किस तरह उत्तराखंड में CM रावत के भाई करते हैं 'डीलिंग', उमेश कुमार ने जारी किया स्टिंग

रिहाई के तीन महीने बाद समाचार प्लस चैनल के उमेश कुमार...

Last Modified:
Sunday, 27 January, 2019
Samachar4media

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।
अपनी रिहाई के तीन महीने बाद आज समाचार प्लस चैनल के प्रमोटर और सीईओ उमेश कुमार उस स्टिंग के साथ मीडिया के सामने आए, जिसके चलते वे पिछले साल अरेस्ट हुए थे।

दिल्ली के प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में मीडिया से मुखातिक होते हुए उन्होंने उत्तराखंड के सीएम के बड़ा भाई और भतीजे के भ्रष्टाचार के स्टिंग को आज सार्वजनिक करते हुए कहा कि जल्द ही इस स्टिंग के दूसरे भाग भी वे रिलीज करेंगे। 

 उमेश कुमार ने कहा कि बिना किसी जुर्म के उन्हें गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तारी से जुड़ा हुआ एफआईआर दिखाते हुए उन्होंने कहा कि "इसमें गिरफ्तारी का जो आधार बताया गया है, वो है कि मैं स्टिंग ऑपरेशन के जरिए त्रिवेंद्र रावत की सरकार गिराने वाला था, कोई बताए कि क्या केवल संभावना के आधार पर किसी की गिरफ्तारी हो सकती है?"

मीडिया से बात करते हुए जब उनसे इस परेशानी भरे माहौल के बारे में पूछा गया तो वे बोले कि सरकार की पोल खोलने का जोखिम लिया तो कई मुश्किलों से गुजर रहा हूं, पर मेरे दो छोटे बच्चे हैं, वे स्कूल नहीं जा पा रहे हैं, ऐसा कहते कहते उनकी आंखों में  आंसू आ गए, वे नम आंखों से बोले कि उनका कहना था कि परिवार के साथ जो हो रहा है, वो मुझे कमजोर करता है पर मैं पूरी शिद्दत से ये लड़ाई लड़ूंगा।

उन्होंन स्टिंग के जरिए दिखाया कि कैसे उत्तराखंड में खनन के काम में हेरफेर चल रही है और सरकार के लोग ही उसी में संलिप्त है। साथ ही उन्होंने जिस तरह उन पर लगातार मुकदमों की बारिश की गई, किस तरह आधारहीन राजद्रोह का केस दर्ज किया गया आदि मसलों के कानूनी कागजात भी पेश कर त्रिवेंद्र रावत सरकार पर आरोपों  की बौछार की। 

साथ ही उन्होंने सीएम रावत पर भी गलत तरीके से पैसा लेने का आरोप लगाते हुए बताया कि जब रावत झारखंड के प्रभारी थे, उस वक्त उन्होंने गौसेवा आयोग के अध्यक्ष की नियुक्ति के लिए अमृतेश  सिंह चौहान से 50 लाख की डीलिंग करते हुए पच्चीस लाख रुपये लिए थे। उमेश कुमार ने इस बावत कुछ बैंक रिकॉर्ड्स भी मीडिया के सामने पेश किए हैं। इसीअमृतेश की रिपोर्ट पर रांची में उमेश कुमार के खिलाफ देशद्रोह का केस दर्ज किया गया था। ऐसे में दोनों मिलकर उनके खिलाफ साजिश रची है। 

उनकी गिरफ्तारी के पीछे उत्तराखंड सरकार और आयुष गौड़ की मिलीभगत पर उनका कहना है कि आयुष ने ही ये स्टिंग किया, पर फिर क्यों न जाने वे सरकार के साथ मिल गया है, हो सकता है उस पर कोई बड़ा दबाव हो। 

पूरा स्टिंग नीचे  विडियो पर क्लिक करके देखिए...

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए