अरनब गोस्वामी की बीजेपी सरकार को चेतावनी, विपक्ष नही है तो Republic संभालेगा मोर्चा

रिपब्लिक टीवी नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी ने लोगों से एकजुट होने का आह्वान किया

नीरज नैयर by नीरज नैयर
Published - Tuesday, 25 June, 2019
Last Modified:
Tuesday, 25 June, 2019
ARNAB GOSWAMI

रिपब्लिक टीवी नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी हरियाणा की भाजपा सरकार से खासे खफा हैं। अपने शो ‘डिबेट विद अरनब’ में उन्होंने न केवल खुलकर अपनी नाराजगी जाहिर की, बल्कि एक तरह से सरकार को चुनौती भी डे डाली कि मीडिया और जनता खामोश नहीं रहेगी। दरअसल, मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर और उनके मंत्री बलात्कार के दो मामलों में 20 साल की सजा काट रहे गुरमीत राम रहीम को जेल से बाहर लाने के लिए बेताब हैं। इसके लिए नियम-कानून को भी ताक पर रखा जा रहा है।

नियमों के मुताबिक, दो साल की सजा पूरी होने के बाद ही किसी कैदी को पैरोल मिल सकती है। गुरमीत राम रहीम को जेल में रहते हुए अभी दो साल पूरे नहीं हुए हैं, लेकिन उसने पैरोल के लिए अर्जी दाखिल कर दी है और सुनारिया जेल प्रशासन ने आवेदन स्वीकार भी कर लिया है। यह सारी कवायद इस साल अक्टूबर में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर है। यदि बाबा बाहर आता है  तो उसके लाखों अनुयायी भाजपा के पक्ष में वोट डालने से नहीं झिझकेंगे। अरनब इस बात को लेकर नाराज हैं कि आखिर पूरी की पूरी सरकार एक ऐसे व्यक्ति का समर्थन करती कैसे नजर आ रही है, जो बलात्कार जैसे गंभीर अपराध का दोषी है।

‘डिबेट विद अरनब’ की शुरुआत में ही गोस्वामी ने जमकर हरियाणा सरकार के मंत्रियों पर हमला बोला। बेहद गंभीर मुद्रा में अरनब ने लोगों से इस विषय पर एकजुट होने का आह्वान भी किया। उन्होंने कहा, ‘बलात्कारी गुरमीत राम रहीम जेल से बाहर आना चाहता है और हरियाणा सरकार इसका समर्थन कर रही है। मैं आप सभी से कहता हूं कि एकसाथ आयें और सुनिश्चित करें कि ऐसा संभव न हो।’

उन्होंने आगे कहा, ‘नेता और तथाकथित बाबा कानून का दुरुपयोग करना अच्छी तरह से जानते हैं, लेकिन यदि हम सब एक साथ खड़े हो जाएं तो हम उन्हें हरा सकते हैं। आप और मैं सभी जानते हैं कि राम रहीम हत्यारा है, किसान नहीं।’ इसके बाद अरनब ने हरियाणा सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा, ‘हरियाणा सरकार राम रहीम की पैरोल के विरोध के बजाय उसका समर्थन कर रही है, ताकि वो विधानसभा चुनाव में कुछ वोट के लिए उसके साथ सौदेबाजी कर सके और यदि आप और हम एकसाथ अपनी आवाज बुलंद करते हैं  तो हम हरियाणा सरकार को शिकस्त दे सकते हैं और हम ऐसा करके रहेंगे।’

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए अरनब ने कहा, ‘हमें अपनी आवाज बुलंद करनी होगी और तेज आवाज में सरकार से सवाल पूछना होगा। यदि आज राम रहीम को नहीं रोका गया तो कल आसाराम भी इस दावे के साथ जेल से बाहर आ जायेगा कि वो बलात्कारी नहीं, बल्कि व्यापारी है और इसलिए यह समय है कि हम सभी आवाज उठायें।’

इतना ही नहीं, अरनब ने नेताओं को यह चेतावनी भी दे डाली कि यदि उन्होंने सही-गलत में भेद करना नहीं सीखा, तो उन्हें विरोध करना बखूबी आता है। अरनब ने तेज स्वर में कहा, ‘देश में विपक्ष भले ही न हो, लेकिन हम हैं। देश में विपक्ष भले ही न हो, लेकिन कुछ मीडिया संस्थान अभी भी हैं, देश में विपक्ष भले ही न हो, लेकिन लोग हैं और वे राजनीतिक फायदे के लिए इस बलात्कारी को जेल से बाहर निकालने पर खामोश नहीं रहेंगे। दर्शकों मैं आपको फिर से याद दिलाना चाहूंगा कि इस देश में विपक्ष भले ही न हो, लेकिन मैं और आप हैं और हमारी आवाज नहीं दबेगी।’

शो में बतौर अतिथि मौजूद भाजपा नेता और समर्थक भी अरनब के गुस्से से नहीं बच सके। उन्होंने भाजपा प्रवक्ता से कहा, ‘एक बलात्कारी के साथ राजनीतिक सौदा करके आप उसके पैरोल का विरोध नहीं कर रहे। आप कह रहे हैं कि वो खेती करेगा, एक बलात्कारी को आप किसान कहकर किसानों का अपमान कर रहे हैं। यदि आपको विश्वास है कि आप चुनाव हार जायेंगे, तो हार जाइये। मैं कहूंगा कि हार जाइये, मगर एक बलात्कारी के साथ डील मत कीजिये।’

इतना ही नहीं, उन्होंने भाजपा नेता से पूछा कि क्या आप इसकी गारंटी लेती हैं कि राम रहीम बाहर आने के बाद कोई अपराध नहीं करेगा, देश छोड़कर नहीं भागेगा? आपके पास बोलने के लिए कुछ नहीं है, लेकिन अपनी अंतरात्मा में झांकिये कि एक बलात्कारी के पास क्या खेती है। आप किस कानून की बात कर रहे हैं, आप उसका विरोध क्यों नहीं कर रहे हैं’?

अरनब यहीं नहीं रुके, उन्होंने राम रहीम की पैरोल का समर्थन करनी वालीं भाजपा नेता से कहा ‘अनीला सिंह शायद आपको लगता है कि इस चुनाव के बाद देश में विपक्ष नहीं है, लेकिन मैं आपको कह रहा हूं कि ये बलात्कारी बाहर नहीं दिखेगा, लोग खड़े हो जाएंगे। लोग आपकी सरकार के खिलाफ खड़े हो जाएंगे, आप सुधर जाइये, विरोध कीजिये, आप नहीं करेंगे तो करवाया जाएगा। मैं धमकी नहीं दे रहा हूं, आप सुधर जाइये। मुझे दूसरे मीडिया के बारे में पता नहीं, लेकिन रिपब्लिक है, आज यह बलात्कारी निकल गया तो कल आसाराम निकल जाएगा।’ पूरे शो में भाजपा नेता और पैरोल का समर्थन करने वाले अरनब के तीखे सवालों का सामना करते रहे।

अरनब गोस्वामी का ये डिबेट शो आप यहां देख सकते हैं-

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इस प्रतिष्ठित अवॉर्ड के लिए चुने गए राजदीप सरदेसाई

11 अगस्त 2019 को दिल्ली के इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित कार्यक्रम में दिया जाएगा यह अवॉर्ड

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Monday, 22 July, 2019
Last Modified:
Monday, 22 July, 2019
Rajdeep Sardesai

प्रतिष्ठित पत्रकार प्रेम भाटिया की याद में पत्रकारों को दिए जाने वाले ‘प्रेम भाटिया अवॉर्ड’ की घोषणा कर दी गई है। इस साल इस अवॉर्ड के लिए तीन पत्रकारों को चुना गया है। इस साल यह अवॉर्ड दो कैटेगरी में दिया गया है। इसके तहत ‘पॉलिटिकल रिपोर्टिंग’ कैटेगरी में वरिष्ठ पत्रकार और इंडिया टुडे के कंसल्टिंग एडिटर राजदीप सरदेसाई को इस अवॉर्ड के लिए चुना गया है। राजदीप सरदेसाई को वर्ष 2019 के चुनाव में प्रिंट/टीवी में उनके कॉलम्स/कमेंट्री के लिए इस अवॉर्ड के लिए चुना गया है।

इसके अलावा ‘पर्यावरण और विकास’ कैटेगरी में ‘Down to Earth’ न्यूज पोर्टल के इशान कुकरेती और स्वतंत्र पत्रकार शारदा बालासुब्रह्मण्यम को इस अवॉर्ड के लिए चुना गया है। वरिष्ठ पत्रकार टीएन निनान की अध्यक्षता में गठित जूरी ने इन पत्रकारों का चयन किया है। बताया जाता है कि 11 अगस्त की शाम साढ़े छह बजे इंडिया इंटरनेशनल सेंटर में आयोजित एक समारोह में यह अवॉर्ड दिया जाएगा। पूर्व नौसेना प्रमुख एडमिरल अरुण प्रकाश (रिटायर्ड) कार्यक्रम में ‘India’s Contemporary Security Challenges’ पर अपने विचार रखेंगे।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इस चैनल की कश्ती में सवार हुईं पत्रकार कंचन जैसवानी

कई चैनल्स में बतौर न्यूज एंकर निभा चुकी हैं अपनी जिम्मेदारी

Last Modified:
Monday, 22 July, 2019
Kanchan Jaiswani

पत्रकार और न्यूज एंकर कंचन जैसवानी ने ‘स्वराज एक्सप्रेस’ चैनल से इस्तीफा दे दिया है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह की पत्नी और वरिष्ठ पत्रकार अमृता राय व राज्यसभा टीवी के पूर्व सीईओ गुरदीप सप्पल द्वारा शुरू किए गए इस चैनल में वह बतौर न्यूज एंकर काम कर रही थीं। कंचन जैसवानी ने अब आईटीवी ग्रुप का हिंदी न्यूज चैनल ‘इंडिया न्यूज’ जॉइन कर लिया है। यहां उन्हें आउटपुट टीम में सीनियर प्रोडयूसर/एंकर की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

कंचन जैसवानी ने नोएडा की एमिटी यूनीवर्सिटी से जर्नलिज्म का कोर्स किया है। ‘स्वराज एक्सप्रेस’ से पहले वह ‘सहारा समय’, ‘न्यूज वर्ल्ड’, ‘फोकस टीवी’ और ‘सूर्या समाचार’ टीवी में एंकर रह चुकी हैं। कंचन जैसवानी को समाचार4मीडिया की तरफ से नई पारी की शुभकामनाएं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

तिरंगा टीवी में पारी को विराम दे अब इस मीडिया ग्रुप से जुड़े विनीत मल्होत्रा

इससे पहले कई न्यूज चैनल्स में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं

Last Modified:
Monday, 22 July, 2019
Vineet Malhotra

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल और उनकी पत्नी ने ‘तिरंगा टीवी’ नामक जो चैनल शुरू किया था, हाल ही में बरखा दत्त ने कैसे उस ‘ड्रीम प्रोजेक्ट’ के फेल होने के पीछे की कहानी का खुलासा किया था, वो सबको पता ही है। इसके साथ ही तिरंगा टीवी के कर्मचारी औऱ पत्रकार अपनी-अपनी नई पारी की तलाश में जुट गए हैं। इसी क्रम में विनीत मल्होत्रा ने भी 17 जुलाई को अपनी नई पारी शुरू कर दी है।

विनीत मल्होत्रा ने जनवरी में ही तिरंगा टीवी जॉइन किया था। वो वहां एग्जिक्यूटिव एडिटर के पद पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे। तिरंगा टीवी से पहले विनीत मल्होत्रा टाइम्स नाउ, टेन स्पोर्ट्स, जी, नियो और न्यूज वर्ल्ड इंडिया आदि चैनल्स में काम कर चुके हैं। अब उनकी नई पारी आईटीवी ग्रुप के अंग्रेजी चैनल न्यूज एक्स के साथ होगी। न्यूज एक्स में विनीत बतौर कंसल्टिंग एडिटर (आउटपुट) अपनी भूमिका निभाएंगे। विनीत को इस नई पारी के लिए समाचार4मीडिया की तरफ से ढेरों शुभकामनाएं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘अनिरुद्ध यादव, आज आखिरी बार तुम्हारे बारे में लिख रहा हूं’

ट्रेन हादसे में लल्लन टॉप के पत्रकार अनिरुद्ध यादव की हो चुकी है मौत

Last Modified:
Monday, 22 July, 2019
Anirudh yadav

अनिरुद्ध यादव, आज आखिरी बार तुम्हारे बारे में लिख रहा हूं। अब शायद फिर कभी नहीं लिखूंगा। अब लिखा भी नहीं जाएगा। आज सुबह-सुबह सपने में तुम्हें घर आकर साथ खाना खाते देखा। पता नहीं, क्या कहने आए थे तुम? मुझे अच्छी तरह इस बात का पता था कि ये सिर्फ सपना है, हकीकत में अब कुछ नहीं बचा। मगर पता नहीं क्यूं, जी जान से इस सपने की उम्र बढ़ाने पर तुला हुआ था? जाने से पहले आखिरी बार मिलने आए थे क्या?

साल 2003 में जब अमर उजाला कानपुर के दफ्तर में तुमसे पहली बार मिला था, तब से लेकर तुम्हारी अंतिम खबर सुनने तक मेरे जेहन में तुम्हें लेकर बस एक ही ख्याल छाया रहा कि दोस्त तुमसे अच्छा, तुमसे नेक आदमी जीवन में नहीं देखा। मेरे साथ के सब दोस्त तुम्हें जानते थे। इंडिया टीवी के कितने ही साथी कैमरामैन मेरे साथ तुम्हारे बर्रा वाले घर पर होकर आए थे। सब तुम्हारे मुरीद थे। तुम जान थे हम लोगों की। जिंदगी में एक शानदार आदमी का होना कितना मायने रखता है, ये तुम्हारे होने से समझते आए थे हम।

पिछले 16 सालों में ये लगभग दिन-रात का साथ था। मुंबई, कानपुर, इलाहाबाद, दिल्ली, लखनऊ....वो कौन सी जगह बाकी है जहां तुम साथ नहीं रहे! अमर उजाला, दैनिक जागरण, दैनिक भास्कर, टीवी 9..., वो कौन सा ठिकाना है, जहां तुम पास नहीं थे! जब से तुमने लल्लन टॉप जॉइन किया था, रोज शाम को एक फोन कॉल मेरा पीछा करता था। ‘कहां हो बे!, आओगे नहीं आज।’ रोज ही ये आवाज खींच लेती थी। फिल्मसिटी आने का कोई कारण नहीं होने पर भी तुम सबसे बड़ा कारण थे। चाय की दुकानों पर तुम्हारे साथ रोज की बैठकी जीवन का नशा थी। वजह सिर्फ तुम थे। साथ बैठकर घड़ी की सुइयां पीछे करते जाने की पुरानी आदत थी हमें। तुम्हें छोड़कर कौन जा सकता है दोस्त! न जाने कहां-कहां की बातों में कितना वक्त बीत जाता था। इतने जानदार शख्स थे तुम।

जिंदगी में कभी-कभी बहुत मुश्किल होता है, ‘है’ का ‘थे’ में बदल जाना। तुम्हारे नाम के साथ एक रोज ‘थे’ लगाकर लिखना पड़ेगा, कभी सोचा भी न था। कल से दोस्तों के फोन आ रहे हैं। तुम्हारे बारे में हर कोई खबर पूछ रहा है। मैं वो सब बता रहा हू्ं, जो अभी भी समझ नहीं पा रहा हूं।

शाम को ही तुमसे फोन पर बात हुई थी। मैं फिल्म सिटी आया भी था पर तुम कानपुर के लिए जा चुके थे। थोड़ी देर तुम रुके होते या थोड़ी देर पहले आ गया होता तो तुमसे मुलाकात हो जाती। पता नहीं, रात के वक्त ट्रेन से तुम कैसे उतर रहे थे, कैसे गिर गए, क्या हुआ? कुछ नहीं मालूम। मालूम भी तब चला, जब कुछ नहीं बाकी बचा था।

हर शुक्रवार को तुम्हारा कानपुर के लिए जाना, सोमवार को वापस दिल्ली लौटना और शाम को फिल्मसिटी में हमारा मिलना....सारी कड़ियां टूट गई हैं। अब जोड़ने के लिए कुछ भी बाकी नहीं बचा है। दोस्त, पता नहीं तुम कहां चले गए हो? बस इतना ही पता है कि अब वापस नहीं आओगे। मगर इंतजार कब पीछा छोड़ता है? अभी से सोमवार की शाम का इंतजार कर रहा हूं, जबकि अब कोई नहीं है, जो दोपहर ढ़लते-ढ़लते एक फोन करके यूं याद कर ले, ‘कहां हो बे! आओगे नहीं आज।‘

तेजी से भागती हुई इस ज़िंदगी में सनसनाहट के साथ कितना कुछ छूट जाता है, फिर भी कितना कुछ ठहर जाता है, हमारे भीतर, हमेशा के लिए। सुकून से रहना,दोस्त। अब से आसमान तुम्हारा है, पर हम इस जमीन पर छूटी तुम्हारी यादों के साथ हैं। हमेशा। हर वक्त। हर आवाज पर।

(टीवी पत्रकार अभिषेक उपाध्याय की फेसबुक वॉल से)

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टीवी डिबेट में ‘भिड़े’ पत्रकार और पार्टी प्रवक्ता, देखें विडियो

मॉब लिंचिंग के मामलों को लेकर बड़े चैनल पर चल रही थी लाइव डिबेट

Last Modified:
Saturday, 20 July, 2019
Debate Show

न्यूज चैनलों पर होने वाली डिबेट के दौरान कई बार हंगामा भी खड़ा हो जाता है। ऐसा ही कुछ न्यूज चैनल ‘आजतक’ पर लाइव डिबेट शो के दौरान देखने को मिला, जब वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश ने न सिर्फ लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के प्रवक्ता अरविंद वाजपेयी को काफी खरी-खरी सुनाई, बल्कि उन्हें तानाशाह की तरह बर्ताव (डॉन्ट बिहैव लाइक डिक्टेटर) न करने की हिदायत भी दे डाली।  

दरअसल, देश में मॉब लिंचिंग की बढ़ती घटनाओं को लेकर चैनल पर डिबेट चल रही थी। शो की एंकरिंग अंजना ओम कश्यप कर रही थीं। डिबेट में उर्मिलेश और अरविंद वाजपेयी समेत बिहार बीजेपी के प्रवक्ता मनोज शर्मा, एआईएमआईएम के प्रवक्ता वारिस पठान, राष्ट्रीय गोरक्षा सेना से जुड़े आशु मोंगिया जन अधिकार पार्टी (जाप) के अध्यक्ष पप्पू यादव और संघ के जानकार संजीव तिवारी चर्चा कर रहे थे।

इसी चर्चा के दौरान एलजेपी प्रवक्ता ने मॉब लिंचिंग को लेकर कानून बनाने की बात कही, इस पर उर्मिलेश का कहना था कि हमारे देश में दुनिया के किसी भी देश से ज्यादा कानून है और सिर्फ कानून बनाने से कुछ होने वाला नहीं हैं। इसके लिए लोगों का मिजाज बदलना होगा और इसके लिए नेताओं को अपनी राजनीति और एजेंडे को बदलना होगा। बस इसी बात को लेकर उर्मिलेश और अरविंद वाजपेयी के बीच बहस हो गई। इस पर उर्मिलेश ने वाजपेयी को खूब खरी-खरी सुनाई। उन्होंने वाजपेयी से ऊंची आवाज में बात न करने के लिए भी कहा। उर्मिलेश का कहना था, ‘ऊंची आवाज में बात मत करिए, क्योंकि मेरी भी आवाज बहुत उंची है। मैं आपकी सरकार की बात नहीं कर रहा हूं। क्या आप मुझे सरकार पर बोलने नहीं देंगे। क्या आप डिक्टेटर हैं। डॉन्ट बिहैव लाइक डिक्टेटर, वर्ना में किसी को बोलने नहीं दूंगा।’

इस घटना से जुड़ा विडियो आप यहां देख सकते हैं-

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दूरदर्शन के सभी चैनल्स का प्रसारण इस तरह सुनिश्चित करेगी सरकार

तमाम शिकायतें मिलने के बाद सूचना-प्रसारण मंत्रालय आया हरकत में

पंकज शर्मा by पंकज शर्मा
Published - Saturday, 20 July, 2019
Last Modified:
Saturday, 20 July, 2019
Doordarshan

सरकार चाहती है कि लोकसभा टीवी और राज्यसभा टीवी के साथ ही दूरदर्शन के सभी 24 चैनल्स का प्रसारण सुनिश्चित हो। इसके लिए सूचना-प्रसारण मंत्रालय (MIB) ने सभी मल्टीसिस्टम ऑपरेटर्स (MSOs) को एक पत्र भेजकर कहा है कि वे अपने नेटवर्क पर दूरदर्शन के सभी चैनल्स को अनिवार्य रूप से शामिल करने के मौजूदा नियम का पालन करें। इसके साथ ही सभी केबल ऑपरेटर्स को यह एफिडेविट जमा करने के लिए कहा गया है कि वे नियमों का पालन कर रहे हैं और दूरदर्शन के सभी चैनल्स दिखा रहे हैं।

इस बारे में सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर का कहना है, ‘मंत्रालय की जानकारी में आया था कि कई केबल ऑपरेटर्स के साथ ही कुछ डायरेक्ट टू होम (DTH) ऑपरेटर्स अपने प्लेटफॉर्म पर दूरदर्शन के सभी 24 चैनल्स अनिवार्य रूप से दिखाने के नियम का पालन नहीं कर रहे हैं।‘ उन्होंने कहा कि इस नियम का कड़ाई से पालन किया जाएगा।

 

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘माफ करना नितेश, हम तुम्हें बचा नहीं पाए’

न्यूज 24 के मेकअप आर्टिस्ट नितेश ने कुछ दिन पूर्व कर ली थी आत्महत्या

Last Modified:
Saturday, 20 July, 2019
Nitesh

कहां चले गए नितेश? क्यों चले गए? ऐसा लग रहा है कि मेकअप रूम में कभी भी आ जाओगे और हंसते हुए कोई कहानी-किस्सा सुनाओगे। अपने काम में बेहतरीन थे तुम। उम्दा शख्स, खुशमिजाज, फिर ये क्या कर लिया? मेरा लखनऊ का कॉन्क्लेव याद है न तुम्हें, कहीं पावर प्लग नहीं मिला और तुमने सिर्फ कंघे से मेरे बाल ऐसे सेट किए कि अब तक की सबसे बेहतरीन तस्वीरें इसी हेयर स्टाइल में आई थीं। अब जब ऐसी इमरजेंसी होगी, तुम बहुत याद आओगे। जब भी मेकअप रूम में जाऊंगी, तुम बहुत याद आओगे। जब भी कॉन्क्लेव होगा, तुम बहुत याद आओगे।

मुझे वो घटना याद है, जब योगेश की बुलेट मोटरसाइकिल चोरी हो गई थी और तुमने उसे खुद आधा पैसा देकर दोबारा खरीदवाई। तब मैंने तुम्हे कहा था कि तुम्हारा दिल बहुत बड़ा है, नहीं पता था कि इतनी पीड़ा उसमें समेट रखी थीं तुमने।

हंसी-मजाक में बात-बात पर शर्त लगाने वाले और हारने पर अपने वादे को पूरा करने वाले नितेश, कुछ कहा क्यों नहीं? जब चार दिन पहले ही मैंने तुमसे पूछा, शांत क्यों हो, चुप क्यों हो, परेशान क्यों हो? तुम एक बार फिर हंसकर चले गए।

मैंने कभी कोई शिकायत कितने भी गुस्से में की, तुमने कभी पलटकर जवाब नहीं दिया, हमेशा हो जाएगा मैम कहकर मान रखा। अपनी बात कभी बताने की जरूरत क्यों नहीं समझी नितेश। दो दिन से ऑफिस में कुछ अच्छा नहीं लग रहा नितेश। छोले-कुलचे खाने के शौकीन थे तुम। अब जब भी उसकी खुशबू आएगी, तुम बहुत याद आओगे नितेश।

भगवान से प्रार्थना है तुम अब कम से कम सुकून में होंगे। वापस मत आना नितेश। ये दुनिया तुम जैसे अच्छे लोगों के लिए बनी ही नहीं है। दो दिन से खुद को कोस रही हूं। काश! मैं उस दिन तुम्हारी मुस्कुराहट के पीछे का दर्द समझ पाती। काश! तुमसे बात करके तुम्हारा दर्द बांट पाती, काश! तुम्हें बता पाती कि जीवन में खुद से ज्यादा कुछ अहमियत नहीं रखनी चाहिए। माफ करना नितेश, हम तुम्हें नहीं बचा पाए।

(वरिष्ठ टीवी पत्रकार साक्षी जोशी की फेसबुक वॉल से)

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दैनिक जागरण के फोटो जर्नलिस्ट के बेटे पर बरपा बदमाशों का कहर, गई जान

परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है

Last Modified:
Saturday, 20 July, 2019
Vinay Sharma

देश में पत्रकारों पर आए दिन हमले हो रहे हैं। कहीं पर पत्रकारों के साथ मारपीट तो कहीं उनकी हत्या के मामले लगातार सामने आते रहते हैं। सिर्फ पत्रकार ही नहीं, बल्कि उनके परिजनों को भी बदमाश निशाना बना रहे हैं। हरियाणा में फरीदाबाद के इस मामले में बदमाशों ने ‘दैनिक जागरण’ के फोटो जर्नलिस्ट  संजय शर्मा के बेटे विनय शर्मा की चाकुओं से ताबड़तोड़ हमला कर हत्या कर दी। परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

बताया जाता है कि सोनीपत के मूल निवासी संजय शर्मा फरीदाबाद के सेक्टर तीन स्थित भूदत्त कॉलोनी में परिवार के साथ रहते हैं। विनय उनका इकलौता बेटा था और दसवीं का छात्र था। उनके परिवार में पत्नी व एक बेटी है। 19 वर्षीय विनय शुक्रवार की दोपहर किसी कार्य से घर से स्कूटी लेकर निकला था। सेक्टर 3 में टैगोर स्कूल के पास कुछ युवकों ने उसे रोककर चाकुओं से हमला कर दिया और गंभीर रूप से घायल हालत में छोड़कर फरार हो गए। स्थानीय लोगों की सूचना पर मौके पर पहुंची पुलिस ने विनय को अस्पताल पहुंचाया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पुलिस ने संजय शर्मा की शिकायत पर भीकम कॉलोनी निवासी अनिकेत नागर, दीपक ठाकुर, हर्ष ठाकुर, शेखर नागर, सुंदर नागर और बूचा नागर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। रिपोर्ट में संजय शर्मा का कहना है कि उनके बेटे ने पहले भी ऐसी शिकायतें की थीं कि आरोपित उसे धमकाते रहते हैं, पर उसने पड़ोस का मामला और बात न बिगड़े इसलिए मामले को तूल देना उचित नहीं समझा और बेटे को समझा-बुझाकर शांत कर दिया था। संजय शर्मा का कहना है कि उन्होंने एक-दो बार थाने में भी शिकायत की, पर दोनों पक्षों को पुलिस ने सामाजिक तौर पर समझा दिया था। फिलहाल, पुलिस ने आरोपितों की तलाश में छापेमारी शुरू कर दी है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Zee Media ने सांसद के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत

पिछले कई दिनों से दोनों पक्षों के बीच चल रहा है विवाद

Last Modified:
Friday, 19 July, 2019
Zee Media

‘जी मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड’ (ZMCL) और  तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा के बीच विवाद गहराता जा रहा है। कुछ दिन पूर्व महुआ मोइत्रा द्वारा ‘जी न्यूज’ (Zee News)  और इसके एडिटर-इन-चीफ सुधीर चौधरी के खिलाफ आपराधिक मानहानि का केस दर्ज कराया गया था। अब खबर है कि ‘जी मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड’ ने महुआ मोइत्रा के खिलाफ एक अदालत में आपराधिक शिकायत दर्ज कराई है। इस शिकायत में महुआ मोइत्रा पर न्यूज चैनल को बदनाम करने का आरोप लगाया गया है।

कंपनी की शिकायत पर एडिशनल चीफ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट समर विशाल ने इस मामले में विचार के लिए एक अगस्त की तारीख रखी है। कंपनी की ओर से दर्ज कराई शिकायत में एडवोकेट विजय अग्रवाल का कहना है, ‘मोइत्रा ने तीन जुलाई को कंपनी के खिलाफ मानहानि पूर्ण बयान दिए थे। मोइत्रा के बयान झूठे और दुर्भावना से प्रेरित थे और कंपनी की प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाने वाले थे। आरोप है कि मोइत्रा ने खुद पर लगे आरोपों का जवाब देते हुए पत्रकारों के सामने न्यूज चैनल पर जानबूझकर इस तरह के बयान दिए थे।’ इस बीच चौधरी ने अपने वकील के माध्यम से कोर्ट से मांग की कि मोइत्रा द्वारा दायर मानहानि के मामले में कथित रूप से छिपाए गए तथ्यों की जांच कराई जाए।

गौरतलब है कि महुआ मोइत्रा ने संसद में 25 जून को फासीवाद पर एक भाषण दिया था, जिसके बारे में सुधीर चौधरी ने दावा किया था कि मोइत्रा के भाषण के अंश अमेरिकी वेबसाइट से हुबहू चुराये गये हैं। आरोप था कि यह आर्टिकल वाशिंगटन मंथली के Martin Longman ने अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के बारे में लिखा था, जिसमें मोइत्रा ने कुछ अंश हूबहू उठा लिए और राष्ट्रपति का नाम हटा दिया। सुधीर चौधरी ने भाषण के अंशों को अंडरलाइन करके भी दिखाया था। हालांकि सुधीर चौधरी के ट्‌वीट के बाद वाशिंगटन मंथली के Martin Longman ने ट्‌वीट करके महुआ मोइत्रा का पक्ष लिया था।

इसके बाद भड़कीं महुआ मोइत्रा ने सुधीर चौधरी के दावे को गलत बताया था। मोइत्रा का कहना था कि यह भाषण उनका अपना था और अन्य मुद्दों से ध्यान हटाने के लिए बीजेपी की ‘ट्रोल आर्मी’ की ओर से इस तरह के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने सुधीर चौधरी पर गलत रिपोर्टिंग के आरोप लगाते हुए लोकसभा में जीटीवी और सुधीर चौधरी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव भी पेश कर दिया था। हालांकि, स्पीकर ओम बिरला ने यह प्रस्ताव खारिज कर दिया था। इसके बाद महुआ मोइत्रा ने सुधीर चौधरी के खिलाफ अदालत में आपराधिक मानहानि का मामला दर्ज कराया था। बता दें कि पूर्व में इनवेस्टमेंट बैंकर रहीं मोइत्रा पश्चिम बंगाल की कृष्णानगर सीट से पहली बार सांसद बनी हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फोटो जर्नलिस्ट महीप कुमार सिंह ने थामा अब इस न्यूज चैनल का दामन

पूर्व में कई न्यूज चैनल्स में जिम्मेदारी निभा चुके हैं महीप कुमार

Last Modified:
Friday, 19 July, 2019
Maheep Kumar

‘भारत समाचार’ चैनल, लखनऊ में बतौर सीनियर कैमरामैन कार्यरत महीप कुमार सिंह ने अब यहां से अलविदा बोल दिया है। यहां वह करीब ढाई साल से अपनी भूमिका निभा रहे थे। महीप कुमार ने अब अपनी नई पारी का आगाज लखनऊ में ‘अपना भारत’ चैनल के साथ किया है। यहां भी उन्हें सीनियर कैमरामैन की जिम्मेदारी दी गई है।

महीप कुमार सिंह को कई न्यूज चैनल्स के साथ काम करने का अनुभव है। पूर्व में वह न्यूज एक्सप्रेस, वॉयस ऑफ इंडिया, नेशनल वॉयस और इंडिया वॉच आदि चैनल्स में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं। वह सूचना और जनसंपर्क विभाग उत्तर प्रदेश राज्य मुख्यालय पर मान्यता प्राप्त प्रतिनिधि के तौर पर भी लखनऊ में काम कर चुके हैं।

मूलरूप से उत्तर प्रदेश में अंबेडकरनगर जिले के रहने वाले महीप कुमार सिंह ने फैजाबाद यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है। इसके अलावा उन्होंने इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से ग्राफिक डिजायन और विडियो प्रॉडक्शन की पढ़ाई भी की है। वर्ष 2006 में उन्होंने नोएडा के इंटरनेशनल स्कूल ऑफ मीडिया एंड एंटरटेनमेंट स्टडीज से विडोयोग्राफी में डिप्लोमा किया है। वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में उन्हें बेस्ट कैमरामैन का अवॉर्ड भी मिल चुका है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए