सरकार के खिलाफ मीडिया ने दिखाई एकजुटता, कुछ यूं किया विरोध

सोमवार को लगभग सभी अखबारों काले रंग में नजर आये। इतना ही नहीं, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने भी अपने प्राइम टाइम के दौरान कुछ भी प्रसारित नहीं किया

Last Modified:
Monday, 21 October, 2019
Media

सरकार की बढ़ती दखलंदाजी के खिलाफ ऑस्ट्रेलियाई मीडिया एकजुट हो गया है। सोमवार को लगभग सभी अखबारों काले रंग में नजर आये। इतना ही नहीं, इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने भी अपने प्राइम टाइम के दौरान कुछ भी प्रसारित नहीं किया। ‘राइट टू नो’ अभियान के तहत संपूर्ण मीडिया सरकार के खिलाफ मैदान में उतर आया है। ऑस्ट्रेलियाई मीडिया की एकजुटता भारत जैसे देशों के मीडिया संस्थानों के लिए एक उदाहरण हैं, जहां एकजुटता यदा-कदा ही नजर आती है। न्यूज़ कॉर्प ऑस्ट्रेलिया नेटवर्क के अखबार ‘हेराल्ड सन’ के फ्रंट पेज पर काली-काली लाइनें हैं, जिस पर तंज भरे लहजे में लिखा है ‘नॉट फॉर रिलीज...सीक्रेट’, यानी खबर आम जनता के लिए जारी नहीं की जा सकती। इसी तरह सबसे नीचे लिखा है ‘जब सरकार आपसे सच छिपाती है, तो वो क्या छिपा रही है’?

सरकार के खिलाफ मीडिया का यह आंदोलन पिछली कुछ कार्रवाइयों का परिणाम है, जो सरकार की तरफ से पत्रकार और मीडिया संस्थान के विरुद्ध की गईं। ‘हेराल्ड सन’ के मुताबिक, न्यूज़ कॉर्प ऑस्ट्रेलिया नेटवर्क की पत्रकार एनिका ने इस बारे में एक खबर की थी कि सरकार पत्रकारों की जासूसी करने के लिए कई कदम उठाने का मन बना रही है। इसके बाद उनके घर पर दफ्तर पर छापेमारी की गई, इतना ही नहीं, एनिका के खिलाफ अपराधिक मामले भी दर्ज किये जा रहे हैं। न्यूज़ कॉर्प की तरह ABC को भी फेडरल पुलिस की कार्रवाई का सामना करना पड़ा। समूह के मुख्यालय पर इसलिए छापा मारा गया क्योंकि उसने अफ्गानिस्तान में ऑस्ट्रेलियाई फौज द्वारा पुरुषों और बच्चों को मारे जाने के संबंध में एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार की थी।

सरकार के इस कदम का ऑस्ट्रेलिया के सभी मीडिया संस्थनों ने विरोध किया और जनता को हकीकत से रूबरू कराने के लिए ‘राइट टू नो’ कैंपेन की शुरुआत की गई। इसके तहत रविवार को इलेक्ट्रॉनिक मीडिया ने मोर्चा संभाला और प्राइम टाइम में कोई कार्यक्रम नहीं दिखाया गया, केवल काली स्क्रीन पर संदेश प्रसारित होते रहे कि सरकार मीडिया पर अंकुश लगाना चाहती है।

वहीं, प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन बचाव की मुद्रा में नजर आ रहे हैं। उनका कहना है कि सरकार प्रेस की स्वतंत्रता के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध है और उन्हें जांच के बारे में कोई जानकारी नहीं है। वहीं, पत्रकारों की यूनियन मीडिया एंटरटेनमेंट एंड आर्ट्स एलायंस के मुख्य कार्यकारी पॉल मर्फी का कहना है कि मीडिया की आजादी पर अंकुश लगाने के लिए कड़े कानून बनाये जा रहे हैं, जिसके चलते पत्रकारों के लिए सच उजागर करना मुश्किल हो गया है। विश्व भर के मीडिया संस्थनों ने ऑस्ट्रेलिया सरकार की कार्रवाई का विरोध जताते हुए ऑस्ट्रेलियाई मीडिया का समर्थन किया है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार की आंखों में मिर्ची पाउडर झोंका, फिर किया ये काम

दो बदमाशों ने दिया वारदात को अंजाम, पीड़ित पत्रकार की शिकायत पर पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर शुरू की बदमाशों की तलाश

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Saturday, 09 November, 2019
Last Modified:
Saturday, 09 November, 2019
Crime

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में ऑफिस से घर लौट रहे पत्रकार की आंखों में मिर्ची पाउडर डालकर लूटपाट का मामला सामने आया है। बताया जाता है कि बदमाश पत्रकार का मोबाइल व सामान लेकर फरार हो गए बिरकोना निवासी विनोद श्रीवास शहर के एक अखबार में पत्रकार हैं। गुरुवार की रात करीब 11.45 बजे वह अखबार के दफ्तर से घर लौट रहे थे।

रास्ते में अशोक नगर से 100 मीटर आगे बिरकोना मार्ग पर दो बदमाशों ने उन्हें रोक लिया और आंखों में मिर्ची पाउडर डाल दिया। दोनों बदमाश इसके बाद विनोद श्रीवास की जेब और बैग में से मोबाइल व अन्य सामान लूटकर फरार हो गए। विनोद ने अगले दिन सुबह पुलिस को अपने साथ हुई लूट की जानकारी दी। विनोद की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सरकार ने वरिष्ठ पत्रकार श्रीनाथ रेड्डी को सौंपी बड़ी जिम्मेदारी

चार दशक से ज्यादा समय से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं श्रीनाथ रेड्डी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 08 November, 2019
Last Modified:
Friday, 08 November, 2019
Srinath Reddy

वरिष्ठ पत्रकार श्रीनाथ रेड्डी को ‘आंध्र प्रदेश प्रेस अकादमी’ (APPA) का चेयरमैन नियुक्त किया गया है। इस बारे में आंध्र प्रदेश सरकार ने शुक्रवार को आदेश जारी कर दिए हैं। आंध्र प्रदेश के कडपा जिले के रहने वाले रेड्डी चार दशक से ज्यादा समय से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रिय हैं।

वह जल्द ही अपनी नई जिम्मेदारी संभालेंगे।  रेड्डी ने वर्ष 1978 में 'आंध्रप्रभा' से पत्रकारिता में अपने करियर की शुरुआत की था। इसके बाद उन्होंने इंडियन एक्सप्रेस और साक्षी अखबार में भी काम किया। कड़पा जिले में कार्य करने के दौरान रायलसीमा के पिछड़ेपन को उजागर करते हुए उनके द्वारा लिखे गए कॉलम 'सेवन रोड जंक्शन'  को काफी लोकप्रिय मिली थी।

रेड्डी आंध्र प्रदेश वर्किंग जर्नलिस्ट संघ (एपीयूडब्ल्यूजे) के कड़पा जिले के अध्यक्ष पद पर 24 साल तक अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं। इसके बाद वह इसके प्रदेश सचिव बने थे।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दैनिक भास्कर के पत्रकार व भाई पर बदमाशों का हमला, किया बुरा हाल

ऑफिस के बाहर दिया वारदात को अंजाम, दो हमलावर पकड़े गए, अन्य हमलावरों की तलाश में जुटी है पुलिस

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 08 November, 2019
Last Modified:
Friday, 08 November, 2019
Attack on Journalist

हरियाणा के पंचकूला में दैनिक भास्कर के पत्रकार अमित शर्मा और उनके चचेरे भाई दीपक शर्मा पर कुछ बदमाशों ने हमला कर दिया। हमलावरों ने गुरुवार को सेक्टर 16 स्थित अखबार के दफ्तर के बाहर इस वारदात को अंजाम दिया। बताया जाता है कि करीब छह की संख्या में आए हमलावरों ने हाथों में डंडे, रॉड, पिस्टल व धारदार हथियार ले रखे थे। हमले में दीपक के गंभीर चोट आई हैं, जबकि अमित के बायें हाथ में फ्रैक्चर हो गया है।

पुलिस के अनुसार, गुरुवार की शाम करीब सात बजे अमित अपने ऑफिस में काम कर रहे थे। तभी दो लोग उनके पास पहुंचे और कुछ बातचीत करने की इच्छा जताई। यह सुनकर अमित जब नीचे आए तो दोनों व्यक्तियों ने उनके साथ किसी मुद्दे पर बहस शुरू कर दी और आक्रामक हो गए।

कुछ अनहोनी की आशंका होने पर अमित ने अपने छोटे चचेरे भाई दीपक को मौके पर बुला लिया। जब दीपक वहां पहुंचा तो उन लोगों ने उसके साथ धक्का-मुक्की कर दी। अमित ने जब दीपक को बचाने का प्रयास किया तो उन लोगों ने पास ही गाड़ी में बैठे अपने चार अन्य साथियों को बुला लिया और मारपीट शुरू कर दी। शोरशराबा सुनकर आसपास मौजूद दुकानदार घटनास्थल की ओर दौड़ पड़े। इस बीच दोनों भाइयों ने दो हमलावरों को दबोच लिया, जबकि अन्य चार अपनी गाड़ी मौके पर छोड़कर फरार हो गए।

दोनों हमलावरों को पुलिस को सौंप दिया गया है। पकड़े गए आरोपितों की पहचान रवि और राम के रूप में हुई है। पुलिस के मुताबिक, शुरुआती जांच में पता चला है कि पैसों के किसी मामले को लेकर हमलावर पटियाला से आए थे। पुलिस ने दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर बाकी फरार चार अन्य हमलावरों की तलाश शुरू कर दी है।

बता दें कि अमित शर्मा उन तीन पत्रकारों में शामिल हैं, जिन्हें पंचकूला डेरा हिंसा के बाद पुलिस सिक्योरिटी दी गई थी। पहले उनकी सुरक्षा में हरियाणा पुलिस के दो जवान तैनात थे, लेकिन बाद में यह सुरक्षा वापस लेकर एक जवान उनकी सुरक्षा के लिए तैनात किया गया था। गुरुवार को अमित पर जब यह हमला हुआ, उस समय सुरक्षाकर्मी उनके साथ मौजूद नहीं था।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पुलिस मुख्यालय के पास महिला पत्रकार के साथ हुई ये वारदात

घटना के दौरान सड़क पार कर पैदल ही अपने ऑफिस जा रही थी यह महिला पत्रकार

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 08 November, 2019
Last Modified:
Friday, 08 November, 2019
Crime

दिल्ली में पुलिस मुख्यालय से महज 50 मीटर दूर एक महिला पत्रकार से बाइक सवार दो बदमाशों ने मोबाइल झपट लिया। वारदात के दौरान ‘नवभारत टाइम्स’ की यह पत्रकार अपने ऑफिस जा रही थी। महिला पत्रकार के अनुसार, बाइक सवार दोनों बदमाशों ने जैकेट और हेलमेट पहना हुआ था। शहीदी पार्क के पास पुलिस पिकेट होने के बावजूद वारदात को अंजाम देने के बाद दोनों बदमाश फरार होने में कामयाब हो गए।

पुलिस को दिए बयान में महिला पत्रकार ने बताया कि सड़क पार करने के बाद वह बहादुर शाह जफर मार्ग पर इंडियन एक्सप्रेस बिल्डिंग स्थित अपने ऑफिस जा रही थी। उसने अपना मोबाइल हाथ में पकड़ा हुआ था, तभी दो बदमाश तेजी से आए और उसका फोन झपटकर ले गए। महिला पत्रकार का कहना था कि उसने यह मोबाइल कुछ दिन पूर्व ही खरीदा था।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

स्टार और डिज्नी इंडिया को बाय बोल Google में इस बड़े पद पर पहुंचे संजय गुप्ता

संजय गुप्ता को टेलिविजन इंडस्ट्री में 20 साल से ज्यादा का अनुभव है। अगले साल की शुरुआत में संभालेंगे नई जिम्मेदारी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 08 November, 2019
Last Modified:
Friday, 08 November, 2019
Sanjay Gupta

‘स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के कंट्री मैनेजर संजय गुप्ता ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने ‘गूगल इंडिया’ (Google India) के साथ अपनी नई पारी शुरू की है। उन्हें कंट्री मैनेजर और वाइस प्रेजिडेंट (सेल्स और ऑपरेशंस) के पद पर नियुक्त किया गया है। संजय गुप्ता अगले साल की शुरुआत में इस पद को संभालेंगे और मुंबई से गूगल की गुरुग्राम, बेंगलुरु और हैदराबाद की टीमों के साथ मिलकर काम करेंगे।

संजय गुप्ता को टेलिविजन इंडस्ट्री में 20 साल से ज्यादा का अनुभव है। उन्होंने ब्रैंडेड एंटरटेनमेंट कंटेंट में कई नई पहल की हैं और कई नए जॉनर्स के साथ ही नया कंटेंट पेश किया है। उन्होंने स्टार की ग्रोथ में काफी अहम भूमिका निभाई है। यही नहीं, उन्होंने ट्रेडिशनल टेलिविजन कंटेंट को ‘हॉटस्टार’ के द्वारा डिजिटल प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध कराया है और कई एचडी चैनल्स की जिम्मेदारी संभाली है। 

इस नियुक्ति के बारे में ‘गूगल’ (एशिया पैसिफिक) के प्रेजिडेंट स्कॉट ब्यूमोंट (Scott Beaumont) ने कहा, ‘भारत में गूगल का इंगेजमेंट यहां के साथ ही दुनिया भर के गूगलर्स के लिए काफी गर्व की बात है। भारत में गूगल का बिजनेस काफी महत्वपूर्ण है और हमें खुशी है कि संजय गुप्ता गूगल जॉइन कर रहे हैं।’ 

वहीं, संजय गुप्ता का कहना था, ‘भारत में गूगल का नेतृत्व करने को लेकर मैं काफी उत्साहित हूं। दुनिया के लिए भारत इनोवेशन हब बन रहा है और मैं गूगल की बेहतरीन टीम को जॉइन कर इंडिया की डिजिटल जर्नी में योगदान देने को लेकर बहुत खुश हूं।’ 

बता दें कि संजय गुप्ता ने दिल्ली कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग से पढ़ाई की है। इसके अलावा उन्होंने ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट’ (IIM) कोलकाता से पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। मुंबई में 24 सितंबर को आयोजित एक्सचेंज4मीडिया कॉन्क्लेव (exchange4media conclave) में संजय गुप्ता को ‘एक्सचेंज4मीडिया इन्फ्लुएन्सर ऑफ द ईयर’ (exchange4media Influencer of the Year) अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सांसद की इस ‘हरकत’ पर भड़के पत्रकार ने दर्ज कराई FIR

कार्रवाई न होने पर पत्रकारों ने विधानसभा के साथ ही मुख्यमंत्री के आवास का घेराव करने की धमकी भी दी

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Friday, 08 November, 2019
Last Modified:
Friday, 08 November, 2019
FIR

पत्रकारों को अपना काम करने के दौरान तमाम परेशानियों का सामना करना पड़ता है। कहीं उन पर हमला कर दिया जाता है तो कहीं उनसे अभद्र व्यवहार किया जाता है। ओडिशा के ऐसे ही एक मामले में निजी टीवी चैनल के पत्रकार ने बीजू जनता दल (बीजद) के सांसद पर बदसलूकी का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई है। पत्रकार ने सांसद और उनके समर्थकों पर धमकी देने का आरोप लगाते हुए पुलिस से सुरक्षा की मांग भी की है। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।  

पत्रकार मनोज स्वैन द्वारा दर्ज कराई गई एफआईआर के अनुसार, एक नई परियोजना के बारे में सवाल पूछे जाने पर अभिनेता से नेता बने और केंद्रपाड़ा से सांसद अनुभव मोहंती ने मंगलवार को न सिर्फ उनके खिलाफ अपशब्दों का इस्तेमाल किया, बल्कि हाथापाई भी की। हालांकि, अनुभव मोहंती ने अपने ऊपर लगे इन आरोपों को खारिज किया है।

वहीं, पत्रकारों ने इस मामले की निंदा की है। पत्रकारों के एक प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रपाड़ा कलेक्टर सामर्थ वर्मा से मिलकर मोहंती से माफी मंगवाने की मांग की है। भुवनेश्वर में प्रदर्शनकारी पत्रकारों ने इस मामले में 24 घंटे के अंदर कार्रवाई न होने पर विधानसभा के साथ ही मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के आवास का घेराव करने की धमकी भी दी है।

गौरतलब है कि पांच महीने पहले एक महिला पत्रकार ने मोहंती और उनके भाई के खिलाफ कटक के पुरीघाट थाने में एक शिकायत दर्ज कराई थी। महिला पत्रकार की शिकायत पर हमला और यौन उत्पीड़न के आरोप दर्ज किये गये थे।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मीडिया के खिलाफ इस याचिका पर SC ने किया सुनवाई से इनकार

पार्किंग को लेकर पुलिस और वकीलों के बीच चल रहे विवाद का अभी तक नहीं निकला है कोई समाधान

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 07 November, 2019
Last Modified:
Thursday, 07 November, 2019
Media Reporting

दिल्ली पुलिस और वकीलों के बीच चल रहे विवाद में अभी कोई ठोस नतीजा नहीं निकल सका है। इस बीच वकीलों द्वारा उनके विरोध-प्रदर्शन की मीडिया कवरेज पर प्रतिबंध लगाने के लिए दायर की गई याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया है।

इस याचिका में वकीलों का कहना था कि मीडिया द्वारा हिंसा से जुड़े फर्जी विडियो दिखाकर उन्हें बदनाम किया जा रहा है। वकीलों का यह भी कहना था कि दिल्ली पुलिस के इशारे पर मीडिया में उनके खिलाफ खबरें चलाई जा रही हैं। 

अपनी याचिका में वकीलों ने उनके विरोध-प्रदर्शनों की मीडिया रिपोर्टिंग पर रोक लगाने की मांग की थी। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने वकीलों की इस याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया है। गौरतलब है कि दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में कुछ दिन पूर्व पार्किंग को लेकर वकील और पुलिस के बीच हुए विवाद ने हिंसक रूप ले लिया था। इस मामले को कवर कर रहे पत्रकारों से भी अभद्रता की गई थी।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

घर चाहने वाले पत्रकारों के लिए अच्छी खबर

राजस्थान आवासन मंडल के आयुक्त ने जारी किए आदेश, पिंक सिटी प्रेस क्लब को उपलब्ध करानी होगी ऐसे पत्रकार और आवासों की लिस्ट

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Thursday, 07 November, 2019
Last Modified:
Thursday, 07 November, 2019
House

राजस्थान में ई-नीलामी की प्रक्रिया में शामिल हाउसिंग बोर्ड के मकानों को अब पत्रकार सीधे ही प्राप्त कर सकेंगे। इसके लिए पिंक सिटी प्रेस क्लब को हाउसिंग बोर्ड को प्रस्ताव बनाकर देना होगा। पिंक सिटी प्रेस क्लब के अध्यक्ष अभय जोशी की मांग पर राजस्थान आवासन मंडल के आयुक्त पवन अरोड़ा ने इस बारे में आदेश जारी किए हैं। इस बारे में अभय जोशी ने बुधवार को पवन अरोड़ा के समक्ष हाउसिंग बोर्ड की तरफ से नीलाम किए जा रहे आवास पत्रकारों को सीधे आवंटित करने की मांग रखी थी।

अब पवन अरोड़ा की ओर से जारी आदेशों में कहा गया है कि पत्रकारों को इच्छित आवास इस नीलामी प्रक्रिया से हटाकर सीधे आवंटित कर दिए जाएंगे। अपने पत्र में पवन अरोड़ा का कहना है कि इसके लिए पिंक सिटी प्रेस क्लब को ऐसे पत्रकारों के नाम और उनके द्वारा चाहे गए इस तरह के आवासों की सूची हाउसिंग बोर्ड को मुहैया करानी होगी। इसके बाद सूची में शामिल पत्रकारों को नीलामी की बजाय सीधे ही ये आवास उपलब्ध करा दिए जाएंगे।

राजस्थान आवासन मंडल के आयुक्त पवन अरोड़ा की ओर से जारी पत्र की कॉपी आप यहां देख सकते हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अरनब गोस्वामी के बाद अब आया रजत शर्मा का नंबर, सरकार ने यूं दी अहमियत

समिति के नए सदस्यों का कार्यकाल 26 जुलाई 2020 या फिर अगले आदेश तक बना रहेगा

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 06 November, 2019
Last Modified:
Wednesday, 06 November, 2019
Rajat Sharma

सरकार ने नेहरू मेमोरियल म्यूजियम और लाइब्रेरी (एनएमएमएल) समिति का पुनर्गठन किया है। केंद्र की तरफ से मंगलवार की रात इसकी घोषणा की गई। यह पुनर्गठन निर्धारित समय से छह माह पहले किया गया है। पुरानी समिति से कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, करण सिंह और जयराम रमेश समेत कई सदस्यों को बाहर का रास्ता दिखाया गया है, जबकि इंडिया टीवी के चेयरमैन और दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) के प्रेजिडेंट रजत शर्मा, राज्यसभा सदस्य स्वप्नदास गुप्ता और पटकथा लेखक व गीतकार प्रसून जोशी समेत कई दिग्गजों को इसमें शामिल किया गया है।

प्रसार भारती के चेयरमैन ए. सूर्य प्रकाश, केंद्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण, रमेश पोखरियाल निशंक, प्रकाश जावडे़कर, वी. मुरलीधरन और प्रह्लाद सिंह पटेल शामिल हैं। वहीं, पीएम मोदी पर किताब लिखने वाले किशोर मकवाना, जेएनयू के पूर्व वीसी कपिल कपूर, सौराष्ट्र यूनिवर्सिटी के पूर्व चांसलर कमलेश जोशीपुरा, राघवेंद्र सिंह को भी समिति में स्थान दिया गया है।

समिति के नए सदस्यों का कार्यकाल 26 जुलाई 2020 या फिर अगले आदेश तक बना रहेगा। पिछली समिति में 34 सदस्य थे, लेकिन अब इसमें सदस्यों की संख्या 28 रखी गई है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस समिति के अध्यक्ष और केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह उपाध्यक्ष हैं। समिति में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को भी शामिल किया गया है।

इससे पहले केंद्र ने सभी प्रधानमंत्रियों का म्यूजियम बनाने का विरोध करने वाले चार सदस्यों को हटाकर उनकी जगह रिपब्लिक मीडिया समूह के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आइजीएनसीए) के अध्यक्ष और वरिष्ठ पत्रकार रामबहादुर राय, विदेश मंत्री एस जयशंकर और भाजपा सांसद विनय सहस्रबुद्धे को सोसायटी का सदस्य नियुक्त किया था। नेहरू मेमोरियल म्यूजियम और लाइब्रेरी को देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू की याद में बनाया गया था।

गौरतलब है कि रजत शर्मा को पिछले दिनों ही निजी टेलिविजन न्यूज चैनल्स का प्रतिनिधित्व करने वाले समूह 'न्यूज ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन' (एनबीए) का दोबारा प्रेजिडेंट चुना गया है। हाल ही में वह ‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन’ (Indian Broadcasting Foundation)  के बोर्ड में बतौर वाइस प्रेजिडेंट भी चुने गए हैं।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ZEE समूह में पुनीत गोयनका को फिर मिली ये बड़ी जिम्मेदारी

उनका नया कार्यकाल एक जनवरी 2020 से प्रभावी होगा और अगले पांच साल तक के लिए होगा

समाचार4मीडिया ब्यूरो by समाचार4मीडिया ब्यूरो
Published - Wednesday, 06 November, 2019
Last Modified:
Wednesday, 06 November, 2019
Punit Goenka

'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) के एमडी और सीईओ पुनीत गोयनका को एक बार फिर कंपनी में यह जिम्मेदारी सौंपी गई है। कंपनी के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स ने सैद्धांतिक रूप से पुनीत गोयनका के नाम पर अपनी मुहर लगा दी है।

पुनीत गोयनकाक का वर्तमान कार्यकाल 31 जनवरी 2019 को खत्म हो रहा है। नया कार्यकाल एक जनवरी 2020 से प्रभावी होगा और अगले पांच साल तक के लिए होगा। बताया जाता है कि पुनीत गोनयका की पुन:नियुक्ति लिए इक्विटी शेयरहोल्डर्स की अनुमति भी ली जाएगी, जो पोस्टल बैलट (Postal Ballot) के माध्यम से मांगी जाएगी।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए