IBF की बड़ी पेशकश, मुफ्त में देख सकेंगे ये चार टीवी चैनल्स

कोरोनावायरस (कोविड-19) के खिलाफ लड़ाई में सरकार के सपोर्ट के लिए ‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन’ भी आगे आया है।

Last Modified:
Saturday, 28 March, 2020
Channel

कोरोनावायरस (कोविड-19) के खिलाफ लड़ाई में सरकार के सपोर्ट के लिए ‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन’ (Indian Broadcasting Foundation) भी आगे आया है। इसके तहत ‘इंडियन ब्रॉडकास्टिंग फाउंडेशन’ के सदस्यों ने सोनी के चैनल ‘सोनी पल’, स्टार इंडिया के चैनल ‘स्टार उत्सव’ जी टीवी के चैनल ‘जी अनमोल’ और ‘वायकॉम18’ के कलर्स बुके (bouquet) में शामिल चैनल ‘कलर्स रिश्ते’ को दो माह तक मुफ्त में प्रसारित करने की पेशकश की है। ये सभी चैनल पे चैनल्स (pay channels) हैं।

इस पेशकश के तहत अब ये चारों चैनल देश भर में सभी ‘डायरेक्ट टू होम’ (DTH) और केबल नेटवर्क्स पर दो महीने के लिए मुफ्त में देखने को मिलेंगे। यानी देश भर के दर्शकों को इन चारों चैनल्स को देखने के लिए कोई शुल्क नहीं देना पड़ेगा।     

दरअसल, इन सभी ब्रॉडकास्टर्स का मानना है कि जब लॉकडाउन के कारण लोगों को 21 दिनों तक अपने घरों से बाहर न निकलने की सलाह दी गई है, ऐसे मे इस कदम से लोगों को थोड़ा एंटरटेनमेंट और स्फूर्तिदायक कंटेंट मिल सकेगा, जो लोगों को काफी राहत प्रदान करेगा।   

बता दें कि कोरोनावायरस के प्रकोप को देखते हुए सरकार ने लोगों से सोशल डिस्टिंग अपनाने के साथ ही घरों पर ही रहने को कहा है। ऐसे में इन चारों ब्रॉडकास्टर्स ने भी आगे आकर इन चारों चैनल्स के लिए दो महीने तक अपने सभी तरह के टैरिफ और शुल्क को दर्शकों के लिए मुफ्त करने का निर्णय कर कोरोना से ‘जंग’ में अपना साथ दिया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

COVID-19 से प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, आउटडोर मीडिया की आय पर पड़ा ये बड़ा असर: पीएचडी चैंबर्स

कोरोना वायरस का मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र पर भारी असर हुआ है। यह बात उद्योग मंडल पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (पीएसडीसीसीआई) की एक रिपोर्ट में सामने आई है

Last Modified:
Tuesday, 26 May, 2020
PHD Chamber

कोरोना वायरस का मीडिया और मनोरंजन क्षेत्र पर भारी असर हुआ है। यह बात उद्योग मंडल पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (पीएसडीसीसीआई) की एक रिपोर्ट में सामने आई है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि इस महामारी के कारण प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक, आउटडोर मीडिया और ईवेंट आदि क्षेत्रों की आय में बड़ी गिरावट आई है।

पीएचडीसीसीआई के अध्यक्ष डी.के. अग्रवाल और अन्य अधिकारियों ने संगठन की रिपोर्ट ‘आउटलुक ऑफ मीडिया एंड एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री इन दि कोविड सिनारियो’ को हाल ही में केन्द्रीय सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर को सौंपी।

संगठन ने एक बयान में कहा, ‘मीडिया कोविड-19 महामारी के कारण सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्रों में से एक रहा है। प्रिंट मीडिया की प्रसार संख्या में काफी हद तक कमी दर्ज की गई है और इसकी विज्ञापन आय में भारी नुकसान हुआ है। विज्ञापन राजस्व में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को भी भारी नुकसान हुआ और लॉकडाउन के कारण सड़कों पर यातायात नहीं होने के कारण आउटडोर मीडिया के सभी ऑर्डर रद्द हो गए।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि लॉकडाउन के दौरान किसी प्रकार के ईवेंट की अनुमति न होने के चलते ईवेंट बिजनेस भी खाली गया है। चैंबर ने सूचना-प्रसारण मंत्री से आग्रह किया कि वे इस रिपोर्ट में दी गई सिफारिशों के आधार पर तत्काल सुधार उपायों को लागू करें।

रिपोर्ट में बताया गया है कि कोविड-19 का मीडिया एवं मनोरंजन उद्योग के ऊपर प्रमुख प्रभावों में से एक अस्थिरता है और सभी मीडिया क्षेत्रों में विज्ञापन राजस्व में गिरावट आई है।

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि रेडियो, टीवी, प्रिंट, आउटडोर मीडिया की विज्ञापन आय में काफी गिरावट दर्ज की गयी है। अग्रवाल ने कहा कि विज्ञापन आय में आ रही लगातार गिरावट मीडिया इंडस्ट्री के लिए जोखिम पैदा कर रही है क्योंकि मीडिया के लिये आय का एक प्रमुख स्रोत विज्ञापन है।

संगठन ने सरकार से इस वित्त वर्ष में अपने वार्षिक विज्ञापन बजट का पूर्ण उपयोग सुनिश्चित करने की दिशा में सचेत प्रयास करने का आग्रह किया। रिपोर्ट में कहा गया है कि सार्वजनिक उपक्रमों, कॉरपोरेट्स और उद्योग हितधारकों को भी प्रभावी विज्ञापन अभियान के माध्यम से अपने उपभोक्ताओं से जुड़ना चाहिए।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

UNI में विश्वास त्रिपाठी को फिर मिली ये बड़ी जिम्मेदारी

उनकी यह नियुक्ति दो साल के लिए की गई है। शनिवार को हुई बोर्ड मीटिंग में यह फैसला लिया गया।

Last Modified:
Tuesday, 26 May, 2020
Vishwas Tripathi

विश्वास त्रिपाठी को एक बार फिर ‘यूनाइटेड न्यूज ऑफ इंडिया’ (UNI) के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स का चेयरमैन चुना गया है। उनकी यह नियुक्ति दो साल के लिए की गई है। शनिवार को हुई बोर्ड मीटिंग में यह फैसला लिया गया।  

त्रिपाठी ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (ब्रिक्स सीसीआई) के चेयरमैन भी हैं। ब्रिक्स देशों का यह संगठन पड़ोसी और मित्र देशों के साथ वाणिज्य और उद्योग को बढ़ावा देता है। त्रिपाठी पिछले साल अगस्त में गैर सरकारी संगठन ‘स्टेयर्स फाउंडेशन’ (STAIRS Foundation) के बोर्ड में शामिल हुए थे। यह संगठन देश भर में खेलों के लिए विभिन्न कार्यक्रमों के द्वारा मार्गदर्शन प्रदान करता है। वह दिल्ली फ्लाइंग क्लब की गवर्निंग काउंसिल के सदस्य भी हैं।

विश्वास त्रिपाठी देश की जानी मानी चार्टर्ड अकाउंटेंट फर्म ‘वी सहाय त्रिपाठी एंड कंपनी’ (V Sahai Tripathi and Co) के पार्टनर भी हैं। वह ई-गर्वनेंस, ई बैंकिंग और फाइनेंसियल सर्विसेज की मार्केटिंग पर तमाम किताबें भी लिख चुके हैं।

‘उर्वरा एग्रो बायोटेक प्राइवेट लिमिटेड’ (Urvara Agro Biotech Pvt Ltd) के चेयरमैन होने के साथ ही वह ‘फाउंडेशन ऑफ ऑर्गनाइजेशन रिसर्च एंड एजुकेशन’ (FORE) के सदस्य हैं । इसके अलावा वह ‘इंटरनेशनल जर्नलिस्ट सेंटर’ (International Journalist Centre) के लाइफ टाइम मेंबर भी हैं।

अपने करियर के दौरान त्रिपाठी ने कई संगठनों को लाभदायक और टिकाऊ उद्यम बनाने में काफी मदद की है। उन्होंने ‘ईएनआरआई ओमनीकेयर’ (eNRI OmniCare) को वित्तीय संचालन में भी मार्गदर्शन दिया है। वह कृषि के क्षेत्र में काम करने वाली ‘रोज मल्टीस्टेट मल्टी परपज को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड’ (Rose Multistate Multi purpose co-operative society Limited) के चेयरमैन पद की जिम्मेदारी भी संभाल रहे हैं।

दिल्ली के श्रीराम कॉलेज ऑफ कॉमर्स से ग्रेजुएट विश्वास त्रिपाठी ने वर्ष 1988 में इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टर्ड अकाउंट्स ऑफ इंडिया (ICAI) से चार्टर्ड अकाउंटेंट की डिग्री ली है। इसके अलावा वह ज्योतिषशास्त्र में ‘ज्योतिष प्रवीन’ हैं और ज्योतिष विज्ञान के अध्ययन में उनकी खासी दिलचस्पी है। उन्हें मैनेजमेंट कंसल्टेंसी, कॉरपोरेट एडवाइजरी, लेखा परीक्षा एवं कराधान और निवेश योजना और व्यावसायिक सलाहकार सेवाएं व व्यवसाय विकास और व्यवसायिक प्रबंधन के क्षेत्र में विशेष अनुभव है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जानिए, मीडिया इंडस्ट्री के प्रोत्साहन पैकेज की जरूरत पर क्या बोले सूचना प्रसारण मंत्री

केंद्रीय सूचना-प्रसारण और पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कोरोनावायरस महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच कहा है कि मीडिया संस्थानों को चाहिए कि वह नागरिकों को इस बात को समझाने का प्रयत्न करें

Last Modified:
Tuesday, 26 May, 2020
Prakash Javadekar

केंद्रीय सूचना-प्रसारण और पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कोरोनावायरस महामारी के बढ़ते प्रकोप के बीच कहा है कि मीडिया संस्थानों को चाहिए कि वह नागरिकों को इस बात को समझाने का प्रयत्न करें कि अखबार पूरी तरह से सुरक्षित हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, केंद्रीय मंत्री ने न्यूज एजेंसी आईएएनएस के साथ विशेष बातचीत में कहा, ‘कोविड-19 संक्रमण के चलते लोगों में भय पैदा हुआ है और इस कारण उन्होंने समाचार-पत्र लेना बंद कर दिया है, ऐसे में समाचार पत्रों को जागरूकता अभियान चलाकर उन्हें जागरूक करने की आवश्यकता है।’

दरअसल, जब सूचना-प्रसारण मंत्री से जब सवाल पूछा गया कि क्या आपको लगता है कि मीडिया इंडस्ट्री के लिए भी एक प्रोत्साहन की आवश्यकता है? कई संस्करण बंद हो रहे हैं। क्या हम मीडिया के लिए भी पैकेज की उम्मीद कर सकते हैं?

इस सवाल का जवाब देते हुए सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि मेरी संवेदनाएं सबके साथ है, लोग अखबार नहीं खरीद रहे हैं। डिस्ट्रीब्यूटर अखबार नहीं बांट रहा है, ये सरकार की गलती नहीं है। मुझे हैरानी है कि अभी तक किसी भी अखबार ने कोरोना को लेकर कोई कंपैन नही चलाया गया कि समाचार पत्र से कोरोना संक्रमण नहीं होता है।

उन्होंने आगे कहा, आज टीवी और रेडियो पर विज्ञापन बढ़ गया है। अब मीडिया को डिजिटल के साथ जीना सीखना होगा। अखबार के क्षेत्र में विज्ञापनों की कमी है, जबकि रेडियो और टीवी विज्ञापनों से भरे हुए हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फॉक्स स्टार स्टूडियोज को बाय बोलकर रुचा पाठक ने तलाशी नई मंजिल

बतौर चीफ क्रिएटिव ऑफिसर अपनी पहली भूमिका में वह ‘नीरजा’, ‘फिल्लौरी’ और ‘जॉली एलएलबी2’ जैसी फिल्मों से जुड़ी रही हैं।

Last Modified:
Tuesday, 26 May, 2020
Rucha Pathak

‘फॉक्स स्टार स्टूडियोज’ (Fox Star Studios) की रुचा पाठक ने ‘एक्सेल एंटरटेनमेंट’ (Excel Entertainment) के साथ अपनी नई पारी की शुरुआत की है। यहां उन्होंने बतौर प्रड्यूसर जॉइन किया है। अपनी पहली भूमिका में वह चीफ क्रिएटिव ऑफिसर के पद पर काम कर रही थीं।

दरअसल, एक्सेल एंटरटेनमेंट ने फिल्म्स और टीवी शोज बनाने के लिए अपनी टीम को मजबूती देने के क्रम में रुचा पाठक की नियुक्ति की है। बतौर प्रड्यूसर अपनी नई भूमिका में रुचा पाठक नई स्क्रिप्ट्स और नए कॉन्सेप्ट पर काम कर रही हैं।

बता दें कि ‘फॉक्स स्टार स्टूडियोज’ में वह ‘नीरजा’, ‘जॉली एलएलबी2’ और ‘फिल्लौरी’ जैसी फिल्मों से जुड़ी रही हैं। रुचा पाठक ने डिज्नी/यूटीवी स्टूडियो में प्रड्यूसर के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनाई है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

तूफान पीडितों की मदद के लिए टाइम्स नेटवर्क ने बढ़ाए कदम, की ये पहल

चक्रवाती तूफान अम्फान से पश्चिम बंगाल के कुछ इलाकों में तबाह हुई बुनियादी सुविधाओं की बहाली के लिए राज्य सरकार जोर-शोर से जुटी हुई है।

Last Modified:
Monday, 25 May, 2020
Times Network

चक्रवाती तूफान अम्फान से पश्चिम बंगाल के कई इलाकों में तबाह हुई बुनियादी सुविधाओं की बहाली के लिए राज्य सरकार जोर-शोर से जुटी हुई है। ऐसे में सरकार की मदद के लिए फंड जुटाने व लोगों को जागरूक करने के लिए देश के जाने-माने ब्रॉडकास्ट नेटवर्क ‘टाइम्स नेटवर्क’ (Times Network) ने एक विशेष पहल ‘इंडिया फॉर बंगाल’ (India For Bengal) शुरू की है।

बता दें कि इस तूफान से काफी नुकसान हुअ है। करीब 1.36 करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं और 10.5 लाख घरों को नुकसान पहुंचा है, वहीं कई लोगों की जान भी चली गई है। राज्य में कई स्थानों पर बिजली और टेलिफोन की लाइनें टूट गई हैं, कई घर तबाह हो गए हैं और तमाम पेड़ उखड़ गए हैं।   

ऐसे में टाइम्स नेटवर्क ने ‘India For Bengal’ पहल के तहत राज्य के प्राकृतिक आपदा पीड़ितों के लिए देश के लोगों से आगे बढ़कर आर्थिक मदद करने की अपील की है। इस पहल के तहत जो लोग आर्थिक मदद करना चाहें वह पश्चिम बंगाल राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण को फंड दे सकते हैं। इसके लिए ICICI Bank, A/c no 628001041066, IFSC Code - ICI0006280 और MICR code 700229010 जारी किया गया है।

इस पहल के बारे में ‘टाइम्स नेटवर्क’ के एमडी और सीईओ एमके आनंद का कहना है, ‘पश्चिम बंगाल देश की सांस्कृतिक विरासत का एक केंद्र है। पिछले दिनों में आई प्राकृतिक आपदाओं के कारण यह राज्य और यहां के लोग काफी प्रभावित हुए हैं। ऐसे में बंगाल को पुन: पटरी पर वापस लाने के लिए पूरे देश को एकजुट होकर आगे आने और सपोर्ट करने की जरूरत है। इस पहल के द्वारा हमने लोगों से राहत और पुनर्वास की दिशा में कदम उठाने और योगदान की अपील की है। मुझे पूरा विश्वास है कि सामूहिक प्रयासों से हम तेजी से प्रभावित इलाकों की मदद कर पाएंगे।’  

बताया जाता है कि नेशनल लेवल की पहल www.timesnownews.com, TIMES Now और मिरर नाउ के माध्यम से चलेगी, ताकि चक्रवात द्वारा विस्थापित हुए लाखों लोगों के लिए ज्यादा से ज्यादा सहायता प्राप्त की जा सके।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

महज 1 डॉलर में बिक गया ये बड़ा मीडिया हाउस

कोरोना संक्रमण के प्रसार को कम करने के लिए लागू किए लॉकडाउन की वजह से देश-दुनिया की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है।

Last Modified:
Monday, 25 May, 2020
deal

कोरोना संक्रमण के प्रसार को कम करने के लिए लागू किए लॉकडाउन की वजह से देश-दुनिया की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। इसका प्रभाव मीडिया संगठन पर भी पड़ा है। कई मीडिया कंपनियों की आर्थिक स्थिति इस कदर बिगड़ गई कि उन्हें वित्तीय बोझ को कम करने के लिए अपने स्टाफ में कटौती करनी पड़ रही है। वहीं कुछ मीडिया संगठनों ने मासिक वेतन में कटौती का ऐलान किया है।

न्यूजीलैंड से खबर है कि यहां के सबसे बड़े मीडिया घरानों में से एक को उसके मालिकों ने सिर्फ 1 डॉलर (61 cents) में बेच दिया है। दरअसल, यह सौदा नाइन एंटरटेनमेंट  (Nine Entertainment Holdings Ltd) ने मीडिया हाउस 'स्टफ' को अपने मुख्य कार्यकारी (CEO) को महज एक डॉलर में बेचने का फैसला किया है।

'स्टफ' देश के कई दैनिक अखबारों का प्रकाशन करता है और इसी नाम से एक लोकप्रिय न्यूज वेबसाइट चलाता है। इसमें 400 पत्रकारों सहित लगभग 900 कर्मचारी कार्यरत हैं।               

ऑस्ट्रेलिया के नाइन एंटरटेनमेंट के स्वामित्व वाला 'स्टफ' महामारी के पहले से ही वित्तीय कठिनाइयों से जूझ रहा है। लिहाजा इस बीच कंपनी ने विज्ञापन राजस्व में बड़ी गिरावट दर्ज की है।

ऑस्ट्रेलियाई शेयर बाजार को दिए एक बयान में कंपनी ने कहा कि 'स्टफ' को सीईओ सिनैड बाउचर को बेचा जाएगा और यह पूरी कार्रवाई महीने के अंत तक पूरी कर ली जाएगी।

नाइन एंटरटेनमेंट के सीईओ ह्यूग मार्क्स ने कहा 'हम मानते हैं कि 'स्टफ' के लिए स्थानीय स्वामित्व होना महत्वपूर्ण है और यह हमारा मानना है कि न्यूजीलैंड में प्रतिस्पर्धा और उपभोक्ताओं के हिसाब से यह सबसे सही होगा।

वहीं 'स्टफ' की सीईओ बाउचर ने कहा कि उनकी योजना कर्मचारियों को कंपनी में शेयरधारक के रूप में प्रत्यक्ष हिस्सेदारी देने की है। इससे पहले प्रतिद्वंद्वी मीडिया कंपनी NZME भी स्टफ को खरीदना चाहती थी। न्यूजीलैंड की अधिकांश मीडिया कंपनियां महामारी के बाद से संघर्ष कर रही हैं।

'स्टफ' ने अस्थायी रूप से कर्मचरियो के वेतन में कटौती की है जबकि NZME ने 200 पत्रकारों को नौकरियों से हटाने की घोषणा की है।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फिर होगी DD के फ्रीडिश स्लॉट की नीलामी, इस तारीख तक कर सकते हैं अप्लाई

ई-नीलामी की प्रक्रिया स्थगित होने से पहले जो ब्रॉडकास्टर्स अपने आवेदन जमा कर चुके थे, उन्हें दोबारा से अप्लाई करने की आवश्यकता नहीं है।

Last Modified:
Monday, 25 May, 2020
DD Freedish

प्रसार भारती ने अपने ‘डायरेक्ट टू होम’ (DTH) प्लेटफॉर्म ‘डीडी फ्रीडिश’ (DD Free Dish) के खाली पड़े MPEG-2 स्लॉट्स के आवंटन के लिए सैटेलाइट टीवी चैनल्स से फिर आवेदन मांगे हैं। यह आवेदन 10 जून 2020 से 31 मार्च 2021 की अवधि के लिए मांगे गए हैं। इससे पहले 18 मार्च 2020 को अधिसूचित ई-नीलामी की प्रक्रिया को स्थगित कर दिया गया था। लेकिन अब ई-नीलामी की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है और ऑनलाइन बोली दो जून 2020 को आयोजित किए जाने की उम्मीद है।

अलग-अलग बुके (buckets) में टीवी चैनल्स का वर्गीकरण चैनल के जॉनर (genre) या भाषा के अनुसार किया गया है और उनका शुरुआती रिजर्व प्राइज 18 मार्च 2020 के समान ही रहेगा। सफल बोलीदाताओं को डीडी फ्री डिश स्लॉट के आवंटन के लिए पॉलिसी गाइडलाइंस में निर्धारित भुगतान शिड्यूल के अनुसार सात मासिक किस्तों में भुगतान करना होगा।

प्रोसेसिंग फीस जहां 25000 रुपए फिक्स की गई है, वहीं बोली में भाग लेने के लिए 1.5 करोड़ शुल्क तय किया गया है। ई-नीलामी की प्रक्रिया स्थगित होने से पहले जो ब्रॉडकास्टर्स अपने आवेदन जमा कर चुके थे, उन्हें दोबारा से अप्लाई करने की आवश्यकता नहीं है। आवेदन जमा करने अथवा ऑनलाइन आवेदन की स्थिति में भागीदारी शुल्क (participation fee) के लिए ऑरिजनल डिमांड ड्राफ्ट जमा करने की आखिरी तारीख एक जून 2020 रखी गई है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार फे डिसूजा ने आज के दौर की पत्रकारिता को लेकर कही ये बड़ी बात

‘वायकॉम18’ के पूर्व सीओओ राज नायक के साथ बातचीत में 'मिरर नाउ' की पूर्व एग्जिक्यूटिव एडिटर ने अपने नए वेंचर को लेकर भी चर्चा की

Last Modified:
Saturday, 23 May, 2020
Friday Live

‘वायकॉम18’ (Viacom 18) के पूर्व सीओओ और ‘हाउस ऑफ चीयर’ (House Of Cheer) कंपनी के एमडी व फाउंडर राज नायक द्वारा पिछले दिनों लॉन्च गए टॉक शो ‘Friday’s Live’ में इस बार अंग्रेजी न्यूज चैनल ‘मिरर नाउ’ (Mirror Now) की पूर्व एग्जिक्यूटिव एडिटर फे डिसूजा ने बतौर गेस्ट शिरकत की। ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर हुई इस बातचीत (वेबिनार) के दौरान फे डिसूजा ने राज नायक के साथ आज के दौर की पत्रकारिता को प्रभावित करने वाले तमाम मुद्दों पर चर्चा की।

कार्यक्रम में फे डिसूजा का कहना था कि यदि हम वास्तव में ‘असली पत्रकारिता’ जिसका काम लोगों को इंफॉर्म करना है, करना चाहते हैं तो हमें न्यूज चैनल के बिजनेस मॉडल को बदलने की जरूरत है। दर्शक अब उस न्यूज के लिए भुगतान नहीं कर रहे हैं, जो वह देख रहे हैं। यह तो विज्ञापनदाता है जो न्यूज के लिए भुगतान कर रहा है। यही कारण है कि वास्तविक ग्राहक विज्ञापनदाता है और दर्शक एक वस्तु बनकर रह गया है।  

डिसूजा का यह भी कहना था कि एडवर्टाइजर्स को पत्रकारिता से कोई मतलब नहीं रहता है और यही कारण है कि वह पत्रकारिता की गुणवत्ता की चिंता नहीं करते हैं, जिसे वह स्पांसर करते हैं। वे ज्यादा टीआरपी के पैसे देते हैं। डिसूजा के अनुसार, ‘न्यूज मीडिया में सबसे बड़ी विज्ञापनदाता सरकार है और सरकार ही वास्तविक कस्टमर है, जिसे सेवा दी जा रही है। ऐसी स्थिति में अब आपका अस्तित्व इस बात पर निर्भर करता है कि आप सरकार को खुश करने में सक्षम हैं अथवा नहीं।’  

इसके साथ ही उन्होंने पत्रकारों से अपनी भूमिका और ज्यादा जिम्मेदारी से निभाने की अपील भी की। डिसूजा का कहना था, ‘जब कोई भी पत्रकार ऐसी सामग्री पोस्ट करता है जो समाज को विभाजित करती है तो यह मौलिक रूप से गलत सूचनाओं पर आधारित होती है। इससे लड़ाई, झगड़े और वैमनस्यता उत्पन्न होती है और इसका वास्तविक जीवन पर प्रभाव पड़ता है। एक पत्रकार के रूप में अभी हमारी सबसे बड़ी जिम्मेदारी युवाओं को इंफॉर्म करना है। देश में युवाओं की बड़ी संख्या है, जो भविष्य में देश के वोटर्स और संरक्षक हैं। उन्हें जिम्मेदारी से तमाम विषयों पर इंफॉर्म करना हमारी जिम्मेदारी है।’

इसके साथ ही डिसूजा ने अपने नए वेंचर के बारे में भी बात की, जिसकी घोषणा वह जल्द करेंगी। डिसूजा के अनुसार, यह इंफॉर्मेशन पर आधारित होगा न कि ओपिनियन पर। डिसूजा के अनुसार, ‘यह सबस्क्रिप्शन पर आधारित ऑनलाइन प्लेटफॉर्म होगा, जिस पर लोगों को इंफॉर्मेशन पर आधारित न्यूज  मिलेंगी। इसके कंटेंट को बहुत ही सामान्य रखने का विचार है, ताकि लोग इस इंफॉर्मेशन का उपभोग (consume) कर सकें और महसूस कर सकें।’

कार्यक्रम का पूरा विडियो आप यहां देख सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सामुदायिक रेडियो पर विज्ञापनों के मामले में MIB कर रही ये विचार

जनता से कोरोना वायरस के खिलाफ अपनी जंग जारी रखने का आह्वान करते हुए जावड़ेकर ने कहा कि हम इसे भी उसी तरह दूर भगाएंगे, जैसे हमने दूसरी बीमारियों को दूर भगाया है।

Last Modified:
Saturday, 23 May, 2020
prakash

केंद्रीय सूचना-प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने शुक्रवार को कहा कि वह सामुदायिक रेडियो को टीवी चैनलों के बराबर लाने के लिए विज्ञापनों के लिए एयर टाइम मौजूदा 7 मिनट प्रति घंटा से बढ़ाकर 12 मिनट प्रति घंटा करने पर विचार कर रहा हैं।  जावड़ेकर एक विशिष्ट पहल के तहत एक ही समय प्रसारण करते हुए समस्त सामुदायिक रेडियो स्टेशंस के श्रोताओं को संबोधित कर रहे थे।  उनका संबोधन शाम सात बजे और सात बजकर 30 मिनट पर प्रसारित हुआ।

जावड़ेकर ने कहा कि जहां एक ओर सामुदायिक रेडियो की स्थापना के दौरान होने वाले खर्च का 75 प्रतिशत मंत्रालय द्वारा वहन किया जाता है और उसमें प्रमुख खर्च शामिल होते हैं, वहीं दैनिक परिचालन के खर्च स्टेशन द्वारा वहन किए जाते हैं। सूचना-प्रसारण मंत्री ने बताया कि वर्तमान में सामुदायिक रेडियो स्टेशंस को विज्ञापन के लिए 7 मिनट प्रति घंटा एयर टाइम की अनुमति होती है, जबकि टीवी चैनलों को 12 मिनट के एयर टाइम की इजाजत मिलती है। उन्होंने कहा कि वह समस्त रेडियो स्टेशंस को समान समय प्रदान करने के लिए उत्सुक हैं, ताकि उन्हें फंड्स की मांग करने की जरूरत न पड़े और स्थानीय विज्ञापनों का प्रसारण सामुदायिक रेडियो स्टेशंस पर किया जा सके।

अपनी शुरुआती टिप्प‍णियों में जावड़ेकर ने कहा कि सामुदायिक रेडियो अपने आप में समुदाय है। उन्हें ‘बदलाव का दूत’ (agents of change) करार देते हुए सूचना-प्रसारण मंत्री ने कहा कि ये स्टेशन रोजाना लाखों लोगों तक पहुंच बनाते हैं और मंत्रालय जल्द ही ऐसे रेडियो स्टेशंस की संख्या में वृद्धि करने की योजना लाएगा। बता दें कि फिलहाल अभी देश भर में 290 सामुदायिक रेडियो चल रहे हैं।

जनता से कोरोना वायरस के खिलाफ अपनी जंग जारी रखने का आह्वान करते हुए जावड़ेकर ने कहा कि हम इसे भी उसी तरह दूर भगाएंगे, जैसे हमने दूसरी बीमारियों को दूर भगाया है। हालांकि उन्होंने कहा कि अब नए तरह के हालात हैं, जिसमें 4 कदम शामिल हैं अर्थात जितना ज्यादा से ज्या‍दा संभव हो सके घर में रहना, बार-बार हाथ धोना, सार्वजनिक स्थानों पर मास्क लगाना और सोशल डिस्टेसिंग बरकरार रखना।

सोशल डिस्टेसिंग और इकनॉमिक एक्टिविटी की चुनौतियों के बीच असमंजस के बारे में बोलते हुए जावड़ेकर ने ‘जान भी जहान भी’ (Jaan Bhi Jahaan Bhi) का मंत्र दोहराया और कहा कि कंटेनमेंट जोन्स में प्रतिबंध जारी हैं, जबकि ग्रीन जोन्स में आर्थिक गतिविधियां शुरू हो रही हैं।

सूचना-प्रसारण मंत्री ने सामुदायिक रेडियो स्टेशंस के अपने चैनलों पर समाचारों के प्रसारण से संबंधित प्रमुख मांग का भी जिक्र किया। उन्होंने भरोसा दिलाया कि वह सामुदायिक रेडियो स्टेशंस पर उसी तरह समाचारों के प्रसारण की अनुमति देने पर विचार करेंगे, जिस प्रकार एफएम चैनलों के साथ किया गया है। उन्होंने इन स्टेशंस को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि ये स्टेशन फेक न्यूज की बुराई से निपटने में प्रमुख भूमिका निभा सकेंगे। उन्होंने कहा कि ये स्टेशन ऐसी खबर का संज्ञान लेकर और स्थानीय स्रोतों से उसकी पुष्टि करवाकर कार्रवाई कर सकते हैं। उन्होंने इन स्टेशंस को ऐसी खबरों को ऑल इंडियो के साथ भी साझा करने को कहा, ताकि सत्य की पहुंच को व्यापक बनाया जा सके। उन्होंने बताया कि मंत्रालय ने पीआईबी के अंतर्गत फैक्ट चेक सेल बनाया है और सामुदायिक रेडियो फैक्ट चेक सेल की भूमिका को भी पूर्णत: प्रदान कर सकते हैं।

केंद्रीय वित्त और कॉरपोरेट कार्य मंत्री द्वारा हाल ही में प्रस्तुत किए गए आत्मनिर्भर भारत पैकेज के बारे में जावडेकर ने कहा कि यह एक समग्र पैकेज है, जिसमें कृषि और उद्योग सहित विविध क्षेत्रों के सुधारों को शामिल किया गया है तथा इस पैकेज का लक्ष्य आयात घटाना और निर्यात बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि पैकेज को लेकर अच्छी प्रतिक्रिया प्राप्त हुई है और जनता इस प्रोत्साहन से प्रसन्न है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

चीन ने मीडिया में किया बड़ा धमाल, लॉन्च की ये अनोखी एंकर

तकनीकी के मामले में दुनिया तेजी से आगे बढ़ रही है। लगभग हर क्षेत्र में तकनीकी का बोलबाला है और पत्रकारिता भी इससे अछूती नहीं है

Last Modified:
Saturday, 23 May, 2020
anchor

तकनीकी के मामले में दुनिया तेजी से आगे बढ़ रही है। लगभग हर क्षेत्र में तकनीकी का बोलबाला है और पत्रकारिता भी इससे अछूती नहीं है। रोबोट पत्रकार के आविष्कार के बाद अब इस दिशा में तमाम नए प्रयोग हो रहे हैं। इस कड़ी में चीन में दुनिया की पहली 3D न्यूज एंकर को लॉन्च कर दिया गया है।

ये कारनामा अंजाम देने वाली चीन की सरकारी समाचार एजेंसी शिन्हुआ है, जिसने आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया है। 3D तकनीक से चलने वाली यह दुनिया की पहली  न्यूज एंकर बन गई है।

उल्लेखनीय है कि चीन की सरकारी एजेंसी शिन्हुआ ने एक अन्य एजेंसी के साथ मिलकर इस आर्टिफिशियल इंटलीजेंस 3डी एंकर को लॉन्च किया है, इसका एक वीडियो भी इसी एजेंसी के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया गया है।

शिन्हुआ की ओर से बताया गया है कि ये 3डी न्यूज एंकर आसानी से घूम सकती है, इसी के साथ जैसी खबर होती है ये अपने चेहरे के हावभाव को भी वैसे ही बदल सकती है। ये अपने सिर के बालों और ड्रेस में भी परिवर्तन कर सकती है। अभी एक वीडियो के ट्रायल के तौर पर इसे न्यूज पढ़ते और अन्य कई मुद्राओं में दिखाया गया है। आने वाले समय में ये 3 डी न्यूज एंकर ऐसे ही चैनलों पर खबर पढ़ते हुए नजर आ सकती है।

3D न्यूज एंकर को तैयार करने वाली कंपनी का कहना है कि ये इंसानी आवाज की नकल कर सकती है। चेहरे, होंठ के हाव-भाव को पहचान सकती है। अपनी शैली में परिवर्तन भी ला सकती है। इससे पहले 2018 में शिन्हुआ क्यू हाउ नाम से डिजिटल एंकर को न्यूज की दुनिया में उतार चुकी है। मशीन लर्निंग तकनीक का इस्तेमाल कर उसे आवाज की नकल करने, चेहरे की गति और वास्तविक प्रस्तोता के हाव भाव की नकल करता था। आने वाले दिनों में हो सकता है 3D न्यूज एंकर स्टूडियो से बाहर कई मौकों पर ताजा समाचार पढ़ते हुए नजर आए।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए