अखबारों के फ्रंट पेज पर रहीं आज ये प्रमुख खबरें

हिन्दुस्तान और दैनिक जागरण में फ्रंट पेज पर विज्ञापनों की अधिकता के कारण तीसरे पेज को बनाया गया है फ्रंट पेज

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Friday, 16 August, 2019
Last Modified:
Friday, 16 August, 2019
Newspapers

15 अगस्त के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का देश के नाम संबोधन सभी अखबारों के फ्रंट पेज की लीड रहा। आज शुरुआत नवभारत टाइम्स से करें तो पीएम मोदी की तिरंगे को सलामी देते हुए फोटो के साथ लीड लगाई गई है। इसकी हेडलाइन है ‘प्रधानमंत्री लाएंगे तीनों सेनाओं का सेनापति’। बैकग्राउंड फोटो और रिवर्स में टेक्स्ट के साथ यह पैकेज बेहद खूबसूरत लग रहा है। पेज पर दूसरी बड़ी खबर कश्मीर पर चीन की चाल है। दिल्ली सरकार की महिलाओं को सौगात को भी प्रमुखता से लगाया गया है। इसके अलावा, एक दशक में 20 हजार रन बनाने वाले विराट कोहली को सिंगल कॉलम में जगह मिली है। विज्ञापनों के चलते फ्रंट पेज पर कोई और बड़ी खबर नहीं है।

इसके अलावा दैनिक जागरण को देखें तो अखबार ने लीड पीएम के संबोधन को लगाया है, लेकिन तीनों सेनाओं के जिक्र को अलग से तीन कॉलम में जगह दी है। ‘जनता ने काम करने भेजा है, काम करूंगा’ शीर्षक तले पीएम की फोटो के साथ लीड सात कॉलम में है। इसके नीचे पाक को भारतीय फ़ौज का जवाब और कश्मीर पर चीन की चाल है। इस तरह से संबोधन, कार्रवाई और कश्मीर के लिए आधे से ज्यादा पेज समर्पित किया गया है। महिलाओं को डीटीसी व क्लस्टर बसों में मुफ्त सफर की सौगात को दो कॉलम में रखा गया है।

वहीं, हिन्दुस्तान के फ्रंट पेज पर भी काफी विज्ञापन है। लीड को छह कॉलम में बेहद खूबसूरती के साथ ‘तीनों सेनाओं का एक प्रमुख होगा’ शीर्षक तले लगाया गया है। यदि मोदी सरकार इस ऐलान को अमल में लाती है तो यह बहुत बड़ा बदलाव होगा। हालांकि, इसके नफे-नुकसान पर आकलन की जरूरत है। इसके पास ही दो कॉलम में पाकिस्तानी फौज को भारतीय सेना का करारा जवाब से जुड़ी खबर है। केजरीवाल सरकार के तोहफे को प्रमुखता से तीन कॉलम में रखा गया है। दिल्ली में महिलाएं भैया दूज से बसों में मुफ्त सफर कर सकेंगी। कश्मीर पर चीन की चाल से जुड़ी खबर भी फ्रंट पेज पर है। डीसीपी की खुदकुशी की न्यूज सिंगल में है, इस मामले में एसएचओ को गिरफ्तार किया गया है। हिन्दुस्तान ने गुजरे जमाने की अभिनेत्री विद्या सिन्हा के निधन के समाचार को भी फोटो के साथ जगह दी है।

आज नवोदय टाइम्स के फ्रंट पेज पर कोई विज्ञापन नहीं है। ऊपर आठ कॉलम में पीएम के संबोधन को बेहद खूबसूरत और आकर्षक अंदाज में लगाया गया है। अखबार ने तीनों सेनाओं के सेनापति को दैनिक जागरण की तरह अलग से लगाने के बजाय लीड में ही रखा है जो कि अच्छा फैसला है। पेज पर दूसरी बड़ी खबर केजरीवाल सरकार की महिलाओं को सौगात है। स्वतंत्रता दिवस पर घाटी की शांति को दो कॉलम और कश्मीर पर चीन की चाल को अलग से तीन कॉलम जगह मिली है। एंकर में ‘अदालतों में अमर्यादित आचरण पर सीजेआई चिंतित’ खबर को लगाया गया है। नवोदय टाइम्स ने डीसीपी की खुदकुशी के समाचार को पर्याप्त स्थान होने के बावजूद फ्रंट पेज पर नहीं लगाया है।

नोट- 'अमर उजाला' का ई-पेपर उपलब्ध न होने के कारण आज इस अखबार को समीक्षा में शामिल नहीं किया जा सका है। 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

खबरों के मामले में आज कुछ ऐसा रहा हिंदी अखबारों का फ्रंट पेज

दिल्ली से प्रकाशित होने वाले प्रमुख अखबारों में आज भी काफी विज्ञापन है। नवभारत टाइम्स में तीसरे पेज को बनाया गया है फ्रंट पेज

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Monday, 19 August, 2019
Last Modified:
Monday, 19 August, 2019
Newspapers

अखबारों में जबरदस्त विज्ञापनों का सिलसिला जारी है। दिल्ली से प्रकाशित होने वाले प्रमुख अखबारों में आज भी अच्छे-खासे विज्ञापन हैं। आज सबसे पहले अमर उजाला की बात करें तो पेज की शुरुआत में ही फोटो के साथ बारिश से बिगड़ते हालातों को बयां किया गया है। इसके बाद लीड है, जिसमें राजनाथ सिंह के पीओके पर बयान के साथ ही कश्मीर की स्थिति को वैल्यू एडिशन के तौर पर रखा गया है। हुड्डा की बगावत को डेढ़ कॉलम में जगह मिली है। यमुना एक्सप्रेस वे हादसे से जुड़ी खबर को प्रमुखता से लगाया गया है और मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के रिश्तेदारों पर सीबीआई का कसता शिकंजा सबसे नीचे दो कॉलम में है।

आज नवोदय टाइम्स का फ्रंट पेज देखें तो अखबार ने राजनाथ सिंह को लीड लगाया है, लेकिन उसकी प्रस्तुति बेहद सामान्य है। दो कॉलम खबर में तीन लाइन का शीर्षक लगाने से सिर बड़ा और धड़ छोटा जैसी स्थिति हो गई है। पेज पर दूसरी बड़ी खबर भारी बारिश के चलते यमुना का खतरे के निशान की तरफ बढ़ना है। सहारनपुर में पत्रकार और उसके भाई की हत्या को भी अखबार ने तीन कॉलम में लगाया है। इसके अलावा बागी हुड्डा और एमपी के सीएम कमलनाथ के भांजे की खबर को भी प्रथम पेज पर जगह मिली है। अरुण जेटली की बिगड़ती तबीयत को डीप सिंगल कॉलम में रखा गया है, जबकि यमुना एक्सप्रेस वे हादसे को महज पॉइंटर में ही निपटा दिया गया है।

नवभारत टाइम्स ने आज तीसरे पेज को फ्रंट पेज बनाया है। अखबार ने लीड ऐसी खबर को बनाया है, जिसकी चर्चा पिछले कुछ दिनों से थी, लेकिन कोई उसे समझ नहीं पाया। नरेंद्र मिश्रा ने अपनी बाईलाइन स्टोरी में बताया है कि पीएम अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए बड़े फैसले लेने वाले हैं। निश्चित तौर पर आज यह खबर सबसे ज्यादा पढ़ी जाएगी। इसके पास ही राजनाथ सिंह के पीओके पर दिए बयान को रंगीन बैकग्राउंड के साथ लगाया गया है, जिससे यह खबर काफी निखर कर आ रही है। इसके नीचे तीन कॉलम में स्थानीय समाचार को प्रमुखता से रखा गया है। अपनी मां को जलता देखकर 9 साल की बच्ची ने जिस हिम्मत से काम लिया, वो काबिले तारीफ है। नवभारत ने बाढ़ की विकरालता को फोटो और रंगीन बैकग्राउंड के साथ डीप दो कॉलम में उतारा है। इसके दोनों तरफ दो-दो सिंगल खबर हैं, जिसमें एक्सप्रेस –वे पर हादसा और भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बगावती तेवरों सहित दो अन्य समाचार हैं। एंकर में राहुल आनंद की एम्स से जुड़ी एक स्टोरी है, जो दर्शाती है कि अस्पताल के स्टाफ ने मुश्किल वक्त में किस तरह मोर्चा संभाला।

बाकी अखबारों की तरह दैनिक जागरण के फ्रंट पेज पर भी काफी विज्ञापन हैं, इसलिए केवल पांच बड़ी खबरें ही जगह पा सकी हैं। लीड राजनाथ सिंह हैं और दूसरी मुख्य खबर घाटी के हालात हैं, जिसे तीन कॉलम में फोटो के साथ रखा गया है। यमुना एक्सप्रेस वे पर हादसा और बगावती हुड्डा को भी अखबार ने प्रमुखता से लगाया है। एंकर के रूप में दैनिक जागरण ने दिलचस्प और ज्ञान बढ़ाने वाली खबर प्रस्तुत की है। प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वालों के लिए तो यह न्यूज बेहद ज़रूरी है, क्योंकि यह सवाल उनसे भविष्य में पूछा जा सकता है कि टेस्ट क्रिकेट इतिहास में पहले स्थानापन्न बल्लेबाज का नाम क्या है?

वहीं, हिन्दुस्तान के फ्रंट पेज पर विज्ञापनों के चलते सिर्फ 6 बड़ी खबरें ही आ सकी हैं। लीड पीओके पर रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के बयान को रखा गया है। इसके पास तीन कॉलम में मदन जैड़ा की ‘बीपी जांच’ को लेकर पढ़ने योग्य स्टोरी है। इसके नीचे भूपेंद्र सिंह हुड्डा के बगावती तेवर और एम्स में अग्निकांड के बाद सेवाओं की बहाली का समाचार है। यमुना एक्सप्रेस वे हादसे को पेज पर दो कॉलम जगह मिली है। इसके अलावा बहन के प्रेमी की हत्या को भी प्रमुखता से लगाया गया है। अरुण जेटली की हालत गंभीर, इस समाचार को हिन्दुस्तान ने सिंगल कॉलम में लिया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

छोटी सी बात पर की गई पत्रकार और उसके भाई को गोली मारकर हत्या 

उत्तर प्रदेश से आज दोपहर पत्रकार और उसके भाई की मौत की आई खबर से मीडियाकर्मी काफी पशोपेश में है

Last Modified:
Sunday, 18 August, 2019
murder

उत्तर प्रदेश से आज दोपहर पत्रकार और उसके भाई की मौत की आई खबर से मीडियाकर्मी काफी पशोपेश में है। बताया जा रहा है कि छोटे से विवाद को बहाना बनाकर आरोपितों ने दैनिक जागरण में कार्यरत पत्रकार आशीष कुमार और उनके छोटे भाई को गोली मारी दी। भाई की मौके पर  ही मौत हो गई जबकि आशीष ने अस्पताल में दम तोड़ दिया है। आशीष दैनिक जागरण से पहले हिन्दुस्तान और जनवाणी अखबार में भी काम कर चुके हैं। बताया गया है वहां के मौहल्ला माधव नगर में आशीष धीमान अपने परिवार के साथ रहते थे। उनके यहां गाय है और पड़ोसी महिपाल ने आज सुबह बारिश के चलते फैले गोबर को लेकर आशीष की मां के साथ अभद्रता कर दी। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच विवाद शुरू हो गया। इसी बीच महिपाल ने आशीष के सिर पर डंडा मार दिया। विवाद बढ़ते देख आशीष के मामा राजेंद्र कुमार दोनों भाइयों को घर के अंदर ले गए।

पर महिपाल तमंचा लेकर आशीष के घर पहुंच गया और उसने फायरिंग कर दी। गोली आशीष के छोटे भाई आशुतोष को लगी और उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया।  इसके बाद महिपाल ने आशीष को निशाना बनाते हुए गोली दाग दी और महिपाल अपने बेटे गौरव के साथ भाग निकला। आशीष की भी मौके पर ही मौत हो गई।

मौके पर डीआइजी उपेंद्र अग्रवाल, एसएसपी दिनेश कुमार समेत तमाम आला आधिकारी पहुंच गए और उन्होंने मामले की पूरी जानकारी ली है। आशीष के मामा राजेंद्र कुमार ने महिपाल समेत छह लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई है।

गौरतलब है कि आशीष और उसके भाई की मौत के बाद अब परिवार में सिर्फ उसकी प्रेग्नेंट पत्नी और बूढ़ी मां रह गई है। आशीष के पिता की दो साल पहले कैंसर के चलते मृत्यु हो गई थी। 
 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

हिंदी अखबारों में आज फ्रंट पेज पर इन खबरों को मिली प्राथमिकता

विज्ञापनों की अधिकता के कारण दैनिक जागरण में बनाए गए हैं दो फ्रंट पेज, हिन्दुस्तान और अमर उजाला में जैकेट विज्ञापन के कारण तीसरे पेज को फ्रंट पेज बनाया गया है

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Saturday, 17 August, 2019
Last Modified:
Saturday, 17 August, 2019
Newspapers

कश्मीर पर पाकिस्तान, चीन के कंधे पर सवार होकर भारत को घेरना चाहता है, लेकिन उसकी यह कोशिश परवान नहीं चढ़ रही है। वहीं, परमाणु हमले को लेकर रक्षामंत्री के बयान के भी बड़े मतलब निकाले जा रहे हैं। यही दो खबरें आज दिल्ली से प्रकाशित होने वाले लगभग सभी प्रमुख अखबारों की सुर्खियां हैं।

शुरुआत सबसे पहले नवोदय टाइम्स से करते हैं। अखबार ने कश्मीर पर सुरक्षा परिषद में पाकिस्तान की हार को लीड रखा है और कश्मीर में सुधरते हालातों को भी लीड जैसा दर्जा दिया है। इन दो खबरों के लिए पूरे आठ कॉलम समर्पित किये गए हैं। राजनाथ सिंह के बयान को अलग से तीन कॉलम जगह मिली है और मेजर जनरल को महज सिंगल कॉलम में समेट दिया गया है। अगर राजनाथ को लीड का हिस्सा बनाकर मेजर जनरल की बर्खास्तगी को प्राथमिकता दी जाती तो पेज पर एक अतिरिक्त समाचार लग सकता था। ‘बिना कागजात के उड़ा विमान, लौटा’ इस खबर को डीप दो कॉलम में रखा गया है जो कि अच्छा फैसला है। यह खबर ज्यादा पढ़ी जाएगी। इसके अलावा पेज पर अमित शाह, बजरंग पूनिया और इमरान की ट्रम्प से बातचीत भी है। नवोदय टाइम्स के फ्रंट पेज के एंकर में आज मिसाल पेश करने वाली स्टोरी है, जिसे निश्चित रूप से न केवल पढ़ा जाएगा बल्कि यह दूसरों को भी कुछ अच्छा करने के लिए प्रोत्साहित करेगी। इंदौर जिले के एक गांव में लोगों ने पैसे इकठ्ठा करके शहीद जवान के परिवार के लिए पक्का घर बनवाया है।

आज नवभारत टाइम्स ने परमाणु हथियारों पर राजनाथ के बयान को लीड लगाते हुए सुरक्षा परिषद् में कश्मीर पर पाक की पिटाई को उसका हिस्सा बनाया है। नवभारत ने हादसे की स्थानीय खबर को प्राथमिकता देते हुए ऊपर तीन कॉलम में जगह दी है, जिसमें बताया गया है कि मांझे से गला कटने के चलते एक स्कूटर सवार की मौत हो गई है। इसके नीचे तीन सिंगल हैं, जिनमें रवि शास्त्री, बजरंग पूनिया के साथ ही प्रॉपर्टी डी-सील करने से जुड़ा समाचार है। यौन उत्पीड़न के दोषी मेजर जनरल की खबर को भी अखबार ने प्रमुखता से लगाया है।      

दैनिक जागरण की बात करें तो अखबार में आज भी काफी विज्ञापन है, इसलिए दो फ्रंट पेज बनाये गए हैं। पहले पेज पर परमाणु हथियारों पर रक्षामंत्री का बयान लीड है और इसके पास ही दो कॉलम में कश्मीर में सामान्य होते हालात हैं। जबकि दूसरे पेज पर कश्मीर पर पाकिस्तान को पटखनी को लीड लगाया गया है। हरियाणा के जींद में गृहमंत्री अमित शाह की रैली को ऊपर चार कॉलम जगह मिली है। इसके नीचे अनुच्छेद 370 पर दोषपूर्ण याचिकाओं को लेकर सुप्रीम कोर्ट की नाराजगी है। इसके अलावा पेज पर चार धाम यात्रा की अड़चन दूर होने का समाचार है। दो फ्रंट पेज होने के बावजूद जागरण ने मेजर जनरल की बर्खास्तगी की खबर को नहीं लगाया है।

वहीं, हिन्दुस्तान में जैकेट विज्ञापन के चलते तीसरे पेज को फ्रंट पेज बनाया गया है। ‘कश्मीर पर पाक सुरक्षा परिषद् में पिटा’ शीर्षक के साथ चार कॉलम में लीड है, और इसके पास तीन कॉलम में राजनाथ सिंह का परमाणु हथियारों को लेकर दिया गया बयान है। इसके नीचे अमित शाह को रखा गया है, जो हरियाणा में दो तिहाई सीटें जीतने का भरोसा जता रहे हैं। अयोध्या सुनवाई को आज भी प्रमुखता मिली है। आम आदमी से जुड़ी खबर ‘केबल सेवाएं सस्ती करने की तैयारी’ भी हिन्दुस्तान के फ्रंट पेज पर है। रवि शास्त्री और बजरंग पूनिया को सिंगल कॉलम में रखा गया है, शास्त्री जहां टीम इंडिया के कोच बने रहेंगे, वहीं पूनिया को खेल रत्न से नवाजा जाएगा। सबसे नीचे डीसीपी की खुदकुशी का फॉलोअप और यौन उत्पीड़न में सेना के मेजर जनरल की बर्खास्तगी का समाचार है।

आज अमर उजाला का फ्रंट पेज देखें तो जैकेट विज्ञापन के चलते तीसरे पेज को फ्रंट पेज बनाया गया है। लीड कश्मीर पर पाकिस्तान को झटका है और इसी में परमाणु हथियारों पर राजनाथ के बयान को रखा गया है। इसके पास डेढ़ कॉलम में यौन शोषण के आरोपी मेजर जनरल की बर्खास्तगी है। स्थानीय हादसे के समाचार को भी प्रमुखता दी गई है। जिसका शीर्षक है ‘राखी बंधवाने जा रहे युवक का चीनी मांझे से कटा गला, मौत’। एंकर में अयोध्या मामले की सुनवाई है। रामलला विराजमान की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में दलील दी गई है कि सड़क पर नमाज पढ़ने से उसे मस्जिद नहीं मान लिया जाता। ‘न्यूज डायरी’ में रवि शास्त्री, अमित शाह सहित पांच महत्वपूर्ण समाचार हैं।      

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानें, क्यों हिंदी अखबारों के लिए 'राहत भरी' नहीं है ये रिपोर्ट

मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल ने इंडियन रीडरशिप सर्वे 2019 की दूसरी तिमाही के डाटा जारी कर दिए हैं

Last Modified:
Friday, 16 August, 2019
Newspapers

'मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल' (MRUC) ने इंडियन रीडरशिप सर्वे 2019 की दूसरी तिमाही (IRS Q2 2019) के डाटा जारी कर दिए हैं। दूसरी तिमाही में आईआरएस 2017 की तीसरी और चौथी तिमाही IRS 2017 (Q3+Q4) के डाटा के साथ ही वर्ष 2019 की पहली और दूसरी तिमाही (Q1+Q2) में किए गए फील्ड वर्क को शामिल किया गया है। दूसरी तिमाही का फील्ड वर्क अप्रैल 2019 से जुलाई 2019 तक चला और इस दौरान सैंपल साइज के तौर पर 3.36 लाख घरों को शामिल किया गया था।

इस रिपोर्ट के अनुसार, प्रिंट, टीवी, रेडियो और सिनेमा की पहुंच में पहली तिमाही के मुकाबले ज्यादा परिवर्तन नहीं आया है। हालांकि, इंटरनेट का आगे बढ़ना जारी है। न्यूज का उपभोग डिजिटल प्लेटफॉर्म्स पर बढ़ा है। इस रिपोर्ट के अनुसार, अखबारों की कुल रीडरशिप (Total Readership) स्थिर बनी हुई है, जबकि एवरेज इश्यू रीडरशिप (AIR) में मामूली गिरावट देखने को मिली है।   

हिंदी और प्रादेशिक अखबारों की एवरेज इश्यू रीडरशिप में लगातार गिरावट देखी जा रही है, लेकिन अंग्रेजी अखबारों में ऐसा देखने को नहीं मिला है। आईआरएस 2017 के साथ ही आईआरएस 2019 की पहली तिमाही और दूसरी तिमाही की तुलना करें तो देशभर में हिंदी अखबारों की एवरेज इश्यू रीडरशिप में गिरावट क्रमशः 7.2 से घटकर 7.1 और 6.7 प्रतिशत हुई है, जबकि प्रादेशिक अखबारों में यह गिरावट 8.7 प्रतिशत से घटकर 8.4 और अब 8.1 हो गई है।   

इस तरह शहरी मार्केट्स में हिंदी अखबारों की एवरेज इश्यू रीडरशिप का प्रतिशत 10.7 से घटकर 10.5 और फिर 10.1 रह गया है। जबकि प्रादेशिक अखबारों में हिंदी अखबारों का एवरेज इश्यू रीडरशिप प्रतिशत क्रमशः 14.9 से घटकर 14.1 और 13.5 रह गया है। हालांकि अंग्रेजी अखबारों की एवरेज इश्यू रीडरशिप पहले जितनी ही बनी हुई है। यानी इनमें न उछाल दिखा और न ही गिरावट दर्ज की गई है।    

आईआरएस 2019 की दूसरी तिमाही (IRS 2019Q2) के डाटा के बारे में डेंट्सू एजिस नेटवर्क के सीईओ (ग्रेटर साउथ) और चेयरमैन व सीईओ (इंडिया) आशीष भसीन का कहना है, ‘इन डाटा से हमें वास्तविक स्थिति का पता चलता है। जैसा कि हम जानते हैं कि डिजिटल तेजी से आगे बढ़ रहा है और प्रिंट भी मजबूत स्थिति में है। मेरा मानना है कि भविष्य किसी एक में नहीं, बल्कि दोनों का ही है।’

'मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल' के चेयरमैन आशीष भसीन ने यह भी कहा, ‘हर तिमाही के डाटा को देखकर मुझे काफी खुशी हो रही है। न सिर्फ आईआरएस ट्रैक पर वापस आ रहा है, बल्कि और मजूबत हो रहा है और इसे सभी जगह स्वीकार भी किया जा रहा है।‘

वहीं, ‘Madison Media & OOH, Madison World’ के ग्रुप सीईओ और आईआरएस की टेक्निकल कमेटी के चेयरमैन विक्रम सखूजा का कहना है, ‘देश में पहले के मुकाबले मीडिया का उपभोग ज्यादा हो रहा है। प्रिंट के साथ अब इंटरनेट भी तेजी से आगे बढ़ रहा है और टीवी के साथ कंज्यूमर्स तक पहुंच बनाने में ये दोनों माध्यम काफी महत्वपूर्ण हैं।’

इन डाटा के अनुसार, यदि मैगजीन की रीडरशिप की बात करें तो कुल रीडिरशिप और एवरेज इश्यू रीडरशिप में कोई बदलाव देखने को नहीं मिला है। वहीं हिंदी अखबार दैनिक जागरण और हिन्दुस्तान की कुल रीडिरशिप और एवरेज इश्यू रीडरशिप में कमी देखने को मिली है।  

दैनिक जागरण की कुल रीडरशिप IRS 2019Q1 में जहां 73673 थी, वह IRS 2019Q2 में घटकर 72559 रह गई जबकि इसी अखबार की एवरेज इश्यू रीडरशिप IRS 2019Q1 में 20256 के मुकाबले IRS 2019Q2 में घटकर 18146 रह गई।

हिन्दुस्तान अखबार की बात करें तो IRS 2019Q1 में इसकी कुल रीडरशिप 54696 थी, जो 2019Q2 में घटकर 52866 रह गई, जबकि एवरेज इश्यू रीडरशिप की बात करें तो IRS 2019Q1 में 18422 के मुकाबले IRS 2019Q2 में घटकर यह 15716 रह गई।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानें, आज हिंदी के प्रमुख अखबारों का कैसा रहा फ्रंट पेज

नवोदय टाइम्स के फ्रंट पेज पर आज कोई बड़ा विज्ञापन नहीं है, नवभारत टाइम्स में कल की तरह काफी विज्ञापन है। दैनिक जागरण, नवभारत टाइम्स व हिन्दुस्तान में आज दो फ्रंट पेज बनाए गए हैं

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Wednesday, 14 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 14 August, 2019
Newspapers

कश्मीर आज भी दिल्ली से प्रकाशित होने वाले प्रमुख अखबारों की लीड है। आज सबसे पहले दैनिक जागरण को देखें तो अखबार में आज दो फ्रंट पेज बनाये गए हैं। पहले पेज पर लीड कश्मीर है, इसके नीचे तीन कॉलम में पाकिस्तान के विदेश मंत्री की कश्मीर पर प्रतिक्रिया है। एंकर में ऑटोमोबाइल क्षेत्र में आई अब तक की सबसे तेज गिरावट को रखा गया है। ऐसे वक्त में जब अर्थव्यवस्था की मजबूती का जिक्र हो रहा है, ये खबर एक अलग ही तस्वीर पेश करती है। इसके अलावा पेज पर अयोध्या की सुनवाई का समाचार सिंगल में है। दूसरे फ्रंट पेज पर आम्रपाली विवाद पर अफसरों को सुप्रीम कोर्ट की चेतावनी को लीड का दर्जा दिया मिला है। दैनिक जागरण ने बच्ची से रेप की घटना को बड़ी जगह दी है। इसके अलावा पेज पर कुछ संक्षिप्त खबरों के अतिरिक्त ‘उत्तर प्रदेश में अब सड़कों पर नहीं पढ़ी जाएगी नमाज’ को प्रमुखता मिली है। 

     

हिन्दुस्तान में आज भी जैकेट विज्ञापन है और यहां दो फ्रंट पेज बनाए गए हैं। पहले फ्रंट पेज पर लीड कश्मीर ही है, लेकिन आम्रपाली पर सुप्रीम कोर्ट की चेतावनी को टॉप में प्रमुखता से रखा गया है। बलात्कार के आरोपी विधायक सेंगर को तीन कॉलम में जगह मिली है। सेंगर पर आरोप तय हो गए हैं। पेज पर घुसपैठ को लेकर सेना प्रमुख के बयान के साथ ही महिला क्रिकेट की राष्ट्रमंडल खेलों में एंट्री को प्रमुखता से लगाया गया है। इसके अलावा, सिक्किम की राजनीति में आई हलचल सहित कुछ अन्य खबरें सिंगल कॉलम में हैं। अखबार के दूसरे फ्रंट पेज पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान को रखा गया है। 'अनुच्छेद 370 सियासत का मुद्दा नहीं' शीर्षक से प्रकाशित इस समाचार में मोदी ने सरकार के 75 दिन के कामकाज का ब्योरा देने के साथ ही जम्मू-कश्मीर पर फैसले का विरोध करने वालों को घेरा है। लीड के बगल में दो कॉलम में दिल्ली के स्कूल में बच्ची से हुए दुष्कर्म की खबर को रखा गया है। आधा पेज विज्ञापन वाले इस पेज पर चार कॉलम में अयोध्या विवाद से जुड़ी खबर को जगह दी गई है, जबकि इसके बगल में होटल मनमाना सर्विस चार्ज नहीं वसूल सकते शीर्षक से प्रकाशित खबर है। इसके अलावा प्रियंका गांधी के सोनभद्र दौरे से जुड़ी खबर और गडकरी के विमान में आई खराबी को सिंगल कॉलम जगह दी गई है।

इसके अलावा अमर उजाला की बात करें तो विज्ञापन के चलते फ्रंट पेज पर ज्यादा खबरों की गुंजाइश नहीं है। लीड आम्रपाली पर सुप्रीम कोर्ट की अफसरों को चेतावनी है, जिसे खूबसूरत ढंग से प्रस्तुत किया गया है। कश्मीर को ऊपर तीन कॉलम में और उसके नीचे बच्ची से बलात्कार का समाचार है। इसके अलावा पेज पर अयोध्या पर सुनवाई के रूप में एकमात्र सिंगल खबर है।

वहीं, नवोदय टाइम्स के फ्रंट पेज पर आज कोई बड़ा विज्ञापन नहीं है। अखबार ने लगभग आधा पेज कश्मीर से जुड़ी खबरों के नाम किया है। लीड कश्मीर पर सुप्रीम कोर्ट का जल्द सुनवाई से इनकार है, इसके नीचे राहुल गांधी और जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल का बयान है और चार कॉलम में पाकिस्तान के विदेशमंत्री की प्रतिक्रिया है। सिक्किम की राजनीतिक उथल-पुथल के बीच ‘कमल’ खिलने की संभावना को डीप दो कॉलम में प्रमुखता से लगाया गया है। आम्रपाली को अखबार ने एंकर में रखा है, जबकि रविदास मंदिर तोड़ने की खबर को इसके ऊपर फोटो के साथ जगह मिली है। अखबार ने झारखंड में दो महिला हॉकी खिलाड़ियों के पेड़ से लटके मिले शव को सिंगल में लिया है, लेकिन दिल्ली में बच्ची से बलात्कार की घटना पेज पर नहीं है।  

आज नवभारत टाइम्स को देखें तो अखबार में कल की तरह काफी विज्ञापन है। आज दो फ्रंट पेज बनाये गए हैं, ताकि पाठकों तक सभी महत्वपूर्ण समाचारों को पहुंचाया जा सके। पहला फ्रंट पेज कश्मीर के नाम है, जिसे सुप्रीम कोर्ट और नेताओं की प्रतिक्रिया के साथ एक पैकेज के रूप में पेश किया गया है। इसके अलावा पेज पर बच्ची से रेप सहित तीन अन्य महत्वपूर्ण खबरें भी संक्षिप्त में हैं। दूसरे फ्रंट पेज की बात करें तो लीड यहां आम्रपाली विवाद पर सुप्रीम कोर्ट की चेतावनी है। स्थानीय स्तर पर यह खबर बहुत मायने रखती है, और नवभारत टाइम्स ने उसी को ध्यान में रखते हुए इसे पेश किया है। रविदास मंदिर तोड़ने को लेकर हो रहे बवाल को रिवर्स में फोटो के साथ प्रमुखता से लगाया गया है। पेज पर अयोध्या से जुड़ी खबर के साथ ही कुछ अन्य खबरों को सिंगल में रखा गया है। अखबार में पहले फ्रंट पेज पर आधा पेज विज्ञापन होने के कारण वह हिस्सा शो नहीं हो रहा है, इसलिए खबरों वाले हिस्से को ही यहां लगाया गया है, जबकि दूसरे फ्रंट पेज को आप पूरा यहां देख सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अमर उजाला फाउंडेशन छात्रों को फिर दे रहा है स्कॉलरशिप, करें आवेदन

आवेदन केवल ऑनलाइन ही किए जा सकेंगे। पात्र पाए गए विद्यार्थियों को एडमिट कार्ड भी ऑनलाइन ही भेजे जाएंगे

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 14 August, 2019
Last Modified:
Wednesday, 14 August, 2019
Amar Ujala

अमर उजाला फाउंडेशन द्वारा संचालित अतुल माहेश्वरी छात्रवृत्ति परीक्षा-2019 के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया आज से शुरू हो रही है। यह प्रक्रिया 31 अगस्त तक चलेगी। इसके लिए फाउंडेशन की वेबसाइट foundation.amarujala.com या फिर अमर उजाला की वेबसाइट amarujala.com अथवा यहां क्लिक कर फार्म भरा जा सकता है।

फार्म में मांगी गई सभी जानकारियां देना अनिवार्य होगा। लिखित परीक्षा ऑनलाइन नहीं बल्कि विभिन्न शहरों में निर्धारित परीक्षा केंद्रों पर होगी। फार्म भरते समय लिखित परीक्षा के लिए विद्यार्थी अपनी सुविधा अनुसार शहर का चयन कर सकेंगे। इसके लिए 50 शहरों का विकल्प फार्म में दिया गया है। परीक्षा केंद्र की सूचना ई-मेल द्वारा भेजे जाने वाले एडमिट कार्ड में दी जाएगी। इसलिए हर आवेदक का ई-मेल आईडी होना अनिवार्य है।

पिछली बार की तरह ही इस बार नवीं और दसवीं के प्रादेशिक बोर्ड के विद्यार्थियों के लिए 30-30 हजार रुपए की 18 छात्रवृत्तियां और 11वीं-12वीं के विद्यार्थियों के लिए 50-50 हजार रुपए की 18 छात्रवृत्तियां दी जाएंगी। इस वर्ष की छात्रवृत्ति की परीक्षा में भाग लेने के लिए प्रादेशिक शिक्षा बोर्ड से नवीं से 12वीं कक्षा तक में पढ़ने वाले और पिछली वार्षिक परीक्षा में न्यूनतम 60 फीसदी अंक पाने वाले वे विद्यार्थी पात्र होंगे, जिनकी वार्षिक पारिवारिक आय डेढ़ लाख रुपए से कम हो।

आवेदन केवल ऑनलाइन ही किए जा सकेंगे। पात्र पाए गए विद्यार्थियों को एडमिट कार्ड भी ऑनलाइन ही भेजे जाएंगे। पिछले वर्ष एक लाख से अधिक प्रतिभाशाली विद्यार्थी अतुल माहेश्वरी छात्रवृत्ति के लिए हुई परीक्षा में शामिल हुए थे और उसमें से सफल हुए 36 विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति के रूप में 14.4 लाख रुपए दिए गए थे।

एक एमबी से ज्यादा नहीं हो प्रमाण-पत्र: विद्यार्थियों को फॉर्म में फोटो, अपनी पिछली कक्षा की मार्कशीट और घर का प्रणाम लगाना होगा। कोई भी फोटो एक एमबी से ज्यादा नहीं होनी चाहिए, नहीं तो आपका आवेदन स्वीकृत नहीं हो पाएगा।

दृष्टिहीनों के लिए दो छात्रवृत्तियां:  दृष्टिहीनों के लिए दो विशेष छात्रवृत्तियां पिछली बार की तरह ही इस बार भी दो दृष्टिहीन विद्यार्थियों को विशेष छात्रवृत्ति दी जाएगी। परीक्षा में उन्हें सहायक लाने की स्वीकृति दी जाएगी। इसमें ध्यान रखना होगा कि अपने से एक कक्षा नीचे का छात्र ही, उनका सहायक हो सकता है। सहायक को स्कूल का आई कार्ड साथ लाना होगा।

एक मोबाइल नंबर से एक ही फॉर्म:  विद्यार्थी फॉर्म भरते समय इस बात का ध्यान रखें कि एक मोबाइल नंबर से एक ही फॉर्म भरा जाएगा। अगर आप एक मोबाइल नंबर से एक से अधिक फॉर्म भरना चाहेंगे तो फर्म स्वीकार ही नहीं होगा। इसलिए एक मोबाइल नंबर से एक ही फॉर्म भरा जाएगा।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

प्रिंट मीडिया के भविष्य पर आलोक मेहता ने कही बड़ी बात, जापान का दिया उदाहरण

प्रभात खबर की 35वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में अखबार की ओर से किया गया कार्यक्रम का आयोजन

Last Modified:
Tuesday, 13 August, 2019
Alok Mehta

हिंदी अखबार प्रभात खबर की 35वीं वर्षगांठ के उपलक्ष्य में अखबार की ओर से कई आयोजन किये जा रहे हैं। कार्यक्रमों की इसी कड़ी में रांची के रेडिशन ब्लू होटल में आयोजित मीडिया कॉन्क्लेव ' में देश के वरिष्ठ पत्रकारों आलोक मेहता, आर राजगोपालन,  संजीव श्रीवास्तव और प्रभु चावला ने ‘पत्रकारिता से उम्मीदें’ विषय पर अपने विचार रखे।

कार्यक्रम में एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया के पूर्व अध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार पद्मश्री आलोक मेहता ने कहा कि पत्रकारिता की असली चुनौती उसकी विश्वसनीयता बनाये रखना है। पत्रकार का काम अखबार बेचना नहीं है, लेकिन उसे यह देखना चाहिए कि अखबार बांटने वाले हॉकर को समय पर अखबार बांटने की सहूलियत हो। उन्होंने कहा कि प्रदेश स्तर पर पत्रकारिता करने वालों के समक्ष राष्ट्रीय स्तर के पत्रकारों की तुलना में अधिक चुनौतियां हैं।

उन्होंने कहा कि कंटेंट हमेशा से अखबारों के लिए महत्वपूर्ण रहा है और आगे भी रहेगा। बेहतर अखबार के लिए कंटेंट का मजबूत होना जरूरी है। ऐसा नहीं है कि टेक्नोलॉजी बदलने अथवा टीवी और सोशल मीडिया के आने से अखबारों का भविष्य खतरे में है। ऐसा होता, तो जापान में अखबार नहीं छपते, क्योंकि वहां की तकनीक भी हमसे बहुत आगे है और मोबाइल भी वहां बहुत ज्यादा हैं। अखबारों को उस कंटेंट पर काम करना चाहिए, जो वेबसाइट या टीवी चैनल पर उपलब्ध नहीं हैं। प्रिंट मीडिया का भविष्य हमेशा रहा है और आगे भी रहेगा।

आलोक मेहता ने कहा कि असली चुनौती इस बात की है कि आप कितनी निर्भीकता के साथ पत्रकारिता करते हैं। यदि आप अच्छा कंटेंट देंगे तो विज्ञापन का दबाव भी कम हो जायेगा। ग्रामीण पत्रकारिता पर जोर देते हुए उन्होंने कहा कि झारखंड के पड़ोसी राज्यों में ग्रामीण समाचार पत्रों को काफी बढ़ावा दिया जा रहा है.

इस मौके पर बीबीसी के संपादक रह चुके वरिष्ठ पत्रकार संजीव श्रीवास्तव ने कहा कि आज खबरों के सभी पक्ष नहीं दिखाये जाते। इन दिनों अधिकांश मामलों में एक ही पहलू लोगों के सामने आ रहा है, जबकि दूसरे पहलू को मीडिया द्वारा कई बार दरकिनार कर दिया जाता है। उन्होंने कहा कि आज की तारीख में नेशनल मीडिया से बेहतर भविष्य क्षेत्रीय मीडिया का है। संजीव श्रीवास्तव के अनुसार, ‘35 साल की पत्रकारिता में मैं महसूस करता हूं कि आज चुनौती सबसे ज्यादा है। तटस्थता और निष्पक्षता ये दो चीजें ऐसी हैं, जिससे भरोसा कायम नहीं हो रहा।’

वरिष्ठ पत्रकार आर राजगोपालन ने 40 वर्षों की पत्रकारिता का अनुभव साझा करते हुए कहा, ‘वर्ष 2014 के बाद पत्रकारिता से उम्मीदें कम हुई हैं। खोजी पत्रकारिता तो अब बीते दिन की बात हो गयी है। सरकार के खिलाफ खबरों पर अघोषित रोक लगी हुई है। दिल्ली में पत्रकारों को अब कोई सरकारी दस्तावेज नहीं मिलता। उन्होंने धारा 370 का जिक्र करते हुए कहा कि राज्यसभा में आने से पहले किसी भी पत्रकार को इसकी हवा तक नहीं लगी।ॉ

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अखबारों के फ्रंट पेज पर आज इन खबरों ने पाई जगह

हिन्दुस्तान अखबार में जैकेट विज्ञापन है, वहीं नवभारत टाइम्स में विज्ञापन ज्यादा होने की वजह से दो फ्रंट पेज बनाये गए हैं

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Tuesday, 13 August, 2019
Last Modified:
Tuesday, 13 August, 2019
Newspapers

ईद के मौके पर कश्मीर की फिजा कैसी रहती है, इस पर सबकी निगाहें टिकी हुयीं थीं और यही खबर आज दिल्ली से प्रकाशित होने वाले अधिकांश प्रमुख हिंदी अखबारों की लीड है। आज सबसे पहले हिन्दुस्तान का फ्रंट पेज देखें तो अखबार में जैकेट विज्ञापन के साथ ही फ्रंट पेज पर केवल आधा पेज जगह है। लीड कश्मीर है, जिसे चार कॉलम में फोटो के साथ लगाया गया है। इसके पास ही तीन कॉलम में रिलायंस का धमाका है, यह खबर सबसे ज्यादा पढ़ी जाएगी और इसी अनुरूप हिन्दुस्तान ने उसे प्रस्तुत किया है। इसके नीचे मैन वर्सेज वाइल्ड में पीएम मोदी की शिरकत का समाचार है। सुनेत्रा चौधरी ने अपनी इस बाईलाइन स्टोरी में बताया है कि मोदी ने जंगल में केवल चाय पीकर समय गुजारा। इसके अलावा पेज पर दो सिंगल और एक तीन कॉलम ‘संसद प्रक्रिया पर शोध के लिए फेलोशिप’ खबर लग सकी है। हालांकि, बबीता फोगट की खबर प्रथम पृष्ठ पर नहीं है। 

अमर उजाला के फ्रंट पेज पर आज कोई बड़ा विज्ञापन नहीं है। लीड कश्मीर है, लेकिन ईद के बजाय चीन को भारत की नसीहत से खबर को उठाया गया है। इसके पास दो कॉलम में सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली खबर यानी रिलायंस का धमाका है। जिसका शीर्षक ‘जियो देगा 700 में मुफ्त कॉल और इंटरनेट’ एक ही झटके में सबकुछ स्पष्ट कर देता है। पेज पर इंदिरा गांधी हवाई अड्डे पर बम की सूचना और दिल्ली में आतंकी हमले की आशंका को बड़ी जगह दी गई है। इसके अलावा पेज पर सड़क हादसे में कोर्ट का फैसला और शिक्षा से संबंधित दो खबरें हैं। अखबार ने कर्नाटक में आई बाढ़ की विभीषिका को फोटो के जरिये दर्शाने का बेहतरीन प्रयास किया है। एंकर में पीएम मोदी की मैन वर्सेज वाइल्ड में शिरकत से जुड़ी खबर है। इसके साथ ही ‘न्यूज डायरी’ में भी पांच महत्वपूर्ण समाचारों को रखा गया है। अमर उजाला में भी बबीता फोगट से जुड़ी खबर भरपूर जगह होने के बावजूद फ्रंट पेज पर नहीं है।

इसके अलावा, नवोदय टाइम्स ने सबसे अलग इंदिरा गांधी हवाई अड्डे पर बम की अफवाह को लीड लगाया है। यह खबर निश्चित तौर पर महत्वपूर्ण थी, लेकिन इसे लीड जैसा स्थान देना थोड़ा अटपटा लग रहा है। इसके अलावा अखबार ने आज भी एक ही नेचर की खबरों को अलग-अलग लगाया है। पाकिस्तान ने पीओके में 14 आतंकी ठिकाने एक्टिव किये, यह न्यूज प्राथमिकता के साथ दो कॉलम में रखी गई है और इसके नीचे कश्मीर में ईद को जगह मिली है। इसके बाद भारत की चीन को नसीहत को अलग से चार कॉलम में लगाया गया है। सबसे ज्यादा पढ़ी जाने वाली खबर यानी रिलायंस का धमाका नीचे डीप दो कॉलम में है। हालांकि, शीर्षक से धमाके की अहमियत स्पष्ट नहीं होती। वहीं, एंकर में मैन वर्सेज वाइल्ड का स्पेशल एपिसोड है, लेकिन बबीता फोगट को पेज पर पर्याप्त जगह होने के बावजूद जगह नहीं दी गई है।    

वहीं, नवभारत टाइम्स को देखें तो विज्ञापन ज्यादा होने की वजह से दो फ्रंट पेज बनाये गए हैं। पहले पेज पर बेहद आकर्षक शीर्षक ‘आफत की बाढ़ में मदद की बारिश का इंतजार’ के साथ देश के कई हिस्सों का हाल बयां किया गया है। इसके अलावा पेज पर दो सिंगल समाचार और कोस्ट गार्ड शिप में आग की खबर को फोटो के साथ रखा गया है। दूसरे पेज पर कश्मीर का खूबसूरत लीड पैकेज है, इसमें लद्दाख और चीन को भारत की नसीहत का भी जिक्र है। टॉप पर रिवर्स में फोटो के साथ बबीता फोगट की भाजपा में एंट्री की न्यूज है और सिंगल में रिलायंस का धमाका। मुकेश अंबानी की कंपनी ने महज 700 रुपए में जीवनभर मुफ्त कॉल और इंटरनेट देने की घोषणा की है। अखबार में पहले फ्रंट पेज पर आधा पेज विज्ञापन होने के कारण वह हिस्सा शो नहीं हो रहा है, इसलिए खबरों वाले हिस्से को ही यहां लगाया गया है, जबकि तीसरे फ्रंट पेज को आप पूरा यहां देख सकते हैं।

आज दैनिक जागरण में भी फ्रंट पेज पर काफी विज्ञापन है। लीड कश्मीर है, लेकिन इसके आस ही दो कॉलम में लगी प्रकाश जावड़ेकर की खबर अपेक्षाकृत ज्यादा पढ़ी जाएगी। जावड़ेकर का कहना है कि अब सरकार गुलाम कश्मीर पर कोई बड़ा कदम उठा सकती है। दैनिक जागरण ने कश्मीर पर भारत की चीन को नसीहत को लीड का हिस्सा बनाने के बजाय अलग से चार कॉलम में सजाया है। यदि इसे लीड के साथ वैल्यू एडिशन के तौर पर रखा जाता और पीएम मोदी की मैन वर्सेज वाइल्ड में शिरकत को पेज पर जगह मिलती तो ज्यादा अच्छा रहता। अखबार ने रिलायंस के धमाके को प्राथमिकता जरूर दी है, लेकिन नीरस और परंपरागत शीर्षक से खबर उस रूप में पाठकों तक नहीं पहुंच पा रही है, जैसे पहुंचा जाना चाहिए था। इसके अलावा पेज पर कुछ संक्षिप्त समाचार ही लग सके हैं, लेकिन बबीता फोगट को जगह नहीं मिली है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

प्रभात खबर ने तय किया लंबा सफर, यूं कर रहा 'सेलिब्रेशन'

अखबार की ओर से आयोजित कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार आलोक मेहता ने कहा, आज के दौर में अखबारों के समक्ष विश्वसनीयत बनाए रखना बहुत बड़ी चुनौती है

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Tuesday, 13 August, 2019
Last Modified:
Tuesday, 13 August, 2019
Prabhat Khabar

हिंदी दैनिक अखबार ‘प्रभात खबर’ 14 अगस्त को अपनी स्थापना के 35 साल पूरे करने जा रहा है। इस उपलब्धि को सेलिब्रेट करने और इस सफर को यादगार बनाने के लिए अखबार की ओर से तमाम कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

कार्यक्रमों की इसी कड़ी में आयोजित मीडिया कॉन्क्लेव में वरिष्ठ पत्रकारों ने ‘पत्रकारिता से उम्मीदें’ विषय पर अपने विचार रखे। इस मौके पर वरिष्ठ पत्रकार आलोक मेहता ने कहा कि आज के दौर में अखबारों के समक्ष विश्वसनीयत बनाए रखना बहुत बड़ी चुनौती है। वरिष्ठ पत्रकार विवेकानंद सिंह ने अखबार की इस यात्रा के बारे में बताने के साथ ही कार्यक्रम से जुड़ी कवरेज को अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया है, जिसे आप यहां देख सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार योगेश कुमार गुप्ता ने अब इस अखबार से किया नए सफर का आगाज

मूलरूप से जनपद मेरठ के गांव परतापुर के रहने वाले योगेश कुमार गुप्ता ने अपने पत्रकारिता करियर की शुरुआत वर्ष 2004 में दैनिक जागरण, मेरठ से की

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Monday, 12 August, 2019
Last Modified:
Monday, 12 August, 2019
Yogesh Gupta

पत्रकार योगेश कुमार गुप्ता ने हिंदी दैनिक अमर उजाला, गाजियाबाद के साथ अपनी नई पारी का आगाज किया है। उन्हें गाजियाबाद एडिशन के तहत मोदीनगर का प्रभार सौंपा गया है। मूलरूप से जनपद मेरठ के गांव परतापुर के रहने वाले योगेश कुमार गुप्ता ने अपने पत्रकारिता करियर की शुरुआत वर्ष 2004 में दैनिक जागरण, मेरठ से की। इसके बाद कुछ वर्षों के लिए उन्होंने ब्रेक ले लिया था।

मेरठ में दिसंबर 2010 में जब दैनिक जनवाणी की शुरुआत हुई, तो योगेश कुमार गुप्ता ने इस अखबार का दामन थाम लिया। दैनिक जनवाणी में उन्होंने नौ साल तक लगातार अपनी जिम्मेदारी निभाई। इसके बाद यहां से अपनी पारी को विराम देते हुए उन्होंने अब अमर उजाला के साथ नए सफर की शुरुआत की है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए