ABP News में पारी को विराम देकर पत्रकार वरुण कुमार ने इस दिशा में बढ़ाए कदम

अपने 17 साल के पत्रकारिता करियर में कई मीडिया संस्थानों में निभा चुके हैं जिम्मेदारी। एबीपी न्यूज के साथ उनकी यह दूसरी पारी थी

Last Modified:
Friday, 03 January, 2020
Varun Kumar

‘एबीपी न्यूज’ (ABP News) की डिजिटल विंग में काम कर रहे पत्रकार वरुण कुमार ने संस्थान को अलविदा कह दिया है। बताया जा रहा है कि उन्होंने कुछ व्यक्तिगत कारणों के चलते ये फैसला लिया है। वे अब लखनऊ पहुंच गए हैं, जहां से वो खुद का यूट्यूब चैनल शुरू करेंगे।

वरुण की ‘एबीपी न्यूज’ के साथ ये दूसरी पारी थी। इस बार 2017 से लेकर 2019 तक उन्होंने यहां अपनी सेवाएं दीं। इससे पहले 2010 से 2013 तक भी वे इस संस्थान से जुड़े रहे थे।

वरुण कुमार ‘एबीपी न्यूज’ की वेबसाइट की लॉन्चिंग टीम के मेंबर रहे हैं। इसके बाद 2014 में वे ‘अमर उजाला’ (डिजिटल) चले गए थे और 2015 में उन्होंने ‘हिन्दुस्तान’ की डिजिटल विंग का दामन थाम लिया था। इसके बाद 2017 में कुछ महीनों के लिए उन्होंने ‘यूसी न्यूज’ के लिए भी काम किया था।

उत्तर प्रदेश में बुलंदशहर के रहने वाले वरुण ने 17 सालों के पत्रकारिता करियर में करीब 10 साल डिजिटल में बिताए हैं, जबकि इससे पहले करीब सात साल वो रिपोर्टर रहे हैं। उन्होंने ‘न्यूज 24’ और ‘राष्ट्रीय सहारा’ के लिए रिपोर्टिंग की और कई बड़ी खबरों पर काम किया।

आप अपनी राय, सुझाव और खबरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। (हमें फेसबुक,ट्विटर, लिंक्डइन और यूट्यूब पर फॉलो करें)

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ऑनलाइन गेमिंग के भ्रामक विज्ञापनों पर MIB ने जताई चिंता, जारी की ये एडवाइजरी

सूचना प्रसारण मंत्रालय ने सभी निजी सैटेलाइट टीवी चैनल्स के लिए एक एडवाइजरी जारी की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 05 December, 2020
Last Modified:
Saturday, 05 December, 2020
Online Gaming

सूचना प्रसारण मंत्रालय ने सभी निजी सैटेलाइट टीवी चैनल्स के लिए एक एडवाइजरी जारी की है। इस एडवाइजरी में मंत्रालय ने इन टीवी चैनल्स से ऑनलाइन गेमिंग और फैंटेसी स्पोर्ट्स के विज्ञापनों के संबंध में 'ऐडवर्टाइजिंग स्‍टैंडर्ड्स काउंसिल ऑफ इंडिया (ASCI) की गाइडलाइंस का पालन करने के लिए कहा है।

ऑनलाइन गेमिंग पर ‘भ्रामक’ विज्ञापनों को लेकर चिंता जताते हुए मंत्रालय ने सभी टीवी चैनल्स से कहा है कि वे आय के अवसर या वैकल्पिक रोजगार विकल्प के तौर पर ऐसे विज्ञापन दिखाने से बचें।

मंत्रालय का कहना है कि ऑनलाइन गेमिंग और फैंटेसी स्पोर्ट्स पर बड़ी संख्या में विज्ञापन टीवी चैनल्स पर नजर आ रहे हैं। मंत्रालय के अनुसार, ऐसे विज्ञापन भ्रामक प्रतीत होते हैं, जो उपभोक्ताओं को वित्तीय और अन्य जोखिमों से सही रूप से अवगत नहीं कराते हैं। यह केबल टेलिविजन नेटवर्क्स (रेगुलेशन) एक्ट 1995 और कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट 2019 के तहत निर्धारित विज्ञापन संहिता के अनुरूप नहीं हैं।

मंत्रालय का कहना है कि तमाम विचार विमर्श के बाद निर्णय लिया गया है कि विज्ञापनों के पारदर्शी होने और कंज्यूमर्स की सुरक्षा सुनिश्चित करने के तहत एडवर्टाइजर्स और ब्रॉडकास्टर्स के लिए ‘ASCI’ द्वारा जारी गाइडलाइंस का पालन करना जरूरी है। ‘ASCI’ ने इन गाइडलाइंस को 15 दिसंबर 2020 से प्रभावी किए जाने का प्रस्ताव रखा है।

मंत्रालय का कहना है, ‘सभी बॉडकास्टर्स को सलाह दी जाती है कि वे ‘ASCI’ द्वारा जारी गाइडलाइंस का पालन करें। यह भी सुनिश्चित किया जाये कि विज्ञापन ऐसी किसी भी गतिविधि को बढ़ावा नहीं देने वाले हों जो विधि या कानून द्वारा निषिद्ध हैं।’

ऑनलाइन गेमिंग, फैंटेसी स्पोर्ट्स के विज्ञापनों को लेकर जारी ASCI की गाइडलाइंस को आप यहां देख सकते हैं।

: No gaming advertisement can depict a person below the age of 18, engaging in a game of online gaming for real money win or suggesting that such persons can play these games.

: Gaming advertisements should carry disclaimers on the fact that the game involves an element of financial risk, maybe addictive and that users should play at their own risk.

: Ads should occupy no less than 20% of the space in the print ads.

: In the case of audio or visual programmes, the disclaimer must be placed in normal speaking pace at the end of the advertisement, it must be in the same language as the advertisement, and play out in both audio and visual formats.

: The advertisements should not present ‘online gaming for real money winnings’ as an income opportunity or as an alternative employment option.

: The ads should also not suggest that a person engaged in gaming activity is more successful as compared to others.

: Broadcasters should also ensure that online gaming advertisements do not promote any activity prohibited by statute or law.

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार सूर्य प्रकाश ने अब इस मीडिया समूह के साथ शुरू किया नया सफर

युवा पत्रकार सूर्य प्रकाश ने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ समूह के हिंदी न्यूज पोर्टल ‘जनसत्ता .कॉम’(jansatta.com) से इस्तीफा दे दिया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Friday, 04 December, 2020
Last Modified:
Friday, 04 December, 2020
Surya Prakash

युवा पत्रकार सूर्य प्रकाश ने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ समूह के हिंदी न्यूज पोर्टल ‘जनसत्ता .कॉम’(jansatta.com) से इस्तीफा दे दिया है। यहां वह करीब एक साल से कार्यरत थे और बतौर असिस्टेंट एडिटर अपनी जिम्मेदारी संभाल रहे थे।

सूर्य प्रकाश ने अब  ‘हिन्दुस्तान’ की न्यूज वेबसाइट (livehindustan.com) के साथ अपना नया सफर शुरू किया है। उन्होंने यहां पर भी बतौर असिस्टेंट एडिटर जॉइन किया है। मूल रूप से रायबरेली (उत्तर प्रदेश) के रहने वाले सूर्यप्रकाश को मीडिया के क्षेत्र में काम करने का करीब आठ साल का अनुभव है।

सूर्य प्रकाश ने पत्रकारिता में अपने करियर की शुरुआत हिमाचल प्रदेश से पब्लिश होने वाले अखबार ‘दिव्य हिमाचल’ से की थी। इसके बाद उन्होंने यहां से बाय बोलकर ‘अमर उजाला’ जॉइन कर लिया था। बाद में उन्होंने यहां से इस्तीफा देकर डिजिटल की ओर रुख करते हुए ‘नवभारत टाइम्स’ (Navbharat Times) जॉइन कर लिया था। ‘नवभारत टाइम्स’ की डिजिटल विंग में करीब साढ़े चार साल बिताने के बाद ‘जनसत्ता’ होते हुए अब वह ‘हिन्दुस्तान’ पहुंचे हैं।

पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो सूर्य प्रकाश ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया है। उन्होंने हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएशन किया है। समाचार4मीडिया की ओर से सूर्य प्रकाश को उनकी नई पारी के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘आजतक’ को अलविदा कहकर युवा पत्रकार अंकिता वर्मा ने शुरू की नई पारी

युवा पत्रकार अंकिता वर्मा ने ‘आजतक’ में करीब एक साल लंबी अपनी पारी को विराम देकर नए सफर की शुरुआत की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 03 December, 2020
Last Modified:
Thursday, 03 December, 2020
Ankita Verma

युवा पत्रकार अंकिता वर्मा ने ‘आजतक’ को बाय बोल दिया है। वह ‘आजतक’ की डिजिटल विंग में करीब एक साल से बतौर सीनियर सब एडिटर कार्यरत थीं और यहां यूट्यूब चैनल्स का काम संभालती थीं।अंकिता वर्मा ने अपनी नई पारी की शुरुआत अब ‘टीवी9 भारतवर्ष’ (TV9 Bharatvarsh) की डिजिटल विंग के साथ की है। यहां पर वह सोशल मीडिया की जिम्मेदारी संभालेंगी।

मूल रूप से भोपाल (मध्य प्रदेश) की रहने वालीं अंकिता को मीडिया के क्षेत्र में काम करने का करीब आठ साल का अनुभव है। उन्होंने पत्रकारिता में अपने करियर की शुरुआत भोपाल में ‘ईटीवी’ के साथ की थी। यहां पर करीब तीन साल तक अपनी जिम्मेदारी निभाने के बाद उन्होंने यहां से अपनी पारी को विराम देकर ‘न्यूज18’ के साथ नई शुरुआत की।

वह ‘न्यूज18’ में करीब चार तक रहीं और फिर वहां से इस्तीफा देकर ‘आजतक’ आ गईं। अब उन्होंने यहां से बाय बोलकर ‘टीवी9 भारतवर्ष’ जॉइन किया है। समाचार4मीडिया की ओर से अंकिता वर्मा को उनकी नई पारी के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

आजतक को बाय बोलकर नए सफर पर निकले युवा पत्रकार दीपक कुमार

हिंदी न्यूज चैनल ‘आजतक’ से युवा पत्रकार दीपक कुमार ने इस्तीफा दे दिया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Thursday, 03 December, 2020
Last Modified:
Thursday, 03 December, 2020
Deepak Kumar

हिंदी न्यूज चैनल ‘आजतक’ से युवा पत्रकार दीपक कुमार ने इस्तीफा दे दिया है। वह करीब ढाई साल से आजतक की ऑनलाइन विंग में चीफ सब एडिटर के पद पर कार्यरत थे और बिजनेस व ऑटो सेक्शन की कमान संभाल रहे थे।

दीपक कुमार ने अपने नए सफर की शुरुआत अब ‘इंडियन एक्सप्रेस’ समूह के साथ की है। यहां वह बिजनेस डेस्क की जिम्मेदारी संभालेंगे। मूल रूप से सीवान (बिहार) के रहने वाले दीपक कुमार को मीडिया के क्षेत्र में काम करने का करीब आठ साल का अनुभव है। पूर्व में वह दैनिक भास्कर, अमर उजाला और ​हिन्दुस्थान समाचार जैसे बड़े संस्थानों में काम कर चुके हैं।

दीपक ने दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन और हिमाचल यूनिवर्सिटी से पोस्ट ग्रेजुएशन की पढ़ाई की है। समाचार4मीडिया की ओर से दीपक कुमार को नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

फेसबुक और गूगल जैसी कंपनियों पर कुछ इस तरह रखी जाएगी ‘नजर’

यह नियामक संस्था अप्रैल तक बनने की संभावना है, जो एडवर्टाइजिंग के लिए पर्सनल डाटा के इस्तेमाल पर नजर रखेगी।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 28 November, 2020
Last Modified:
Saturday, 28 November, 2020
Digital

‘यूनाइटेड किंगडम’ (UK) ने फेसबुक और गूगल जैसी कंपनियों पर निगरानी रखने के लिए एक नियामक संस्था (regulatory body) गठित करने का फैसला लिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, यह नियामक संस्था अप्रैल तक बनने की संभावना है।

इस कदम का उद्देश्य इस बात पर ध्यान देना है कि ये कंपनियां किस तरह से वैयक्तिक एडवर्टाइजिंग (personalised advertising) के लिए निजी डाटा (personal data) का इस्तेमाल कर रही हैं। बताया जाता है कि इसके लिए यूके की ‘कंप्टीशन और मार्केटिंग अथॉरिटी’ (Competition and Markets Authority) के तहत एक इकाई (unit) की स्थापना की जाएगी।

ब्रिटेन ने कहा है कि लोगों के पास अब विकल्प होगा कि वे वैयक्तिक विज्ञापन (personalised advertising) देखना चाहते हैं अथवा नहीं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

43 और मोबाइल ऐप्स को केंद्र सरकार ने किया बैन, देखें लिस्ट

43 और मोबाइल ऐप्स को केंद्र सरकार ने बैन कर दिया है। इन सभी ऐप्स पर इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी ऐक्ट के सेक्शन 64A के तहत कार्रवाई की गई है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 25 November, 2020
Last Modified:
Wednesday, 25 November, 2020
Mobile

भारत की रक्षा, सुरक्षा और संप्रभुता के लिए खतरा बन रही 43 और मोबाइल ऐप्स को केंद्र सरकार ने बैन कर दिया है। इन सभी ऐप्स पर इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी ऐक्ट के सेक्शन 64A के तहत कार्रवाई की गई है।

केंद्र सरकार ने इस बार जिन 43 मोबाइल ऐप्स पर बैन लगाया है, उनमें स्नैक वीडियो समेत कई पॉप्युलर ऐप शामिल हैं। जिन 43 ऐप्स पर बैन लगाया गया है, उनमें चीन के अलीबाबा ग्रुप से जुड़े कई ऐप्स और पॉप्युलर गेम्स तक शामिल हैं। बैन ऐप्स की लिस्ट में  बैन किए गए ऐप्स की पूरी लिस्ट (43 Chinese Apps banned in India List) भी जारी हो गई है। इस लिस्ट में ज्यादातर डेटिंग ऐप्स हैं।

केंद्र सरकार की ओर से शेयर किए गए ऑफिशल स्टेटमेंट में कहा गया है कि सरकार को ऐसे इनपुट्स मिले थे कि ये ऐप्स भारत की एकता और अखंडता, भारत की सुरक्षा, स्टेट सिक्यॉरिटी और पब्लिक ऑर्डर को नुकसान पहुंचाने वाली ऐक्टिविटीज में शामिल थे। मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स ऐंड इन्फॉर्मेशन टेक्नॉलजी की ओर से इन ऐप्स का ऐक्सेस भारतीय यूजर्स के लिए बंद करने के ऑर्डर्स दिए गए हैं।

इससे पहले सरकार ने जून महीने में 59 चाइनीज ऐप्स पर बैन लगाया था और इसके बाद सितंबर में भी 118 ऐप्स को बैन किया गया था।

बैन किए गए 43 ऐप्स की पूरी लिस्ट यहां देखें-

AliSuppliers Mobile App
Alibaba Workbench
AliExpress – Smarter Shopping, Better Living
Alipay Cashier
Lalamove India – Delivery App
Drive with Lalamove India
Snack Video
CamCard – Business Card Reader
CamCard – BCR (Western)
Soul- Follow the soul to find you
Chinese Social – Free Online Dating Video App & Chat
Date in Asia – Dating & Chat For Asian Singles
WeDate-Dating App
Free dating app-Singol, start your date!
Adore App
TrulyChinese – Chinese Dating App
TrulyAsian – Asian Dating App
ChinaLove: dating app for Chinese singles
DateMyAge: Chat, Meet, Date Mature Singles Online
AsianDate: find Asian singles
FlirtWish: chat with singles
Guys Only Dating: Gay Chat
Tubit: Live Streams
WeWorkChina
First Love Live- super hot live beauties live online
Rela – Lesbian Social Network
Cashier Wallet
MangoTV
MGTV-HunanTV official TV APP
WeTV – TV version
WeTV – Cdrama, Kdrama&More
WeTV Lite
Lucky Live-Live Video Streaming App
Taobao Live
DingTalk
Identity V
Isoland 2: Ashes of Time
BoxStar (Early Access)
Heroes Evolved
Happy Fish
Jellipop Match-Decorate your dream island!
Munchkin Match: magic home building
Conquista Online II

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

HuffPost India के बारे में आई ये बड़ी खबर

कंपनी की ओर से इस बारे में एक स्टेटमेंट जारी किया गया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 25 November, 2020
Last Modified:
Wednesday, 25 November, 2020
HUFFPOST

‘हफपोस्ट इंडिया’ (HuffPost India) ने भारत में अपना परिचालन (India operations) बंद कर दिया है। यह प्लेटफॉर्म 24 नवंबर के बाद उपलब्ध नहीं होगा। कंपनी की ओर से इस बारे में एक स्टेटमेंट जारी किया गया है। 

इस स्टेटमेंट में कहा गया है, ’24 नवंबर से ‘हफपोस्ट इंडिया’ कंटेंट पब्लिश नहीं करेगा। ग्लोबल कंटेंट के लिए HuffPost.com पर जाएं। हम आपके सपोर्ट और रीडरशिप के लिए धन्यवाद करते हैं।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

ZEE5 इंडिया में इस बड़े पद से तरुण कात्याल ने दिया इस्तीफा

कात्याल ने नवंबर 2016 में ZEE5 में जॉइन किया था। इससे पहले वह बिग एफएम के फाउंडर सीईओ रह चुके हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 18 November, 2020
Last Modified:
Wednesday, 18 November, 2020
Tarun Katial

'जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेज लिमिटेड’ (ZEEL) की ओटीटी सर्विस ‘ZEE5’ (Zee5) इंडिया के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर तरुण कात्याल ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। कंपनी की ओर से जारी बयान के अनुसार, संस्थान में बतौर प्रेजिडेंट (Digital Businesses & Platforms) अमित गोयनका अन्य डिजिटल प्लेटफॉर्म्स के साथ ZEE5 की टीम का नेतृत्व करना जारी रखेंगे।    

कात्याल ने नवंबर 2016 में ZEE5 में जॉइन किया था। मुंबई यूनिवर्सिटी से एमबीए कात्याल ने अपने करियर की शुरुआत में Saatchi, Enterprise Nexus Lowe and Ogilvy & Mather के साथ काम किया था।

इसके बाद वह स्टार नेटवर्क चले गए और फिर उन्होंने यहां से बाय बोलकर सोनी एंटरनेटमेंट में बतौर बिजनेस हेड अपनी जिम्मेदारी निभाई। ZEE5 को जॉइन करने से पहले वह ‘बिग एफएम’ के फाउंडर सीईओ भी रह चुके हैं।  

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

OTT प्लेटफॉर्म लॉन्च करने की दिशा में प्लेनेट मराठी व Vistas Media Capital ने उठाया ये कदम

सिंगापुर की कंटेंट मीडिया और एंटरटेनमेंट इन्वेस्टमेंट होल्डिंग कंपनी ‘विस्तास मीडिया कैपिटल’ (Vistas Media Capital) ने ‘प्लेनेट मराठी’ (Planet Marathi) के साथ पार्टनरशिप की है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 17 November, 2020
Last Modified:
Tuesday, 17 November, 2020
Planet Marathi

सिंगापुर की कंटेंट मीडिया और एंटरटेनमेंट इन्वेस्टमेंट होल्डिंग कंपनी ‘विस्तास मीडिया कैपिटल’ (Vistas Media Capital) ने ‘प्लेनेट मराठी’ (Planet Marathi) के साथ पार्टनरशिप की है। इस पार्टनरशिप का उद्देश्य मराठी कंटेंट पर केंद्रित ओवर द टॉप प्लेटफॉर्म (OTT) शुरू करना है। जल्द ही लॉन्च होने वाले इस ओटीटी प्लेटफॉर्म का लक्ष्य विभिन्न जॉनर्स (genres) के साथ विश्व स्तर पर 100 मिलियन टार्गेट ग्रुप (TG) को पूरा करना है।

इस पार्टनरशिप के तहत प्लेनेट मराठी की योजना एडवांस टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से विभिन्न डिवाइसेज पर लगातार स्ट्रीमिंग के लिए बेहतर, समकालीन और विविध प्रकार का कंटेंट डिलीवर करना है। ‘विस्तास मीडिया कैपिटल’ वेंचर में स्ट्रैटेजिक इक्विटी के लिए प्लेनेट मराठी में पांच मिलियन तक अमेरिकी डॉलर का निवेश करेगी।  

इस पार्टनरशिप के बारे में ‘विस्तास मीडिया कैपिटल’ के ग्रुप सीईओ अभयानंद सिंह का कहना है, ‘भारतीय ओटीटी क्षेत्र पिछले कुछ वर्षों में काफी बढ़ गया है, लेकिन रीजनल क्षेत्र में अभी भी काफी गुंजाइश है। इस प्लेटफॉर्म को लॉन्च करने के लिए प्लेनेट मीडिया के साथ पार्टनरशिप को लेकर हम बहुत उत्साहित हैं।’

वहीं, प्लेनेट मराठी के हेड और फाउंडर अक्षय बरदापुरकर का कहना है, ‘टेलिविजन अथवा अन्य प्लेटफॉर्म्स पर कुछ शो अथवा मूवीज को छोड़कर मराठी दर्शक आज अपनी मूल भाषा में डिजिटल मनोरंजन से वंचित हैं। ऐसे में मराठी ओटीटी प्लेटफॉर्म इस शून्य को भरने का काम करेगा। हमने ग्लोबल स्तर पर भी अपनी पहुंच बढ़ाने की योजना बनाई है और इस दिशा में पहला कदम उठाने के लिए विस्तास मीडिया कैपिटल बिल्कुल सही पार्टनर है। हम विस्तास मीडिया कैपिटल के साथ लंबी पार्टनरशिप करने के लिए तत्पर हैं।’

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

डिजिटल मीडिया में FDI पॉलिसी के अनुपालन के लिए MIB ने जारी किए यह दिशानिर्देश

डिजिटल न्यूज मीडिया संस्थानों में 26 प्रतिशत ‘प्रत्यक्ष विदेशी निवेश’ के मामले में ‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ ने 18 सितंबर 2019 को जारी सरकारी आदेश के अनुपालन के लिए पब्लिक नोटिस जारी किया है।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Monday, 16 November, 2020
Last Modified:
Monday, 16 November, 2020
MIB

डिजिटल न्यूज मीडिया संस्थानों में 26 प्रतिशत ‘प्रत्यक्ष विदेशी निवेश’ (FDI) के मामले में ‘सूचना प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) ने 18 सितंबर 2019 को जारी सरकारी आदेश के अनुपालन के लिए समाचार और समसामयिक मामलों की अपलोडिंग/स्ट्रीमिंग में लगे डिजिटल न्यूज मीडिया संस्थानों को एक माह का समय दिया है।

इस बारे में सोमवार को जारी एक पब्लिक नोटिस में मंत्रालय ने पात्र संस्थाओं द्वारा एक माह के भीतर इस आदेश के अनुपालन के तहत उठाए जाने वाले कदमों की जानकारी दी है। इस पब्लिक नोटिस के अनुसार, 26 प्रतिशत से कम विदेशी निवेश वाली संस्थाओं को आज से एक महीने के भीतर तमाम पहलुओं को लेकर सूचना- प्रसारण मंत्रालय को सूचना देनी होगी।

यह भी पढ़ें: डिजिटल मीडिया में 26 प्रतिशत विदेशी निवेश की अनुमति, जानिए फायदे

ऐसी संस्थाएं जो वर्तमान में 26प्रतिशत से अधिक विदेशी निवेश वाली इक्विटी संरचना हैं, उन्हें एक महीने के भीतर सूचना-प्रसारण मंत्रालय को विवरण देना होगा और 15 अक्टूबर तक विदेशी निवेश को 26 प्रतिशत तक लाने के लिए आवश्यक कदम उठाने होंगे। वहीं, नए विदेशी निवेश की इच्छुक इकाइयों को केंद्र सरकार से पूर्व अनुमति लेनी होगी। प्रत्येक इकाई को निदेशक मंडल अथवा मुख्य कार्यकारी अधिकारियों की नागरिकता संबंधी नियमों का पालन करना होगा।

बता दें कि सूचना-प्रसारण मंत्रालय द्वारा 18 सितंबर 2019 को केंद्र की तरफ से डिजिटल न्यूज मीडिया को 26 फीसदी एफडीआई की इजाजत दी गई थी। यही नहीं, पिछले दिनों ही सरकार ऑनलाइन न्यूज प्लेटफॉर्म्स और कंटेंट प्रोवाइडर्स को ‘सूचना-प्रसारण मंत्रालय’ (MIB) के दायरे में ले आई है। इसके लिए सरकार की ओर से अधिसूचना जारी कर दी गई है। नौ नवंबर को जारी इस अधिसूचना के अनुसार, राष्ट्रपति ने वेब फिल्म्स, डिजिटल न्यूज और करेंट अफेयर्स कंटेंट को सूचना प्रसारण मंत्रालय के अधीन लाने के आदेश को मंजूरी दे दी है।

एमआईबी की ओर से इस बारे में किए गए ट्वीट को आप यहां देख सकते हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए