दर्शकों तक यूं अपनी मजबूत पकड़ बनाएगा SonyLIV

ओरिजिनल सीरीज के अलावा यह प्लेटफॉर्म इंटरनेशनल कंटेंट लॉन्च करने की योजना भी बना रहा है।

Last Modified:
Wednesday, 17 June, 2020
Sonyliv

‘सोनी पिक्चर्स नेटवर्क्स इंडिया’ का ओटीटी (OTT) प्लेटफॉर्म ‘सोनी लिव’ (SonyLIV) अपनी नई ब्रैंड आइडेंटिटी ‘सोनी लिव 2.0’ (SonyLIV 2.0) के साथ विभिन्न शो के माध्यम से ऑरिजनल कंटेंट पेश करने के लिए पूरी तरह तैयार है। इस प्लेटफॉर्म की ओर से मंगलवार को अपनी पहली ओरिजनल ड्रामा सीरीज ‘यॉर ऑनर’ (Your Honor) लॉन्च की गई। यह 18 मई से लाइव होगी। इस वीडियो स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म का लक्ष्य आने वाले दो महीनों में इस तरह की पांच ओरिजनल सीरीज लॉन्च करने का है।   

‘सोनी लिव’ ने मनोज बाजपेयी की फिल्म ‘भोंसले’ (Bhonsle) के साथ रणवीर शौरी अभिनीत फिल्म ‘कड़क’ (Kadakh) भी रिलीज की है। अपनी पहली ओरिजनल सीरीज की लॉन्चिंग के बारे में सोनी एंटरटेनमेंट टेलिविजन के कंटेंट हेड (डिजिटल बिजनेस) आशीष गोवाल्कर का कहना है, ‘हमारा यह शो एक-दो दिन में लाइव हो जाएगा। सोनी लिव पहली बार ओरिजनल सीरीज के क्षेत्र में उतर रहा है। हमने कुछ अंग्रेजी शो और मूवीज को लॉन्च करने की योजना बनाई है जो एक्सक्लूसिव रूप से सोनी लिव पर रिलीज की जाएंगी। शुरुआत में, पहले दो महीनों में हम पांच शो लॉन्च करेंगे। इनमें से चार शो ‘एपलॉज एंटरटेनमेंट’ (Applause Entertainment) की ओर से प्रड्यूस किए गए हैं। शुरुआत में हम हिंदी, अंग्रेजी और मराठी में कुछ रोचक पेशकश ला रहे हैं। इसके बाद हम अन्य भाषाओं की ओर भी रुख करेंगे।’

उन्होंने बताया कि इस प्लेटफॉर्म पर अपने प्रीमियम ऑडियंस के लिए कुछ एक्सक्लूसिव इंटरनेशनल कंटेंट भी है। ‘For Life’ और ‘Lincoln Rhyme: Hunt for the Bone Collector’ जैसे अंग्रेजी शो भी इस प्लेटफॉर्म पर अपना भारतीय डेब्यू करेंगे। इनमा पहला एक सच्चा घटनाओं पर आधारित है तो दूसरा एक थ्रिलर शो है।

इस बारे में सोनीलिव के डिजिटल बिजनेस के हेड (ऑरिजिनल कंटेंट) सौगाता मुखर्जी का कहना है, ‘इस स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म ने एपलॉज एंटरटेनमेंट के साथ पहली बार एक कंटेंट लाइसेंसिंग सौदा किया है, जिसके तहत इसकी चार ड्रामा सीरीज यहां पर स्ट्रीम होंगी। सोनी लिव की अपनी भी चार ओरिजनल ड्रामा सीरीज हैं। इनके नाम हैं, ‘योर ऑनर’, ‘अवरोध’, ‘अनदेखी’और ‘स्कैम 1992’। दुर्भाग्य से, कुछ शो की शूटिंग को होल्ड पर रखा गया है, लेकिन अगले साल की शुरुआत में इनके ट्रैक पर वापस आने की उम्मीद है। हम कुछ पुराने क्लासिक शो भी लेकर आ रहे हैं।’

इस पार्टनरशिप के बारे में एपलॉज एंटरटेनमेंट से सीईओ समीर नायर का कहना है, ‘सोनीलिव के साथ इस पार्टनरशिप को कर हम बहुत खुश हैं। चार में से ओरिजनल सीरीज की दिशा में ‘यॉर ऑनर’ पहली पेशकश है। हम पूरा विश्वास है कि दर्शक इस शो का भरपूर आनंद उठाएंगे।’

इस समय सोनीलिव का प्रीमियम सबस्क्रिप्शन 499 रुपए सालाना है। छह महीने के लिए यह राशि 299 और एक महीने के लिए 99 रुपए है। सबस्क्रिप्शन के साथ ऑडियंस ओरिजनर्स, इंटरनेशनल कंटेंट, सभी लाइव टीवी चैनल्स और लाइव स्पोर्ट्स भी एक्सेस कर सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

BBC ने अपने एम्प्लॉयीज के लिए निकाले नए नियम

ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन (बीबीसी) ने गुरुवार को अपने एम्प्लॉयीज के लिए नए सोशल मीडिया नियम जारी किए हैं

Last Modified:
Friday, 30 October, 2020
bbc

ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉरपोरेशन (BBC) ने गुरुवार को अपने एम्प्लॉयीज के लिए नए सोशल मीडिया नियम जारी किए हैं। इसके तहत बीबीसी ने अपने सभी एम्प्लॉयीज को आगह किया है कि कोई भी एम्प्लॉयी सोशल मीडिया पर पब्लिक पॉलिसी, पॉलिटिक्स, या विवादास्पद विषयों पर अपनी व्यक्तिगत राय व्यक्त नहीं करेगा।

इसके अलावा जारी की गई गाइडलाइंस में यह भी कहा गया है कि कोई भी एम्प्लॉयी सार्वजनिक रूप से अपने सहकर्मियों की आलोचना नहीं कर सकता है।   नए नियम तभी लागू होंगे, जब ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स का इस्तेमाल प्रोफेशनली अथवा पर्सनली तौर पर किया जा रहा हो।

बीबीसी के डायरेक्टर जनरल टिम डेवी, जिन्होंने पिछले महीने नए सोशल मीडिया नियमों को लागू करने का वादा किया था, ने कहा कि वह गाइडलाइंस का उल्लंघन करने वालों को बाहर का रास्ता दिखाने के लिए तैयार है।

ये नए नियम बीबीसी की निष्पक्षता बनाए रखने और लाइक, रीट्वीट या पोस्ट शेयर करने के द्वारा पूर्वाग्रह की धारणाओं पर अंकुश लगाने के प्रयासों का हिस्सा हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

डिजिटल की दुनिया में Republic Bharat ने कुछ यूं बढ़ाए कदम

‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ (Republic Media Network) ने हिंदी न्यूज स्पेस में डिजिटल की दुनिया में अपने कदम बढ़ाए हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 27 October, 2020
Last Modified:
Tuesday, 27 October, 2020
Republic Bharat

‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ (Republic Media Network) ने हिंदी न्यूज स्पेस में डिजिटल की दुनिया में अपने कदम बढ़ाए हैं। दरअसल, नेटवर्क ने अपने हिंदी न्यूज चैनल ‘रिपब्लिक भारत’ (Republic Bharat)  के डिजिटल वर्जन bharat.republicworld.com  को लॉन्च करने की घोषणा की है।

नेटवर्क की ओर से कहा गया है, ‘रिपब्लिक भारत डिजिटल की दुनिया में कदम रखने जा रहा है। इसका फोकस यूजर्स और व्युअर्स को सबसे पहले न्यूज और ब्रेकिंग न्यूज उपलब्ध कराने पर होगा। रिपब्लिक भारत यूजर्स के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म पर कंटेंट को पुनर्परिभाषित करेगा और यह ‘राष्ट्र के नाम’ सिद्धांत पर काम करेगा। डिजिटल ऑडियंस के लिए यह वीडियो कंटेंट को तैयार करने और इसे उपभोग करने के तरीके को बदलकर रख देगा।’

इस बारे में ‘रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क’ के ग्रुप सीईओ विकास खनचंदानी का कहना है, ‘भारतीय भाषाओं में यह रिपब्लिक का पहला बड़ा कदम है और हर भारतीय भाषा में न्यूज कवर करने के नेटवर्क के पूरे प्रोजेक्ट की यह शुरुआत भर है। हम डिजिटल इकोसिस्टम के भीतर रिपब्लिक भारत की वृद्धि और लोकप्रियता का लाभ उठाना चाहते हैं। हम डिजिटल के क्षेत्र में रिपब्लिक भारत को नंबर वन बनाना चाहते हैं। नेटवर्क के हर विंग की तरह रिपब्लिक भारत देश के लोगों को प्राथमिकता पर रखते हुए अपने कंटेंट को उसी के हिसाब से तैयार करेगा।’

‘रिपब्लिक वर्ल्ड’ (Republic World) के एग्जिक्यूटिव वाइस प्रेजिडेंट और डिजिटल हेड देवेंद्र गुप्ता का कहना है, ‘रिपब्लिक वर्ल्ड को अंग्रेजी में आगे बढ़ाने के बाद हिंदी डिजिटल प्लेटफॉर्म लॉन्च करने को लेकर मुझे काफी गर्व है। टेलिविजन में रिपब्लिक भारत पहले ही नंबर वन न्यूज ब्रैंड है और मुझे पूरा विश्वास है कि हिंदी डिजिटल बिजनेस भी काफी सफल होगा। हमने अभी हिंदी डिजिटल मार्केट में कदम रखा है और जल्दी ही अन्य भारतीय भाषाओं में भी अपनी मौजूदगी दर्ज कराएंगे।’

बताया जाता है कि रिपब्लिक भारत की डिजिटल विंग नोएडा में एक नव-निर्मित डिजिटल न्यूज़ रूम से संचालित होगी। इस विस्तार के तहत टीम को तैयार करने के लिए नियुक्ति प्रक्रिया पहले से चल रही है। हिंदी न्यूज प्लेटफॉर्म पर रिपब्लिक भारत रोजाना 1000 स्टोरीज को रिपोर्ट और पब्लिश करेगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

एक मंच पर आए देश के तमाम न्यूज पोर्टल्स, बनाया ये संगठन

एसोसिएशन के फाउंडिंग मेंबर्स में OpIndia.com, Goachronicle.com, Republicworld.com, OTV Digital, DeshGujarat.com, Assamlive.com, NewsX.com, Sundayguardianlive.com और InKhabar.com आदि शामिल हैं।

Last Modified:
Monday, 26 October, 2020
Digital Media

देश के तमाम डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म्स का सबसे बड़ा समूह ‘इंडियन डिजिटल मीडिया एसोसिएशन’ (IDMA) सोमवार को अस्तित्व में आ गया है। एसोसिएशन की ओर से जारी ऑफिशियल स्टेटमेंट में कहा गया है, ‘यह राष्ट्रहित को सर्वोपरि मानती है। यह राष्ट्र समर्थक और भारतीयों द्वारा नियंत्रित एसोसिएशन है। इसका स्वामित्व और नियंत्रण भारतीयों के पास है।’

एसोसिएशन के अनुसार, ‘फाउंडिंग मेंबर्स की कुल यूनिक व्युअरशिप की बात करें तो इसके 100 मिलियन से ज्यादा यूजर्स हैं और यह ‘नेशन फर्स्ट’ के सिद्धांत पर काम करेगी। एसोसिएशन के संस्थापक संदस्यों में OpIndia.com, Goachronicle.com, Republicworld.com, OTV Digital, DeshGujarat.com, Assamlive.com, NewsX.com, Sundayguardianlive.com और InKhabar.com शामिल हैं। हमें यह बताते हुए काफी खुशी हो रही है कि 25 से ज्यादा अन्य डिजिटल न्यूज मेंबर्स को इसमें शामिल किया जा रहा है।’

एसोसिशन के बारे में ऑनलाइन न्यूज पोर्टल GoaChronicle.com के फाउंडर और एडिटर-इन-चीफ Savio Rodrigues का कहना है, ‘आने वाले वर्षों में देश में डिजिटल मीडिया में काफी बदलाव देखने को मिलेगा। ऐसे में देश के मीडिया संस्थानों के एक मंच पर आकर एसोसिएशन के गठन से इस क्षेत्र में उन्हें अपनी आवाज उठाने के लिए निश्चित रूप से बल मिलेगा।’

वहीं, ‘OpIndia’ की एडिटर नूपुर शर्मा ने एसोसिएशन के गठन का स्वागत करते हुए कहा, ‘डिजिटल मीडिया में काफी ताकत है। यह न केवल डिजिटल मीडिया को मजबूत करने बल्कि उसे संगठित करने व हितों की वकालत करने का प्रयास है। डिजिटल मीडिया के अंदर देश को नया आकार देने और लोगों को अपनी बात रखने का मंच प्रदान करने की ताकत है।’  

एसोसिएशन की ओर से जारी स्टेटमेंट में कहा गया है, ‘इतिहास में पहली बार तमाम डिजिटल प्लेटफॉर्म्स ने मिलकर एक एसोसिएशन का गठन किया है। इसका उद्देश्य न केवल सदस्य डिजिटल प्लेटफॉर्म के हितों की रक्षा करना है, बल्कि सभी हितधारकों के साथ संवाद में सक्रिय रूप से भाग लेना और न्यूज के मानकों को बनाए रखना है। एक स्व-नियामक निकाय के रूप में यह डिजिटल मीडिया प्लेटफार्म्स की आंख-कान होंगे, जो अपनी ओर से एक मध्यस्थ के रूप में अपनी जिम्मेदारी निभाएंगे।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

IMPACT Digital Power 100 के लिए शॉर्टलिस्ट हुए नाम, जूरी में शामिल रहे ये दिग्गज

‘इम्पैक्ट’ की ‘डिजिटल पावर100’ (Digital Power 100) लिस्ट के लिए मंगलवार को आयोजित जूरी मीट में नॉमिनीज को शॉर्टलिस्ट किया गया।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 21 October, 2020
Last Modified:
Wednesday, 21 October, 2020
IMPACT

एक्सचेंज4मीडिया (exchange4media) समूह की मीडिया, मार्केटिंग और एडवर्टाइजिंग क्षेत्र की जानी-मानी साप्ताहिक पत्रिका ‘इम्पैक्ट’ की ‘डिजिटल पावर100’ (Digital Power 100) लिस्ट के लिए मंगलवार को आयोजित जूरी मीट में नॉमिनीज को शॉर्टलिस्ट किया गया।

वर्चुअल रूप से हुई इस जूरी में ऐडवर्टाइजिंग, मार्केटिंग और मीडिया की जानी-मानी हस्तियां मौजूद रहीं। इस दौरान सम्मानित जूरी के समक्ष 200 नामों की लिस्ट रखी गई, जिसमें से 100 नामों को शॉर्टलिस्ट कर उन्हें विभिन्न मापदंडों के आधार पर रैंकिंग दी गई।  

‘IMPACT Digital Power 100’ का उद्देश्य डिजिटल दुनिया के ऐसे दिग्गजों की लिस्ट तैयार कर उन्हें सम्मानित करना है, जिन्होंने अपनी मेहनत के बल पर नई ऊंचाइयों को छुआ है और एक खास मुकाम हासिल किया है।

जूरी की अध्यक्षता ‘नैसकॉम’ (NASSCOM)  के पूर्व प्रेजिडेंट किरण कार्णिक ने की। जूरी में ‘Aditya Birla group’ के ग्रुप एग्जिक्यूटिव प्रेजिडेंट शिव शिवकुमार, ‘IVCA’ के प्रेजिडेंट रजत टंडन, ‘Cisco India’ के प्रेजिडेंट (India and SAARC) समीर गार्डे, ‘TiE India Angels’ के चेयरमैन (TiE Global) महावीर प्रताप शर्मा, ‘Nishith Desai Associates’ की पार्टनर गोवरी गोखले, ‘exchange4media & Business World’ के चेयरमैन और एडिटर-इन-चीफ डॉ. अनुराग बत्रा, ‘exchange4media’ के को-फाउंडर और डायरेक्टर नवल आहूजा और ‘exchange4media’ के प्रेजिडेंट सुनील कुमार बतौर सदस्य शामिल रहे।   

जूरी द्वारा 200 में से 100 लोगों को उनके द्वारा किए गए काम और डिजिटल मीडिया पर डाले गए उनके प्रभाव के आधार पर शॉर्टलिस्ट किया गया। इन नामों को शॉर्टलिस्ट करते समय जूरी ने इनके नेतृत्व में चले कैंपेन, नई लॉन्चिंग और एडवर्टाइजिंग को भी ध्यान में रखा।

इन चार प्रमुख मापदंडों के आधार पर शॉर्टलिस्ट किए गए नामः

-- Influence: The ability to personally influence the development of Digital Media in India, or to influence others in positions of authority

-- Leadership: Skills and experience to be viewed as a leader in the development of Digital Media

-- Potential: To create a significant impact on Digital media over the next 12 months

-- Achievements: Projects/Award-Winning Campaigns/Accomplishments that stand out

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

News18 को बाय बोल युवा खेल पत्रकार आकाश रावल ने नई दिशा में बढ़ाए कदम

युवा खेल पत्रकार आकाश रावल ने ‘न्यूज18’ (News18) को अलविदा कहकर नए सफर की शुरुआत की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 07 October, 2020
Last Modified:
Wednesday, 07 October, 2020
Akash Rawal

युवा खेल पत्रकार आकाश रावल ने ‘न्यूज18’ (News18) को अलविदा कह दिया है। उन्होंने अब हिंदी न्यूज चैनल ‘टीवी9 भारतवर्ष’ (TV9 Bharatvarsh) के साथ अपनी नई पारी शुरू की है। उन्होंने यहां पर बतौर स्पोर्ट्स हेड (डिजिटल) जॉइन किया है।  

बता दें कि आकाश रावल ‘न्यूज18’ में करीब डेढ़ साल से कार्यरत थे और बतौर स्पोर्ट्स हेड अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे। यही नहीं, उनके पास इस चैनल में करियर डेस्क की भी अतिरिक्त जिम्मेदारी थी। मूल रूप से दिल्ली के रहने वाले आकाश को पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का करीब 14 साल का अनुभव है। उन्होंने पत्रकारिता में अपने करियर की शुरुआत वर्ष 2006 में ‘दैनिक भास्कर’ लुधियाना से की थी।

हालांकि, वह यहां करीब एक वर्ष ही रहे और वर्ष 2007 में ‘दैनिक जागरण’ नोएडा के साथ अपने सफर को आगे बढ़ाया। करीब तीन साल बाद वह ‘दैनिक जागरण’ को बाय बोलकर ‘अमर उजाला’ नोएडा से जुड़ गए। यहां उन्होंने करीब नौ साल तक अपनी भूमिका निभाई। उनके पास स्पोर्ट्स डेस्क और फ्रंट पेज इंचार्ज की दोहरी जिम्मेदारी थी।

आकाश ने वर्ष 2019 में यहां से अलविदा बोलकर ‘न्यूज18’ में नए सफर की शुरुआत की। इसके बाद अब उन्होंने ‘टीवी9 भारतवर्ष’ जॉइन किया है। समाचार4मीडिया की ओर से आकाश रावल को नई पारी के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

asianetnews.com ने हासिल किया ये खास मुकाम

पिछले एक साल में पोर्टल के वीडियो व्यूज में भी दस गुना का इजाफा देखने को मिला है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 03 October, 2020
Last Modified:
Saturday, 03 October, 2020
Asinet Network

‘एशियानेट न्यूज नेटवर्क’ (Asianet News Network) की डिजिटल शाखा ‘एशियानेटन्यूज.कॉम’ (asianetnews.com) ने इस साल सितंबर के महीने में मंगलवार तक एक बिलियन से ज्यादा पेजव्यूज दर्ज किए हैं। अंग्रेजी, हिंदी, बांग्ला, मलयालम, तेलुगू, तमिल और कन्नड़ समेत सात भाषाओं वाले इस डिजिटल प्लेटफॉर्म की पिछले एक साल में जबर्दस्त ग्रोथ हुई है। पिछले तीन साल में साल दर साल (Y-o-Y) में इसका ग्रोथ रेट 100 प्रतिशत से ज्यादा बना हुआ है।    

(ComScore Mobile Metrix Ranking July 2020) के अनुसार, सितंबर 2019 के मुकाबले ‘एशियानेटन्यूज.कॉम’ के यूजर बेस में ढाई गुना और मंथली पेज व्यूज में तीन गुना ग्रोथ हुई है और यह देश के टॉप 10 डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म्स के क्लब में शामिल हो गया है। पिछले एक साल में इस प्लेटफॉर्म पर वीडियो व्यूज में भी 10 गुना का इजाफा हुआ है। यही नहीं, सोशल मीडिया चैनल्स जैसे-यूट्यूब और फेसबुक पर इसके सबस्क्राइबर्स की संख्या भी दोगुनी हो गई है।

इस बारे में ‘एशियानेट न्यूज नेटवर्क’ (Asianet News Network)  के सीईओ अभिनव खरे का कहना है, ‘एशियानेटन्यूज.कॉम के एक बिलियन मंथली पेज व्यूज डिजिटल क्रांति की दिशा में एक ऐतिहासिक कदम है। देश के नंबर 1 डिजिटल न्यूज प्लेटफॉर्म बनने की हमारी यात्रा में इस निर्णायक मोड़ पर पहुंचने के लिए मैं अपने पाठकों, रीडर्स, एजेंसियों और अन्य स्टेकहोल्डर्स का दिल से आभारी हूं, जिन्होंने हमारे ऊपर इतना भरोसा जताया। हम भरोसा दिलाते हैं कि अपनी तरफ से लगातार श्रेष्ठ प्रदर्शन करना जारी रखेंगे।’

‘एशियानेट न्यूज नेटवर्क’ के एग्जिक्यूटिव चेयरमैन राजेश कालरा का कहना है, ‘ऐसे समय में एशियानेट न्यूज परिवार का हिस्सा बनने पर मैं काफी उत्साहित हूं, जब डिजिटल विंग ने यह खास मुकाम हासिल किया है। चाहे टीवी हो, रेडियो हो और डिजिटल हो, एशियनेट न्यूज नेटवर्क लगातार ग्रोथ कर रहा है। हमने कई नेशनल इंग्लिश ब्रैंड्स को रीजनल होते हुए देखा है, लेकिन एशियानेट न्यूज नेटवर्क के रूप में हम रीजनल ब्रैंड से नेशनल की ओर बढ़ेंगे।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दायर किया हलफनामा, डिजिटल मीडिया को लेकर कही ये बात

‘सुदर्शन न्यूज’ के एक कार्यक्रम को लेकर पिछले कुछ दिनों से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। इस बीच कोर्ट के साथ-साथ देशभर में मीडिया के रेगुलेशन को लेकर बहस तेज हो गई है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 22 September, 2020
Last Modified:
Tuesday, 22 September, 2020
Digital Media

‘सुदर्शन न्यूज’ के एक कार्यक्रम को लेकर पिछले कुछ दिनों से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई चल रही है। इस बीच कोर्ट के साथ-साथ देशभर में मीडिया के रेगुलेशन को लेकर बहस तेज हो गई है। इन सबके बीच केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि डिजिटल मीडिया हिंसा और जहरीली नफरत फैला रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को दायर एक हलफनामे में सरकार का यह भी कहना है कि पूरी तरह अनियंत्रित डिजिटल मीडिया लोगों की प्रतिष्ठा को भी धूमिल कर रहा है।

जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़, जस्टिस इंदु मल्होत्रा और जस्टिस केएम जोसेफ की पीठ के समक्ष सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की ओर से दाखिल इस हलफनामे में कहा गया है कि डिजिटल मीडिया नियमन (रेगुलेशन) पर विधायिका को परीक्षण करना चाहिए। सिविल सेवा में अल्पसंख्यक समुदाय की घुसपैठ से संबंधित चैनल के विवादास्पद कार्यक्रम ‘यूपीएससी जेहाद’ से संबंधित मामले में दिए गए जवाब में सरकार ने कहा है कि प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लिए विनियमन की जरूरत नहीं है। अगर फिर भी अदालत को लगता है कि इनमें विनियमन की जरूरत है तो वह इसकी शुरुआत डिजिटल मीडिया से करें। इस मामले में अगली सुनवाई बुधवार को होगी।

हलफनामे के अनुसार, ‘शीर्ष अदालत को या तो प्रिंट व इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लिए नए दिशा-निर्देश बनाने की जिम्मेदारी विधायिका या सक्षम अथॉरिटी पर छोड़ देना चाहिए या उसे पहले डिजिटल मीडिया को नियंत्रित करने की कवायद करनी चाहिए।’

गौरतलब है कि पिछली सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने सरकार से पूछा था कि चैनलों के स्व विनियमन के नियम को और कैसे मजबूत किया जा सकता है। इस बारे में खंडपीठ का कहना था, ‘उसे किसी टीवी चैनल के लिए प्रोग्राम कोड का समर्थक नहीं बनना है, बल्कि उसे संविधान में निहित मानवीय गरिमा, स्वतंत्रता और समानता की रक्षा करना है। पीठ ने कहा कि यह एक दुर्लभ सांविधानिक शक्ति है, जिसे ज्यादा सावधानी से इस्तेमाल किया जाना चाहिए। हमारे अधिकार क्षेत्र का वहां इस्तेमाल नहीं होता जब वैकल्पिक नागरिक और व्यक्तिगत उपाय मौजूद हों।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

OTT प्लेटफॉर्म्स के लिए IAMAI के प्रस्तावित रेगुलेटरी मॉडल पर MIB को ऐतराज: रिपोर्ट

‘इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया’ को भेजे लेटर में सूचना प्रसारण मंत्रालय ने तमाम मुद्दों को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 22 September, 2020
Last Modified:
Tuesday, 22 September, 2020
MIB

‘इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया’ (IAMAI)  द्वारा देश में ‘ओवर द टॉप’ (OTT) प्लेटफॉर्म्स के लिए प्रस्तावित ‘स्व-नियामक मॉडल’ (self-regulatory model)  को सरकार ने अस्वीकार कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, एसोसिएशन को लिखे लेटर में सूचना-प्रसारण मंत्रालय ने कहा है कि वह इस प्रस्तावित मॉडल को सपोर्ट नहीं करेगा।

‘IAMAI’ द्वारा सूचना प्रसारण मंत्रालय से सपोर्ट के लिए किए गए आग्रह के जवाब में सरकार ने स्वतंत्र रूप से थर्ड पार्टी द्वारा मॉनीटिरिंग की कमी और मॉडल के नियम कायदों को लेकर चिंता जताई है। सरकार की ओर से यह भी कहा गया है कि प्रस्तावित मैकेनिज्म में निषिद्ध कंटेंट (prohibited content) को स्पष्ट रूप से परिभाषित नहीं किया गया है। ‘इंटरनेट एंड मोबाइल एसोसिएशन ऑफ इंडिया’ ने अपने प्रस्तावित मॉडल में सुप्रीम कोर्ट अथवा हाई कोर्ट के सेवानिवृत्त जज की अध्यक्षता में दो स्तरीय संरचना का सुझाव दिया था।

सरकार ने यह भी कहा है कि इस प्रस्तावित ‘स्व-नियामक मॉडल’ में निषिद्ध कंटेंट (prohibited content) का कोई वर्गीकरण नहीं है और ऑनलाइन क्यूरेटेड कंटेंट प्रोवाइडर्स (OCCPs) का एडवाइजरी पैनल पूर्व में प्रस्तावित ‘DCCP’ जैसे स्वतंत्र संगठन के विपरीत है। मंत्रालय ने इंगित किया है कि पैनल में सिर्फ एक स्वतंत्र मेंबर होने से वह अल्पमत में होंगे।

सरकार ने ऑनलाइन क्यूरेटेड कंटेंट प्रोवाइडर्स (OCCPs) से उनके कंटेंट को रेगुलेट करने के लिए फरवरी में नियामक निकाय (regulatory bodies) का गठन करने के लिए कहा था। इसके बाद ‘हॉटस्टार’, ‘जियो’, ‘वूट’ और ‘सोनीलिव’  जैसे प्लेटफॉर्म्स ने ‘डिजिटल क्यूरेटेड कंटेंट कंप्लेंट काउंसिल’ (DCCCC) का गठन किया था।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

TRAI ने ठुकराई OTT प्लेटफॉर्म को नए नियम कानून के दायरे में लाने की मांग, कही ये बात

‘टेलिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया’ ने तमाम स्तरों पर कंसल्टेशन प्रक्रिया के बाद ‘ओवर द टॉप’ प्लेटफॉर्म के लिए रेगुलेशन फ्रेमवर्क को लेकर अपनी सिफारिशें जारी कर दी हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 15 September, 2020
Last Modified:
Tuesday, 15 September, 2020
TRAI

‘टेलिकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया’ (TRAI) ने तमाम स्तरों पर कंसल्टेशन प्रक्रिया के बाद ‘ओवर द टॉप’ (OTT) प्लेटफॉर्म के लिए रेगुलेशन फ्रेमवर्क (regulatory framework for Over-The-Top (OTT) communication services) को लेकर अपनी सिफारिशें जारी कर दी हैं।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इन सिफारिशों में ट्राई का कहना है कि ओटीटी प्लेटफॉर्म के लिए फिलहाल रेगुलेटरी फ्रेमवर्क नहीं बनाया जाएगा। अगर भविष्य में इसकी जरूरत महसूस होती है, तब इसके बारे में कोई फैसला लिया जाएगा। इन सिफारिशों में यह भी कहा गया है कि वर्तमान में ओटीटी सेवाओं की गोपनीयता और सुरक्षा से जुड़े मुद्दों के संबंध में किसी भी नियामक हस्तक्षेप (regulatory interventions) की आवश्यकता नहीं है।

ट्राई ने साफ किया कि इस मामले में उस वक्त नए सिरे से विचार किया जाएगा, जब ‘इंटरनेशनल टेलिकम्युनिकेशन यूनियन’ (ITU) ओटीटी प्लेटफॉर्म को लेकर अपनी रिपोर्ट सौंपेगी और अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में ओटीटी प्लेटफॉर्म को लेकर ज्यादा स्पष्टता आएगी।

इससे पहले मोबाइल ऑपरेटर्स द्वारा ट्राई और सरकार से ओटीटी प्लेटफॉर्म के लिए एक रेगुलेटरी फ्रेमवर्क बनाने की मांग की गई थी। उनका कहना है कि ओटीटी कंपनियां नियम और कानून के दायरे में नही हैं और ग्राहकों को उनके ही नेटवर्क से मुफ्त में सर्विस प्रोवाइड कराती हैं, जिसकी वजह से उनकी कमाई पर असर पड़ रहा है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Netflix में बेला बजरिया का कद बढ़ा, अब मिली ये जिम्मेदारी

‘नेटफ्लिक्स’ (Netflix) में बेला बजरिया को प्रमोशन देकर अब नई जिम्मेदारी सौंपी गई है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 10 September, 2020
Last Modified:
Thursday, 10 September, 2020
Netflix

‘नेटफ्लिक्स’ (Netflix) में बेला बजरिया को प्रमोशन देकर अब वाइस प्रेजिडेंट (ग्लोबल टेलिविजन) की जिम्मेदारी सौंपी गई है। नेटफ्लिक्स के को-सीईओ टेड सारंडोस (Ted Sarandos) ने मंगलवार को यह घोषणा की है। बता दें कि बजरिया ने नेटफ्लिक्स में वर्ष 2016 में बतौर वाइस प्रेजिडेंट (Content Acquisition) के पद पर जॉइन किया था।

‘इंडियन मैचमेकिंग’(Indian Matchmaking), ‘सेक्रेड गेम्स’(Sacred Games) और ‘नेवर हैव आई’(Never Have I) जैसे लोकप्रिय शो के पीछे उनकी बहुत बड़ी भूमिका रही है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए