इन वरिष्ठ पत्रकारों के लिए काल बना 2021, टूट गई सांसों की डोर

साल 2021 अपने सफर के अंतिम पड़ाव पर है। पूरी दुनिया नए साल का बेसब्री से इंतजार कर रही है>

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 31 December, 2021
Last Modified:
Friday, 31 December, 2021
Year Ender 2021

साल 2021 अपने सफर के अंतिम पड़ाव पर है। साल 2021 ने न सिर्फ लोगों के जहन पर, बल्कि तमाम इंडस्ट्री पर भी गहरी नकारात्मक छाप छोड़ी है। ऐसे में पूरी दुनिया नए साल का बेसब्री से इंतजार कर रही है। लोगों को इस साल से काफी उम्मीदें हैं।

मीडिया इंडस्ट्री की बात करें तो लोगों को वर्ष 2021 से काफी उम्मीदें थीं, लेकिन वर्ष 2020 की तरह ये साल भी ज्यादा बेहतर नहीं रहा। इस साल तमाम वरिष्ठ पत्रकारों को काल के क्रूर हाथों ने हमसे छीन लिया। आइए, एक नजर डालते हैं ऐसे ही वरिष्ठ पत्रकारों पर, जो कोरोनावायरस (कोविड-19) महामारी के साथ-साथ अन्य कारणों से इस साल दुनिया को अलविदा कह गए।

दिलीप अवस्थी: इस साल मार्च में दैनिक जागरण के पूर्व संपादक एवं वरिष्ठ पत्रकार दिलीप अवस्थी का लखनऊ में निधन हो गया था। वह उम्र जनित तमाम समस्याओं से जूझ रहे थे। लखनऊ के मूल निवासी दिलीप अवस्थी को विभिन्न मीडिया संस्थानों में काम करने का 40 साल से ज्यादा का अनुभव था। उन्हें कुछ महीनों पूर्व ही ‘आउटलुक’ (Outlook) समूह में बतौर कंसल्टिंग एडिटर नियुक्त किया गया था।

दिलीप अवस्थी ने लखनऊ में ‘पॉयनियर’ अखबार के साथ अपने करियर की शुरुआत की थी। पूर्व में लगभग 13 साल तक वह ‘इंडिया टुडे’ के साथ जुड़े रहे थे। वह ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’, लखनऊ में डिप्टी रेजिडेंट एडिटर के तौर पर भी अपनी जिम्मेदारी निभा चुके थे।

पूरी खबर यहां पढ़ें: नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार दिलीप अवस्थी

मोहन अय्यर: जाने-माने फिल्म पत्रकार और पीआरओ मोहन अय्यर (Mohan Ayyer) का इसी साल मार्च में निधन हो गया था। मोहन अय्यर कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आ गए थे। इसके बाद उन्हें न्यूमोनिया हो गया और डायबिटीज भी थी।

इलाज के लिए मोहन अय्यर को मुंबई के भयंदर स्थित एक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था, जहां 29 मार्च 2021 को उन्होंने अंतिम सांस ली। 30 मार्च की सुबह उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। वह करीब 60 साल के थे। मोहन अय्यर के परिवार में पत्नी और एक बेटा है।

पूरी खबर यहां पढ़ें: कोरोना ने निगल ली जाने माने फिल्म पत्रकार मोहन अय्यर की जिंदगी

रोहित सरदाना: वरिष्ठ पत्रकार और ‘आजतक’ के तेजतर्रार एंकर्स में शुमार रोहित सरदाना का इस साल 30 अप्रैल को निधन हो गया था। कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आने के बाद उन्हें मेट्रो अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उन्हें दिल का दौरा पड़ा और निधन हो गया। उनके परिवार में उनकी पत्नी और दो बेटियां हैं। मूल रूप से हरियाणा के कुरुक्षेत्र के रहने वाले सरदाना ने अपनी माध्यमिक शिक्षा यहां के गीता निकेतन आवसीय विद्यालय से की। सरदाना मनोविज्ञान में स्नातक और गुरु जम्भेश्वर यूनिवर्सिटी से मासकॉम में पोस्ट ग्रेजुएट (परास्नातक) थे। न्यूज एंकर होने के साथ-साथ वे एक स्तंभकार भी थे। देश के चर्चित मुद्दों पर डिबेट शो के साथ-साथ वे उन पर अपनी कलम भी लगातार चलाते रहते थे।

मार्च 2002 से जुलाई 2003 तक सरदाना ने एक ट्रेनी कॉपी एडिटर के रूप में ईटीवी के साथ अपने पत्रकारिता करियर की शुरुआत की थी। ट्रेनी कॉपी एडिटर के तौर पर सरदाना ने एंकरिंग, कापी राइटिंग, एडिटिंग, प्रॉडक्शन और पोस्ट-प्रॉडक्शन वर्क की बारिकियों को सीखा। साल 2003 से 2004 तक वे ‘सहारा समय’ में असिसटेंट प्रड्यूसर के तौर रहे, लेकिन 2004 में वे जी न्यूज में आ गए थे और खुद को एग्जिक्यूटिव एडिटर और एंकर के रूप में स्थापित किया। ‘ईटीवी’, ‘सहारा समय’ और ‘जी न्यूज’ के अतिरिक्त सरदाना ने ‘आकाशवाणी’ के लिए भी काम किया था। करियर के शुरुआत में उन्होंने कई अखबारों के लिए लेख भी लिखे थे।  2017 में ‘आजतक’ के साथ जुड़ गए थे।

हिंदी, अंग्रेजी और हरियाणवी के अतिरिक्त वे गुजराती भी जानते थे। पत्रकारिता में बेहतरीन योगदान के लिए उन्हें बेस्ट न्यूज एंकर का ENBA अवॉर्ड, माधव ज्योति सम्मान, सैनसुई बेस्ट न्यूज प्रोग्राम अवॉर्ड समेत कई पुरस्कारों से नवाजा जा चुका था।

पूरी खबर यहां पढ़ें: कोरोना से जिंदगी का 'दंगल' हार गए वरिष्ठ पत्रकार रोहित सरदाना

चंदन जायसवाल: कोरोना वायरस की वजह से पंजाब केसरी ग्रुप के ‘नवोदय टाइम्स’ के डिजिटल हेड चंदन जायसवाल का भी अप्रैल में निधन हो गया था। चंदन जायसवाल को कोरोना ने जब अपनी चपेट में ले लिया था, तब उनके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का लेवल बहुत ही कम रह गया था, जिसके बाद उन्हें नोएडा के भारद्वाज हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। यहां 22 अप्रैल को दोपहर करीब डेढ़ बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। वे करीब 40 वर्ष के थे।

चंदन जायसवाल बिहार के सिवान जिले के रहने वाले थे। उनके परिवार में उनकी पत्नी और एक बेटा है। चंदन जायसवाल पंजाब केसरी ग्रुप के साथ अक्टूबर, 2014 में जुड़े थे, जिसके बाद उनके नेतृत्व में ही ‘नवोदय टाइम्स’ डिजिटल की नींव रखी गई। इसके पहले वे ‘अमर उजाला’ डिजिटल में चीफ सब एडिटर के पद पर कार्यरत थे। उन्होंने मार्च, 2012 में 'अमर उजाला' जॉइन किया था। इसके पहले अगस्त, 2007 से फरवरी 2012 तक 'दैनिक जागरण' में विभिन्न पदों पर रहते हुए सीनियर सब एडिटर तक की अपनी पारी खेली।

पढ़ें पूरी खबर: ‘नवोदय टाइम्स’ के डिजिटल एडिटर की जिंदगी पर भारी पड़ी महामारी, गई जान

एम.ए.जोसफ: छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ पत्रकार एम.ए. जोसफ का इस साल अप्रैल में हार्टअटैक से निधन हो गया। वे रायपुर में जाना-पहचाना नाम थे। लंबे समय से पत्रकारिता से जुड़े जोसफ ने कई अखबारों में अपनी सेवाएं दी। वे अपनी तेज-तर्रार पत्रकारिता के लिए जाने जाते थे। दैनिक ‘नवभारत’से लंबे अरसे तक वह जुड़े रहे। राज्य निर्माण आन्दोलन में भी अपनी लेखनी से अहम भूमिका निभाई।

पूरी खबर यहां पढ़ें: नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार एम.ए. जोसफ, राज्यपाल-सीएम ने दी श्रद्धांजलि

इंदु जैन: देश के बड़े मीडिया समूहों में शुमार ‘टाइम्स समूह’ (The Times Group) की चेयरपर्सन और देश की जानी-मानी मीडिया शख्सियत इंदु जैन का इस साल मई में निधन हो गया था। वह 84 वर्ष की थीं। इंदु जैन कई दिनों से कोरोना संक्रमण से जूझ रही थीं और अस्पताल में भर्ती थीं,  जहां उन्होंने अंतिम सांस ली।

इंदु जैन ‘द टाइम्स फाउंडेशन’ की अध्यक्ष थीं, जिसे उन्होंने स्थापित किया था। टाइम्स फाउंडेशन बाढ़, चक्रवात, भूकंप और महामारी जैसी आपदा राहत के लिए सामुदायिक सेवा, अनुसंधान फाउंडेशन और टाइम्स रिलीफ फंड चलाता है। वह भारतीय ज्ञानपीठ ट्रस्ट की अध्यक्ष भी थीं, जो प्रतिष्ठित ज्ञानपीठ पुरस्कार प्रदान करती है। इसके अलावा उन्होंने महिलाओं के अधिकारों को लेकर भी आवाज उठाई। जनवरी 2016 में इंदु जैन को भारत सरकार द्वारा पद्म भूषण से सम्मानित किया गया था।

कई बार फोर्ब्स के सबसे अमीर शख्सियतों की लिस्ट में आ चुकीं इंदु जैन FICCI की महिला विंग (FLO) की फाउंडर प्रेजिडेंट भी थीं। अपनी मानवता और देश भर में कई चैरिटी के लिए पहचानी जाने वाली इंदु जैन ने मीडिया के विकास में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

पूरी खबर यहां पढ़ें: नहीं रहीं Times Group की चेयरपर्सन इंदु जैन

शेष नारायण सिंह: मई में ही वरिष्ठ पत्रकार, कॉलमिस्ट और देश-विदेश के राजनीतिक व सामाजिक मुद्दों पर गहरी पकड़ रखने वाले शेष नारायण सिंह का कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आकर निधन हो गया था। शेष नारायण सिंह कोविड-19 से जूझ रहे थे और उन्हें ग्रेटर नोएडा के जिम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस दौरान शेष नारायण सिंह को प्लाज्मा भी दिया गया, लेकिन वह जिंदगी की ‘जंग’ हार गए और उनका निधन हो गया। शेष नारायण सिंह मूलत: सुल्तानपुर के रहने वाले थे। 

पूरी खबर यहां पढ़ें: कोरोना ने निगल ली वरिष्ठ पत्रकार शेष नारायण सिंह की जिंदगी

संत शरण अवस्थी: इसी साल मई में कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आकर वरिष्ठ पत्रकार संत शरण अवस्थी का निधन हो गया था। कोरोना के संक्रमण की चपेट में आने के कारण उन्हें कुछ दिनों पूर्व लखनऊ स्थित किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी (केजीएमयू) में भर्ती कराया गया था, जहां पर उन्होंने अंतिम सांस ली।

वह दैनिक जागरण, रांची, जमशेदपुर और लखनऊ में लंबे समय तक कार्यरत रहे। उनके परिवार में पत्नी के अलावा दो बेटियां और एक पुत्र है। संतू भैया के नाम से मशहूर संत शरण अवस्थी ‘नई दुनिया’ के मप्र-छग के संपादक सदगुरु शरण अवस्थी और अयोध्या ब्यूरो प्रमुख रमा शरण अवस्थी के बड़े भाई थे।

पूरी खबर यहां पढ़ें: कोरोना से जिंदगी की जंग हार गए वरिष्ठ पत्रकार संत शरण अवस्थी

राजकुमार केसवानी: जाने-माने पत्रकार राजकुमार केसवानी का इसी साल मई में निधन हो गया था। करीब 70 वर्षीय केसवानी कुछ समय पूर्व कोरोनावायरस (कोविड-19) के संक्रमण की चपेट में आ गए थे और भोपाल के निजी अस्पताल में भर्ती थे, जहां उन्होंने आखिरी सांस ली। 

गौरतलब है कि 1984 में भोपाल गैस कांड के छह माह पहले यूनियन कार्बाइड के संयंत्र से गैस लीक होने की बात लिखकर सबसे पहले केसवानी ने ही चेताया था केसवानी यूनियन कार्बाइड भोपाल प्लांट के बारे में बहुत अधिक जानते थे। केसवानी ने ही प्लांट में सुरक्षा चूक की ओर ध्यान आकर्षित किया था। तीन दिसंबर 1984 को भोपाल में हुई इस भयानक त्रासदी में हजारों लोगों की जान चली गई थी और तमाम लोग गंभीर रूप से बीमार हो गए थे।

राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर पर केसवानी को तमाम पुरस्कारों से नवाजा गया था। इसमें 'बीडी गोयनका अवार्ड' (1985) और प्रतिष्ठित 'प्रेम भाटिया जर्नलिज्म अवार्ड' (2010) शामिल हैं। केसवानी स्वयं गैस पीड़ित होने के अलावा उन लोगों में से थे, जिन्होंने सबसे पहले यूनियन कार्बाइड पर मुकदमा किया।

पूरी खबर यहां पढ़ें: कोरोना ने निगल ली वरिष्ठ पत्रकार राजकुमार केसवानी की जिंदगी

चंडीदत्त शुक्ल: वरिष्ठ पत्रकार और दैनिक भास्कर, मुंबई में फीचर एडिटर चंडीदत्त शुक्ल का भी इस साल मई में निधन हो गया था। लंबे समय से वह मधुमेह से पीड़ित थे। कुछ दिनों पूर्व ही उन्हें लखनऊ पीजीआई में भर्ती कराया गया था, लेकिन जिस समय उनका निधन हुआ, वह अपने गृह जनपद गोंडा में घर पर रहकर ही अपना इलाज करवा रहे थे।

चंडीदत्त शुक्ल लखनऊ और जालंधर में पंच परमेश्वर और अमर उजाला में नौकरी करने के साथ ही दैनिक जागरण, नोएडा में लंबे समय तक चीफ सब एडिटर रहे थे। इसके बाद उन्होंने फोकस टीवी में हिंदी आउटपुट पर प्रड्यूसर/एडिटर स्क्रिप्ट की जिम्मेदारी संभाली। उन्होंने दूरदर्शन-नेशनल के साप्ताहिक कार्यक्रम कला परिक्रमा के लिए लंबे अरसे तक लिखा। इसके साथ ही वह कई सीरियल्स के लिए स्क्रिप्ट भी लिख चुके थे। एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में उनकी अच्छी पकड़ थी। उन्होंने कई सेलिब्रिटीज का इंटरव्यू भी किया था। उनके परिवार में पत्नी, बेटी और बेटा है।

पूरी खबर यहां पढ़ें: नहीं रहे दैनिक भास्कर में फीचर एडिटर चंडीदत्त शुक्ल

रवि शर्मा:  जुलाई में 'न्यूज नेशन' (News Nation) चैनल में कार्यरत सीनियर एंकर रवि शर्मा का एक सड़क दुर्घटना में निधन हो गया था। 13 जुलाई की रात उनकी गाड़ी एक डिवाइडर से टकरा गई, जिसके बाद उन्हें नोएडा के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां डॉक्टर्स ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। 

तब थाना सेक्टर 58 के थानाध्यक्ष अनिल कुमार सिंह ने बताया था कि 36 वर्षीय रवि शर्मा 13 जुलाई की रात अपनी होंडा सिटी कार से सेक्टर 62 के पास से जा रहे थे, कि तभी उनकी कार अनियंत्रित होकर डिवाइडर से टकरा गयी। कार की गति तेज होने की वजह से कार सड़क के दोनों किनारे बने डिवाइडर से टकराती हुई काफी दूर तक घिसटती चली गई। सिंह ने बताया कि इस घटना में कार के परखच्चे उड़ गए। रवि शर्मा कार में बुरी तरह से फंस गए थे। घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद उन्हें कार से बाहर निकाला। उन्हें नोएडा के फोर्टिस अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने उनको मृत घोषित कर दिया।

रवि शर्मा क्राइम रिपोर्टिंग की दुनिया का बड़ा चेहरा थे। न्यूज नेशन में एडिटर (क्राइम) के तौर पर कार्यरत थे। वे रिपोर्टिंग के साथ-साथ क्राइम आधारित कई स्पेशल शोज की एंकरिंग करते थे। इससे पहले ‘इंडिया न्यूज’ में भी वे एडिटर (क्राइम) के तौर पर कार्यरत थे और बतौर एंकर ‘सलाखें’ नाम का क्राइम शो होस्ट करते थे। यहां वे करीब पांच साल तक रहे।

दीपक चौरसिया के ‘इंडिया न्यूज’ और फिर ‘न्यूज नेशन’ से जुड़ने के बाद कभी ‘आजतक’ की टीम में रहे रवि शर्मा भी पहले ‘इंडिया न्यूज’ और फिर ‘न्यूज नेशन’ आ गए थे। तमाम बड़ी क्राइम खबरें एक्सपोज करने और कई स्पेशल क्राइम शोज के लिए रवि शर्मा को जाना जाता रहेगा।

पूरी खबर यहां पढ़ें: सड़क दुर्घटना में गई न्यूज नेशन चैनल के सीनियर एंकर रवि शर्मा की जान

अभिषेक त्यागी: गाजियाबाद के साहिबाबाद इलाके में हुए एक सड़क हादसे में अगस्त के महीने में युवा पत्रकार अभिषेक त्यागी का निधन हो गया था। वह ‘नवभारत टाइम्स’ (NBT), नोएडा में अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे। अभिषेक की इस हादसे से कुछ दिनों पहले ही सगाई हुई थी और परिजन उनकी शादी की तैयारियों में जुटे हुए थे। इससे पहले ही काल के क्रूर हाथों ने उन्हें अपने आगोश में ले लिया। 

अभिषेक त्यागी मूलरूप से मेरठ के रहने वाले थे। वह गाजियाबाद में भी ‘नवभारत टाइम्स’ में काम कर चुके थे। जिस दिन हादसा हुआ, उस दिन काम खत्म करने के बाद अभिषेक त्यागी साहिबाबाद आए थे। इसी दौरान वह अज्ञात वाहन की चपेट में आकर गंभीर रूप से घायल हो गए। घायल हालत में पुलिस ने अभिषेक को इलाज के लिए यशोदा अस्पताल में भर्ती कराया, जहां उनकी मौत हो गई।

पूरी खबर यहां पढ़ें: इस हादसे ने छीन ली NBT के युवा पत्रकार अभिषेक त्यागी की जिंदगी

चंदन मित्रा:  वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व राज्यसभा सदस्य चंदन मित्रा का इस साल सितंबर में दिल्ली में निधन हो गया था। करीब 65 वर्षीय चंदन मित्रा कुछ समय से बीमार चल रहे थे। चंदन मित्रा ‘द पायनियर’ (The Pioneer) के संपादक भी थे, लेकिन इस साल जून में उन्होंने इस अखबार के प्रिंटर और पब्लिशर के पद से इस्तीफा दे दिया था। 

बता दें कि चंदन मित्रा दो बार राज्यसभा सदस्य रहे थे। पहली बार वह अगस्त 2003 से अगस्त 2009 तक राज्यसभा सदस्य रहे, फिर भारतीय जनता पार्टी ने 2010 में उन्हें मध्यप्रदेश से राज्यसभा सदस्य बनाया था। इसके बाद वर्ष 2018 में चंदन मित्रा ने ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस पार्टी (TMC) जॉइन कर ली थी।

पूरी खबर यहां पढ़ें: नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व राज्यसभा सदस्य चंदन मित्रा

रमन कश्यप: उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में तीन अक्टूबर को हुई हिंसा में स्थानीय पत्रकार रमन कश्यप की भी मौत हो गई थी। निघासन निवासी पत्रकार रमन कश्यप हिंसा के बाद से ही लापता थे। बाद में उनका शव बरामद हुआ था। परिजनों ने रमन कश्यप के निधन की पुष्टि करते हुए पोस्टमार्टम हाउस में शव की शिनाख्त की थी।

पूरी खबर यहां पढ़ें: लखीमपुर हिंसा में अब तक नौ लोगों के मरने की खबर, पत्रकार की भी गई जान

आकाश भार्गव: रांची के जाने-माने पत्रकार आकाश भार्गव का इस साल अक्टूबर में निधन हो गया था। ‘न्यूज11 भारत’ (News11 Bharat) के वरिष्ठ पत्रकार आकाश भार्गव काफी समय से लिवर की बीमारी से जूझ रहे थे और दिल्ली स्थित ‘इंस्टीट्यूट ऑफ लिवर एंड बिलेरीज साइंसेज’ (ILBS) में उनका इलाज चल रहा था। इलाज के दौरान ही उन्होंने अंतिम सांस ली। आकाश भार्गव के बेहतर इलाज के लिए मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने उनके परिजनों को आर्थिक सहायता सौंपी थी। 

पूरी खबर यहां पढ़ें: नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार आकाश भार्गव, CM समेत कई नेताओं-पत्रकारों ने दी श्रद्धांजलि

आनंद नेगी : इसी साल अक्टूबर में भारी बारिश के चलते अल्मोड़ा में नवनिर्मित मकान ढहने से मलबे में दबकर ‘क्रिएटिव न्यूज एक्सप्रेस’ (CNE) न्यूज पोर्टल के संवाददाता व वरिष्ठ पत्रकार आनंद नेगी की मौत हो गई थी। तहसील भिकियासैंण थाना भतरौजखान के तहत ग्राम रापड़ में हुए इस हादसे में उनके पोते और पोती की भी मौत हुई थी। जबकि नेगी की पत्नी को ग्रामीणों ने मलबे से सकुशल बाहर निकाल लिया था।  

अमर उजाला के पूर्व उप संपादक आनंद नेगी सल्ट, भिकियासैंण व रानीखेत से लगातार बारिश की कवरेज कर रहे थे। अपनी मौत से एक दिन पहले तक उन्होंने बारिश से हुए नुकसान पर खबरें भी प्रेषित की थीं, लेकिन देर रात वह खुद इस आपदा की चपेट में आ गए। जिस वक्त यह घटना हुई, उस समय परिवार के सभी लोग सो रहे थे।

पूरी खबर यहां पढ़ें: नवनिर्मित मकान ढहने से मलबे में दबकर पोता-पोती समेत वरिष्ठ पत्रकार की मौत

सुरेंद्र मोहन तरुण: वरिष्ठ पत्रकार सुरेंद्र मोहन तरुण का इस साल 18 नवंबर को निधन हो गया था। उनकी आयु 80 वर्ष से अधिक थी और वे अविवाहित थे। वह पिछले दो साल से बीमारी से जूझ रहे थे।उनके पारिवारिक मित्र ने मीडिया को बताया कि तरुण की तबीयत अचानक खराब हुई और उन्हें उनके गुलमोहर पार्क स्थित आवास से सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। रास्ते में ले जाते समय ही उनका निधन हो गया।

सुरेंद्र मोहन कुछ वर्ष पहले समाचार एजेंसी ‘पीटीआई- भाषा’ से सेवानिवृत्त (रिटायर) हुए थे। इससे पहले वे हिंदी समाचार पत्र ‘वीर अर्जुन’ के साहित्य संपादक थे। सेवानिवृत्ति के बाद से तरुण सामाजिक कार्यों में व्यस्त रहते थे।

पूरी खबर यहां पढ़ें: वरिष्ठ पत्रकार सुरेंद्र मोहन तरुण का निधन, कुछ साल पहले PTI से हुए थे रिटायर

सोमदत्त शास्त्री: मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से नवंबर के महीने में देश के जाने-माने पत्रकारों में शुमार सोमदत्त शास्त्री के निधन की खबर सामने आई थी। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, देश के कई प्रतिष्ठित पत्र-पत्रिकाओं में सेवाएं दे चुके सोमदत्त शास्त्री ने 12 नवंबर की सुबह करीब साढ़े नौ बजे अंतिम सांस ली। सोमदत्त शास्त्री करीब चार साल पूर्व ‘दैनिक भास्कर’ से सेवानिवृत्त हुए थे। इसके बाद से वह ‘the beurocret world‘ नामक पत्रिका का संपादन कर रहे थे।

पूरी खबर यहां पढ़ें: नहीं रहे वरिष्ठ पत्रकार सोमदत्त शास्त्री, CM समेत तमाम पत्रकारों ने दी श्रद्धांजलि

जयशंकर शर्मा ‘नीरव’: वरिष्ठ पत्रकार जयशंकर शर्मा ‘नीरव’ का 21 नवंबर को दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था। रायपुर प्रेस क्लब के मानद सदस्य जयशंकर शर्मा ने छत्तीसगढ़ स्थित अपने निवास पर आखिरी सांस ली। वह करीब 84 वर्ष के थे। उनके परिवार में पत्नी के अलावा एक पुत्र और पांच बेटियां हैं। जयशंकर शर्मा ने शासकीय शिक्षक के रूप में अपने करियर की शुरुआत की थी। बाद में उन्होंने सरकारी नौकरी से इस्तीफा देकर पत्रकारिता को चुना था। वह लंबे समय तक रायपुर के दैनिक समाचार पत्र ‘महाकौशल’ में संपादक रहे। उन्होंने ‘संदेश बंधु टाइम्स’, ‘आज की जनधारा’, ‘प्रखर समाचार’ एवं ‘दण्डकारण्य समाचार’ पत्र में भी अपनी जिम्मेदारी निभाई।

पूरी खबर यहां पढ़ें: दुनिया को अलविदा कह गए वरिष्ठ पत्रकार जयशंकर शर्मा ‘नीरव’

विनोद दुआ: वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ इस साल चार दिसंबर को दुनिया को अलविदा कह गए। वह लंबे समय से बीमार चल रहे थे। हालत ज्यादा गंभीर होने पर उन्हें दिल्ली के अपोलो अस्पताल में आईसीयू (ICU) में भर्ती कराया गया था, जहां पर उन्होंने अंतिम सांस ली। वह करीब 67 साल के थे। विनोद दुआ की बेटी और जानी-मानी अभिनेत्री व कॉमेडियन मल्लिका दुआ ने इंस्टाग्राम पर इसकी जानकारी दी थी। बता दें कि इसी साल जून में कोरोनावायरस (कोविड-19) की चपेट में आकर विनोद दुआ की पत्नी डॉ. पदमावती दुआ का निधन हो गया था। करीब 67 वर्षीय विनोद दुआ हिंदी पत्रकारिता में जाना-माना नाम थे। वह ‘दूरदर्शन’ और ‘एनडीटीवी’ जैसे प्रतिष्ठित संस्थानों में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके थे। विनोद दुआ को प्रतिष्ठित रामनाथ गोयनका समेत तमाम अवॉर्ड मिल चुके थे। पत्रकारिता में उल्लेखनीय योगदान के लिए वर्ष 2008 में उन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया था।

पूरी खबर यहां पढ़ें: पंचतत्व में विलीन हुए विनोद दुआ, अंतिम विदाई देने पहुंचे तमाम पत्रकार

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने इस साल पूरे देश में जमकर कहर बरपाया। हर दिन देशभर में वायरस के रिकॉर्ड मामले दर्ज किए जा रहे थे। इस बीच कई अन्य पत्रकार भी ऐसे रहे, जिनकी जान कोरोना की वजह से गई। लिस्ट लंबी होने की वजह से कई पत्रकारों का जिक्र कर पाना मुश्किल है। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

इंडियन न्यूजपेपर सोसाइटी के प्रेजिडेंट चुने गए के. राजा प्रसाद रेड्डी

तेलुगू दैनिक ‘साक्षी’ से जुड़े के. राजा प्रसाद रेड्डी शुक्रवार को इंडियन न्यूजपेपर सोसाइटी (आईएनएस) के प्रेजिडेंट चुने गए

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 24 September, 2022
Last Modified:
Saturday, 24 September, 2022
INS5414

तेलुगू दैनिक ‘साक्षी’ से जुड़े के. राजा प्रसाद रेड्डी शुक्रवार को इंडियन न्यूजपेपर सोसाइटी (आईएनएस) के प्रेजिडेंट चुने गए। मीडिया संगठन ने यह जानकारी दी।

एक बयान में बताया गया है कि आईएनएस की 83वीं वार्षिक आम बैठक में समाचार पत्र ‘आज समाज’ के राकेश शर्मा को आईएनएस (INS) का ‘डिप्टी प्रेजिडेंट’ और मातृभूमि आरोग्य मासिक के एम.वी.एस. कुमार को ‘वाइस प्रेजिडेंट’ चुना गया।

बयान के अनुसार, ‘अमर उजाला’ समाचार पत्र के तन्मय माहेश्वरी को आईएनएस का ट्रेजरर (कोषाध्यक्ष) चुना गया है।

इसमें कहा गया है, ‘आईएनएस की आज वार्षिक आम बैठक वीडियो कांफ्रेंस और अन्य डिजिटल माध्यमों के जरिये हुई।’

आईएनएस की 41 सदस्यीय कार्यकारिणी समिति में मोहित जैन (द इकोनॉमिक टाइम्स), विवेक गोयनका (द इंडियन एक्सप्रेस), जयंत एम. मैथ्यू (मलयाला मनोरमा), अतिदेब सरकार (द टेलीग्राफ) और के.एन. तिलक कुमार (डेक्कन हेराल्ड और प्रजावाणी) शामिल हैं

अन्य सदस्यों की सूची यहां देखें:

गिरीश अग्रवाल (दैनिक भास्कर, भोपाल)
समहित बल (प्रगतिवादी)
समुद्र भट्टाचार्य (हिन्दुस्तान टाइम्स, पटना)
होर्मसजी एन. कामा (बॉम्बे समाचार)
गौरव चोपड़ा (फिल्म दुनिया)
विजय कुमार चोपड़ा (पंजाबी केसरी, जालंधर)
करण राजेंद्र दर्डा (लोकमत, औरंगाबाद)
विजय जवाहरलाल दर्डा (लोकमत, नागपुर)
जगजीत सिंह दर्दी (चारदीकला डेली)
विवेक गोयनका (द इंडियन एक्सप्रेस, मुंबई)
महेंद्र मोहन गुप्ता (दैनिक जागरण)
प्रदीप गुप्ता (डेटाक्वेस्ट)
संजय गुप्ता (दैनिक जागरण, वाराणसी)
शिवेंद्र गुप्ता (बिजनेस स्टैंडर्ड)
विवेक गुप्ता (संमार्ग)
सर्विंदर कौर (अजीत)
लक्ष्मीपति (दिनमलर)
विलास ए मराठे (दैनिक हिन्दुस्तान, अमरावती)
नरेश मोहन (रविवार स्टेट्समैन)
अनंत नाथ (गृहशोभिका, मराठी)
प्रताप जी. पवार (साकाल)
राहुल राजखेवा (द सेंटिनल)
आर एम आर रमेश (दिनाकरन)
अतिदेब सरकार (द टेलीग्राफ)
पार्थ पी सिन्हा (नवभारत टाइम्स)
प्रवीण सोमेश्वर (द हिन्दुस्तान टाइम्स)
किरण डी ठाकुर (तरुण भारत, बेलगाम)
बीजू वर्गीस (मंगलम साप्ताहिक)
आई वेंकट (अन्नदाता)
कुंदन आर व्यास (व्यापार, मुंबई)
रवींद्र कुमार (द स्टेट्समैन)
किरण बी वडोदरिया (संभव मेट्रो)
पी वी चंद्रन (गृहलक्ष्मी)
सोमेश शर्मा (राष्ट्रदूत सप्तहिक)
शैलेश गुप्ता (मिड-डे)
एल आदिमूलम (स्वास्थ्य और एंटीसेप्टिक)

बता दें कि आईएनएस देश में समाचार पत्रों और पत्रिकाओं का शीर्ष संगठन है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई का अब होगा सीधा प्रसारण, चैनल शुरू करने को लेकर उठी मांग

अब आप कोर्ट में चल रही सुनवाई को लाइव देख सकेंगे। फिर चाहे वह जनहित का मामला हो या देशहित व संविधान से जुड़े मामले सबकी सुनवाइयों का सीधा प्रसारण किया जाएगा।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 22 September, 2022
Last Modified:
Thursday, 22 September, 2022
supremecourt45478932

 

देश में ऐसे कई मामले होते हैं जिनकी सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में चल रही होती है, जिन्हें निष्पक्ष न्याय के लिए सुप्रीम कोर्ट भेजा जाता है। ऐसे में जनता की निगाहें भी इनके फैसले पर होती हैं, लेकिन अब एक अच्छी खबर सामने आई है। अब आप कोर्ट में चल रही सुनवाई को लाइव देख सकेंगे। फिर चाहे वह जनहित का मामला हो या देशहित व संविधान से जुड़े मामले सबकी सुनवाइयों का सीधा प्रसारण किया जाएगा। यह ऐतिहासिक फैसला मंगलवार को लिया गया।

बता दें कि पिछले काफी समय से इस पर काम चल रहा था, जिसके बाद अब जाकर सारी चीजें तय हुई हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सुप्रीम कोर्ट ने अगले सप्ताह यानी 27 सितंबर से सभी संवैधानिक बेंच की सुनवाइयों का लाइव स्ट्रीमिंग यानी सीधा प्रसारण करने का निर्णय लिया है। चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) उदय उमेश ललित ने मंगलवार शाम को इसे लेकर शीर्ष अदालत के सभी जजों की एक बैठक बुलाई थी, जिसमें सर्वसम्मति से यह निर्णय लिया गया।

बता दें कि लाइव स्ट्रीमिंग (Live Streaming) की शुरुआत संविधान पीठ में चल रहे मामलों से होगी, बाद में इसे दूसरे मामलों के लिए भी शुरू किया जाएगा।

हाल में ही सीनियर एडवोकेट इंदिरा जयसिंह ने इस बारे में चीफ जस्टिस समेत सुप्रीम कोर्ट के सभी जजों को लिखकर सूचित किया था। इसमें उन्होंने जनहित व संवैधानिक महत्व वाले मामलों की सुनवाई के सीधा प्रसारण की बात तो कही ही साथ ही इस दौरान वकीलों के बहस का भी रिकॉर्ड रखने पर जोर दिया था।

सीनियर एडवोकेट ने कहा कि EWS, हिजाब मामला, नागरिकता संशोधन विधेयक जैसे देश हित के मामलों की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में हो रही है, जिसका सीधा प्रसारण होना चाहिए। उन्होंने इसके लिए 2018 के फैसले का हवाला दिया जिसके अनुसार हर नागरिक का मूल अधिकार है कि उसे सूचना या जानकारी पाने की आजादी मिले। साथ ही सभी को न्याय पाने का भी अधिकार है।

सीनियर एडवोकेट इंदिरा जयसिंह ने सुप्रीम कोर्ट का एक अपना चैनल होने की भी सलाह दी है। साथ ही उन्होंने कहा कि तब तक शीर्ष कोर्ट अपनी वेबसाइट के साथ-साथ यूट्यूब पर लाइव स्ट्रीमिंग की शुरुआत कर सकता है। कई मौकों पर सुप्रीम कोर्ट ने लाइव स्ट्रीमिंग किया भी है। इसका जिक्र करते हुए सीनियर एडवोकेट ने कहा कि कोर्ट के पास इसके लिए पर्याप्त इंफ्रास्ट्रक्चर मौजूद है। इस क्रम में उन्होंने पूर्व चीफ जस्टिस एन वी रमना की रिटायरमेंट की तारीख पर हुए लाइव स्ट्रीमिंग के बारे में बताया। उन्होंने गुजरात, ओडिशा, कर्नाटक, झारखंड, पटना और मध्य प्रदेश के हाई कोर्ट में यू ट्यूब के जरिए होने वाले लाइव स्ट्रीमिंग की भी चर्चा की।

गौरतलब है कि 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने एक मामले में सुनवाई की लाइव स्ट्रीमिंग का फैसला दिया था। कोरोनाकाल में भी सुप्रीम कोर्ट में मामलों की वीडियो कांफ्रेसिंग के द्वारा सुनवाई की गई थी। हालांकि तब आम लोगों को यह सुनवाई देखने की व्यवस्था नहीं थी। इस साल 26 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने तत्कालीन चीफ जस्टिस एन.वी. रमना को विदाई देने के लिए बैठी सेरेमोनियल बेंच की कार्रवाई का सीधा प्रसारण किया था। अब शुरुआत में यह प्रसारण यूट्यूब पर किया जाएगा, बाद में सुप्रीम कोर्ट इसके लिए अपनी वेब भी सेवा शुरू करेगा। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सुप्रीम कोर्ट ने न्यूज चैनलों को लगाई फटकार, कहा- तय हो न्यूज एंकर्स की जिम्मेदारी

सुप्रीम कोर्ट ने न्यूज चैनलों में होने वाली बहस की गुणवत्ता पर सवाल उठाते हुए नाराजगी व्यक्त की है और टीवी चैनलों को फटकार लगाई है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 September, 2022
Last Modified:
Wednesday, 21 September, 2022
SC45

सुप्रीम कोर्ट ने न्यूज चैनलों में होने वाली बहस की गुणवत्ता पर सवाल उठाते हुए नाराजगी व्यक्त की है और टीवी चैनलों को फटकार लगाई है।  कोर्ट ने कहा कि न्यूज चैनल भड़काऊ बयानबाज़ी का प्लेटफार्म बन गए हैं। प्रेस की आजादी अहमियत रखती है लेकिन बिना रेगुलेशन के टीवी चैनल हेट स्पीच का जरिया बन गए हैं। जस्टिस केएम जोसेफ और जस्टिस ऋषिकेश रॉय की बेंच ने बुधवार को यह बात कही।

कोर्ट ने कहा कि राजनेताओं ने इसका सबसे अधिक फायदा उठाया है और टेलीविजन चैनल उन्हें इसके लिए मंच देते हैं। इस पर सीनियर एडवोकेट संजय हेगड़े ने कहा कि चैनल और राजनेता ऐसी हेट स्पीच से ही चलते हैं। चैनलों को पैसा मिलता है इसलिए वे दस लोगों को बहस में रखते हैं।

कोर्ट ने कहा कि मेनस्ट्रीम मीडिया या सोशल मीडिया चैनल बिना रेगुलेशन के हैं। न्यूज एंकर्स की जिम्मेदारी पर सवाल उठाते हुए कोर्ट ने कहा कि एंकर की जिम्मेदारी कि बहस में कोई भड़काऊ बात न हो, लेकिन एंकर ऐसा नहीं करते। इससे सख्ती से निपटा नहीं जा रहा है। एंकर की जिम्मेदारी तय होनी। अगर किसी एंकर के कार्यक्रम में भड़काऊ कंटेंट होता है, तो उसको ऑफ एयर किया जाना चहिए और जुर्माना लगाना चहिए। कोर्ट ने पूछा कि इस मामले में सरकार मूकदर्शक क्यों बनी हुई है? क्या यह एक मामूली मुद्दा है?

कोर्ट ने यह भी कहा कि प्रेस की स्वतंत्रता महत्वपूर्ण है, लेकिन हमें पता होना चाहिए कि रेखा कहां खींचनी है। हेट स्पीच का हमारे दिमाग पर गंभीर प्रभाव पड़ता। यहां की मीडिया को अमेरिका जितनी आजादी नहीं है, लेकिन यह पता होना चाहिए कि सीमा रेखा कहां खींचनी है। लिहाजा टीवी पर अभद्र भाषा बोलने की आजादी नहीं दी जा सकती है। कोर्ट ने कहा कि ऐसा करने वाले यूनाइटेड किंगडम के एक टीवी चैनल पर भारी जुर्माना लगाया गया था। लेकिन हमारे यहां ऐसा नहीं है। उनसे सख्ती नहीं हो रही है। अगर मंजूरी मिलती है तो हम जुर्माना लगा सकते हैं या उन्हें ऑफ एयर कर सकते हैं।

नफरत फैलाने वाले शो दर्शकों को क्यों पसंद आते हैं, इस पर कोर्ट ने कहा कि किसी रिपोर्ट में नफरत से भरी भाषा कई लेवल पर होती है। ठीक वैसे, जैसे किसी को मारना। आप इसे कई तरह से अंजाम दे सकते हैं। चैनल हमें कुछ विश्वासों के आधार पर बांधे रखते हैं। लेकिन, सरकार को प्रतिकूल रुख नहीं अपनाना चाहिए। उसे कोर्ट की मदद करनी चाहिए।

हरिद्वार में पिछले साल आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान दिए गए भड़काऊ भाषण मामले पर सुनवाई के दौरान न्यूज चैनलों पर होने वाली डिबेट की गुणवत्ता पर सवाल उठाते हुए सुनवाई करने वाली बेंच के जज जस्टिस के एम जोसेफ ने कहा कि टीवी पर दस लोगों को डिबेट में बुलाया जाता है। जो अपनी बात रखना चाहते है, उन्हें म्यूट कर दिया जाता है। उन्हें अपनी बात रखने का मौका ही नहीं मिलता।

टीवी चैनलों की हेट स्पीच वाली रिपोर्ट वाली याचिकाओं पर अगली सुनवाई 23 नवंबर को होगी। कोर्ट ने केंद्र को निर्देश दिया है कि वह ये स्पष्ट करे कि क्या वह हेट स्पीच पर अंकुश लगाने के लिए विधि आयोग की सिफारिशों पर कार्रवाई करने का इरादा रखती है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोविड से जान गंवाने वाले पत्रकारों के परिजनों को CM योगी ने दी आर्थिक सहायता

कोरोना वायरस की वजह से जान गंवाने वाले प्रदेश के पत्रकारों के परिवारों को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 10 लाख रुपए की सहायता राशि जारी की है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 September, 2022
Last Modified:
Wednesday, 21 September, 2022
Journalists

कोरोना वायरस (कोविड-19) की वजह से जान गंवाने वाले प्रदेश के पत्रकारों के परिवारों को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 10-10 लाख रुपए की सहायता राशि जारी की है।

यह सूचना उत्तर प्रदेश के सूचना एवं जनसंचार विभाग की ओर से 20 सितंबर को जारी की गई। इस योजना के तहत कुल 53 पत्रकारों के परिवारों को यह धनराशि दी जाएगी। इस योजना को राज्यपाल की अनुमति के बाद लागू किया गया, जिसमें उत्तर प्रदेश सरकार कुल 5.30 करोड़ रुपए खर्च करेगी।

गौरतलब है कि योगी आदित्यनाथ ने इस साल हिंदी पत्रकारिता दिवस (30 मई) पर कोरोनावायरस (कोविड-19) की वजह से जान गंवाने वाले प्रदेश के पत्रकारों के परिवारों को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया था। मुख्यमंत्री का निर्देश मिलने के बाद प्रदेश का सूचना विभाग कोविड-19 की वजह से जान गंवाने वाले पत्रकारों का ब्यौरा जुटाने में लग गया था, ताकि उनके परिवारों को जल्द से जल्द आर्थिक सहायता प्रदान की जा सके। इसके लिए पीड़ित परिवारों से प्रार्थना पत्र मांगे गए थे।

इस योजना के तहत आर्थिक सहायता पाने के लिए मृतक पत्रकार का मान्यता प्राप्त होना जरूरी नहीं था, यानी किसी भी पेशेवर पत्रकार की मौत कोरोना संक्रमण से होने की परिस्थिति में उसके परिवार को आर्थिक सहायता दी जाएगी।

इस घोषणा के बाद, 31 जुलाई को लखनऊ के लोक भवन सभागार में आयोजित कार्यक्रम में, मुख्यमंत्री योगी ने दिवंगत मीडियाकर्मियों के परिजनों को सहायता राशि का चेक सौंपा था। इसकी धनराशि 20 सितम्बर 2022 को सरकार द्वारा पत्रकार कल्याण कोष में डाली गई है, जिसे अब सभी परिवारों को सौंप दिया जाएगा।

बता दें कि कोरोना काल में कवरेज के दौरान कई पत्रकार कोरोना से संक्रमित हो गए थे, जिनमें कई का निधन हो गया है। ऐसे में उनके परिजनों के सामने भरण-पोषण की मुश्किल आ गई है। इसे देखते हुए ही योगी सरकार ने यह फैसला किया है।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अनुराग ठाकुर ने यूं समझाया 'वास्तविक पत्रकारिता' का अर्थ, मीडिया को लेकर कही ये बात

दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में सूचना प्रसारण मंत्री ने कहा कि मेनस्ट्रीम मीडिया के लिए सबसे बड़ा खतरा नए जमाने के डिजिटल प्लेटफॉर्म्स से नहीं, बल्कि खुद मुख्यधारा के मीडिया चैनलों से है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 September, 2022
Last Modified:
Wednesday, 21 September, 2022
Anurag Thakur

सूचना प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर का कहना है कि वास्तविक पत्रकारिता का मतलब है कि बिना तोड़े-मरोड़े खबरों को दिखाया जाए और सभी पक्षों को अपनी बात रखने का मौका दिया जाए।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, नई दिल्ली में ‘एशिया पैसिफिक इंस्टीट्यूट फॉर ब्रॉडकास्टिंग डेवलपमेंट’ (AIBD) के एक कार्यक्रम में अनुराग ठाकुर ने कहा कि असली पत्रकारिता तथ्यों का सामना करने, सच्चाई पेश करने और सभी पक्षों को अपने विचार रखने के लिए मंच देने के बारे में है।

अनुराग ठाकुर के अनुसार, ‘मेरा व्यक्तिगत रूप से मानना है कि मेनस्ट्रीम मीडिया के लिए सबसे बड़ा खतरा नए जमाने के डिजिटल प्लेटफॉर्म्स से नहीं, बल्कि खुद मुख्यधारा के मीडिया चैनलों से है। यदि आप अपने चैनल पर उन मेहमानों को आमंत्रित करने का निर्णय लेते हैं जो ध्रुवीकरण कर रहे हैं, जो झूठी खबरें फैलाते हैं और जो काफी चीखते- चिल्लाते हैं, तो आपके चैनलों की विश्वसनीयता कम हो जाती है।’  अनुराग ठाकुर ने कहा कि ऐसे में आपका शो देखने के लिए दर्शक एक मिनट के लिए रुक तो सकते हैं, लेकिन खबरों के विश्वसनीय और पारदर्शी स्रोत के रूप में कभी भी आपके एंकर, आपके चैनल अथवा ब्रैंड पर भरोसा नहीं करेंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सूचना प्रसारण मंत्री का यह भी कहना था कि ब्रॉडकास्टर्स यह तय कर सकते हैं कि कंटेंट को कैसे सही तरीके से पेश किया जाए। खबरों में तटस्थता वापस लाने की वकालत करते हुए उन्होंने कहा कि तीखी बहसों से टीवी चैनल्स को व्युअरशिप तो मिल सकती है, लेकिन विश्वसनीयता नहीं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘9X मीडिया’ ने भूपेंद्र माखी को किया प्रमोट, बनाया CEO

‘9X मीडिया’ ने भूपेंद्र माखी को चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) के रूप में प्रमोट किया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 20 September, 2022
Last Modified:
Tuesday, 20 September, 2022
BhupendraMakhi458433

‘9X मीडिया’ ने भूपेंद्र माखी को चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) के रूप में प्रमोट किया है। 9X मीडिया में लंबे समय तक माखी कंपनी के चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर (CFO) रहे हैं और अभी इसी पद पर कार्यरत थे। इसके पहले वे फाइनेंस के वाइस प्रेजिडेंट थे। वह 2007 से इस ऑर्गनाइजेशन के साथ जुड़े हुए हैं।

भूपेंद्र अब अपनी नई भूमिका में कंपनी के लिए स्ट्रैटजिक बिजनेस डेवलपमेंट का नेतृत्व करेंगे, यानी भारत में कंपनी के बिजनेस की ग्रोथ को और मजबूत बनाने की रणनीति पर काम करेंगे।

माखी को फाइनेंशियल सेक्टर की गहरी समझ है और मीडिया व एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में एक प्रभावशाली ट्रैक-रिकॉर्ड है।  

सीईओ के रूप में प्रमोट किए जाने पर टिप्पणी करते हुए भूपेंद्र माखी ने कहा, ‘मैं अपने निवेशकों और बोर्ड का आभारी हूं कि उन्होंने मुझे यह जिम्मेदारी सौंपी। 9X मीडिया एक महत्वपूर्ण पड़ाव पर पहुंच गया है और सकारात्मक प्रदर्शन कर रहा है। हम अत्यधिक उत्साहित हैं और मैं कंपनी के फायदे के लिए सभी टीमों के साथ मिलकर काम करना जारी रखूंगा और अपने सभी स्टेकहोल्डर्स की वैल्यू को बनाए रखूंगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अरविंद केजरीवाल ने PM के मीडिया सलाहकार पर संपादकों को धमकाने का लगाया आरोप

दिल्ली को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मीडिया सलाहकार पर पत्रकारों व संपादकों को धमकाने का आरोप लगाया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 20 September, 2022
Last Modified:
Tuesday, 20 September, 2022
ArvindKejriwal5482

आम आदमी पार्टी के संयोजक व दिल्ली को मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मीडिया सलाहकार पर पत्रकारों व संपादकों को धमकाने का आरोप लगाया है दरअसल, 18 सितंबर को अरविंद केजरीवाल ने पार्टी के पहले राष्ट्रीय जनप्रतिनिधि सम्मेलन को संबोधित किया। इस दौरान ही उन्होंने प्रधानमंत्री के मीडिया सलाहकार पर मीडिया को धमकाने का आरोप लगाया।

अरविंद केजरीवाल ने अपने भाषण में कहा कि मुझे बड़े-बड़े न्यूज चैनलों के एडिटर और मालिकों ने गंदी गालियां और धमकी भरे नोट दिखाए हैं कि पीएमओ में कार्यरत मीडिया सलाहकार कैसे-कैसे मैसेज उन्हें भेजते हैं। वे लिखकर भेजते हैं कि केजरीवाल को दिखाया तो ये कर देंगे, केजरीवाल को दिखाया तो वो कर देंगे। ‘आप’ को दिखाने की जरूरत नहीं है, आप अपने चैनल का दुरुपयोग कर रहे हों, क्या धमकियां दे रहे हैं वो, ऐसे देश चलाएंगे, फोन कर के धमकियां देते हैं।’

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि मैं उन मीडिया सलाहकार को एक ही बात कहना चाहता हूं कि आप जो मैसेज और धमकियां देते हो, यदि किसी ने उसका स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर डाल दिया, तो आप और प्रधानमंत्री जी शक्ल दिखाने लायक नहीं बचोगे। आपकी धमकियों को कई लोगों ने रिकॉर्ड करके रखा है, अगर सोशल मीडिया पर डाल दी तो चेहरा नहीं दिखा पाओगे, बंद करो इस तरह से मीडिया को धमकाना।

बता दें कि पहली बार रविवार को राष्ट्रीय जनप्रतिनिधि सम्मेलन में देशभर से आप पार्टी के सभी निर्वाचित प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया। पार्टी ने संगठन को मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा करने के लिए बैठक बुलाई गई थी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

NBDA ने टीवी रेटिंग जारी करने वाली संस्था BARC को दिए ये सुझाव

न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एंड डिजिटल एसोसिएशन (NBDA) ने ब्रॉडकास्टर्स ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) इंडिया को यह सुझाव दिया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 20 September, 2022
Last Modified:
Tuesday, 20 September, 2022
NBDA

न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एंड डिजिटल एसोसिएशन (NBDA) ने ब्रॉडकास्टर्स ऑडियंस रिसर्च काउंसिल (बार्क) इंडिया को यह सुझाव दिया है कि उसे टीवी + डिजिटल मीजरमेंट सिस्टम शुरू करने से पहले मौजूदा टीवी व्युरअरशिप मीजरमेंट सिस्टम में सुधार करना चाहिए।

एनबीडीए ने पिछले साल सूचना-प्रसारण मंत्रालय (एमआईबी) को यह सुझाव दिया था कि टेलीविजन रेटिंग का पता लगाने के लिए मौजूदा सैम्पल साइज को बढ़ाया जाना चाहिए, जोकि 44,000 है, ताकि डेटा और अधिक अच्छा और विश्वसनीय हो जाए। वित्तीय वर्ष 2022 के लिए अपनी वार्षिक रिपोर्ट में एमआईबी ने एनबीडीए के सुझावों की मुख्य विशेषताओं का उल्लेख किया था।

बता दें कि नवंबर 2021 में, एमआईबी ने 'भारत में टीवी रेटिंग एजेंसियों पर दिशानिर्देश’ की समीक्षा करने वाली रिपोर्ट पर एनबीडीए सहित कई अन्य उद्योग निकायों से सुझाव/टिप्पणियां मांगीं थी। एमआईबी ने मौजूदा टीवी रेटिंग प्रणाली में किस तरह के सुधार किए जाएं, इस पर सुझाव देने के लिए प्रसार भारती के पूर्व सीईओ शशि शेखर की अध्यक्षता में एक समिति का गठन किया था। समिति ने जनवरी 2021 में अपनी रिपोर्ट सौंप दी थी।

गौरतलब है कि इंडियन सोसाइटी ऑफ एडवर्टाइजर्स (आईएसए) के अध्यक्ष सुनील कटारिया ने हाल ही में कहा था कि एसोसिएशन ‘यूनिफाइड क्रॉस-मीडिया मीजरमेंट मेथड’ को लाने पर बार्क के साथ मिलकर काम कर रहा है, जिसकी 2023 की पहली छमाही में शुरू होने की उम्मीद है। बता दें कि आईएसए बार्क में एक स्टेक होल्डर है।

एनबीडीए ने यह भी सुझाव दिया कि बार्क के बोर्ड स्तर पर मजबूत कॉर्पोरेट गवर्नेंस की जरूरत है। एनबीडीए ने सुझाव दिया कि बार्क की तकनीकी और निगरानी समितियों में न केवल स्वतंत्र सदस्य शामिल होने चाहिए, बल्कि सभी स्टेकहोल्डर्स के सदस्यों को भी शामिल किया जाना चाहिए, क्योंकि स्टेकहोल्डर्स भी बार्क से पारदर्शिता और सही डेटा की उम्मीद कर रहे हैं और इसे लेकर वे भी चितिंत हैं।

टीवी न्यूज निकाय ने यह भी कहा कि कुछ ऐसा हो कि उसे भी बार्क बोर्ड के समझ अपनी बात रखने का मौका मिलना चाहिए, चूंकि 'न्यूज' एक बहुत ही महत्वपूर्ण जॉनर है, लिहाजा एनबीडीए को बोर्ड में प्रतिनिधित्व करने का मौका मिलना चाहिए, ताकि वह न्यूज चैनलों की रेटिंग से संबंधित किसी भी मुद्दे पर बार्क को महत्वपूर्ण जानकारी दे सके।

एनबीडीए ने रिटर्न पाथ डेटा (आरपीडी) प्रक्रिया के उपयोग को लेकर जारी की गई सिफारिशों का समर्थन किया, जबकि आरपीडी को कैसे लागू किया जाएगा, इस बारे में अपनी आशंका व्यक्त की है। एनबीडीए ने सुझाव दिया कि आरपीडी को बहुत सारी खामियों से भरे पैनल डेटा को सीधे तौर पर एक्सट्रप्लेशन नहीं करना चाहिए।

एनबीडीए ने अपने सुझाव में कहा कि इसके बजाय दो इंडिपेंडेंट स्ट्रीम शुरू की जानी चाहिए और आरपीडी को सही समय पर लागू किया जाना चाहिए। एनबीडीए ने यह भी सुझाव दिया कि लैंडिंग यूजर्स बिहेवियर और ड्यूल एलसीएन बिहेवियर के लिए एक पैटर्न रिकॉगनाजेशन को भी जोड़ा जाना चाहिए।

एनबीडीए का यह भी विचार था कि जब तक रिसर्च डिजाइन को सरल नहीं बनाया जाता, तब तक व्युअरशिप डेटा की क्राउडसोर्सिंग भी आरपीडी प्रक्रिया जैसी ही समस्याओं से जूझती रहेगी, जिसमें  लागत, अशुद्धि, डेटा के हेरफेर की संभावना और डेटा की गोपनीयता की चिंता बनी रहती है। इसलिए, ऑडियंस व्युरशिप सिस्टम पर काम करने के लिए पहला फोकस रिसर्च डिजाइन और इनपुट स्तर के डेटा के संग्रह पर होना चाहिए।

एसोसिएशन ने सुझाव दिया कि बार्क को ड्यूल एलसीएन (LCN), लैंडिंग पेज या किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ जैसे अनुचित तरीकों से बनाए गए स्पाइक्स को हटाने के लिए एक मैकेनिज्म (तंत्र) विकसित करना चाहिए। साथ ही यह भी कहा गया है कि बार्क के निवेश वॉटरमार्क के दायरे से बाहर होने चाहिए। वास्तव में ड्यूल और लैंडिंग फीड खोजने का प्रयास करना चाहिए, क्योंकि इस तरह के नए तरीके को प्रोत्साहित करने और इस क्षेत्र में स्टार्ट-अप को विकसित करने की जरूरत है।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

NBDA का प्रेजिडेंट बनने पर जानिए क्या बोले अविनाश पांडेय

एबीपी नेटवर्क के सीईओ अविनाश पांडेय ने न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एंड डिजिटल एसोसिएशन के नए अध्यक्ष (प्रेजिडेंट) पद की जिम्मेदारी संभाल ली है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 17 September, 2022
Last Modified:
Saturday, 17 September, 2022
Avinash Pandey

एबीपी नेटवर्क (ABP Network) के सीईओ अविनाश पांडेय (Avinash Pandey) ने न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एंड डिजिटल एसोसिएशन (NBDA) के नए अध्यक्ष (प्रेजिडेंट) पद की जिम्मेदारी संभाल ली है। बता दें कि इससे पहले अविनाश पांडेय एनबीडीए के उपाध्यक्ष पद की जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

इसी के साथ एमवी श्रेयम्स कुमार (MV Shreyams Kumar) एनबीडीए के उपाध्यक्ष (वाइस प्रेजिडेंट) का पद संभालेंगे और अनुराधा प्रसाद शुक्ला ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन की नई कोषाध्यक्ष (ट्रेजरर) नियुक्त की गई हैं। ये नियुक्तियां शुक्रवार को एनबीडीए की बोर्ड बैठक के दौरान हुईं, जहां एनबीडीए की 14वीं वार्षिक रिपोर्ट पेश की गई। 

एनबीडीए का अध्यक्ष नियुक्त होने पर अविनाश पांडेय ने कहा, ‘हमारी न्यूज इंडस्ट्री जिस रणनीतिक परिवर्तन बिंदु से गुजर रही है, उसे देखते हुए यह एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी है। मैं रजत जी को उनके बेदाग नेतृत्व और कड़ी मेहनत के साथ वीयूसीए के समय से हमारा नेतृत्व करने के लिए धन्यवाद देता हूं। मुझे विश्वास है कि एनबीडीए के सदस्य और इसका बोर्ड हमारी इंडस्ट्री और समाज में बदलाव लाना जारी रखेगा।'

वहीं, इस बदलाव पर टिप्पणी करते हुए रजत शर्मा ने कहा, ‘पिछले कुछ साल न्यूज ब्रॉडकास्टर्स के लिए बेहद चुनौतीपूर्ण रहे हैं, मुझे खुशी है कि एनबीडीए ने एक टीम के रूप में हर संकट से लड़ाई लड़ी और हर लड़ाई जीती। अविनाश को अध्यक्ष पद सौंपते हुए मुझे प्रसन्नता हो रही है, जिन्होंने एनबीडीए में मेरे साथ मिलकर काम किया है। उन्हें उस विरासत को आगे बढ़ाना है, जिसे हमने सामूहिक रूप से वर्षों से बनाया है।’

2005 से विभिन्न भूमिकाओं में काम करते हुए अविनाश पांडेय ने जनवरी 2019 में एबीपी नेटवर्क के सीईओ का पद संभाला था। अविनाश पांडे के पास मीडिया में काम करने का 26 वर्षों से ज्यादा का शानदार अनुभव है। वह इंडियन एक्सप्रेस ग्रुप और टीवी टुडे ग्रुप के साथ भी काम कर चुके हैं। वह इंटरनेशनल एडवरटाइजिंग एसोसिएशन के इंडियन चैप्टर के बोर्ड में भी हैं। 

इस वर्ष जुलाई में इंटरनेशनल एडवरटाइजिंग एसोसिएशन (IAA) ने एबीपी न्यूज के सीईओ अविनाश पांडेय को 'मीडिया पर्सन ऑफ द ईयर' पुरस्कार से नवाजा था। अविनाश पांडे ने इस अवॉर्ड को एबीपी नेटवर्क की टीम के शानदार काम को समर्पित किया था। इससे पहले ईनबीए (ENBA) की ओर अविनाश पांडेय को बेस्ट सीईओ का पुरस्कार मिला था। इसके अलावा भी एबीपी न्यूज को कई कैटेगरी में कई अवॉर्ड मिले थे।

जानिए, क्या है एनबीडीए-

एनबीडीए न्यूज ब्रॉडकास्टर्स का भारत का सबसे बड़ा निजी संगठन है। यह संगठन प्राइवेट न्यूज चैनलों और डिजिटल ब्रॉडकास्टर्स का प्रतिनिधित्व करता है। यह पूरी तरह से अपने सदस्यों द्वारा वित्त पोषित संगठन है। पहले इसे ‘न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन’ के नाम से जाना जाता था। 13 अगस्त 2021 को इस संगठन का नाम बदलकर ‘न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एंड डिजिटल एसोसिएशन’ कर दिया गया था। इसमें देश के लगभग सभी प्रमुख न्यूज नेटवर्क शामिल हैं।

बताते चलें कि एनबीडीए संपादकीय मानकों में विश्वास रखता है, जिससे रिपोर्टिंग में उद्देश्यपरक मूल्य, तटस्थता,  निष्पक्षता और सटीकता सुनिश्चित होती है। 3 जुलाई 2007 को भारत के प्रमुख न्यूज ब्रॉडकास्टर्स द्वारा इस संगठन की स्थापना की गई थी। 

न्यूज चैनलों की नीति, कामकाज, नियामक, तकनीकी और कानूनी संबंधी मामलों को लेकर इस संगठन की स्थापना की गई थी। वर्तमान में 26 प्रमुख न्यूज व करेंट अफेयर्स मामलों के ब्रॉडकास्टर्स इस संगठन के सदस्य हैं और 119 न्यूज व करेंट अफेयर्स मामलों के चैनल इससे जुड़े हैं। संगठन में शामिल होने वाले आवेदक को एक वार्षिक सदस्यता शुल्क देनी होती है। इसकी सदस्यता के लिए दिशा-निर्देशों का पालन करना होता है। इसे भारत में न्यूज, करेंट अफेयर्स और डिजिटल ब्रॉडकास्टर्स की सामूहिक आवाज के रूप में जाना जाता है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘सहारा इंडिया’ में सुमित रॉय को मिली अब ये अतिरिक्त जिम्मेदारी

कंपनी की ओर से जारी स्टेटमेंट के अनुसार इस पद पर उनकी नियुक्ति फिलहाल पांच साल के लिए की गई है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 16 September, 2022
Last Modified:
Friday, 16 September, 2022
Sahara India

वरिष्ठ पत्रकार सुमित रॉय को ‘सहारा इंडिया’ (Sahara India) की मीडिया और एंटरटेनमेंट डिवीजन का नया हेड नियुक्त किया गया है। इस बारे में कंपनी की ओर से एक स्टेटमेंट भी जारी किया गया है।  इस स्टेटमेंट में कहा गया है, ‘सुमित रॉय हमारी मीडिया और एंटरटेनमेंट डिवीजन के हेड होंग। फिलहाल इस पद पर उनका कार्यकाल पांच साल के लिए होगा। जरूरत पड़ने पर इस कार्यकाल को आगे भी बढ़ाया जा सकता है।’

स्टेटमेंट के अनुसार, इस बात को ध्यान में रखते हुए कि एक मजबूत प्रशासन, एक सुरक्षित और सकारात्मक माहौल की कुंजी है और मीडिया के सभी स्तरों पर सक्रिय शासन में भी योगदान देगा, सुमित रॉय को वर्तमान में उनकी कॉरपोरेट एचआर हेड की भूमिका के साथ-साथ अतिरिक्त रूप से यह नई जिम्मेदारी दी जा रही है। उपेंद्र राय सहित सभी संबंधित सुमित रॉय को रिपोर्ट करेंगे और संस्थान के हित में उनका पूरा सहयोग करेंगे।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए