माखनलाल विवि: अब पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह भी कूदे ‘मैदान’ में, उठाई ये मांग

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय(एमसीयू) में जारी...

Last Modified:
Thursday, 07 March, 2019
Makhanlal University

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय(एमसीयू) में जारी विवाद समाप्त होने का नाम नहीं ले रहे हैं।

विश्वविद्यालय में अनियमितताओं के आरोपों के बीच जांच कमेटी लगातार अपना काम कर रही है। कई तरह की खबरें भी बाहर मीडिया में आ रही है। ऐसे में अभी कोई ठोस सुबूतों के साथ अनियमितताएं सामने नहीं आई है। 

अब इस मसले पर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह भी जांच की मांग में जुट गए हैं। उन्होंने मुख्यमंत्री कमलनाथ के नाम एक पत्र भी लिखा है। उल्लेखनीय है कि उनके कार्यकाल के दौरान ही यूनिवर्सिटी का नोएडा कैंपस बना था और करीब दशकभर तक उनके मुख्यमंत्रित्वकाल में ही यिश्वविद्यालय का विकास हुआ था। 

अब नए सीएम को लिखे इस पत्र में दिग्विजय सिंह ने कहा है कि करीब दो दशक से संचालित विश्वविद्यालय के प्रबंधन में वर्ष 2004 के बाद बड़ी संख्या में शैक्षणिक, वित्तीय और प्रशासनिक अनियमितताएं सामने आई हैं।

उनका कहना है कि राज्य के सभी विश्वविद्यालयों का ऑडिट, लोकल फंड ऑडिट विभाग द्वारा कराया जा रहा है, लेकिन इस विश्वविद्यालय में जानबूझकर शासकीय एजेंसी से ऑडिट नहीं कराया जा रहा है।

पत्र में दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री से उक्त मामलों की जांच निर्धारित समय सीमा में लोकायुक्त/ई.ओ.डब्ल्यू और विभागीय स्तर पर कराने और विश्वविद्यालय की गरिमा को धूमिल करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है।

दिग्विजय सिंह द्वारा मुख्यमंत्री को लिखे गए पत्र की कॉपी आप यहां पढ़ सकते हैं-

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘IAA’ के इंडिया चैप्टर में फिर ये बड़ी भूमिका निभाएंगे ABP नेटवर्क के CEO अविनाश पांडेय

‘एबीपी नेटवर्क’ (ABP Network) के सीईओ अविनाश पांडेय को एक बार फिर से ‘इंटरनेशनल एडवर्टाइजिंग एसोसिएशन’ (IAA) के इंडिया चैप्टर का प्रेजिडेंट चुना गया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 28 September, 2023
Last Modified:
Thursday, 28 September, 2023
Avinash Pandey IAA

‘एबीपी नेटवर्क’ (ABP Network) के सीईओ अविनाश पांडेय को एक बार फिर से ‘इंटरनेशनल एडवर्टाइजिंग एसोसिएशन’ (IAA) के इंडिया चैप्टर का प्रेजिडेंट चुना गया है।इसके साथ ही अन्य निर्वाचित सदस्यों में फ्री प्रेस जर्नल ग्रुप के प्रेजिडेंट अभिषेक करनानी उपाध्यक्ष, मीडिया दिग्गज नंदिनी दास सचिव और ‘Another Idea’ के फाउंडर जयदीप गांधी कोषाध्यक्ष शामिल हैं। बुधवार को ‘इंटरनेशनल एडवर्टाइजिंग एसोसिएशन’ की वार्षिक आम बैठक में सदस्यों ने सर्वसम्मति से इन्हें चुना है।

पांच सदस्यों को वोटिंग मेंबर्स के तौर पर चुना गया है। इनमें कथित तौर पर आर.के. स्वामी लिमिटेड के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्टर श्रीनिवासन के. स्वामी; मातृभूमि प्रिंटिंग एंड पब्लिशिंग कंपनी लिमिटेड के मैनेजिंग डायरेक्टर एम.वी. श्रेयम्स कुमार; ग्रुपएम में दक्षिण एशिया के सीईओ प्रशांत कुमार; द इंडियन एक्सप्रेस प्राइवेट लिमिटेड के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर अनंत गोयनका; ब्लू लॉजिक सिस्टम्स की डायरेक्टर जनक सारदा शामिल हैं।

 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकारों को बड़ी सौगात, अब आवास ऋण पर मिलेगा अनुदान

छत्तीसगढ़ में पत्रकार अब किफायती दर पर घर का सपना पूरा कर सकेंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि सूबे के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर प्रदेश के पत्रकारों को होम लोन पर अनुदान मिलेगा

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 27 September, 2023
Last Modified:
Wednesday, 27 September, 2023
HomeLoan7897454

छत्तीसगढ़ में पत्रकार अब किफायती दर पर घर का सपना पूरा कर सकेंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि सूबे के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर प्रदेश के पत्रकारों को होम लोन पर अनुदान मिलेगा।

मुख्यमंत्री द्वारा वित्तीय वर्ष 2023-24 के बजट में की गई घोषणा पर अब अमल करते हुए जनसंपर्क विभाग द्वारा 'ललित सुरजन संचार प्रतिनिधि आवास ऋण ब्याज अनुदान योजना’ राजपत्र में प्रकाशित कर दी है। योजना के अंतर्गत 30 लाख तक के आवास ऋण के लिए 5 प्रतिशत प्रतिमाह ब्याज अनुदान 5 वर्षों तक दिया जाएगा। यह योजना एक अप्रैल 2023 के बाद से क्रय मकान पर प्रभावशील होगी। 

राजपत्र में प्रकाशित अधिसूचना के मुताबिक, योजना का लाभ केवल आवासीय ऋण पर दिया जाएगा और वह भी तब जह क्रय किया जाने वाला मकान छत्तीसगढ़ राज्य के भीतर होगा। ब्याज अनुदान अधिकतम 30 लाख रुपए के आवास ऋण की सीमा तक दिया जाएगा। संचार प्रतिनिधि द्वारा राष्ट्रीयकृत बैंकों, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से अधिसूचित वित्तीय संस्थानों एवं सहकारी बैंकों से लिए गए आवास ऋण पर प्रतिमाह 5 प्रतिशत ब्याज अनुदान 5 वर्षों तक दिया जाएगा।

योजना का लाभ न्यूनतम 5 वर्ष से छत्तीसगढ़ में निवास कर दैनिक समाचार व टीवी न्यूज चैनल्स में पंजीकृत न्यूज एजेंसियों के सम्पादकीय शाखा में कार्य कर रहे पूर्णकालिक तथा अंशकालिक संचार प्रतिनिधि तथा अधिमान्यता नियमों की अर्हतादायी शर्तों को पूरा करने वाले न्यूज पोर्टल्स के संपादक और स्वतंत्र पत्रकार ले सकेंगे।

संचार प्रतिनिधि स्वयं अथवा पत्नी के साथ संयुक्त नाम से आवास ऋण लें तभी होगी पात्रता-

संचार प्रतिनिधि स्वयं अथवा पत्नी के साथ संयुक्त नाम से आवास ऋण लेंगे, तभी इस योजना की पात्र होंगे। योजना मात्र एक आवास ऋण में ही लागू होगी। किसी संचार प्रतिनिधि द्वारा पूर्व से अपने अथवा पत्नी के स्वामित्व का मकान योजना लागू होने के बाद अवयस्क/वयस्क संतान को अंतरित कर नया आवास लेने की दशा में योजना का लाभ नहीं मिलेगा। इसके अलावा यदि पहले से कोई आवास ऋण स्वीकृत है, तो नए आवास ऋण प्राप्त करने पर भी योजना का लाभ नहीं मिलेगा। संचार प्रतिनिधियों द्वारा नियमित ऋण एवं ब्याज अदायगी करने पर ही इस योजना का लाभ मिलेगा। डिफॉल्टर होने की स्थिति में योजना के लाभ की पात्रता स्वयमेव समाप्त हो जायेगी। 

पूर्व से स्वीकृत आवास ऋण पटाकर नये आवास ऋण प्राप्त करने पर योजना का लाभ नहीं मिलेगा। संचार प्रतिनिधियों द्वारा नियमित ऋण एवं ब्याज अदायगी करने पर ही इस योजना का लाभ मिलेगा। डिफॉल्टर होने की स्थिति में योजना के लाभ की पात्रता स्वयमेव समाप्त हो जायेगी।

शपथ पत्र भी देना होगा- योजना में पात्रता के लिए स्वयं अथवा पत्नी, आश्रित पुत्र-पुत्री के नाम से कोई अन्य आवासीय भवन नहीं होना चाहिए। इस आशय का शपथ-पत्र देना होगा। शपथ पत्र के साथ संचार प्रतिनिधियों द्वारा रजिस्ट्रीकृत बैंकों अथवा रजिस्ट्रीकृत वित्तीय संस्थाओं से लिए गए ऋण स्वीकृति एवं ऋण वितरण के प्रमाणित अभिलेख जनसम्पर्क संचालनालय में निर्धारित प्रपत्र में आवेदन के साथ प्रस्तुत करने होंगे।

नियमित भुगतान कर बैंक का प्रमाणपत्र प्रस्तुत करना होगा-  संचार प्रतिनिधियों द्वारा लिए गए ऋण पर मासिक किश्त का नियमित भुगतान स्वयं करना होगा, बैंकों को ऋण के मूल एवं ब्याज के नियमित भुगतान करने संबंधी बैंक का प्रमाण-पत्र जनसम्पर्क संचालनालय में प्रस्तुत करने पर प्रतिमाह 5 प्रतिशत ब्याज अनुदान की गणना कर संबंधित पत्रकार के बैंक खातों में राशि दी जाएगी।

योजना राशि की गणना - ब्याज अनुदान की प्रतिपूर्ति त्रैमासिक की जाएगी किसी भी दशा में अनुदान राशि का भुगतान एकजाई नहीं किया जायेगा। आवास ऋण ब्याज अनुदान की गणना इस प्रकार होगी। इसमें वित्तीय वर्ष में बैंक में देय ब्याज को पांच प्रतिशत ब्याज अनुदान से गुणा किया जाएगा। प्राप्त परिणाम को बैंक ब्याज प्रतिशत दर से भाग दिया जाएगा।

आवास ऋण 30 लाख रुपए से अधिक होने की दशा में ब्याज अनुदान की गणना दो चरणों में की जाएगी। प्रथम चरण में अधिकतम 30 लाख रुपए की राशि तक की ब्याज गणना की जाएगी। इसमें योजनान्तर्गत अधिकतम राशि( 30 लाख रुपए) को वित्तीय वर्ष में स्वीकृत ऋण पर देयक ब्याज राशि से गुणा किया जाएगा। प्राप्त परिणाम को स्वीकृत आवास ऋण राशि से भाग दिया जाएगा। द्वितीय चरण में ब्याज अनुदान राशि की गणना की जाएगी। इसमें प्रथम चरण में गणना पश्चात प्राप्त ब्याज राशि को पांच प्रतिशत ब्याज अनुदान के साथ गुणा किया जाएगा। प्राप्त परिणाम को बैंक ब्याज प्रतिशत दर से भाग दिया जाएगा।

योजना हेतु समिति करेगी अनुशंसा - प्रथम बार ब्याज अनुदान स्वीकृति के लिए संचालनालय में वरिष्ठ अधिकारियों की समिति विचार कर अनुशंसा करेगी। समिति में आयुक्त/ संचालक, जनसम्पर्क संचालनालय, अपर संचालक (पत्रकार कल्याण), अपर संचालक (समाचार), उप संचालक / संयुक्त संचालक (वित्त) शामिल होंगे।

 योजना हेतु निर्णयात्मक शर्त/अधिकार- ब्याज अनुदान स्वीकृत करने के किसी भी प्रश्न पर तत्समय में प्रचलित अधिमान्यता नियमों में उल्लेखित संचार संस्थान एवं संचार प्रतिनिधि की अर्हतादायी शर्तों पर भी विचार किया जायेगा। ब्याज अनुदान स्वीकृत अथवा अस्वीकृत करने का अधिकार आयुक्त /संचालक, जनसम्पर्क को होगा।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘SEBI’ के इस फैसले के खिलाफ पुनीत गोयनका की याचिका पर ‘SAT’ ने सुरक्षित रखा अपना फैसला

‘प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण’ (Securities Appellate Tribunal) ने इस मामले में सभी पक्षों को अपनी प्रस्तुतियां (यदि कोई हो) दाखिल करने के लिए एक सप्ताह का समय दिया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 27 September, 2023
Last Modified:
Wednesday, 27 September, 2023
Punit Goenka

‘प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण’ (Securities Appellate Tribunal) ने ‘भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड’ (सेबी) के उस फैसले के खिलाफ ‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) के प्रबंध निदेशक व सीईओ पुनीत गोयनका की याचिका पर बुधवार को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है, जिसमें उन पर ‘जी’ समूह की कंपनियों और विलय वाली ‘जी-सोनी’ इकाई में एक साल तक निदेशक या प्रमुख प्रबंधकीय पद (केएमपी) पर रहने पर रोक लगाने की बात कही गई है।

इस मामले में अपना फैसला सुरक्षित रखने से पहले ट्रिब्यूनल ने सभी पक्षों को अपनी प्रस्तुतियां (यदि कोई हो) दाखिल करने के लिए एक सप्ताह का समय दिया है। बता दें कि इससे पहले आठ सितंबर को ‘प्रतिभूति अपीलीय न्यायाधिकरण’ ने इस मामले में गोयनका को अंतरिम राहत देने से इनकार कर दिया था।

बताया जाता है कि ‘सेबी’ ने पहले कहा था कि वह इस मामले में आठ महीने की अवधि में अपनी जांच पूरी कर लेगा। पुनीत गोयनका ने इससे पहले 26 अगस्त को ‘सेबी’ के आदेश के खिलाफ ‘SAT’ का रुख किया था।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

MRUCI के चेयरमैन चुने गए शैलेष गुप्त, शशांक श्रीवास्तव को मिली वाइस चेयरमैन पद की कमान

मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल इंडिया (MRUCI) की बैठक में राजीव बेओत्रा और अनुप्रिया आचार्य को बोर्ड ऑफ गवर्नर्स में नियुक्त किया गया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 26 September, 2023
Last Modified:
Tuesday, 26 September, 2023
MRUCI

‘मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल इंडिया’ (MRUCI) ने 26 सितंबर, 2023 को अपनी 29वीं वार्षिक आम बैठक (AGM) आयोजित की। इस वार्षिक आम बैठक में ‘जागरण प्रकाशन लिमिटेड’ के पूर्णकालिक डायरेक्टर शैलेष गुप्त को सर्वसम्मति से ‘मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल इंडिया’ का चेयरमैन चुना गया।

इसके साथ ही ‘मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड’ के सीनियर एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर (सेल्स एंड मार्केटिंग) शशांक श्रीवास्तव को ‘मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल इंडिया’ का वाइस चेयरमैन चुना गया है। वार्षिक आम बैठक के तुरंत बाद आयोजित ‘मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल इंडिया’ की बोर्ड मीटिंग में यह घोषणा की गई। इसके साथ ही बोर्ड ऑफ गवर्नर्स में दो नए सदस्यों के रूप में ‘एचटी मीडिया लिमिटेड’ के एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर राजीव बेओत्रा और ‘Publicis Groupe’ की सीईओ (साउथ एशिया) अनुप्रिया आचार्य को नियुक्त किया गया है।

शैलेष गुप्त ने भारत में मीडियाब्रैंड्स (Mediabrands) के सीईओ शशिधर सिन्हा से यह कमान ली है, जो लगातार दो कार्यकाल (2021-2022 और 2022-2023) तक ‘मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल इंडिया’ के चेयरमैन रहे हैं।

कार्यभार सौंपते हुए शशिधर सिन्हा का कहना था, ‘मुझे खुशी है कि कोविड के कारण एक अंतराल के बाद आईआरएस को दोबारा शुरू किया जा रहा है।’ वहीं, धन्यवाद प्रस्ताव देते समय शैलेष गुप्त का कहना था, ‘मैं MRUCI का नेतृत्व करने और आईआरएस को पुनर्जीवित करने में कई कदम आगे बढ़ाने के लिए शशिधर सिन्हा को धन्यवाद देना चाहता हूं। मेरा प्रयास एक मजबूत थर्ड पार्टी रिसर्च तैयार करने में मदद करना होगा जो सभी घटकों की मदद करेगा और सामूहिक रूप से इंडस्ट्री को आगे ले जाएगा।’

बता दें कि ‘जागरण प्रकाशन लिमिटेड’ के पूर्णकालिक निदेशक शैलेष गुप्त भारतीय मीडिया इंडस्ट्री में सबसे सम्मानित नामों में से एक हैं। पिछले 25 वर्षों में शैलेष गुप्त ने जागरण की मार्केटिंग स्ट्रैटेजी को एक नया आयाम प्रदान किया है और जागरण समूह में व्यापक बदलाव लाने के केंद्र में रहे हैं। वह ‘म्यूजिक ब्रॉडकास्ट लिमिटेड’ और ‘मिडडे इंफोमीडिया लिमिटेड’ के डायरेक्टर के पद पर भी कार्यरत हैं।

अपने बेहतरीन करियर के दौरान वह कई इंडस्ट्री निकायों के शीर्ष पर रहे हैं और उनकी व्यावसायिकता व देश में मीडिया इंडस्ट्री की उनकी खास समझ के लिए उन्हें काफी सम्मानजनक श्रेणी में रखा जाता है। वह वर्ष 2019-20 में ‘इंडियन न्यूजपेपर सोसाइटी’ (INS) के प्रेजिडेंट रह चुके हैं। शैलेष को वर्ष 2004-05 के लिए ‘ऑडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन’ (ABC) की मैनेजिंग कमेटी में सबसे कम उम्र के सदस्य के रूप में चुना गया था और वर्ष 2012-13 में वह इसके चेयरमैन रह चुके हैं।

वर्ष 2021 में उन्होंने ‘मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल’ (MRUC) के वाइस चेयरमैन का पदभार संभाला, जो देश में सबसे प्रमुख मीडिया अनुसंधान निकायों में से एक है, जिसका गठन देश में सटीक, समय पर और कुशल मीडिया अनुसंधान के एकमात्र उद्देश्य से किया गया है।

रोटरी क्लब, भारत द्वारा 'Youngest Entrepreneur Of The Year' के रूप में मान्यता प्राप्त शैलेष गुप्त को 'इंडियन न्यूजपेपर सोसाइटी' (INS) द्वारा वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ न्यूजपेपर्स, पेरिस के बोर्ड में भी नामांकित किया गया था। इन सबके अलावा शैलेष को मर्चेंट्स चैंबर ऑफ यूपी द्वारा 'एक्सीलेंस अवार्ड फॉर कम्युनिकेशन एंड मास एंटरटेनमेंट' और वर्ष 2014 में वर्ल्ड मार्केटिंग कांग्रेस द्वारा 'मोस्ट टैलेंटेड सीएमओ ऑफ इंडिया' से भी सम्मानित किया जा चुका है।

वहीं, मारुति सुजुकी के सीनियर एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर शशांक श्रीवास्तव एक जाने-माने बिजनेस लीडर हैं और देश में सबसे प्रभावशाली मार्केटर्स की लिस्ट में शामिल हैं, जिन्होंने कोविड महामारी के सबसे चुनौतीपूर्ण समय के दौरान मारुति सुजुकी में मार्केटिंग और सेल्स से जुड़े कार्यों का नेतृत्व और संचालन किया है।

मारुति सुजुकी में तीन दशकों से अधिक के करियर में श्रीवास्तव ने घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय मार्केटिंग दोनों में काम किया है और भारतीय ऑटोमोटिव इंडस्ट्री के शुरुआती दिनों से लेकर आज के अत्यधिक प्रतिस्पर्धी दौर के विकास को देखा है।

प्रतिष्ठित आईआईएम, अहमदाबाद के पूर्व छात्र शशांक श्रीवास्तव तमाम इंडस्ट्री निकायों जैसे- ‘सीआईआई नेशनल कमेटी ऑन मार्केटिंग’ (CII National Committee on Marketing), ’एडवर्टाइजिंग स्टैंडर्ड काउंसिल ऑफ इंडिया’ (ASCI), ’इंडियन सोसायटी ऑफ एडवर्टाइजर्स’ (ISA), ’ऑडिट ब्यूरो ऑफ सर्कुलेशन’ (ABC), ’ब्रॉडकास्ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल’ (BARC) और ’मीडिया रिसर्च यूजर्स काउंसिल इंडिया’ के मेंबर हैं। ऑटोमेटिव इंडस्ट्री में उल्लेखनीय योगदान के लिए शशांक श्रीवास्तव को तमाम अवॉर्ड्स से नवाजा जा चुका है।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

केंद्र सरकार ने PM के सलाहकार पद पर अमित खरे का कार्यकाल बढ़ाया

अमित खरे को 12 अक्टूबर 2021 को दो साल के लिए अनुबंध के आधार पर प्रधानमंत्री के सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया था। इस पद पर खरे का कार्यकाल 12 अक्टूबर 2023 को समाप्त हो रहा था।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 26 September, 2023
Last Modified:
Tuesday, 26 September, 2023
Amit Khare

केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सलाहकार के रूप में सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी अमित खरे का कार्यकाल बढ़ा दिया है। बता दें कि खरे को 12 अक्टूबर 2021 को दो साल के लिए अनुबंध के आधार पर प्रधानमंत्री के सलाहकार के रूप में नियुक्त किया गया था।

इस पद पर खरे का कार्यकाल 12 अक्टूबर 2023 को समाप्त हो रहा था, लेकिन अब इसे प्रधानमंत्री के वर्तमान कार्यकाल के साथ समाप्त होने वाली अवधि तक के लिए विस्तार दे दिया गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस बारे में कार्मिक एवं प्रशिक्षण विभाग की ओर से जारी आदेश में कहा गया है, ‘कैबिनेट की नियुक्ति समिति ने सामान्य नियमों और शर्तों पर अनुबंध के आधार पर प्रधानमंत्री के सलाहकार के रूप में सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी अमित खरे के कार्यकाल में विस्तार को मंजूरी दे दी है। इस पद पर उनका कार्यकाल अब प्रधानमंत्री के वर्तमान कार्यकाल के साथ समाप्त होने तक या अगले आदेश तक (जो भी पहले हो) लागू होगा।’

गौरतलब है कि 1985 बैच के झारखंड-कैडर के आईएएस अधिकारी अमित खरे उच्च शिक्षा सचिव के पद से सेवानिवृत्त हुए हैं। उन्होंने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) को आकार देने में अहम योगदान दिया था। ‘आईआईएम’ अहमदाबाद से एमबीए करने वाले खरे ने दिसंबर 2019 में उच्च शिक्षा सचिव के रूप में कार्यभार संभाला था। उन्होंने सूचना प्रसारण मंत्रालय (MIB) सचिव के रूप में भी कार्य किया है।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मणिपुर के दो पत्रकार संगठनों ने इस वजह से एडिटर्स गिल्ड को भेजा कानूनी नोटिस

मणिपुर के पत्रकार संघ और राज्य के एडिटर्स गिल्ड ने 'एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया' और उसके तीन सदस्यों को मणिपुर हिंसा को लेकर जारी की गई तथ्य-खोज रिपोर्ट के संबंध में कानूनी नोटिस भेजे हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 26 September, 2023
Last Modified:
Tuesday, 26 September, 2023
EGI

मणिपुर के पत्रकार संघ और राज्य के एडिटर्स गिल्ड ने 'एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया' (EGI) और उसके तीन सदस्यों को मणिपुर हिंसा को लेकर जारी की गई तथ्य-खोज रिपोर्ट के संबंध में अलग-अलग कानूनी नोटिस भेजे हैं। दरअसल, 'एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया ने मणिपुर जातीय हिंसा की मीडिया कवरेज पर सवाल उठाए थे। उन्होंने अपनी रिपोर्ट में केवल एक विशेष समुदाय के पक्ष में कथित 'पक्षपाती और प्रायोजित' जानकारी फैलाने का आरोप लगाया था, जिसके चलते अब दो पत्रकार संघों ने EGI को कानूनी नोटिस भेजा है। 

आरोप है कि चार दिनों तक मणिपुर में रहने के बाद EGI की क्राउडफंडेड द्वारा गठित  तीन सदस्यीय टीम ने 4 सितंबर को रिपोर्ट प्रकाशित की थी।

ऑल मणिपुर वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन (AMWJU) और एडिटर्स गिल्ड ऑफ मणिपुर (EGM) द्वारा EGI को भेजे गए नोटिस में कहा गया है कि EGI की रिपोर्ट के कारण हिंसा में वृद्धि हुई और वह भी तब जब मणिपुर सामान्य स्थिति में वापस आ रहा था।

नोटिस में कहा गया है, 'EGI जैसे संपादकों के एक शीर्ष निकाय से यह अपेक्षा की जाती है कि वह मणिपुर जैसे संवेदनशील मुद्दे पर अपनी रिपोर्ट प्रकाशित करते समय बहुत सावधानी बरतें, लेकिन तथाकथित रिपोर्ट ने उस आग में घी डालने का काम किया, जिसके चलते चार महीनें से मणिपुर जल रहा है।' 

नोटिस में आगे कहा गया, 'रिपोर्ट ने न केवल मणिपुर में हिंसा को बढ़ावा दिया, बल्कि झूठी खबरें फैलाईं, जो दुर्भावनापूर्ण, पक्षपाती, प्रायोजित और मनगढ़ंत थीं। केवल एक विशेष समुदाय को दुनिया के पक्ष में प्रचारित किया गया, जो पूरी तरह से पत्रकारिता की नैतिकता का उल्लंघन है।'

उन्होंने राज्य सरकार को लिखे मणिपुर वन विभाग के पत्र का भी हवाला दिया, जिसमें EGI की तथ्यान्वेषी टीम द्वारा 'आरक्षित' और 'संरक्षित' वनों की स्थिति पर लगाए गए आरोपों से इनकार किया।

प्रधान मुख्य वन संरक्षक एसएस छाबड़ा ने 8 सितंबर को मणिपुर सरकार को लिखे सात पन्नों के पत्र में कहा था कि रिपोर्ट में वन विभाग के खिलाफ लगाए गए आरोप 'गलत' और 'असत्यापित' थ और उन्होंने 'गलत सूचना को जन्म दिया है...' और वन विभाग की प्रतिष्ठा को धूमिल किया है।

अपनी रिपोर्ट में EGI ने आरोप लगाया था कि इस बात के स्पष्ट संकेत मिले हैं कि संघर्ष के दौरान राज्य का नेतृत्व पक्षपातपूर्ण हो गया था। रिपोर्ट में अपने निष्कर्ष सारांश (Concluding Summary) में राज्य के नेतृत्व पर कई टिप्पणियों के बीच कहा गया कि इसे जातीय संघर्ष में पक्ष लेने से बचना चाहिए था, लेकिन यह एक लोकतांत्रिक सरकार के रूप में अपना कर्तव्य निभाने में विफल रही, इसे पूरे राज्य का प्रतिनिधित्व करना चाहिए था। 

इम्फाल स्थित सामाजिक कार्यकर्ता एन शरत सिंह द्वारा तथ्यान्वेषी टीम और EGI प्रमुख सीमा मुस्तफा के खिलाफ एक पुलिस मामला भी दर्ज किया गया था, जिसमें आरोप लगाया गया था कि EGI टीम द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट 'झूठी, मनगढ़ंत और प्रायोजित' थी। इसके बाद, EGI अंततः सुप्रीम कोर्ट गया, जिसने उन्हें अगली सुनवाई तक पुलिस कार्रवाई से सुरक्षा दे दी। 

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘MIB’ ने प्रोग्रामिंग सेवाओं के लिए मल्टीसिस्टम ऑपरेटर्स को दिया ये आदेश

आवेदकों को सलाह दी गई है कि वे इस बारे में 30 नवंबर 2022 को सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों का संदर्भ ले सकते हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 25 September, 2023
Last Modified:
Monday, 25 September, 2023
MIB

‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) ने कहा है कि ऐसे मल्टीसिस्टम ऑपरेटर्स (MSO) जो अपनी प्रोग्रामिंग सेवाओं को किसी भी तरह (या तो सीधे अपने सबस्क्राइबर्स को अथवा एक या अधिक स्थानीय केबल ऑपरेटर्स के माध्यम से) से अपनी प्रोग्रामिंग सर्विस को उपलब्ध कराना चाहते हैं, उन्हें प्रोग्रामिंग सर्विसेज के लिए अनिवार्य रूप से रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

आवेदकों को सलाह दी गई है कि वे इस बारे में 30 नवंबर 2022 को सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा जारी दिशानिर्देशों का संदर्भ ले सकते हैं। इन दिशानिर्देशों को आप यहां क्लिक कर भी देख सकते हैं।

प्रोग्रामिंग सर्विसेज के रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदकों को ऑनलाइन एप्लीकेशन जमा करते समय निम्नलिखित डॉक्यूमेंट्स अपलोड करने होंगे।

a. Certificate of Channel Carrying Capacity (Statewise) (Sell'-Certification).

b. Details of PS Channels operated at State Level

c. Details of PS Channels operated at District Level.

d. Filled in MHA Security Clearance Pro-forma.

e. Challan copy of payment made on Bharat Kosh Portal for registration of PS Channels.

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

e4m PR & Corp Comm 30 under 30 के विजेता घोषित, यहां देखें पूरी लिस्ट

यह इस कार्यक्रम का तीसरा एडिशन था। 23 सितंबर 2023 को वर्चुअल रूप से हुए कार्यक्रम में प्रतिष्ठित जूरी द्वारा चुने गए 30 साल से कम उम्र के 30 इंडस्ट्री लीडर्स को सम्मानित किया गया।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 23 September, 2023
Last Modified:
Saturday, 23 September, 2023
e4m prcc 30 under 30

‘एक्सचेंज4मीडिया’ (exchange4media) समूह के ‘पब्लिक रिलेशंस और कॉरपोरेट कम्युनिकेशंस’ (e4m PR and Corp Comm) अवॉर्ड के तीसरे एडिशन के तहत 30 साल से कम उम्र वाले प्रतिभाशाली 30 युवाओं (30 Under 30) की लिस्ट से पर्दा उठ गया है। 23 सितंबर 2023 को वर्चुअल रूप से हुए कार्यक्रम में इस लिस्ट से पर्दा उठाया गया और प्रतिष्ठित जूरी द्वारा चुने गए 30 साल से कम उम्र के 30 इंडस्ट्री लीडर्स को सम्मानित किया गया।

बता दें कि इस लिस्ट को तैयार करने का उद्देश्य 30 साल की उम्र तक के ऐसे 30 युवाओं को सम्मानित करना है, जिन्होंने न सिर्फ खुद को साबित किया है, बल्कि अपने संस्थान के साथ ही पब्लिक रिलेशंस और कॉरपोरेट कम्युनिकेशंस इंडस्ट्री की ग्रोथ में काफी योगदान दिया है।

इस कार्यक्रम के तहत 120 से ज्यादा एंट्रीज प्राप्त हुईं, जिनमें से शॉर्टलिस्ट की गईं एंट्रीज को जूरी के सामने प्रदर्शित किया गया। जूरी ने इन विजेताओं के चयन के लिए तमाम पहलुओं पर गौर किया। पांच अगस्त 2023 को हुई वर्चुअल जूरी प्रक्रिया के लिए ग्रैंड जूरी को दो समूहों- ग्रुप ए और ग्रुप बी में विभाजित किया गया था।

इस साल ‘पीडब्ल्यूसी इंडिया’ (PwC India) की चीफ मार्केटिंग और कम्युनिकेशंस ऑफिसर नंदिनी चटर्जी और एक्सचेंज4मीडिया (exchange4media) और ‘बिजनेसवर्ल्ड’ (BW Businessworld) के चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ डॉ. अनुराग बत्रा जूरी चेयर थे।

जूरी में शामिल अन्य सदस्यों के नाम आप यहां देख सकते हैं। Ashim Gupta, chief brand and communications Officer, Spark Minda Group; Arun Arora, director - head and director - strategy and communications, Mavyn.in and Chetak Foundation; Ashutosh Sharma, global head of corporate communications and corporate affairs, HCL Technology; Anand Vaidya, global lead – PR and corporate communications, WebEngage; Anand Prakash, senior group head, Adfactors PR; Bhaskar Majumdar, head - corporate affairs, communications, CSR and digital, Egis in India; Bhawna Gupta, director – client relations. Hill+Knowlton Strategies; Ekta Bhaskar, global head – corporate communications, BLS International; Jagruti Kirloskar Saxena, SVP and head - corporate marketing and communications, ANAROCK; Jyotsna Dash Nanda, AVP – corporate communications, DS Group; Neha Bajaj, founder and director, Scroll Mantra; Pradeep Wadhwa, founder and principal, Kritical Edge Consulting Pvt. Ltd.; Priya Bellani, associate account director, 80 dB Communications; Rajat Chandihok, senior vice president, Concept PR; Smita Khanna, chief operating officer, Newton Consulting; Tanmana Rath, The Good Edge and Tarunjeet Rattan, managing partner, Nucleus PR.

'ई4एम पीआर एंड कॉरपोरेट कम्युनिकेशन 30अंडर30 2023' के तीसरे एडिशन के विजेताओं की बहुप्रतीक्षित सूची आप यहां देख सकते हैं। बता दें कि इस सूची में कोई रैंकिंग नहीं है।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मनोज माथुर को सैकड़ों लोगों ने दी श्रद्धांजलि, किया याद

राजस्थान के बाड़मेर को अपनी इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता की शुरुआत में बरसों तक कर्मभूमि बनाने वाले स्वर्गीय मनोज माथुर को शुक्रवार को सैकड़ों लोगो ने श्रद्धांजलि दी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 23 September, 2023
Last Modified:
Saturday, 23 September, 2023
ManojMathur7845

राजस्थान के बाड़मेर को अपनी इलेक्ट्रॉनिक पत्रकारिता की शुरुआत में बरसों तक कर्मभूमि बनाने वाले स्वर्गीय मनोज माथुर को शुक्रवार को सैकड़ों लोगो ने श्रद्धांजलि दी। बाड़मेर जिला मुख्यालय पर प्रेस क्लब की तरफ से डाक बंगले में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया, जिसमें जी मीडिया में रीजनल के डिजिटल एडिटर स्वर्गीय मनोज माथुर को उनके असमय निधन पर दो मिनिट का मौन रखकर श्रद्धांजलि अर्पित की गई। उनका निधन 19 सितंबर को हुआ था। मनोज माथुर के परिवार में उनकी मां, पत्नी और बेटा है।

बाड़मेर के टीवी और प्रिंट पत्रकारों ने मनोज माथुर के दो साल तक बाड़मेर में की गई सकारात्मक खबरों को याद करते हुए उन्हें कलम का सच्चा सिपाही बताया। बाड़मेर में पत्रकारों ने क्रमवार माथुर जी की तस्वीर पर पुष्प अर्पित किए। आयोजन में पत्रकारों ने स्वर्गीय मनोज माथुर जी के व्यक्तित्व और कर्तत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि स्वर्गीय मनोज माथुर ने बाड़मेर की सरहद, यहां की जनसमस्याओं, यहां की कला,परिवेश और लोकरंग को अपनी पत्रकारिता के जरिए आगे रखा। उनका असमय निधन ना केवल पत्रकारिता के लिए बल्कि हर आम ओ खास के लिए अपूरणीय क्षति है।

पत्रकारों और गणमान्य नागरिकों ने मनोज माथुर के परिवार को इस वज्राघात सहने की हिम्मत देने के साथ उनकी पुण्य आत्मा को श्री चरणों मे जगह देने की प्रार्थना की। श्रद्धांजलि सभा को नरेंद्र तनसुखानी, डॉक्टर प्रियंका चौधरी, खमान सिंह, राजेन्द्र सिंह,रघुवीर सिंह,दिनेश बोहरा और गोपाल कुमार ने संबोधित किया। वक्ताओं ने माथुर के निधन को एक स्वर्णिम पत्रकारिता के दौर का विराम बताते हुए उनकी कमी हमेशा महसूस करने की बात कही. पत्रकारों के साथ विभिन्न संगठनों से जुड़े पदाधिकारियो ने भी माथुर की तस्वीर को पुष्पांजलि अर्पित की।

बता दें कि मनोज माथुर 'जी मीडिया' में लंबे समय से जुड़े हुए थे। पहले वह 'जी' (राजस्थान) में एडिटर के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे। बाद में प्रबंधन ने उन्हें रीजनल में डिजिटल एडिटर की जिम्मेदारी सौंप दी थी।  

मनोज माथुर को मीडिया में काम करने का करीब 23 साल का अनुभव था। पूर्व में वह करीब एक साल ‘इंडिया न्यूज’ (Indian News) और करीब साढ़े आठ साल ‘ईटीवी’ (etv) से भी जुड़े रहे थे।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

'संबाद' अखबार के संपादक सौम्य रंजन पटनायक को BJD ने किया निष्काषित

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की बीजू जनता दल ने उड़िया दैनिक समाचार पत्र 'संबाद' के मालिक व संपादक सौम्य रंजन पटनायक समेत दो विधायकों को निष्कासित कर दिया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 22 September, 2023
Last Modified:
Friday, 22 September, 2023
SaumyaRanjanPatnaik7845

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की बीजू जनता दल (BJD) ने गुरुवार को उड़िया दैनिक समाचार पत्र 'संबाद' के मालिक व संपादक सौम्य रंजन पटनायक समेत दो विधायकों को निष्कासित कर दिया है। दोनों पर पार्टी विरोधी गतिविधियों के आरोप हैं।

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भुवनेश्वर में कहा कि बीजेडी के दो विधायकों को निष्कासित कर दिया गया है। रेमुना से सुधांशु शेखर परिदा और खंडपाड़ा से सौम्य रंजन पटनायक को बीजद से निष्कासित किया गया है। 

सौम्य रंजन पटनायक को इससे पहले 12 सितंबर को पार्टी के उपाध्यक्ष पद से हटा दिया गया था। संबाद के संपादक के रूप में उन्होंने अपनी ही पार्टी पर निशाना साधते हुए दो संपादकीय लिखे थे। उन्होंने कथित तौर पर अपने आधिकारिक पद से परे प्रभाव बढ़ाने के लिए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के निजी सचिव वी.के. पांडियन की आलोचना की थी।

सौम्य रंजन पटनायक के खिलाफ कार्रवाई ओडिशा पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) धोखाधड़ी सहित आईपीसी (IPC) की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज करने के बाद हुई है।

सौम्य रंजन के जनविरोधी गतिविधियों में शामिल होने के आरोप को लेकर बीजद ने मुख्यमंत्री नवीन पटनायक द्वारा हस्ताक्षरित बयान में कहा, ‘संबाद समाचारपत्र के पूर्व कर्मचारी की शिकायत पर ओडिशा की आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने उनके और अन्य के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 506/467/468/471/420/120-बी के तहत प्राथमिकी दर्ज की है। संबाद अखबार के कई अन्य कर्मचारियों ने भी ईडब्ल्यूओ से इसी तरह की शिकायत की है।’

बयान में कहा गया, ‘यह संगठित तरीके से बैंक धोखाधड़ी करने का एक गंभीर मामला है, जिसमें संबाद के 300 से अधिक कर्मचारियों के नाम पर फर्जी तरीकों और जाली दस्तावेजों का इस्तेमाल करके करोड़ों रुपये का ऋण लिया गया।’

बीजद ने बयान में कहा कि इसी प्रकार विधायक सुधांशु शेखर परिदा पर किसानों को दी गई तीन करोड़ रुपये की सरकारी रियायत में हेराफेरी करने का आरोप है। लोकायुक्त के आदेश के बाद राज्य सतर्कता विभाग मामले की जांच कर रहा है।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए