ये है प्रेस क्लब के 'पत्रकारों' की असलियत, शेयर कर कीजिए इनका 'पर्दाफाश'

आए दिन पत्रकार सुरक्षा के नाम पर बड़ी-बड़ी खबरें आ रही...

Last Modified:
Saturday, 26 January, 2019
Journalist

एम.एच.जकरीया।।

आए दिन पत्रकार सुरक्षा के नाम पर बड़ी-बड़ी खबरें आ रही हैं, वहीँ सरकार से पत्रकार सुरक्षा की मांग हो रही है। छत्तीसगढ़ राज्य के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पत्रकार सुरक्षा के मामले में गंभीरता से विचार भी कर रहे हैं। यह बहुत ही अच्छी बात है कि मुख्यमंत्री पत्रकार की सुरक्षा को लेकर गंभीर हैं। पत्रकारों की सुरक्षा के लिए क़ानून बनना भी चाहिए, लेकिन यहां पर यह सोचने वाली बात यह है कि आखिर पत्रकार कौन हैं?

पत्रकार वो हैं जो वास्तविकता में पत्रकारिता के क्षेत्र में अपनी जान जोख़िम में डालकर पत्रकारिता कर रहे हैं या वे जो प्रेस क्लब की सदस्यता लेकर वहां बैठकर कैरम खेल रहे हैं। यहां तो कई ऐसे लोग हैं जो बीते समय में किसी अख़बार या मीडिया ग्रुप से जुड़े थे और उसी के माध्यम से प्रेस क्लब की सदस्यता ली थी आज भले ही वे लोग उन मीडिया ग्रुपों से अलग हो चुके हैं, लेकिन फिर भी अपने नाम के आगे ‘पत्रकार’ शब्द लगा रहे हैं और वही आज पत्रकार संगठनों के नाम पर वसूली करते नजर आ जाएंगे। यहां पर यह सवाल है कि क्या उन पत्रकारों को सुरक्षा का लाभ मिलना चाहिए?

लेकिन ऐसा लगता है छत्तीसगढ़ राज्य की विडम्बना यही है और विशेष रूप से राजधानी रायपुर की कि जो सही मायनों में सुदूर ग्रामीण और नक्सल प्रभावित क्षेत्र में पत्रकारिता का कार्य कर रहें हैं। जो वास्तविकता में छोटे या बड़े मीडिया समूह से जुड़कर ईमानदारी जान जोखिम में डालकर खबरे पहुंचा रहे हैं। जिन्हें हमेशा से नक्सलियों, रसूखदार नेताओं और पुलिस से खबर छापने पर प्रताड़ित किया जाता रहा है और निडरता से सच्ची खबर लिखने के बाद भी जेल जाना पड़ा है। वास्तविकता में सुरक्षा ऐसे पत्रकारों को मिलनी चाहिए न कि क्लब कल्चर में रमे पत्रकारों को!   

छोटी मीडिया ग्रुपों से जुड़े ये पत्रकार शहर के क्लब कल्चर से दूर हैं जो इन चौथ वसूली करने वाले बड़े-बड़े मंत्रियों के आगे पीछे घूमने वाले फर्जी पत्रकारों को मिलने वाली सुविधाओं से बहुत दूर हैं। यहां तो प्रेस क्लब का सदस्य बिना पत्रकारिता किए वो सब सुविधाएं पा रहा है जिसका वास्तविक अधिकार सही मायनो में पत्रकारिता करने वाला पत्रकार रखता है

पत्रकारों को मिलने वाली सुविधाएं वास्तविक पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्य करने वाले उस पत्रकार को नहीं मिलतीं, क्योंकि यहां का दस्तूर ही उल्टा है। जिन्होंने कभी किसी समय किसी समूह या मीडिया में काम करके उन क्लबों और संगठनों की सदस्यता ली होगी, वह आज भी अपनी सदस्यता के दम पर फोकट में वह सब सुविधाएं ले रहे हैं जिनकी पात्रता वह अब नहीं रखते। यहां मज़े की बात तो ये है कि कई पत्रकार, जनसंपर्क विभाग के अधिमान्यता भी प्राप्त किये हुए हैं जो हर साल नवीनीकरण में काम छोड़े समूह से अधिमान्यता नवीनीकरण करवा लेते हैं!  उससे भी दुःखद बात यह है कि जो पिछली सरकार में पत्रकार अधिमान्यता समिति में काबिज थे, वही अब भी वर्तमान सरकार में अधिमान्यता समिति में हैं! वही आलम विधानसभा पत्रकार समिति का है, जहां वर्षों से मठाधीश जमे हुए हैं ऐसे में जो जोख़िम भरे पत्रकारिता करने वाले पत्रकार हैं वे पत्रकार सुरक्षा से भी वंचित हो रहे हैं ।

पत्रकार सुरक्षा उन भोले भाले ग्रामीण पत्रकार सुदूर नक्सल प्रभावित क्षेत्र में पत्रकारिता करने वाले पत्रकारों को मिलनी चाहिए। यहां प्रेस क्लब और मीडिया संगठन के नाम पर पिछली सरकार और मंत्रियों से बड़े-बड़े फंड वसूल किये जाते रहे हैं  और जो सही में पत्रकार हैं, उन्हें इन क्लबो और समूहों की सदस्यता से भी वंचित रखा जाता रहा है, जहाँ चुनाव कराने के नाम पर अवैध वसूली होती है। RTI  से निकली जानकारी बता रही है कि इन क्लबो का पंजीयन ही अवैध है, क्योंकि इन समूहों ने विधायकों मंत्रियों और सांसदों से मिलने वाले अनुदान राशि का कोई हिसाब ही नहीं दिया है यानी जनता की गाढ़ी कमाई के टैक्स के पैसों को इन जनप्रतिनिधियों ने इन प्रेस क्लबों को खुश करने के लिए बाँटे, उसका कोई हिसाब किताब ही नहीं, फ़िर भी ये क्लब चल रहे हैं। इसकी कई शिकायत होने के बाद भी कार्यवाही नहीं हो रही हैं और अब पत्रकार सुरक्षा माँग रहे हैं।

न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

जल्द लॉन्च होने वाले हैं ये तीन नए म्यूजिक चैनल

‘पॉपुलर ऐंटरटेनमेंट नेटवर्क’ (PEN) के प्रमोटर जयंतीलाल गडा...

Last Modified:
Saturday, 29 July, 2017
channel

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।


‘पॉपुलर ऐंटरटेनमेंट नेटवर्क’ (PEN) के प्रमोटर जयंतीलाल गडा का कहना है कि उनकी कंपनी जल्‍द ही तीन म्‍यूजिक चैनल लॉन्‍च करने जा रही है। इसके लिए उन्‍हें सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय (MIB) से लाइसेंस मिल गए हैं।


मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये तीनों चैनल 15 अगस्‍त को लॉन्‍च किए जा सकते हैं। इनमें दो नए चैनल ‘I Love’ और ‘BT (Bollywood Times) News’ शामिल हैं। इनमें ‘I Love’ चैनल पर बॉलिवुड के क्‍लासिक गाने दिखाए जाएंगे जबकि ‘BT (Bollywood Times) News’ पर बॉलिवुड से जुड़ी ताजातरीन खबरों के साथ संगीत भी प्रसारित किया जाएगा। इसके अलावा ‘MTunes HD’ चैनल को रीलॉन्‍च किया जाएगा। हालांकि चैनल का नेचर और जॉनर वही रहेगा और इस पर नवीनतम बॉलिवुड म्‍यूजिक प्रसारित किया जाएगा।


गौरतलब है कि दो बड़े प्‍लेयर्स द्वारा हाल ही में दो लॉन्चिंग और की गई हैं। इनमें ‘वॉयकाम 18’ का ‘MTV Beats’ और ‘सोनी पिक्‍चर्स नेटवर्क इंडिया’ का ‘Sony Rox HD’ चैनल शामिल है। अब गडा द्वारा तीन चैनल की लॉन्चिंग के बाद इस जॉनर में प्रतिद्वंद्विता और बढ़ जाएगी। इस समय इस जॉनर में ‘MTV, Sony Mix, Channel V, ‘9XM, ‘9X Jalwa, ETC, Zing, Mastiii और ‘B4U Music’ म्‍यूजिक चैनल मार्केट में छाए हुए हैं।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

 

TAGS 0
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

‘टाटा स्काई’ पर अब देख सकेंगे ये नए चैनल

अपने प्लेटफॉर्म पर पांच हाई डेफिनेशन (HD) चैनल शामिल करने के बाद डायरेक्‍ट टू होम (DTH) ऑपरेटर ‘टाटा स्‍काई’ ...

Last Modified:
Friday, 26 May, 2017
tata-sky

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।


अपने प्‍लेटफॉर्म पर पांच हाई डेफिनेशन (HD) चैनल शामिल करने के बाद डायरेक्‍ट टू होम (DTH)  ऑपरेटर ‘टाटा स्‍काई’ (Tata Sky) अब 26 मई को छह नए चैनल शामिल करने की तैयारियों में जुटा है। इनमें तीन न्‍यूज चैनल भी शामिल हैं।


जानकारी के अनुसार, टाटा स्‍काई ‘हिन्‍दी खबर’ (channel no 583), ‘गुलिस्‍तां’ न्‍यूज (channel no 1179), ‘एफटीवी इंडिया’ (channel no 772), ‘केयर वर्ल्‍ड‘ (channel no 773), ‘दिग्विजय 24×7’ (channel no 1644) और ‘सूर्या कॉमेडी’ (channel no 1854) चैनल अपने प्‍लेटफॉर्म पर शामिल करेगा। इनमें ‘हिन्‍दी खबर’ हिन्‍दी न्‍यूज चैनल है जबकि ‘गुलिस्‍तां न्‍यूज’ हिन्‍दी/उर्दू चैनल है। ‘एफटीवी इंडिया’ फैशन चैनल, ‘केयर वर्ल्‍ड’ हेल्‍थकेयर चैनल और ‘दिग्विजय 24×7’ कन्‍नड़ न्‍यूज चैनल है जबकि ‘सूर्या कॉमेडी’ हाल ही में लॉन्‍च किया गया मलयाली कॉमेडी चैनल है।


इससे पहले यह डीटीएच ऑपरेटर ‘सन टीवी नेटवर्क’ के नए लॉन्‍च किए गए एचडी चैनल ‘सूर्या एचडी’, ‘उदय एचडी’ और ‘जेमिनी मूवीज एचडी’ को अपने प्‍लेटफॉर्म पर शामिल कर चुका है। इसमें ‘Viacom18’ का यूथ और म्‍यूजिक चैनल ‘एमटीवी एचडी प्‍लस’ भी शामिल है। वहीं ‘डिस्‍कवरी नेटवर्क’ के नए लॉन्‍च हुए स्‍पोर्ट्स चैनल ‘डीस्‍पोर्ट्स एचडी’ को भी टाटा स्‍काई में शामिल किया जा चुका है।

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS 0
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

प्रसार भारती से भेजी जा रही माओवादियों को सूचनाएं

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।। झारखंड के चाईबासा के आकाशवाणी रेडियो केंद्र का गलत इस्तेमाल किए जाने की एक बड़ी खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि रेडियो केंद्र के दो-तीन उद्घोषक (एनाउंसर) सारंडा-पोडाहाट जंगल के भाकपा माओवादियों तक रेडियो से संदेश भेज रहे हैं। यह संदेश क

Last Modified:
Monday, 03 April, 2017
prasar-bharati

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

झारखंड के चाईबासा के आकाशवाणी रेडियो केंद्र का गलत इस्तेमाल किए जाने की एक बड़ी खबर सामने आई है। बताया जा रहा है कि रेडियो केंद्र के दो-तीन उद्घोषक (एनाउंसर) सारंडा-पोडाहाट जंगल के भाकपा माओवादियों तक रेडियो से संदेश भेज रहे हैं। यह संदेश कोड वर्ड में और स्थानीय भाषा में हैं।

हिंदी न्यूज पोर्टल ‘न्यूज18 डॉट कॉम’ (hindi.news18.com) के मुताबिक,  21 मार्च को पुलिस के सामने सरेंडर करने वाले दो लाख के इनामी एरिया कमांडर जुनास कंडुलना से जब पुलिस ने पूछताछ की तो उसने कई ऐसे खुलासे किए जिससे पुलिस की नींद उड़ गई।

चाईबासा के एसपी अनीश गुप्ता के मुताबिक, जुनास ने पूछताछ में बताया कि प्रसार भारती के संसाधन का उपयोग कर माओवादियों को जंगल में  रेडियो के जरिए सूचनाएं भेजी जा रही हैं।  यह सूचनाएं कोड वर्ड या  स्थानीय भाषा में होती हैं, इसलिए अब तक पकड़ में नहीं आईं। उन्होंने बताया कि इस काम को आकाशवाणी के दो-तीन उद्घोषक अंजाम दे रहे हैं।

हालांकि इस खुलासे के बाद, चाईबासा पुलिस ने रेडियो केंद्र के दो-तीन उद्घोषकों पर कड़ी नजर रखनी शुरू कर दी है। संदिग्ध उद्घोषक के बारे में पुलिस का कहना है कि ये लोग रेडियो केंद्र के शाम में प्रसारित होने वाले कार्यक्रम के जरिए स्थानीय भाषा में नक्सलियों तक कोड वर्ड में कई तरह के संदेश भेज रहे हैं। हालांकि  यह संदेश किस तरह का है, पुलिस ने अभी इसकी नहीं दी है, लेकिन उसने पिछले कई महीने के टेलिकास्ट हुए प्रोग्रामों की जांच-पड़ताल शुरू कर दी है।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

करने चला था स्टिंग, इस तरह खुद फंस गया पत्रकार

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।। दिल्ली पुलिस ने फर्जीवाड़ा कर आधार कार्ड हासिल करने के प्रयास में CNN-News 18 के पत्रकार के खिलाफ मामला दर्ज किया है। दरअसल, देवायन रॉय नाम के इस पत्रकार ने एक स्टिंग के जरिये यह दिखाने की कोशिश की थी कि आ

Last Modified:
Wednesday, 29 March, 2017
aa

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

दिल्ली पुलिस ने फर्जीवाड़ा कर आधार कार्ड हासिल करने के प्रयास में CNN-News 18 के पत्रकार के खिलाफ मामला दर्ज किया है। दरअसल, देवायन रॉय नाम के इस पत्रकार ने एक स्टिंग के जरिये यह दिखाने की कोशिश की थी कि आधार कार्ड बनाने में फर्जीवाड़ा हो रहा है।

वह यह दिखाना चाहता था कि कोई भी व्‍यक्ति आधार पंजीकरण केंद्र पर जाकर गलत पहचान पत्र के आधार पर भी आधार पंजीकरण रसीद (Aadhaar enrolment receipt) हासिल कर सकता है। यह स्टिंग 22 मार्च को टेलिकास्‍ट हुआ था। इसमें दिखाया गया था कि रिपोर्टर 700 रुपये का भुगतान कर गलत दस्‍तावेजों का इस्‍तेमाल कर नोएडा में रसीद हासिल कर रहा है।

इस स्टिंग ऑपरेशन के टेलिकास्‍ट के बाद पुलिस ने रिपोर्टर के खिलाफ विभिन्‍न धाराओं में मामला दर्ज किया है। वहीं इस बारे में पत्रकार का कहना है कि उसके संस्‍थान की लीगल टीम इस मामले को देखेगी।

दिल्ली पुलिस के डीसीपी भीष्‍म सिंह ने बताया कि यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) के अधिकारियों की शिकायत के आधार पर पुलिस ने देवायन के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

रवीश कुमार के भाई फंसे सेक्स स्कैंडल में, NDTV पर फूटा लोगों का गुस्सा

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।। बिहार में कांग्रेस के नेता ब्रजेश कुमार पांडेय पर सेक्स रैकेट चलाने का आरोप लगा है। ब्रजेश कुमार पांडेय का नाम मीडिया और ट्विटर पर इसलिए भी चर्चाओं में है, क्योंकि वे एनडीटीवी के पत्रकार रवीश कुमार के बड़े भाई हैं, लेकिन इस मामले में समाचार

Last Modified:
Tuesday, 21 February, 2017
sexual-assault

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

बिहार में कांग्रेस के नेता ब्रजेश कुमार पांडेय पर सेक्स रैकेट चलाने का आरोप लगा है। ब्रजेश कुमार पांडेय का नाम मीडिया और ट्विटर पर इसलिए भी चर्चाओं में है, क्योंकि वे एनडीटीवी के पत्रकार रवीश कुमार के बड़े भाई हैं, लेकिन इस मामले में समाचार4मीडिया ने रवीश कुमार से संपर्क साधने की कोशिश की, लेकिन उनकी ओर से कोई जवाब नहीं दिया गया। इसलिए अभी इस खबर की पुष्टि  समाचार4मीडिया नहीं करता है।

दरअसल, मामला राज्य के एक पूर्व मंत्री और दलित कांग्रेसी नेता की नाबालिग बेटी के यौन शोषण का है। इस मामले में ऑटोमोबाइल्स कारोबारी निखिल प्रियदर्शी के अलावा कांग्रेस के कद्दावर नेता ब्रजेश पांडेय को भी अभियुक्त बनाया गया है। पीड़िता ने निखिल, उसके दोस्त संजीत और ब्रजेश को सेक्स रैकेट का संचालक बताया है, जो बड़ी-बड़ी पार्टियों में लड़कियां सप्लाई करते हैं। दोनों आरोपी भी कांग्रेस पार्टी से ही जुड़े हुए हैं, जिस लड़की ने आरोप लगाया है उसके पिता भी कांग्रेस पार्टी के ही नेता और मंत्री रहे हैं। लड़की अनुसूचित जाति की है लिहाजा उसकी शिकायत पर केस एससी-एसटी थाने में दर्ज कराया गया।

ये बातें एससी-एसटी थाने की पुलिस द्वारा पटना सिविल कोर्ट स्थित पॉक्सो की विशेष अदालत में शुक्रवार को समर्पित केस डायरी में वर्णित है।

गौरतलब है कि ब्रजेश कुमार पांडेय पिछले बिहार चुनाव में पूर्वी चम्‍पारण से कांग्रेस के टिकट पर खड़े हुए थे, हालांकि वो चुनाव हार गए। उल्लेखनीय है कि उस समय भी रवीश कुमार पर भाई के लिए लॉबिंग का आरोप लगा था, जिसके चलते रवीश कुमार ने बिहार चुनाव के कुछ चरणों में ही रिपोर्टिंग की थी।

दरअसल, दैनिक जागरण में छोटी सी खबर छपने के बाद ये मामला सोशल मीडिया पर भी छा गया। चूंकि रवीश कुमार सोशल मीडिया के प्लेटफॉर्म्स से दूर भाग चुके हैं, ऐसे में लोग उनकी जगह एनडीटीवी को टैग करके इस खबर पर अपना गुस्सा निकाल रहे हैंं। इस मसले से जुड़े कुछ ट्वीट्स आप नीचे पढ़ सकते हैं...

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

अगर जिन्ना होते तो पाक को देख क्या करते, बताया डॉ. वैदिक ने...

डॉ. वेदप्रताप वैदिक             वरिष्ठ पत्रकार ।। जिन्ना होते तो अपना माथा कूट लेते पाकिस्तान की कितनी दुर्दशा है? अगर मुहम्मद अली जिन्ना स

Last Modified:
Saturday, 18 February, 2017
pakistan

डॉ. वेदप्रताप वैदिक            

वरिष्ठ पत्रकार ।।

जिन्ना होते तो अपना माथा कूट लेते

पाकिस्तान की कितनी दुर्दशा है? अगर मुहम्मद अली जिन्ना स्वर्ग से या वे जहां भी हो, वहां से यह हाल देख रहे हो तो वे क्या कहेंगे? वे अपना माथा कूट लेंगे। वे खुद से पूछेंगे कि क्या मैंने पाकिस्तान इसीलिए बनाया था? इस हफ्ते आतंकियों के हमले में लगभग सौ लोग मारे गए और सैकड़ों जख्मी हो गए। पंजाब और सिंध के धार्मिक स्थलों पर इकट्ठे हुए ये लोग कौन थे? क्या ये लोग हिंदू थे, सिख थे, ईसाई थे, यहूदी थे? नहीं। ये लोग मुसलमान थे। क्या ये लोग अफगान या भारतीय थे? नहीं। ये लोग पाकिस्तानी थे।

याने पाकिस्तान अपना ही विनाश करने पर तुला हुआ है। वह अफगानिस्तान और भारत के विरुद्ध जितनी आतंकी कार्रवाई करता है, उससे कहीं ज्यादा वह खुद के खिलाफ कर रहा है। पाकिस्तान के हुक्मरानों ने इन आतंकी कार्रवाईयों की शुरुआत भारत और अफगानिस्तान के खिलाफ की थी लेकिन अब मियां की जूती मियां के सिर ही पड़ रही है। आतंक की कमान अब पाक हुक्मरानों के भी हाथ से बाहर निकली जा रही है। अब अरब देशों के आतंकी संगठन आईएसआईएस ने पाकिस्तान में अपनी जड़ें फैला ली हैं।

दूसरे शब्दों में पाकिस्तान में अराजकता का फैलाव हो रहा है। सीआईए के पाकिस्तान में प्रमुख रहे अफसर केविन हलबर्ट ने कहा है कि पाकिस्तान दुनिया के लिए सबसे खतरनाक देश बन गया है। पश्चिमी महाशक्तियों ने अरबों रु. पाकिस्तान में झोंक दिया लेकिन उसकी आर्थिक स्थिति बदतर होती जा रही है। मास्को में अभी-अभी हुए छह राष्ट्रीय सम्मेलन में अफगान हालात पर सभी राष्ट्रों ने चिंता व्यक्त की लेकिन रुस, चीन, ईरान और पाकिस्तान ने आतंक के बुनियादी मुद्दे पर ध्यान नहीं दिया। उन्होंने सिर्फ सीरिया, इराक आदि से आ रहे इस्लामी राज्य (आईएसआईएस) के खतरे पर विचार किया। उन्हें सिर्फ अपनी पड़ी हुई है।

उन्होंने पाकिस्तान को यह सलाह क्यों नहीं दी कि वह आतंकवाद और हिंसा को जड़-मूल से खत्म करे। वह अच्छे आतंकवादी और बुरे आतंकवादी का भेद भी खत्म् करे। अब पेरिस में अगले हफ्ते होने वाले आतंकविरोधी सम्मेलन में पाकिस्तान के विरुद्ध वित्तीय प्रतिबंध लगाने की मांग भी उठेगी। आतंक और हिंसा जब तक पाकिस्तान की नीति बनी रहेगी, तब तक अफगानिस्तान और कश्मीर में शांति नहीं हो सकती।

अपने दाएं और बाएं आग की भट्ठियां भभकाकर पाकिस्तान खुद चैन की नींद कैसे सो सकता है? जहां तक भारत का सवाल है, वह इतना बड़ा और इतना ताकतवर है कि वह एक नहीं, एक साथ कई कश्मीरों के साथ भी दनदनाता रह सकता है लेकिन डर यही है कि कहीं पाकिस्तान भी अफगानिस्तान नहीं बन जाए।

(साभार: नया इंडिया)

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

...इस इंटरनेशनल ब्रॉडकास्टिंग के साथ जुड़ी यह मीडिया कंपनी, मिलेंगे ये लाभ

  समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।। टेलिविजन, रेडियो और ऑनलाइन की ट्रेड एसोसिएशन ‘द एसोसिएशन फॉर इंटरनेशनल ब्रॉडकास्टिंग’ (

Last Modified:
Thursday, 16 February, 2017
AIB
 

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

humटेलिविजन, रेडियो और ऑनलाइन की ट्रेड एसोसिएशन ‘द एसोसिएशन फॉर इंटरनेशनल ब्रॉडकास्टिंग’ (The Association for International Broadcasting) ने पाकिस्‍तान में उनका पहला सदस्‍य बनने पर हम नेटवर्क (Hum Network) का स्‍वागत किया है।

‘हम नेटवर्क’ पाकिस्‍तान की मीडिया कंपनी है, जो पूरे देश में टेलिविजन चैनलों की श्रृंखला का संचालन करती है। इसके अलावा ‘हम नेटवर्क’ के नॉर्थ अमेरिका, यूके और मिडिल ईस्‍ट में भी टेलिविजन चैनल हैं।

वर्ष 2004 में शुरू हुए ‘हम नेटवर्क’ ने टेलिविजन और फिल्‍मों के लिए प्रॉडक्‍शन का काम भी शुरू कर दिया है और अब यह देशी-विदेशी मीडिया के क्षेत्र में और आगे बढ़ने की तैयारी में जुटा हुआ है।

‘The Association for International Broadcasting’ के चीफ एग्जिक्‍यूटिव सिमोन स्‍पेनस्विक (Simon Spanswick) का कहना है, ‘हम नेटवर्क के AIB का सदस्‍य बनने पर हमें काफी खुशी हो रही है। हम नेटवर्क काफी अच्‍छी कंपनी है, जिसने पिछले 13 वर्षों में काफी तेजी से तरक्‍की की है। AIB से जुड़ने पर हम नेटवर्क को भी काफी फायदा होगा।’

वहीं ‘हम नेटवर्क’ के सीईओ दुरैद कुरैशी (Duraid Qureshi) का कहना है कि AIB से जुड़कर पाकिस्‍तान की मीडिया इंडस्‍ट्री में अग्रणी यह नेटवर्क अपनी स्थिति और मजबूत कर रहा है। पाकिस्‍तान में AIB  का पहला सदस्‍य बनने पर हम काफी खुश हैं। इसका हमें काफी लाभ होगा क्‍योंकि AIB  के सदस्‍य पूरी दुनिया में हैं। मैं और मेरे साथी AIB और इसके सदस्‍यों के साथ काम करने को लेकर काफी उत्‍सुक हैं।’ बता दें कि AIB एक गैरलाभकारी (not-for-profit) और गैर सरकारी (non-governmental organisation) संस्‍था है जो मीडिया इंडस्‍ट्री और अपने सदस्‍यों के हितों के लिए काम करती है।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

कोमा में दैनिक भास्कर के पत्रकार आनंद कुमार, आप इस तरह कर सकते हैं मदद...

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।। हिंदी दैनिक अखबार दैनिक भास्कर में कोरेस्पोंडेंट के तौर पर कार्यरत आनंद कुमार एक हादसे का शिकार हो गए हैं। इस समय वे कोमा में है और वैशाली के मैक्स हास्पिटल में भर्ती हैं। उन्हें आईसीयू में रखा गया है। द

Last Modified:
Wednesday, 01 February, 2017
icu

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

हिंदी दैनिक अखबार दैनिक भास्कर में कोरेस्पोंडेंट के तौर पर कार्यरत आनंद कुमार एक हादसे का शिकार हो गए हैं। इस समय वे कोमा में है और वैशाली के मैक्स हास्पिटल में भर्ती हैं। उन्हें आईसीयू में रखा गया है।

दरअसल हादसे के वक्त वे घर की साफ-सफाई कर रहे थे। फर्श पर फैले पानी से उनका पांव फिसल गया और सिर के बल गिर गए, जिसके बाद उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज कर रहे डॉक्टरों ने कोमा में जाने की वजह सिर की एक नस का फंटना बताया है।

फिलहाल उन्हें इस समय आर्थिक सहायता की जरूरत है और जो भी व्यक्ति सहायता करना चाहता है वे उनके भाई सिद्धार्थ के मोबाइल नंबर-  9911485812 पर संपर्क कर सकते हैं।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

10+2 ऐड कैप मामले में सुनवाई फिर स्‍थगित, हाई कोर्ट ने दी अब यह तारीख

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।। दिल्‍ली हाई कोर्ट ने टीवी चैनलों पर एड कैप (ad cap) मामले की सुनवाई को एक बार फिर स्‍थगित (adjourned) कर दिया है। संबंधित बेंच के न बैठने पर यह मामला 20 अप्रैल 2017 तक के लिए टाल दिया गया है।

Last Modified:
Saturday, 14 January, 2017
10+2

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

दिल्‍ली हाई कोर्ट ने टीवी चैनलों पर एड कैप (ad cap) मामले की सुनवाई को एक बार फिर स्‍थगित (adjourned) कर दिया है। संबंधित बेंच के न बैठने पर यह मामला 20 अप्रैल 2017 तक के लिए टाल दिया गया है।

चीफ जस्टिस जी रोहिणी की अगुवाई में मामले की सुनवाई कर रही बेंच ने 29 सितंबर 2016 को भी यह मामला आगे के लिए टाल दिया था।

गौरतलब है कि मामले की सुनवाई काफी समय से लंबित है जब करीब दो वर्ष पूर्व तत्‍कालीन सूचना और प्रसारण मंत्री अरुण जेटली ने कहा था कि उन्‍हें नहीं लगता कि मीडिया पर किसी तरह के कैप्‍स (caps) की जरूरत है।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए

बिंदास बोल: आमिर ने 'दंगल' के जरिए किया हिंदू आस्था पर प्रहार

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।। साल 2016 की सबसे बड़ी ब्लॉक बस्टर फिल्म ‘दंगल’ लगातार कमाई के नए आंकड़े छू रही है। 23 दिसंबर को रिलीज हुई आमिर खान की इस फिल्म ने जहां लोगों की तारीफें बंटोरी, तो वहीं फिल्म के कुछ सीन मीडिया में सुर्खियां भी बने। फिल्म हरियाणा की पहलवान गी

Last Modified:
Thursday, 19 January, 2017
bandas-bol

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

साल 2016 की सबसे बड़ी ब्लॉक बस्टर फिल्म ‘दंगल’ लगातार कमाई के नए आंकड़े छू रही है। 23 दिसंबर को रिलीज हुई आमिर खान की इस फिल्म ने जहां लोगों की तारीफें बंटोरी, तो वहीं फिल्म के कुछ सीन मीडिया में सुर्खियां भी बने। फिल्म हरियाणा की पहलवान गीता और बबीता फोगाट बहनों के जीवन पर आधारित है। फिल्म रिलीज के बाद से ही कई सीन को लेकर विवादों में रही है।

हिंदी न्यूज चैनल ‘सुदर्शन टीवी’ ने इसके एक सीन पर सवाल खड़े करते हुए उसे अपने शो ‘बिंदास बोल’ में प्रमुखता दी। चैनल ने सवाल उठाया कि जब फोगाट बहनें गीता और बबिता मांस का सेवन ही नहीं करती हैं, तो इसे फिल्म क्यों दिखाया गया?  इतना ही नहीं, चैनल ने यह मुद्दा भी उठाया कि हरियाणा के कई रेसलर्स मांस का सेवन नहीं करते हैं, जबकि फिल्म के एक सीन में आमिर खान इसके फायदे गिनाते हैं। चैनल ने आमिर खान पर मीटलॉबी को प्रमोट करने का आरोप लगाया है।

चैनल के संपादक सुरेश चव्हान ने कहा कि पहलवान बजरंग बली के भक्त होते हैं, पर आमिर खान ने हनुमानजी को पूरी फिल्म में कहीं नहीं दिखाया। उन्होंने कहा कि जिस तरह आमिर खान पहले पीके और अब दंगल के जरिए हिंदू आस्था के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं जो कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

चैनल ने अपने इस प्रोग्राम को दो पार्ट में दिखाया और कई लोगों से बाचती की। इस शो को आप यहां भी देख सकते हैं-

वहीं इससे पहले भी एक सीन पर विवाद हो चुका है कि जिसमें ये दिखाया गया कि गीता के फाइनल मैच के दौरान पिता महावीर फोगाट को एक कमरे में बंद कर दिया जाता है और ये काम उनके कोच के कहने पर किया जाता है। फिल्म के इसी सीन को देखकर गीता के उस मैच के कोच प्यारेलाल सोंधी ने सवाल उठाया था कि उन्होंने ऐसा कुछ भी नहीं किया था और होता तो सेक्योरिटी और मीडिया की नजर में आ जाता।

वहीं बाद में  एक टीवी चैनल को दिए अपने इंटरव्यू में पहलवान गीता फोगाट ने भी इस बात से इनकार कर दिया था। गीता का कहना था कि उन्हें कमरे में बंद नहीं किया गया, बल्कि फिल्म को रोमांचक बनाने के लिए वो दृश्य फिल्माए गए।

लेकिन गीता ने माना था कि उनके पापा को रेसलिंग एरिया में जाने से रोका गया था, क्योंकि रेसलिंग एरिया वो होता है जहां सभी पहलवान और कोच मौजूद रहते हैं।

समाचार4मीडिया देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया.कॉम में हम आपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।

TAGS media
न्यूजलेटर पाने के लिए यहां सब्सक्राइब कीजिए