रिपोर्टर बना 'शहंशाह', फिर खींची तलवार और दागा सवाल

न्यूज चैनल के रिपोर्टर अमीन हफीज सुर्खियों में है। इस बार वे एक स्टोरी के लिए वो शहंशाह बनकर लाइव रिपोर्टिंग करते दिखाई दे रहे हैं, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 15 January, 2020
Last Modified:
Wednesday, 15 January, 2020
reporter

पत्रकारिता के क्षेत्र में किसी खबर की रिपोर्टिंग करना बेहद ही संजीदा काम है, लेकिन पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में कुछ रिपोर्टर्स कई बार इसमें तड़का डालते नजर आते हैं। एक बार फिर जियो न्यूज चैनल के रिपोर्टर अमीन हफीज सुर्खियों में है। इस बार वे एक स्टोरी के लिए वो शहंशाह बनकर लाइव रिपोर्टिंग करते दिखाई दे रहे हैं, जो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।

इस वीडियो को पाकिस्तान के एक जर्नलिस्ट ने ट्विटर पर शेयर किया है, जिसमें देखा जा सकता है कि अमीन हफीज ने राजाओं की तरह कपड़े पहने हुए हैं और पगड़ी लगाई हुई है। वे किसी महल की छत पर खड़े हैं। ऑन एयर होते ही वह तलवार निकालकर हवा में लहराते हैं और फिर पूछते हैं कि उनके इस महल में शादी का आयोजन किसने कराया। वे इस विडियो में सवाल उठा रहे हैं कि ऐतिहासिक महलों में शादी होनी चाहिए या नहीं?    

देखें विडियो-

गौरतलब है कि इसके पहले भी अमीन हफीज चर्चाओं में आ चुके हैं। दिसंबर 2018 में लाहौर से उन्होंने गधे पर बैठकर लाइव रिपोर्टिंग की थी। मुद्दा था गधे के कारोबार का तेजी से बढ़ना, जिसमें वे कहते दिखाई दिए थे कि इंसान और गधे का रिश्ता तो सदियों पुराना है, मगर लाहौर में गधों का कारोबार अचानक चमक उठने से गधे पालने वाले लोग खुशी से फूले नहीं समा रहे हैं। हफीज एक बार फिर अपनी रिपोर्टिंग के लिए सोशल मीडिया की चर्चा बटोर रहे हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोरोना ने छीन ली वरिष्ठ पत्रकार और ‘आधारशिला’ के संपादक दिवाकर भट्ट की जिंदगी

18 अप्रैल को वह कोविड-19 के संक्रमण की चपेट में आ गए थे और इन दिनों निजी अस्पताल में भर्ती थे, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली

Last Modified:
Tuesday, 18 May, 2021
Diwakar Bhatt

वरिष्ठ पत्रकार और साहित्यिक पत्रिका ‘आधारशिला’ के संपादक दिवाकर भट्ट का निधन हो गया है। 18 अप्रैल को वह कोविड-19 के संक्रमण की चपेट में आ गए थे और इन दिनों हलद्वानी के निजी अस्पताल में भर्ती थे, जहां सोमवार की शाम उन्होंने अंतिम सांस ली। उनके परिवार में पत्नी, एक बेटा व एक बेटी है।

करीब 59 वर्षीय दिवाकर भट्ट ने लंबे समय तक तमाम अखबारों में काम किया था। सक्रिय पत्रकारिता के साथ ही वह साहित्य के क्षेत्र में जुड़े हुए थे और साहित्य, कला व संस्कृति पर आधारित पत्रिका ‘आधारशिला’ का करीब 36 वर्षों से संपादन कर रहे थे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ZEE 24 Ghanta के एडिटर व सीनियर टीवी जर्नलिस्ट अंजन बंदोपाध्याय का कोरोना से निधन

करीब एक महीने पूर्व कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आ गए थे अंजन बंदोपाध्याय, कोलकाता के अस्पताल में ली आखिरी सांस

Last Modified:
Monday, 17 May, 2021
anjan-bandyopadhyay

वरिष्ठ टीवी पत्रकार अंजन बंदोपाध्याय का रविवार रात को कोलकाता के निजी अस्पाल में निधन हो गया। वह करीब एक महीने पहले कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आ गए थे। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, स्वास्थ्य में सुधार होने पर उन्हें घर ले आया गया था, लेकिन उनकी हालत फिर बिगड़ गई थी, जिसके बाद उन्हें दोबारा से अस्पताल में भर्ती कराया गया था और वेंटीलेटर पर रखा गया था, जहां रविवार की रात करीब साढ़े नौ बजे उन्होंने अंतिम सांस ली।

करीब 56 वर्षीय अंजन जी मीडिया ग्रुप के रीजनल चैनल ‘जी 24 घंटा’ (ZEE 24 Ghanta) में संपादक के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे। उन पर डिजिटल के अलावा चैनल के इनपुट और आउटपुट में सभी तरह के कंटेंट की जिम्मेदारी थी।

बता दें कि अंजन बंदोपाध्याय पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव अलपन बंदोपाध्याय के भाई थे। बंदोपाध्याय के निधन पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ और ‘जी न्यूज’ (Zee News) के एडिटर-इन-चीफ सुधीर चौधरी समेत तमाम हस्तियों ने दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फाइनेंसियल एक्सप्रेस के मैनेजिंग एडिटर सुनील जैन का कोरोना से निधन

एम्स में शनिवार को ली आखिरी सांस, प्रधानमंत्री नरेंदं मोदी समेत तमाम हस्तियों ने दी श्रद्धांजलि

Last Modified:
Saturday, 15 May, 2021
Sunil Jain

‘फाइनेंसियल एक्सप्रेस' (Financial Express) के मैनेजिंग एडिटर सुनील जैन का निधन हो गया है। सुनील जैन कुछ दिनों से कोविड-19 के संक्रमण से जूझ रहे थे और दिल्ली स्थित अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में भर्ती थे, जहां शनिवार को उन्होंने अंतिम सांस ली। सुनील जैन के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत तमाम हस्तियों ने दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

अपने ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है, ‘आप हमें बहुत जल्दी छोड़कर चले गए सुनील जी। मुझे आपके कॉलम पढ़ने और विविध मामलों पर आपके स्पष्ट और व्यावहारिक विचारों को सुनने की कमी खलेगी। आपके दुखद निधन से आज पत्रकारिता कमजोर पड़ गई है। परिवार और दोस्तों के प्रति संवेदना। शांति।’

वहीं, सीएनबीसी-टीवी18 की मैनेजिंग एडिटर शीरीन भान ने ट्वीट कर कहा है, ‘बुरी खबरें लगातार आ रही हैं। कोविड संबंधी जटिलताओं के कारण आज शाम वरिष्ठ पत्रकार सुनील जैन का निधन हो गया है। उनसे कुछ हफ्ते पहले ही बात हुई थी। विश्वास नहीं हो रहा कि सुनील जैन नहीं रहे। भगवान उनकी आत्मा को शांति दें और परिवार को यह दुख सहने की शक्ति प्रदान करें।’

बता दें कि फाइनेंसियल एक्सप्रेस को जॉइन करने से पूर्व सुनील जैन ‘बिजनेस स्टैंडर्ड’ (Business Standard) अखबार में सीनियर एसोसिएट एडिटर थे। सुनील जैन ने वर्ष 1986 में दिल्ली स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स से पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद बतौर कंसल्टेंट अपने करियर की शुरुआत की थी। इसके बाद वह फिक्की (FICCI) में चले गए थे, जहां पर वह करीब एक साल तक एक्सपोर्ट पॉलिसी डेस्क के प्रभारी रहे थे। इसके बाद सुनील जैन ने पत्रकारिता का रुख कर लिया था, जहां उन्होंने करीब दो दशक तक काम किया।

सुनील जैन ने पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1991 में ‘इंडिया टुडे’ (India Today) मैगजीन में बतौर रिपोर्टर की थी। वह मैगजीन में बिजनेस एडिटर भी रहे और इसके बाद इंडियन एक्सप्रेस में चले गए, जहां पर वह बिजनेस और इकनॉमी कवरेज की कमान संभालते थे। इंडियन एक्सप्रेस में करीब छह साल काम करने के बाद उन्होंने बिजनेस स्टैंडर्ड में करीब आठ साल तक अपनी जिम्मेदारी निभाई और फिर फाइनेंसियल एक्सप्रेस में आ गए थे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोविड से जिंदगी की जंग हार गईं युवा पत्रकार पंखुड़ी सिंह

कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आकर जान गंवाने वाले पत्रकारों में युवा पत्रकार पंखुड़ी सिंह का नाम भी शामिल हो गया है।

Last Modified:
Saturday, 15 May, 2021
Pankhudi445

कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आकर जान गंवाने वाले पत्रकारों में युवा पत्रकार पंखुड़ी सिंह का नाम भी शामिल हो गया है। बताया जाता है कि पंखुड़ी सिंह कुछ दिनों पूर्व कोरोनावायरस की चपेट में आ गई थीं और करीब दस दिनों से हजारीबाग मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल में उनका इलाज चल रहा था।

स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने स्वयं एचएमसीएच के डायरेक्टर को पंखुड़ी सिंह के समुचित इलाज का निर्देश दिया था, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका और शनिवार की सुबह करीब साढ़े चार बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। 

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, झारखंड में हजारीबाग की रहने वाली पंखुड़ी सिंह इन दिनों दिल्ली में पत्रकारिता कर रही थीं और लॉकडाउन से कुछ दिनों पूर्व ही अपने घर हजारीबाग लौटी थीं, जहां पर वह कोविड-19 की चपेट में आ गई थीं।

पंखुड़ी ने हजारीबाग के मार्खम कॉलेज ऑफ कॉमर्स (Markham college of commerce) से पत्रकारिता में स्नातक किया था। कुछ वर्षों तक हजारीबाग में पत्रकारिता करने के बाद वह कुछ दिनों पूर्व दिल्ली आ गई थीं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सीएम बी.एस. येदियुरप्पा के पूर्व मीडिया सलाहकार व वरिष्ठ पत्रकार महादेव प्रकाश का निधन

राजनीतिक विश्लेषक व वरिष्ठ पत्रकार महादेव प्रकाश का शुक्रवार को कोरोना की वजह से निधन हो गया।

Last Modified:
Saturday, 15 May, 2021
MahadevaPrakash78

राजनीतिक विश्लेषक व वरिष्ठ पत्रकार महादेव प्रकाश का शुक्रवार को कोरोना की वजह से निधन हो गया। 65 वर्षीय प्रकाश बेंगलुरु के एक निजी अस्पताल में अपना इलाज करा रहे थे, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। वे कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा के पूर्व मीडिया सलाहकार थे।

वरिष्ठ पत्रकार महादेव प्रकाश ‘ऐ भानुवारा’ के संपादक थे और सूचना एवं प्रचार विभाग में काम कर चुके थे। विभिन्न चैनलों पर वह पैनल चर्चा में सक्रिय रूप से भाग लेते थे और सियासी परिवर्तनों पर स्पष्ट राय रखते थे।

प्रकाश को अगस्त 2019 में मुख्यमंत्री का मीडिया सलाहकार नियुक्त किया गया था। निजी कारणों का हवाला देकर नवंबर 2020 में उन्होंने इस्तीफा दे दिया था।

येदियुरप्पा ने प्रकाश के निधन पर शोक जताया और कहा कि उनका निधन मीडिया क्षेत्र के लिए बहुत बड़ा नुकसान है।

येदियुरप्पा के कई कैबिनेट सहयोगियों और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार ने भी प्रकाश के निधन पर शोक जताया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोरोना ने निगल ली ईनाडु के सुशील कुमार त्यागी की जिंदगी

सुशील कुमार त्यागी दो दशक से ज्यादा समय से ईनाडु से जुड़े हुए थे।

Last Modified:
Saturday, 15 May, 2021
Sushil Kumar Tyagi

उशोदया एंटरप्राइजेज में ईनाडु, ईटीवी नेटवर्क और ईनाडु डिजिटल के जनरल मैनेजर (मार्केटिंग) सुशील कुमार त्यागी का शनिवार को निधन हो गया है। वह कोविड-19 संबंधी जटिलताओं से जूझ रहे थे।

सुशील कुमार त्यागी दो दशक से ज्यादा समय से ईनाडु से जुड़े हुए थे। उन्होंने नवंबर 2000 में यहां जॉइन किया था। वह ईनाडु के नॉर्थ इंडिया हेड थे। बता दें कि त्यागी ने अमर उजाला पब्लिकेशन लिमिटेड (Amara Ujala Publication Ltd) के साथ बतौर बिजनेस डेवलपमेंट एग्जिक्यूटिव अपने करियर की शुरुआत की थी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टाइम्स समूह के एमडी विनीत जैन ने मां की इन बातों को किया याद, दी श्रद्धांजलि

‘टाइम्स समूह’ की चेयरपर्सन और देश की जानी-मानी मीडिया शख्सियत इंदु जैन का निधन हो गया है

Last Modified:
Friday, 14 May, 2021
Indu Jain Vineet Jain

देश में कोरोना का प्रकोप थमने का नाम नहीं ले रहा है। तमाम लोग इसकी चपेट में आ रहे हैं। कोरोना के संक्रमण की चपेट में आकर गुरुवार की देर शाम ‘टाइम्स समूह’ (The Times Group) की चेयरपर्सन और देश की जानी-मानी मीडिया शख्सियत इंदु जैन का निधन हो गया है। 84 वर्षीय इंदु जैन कुछ दिनों से अस्पताल में भर्ती थीं।

इंदु जैन के निधन पर उनके बेटे और ‘बेनेट कोलमैन एंड कंपनी लिमिटेड’ (बीसीसीएल) के एमडी विनीत जैन ने श्रद्धांजलि देते हुए उन्हें आजीवन आध्यात्मिक साधक, अग्रणी परोपकारी, कला की प्रतिष्ठित संरक्षक और महिला अधिकारों का जबदस्त समर्थक बताया है।

अपने ट्वीट में विनीत जैन का कहना है, ‘मेरी मां इंदु जैन का मानना था कि मृत्यु एक नई यात्रा शुरू करने के लिए आत्मा के कपड़े बदलने जैसा है। उन्होंने मुझे अपनी शर्तों पर और निरंतर आनंद की स्थिति में रहना सिखाया। मां के निर्वाण प्राप्त करने पर मैं उनकी इन भावनाओं की कद्र करता हूं।’

इंदु जैन ‘द टाइम्स फाउंडेशन’ की अध्यक्ष थीं, जिसे उन्होंने स्थापित किया था। टाइम्स फाउंडेशन बाढ़, चक्रवात, भूकंप और महामारी जैसी आपदा राहत के लिए सामुदायिक सेवा, अनुसंधान फाउंडेशन और टाइम्स रिलीफ फंड चलाता है। वह भारतीय ज्ञानपीठ ट्रस्ट की अध्यक्ष भी थीं, जो प्रतिष्ठित ज्ञानपीठ पुरस्कार प्रदान करती है। इसके अलावा उन्होंने महिलाओं के अधिकारों को लेकर भी आवाज उठाई। जनवरी 2016 में इंदु जैन को भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

कई बार फोर्ब्स के सबसे अमीर शख्सियतों की लिस्ट में आ चुकीं इंदु जैन FICCI की महिला विंग (FLO) की फाउंडर प्रेजिडेंट भी थीं। अपनी मानवता और देश भर में कई चैरिटी के लिए पहचानी जाने वाली इंदु जैन ने मीडिया के विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इंदु जैन के निधन पर टाइम्स ग्रुप ने उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी है।

विनीत जैन द्वारा किए गए ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं। 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

गंभीर आरोपों में घिरे न्यूज एंकर को हाई कोर्ट से मिली राहत

युवती के साथ दुष्कर्म के मामले में आरोपित मुंबई के न्यूज एंकर वरुण हिरेमथ (28) को दिल्ली हाई कोर्ट ने गुरुवार को अग्रिम जमानत दे दी।

Last Modified:
Thursday, 13 May, 2021
Court

युवती के साथ दुष्कर्म के मामले में आरोपित मुंबई के न्यूज एंकर वरुण हिरेमथ (28) को दिल्ली हाई कोर्ट ने गुरुवार को अग्रिम जमानत दे दी। 22 वर्षीय एक युवती ने पत्रकार के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज कराया है।

न्यायमूर्ति मुक्ता गुप्ता ने पत्रकार वरुण हिरेमथ को राहत दी और अग्रिम जमानत के लिए उनकी याचिका का निस्तारण कर दिया।

पत्रकार ने 12 मार्च को यहां एक निचली अदालत से अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया था। पुलिस ने उनके खिलाफ लुकआउट सर्कुलर (LoC) भी जारी कर दिया था, जिसके तहत उन्हें देश छोड़ने से रोक दिया गया था। 

बता दें कि दिल्ली के चाणक्यपुरी थाने में दर्ज एफआईआर में एक युवती ने आरोप लगाया था कि 20 फरवरी को एक अंग्रेजी न्यूज चैनल में कार्यरत वरुण हिरेमथ ने उसे दोस्ती के नाम पर दिल्ली के चाणक्यपुरी स्थित एक पांच सितारा होटल में उसके साथ रेप किया।

वहीं, आरोपी के वकील ने निचली अदालत में दावा किया था कि शिकायतकर्ता और पत्रकार के बीच शारीरिक संबंध थे।

बता दें कि निचली अदलत ने पत्रकार की अग्रिम जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा था कि जरूरी नहीं है कि आरोपी के साथ शिकायतकर्ता के पिछले अनुभवों का मतलब सहमति होता है और अगर कोई महिला अदालत में कहती है कि उसकी सहमति नहीं थी तो अदालत मान लेगी कि उसकी सहमति नहीं थी।

आरोपी के वकील ने निचली अदालत में शिकायतकर्ता और आरोपी के बीच वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम पर हुए संवाद दिखाए जिससे ‘उनके बीच प्यार दिखाई देता है।’

महिला की शिकायत के आधार पर यहां चाणक्यपुरी पुलिस थाने में भारतीय दंड संहिता की धारा 376, 342 और 509 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नहीं रहे दैनिक भास्कर में फीचर एडिटर चंडीदत्त शुक्ल

वरिष्ठ पत्रकार और दैनिक भास्कर, मुंबई में फीचर एडिटर चंडीदत्त शुक्ल का मंगलवार को निधन हो गया है।

Last Modified:
Tuesday, 11 May, 2021
Chandi Dutt Shukla

वरिष्ठ पत्रकार और दैनिक भास्कर, मुंबई में फीचर एडिटर चंडीदत्त शुक्ल का मंगलवार को निधन हो गया है। बताया जाता है कि लंबे समय से वह मधुमेह से पीड़ित थे। कुछ दिनों पूर्व ही उन्हें लखनऊ पीजीआई में भर्ती कराया गया था, लेकिन फिलहाल वह अपने गृह जनपद गोंडा में घर पर रहकर ही स्वास्थ्य लाभ कर रहे थे।

चंडीदत्त शुक्ल लखनऊ और जालंधर में पंच परमेश्वर और अमर उजाला में नौकरी करने के साथ ही दैनिक जागरण, नोएडा में लंबे समय तक चीफ सब एडिटर रहे थे। इसके बाद उन्होंने फोकस टीवी में हिंदी आउटपुट पर प्रड्यूसर/एडिटर स्क्रिप्ट की जिम्मेदारी संभाली। उन्होंने दूरदर्शन-नेशनल के साप्ताहिक कार्यक्रम कला परिक्रमा के लिए लंबे अरसे तक लिखा। इसके साथ ही वह कई सीरियल्स के लिए स्क्रिप्ट भी लिख चुके थे। एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में उनकी अच्छी पकड़ थी। उन्होंने कई सेलिब्रिटीज का इंटरव्यू भी किया था। उनके परिवार में पत्नी, बेटी और बेटा है।

चंडीदत्त शुक्ल के निधन पर तमाम पत्रकारों ने दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टीवी पत्रकार विपिन चंद का कोरोना से निधन, पत्रकारों के लिए फिर उठी ये मांग

टीवी पत्रकार और केरल में ‘मातृभूमि न्यूज’ के मुख्य संवाददाता विपिन चंद (42) का कोविड-19 संबंधित जटिलताओं के कारण शनिवार की देर रात निधन हो गया है।

Last Modified:
Monday, 10 May, 2021
Vipin Chand

टीवी पत्रकार विपिन चंद (42) का कोविड-19 संबंधित जटिलताओं के कारण शनिवार की देर रात निधन हो गया है। वह केरल में ‘मातृभूमि न्यूज’ के मुख्य संवाददाता के तौर पर कार्यरत थे और महामारी की दूसरी लहर के दौरान भी रिपोर्टिंग में खूब सक्रिय रहे थे। इसी दौरान वह कोरोना की चपेट में आ गए थे।  

करीब दो हफ्ते पहले जांच के दौरान कोविड पॉजिटिव पाए जाने के बाद से वह होम क्वारंटाइन थे। बाद में उन्हें एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। निमोनिया के बाद हालत बिगड़ने पर विपिन को कोच्चि के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां शनिवार की देर रात करीब दो बजे उनका निधन हो गया।

विपिन के परिवार में उनकी पत्नी और बच्चे हैं। विपिन के निधन पर एर्नाकुलम जिले के अलंगाड़ के रहने वाले चंद ने 2005 में पत्रकारिता के करियर की शुरुआत की थी। वह 2012 में मातृभूमि न्यूज के साथ जुड़े। केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान, मुख्यमंत्री पिनारई विजयन समेत तमाम नेताओं और पत्रकारों ने दिवंगत आत्मा को सद्गति और शोकाकुल परिवार को यह दुख सहन करने की शक्ति देने की ईश्वर से प्रार्थना की है।

विपिन चंद की मौत के बाद राज्य में पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर्स घोषित किए जाने की मांग एक बार फिर जोर पकड़ने लगी है। गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश, बिहार और उत्तराखंड समेत कई राज्यों ने पत्रकारों को फ्रंटलाइन वर्कर्स घोषित कर उन्हें कोरोना वैक्सीनेशन में प्राथमिकता देने का फैसला किया है। वहीं, केरल में यह मांग लंबे समय से की जा रही है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए