होम / विचार मंच / ‘जहां काम करना पत्रकार का सपना होता था, उसे राष्ट्रद्रोही कहा जा रहा है मिस्टर मीडिया’

‘जहां काम करना पत्रकार का सपना होता था, उसे राष्ट्रद्रोही कहा जा रहा है मिस्टर मीडिया’

जिस एजेंसी का नाम लेते ही हम मीडिया के लोग गर्व से भर जाते थे, वह अब राष्ट्रद्रोही ठहराई जा रही है। पीटीआई हिंदुस्तान ही नहीं, समूचे संसार में सबसे बड़े नेटवर्क वाली संस्थाओं में से एक है।

राजेश बादल 1 year ago

राजेश बादल, वरिष्ठ पत्रकार।।  

जिस एजेंसी का नाम लेते ही हम मीडिया के लोग गर्व से भर जाते थे, वह अब राष्ट्रद्रोही ठहराई जा रही है। ‘प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया’, हिंदुस्तान ही नहीं, समूचे संसार में सबसे बड़े नेटवर्क वाली संस्थाओं में से एक है। एशिया में तो यह संस्था अव्वल नंबर पर है। इस संस्था में काम करना किसी जमाने में एक पत्रकार का सपना हुआ करता था। लेकिन भारत सरकार की ओर से पोषित प्रसार भारती ने चंद रोज पहले उसे चीनी राजदूत के साक्षात्कार को लेकर देशद्रोही होने का प्रमाणपत्र दे दिया है। पत्रकारिता से जुड़े संस्थान, समाचारपत्र और खबरिया टीवी चैनल इस खबर के बाद बड़े असहज हैं।

दरअसल, आजादी से बीस बरस पहले एसोसिएशन प्रेस ऑफ इंडिया का गठन हुआ था। तब यह रॉयटर की हिंदुस्तानी शाखा की तरह काम करती थी। स्वतंत्रता मिलने के बाद 1949 में देश के समाचारपत्रों ने विदेशी स्वामित्व का जुआ उतार फेंका और इसे खरीद लिया। देखते ही देखते यह संसार की चुनिंदा समाचार एजेंसियों में शुमार हो गई। भारत आज दुनिया में अपनी आवाज को पल भर के भीतर पहुंचाने में सक्षम है तो उसके पीछे पीटीआई का बहुत बड़ा हाथ है। मुझे याद है कि कारगिल जंग में हमारी समाचार कथाएं इस संस्था की बदौलत ही विश्व में सहानुभूति और समर्थन बटोर रही थीं। पाकिस्तान के पास ऐसी कोई प्रतिष्ठित संस्था नहीं है। इसका उसे हरदम खामियाजा उठाना पड़ा है।

मुझे याद है कि बांग्लादेश युद्ध के समय श्रीमती इंदिरा गांधी ने संस्था के अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क का बेहद चतुराई से उपयोग किया था। दुनिया भर के देशों के सामने पाकिस्तान की हकीकत उजागर हो गई थी। उस समय के पूर्वी पाकिस्तान (आज का बांग्लादेश) में पश्चिमी पाकिस्तान की सेना के जुल्मों की कहानियां पीटीआई के मार्फत ही संसार के करोड़ों लोगों तक पहुंची थीं। देखते ही देखते विश्व जनमत भारत के पक्ष में हो गया था। इससे पूर्व मई 1971 से नवंबर तक हिंदुस्तान आए लाखों बांग्लादेशी शरणार्थियों की मार्मिक और लोमहर्षक दास्तानें पीटीआई ने संसार को सुनाईं तो लोग हक्के बक्के रह गए। राष्ट्रहित में प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया के संवाददाताओं ने जोखिम उठाकर पत्रकारिता की है।

1962 के चीन युद्ध, 1965 के पाकिस्तान युद्ध, बांग्लादेश युद्ध, एशियाड, गुट निरपेक्ष देशों के सम्मेलन, परमाणु परीक्षण, अंतरिक्ष अभियान, कारगिल युद्ध और कॉमनवेल्थ खेलों के शानदार कवरेज की बदौलत इस संस्था ने संसार में तिरंगा लहराया है। आज उसी संस्था को पत्रकारिता के मापदंडों का पालन करने पर देशद्रोही ठहराया जा रहा है। एक संस्था देश का नाम रौशन करती है, उस संस्था से अगर काम लेना नहीं आए तो क्या कहा जाए? नाच न जाने आंगन टेढ़ा इसी को कहते हैं।

भारतीय पत्रकारिता इन दिनों संक्रमण काल का सामना कर रही है। इन दिनों व्यवस्था या व्यवस्था से संबद्ध किसी प्रतीक संगठन को जब पत्रकारिता का काम रास नहीं आता तो उसे देशद्रोही या गद्दारी का प्रमाणपत्र दिया जाने लगा है। अभी तक व्यक्तियों को ही देशद्रोही ठहराया जा रहा था। अब ऐतिहासिक और विश्वस्तरीय संस्थाओं को भी राष्ट्रद्रोही बताया जाने लगा है। भय होने लगा है। क्या इस मुल्क में देशद्रोहियों के अलावा और भी कोई भारतीय नागरिक शेष है, जो देशद्रोही नहीं है। अगर ऐसा है तो फिर इस आरोप से दुखी क्यों होना चाहिए मिस्टर मीडिया!

वरिष्ठ पत्रकार राजेश बादल की 'मिस्टर मीडिया' सीरीज के अन्य कॉलम्स आप नीचे दी गई हेडलाइन्स पर क्लिक कर पढ़ सकते हैं-

मिस्टर मीडिया: धुरंधर संपादक परदे के पीछे के समीकरण क्यों नहीं समझते?

सियासत ने हमें आपस में लड़ने के लिए चाकू-छुरे दे ही दिए हैं मिस्टर मीडिया!

मिस्टर मीडिया: इसलिए भी डराती है लोकतंत्र के चौथे खंभे पर लटकी यह तलवार

पिछले दिनों पत्रकारों के साथ हुए अभद्र व्यवहार का असल कारण भी यही है मिस्टर मीडिया!


टैग्स राजेश बादल प्रसार भारती पीटीआई मिस्टर मीडिया प्रेस ट्रस्ट ऑफ इंडिया राष्ट्रद्रोह
सम्बंधित खबरें

यह गंभीर सच परदे पर पत्रकारिता करने वालों को समझना पड़ेगा मिस्टर मीडिया!

अजीब सा नजारा था। अरसे बाद या शायद पहली बार मीडिया के अनेक अवतार पिछले दिनों इस तरह विलाप करते दिखाई दिए।

4 days ago

कंटेंट के मामले में चैनलों व अखबारों को सतर्क और संवेदनशील होने की जरूरत है मिस्टर मीडिया

विडंबना तो यह है कि इस झूठ को दबंगी के साथ फैलाने के बाद लोकतंत्र के कमोबेश सारे प्रतीकों की खामोशी रहस्यमय है। एक अपात्र से पद्म सम्मान वापस लेने का साहस भी नहीं दिखाया गया।

1 week ago

सियासत में गलत फैसलों की भरपाई नहीं होती: राजेश बादल

सियासत की भी अपनी मनोवैज्ञानिक समझ होती है। यह कला प्रत्येक राजनेता को यूं ही हासिल नहीं होती। वर्षो की कठिन साधना के बाद ही यह हुनर प्राप्त होता है।

09-November-2021

मिस्टर मीडिया: यह कैसा मानसिक दिवालियापन हमारे इस पेशे में दाखिल हो गया है

आर्यन प्रसंग बीते दिनों मीडिया में छाया रहा। बॉलीवुड के एक सुपरस्टार का बेटा होने के कारण अखबारों, टीवी चैनलों और डिजिटल माध्यमों के तमाम रूपों में खबर तो बननी थी।

03-November-2021

इंदिरा गांधी की हत्या से एक सप्ताह पहले वह आखिरी मुलाकात: राजेश बादल

उन दिनों मैं इंदौर की नई दुनिया में सह संपादक था। उन्नीस सौ चौरासी का साल था। एक दिन संपादक जी ने बुलाया।

01-November-2021


बड़ी खबरें

iTV Network ने विस्तार की दिशा में बढ़ाया एक और कदम, लॉन्च की यह न्यूज वेबसाइट

देश के बड़े न्यूज ब्रॉडकास्टर्स में शुमार ‘आईटीवी नेटवर्क’ (iTV Network) ने अपने विस्तार की दिशा में एक और कदम बढ़ाते हुए कन्नड़ भाषा में न्यूज वेबसाइट लॉन्च की है।

1 day ago

IT समिति की फेसबुक इंडिया के अधिकारियों के साथ बैठक, इन मुद्दों पर होगी चर्चा

कांग्रेस नेता शशि थरूर की अध्यक्षता वाली सूचना एवं प्रौद्योगिकी संबंधी संसद की स्थायी समिति ने 29 नवंबर को फेसबुक से जुड़े कुछ प्रतिनिधियों को अहम मुद्दों पर चर्चा के लिए बुलाया है।

1 day ago

झारखंड में पत्रकारों को मिलेगी ये बड़ी सौगात, प्रस्ताव मंजूर

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने यहां के पत्रकारों को एक बड़ी सौगात दी है। दरअसल, झारखंड में कार्यरत मीडियाकर्मियों को स्वास्थ्य बीमा योजना से जोड़ने की घोषणा की गयी है।

1 day ago

IT मंत्री डॉ. अश्विनी वैष्णव बोले, तय हो सोशल मीडिया पर सामग्री की जिम्मेदारी

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. अश्विनी वैष्णव ने गुरुवार को कहा कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स और वेबसाइट्स पर डाली जाने वाली सामग्री की जिम्मेदारी 'स्पष्ट रूप से परिभाषित' की जानी चाहिए।

1 day ago

जानें, किस मार्केट में कौन सा FM रेडियो बना श्रोताओं की पहली पसंद

देश के चार बड़े शहरों दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और बेंगलुरु के लिए वर्ष 2021 के 40वें हफ्ते से 43वें हफ्ते के बीच की ‘रेडियो ऑडियंस मीजरमेंट’ (RAM) रेटिंग्स जारी हो गई हैं।

1 day ago