चुनाव में मीडिया के लिए यह काम करने की होगी मनाही, जारी हुए निर्देश

लोकसभा चुनावों को लेकर चुनाव आयोग ने कड़ा रुख अख्तियार कर रखा है

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 10 April, 2019
Last Modified:
Wednesday, 10 April, 2019
Media

लोकसभा चुनावों को लेकर चुनाव आयोग ने कड़ा रुख अख्तियार कर रखा है। आयोग चाहता है कि चुनाव में किसी तरह से भी नियमों का उल्लंघन नहीं हो। इसी के तहत दिल्ली के विशेष मुख्य निर्वाचन अधिकारी की ओर से सभी न्यूज ब्यूरो, मीडिया हाउसेज, रेडियो और टेलिविजन आदि के लिए दिशा निर्देश भी जारी किए गए हैं। इस सार्वजनिक सूचना के जरिये एक्जिट/ओपिनियन पोल पर प्रतिबंध की जानकारी दी गई है।

इस सूचना में कहा गया है कि भारत निर्वाचन आयोग की दिनांक 07 अप्रैल, 2019 की अधिसूचना संख्या 576/एक्जिट/2019/एसडीआर-खंड1 के अनुसार प्रिंट या इलेक्ट्रानिक मीडिया या किसी भी अन्य तरीके से एक्जिट पोल, ओपिनियन पोल या किसी भी अन्य चुनाव सर्वेक्षण के परिणामों पर प्रतिबंध रहेगा।

सूचना के अनुसार, 11 अप्रैल को सुबह सात बजे से 19 मई की शाम साढ़े छह बजे के बीच की अवधि में किसी भी प्रकार के एक्जिट पोल का संचालन तथा प्रिंट या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया द्वारा इसका प्रकाशन व प्रचार अथवा किसी भी अन्य तरीके से उसके प्रसार पर प्रतिबंध रहेगा।

इस सूचना में यह भी स्पष्ट किया गया है कि लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम, 1951 की धारा (1) (ख) के अधीन उपर्युक्त साधारण निर्वाचनों तथा उप निर्वाचनों के संबंध में संबंधित मतदान क्षेत्रों में मतदान की समाप्ति के लिए नियत समय के साथ समाप्त होने वाले 48 घंटों की अवधि के दौरान मीडिया द्वारा किसी भी प्रकार के निर्वाचन संबंधी मामले का कोई भी ओपिनियन पोल या अन्य किसी पोल सर्वे के परिणामों का प्रदर्शन करने पर प्रतिबंध रहेगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

वरिष्ठ पत्रकार पंकज पाराशर फिर चुने गए ‘नोएडा मीडिया क्लब’ के अध्यक्ष

चुनाव में पंकज पाराशर के पैनल ने सभी पदों पर दर्ज की जीत, नोएडा के सेक्टर-29 गंगा शॉपिंग कंपलेक्स में स्थित है नोएडा मीडिया क्लब

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Wednesday, 26 January, 2022
Last Modified:
Wednesday, 26 January, 2022
Noida Media Club

‘नोएडा मीडिया क्लब‘ (Noida Media Club) की नई कार्यकारिणी के लिए पिछले बुधवार को चुनाव संपन्न हो गया है। वरिष्ठ पत्रकार पंकज पाराशर एक बार फिर नोएडा मीडिया क्लब के अध्यक्ष चुने गए हैं। पंकज पाराशर 100 वोटों से जीते हैं। इस बार संस्था के मौजूदा अध्यक्ष पंकज पाराशर का पैनल और दानिश अजीज का पैनल चुनाव लड़ रहे थे, जिसमें दानिश अजीज पैनल को हार का सामना करना पड़ा है।

चुनाव अधिकारी एलबी सिंह ने बताया कि 324 पत्रकार वोटर लिस्ट में शामिल थे। इनमें से 295 वोटरों ने मतदान किया। 243 वोटरों ने नोएडा मीडिया क्लब में बनाए गए मतदान केंद्र पर वोटिंग की और 45 पत्रकारों ने पोस्टल बैलेट का उपयोग किया। एलबी सिंह ने बताया कि सुबह 10:00 बजे नोएडा मीडिया क्लब के मतदान केंद्र में वोटिंग शुरू करवाई गई। निर्धारित वक्त 4:00 बजे तक निर्बाध रूप से मतदान किया गया। कुल 91.04% वोटिंग हुई। बता दें कि नोएडा मीडिया क्लब नोएडा के सेक्टर-29 गंगा शॉपिंग कंपलेक्स में स्थित है।

पंकज पाराशर के पैनल से उपाध्यक्ष पद पर भूपेंद्र चौधरी, महासचिव पद पर विनोद राजपूत, कोषाध्यक्ष पद पर मनोज कुमार भाटी और कार्यकारिणी सदस्य के रूप में आंचल यादव, राजकुमार और सौरव कुमार राय ने चुनाव लड़ा। दूसरे पैनल में अध्यक्ष पद पर दानिश अजीज, उपाध्यक्ष पद पर जयप्रकाश सिंह, महासचिव पद पर अमित कुमार चौधरी, कोषाध्यक्ष पद पर कुलदीप सिंह, कार्यकारणी सदस्य के लिए हिमांशु शुक्ला, मनोज वत्स और पवन त्रिपाठी चुनाव लड़ रहे थे। दानिश अजीज को इस चुनाव में हार का सामना करना पड़ा है।

बताया जाता है कि जीतने वाले पैनल में पंकज पाराशर को 198 वोट, भूपेंद्र चौधरी को 185, विनोद राजपूत को 192, मनोज कुमार भाटी को 191, राजकुमार को 167, सौरव कुमार राय को 205 और आंचल यादव को 184 वोट मिले। वहीं, हारने वाले पैनल में दानिश अजीज को 98 वोट, जयप्रकाश को 108, अमित कुमार को 106, कुलदीप सिंह को 100, हिमांशु शुक्ला को 106, मनोज वत्स को 88 और पवन त्रिपाठी को 104 वोट मिले।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

राष्ट्रपति का अपमान करने पर जानी-मानी महिला पत्रकार को जेल

तुर्की की एक जानी-मानी महिला पत्रकार को जेल भेज दिया गया है। बताया जा रहा है कि राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन का ऑन एयर अपमान करने के आरोप में वहां की एक अदालत ने यह कार्रवाई की है।

Last Modified:
Monday, 24 January, 2022
TurkishAnchor532

तुर्की की एक जानी-मानी महिला पत्रकार को जेल भेज दिया गया है। बताया जा रहा है कि राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन का ऑन एयर अपमान करने के आरोप में वहां की एक अदालत ने यह कार्रवाई की है।

पुलिस ने शनिवार रात 2:00 बजे जानी-मानी पत्रकार सेडेफ कबास (Sedef Kabas) को इस्तांबुल स्थित उनके घर से हिरासत में लिया गया है। अदालत में पेश होने के बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

बता दें कि तुर्की में राष्ट्रपति का अपमान करने के अपराध में एक से चार साल तक की जेल की सजा का प्रावधान है। लेकिन हैरत की बात यह है कि तुर्की की अदालत ने मुकदमा चलाए बिना ही उन्हें जेल भेजने का आदेश दिया है।

कबास पर आरोप है कि उन्होंने विपक्ष से जुड़े एक टीवी चैनल पर लाइव कार्यक्रम के दौरान एक कहावत के जरिए तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन को टारगेट किया था।  

आरोप है कि कबास ने टेली1 चैनल पर कहा था, 'एक बहुत प्रसिद्ध कहावत है कि जिसके सिर पर ताज होता है वह समझदार हो जाता है। लेकिन जैसा कि हम देख रहे हैं यह सच नहीं है।'  उन्होंने कहा कि एक बैल के महल में घुसने से वह राजा नहीं बन जाता, बल्कि महल खेत बन जाता है। कबास ने बाद में इस कहावत को ट्विटर पर भी पोस्ट किया था।  

वहीं, एर्दोगन के मुख्य प्रवक्ता फहार्टिन अल्टुन ने महिला पत्रकार की टिप्पणियों को 'गैर-जिम्मेदाराना' बताया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, 'एक तथाकथित पत्रकार एक टीवी चैनल पर हमारे राष्ट्रपति का खुले तौर पर अपमान कर रहा है, जिसका सिवाय नफरत फैलाने के कोई दूसरा लक्ष्य नहीं है।'

अपने अदालती बयान में कबास ने राष्ट्रपति का अपमान करने के इरादे से इनकार किया। टेली1 चैनल के एडिटर मर्डन यानरदाग ने कबास की गिरफ्तारी का विरोध किया है। उन्होंने कहा कि एक कहावत के लिए रात को 2 बजे उनकी गिरफ्तारी अस्वीकार्य है। यह रवैया पत्रकारों, मीडिया और समाज को डराने का एक प्रयास है।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

धर्मेंद्र चंदेल फिर चुने गए ग्रेटर नोएडा प्रेस क्लब के अध्यक्ष

शनिवार को अध्यक्ष पद व कार्यकारिणी के लिए हुए चुनाव में धर्मेंद्र चंदेल पैनल के सभी सात उम्मीदवारों को भारी मतों से जीत मिली।

Last Modified:
Monday, 24 January, 2022
Greater Noida Press Club

दैनिक जागरण नोएडा-ग्रेटर नोएडा के ब्यूरो चीफ धर्मेंद्र चंदेल को एक बार फिर ग्रेटर नोएडा प्रेस क्लब का अध्यक्ष चुना गया है। शनिवार को अध्यक्ष पद व कार्यकारिणी के लिए हुए चुनाव में धर्मेंद्र चंदेल पैनल के सभी सात उम्मीदवारों को भारी मतों से जीत मिली।

चुनाव परिणाम के बाद धर्मेंद्र चंदेल को अध्यक्ष पद के अलावा नई कार्यकारिणी में महासचिव कपिल शर्मा, उपाध्यक्ष बृजेश भाटी व तरुण भड़ाना, कोषाध्यक्ष विशाल दुबे को चुना गया है। इसके अलावा  कार्यकारिणी सदस्यों में नरेंद्र ठाकुर व रूपेंद्र सिंह शामिल हैं।

बता दें कि इन चुनावों में संस्था के मौजूदा अध्यक्ष धर्मेंद्र चंदेल और नरेंद्र भाटी का पैनल चुनाव लड़ रहे थे। चुनाव अधिकारी देवेंद्र सिंह, श्यामवीर चावड़ा और राजेश भाटी ने बताया कि 106 पत्रकार वोटर लिस्ट में शामिल थे। इनमें से 99 वोटरों ने मतदान किया। इन चुनावों में धर्मेंद्र चंदेल को 77 जबकि विपक्षी पैनल के नरेंद्र भाटी को 21 वोट मिले। मतगणना में सुनील पांडेय और रोहित प्रियदर्शनी मौजूद रहे।

समाचार4मीडिया की ओर से धर्मेंद्र चंदेल और उनकी टीम के सभी सदस्यों को जीत की शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

देश में आज समाधान परक पत्रकारिता की जरूरत: प्रो. संजय द्विवेदी

समाधानपरक पत्रकारिता के लिए राष्ट्रीय अभियान का शुभारंभ। यह अभियान साल भर चलाया जाएगा।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 22 January, 2022
Last Modified:
Saturday, 22 January, 2022
Pro Sanjay Dwivedi

‘भारतीय जनसंचार संस्थान’ (IIMC) के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी ने समाधान परक पत्रकारिता (Solution Based Journalism) की जरूरत पर बल दिया है। उनका कहना है कि मीडिया समाचारों में समस्या के साथ-साथ समाधान पर भी बात करे। इससे बेहतर समाज का निर्माण संभव हो सकेगा। आजादी के अमृत महोत्सव के अवसर पर ब्रह्माकुमारीज द्वारा समाधान परक पत्रकारिता के लिए चलाए जा रहे राष्ट्रीय अभियान का शुभारंभ करते हुए प्रो. द्विवेदी ने यह विचार व्यक्त किए। यह अभियान साल भर चलाया जाएगा।

प्रो. द्विवेदी के अनुसार पश्चिमी देशों में नकारात्मक खबरों को प्रमुखता से स्थान दिया जाता रहा है, जिसका अनुसरण भारतीय मीडिया ने भी किया है। हमारे देश में शास्त्रार्थ करके किसी समस्या का समाधान निकालने की परंपरा रही है। हमारी संस्कृति में समस्या से ज्यादा समाधान पर ध्यान दिया जाता है। समाज में बदलाव और समृद्ध भारत के स्वप्न को साकार करने के लिए मीडिया को प्रमुखता से अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी।

‘आईआईएमसी‘ के महानिदेशक ने कहा कि वर्तमान समय में जब समाज और परिवार संकट में हैं, तब मीडिया की जिम्मेदारी ज्यादा बढ़ गई है। आज मीडिया को परिवार में संस्कार निर्माण एवं समाज को शिक्षित करने का काम करना चाहिए। मीडिया के माध्यम से समाज को और बेहतर बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि श्रेष्ठ समाज के निर्माण से श्रेष्ठ राष्ट्र का निर्माण होगा। इसके लिए मीडिया और पूरे समाज को लोकमंगल की भावना से समाधान परक पत्रकारिता करनी होगी।

इस दौरान ब्रह्माकुमारीज की सहयोगी संस्था राजयोग एजुकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन की मीडिया विंग के अध्यक्ष बीके करुणा भाई ने कहा कि ब्रह्माकुमारीज संस्थान अपनी स्थापना के समय से ही एक विश्व, एक ईश्वर, एक परिवार की थीम के साथ कार्य कर रहा है। संस्थान द्वारा शुरू किए गए राष्ट्रीय अभियान के तहत पत्रकारों को समाधान परक पत्रकारिता की ओर अग्रसर करने का प्रयास किया जाएगा।

कार्यक्रम में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय, भोपाल के कुलपति प्रो. केजी सुरेश, राजयोग एजुकेशन एंड रिसर्च फाउंडेशन के कार्यकारी सचिव बीके मृत्युंजय भाई, मीडिया विंग के उपाध्यक्ष बीके आत्म प्रकाश भाई, नेशनल को-ऑर्डिनेटर बीके सुशांत भाई और फाउंडेशन के जनसंपर्क अधिकारी बीके कोमल ने भी अपने विचार साझा किए।

इस अवसर पर ओम शांति पत्रिका के संपादक बीके गंगाधर भाई को डॉक्टरेट की मानद उपाधि मिलने पर विशेष रूप से सम्मानित किया गया। मीडिया विंग में वर्षों से सेवाएं दे रहे वरिष्ठ पदाधिकारियों का भी शॉल और स्मृति चिह्न भेंटकर सम्मान किया गया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

नेताजी ने आजाद हिंद रेडियो पर गांधीजी को कहा था पहली बार 'राष्ट्रपिता' : प्रो. कृपाशंकर

आईआईएमसी की ओर से आयोजित 'शुक्रवार संवाद' कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे ‘महात्माप गांधी अंतरराष्ट्री य हिंदी विश्वबविद्यालय’, वर्धा में जनसंचार विभाग के अध्यक्ष प्रो. कृपाशंकर चौबे

Last Modified:
Friday, 21 January, 2022
IIMC Friday Dialogue

‘महात्‍मा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हिंदी विश्‍वविद्यालय’, वर्धा में जनसंचार विभाग के अध्यक्ष प्रो. कृपाशंकर चौबे ने भारतबोध को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की पत्रकारिता का बुनियादी तत्व बताते हुए कहा है कि नेताजी के क्रांतिकारी विचार और उनकी राष्ट्रीय विचारधारा आज भी प्रासंगिक है। ‘भारतीय जनसंचार संस्थान’ (आईआईएमसी) द्वारा शुक्रवार को आयोजित कार्यक्रम 'शुक्रवार संवाद' में प्रो. चौबे ने कहा कि 1942 में नेताजी ने 'आजाद हिंद रेडियो' की स्थापना की। छह जुलाई 1944 को इसी रेडियो से नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने पहली बार महात्मा गांधी के लिए 'राष्ट्रपिता' संबोधन का प्रयोग किया।

'नेताजी की पत्रकारिता में भारतबोध' विषय पर अपने विचार व्यक्त करते हुए प्रो. चौबे ने कहा कि सुभाष चंद्र बोस ने अपनी पत्रकारिता का उद्देश्य पूर्ण स्वाधीनता के लक्ष्य से जोड़ रखा था। स्वाधीनता की लक्ष्यपूर्ति के लिए उन्होंने अखबार के साथ-साथ रेडियो का भी उपयोग किया। 1941 में 'रेडियो जर्मनी' से नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने भारतीयों के नाम संदेश में कहा था, ''तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हें आजादी दूंगा।'

प्रो. चौबे के अनुसार, देश को नई ऊर्जा देने वाले नेताजी भारत के उन महान स्वतंत्रता सेनानियों में से थे, जिनसे आज के दौर का युवा वर्ग भी प्रेरणा लेता है। उनके द्वारा दिया गया 'जय हिंद' का नारा पूरे देश का राष्ट्रीय नारा बन गया। नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने अपने विचारों से लाखों लोगों को प्रेरित किया। नेताजी कहा करते थे कि अगर हमें भारत को सशक्त बनाना है, तो हमें सही दृष्टिकोण अपनाने की जरूरत है और इस कार्य में युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है।

कार्यक्रम के दौरान प्रो. चौबे ने कहा कि आजाद हिंद सरकार की स्थापना के समय नेताजी ने शपथ लेते हुए एक ऐसा भारत बनाने का वादा किया था, जहां सभी के पास समान अधिकार हों और समान अवसर हों। समाज के प्रत्‍येक स्‍तर पर देश का संतुलित विकास, प्रत्‍येक व्‍यक्ति को राष्‍ट्र निर्माण का अवसर और राष्ट्र की प्रगति में उसकी भूमिका, नेताजी के विजन का एक अहम हिस्‍सा था। नेताजी का मानना था कि सच्चा पुरुष वही होता है, जो हर परिस्थिति में नारी का सम्मान करता है। यही कारण था कि महिला सशक्तिकरण का एक अनूठा उदाहरण प्रस्तुत करते हुए उन्होंने आजाद हिंद फौज में रानी झांसी रेजीमेंट की स्थापना की थी।

इस अवसर पर 'आईआईएमसी' के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी भी विशेष रूप से उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन कविता शर्मा ने किया एवं स्वागत भाषण हिंदी पत्रकारिता विभाग के पाठ्यक्रम निदेशक प्रो. (डॉ.) आनंद प्रधान ने दिया। धन्यवाद ज्ञापन डीन (अकादमिक) प्रो. (डॉ.) गोविंद सिंह ने किया।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पत्रकार के इस सवाल पर हंसते हुए बोले अखिलेश यादव, आपके चैनल में किसका लगा है पैसा?

चुनाव प्रचार में व्यस्त सपा प्रमुख अखिलेश यादव अक्सर मीडिया को घेरते और कटाक्ष करते भी देखे जा रहे हैं।

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Tuesday, 18 January, 2022
Last Modified:
Tuesday, 18 January, 2022
akhileshyadav546

पांच राज्यों में विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान होने के बाद से राजनैतिक माहौल गर्म है। इस बीच सभी की नजरें उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव पर हैं, क्योंकि राजनीतिक लिहाज से यूपी बेहद अहम राज्य है। ऐसे में यहां राजनीतिक दलों में जुबानी जंग और तेज हो गई है। लगभग सभी राजनीतिक पार्टियां मतदाताओं को लुभाने के लिए किसी तरह की कसर नहीं छोड़ रहीं। इस बीच उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में तमाम टीवी चैनल्स के पत्रकारों ने डेरा जमा रखा है और अपने-अपने मंचों पर राजनीतिक दलों के नेताओं से तमाम मुद्दों पर बातचीत कर रहे हैं। दरअसल, चुनाव आयोग ने आचार संहिता लागू करने के साथ ही रैलियों आदि पर रोक लगा दी है, सिर्फ वर्चुअल रैली की इजाजत है। ऐसे में तमाम नेता मीडिया के माध्यम से ही आज जनमानस से रूबरू हो रहे हैं।

इस बीच चुनाव प्रचार में व्यस्त सपा प्रमुख अखिलेश यादव अक्सर मीडिया को घेरते और कटाक्ष करते भी देखे जा रहे हैं। चाहे वह किसी बड़े मंच पर हों या फिर अपने चुनावी रथ पर। हाल ही में ‘आजतक’ न्यूज चैनल के मंच पर इंटरव्यू के दौरान ‘ईमानदार पत्रकार’ कहकर जब अखिलेश ने एंकर अंजना ओम कश्यप पर कटाक्ष करने की कोशिश की थी, तो दोनों में तीखी नोंक-झोंक देखने को मिली थी। लेकिन इस बार अखिलेश यादव ने एक न्यूज और उसके पत्रकार पर तंज कसा है।  

ताजा मामला अखिलेश यादव की प्रेस कांफ्रेंस से जुड़ा है, जहां वे बीजेपी का नाम लेकर एक न्यूज चैनल और उससे जुड़े पत्रकार का मजाक उड़ाते हुए दिखाई दे रहे हैं। उनका ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और लोग इस पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं।

पत्रकार प्रभाकर मिश्र ने अपने ट्विटर हैंडल से अखिलेश यादव का ये वीडियो शेयर किया है। इस वीडियो में अखिलेश पार्टी के कई नेताओं के साथ एक पत्रकार वार्ता में बैठे हुए दिखाई दे रहे हैं। इसी दौरान एक टीवी पत्रकार अखिलेश यादव से कुछ सवाल पूछने की कोशिश करते हैं, तो अखिलेश उल्टा उन्हीं से सवाल करने लगते हैं।

अखिलेश यादव पत्रकार से सवाल पूछते हैं, ‘किस चैनल से हो?’ चैनल का नाम लेते हुए उन्होंने कहा,  'ये चैनल तो बीजेपी का है, इसमें किसका इन्वेस्टमेंट है? बता भी दिया करो, इसमें क्या है… सभी कह रहे हैं कि बीजेपी का है...’ इसके बाद वे पत्रकार से कहते हैं, ‘बीजेपी के खिलाफ सवाल पूछ रहे हो? तुम्हारी नौकरी चली जाएगी।’ वहीं इस बीच वहां मौजूद तमाम लोग ठहाके लगाते हैं।

अखिलेश यादव के इस बर्ताव पर तमाम लोग सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।  कुछ लोग आलोचना कर रहे हैं तो कुछ अखिलेश यादव पर तंज कस रहे हैं।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दुनिया को अलविदा कह गए वरिष्ठ पत्रकार सैम राजप्पा

राजा राम मोहन राय पुरस्कार से सम्मानित वरिष्ठ पत्रकार सैम राजप्पा का रविवार को कनाडा में निधन हो गया।

Last Modified:
Monday, 17 January, 2022
sam546878

राजा राम मोहन राय पुरस्कार से सम्मानित वरिष्ठ पत्रकार सैम राजप्पा का रविवार को कनाडा में निधन हो गया। वह 82 साल के थे और उनके परिवार में दो बेटे हैं।

मद्रास रिपोर्टर्स गिल्ड ने सैम के निधन पर दुख जताया, जिनके करियर का महत्वपूर्ण समय चेन्नई में व्यतीत हुआ था।

गिल्ड ने कहा राजप्पा का निधन कनाडा स्थित उनके बेटे के आवास पर हुआ।

गिल्ड ने कहा कि 1975-77 के बीच आपातकाल के दौरान केरल में इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र पी राजन के मौत की खबर की कवरेज के बाद राजप्पा को प्रसिद्धि मिली थी।

राजप्पा ने फ्री प्रेस जर्नल के साथ 1960 में अपने करियर की शुरुआत की थी। वह 1962 के बाद से ‘द स्टेट्समैन’ के साथ जुड़े रहे।

नवंबर 2017 में उन्हें प्रतिष्ठित राजा राम मोहन राय पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

टाइम्स ऑफ इंडिया से हुई बड़ी गलती, ट्वीट कर मांगी माफी

पत्रकार राजीव शर्मा के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने बड़ी कार्यवाही की है। इसी बीच अखबार ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ से एक बड़ी गलती हो गई।

Last Modified:
Sunday, 16 January, 2022
TOI

पत्रकार राजीव शर्मा के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय ने बड़ी कार्यवाही की है। दरअसल चीन के एजेंट को इंडियन आर्मी से जुड़े सीक्रेट दस्तावेज देने वाले पत्रकार राजीव शर्मा की 48 लाख रुपए से अधिक की प्रॉपर्टी अटैच कर ली है। आपको बता दे कि ED ने राजीव शर्मा के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के तहत पहले ही केस दर्ज किया था।

फ्रीलांस पत्रकार राजीव शर्मा को दिल्ली पुलिस ने 19 सितंबर,2020 को ऑफिशियल सीक्रेट एक्ट के तहत गिरफ्तार किया था। आरोपी पत्रकार राजीव के साथ पुलिस ने उसके दो विदेशी साथियों को भी गिरफ्तार किया था, जिनमें एक नेपाल का नागरिक है और दूसरी चीनी महिला है।

इसी बीच अखबार ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ से एक बड़ी गलती हो गई। दरअसल अखबार ने भी इस खबर का प्रकाशन किया, लेकिन अखबार ने खबर प्रकाशित करते समय पत्रकार राजीव शर्मा की जगह गलती से केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर की फोटो का इस्तेमाल कर दिया।

जैसे ही संस्थान को इसके बारे में पता चला, उन्होंने तुरंत ट्वीट करके इस बाबत माफी भी मांगी है। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, आज अखबार के कुछ संस्करणों में अनजाने में संस्थान द्वारा केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर की तस्वीर का इस्तेमाल किया गया है, जिसके लिए उन्हें खेद है। ट्वीट में केंद्रीय मंत्री को टैग करके माफी मांगी गई है।

टाइम्स ऑफ इंडिया के इस ट्वीट को केंद्रीय मंत्री राजीव चंद्रशेखर ने रीट्वीट भी किया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

चीनी जासूसी मामले में पत्रकार के खिलाफ ED का कड़ा एक्शन, कुर्क की संपत्ति

चीनी खुफिया अधिकारियों को कथित रूप से गोपनीय और संवेदनशील जानकारी प्रदान करने के आरोपी फ्रीलॉन्स पत्रकार राजीव शर्मा के खिलाफ ‘प्रवर्तन निदेशालय‘ (ED) ने कड़ा एक्शन लिया है।

Last Modified:
Sunday, 16 January, 2022
Rajeev Sharma

चीनी खुफिया अधिकारियों को कथित रूप से गोपनीय और संवेदनशील जानकारी प्रदान करने के आरोपी फ्रीलॉन्स पत्रकार राजीव शर्मा के खिलाफ ‘प्रवर्तन निदेशालय‘ (ED) ने कड़ा एक्शन लिया है। ED ने पत्रकार राजीव शर्मा की 48 लाख रुपए से अधिक की प्रॉपर्टी अटैच कर ली है। ED ने राजीव शर्मा के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग( Prevention of Money Laundering Act PMLA) के तहत मामला दर्ज किया था।

ईडी ने एक बयान में कहा कि राजधानी दिल्ली के पीतमपुरा इलाके में स्वतंत्र पत्रकार राजीव शर्मा की संपत्ति कुर्क करने के लिए प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत एक अस्थायी आदेश जारी किया गया है।

पिछले साल जुलाई में एजेंसी द्वारा गिरफ्तार किए गए शर्मा को पिछले सप्ताह दिल्ली हाई कोर्ट ने इस मामले में जमानत दे दी थी। वहीं, इससे पहले 17 जुलाई 2021 को पटियाला हाउस कोर्ट ने राजीव शर्मा की मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में जमानत याचिका खारिज कर दी थी।

एजेंसी ने कहा कि उसकी जांच में पाया गया कि शर्मा ने धन के बदले चीनी खुफिया अधिकारियों को गोपनीय और संवेदनशील जानकारी की उपलब्ध कराई थी, जिससे देश की सुरक्षा और राष्ट्रीय हितों से समझौता किया गया था।

राजीव शर्मा को यह रकम महिपालपुर स्थित एक शेल कंपनी द्वारा प्रदान की जा रही थी, जिसे एक नेपाली नागरिक शेर सिंह उर्फ ​​राज बोहरा और झांग चेंग उर्फ ​​सूरज, झांग लिक्सिया उर्फ ​​उषा और किंग शी जैसे चीनी नागरिक चला रहे थे।

ईडी ने बयान में कहा कि यह चीनी कंपनी राजीव शर्मा जैसे व्यक्तियों को रकम प्रदान करने के लिए चीनी खुफिया एजेंसियों के लिए एक कड़ी के रूप में काम कर रही थी। उसने दावा किया कि रकम का भुगतान नकद जमा के साथ ही नकद भुगतान के माध्यम से किया जा रहा था।   

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

MCU और MESC ने मिलकर इस दिशा में बढ़ाए कदम

‘एमसीयू‘ के कुलपति प्रो. केजी सुरेश और ‘एमईएससी‘ के सीईओ मोहित सोनी ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए

समाचार4मीडिया ब्यूरो by
Published - Saturday, 15 January, 2022
Last Modified:
Saturday, 15 January, 2022
MOU

पत्रकारिता एवं संचार के क्षेत्र में पाठ्यक्रम अद्यतन, कौशल विकास और विद्यार्थियों को रोजगार के अवसर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से ‘माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय’ (MCU) और ‘मीडिया एंड एंटरटेनमेंट स्किल काउंसिल, नई दिल्ली (MESC) के मध्य करार (एमओयू) हुआ है।

‘एमसीयू‘ के कुलपति प्रो. केजी सुरेश और ‘एमईएससी‘ के सीईओ मोहित सोनी ने एमओयू पर हस्ताक्षर किए। कुलपति प्रो. सुरेश ने कहा कि इस एमओयू का लाभ विश्वविद्यालय और उससे संबद्ध अध्ययन संस्थाओं के विद्यार्थियों को मिलेगा।

प्रो. केजी सुरेश ने कहा कि मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर एमईएससी के साथ हुए एमओयू के माध्यम से हम पत्रकारिता एवं संचार के क्षेत्र में हो रहे नवाचारों से विद्यार्थियों को जोड़ने का प्रयास करेंगे। इस एमओयू का उद्देश्य मीडिया शिक्षा को और अधिक उन्नत करना है। ‘एमईएससी‘ के विषय विशेषज्ञों के साथ मिलकर मीडिया के विद्यार्थियों के अनुकूल नए पाठ्यक्रम विकसित किए जाएंगे, ताकि मीडिया क्षेत्र की वर्तमान और भविष्य की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए विद्यार्थियों को शिक्षित किया जाए। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय से संबद्ध लगभग 1600 संस्थाओं के विद्यार्थियों के कौशल उन्नयन के लिए भी पाठ्यक्रम विकसित किए जाएंगे। मध्यप्रदेश के सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थी इन संस्थाओं के विद्यार्थी हैं।

प्रो. सुरेश ने कहा कि इसके साथ ही ‘एमईएससी‘ के माध्यम से विद्यार्थियों को मीडिया से जुड़े विविध क्षेत्रों में रोजगार दिलाने के भी प्रयास होंगे। साथ ही विद्यार्थियों को उद्यमी बनाने पर भी ध्यान दिया जाएगा। इस अवसर पर ‘एमईएससी‘ के सीईओ मोहित सोनी ने कहा कि यह एमओयू एक मील का पत्थर साबित होगा।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए