Worldreader ने Jio से मिलाया हाथ, कुछ यूं होगा लोगों का फायदा

अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस पर गैरसरकारी संस्था ‘वर्ल्डरीडर’ ने टेलिकॉम कंपनी ‘रिलायंस जियो’ के साथ एक पार्टनरशिप की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 08 September, 2020
Last Modified:
Tuesday, 08 September, 2020
WorldReader Jio

अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस (आठ सितंबर) पर अंतर्राष्ट्रीय गैरसरकारी संस्था ‘वर्ल्डरीडर’ (Worldreader) ने मुकेश अंबानी के स्‍वामित्‍व वाली देश की सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी ‘रिलायंस जियो’ (Reliance Jio) के साथ एक पार्टनरशिप की है।

इस पार्टनरशिप के तहत भारत के 15 करोड़ से अधिक जिओ फोन ग्राहकों के लिए ‘वर्ल्डरीडर’ के बुकस्मार्ट एप्लिकेशन के जरिये बच्चों की पुस्तकें मुफ्त में उपलब्ध कराई जाएंगी। इस पार्टनरशिप के तहत कम आमदनी वाले घरों में रहने वाले माता-पिता भी ‘वर्ल्डरीडर’ की बच्चों की किताबों की लाइब्रेरी का फायदा उठा सकेंगे।

‘वर्ल्डरीडर’ की ओर से जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, इससे न केवल गुणवत्तापूर्ण पठन सामग्री पाने की तमाम रुकावटें दूर होंगी, साथ ही बच्चों में बेहतर पठन-कौशल का विकास भी होगा। बुकस्मार्ट पुस्तकालय में स्वास्थ्य, प्रकृति और विज्ञान, भाषा कला, सामाजिक अध्ययन के साथ-साथ कहानियां और लोक कथाओं के बारे में किताबें शामिल हैं। इसे कोई भी आसानी से इस्तेमाल कर सकता है।

मुंबई से जियो प्रवक्ता का कहना है, ‘वर्ल्डरीडर के साथ इस साझेदारी से हम उत्साहित हैं, जिसके जरिये हम कोविड अवधि के दौरान और इसके बाद भी भारत के करोड़ों घरों में डिजिटल कहानियों की किताबों का एक समृद्ध संग्रह उपलब्ध कर पाने में समर्थ होंगे।’

‘वर्ल्डरीडर’ सीईओ और सह-संस्थापक डेविड रिशर के अनुसार, ‘हम अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता सप्ताह के दौरान इस साझेदारी की घोषणा करते हुए रोमांचित हैं। रिलायंस जियो के साथ इस एकजुटता से निश्चित ही लाखों परिवारों का जीवन बेहतर होगा।’

वर्ल्डरीडर के वैश्विक कार्यकारी सदस्य और भारत बोर्ड के निदेशक भानु पोटा के अनुसार, ‘पूरे भारत में लाखों सीमित संसाधनों वाले परिवारों के बच्चों तक बेहतर और उच्च गुणवत्ता वाली पठन सामग्री लाने के लिए रिलायंस जियो के साथ जुड़ना न केवल महत्वपूर्ण, बल्कि तत्काल जरूरी भी है। कोरोन वायरस की वजह से स्कूलों के बंद होने के कारण ये अति आवश्यक है कि तुरंत माता-पिता की मदद करने के लिए हर घर में डिजिटल संसाधन उपलब्ध किए जाएं, जिससे बच्चों के सीखने के नुकसान को कम किया सके।’

उन्होंने बताया कि जियो फोन पर बुकस्मार्ट की उपलब्धता से, पूरे भारत में कम आय और सीमित संसाधन वाले समुदायों के बच्चों के पास वो तमाम किताबें होंगी, जिनकी उन्हें पढ़ने के कौशल, स्कूल में सफलता और एक बेहतर दुनिया का निर्माण करने के लिए जरूरत है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नई प्राइवेसी पॉलिसी पर सरकार ने WhatsApp से जताई नाराजगी, कही ये बात

फेसबुक के स्वामित्व वाले इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप ‘वॉट्सऐप’ (WhatsApp) की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर केंद्र सरकार ने आपत्ति जताई है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 20 January, 2021
Last Modified:
Wednesday, 20 January, 2021
Whatsapp

फेसबुक के स्वामित्व वाले इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप ‘वॉट्सऐप’ (WhatsApp) की नई प्राइवेसी पॉलिसी को लेकर केंद्र सरकार ने चिंता जताई है। इस बारे में केंद्र सरकार ने वॉट्सऐप के सीईओ विल कैथार्ट (Will Cathcart) को पत्र लिखकर अपनी आपत्ति जताते हुए प्राइवेसी पॉलिसी में हाल ही में किए गए गए बदलावों को वापस लेने के लिए कहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, 18 जनवरी को भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (Ministry of Electronics and Information Technology) की ओर से लिखे गए लेटर में कहा गया है, ‘प्राइवेसी पॉलिसी में प्रस्तावित बदलावों के कारण चैट का डाटा बिजनेस अकाउंट से शेयर करने से फेसबुक की अन्य कंपनियों को यूजर्स के बारे में सारी सूचनाएं मिल जाएंगी, इससे उनकी सुरक्षा को खतरा हो सकता है। ऐसे में भारतीय यूजर्स के लिए नई सेवा शर्तों (टर्म्स ऑफ सर्विस) और प्राइवेसी पॉलिसी को वापस लिया जाए।’  

इसके साथ ही इस लेटर में यह भी कहा गया है कि वॉट्सऐप की सेवा शर्तों के साथ ही प्राइवेसी में कोई भी एकतरफा बदलाव उचित और स्वीकार्य नहीं होगा। बता दें कि वॉट्सऐप ने पिछले दिनों अपनी प्राइवेसी पॉलिसी को अपडेट किया था। वॉट्सऐप का कहना था कि नई प्राइवेसी पॉलिसी न अपनाने पर यूजर का वॉट्सऐप अकाउंट आठ फरवरी 2021 को सस्पेंड अथवा डिलीट हो जाएगा।

वॉट्सऐप के इस फैसले की काफी निंदा हो रही थी। नई प्राइवेसी पॉलिसी अपडेट के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका (PIL) भी दायर की गई है। हालांकि, अब लोगों के विरोध को देखते हुए इस नई प्राइवेसी पॉलिसी को तीन महीनों तक के लिए टाल दिया गया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ZEE5 में इस बड़े पद पर हुई निमिषा पांडे की नियुक्ति

निमिषा पांडे इससे पहले नेटफ्लिक्स में डायरेक्टर (International Originals) के तौर पर अपनी जिम्मेदारी संभाल रही थीं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 19 January, 2021
Last Modified:
Tuesday, 19 January, 2021
Nimisha Pandey

'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) ने निमिषा पांडे को अपने डिजिटल एंटरटेनमेंट प्लेटफॉर्म ‘ZEE5’ (Zee5) का हेड (Hindi Originals) नियुक्त किया है। अपनी इस भूमिका में वह ZEE के प्रेजिडेंट (कंटेंट और इंटरनेशनल मार्केट्स) पुनीत मिश्रा को रिपोर्ट करेंगी। राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता लेखक और निर्देशक निमिषा पांडे इससे पहले नेटफ्लिक्स में डायरेक्टर (International Originals) के तौर पर अपनी जिम्मेदारी संभाल रही थीं।

कंपनी ने 21 अक्टूबर 2020 को जारी एक आधिकारिक बयान में विभिन्न प्लेटफॉर्म्स पर अपने व्युअर्स को सार्थक और आकर्षक कंटेंट देना जारी रखने के लिए इंटीग्रेटिड कंटेंट टीम के गठन की घोषणा की थी। निमिषा की नियुक्ति इसी उद्देश्य के तहत की गई है।

इस भूमिका में निमिषा के पास ZEE5 के लिए बेहतर ऑरिजिनल कंटेंट तैयार करने की जिम्मेदारी होगी। बता दें कि निमिषा ने टेलिविजन के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत बतौर क्रिएटिव एग्जिक्यूटिव की थी। वर्ष 2017 में ALTBalaji की लॉन्चिंग के साथ वह डिजिटल क्षेत्र में आ गई थीं।  

‘फिल्म एंड टेलिविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया’ (FTII) की छात्रा रह चुकीं निमिषा को एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में काम करने का 17 साल से ज्यादा का अनुभव है। निमिषा पूर्व में 4 Lions Films और Firework Productions जैसे प्रमुख प्रॉडक्शन हाउसेज के साथ भी जुड़ी रही हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

डिजिटल न्यूज मीडिया और OTT प्लेटफॉर्म्स के सेल्फ रेगुलेशन के लिए बनेगा कानून

बताया जाता है कि डिजिटल मीडिया में सेल्फ रेगुलेशन का मुद्दा इस महीने उच्च स्तर पर उठाया गया था।

Last Modified:
Monday, 18 January, 2021
OTT

सूचन-प्रसारण मंत्रालय (MIB) नेटफ्लिक्स, एमेजॉन प्राइम और हॉटस्टार सहित देश में चलने वाले तमाम ओवर द टॉप (ओटीटी) प्लेटफॉर्म्स और डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म्स के स्व-नियमन (सेल्फ रेगुलेशन) के लिए एक कानून बनाने जा रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यह कानून ओटीटी और डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म्स के सेल्फ रेगुलेशन के लिए एक फ्रेमवर्क को परिभाषित करेगा और संवेदनशील कंटेंट व फेक न्यूज जैसी समस्याओं का समाधान करेगा। बताया जाता है कि डिजिटल मीडिया में सेल्फ रेगुलेशन का मुद्दा इस महीने उच्च स्तर पर उठाया गया था।  

एमआईबी दो विकल्पों पर काम कर रहा है। इनमें से एक तो है कि प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया (पीसीआई) की तर्ज पर डिजिटल न्यूज और ओटीटी प्लेटफॉर्म्स के लिए सेल्फ रेगुलेशन इकाई का गठन किया जाए जबकि दूसरा विकल्प कानून का मसौदा तैयार करना है।

डिजिटल मीडिया को रेगुलेट करने के औचित्य के बारे में मंत्रालय का कहना है कि उसे तमाम ओटीटी प्लेटफार्म्स पर भाषा और अश्लीलता को लेकर बहुत शिकायतें मिली हैं। वहीं, डिजिटल न्यूज वेबसाइट्स को लेकर फेक न्यूज संबंधी शिकायतें मिली हैं। अब तक ओटीटी प्लेटफॉर्म्स और डिजिटल मीडिया के रेगुलेशन के लिए कोई कानून नहीं था।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Zee5 में इस बड़े पद से राजनील कुमार का इस्तीफा, शुरू करेंगे नई पारी

राजनील कुमार ‘ZEE5’ से करीब ढाई साल से जुड़े हुए थे। उन्होंने यहां पर सितंबर 2018 में जॉइन किया था।

Last Modified:
Monday, 18 January, 2021
Rajneel Kumar

'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) की ओटीटी सर्विस ‘ZEE5’ (Zee5) के बिजनेस हेड (Expansion Projects & Head of Products) राजनील कुमार (Rajneel Kumar) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। बताया जाता है कि वह दुबई के ‘जेनोमेडिया स्टूडियो’ (Genomedia Studios) को जॉइन करने जा रहे हैं, जो एक अरबी ओटीटी प्लेटफॉर्म तैयार कर रहा है।

राजनील कुमार ‘ZEE5’ से करीब ढाई साल से जुड़े हुए थे। उन्होंने यहां पर सितंबर 2018 में जॉइन किया था। ‘ZEE5’ से पहले वह ‘वायकॉम18’ (Viacom18) में सीनियर वाइस प्रेजिडेंट (Head Products & Technology) के पद पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

अपने दो दशक से ज्यादा के करियर में वह ‘JumpGames’, ‘ALTBalaji’, ‘Mobile2Win’, ‘Startup’, ‘Shaw Wallace’ और Magnasound के साथ भी काम कर चुके हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘इम्पैक्ट डिजिटल पॉवर 100’ की सूची से उठा पर्दा, ये लाए हैं डिजिटल इकोसिस्टम में बदलाव

डिजिटल 100 लिस्ट में ऐसे गेम-चेंजिंग लोगों को शामिल किया गया है, जो टेक्नोलॉजी और इनोवेशन के जरिए अपने ऑर्गनाइजेशन के भीतर बदलाव लाने में सबसे आगे रहे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 16 January, 2021
Last Modified:
Saturday, 16 January, 2021
ImmpactDigitalPower100

इम्पैक्ट की डिजिटल पॉवर 100 (Impact Digital Power 100) की चौथी और अंतिम सूची शुक्रवार को जारी की गई, जिसमें डिजिटल इकोसिस्टम में बदलाव लाकर अन्य लोगों को प्रभावित करने वाले दिग्गजों को सम्मानित किया गया।

डिजिटल 100 लिस्ट में ऐसे गेम-चेंजिंग लोगों को शामिल किया गया है, जो टेक्नोलॉजी और इनोवेशन के जरिए अपने ऑर्गनाइजेशन के भीतर बदलाव लाने में सबसे आगे रहे हैं।

आप नीचे देश के ऐसे टॉप मास्टर माइंड की पूरी सूची देख सकते हैं, जिन्होंने भारत के संपन्न डिजिटल पारिस्थितिकी तंत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

युवा पत्रकार धीरेन्द्र सिंह ने नए साल पर इस मीडिया समूह के साथ शुरू किया नया सफर

धीरेन्द्र सिंह करीब चार साल से आगरा में राजस्थान पत्रिका डाटकॉम के साथ जुड़े हुए थे।

Last Modified:
Friday, 15 January, 2021
Dhirendra Singh

युवा पत्रकार धीरेन्द्र सिंह ने नए साल पर नए सफर की शुरुआत की है। दरअसल, उन्होंने राजस्थान पत्रिका डाटकॉम को अलविदा कहकर ‘आजतक’ का दामन थाम लिया है। उन्होंने ‘आजतक’ की डिजिटल विंग में बतौर सीनियर सब एडिटर जॉइन किया है।  

धीरेन्द्र सिंह करीब चार साल से आगरा में राजस्थान पत्रिका डाटकॉम के साथ जुड़े हुए थे। इससे पहले वह दैनिक जागरण समूह के बाइलिंगुअल अखबार आईनेक्स्ट के आगरा संस्करण में बतौर रिपोर्टर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।

मूल रूप से एटा के रहने वाले धीरेन्द्र को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 11 साल का अनुभव है। आगरा से ग्रेजुएशन करने के बाद धीरेन्द्र ने पत्रकारिता के क्षेत्र में अपने करियर की शुरुआत राष्ट्रीय सहारा से की थी। इसके बाद लोकल चैनल मून न्यूज, द सी एक्सप्रेस व आईनेक्स्ट अखबार में बतौर संवाददाता अपनी सेवाएं दीं। धीरेन्द्र की क्राइम, रोडवेज, आरटीओ व एजुकेशन के साथ बिजनेस बीट पर अच्छी पकड़ मानी जाती है। राजस्थान पत्रिका डॉट कॉम में धीरेन्द्र के पास प्रशासन व क्राइम, मेडिकल समेत प्रमुख बीटों की जिम्मेदारी थी।

समाचार4मीडिया की ओर से धीरेन्द्र सिंह को नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

IMPACT की इस लिस्ट से उठा पर्दा, टॉप पर रहे मुकेश अंबानी

इस लिस्ट में सुनील भारती मित्तल और कुमार मंगलम बिड़ला क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 13 January, 2021
Last Modified:
Wednesday, 13 January, 2021
IMPACT

एक्सचेंज4मीडिया (exchange4media) समूह की मीडिया, मार्केटिंग और एडवर्टाइजिंग क्षेत्र की जानी-मानी साप्ताहिक पत्रिका ‘इम्पैक्ट’ की ‘डिजिटल पावर100’ (Digital Power 100)-टेक्नोलॉजी लिस्ट से मंगलवार को पर्दा उठ गया है। टेक्नोलॉजी 100 लिस्ट में भारतीय प्रौद्योगिकी परिदृश्य को आकार देने वाले सबसे प्रभावशाली लोगों को शामिल किया गया है।

इस लिस्ट में ‘रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड’ (Reliance Industries Limited) के चेयरमैन और एमडी मुकेश अंबानी ने टॉप पर जगह बनाई है, जबकि ‘भारती एंटरप्राइजेज’ (Bharti Enterprises) के चेयरमैन सुनील भारती मित्तल और ‘आदित्य बिड़ला ग्रुप’ (Aditya Birla Group) के चेयरमैन कुमार मंगलम बिड़ला क्रमश: दूसरे और तीसरे स्थान पर रहे हैं।

लिस्ट में ‘पेटीएम’ (Paytm) के फाउंडर और सीईओ विजय शेखर शर्मा चौथे नंबर पर, ‘बायजूस’ (Byjus) के को-फाउंडर और सीईओ बायजू रविंद्रन पांचवे नंबर पर रहे हैं। ‘सर्ज’ (Surge) के मैनेजिंग डायरेक्टर राजन आनंदन ने इस लिस्ट में छठा और ‘टीसीएस’ (TCS) के मैनेजिंग डायरेक्टर व सीईओ राजेश गोपीनाथन ने सातवां स्थान हासिल किया है।

‘इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय’ (Ministry of Electronics & Information Technology) के सेक्रेट्री अजय प्रकाश साहनी को इस लिस्ट में आठवें, ‘इंफोएज’ (, Infoedge) के फाउंडर संजीव भीखचंदानी (Sanjeev Bikhchandani) को नौवें और ‘मेकमायट्रिप’ (MakeMyTrip) के फाउंडर और एग्जिक्यूटिव चेयरमैन दीप कालरा को दसवें नंबर पर जगह मिली है।

गौरतलब है कि ‘IMPACT Digital Power 100’ का उद्देश्य डिजिटल दुनिया के ऐसे दिग्गजों की लिस्ट तैयार कर उन्हें सम्मानित करना है, जिन्होंने अपनी मेहनत के बल पर नई ऊंचाइयों को छुआ है और एक खास मुकाम हासिल किया है। यह इस लिस्ट का तीसरा एडिशन है। इस साल के एडिशन की तीन अन्य लिस्ट Business 100, Marketing 100 और  Digital 100 क्रमश: 13, 14 और 15 जनवरी को जारी की जाएंगी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

डिजिटल मीडिया के लिए कैसी रही 2020 की ‘डगर’, जानें एडिटर्स की राय

कोरोनावायरस (कोविड-19) और इसके संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश में किए गए लॉकडाउन के कारण तमाम उद्योग-धंधों के साथ मीडिया के लिए भी यह साल काफी चुनौतियों भरा रहा।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 31 December, 2020
Last Modified:
Thursday, 31 December, 2020
Digital Media

कोरोनावायरस (कोविड-19) और इसके संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए देश में किए गए लॉकडाउन के कारण तमाम उद्योग-धंधों के साथ मीडिया के लिए भी यह साल काफी चुनौतियों भरा रहा। लॉकडाउन के दौरान टीवी की व्युअरशिप बढ़ने के बावजूद विज्ञापनों की संख्या घट गई और प्रिंट का सर्कुलेशन भी काफी प्रभावित हुआ। वहीं, डिजिटल की बात करें तो मीडिया के अन्य स्वरूपों के मुकाबले इसकी रफ्तार ठीक रही। कहने का तात्पर्य यह है कि डिजिटल के पाठकों/दर्शकों की संख्या साल 2020 में काफी बढ़ी, हालांकि रेवेन्यू के लिहाज से यहां भी स्थिति बेहतर नहीं रही। अब जबकि अनलॉक हो गया है और उद्योग-धंधे भी पटरी पर लौटने लगे हैं, अब सबकी उम्मीदें नए साल की ओर लगी हैं।

ऐसे में समाचार4मीडिया ने देश के चुनिंदा मीडिया संस्थानों में डिजिटल मीडिया की कमान संभाल रहे पत्रकारों से जानना चाहा कि उनकी नजर में डिजिटल मीडिया के लिए वर्ष 2020 कैसा रहा और आने वाले साल में वे इस क्षेत्र में क्या चुनौतियां/संभावनाएं देखते हैं।

‘अमर उजाला’ डिजिटल के एडिटर जयदीप कर्णिक का कहना है, ‘मेरे हिसाब से जैसे वर्ष 2020 सभी के लिए चुनौतीपूर्ण रहा, वैसे ही डिजिटल मीडिया के लिए भी रहा। हालांकि, कई मायनों में यह डिजिटल मीडिया के लिए लाभकारी भी रहा। वह इसलिए रहा कि डिजिटल मीडिया के महत्व को लेकर पिछले कई वर्षों से बात हो रही है कि डिजिटल ही भविष्य है। लगभग सभी बड़े मीडिया संस्थानों ने इस बात को समझ लिया था और 2010 से ही इस दिशा में बहुत सारा काम किया गया था। लेकिन 2020 ने ये समझा दिया कि डिजिटल मीडिया भविष्य नहीं, बल्कि वर्तमान है। मेरा मानना है कि 2020 में कोविड की जो चुनौती आई, उसने कई मायनों में मीडिया में फास्ट फॉरवर्ड का बटन दबा दिया। फास्ट फॉरवर्ड से तात्पर्य यह है कि इस दौरान जो चीजें हुईं, वह होनी थी और अवश्यंभावी थीं। जैसे- अखबारों की पठनीयता पर फर्क पड़ना या मीडिया के नए तरीके तलाशना या न्यूजरूम्स का ऑनलाइन हो जाना अथवा न्यूजरूम्स में नई पहलों को जल्दी जगह मिलना, यह सब होना था और इस पर काम भी चल रहा था, लेकिन यह सब फास्ट फॉरवर्ड हो गया। जो चीज चार-पांच साल या आठ-दस साल बाद होती, वह 2020 ने इतनी फास्ट फॉरवर्ड कर दी कि सब मजबूर हो गए।’

जयदीप कर्णिक के अनुसार, ‘साल 2020 में डिजिटल कंटेंट का उपभोग भी ज्यादा हुआ। तमाम लोग ई-पेपर की तरफ भी मुड़े। खास बात यह रही कि तमाम लोगों द्वारा डिजिटल मीडिया को पहले जिस संशय की नजरों से देखा जाता था कि इस पर सब फेक और बकवास है, वह इस माध्यम से जुड़े और जाना कि इस पर अच्छा और बुरा सभी तरह का कंटेंट है। मेरा मानना है कि डिजिटल के लिए यह साल काफी महत्वपूर्ण रहा। लोगों को समझ आया कि इस पर सब कुछ फेक नहीं है। जिस मीडिया संस्थान की वेबसाइट ने अच्छा कंटेंट तैयार किया, उसे इसका लाभ भी मिला। इस दृष्टि से देखें तो डिजिटल के लिए यह साल काफी अच्छा रहा। वर्ष 2021 में डिजिटल मीडिया के लिए यही चुनौती रहेगी कि जो लोग इससे जुड़े हैं, वह संख्या नीचे न जा पाए। इसके लिए वेबसाइट्स को अलग तरीके से सोचना पड़ेगा और नए प्रयोग करने पड़ेंगे। वेबसाइट्स को अपने खुद के कंटेंट और सबस्क्राइबर्स पर ज्यादा काम करना पड़ेगा। मेरा मानना है कि जो लोग डिजिटल मीडिया में अच्छा कंटेंट दे रहे हैं और बेहतर काम कर रहे हैं, वे नए साल में आगे बढ़ेंगे। अच्छे कंटेंट को लेकर जिसने भी 2020 में तैयारी की है, उसे 2021 में इसका लाभ जरूर मिलेगा।’

‘नवभारत टाइम्स’ (डिजिटल) के एडिटर आलोक कुमार का इस बारे में कहना है, ‘मेरा मानना है कि कोरोना के कारण डिजिटल में न्यूज के प्रति आकर्षण में बढ़ोतरी हुई। पहले जो यूजर्स डिजिटल पर नॉन न्यूज पढ़ने के लिए आते थे, वे न्यूज पढ़ने के लिए इस प्लेटफॉर्म पर आए। इस दौरान डिजिटल प्लेटफॉर्म्स पर यूनिक विजिटर्स की संख्या में 100 प्रतिशत तक का इजाफा हुआ। इस हिसाब से देखें तो वर्ष 2020 डिजिटल के लिए बेहतर रहा है, लेकिन रेवेन्यू के हिसाब से यह साल बहुत खराब रहा है। इसका कारण यह रहा कि अर्थव्यवस्था कमजोर हो गई और विज्ञापन के साथ इनकी दरों में भी काफी कमी आई। ऐसे में यूनिक विजिटर्स और पेज व्यूज में काफी वृद्धि होने के बावजूद रेवेन्यू काफी घट गया। रही बात वर्ष 2021 की तो इस साल के लिए सबसे बड़ी चुनौती यही रहेगी कि वर्ष 2020 में जो यूजर्स इस प्लेटफॉर्म पर जुड़े, उन्हें बरकरार रखा जाए। देखा जा रहा है कि लॉकडाउन खत्म होने के साथ-साथ डिजिटल यूजर्स की संख्या में कमी देखी जा रही है। ऐसे में डिजिटल मीडिया के लिए सबसे बड़ी चुनौती यही है कि बढ़े हुए यूजर्स को जोड़े रखा जाए। इसके अलावा अगले साल 5-जी आने की उम्मीद है, ऐसे में यह भी चुनौती होगी कि आप कितनी तेजी से अपने कंटेंट को 5-जी के हिसाब से मोड़ते हैं।’

‘इंडियन एक्सप्रेस’ समूह के हिंदी न्यूज पोर्टल ‘जनसत्ता.कॉम’(jansatta.com) के एडिटर विजय झा ने बताया कि वर्ष 2020 कोरोना की वजह से डिजिटल मीडिया क्या, किसी भी इंडस्ट्री के लिए एक तरह से ऐसा साल रहा जहां सर्वाइवल के लिए संघर्ष था। साल 2020 में तमाम चुनौतियां आईं, हालांकि ये धीरे-धीरे कम हो रही हैं। 2021 में भी इन चुनौतियों का असर पूरी तरह खत्म नहीं होगा। 2020 में जो ट्रेंड हम लोग सोचकर चल रहे थे कि डिजिटल मीडिया काफी हावी होगा, उस ट्रेंड पर ज्यादा काम नहीं हो पाया। मेरे ख्याल से 2021 में भी उस पर फोकस बना रहेगा। 2021 में ऑरिजनल कंटेंट का महत्व और बढ़ने वाला है। अभी भी तमाम वेबसाइट्स कंटेंट डिस्ट्रीब्यूशन के लिए गूगल व अन्य सोशल प्लेटफॉर्म्स पर निर्भर हैं, गूगल भी ऑरिजनल कंटेंट को महत्व देने की बात कह चुका है। सिर्फ गूगल के लिहाज से ही नहीं बल्कि लॉयल यूजर्स के लिए भी ऑरिजनल कंटेंट को बहुत ज्यादा महत्व देने की जरूरत है। मुझे लगता है कि 2021 में इस पर काफी जोर रहेगा। मेरे हिसाब से 2021 में आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (AI) का इस्तेमाल और ज्यादा होगा। हालांकि 2020 में यह प्रक्रिया चल रही थी, लेकिन 2021 में यह और ज्यादा तेजी से चलेगी। साल 2020 में पेज व्यूज और यूजर्स की संख्या में चार महीने में जो वृद्धि हुई थी, उस समय लोगों के पास डिजिटल सीमित विकल्पों में से एक था। लॉकडाउन के दौरान जो यह वृद्धि देखने को मिली थी, मुझे नहीं लगता कि आगे भी यह इसी तरह से जारी रहेगी। हालांकि अन्य कारणों से इसमें वृद्धि हो सकती है, क्योंकि मेरा मानना है कि मोबाइल और इंटरनेट का इस्तेमाल करने वालों की संख्या बढ़ेगी। आने वाले साल में न्यूज का उपभोग निश्चित बढ़ेगा और यूजर्स की संख्या भी बढ़ेगी। हालांकि, अभी हम ये नहीं कह सकते हैं कि यह लॉकडाउन में हुई बढ़ोतरी जितनी होगी, हां सामान्य वृद्धि तो होगी। क्योंकि उस समय जो वृद्धि हुई थी, वह परिस्थितियों के अनुसार हुई थी। मुझे लगता है कि सोशल साइट्स पर सजग यूजर्स की संख्या बढ़ रही है। ऐसे तमाम यूजर्स पैनी नजर रखते हैं और कुछ गलत होने पर सकारात्मक रूप से टोकते भी हैं तो मुझे लगता है कि 2021 में ऐसे यूजर्स की संख्या में और बढ़ोतरी होगी और इसके अच्छे परिणाम निकलेंगे।      

‘बीबीसी हिंदी’ के एडिटर मुकेश शर्मा के अनुसार, ‘मुझे लगता है कि डिजिटल के लिए साल 2020 को दो तरह से देखना चाहिए। ऑरिजिनल कवरेज के लिहाज से देखें तो यह साल काफी चुनौती भर रहा, लेकिन लोगों तक पहुंच के मामले में यह गोल्डन ईयर रहा। ऑरिजिनल कवरेज की बात करें तो रिपोर्टर्स ऑनग्राउंड जाकर उस तरह से कंटेंट नहीं ला पा रहे थे, जिस तरह से महामारी से पहले लाते थे, लेकिन लोगों तक डिजिटल न्यूज पहुंचाने के टूल्स काफी इस्तेमाल होने लगे। यानी 2020 में महामारी ने स्कूली बच्चे से लेकर बड़ों तक को डिजिटल टूल्स का इस्तेमाल करना सिखा दिया, जो पहले काफी कम था। यानी हम कह सकते हैं कि टेक्नोलॉजी पार्ट के हिसाब से डिजिटल के लिए यह साल काफी अच्छा रहा। 2020 में लोगों के अंदर न्यूज की ‘भूख’ भी काफी थी। लोग महामारी से जुड़ी हर खबर को जानना चाहते थे कि कहां क्या हो रहा है। लोग यह सारी जानकारी खोजना चाहते थे, इसलिए भी डिजिटल पर ज्यादा आए।’

मुकेश शर्मा के अनुसार, ’टीवी पर होता यह है कि आपको जो सुनाया व दिखाया जा रहा है, आपको वही सुनना और देखना पड़ेगा, लेकिन डिजिटल में ऐसा नहीं है। डिजिटल ऐसा माध्यम है कि जहां आप जो जानना चाहते हैं, वह तलाश सकते हैं। महामारी के कारण साल 2020 लोगों के मन में तमाम तरह के सवाल थे और इसलिए भी उनका रुझान डिजिटल की तरफ बढ़ा, ताकि उन्हें जवाब मिल सकें। मेरे कहने का मतलब है कि इस्तेमाल (Comsumption) के मामले में डिजिटल के लिए यह साल काफी अच्छा रहा। रही बात रेवेन्यू की तो शुरुआत में थोड़ा सा ठहराव आया था, लेकिन अब ब्रैंड्स वापस लौट रहे हैं। मेरा मानना है कि आने वाले समय में डिजिटल और आगे बढ़ेगा। हालांकि, नए साल में डिजिटल के लिए ऑरिजनल कंटेंट को जुटाने की चुनौती भी रहेगी।’

‘टीवी9 भारतवर्ष’ (TV9 Bharatvarsh) में डिजिटल एडिटर शैलेश कुमार का कहना है, ‘मार्च में जब भारत में कोरोना आया था और इसका संक्रमण फैलने से रोकने के लिए किए गए लॉकडाउन की वजह से तमाम जगह अखबार नहीं पहुंच पा रहे थे, ऐसे में लोगों के लिए या तो टीवी था या फिर डिजिटल मीडिया। इस दौरान एंटरटेनमेंट की बात करें तो रामायण और महाभारत जैसे लोकप्रिय धारावाहिकों का प्रसारण फिर शुरू हुआ और इनकी टीआरपी भी काफी रही। जहां तक न्यूज की बात है तो अखबार के विकल्प के रूप में डिजिटल आया। साल 2020 के चार महीने (अप्रैल, मई, जून व जुलाई) डिजिटल के लिए काफी अहम रहे। इसका फायदा डिजिटल मीडिया को आने वाले साल में मिल सकता है, क्योंकि अखबार का विकल्प टीवी उस तरह से बन नहीं पाया है, लेकिन डिजिटल में वह क्षमताएं हैं, जहां पर आपको 24*7 न्यूज भी मिल सकती है और आप क्रेडिबिलिटी बना सकते हैं। ऐसे में वर्ष 2021 में डिजिटल मीडिया को इसका लाभ मिल सकता है। 2020 में डिजिटल ने एक नया पाठक वर्ग अपने साथ जोड़ा और अब क्रेडिबिलिटी व बेहतर प्रजेंटेशन के साथ उसे बरकरार रखने का काम 2021 कर सकता है।’

‘न्यूज नेशन’ (डिजिटल) के एडिटर राजीव मिश्रा के अनुसार, ‘न्यूज नेशन की बात करें तो मई में हमने अपना डोमेन बदला था। ऐसे में शुरुआत में थोड़ी दिक्कत आई थी, लेकिन अब हम ग्रोथ की ओर अग्रसर हैं। रही बात रेवेन्यू की तो हम शुरू में डिजिटल में इतने स्थापित नहीं थे। मैं दूसरों से तुलना नहीं करूंगा, लेकिन हमने रेवेन्यू में भी डिजिटल का रिकॉर्ड बनाए रखा है। चूंकि डिजिटल में स्पीड काफी मायने रखती है, ऐसे में वर्क फ्रॉम होम के कारण इस पर थोड़ा असर जरूर पड़ा, क्योंकि ऑफिस के मुकाबले इसमें कम्युनिकेशन में थोड़ा समय लगता है। मुझे लगता है कि इसमें अन्य संस्थानों को भी थोड़ी दिक्कत हुई होगी। यह थोड़ी सी दिक्कत अभी भी चल ही रही है, क्योंकि अभी भी ज्यादातर स्टाफ वर्क फ्रॉम होम कर रहा है। ब्रेकिंग खबरों के लिहाज से वर्ष 2020 काफी महत्वपूर्ण रहा है, ऐसे में डिजिटल को अपनी स्पीड को कायम रखने में थोड़ी सी दिक्कत जरूर हुई। डिजिटल के लिए यह साल खासकर न्यूज नेशन के लिए एक तरह से मिला-जुला रहा। मुझे उम्मीद है कि 2021 डिजिटल के लिए काफी बेहतर रहेगा। हम ट्रैफिक, रेवेन्यू और मार्केटिंग सभी में आगे बढ़ रहे हैं। हमने पिछले महीनों में भी अच्छी ग्रोथ की है और हमने जो अपना बेस मजबूत किया है, अब उसका लाभ लेने का समय आ रहा है। न्यूज नेशन के लिए वर्ष 2021 बहुत अच्छा होने वाला है। कुल मिलाकर आने वाला साल मेरी नजर में टीवी के मुकाबले डिजिटल के लिए काफी बेहतर रहने वाला है।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

युवा पत्रकार मीकात हाशमी ने अब इस मीडिया समूह के साथ शुरू किया नया सफर

मूल रूप से बिहार (दरभंगा) के रहने वाले मीकात हाशमी ने ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन’ (IIMC) से पढ़ाई की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 21 December, 2020
Last Modified:
Monday, 21 December, 2020
Meeqat Hasmi

युवा पत्रकार मीकात हाशमी ने एबीपी समूह के साथ अपनी नई पारी की शुरुआत की है। उन्होंने यहां पर बतौर सीनियर प्रड्यूसर जॉइन किया है। समूह की अंग्रेजी वेबसाइट news.abplive.com की जिम्मेदारी उन्हीं के कंधों पर होगी।

मीकात हाशमी इससे पहले ‘बाइटडांस’ (ByteDance) में कंटेंट स्ट्रैटेजिस्ट के पद पर अपनी भूमिका निभा रहे थे। इसके तहत उनके पास हिंदी, उड़िया, पंजाबी और बंगाली भाषाओं में कंपनी के ऑपरेशंस की जिम्मेदारी थी।  

बता दें कि मूल रूप से बिहार (दरभंगा) के रहने वाले मीकात हाशमी ने ‘इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ मास कम्युनिकेशन’ (IIMC)  से पढ़ाई की है। मीकात को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब सात साल का अनुभव है। उन्होंने ‘ऑल इंडिया रेडियो’ से मीडिया में अपने करियर की शुरुआत की थी।

पूर्व में वह नेटवर्क18’ में भी अपनी जिम्मेदारी निभा चुके हैं। यहां पर वह News 18 Languages में हिंदी-अंग्रेजी को छोड़कर अन्य भारतीय भाषाओं में मौजूद वेबसाइट्स को आगे बढ़ाने और उनके समन्वय का काम संभालते थे। इसके अलावा वह माइक्रोसॉफ्ट की वेबसाइट ‘एमएसएन’ (MSN) और ‘टाइम्स नाउ’ (Times Now) में भी अपनी जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। समाचार4मीडिया की ओर से मीकात हाशमी को नई पारी के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

मीडिया स्टार्टअप NEWJ के नाम जुड़ी ये खास उपलब्धि

टेक-मीडिया स्टार्टअप ‘न्यू इमर्जिंग वर्ल्ड ऑफ जर्नलिज्म’ (NEWJ) के नाम एक खास उपलब्धि जुड़ गई है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 19 December, 2020
Last Modified:
Saturday, 19 December, 2020
NEWJ

टेक-मीडिया स्टार्टअप ‘न्यू इमर्जिंग वर्ल्ड ऑफ जर्नलिज्म’ (NEWJ) के नाम एक खास उपलब्धि जुड़ गई है। दरअसल, ग्लोबल सोशल वीडियो एनालिटिक्स कंपनी ‘ट्यूबलर लैब्स इंक’ (Tubular Labs Inc) द्वारा इसे दुनिया की टॉप 50 ग्लोबल डिजिटल फर्स्ट मीडिया कंपनियों में 40वें स्थान पर रखा गया है।

‘NEWJ’ एकमात्र भारतीय न्यूज पब्लिशर है जो ट्यूबलर लैब्स द्वारा ग्लोबल ‘Digital First Media and Entertainment Properties’ की लिस्ट में अपनी जगह बनाने में कामयाब रही है। ‘ट्यूबलर ऑडियंस रेटिंग्स’ (Tubular Audience Ratings) ट्यूबलर लैब्स का पहला अपनी तरह का ऐसा प्रॉडक्ट है जो विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर पब्लिशर्स के लिए यूनिक ऑडियंस और कितनी देर उसे देखा गया (minutes watched) को मापता है।

NEWJ के फाउंडर व एडिटर-इन-चीफ शलभ उपाध्याय ने एक ‘लिंक्डइन’ पोस्ट में कहा है, ’26 नवंबर 2018 को NEWJ उस समय वास्तव में एक स्टार्टअप बन गया था, जब हमने अपने पहले बैच को नियुक्त किया था। इन दो वर्षों में वे नाम और चेहरे हमारी फैमिली का हिस्सा बन चुके हैं और हमारा आगे बढ़ना लगातार जारी है। मुझे यह बताते हुए काफी खुशी हो रही है कि इन दो वर्षों में NEWJ को ट्यूबलर लैब्स द्वारा टॉप 50 ग्लोबल डिजिटल फर्स्ट मीडिया कंपनियों की लिस्ट में 40वां स्थान दिया गया है। हम अकेले ऐसे भारतीय पब्लिशर हैं जो नवंबर में टॉप 50 की इस लिस्ट में जगह बनाने में कामयाब रहे हैं।’

शलभ उपाध्याय के अनुसार, ‘यह सब NEWJ परिवार के प्रत्येक सदस्य की लगन व मेहनत के कारण संभव हुआ है और हमारा विजन #BharatFirst दुनियाभर में मौजूद उन भारतीयों के बिना पूरा नहीं हो सकता है जो हमारी स्टोरीज को देखते हैं और उनसे जुड़ते हैं।’

वहीं, NEWJ के मैनेजिंग एडिटर सिद्धार्थ जराबी ने एक ट्वीट में कहा है, ‘अचीवर्स की युवा टीम द्वारा शानदार उपलब्धि। एक बात और इसे खास बनाती है कि NEWJ ने करीब सात तिमाहियों में ही पहले से स्थापित और पुरानी डिजिटल कंपनियों को पीछे छोड़ दिया है। सोशल मीडिया पर न्यूज का उपभोग (News consumption) पहले ही पारंपरिक मीडिया को पीछे छोड़ चुका है और यह ट्रेंड तेजी से बढ़ रहा है।’

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए