अमिताभ अग्निहोत्री बोले- नेशनल मीडिया वोट नहीं दिला पाता है इसलिए आखिरी के 6 महीने नेता...

देश में टेलिविजन न्यूमज इंडस्ट्री को नई दिशा देने और इंडस्ट्री को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाने में अहम...

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 18 February, 2019
Last Modified:
Monday, 18 February, 2019
Amithbh Agnihotri

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

देश में टेलिविजन न्‍यूज इंडस्‍ट्री को नई दिशा देने और इंडस्‍ट्री को नई ऊंचाइयों पर पहुंचाने में अहम योगदान देने वालों को सम्मानित करने के लिए 16 फरवरी को नोएडा के होटल रेडिसन ब्लू में ‘एक्‍सचेंज4मीडिया न्‍यूज ब्रॉडकास्टिंग अवॉर्ड्स’ (enba) दिए गए। इनबा का यह 11वां एडिशन था और इस अवसर पर आयोजित समारोह में कई पैनल डिस्कशन भी हुए। ऐसे ही एक पैनल का विषय ‘रीजनल मीडिया: खतरा, खबरें और कमाई’ रखा गया था, जिसमें मीडिया के दिग्गजों ने अपने विचार व्यक्त किए।

समाचार4मीडिया डॉट कॉम के एग्जिक्यूटिव एडिटर अभिषेक मेहरोत्रा ने बतौर सेशन चेयर इसे मॉडरेट किया। इस पैनल डिस्कशन में ‘नेटवर्क18’ (हिंदी नेटवर्क) के एग्जिक्यूटिव एडिटर अमिताभ अग्निहोत्री, सहारा इंडिया टीवी नेटवर्क’ के ग्रुप एडिटर मनोज मनु, ‘जनतंत्र टीवी’ के एडिटर-इन-चीफ वाशिंद मिश्र, इंडिया न्यूज’ के चीफ एडिटर (मल्टीमीडिया) अजय शुक्ल, ‘पीटीसी नेटवर्क’ के मैनेजिंग डायरेक्टर-प्रेजिडेंट रबिंद्र नारायण और ‘बीबीसी गुजराती’ के एडिटर अंकुर जैन शामिल रहे।

पैनल डिस्कशन के दौरान अभिषेक मेहरोत्रा द्वारा यह पूछे जाने पर कि मीडिया पर खतरों के बीच कितना ताकतवर है मीडिया? अमिताभ अग्निहोत्री का कहना था, ‘जहां तक पत्रकारिता में खतरे की बात है तो वह तब पैदा हो रहा है, जब आप खबर में किसी भी कारण से कोई रंग मिलाने की कोशिश करते हैं। खबर को खबर की तरह जाने दीजिए, कोई खतरा नहीं रहेगा। मैंने तमाम जगह काम किया है, लेकिन आज तक मेरे साथ कभी ऐसा नहीं हुआ कि रात में कहीं मुझे जाते समय कभी किसी ने रोककर खबर को लेकर धमकाया हो कि आपने खबर क्यों लिखी। इसलिए खतरा वहां से नहीं होता, बल्कि उसे मीडिया के गले बांध दिया जाता है। कहा जाता है कि मीडिया पर खतरा है, लेकिन जब जांच होती है तो पता चलता है कि खतरा मीडिया पर नहीं, बल्कि उस व्यक्ति पर होता है, जो मीडिया की आड़ में कुछ और करना चाहता है। इसे समझने की जरूरत है कि क्या वास्तव में मीडिया पर कोई खतरा है अथवा नहीं।’

यह पूछे जाने पर कि रीजनल मीडिया कितना ताकतवर है? अमिताभ अग्निहोत्री का कहना था, ‘अमेरिका-यूरोप समेत विदेश की बात करें तो वहां पर तो कोई एक नेशनल मीडिया हो सकता है, लेकिन हमारे देश में कोई भी चीज नेशनल नहीं हो सकती है। जितनी भाषाएं, जितनी बोली, जितना भौगोलिक अंतर और वर्णभेद हमारे देश में है, वह आपको कहीं देखने के लिए नहीं मिलेगा। दुनिया में कहीं भी चले जाइए, जितनी बोली और मजहब हमरे देश में हैं, वह और कहीं नहीं हैं। इसलिए 80 के दशक तक चला नेशनल और रीजनल अखबार/चैनल का कॉन्सेप्ट ही खत्म हो गया है। भारत जैसे देश में कोई भी नेशनल अखबार/चैनल नहीं हो सकता है। जैसे-राजनीति की बात करें तो पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू तक तो ठीक रहा, लेकिन उनके बाद कोई भी पार्टी पूरे देश को एक सूत्र में नहीं पिरो पाई। कांग्रेस द्वारा क्षेत्रीय अस्मिताओं को न संभाल पाने का ही ये परिणाम हुआ कि महाराष्ट्र में बाला साहेब ठाकरे और पंजाब में प्रकाश सिंह बादल आदि नेता उभरकर आए।’

उन्होंने कहा, ‘जहां तक रीजनल मीडिया की बात है तो मेरा मानना है कि रीजनल की ताकत का असली अंदाजा तब होता है, जब चुनाव आता है। साढ़े चार साल तक नेशनल की बात करने वालों को तब रीजनल मीडिया की याद सताने लगती है, क्योंकि उन्हें पता होता है कि सिर्फ तथाकथित ‘नेशनल मीडिया’ से वोट नहीं मिलने वाला है, इसलिए रीजनल मीडिया पर कवरेज की चाहत बढ़ जाती है। जैसे- चुनाव से पहले साढ़े चार साल तक नेताओं द्वारा खूब अंग्रेजी बखारी जाती है। मेरे अब तक के पत्रकारीय जीवन में सात लोकसभा चुनाव हुए, जिसमें मुझे लगभग पूरे हिंदुस्तान में जाकर जानने-समझने का मौका मिला, लेकिन मैंने किसी भी नेता को अंग्रेजी में वोट मांगते हुए नहीं देखा। जहां भी ये नेता लोग जाते हैं, वहीं की भाषा में ढलकर बात करने की कोशिश करते हैं। यही रीजनल मीडिया की ताकत है।’

सोशल मीडिया के इस दौर में क्रेडिबिलिटी पर उठ रहे सवालों के बारे में अभिषेक मेहरोत्रा ने अमिताभ अग्निहोत्री से जानना चाहा कि रीजनल मीडिया पर पेड न्यूज के आरोप लगते रहते हैं। इस तरह की बातें भी सामने आती हैं कि एक दौर था जब अखबार छपकर बिकते थे, लेकिन अब अखबार बिककर छपते हैं, ऐसे में वे क्षेत्रीय मीडिया की क्रेडिबिलिटी को कितनी गंभीरता से लेते हैं? इस पर अमिताभ अग्निहोत्री का कहना था, ‘मैं पेड न्यूज के अस्तित्व को नकार नहीं रहा हूं। पेड न्यूज है लेकिन यह वर्गीकरण मुझे कतई मंजूर नहीं है कि यह क्षेत्रीय में है और नेशनल में नहीं है। कहने का मतलब है कि रेट अलग हैं लेकिन ‘धंधा’ सब जगह वही हो रहा है। इस बारे में देश के एक बहुत राजनेता ने एक पब्लिक मंच पर देश के एक बड़े अखबार पर पेड न्यूज का आरोप लगाया था। इस तरह की समस्याएं हर दौर में रहेंगी, लेकिन ये व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह कितना ईमानदार है।’  

उन्होंने कहा, ‘मीडिया के कुछ लोगों को ये गलतफहमी हो सकती है कि पेड न्यूज भी चल जाएगी। लेकिन जनता इन चीजों को सब समझती है। वह अनपढ़ तो हो सकती है, अल्प शिक्षित हो सकती है, लेकिन विवेक शून्य नहीं हो सकती है। जनता ये समझ जाती है कि टीवी अथवा अखबार में जो आ रहा है, उन सबके पीछे कौन है। मेरा मानना है कि यदि पेड न्यूज से ही जनता प्रभावित होती तो 1952 के बाद से तमाम चुनाव हुए है, उनमें कोई सरकार जाती ही नहीं। तबसे सरकार बदल रही हैं। तब से यदि सरकारें बदल रही हैं, तो इसका मतलब है कि जनता सब समझ रही है, सिर्फ प्रचार से ही कुछ नहीं होता। चुनाव में जनता खुद विश्लेषण करती है और उसी हिसाब से अपनी राय बनाती है। हालांकि, अब सोशल मीडिया के आ जाने से राय बनाने में थोड़ी समस्या जरूर आ गई है, लेकिन यह समस्या इतनी बड़ी नहीं है कि देश की जनता अपना विवेक खो दे।’

पैनल डिस्कशन में अभिषेक मेहरोत्रा द्वारा यह पूछे जाने पर कि आजकल टीवी एंकर्स पर तमाम आरोप लगते है कि वे अपना शो खुद करते हैं और उसे हाईजैक भी कर लेते हैं, के बारे में अमिताभ अग्निहोत्री का कहना था, ‘यह सही है कि एंकर उस एक घंटे का राजा होता है, लेकिन इनकी रेटिंग जनता ही तय करती है। चाहे अभिनेता-अभिनेत्री हों, एंकर्स हों अथवा खिलाड़ी हो, वह आत्मुग्धता का शिकार तो हो सकते हैं, लेकिन उनकी रेटिंग जनता ही तय करेगी कि कौन कहां खड़ा है।’

मीडिया में स्ट्रिंगर्स की क्रेडिबिलिटी पर उठने वाले सवालों के बारे में अमिताभ अग्निहोत्री ने एक उदाहरण देते हुए बताया, ‘एक बड़े अखबार का दिल्ली से एडिशन लॉन्च हुआ तो मुझे वहां पर एक अहम जिम्मेदारी दी गई। वहां पर एक सज्जन हमारे एक मित्र की सिफारिशी चिट्ठी लेकर आए, जो आर्थिक रूप से काफी संपन्न दिखाई दे रहे थे। रियल एस्टेट का काम कर रहे उन सज्जन का कहना था कि आप मुझे अखबार के नाम पर समाजसेवा का मौका दे दो, बाकी ऑफिस का खर्चा, स्टाफ का खर्च आदि की कोई चिंता वाली बात नहीं है। वो मैं संभाल लूंगा, बस मेरा प्रेस कार्ड बन जाए। कहने का मतलब है कि कई स्ट्रिंगर्स की आर्थिक स्थिति में 20 साल में मामूली रूप से सुधार हुआ है, जबकि मैंने ऐसे भी स्ट्रिंगर्स देखे हैं, जिनके घर में 20 एसी लगे हैं। ऐसे स्ट्रिंगर्स तो छह-छह महीने अपनी सैलरी नहीं उठाते हैं और शहर में भी उनका काफी जलवा होता है। इसका मतलब वो पत्रकारिता नहीं कर रहे हैं, लेकिन ऐसे लोगों के लिए हम पूरी पत्रकारिता को कठघरे में नहीं खड़ा कर सकते हैं। मेरे कहने का आशय है कि जो वास्तव में पत्रकारिता कर रहा है, उसका सम्मान आज भी है।’

आप ये पूरी चर्चा नीचे विडियो पर क्लिक कर भी देख सकते हैं...

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

हिंदी पत्रकारिता दिवस: इस मंच पर पत्रकारों का हुआ सम्मान, उठे ये बड़े मुद्दे

कार्यक्रम में मथुरा-वृंदावन नगर निगम के महापौर ने कहा, वरिष्ठ पत्रकार पंकज कुलश्रेष्ठ व महेश कुमार के नाम पर रखा जाएगा मार्ग का नाम

Last Modified:
Sunday, 31 May, 2020
Hindi Journalism Day

पत्रकारिता दिवस के उपलक्ष्य में शनिवार को नेशनल यूनियन जर्नलिस्ट्स ऑफ इंडिया, उत्तर प्रदेश जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन एवं बृज प्रेस क्लब के तत्वावधान में मथुरा के डेम्पीयर नगर स्थित हीरा क्रिस्टल होटल के सभागार में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में पत्रकारों, अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को सम्मानित किया गया।

जिलाधिकारी सर्वज्ञराम मिश्र, एसएसपी डॉ.गौरव ग्रोवर, बृज प्रेस क्लब अध्यक्ष कमलकान्त उपमन्यु एडवोकेट, भाजपा विधायक पूरन प्रकाश, भाजपा विधायक ठा.कारिन्दा सिंह, कांग्रेस के पूर्व विधायक प्रदीप माथुर, मथुरा वृंदावन के महापौर डॉ. मुकेश आर्यबंधु, भाजपा नेता एसके शर्मा, गत लोक सभा में संयुक्त गठबंधन के प्रत्याशी रहे पूर्व ब्लाक प्रमुख कुं. नरेन्द्र सिंह, एडीएम सतीश त्रिपाठी, सिटी मजिस्ट्रेट मनोज कुमार सिंह द्वारा संयुक्त रूप से मां सरस्वती के चित्र पर मार्ल्यापण एवं दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया गया।

इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि पत्रकारिता का पेशा पवित्र है कुछ लोग अनैतिक आचरण से इसे बदनाम करने की कोशिश करते हैं उन पर कलम के सच्चे सिपाही नजर रखें। पत्रकारिता को बदनाम न होने दें। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डॉ. गौरव ग्रोवर ने पत्रकारिता दिवस पर पत्रकारों को बधाई देते हुए कहा कि आप सबका कार्य कठिन है। कठिन  परिस्थिति में आप अपने कार्य को अंजाम देते हैं, जो सराहनीय और वंदनीय है। भाजपा के गोकुल से विधायक पूरन प्रकाश ने कहा कि आप लोग चौथे स्तंभ हैं और जनता को आप पर पूरा भरोसा है। गोवर्धन से भाजपा विधायक ठा. कारिन्दा सिंह ने कहा कि जान हथेली पर लेकर आप लोग समाज और संस्थान की सेवा करते हैं आप लोगों का भी बीमा होना चाहिए। वह सरकार में बात करेंगे। कांग्रेस के पूर्व विधायक प्रदीप माथुर ने कहा कि बृज में प्रेस क्लब होने चाहिए। इसके लिए कई बार मुख्यमंत्री स्तर तक प्रयास हुए हैं। किन्हीं कारणों से अभी तक नहीं बना है इसके लिए सभी पुन: मिलकर प्रयास करेंगे।

मथुरा-वृंदावन नगर निगम के महापौर डॉ. मुकेश आर्यबंधु ने कहा कि दैनिक जागरण के पूर्व जिला प्रभारी पंकज कुलश्रेष्ठ एवं दैनिक जागरण के ही पत्रकार रहे महेश सिंह के नाम से वह मार्ग का नाम रखेंगे तथा प्रेस क्लब की फाइल को भी पुन:प्रारंभ कराया जाएगा। एडीएम सिटी सतीश त्रिपाठी एवं सिटी मजिस्ट्रेट मनोज कुमार सिंह ने पत्रकारिता दिवस पर बधाई दी। कार्यक्रम में उपस्थित सभी अतिथियों का समाजसेवी रितेश अग्रवाल एवं बाल्मीकि समाज के संगठन प्रमुख समाजसेवी महेश काजू एवं ब्रज यातायात पर्यावरण समिति के प्रमुख समाजसेवी विनोद दीक्षित द्वारा उत्तरीय ओढ़ाकर स्वागत किया गया।

नेशनल यूनियन जर्नलिस्ट्स ऑफ इण्डिया के राष्ट्रीय सचिव, उपजा के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं बृज प्रेस क्लब के अध्यक्ष कमलकान्त उपमन्यु ने सभी को धन्यवाद दिया। संचालन ‘आजतक’ के जिला संवाददाता वरिष्ठ पत्रकार मदन गोपाल शर्मा ने किया। इस अवसर पर सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता भाजपा नेता सार्थक चतुर्वेदी, सौरभ गुप्ता एडवोकेट, ठा. ब्रजेश सिंह एडवोकेट, बार के पूर्व कोषाध्यक्ष योगेश तिवारी,पं.आलोक शर्मा, ठा.शैलेन्द्र सिंह, सूचना विभाग के ठा.नारायण सिंह, राजू पंडित आदि को भी सम्मानित किया गया।

सम्मानित हुए पत्रकारों में सीपी सिंह सिकरवार, नितिन गौतम, मुकुल गौतम, मोहन श्याम रावत, राजेश भाटिया, ए.एन.अनु, राजीव अग्रवाल भारत सिंह, महेश सिंह अनूप शर्मा, नवनीत शर्मा, सुशील गोस्वामी, धर्मेन्द्र चतुर्वेदी, रोमी रावत, ऋषि भारद्वाज, राकेश सिंह बंटी, लक्की ठाकुर, उमर कुरैशी, असफाक चौधरी, दीपक बैंकर चतुर्वेदी, मोहन श्याम शर्मा, ठा. प्रकाश सिंह, संतोष, धाराजीत सारस्वत, गौरव चौधरी, विपिन सारस्वत, अमित भार्गव, सुरेश पचहैरा, परवेज अहमद, फैजल कुरैशी, गिरीश कुमार, अनिल अग्रवाल, बॉबी मिश्रा, परीक्षित कौशिक, विष्णु शर्मा, राजकुमार तोमर, रहीश कुरैशी, वकील कुरैशी, जाहिद कुरैशी, प्रवेश चतुर्वेदी, निरंजन सिंह धुरंधर, दिनेश आचार्य, मुकेश कुशवाह, खलील अहमद, यदुवंश मणि पावस, सोमेन्द्र भारद्वाज, मनोज चौहान, सतीश अंशुमान, धनीराम खंडेलवाल, तोमर सिंह, कोमल सिंह सोलंकी, इकरार अली, ठा.मुरली मनोहर सिंह, समाजसेवी श्रीमती कोमल चौहान, कृष्णा आदि शामिल रहे। कार्यक्रम में पूर्व कमिश्नर कांग्रेसी नेता मोहन सिंह एवं जिला सूचनाधिकारी विनोद कुमार शर्मा भी उपस्थित थे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

हिंदी पत्रकारिता दिवस पर डॉ. अनुराग बत्रा ने मीडियाकर्मियों के हौसले को यूं किया ‘सलाम’

‘बिजनेस वर्ल्ड’ और ‘एक्सचेंज4मीडिया’ ग्रुप के चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ डॉ. अनुराग बत्रा ने पत्रकारों को हिंदी पत्रकारिता दिवस (30 मई) की बधाई दी है।

Last Modified:
Saturday, 30 May, 2020
Dr Anurag Batra

हिंदी पत्रकारिता के इतिहास में 30 मई का खास महत्व है। दरअसल, 30 मई को हर साल हिंदी पत्रकारिता दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस मौके पर ‘बिजनेस वर्ल्ड’ और ‘एक्सचेंज4मीडिया’ ग्रुप के चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ डॉ. अनुराग बत्रा  ने पत्रकारों को हिंदी पत्रकारिता दिवस (30 मई) की बधाई दी है।

अपने बधाई संदेश में डॉ. बत्रा ने कहा है, ‘हिंदी पत्रकारिता दिवस पर पत्रकार बंधुओं को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं। वैश्विक महामारी कोरोना के महासंकट के बीच जनता तक खबरों को पहुंचाना एक बड़ी चुनौती है। आप लोग स्वस्थ रहें, सुरक्षित रहें। ईश्वर से हमारी यही विनती है।’

गौरतलब है कि देश में कोरोना के खिलाफ ‘जंग’ में पत्रकार अग्रिम मोर्चे पर तैनात हैं और अपने जीवन को जोखिम में डालकर तमाम चुनौतियों के बीच लोगों तक खबरें पहुंचा रहे हैं। हालांकि, इस क्रम में कई पत्रकार कोरोना के संक्रमण का शिकार भी हो चुके हैं।

बता दें कि 30 मई1826 को पंडित युगल किशोर शुक्ल ने पहले हिंदी अखबार ‘उदंड मार्तण्ड’ का प्रकाशन किया था। मूल रूप से कानपुर के रहने वाले पंडित युगल किशोर शुक्ल ने इसे कलकत्ता (अब कोलकाता) से एक साप्ताहिक अखबार के तौर पर शुरू किया था। इसके प्रकाशक और संपादक भी वह खुद थे। यह अखबार हर हफ्ते मंगलवार को पाठकों तक पहुंचता था। 'उदन्त मार्तण्ड' के पहले अंक की 500 प्रतियां छपीं। हालांकि पैसों की तंगी की वजह से 'उदन्त मार्तण्ड' का प्रकाशन बहुत दिनों तक नहीं हो सका और आखिरकार 4 दिसम्बर 1826 को इसका प्रकाशन बंद कर दिया गया।
 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस मीडिया समूह ने अपने प्रिंट पब्लिकेशंस को लेकर की बड़ी घोषणा

महामारी बन चुके कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में अफरा-तफरी मचा रखी है। ग्लोबल स्तर पर प्रिंट मीडिया भी इसके खौफ से अछूता नहीं रहा है

Last Modified:
Saturday, 30 May, 2020
Newspaper

महामारी बन चुके कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में अफरा-तफरी मचा रखी है। ग्लोबल स्तर पर प्रिंट मीडिया भी इसके खौफ से अछूता नहीं रहा है। आलम ये है कि  दुनिया के कई हिस्‍सों में प्रिंट मीडिया के तमाम संस्करण बंद किए जा रहे हैं। ऐसे में मीडिया मुगल रूपर्ट मर्डोक के ऑस्ट्रेलियाई मीडिया समूह ‘न्यूज कॉर्प’ (News Corp) ने घोषणा की है कि कोविड-19 के कारण विज्ञापनों में काफी गिरावट आई है, जिसकी वजह से 29 जून से वह अपने लगभग सभी क्षेत्रीय और सामुदायिक अखबारों को बंद कर रहा है।  

बता दें कि जिन प्रिंट एडिशन को बंद किया जा रहा है उनमें ‘द बायरन शायर न्यूज’ (The Byron Shire News), ‘बलिना एडवोकेट’ (Ballina Advocate), ‘लिस्मोर नॉर्थन स्टार’ (Lismore Northern Star) और ‘ट्वीड डेली न्यूज’ (Tweed Daily News) आदि शामिल हैं और अब इसका केवल ऑनलाइन एडिशन ही शुरू किया जाएगा।  

खबरों के मुताबिक, न्यूज कॉर्प अब खुद को डिजिटल न्यूज मीडिया प्लेटफॉर्म के रूप में स्थापित करने की तैयारी कर रहा है। बताया जा रहा है कि न्यूज कॉर्प 112 अखबारों का प्रकाशन बंद कर रहा है, जबकि 76 प्रकाशन डिजिटल का रूप ले लेंगे, लेकिन खतरा फिर भी बना हुआ है।

वहीं आस्ट्रेलिया में न्यूज कॉर्प के एग्जिक्यूटिव चेयरमैन माइकल मिलर (Michael Miller) का कहना है,‘हमने इस फैसले को काफी सोच-समझकर लिया है। COVID -19 के प्रभाव के अलावा प्रिंट प्रकाशनों को चलाए रखना मुश्किल हो गया है क्योंकि टेक प्लेटफॉर्म्स पब्लिशर्स को उनका मेहनताना नहीं दे रहे हैं।

   

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दैनिक भास्कर समूह के MD पवन अग्रवाल के नाम जुड़ी एक और उपलब्धि

इन्मा की वार्षिक बिजनेस मीटिंग में इसकी घोषणा की गई। उनका चुनाव एक जून 2020 से प्रभावी होगा।

Last Modified:
Friday, 29 May, 2020
Pawan Agarwal

'दैनिक भास्‍कर', ‘दिव्य भास्कर’ और ‘दिव्य मराठी’ जैसे प्रमुख अखबारों का संचालन करने वाली कंपनी 'डीबी कॉर्प लिमिटेड' (DBCL) के मैनेजिंग डायरेक्टर पवन अग्रवाल के नाम एक और उपलब्धि जुड़ गई है। दरअसल, ‘इंटरनेशनल न्यूज मीडिया एसोसिएशन’ (INMA) ने अपने बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स में जिन 13 एग्जिक्यूटिव्स को चुना है, उनमें पवन अग्रवाल का नाम भी शामिल है। इन्मा की वार्षिक बिजनेस मीटिंग में इसकी घोषणा की गई। उनका चुनाव एक जून 2020 से प्रभावी होगा।

अग्रवाल डिवीजन बोर्ड का हिस्सा होंगे, जो दिए गए क्षेत्रों में इन्मा के सदस्यों के हितों की देखभाल करता है। अपनी नई भूमिका में पवन अग्रवाल क्षेत्र विशेष की जरूरतों को पूरा करने वाले आयोजनों के लिए जिम्मेदार होंगे। रीजनल डिवीजन में जिन अन्य को चुना गया है, उनमें Luis Garcia, CEO & GM, Los Andes/Grupo Clarín, Argentina (Latin American Division); and Ann Poe, Senior Director of Digital Consumer Revenue, Advance Local, United States (North America Division) शामिल हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

EORTV से जुड़े कौशिक इजारदार, मिली बड़ी जिम्मेदारी

EORTV ने लॉन्च की अपनी वेबसाइट, जल्द लॉन्च किया जाएगा ऐप

Last Modified:
Friday, 29 May, 2020
Kaushik-Izardar

कौशिक इजारदार ने ओवर द टॉप मीडिया सर्विस प्लेटफॉर्म ‘EORTV’ में बतौर एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर जॉइन किया है। ‘EORTV’  एलजीबीटीक्यू (LGBTQ) और इसी तरह की हार्मोनल चुनौतियों का सामना कर रहे समुदाय के बारे में समाज में स्वीकार्यता लाने के लिए उनसे जुड़ी स्टोरीज पर फोकस करता है। इस ओटीटी प्लेटफॉर्म को शुरू करने का उद्देश्य लोगों की मानसिकता में बदलाव लाने के साथ शांति, समानता, बंधुत्व और भाईचारा को बढ़ावा देना है।

‘EORTV’ ने अब अपनी वेबसाइट (www.eortv.com) लॉन्च की है। ‘EORTV’ के लोगो में अंग्रेजी का E अक्षर समानता (EQUALITY) का प्रतीक है और लैंगिक समानता को दर्शाने के लिए इसे हरे रंग में रखा गया है। ‘EORTV’ का हेडक्वार्टर मुंबई में है और इसका परिचालन गोरेगांव वेस्ट से किया जा रहा है।

इस बारे में कौशिक इजारदार का कहना है, ‘EORTV की वेबसाइट की घोषणा कर हम बहुत उस्ताहित हैं। EORTV ऐप की जल्द लॉन्चिंग की जाएगी। इन गर्मियों में खासकर क्वारंटाइन के दौर में हम लोगों को ऐसा एंटरटेनमेंट उपलब्ध कराने की योजना बना रहे हैं, जो सभी धर्म, संस्कृतियों, उम्र, भाषा और जीवन के अन्य क्षेत्रों से जुड़ा है। यह सभी कंटेंट वेबसाइट पर उपलब्ध है और EORTV Originals को छोड़कर ऐप पर भी मुफ्त में उपलब्ध होगा। ऑरिजिनल्स का काम अभी शुरुआती दौर में है और लॉकडाउन के बाद सरकार की ओर से ग्रीन सिग्नल मिलते ही इसकी शूटिंग शुरू कर दी जाएगी।’

बता दें कि डॉ. कौशिक इजारदार को टेलिविजन, डिजिटल, मीडिया और ऐंटरटेनमेंट के अलावा फार्मास्यूटिकल सेक्टर में काम करने का दो दशक से ज्यादा का अनुभव है। वह पूर्व में ‘Viacom18 Media’, ‘ZEEL’, ‘INX Media’, और ‘Fulford India Limited’समेत कई कंपनियों के साथ काम कर चुके हैं। एक एंटरप्रिन्योर के रूप में वह ‘एक्सचेंज4मीडिया’ में चीफ बिजनेस ऑफिसर और ‘एशिया टीवी’ में सीओओ भी रह चुके हैं।

मार्केटिंग में एमबीए कौशिक ने फिलॉसफी में डॉक्टरेट (PhD) की डिग्री ली है। इसके अलावा उन्होंने आईआईएम कोलकाता से सीनियर स्ट्रैटेजिक मैनेजमेंट (senior strategic management) का कोर्स भी किया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जाने-माने खेल पत्रकार अयाज मेमन को मिली नई मंजिल

पत्रकारिता में अपने 40 साल से ज्यादा के करियर में अयाज मेमन तमाम अखबारों में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

Last Modified:
Thursday, 28 May, 2020
Ayaz Memon

जाने-माने खेल पत्रकार अयाज मेमन अब ‘1 प्ले स्पोर्ट्स’ (1 Play Sports) से जुड़ गए हैं। उन्होंने मई में यहां पर बतौर कंसल्टिंग एडिटर-इन-चीफ, इंडिया जॉइन किया है। अपनी नई भूमिका में मेनन इस स्टार्टअप की जड़ें मजबूत करने और भारतीय स्पोर्ट्स मीडिया मार्केट में इसका विस्तार करने का काम करेंगे। वह और उनकी टीम ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंच बनाने के लिए स्पोर्ट्स संबंधी कंटेंट डेवलप करेगी और कंपनी को रणनीतिक रूप से लाभ पहुंचाने का काम करेगी।

बता दें कि मेमन को मीडिया इंडस्ट्री में काम करने का 40 साल से ज्यादा का अनुभव है। अपने अब तक के करियर में वह स्पोर्ट्स राइटर, एडिटर और कॉलमिस्ट के तौर पर तमाम अखबारों जैसे-मिड-डे, बॉम्बे टाइम्स, डीएनए, टाइम्स ऑफ इंडिया, हिन्दुस्तान टाइम्स और डेक्कन क्रॉनिकल आदि में काम कर चुके हैं। इसके अलावा वह टाइम्स नाउ. न्यूजएक्स और नेटवर्क18 जैसे न्यूज चैनल्स के अलावा स्टार स्पोर्ट्स और सोनी स्पोर्ट्स पर टीवी कमेंटेटर/एनालिस्ट भी रह चुके हैं।

यही नहीं, वह दस क्रिकेट वर्ल्डकप, 250 से ज्यादा टेस्ट मैच 400 एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय मैच के साथ-साथ 1988 और 2012 के ओलंपिक्स, 1998 और 2010 के राष्ट्रमंडल खेल, 1990 के एशियन गेम्स, 2006 फीफा वर्ल्डकप, 1991 और 1993 के विंबलडन चैंपियनशिप समेत तमाम अंतरराष्ट्रीय इवेंट्स को कवर कर चुके हैं। क्रिकेट पर वह चार किताबें भी लिख चुके हैं और ‘India 50 – The Making of a Nation’ के सह लेखक भी हैं।

‘1 Play Sports’ के फाउंडर और सीईओ मोहित लालवानी ने मेमन की जॉइनिंग पर खुशी जताते हुए कहा, ‘इंडियन स्पोर्ट्स में अयाज का काफी योगदान है। उन्हें विषय की बहुत अच्छी समझ है। 1 Play Sports की टीम में उनके शामिल होने पर मैं काफी खुश हूं। मुझे पूरा विश्वास है कि इस कदम से हमें भारत में नई ऊंचाइयों को छूने में मदद मिलेगी, जैसा कि हमने दक्षिण पूर्व एशियाई देशों में प्रदर्शन किया है।’

1 Play Sports ने नेहा एस वॉरियर (Neha S Warrier) को बतौर कंट्री मैनेजर नियुक्त कर भारत में अपने परिचालन की शुरुआत की थी। इसके बाद से क्षेत्र में अपना विस्तार करते हुए यह नेशनल और एशियन टूर्नामेंट की लाइव स्ट्रीमिंग सफलतापूर्वक कर चुकी है। अयाज की नियुक्ति के बारे में नेहा वॉरियर का कहना है, ‘हम भारत में अपना व्युअर बेस बढ़ा रहे हैं। ऐसे में अयाज जैसे दिग्गज का 1 Play Sports में हम स्वागत करते हैं। हमें अयाज के ज्ञान और अनुभव का काफी फायदा मिलेगा।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस बड़े पद पर Khabri से जुड़े दुष्यंत कोहली

हिंदी डिजिटल ऑडियो कंटेंट प्लेटफॉर्म ‘खबरी’ को जॉइन करने से पहले दुष्यंत कोहली ‘nexGTv’ में चीफ ग्रोथ ऑफिसर की जिम्मेदारी निभा रहे थे

Last Modified:
Wednesday, 27 May, 2020
Dushyant Kohli

हिंदी डिजिटल ऑडियो कंटेंट प्लेटफॉर्म ‘खबरी’ (Khabri) ने दुष्यंत कोहली को चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर के पद पर नियुक्त किया है। अपनी इस भूमिका में वह कंपनी के बिजनेस ऑपरेशंस, विस्तार और ओवरऑल ग्रोथ के लिए जिम्मेदार होंगे। डिजिटल मीडिया के क्षेत्र में काम करने का कोहली को 15 साल से ज्यादा का अनुभव है। इंडस्ट्री की बेहतर समझ के साथ उन्हें टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भी महारत हासिल है।

कोहली ने पेरिस के ‘École des Ponts Business School’ से मार्केटिंग और आईटी में एमबीए किया हुआ है। पूर्व में वह देश-विदेश की तमाम बड़ी कंपनियों जैसे- Mamba CJSC (wamba.com), HT Mobile Solutions (A JV of Velti plc and HT Media), Zapak Digital Entertainment, BCCL और Indian Expres आदि के साथ काम कर चुके हैं।

‘खबरी’ को जॉइन करने से पहले कोहली ‘nexGTv’ में चीफ ग्रोथ ऑफिसर की जिम्मेदारी निभा रहे थे। दुष्यंत कोहली की नियुक्ति के बारे में ‘खबरी’ के को-फाउंडर और सीईओ पुलकित शर्मा ने कहा, ‘दुष्यंत ने कई उभरते हुए व्यवसायों को स्थापित ब्रैंड्स में बदलने की अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया है। पिछले कुछ सालों में वह तमाम कंपनियों में विभिन्न पदों पर अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभा चुके हैं। हमें विश्वास है कि विषय पर अच्छी पकड़ और अनुभव की बदौलत दुष्यंत ‘खबरी’ को एक नए मुकाम तक ले जाएंगे।’  

वहीं, इस बारे में कोहली का कहना है, ‘खबरी के साथ अपनी नई पारी शुरू करने को लेकर मैं काफी उत्साहित हूं। तमाम बड़ी कंपनियों के साथ काम करने के बाद मैं ऐसे स्टार्टअप से जुड़ना चाहता था जो भारत में ‘ओवर द टॉप’ क्षेत्र में व्याप्त गैप को पूरा करने में जुटा है और ‘खबरी’ बहुत अच्छे अवसर के रूप में सामने आया है। मैं कंपनी को सफलता के नए मुकाम पर ले जाने के लिए तत्पर हूं।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

राहुल गांधी बोले, मालिकों की खुशी के लिए सच से खिलवाड़ करता है बिकाऊ मीडिया

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मीडिया के एक वर्ग पर तीखा हमला बोला है। उन्होंने मीडिया के एक वर्ग पर आरोप लगाते हुए कहा कि महाराष्ट्र में कोविड-19 की स्थिति पर उनकी टिप्पणी को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया है

Last Modified:
Wednesday, 27 May, 2020
rahul

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मीडिया के एक वर्ग पर तीखा हमला बोला है। उन्होंने मीडिया के एक वर्ग पर आरोप लगाते हुए कहा कि महाराष्ट्र में कोविड-19 की स्थिति पर उनकी टिप्पणी को तोड़ मरोड़कर पेश किया गया है। राहुल गांधी ने ट्विटर पर एक वीडियो पोस्ट किया जिसमें वह राज्य में व्याप्त स्थितियों के बारे में बात कर रहे हैं।

राहुल गांधी ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए एक वीडिया शेयर करते हुए कहा,  ‘इस वीडियो को देखिये और समझिये कि किस प्रकार बिकाऊ मीडिया अपने मालिकों की सेवा के लिए सच को तोड़ मरोड़कर पेश करता है और असल मुद्दों से ध्यान भटकाता है।’

गौरतलब है कि एक दिन पहले मंगलवार को मीडिया में ऐसी खबरें आयी थी कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक बयान देकर महाराष्‍ट्र में बनी गठबंधन सरकार की दो पार्टियों शिवसेना और राष्‍ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के सामने असहज स्थिति पैदा कर दी थी, जब राहुल से महाराष्ट्र में कोविड-19 के बढ़ते मामले के बारे में पूछा गया था, जहां पर कांग्रेस सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल है। तब उन्होंने कहा था कि सरकार चलाने और सरकार का समर्थन करने में अंतर होता है। राहुल ने कहा, ‘महाराष्ट्र सरकार को हम समर्थन दे रहे हैं और निर्णय लेने की अहम भूमिका में नहीं हैं। हम पंजाब, छत्‍तीसगढ़, राजस्‍थान और पुडुचेरी में नीति निर्माता (Decision Maker) हैं सरकार को चलाने और इसका समर्थन करने में फर्क होता है।' साथ ही उन्होंने कहा था कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में महाराष्ट्र सरकार को केंद्र सरकार की पूरी मदद की जरूरत है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

COVID-19 से प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, आउटडोर मीडिया की आय पर पड़ा ये बड़ा असर: पीएचडी चैंबर्स

कोरोना वायरस का मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र पर भारी असर हुआ है। यह बात उद्योग मंडल पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (पीएसडीसीसीआई) की एक रिपोर्ट में सामने आई है

Last Modified:
Tuesday, 26 May, 2020
PHD Chamber

कोरोना वायरस का मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र पर भारी असर हुआ है। यह बात उद्योग मंडल पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (पीएसडीसीसीआई) की एक रिपोर्ट में सामने आई है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि इस महामारी के कारण प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, आउटडोर मीडिया और ईवेंट आदि क्षेत्रों की आय में बड़ी गिरावट आई है।

पीएचडीसीसीआई के अध्यक्ष डी.के. अग्रवाल और अन्य अधिकारियों ने संगठन की रिपोर्ट ‘आउटलुक ऑफ मीडिया एंड एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री इन दि कोविड सिनारियो’ को हाल ही में केन्द्रीय सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को सौंपी।

संगठन ने एक बयान में कहा, ‘मीडिया कोविड-19 महामारी के कारण सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में से एक रहा है। प्रिंट मीडिया की प्रसार संख्या में काफी हद तक कमी दर्ज की गई है और इसकी विज्ञापन आय में भारी नुकसान हुआ है। विज्ञापन राजस्व में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को भी भारी नुकसान हुआ और लॉकडाउन के कारण सड़कों पर यातायात नहीं होने के कारण आउटडोर मीडिया के सभी ऑर्डर रद्द हो गए।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि लॉकडाउन के दौरान किसी प्रकार के ईवेंट की अनुमति न होने के चलते ईवेंट बिजनेस भी खाली गया है। चैंबर ने सूचना-प्रसारण मंत्री से आग्रह किया कि वे इस रिपोर्ट में दी गई सिफारिशों के आधार पर तत्काल सुधार उपायों को लागू करें।

रिपोर्ट में बताया गया है कि कोविड-19 का मीडिया एवं मनोरंजन उद्योग के ऊपर प्रमुख प्रभावों में से एक अस्थिरता है और सभी मीडिया क्षेत्रों में विज्ञापन राजस्व में गिरावट आई है।

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि रेडियो, टीवी, प्रिंट, आउटडोर मीडिया की विज्ञापन आय में काफी गिरावट दर्ज की गयी है। अग्रवाल ने कहा कि विज्ञापन आय में आ रही लगातार गिरावट मीडिया इंडस्ट्री के लिए जोखिम पैदा कर रही है क्योंकि मीडिया के लिये आय का एक प्रमुख स्रोत विज्ञापन है।

संगठन ने सरकार से इस वित्त वर्ष में अपने वार्षिक विज्ञापन बजट का पूर्ण उपयोग सुनिश्चित करने की दिशा में सचेत प्रयास करने का आग्रह किया। रिपोर्ट में कहा गया है कि सार्वजनिक उपक्रमों, कॉरपोरेट्स और उद्योग हितधारकों को भी प्रभावी विज्ञापन अभियान के माध्यम से अपने उपभोक्ताओं से जुड़ना चाहिए।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

UNI में विश्वास त्रिपाठी को फिर मिली ये बड़ी जिम्मेदारी

उनकी यह नियुक्ति दो साल के लिए की गई है। शनिवार को हुई बोर्ड मीटिंग में यह फैसला लिया गया।

Last Modified:
Tuesday, 26 May, 2020
Vishwas Tripathi

विश्वास त्रिपाठी को एक बार फिर ‘यूनाइटेड न्यूज ऑफ इंडिया’ (UNI) के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स का चेयरमैन चुना गया है। उनकी यह नियुक्ति दो साल के लिए की गई है। शनिवार को हुई बोर्ड मीटिंग में यह फैसला लिया गया।  

त्रिपाठी ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (ब्रिक्स सीसीआई) के चेयरमैन भी हैं। ब्रिक्स देशों का यह संगठन पड़ोसी और मित्र देशों के साथ वाणिज्य और उद्योग को बढ़ावा देता है। त्रिपाठी पिछले साल अगस्त में गैर सरकारी संगठन ‘स्टेयर्स फाउंडेशन’ (STAIRS Foundation) के बोर्ड में शामिल हुए थे। यह संगठन देश भर में खेलों के लिए विभिन्न कार्यक्रमों के द्वारा मार्गदर्शन प्रदान करता है। वह दिल्ली फ्लाइंग क्लब की गवर्निंग काउंसिल के सदस्य भी हैं।

विश्वास त्रिपाठी देश की जानी मानी चार्टर्ड अकाउंटेंट फर्म ‘वी सहाय त्रिपाठी एंड कंपनी’ (V Sahai Tripathi and Co) के पार्टनर भी हैं। वह ई-गर्वनेंस, ई बैंकिंग और फाइनेंसियल सर्विसेज की मार्केटिंग पर तमाम किताबें भी लिख चुके हैं।

‘उर्वरा एग्रो बायोटेक प्राइवेट लिमिटेड’ (Urvara Agro Biotech Pvt Ltd) के चेयरमैन होने के साथ ही वह ‘फाउंडेशन ऑफ ऑर्गनाइजेशन रिसर्च एंड एजुकेशन’ (FORE) के सदस्य हैं । इसके अलावा वह ‘इंटरनेशनल जर्नलिस्ट सेंटर’ (International Journalist Centre) के लाइफ टाइम मेंबर भी हैं।

अपने करियर के दौरान त्रिपाठी ने कई संगठनों को लाभदायक और टिकाऊ उद्यम बनाने में काफी मदद की है। उन्होंने ‘ईएनआरआई ओमनीकेयर’ (eNRI OmniCare) को वित्तीय संचालन में भी मार्गदर्शन दिया है। वह कृषि के क्षेत्र में काम करने वाली ‘रोज मल्टीस्टेट मल्टी परपज को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड’ (Rose Multistate Multi purpose co-operative society Limited) के चेयरमैन पद की जिम्मेदारी भी संभाल रहे हैं।

दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से ग्रेजुएट विश्वास त्रिपाठी ने वर्ष 1988 में इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंट्स ऑफ इंडिया (ICAI) से चार्टर्ड अकाउंटेंट की डिग्री ली है। इसके अलावा वह ज्योतिषशास्त्र में ‘ज्योतिष प्रवीन’ हैं और ज्योतिष विज्ञान के अध्ययन में उनकी खासी दिलचस्पी है। उन्हें मैनेजमेंट कंसल्टेंसी, कॉरपोरेट एडवाइजरी, लेखा परीक्षा एवं कराधान और निवेश योजना और व्यावसायिक सलाहकार सेवाएं व व्यवसाय विकास और व्यवसायिक प्रबंधन के क्षेत्र में विशेष अनुभव है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए