सूचना:
मीडिया जगत से जुड़े साथी हमें अपनी खबरें भेज सकते हैं। हम उनकी खबरों को उचित स्थान देंगे। आप हमें mail2s4m@gmail.com पर खबरें भेज सकते हैं।

मोबाइल की दुनिया में क्यों जरूरी है सीधा संवाद, जानें एक्सपर्ट्स की राय

दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम में समाज के विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े दिग्गजों ने रखे अपने विचार

Last Modified:
Saturday, 15 June, 2019
Dr. Anurag Batra

आजकल स्मार्टफोन का जमाना है। ऐसे में लोगों का एक-दूसरे से संवाद करने का तरीका भी बदल गया है। लोग अब फेस टू फेस बातचीत करने के बजाय वॉट्सऐप और ईमेल पर ज्यादा संवाद करते हैं। ज्यादा से ज्यादा वे फोन कॉल कर लेते हैं। व्यवहार में इस तरह का व्यवहार कार्यस्थल के साथ ही निजी जिंदगी में भी असर डाल रहा है। इन्हीं तमाम मुद्दों पर चर्चा करने के लिए शुक्रवार को दिल्ली के ‘द ललित’ (The Lalit) होटल में शुक्रवार को ‘WIYLD’ की ओर से 'Real Conversations in Digital Age' पर एक कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। इस कॉन्फ्रेंस में इस बात पर भी चर्चा की गई कि फेस टू फेस संवाद न करने का कितना विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

इस मौके पर कॉरपोरेट जगत के साथ ही वरिष्ठ पत्रकार, मनोवैज्ञानिक, ब्रैंड्स और मार्केटिंग से जुड़े दिग्गजों ने इस बारे में अपने-अपने विचार रखे। सभी का कहना था कि आज के समय में सोशल मीडिया एक मजबूत प्लेटफॉर्म बनकर उभरा है, लेकिन किसी व्यक्ति से मिलकर बातचीत करने का अपना महत्व है। इससे उन व्यक्तियों के बीच मजबूत भावनात्मक रिश्ता बनता है जो वॉट्सऐप, फेसबुक, इंस्टाग्राम पर मुश्किल है।

इस मौके पर ‘बिजनेस वर्ल्ड’ और ‘एक्सचेंज4मीडिया’ के चेयरमैन व एडिटर-इन-चीफ डॉ. अनुराग बत्रा का कहना था कि लगातार संवाद की वजह से ही उन्हें मजबूत निजी और बिजनेस रिलेशनशिप बनाने में मदद मिली है। उनका कहना था कि वह आगे बढ़कर लोगों से संवाद शुरू करने में किसी तरह की झिझक महसूस नहीं करते हैं, फिर चाहे वह मॉल हो, रेस्तरां हो अथवा फ्लाइट हो। युवाओं को सलाह देते हुए डॉ. अनुराग बत्रा का कहना था, ‘किसी भी तरह की झिझक छोड़ दें और अजनबियों के साथ बातचीत करने की अपनी स्टाइल डेवलप करें। आपको तब काफी आश्चर्य होगा और अच्छा लगेगा, जब सामने वाले से भी आपको काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया मिलेगी।’

जानी-मानी मनोवैज्ञानिक डॉ. रोमा कुमार का कहना था, ‘रिसर्च से पता चलता है कि दुनियाभर में अच्छी इनकम वाली 75 प्रतिशत नौकरियां सोशल कनेक्ट्स के द्वारा मिलती हैं। मनोवैज्ञानिकों का मानना है कि सोशल कनेक्शन होना बहुत जरूरी है। इससे आप तमाम तरह की बीमारियों से भी बचे रह सकते हैं।’ डॉ. रोमा कुमार ने समाज में डिप्रेशन के बढ़ते मामलों पर भी चिंता जताई। उन्होंन कहा कि लोगों में संवाद की कमी बढ़ने से अकेलेपन के मामले भी बढ़ रहे हैं।

कार्यक्रम के दौरान ‘WIYLD’ के सीईओ और को-फाउंडर रितु कुमार ओझा का कहना था, ‘स्मार्ट फोन से विभिन्न उम्र के लोगों का व्यवहार बदल रहा है। सोशल मीडिया हमें बनावटी चेहरे दिखाता है, जिसमें व्यक्ति को अपने आसपास की सभी चीजें अच्छी लगती है। ऐसे में लोग वास्तविक दुनिया में संवाद करने से दूर होने लगते हैं, क्योंकि आपको नहीं पता होता है कि सोशल मीडिया के बाहर क्या हो रहा है और कैसे वहां पर आपको तमाम तरह की चुनौतियों का सामना करना है।’

संवाद के दौरान स्टोरीटैलिंग के इस्तेमाल पर जोर देते हुए बीजेपी प्रवक्ता और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री की सलाहकार श्वेता शालिनी का कहना था, ‘हमें स्टोरीटैलिंग पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए। जब मैं छोटी थी तो मेरे पिताजी विभिन्न कहानियों के माध्यम से मुझे ईमानदारी और देशसेवा की बात बताया करते थे और अपने बच्चों को भी मैं इसी तरीके से समझाती हूं।’

यह पूछे जाने पर कि लोग लगातार स्क्रीन पर कैसे दिखते हैं, उन्होंने कहा, ‘किसी भी कंवर्शेसन के दौरान लगातार उस पर ध्यान देना लग्जरी होती जा रही है। सोशल मीडिया पर अगले अपडेट के लिए लगातार अपने फोन को चेक करते रहना हमारे कंवर्शेसन को हमारी आत्मा से काफी दूर ले जाता है।’ कार्यक्रम में मौजूद सभी पैनलिस्ट इस बात से सहमत थे कि सार्थक बातचीत की कमी का बिजनेस पर काफी प्रभाव पड़ रहा है और इस दिशा में बदलाव लाने की जरूरत है।

‘Growthsqapes’ के फाउंडर सात्यकी भट्टाचार्जी का कहना था कि लीडरशिप के लिए सबसे महत्वपूर्ण बातों में से एक किसी भी लीडर का लगातार संवाद में शामिल होना होता है। यदि लीडर्स लोगों को प्रेरित करने में और सार्थक बातचीत करने में विफल रहते हैं तो वे अच्छे नेतृत्वकर्ता नहीं बन सकते हैं। वहीं, ‘Ishwa Consulting’ के फाउंडर और मैनेजिंग पार्टनर अरविंद पंडित का कहना था कि किसी भी लीडर के लिए यह बहुत जरूरी है कि वह अपनी टीम से ज्यादा से ज्यादा संवाद करता रहे और उनसे जुड़ा रहे, इससे बिजनेस में बेहतर रिजल्ट्स मिलते हैं।

संवाद के तरीके के महत्व के बारे में सीनियर बिजनेस लीडर शुभ्रांशु नियोगी (Subhrangshu Neogi) ने कहा, ‘लगातार संवाद होते रहना किसी भी संस्थान की आत्मा और उसका दिल है। हमेशा अपने स्टैकहोल्डर्स और कंज्यूमर्स से संवाद बनाए रखें। सकारात्मक संवाद के परिणाम भी अच्छे आते हैं। ऐसे में संवाद को हमेशा प्रोत्साहित करते रहना चाहिए।’ हार्वर्ड द्वारा लगातार 80 साल तक की गई स्टडी में पाया गया कि पैसे और प्रसिद्धि से ज्यादा रिश्ते लोगों को जीवनभर खुश रखते हैं। पैनल में शामिल विशेषज्ञों का सुझाव था कि सकारात्मक बातचीत से ही रिश्तों को और मजबूत व सार्थक बनाया जा सकता है।

‘माइक्रोसॉफ्ट इंडिया’ (Microsoft India) के पूर्व डायरेक्टर (मार्केटिंग) पुनीत मोदगिल (Punit Modhgil) का कहना है, ‘टेक्नोलॉजी ने हमारी जिंदगी बदल दी है लेकिन इसका इस्तेमाल संवेदनशील रूप से करने की जरूरत है। मोबाइल ने हमारे संवाद करने के तरीके पर काफी प्रतिकूल प्रभाव डाला है और इसका रिश्तों पर भी प्रतिकूल असर पड़ रहा है। आने वाले समय में यह ब्रैंड्स को भी प्रभावित करेगा।’ ‘Deloitte’ कंपनी द्वारा हाल ही में जारी रिपोर्ट के अनुसार, भावनात्मक लगाव रिश्ते को और आगे बढ़ाता है, जबकि तर्कसंगत विचार इन्हें कम महत्वपूर्ण बनाते हैं। किसी भी ब्रैंड के लिए अपने ऑडियंस से भावनात्मक रूप से जुड़ना काफी महत्वपूर्ण होता है। इससे लोगों का उस ब्रैंड में भरोसा बढ़ता है और ब्रैंड को आगे बढ़ने व लोकप्रिय बनने में मदद मिलती है।    

इस मौके पर कॉलेज के एक छात्र के सवाल का जवाब देते हुए ‘सिटी बुक लीडर्स’ (City Book Leaders) के चीफ क्यूरेटर और फाउंडर मोहित गुप्ता ने कहा, ‘मनुष्यों के लिए किताबें हमेशा से सार्थक स्टोरीज और संवाद का एक माध्यम रही हैं। अच्छी-अच्छी किताबें पढ़ें और उन लोगों को सुनें जो किताबें पढ़ते हैं।

हम लोगों के साथ जो बातचीत करते हैं, उसकी क्वालिटी का हमारे एनर्जी लेवल पर सीधा प्रभाव पड़ता है। ‘परिवर्तन प्रबंधन और व्यापार स्थिरता’ (change management and business sustainability) के बारे में आईआईएम लखनऊ के प्रोफेसर डॉ. सुशील कुमार का कहना है, ‘जब आप क्लास में पढ़ाने के दौरान छात्र-छात्राओं से सीधा संवाद करते हैं तो पूरे दिन पॉजीटिव एनर्जी से भरे रहते हैं। हम ऑनलाइन एजुकेशन प्रोग्राम में इस चीज को काफी मिस करते हैं।’ विद्यार्थियों के व्यवहार में आ रहे बदलावों के बारे में डॉ. सुशील कुमार ने कहा, ‘वर्तमान में विद्यार्थी ज्ञान अर्जित करने के बजाय अच्छे ग्रेड लाने पर ज्यादा फोकस करते हैं।’

अमेरिका में पांच हजार लोगों पर हुए एक सर्वे में पाया गया है कि 1985 के बाद से करीबी दोस्त न होने के मामले में अमेरिकियों की संख्या तीन गुना बढ़ चुकी है। जिन लोगों को सर्वे में शामिल किया गया, उनमें से लगभग एक चौथाई ने किसी पर भी अपना भरोसा न होने की बात कही।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘सेल्फ रेगुलेटरी बॉडी’ के रूप में इस एसोसिएशन के रजिस्ट्रेशन को MIB ने दी मंजूरी

इस बारे में केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्रालय की ओर से एक आधिकारिक बयान भी जारी किया गया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 05 December, 2022
Last Modified:
Monday, 05 December, 2022
MIB

केंद्रीय सूचना प्रसारण मंत्रालय (MIB) ने एक बड़ा फैसला लेते हुए स्व-नियामक निकाय (सेल्फ रेगुलेटरी बॉडी) के रूप में ‘प्रिंट एंड डिजिटल मीडिया एसोसिएशन’ (PADMA) के पंजीकरण को अपनी मंजूरी दे दी है। इस निकाय को न्यूज और कंरेंट अफेयर्स कंटेंट के पब्लिशर्स के लिए लेवल-II एसआरबी (स्व नियामक निकाय) के रूप में पंजीकृत किया गया है। इस बारे में एमआईबी की ओर से एक आधिकारिक बयान भी जारी किया गया है।

बता दें कि एक स्व नियामक निकाय के रूप में ‘PADMA’ के पैनल में चेयरपर्सन के रूप में हाई कोर्ट के पूर्व जज जस्टिस मूल चंद गर्ग शामिल हैं। उनके अलावा इस पैनल में वरिष्ठ नौकरशाह और पत्रकार अशोक कुमार टंडन व वरिष्ठ पत्रकार और लेखक मनोज कुमार मिश्रा को बतौर सदस्य शामिल किया गया है।

एमआईबी का कहना है कि ‘PADMA’ नियमों के तहत आचार संहिता से संबंधित शिकायतों के निवारण के उद्देश्य से नियम 12 के उप-नियम (4) और (5) में निर्धारित कार्य करेगी। निकाय के रूप में यह भी सुनिश्चित करेगी कि सदस्य पब्लिशर्स प्रावधानों का पालन करने के लिए सहमत हैं, जिनमें नियम 18 के तहत आवश्यक जानकारी प्रस्तुत करना शामिल है। इसके अलावा निकाय की संरचना अथवा पब्लिशर्स की सदस्यता में किसी भी तरह का परिवर्तन होने पर मंत्रालय को सूचित किया जाएगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार सुमित अवस्थी को लेकर आयी ये बड़ी खबर

टीवी न्यूज की दुनिया के जाने-माने चेहरे और सीनियर न्यूज एंकर सुमित अवस्थी के बारे में एक बड़ी खबर निकलकर सामने आयी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 03 December, 2022
Last Modified:
Saturday, 03 December, 2022
Sumit Awasthi

टीवी न्यूज की दुनिया के जाने-माने चेहरे और सीनियर न्यूज एंकर सुमित अवस्थी के बारे में एक बड़ी खबर निकलकर सामने आयी है। दरअसल, खबर यह है कि वह अब क्विंटिलियन बिजनेस मीडिया ग्रुप (Quintillion Business Media) की हिंदी न्यूज वेबसाइट ‘BQ प्राइम’ से बतौर कंसल्टेंट जुड़ गए हैं। ‘BQ प्राइम हिंदी’ पर उनका पहला वीडियो भी आ गया है, जिसमें उन्होंने जजों की नियुक्ति पर अपनी बेवाक राय भी दी है।

बता दें कि इससे पहले सुमित अवस्थी ‘एबीपी न्यूज’ में वाइस प्रेजिडेंट (न्यूज व प्रॉडक्शन) के तौर पर अपनी सेवाएं दे रहे थे। सुमित अवस्थी ने वर्ष 2018 में ‘एबीपी न्यूज’ में बतौर कंसल्टिंग एडिटर जॉइन किया था। इससे पहले वह ‘नेटवर्क18’ (Network 18) में डिप्टी मैनेजिंग एडिटर के तौर पर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे। वह ‘जी न्यूज’ (Zee News) में रेजिडेंट एडिटर भी रह चुके हैं।

सुमित अवस्थी करीब पांच साल तक ‘आजतक’ (Aaj Tak) में भी रह चुके हैं। यहां वह डिप्टी एडिटर के तौर पर कार्यरत थे। सुमित राजनीति में अच्छी पकड़ और बेहतर रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं।

सुमित अवस्थी को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का दो दशक से ज्यादा का अनुभव है। पत्रकारिता में उल्लेखनीय योगदान के लिए उन्हें अब तक ‘दादा साहेब फाल्के एक्सीलेंस अवॉर्ड‘ और ‘माधव ज्योति अवॉर्ड‘ समेत तमाम प्रतिष्ठित अवॉर्ड्स से नवाजा जा चुका है। इसके साथ ही उन्हें प्रतिष्ठित ‘एक्सचेंज4मीडिया न्यूज ब्रॉडकास्टिंग अवॉर्ड्स’ (enba) से भी नवाजा जा चुका है।

सुमित अवस्थी का जन्म लखनऊ (उत्तर प्रदेश) में हुआ है। केंद्रीय विद्यालय, इंदौर से अपनी स्कूलिंग पूरी करने के बाद उन्होंने इंदौर में ही ‘होलकर साइंस कॉलेज’ से ग्रेजुएशन की है। इसके बाद उन्होंने दिल्ली स्थित ‘भारतीय विद्या भवन‘ से पत्रकारिता की पढ़ाई की है।

सुमित अवस्थी को आप ट्विटर @awasthis और इंस्टाग्राम @beingsumitawasthi पर फॉलो कर सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ABP नेटवर्क की वाइस प्रेजिडेंट रमा पॉल ने लिया ये बड़ा फैसला

एबीपी नेटवर्क से एक बड़ी खबर सामने आयी है कि यहां रमा पॉल ने नेटवर्क की वाइस प्रेजिडेंट के पद से इस्तीफा दे दिया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 03 December, 2022
Last Modified:
Saturday, 03 December, 2022
ramapaul52121

एबीपी नेटवर्क (ABP Network) से एक बड़ी खबर सामने आयी है कि यहां रमा पॉल ने नेटवर्क की वाइस प्रेजिडेंट के पद से इस्तीफा दे दिया है। इंडस्ट्री के उच्च स्तरीय सूत्रों से इसकी जानकारी मिली है। वह फिलहाल मार्च 2023 के अंत तक नेटवर्क के साथ बनी रहेंगी।

बता दें कि एबीपी नेटवर्क में पॉल पिछले 7 साल  और 5 महीने से अपना योगदान दे रही हैं।

हमारी सहयोगी वेबसाइट 'एक्सचेंज4मीडिया' ने इस संदर्भ में उनसे संपर्क किया, लेकिन खबर लिखे जाने तक उनकी प्रतिक्रिया नहीं मिल पायी है। 

एबीपी नेटवर्क से पहले, पॉल डाबर, मुद्रा, मैक्कैन और लियो बर्नेट जैसे संगठनों के साथ विभिन्न पदों पर काम कर चुकी हैं। उन्होंने फ्रिटो-ले, नेस्ले, जनरल मोटर्स और माइक्रोसॉफ्ट के लिए भी काम किया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Junglee Games से जुड़े ट्विटर इंडिया के पूर्व सीनियर लीगल काउंसेल कपिल चौधरी

ट्विटर इंडिया के पूर्व सीनियर लीगल काउंसेल कपिल चौधरी अब ‘जंगली गेम्स’ (Junglee Games) के साथ जुड़ गए हैं

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 03 December, 2022
Last Modified:
Saturday, 03 December, 2022
KapilChaudhary4585

ट्विटर इंडिया के पूर्व सीनियर लीगल काउंसेल कपिल चौधरी अब ‘जंगली गेम्स’ (Junglee Games) के साथ जुड़ गए हैं। वह यहां जनरल काउंसेल की भूमिका निभाएंगे।

ट्विटर इंडिया में कपिल ट्विटर की एशिया-पैसिफिक देशों (APAC) के लिए इंटरनेशनल लीगल टीम का हिस्सा थे और  ट्विटर इंडिया के बिजनेस के लिए कानूनी मामलों की जिम्मेदारी संभाले हुए थे।

दिल्ली यूनिवर्सिटी से कानून की पढ़ाई करने वाले कपिल ने विभिन्न क्षेत्रों की कई कंपनियो में अलग-अलग पदों पर काम किया है। उन्होंने टेक, प्राइवेसी लॉयर के वर्षों के अनुभव से एक अलग पहचान बनाई है। उन्होंने अपना करियर साल 2000 में देश की सबसे पुरानी लॉ फर्म ‘फॉक्स मंडल’ के साथ शुरू किया था।

बता दें कि गेमिंग क्षेत्र में ‘जंगली गेम्स’ एक प्रमुख प्लेयर है, जिसके करीब 50 मिलियन यूजर्स हैं। 2012 में सैन फ्रांसिस्को में स्थापित हुई थी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मल्टीलिंग्वल इंटरनेट की गवर्निंग काउंसिल में शामिल हुए पूर्व संपादक बालेन्दु दाधीच

पूर्व संपादक बालेन्दु शर्मा दाधीच को भारत में बहुभाषी इंटरनेट के विकास और क्रियान्वयन के सम्बन्ध में गठित केंद्र सरकार की चार सदस्यीय गवर्निंग काउंसिल में शामिल किया गया है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 03 December, 2022
Last Modified:
Saturday, 03 December, 2022
BalenduSharma452

विख्यात तकनीकविद् और पूर्व संपादक बालेन्दु शर्मा दाधीच को भारत में बहुभाषी इंटरनेट के विकास और क्रियान्वयन के सम्बन्ध में गठित केंद्र सरकार की चार सदस्यीय गवर्निंग काउंसिल में शामिल किया गया है।

केंद्रीय सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तहत गठित गवर्निंग काउंसिल की अध्यक्षता भारतीय राष्ट्रीय इंटरनेट एक्सचेंज (निक्सी) के सीईओ अनिल कुमार जैन करेंगे। यह काउंसिल मल्टीलिंग्वल इंटरनेट के बारे में राष्ट्रीय स्तर पर गठित समितियों के कामकाज की निगरानी करेगी।

दाधीच माइक्रोसॉफ्ट में निदेशक (भारतीय भाषाएं और सुगम्यता) के पद पर कार्यरत हैं। उन्हें फिजी में होने वाले बारहवें विश्व हिंदी सम्मेलन के लिए केंद्रीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर के नेतृत्व में गठित सलाहकार समिति का सदस्य भी बनाया गया है।

बालेन्दु शर्मा दाधीच सूचना प्रौद्योगिकी और न्यू मीडिया के क्षेत्र में एक सुपरिचित नाम है। हिंदी भाषा में तकनीकी सोच को आगे बढ़ाने तथा सूचना तकनीक के विविध पहलुओं को रहस्यजाल से मुक्त करने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही है।

भारत के राष्ट्रपति के हाथों 'आत्माराम पुरस्कार' से सम्मानित दाधीच का पत्रकारिता से गहरा संबंध रहा है। अतीत में वे 'इंडियन एक्सप्रेस', 'हिन्दुस्तान टाइम्स', 'सहारा' तथा 'राजस्थान पत्रिका' समूहों के साथ वरिष्ठ संपादकीय भूमिकाओं में जुड़े रहे हैं। वे लंबे समय तक 'प्रभासाक्षी.कॉम' के समूह संपादक भी रहे और 2015 में माइक्रोसॉफ्ट के जरिए कॉरपोरेट दुनिया में चले गए। आज वे भारतीय भाषाओं के मुद्दों पर इस संस्थान के प्रवक्ता भी हैं। भारतीय भाषाओं की तकनीकों के विकास और प्रसार में दाधीच का अहम योगदान माना जाता है।

हिंदी में उनकी सात किताबें (एक अनुवाद सहित) हैं और उन्होंने अंग्रेजी में भी एक किताब लिखी है। हाल ही में उनकी नई किताब 'तकनीक तेरे कितने आयाम' बाजार में आई है। वे ऐसे चंद पेशेवरों में शामिल हैं, जिन्होंने शिक्षा की तीनों प्रमुख धाराओं- विज्ञान, वाणिज्य और कला में स्नातकोत्तर उपाधियां ली हैं- एमसीए, एमबीए और एमए (हिंदी) तथा साथ ही साथ वे पत्रकारिता में स्नातकोत्तर डिप्लोमा धारी भी हैं।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब ‘भारत एक्सप्रेस’ से जुड़े हेमंत घई, निभाएंगे यह बड़ी भूमिका

इससे पहले हेमंत घई करीब 17 साल से ‘सीएनबीसी आवाज’ (CNBC Awaaz) में अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 01 December, 2022
Last Modified:
Thursday, 01 December, 2022
Hemant Ghai

मीडिया वेंचर ‘भारत एक्सप्रेस’ (Bharat Express) ने हेमंत घई को न्यूज डायरेक्टर (स्टॉक्स, जनरल मार्केट और बिजनेस सेगमेंट) के पद पर नियुक्त किया है। बता दें कि घई हिंदी बिजनेस न्यूज चैनल ‘सीएनबीसी आवाज’ (CNBC Awaaz) को लॉन्च करने वाली टीम के फाउंडर मेंबर रहे हैं। वह जून 2004 से जनवरी 2021 तक इस चैनल से जुड़े रहे थे।

घई वर्ष 2004 में इस चैनल में ट्रेनी के रूप में शामिल हुए थे और प्रोडक्शन असिस्टेंट, असिस्टेंट प्रड्यूसर, रिसर्च एनालिस्ट, सीनियर रिसर्च एनालिस्ट और एसोसिएट एडिटर होते स्टॉक एडिटर जैसे बड़े पद पर पहुंचे थे।

हेमंत घई ने भारतीय फाइनेंसियल मार्केट्स में विभिन्न सेक्टर्स, स्टॉक्स और अर्थव्यवस्था का विश्लेषण करने में करीब डेढ़ दशक से अधिक का समय बिताया है और पिछले करीब एक दशक से विभिन्न बिजनेस शोज की मेजबानी करने के साथ-साथ कॉर्पोरेट सेक्टर से जुड़ी हस्तियों के इंटरव्यू कर रहे हैं।

मेरठ की चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी से कंप्यूटर एप्लीकेशन में ग्रेजुएट (BCA) हेमंत घई ने आईएमएस देहरादून से एमबीए (मार्केटिंग और फाइनेंस) किया है।

गौरतलब है कि ‘सहारा इंडिया मीडिया’, ‘तहलका मैगजीन’, ‘स्टार न्यूज’ एवं ‘सीएनबीसी-आवाज’ को अपनी सेवाओं और नेतृत्व से नई ऊंचाइयां देने वाले वरिष्ठ पत्रकार उपेंद्र राय ने कुछ समय पूर्व ही ‘भारत एक्सप्रेस’ मीडिया समूह की शुरुआत की है। यह मीडिया समूह हिंदी, अंग्रेजी और उर्दू भाषाओं में टीवी, डिजिटल और अखबार तीनों प्लेटफॉर्म पर जनता को अपनी सेवाएं देगा। उपेन्द्र राय का यह वेंचर टीवी के साथ-साथ अखबार और डिजिटल में खबरों के सभी पहलुओं पर जोर देगा। इस समूह के तहत 14 जनवरी 2023 को न्यूज चैनल लॉन्च किया जाना है, जिसमें दीपक चौरसिया जॉइन करने जा रहे हैं। फिलहाल चैनल ड्राई रन पर है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

NDTV से इस्तीफे के बाद रवीश कुमार ने शेयर किया वीडियो, कही दिल की बात

एनडीटीवी से इस्तीफा देने के एक दिन बाद सीनियर टीवी जर्नलिस्ट रवीश कुमार ने अपने यूट्यूब चैनल पर एक वीडियो शेयर किया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 01 December, 2022
Last Modified:
Thursday, 01 December, 2022
Ravish Kumar

‘एनडीटीवी’ (NDTV) से इस्तीफा देने के एक दिन बाद सीनियर टीवी जर्नलिस्ट रवीश कुमार ने अपने यूट्यूब चैनल पर एक वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में रवीश कुमार का कहना है कि वह उस रेड माइक को हमेशा याद करते रहेंगे।

अपने यूट्यूब चैनल ‘रवीश कुमार ऑफिशियल’ (Ravish Kumar Official) पर अपलोड किए गए दिल को छू लेने वाले इस वीडियो में रवीश कुमार ने कहा है, ‘सुबह उठते ही मेरे दिमाग में सबसे पहले रात नौ बजे का ख्याल आता था। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा, क्योंकि अब रात नौ बजे मेरा प्राइम टाइम शो नहीं होगा। मुझे नहीं पता कि मैं अब रात नौ बजे क्या करूंगा। मैं टेलिविजन को प्यार करता हूं। शायद इसलिए भी मेरा दिल टूट रहा है। मैं उस लाल माइक को याद करता रहूंगा।’  

अपने वीडियो में रवीश कुमार ने यह भी कहा है, ‘ऐसे समय में जब देश की न्यायपालिका लड़खड़ा रही थी और सत्ता में बैठे लोगों ने तमाम लोगों की आवाज चुप कराने की कोशिश की, यह देश की जनता ही थी जिसने मेरे प्रति अपार प्रेम दिखाया। मैं अपने दर्शकों के बिना कुछ भी नहीं कर पाता। मैं लोगों से आग्रह करता हूं कि वे मेरे काम का समर्थन करना जारी रखें, जो अब मेरे नए यूट्यूब चैनल और फेसबुक पेज के माध्यम से होगा।’

गौरतलब है कि रवीश कुमार ने ‘एनडीटीवी इंडिया’ (NDTV India) के साथ अपनी करीब ढाई दशक पुरानी पारी को विराम देते हुए बुधवार को सीनियर एग्जिक्यूटिव एडिटर के पद से इस्तीफा दे दिया था। इस बारे में चैनल की ओर से जारी एक इंटरनल मेल में कहा गया था कि रवीश कुमार का इस्तीफा तत्काल प्रभाव से प्रभावी हो गया है। 

चैनल की ओर से जारी मेल में यह भी कहा गया था, ‘कुछ ही पत्रकार ऐसे हैं, जिन्होंने लोगों को रवीश जितना प्रभावित किया है। यह इस बात से परिलक्षित होता है कि वह जहां जाते हैं, लोग उनके पास खिंचे चले आते हैं। उनके बारे में लोगों से तमाम प्रतिक्रिया मिलती है। इसके अलावा उन्हें राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर तमाम प्रतिष्ठित अवॉर्ड्स से नवाजा जा चुका है।’ मेल में चैनल का यह भी कहना था, ‘रवीश कुमार कई दशक से एनडीटीवी का अभिन्न हिस्सा रहे हैं। उनका योगदान अमूल्य रहा है और हम जानते हैं कि वह एक नई शुरुआत करेंगे और सफल होंगे।’  

इस्तीफा देने के बाद रवीश कुमार द्वारा अपने यूट्यूब चैनल पर शेयर किए गए वीडियो को आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके देख सकते हैं-

https://youtu.be/G9K9vpGTofo

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब CNN में छंटनी की कवायद, कंपनी ने एंप्लॉयीज को मेल लिखकर कही ये बात

पिछले कुछ दिनों में ‘मेटा’ और ‘ट्विटर’ से भी बड़े पैमाने पर एंप्लॉयीज को निकाले जाने की खबरें सामने आई थीं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 01 December, 2022
Last Modified:
Thursday, 01 December, 2022
CNN

दिग्गज टेक कंपनियों में छंटनी के बीच दुनिया भर से मीडिया और एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में भी छंटनी की खबरें आने लगी हैं। ऐसी ही एक खबर मल्टीनेशनल केबल न्यूज चैनल ‘सीएनएन’ (CNN) से आई है, जहां छंटनी की कवायद शुरू हो गई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, कंपनी ने बुधवार को अपने एंप्लॉयीज को यह जानकारी दी है। कंपनी की ओर से कहा गया है कि इस कवायद का असर न्यूज नेटवर्क में कार्यरत सैकड़ों एंप्लॉयीज की नौकरी पर पड़ सकता है।

कंपनी के अनुसार पिछले वर्षों में यह सबसे बड़ी छंटनी है। जिन लोगों की छंटनी की जानी है, उन्हें व्यक्तिगत रूप से अथवा जूम मीटिंग के जरिये गुरुवार से सूचित करना शुरू कर दिया जाएगा। इसके साथ ही कंपनी ने यह भी स्पष्ट किया कि जो लोग 2022 में बोनस के लिए पात्र हैं, छंटनी के बावजूद उन्हें वह दिया जाएगा।

कंपनी के सीईओ क्रिस लिक्ट (Chris Licht) की ओर से जारी इस मेल में कहा गया है, ‘हमारे एंप्लॉयीज संस्थान का दिल और आत्मा हैं। सीएनएन के लिए टीम के किसी भी सदस्य को अलविदा कहना बेहद मुश्किल है। मैंने हाल में इस प्रक्रिया को एक धक्के के रूप में वर्णित किया है, क्योंकि मैं जानता हूं कि इस तरह का फैसला हम सभी को कैसा लगता है।’

क्रिस लिक्ट के अनुसार, ‘मुझे पता है कि ये बदलाव छंटनी वाली लिस्ट में शामिल और टीम में बने रहने वाले साथियों दोनों को प्रभावित करते हैं। हमारे पास आपके सपोर्ट के लिए कई संसाधन हैं। मैं कल अपने दूसरे ईमेल में इन संसाधनों का लिंक शामिल करूंगा।’

बता दें कि सीएनएन में इससे पहले वर्ष 2018 में छंटनी हुई थी, जब कंपनी ने अपने डिजिटल बिजनेस का पुनर्गठन किया था, उस समय 50 एंप्लॉयीज को अपनी नौकरी खोनी पड़ी थी।

गौरतलब है कि पिछले कुछ दिनों में ‘मेटा’ और ‘ट्विटर’ में बड़े पैमाने पर एंप्लॉयीज को निकाले जाने की खबरें सामने आई थीं। ट्विटर में करीब 50 प्रतिशत एंप्लॉयीज को पिंक स्लिप दी गई है। इसके अलावा मेटा के सीईओ मार्क जुकरबर्ग ने भी पिछले दिनों वैश्विक स्तर पर करीब 11000 एंप्लॉयीज को नौकरी से निकाले जाने की बात कही थी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

प्रणय-राधिका रॉय के इस्तीफे के बाद RRPR में इन तीन डायरेक्टर्स की हुई नियुक्ति

सुदीप्त भट्टाचार्य, संजय पुगलिया और सेंथिल सिन्नैया चेंगलवारायण को तत्काल प्रभाव से ‘आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड’ के बोर्ड में निदेशक के रूप में नियुक्त किया गया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 30 November, 2022
Last Modified:
Wednesday, 30 November, 2022
directors4512

‘आरआरपीआर होल्डिंग प्राइवेट लिमिटेड’ (RRPRH) के डायरेक्‍टर पद से मंगलवार को प्रणय रॉय और राधिका रॉय के इस्तीफा देने के बाद सुदीप्त भट्टाचार्य, संजय पुगलिया और सेंथिल सिन्नैया चेंगलवारायण को तत्काल प्रभाव से RRPRH के बोर्ड में निदेशक (डायरेक्टर) के रूप में नियुक्त किया गया है। इन नियुक्तियों के साथ ही अडानी ग्रुप की एनडीटीवी के बोर्ड में एंट्री हो गई है।

बता दें कि एनडीटीवी के प्रमोटर्स प्रणय रॉय के नाम कंपनी में 15.94 फीसदी हिस्सेदारी है, जबकि उनकी पत्नी और राधिका रॉय का कंपनी में 16.32 फीसदी हिस्सा है। प्रणय रॉय और राधिका रॉय ही आरआरपीआर के प्रोमोटर्स थे, इस कंपनी के पास एनडीटीवी के 29.18 फीसदी शेयर थे, यानी NDTV में इनके पास कुल मिलाकर 61.45% हिस्सेदारी थी।

अब, रॉय दंपत्ति के पास कुल 32.26% हिस्सेदारी शेष है, क्योंकि इससे पहले हाल ही में आरआरपीआर ने अडानी ग्रुप के विश्वप्रधान कमर्शियल प्राइवेट लिमिटेड (वीसीपीएल) को 99.9 प्रतिशत शेयर ट्रांसफर किए थे, जिसके बाद अडानी ग्रुप को एनडीटीवी में 29.18 प्रतिशत हिस्सेदारी मिल गई थी और 26 फीसदी हिस्सेदारी के लिए वह ओपन ऑफर लेकर आया हुआ है। 

वरिष्ठ पत्रकार संजय पुगलिया बिजनेस व फाइनेंसियल न्यूज  कंपनी ‘क्विंटिलियन बिजनेस मीडिया लिमिटेड’ में एडिटोरियल डायरेक्टर भी हैं। पुगलिया AMG मीडिया के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (CEO) व एडिटर-इन-चीफ हैं। अडानी एंटरप्राइजेज ने 2021 में समूह की मीडिया इकाई का नेतृत्व करने के लिए अनुभवी पत्रकार संजय पुगलिया को सीईओ  व एडिटर-इन-चीफ के पद पर नियुक्त किया था।

इस साल सितंबर में संजय पुगलिया ने ‘क्विंट डिजिटल मीडिया‘ (Quint Digital Media Ltd) में प्रेजिडेंट के पद से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद ‘अडानी ग्रुप’ (Adani Group) ने उन्हें अपनी मीडिया इकाई का नेतृत्व करने के लिए नियुक्त किया था।

‘क्विंट‘ को जॉइन करने से पहले संजय पुगलिया ‘सीएनबीसी आवाज’ (CNBC Awaaz) में अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे। वे चैनल की लॉन्चिंग का अहम हिस्सा रहे थे और 12 वर्षों तक इस चैनल का नेतृत्व किया था। इसके अतिरिक्त बतौर न्यूज डायरेक्टर उन्होंने हिंदी न्यूज चैनल ‘स्टार न्यूज’ (अब एबीपी न्यूज) की स्थापना की और ‘आजतक’ की फाउंडिंग टीम का हिस्सा भी रहे।

संजय पुगलिया को मीडिया के क्षेत्र में काम करने का करीब तीन दशक का अनुभव है। वह टीवी पत्रकारिता के साथ-साथ प्रिंट में भी काम कर चुके हैं। ‘आजतक’ (AajTak), ‘जी न्यूज’(Zee News), ‘स्टार न्यूज’(Star News) और ‘सीएनबीसी आवाज’(CNBC Awaaz) में अपनी जिम्मेदारी निभा चुके संजय पुगलिया ने ‘द टाइम्स ग्रुप’ (The Times Group) और ‘बिजनेस स्टैंडर्ड’ (Business Standard) के साथ भी काम किया है।

वहीं, सेंथिल चेंगलवरायण, देश की बिजनेस न्यूज मीडिया में जाना-माना नाम हैं। सेंथिल को इंडस्ट्री में काम करने का 35 साल से ज्यादा का अनुभव है। वह ‘सीएनबीसी टीवी18’ (CNBC TV18) के फाउंडिंग एडिटर और ‘नेटवर्क’ (Network 18) के बिजनेस न्यूज रूम में एडिटर-इन-चीफ रह चुके हैं।

सुदीप्त भट्टाचार्य अडानी समूह में उत्तरी अमेरिका के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (सीईओ) हैं। वह समूह के मुख्य टेक्नोलॉजी ऑफिसर भी हैं।

समूह में अपने वर्तमान कार्यभार से पहले, भट्टाचार्य अडानी पोर्ट्स (Adani Ports) और SEZ के सीईओ और समूह के चीफ स्ट्रैटजी ऑफिसर थे।

अडानी समूह में शामिल होने से पहले, वह इंजीनियरिंग और आईटी कंपनी ‘इनवेन्सिस’ (Invensys) के सॉफ्टवेयर बिजनेस के सीईओ थे। इससे पहले, भट्टाचार्य SAP में आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन (supply chain management), निर्माण (manufacturing) और इंजीनियरिंग उत्पाद पोर्टफोलियो (engineering product portfolio) के वाइस प्रेजिडेंट थे।

इसके अतिरिक्त उन्होंने 10 वर्षों तक टाटा समूह के साथ काम किया है, जहां उन्होंने प्रमुख रासायनिक संयंत्र संचालन, इंजीनियरिंग परियोजनाएं और आपूर्ति श्रृंखला संचालन का नेतृत्व किया था।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया’ की इस कमेटी में चेयरमैन बने रोहित जैन

इस पद पर उनकी नियुक्ति दो साल (2022 से 2024) के लिए की गई है। वह ‘ZEE5 Global’ (जी5 ग्लोबल) के हेड अमित गोयनका की जगह यह पदभार संभालेंगे।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 30 November, 2022
Last Modified:
Wednesday, 30 November, 2022
Rohit Jain

‘इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया’ (IAMAI) ने ‘लॉयन्सगेट’ (Lionsgate) के एमडी (Emerging Markets Asia) रोहित जैन को अपनी ‘डिजिटल एंटरटेनमेंट कमेटी’ (Digital Entertainment Committee) का नया चेयरमैन नियुक्त किया है। इस पद पर उनकी नियुक्ति दो साल (2022 से 2024) के लिए की गई है। वह ‘ZEE5 Global’ (जी5 ग्लोबल) के हेड अमित गोयनका की जगह यह पदभार संभालेंगे।

इसके साथ ही ‘आईवीएम पॉडकास्ट्स’ (IVM Podcasts) के हेड अमित दोसी को इस कमेटी में को-चेयर के रूप में नियुक्त किया गया है। चेयरमैन के रूप में जैन डिजिटल एंटरटेनमेंट ईकोसिस्टम के विभिन्न हितधारकों जैसे-ओटीटी प्लेयर्स, रेगुलेटरी बॉडीज और अन्य इंडस्ट्री एसोसिएशंस के साथ काम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।

इस बारे में जैन का कहना है, ‘भारतीय मीडिया सेक्टर ने पिछले एक दशक में अपनी अपार क्षमता दिखाई है। अब ओटीटी इंडस्ट्री पिछले कई वर्षों से सुर्खियों में है। भारत में दुनिया के सबसे बड़े ओटीटी मार्केट्स में से एक बनने की गुंजाइश है। ऐसा लग रहा है कि वर्ष 2023 में 125 मिलियन ओटीटी सबस्क्राइबर्स होंगे और यह तो अभी शुरुआत है। भारत आज ओटीटी के लिए इनोवेशन हब है, चाहे वह टेक्नोलॉजी हो, मूल्य निर्धारण हो अथवा प्रयोगधर्मी कंटेंट हो। इस सेक्टर में अगले कुछ वर्षों में भारतीय मीडिया और एंटरटेनमेंट सेक्टर को 2.5 ट्रिलियन डॉलर्स तक ले जाने की क्षमता है। इस बिजनेस में इससे अधिक रोमांचक समय नहीं हो सकता है और मैं एक डिजिटल एंटरटेनमेंट ईकोसिस्टम बनाने की दिशा में एक छोटी सी भूमिका निभाने के लिए उत्साहित हूं।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए