नए IT नियमों के खिलाफ वरिष्ठ पत्रकार निखिल वागले ने दायर की याचिका, जताई ये आपत्ति

सूचना प्रौद्योगिकी कानून (आईटी एक्ट) के तहत डिजिटल मीडिया के नियंत्रण को लेकर तय किए गए नियमों के खिलाफ वरिष्ठ पत्रकार निखिल वागले ने बॉम्बे हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की है।

Last Modified:
Friday, 02 July, 2021
NikhilWagle454

सूचना प्रौद्योगिकी कानून (आईटी एक्ट) के तहत डिजिटल मीडिया के नियंत्रण को लेकर तय किए गए नियमों के खिलाफ वरिष्ठ पत्रकार निखिल वागले ने बॉम्बे हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की है। वरिष्ठ पत्रकार ने आरोप लगाया है कि केंद्र द्वारा जारी सूचना और प्रौद्योगिकी (आईटी) अधिनियम के तहत अधिसूचित किए गए दिशा-निर्देश व नियम भारत के संविधान के अनुच्छेद 14, 19 और 21 के तहत मिले मौलिक अधिकारों के विपरीत हैं और ओटीटी प्लेटफॉर्म्स के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करते हैं, क्योंकि यह नियम कार्यपालिका से जुड़े अधिकारियों को असीम व मनमानीपूर्ण अधिकार प्रदान करते हैं।

याचिका में आरोप लगाया गया है कि सरकार के पास डिजिटल मीडिया और ओटीटी प्लेटफॉर्म को नियंत्रित करने का अधिकार नहीं है।

याचिका में कहा गया है कि केंद्र सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) अधिनियम में नए नियम बनाए तो हैं, लेकिन न तो धारा 87 और न ही आईटी अधिनियम संपूर्ण रूप से केंद्र सरकार और सूचना-प्रसारण मंत्रालय को डिजिटल न्यूज मीडिया व ओटीटी प्लेटफॉर्म्स को नियंत्रित या विनियमित करने का अधिकार देता है। इस लिहाज से सरकार की ओर से डिजिटल मीडिया को नियंत्रित करने को लेकर सरकार की ओर से अधिसूचित किए गए नियम मनमानीपूर्ण व सुप्रीम कोर्ट की ओर से दिए गए फैसले के खिलाफ हैं।

पत्रकार निखिल वागले ने आपत्ति जताते हुए कहा कि नए नियमों के तहत सोशल मीडिया मध्यस्थों पर कथित ‘साइबर सुरक्षा’ के मामलों की ‘उत्पत्ति का पता’ लगाने के लिए सरकारी एजेंसियों को अनुमति देने के साथ ही बलात्कार, बाल यौन शोषण या गलत आचरण आदि को दर्शाने वाली किसी भी सामग्री को पहचानने और सेंसर करने की जिम्मेदारी थोपी जा रही है।

याचिका में पत्रकार वागले ने कहा है कि ‘एंड टू एंड एन्क्रिप्शन’ के कारण वर्तमान समय में अंतिम उपयोगकर्ता या श्रोत का पता लगाना सम्भव नहीं है। नए नियमों के तहत थोपी गई जिम्मेदारियां ‘स्रोत’ की पहचान की खातिर उपयोगकर्ताओं के संदेश पढ़ने के लिए ‘सोशल मीडिया मध्यसथों’ को बाध्य करते हैं। वागले ने तर्क दिया कि यह गोपनीयता के मौलिक अधिकारों का हनन होगा।

पत्रकार वागले के अनुसार, महामारी के दौरान अनुचित जल्दबाजी और सभी हितधारकों के पर्याप्त परामर्श किए बिना ही नए नियम थोपना सरकार की मंशा पर सवाल खड़ा करता है।

याचिका एडवोकेट अभय नेवगी के जरिए दायर की गई है। आईटी एक्ट जांच एजेंसियों को अतिरिक्त शक्तियां देता है और एक तरह से उन्हें संबंधित मीडिया पर कार्रवाई करने की शक्ति देता है। इसके गंभीर परिणाम होने की संभावना है, जिसमें धार्मिक या मानहानि के लिए सीधे आपराधिक मुकदमा चलाना शामिल है। याचिका में यह भी दावा किया गया है कि जांच अधिकारियों को यह तय करने की शक्ति दी जाएगी कि क्या सही है और क्या गलत। याचिका पर अगले हफ्ते सुनवाई होने की उम्मीद है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

न्यूज नेशन के डिजिटल प्लेटफॉर्म पर शुरू हुआ ये नया शो, अनुराग दीक्षित करेंगे होस्ट

देश में लाखों करोड़ों ऐसे दर्शक हैं, जो ‘तू तू मैं मैं’ वाली बहस नहीं बल्कि जरूरी मुद्दों की हकीकत समझना चाहते हैं।

Last Modified:
Saturday, 02 July, 2022
fact-files545

देश में लाखों करोड़ों ऐसे दर्शक हैं, जो ‘तू तू मैं मैं’ वाली बहस नहीं बल्कि जरूरी मुद्दों की हकीकत समझना चाहते हैं। जो नेताओं के दावे नहीं बल्कि सच्चाई बताते आंकड़ें जानना चाहते हैं। ऐसे ही दर्शकों को ध्यान में रखकर ‘न्यूज नेशन’ ने अपने यू-ट्यूब समेत डिजिटल प्लेटफॉर्म पर नया शो लॉन्च किया है जिसका नाम है- ‘Fact फाइल्स with Anurag’.

29 जून से शुरू हुए इस शो के पहले एपिसोड में सवाल उठा कि क्या मंदी आने वाली है? दूसरे शो में हेल्थकेयर सेक्टर पर बात होने वाली है। जाहिर है ऐसा शो प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वालों के साथ-साथ गम्भीर दर्शकों को काफी पसंद आएगा। यह शो हर बुधवार और शनिवार को शाम पांच बजे डिजिटल प्लेटफॉर्म पर प्रसारित किया जाएगा।

नाम से साफ है कि इस शो को अनुराग दीक्षित होस्ट कर रहे हैं। अनुराग पिछले करीब 5 साल से ‘न्यूज नेशन’ से जुड़े हुए हैं। जहां वो शाम 7-8 बजे ‘लाख टके की बात’ शो के एंकर हैं।  इससे पहले 11 साल तक वो लोक सभा TV (अब संसद TV) में प्राइम टाइम एंकर रहे हैं। तब भी अनुराग के शो अपने कांटेंट को लेकर ही सराहे जाते रहे हैं। मनमोहन सरकार के तत्कालीन कई केंद्रीय मंत्री और तब विपक्ष के ढेरों नेता-सांसद जो आज मोदी सरकार में केंद्रीय मंत्री हैं, अनुराग के शो में नियमित शिरकत करते रहे हैं।

न्यूज नेशन में भी अनुराग ‘इंडिया बोले’ जैसा चर्चित शो होस्ट कर चुके हैं, जिसमें जरूरी मुद्दों पर फैक्ट्स के साथ तार्किक बात होती थी। ‘न्यूज नेशन’ ने अब उसी तरह का नया शो अपने डिजिटल प्लेटफ़ॉर्म पर शुरू किया है। उम्मीद है आने वाले वक्त में भी ‘न्यूज नेशन’ की इस नई पहल से जरूरी मुद्दों पर अहम जानकरियां मिलेंगी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अब इस बड़े पद पर India Today समूह से जुड़े बीवी राव

इस समूह के साथ बीवी राव की यह दूसरी पारी है। उनकी नियुक्ति के बारे में ‘इंडिया टुडे’ समूह की वाइस चेयरपर्सन कली पुरी ने एक इंटरनल मेल भी जारी किया है।

Last Modified:
Friday, 01 July, 2022
BVRoa7874

‘टीवी9 नेटवर्क’ (TV9 Network) में ग्रुप एडिटर के पद से पिछले दिनों इस्तीफा देने वाले वरिष्ठ पत्रकार बीवी राव ने अब ‘इंडिया टुडे’ (India Today) समूह के साथ अपनी नई पारी शुरू की है। उन्होंने यहां पर बतौर ग्रुप कंसल्टिंग एडिटर (डिजिटल) के तौर पर जॉइन किया है। अपनी इस भूमिका में वह रीजनल और प्रमुख मोबाइल डिजिटल चैनल्स पर फोकस करेंगे। वह विवेक गौड़ और मिलिंद खांडेकर के साथ मिलकर काम करेंगे और ‘इंडिया टुडे’ समूह की वाइस चेयरपर्सन कली पुरी को रिपोर्ट करेंगे।

बीवी राव की नियुक्ति के बारे में ‘इंडिया टुडे’ समूह की वाइस चेयरपर्सन कली पुरी ने एक इंटरनल मेल भी जारी किया है। अपने इस मेल में कली पुरी ने लिखा है, ‘मैंने और बीवी राव ने वर्ष 2002 से 2005 तक समूह के अखबार टुडे (Today) में साथ काम किया था। उस दौरान मुझे बीवी राव से बहुत कुछ सीखने को मिला। वह मेरे मेंटर्स में से एक हैं।’

बीवी राव की इस समूह के साथ यह दूसरी पारी है। पूर्व में वह इस समूह में अपनी भूमिका निभा चुके हैं। इससे पहले वह ‘नेटवर्क18’ (Network18) की वेबसाइट ‘Firstpost.com’ के संपादक रह चुके हैं। बी.वी राव ने वर्ष 2015 में नेटवर्क18 जॉइन किया था। बता दें कि अपने करीब 38 साल के करियर में राव ‘टाइम्स ग्रुप’, ‘एक्सप्रेस ग्रुप’, ‘जी न्यूज’ और ‘इंडिया टुडे ग्रुप’ समेत कई प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में अपनी जिम्मेदारी संभाल चुके हैं।

बी.वी. राव ने अपने करियर की शुरुआत वर्ष 1989 में ‘मिड-डे’ दिल्ली के साथ की थी। यहां उन्होंने वर्ष 1991 तक काम किया और फिर ‘इंडियन एक्सप्रेस’ बेंगलुरू में बतौर न्यूज एडिटर अपनी नई पारी शुरू की। एक्सप्रेस समूह के साथ उन्होंने मुंबई व अहमदाबाद में भी काम किया। वर्ष 1994 में बी.वी राव ने ‘फ्री प्रेस जर्नल’ का दामन थाम लिया। उन्हें एग्जिक्यूटिव एडिटर की जिम्मेदारी सौंपी गई और यहां उन्होंने करीब दो साल तक काम किया।

राव करीब एक साल तक ‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ में डिप्टी रेजिडेंट एडिटर भी रहे हैं। इसके अलावा करीब तीन साल तक ‘इंडिया टुडे ग्रुप’ में काम करने के अलावा वह ‘डीएनए’ मुंबई में करीब एक साल तक एसोसिएट एडिटर भी रह चुके हैं।

बीवी राव ने नवंबर 2019 में टीवी9 समूह के साथ अपनी पारी शुरू की थी। हालांकि, बीवी राव का इस संस्थान में कॉन्ट्रैक्ट 31 जुलाई तक था, लेकिन नेटवर्क प्रबंधन से विरोध के चलते ही उन्होंने पहले ही यहां से विदाई ले ली थी।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘जागरण न्यू मीडिया’ से जुड़े दीपक पाण्डेय, शुरू होने जा रहे इस सेक्शन के लिए करेंगे काम

दीपक पाण्डेय ने बतौर सीनियर सब एडिटर ‘जागरण न्यू मीडिया’ के साथ नई शुरुआत की है।

Last Modified:
Friday, 01 July, 2022
deepak54

युवा पत्रकार दीपक पाण्डेय ने अब ‘गाड़ीवाड़ी डाट काम’ (Gaadiwaadi.com) की अपनी पारी को विराम दे दिया है। वे यहां सीनियर सब एडिटर/करेस्पांडेंट जुड़े हुए थे, लेकिन अब दीपक पाण्डेय ने बतौर सीनियर सब एडिटर ‘जागरण न्यू मीडिया’ के साथ नई शुरुआत की है। यहां पर दीपक जल्द शुरू होने जा रहे एक नए सेक्शन के कंटेंट के लिए कार्य करेंगे।

हालांकि जागरण न्यू मीडिया की इस नए सेक्शन के नाम का खुलासा नहीं हुआ है, लेकिन बताया जा रहा है कि ये टेक, गैजेट, तकनीक, लाइफस्टाइल और आटोमोटिव प्रॉडक्ट से संबंधित होगी।  

मूलरूप से प्रयागराज जिले के ग्राम देवीबांध के निवासी दीपक पाण्डेय ने 2014 में प्रयागराज के इलाहाबाद एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी के स्कूल ऑफ फिल्म एंड मॉस कम्युनिकेशन से मास्टर ऑफ जर्नलिज्म एंड मॉस कम्युनिकेशन (MJMC) की पढ़ाई की थी और वे शुरू से ही सामाजिक मुद्दों पर मुखर रहे हैं। 

पढ़ाई पूरी होने के बाद दीपक ने ‘पंजाब केसरी’ समाचार पत्र में बतौर ट्रेनी रिपोर्टर अपनी शुरुआत की थी और स्थानीय स्तर पर न्यूज रिपोर्टिंग किया करते थे। इसके बाद साल 2015 में वे दिल्ली चले आए और फिर यहां ‘नेशनल दस्तक डाट काम’ के साथ डिजिटल मीडिया की दुनिया में कदम रखा। वे ‘नेशनल दस्तक’ की फाउडिंग टीम का हिस्सा थे। 

इसके बाद दीपक ने ‘वनइंडिया डाट इन’ की ऑटोमोबाइल वेबसाइट ‘ड्राइवस्पार्क डॉट कॉम’ के साथ कार्य करना शुरू किया। वे कुछ दिनों तक ‘दैनिक भास्कर’ डिजिटल टीम का भी हिस्सा रहे और वियतनाम की इंटरनेशनल समाचार सेवा की वेबसाइट ‘इंडियाआटोब्लॉग डाट काम’ की हिंदी सेवा के साथ भी कार्य किया है।

दीपक पाण्डेय ने भारत में महिंद्रा थार, महिंद्रा एक्सयूवी700, टाटा पंच, निसान मैग्नाइट, रेनो काइगर, किआ कैरेंस, किआ सोनेट, टाटा सफारी, फोर्स गुरखा, जीप मेरिडियन, मारूति सुजुकी एक्सएल6 और महिंद्रा स्कार्पियो एन जैसी नई कारों की लॉन्च की खबरों को प्रमुखता से कवर किया है।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Koo के CEO ने मीडिया प्लेटफॉर्म्स की विश्वसनीयता पर दिया जोर, कही ये बात

‘कू’ के को-फाउंडर और सीईओ अप्रमेय राधाकृष्ण का कहना है कि कोई भी प्लेटफॉर्म जितना वास्तविक होगा, वह यूजर्स, एडवर्टाइजर्स और पूरे ईको सिस्टम के लिए उतना ही अधिक मूल्यवान होगा।

Last Modified:
Wednesday, 29 June, 2022
KOO

खरबपति बिजनेसमैन और अमेरिकी इलेक्ट्रिक कार कंपनी ‘टेस्ला’ (Tesla) के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (CEO) एलन मस्क (Elon Musk) द्वारा कथित रूप से फर्जी अथवा स्पैम अकाउंट्स के बारे में सटीक जानकारी नहीं दिए जाने को लेकर माइक्रोब्लॉगिंग साइट ‘ट्विटर’ (Twitter) के अधिग्रहण की डील को होल्ड पर रखे जाने और डील रद करने की चेतावनी दिए जाने की खबरों के बीच सोशल प्लेटफॉर्म्स पर ‘बॉट ट्रैफिक’ (bot traffic) का मुद्दा फिर चर्चा के केंद्र में है। बता दें कि ‘बॉट ट्रैफिक’ किसी भी वेबसाइट पर गैर-मानवीय ट्रैफिक (non-human traffic) है। इंटरनेट से डेटा एकत्र करने और हमारे यूजर्स एक्सपीरिएंस को बढ़ाने के लिए ऑनलाइन सेवाओं द्वारा बॉट्स का व्यापक रूप से उपयोग किया जाता है। वहीं, ट्विटर का कहना है कि फर्जी खातों की संख्या पांच प्रतिशत से कम है।

इन सबके बीच इंडियन माइक्रोब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ‘कू’ (Koo) का कहना है कि वह यूजर्स को वास्तविक विकल्प प्रदान करने की दिशा में काम कर रहा है, जो ‘बॉट ट्रैफिक’ की चिंताओं पर भी ध्यान देता है। हमारी सहयोगी वेबसाइट ‘एक्सचेंज4मीडिया’ (exchange4media) से बातचीत में ‘कू’ (Koo) के को-फाउंडर और सीईओ अप्रमेय राधाकृष्ण (Aprameya Radhakrishna) का कहना है कि कोई भी प्लेटफॉर्म जितना वास्तविक होगा, वह यूजर्स, एडवर्टाइजर्स और पूरे ईको सिस्टम के लिए उतना ही अधिक मूल्यवान होगा।

अप्रमेय राधाकृष्ण के अनुसार, ‘जब आप एक क्रिएटर के रूप में कुछ कहते हैं तो आप उम्मीद रखते हैं कि रियल लोगों और रियल कमेंट्स के साथ-साथ बातचीत में उनकी भावनाएं वास्तविक रूप में निकलकर सामने आएं। जब आप इस बात को लेकर पूरी तरह आश्वस्त नहीं होते हैं कि आपको जो प्रतिक्रियाएं मिल रही हैं, वे वास्तविक हैं या नहीं, तब यह एक समस्या बन जाती है।’

सोशल प्लेटफॉर्म्स पर अधिक पारदर्शिता की आवश्यकता के बारे में उन्होंने कहा कि ‘कू’ एक प्लेटफॉर्म के रूप में यह सुनिश्चित करने के लिए सभी प्रयास कर रहा है कि यह जो कुछ भी है, उसके बारे में पूरी तरह पारदर्शी बना रहे।

अप्रमेय राधाकृष्ण के अनुसार, ‘हमने एक स्वैच्छिक स्व-सत्यापन प्रक्रिया शुरू की है, जिसका अर्थ है कि एक यूजर के रूप में यदि आप नेटवर्क से जुड़े हैं और चाहते हैं कि दूसरों को पता चले कि आप एक वास्तविक व्यक्ति हैं और मंच पर अपनी आवाज रखते हैं, तो आप आगे बढ़ें और स्वयं को सत्यापित (self verify) करें। यह मंच की प्रामाणिकता की बात है। और ऐसा करने वाले लोगों की संख्या के कारण, जब भी कोई क्रिएटर या एडवर्टाइजर्स उस ऑडियंस तक पहुंचना चाहता है,  तो वह मंच जो प्रामाणिकता दिखाता है, उसकी बहुत अधिक वैल्यू होती है। ऐसे में जो बिजनेस वास्तविक नेटवर्क पर विज्ञापन दे रहे हैं, उन्हें निश्चित रूप से अधिक हिट्स मिलेंगे।‘

यह पूछे जाने पर कि ‘कू’ की पेशकशों पर ब्रैंड्स की प्रतिक्रिया कैसी है, राधाकृष्ण ने कहा कि सिर्फ दो साल का होने के कारण, यह प्लेटफॉर्म अभी भी जुड़ाव और यूजर्स वृद्धि की तलाश में है, लेकिन हम इसे पारदर्शी और सुसंगत तरीके से कर रहे हैं। इसलिए, हर कोई जानता है कि हम क्या बना रहे हैं। उनका यह भी मानना ​​​​है कि जब भी ‘कू’ बिजनेस और विज्ञापन के लिए चैनल्स खोलेगा, तो इसे दूसरों की तुलना में बहुत अधिक गंभीरता से लिया जाएगा।

यह पूछे जाने पर कि क्या मानकर चलें कि भारत दुनिया को अपना अगला बड़ा सोशल प्लेटफॉर्म देने के लिए तैयार है, राधाकृष्ण ने कहा कि मौजूदा रफ्तार को देखते हुए आने वाले समय में भारत-आधारित तकनीकी पेशकश वैश्विक स्तर पर रफ्तार पकड़ने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय उपयोग के मामले में भारत सैकड़ों और हजारों ऐप बनाएगा। इनमें से कुछ दुनिया भर में छा जाएंगे। चीन में पिछले एक दशक में हजारों ऐप बने थे। इनमें टिकटॉक और जूम काफी आगे बढ़ गए और लगभग पूरी दुनिया उनका इस्तेमाल करती है। इसी तरह भारत में हम इसे भारतीय संदर्भ में बनाएंगे। उदाहरण के लिए, कू में, हम स्थानीय भाषाओं पर ज्यादा जोर दे रहे हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Disney+ Hotstar से अलग होकर उदित शर्मा ने तलाशी नई मंजिल

इस स्ट्रीमिंग सर्विस प्लेटफॉर्म में बतौर हेड (ऐड सेल्स) पांच साल से ज्यादा समय से अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे उदित शर्मा

Last Modified:
Tuesday, 28 June, 2022
Udit Sharma

स्ट्रीमिंग सर्विस प्लेटफॉर्म ‘डिज्नी+हॉटस्टार’ (Disney+ Hotstar) में अपनी पारी को विराम देकर उदित शर्मा ने नई मंजिल तलाशी है। वह ‘डिज्नी स्टार‘ के स्वामित्व वाले इस स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म से पांच साल से ज्यादा समय से जुड़े हुए थे और बतौर हेड (ऐड सेल्स) अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे।  

उदित शर्मा ने अब बहुभाषी सोशल मीडिया कंपनी ‘शेयरचैट’ (ShareChat) के साथ अपना नया सफर शुरू किया है। उन्होंने यहां पर बतौर चीफ रेवेन्यू ऑफिसर (CRO) जॉइन किया है।  

बता दें कि ‘शेयरचैट’ देश की सबसे बड़ी घरेलू सोशल मीडिया कंपनी है। हाल ही में इसकी पैरेंट कंपनी ’मोहल्ला टेक प्राइवेट लिमिटेड’ (Mohalla Tech Pvt Ltd) ने पांच बिलियन डॉलर के मूल्यांकन पर कई चरणों में 520 मिलियन डॉलर की रकम जुटाई है।

अपनी नियुक्ति के बारे में एक लिंक्डइन पोस्ट में उदित शर्मा ने लिखा है, ‘पिछले पांच साल से मैं ऐसे स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म से जुड़ा हुआ था, जो देश का सबसे ज्यादा पसंदीदा एंटरटेनमेंट प्रदाता है। इस अद्भुत सफर के लिए Disney+ Hotstar का शुक्रिया। जहां तक ​​मेरे अगले सफर की बात है, मैं शेयरचैट/मोज में अंकुश सचदेवा और अजीत वर्गीस के साथ जुड़ने और देश में स्थानीय भाषा के कंटेंट की क्रांति को नया आकार देने का अवसर पाकर बहुत उत्साहित हूं।’

बता दें कि उदित शर्मा पूर्व में मीडिया, मोबाइल पेमेंट्स/फिनटेक और कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक्स के क्षेत्र में काम कर चुके हैं। ‘डिज्नी+हॉटस्टार’ (Disney+ Hotstar) से पहले वह ’फ्रीचार्ज ’ (Freecharge), ’जोमैटो ’ (Zomato), ’ऑक्सीजन सर्विसेज’ (Oxigen Services) और ’सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स’ (Samsung Electronics) आदि में अपनी भूमिका निभा चुके हैं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Alt न्यूज के को-फाउंडर गिरफ्तार, कई पत्रकारों-नेताओं ने की निंदा

फैक्ट चेकिंग न्यूज वेबसाइट Alt न्यूज के को-फाउंडर मोहम्मद जुबैर को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

Last Modified:
Tuesday, 28 June, 2022
AltNews4512

फैक्ट चेकिंग न्यूज वेबसाइट Alt न्यूज के को-फाउंडर मोहम्मद जुबैर को दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। धार्मिक भावनाएं आहत करने के आरोप में उन पर ये कार्रवाई हुई है। जुबैर के खिलाफ आईपीसी की धारा 153A/295A के तहत केस दर्ज हुआ है। 

जानकारी के मुताबिक, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की IFSO यूनिट ने जुबैर के खिलाफ सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक अशांति फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया है। पुलिस के मुताबिक, उसे जुबैर के खिलाफ 27 जून को ट्विटर के जरिए एक शिकायत मिली थी, जिसमें जुबैर के एक ट्वीट का जिक्र किया गया था। पुलिस ने इस संबंध में आईपीसी की धारा 153ए और 295ए के तहत केस दर्ज कर सोमवार को जुबैर को पूछताछ के लिए बुलाया था।

पुलिस की स्पेशल सेल ने दावा किया है कि पर्याप्त सबूतों के आधार पर जुबैर को गिरफ्तार किया गया है। जुबैर को अदालत में पेश कर पुलिस रिमांड की मांग की जाएगी।

दिल्ली पुलिस की ओर से कहा गया कि मोहम्मद जुबैर की तरफ से एक विशेष धार्मिक समुदाय के खिलाफ पोस्ट की गई तस्वीर और कहे गए शब्द अत्यधिक उत्तेजक हैं और जानबूझकर किए गए हैं, जो लोगों में नफरत फैलाने के लिए पर्याप्त हैं। इससे सार्वजनिक शांति बनाए रखने में मुश्किल हो सकती है। इन्हीं पोस्ट के आधार पर उपरोक्त मामला दर्ज किया गया है।

वहीं ऑल्ट न्यूज (AltNews) के को-फाउंडर प्रतीक सिन्हा (Pratik Sinha) ने कहा कि मोहम्मद जुबैर को 2020 के एक अलग मामले में पूछताछ के लिए दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने बुलाया था। इस मामले में उन्हें हाई कोर्ट से गिरफ्तारी में छूट मिली हुई है। हालांकि रविवार देर शाम 6:45 पर हमें बताया गया कि उन्हें किसी और मामले में दर्ज एफआईआर के चलते गिरफ्तार किया गया है।

उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर मोहम्मद जुबैर को कोई नोटिस नहीं दिया गया था। जिन धाराओं में उन्हें गिरफ्तार किया गया है उनमें नोटिस देने का प्रावधान है, लेकिन ऐसा नहीं किया गया। कई बार विनती करने के बाद भी हमें एफआईआर की कॉपी नहीं दी गई।

वहीं, जुबैर की गिरफ्तारी पर देश के कई पत्रकार और विपक्षी दल के नेता निंदा कर रहे हैं। ‘द हिन्दू’ अखबार की नेशनल एडिटर सुहासिनी हैदर ने सोशल मीडिया पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा है कि, ‘प्रधानमंत्री द्वारा इमरजेंसी को काला दिन की घोषणा के दो दिन बाद... ’

वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने लिखा, 'जिस मोहम्मद जुबैर ने अनेक हेट स्पीच के मामलों का खुलासा किया, वही आज हेट स्पीच का आरोपी बनाकर गिरफ्तार कर लिया गया.. जुबैर ने जिनको एक्सपोज किया वो आज भी खुला घूम रहे हैं, डरावना है यह ’ 

वहीं, इस मामले में राजनीतिक प्रतिक्रियाएं भी सामने आयीं है। जुबैर की गिरफ्तारी पर राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने भी ट्वीट कर लिखा कि, 'बीजेपी की नफरत, कट्टरता और झूठ को उजागर करने वाला हर शख्स उनके लिए खतरा है. सत्य की एक आवाज को गिरफ्तार करने से एक हजार और पैदा होंगे. अत्याचार पर सत्य की हमेशा विजय होती है, डरो मत।'

कांग्रेस सांसद व तेलंगाना कांग्रेस के प्रभारी मणिकम टैगोर (Manickam Tagore) ने ट्वीट कर लिखा, ‘2014 के बाद भारत की कुछ तथ्य-जांच संस्थाएं, विशेष रूप से ऑल्ट न्यूज, गलत सूचना और झूठ से भरे हुए राजनीतिक वातावरण में सच बताने के लिए एक महत्वपूर्ण सेवा कर रहे हैं। वे झूठ का पर्दाफाश करते हैं। अब इसके को-फाउंडर को शाह की दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। जुबैर को गिरफ्तार करना दिल्ली पुलिस (Delhi Police) की एक बड़ी भूल है। उसे तत्काल रिहा किया जाना चाहिए। 

टीएमसी नेता डेरेक ओब्रायन ने इस गिरफ्तारी की निंदा की है तो कांग्रेस नेता शशि थरूर ने मोहम्मद जुबैर को तत्काल रिहा करने की मांग की है।

 

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Shemaroo Entertainment में राहुल मिश्रा को मिली अब ये बड़ी जिम्मेदारी

मिश्रा वर्ष 2018 से शेमारू में मार्केटिंग हेड के तौर पर अपनी भूमिका निभा रहे हैं।

Last Modified:
Friday, 24 June, 2022
Rahul Mishra

‘शेमारू एंटरटेनमेंट’ (Shemaroo Entertainment) ने राहुल मिश्रा को प्रमोशन का तोहफा देते हुए उन्हें ‘वेब 3.0’ (Web 3.0) के तहत कंपनी की पहलों (initiatives) का हेड नियुक्त किया है। मिश्रा वर्ष 2018 से शेमारू में मार्केटिंग हेड के तौर पर अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं।

अपनी नई भूमिका में राहुल मिश्रा इंटरनेट की तीसरी लहर (wave) में विभिन्न अवसरों की पहचान करने और उनका लाभ उठाने पर काम करेंगे।

इस बारे में ‘शेमारू एंटरटेनमेंट’ के सीईओ हिरेन गडा का कहना है, ‘राहुल मिश्रा को उनकी नई भूमिका के लिए आगे बढ़ाते हुए हमें खुशी हो रही है। उनके बहुमूल्य योगदान ने कंपनी को नई ऊंचाइयों तक पहुंचाने में मदद की है। राहुल को इस पद पर सही समय पर प्रमोट किया गया है, क्योंकि हमारी योजना वेब 3.0 टेक्नोलॉजी का उपयोग करके अपने ब्रैंड के विकास में तेजी लाने की है।‘

वहीं, इस बारे में राहुल मिश्रा का कहना है, ‘अपनी इस नई भूमिका को निभाने के लिए मैं काफी आभारी और रोमांचित हूं। 60 वर्षों से देश का मनोरंजन करने वाले ब्रैंड का हिस्सा बनना और इसकी बेहतरीन टीम के साथ काम करना सम्मान की बात है। नई टेक्नोलॉजी के आने के साथ भविष्य काफी रोमांचक और उज्ज्वल है और मैं इंटरनेट के विकास के शेमारू को अगले चरण में ले जाने के लिए पूरी तरह तैयार हूं।‘

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

Netflix ने दिखाया 300 कर्मचारियों को बाहर का रास्ता, बताई ये वजह

वीडियो स्ट्रीमिंग कंपनी नेटफ्लिक्स (Netflix) ने अपने 300 कर्मचारियों को जॉब से निकाल दिया है।

Last Modified:
Friday, 24 June, 2022
netflix

वीडियो स्ट्रीमिंग कंपनी नेटफ्लिक्स (Netflix) ने अपने 300 कर्मचारियों को जॉब से निकाल दिया है। बता दें कि यह उसकी कुल वर्कफोर्स का लगभग 4 प्रतिशत है। कंपनी के इस कदम ने ज्यादातर अमेरिकी कर्मचारियों को प्रभावित किया है। साथ ही एशिया प्रशांत, लैटिन अमेरिका और यूरोप, मध्य पूर्व और अफ्रीका में भी कर्मचारी प्रभावित हुए हैं।

इस पर बयान जारी करते हुए नेटफ्लिक्स इंक (NFLX.O) ने कहा कि उसने पिछले 1 दशक में पहली बार इतनी बड़ी संख्या में स्ट्रीमिंग करने वाले ग्राहकों को खोया है, जिसके बाद कंपनी ने लागत कम करने के उद्देश्य से नौकरी में कटौती की है।

बता दें कि यह कंपनी में कर्मचरियों की छंटनी का दूसरा दौर है। पिछले महीने नेटफ्लिक्स ने रेवेन्यू ग्रोथ की रफ्तार कम होने का हवाला देकर करीब 150 कर्मचारियों और दर्जनों कॉन्ट्रैक्टर्स की छंटनी की थी। उससे पहले मार्केटिंग टीम से करीब 25 लोगों को बाहर किया गया था।

वैसे कंपनी कर्मचारियों को ऐसे समय नौकरी से बाहर कर रही है, जब करीब एक दशक में उसे पहली बार सब्सक्राइबर्स (Netflix Subscribers) के मामले में नुकसान का सामना करना पड़ा है।

नेटफ्लिक्स ने गुरुवार को एक बयान में कहा, ‘हालांकि हम कारोबार में महत्वपूर्ण निवेश करना जारी रखते हैं, लेकिन हमने ये इसलिए किया है, ताकि हमारी लागत स्लो रेवेन्यु ग्रोथ के अनुरूप बढ़ सके।’

कंपनी के मुताबिक पहली तिमाही में ग्राहकों की संख्या में गिरावट के बाद नेटफ्लिक्स ने मौजूदा अवधि के लिए और भी अधिक नुकसान का अनुमान लगाया है। उस डाउनट्रेंड को रोकने के लिए कंपनी एक सस्ता प्लान, विज्ञापन-समर्थित सब्सक्रिप्शन टियर पेश करने की योजना बना रही है, जिसके लिए वह कई कंपनियों के साथ बातचीत कर रही है।

आपको बता दें कि अमेरिका की केंद्रीय बैंक ने कुछ दिन पहले ही अपने ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है, जिसका बुरा असर अमेरिका पर पड़ता दिखाई देने लगा है। पिछले कई दशकों की तुलना में अमेरिका में महंगाई इस साल कई गुना बढ़ गई है। हाल के महीनों में इंफ्लेशन, यूक्रेन में युद्ध और भारी प्रतिस्पर्धा के कारण दुनिया की प्रमुख स्ट्रीमिंग सर्विस दबाव में आ गई है।

 

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

पाकिस्तानी हैकर्स ने इस भारतीय डिजिटल न्यूज चैनल को किया हैक, फिर की ये हरकत

‘रेवोल्यूशन पीके’ नाम के पाकिस्तान स्थित हैकिंग ग्रुप ने असम के एक डिजिटल न्यूज चैनल के यूट्यूब अकाउंट को गुरुवार को हैक कर लिया।

Last Modified:
Monday, 13 June, 2022
hackers5845

भारत में नूपुर शर्मा के पैगंबर पर बोले गए बयान के बाद हर जगह विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। अपने यहां अल्पसंख्यकों की रक्षा न कर पाने वाले पाकिस्तान ने भी इस मामले में अपना विरोध जताया है। हालांकि भारत ने इसका करारा जवाब दिया, लेकिन पाकिस्तान अब भी अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहा है। अब उसने विरोध का गलत तरीका अपना लिया है। ‘रेवोल्यूशन पीके’ नाम के पाकिस्तान स्थित हैकिंग ग्रुप ने असम के एक डिजिटल न्यूज चैनल के यूट्यूब अकाउंट को गुरुवार को हैक कर लिया। यह जानकारी चैनल की ओर से शनिवार को दी गई। बताया जा रहा है कि 'टाइम-8' नाम का यह समाचार चैनल है। लाइव स्ट्रीम के दौरान हैक करने के बाद चैनल पर हैकर्स ने पाकिस्तान का झंडा और पवित्र पैगंबर का टिकर चला दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, 'टाइम-8' के यूट्यूब पर करीब 7 मिलियन फॉलोअर्स हैं। इस चैनल के वीडियो पर महीने का एवरेज व्यू 600 मिलियन से अधिक है। 9 जून को एक लाइव न्यूज स्ट्रीम के दौरान 'टाइम-8' का प्रसारण अचानक से बंद हो गया, जिसके कुछ सेकेंड बाद ही एक ब्रेकिंग न्यूज चलने लगी। इसके तहत स्क्रीन पर पाकिस्तान का झंडा फ्लैश हो गया और बैकग्राउंड में एक भजन चलने लगा, जिसमें पैगंबर मुहम्मद (PBUH) की प्रशंसा की जा रही थी। हाल की घटना पर लाइव स्क्रीन के टिकर को भी 'रेस्पेक्ट होली पैगंबर (PBUH)' से बदल दिया गया।

'टाइम-8' डिजिटल न्यूज नेटवर्क के फाउंडर व मैनेजिंग एडिटर उत्पल कांता ने कहा, 'इस घटना को पाकिस्तानी हैकर समूह ‘रेवोल्यूशन पीके’ ने अंजाम दिया है। यह साइबर आतंकवाद है और हम इस घटना की कड़े शब्दों में निंदा करते हैं। हम इस मामले पर अपनी चिंता भी व्यक्त करते हैं क्योंकि यह राष्ट्रीय सुरक्षा से भी संबंधित है।'

उत्पल कांता का कहना है कि हैकर्स ने न केवल चैनल पर अपने धार्मिक विचारों को अवैध रूप से व्यक्त किया, बल्कि चैनल और भारत को बदनाम करने की भी कोशिश की। उसने ट्विटर और फेसबुक पर भी हैक के दौरान चलाए गए वीडियो को शेयर किया।

इस घटना को लेकर ‘टाइम8’ डिजिटल न्यूज नेटवर्क के एडिटर ऋतुष्मिन शर्मा ने कहा कि हम सभी के बीच शांति और सद्भाव का समर्थन करते हैं। हम ऐसी किसी भी राष्ट्रविरोधी गतिविधियों का समर्थन या प्रोत्साहन नहीं करते हैं। फिलहाल हमने मामले की सूचना गुवाहाटी पुलिस को दे दी है।

हैकिंग की यह घटना ऐसे वक्त हुई है, जब देश में भाजपा के पूर्व नेताओं नुपुर शर्मा की पैगंबर मोहम्मद पर विवादित टिप्पणी पर बवाल मचा हुआ है। इस टिप्पणी के विरोध और नुपुर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर शु्क्रवार को हिंसक प्रदर्शन भी हुए थे। इस दौरान झारखंड की राजधानी रांची में गोली लगने से दो लोगों की मौत हो गई और पश्चिम बंगाल के हावड़ा में शनिवार को ताजा प्रदर्शन हुए।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

दैनिक जागरण में अपनी पारी को विराम दे युवा पत्रकार पुष्पेंद्र कुमार ने शुरू किया नया सफर

युवा पत्रकार पुष्पेंद्र कुमार ने हिंदी दैनिक ‘दैनिक जागरण’ (Dainik Jagran) में अपनी करीब साढ़े चार साल पुरानी पारी को विराम दे दिया है।

Last Modified:
Saturday, 11 June, 2022
Pushpendra Kumar

युवा पत्रकार पुष्पेंद्र कुमार ने हिंदी दैनिक ‘दैनिक जागरण’ (Dainik Jagran) में अपनी करीब साढ़े चार साल पुरानी पारी को विराम दे दिया है। वह इस अखबार के पूर्वी दिल्ली ऑफिस में अपनी जिम्मेदारी निभा रहे थे। पुष्पेंद्र कुमार ने मीडिया में अपने नए सफर की शुरुआत अब ‘जी बिहार-झारखंड’ (Zee Bihar Jharkhand) डिजिटल के साथ की है।

उन्होंने नोएडा में बतौर सब एडिटर जॉइन किया है। मूल रूप से दिल्ली के रहने वाले पुष्पेंद्र कुमार ने ग्रेटर नोएडा के गलगोटिया कॉलेज से पत्रकारिता में ग्रेजुएशन किया है। पत्रकारिता के क्षेत्र में पुष्पेंद्र कुमार ने अपने करियर की शुरुआत ‘दैनिक जागरण’ से ही की थी।

समाचार4मीडिया से बातचीत में पुष्पेंद्र कुमार ने बताया कि उन्होंने अब तक के करियर में कई ऐसी स्टोरी की हैं, जिससे जरूरतमंदों के जीवन में अच्छे बदलाव आए और उन्हें मदद मिली। मसलन, आर्थिक तंगी के कारण विवशता की जिंदगी जीने को मजबूर ढाबे पर काम करने वाले साइकिलिस्ट रियाज (16 वर्ष) पर की गई उनकी खबर रंग लाई और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने रियाज को ईद के मौके पर साइकिल गिफ्ट की थी। इसके बाद ‘भारतीय खेल प्राधिकरण’ (SAI) के अंतर्गत आने वाली साइकिलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (सीएफआई) में रियाज को दाखिला भी मिला।

पुष्पेंद्र कुमार के अनुसार,  ‘मेरी दो खास खबरें ऐसे तीरंदाजों की हैं, जो आर्थिक तंगी के कारण आगे नहीं बढ़ पा रहे थे। इनमें से एक हैं पूजा कुमारी, जो नेशनल खिलाड़ी हैं और अंतरराष्ट्रीय तीरंदाजी प्रतियोगिता के लिए जिस कंपाउंड बो (धनुष) की जरूरत थी वो उनके पास नहीं था। उसको खरीदने के लिए वह कपड़े सिलने का काम करती थी। इस बारे में 30 अगस्त 2020 को प्रकाशित मेरी खबर पर भारतीय लघु उद्योग विकास बैंक (सिडबी) ने आर्चरी किट के लिए साढ़े चार लाख रुपये पूजा कुमारी को दिए, ताकि वह कंपाउंड बो खरीदकर अपना अभ्यास कर देश के लिए पदक ला सके।‘

इसी के साथ पुष्पेंद्र ने तीरंदाज मुकीम का भी जिक्र किया, जिसकी खबर भी उन्होंने की थी। पुष्पेंद्र ने बताया, ‘मुकीम का एक पैर नहीं है और वो एक पैर के सहारे ही नेशनल प्रतियोगिता में पदक जीत चुके हैं। आर्थिक तंगी से जूझ रहे मुकीम परिवार के पालन पोषण के लिए एक पेट्रोल पंप पर गाड़ियों के पहिये में हवा भरने का काम करते हैं और भविष्य में होने वाली प्रतियोगिताओं के लिए घर के पास खाली मैदान में लकड़ी के धनुष से अभ्यास करते थे। इस बारे में 8 फरवरी 2021 में प्रकाशित मेरी खबर के बाद मुकीम को यमुना स्पोर्ट्स कांप्लेक्स के आर्चरी सेंटर में अभ्यास की अनुमति मिली।’

समाचार4मीडिया की ओर से पुष्पेंद्र कुमार को उनके नए सफर के लिए ढेरों शुभकामनाएं।

समाचार4मीडिया की नवीनतम खबरें अब आपको हमारे नए वॉट्सऐप नंबर (9958894163) से मिलेंगी। हमारी इस सेवा को सुचारु रूप से जारी रखने के लिए इस नंबर को आप अपनी कॉन्टैक्ट लिस्ट में सेव करें।
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए