मिर्ची अटैक’ और  ‘एक साल सरकारी घर में ही रह सकेंगे शहीद के परिजन’ सहित कुछ समाचार संक्षिप्त में हैं। अयोध्या पर सुन्नी वक्फ बोर्ड के फैसले को अखबार ने संक्षिप्त में जगह दी है।

दूसरे फ्रंट पेज को देखें, तो मुस्कुराते उद्धव ठाकरे की फोटो के साथ महाराष्ट्र से जुड़ी खबर को सात कॉलम में सजाया गया है। ‘फ्लोर टेस्ट से पहले खिसकी जमीन’ शीर्षक तले लगी इस खबर में पाठकों को पूरा घटनाक्रम विस्तार से बताने की कोशिश की गई है। ‘नवभारत टाइम्स’ के पहले फ्रंट पेज पर आधा पेज विज्ञापन होने के कारण खबरों वाला भाग ही शो हो रहा है, इसलिए यहां पर खबरों वाले भाग को ही लगाया गया है जबकि दूसरा फ्रंट पेज पूरा शो हो रहा है।

सबसे आखिर में आज दैनिक जागरण का रुख करते हैं। अखबार में आज दो फ्रंट पेज हैं। पहले पेज पर सबसे बड़ी खबर महाराष्ट्र है, जिसमें हाथ जोड़े उद्धव ठाकरे की फोटो है। पेज पर दूसरी और आखिरी बड़ी खबर अनिल भारद्वाज की बाईलाइन है, जिसमें उन्होंने बताया है कि किस तरह फर्जी प्रमाणपत्रों के सहारे पहलवान सेना में भर्ती हो रहे हैं।

दूसरे पेज की लीड सुन्नी वक्फ बोर्ड का फैसला है। बोर्ड अयोध्या पर अदालत के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर नहीं करेगा। संविधान दिवस पर पीएम मोदी द्वारा नागरिकों को उनके कर्तव्य याद दिलाये गए। इस समाचार को अखबार ने प्रमुखता के साथ पेज पर रखा है। घाटी में इंटरनेट पर पाबंदी पर मोदी सरकार की सफाई को भी पेज पर स्थान मिला है। सरकार ने अदालत में पाबंदी को जायज ठहराया है।

आज का ‘किंग’ कौन?

1: लेआउट के नजरिये से सभी अखबारों के साथ-साथ आज ‘दैनिक जागरण’ के फ्रंट पेज भी अच्छे नजर आ रहे हैं।

2: खबरों की प्रस्तुति खासकर लीड के मामले में भी आज सभी अखबार आकर्षक कहे जा सकते हैं, लेकिन ‘दैनिक भास्कर’ सबसे आगे है।       

3: कलात्मक शीर्षक की बात करें, तो लीड की हेडलाइन में ‘अमर उजाला’ और ‘दैनिक जागरण’ को छोड़कर सभी ने प्रयोग किया है, मगर बाजी ‘दैनिक भास्कर’ के नाम रही है। ‘अब की बार खो दी सरकार’ शीर्षक के अलावा लीड का आईब्रो ‘संविधान का दिन रोशन, रात की सरकार सरेंडर’ भी अच्छा है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए