आज कुछ ऐसा है हिंदी अखबारों के फ्रंट पेज का हाल

विज्ञापनों की अधिकता के कारण आज दैनिक जागरण, हिन्दुस्तान और नवभारत टाइम्स के पाठकों को दो फ्रंट पेज मिले हैं

नीरज नैयर by
Published - Monday, 14 October, 2019
Last Modified:
Monday, 14 October, 2019
Newspaper

कश्मीर से अनुच्छेद 370 को समाप्त हुए भले ही काफी समय हो गया हो, लेकिन इस बारे में बयानबाजी बदस्तूर जारी है। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस मुद्दे पर विपक्ष को घेरा है। मोदी ने विपक्ष को अनुच्छेद 370 को बहाल करने का वादा करने की चुनौती दी है और उनकी इसी चुनौती से जुड़ी खबर को दिल्ली से प्रकाशित अधिकांश अखबारों ने प्रमुखता से लगाया है।

आज शुरुआत करते हैं अमर उजाला से। लीड पीएम की चुनौती की खबर है, जिसमें राजनाथ सिंह, राहुल गांधी और अमित शाह के बयानों का भी जिक्र है। क्रिकेट में भारत की एक और उपलब्धि को फोटो के साथ रखा गया है। टीम इंडिया दक्षिण अफ्रीका को हराकर लगातार 11 बार घरेलू मैदान पर सीरीज जीतने वाली पहली टीम बन गई है। इसी खबर के नीचे बीसीसीआई से जुड़ा समाचार है। पूर्व कप्तान सौरव गांगुली बीसीसीआई के अध्यक्ष बन सकते हैं।

पीएम मोदी की भतीजी को लूटने वालों की गिरफ्तारी को अमर उजाला ने सेकंड हाफ में जगह दी है, जबकि अयोध्या विवाद को तीन कॉलम में इसके ऊपर रखा गया है। अयोध्या विवाद की सुनवाई इसी हफ्ते पूरी हो जाएगी। एंकर में दिल्ली की खराब होती हवा की खबर है, इसकी वजह पंजाब में 45 प्रतिशत ज्यादा जलाई गई पराली है। इसके अलावा, सुरक्षा बलों को पाकिस्तानी ड्रोन मार गिराने के आदेश सिंगल कॉलम में है।

अब दैनिक जागरण की बात करें तो अखबार में आज पाठकों को दो फ्रंट पेज मिले हैं। पहले पेज पर लीड मोदी की कांग्रेस को चुनौती है, जिसे काफी बड़ी जगह में सजाया गया है। पेज पर दूसरी बड़ी खबर के रूप में सौरव गांगुली की बीसीसीआई अध्यक्ष पद से जुड़ी खबर है। गांगुली के अलावा अमित शाह के बेटे को बोर्ड का सचिव बनाया जा सकता है। पेज पर तीसरी और आखिरी खबर नीलू रंजन की है, जिसमें उन्होंने बताया है कि आयुष्मान भारत योजना के मरीजों को घर के पास मुफ्त इलाज मिलेगा।

दूसरे पेज का रुख करें तो लीड यहां रेलवे से जुड़ी है। रेलवे को निजी हाथों में सौंपने जा रही सरकार ने अब वेतन बिल सहित अन्य खर्चों को घटाने के लिए नॉन-कोर गतिविधियों को आउटसोर्स करने का फैसला लिया है। पीएम की भतीजी को लूटने वालों की गिरफ्तारी की खबर दो कॉलम में है। इसके साथ ही एम्स में अग्निकांड की जांच में लीपापोती की खबर को भी दो कॉलम में रखा गया है। इस तरह दूसरे फ्रंट पेज पर केवल तीन बड़ी खबरें ही हैं।

दैनिक भास्कर का रुख करें तो फ्रंट पेज के टॉप बॉक्स में सकारात्मक स्टोरी है। मंडे पॉजिटिव टैग के साथ लगी इस स्टोरी में मुंबई निवासी एक शख्स का जिक्र है, जिसने कैंसर पीड़ितों की मदद के लिए अपना होटल किराये पर दिया और रोजाना 700 लोगों को खाना खिलाते हैं। लीड मोदी की चुनौती है, जिसे राहुल के पलटवार के साथ लगाया गया है। टीम इंडिया की उपलब्धि दो कॉलम में फोटो के साथ है, जबकि मंजू रानी संक्षिप्त में हैं।

पीएम की भतीजी को लूटने वालों की गिरफ्तारी की खबर को दैनिक भास्कर ने ज्यादा तवज्जो नहीं देते हुए सिंगल कॉलम में लगाया है। इसके अलावा, पेज पर अयोध्या विवाद की सुनवाई, बीसीसीआई के नए अध्यक्ष और मरियम थ्रेसिया से जुड़ा समाचार भी है। मरियम थ्रेसिया के बारे में विस्तार से बताया गया है। इसके अलावा दिल्ली महिला आयोग से जुड़ी महिला की करतूत को दैनिक भास्कर ने तीन कॉलम जगह दी है। आरोप है कि महिला ने अपने पति की पीटकर हत्या कर दी। इस खबर को नि:संदेह सबसे ज्यादा पढ़ा जाएगा।

आज हिन्दुस्तान में भी विज्ञापनों के चलते दो फ्रंट पेज बने हैं। पहले पेज की लीड मोदी की चुनौती है, जिसमें राहुल गांधी के पलटवार को भी रखा गया है। सैनिकों की सेवानिवृत्ति आयु सीमा बढ़ाने पर विचार और विश्व बैंक द्वारा घटाई गई भारत की आर्थिक वृद्धि दर को दो-दो कॉलम जगह मिली है। इसके अलावा पेज पर दो बाईलाइन खबरें हैं। पहली, सुहेल हामिद की है जो बता रहे हैं कि सरकार डीजल की होम डिलीवरी की तैयारी कर रही है। दूसरी, एंकर में सजी मदन जैड़ा की स्टोरी है। इसमें ईपीएफओ की रिपोर्ट के हवाले से बताया गया है कि 22 से 25 साल के युवा ज्यादा नौकरी बदल रहे हैं।

दूसरे फ्रंट पेज पर लीड दिल्ली की बिगड़ती हवा है, जबकि टीम इंडिया की उपलब्धि को फोटो के साथ लगाया गया है। पाकिस्तान को काली सूची में डालने पर फैसला आज, मरियम थ्रेसिया मृत्यु के 93 साल बाद संत घोषित और अयोध्या पर आज से आखिरी सुनवाई की खबरों को भी पेज पर जगह मिली है। एंकर में दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस-वे है, जहां अब 120 की रफ्तार से फर्राटा भरा जा सकता है। इसके अलावा पेज पर पांच सिंगल खबरें हैं, लेकिन पीएम की भतीजी और बीसीसीआई से जुड़े समाचार को दोनों में से किसी फ्रंट पेज पर नही लगाया गया है।

अब बात करते हैं नवोदय टाइम्स की। फ्रंट पेज की शुरुआत टीम इंडिया की उपलब्धि से हुई है, जिसे रंगीन बैकग्राउंड वाले सिंगल कॉलम में रखा गया है। टॉप बॉक्स में दिल्ली महिला आयोग से जुड़ी महिला द्वारा अपने पति की हत्या से जुड़ी खबर है। लीड मोदी की चुनौती है, लेकिन राहुल गांधी के पलटवार को इसमें जगह नहीं मिली है। उसे अलग से तीन कॉलम में लगाया गया है।

अयोध्या विवाद की सुनवाई को नवोदय टाइम्स ने प्रमुखता के साथ रखा है, जबकि पीएम की भतीजी वाली खबर के मामले में अखबार से चूक हो गई है। इसके अलावा, सीमा पर जवान की शहादत और मरियम थ्रेसिया का समाचार भी पेज पर है। एंकर में सांसदों के मेहमानों के कारनामे हैं, जो लुटियंस के बंगलों में अभी तक जमे हुए हैं। बीसीसीआई अध्यक्ष पद से जुड़ा समाचार फ्रंट पेज पर नहीं है।

वहीं, देशबंधु ने आज भी सबसे अलग लीड लगाई है। विश्व बैंक की रिपोर्ट के आधार पर अखबार ने यह बताने का प्रयास किया है कि विकास की रफ्तार में भारत, भूटान और नेपाल से भी पिछड़ गया है। लीड के पास ही टीम इंडिया की उपलब्धि को फोटो के साथ सजाया गया है। मोदी की चुनौती को राहुल के पलटवार के साथ पांच कॉलम जगह मिली है, जबकि दिल्ली की बिगड़ती हवा एंकर में है।

इसके अलावा पेज पर पाकिस्तान को काली सूची में डाले जाने पर फैसला आज, एयर इंडिया के सौ से अधिक पायलट छोड़ेंगे नौकरी, यूपी में कर्जदार किसानों की आत्महत्या और महाराष्ट्र में एक और बैंक घोटाले से जुड़ा समाचार भी है। बैंक घोटाले की खबर इतनी प्रमुखता के साथ केवल देशबंधु ने ही फ्रंट पेज पर लगाई है। देशबंधु ने मरियम थ्रेसिया को संक्षिप्त में रखा है, वहीं पीएम मोदी की भतीजी को लूटने वालों की गिरफ्तारी की खबर पेज पर नहीं है। 

आज सबसे आखिरी में नवभारत टाइम्स की बात करते हैं। इस अखबार के पाठकों को भी आज दो फ्रंट पेज मिले हैं। पहले पेज की शुरुआत टीम इंडिया की उपलब्धि से है, जिसे रंगीन बैकग्राउंड में बड़ी फोटो के साथ सजाया गया है। बॉक्सिंग में मैरीकॉम की बराबरी करने वालीं मंजू रानी को नवभारत टाइम्स ने अलग से रखा है, जबकि बाकी अखबारों ने उन्हें क्रिकेट के साथ ही जगह दी है। पीएम मोदी की भतीजी से जुड़ी खबर को सबसे अच्छी तरह से नवभारत टाइम्स ने प्रस्तुत किया है। इस लीड खबर को तीन लाइन के शीर्षक ‘700 पुलिसवाले लगे, 24 घंटे में पीएम की भतीजी का बैग छीनने वाले दो पकड़े’ के साथ लगाया गया है। साथ ही इसमें आम जनता की प्रतिक्रिया का भी जिक्र है, जो यह जानना चाहती है कि आखिर उनका नंबर कब आएगा? इसके अलावा पेज पर चार सिंगल कॉलम समाचार हैं।

दूसरे फ्रंट पेज की बात करें तो यहां भी पहले पेज जैसा टॉप बॉक्स है। इसमें दिल्ली की बिगड़ती हवा का जिक्र है। लीड मोदी की कांग्रेस को चुनौती है. राजनाथ सिंह और राहुल गांधी के बयानों को भी लीड में शामिल किया गया है। एंकर मनीष अग्रवाल की लोगों को सावधान करने वाली स्टोरी है। मनीष बता रहे हैं कि किस तरह सोने में पाउडर की मिलावट की जा रही है। लिहाजा, यदि आप सोना खरीदने का मन बना रहे हैं तो इस खबर पर एक नजर जरूर डाल लें। संत मरियम थ्रेसिया का समाचार डीप सिंगल में है। हालांकि, बीसीसीआई से जुड़ी न्यूज को तवज्जो नहीं दी गई है। नवभारत टाइम्स के पहले फ्रंट पेज पर आधा पेज विज्ञापन होने के कारण खबरों वाला भाग ही शो हो रहा है, इसलिए यहां पर खबरों वाले भाग को ही लगाया गया है। हालांकि दूसरे फ्रंट पेज पर भी आधा पेज विज्ञापन है, लेकिन वह पूरा शो हो रहा है। 

आज का ‘किंग’ कौन?

1: सबसे पहले बात करते हैं लेआउट की। नवोदय टाइम्स और अमर उजाला आज इस मामले में सबसे बेहतर नजर आ रहे हैं।

2: खबरों की प्रस्तुति में नवभारत टाइम्स का पक्ष मजबूत है। इसकी सबसे प्रमुख वजह है पीएम मोदी की भतीजी को लूटने वालों की गिरफ्तारी। ये खबर अपने आप में काफी कुछ कहती है, इसलिए इसे बेहतर अंदाज में प्रस्तुत किया जाना चाहिए था, लेकिन बाकी अखबारों ने खबर को इस एंगल से नहीं देखा। ये खबर सरकार और पुलिस से सवाल कर रही है कि आखिरी आम जनता से जुड़े मामलों को इतनी तवज्जो क्यों नहीं दी जाती?

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोरोना काल: उर्दू दैनिक ‘अवधनामा’ के समूह संपादक वकार मेहंदी रिजवी का इंतकाल

वरिष्ठ पत्रकार और उर्दू दैनिक ‘अवधनामा’ के समूह संपादक (ग्रुप एडिटर) सै. वकार मेहंदी रिजवी का कोरोना संक्रमण के कारण सोमवार को निधन हो गया।

Last Modified:
Tuesday, 11 May, 2021
Waqar545

वरिष्ठ पत्रकार और उर्दू दैनिक ‘अवधनामा’ के ग्रुप एडिटर सै. वकार मेहंदी रिजवी का कोरोना संक्रमण के कारण सोमवार को निधन हो गया। वे 55 वर्ष के थे।

हजरतगंज क्षेत्र में नरही क्षेत्र के निवासी सै. वकार रिजवी कोरोना संक्रमण से ग्रसित थे और उन्हे पिछली 12 अप्रैल को लखनऊ के एरा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां रविवार और सोमवार की रात करीब ढाई बजे उन्होने अंतिम सांस ली। नम आंखों के बीच उन्हें चौक स्थित एक कब्रिस्तान में कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुये सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया।

उर्दू भाषा के प्रचार प्रसार के लिये हमेशा तल्लीन रहने वाले रिजवी मृदुल और मिलनसार स्वाभाव के थे। उर्दू के उत्थान और सामाजिक कुरीतियों के खिलाफ वह हमेशा संगोष्ठियों का आयोजन करते थे और ऐसी हर महफिल में शामिल होने की कोशिश करते थे।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उर्दू दैनिक समाचार पत्र अवधनामा, लखनऊ के पत्रकार  सै. वकार मेंहदी रिजवी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्मा की शांति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

उनके जाने से  तमाम पत्रकारों ने गहरा शोक व्यक्त किया है। सूबे के बहुत से मंत्रियो व तमाम नेताओं ने भी ट्वीट करके वरिष्ठ पत्रकार सै. वकार रिजवी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया।

 

 

 

 

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब दैनिक भास्कर से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार आदित्य द्विवेदी, मिली यह जिम्मेदारी

वरिष्ठ पत्रकार आदित्य द्विवेदी ने ‘न्यूज1इंडिया’ में अपनी संक्षिप्त पारी को विराम दे दिया है। उन्होंने लखनऊ में कुछ महीनों पूर्व ही बतौर संपादकीय प्रभारी जिम्मेदारी संभाली थी।

Last Modified:
Monday, 10 May, 2021
Aditya Dwivedi

वरिष्ठ पत्रकार आदित्य द्विवेदी ने ‘न्यूज1इंडिया’ में अपनी संक्षिप्त पारी को विराम दे दिया है। उन्होंने लखनऊ में कुछ महीनों पूर्व ही बतौर संपादकीय प्रभारी जिम्मेदारी संभाली थी। आदित्य द्विवेदी ने अपनी नई पारी की शुरुआत अब ‘दैनिक भास्कर’, कानपुर में स्पेशल करेसॉन्डेंट के तौर पर की है। एक फेसबुक पोस्ट के जरिये आदित्य द्विवेदी ने यह जानकारी दी है।

मूल रूप से कानपुर के रहने वाले आदित्य द्विवेदी को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 20 साल का अनुभव है और वह प्रिंट, टीवी व डिजिटल तीनों में काम कर चुके हैं। आदित्य ने वर्ष 2000 में कानपुर में ‘जनसत्ता’ के साथ अपने पत्रकारिता करियर की शुरुआत की थी। करीब चार साल यहां काम करने के बाद वह वर्ष 2004 में बतौर कानपुर हेड ऑनलाइन चैनल ‘ABC’ के साथ जुड़ गए। करीब तीन साल बाद उन्होंने यहां से बाय बोलकर वर्ष 2007 में ‘सहारा अखबार’ जॉइन कर लिया। वर्ष 2010 में उन्होंने अखबार से टीवी का रुख किया और ‘सहारा टीवी’ में बतौर ब्यूरो चीफ अपनी जिम्मेदारी संभाली।

करीब सात साल तक ‘सहारा टीवी’ में अपनी भूमिका निभाने के बाद उन्होंने वेब पोर्टल ‘समाजा’ के साथ नई शुरुआत की और बतौर हेड (हिंदी और अंग्रेजी) यहां जॉइन कर लिया। इसके बाद जनवरी 2020 में वे वरिष्ठ पत्रकार अमिताभ अग्निहोत्री के नेतृत्व में लॉन्च हुए न्यूज चैनल ‘R9’ से जुड़ गए थे, जहां से उन्होंने पिछले साल सितंबर में अपना इस्तीफा दे दिया था। ‘R9’ में स्पेशल करेसपॉन्डेंट के पद पर वह लखनऊ में अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे और कई महत्वपूर्ण विभागों की बीट उनके पास थी। इसके बाद उन्होंने ‘न्यूज1इंडिया’, लखनऊ में बतौर संपादकीय प्रभारी नई पारी की शुरुआत की थी, जहां से इस्तीफा देकर अब वह ‘दैनिक भास्कर’ के साथ जुड़ गए हैं।  

समाचार4मीडिया की ओर से आदित्य द्विवेदी को उनकी नई पारी के लिए ढेरों शुभकामनाएं। आदित्य द्विवेदी द्वारा अपनी नई पारी के बारे में की गई फेसबुक पोस्ट को आप यहां देख सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

आज समाज में संपादक अमित गुप्ता का प्रमोशन, मिली यह बड़ी जिम्मेदारी

आईटीवी नेटवर्क (iTV Network) ने अपने अखबार दैनिक ‘आज समाज’, अम्बाला के संपादक अमित गुप्ता को प्रमोट किया है।

Last Modified:
Thursday, 06 May, 2021
Amit Gupta

आईटीवी नेटवर्क (iTV Network) ने अपने अखबार दैनिक ‘आज समाज’, अम्बाला के संपादक अमित गुप्ता को प्रमोट कर मैनेजिंग एडिटर की जिम्मेदारी सौंपी है। पिछले वर्ष ही अमित गुप्ता ने अम्बाला में बतौर संपादक जॉइन किया था। इससे पहले वह अम्बाला में ही ‘दैनिक भास्कर’ में संपादक के रूप में अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

मूल रूप से अम्बाला के रहने वाले अमित गुप्ता को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 22 साल का अनुभव है। इनमें से सबसे ज्यादा समय तक यानी करीब 20 साल तक वह ‘दैनिक भास्कर’ में कार्यरत रहे हैं। उन्होंने ‘अमर उजाला’ में भी अपनी सेवाएं दी हैं।

अमित गुप्ता ने पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत ‘दैनिक ट्रिब्यून’ के साथ बतौर फ्रीलॉन्सर की थी। इसके अलावा वह अपना अखबार भी निकाल चुके हैं। अमित गुप्ता को नई जिम्मेदारी मिलने पर समाचार4मीडिया की ओर से ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

छंटनी के बाद BCCL ने सैलरी को लेकर एंप्लॉयीज से कही अब ये बात

इस बारे में कंपनी के चेयरमैन ऑफिस की ओर से मेल जारी की गई है।

Last Modified:
Thursday, 29 April, 2021
BCCL

वित्तीय वर्ष 2021 (FY 21) की आखिरी तिमाही में अपने कई पत्रकारों को बाहर का रास्ता दिखाने के बाद ‘बेनेट कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड’ (BCCL) ने अब द इकनॉमिक टाइम्स (The Economic Times) और द टाइम्स ऑफ इंडिया (The Times of India) में सैलरी कटौती की घोषणा की है।  

इस बारे में द टाइम्स ऑफ इंडिया में करीब सात साल से कार्यरत एक वरिष्ठ पत्रकार का कहना है, ‘वर्ष 2020 में जब पहली बार सैलरी कटौती की गई थी, तो हमें हमारे मैनेजर्स द्वारा इस बारे में बताया गया था, लेकिन इस बार मेल से घोषणा की गई है। हममें में अधिकांश 10-15 प्रतिशत सैलरी कटौती का सामना कर रहे हैं।’

यह भी पढ़ें: BCCL में फिर शुरू हुआ छंटनी का दौर!

छंटनी की घोषणा के एक हफ्ते बाद ही सैलरी कटौती की घोषणा की गई है। बता दें कि वर्ष 2020 के दौरान ‘टाइम्स लाइफ’ (Times Life) और ‘संडे ईटी’ (Sunday ET) जैसे एडिशन बंद होने के बाद ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’(TOI) और ‘इकनॉमिक टाइम्स’ (ET) में पिछले दो-तीन महीनों के दौरान कई एम्प्लॉयीज की छंटनी की गई है। उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार, कंपनी के करीब 100 एम्प्लॉयीज को या तो नौकरी छोड़ने के लिए कहा गया है अथवा पिछले कुछ महीनों में उनके कॉन्ट्रैक्ट को रिन्यू नहीं किया गया। सूत्रों का यह भी कहना है कि बड़ी संख्या में पत्रकारों को कंसल्टेंट के पदों पर शिफ्ट किया गया है।

पिछले हफ्ते की गई घोषणा के दो दिनों के भीतर चेयरमैन ऑफिस से भेजी गई मेल में 'अभूतपूर्व और आर्थिक संकट' पर जोर दिया गया है। इस बारे में हमारी सहयोगी वेबसाइट ‘एक्सचेंज4मीडिया’ (exchange4media) की ओर से बीसीसीएल के चेयरमैन शिवकुमार सुंदरम को उनका पक्ष जानने के लिए मेल किया गया, लेकिन वहां से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

महामारी के बीच अमर उजाला फाउंडेशन ने की ये सराहनीय पहल

इस पहल के तहत ‘अमर उजाला फाउंडेशन’ जरूरतमंदों के लिए एक विशेष कोरोना किट का वितरण कर रहा है।

Last Modified:
Tuesday, 27 April, 2021
Amar Ujala Foundation

देश में कोरोनावायरस (कोविड-19) का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। तमाम लोगों की इस संक्रमण के चलते जान जा चुकी है, वहीं कई पीड़ितों का विभिन्न अस्पतालों में उपचार चल रहा है। इस दौरान देश के कई हिस्सों से ऑक्सीजन व अन्य मेडिकल सुविधाओं में कमी की खबरें पढ़ने को मिल रही हैं। इन सबके बीच ‘अमर उजाला फाउंडेशन’ (Amar Ujala Foundation) ने एक अच्छी पहल की है।

इस पहल के तहत ‘अमर उजाला फाउंडेशन’ जरूरतमंदों के लिए एक विशेष कोरोना किट का वितरण कर रहा है। इस किट में पल्स-ऑक्सीमीटर, थर्मामीटर, सर्जिकल फेस मास्क, एन95 फेस मास्क, हैंड सेनेटाइजर आदि जरूरी चीजें शामिल हैं।

इसके साथ ही ‘अमर उजाला फाउंडेशन’ ने अन्य लोगों से भी दूसरों की जिंदगी बचाने के लिए साथ आने की अपील की है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘द हिन्दू’ के वरिष्ठ फोटो पत्रकार विवेक बेंद्रे की जिंदगी पर भारी पड़ी महामारी, गई जान

‘द हिन्दू’ अखबार के वरिष्ठ फोटो पत्रकार और बॉम्बे न्यूज फोटोग्राफर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष विवेक बेंद्रे का कोरोना से संक्रमित होने की वजह से निधन हो गया।

Last Modified:
Tuesday, 27 April, 2021
Vivek-Bendre54

‘द हिन्दू’ अखबार के वरिष्ठ फोटो पत्रकार और बॉम्बे न्यूज फोटोग्राफर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष विवेक बेंद्रे का कोरोना से संक्रमित होने की वजह से निधन हो गया। लंबे संघर्ष के बाद भी वे कोरोना को मात नहीं दे पाए और रविवार को अंतिम सांस लीं। वह 59 वर्ष के थे। उनके निधन से मीडिया जगत और मुंबई के क्रिकेट सर्कल में शोक की लहर दौड़ गई।

उन्होंने अपनी तस्वीरों से विशेष रूप से क्रिकेट के क्षेत्र में अपनी एक अलग छाप छोड़ी थी। 59 वर्षीय बेंद्रे को 17 अप्रैल को बांद्रा कुर्ला कॉम्पलेक्स (बीकेसी) में स्थित कोविड के लिए बनाए गए केंद्र में भर्ती कराया गया था। तब से वे ऑक्सीजन सपोर्ट पर थे। उन्हें 23 अप्रैल को वार्ड से ऑब्जर्वेशन रूम में रखा गया था, क्योंकि उनकी हालत में सुधार नहीं हो रहा था। 24 अप्रैल को उनकी हालत और ज्यादा बिगड़ गई और 25 अप्रैल की सुबह कोरोना के खिलाफ लड़ाई में आखिरकार उन्होंने अपनी जान गंवा दी।

क्रिकेट, विवेक बेंद्रे की पसंदीदा बीट थी। वह 1995 से ‘द हिन्दू’ अखबार के लिए फोटो खींच  रहे थे। बेंद्रे ने वानखेड़े स्टेडियम में खेले जाने वाले अधिकांश मैचों को कवर अपने कैमरे में कैद किया था। इसलिए, मुंबई क्रिकेट सर्कल में एक ऐसे व्यक्ति को ढूंढना मुश्किल था जो विवेक बेंद्रे को नहीं जानता था।

बेंद्रे ने 1990 में ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ में ट्रेनी फोटोग्राफर के तौर पर अपना करियर शुरू किया था। बाद में उन्होंने 1995 में ‘द हिन्दू’ के मुंबई ब्यूरो में शामिल हो गए और क्रिकेट को कवर करते हुए खेल फोटोग्राफी में अपनी एक अलग जगह बना ली। कई लोगों ने उनकी मृत्यु के बाद ट्विटर पर अपनी भावनाओं को व्यक्त किया है।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अमर उजाला में अपनी पारी को विराम दे वरिष्ठ पत्रकार नवीन गुप्ता ने शुरू किया नया सफर

वरिष्ठ पत्रकार नवीन गुप्ता ने हिंदी दैनिक ‘अमर उजाला’ में करीब आठ साल पुरानी अपनी पारी को विराम दे दिया है।

Last Modified:
Monday, 26 April, 2021
Naveen Gupta

वरिष्ठ पत्रकार नवीन गुप्ता ने हिंदी दैनिक ‘अमर उजाला’ में करीब आठ साल पुरानी अपनी पारी को विराम दे दिया है। ‘अमर उजाला’ में अपनी इस पारी के दौरान वह जम्मू-कश्मीर में संपादक और आगरा में न्यूज एडिटर रह चुके हैं। इन दिनों वह नोएडा मुख्यालय में एनसीआर हेड के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे और फिलहाल नोटिस पीरियड पर चल रहे थे।  

नवीन गुप्ता ने अपने नए सफर की शुरुआत हिंदी दैनिक ‘अमृत विचार’ के साथ की है। उन्होंने मुरादाबाद में बतौर एडिटोरियल हेड जॉइन किया है।

मूल रूप से मुजफ्फरनगर के रहने वाले नवीन नवीन गुप्ता को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 27 साल का अनुभव है। पत्रकारिता के क्षेत्र में उन्होंने अपने सफर की शुरुआत ‘मुजफ्फरनगर बुलेटिन’ से की थी। अब तक वह ‘दैनिक जागरण’ (दिल्ली), ‘दैनिक भास्कर’ (पंजाब-हरियाणा) और ‘दैनिक सवेरा’ (जालंधर) में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

समाचार4मीडिया से बातचीत में नवीन गुप्ता ने बताया कि ‘अमृत विचार’ अपने विस्तार की दिशा में कदम बढ़ा रहा है। इसके तहत जल्द ही यह अखबार लखनऊ में अपनी प्रिंटिंग प्रेस लगाने जा रहा है। समाचार4मीडिया की ओर से नवीन गुप्ता को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोरोना काल के बीच The New Indian Express लिया ये बड़ा फैसला

कोरोना वायरस ने एक बार फिर तेजी से अपना प्रकोप दिखाना शुरू कर दिया है। महामारी की दूसरी लहर ने पूरे देश को अपनी चपेट में ले रखा है।

Last Modified:
Monday, 26 April, 2021
NewIndianExpress5

कोरोना वायरस ने एक बार फिर तेजी से अपना प्रकोप दिखाना शुरू कर दिया है। महामारी की दूसरी लहर ने पूरे देश को अपनी चपेट में ले रखा है। हर दिन देशभर में वायरस के रिकॉर्ड मामले दर्ज किए जा रहे हैं। इस बीच कोरोना का असर आईपीएल के आयोजन पर भी पड़ता दिखने लगा है। आईपीएल को लेकर दो बड़ी खबरें सामने आई हैं। पहली खबर है कि दिग्गज भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने ये कहते हुए लीग बीच में छोड़ दी है कि वो कोरोना के खिलाफ लड़ाई में अपने परिवार को सहयोग देना चाहते हैं। इसके अलावा ऑस्ट्रेलिया के तीन खिलाड़ी एडम जम्पा, केन रिचर्डसन और एजे टाई ने भी IPL 2021 को बीच में ही छोड़कर अपने देश लौटने का फैसला किया है।

वहीं दूसरी खबर है कि अंग्रेजी के प्रमुख अखबार ‘द न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ ने आईपीएल की खबरों को छापने पर बैन लगा दिया है। फिलहाल ‘द न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ (The New Indian Express) आईपीएल से जुड़ी खबरों को अपने अखबार में प्रकाशित नहीं करेगा। इसकी जानकारी रविवार 25 अप्रैल को खुद अखबार के एडिटर ने एडिटर्स नोट में दी है। अखबार ने यह निर्णय देश में बढ़ते कोरोना संक्रमण और चारों तरफ फैले दुख के माहौल की वजह से लिया है। 

एडिटर्स नोट में अखबार ने अपने पाठकों से कहा है कि भारत इस समय महामारी के सबसे बुरे दौर से गुजर रहा है, यह देखते हुए ‘देश का ध्यान जीवन और मृत्यु के मुद्दे की ओर केंद्रित करने की यह उसकी एक छोटी सी कोशिश है। पूरे देश में कोरोना ने कोहराम मचाया हुआ है। हजारों लाखों लोग इस समय जीवन के लिए संघर्ष कर रहे हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी होने वाले रोजाना हेल्थ बुलेटिन में लाखों लोगों के संक्रमित होने और हजारों के मरने की खबरें आ रही हैं। लोग ऑक्सीजन की किल्लत से जूझ रहे हैं। अस्पताल लोगों को बेड देने से मना कर रहे हैं। शमशान और कब्रिस्तानों में कतारें लगी हुई हैं। आपदा की इस घड़ी में हम आईपीएल के आयोजन को बेतुका पाते हैं। ऐसे में हमने खेल के आयोजन की कवरेज न करने का फैसला लिया है।

अखबार में कहा गया कि समस्या खेल से नहीं, बल्कि इसकी टाइमिंग से है। क्रिकेट को भी स्वीकार करना चाहिए कि हम एक बहुत ही मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं। अखबार में कहा गया कि जब तक कि स्थिति सामान्य नहीं हो जाती, तब तक ‘द संडे स्टैंडर्ड’ और ‘द मॉर्निंग स्टैंडर्ड’ अखबार में आईपीएल की खबरें प्रकाशित नहीं की जाएंगी और इसे तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है।

आपदा की इस घड़ी में हम आईपीएल के आयोजन को बेतुका पाते हैं। एक तरफ देश संकट काल से गुजर रहा है तो वहीं दूसरी तरफ बायो बबल की सुरक्षा में भारत में क्रिकेट का त्योहार मनाया जा रहा है। क्रिकेट खेल के साथ समस्या नहीं है बल्कि इसके आयोजन के समय को लेकर है। जब तक सब कुछ सामान्य नहीं हो जाता तब तक संडे स्टैंडर्ड और मॉर्निंग स्टैंडर्ड में आईपीएल की खबरें प्रकाशित नहीं की जाएंगी। 

आईपीएल के 14 वें संस्करण का आयोजन 7 अप्रैल से शुरू हुआ है। क्रिकेट की इस लीग का आयोजन कुल 6 शहरों में हो रहा है। जिसमें दिल्ली, कोलकाता, मुंबई, बेंगलुरु, चेन्नई और अहमदाबाद शामिल हैं।

‘द न्यू इंडियन एक्सप्रेस’ में एडिटर ने और क्या कुछ कहा, पढ़िए यहां-

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोविड ने छीन ली ET के फीचर एडिटर चंचल पाल चौहान की जिंदगी

जर्नलिस्ट चंचल पाल चौहान का 21 अप्रैल की रात कोविड के कारण निधन हो गया। वे ‘इकनॉमिक टाइम्स’ ऑटो के फीचर एडिटर थे

Last Modified:
Friday, 23 April, 2021
Chanchal-Pal-Chauhan54

जर्नलिस्ट चंचल पाल चौहान का 21 अप्रैल की रात कोविड के कारण निधन हो गया। वे ‘इकनॉमिक टाइम्स’ ऑटो के फीचर एडिटर थे और हिन्दुस्तान टाइम्स के नेशनल एडिटर चेतन चैहान के भाई थे।

चंचल पाल चैहान जिला शिमला के कोटखाई क्षेत्र के निवासी थे। चंचल ने ‘हिन्दुस्तान टाइम्स’ और ‘दि इंडियन एक्सप्रेस’ के लिए शिमला और चंडीगढ़ में अपनी सेवाएं दी और इसके बाद दिल्ली में भी विभिन्न मीडिया संगठनों के साथ कार्य किया।

हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने वरिष्ठ पत्रकार चंचल पाल चैहान के निधन पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने परमात्मा से दिवंगत आत्मा की शांति और शोक संतप्त परिजनों को इस अपूर्णीय क्षति को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि चंचल पाल चैहान के निधन से राज्य ने एक अनुभवी और उत्कृष्ट पत्रकार खोया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे हिन्दुस्तान के वरिष्ठ संवाददाता रमेन्द्र सिंह

दैनिक हिन्दुस्तान के वरिष्ठ संवाददाता रमेन्द्र सिंह नहीं रहे। कोरोना संक्रमण के चलते गुरुवार को उनका निधन हो गया।

Last Modified:
Friday, 23 April, 2021
ramednrasingh51

दैनिक हिन्दुस्तान के वरिष्ठ संवाददाता रमेन्द्र सिंह नहीं रहे। कोरोना संक्रमण के चलते गुरुवार को उनका निधन हो गया। वाराणसी के भदवर स्थित हेरिटेज मेडिकल कॉलेज में उन्हें भर्ती कराया गया था।

उनके परिवार में उनकी पत्नी और एक बेटी है। हरिश्चंद्र घाट पर उनकी अंत्येष्टि हुई। दो भाइयों के भी संक्रमित होने के कारण साढ़ू ने मुखाग्नि दी।

लगभग दो दशक पूर्व पत्रकारिता की शुरुआत करने वाले रमेन्द्र सिंह वायरस की चपेट में आ गए थे। बुधवार रात तक वह अच्छी स्थिति में थे, लेकिन गुरुवार सुबह उनका ऑक्सीजन लेवल नीचे आने लगा। उनकी निगरानी कर रहे डॉक्टर ने गुरुवार सुबह वेंटीलेटर की व्यवस्था करने को कहा। रमेन्द्र सिंह को एंबुलेंस से हेरिटेज अस्पताल ले जाया गया। हेरिटेज में वेंटीलेटर की सुविधा मिली, लेकिन रमेन्द्र सिंह बचाए नहीं जा सके।

हरिश्चंद्र घाट पर मौजूद हिन्दुस्तान परिवार के सदस्यों ने हरदिल अजीज अपने साथी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि दी। कोरोना पीड़ितों की सेवा में अहर्निश लगे रहने वाले युवा सामाजिक कार्यकर्ता अमन कबीर ने जरूरी व्यवस्थाएं कराई।

विनम्रता, मिलनसारिता, सौम्यता के धनी रमेन्द्र सिंह ने विगत डेढ़ दशक के दौरान शैक्षणिक पत्रकारिता में विशिष्ट पहचान बनाई थी। बेसिक से लेकर उच्च शिक्षा से जुड़े सभी आयामों पर उन्होंने सफल लेखनी चलाई। मौसम संबंधी खबरों में भी उनकी अच्छी दखल थी। इस दौरान उन्होंने कई युवाओं को अखबारनवीसी भी सिखाई। हिन्दुस्तान के दफ्तर से लेकर कार्यक्षेत्र तक सभी के लिए अजातशत्रु रहे रमेन्द्र सिंह के निधन की जिसने भी खबर सुनी, स्तब्ध रह गया। कई शैक्षणिक, सामाजिक और व्यापारी संगठनों ने वरिष्ठ पत्रकार के निधन पर शोक व्यक्त किया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए