सूचना:
मीडिया जगत से जुड़े साथी हमें अपनी खबरें भेज सकते हैं। हम उनकी खबरों को उचित स्थान देंगे। आप हमें mail2s4m@gmail.com पर खबरें भेज सकते हैं।

जब विज्ञापन से नहीं दबे मीडिया हाउस तो केस दर्ज कर बना रहे है दबाव...

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को मीडिया पर नियंत्रण का आरोप लगाते हुए ...

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 21 September, 2018
Last Modified:
Friday, 21 September, 2018
arvind

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को मीडिया पर नियंत्रण का आरोप लगाते हुए बीजेपी की आलोचना की। उन्होंने कहा कि भाजपा पत्रकारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर मीडिया को नियंत्रित कर रही है।

केजरीवाल ने यह आरोप भाजपा के एक कार्यकर्ता द्वारा कई संपादकों के खिलाफ शिकायत दर्ज करने के बाद लगाया है। भाजपा कार्यकर्ता ने उन पत्रकारों के खिलाफ मामला दर्ज करवाया है जिन्होंने उसके बारे में बताया था कि उसने पार्टी के एक सांसद का पैर धोकर उसी पानी को पिया था।

बिहार विधानसभा में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव द्वारा साह की शिकायत की एक प्रति साझा करने के बाद केजरीवाल ने ट्विटर के जरिए अपनी प्रतिक्रिया जाहिर की थी।



आम आदमी पार्टी के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने कहा, अब तक भाजपा विज्ञापन और पैसे के माध्यम से मीडिया को नियंत्रित कर रही थी। मगर अब लगता है कि इसने अपने (भाजपा के) सांसद के शर्मनाक कार्य पर सवाल करने की 'हिम्मत' करने पर मीडिया के खिलाफ मामला दर्ज करने का भी फैसला लिया है।

वहीं दूसरी तरफ, तेजस्वी ने ट्विटर पर लिखा, शर्मनाक कार्य के लिए माफी मांगने के बजाय दुबे (भाजपा सांसद निशिकांत दुबे) धमकी दे रहे हैं और अपने प्रतिनिधि के माध्यम से मीडिया के लोगों को भयभीत कर रहे हैं।

गौरतलब है कि सोमवार से एक विडियो क्लिप वायरल हो रहा है, जिसमें झारखंड के भाजपा कार्यकर्ता पवन कुमार साह को गोड्डा जिले में एक कार्यक्रम के दौरान पार्टी के सांसद निशिकांत दुबे के पैर को धोकर पीते दिखाया गया है। साह का आरोप है कि उसके बाद पत्रकार उनके पीछे पड़े हुए हैं।

पवन ने कहा कि रोजाना टीवी चैनल के लोग मुझे फोन करते हैं और अपमानजनक बातें करते हैं। वे समाज में उनकी छवि को धूमिल कर रहे हैं जिससे उनके स्वास्थ्य पर असर पड़ रहा है। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मीडियाकर्मियों की मांगों को लेकर जुलाई में संसद भवन पर होगा प्रदर्शन

संसद भवन के सामने धरना और प्रदर्शन की तारीख कॉन्फेडरेशन की कार्यकारिणी की बैठक में किया जाएगा।

Last Modified:
Wednesday, 31 May, 2023
Protest75647

कॉन्फेडरेशन ऑफ न्यूजपेपर्स एंड न्यूज एजेंसी एम्प्लॉयीज आर्गनाइजेशन ने वर्किंग जर्नलिस्ट्स एक्ट की बहाली, पत्रकार सुरक्षा कानून बनाने, मीडिया संस्थानों में पत्रकारों और गैरपत्रकार कर्मचारियों की अवैध छंटनी के विरोध में जुलाई में संसद सत्र के दौरान प्रदर्शन करने का ऐलान किया है।

यह फैसला दिल्ली में आयोजित कॉन्फेडरेशन की वार्षिक आमसभा में लिया गया। आमसभा में देश के प्रमुख सशक्त मीडिया संगठनों नेशनल यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स (इंडिया), इंडियन जर्नलिस्ट्स यूनियन, इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट्स, ऑल इंडिया फेडरेशन ऑफ पीटीआई एम्प्लॉयीज यूनियन, यूएनआई वर्कर्स यूनियन, ऑल इंडिया न्यूजपेपर्स एम्प्लॉयीज फेडरेशन, नेशनल फेडरेशन ऑफ न्यूजपेपर्स एम्प्लॉयीज और द ट्रिब्यून एम्प्लॉयीज यूनियन चंडीगढ़ के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लेकर मीडियाकर्मियों की मांगों को लेकर देशव्यापी आंदोलन छेड़ने की घोषणा की है।

कॉन्फेडरेशन के महासचिव एम एस यादव ने बताया कि दिल्ली के सम्राट होटल में आयोजित आमसभा में एनयूजे के अध्यक्ष रास बिहारी के अध्यक्ष और द ट्रिब्यून एम्प्लॉयीज यूनियन के अध्यक्ष अनिल गुप्ता को कॉन्फेडरेशन  का उपाध्यक्ष चुना गया गया। कॉन्फेडरेशन  के नवनिर्वाचित अध्यक्ष रास बिहारी की अध्यक्षता में हुई आमसभा की बैठक में पत्रकारों और गैर पत्रकार कर्मचारियों की सभी समस्याओं को लेकर विचार-विमर्श किया गया। बैठक में एनयूजेआई के महासचिव प्रदीप तिवारी, आईएफडबल्यूजे के अध्यक्ष मल्लिकार्जुन, महासचिव परमानंद पांडे, आईजेयू के अध्यक्ष श्रीनिवास रेड्डी, महासचिव बलविंदर जम्मू, पीटीआई फेडरेशन के भुवन चौबे, यूएनआई यूनियन के एम एल जोशी, ट्रिब्यून इम्पालाइज यूनियन के अध्यक्ष अनिल कुमार गुप्ता, एआईएनईएफ, एनएफएनई के पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया।

यादव ने बताया कि कॉन्फेडरेशन से संबद्ध सभी राष्ट्रीय मीडिया संगठनों ने सर्वसम्मति से मीडियाकर्मियों की मांगों को लेकर देशव्यापी आंदोलन करने का फैसला किया है। संसद पर प्रदर्शन करके राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को ज्ञापन दिए जाएंगे। उन्होंने बताया कि देशव्यापी अभियान के तहत राज्यों के राज्यपाल, मुख्यमंत्रियों और सांसदों को ज्ञापन देकर मीडियाकर्मियों की मांगों को लेकर ध्यान आकर्षित किया जाएगा। सभी संगठनों के पदाधिकारी और प्रतिनिधि राज्यों में अपने-अपने क्षेत्र के सांसदों और जनप्रतिनिधियों को मांगों के बारे में ज्ञापन देंगे।

यादव ने कहा कि दिल्ली में संसद भवन के सामने धरना और प्रदर्शन की तारीख कॉन्फेडरेशन की कार्यकारिणी की बैठक में किया जाएगा। प्रदर्शन से पहले पूरे देश में मीडियाकर्मियों की मांगों को लेकर राज्यों में सम्मेलन और विचार गोष्ठियों का आयोजन किया जाएगा।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मोदी सरकार के नौ साल पूरे होने पर बीजेपी ने गिनाईं उपलब्धियां, इन फैसलों का किया जिक्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार के नौ साल पूरे होने के उपलक्ष्य में पार्टी की ओर से नई दिल्ली में दो दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

Last Modified:
Saturday, 27 May, 2023
Modi Government

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार के नौ साल पूरे होने के उपलक्ष्य में पार्टी की ओर से नई दिल्ली के ‘द अशोका’ होटल में दो दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। 25 और 26 मई को आयोजित इस कार्यक्रम में बीजेपी के शीर्ष नेताओं ने न सिर्फ सरकार की उपलब्धियां बताईं, बल्कि मीडिया से संवाद भी किया।

केंद्रीय रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने एक स्लाइड शो के जरिये सरकार की उपलब्धियां बताते हुए नौ साल के अंदर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार द्वारा किए गए तमाम प्रमुख कार्यों का ब्योरा दिया।इन प्रमुख फैसलों में उन्होंने कोविड-19 के दौरान देश भर में मुफ्त में हुए वैक्सीनेशन, डिजिटल क्रांति, तमाम परिवारों को पक्का घर, खुले में शौच से निजात के लिए किए गए प्रयास, उज्ज्वला योजना, घरों तक पानी पहुंचाने के लिए बिछाई गईं पाइप लाइन, गरीब व कमजोर तबके के लिए मुफ्त राशन योजना, स्टैच्यू ऑफ यूनिटी, आयुष्मान योजना, जनऔषधि केंद्रों की शुरुआत, एक रुपये में सैनिटरी पैड, एयरपोर्ट जैसे भव्य रेलवे स्टेशन आदि का विस्तार से जिक्र किया।

इसके बाद सरकार की उपलब्धियों को दर्शाती एक शॉर्ट फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया और उसके बाद रात्रिभोज का कार्यक्रम हुआ। इस कार्यक्रम में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर, रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. सुधांशु त्रिवेदी, भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी, मुख्य प्रवक्ता एवं राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ राजनेता और राज्यसभा के पूर्व सदस्य सैयद जफर इस्लाम, पूर्व पत्रकार व राजनेता शाजिया इल्मी समेत पार्टी के तमाम वरिष्ठ लीडर शामिल हुए।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

PM मोदी के नेतृत्व में सरकार के नौ साल पूरे, BJP ने इस कार्यक्रम में गिनाईं उपलब्धियां

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार के नौ साल पूरे होने के उपलक्ष्य में पार्टी के शीर्ष नेताओं ने 25 और 26 मई को दिल्ली में एक बड़ा आयोजन किया और सरकार की उपलब्धियां गिनाईं।

Last Modified:
Saturday, 27 May, 2023
BJP

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार के नौ साल पूरे होने के उपलक्ष्य में पार्टी के शीर्ष नेताओं ने 25 और 26 मई को एक बड़ा आयोजन किया और सरकार की उपलब्धियां गिनाईं।

दिल्ली के ‘द अशोका’ होटल में आयोजित इस कार्यक्रम में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर, रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ राष्ट्रीय प्रवक्ता डॉ. सुधांशु त्रिवेदी, भाजपा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी, मुख्य प्रवक्ता एवं राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी, भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ राजनेता और राज्यसभा के पूर्व सदस्य सैयद जफर इस्लाम, पूर्व पत्रकार व राजनेता शाजिया इल्मी समेत पार्टी के तमाम वरिष्ठ लीडर शामिल हुए।

इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए जेपी नड्डा का कहना था, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार के नौ साल का कार्यकाल पूरा होने के उपलक्ष्य में इस कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। आप सभी लोग यहां उपस्थित हुए, इसके लिए मैं आपका आभारी हूं।’

वहीं, केंद्रीय रेलमंत्री अश्विनी वैष्णव ने एक स्लाइड शो के जरिये सरकार की उपलब्धियां बताते हुए नौ साल के अंदर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार द्वारा किए गए तमाम प्रमुख कार्यों का ब्योरा दिया। इसके बाद सरकार की उपलब्धियों को दर्शाती एक शॉर्ट फिल्म का प्रदर्शन भी किया गया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

लोकमत मीडिया ग्रुप के चेयरमैन विजय दर्डा की किताब का 30 मई को होगा विमोचन

लोकमत मीडिया ग्रुप के चेयरमैन व पूर्व राज्यसभा सांसद की किताब- रिंगसाइड: अप, क्लोज एंड पर्सनल ऑन इंडिया एंड बियॉन्ड जल्द ही मार्केट में दस्तक देगी।

Last Modified:
Thursday, 25 May, 2023
VijayDardaBook4541

लोकमत मीडिया ग्रुप के चेयरमैन व राज्यसभा के पूर्व सदस्य विजय दर्डा की किताब- रिंगसाइड: अप, क्लोज एंड पर्सनल ऑन इंडिया एंड बियॉन्ड (RINGSIDE: Up, Close & Personal on India & Beyond) जल्द ही मार्केट में दस्तक देगी। 30 मई को इस किताब का विमोचन किया जाएगा।

यह कार्यक्रम मंगलवार, 30 मई 2023 को शाम 4.30 बजे नई दिल्ली स्थित कांस्टीट्यूशन क्लब ऑफ इंडिया के स्पीकर हॉल में आयोजित किया जाएगा। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व लोकसभा सांसद डॉ. शशि थरूर इस किताब का विमोचन करेंगे। प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के पूर्व मीडिया सलाहकार व पूर्व संपादक संजय बारू भी इस गरिमामयी शाम में उपस्थित होकर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाएंगे।

इंडिया टुडे टेलीविजन के कंसल्टिंग एडिटर व पद्मश्री से सम्मानित वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई इस कार्यक्रम के दौरान विजय दर्डा से उनकी किताब को लेकर चर्चा करेंगे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मनाली में महिला पत्रकार से मारपीट, FIR दर्ज कर जांच में जुटी पुलिस

हिमाचल प्रदेश के मनाली में गोवा की महिला पत्रकार से मारपीट का मामला सामने आया है। महिला पत्रकार ने आरोप लगाया है कि करीब 20 लोगों ने उसके साथ मारपीट की है।

Last Modified:
Tuesday, 23 May, 2023
FIR

हिमाचल प्रदेश के मनाली में गोवा की महिला पत्रकार से मारपीट का मामला सामने आया है। महिला पत्रकार ने आरोप लगाया है कि करीब 20 लोगों ने उसके साथ मारपीट की है। महिला पत्रकार ने इस मामले में मनाली थाने में एफआईआर दर्ज कराई है। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

जाह्नवी पत्नी अनसान सनी उम्र 31 वर्ष निवासी गोवा ने पुलिस को दी शिकायत में कहा है कि वह पत्रकार हैं और 28 मार्च 2023 से मनाली गांव में रह रही हैं। जाह्नवी के अनुसार, वह किराए पर स्कूटी लेकर पति के साथ वशिष्ठ मंदिर गई थीं। वशिष्ठ मंदिर से आगे एक गली में स्कूटी पार्क करने को लेकर एक युवक ने एतराज जताया तो उनके पति स्कूटी पार्क करने के लिए दूसरी जगह चले गए। इस बीच उस युवक ने उनके साथ मारपीट और गालीगलौज की। पति के लौटकर आने पर वह युवक उनसे भी उलझ पड़ा और मारपीट की। इससे उनके पति को चोटें आई हैं।

जाह्नवी के अनुसार, इस दौरान उनकी सहेली अरुणिमा कौशिक व स्टेटली जैन भी आ गए। इस बीच स्थानीय लोगों ने उस युवक को वहां से हटा दिया। इसके बाद ग्रामीण उनसे ही उलझने लगे। इसके बाद करीब 20 लोगों ने उनके साथ मारपीट की।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस का कहना है कि शांति भंग करने तथा मारपीट करने वालों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा और उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार डॉ. दिग्विजय सिंह के बेटे को कैंसर, मदद की अपील

वरिष्ठ पत्रकार डॉ. दिग्विजय सिंह के 12 साल के बेटे श्रियांश वत्स को कैंसर हो गया है

Last Modified:
Monday, 15 May, 2023
DigvijaySingh4545

वरिष्ठ पत्रकार डॉ. दिग्विजय सिंह के 12 साल के बेटे श्रियांश वत्स को कैंसर हो गया है। श्रियांश नोएडा के कैंब्रिज स्कूल का छात्र है। बच्चे का ट्रीटमेंट दिल्ली के राजीव गांधी कैंसर अस्पताल में चल रहा है। डॉक्टरों ने इलाज का खर्च 20 लाख रुपए से ज्यादा बताया है। वरिष्ठ पत्रकार दिग्विजय सिंह पैसे जुटाने के लिए हर तरह से प्रयासरत हैं। लिहाजा उन्होंने लोगों से मदद की अपील भी की है।

दिग्विजय सिंह की पत्नी तूलिका सिंह भी पत्रकार फ्रीलांस जर्नलिस्ट के तौर पर कार्यरत हैं।

वर्ष 2001 में पत्रकारिता की पारी शुरू करने वाले डॉ. दिग्विजय सिंह अपने दो दशक के लंबे करियर में ‘न्यूज वन इंडिया’, ‘आजतक’, ‘स्टार न्यूज’, ‘आईबीएन7’, ‘जी न्यूज’,  ‘न्यूज नेशन’ और ‘इंडिया टीवी’ जैसे चैनलों में अहम जिम्मेदारियां निभा चुके हैं। वह ‘दैनिक भास्कर’ ग्रुप की रेडियो डिवीजन ‘माई एफएम’ के लिए भी बतौर स्क्रिप्ट राइटर काम कर चुके हैं।

इसके अलावा उन्होंने ‘सोनी टीवी’ के शो प्रायश्चित, अदालत और ‘इमेजिन टीवी’ के चर्चित शो राखी का इंसाफ की क्रिएटिव टीम का नेतृत्व किया है। पत्रकार होने के साथ साथ डॉ. दिग्विजय सिंह कविता और कहानियों का लेखन भी करते हैं।

यहां दिग्विजय सिंह की पत्नी तूलिका सिंह का अकाउंट नंबर और फोनपे स्कैनर दिया गया है। आप यथासंभव मदद कर सकते हैं।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

HC ने दिया 'सुदर्शन न्यूज' व सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को इस तरह की खबरें हटाने का निर्देश

दिल्ली हाई कोर्ट सुदर्शन न्यूज सहित कुछ न्यूज चैनलों और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को एक मुस्लिम व्यक्ति पर जबरन धर्मांतरण का आरोप लगाने वाली खबरों को हटाने का आदेश दिया है।

Last Modified:
Saturday, 13 May, 2023
Delhi HC

दिल्ली हाई कोर्ट सुदर्शन न्यूज सहित कुछ न्यूज चैनलों और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को एक मुस्लिम व्यक्ति पर जबरन धर्मांतरण का आरोप लगाने वाली खबरों को हटाने का आदेश दिया है। कोर्ट ने दिल्ली पुलिस, यूट्यूब, गूगल, ट्विटर, सुदर्शन न्यूज, ओडिशा टीवी, भारत प्रकाशन और सुरेश चव्हाणके को नोटिस भी जारी किया है।

जस्टिस प्रतिभा सिंह की बेंच अजमत अली खान द्वारा दायर उस याचिका पर सुनवाई कर रही थीं, जिसमें यह मांग की गई है कि 19 अप्रैल को उसके खिलाफ एक महिला की ओर से जबरन धर्मांतरण की शिकायत को लेकर दर्ज एफआईआर से संबंधित खबरें हटाने का निर्देश दिया जाए।

याचिका में कहा गया है कि इस मामले में दिल्ली पुलिस अभी जांच कर रही है और ऐसे में इस संबंध में सुदर्शन न्यूज और दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर खबरें चलाकर जांच को प्रभावित करने की कोशिश की जा रही है और वीडियो का प्रसार स्वतंत्र जांच के साथ-साथ उनकी सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा बन रहा है।

वहीं, सुनवाई के दौरान गूगल ने कहा कि इस मामले में एफआईआर पहले ही दर्ज की जा चुकी है, ऐसे में वीडियो अपलोड करने वाले का भी पक्ष सुना जाना चाहिए।

सुनवाई के दौरान न्यूज ब्रॉडकास्टर एसोसिएशन (NBDA) ने कहा कि जिस चैनल को प्रतिवादी बनाया गया है, वह उसके संगठन का सदस्य नहीं है।

वहीं, दूसरी ओर, प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया की ओर से पेश वकील ने कहा कि खान के 9 मई के ई-मेल में समाचार रिपोर्टों के लिंक शामिल हैं, इस पर गौर किया जाएगा। साथ यह भी कहा कि वह केवल छपी हुई खबरों पर ही गौर करता है, वेबसाइट पर अपलोड हुई सामग्री पर नहीं। उसके बाद कोर्ट ने यूट्यूब, गूगल, ट्विटर, सुदर्शन टीवी, ओडिशा टीवी, भारत प्रकाशन और सुरेश चव्हाणके को नोटिस जारी कर दिया। 

कोर्ट ने दिल्ली पुलिस को भी नोटिस जारी किया और मामले में की गई जांच के संबंध में स्टेटस रिपोर्ट रिकॉर्ड पर रखने का निर्देश दिया। जस्टिस सिंह ने दिल्ली पुलिस की ओर से पेश वकील से शिकायतकर्ता से संपर्क करने और याचिका के लंबित होने के बारे में उसे सूचित करने को भी कहा है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

स्वराज की आवाज उठाने वाले माधवराव सप्रे को वरिष्ठ पत्रकार राजेश बादल ने यूं किया याद

सप्रे जी पत्रकारिता के ऐसे पूर्वज हैं, जिन्होंने महात्मा गांधी से भी कई बरस पहले पूर्ण स्वराज और हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए अभियान छेड़ा था।

Last Modified:
Thursday, 11 May, 2023
PtMadhavraoSapre455

राजेश बादल, वरिष्ठ पत्रकार ।।

भोपाल का माधवराव सप्रे स्मृति समाचार संस्थान हिन्दुस्तान ही नहीं, समूचे विश्व में अनूठा है। यहां करोड़ों पन्नों में इस मुल्क की अद्भुत और दुर्लभ दास्तानें सुरक्षित हैं। पद्मश्री विजय दत्त श्रीधर ने यह अनमोल उपहार हमें सौंपा है। इसी नायाब अभिलेखागार में माधवराव सप्रे की याद में ग्यारह और बारह मई को शानदार जलसा हो रहा है। इसमें देशभर के अनेक विद्वान हिस्सा लेने आ रहे हैं। प्रसंग के तौर पर बता दूं कि सप्रे जी पत्रकारिता के ऐसे पूर्वज हैं, जिन्होंने महात्मा गांधी से भी कई बरस पहले पूर्ण स्वराज और हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने के लिए अभियान छेड़ा था। 

अब बात हो जाए सप्रे जी की पत्रकारिता के बारे में-

आजादी से पहले हिंदी और हिंदी पत्रकारिता के विकास में गैर हिंदीभाषियों का योगदान अद्भुत और अविस्मरणीय है। इनमें महात्मा गांधी, कन्हैया लाल मानक लाल मुंशी, सी राजगोपालाचारी, प्रेमचंद और सरदार भगत सिंह जैसे कई नाम हैं। लेकिन माधवराव सप्रे का नाम सबसे ऊपर है। उस गुलाम हिन्दुस्तान में उन्होंने कलम और विचारों से लोगों को जगाने का जो काम किया, दुनिया के इतिहास में उसकी कोई मिसाल नहीं है। दरअसल माधव राव सप्रे भारतीय स्वाधीनता संग्राम के क्षितिज पर महात्मा गांधी के उदय से पहले बहुत बड़ा नाम था। उन्होंने 13 अप्रैल 1907 से लोकमान्य तिलक के लोकप्रिय मराठी केसरी का हिंदी में ‘हिंदी केसरी’ नाम से प्रकाशन किया। इसका उद्देश्य था- राजनीतिक गुलामी दूर करके पूर्ण स्वराज प्राप्त करना। ‘हिंदी केसरी’ में स्वतंत्रता सेनानियों का खुला समर्थन होता था, स्वराज हासिल करने के तरीकों पर वैचारिक आलेख छपते थे। स्वदेशी का प्रचार और विदेशी का बहिष्कार करने के लिए प्रेरित करने वाला साहित्य छपता था। गोरी सरकार ये तेवर बर्दाश्त नहीं कर पाई। आखिरकार सप्रे जी और सहयोगी संपादक कोल्हटकर को गिरफ्तार कर लिया गया। उन पर राजद्रोह का मुकदमा चलाया गया। वे जेल में डाल दिए गए।

अलौकिक आभा से पत्रकारिता दमकती है पर, हिंदी केसरी उनका पहला शाहकार नहीं था। हिंदी केसरी से साल भर पहले उन्होंने नागपुर से मई 1907 में ‘हिंदी ग्रन्थमाला’ का प्रकाशन शुरू किया था। इसके लिए हिंदी ग्रन्थ प्रकाशन मण्डली का गठन किया गया था। उसमें भारत को आजाद कराने वाले ओजस्वी लेख प्रकाशित किए जाते थे। इस कड़ी में सप्रे जी के एक आलेख स्वदेशी आंदोलन और बायकॉट ने तो अवाम को झकझोर दिया था। जिस अंक में यह लेख छपा था, उस पर बंदिश लगा दी गई थी। ऐसे ही तेज तर्राट लेखों ने गोरी हुकूमत को हिला दिया था। गोरे इनसे भयभीत रहते थे। अंग्रेज सरकार ने डाकखाने से उन ग्राहकों के डाक के पते हासिल किए, जिन्हें हिंदी ग्रंथमाला के अंक भेजे जाते थे। फिर उन्हें मजबूर किया गया कि वे सप्रे संपादित ग्रंथमाला को मंगाना बंद कर दें। यही नहीं, सरकारी कर्मचारियों से कहा जाता था कि वे इन अंकों को पढ़ना बंद कर दें। यदि उनके पास ये अंक पाए जाते तो उन्हें नौकरी से बर्खास्त कर दिया जाता। इसके बाद पुलिस उनके खिलाफ मामला दर्ज करती और तीन साल के लिए वे जेल में डाल दिेए जाते। हिंदी ग्रंथमाला से पहले उन्होंने छत्तीसगढ़ के पेंड्रा रोड से सन 1900 की जनवरी में छत्तीसगढ़ मित्र का प्रकाशन प्रारंभ किया था। यह एक वैचारिक पत्रिका थी। कहा जा सकता है कि हिंदी में समालोचना का प्रारंभ छत्तीसगढ़ मित्र ने ही किया। हिंदी के अनेक जाने-माने लेखक इस पत्रिका में लिखते थे।

सप्रे जी ने 1904 में अर्थशास्त्र जैसे कठिन विषय की आसान शब्दावली तैयार कर दी थी। इस शब्दावली में अंग्रेजी के 1320 शब्दों के लिए हिंदी के 2115 नए शब्द गढ़े गए थे। दो साल बाद यह वैज्ञानिक शब्दकोश छपकर सामने आया। हिंदी भाषा इसके बाद बेहद अमीर हो गई। माधवराव सप्रे ने अपने छत्तीसगढ़ मित्र में छह कहानियां लिखीं। बाद में इन कहानियों को देवी प्रसाद वर्मा ने एक संकलन के रूप में प्रकाशित किया। इनमें एक टोकरी भर मिट्टी को हिंदी की पहली मौलिक कहानी माना गया। बताने की जरूरत नहीं कि एक भारतीय आत्मा के नाम से विख्यात दादा माखनलाल चतुर्वेदी, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे पंडित द्वारिका प्रसाद मिश्र और संविधान सभा के सदस्य रहे महान हिंदी सेवी सेठ गोविन्द दास के लेखन और पत्रकारिता को सप्रे जी ने ही तराशा था। पिछले साल इन्हीं विलक्षण माधवराव सप्रे के जन्म का 150वां साल था।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दुनिया को अलविदा कह गए 'द सोशल स्ट्रीट' के प्रताप बोस

इंटीग्रेटिड एडवर्टाइजिंग एजेंसी 'द सोशल स्ट्रीट' (The Social Street) के प्रताप बोस का निधन हो गया है। उन्होंने बुधवार यानी सुबह गुरुग्राम में अंतिम सांस ली।

Last Modified:
Wednesday, 10 May, 2023
Pratapbose51

इंटीग्रेटिड एडवर्टाइजिंग एजेंसी 'द सोशल स्ट्रीट' (The Social Street) के प्रताप बोस का निधन हो गया है। उन्होंने बुधवार यानी आज सुबह गुरुग्राम में अंतिम सांस ली।

बता दें कि बोस के परिवार में उनकी पत्नी और दो बच्चे हैं। तीन महीने पहले ही उन्हें एक बड़ी बीमारी का पता चला था और हाल ही में उनकी हालत ज्यादा खराब हो गई थी।

बोस ने 2015 में मार्केटिंग कम्युनिकेशन एजेंसी 'द सोशल स्ट्रीट' की सह-स्थापना की, लेकिन 2020 में उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। उन्होंने बता दें कि बोस ने ‘डीडीबी मुद्रा’ (DDB Mudra) से अलग होने के बाद जून 2015 में ‘द सोशल स्ट्रीट’ की स्थापना की थी। 'डीडीबी मुद्रा' में वह सीओओ के पद पर कार्यरत थे। वह पिछले 3.5 सालों से ऐडवर्टाइजिंग व मार्केटिंग कंसल्टेंट थे।

बोस 17 साल तक ओगिल्वी एंड माथर इंडिया ( Ogilvy & Mather India) के साथ भी रहे और विभिन्न पदों पर रहते हुए यहां अपना योगदान दिया। वह 2006 में इस कंपनी में सबसे कम उम्र के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर बने।

बोस पूर्व में ‘द एडवर्टाइजिंग क्लब’ (The Advertising Club) के प्रेजिडेंट भी रह चुके हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस साल इन पत्रकारों को मिला ‘देवऋषि नारद सम्मान'

‘इन्द्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र’ के तत्वावधान में आठ मई, 2023 को आयोजित एक समारोह में विभिन्न श्रेणियों में 11 पत्रकारों को पत्रकारिता जगत में उनके उल्लेखनीय योगदान के लिए इस सम्मान से नवाजा गया।

Last Modified:
Monday, 08 May, 2023
Narad Award

‘इन्द्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र’ (IVSK) के तत्वावधान में आठ मई, 2023 को ‘देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान‘ समारोह का आयोजन किया गया। नई दिल्ली के कस्तूरबा गांधी मार्ग स्थित महाराष्ट्र भवन के सभागार में आयोजित इस समारोह में विभिन्न श्रेणियों में 11 पत्रकारों को पत्रकारिता जगत में उनके योगदान के लिए  इस सम्मान से नवाजा गया। इस कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के अखिल भारतीय सह प्रचार प्रमुख नरेन्द्र ठाकुर मुख्य वक्ता तथा प्रो. एस पी सिंह बघेल, राज्यमंत्री, विधि एवं न्याय मंत्रालय, भारत सरकार मुख्य अतिथि के रूप में शामिल हुए। उदय माहुरकर, लेखक, इतिहासकार एवं सूचना आयुक्त, केन्द्रीय सूचना आयोग ने कार्यक्रम की अध्यक्षता की। कार्यक्रम की शुरुआत दीप प्रज्जवलन से हुई। 

बता दें कि देवऋषि नारद जी की जयंती के अवसर पर समाज में मीडिया एवं पत्रकारिता जगत के अमूल्य योगदान को सम्मान देने के लिए ‘इन्द्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र’ द्वारा हर साल देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान समारोह का आयोजन किया जाता है। वर्ष 2009 में इस कार्यक्रम की शुरुआत हुई थी। तब से हर वर्ष यह कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। हालांकि, कोरोना महामारी के कारण वर्ष 2020 और 2021 में इसका आयोजन नहीं हो सका था। इस साल इस आयोजन का 13वां एडिशन था।

जिन पत्रकारों को इस साल इस सम्मान से नवाजा गया। उनके नाम इस प्रकार हैं।

: स्वाति गोयल को स्त्री सरोकार/महिला संवेदना पत्रकारिता देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान- ‘स्वराज’ मैगजीन में वरिष्ठ संपादक के पद पर कार्यरत स्वाति गोयल शर्मा ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ और  ‘हिन्दुस्तान टाइम्स’ जैसे प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में भी अपनी भूमिका निभा चुकी हैं।  

: डॉ. ओम प्रकाश यादव को ग्रामीण पत्रकारिता देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान- ‘दूरदर्शन समाचार’ (DD News) में संपादक के पद पर कार्यरत डॉ. ओम प्रकाश यादव कृषि एवं ग्रामीण विकास पर तमाम स्टोरी कर चुके हैं।  

: मनु त्यागी को देवऋषि नारद न्यूज रूम सहयोग सम्मान-‘दैनिक जागरण’ में चीफ सब एडिटर मनु त्यागी को पत्रकारिता का एक दशक का अनुभव है। दिल्ली-एनसीआर में कार्यरत रिपोर्टर्स के साथ समन्वय करके वह खबरों को नए रूप में प्रस्तुत करने में मदद करती हैं। वह दैनिक जागरण की फीचर पेज टीम का भी अहम हिस्सा हैं।  

: नरेन्द्र कुमार वर्मा को डिजिटल पत्रकार देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान- करीब 25 साल से पत्रकारिता के विभिन्न माध्यमों में कार्यरत रहे नरेन्द्र कुमार वर्मा वर्तमान में कई वेबसाइट्स और वेब चैनल्स में कंटेंट प्रदान करने का काम करते हैं। हरिद्वार कुंभ 2021 पर बनी उनकी डॉक्यूमेंट्री को जयपुर फिल्म फेस्टिवल में सम्मानित किया गया था। पत्रकारिता, राजनीतिक और सामाजिक विषयों पर उनकी 12 किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं।

: शिवम दीक्षित को डिजिटल मीडिया देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान- ‘पांचजन्य’ में उपसंपादक शिवम दीक्षित करीब एक दशक से पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्यरत हैं। दिल्ली के जहांगीरपुरी इलाके में हुई हिंसा के मुख्य आरोपी अंसार खान की साजिश को शिवम दीक्षित ने अपनी स्टोरी में बेनकाब किया था।  

: ध्रुव कुमार को उत्कृष्ट छायाकार (प्रिंट) देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान- ‘दैनिक जागरण’ अखबार में चीफ फोटो जर्नलिस्ट के पद पर कार्यरत ध्रुव कुमार करीब 23 साल से अखबारों के लिए तस्वीरें क्लिक कर रहे हैं। दिल्ली में बम ब्लास्ट के दौरान उनके द्वारा खींची गई तस्वीरों ने सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया था।

: अमित कुमार को उत्कृष्ट छायाकार (टी.वी) देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान- ‘न्यूज नेशन’ टीवी चैनल में वरिष्ठ कैमरामैन के पद पर कार्यरत अमित कुमार को राजनीतिक खबरों की लाइव रिपोर्टिंग में महारत हासिल है। उनके द्वारा रूस-यूक्रेन युद्ध की लाइव कवरेज भी की गई, जहां मिसाइल हमलों के बीच उन्होंने कुशलता के साथ फिल्मांकन का काम पूरा किया।

: हर्षवर्धन त्रिपाठी को उत्कृष्ट स्तम्भकार देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान- हर्षवर्धन त्रिपाठी इंडियन स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी में विजिटिंग प्रोफेसर हैं। देश के तमाम सरकारी व निजी पत्रकारिता विश्वविद्यालयों के साथ वह अतिथि प्रोफेसर के तौर पर जुड़े हुए हैं। राजनीतिक एवं आर्थिक विषयों पर उनके आलेख नियमित तौर पर अखबारों में प्रकाशित होते रहते हैं। टीवी चैनल्स के डिबेट शो में भी वह बेबाकी के साथ अपनी राय रखते हैं।

: एस. वेंकट नारायण को विदेशी पत्रकारिता (भारत संबंधित पत्रकारिता) देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान- एस. वेंकट नारायण ‘नेटवर्क सेवन’ टीवी चैनल के साउथ एशिया प्रमुख हैं। विदेशी मीडिया संस्थानों के साथ कार्य करने का उनके पास लंबा अनुभव है। उनके द्वारा कई देशों के राष्ट्राध्यक्षों के इंटरव्यू किए गए हैं। एस. वेंकट नारायण द्वारा आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एन.टी रामाराव की आत्मकथा भी लिखी गई है।

: सागर कुमार को उत्कृष्ट साहसिक पत्रकार देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान- सागर कुमार ‘सुदर्शन’ न्यूज चैनल में रिपोर्टर के पद पर कार्यरत हैं। उनके द्वारा लव जिहाद और गौतस्करों पर कई स्पेशल स्टोरी की गई हैं। पूर्वी दिल्ली में हुए दंगों में उनके द्वारा विदेशी मीडिया के दुष्प्रचार को बेनकाब किया गया था।  

इन सभी को प्रमाण पत्र, स्मृति चिन्ह, शॉल, पुस्तक तथा 11,000/- रुपये का चेक देकर सम्मानित किया गया।

इनके अलावा आदित्य राज कौल को उत्कृष्ट पत्रकार देवऋषि नारद पत्रकार सम्मान दिया गया। आदित्य राज कौल ‘टीवी9’ में राष्ट्रीय सुरक्षा एवं रणनीतिक मामलों के कार्यकारी संपादक हैं। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के हटने के बाद उनके द्वारा की गई खबरों को बहुत सराहा गया। यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच भारतीयों की स्वदेश वापसी पर उन्होंने विदेश मंत्री एस. जयशंकर से भारतीय रणनीति पर खुलकर चर्चा की। इन्हें प्रमाण पत्र, स्मृति चिन्ह, शाल, पुस्तक तथा 51,000/- रुपये का चेक देकर सम्मानित किया गया।

विभिन्न श्रेणियों में प्राप्त प्रविष्टियों का अध्ययन कर सम्मानित होने वाले पत्रकारों का चयन करने के लिए एक सम्मानित निर्णायक मंडल (जूरी) का गठन किया गया था। निर्णायक मंडल में कंचन गुप्ता, वरिष्ठ सलाहकार, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार; मयंक अग्रवाल, पूर्व सीईओ प्रसार भारती एवं प्रधान महानिदेशक दूरदर्शन एवं दूरदर्शन न्यूज; विष्णु प्रकाश त्रिपाठी, कार्यकारी संपादक, दैनिक जागरण; प्रिया कुमार, महानिदेशक, दूरदर्शन न्यूज़; प्रफुल्ल केतकर, संपादक, ऑर्गनाइजर; हितेश शंकर, संपादक, पांचजन्य; आनंद नरसिम्हन, प्रबंध संपादक, नेटवर्क 18; अतुल जैन, सामाजिक कार्यकर्त्ता तथा एवं महासचिव, दीनदयाल शोध संस्थान; नुपुर जे शर्मा, प्रधान संपादक, ऑप इंडिया शामिल थीं।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि प्रो. एस पी सिंह बघेल का कहना था कि देव ऋषि नारद पत्रकार सम्मान दिल्ली-एनसीआर के पत्रकारों के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण सम्मान है। वहीं, मुख्य वक्ता नरेन्द्र ठाकुर ने कहा कि मीडिया सहित समाज के सभी क्षेत्रों में स्व (भारतीयता) के भाव को जागृत करना होगा। वहीं, विशिष्ट अतिथि तथा समारोह की अध्यक्षता कर रहे उदय माहुरकर ने कहा कि 60 सालों तक देश में एक खास विचारधारा का प्रभाव हर क्षेत्र में दिखता था। उस वातावरण में सत्य के लिए संघर्ष करना पड़ता था। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए निर्णायक मंडल के अध्यक्ष कंचन गुप्ता ने चयन प्रक्रिया से अवगत कराया।

कार्यक्रम में प्रशांत जैन, समाजसेवी एवं चेयरमैन इंडिका पब्लिशर एवं किताबवाले की गरिमामय उपस्थिति रही। कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उत्तर क्षेत्र प्रचार प्रमुख अनिल, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के दिल्ली प्रान्त कार्यवाह भारत, दिल्ली प्रान्त प्रचारक जतिन, दिल्ली विश्व हिंदू परिषद् के अध्यक्ष कपिल खन्ना, सुदर्शन न्यूज के प्रधान संपादक सुरेश चौहानके, आईटीवी नेटवर्क के फाउंडर तथा राज्यसभा सदस्य कार्तिकेय शर्मा, दैनिक जागरण के एग्जिक्यूटिव एडिटर विष्णु गुप्ता, दूरदर्शन के महानिदेशक प्रिया कुमार और 'आईआईएमसी' के महानिदेशक प्रो.संजय द्विवेदी समेत बड़ी संख्या में पत्रकार शामिल हुए। इन्द्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र के उपाध्यक्ष रीतेश अग्रवाल ने इन्द्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र का परिचय दिया तथा इन्द्रप्रस्थ विश्व संवाद केंद्र के अध्यक्ष अशोक सचदेवा ने धन्यवाद ज्ञापन दिया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए