भारतीय मूल की पत्रकार मेघा राजगोपालन को मिला पुलित्जर अवॉर्ड, देखें विजेताओं की पूरी लिस्ट

कोरोनावायरस (कोविड-19) के संकट के बीच प्रतिष्ठित पुलित्जर पुरस्कार के विजेताओं की घोषणा कर दी गई है।

Last Modified:
Monday, 14 June, 2021
Megha Rajgopalan

कोरोनावायरस (कोविड-19)  के संकट के बीच प्रतिष्ठित पुलित्जर पुरस्कार के विजेताओं की घोषणा कर दी गई है। इस साल के पुलित्जर पुरस्कार के विजेताओं की सूची में भारतीय मूल की पत्रकार मेघा राजगोपालन शामिल हैं। उन्हें यह अवॉर्ड इंटरनेशनल रिपोर्टिंग की कैटेगरी में दिया गया है। उन्होंने अपनी रिपोर्ट्स में चीन के डिटेंशन कैंपों की सच्चाई दुनिया के सामने रखी थी।

अपनी रिपोर्ट्स में सैटेलाइट तस्वीरों का विश्लेषण कर मेघा राजगोपालन ने बताया था कि चीन ने किस तरह से लाखों उइगुर मुसलमानों को कैद कर रखा है।  मेघा के साथ इंटरनेट मीडिया बजफीड न्यूज (BuzzFeed News) के दो पत्रकारों को भी पुलित्जर पुरस्कार दिया गया। भारतीय मूल के पत्रकार नील बेदी को भी स्थानीय रिपोर्टिंग कैटेगरी में पुलित्जर पुरस्कार दिया गया है।

‘तांपा बे टाइम्स’ (Tampa Bay Times) के रिपोर्टर नील बेदी को फ्लोरिडा में सरकारी अधिकारियों के बच्चों की तस्करी को लेकर इंवेस्टीगेशन स्टोरी की थी और कई अहम खुलासे किए थे। वहीं, अमेरिका की डार्नेला फ्रेजियर को 'पुलित्जर स्पेशल साइटेशन' का अवार्ड दिया गया है। उन्होंने मिनेसोटा में उस घटना को रिकॉर्ड किया था, जिस दौरान अश्वेत-अमेरिकन जॉर्ज फ्लॉएड की जान चली गई थी। इसके बाद नस्लीय हिंसा के विरोध में दुनियाभर में काफी प्रदर्शन हुए थे।

यह अवॉर्ड मिलने पर मेघा राजगोपालन ने अपने पिता के बधाई संदेश को ट्विटर पर शेयर किया है। इसमें मेघा के पिता ने उन्हें पुलित्जर पुरस्कार मिलने की बधाई दी है। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा है, ‘मम्मी ने मुझे अभी ये मैसेज फॉरवर्ड किया है। पुलित्जर पुरस्कार। बहुत बढ़िया।‘ मेघा ने इसके जवाब में उन्हें थैंक्यू लिखा है।

बता दें कि पुलित्जर पुरस्कार की शुरुआत 1917 में की गई थी। यह अमेरिका का एक प्रमुख पुरस्कार है, जो समाचार पत्रों की पत्रकारिता, साहित्य एवं संगीत रचना के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वालों को दिया जाता है।

22 श्रेणियों में दिए जाने वाले इस अवॉर्ड के विजेताओं की पूरी लिस्ट आप यहां देख सकते हैं। 

Sl. No.    Category    Winner
     JOURNALISM

1.    Public service-The New York Times
2.    Criticism- Wesley Morris of The New York Times
3.    Editorial writing- Robert Greene of the Los Angeles Times
4.    International Reporting- Megha Rajagopalan, Alison Killing and Christo Buschek of BuzzFeed News
5.    Breaking News Reporting-Staff of the Star Tribune, Minneapolis, Minn.
6.    Investigative Reporting- Matt Rocheleau, Vernal Coleman, Laura Crimaldi, Evan Allen and Brendan McCarthy of The Boston Globe
7.    Explanatory Reporting- Andrew Chung, Lawrence Hurley, Andrea Januta, Jaimi Dowdell and Jackie Botts of Reuters
8.    Local Reporting- Kathleen McGrory and Neil Bedi of the Tampa Bay Times
9.    National Reporting- Staffs of The Marshall Project; AL.com, Birmingham; IndyStar, Indianapolis; and the Invisible Institute, Chicago
10.    Feature Writing- Mitchell S. Jackson, freelance contributor, Runner’s World
11.    Commentary- Michael Paul Williams of the Richmond (Va.) Times-Dispatch
12.    Breaking News Photography- Photography Staff of Associated Press
13.    Feature Photography- Emilio Morenatti of Associated Press
14.    Audio Reporting-Lisa Hagen, Chris Haxel, Graham Smith and Robert Little of National Public Radio

     BOOKS, DRAMA, AND MUSIC

15.    Fiction- The Night Watchman by Louise Erdrich
16.    Drama- The Hot Wing King, by Katori Hall
17.    History- Franchise: The Golden Arches in Black America, by Marcia Chatelain (Liveright/Norton)
18.    Biography or autobiography- The Dead Are Arising: The Life of Malcolm X by Les Payne and Tamara Payne
19.    Poetry- Postcolonial Love Poem by Natalie Diaz
20.    General nonfiction- Wilmington’s Lie: The Murderous Coup of 1898 and the Rise of White Supremacy by David Zucchino
21.    Music- Stride, by Tania León (Peermusic Classical)
22.    Special Citation- Darnella Frazier, The teenager who recorded the killing of George Floyd

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

राष्ट्रीय सहारा में वरिष्ठ पत्रकार रमाकांत चंदन अब निभाएंगे ये बड़ी जिम्मेदारी

‘राष्ट्रीय सहारा’ के पटना संस्करण में बतौर स्थानीय संपादक अपनी जिम्मेदारी निभा रहे रमाकांत चंदन का यहां कार्यकाल पूरा हो गया है।

Last Modified:
Monday, 24 January, 2022
Ramakant Chandan

‘राष्ट्रीय सहारा’ के पटना संस्करण में बतौर स्थानीय संपादक अपनी जिम्मेदारी निभा रहे रमाकांत चंदन का यहां कार्यकाल पूरा हो गया है। संस्थान ने उनके बेहतर कार्य व सेवाओं को देखते हुए उन्हें अब सलाहकार संपादक के पद पर नई जिम्मेदारी दी है।

बिहार में लखीसराय जनपद के मूल निवासी रमाकांत चंदन ढाई दशक से अधिक समय से सक्रिय पत्रकारिता कर रहे हैं। रमाकांत ने अपने पत्रकारीय करियर की शुरुआत ‘सहारा मीडिया’ के साथ की थी। इसके पहले एमएससी करने के दौरान ही वे एनबीटी, दैनिक हिन्दुस्तान, सारिका और हंस पत्रिका समेत तमाम अखबारों के लिए लिखते थे। इसी दौरान 1986 में ‘सारिका’ में छपी कहानी ‘पापा गंदे हैं’ को लेकर तमाम सुर्खियां बटोरी थीं। इसके बाद स्वतंत्र पत्रकार के रूप में इनकी नियमित कविता, कहानी व रिपोतार्ज छपते थे।

वर्ष 1996 में ‘सहारा मीडिया’ के अखबार ‘हस्तक्षेप’ में बतौर रिपोर्टर नोएडा में जॉइन करने वाले रमाकांत करीब 25 वर्षों से ‘सहारा मीडिया’ का हिस्सा हैं। रमाकांत चंदन वर्ष 1998 में ‘राष्ट्रीय सहारा’ में प्रोविंशियल इंचार्ज बने। इसके बाद वर्ष 2005 में यूपी के गोरखपुर में ‘सहारा समय’ रीजनल चैनल में बतौर करेसपॉन्डेंट उन्होंने टीवी पत्रकारिता में पदार्पण किया। एक साल बाद यानी वर्ष 2006 में ‘राष्ट्रीय सहारा’ की पटना यूनिट में रिपोर्टिंग टीम का हिस्सा बने। 2012 में वह स्पेशल करेसपॉन्डेंट बने और फिर पटना में ब्यूरो इंचार्ज के रूप में कार्यभार संभाला। 

एक लेखक के रूप में रमांकांत चंदन की दो पुस्तकें हिंदी अकादमी दिल्ली से ‘नवान्न’ व राजभाषा बिहार से ‘दूसरा पक्ष’ प्रकाशित हो चुकी हैं। इसके लिए बिहार में इन्हें सम्मानित भी किया जा चुका है। नई जिम्मेदारी के लिए रमाकांत चंदन को समाचार4मीडिया.कॉम की ओर से बधाई और शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सड़क दुर्घटना में वरिष्ठ पत्रकार की गई जान, CM ने जताया दुख

कन्नड़ दैनिक 'विजयवाणी' में काम करने वाले एक वरिष्ठ पत्रकार की रविवार दोपहर को सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। 

Last Modified:
Monday, 24 January, 2022
road-accident57

कन्नड़ दैनिक 'विजयवाणी' में काम करने वाले एक वरिष्ठ पत्रकार की रविवार दोपहर को सड़क दुर्घटना में मौत हो गई।  घटना की शिकायत उल्सूर पुलिस स्टेशन में  दर्ज कर ली गई है।

पुलिस ने बताया कि 49 वर्षीय वरिष्ठ पत्रकार गंगाधर मूर्ति अपनी मोटरसाइकिल से कार्यालय जा रहे थे, जब यह हादसा हुआ। पुलिस ने बताया कि शहर के टाउन हॉल के पास पत्रकार के ऊपर एक ट्रक पलट गया।

उन्होंने कहा कि ट्रक चालक ने वाहन पर नियंत्रण खो दिया था और वह रोड डिवाइडर से जा टकराया। इसके बाद चालक भाग निकला। 

मूर्ति को विक्टोरिया अस्पताल ले जाया गया लेकिन उनकी जान नहीं बचाई जा सकी। वरिष्ठ पत्रकार के परिवार में उनकी पत्नी और दो बच्चे हैं। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई ने वरिष्ठ पत्रकार गंगाधर मूर्ति के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। उन्होंने कहा कि यह वाकई हैरान कर देने वाली घटना है। भगवान गंगाधर मूर्ति की आत्मा को शांति प्रदान करें। इसके अलावा राज्य के गृहमंत्री और अन्य मंत्रियों ने मूर्ति के निधन पर शोक प्रकट किया है।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

प्रसार भारती से जुड़े वरिष्ठ पत्रकार उमानाथ सिंह, मिली बड़ी जिम्मेदारी

वरिष्ठ पत्रकार उमानाथ सिंह ने दैनिक जागरण समूह में अपनी पारी को विराम दे दिया है। उन्होंने अब प्रसार भारती के साथ अपने नए सफर की शुरुआत की है।

Last Modified:
Monday, 24 January, 2022
Umanath SIngh

वरिष्ठ पत्रकार उमानाथ सिंह ने दैनिक जागरण समूह में अपनी पारी को विराम दे दिया है। वह तीन साल से अधिक समय से यहां कार्यरत थे और दैनिक जागरण डिजिटल में बतौर एसोसिएट एडिटर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे। उमानाथ सिंह ने अब ‘प्रसार भारती’(Prasar Bharati) के साथ अपने नए सफर की शुरुआत की है। उन्होंने यहां पर बतौर सीनियर एडिटर जॉइन किया है।

उमानाथ सिंह को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का 22 साल से ज्यादा का अनुभव है। अपने इस सफर के दौरान वह कई प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम कर चुके हैं। ’दैनिक जागरण’ से पहले वह करीब डेढ़ साल तक ‘नेटवर्क18’ (Network18) से जुड़े हुए थे और ’News18hindi.com’ में बतौर न्यूज एडिटर अपनी भूमिका निभा रहे थे। पूर्व में उन्होंने करीब डेढ़ साल तक ‘राजस्थान पत्रिका’ में भी अपनी सेवाएं दी हैं। 

इसके अलावा वह ‘दैनिक भास्कर’ में करीब तीन साल, ‘आईएएनएस’ में करीब चार साल और ‘एचटी मीडिया’ में करीब साढ़े सात साल की लंबी पारी खेल चुके हैं। बिहार में सहरसा के रहने वाले उमानाथ सिंह ने पटना और दिल्ली यूनिवर्सिटी से पढ़ाई की है। समाचार4मीडिया की ओर से उमानाथ सिंह को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

'IMPACT Person of the Year' अवॉर्ड ने फिर दी दस्तक, देखें नॉमिनीज की लिस्ट

एक्सचेंज4मीडिया ग्रुप द्वारा हर साल दिए जाने वाले ‘इंपैक्ट पर्सन ऑफ द ईयर’ (IMPACT Person of the Year) अवॉर्ड ने एक बार फिर दस्तक दी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 22 January, 2022
Last Modified:
Saturday, 22 January, 2022
IPOY 2021

एक्‍सचेंज4मीडिया (exchange4media) ग्रुप द्वारा मीडिया, मार्केटिंग और एडवर्टाइजिंग के क्षेत्र में बेहतरीन योगदान देने और ऊंचाइयों को छूने वालों को हर साल दिए जाने वाले ‘इंपैक्‍ट पर्सन ऑफ द ईयर’ (IMPACT Person of the Year) अवॉर्ड ने एक बार फिर दस्तक दी है। ‘इंपैक्ट पर्सन ऑफ द ईयर अवॉर्ड’ वर्ष 2005 में शुरू हुआ था और अब यह इसका 17वां एडिशन होगा। जल्द ही इस कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा। 

इस साल इस अवॉर्ड के लिए नॉमिनीज की लिस्ट में ‘रिलायंस रिटेल वेंचर्स’ की डायरेक्टर ईशा अंबानी और ‘रिलायंस जियो‘ के डायरेक्टर आकाश अंबानी, ‘द गुड ग्लैम ग्रुप’ के ग्रुप फाउंडर और सीईओ दर्पण संघवी, ‘मीशो’ के फाउंडर और सीईओ विदित आत्रे, ‘ड्रीम11‘ के को-फाउंडर्स हर्ष जैन और भावित सेठ, ‘शेयरचैट‘ के को-फाउंडर्स अंकुश सचदेवा, भानु प्रताप सिंह और फरीद अहसान, ‘एको‘ के फाउंडर वरुण दुआ, ‘ब्लिंकिट’ के को-फाउंडर्स अलबिंदर ढींढसा और सौरभ कुमार, ‘जेरोधा’ के को-फाउंडर्स निखिल कामत और नितिन कामत, ‘मामाअर्थ’ के को-फाउंडर्स गजल अलघ और वरुण अलघ, ‘मोबीक्विक’ के को-फाउंडर्स उपासना टाकू और बिपिन प्रीत सिंह, ‘मॉम्स कंपनी’ की फाउंडर और सीईओ मल्लिका दत्त सादानी व ‘गपशप’ के को-फाउंडर और सीईओ बीरुद शेठ शामिल हैं। 

बता दें कि इससे पहले यह अवॉर्ड ‘ आईटीसी लिमिटेड’ (ITC Limited) के चेयरमैन और एमडी संजीव पुरी, ‘Byju’s’ के फाउंडर और सीईओ बायजू रवींद्रन, ‘Google India’ के पूर्व एमडी राजन आनंदन, ‘Patanjali Ayurved‘ के बाबा रामदेव, ‘Paytm‘ के फाउंडर और सीईओ विजय शेखर शर्मा, ‘Times Now और ET Now’ के पूर्व प्रेजिडेंट और एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी, ‘Zee Entertainment Enterprises Ltd‘ के एमडी और सीईओ पुनीत गोयनका, ‘Times Group‘ के एमडी विनीत जैन, पूर्व सूचना-प्रसारण मंत्री अंबिका सोनी, ‘Taproot India‘ के फाउंडर एजनेलो डायस, ‘Network18 और Viacom18‘ के पूर्व ग्रुप सीईओ हरीश चावला, ‘Star India‘ के पूर्व सीईओ उदय शंकर, ‘Network18’ के फाउंडर राघव बहल और ‘CNN-IBN‘ के पूर्व एडिटर-इन-चीफ राजदीप सरदेसाई को मिल चुका है।

‘इंपैक्‍ट पर्सन ऑफ द ईयर अवॉर्ड 2021 के लिए नॉमिनीज की पूरी लिस्ट आप यहां देख सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

लाइव रिपोर्टिंग के दौरान महिला रिपोर्टर का हुआ एक्सीडेंट, वीडियो हुआ वायरल

लाइव रिपोर्टिंग के दौरान कई बार टीवी पर रिपोर्टर के साथ होने वाली अजीबोगरीब घटनाएं देखने को मिल जाती हैं।

Last Modified:
Friday, 21 January, 2022
Reporter45453

लाइव रिपोर्टिंग के दौरान कई बार टीवी पर रिपोर्टर के साथ होने वाली अजीबोगरीब घटनाएं देखने को मिल जाती हैं। कुछ ऐसा ही अजीबोगरीब वाक्या वेस्ट वर्जीनिया के डनबर में एक टीवी रिपोर्टर (TV reporter) के साथ देखने को मिला। दरअसल, लाइव प्रसारण के दौरान महिला रिपोर्टर को एक कार ने टक्कर मार दी, लेकिन इसके बावजूद भी वह रिपोर्टिंग करना जारी रखती है। रिपोर्टर के यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है, और कोई उनके काम की तरीफ कर रहा है।

रिपोर्टर का नाम तोरी योर्गी है और वह वेस्ट वर्जीनिया के डब्लूएसएजेड-टीवी चैनल से जुड़ी हैं। योर्गी को एक कार ने तब टक्कर मार दी, जब वह स्टूडियो में एंकर टिम इर के साथ लाइव रिपोर्टिंग कर रही थीं। टक्कर इतनी तेज थी कि वह जमीन पर गिर गईं, लेकिन इस दौरान उन्होंने बोलना बंद नहीं किया। वह फिर से उठकर कैमरे के सामने आ गईं, लेकिन तब तक उन्होंने बोलना जारी रखा।

टक्कर मारे जाने के कुछ सेकंड बाद योर्गी को यह कहते हुए सुना जा सकता है, ‘मुझे अभी एक कार ने टक्कर मार दी है, लेकिन मैं ठीक हूं, टिम’ इस घटना के दौरान उस महिला ड्राइवर ने भी योर्गी से उसका हाल पूछा, जिसने योर्गी को टक्कर मारी थी।

महिला ड्राइवर ने योर्गी से पूछा कि क्या आप ठीक हो? तो योर्गी ने जवाब दिया कि हां मैं बिल्कुल ठीक हूं। एंकर ने भी टोरी से पूछा कि क्या तुम ठीक हो? योर्गी ने घटना के बाद फिर से कैमरे के सामने आते हुए कहा, मैं अभी एक कार से टकरा गई हूं, लेकिन खुशनसीब हूं कि मैं पूरी तरह से ठीक हूं।

इस वीडियो को टिमोथी बर्क नाम के एक यूजर द्वारा ट्विटर पर शेयर किया गया था। इस क्लिप को 36 लाख से ज्यादा बार देखा जा चुका है और इसे 28,000 बार लाइक किया जा चुका है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कश्मीर प्रेस क्लब के मामले में मिलकर आगे आए दस पत्रकार संगठन, रखी ये मांग

जम्मू कश्मीर में 'कश्मीर प्रेस क्लब' (केपीसी) को बंद किए जाने के मामले में इसे दोबारा शुरू किए जाने की मांग को लेकर 10 प्रमुख पत्रकार संगठनों ने आपस में हाथ मिलाया है।

Last Modified:
Friday, 21 January, 2022
Kashmir Press Club

जम्मू कश्मीर में ‘कश्मीर प्रेस क्लब’ (केपीसी) को बंद किए जाने के मामले में इसे दोबारा शुरू किए जाने की मांग को लेकर 10 प्रमुख पत्रकार संगठनों ने आपस में हाथ मिलाया है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इस मीडिया गठबंधन ‘Kashmir Media Coalition’ ने प्रशासन से स्पष्टीकरण की मांग की है कि प्रेस क्लब के पुन: पंजीकरण को क्यों रोक दिया गया है।

अल्ताफ हुसैन, नजीर मसूदी और मुफ्ती इस्लाह सहित कश्मीर के पत्रकारों की एक बैठक में गठबंधन ने इस ‘अधिग्रहण’ और क्लब के अंत में बंद होने की निंदा की है। उन्होंने इस मामले में समर्थन के लिए एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया, प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया, इंडियन यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स, फॉरेन करेसपॉन्डेंट क्लब, चेन्नई प्रेस क्लब, कोलकाता प्रेस क्लब, प्रेस क्लब ऑफ इंडिया, मुंबई प्रेस क्लब, दिल्ली यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट्स और रिपोर्टर्स विदाउट बॉर्डर्स आदि मीडिया संगठनों का आभार जताया है।

बता दें कि कश्मीर प्रेस क्लब में मैनेजमेंट को लेकर दो गुटों में जारी लड़ाई के बीच जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने सोमवार को कश्मीर प्रेस क्लब के लिए आवंटित परिसर को ही वापस ले लिया है। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने प्रेस विज्ञप्ति जारी करके कहा था, ‘पत्रकारों के विभिन्न समूहों के बीच असहमति और अप्रिय घटनाओं के बीच यह फैसला किया गया है कि श्रीनगर के पोलो व्यू स्थित कश्मीर प्रेस क्लब को आवंटित परिसर का आवंटन रद्द करके परिसर की भूमि और इस पर निर्मित भवन को एस्टेट विभाग को वापस कर दिया जाए।’

प्रशासन के इस फैसले को लेकर ‘एडिटर्स गिल्ड ऑफ इंडिया‘ समेत तमाम पत्रकार संगठनों ने नाराजगी व्यक्त की है। ‘एडिटर्स गिल्ड‘ ने मंगलवार को एक बयान जारी कर कहा कि वह जम्मू कश्मीर में कश्मीर प्रेस क्लब (केपीसी) के बंद होने से बहुत दु:खी है। कश्मीर प्रेस क्लब की बहाली की मांग करते हुए इस मीडिया गठबंधन ने पंजीकरण प्राधिकरण से स्पष्टीकरण मांगा है कि क्लब के पुन: पंजीकरण को क्यों रोक दिया गया और इसे मनमाने ढंग से बंद क्यों किया गया।

गठबंधन की ओर से जारी पत्र पर हस्ताक्षर करने वालों में अंजुमन उर्दू सहाफत, जम्मू एंड कश्मीर एडिटर्स एसोसिएशन, जम्मू एंड कश्मीर जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन, जम्मू एंड कश्मीर प्रेस एसोसिएशन, जर्नलिस्ट फेडरेशन कश्मीर, कश्मीर जर्नलिस्ट एसोसिएशन, कश्मीर प्रेस फोटोग्राफर्स एसोसिएशन, कश्मीर यूनियन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट्स, कश्मीर वीडियो जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन और कश्मीर वर्किंग जर्नलिस्ट्स एसोसिएशन शामिल हैं। इस मामले में अब इनकी बैठक 27 जनवरी को होगी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

तरुण तेजपाल की याचिका पर सुनवाई से अलग हुए जस्टिस एल नागेश्वर, बताई ये वजह

तरुण तेजपाल की याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस एल नागेश्वर राव (L Nageswara Rao) ने खुद को अलग कर लिया है।

Last Modified:
Friday, 21 January, 2022
tarun-tejpal986

महिला साथी के साथ कथित यौन शोषण के मामले में घिरे तहलका पत्रिका के पूर्व एडिटर-इन-चीफ तरुण तेजपाल की याचिका पर सुनवाई से सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस एल नागेश्वर राव (L Nageswara Rao) ने खुद को अलग कर लिया है। मामले की सुनवाई अब अगले हफ्ते दूसरी बेंच करेगी।

दरअसल,  शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने पत्रकार तरुण तेजपाल की उस याचिका पर सुनवाई करने की मंजूरी दे दी थी, जिसमें उन्होंने बंबई उच्च न्यायालय के एक आदेश को चुनौती दी है। तेजपाल ने 2013 के एक बलात्कार मामले में उन्हे बरी किए जाने को चुनौती देने वाली याचिका की सुनवाई बंद कमरे में करने का अनुरोध किया था, जिसे बंबई उच्च न्यायालय ने ठुकरा दिया था। 

मामला शुक्रवार को जस्टिस एल नागेश्वर राव और जस्टिस बीआर गवई की खंडपीठ के समक्ष रखा गया था। इसके बाद जस्टिस राव ने मामले से हटने का फैसला किया था। दरअसल, राव 2015 में इस मामले में गोवा सरकार की तरफ से पेश हुए थे। तब वह वरिष्ठ वकील थे। उन्होंने कहा कि मैं राज्य की तरफ से इस मामले में 2015 में पेश हुआ था। इसलिए इसे किसी अन्य बेंच के पास ले जाना चाहिए।

तरुण तेजपाल ने कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न अधिनियम के मामलों में बॉम्बे हाई कोर्ट के जस्टिस गौतम पटेल के हालिया आदेश का हवाला देते हुए मामले की बंद कमरे में सुनवाई की मांग की है। तेजपाल की दलील थी कि हर पार्टी को अपना पक्ष उचित तरीके से रखने का अधिकार है। याचिका में कहा गया है कि यह सही नहीं होगा कि वकीलों को इस इस वजह से अपनी दलीलों को कम करना पड़े कि कुछ प्रकाशन बिना मर्जी कुछ भी छाप देंगे। तेजपाल ने कहा कि सीआरपीसी की धारा 327 अब केवल एक वैधानिक दायित्व नहीं है, बल्कि एक मौलिक अधिकार बन गया है।

दरअसल पिछले साल नवंबर में तरुण तेजपाल ने बॉम्बे हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसमें ये मांग की गई थी कि 2013 के दुष्कर्म मामले में उन्हें बरी करने को चुनौती देने वाली गोवा सरकार की याचिका की कार्यवाही बंद कमरे में की जाए, जिसे तब हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया था।

बता दें कि पिछले साल 21 मई को एक निचली अदालत ने ‘तहलका’ पत्रिका के पूर्व प्रधान संपादक तेजपाल को दुष्कर्म के मामले में बरी कर दिया था, जिसके बाद गोवा सरकार ने इसके खिलाफ हाई कोर्ट की गोवा पीठ में अपील दाखिल की थी।  अपील में कहा गया था कि इस फैसले के बाद पीड़िता को लगने वाले आघात, उसके चरित्र पर पर उठाए गए सवालों पर कोर्ट ने ध्यान नहीं दिया। कोर्ट में पीड़िता के सबूतों को नजरअंदाज किया गया। सरकार ने यह भी कहा कि अदालत ने बचाव पक्ष के सभी सबूतों को सच माना, जबकि पीड़िता के सबसे अहम सबूत, माफी वाले ई-मेल को नजरअंदाज कर दिया। इसके बाद तेजपाल ने इन-कैमरा हियरिंग के लिए हाई कोर्ट में याचिका लगाई। हालांकि, हाई कोर्ट ने यह याचिका खारिज कर दी थी।

58 साल के पूर्व पत्रकार पर 2013 में एक फाइव स्टार होटल की लिफ्ट में तहलिका मैगजीन के ही एक इवेंट के दौरान सहकर्मी के साथ रेप करने का आरोप लगाया गया था। शिकायतकर्ता के अनुसार, तेजपाल ने 7 नवंबर 2013 को होटल की लिफ्ट में महिला के साथ दुष्कर्म किया और अगले दिन फिर से उसका शोषण करने की कोशिश की। तेजपाल ने अदालत में इन आरोपों का खंडन किया और बाद में उन्हें बरी कर दिया गया। 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Disney Star में इस बड़े पद से जुड़े मणि रंगराजन

उन्होंने संजय जैन की जगह ली है, जिन्होंने 16 साल से अधिक समय के बाद कंपनी को अलविदा कह दिया था।

Last Modified:
Friday, 21 January, 2022
Mani Rangarajan

‘डिज्नी स्टार’ (Disney Star) ने मणि रंगराजन को फाइनेंस और स्ट्रैटेजी हेड के पद पर नियुक्त किया है। उन्होंने संजय जैन की जगह ली है, जिन्होंने 16 साल से अधिक समय के बाद कंपनी को अलविदा कह दिया था। जैन ‘द वॉल्ट डिज्नी कंपनी’ (The Walt Disney Company) इंडिया के फाइनेंस और बिजनेस ऑपरेशंस हेड के पद पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

‘स्टार’ (Star) और ‘डिज्नी इंडिया’ (Disney India) के प्रेजिडेंट और कंट्री मैनेजर के. माधवन (K Madhavan) ने एक इंटरनल मेल में रंगराजन की नियुक्ति की घोषणा की है। स्टार इंडिया के एम्प्लॉयीज को लिखे इस ऑफिशियल ईमेल में उन्होंने लिखा है, ‘मणि रंगराजन को कंपनी में फाइनेंस और स्ट्रैटेजी हेड के रूप में शामिल करने की घोषणा करते हुए मुझे बहुत खुशी हो रही है।’

बता दें कि रंगराजन को इंटरनेट और फाइनेंसियल सर्विस सेक्टर में काम करने का व्यापक वैश्विक अनुभव है। रंगराजन ने अपने करियर की शुरुआत ‘सिटीग्रुप’ (Citigroup) के साथ की थी। वह करीब छह साल तक ‘याहू’ (Yahoo) के साथ काम कर चुके हैं।  

पिछले पांच वर्षों के दौरान रंगराजन तमाम प्रमुख स्टार्ट-अप्स जैसे- Search /SEM (Kosmix, Media Boost, Efficient Frontier), payments, and payment processing (Evergent, Boku, Mobibucks, Rewards Pay), local (Virtual Paper), e-commerce (Climate Corporation, Swoopo), big data (Asterdata, Cloudera), mobile (Roamware) और social media (Ole Ole, Roto Experts) में चीफ फाइनेंसियल ऑफिसर और एग्जिक्यूटिव के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं।

रंगराजन ने ‘ग्रेजुएट स्कूल ऑफ बिजनेस’ (Graduate School of Business) स्टेनफोर्ड यूनिवर्सिटी और भारतीय प्रबंधन संस्थान (Indian Institute of Management) कोलकाता से मैनेजमेंट की डिग्री ली है। वह एक सर्टिफाइड कॉस्ट एंड मैनेजमेंट अकाउंटेंट भी हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Zee Entertainment में इस बड़े पद से जुड़े सिटी नेटवर्क्स के पूर्व CEO अनिल मल्होत्रा

‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) ने मल्टीसिस्टम ऑपरेटर ‘सिटी नेटवर्क्स’ के पूर्व चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) अनिल मल्होत्रा को बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 20 January, 2022
Last Modified:
Thursday, 20 January, 2022
Anil Malhotra

‘जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) ने मल्टीसिस्टम ऑपरेटर ‘सिटी नेटवर्क्स’ (पूर्व में सिटी केबल नेटवर्क्स) के पूर्व चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) अनिल मल्होत्रा को हेड (Public and Regulatory Affairs) के पद पर नियुक्त किया है। इस भूमिका में वह कंपनी की ओर से ‘सूचना-प्रसारण मंत्रालय‘ (MIB) और ‘भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण‘ (TRAI) के साथ तालमेल (liaison) बनाएंगे।

बता दें कि मल्होत्रा ​​‘डिजिटल एड्रेसेबल सिस्टम’ (DAS) रेगुलेशंस के कार्यान्वयन के लिए गठित एमआईबी टास्क फोर्स और ‘ऑल इंडिया डिजिटल केबल फेडरेशन’ सहित विभिन्न सरकारी और उद्योग निकायों के सक्रिय सदस्य रहे हैं।

उन्होंने पेशेवर दायित्वों और प्रतिबद्धताओं का हवाला देते हुए 31 दिसंबर 2021 को सिटी नेटवर्क्स में सीईओ के पद से इस्तीफा दे दिया था। उनकी जगह अब योगेश शर्मा को कंपनी का नया सीईओ नियुक्त किया गया है।

मल्होत्रा ​​​​को सितंबर 2019 में नए टैरिफ ऑर्डर (NTO) के सफल कार्यान्वयन के बाद बिजनेस का नेतृत्व करने के लिए सीईओ के रूप में नियुक्त किया गया था। मल्होत्रा को केबल टेलिविजन इंडस्ट्री में काम करने का 34 साल से ज्यादा का अनुभव है। उन्होंने सिटी नेटवर्क्स में न्यू टैरिफ ऑर्डर फ्रेमवर्क के सफल कार्यान्वयन में और सिटी नेटवर्क्स को एनालॉग प्लेयर से डिजिटल मल्टीसिस्टम ऑपरेटर में बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

उन्होंने वर्ष 2011 में बतौर ‘चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर’ (COO) सिटी नेटवर्क्स को जॉइन किया था और ‘एस्सेल‘ (Essel) समूह में विभिन्न लीडरशिप भूमिकाओं में काम किया। ‘सिटी नेटवर्क्स‘ से पहले मल्होत्रा ‘हिंदुजा ग्रुप‘ के डिस्ट्रीब्यूशन वर्टिकल ‘इनकेबल‘ (InCable) में बतौर प्रेजिडेंट (North India) समेत तमाम एंटरप्रिन्योर पारी खेल चुके हैं। उन्होंने देहरादून से फिजिक्स (Physics) में मास्टर्स की डिग्री ली है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

iTV नेटवर्क में आर.के. अरोड़ा की हुई वापसी, मिला बड़ा पद

पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट रहे आर.के. अरोड़ा को न्यूज ब्रॉडकास्टिंग के क्षेत्र में काम करने का करीब 25 वर्षों से भी ज्यादा का अनुभव है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 20 January, 2022
Last Modified:
Thursday, 20 January, 2022
RK Arora

आईटीवी नेटवर्क (iTV Network) से एक बड़ी खबर है। दरअसल नेटवर्क ने आर.के. अरोड़ा को यहां ग्रुप सीएफओ नियुक्त किया है। पेशे से चार्टर्ड अकाउंटेंट रहे अरोड़ा को न्यूज ब्रॉडकास्टिंग के क्षेत्र में काम करने का करीब 25 वर्षों से भी ज्यादा का अनुभव है। इससे पहले भी वह इस नेटवर्क के साथ काम कर चुके हैं।

‘जी मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड’ (ZMCL), ‘न्यूज नेशन’, ‘इंडिया न्यूज’, ‘न्यूज24’ और ‘इंडिया टीवी’ जैसे प्रतिष्ठानों में वरिष्ठ पदों पर काम कर चुके हैं। में एग्जिक्यूटिव डायरेक्टर और सीईओ के पद पर काम कर रहे थे। पूर्व में वह आईटीवी नेटवर्क में अपनी नई भूमिका में वह सीधे नेटवर्क के बोर्ड को रिपोर्ट करेंगे।

अरोड़ा पेशे से एक चार्टर्ड एकाउंटेंट हैं और उन्हें फाइनेंस, डिस्ट्रीब्यूशन, समग्र संचालन और संगठन के लिए रणनीति तैयार करने का जबरदस्त अनुभव है। आईटीवी नेटवर्क में अपनी नई भूमिका में वह सीधे नेटवर्क के बोर्ड को रिपोर्ट करेंगे।

अपनी नई भूमिका के बारे में आरके अरोड़ा का कहना है, ’आईटीवी नेटवर्क में दोबारा वापसी करना काफी अच्छा मौका है, जब न्यूज इंडस्ट्री में इतने बदलाव हो चुके हैं। यह नई चीजों पर काम करने और ग्रोथ पर ध्यान देने का अच्छा समय है। मैं नेटवर्क के साथ दोबारा जुड़कर काफी उत्साहित हूं।’

वहीं, इस बारे में आईटीवी नेटवर्क के फाउंडर कार्तिकेय शर्मा का कहना है कि न्यूज इंडस्ट्री में आरके अरोड़ा के अनुभवों का नेटवर्क को काफी फायदा मिलेगा।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए