'रियलिटी प्लस' के कार्यक्रम में जुटे रियल एस्टेट जगत के दिग्गज, मिले अवॉर्ड्स

दिल्ली के एयरोसिटी स्थित होटल पुलमैन (Pullman) में 11 अक्टूबर को 10वीं रियलिटी प्लस कॉन्क्लेव और एक्सीलेंस अवॉर्ड्स-नॉर्थ 2018 का आयोजन...

Last Modified:
Monday, 15 October, 2018
city plus

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

10वीं रियलिटी प्लस कॉन्क्लेव और एक्सीलेंस अवॉर्ड्स-नॉर्थ 2018 का आयोजन 11 अक्टूबर को दिल्ली के एयरोसिटी स्थित होटल पुलमैन (Pullman) में किया गया। इस मौके पर रियल एस्टेट, ब्रैंडिंग और आर्किटेक्चर जगत की जानी-मानी हस्तियां मौजूद रहीं। कॉन्क्लेव की थीम ‘Indian Realty: Stealing the spotlight’ रखी गई थी और इसके तहत दिन भर सेशंस का दौर चला। इसमें तीन पैनल डिस्कशन भी हुए।

कॉन्क्लेव का मुख्य आकर्षण दो सेशन थे। पहले सेशन में ‘The confluence of design and real estate sector’ विषय पर देश के टॉप आर्किटेक्ट ने अपने-अपने विचार रखे। इस सेशन के मुख्य वक्ताओं में बॉबी मुखर्जी (Principal Architect & Founder, Bobby Mukherji& Associates), मनित रस्तोगी (Founder & Partner, Morphogenesis), राहुल कुमार (Principal Architect- Rajinder Kumar Associates) आदि शामिल थे। इस सेशन का संचालन पंकज आर. धारकर (Director, Pankaj Dharkar& Associates) ने किया।

दूसरे सेशन में डॉ. अनुराग बत्रा (Chairman & Editor-In-Chief, BusinessWorld & exchange4media Group), अमित वाधवानी (Managing Director Sai Estate Consultantsant)  जैसे दिग्गज शामिल थे।इस सेशन में देश-विदेश के रियल एस्टेट और आर्किटेक्चर बिजनेस के बारे में चर्चा की गई।  

कॉन्क्लेव के बाद रियलिटी प्लस कॉन्क्लेव और एक्सीलेंस अवॉर्ड्स का आयोजन हुआ। भाजपा प्रवक्ता शाजिया इल्मी ने बतौर अतिथि कार्यक्रम को संबोधित किया। इसके बाद ‘Scroll of Honor’ की प्रस्तुति की गई। इसे पाने वालों में पंकज आर. धारकर (Director,Pankaj Dharkar& Associates), राहुल कुमार (Principal Architect- Rajinder Kumar Associates), मनित रस्तोगी (Founder & Partner, Morphogenesis) और बॉबी मुखर्जी (Principal Architect & Founder, Bobby Mukherji& Associates) शामिल थे।

पुरस्कार पाने वालों 
की लिस्ट आप यहां देख सकते हैं-

Real Estate Projects

Low Cost Housing Project of the year: Berry Developers & Infrastructure Pvt Ltd for  BDI Ananda

Affordable Housing Project of the year: Signature Global for Solera

Mid-Segment Project of the Year: Ashiana Homes for Ashiana Mulberry

Luxury Project of the Year: Ashiana Homes for The Centre Court

Ultra Luxury-Lifestyle Project of the Year: Central Park for Central Park Resorts &

Ultra Luxury-Lifestyle Project of the Year: Non-Metro –Auramah Valley

Iconic Project of the Year :Kalpataru Limited for Kalpataru Vista

Commercial Project of the year: M3M Group for M3M IFC

Retail Project of the Year: DLF Group Ltd. for DLF Mall of India

Integrated townshipproject of the Year: Central Park for Central Park Flower Valley

Themed project of the year: Ashiana Housing for Ashiana Umang Jaipur

Residential Project of the Year: Vipul Group for Vipul AarohanResideny

Green Project of the Year : DLF Group Ltd. for DLF Mall of India

Second Category – Builders & Developers

Developer of the Year – Retail: Virtuous Retail

Developer of the Year – Town Ship Non Metro: Omaxe Limited   for Omaxe New Chandiagrh

Developer of the Year – Excellence in Delivery: Gulshan Homz for Gulshan Ikebana

Architects Awards

Sustainable design Architect of the Year: AEON Design & Development for FACULTY HOUSING at Shiv Nadar University, Dadri

Design Project of the Year: Brahma Group & Adani Realty for Miracle Mile

Individual Achievement Awards

CXO of the Year: Pradeep Aggarwal, Chairman and Co-founder, Signature Global

Woman CXO of the year: Ananta Singh Raghuvanshi, Senior Director-India, Damac Properties Co LLP

Young Achiever of the year: Ssumit Berry, Managing Director, Berry Developers & Infrastructure Pvt Ltd

Branding & Marketing

Innovative Marketing Concept of the Year: M3M Group for ‘Zero Rent Zero EMI’ Campaign

Advertising Agency of the Year: Alchemist Marketing Talent Solutions

Electronic Media Campaign of the Year (Radio/TV): Signature Global for Signature Global Corporate TVC

Real-Estate Website of the Year: Ashiana Housing Ltd.

Realty Consultant Awards

Property Consultant of the Year: CBRE South Asia Private Limited for Brookfield N1, Noida

CSR Excellence Awards:Eros Group for Abhilasha Scholarship for girls | Green Drive with IFFCO KISAN

यहां देखें तस्वीरें-












.... 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार की पीट-पीटकर हत्या, पोल्ट्री फार्म से मिला शव

बिहार में आपराधिक घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रहीं हैं। इस बीच सुपौल से एक बड़ी खबर सामने आयी है। यहां एक पत्रकार की हत्या कर दी गयी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 26 September, 2022
Last Modified:
Monday, 26 September, 2022
Journalist5481

बिहार में आपराधिक घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रहीं हैं। इस बीच सुपौल से एक बड़ी खबर सामने आयी है। यहां एक पत्रकार की हत्या कर दी गयी। बताया जा रहा कि पत्रकार महाशंकर पाठक की पीट-पीटकर हत्या की गई। अपराधियों ने खुलेआम इस बड़ी घटना को अंजाम दिया है।   

जानकारी के मुताबिक, सुपौल जिला के हुलास गांव स्थित पोल्ट्री फार्म से बिहार के वरिष्ठ पत्रकार महाशंकर का शव बरामद किया गया है। महाशंकर ‘सौभाग्य मिथिला’, ‘राष्ट्रीय प्रसंग’ समेत कई संस्थानों से जुड़े रहे। वे खुद भी ‘आर्यव्रत प्रसंग’ नाम से पत्रिका निकालते थे। इसी बीच उन्होंने पोल्ट्री फार्म शुरू किया। ये फार्म राघोपुर थाना इलाके के राधानगर गांव के पास स्थित है। 

बता दें कि पत्रकार महाशंकर की हत्या का आरोप फार्म में काम करने वाले एक दंपती पर लगा है। वारदात के बाद से आरोपी फरार हैं, पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

घटना के बारे में बताया जा रहा है कि किसी बात पर अपने ही कर्मचारी से उनकी अनबन हो गई। रविवार सुबह जब वे फार्म पर पहुंचे तो कई घंटों तक वापस नहीं लौटे। कुछ देर के बाद लोगों ने पाया कि फार्म में बाहर से ताला मारा हुआ है।  घटना के बाद परिजनों में कोहराम मच गया है। आरोपी ने बेलचा से सिर पर कई वार कर महाशंकर को गंभीर रूप घायल कर दिया था, जिसके बाद  महाशंकर घायल अवस्था में अंदर अचेत पड़े हुए हैं। बेहतर इलाज के लिए उनको स्थानीय अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।  

महाशंकर पाठक का शव मिलते ही पुलिस टीम जांच में जुट गई है। वहीं बताया ये जा रहा कि महाशंकर पाठक के पोल्ट्री फार्म में काम करने वाले एक दंपती गुड्डू और उसकी पत्नी सविता ने वारदात को अंजाम दिया है। फार्म में काम करने वाले कर्मियों ने पुलिस पूछताछ में बताया कि कुछ दिन पहले ही महाशंकर पाठक ने इस दंपती को अंडों की चोरी के आरोप पर फटकार लगाई थी।

बताया जा राह कि ये दंपती फार्म में ही रहा करता था। आशंका जताई जा रही कि जिस तरह से उन्हें फटकार लगाई गई थी उसी से नाराज होकर दंपती ने पोल्ट्री फार्म मालिक की पीट-पीटकर हत्या कर दी। फिलहाल पुलिस ने इस मामले में कुछ भी साफ तौर से नहीं कहा है। मामले की जांच की जा रही है। इन्वेस्टिगेशन के बाद बाद ही अधिकारी इस पर कुछ स्पष्ट तौर पर कहेंगे। आरोपी दंपती की तलाश की जा रही है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

उपराष्ट्रपति से मिले MCU के वीसी प्रो. केजी सुरेश, विवि की उपलब्धियों से कराया अवगत

‘माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय’ भोपाल के कुलपति प्रो. केजी सुरेश ने उपराष्ट्रपति एवं विश्वविद्यालय के कुलाध्यक्ष जगदीप धनखड़ से नई दिल्ली में भेंट की।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 24 September, 2022
Last Modified:
Saturday, 24 September, 2022
Meeting

‘माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय’ भोपाल के कुलपति प्रो. केजी सुरेश ने उपराष्ट्रपति एवं विश्वविद्यालय के कुलाध्यक्ष जगदीप धनखड़ से नई दिल्ली में भेंट की। उप राष्ट्रपति निवास में हुई मुलाकात में प्रो. केजी सुरेश ने उन्हें विश्वविद्यालय की गतिविधियों से अवगत कराया । उल्लेखनीय है कि एशिया के पहले पत्रकारिता विश्वविद्यालय होने का गौरव रखने वाले माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के कुलाध्यक्ष देश के उपराष्ट्रपति हैं।

इस मुलाकात के दौरान प्रो. केजी सुरेश ने उपराष्ट्रपति को विश्वविद्यालय की गतिविधियों की जानकारी देते हुए बताया कि भोपाल के निकट बिशनखेड़ी में पचास एकड़ में स्वयं का भवन बनकर तैयार हो चुका है, और शीघ्र ही पूरा विश्वविद्यालय यहां शिफ्ट होने वाला है। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय में अकादमिक भवन, प्रशासनिक भवन, विशाल सभागार के साथ ही गर्ल्स हॉस्टल, बायस हॉस्टल, कैंटिन, कर्मचारियों,अधिकारियों, शिक्षकों के लिए कैंपस के भीतर ही निवास की भी सुविधा भी उपलब्ध है । इस साल पिछले वर्ष से ज्यादा विद्यार्थियों ने प्रवेश लिया है। विगत वर्ष एक लाख तीन हजार विद्यार्थियों ने विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया था।

कुलपति ने उपराष्ट्रपति को बताया कि विश्वविद्यालय ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अंतर्गत नए पाठ्यक्रमों को भी पिछले साल ही शुरु कर दिया है । उन्होंने बताया कि देश एवं राज्य में पत्रकारिता के पाठ्यक्रम को शुरु करने वाला भी यह देश का पहला विश्वविद्यालय है, जिसने बहुत तेजी से नेशनल एजुकेशन पॉलिसी को अपनाया । इसके साथ ही प्रो. केजी सुरेश ने बताया कि ‘इंडिया टुडे’ की टॉप-10 सूची में भी पत्रकारिता विश्वविद्यालय को शामिल किया गया है, उन्होंने कहा कि इस सूची में शामिल होने वाला यह देश का पहला हिंदी पत्रकारिता का संस्थान है ।

गौरतलब है कि ‘द वीक’ ने भी पत्रकारिता विश्वविद्यालय का नाम अपनी सूची में शामिल किया है। प्रो. केजी सुरेश ने उपराष्ट्रपति को बताया कि इसी वर्ष विवि के बिशनखेड़ी स्थित नवीन कैंपस में तीन दिवसीय राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का भी आयोजन हुआ था, जिसमें देश के ख्याति प्राप्त अभिनेता, निर्माता, निर्देशक, कलाकारों ने भाग लिया था और तत्पश्चात सिनेमा अध्ययन विभाग का गठन भी हुआ था। उपराष्ट्रपति ने विश्वविद्यालय की उपलब्धियों पर उत्सुकता एवं खुशी व्यक्त की । उन्होंने कुलपति प्रो. केजी सुरेश को उपलब्धियों के लिए बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए विश्वविद्यालय के प्रगति की कामना की और इससे संबंधित और जानकारी उपलब्ध कराने के लिए आग्रह कियाl

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस बीमारी ने निगल ली 'दैनिक भास्कर' के पत्रकार अमित मिश्रा की जिंदगी

फिलहाल झारखंड में ओरमांझी स्थित अब्दुल रज्जाक कैंसर हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा था, जहां शनिवार को उन्होंने अंतिम सांस ली।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 24 September, 2022
Last Modified:
Saturday, 24 September, 2022
Amit Mishra

झारखंड के वरिष्ठ पत्रकार अमित मिश्रा का शनिवार को निधन हो गया है। ‘दैनिक भास्कर’ में कार्यरत अमित मिश्रा कैंसर से पीड़ित थे। बताया जाता है कि अमित मिश्रा कैंसर के अंतिम स्टेज से गुजर रहे थे। कई जगह उन्होंने इलाज भी कराया, लेकिन ठीक नहीं हो पाए। फिलहाल ओरमांझी स्थित अब्दुल रज्जाक कैंसर हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा था, जहां उनका निधन हो गया।

अमित मिश्रा ने ‘ईटीवी’ सहित तमाम मीडिया प्रतिष्ठानों में काम किया था। भागलपुर स्मार्ट सिटी के पीआरओ के तौर पर भी उन्होंने अपनी सेवाएं दी थीं। उनके परिवार में पत्नी और एक बेटा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अमित मिश्रा के पिता ज्ञानवर्धन मिश्रा भी झारखंड- बिहार के वरिष्ठ पत्रकार हैं। वर्तमान में वह लगातार. इन और हिंदी दौनिक शुभम संदेश के धनबाद संपादक हैं।

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन समेत तमाम नेताओं और पत्रकारों ने अमित मिश्रा के निधन पर गहरा शोक जताते हुए ईश्वर से दिवंगत आत्मा की शांति एवं शोक संतप्त परिजनों को दु:ख की इस घड़ी को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है। अपने शोक संदेश में हेमंत सोरेन ने कहा है, ‘अमित मिश्रा का निधन पत्रकारिता जगत के लिए अपूरणीय क्षति है। अमित मिश्रा एक सुलझे हुए अनुभवी पत्रकार थे। उनके परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं हैं।’  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोई भी भाषा नहीं ले सकती 'मातृभाषा' की जगह: प्रो. द्विवेदी

गुवाहाटी में आयोजित एक पुस्तक विमोचन कार्यक्रम के दौरान आईआईएमसी के महानिदेशक ने कहा कि मातृभाषा में सोचने और बोलने से अभिव्यक्ति में आसानी होती है और हमारा आत्मविश्वास भी बढ़ता है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 24 September, 2022
Last Modified:
Saturday, 24 September, 2022
Pro. Sanjay Dwivedi

‘भारतीय जनसंचार संस्थान‘ (IIMC) के महानिदेशक प्रो. (डॉ.) संजय द्विवेदी का कहना है कि कोई भी भाषा किसी व्यक्ति की मातृभाषा की जगह नहीं ले सकती। हम अपनी मातृभाषा में सोचते हैं और उस पर हमारा स्वाभाविक अधिकार होता है। गुवाहाटी में आयोजित एक पुस्तक विमोचन कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा कि मातृभाषा में सोचने और बोलने से अभिव्यक्ति में आसानी होती है और हमारा आत्मविश्वास भी बढ़ता है। कार्यक्रम की अध्यक्षता असम विधानसभा के प्रधान सचिव हेमेन दास ने की।

असम में मीडिया के 175 वर्ष से अधिक पूर्ण होने के अवसर पर आयोजित इस कार्यक्रम का आयोजन 'महाबाहू' संस्थान एवं मल्टीकल्चरल एजुकेशनल डेवलेपमेंट ट्रस्ट द्वारा संयुक्त रूप से किया गया। कार्यक्रम में एलिजाबेथ डब्ल्यू ब्राउन द्वारा लिखित पुस्तक 'द होल वर्ल्ड किन: ए पायनियर एक्सपीरियंस अमंग रिमोट ट्राइब्स, एंड अदर लेबर्स ऑफ नाथन ब्राउन'  के रिप्रिंटेड वर्जन का विमोचन किया गया। इस अवसर पर असम की पहली मासिक समाचार पत्रिका 'ओरुनोदोई' का डिजिटल संस्करण भी लॉन्च किया गया।

समारोह के मुख्य अतिथि प्रो. द्विवेदी ने कहा, ‘लोग कई भाषाएं सीख सकते हैं, लेकिन उनकी एक ही मातृभाषा हो सकती है जिसमें वे सोचते हैं, सपने देखते हैं और भावनाओं को महसूस करते हैं। अपनी भावनाओं को व्यक्त करने का मातृभाषा सबसे शक्तिशाली उपकरण है।’

डॉ. द्विवेदी ने सांस्कृतिक विविधता और विरासत के संरक्षण में मातृभाषा के महत्व पर भी प्रकाश डाला। उन्होंने कहा, ’गुवाहाटी में घूमते हुए यह देखकर आश्चर्य हुआ कि कई दुकानों के साइनबोर्ड असमिया के बजाय अंग्रेजी भाषा में लिखे गए थे। अगर हम चाहें तो ये साइनबोर्ड अंग्रेजी और असमिया, दोनों भाषाओं में हो सकते हैं।’

आईआईएमसी के महानिदेशक ने कहा कि असम में मीडिया के 175 वर्ष से अधिक पूर्ण होने का अवसर असमिया साहित्य और पत्रकारिता के उन दिग्गजों के बलिदान को याद करने का अवसर है, जिन्होंने असम में मीडिया की नींव रखी। ऐसी महान हस्तियों के कारण ही असम, न सिर्फ पूर्वोत्तर भारत के प्रहरी के रूप में स्थापित हुआ, बल्कि साहित्य, संस्कृति और आध्यात्म के क्षेत्र में भी उसने अपनी अलग पहचान बनाई। उन्होंने कहा कि असम की पत्रकारिता को अब अगले 25 वर्षों का लक्ष्य तय करना करना चाहिए। उसे नए विचारों पर काम करना चाहिए और समाज की समस्याओं का समाधान कर नई उपलब्धियां हासिल करनी चाहिए।

इस दौरान वरिष्ठ पत्रकार प्रशांत राजगुरु ने कहा, ’भाषा हमारा प्रतिनिधित्व करती है और इसे किसी भी परिस्थिति में नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।’ पूर्व राज्यसभा सदस्य कुमार दीपक दास, वरिष्ठ पत्रकार बेदब्रत मिश्रा और अमल गोस्वामी व एडवोकेट सत्येन सरमा और डॉ. रेजाउल करीम ने भी कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त किए।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दोस्त ने दी पत्रकार को 'सर तन से जुदा' करने की धमकी, जानें वजह

गाजियाबाद में पत्रकार निशांत आजाद को ‘सिर तन से जुदा’ करने की धमकी देने वाला आरोपी आखिरकार पुलिस के हत्थे लग गया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 September, 2022
Last Modified:
Wednesday, 21 September, 2022
Journalist34875

गाजियाबाद में पत्रकार निशांत आजाद को ‘सिर तन से जुदा’ करने की धमकी देने वाला आरोपी आखिरकार पुलिस के हत्थे लग गया है। मंगलवार को गाजियाबाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है, जोकि पुराना परिचित है। आरोपी का नाम प्राणप्रिय वत्स है, जोकि बिहार का रहने वाला है।   

पुलिस की गिरफ्त में आने के बाद प्राणप्रिय ने बताया कि निशांत से उसने पैसे उधार ले रखे थे, जिसकी वापसी के लिए निशांत उस पर दबाव बना रहा था, जिससे बचने के लिए उसने यह धमकी दी थी।

पत्रकार निशांत कुमार आजाद आरएसएस और अंग्रेजी साप्ताहिक पत्रिका ‘ऑर्गनाइजर’ के लिए मुख्य रूप से राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर लिखते हैं। 13 सितंबर को दी अपनी शिकायत में पत्रकार ने बताया था कि 10 सितंबर को एक वर्चुअल नंबर से उन्हें 'सर तन से जुदा' की धमकी दी गई है।  इसके अलावा इस्लाम के खिलाफ एजेंडे का प्रचार बंद करने की भी धमकी दी गई है। पत्रकार ने जब उससे उसकी पहचान के बारे में पूछा, तो उसने जवाब दिया कि वह पत्रकार के बारे में सब कुछ जानता है और यदि वह इस तरह के मुद्दों पर फिर से लिखना जारी रखता है, तो उसे परिणाम भुगतने होंगे।

शिकायत में पत्रकार ने बताया था कि यह धमकी उसे यूएस-आधारित मोबाइल नंबर से दी गई है। उन्हें वॉट्सऐप काल भी की गई, जिसका रिप्लाई उन्होंने नही दिया। घटना की शिकायत गाजियाबाद पुलिस से की गई।

इंदिरापुरम क्षेत्र के रहने वाले निशांत आजाद पेशे से पत्रकार हैं। 13 सितंबर को उन्होंने थाना इंदिरापुरम में एफआईआर दर्ज कराई थी।  

सीओ अभय कुमार मिश्रा ने बताया कि आरोपी निशांत को ढाई साल से जानता है। दोनों की मुलाकात बिहार चुनाव के दौरान हुई थी। आरोपी पर निशांत के करीब ढाई लाख रुपए उधार चल रहे थे। निशांत ये रुपए लगातार मांग रहा था। इस पर आरोपी ने निशांत का ध्यान बांटने का प्लान बनाया। इंटरनेट से एक वर्चुअल नंबर जेनरेट करके वॉट्सएप पर थ्रेट दे डाली। सीओ ने कहा कि आरोपी पर आगे की विधिक कार्रवाई की जा रही है।

गाजियाबाद के डॉक्टर अरविंद अकेला को भी ऐसी ही धमकी मिली थी, लेकिन पुलिस जांच में उनका मामला झूठा निकला।

डॉक्टर को धमकी देने का मामला निकल चुका है झूठा
11 सितंबर को डॉक्टर अरविंद वत्स 'अकेला' ने भी एक ऐसी ही FIR थाना सिहानी गेट में दर्ज कराई थी। डॉक्टर अकेला के मुताबिक, उन्हें यूएस नंबर से सिर कलम करने की धमकी दी गई। हालांकि SP सिटी निपुण अग्रवाल ने दावा किया है कि डॉक्टर ने सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए धमकी की झूठी खबर फैलाई थी। वॉट्सएप पर जिस नंबर से कॉल आई थी, वो नंबर डॉक्टर के ही मरीज का था।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

उपराष्ट्रपति का मीडिया से आग्रह, इस मामले में सावधानी बरतते हुए करें रिपोर्टिंग

उपराष्ट्रपति ने कहा कि एक मजबूत, निष्पक्ष और स्वतंत्र न्याय प्रणाली, लोकतांत्रिक मूल्यों के फलने-फूलने और प्रभावी होने की सबसे सुरक्षित गारंटी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 19 September, 2022
Last Modified:
Monday, 19 September, 2022
jagdeep145455.jpg

भारत के उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ ने रविवार को मीडिया से न्यायपालिका के बारे में रिपोर्टिंग करते समय अतिरिक्त सावधानी बरतने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि हमें न्यायाधीशों की गरिमा और न्यायपालिका के लिए सम्मान को बनाये रखना चाहिए, क्योंकि ये कानून के शासन और संवैधानिकता के मूल सिद्धांत हैं।

रविवार को जबलपुर, मध्य प्रदेश में आयोजित पहले 'न्यायमूर्ति जे.एस. वर्मा स्मृति व्याख्यान' में मुख्य अतिथि के तौर पर अपने संबोधन में उपराष्ट्रपति ने कहा कि एक मजबूत, निष्पक्ष और स्वतंत्र न्याय प्रणाली, लोकतांत्रिक मूल्यों के फलने-फूलने और प्रभावी होने की सबसे सुरक्षित गारंटी है। उन्होंने कहा, ‘निर्विवाद रूप से लोकतंत्र का सबसे अच्छा विकास तब होता है, जब सभी संवैधानिक संस्थानों का आपस में पूर्ण समन्वय होता है और वे अपने क्षेत्र विशेष तक ही सीमित होते हैं।’

पहले 'न्यायमूर्ति जे.एस. वर्मा स्मृति व्याख्यान' में सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजय किशन कौल ने मुख्य व्याख्यान दिया। राजस्थान उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय में न्यायमूर्ति वर्मा के साथ वरिष्ठ अधिवक्ता के रूप में अपनी कई बातचीत को याद करते हुए उपराष्ट्रपति धनखड़ ने कहा कि उनके कार्यकाल को न्यायिक इकोसिस्टम को बेहतर बनाने एवं पारदर्शिता और जवाबदेही को विस्तार देने के रूप में याद किया जा सकता है।

समाज पर दूरगामी प्रभाव वाले कई फैसले देने के लिए न्यायमूर्ति वर्मा की प्रशंसा करते हुए, उपराष्ट्रपति ने कहा कि विशाखा मामले में उनके ऐतिहासिक फैसले ने कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न से महिलाओं की विशिष्ट सुरक्षा की पर्याप्त व्यवस्था के लिए पूरे तंत्र के संरचना निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया। उन्होंने कहा, ‘स्वर्गीय न्यायमूर्ति जगदीश शरण वर्मा को हमेशा पथ-प्रदर्शक निर्णयों और उन विचारों के लिए याद किया जाएगा, जिन्होंने नागरिकों को सशक्त बनाया है और सरकार को भी सक्षम बनाया है, ताकि वह लोगों के कल्याण के लिए संस्थानों में व्यापक बदलाव कर सके।’

न्यायमूर्ति वर्मा द्वारा संघवाद से लेकर धर्मनिरपेक्षता तक और भारत में लैंगिक समानता से जुड़े कानूनों के विभिन्न पहलुओं को प्रभावित किये जाने का उल्लेख करते हुए उपराष्ट्रपति धनखड़ ने कहा कि उनका जीवन एवं उनके विचार हमें और आने वाली पीढ़ियों को हमेशा प्रेरित करते रहेंगे।

मध्य प्रदेश के राज्यपाल मंगूभाई पटेल; मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज चौहान; मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश; सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति संजय किशन कौल; सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे.के. माहेश्वरी; मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश, न्यायमूर्ति रवि मलीमथ; लोकसभा सदस्य राकेश सिंह; राज्यसभा सदस्य और जे.एस. वर्मा स्मृति समिति के अध्यक्ष विवेक के तन्खा एवं दिवंगत न्यायमूर्ति जे.एस. वर्मा के परिवार के सदस्य और अन्य गणमान्य व्यक्ति कार्यक्रम में शामिल हुए।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ऑफिस के लिए निकली थी न्यूज24 की महिला पत्रकार, हो गई यह वारदात

यदि आप दिल्ली-एनसीआर में रहते हैं, तो सावधान हो जाइए, क्योंकि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली व उससे सटे इलाकों में चेन स्नैचर का गिरोह सक्रिय है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 19 September, 2022
Last Modified:
Monday, 19 September, 2022
chainsnacher4589.jpg

यदि आप दिल्ली-एनसीआर में रहते हैं, तो सावधान हो जाइए, क्योंकि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली व उससे सटे इलाकों में चेन स्नैचर का गिरोह सक्रिय है। शहर की सड़कों पर चेन स्नैचर बेखौफ होकर घूम रहे हैं। यहां चेन छीनने की घटनाएं होना आमबात हो चुकी हैं। बदमाशों ने इस बार ‘न्यूज24’ में कार्यरत एक महिला पत्रकार को अपना निशाना बनाया। घटना रविवार सुबह करीब 06:30 बजे की है, जब महिला पत्रकार सिमरन सिंह दफ्तर जाने के लिए अपने घर से निकली थीं।

इस दौरान कश्मीरी गेट बस अड्डे के करीब ऑफिस कैब का इंतजार करते समय दो बदमाशों ने उनके साथ लूट की घटना को अंजाम दिया। सिमरन का कहना है कि दोनों लुटेरे बाइक पर आए थे और उन्होंने अपना चेहरा ढका हुआ था, इसके अलावा उन्होंने सिर पर टोपी भी पहन रखी थी।

सिमरन का कहना है कि दोनों युवकों में से एक बाइक पर ही बैठा रहा, जबकि दूसरा उतरकर उनके करीब पहुंचा और पीछे से गला दबाते हुए उनकी चेन लूट ली। बाद में दोनों बदमाश बाइक पर रफूचक्कर हो गए। 

वैसे हैरान करने वाली बात यह है कि कश्मीरी गेट पर स्थित एक पुलिस बूथ से कुछ ही मीटर दूर घटी ही सिमरन के साथ यह घटना घटी। सिमरन का कहना है कि उन्होंने जानबूझकर कैब का इंतजार करने के लिए वही स्थान चुना, क्योंकि पुलिस चौकी के करीब होने की वजह से वह वहां सुरक्षित महसूस कर रही थीं।

लेकिन यह घटना बताती है कि अपराधियों के हौसले कितने बुलंद है कि उन्हें  पुलिस का भी कोई खौफ नहीं है। बदमाश दिन दहाड़े वारदात को अंजाम देने में लगे हुए हैं, तो वहीं पुलिस हाथ पर हाथ धरे बैठी है। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानिए, क्यों अमेरिकी मीडिया ने पीएम मोदी को दी बड़ी कवरेज, की तारीफ भी

पीएम नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन के बीच उज्बेकिस्तान के समरकंद में हुई वार्ता को अमेरिकी मीडिया ने व्यापक कवरेज दी और पीएम मोदी की सराहना की

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 17 September, 2022
Last Modified:
Saturday, 17 September, 2022
PMModi7839

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन के बीच उज्बेकिस्तान के समरकंद में हुई वार्ता को मुख्यधारा की अमेरिकी मीडिया ने व्यापक कवरेज दी है और पीएम मोदी की सराहना की है। दरअसल, अमेरिकी मीडिया ने रूस के राष्ट्रपति व्लादीमिर पुतिन को यह बताने के लिए पीएम मोदी की सराहना की है कि यह यूक्रेन में युद्ध करने का समय नहीं है।

अमेरिका के प्रतिष्ठित अखबार ‘द वॉशिंगटन पोस्ट’ ने अपने शीर्षक में लिखा, ‘मोदी ने यूक्रेन में युद्ध के लिए पुतिन को फटकार लगाई’

दैनिक समाचार पत्र ने लिखा, ‘मोदी ने पुतिन को आश्चर्यजनक रूप से सार्वजनिक फटकार लगाते हुए कहा: ‘आधुनिक दौर युद्ध का युग नहीं है और मैंने आपसे इस बारे में फोन पर बात की है’। इसमें कहा गया, ‘इस दुर्लभ निंदा के कारण 69 वर्षीय रूसी नेता सभी पक्षों की ओर से अत्यधिक दबाव में आ गए’।

पुतिन ने मोदी से कहा, ‘मैं यूक्रेन में संघर्ष पर आपका रुख जानता हूं, मैं आपकी चिंताओं से अवगत हूं, जिनके बारे में आप बार-बार बताते रहते हैं। हम इसे जल्द से जल्द रोकने के लिए हर संभव कोशिश कर रहे हैं। दुर्भाग्यपूर्ण रूप से, विरोधी पक्ष यूक्रेन के नेतृत्व ने वार्ता प्रक्रिया छोड़ने का ऐलान किया और कहा कि वह सैन्य माध्यमों से यानी ‘युद्धक्षेत्र में’ अपना लक्ष्य हासिल करना चाहता है। फिर भी, वहां जो भी हो रहा है, हम आपको उस बारे में सूचित करते रहेंगे।’ यह ‘द वॉशिंगटन पोस्ट’ और ‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ के वेबपेज की मुख्य खबर थी।  

‘द न्यूयॉर्क टाइम्स’ ने शीर्षक दिया, ‘भारत के नेता ने पुतिन को बताया कि यह युद्ध का दौर नहीं है’ उसने लिखा, ‘बैठक का लहजा मित्रवत था और दोनों नेताओं ने अपने पुराने साझा इतिहास का जिक्र किया। मोदी के टिप्पणी करने से पहले पुतिन ने कहा कि वह यूक्रेन में युद्ध को लेकर भारत की चिंताओं को समझते हैं।’ समाचार पत्र ने कहा, ‘मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनपिंग की यूक्रेन के हमले के बाद पुतिन के साथ पहली आमने-सामने की बैठक के एक दिन बाद टिप्पणियां कीं। चिनपिंग ने रूसी राष्ट्रपति की तुलना में अधिक शांत लहजा अपनाया और अपने सार्वजनिक बयानों में यूक्रेन के जिक्र से बचने की कोशिश की।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

RSS के मुखपत्र के लिए लिखने पर पत्रकार को मिली धमकी, FIR दर्ज

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में पत्रकार को 'सर तन से जुदा' करने की धमकी मिली है। पत्रकार ने इस संबंध में गाजियाबाद के इंदिरापुरम थाने में शिकायत दर्ज कराई है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 16 September, 2022
Last Modified:
Friday, 16 September, 2022
Threat

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में पत्रकार को 'सर तन से जुदा' करने की धमकी मिली है। पत्रकार ने इस संबंध में गाजियाबाद के इंदिरापुरम थाने में शिकायत दर्ज कराई है।

बता दें कि पत्रकार का नाम निशांत कुमार आजाद है, जोकि आरएसएस और अंग्रेजी साप्ताहिक पत्रिका ‘ऑर्गनाइजर’ के लिए लिखते हैं। वह मुख्य रूप से राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर लिखते हैं। अपनी शिकायत में पत्रकार ने बताया कि लगातार कुछ लोग ‘सर तन से जुदा’ करने के लिए धमकियां दे रहे हैं। यह धमकी उन्हें यूएस-आधारित मोबाइल नंबर से दी जा रही है। उन्हें वॉट्सऐप काल भी की गई, जिसका रिप्लाई उन्होंने नही दिया। घटना की शिकायत स्थानीय पुलिस से की गई है और पुलिस ने इस पूरे मामले में मुकदमा दर्ज कर धमकी देने वालों की तलाश शुरू कर दी है।

पत्रकार निशांत कुमार आजाद को 10 सितंबर को एक यूएस-आधारित मोबाइल नंबर से जान से मारने की धमकी मिली है, जिसमें चेतावनी दी गई कि अगर उन्होंने हिंदुत्व संगठनों का समर्थन करना जारी रखा, तो उनका सिर तन से जुदा कर दिया जाएगा। इसके अलावा इस्लाम के खिलाफ एजेंडे का प्रचार बंद करने की भी धमकी दी गई है। पत्रकार ने जब उससे उसकी पहचान के बारे में पूछा, तो उसने जवाब दिया कि वह पत्रकार के बारे में सब कुछ जानता है और यदि वह इस तरह के मुद्दों पर फिर से लिखना जारी रखता है, तो उसे परिणाम भुगतने होंगे।

दर्ज की शिकायत के मुताबिक, फोन करने वाले ने कन्हैया कुमार (एसआईसी) और उमेश कोल्हे का उल्लेख किया और उन्हें दोनों की तरह ही अंजाम भुगतने की चेतावनी दी है। धमकाने वाले ने निशांत के एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट भी साझा किया। इस ट्वीट में निशांत ने भारत जोड़ो यात्रा के बीच आरएसएस की 'जलती हुई वर्दी' की तस्वीर पोस्ट करने के लिए कांग्रेस की आलोचना की थी।

बता दें कि हाल ही में गाजियाबाद के एक डॉक्टर को भी इसी तरह के संदेशों के साथ कई धमकियां मिलीं हैं। राजस्थान में भी इसी प्रकार की धमकी कन्हैया लाल नाम के एक हिंदू दर्जी को मिली थी, जिसके बाद दो इस्लामवादियों, मोहम्मद रियाज और गौस मोहम्मद ने 28 जून, 2022 को उदयपुर में उनकी हत्या कर दी थी।

वहीं इसी प्रकार का मामला महाराष्ट्र के अमरावती में देखने को मिला जहां एक फार्मासिस्ट उमेश कोल्हे की 22 जून को चार इस्लामवादियों ने हत्या कर दी थी। कोल्हे की हत्या इसलिए की गई, क्योंकि वह भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा के समर्थन में खड़े हुए थे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार जयदीप कर्णिक समेत 12 हिंदी सेवियों को CM ने किया सम्मानित

हिंदी दिवस के मौके पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार देर शाम राजधानी भोपाल में देश-विदेश के 12 हिंदी सेवियों को सम्मानित किया

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 15 September, 2022
Last Modified:
Thursday, 15 September, 2022
jaideep5487421

हिंदी दिवस के मौके पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बुधवार देर शाम राजधानी भोपाल में देश-विदेश के 12 हिंदी सेवियों को सम्मानित किया। बता दें कि भोपाल के रवीन्द्र भवन में हिंदी भाषा सम्मान अलंकरण समारोह का आयोजन किया गया, जिसमें कार्यक्रम में मुख्यमंत्री चौहान राष्ट्रीय सूचना प्रौद्योगिकी सम्मान से वरिष्ठ पत्रकार व अमर उजाला डिजिटल के एडिटर जयदीप कर्णिक को वर्ष 2019 के लिए और नई दिल्ली की ऋतम संस्था को वर्ष 2020 के लिए सम्मानित किया गया।

यह सम्मान पाकर वरिष्ठ पत्रकार जयदीप कर्णिक ने कहा, ‘अभिभूत हूं, गौरवान्वित हूं, आभारी हूं, कृतज्ञ हूं और इस सबसे बढ़कर संकल्पित हूं अधिक समर्पित भाव से सेवारत रहने के लिए। इस अलंकरण ने नई सोच, नए विचार और योजनाएं दी हैं। अपनी भाषा में सतत अभिव्यक्ति मेरे लिए बहुत सामान्य सी प्रक्रिया रही है। इसके लिए अलंकरण भी मिल सकता है, ये अब पता चला। इसी ने मुझे सोचने पर विवश किया है... अभी तो इस सम्मान के लिए आभार...’

वहीं इस कार्यक्रम के दौरान, राष्ट्रीय निर्मल वर्मा सम्मान से डेनमार्क की डॉ. अर्चना पैन्यूली को वर्ष 2018 के लिए, बर्मिघम के डॉ. कृष्ण कुमार वर्ष 2019 के लिए तथा न्यूजीलैंड के रोहित कुमार ‘हैप्पी को वर्ष 2020 के लिए सम्मानित किया गया।

राष्ट्रीय फादर कामिल बुल्के सम्मान से पेरिस की आनी मांतो को वर्ष 2018 के लिए, मारीशस के डॉ. बीरसेन जागा सिंह को वर्ष 2019 के लिए और टोकियो के प्रो. हिदेआकि इशिदा को वर्ष 2020 के लिए सम्मानित किया गया।

राष्ट्रीय गुणाकर मुले सम्मान से वर्ष 2019 के लिए भोपाल के पद्माकर धनंजय सराफ को और वर्ष 2020 के लिए भोपाल के डॉ. संतोष चौबे को सम्मानित किया गया। इसी तरह राष्ट्रीय हिंदी सेवा सम्मान से त्रिवेन्द्रम की डॉ. शीला कुमारी वर्ष 2019 के लिए और भोपाल के सुधीर मोता को वर्ष 2020 के लिए सम्मानित किया गया।

इन सभी सम्मानों में प्रत्येक सम्मानित को एक-एक लाख रुपए की सम्मान राशि, सम्मान पट्टिका एवं शाल-श्रीफल प्रदान किया गया।

सूचना प्रौद्योगिकी सम्मान हिंदी सॉफ्टवेयर और इससे जुड़े कार्यों में उत्कृष्ट योगदान के लिए निर्मल वर्मा सम्मान विदेशों में अप्रवासी भारतीय द्वारा हिंदी के विकास में योगदान देने, फादर कामिल बुल्के सम्मान विदेशी मूल के हिंदी प्रचारकों, गुणाकर मुले सम्मान हिंदी में वैज्ञानिक और तकनीकी लेखन के लिए और हिंदी सेवा सम्मान अहिंदी भाषी लेखकों को हिंदी में सृजन के लिए प्रदान किया गया। विभिन्न सम्मानों के निर्णायकों में प्रतिष्ठित लेखक और हिंदी सेवी शामिल थे।

कार्यक्रम में सम्मानित हिंदी सेवियों ने भी अपने विचार रखे। टोकियो के प्रोफेसर हिदेआकि इशिदा ने कहा कि भोपाल मध्यप्रदेश में सम्मानित होकर वे स्वयं को बहुत सौभाग्यशाली मानते हैं। डॉ. संतोष चौबे ने इस क्षण को स्मरणीय बताया। पेरिस की सुश्री आनी मान्तो, डेनमॉर्क की अर्चना पैन्यूली ने भी मध्यप्रदेश सरकार के संस्कृति विभाग की इस पहल को प्रशंसनीय बताया।

कार्यक्रम के दूसरे चरण में कवि सम्मेलन हुआ, जिसमें प्रख्यात कवि अशोक चक्रधर नई दिल्ली, कीर्ति काले नई दिल्ली, डॉ. विनय विश्वास नई दिल्ली, विष्णु सक्सेना अलीगढ़ और मधु मोहिनी उपाध्याय नोएडा ने अपनी कविताओं से श्रोताओं को आनंदित किया। सम्मानित हिंदी सेवियों का प्रशस्ति वाचन संस्कृति संचालक अदिति कुमार त्रिपाठी ने किया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए